Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Save to My Library
Look up keyword
Like this
2Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Lok Sabha Chunaav 2014 - Prastavana

Lok Sabha Chunaav 2014 - Prastavana

Ratings: (0)|Views: 8 |Likes:
The challenge of civilization and its resolution
The challenge of civilization and its resolution

More info:

Published by: चन्द्र विकास on Mar 01, 2013
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

11/08/2013

pdf

text

original

 
लोक 
 
सभा 
 
चुनाव 
2014
:
सयता 
 
क 
 
चुनौती 
 
और 
 
समाधान 
तावना 
“(
उपभोावाद 
)
सयता 
 
एक 
 
तरह 
 
का 
 
रोग 
 
.
इस 
 
सयता 
 
 
मोह 
 
म
 
से
 
ह   ुए 
 
लोग उसके
 
खलाफ 
 
नहं
 
िलखगे
,
उलटे
 
उसको 
 
सहारा 
 
िमले
 
ऐसी 
 
ह 
 
बात
 
और 
 
दलील
 
ढूंढ िनकालगे
 
यह 
 
वे
 
जान 
-
बूझ 
 
कर 
 
करते
 
 
ऐसा 
 
भी 
 
नहं
 
ै।
 
वे
 
जो 
 
िलखते
 
,
उसे
 
खुद 
 
सच मानते
 
 
नींद 
 
म
 
आदमी 
 
जो 
 
सपना 
 
देखता 
 
,
उसे
 
वह 
 
सह 
 
मानता 
 
 
जब 
 
उसक 
 
नींद खुलती 
 
 
तभी 
 
उसे
 
अपनी 
 
गलती 
 
मालूम 
 
होती 
 
ै।
 
ऐसी 
 
ह 
 
दशा 
 
सयता 
 
 
मोह 
 
म
 
फं सेह   ुए 
 
आदमी 
 
क 
 
होती 
 
.
हम 
 
जो 
 
बात
 
पढ़ते
 
 
वे
 
सयता 
 
क 
 
हमायत 
 
करनेवाल 
 
क 
 
िलखी बात
 
होती 
 
।
 
उनम
 
बह   ुत 
 
होिशयार 
 
और 
 
भले
 
आदमी 
 
।
 
उनके
 
लेख 
 
से
 
हम 
 
चिधयां
 
जाते।
 
य 
 
एक 
 
 
बाद 
 
द   ूसरा 
 
आदमी 
 
उसमे
 
सता 
 
जाता 
 
.”
हंद   ुतान 
 
अंेज 
 
ने
 
िलया 
 
सो 
 
बात 
 
नहं
 
,
बक 
 
हमने
 
उह
 
दया 
 
...
मेर 
 
पक 
 
राय 
,
क 
 
हंद   ुतान 
 
अंेज 
 
से
 
नहं
,
बक 
 
आज 
 
क 
(
उपभोा 
 
वाद 
)
सयता 
 
से
 
कु चला 
 
जा रहा 
 
,
उसक 
 
चपेट 
 
म
 
स 
 
गया 
 
 
यह 
 
सयता 
 
ऐसी 
 
 
क 
 
अगर 
 
हम 
 
धीरज 
 
धर 
 
कर 
 
बैरहगे
,
तो 
 
सयता 
 
क 
 
चपेट 
 
म
 
आये
 
ह   ुए 
 
लोग 
 
खुद 
 
क 
 
जलाई 
 
ह   ुई 
 
आग 
 
म
 
जल 
 
मरगे
 
यह शैतानी 
 
सयता 
 
.
यह 
 
सयता 
 
द   ूसर 
 
का 
 
नाश 
 
करने
 
वाली 
 
और 
 
खुद 
 
नाशवान 
 
.
इससेद   ूर 
 
रहना 
 
चाहए 
 
और 
 
इसीिलए 
 
टश 
 
और 
 
द   ूसर 
 
पािलयामट 
 
बेकार 
 
हो 
 
गयी 
 
 
