Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword
Like this
0Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Shri Mad Bhagwad Geeta

Shri Mad Bhagwad Geeta

Ratings: (0)|Views: 1|Likes:
Published by dinesh_mehta_24

More info:

Published by: dinesh_mehta_24 on Sep 23, 2012
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

09/23/2012

pdf

text

original

 
पय
 
बाप
 
का
 
पावन
 
सदेश
 
हम 
 
धनवान 
 
हगे
 
या 
 
नह
,
यशःव 
 
हगे
 
या 
 
नह
,
चुनाव 
 
जतगे
 
या 
 
नह
 
इसम
 
शका 
 
ह 
 
सकत 
 
 
पतु
 
भैया 
 
!
 
हम 
 
मगे
 
या 
 
नह
 
इसम
 
कई 
 
शका 
 
है
?
 
वमान 
 
उड़ने
 
का 
 
समय 
 
नत 
 
हता 
 
,
बस 
 
चलने
 
का 
 
समय 
 
नत 
 
हता 
 
है
,
गाड़ 
 
छटने
 
का 
 
समय 
 
नत 
 
हता 
 
है
 
पतु
 
इस 
 
  जवन 
 
क 
 
गाड़ 
 
 
छटने
 
का 
 
कई 
 
नत 
 
समय 
 
है  
?
आज 
 
तक 
 
आपने
 
जगत 
 
का 
 
ज 
 
छ 
 
जाना 
 
है
,
ज 
 
छ 
 
ूा 
 
कया 
 
....
आज 
 
 
बाद 
 
ज 
 
जानगे
 
औ 
 
ूा 
 
कगे
,
याे
 
भैया 
 
!
 
वह 
 
सब 
 
मृयु
 
 
एक 
 
ह 
 
झटके
 
म
 
छट 
 
जायेगा   
,
जाना 
 
अनजाना 
 
ह 
 
जायेगा 
,
ूा 
 
अूा 
 
म
 
बदल 
 
जायेग 
|
अत
 
सावधान 
 
ह 
 
जाओ 
|
 
अतमुरख 
 
हक 
 
अपने
 
अवचल 
 
आमा 
 
क 
,
नजःवप 
 
 
अगाध 
 
आनद 
 
क 
,
शात 
 
शात 
 
क 
 
ूा 
 
क 
 
ल 
|
 
फ 
 
त 
 
आप 
 
ह 
 
अवनाश 
 
आमा 
 
ह 
|
जाग 
....
उठ 
.....
अपने
 
भत 
 
सये
 
हए   ु
 
नयबल 
 
क 
 
जगाओ 
|
 
सवरेश 
,
सवरकाल 
 
म
 
सवम 
 
आमबल 
 
क 
 
अजरत 
 
क 
|
 
आमा 
 
म
 
अथाह 
 
सामयर
 
है
|
 
अपने
 
क 
 
दन 
-
हन 
 
मान 
 
बै
 
त 
 
व 
 
म
 
ऐस 
 
कई 
 
सा 
 
नह
 
ज 
 
तुह
 
ऊप 
 
उठा 
 
सक
|
 
अपने
 
आमःवप 
 
म
 
ूतत 
 
ह 
 
गये
 
त 
 
लक 
 
म
 
ऐस 
 
कई 
 
हःत 
 
नह
 
ज 
 
तुह
 
दबा 
 
सक
|
सदा 
 
ःमण 
 
ह
 
क 
 
इध 
-
उध 
 
वृय 
 
 
साथ 
 
तुहा 
 
श 
 
भ 
 
बखत 
 
हत 
 
है
|
 
अत
 
वृय 
 
क 
 
बहकाओ 
 
नह
|
 
तमाम 
 
वृय 
 
क 
 
एकत 
 
कके
 
साधना 
-
काल 
 
म
 
आमचतन 
 
म
 
लगाओ 
 
औ 
 
यवहा 
 
काल 
 
म
 
ज 
 
कायर
 
कते
 
ह 
 
उसम
 
लगाओ 
|
 
दच 
 
हक 
 
ह 
 
कई 
 
कायर
 
क 
|
 
सदा 
 
शात 
 
वृ 
 
धाण 
 
कने
 
का 
 
अयास 
 
क 
|
 
वचावत 
 
औ 
 
ूसन 
 
ह 
|
 
जवमा 
 
क 
 
अपना 
 
ःवप 
 
समझ 
|
 
सबसे
 
ःनेह 
 
ख 
|
 
दल 
 
क 
 
यापक 
 
ख 
|
 
आमना 
 
म
 
जगे
 
हए 
 
  ुमहापुष 
 
 
ससग 
 
तथा 
 
ससाहय 
 
से
 
जवन 
 
क 
 
भ 
 
औ 
 
वेदात 
 
से
 
पु 
 
तथा 
 
पुलकत 
 
क 
 |
(
)
 
अनुम
 

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->