Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword
Like this
0Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
हिंदी ,चुनौतियाँ और सरोकार

हिंदी ,चुनौतियाँ और सरोकार

Ratings: (0)|Views: 3 |Likes:
Published by Siddharth Shanker

More info:

Published by: Siddharth Shanker on Sep 09, 2012
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

09/09/2012

pdf

text

original

 
 ह  ि दी 
,
 च    ु नौहय  ाऔ सोक 
 महकव वपवत न   ेकभी कह थ वक “द   े वल बयन बजन वम
 
 परत   ुम   ाभरती क   ेमथ   ेक वब  ि दी “वह  ि दी”
 
 क  वमठ को आज 
 
अन   ुभ   ू वत क   ेनए परय म   परभवत करन अप   े वत तीत हो रह ह   ै 
|
आध   ु वनकत क चशनी म     पगी ह    ई वह  ि दी क सीकय   त क आकलन करन   ि वगक तो होग ही   ि ग   ि ग अप   े वत भी 
|
 वगत दो दशक म   वह  ि दी  न   े   ै वक मज को भ    े ण क   ेवलए एक    ै वयत और   िभनओ  ि   ेपरप   ू ण  मयम उपलध करय ह   ै 
|
 वह  ि दी क   े   ैीकरण 
 
 क   ेफलसप जो मवजक 
,
आवथ   क 
,
 तकनीक 
,
 वहवयक 
,
   ि सक   ृ वतक ए  िरजन   ै वतक च   ु नौवतय   ा  उभर कर आई ह   इनक व   े ण रषभ को नए आयम    ेअल  ि क   ृ त कर   े ग 
|
 व वह  ि दी म   े लन क   ेमयम    ेप   ू     म   वजन रोकर को   ि बोवधत करन   ेक य वकय गय ह   ैउनक 
 
 थ   कत और उपद   े यत पर त   मन परय क   े आलोक म   वच  ि तन एक महप   ू ण    ि ग ह   ै 
|
 द   े  भ   ि सक   ृ त क ग  ि गोी    ेवनकल कर वह  ि दी क ह ववभन   ि त 
 
   ि सक   ृ वतक पर   ेश 
,
 मवजक ए  ि
 
धवम   क मयतओ  िी   ि    े णीयत क   े   ू  म   ब  िधत 
 
 गवतमन 
 
 रह ह   ै 
|
आज कमीर    ेकयक   ु मरी तथ ग   ु जरत    ेवमजोरम तक वह  ि दी न   ेअपनी मह 
 
 को सथवपत कर वलय ह   ै 
|
 वगत  प   ा च छः  म   व अ  ि तरजल पर वह  ि दी भ ए  िवहय न   ेमनजनक 
 
 उपवसथवत दज  करई ह   ै
|
 वदनन   ु वदन 
 
अ  ि तरजल पर वह  ि दी इट क   ि खय म      ृ व हो रही ह   ैपर  ि त   ुग   ु ण क व    ेइनक आकलन एक महप   ू ण  वय  ह   ै 
|
 ग   ू गल ज   ै ी    ू चन तकनीक क   े   े  क क  ि पवनय क   ेय    ेद   े नगरी वलवप म   टइवप  ि ग अय  ि त    ु गम हो गय ह   ै 
|
 मइोॉट और वलन   ु  आवद ऑपर   े वट  ि ग वसट न   ेवह  ि दी क 
 
 मह 
 
 को सीकर करत   ेह    ए अपन   े  उपद क वह  ि दी   ि सकरण भी उपलध करय ह   ै 
|
आज वह  ि दी को वकी उपद क भ  ि वत एक म वपणन रणनीवत  क   ेअ  ि तग   त चरत और रत 
 
 करन   ेक आयकत ह   ै 
|
आज क य   ु  ग  जह   ाएक ओर छपी ह    ई प पवकओ  ि और प   ु सतक क   ेवत 
 
 उदीन होत ज रह ह   ैह द   ू री तरफ क  ि य   ू टर 
,
 ट   े बल   े ट और मोबइल क   ेमयम    े अ  ि तरजल पर अवधक    ेअवधक वय होत ज रह ह   ै 
|
 वह  ि दी लोवग  ि ग य वचजगत क लोकवयत त   े जी    ेबढ़ती  ज रही ह   ैऔर इक   ेमयम    ेकई नोवदत रचनकर वह  ि दी वहय ए  िभ को जनधरण क अप   ेओ  ि   े  जोड़न   ेक य कर रह   ेह    
|
 वह  ि दी क वहवयक धरोहर को वडवजटइड सप म   व अ  ि तरजल पर उपलध  करन   ेक य वनवत प    ेश  ि नीय ह   ै 
|
 ट   े लीवजन पर रत होन   ेल   ेधरवहक ह य वह  ि दी वन   े म जगत 
,
 इन    े  म   बढ़त वन   ेश वह  ि दी क   ेवलए श   ुभ   ि क   े त ह   ै 
|
 त   े जी    ेबदलत   ेमवजक और   ि सक   ृ वतक पर   ेश    ेवह  ि दी भ और वहय भी अछ   ू त नह रह ह   ै 
|
 रचनकर तथ 
 
 पठक 
,
 वय सत   ुए  िवय 
,
 सत   ु तीकरण ए  िवशप श   ै ली 
,
 इन भी वब  ि द   ुओ  िक   ि वगकत पर चच  क आयकत ह   ै 
|
 वह  ि दी क एक अथ   यसथ त   े जी    ेअपन   ेप   ा   पर रही ह   ै 
,
 मय क म  ि ग ह   ैवक इ अथ   यसथ क   ि रचन को ब   े हतर ढ  ि ग    ेपरभवत करत   ेह    ए 
,
आध   ु वनक  मवजक ए  ि  ि सक   ृ वतक रोकर क   े  ि ग मवत करन   ेक य वकय जय 
|
 महन रचनकर भरत    द   ु
 
 हर  ि जी  क य   े
 
 कथन वक “वनज भ उनवत अह   ै
,
 ब उनवत को म   ू ल”
 
आज भी हम बक   ेवलए    े रणोत ह   ै 
|
आज इ म   ू ल  म  ि  को य   े क वह  ि दी    े मी अपन   ेदय म   सथन द   े 
 
 क   े   गीण वक म   महप   ू ण  भ   ू वमक वनभ  कत ह   ै 
|
 
 प    ु ह 
:
 हसर  थश  ि क झ ‘ 
 
 हदवय  िश ’ 
 

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->