टश पािलयामट 
 
अँगरेज़ 
 
जा 
 
क 
 
गुलामी 
 
क 
 
िनशानी 
 
,
यह 
 
पक 
 
बात 
 
.”-
मोहनदास 
 
गांधी 
,
हद 
 
वराय 
,1909
हद 
 
वराय 
- 1909
से
2013
तक 
गाँधी 
 
 
इन 
 
वचार 
 
 
सौ 
 
बरस 
 
बाद 
,
आज 
 
 
भारत 
 
म
 
ये
 
दोन 
 
बात
 
सय 
 
माणत 
 
होती 
 
 
एक 
 
ओर 
 
आज 
 
का वचारशील 
 
जन 
 
मानस 
 
से
 
लेकर 
 
थापत 
 
व 
 
तरय 
 
संथा 
 
एवं
 
वशेष 
 
भी 
 
इस 
(
उपभोावाद 
)
सयता 
 
कोप 
 
से
 
वाय 
 
एवं
 
पयावरण 
 
 
न 
 
होने
 
क 
 
पु 
 
करते
 
।द   ूसर 
 
ओर 
(
उपभोावाद 
)
सयता 
 
 
मोह 
 
म
 
जकड़े
 
ह   ुए 
 
कई 
 
होिशयार 
 
एवं
 
भले
 
लोग 
 
इसके
 
हमायत 
 
म
 
नयी 
 
बातऔर 
 
दलील
 
ढूँढने
 
म
 
दन 
-
रात 
 
लगे
 
ह   ुए 
 
 
इसक 
 
डूबती 
 
नैया 
 
को 
 
सहारा 
 
देने
 
 
िलए 
 
वह 
 
नए 
 
नए 
 
हथकं डे
 
अपनाते
 
 
जसम
 
लोग 
 
को 
 
उनके
 
जल 
,
जंगल 
 
और 
 
ज़मीन 
 
से
 
बेदखल 
 
करने
 
 
साथ 
 
साथ 
 
उनके
 
मानस 
 
को 
 
द   ूषत 
 
करने
 
िलए 
 
चार 
,
वापन 
,
कूल 
 
एडुशन 
,
शोध 
 
संथान 
,
टेलीवज़न 
 
और 
 
ंट 
 
मायम 
 
से
 
सारत 
 
समाचार 
 
का सहारा 
 
िलया 
 
जा 
 
रहा 
 
.
यह 
 
भी 
 
गौर 
 
करने
 
योय 
 
 
क 
(
उपभोावाद 
)
सयता 
 
 
ारभ 
 
से
 
बीसवी 
 
सद 
 
 
अंत 
 
तक 
 
उसमे
 
लोग 
 
को एक 
 
रचनामक 
 
ऊजा
 
भी 
 
महसूस 
 
होती 
 
थी 
 
जो 
 
लोग 
 
को 
 
उसक 
 
ओर 
 
वतः
 
आकषत 
 
करती 
 
थी।
 
यह 
 
चचा
 
का वषय 
 
हो 
 
सकता 
 
 
क 
 
हर 
 
तरह 
 
 
नशा 
 
रोग 
 
म
-
चाहे
 
वो 
 
अफम 
 
का 
 
हो 
 
या 
 
शराब 
 
का 
-
ारभ 
 
म
 
ऐसा 
 
होता 
 
.
परतु
 
नशे
 
म
 
िल 
 
लोग 
 
को 
 
इसके
 
रोग 
 
होने
 
का 
 
तो 
 
तभी 
 
पता 
 
चलता 
 
 
जब 
 
उस 
 
नशा 
 
का 
 
असर 
 
उनके
 
शरर 
 
और मानस 
 
को 
 
द   ुल 
 
और 
 
जड़ 
 
करने
 
लगे
.
इकसवी 
 
सद 
 
 
द   ुसर
 
दशक 
 
तक 
 
यह 
 
माणत 
 
हो 
 
चूका 
 
 
क 
 
अब 
 
इस 
(
उपभोावाद 
)
सयता 
 
म
 
िसफ
 
ववंसामक 
 
ऊजा
 
ह 
 
शेष 
 
रह 
 
गयी 
 
.
इस 
 
सचाई 
 
को 
 
छु पाना 
 
इस 
 
सयता 
 
मोह 
 
म
 
िल 
 
होिशयार 
 
और 
 
भले
 
लोग 
 
 
िलए 
 
अयंत 
 
कठन 
 
होता 
 
जा 
 
रहा 
 
.
जब 
 
य 
 
ऐसे
 
बु
 
आदत 
 
म
 
िल 
 
हो 
 
जाता 
 
था 
 
तो 
 
समाज 
 
उसे
 
सुधारने
 
का 
 
काम 
 
करता 
 
था।
 
परतु
 
जब 
 
बु
 
आदत म
 
िल 
 
होने
 
को 
 
यगत 
 
वतंता 
 
का 
 
चोगा 
 
पहना 
 
दया 
 
जाए 
 
और 
 
इस 
 
म 
 
म
 
जब 
 
समाज 
 
का 
 
एक 
 
बड़ा 
 
हसा इस 
 
सयता 
 
पी 
 
बुर 
 
आदत 
 
म
 
िल 
 
होने
 
लगे
 
तो 
 
उसका 
 
या 
 
ह 
 
होगा 
?
भारतीय 
 
सयता 
 
का 
 
मित 
 
जागरण 
-
नयी 
 
पीढ़ 
 
क 
 
भूिमका 
सयता 
 
 
ास 
 
 
आततायी 
 
समय 
 
म
 
नयी 
 
पीढ़ 
 
 
ित 
 
हमारे
 
कय 
 
का 
 
बोध 
 
ह 
 
समाज 
 
को 
 
पूर 
 
तरह 
 
से
 
न होने
 
से
 
बचा 
 
सकता 
 
ै।
 
पुरानी 
 
पीढ़ 
 
लाख 
 
चाह 
 
कर 
 
भी 
 
सयता 
 
 
मोहजाल 
 
से
 
िनिल 
 
नहं
 
हो 
 
पा 
 
रह 
 
और 
 
ढलती उ 
 
 
साथ 
 
बगड़ते
 
हालात 
 
 
बावजूद 
 
उसका 
 
इस 
 
िलता 
 
से
 
िनकलने
 
का 
 
मनोबल 
 
और 
 
भी 
 
िगरता 
 
जा 
 
रहा 
 
ै।उसके
 
अदर 
 
यह 
 
म 
 
भी 
 
गहरा 
 
पैठ 
 
जाता 
 
 
क 
 
हर 
 
आने
 
वाली 
 
पीढ़ 
 
इसी 
 
सयता 
 
को 
 
अपनाना 
 
चाहती 
 
आज 
 
क 
 
नयी 
 
पीढ़ 
 
म
 
इस 
(
उपभोावाद 
)
सयता 
 
का 
 
मोह 
 
भंग 
 
होने
 
 
दो 
 
मुख 
 
कारण 
 
एक 
 
यह 
 
 
 
 
पछले
 
ो 
 
दशक 
 
म
 
इस 
 
सयता 
 
 
नाशकार 
 
परणाम 
 
हम 
 
सबके
 
सामने
 
 
र 
 
जससेमु ंह 
 
मोड़ना 
 
नयी 
 
पीढ़ 
 
 
िलए 
 
मुकल 
 
हो 
 
रहा 
 
.
न 
 
होती 
 
सयता 
 
ब 
 
उनका 
 
भरण 
 
पोषण 
 
करने
 
मअसम 
 
.
युवा 
 
अवथा 
 
म
 
ी 
 
अनेक 
 
रह 
 
 
बुढापे
 
म
 
होने
 
वाले
 
रोग 
 
 
िशकार 
 
हो 
 
 
 
वह 
 
वयंो 
 
बेबस 
 
थित 
 
म
 
पाते
 
 
र 
 
वकप 
 
 
 
तलाश 
 
म
 
जुट 
 
गए 
 
द   ूर 
 
बात 
 
यह 
 
 
 
 
पछले
 
शक 
 
म
 
धरमपाल 
 
ी 
 
एवं
 
अनेक 
 
ई 
 
वचारक 
 
 
शोध 
 
से
 
अंेज 
 
िलखे
 
ह   ुए 
 
द   ुकृ त 
 
इितहास 
 
से
 
बे
 
ह   ुए 
 
भारतीय 
 
सयता 
 
एवं
 
संृ ित 
 
 
 
उपयोिगता 
,
उसक 
 
सम 
 
एवंसदय
 
 
ई 
 
महवपूण
 
य 
 
हमारे
 
सामने
 
ये
 
 
सोशल 
 
मीडया 
 
 
मायम 
 
से
 
पछले
 
ई 
 
वष 
 
मइन 
 
िछपे
 
ह   ुए 
 
तय 
 
ा 
 
पुरजोर 
 
सार 
 
भी 
 
ह   ुआ 
 
 
र 
 
इस 
 
वषय 
 
पर 
 
अनेक 
 
चचा
 
र 
 
गोयां
 
ह   ुई 
 
इस 
 
मृित 
 
जागरण 
 
 
म 
 
से
 
युवाओं
 
म
 
अपनी 
 
सयता 
 
एवं
 
संृ ित 
 
 
ित 
 
क 
 
नए 
 
गौरव 
 
ा अहसास 
 
 
र 
 
इसे
 
यावत 
 
करने
 
 
 
दशा 
 
म
 
उनक 
 
उजा
 
ा 
 
िनवेश 
 
हो 
 
रहा 
 
भारतीय 
 
सयता 
 
एवं
 
संकृित 
 
 
मित 
 
जागरण 
 
 
इस 
 
दौर 
 
म
 
ी 
 
रव 
 
शमा
(
गुजी 
)
का 
 
एक 
 
मुख 
 
योगदान 
.
आ 
 
देश 
 
 
आदलाबाद 
 
म
 
कला 
 
आम 
 
क 
 
थापना 
 
करने
 
वाले
 
गुजी 
 
को 
 
विभन 
 
लोग 
 
कलाकार 
,
कारगर 
,
कथाकार 
,
इितहासवद 
,
िशावद 
,
समाजशाी 
,
िनपट 
 
भारतीयता 
 
 
पैरोकार 
,
अथशाी 
,
दाशिनक 
 
विभन 
 
प 
 
से
 
परिचत 
 
।
 
पछले
 
लगभग 
25-30
वष 
 
से
 
आदलाबाद 
 
 
आस 
-
पास 
 
 
े 
 
म
 
ह 
 
जस पैनापन 
 
और 
 
ववध 
 
 
 
से
 
उहने
 
संकित 
,
सयता 
 
एवं
 
परपराओं
 
का 
 
गहन 
 
अययन 
 
कया 
 
 
और 
 
जसका 
 
ितप 
 
संपूण
 
भारत 
 
वष
 
म
 
प 
 
दखाई 
 
देता 
 
,
इसे
 
ह 
 
वह 
 
लोग 
 
को 
 
बता 
 
रह
 
 
इससे
 
लोग 
 
को 
 
अपने
 
े 
 
मऐसी 
 
ह 
 
 
 
से
 
अययन 
 
करने
 
क 
 
ेरणा 
 
भी 
 
िमलती 
 
 
समाज 
 
म
 
लोग 
 
क 
 
जीवनशैली 
,
अथयवथा 
,
जाितगत मायताएं
 
और 
 
यवहार 
,
अय 
 
जाितय 
 
 
अंतसबंध 
,
भारतीय 
 
परपराएँ
,
सयता 
,
संकित 
,
सदय
 
 
,
संकार 
 
और 
 
अय 
 
र 
 
सार 
 
सामाजक 
 
यवथाएं
 
उनके
 
अययन 
 
वषय 
 
रह
 
।उनक 
 
संवाद 
 
शैली 
 
म
 
एक 
 
और 
 
जहां
 
सहजता 
 
,
कहानी 
 
का 
 
ताना 
 
बुना 
 
 
वह
 
एक 
 
गहर 
 
और 
 
पैनी 
 
तक
 
संगतता 
 
जो 
 
आज 
 
क 
 
बह   ुत 
 
सार 
 
गलत 
 
धारणाओं
 
एवं
 
िमथक 
 
को 
 
सह 
 
करने
 
म
 
सहायक 
 
िस 
 
होती 
 
।
 
उनक 
 
वशेष 
 
 से
 
भारतीय 
 
मानस 
 
को 
 
वे
 
सार 
 
वशेषताएं
 
अयंत 
 
जीवंत 
 
तीत 
 
होती 
 
,
जो 
 
क 
 
ी 
 
धरमपाल 
 
जी 
 
भारतीय 
 
िच 
,
मानस 
 
और 
 
व 
-
धम
 
 
बारे
 
म
 
अपने
 
गहन 
 
शोध 
 
और 
 
अययन 
 
से
 
बता 
 
गए 
 
।मित 
 
जागरण 
 
क 
 
यह 
 
ात 
 
एक 
 
ओर 
 
जहां
 
भारतीय 
 
समाज 
 
 
मानस 
,
सामय
,
सयता 
,
संकृित 
 
और परपराओं
 
 
ित 
 
अतीत 
 
 
गौरव 
 
का 
 
आम 
-
वास 
 
जगाती 
 
,
वह
 
द   ूसर 
 
ओर 
 
भवय 
 
 
भारत 
 
िनमाण 
 
क दशा 
 
िनधारत 
 
करने
 
 
िलए 
 
महवपूण
 
सू 
 
और 
 
िसांत 
 
भी 
 
दान 
 
करती 
 
 
इस 
 
ात 
 
क 
 
लहर 
 
को 
 
समझना 
,
बढ़ाना 
 
और 
 
जन 
 
मानस 
 
को 
 
उेरत 
 
करने
 
क 
 
आवयकता 
 
ै।
भारतीय 
 
जनता 
 
पाट 
-
चुनौती 
 
और 
 
अवसर 
आज 
 
श 
 
ाचार 
 
एवं
 
शासन 
 
 
गहरे
 
अँधेरे
 
म
 
डूबा 
 
ह   ुआ 
 
.
ऐसी 
 
थित 
 
म
 
भारत 
 
क 
 
जनता 
 
वप 
 
म
 
एक वथ 
 
एवं
 
पु 
 
शासन 
 
का 
 
वकप 
 
तलाश 
 
रह 
 
. (
उपभोावाद 
)
सयता 
 
 
बखराव 
 
 
इस 
 
दौर 
 
म
 
जनता 
 
सामने
 
एक 
 
राीय 
 
वकप 
 
चुनने
 
क 
 
बह   ुत 
 
बड़ 
 
चुनौती 
 
.
पछले
 
दशक 
 
 
विभन 
 
चुनाव 
 
 
नतीज 
 
से
 
जो मुय 
 
बात 
 
सामने
 
आती 
 
 
यह 
 
चुनौती 
 
आज 
 
एक 
 
राीय 
 
संकट 
 
म
 
बदल 
 
गयी 
 
वतंता करबन सात दशक कबाद भी दश कअिधकाँश लोग गरबी रखा कनीचे जी रहे ह
.
आज विभन 
 
सरकार एवं िनप आंकडो अनुसार औसतन 
50%
लोग गरबी रेखा से नीचे ह
.
इतना ह नहं
,
महंगाई 
, 
द   ुषण और पोषण कदौर म यह अनुपात बढ़ता जा रहा है
.
हालात ऐसे ह क तथाकिथत समृ परवार के
 
बचे
 
भी 
 
कु पोषण 
 
का 
 
िशकार 
 
हो 
 
रह
 
.
िशा तर म भी तेजी से िगरावट आ रह है
.
इस कारण से हम सह ढंग से अपने जीवन क ाथिमकता नहं
 
तय कर पा रहे ह
.
शु एवं पौक आहार 
,
वछ एवं वाथवधक वातावरण तथा बच क सवच िशा म
 
िनवेश करने क बजाय हम ऊपर आडबर एवं गैर जरत क वतुएँ जैसे आलीशान मकान 
,
मोटर कार 
, 
मोबाइल 
 
फोन 
,
टेलीवजन 
 
पर 
 
अनुिचत 
 
यय 
 
कर 
 
रह
 
.
ना 
 
िसफ
 
इस 
 
सयता 
 
 
चपेट 
 
म
 
आये
 
ह   ुए 
 
लोग 
 
खुद 
 
क 
 
जलाई 
 
ह   ुई 
 
आग 
 
म
 
झुलस 
 
रह
 
,
यह 
 
सयता 
 
धरती 
 
पर रहने
 
वाले
 
समूचे
 
जीव 
 
एवं
 
ाणी 
 
जगत 
 
 
अतव 
 
को 
 
नाश 
 
करने
 
पर 
 
आमदा 
 
.
आज 
 
भारत 
 
का 
 
एक 
 
बलशाली वग
,
इस 
 
सयता 
 
 
रोग 
 
से
 
पीड़त 
 
इंडया 
 
बन 
 
गया 
 
.
अंेजी 
 
शासन 
 
 
बगैर 
 
भी 
 
यह 
 
वग
 
ना 
 
िसफ
 
अंेज 
 
छल 
 
और 
 
पंच 
 
को 
 
अपनी 
 
वरासत 
 
बना 
 
बैठा 
 
,
बक 
 
उसे
 
और 
 
भी 
 
साध 
 
कर 
,
उसने
 
भारत 
 
 
लोग 
 
का 
 
जीना द   ूभर 
 
कर 
 
दया 
 
.
जब 
 
ऐसे
 
य 
 
राजनीितक 
 
दल 
 
 
शीष
 
नेतृव 
 
पर 
 
बैठ 
 
जाते
 
 
एवं
 
आम 
 
जनता 
 
और 
 
अिधकाँश 
 
युवा 
 
 
वचार एवं
 
आकांाओं
 
से
 
द   ूर 
 
होते
 
जाते
 
 
साधन 
-
संपन 
 
एवं
 
उपभोावाद 
 
सयता 
 
म
 
िल 
 
उनक 
 
अपनी 
 
संतान 
,
सबधी 
 
एवं
 
नजदक 
 
लोग 
 
भी 
 
उनक 
 
ितविन 
 
बनकर 
 
उनके
 
म 
 
को 
 
गहरा 
 
बनाते
 
 
आज 
 
क 
 
टेलेवज़न 
 
एवंअखबार 
 
भी 
 
इसी 
 
ितविन 
 
को 
 
बार 
 
बार 
 
दोहरा 
 
कर 
,
इसी 
 
म 
 
को 
 
सय 
 
ठहराने
 
 
कारोबार 
 
म
 
लगे
 
ह   ुए 
 
।
 
ये

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->