Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword
Like this
3Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
यह बुलावा किस लिए

यह बुलावा किस लिए

Ratings: (0)|Views: 16|Likes:
Published by Mahender Pal Arya
a creative writing by Mahender Pal Arya
a creative writing by Mahender Pal Arya

More info:

Published by: Mahender Pal Arya on Jun 26, 2013
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

03/18/2014

pdf

text

original

 
||
यह 
 
बुलावा 
 
कस 
 
लए 
||
 
 अभी 
23
जून 
2013
को 
 
सुबह 
10
बजे
 
मे 
 
सबुक 
 
 अकाउट 
 
म
 
देिख 
 
गयी 
 
घटना 
 
को 
 
 आप 
 
लोग 
 
ने
 
 अछ 
 
का 
 
से
 
पढली 
 
थी 
.
कल 
 
मै
 
इंतज़ा 
 
म
 
था 
 
क 
 
मे 
 
लेखनी 
 
क 
 
त 
 
या 
 
मुिफक 
 
जी 
 
कस 
 
का 
 
ले
 
ह
 
ह
,
या 
 
उसका 
 
ज़वाब 
 
वह 
 
या 
 
देहे
 
ह
 
देखता 
 
ह  ू ँ
.
कतु
 
कल 
24
जून 
 
को 
 
मेे
 
े सबुक 
 
म
 
कसी 
 
भी 
 
मयां
 
जी 
 
ने
 
छ 
 
भी 
 
नहं
 
लखा 
 
 औ 
 
न 
 
कोई 
 
जवाब 
 
मुझे
 
कसी 
 
ने
 
लखी 
.
 आज 
25
जून 
2013
 
मै
 
 अपना 
 
वचा 
 
 आप 
 
लोग 
 
को 
 
प 
 
क 
 
देना 
 
यु 
 
यु 
 
समझ 
 
क 
 
लख 
 
हा 
 
ह  ू ँ
.
 आप 
 
सब 
 
को 
 
मालूम 
 
है
 
क 
 
मेे
 
िखलाफ 
 
चा 
 
म
 
जु
 
पड़े
 
थे
 
इलाम 
 
एंड 
 
हद  ूइम 
 
संगठन 
 
 
सभी 
 
छोटे
 
बड़
 
 अध 
 
का 
,
 
यह 
 
संगठन 
 
पहले
IRF
 
साथ 
 
जुड़ा 
 
था 
,
इनसे
 
 अलग 
 
होक 
 
मुिफक 
 
सुलतान 
 
नामी 
 
एक 
 
कमी 
 
ने
 
इसको 
 
चलाना 
 
ांभ 
 
कया 
,
इलाम 
 
तो 
 
मतांध 
 
का 
 
 
सफर
 
मान 
 
लेना 
 
ह 
 
िजन 
 
लोगो 
 
का 
 
धमर
 
है
.
जहाँ
 
 अकल 
 
का 
 
कोई 
 
काम 
 
नहं
 
 आँख 
 
बद 
 
क 
 
बना 
 
छानबीन 
 
कये
 
सफर
 
बूल 
 
कना 
 
ह 
 
ईमान 
 
िजनका 
 
हो 
 
वह 
 
सह 
 
 औ 
 
गलत 
 
का 
 
नणरय 
 
लेने
 
म
 
जहाँ
 
ट 
,
न 
 
हो 
 
वचा 
 
कने
 
क 
 
 अनुमत 
 
जहाँ
 
नहं
 
हो 
,
ईाधीन 
 
चाँद 
 
को 
 
जहाँ
 
कसी 
 
मानव 
 
 
ाा 
 
ट  ुकड़ा 
 
कयागया 
 
को 
 
सय 
 
वचन 
 
मानाजाता 
 
हो 
,
जो 
 
लोग 
 
उह
 
 अलाह 
 
कहते
 
जो 
 
कसी 
 
का 
 
नकाह 
 
काये
,
कसी 
 
 
पत 
 
पी 
 
 
घ 
 
का 
 
झगडा 
 
मटाता 
 
फे
,
कसी 
 
नबी 
 
क 
 
पी 
 
बद 
 
चलन 
 
 
या 
 
नहं
 
गवाह 
 
दे
,
कोई 
 
नबी 
 
का 
 
च 
 
ठक 
 
है
 
या 
 
नहं
,
को 
 
मोह 
 
लगाते
 
ह  ुए 
 
कह
.
ता 
 
कधसे
 
फटा 
 
है
 
देखो 
? 11
सताे
,
 
चाँद 
 
 औ 
 
सूज 
 
को 
 
भी 
 
कसी 
 
नबी 
 
 
पास 
 
सजदा 
 
कवा 
 
दे
 
 आद 
 
तो 
 
वह 
 
लोग 
 
धमर
 
 अधमर
,
सह 
.
 औ 
 
गलत 
 
का 
 
सला 
 
से
 
क 
 
सकते
 
ह 
 
भला 
?
यह 
 
नाम 
 
कण 
 
ह 
 
लोग 
 
को 
 
दमत 
 
कने
 
वाली 
 
है
.
काण 
 
यह 
 
नाम 
,
इलाम 
 
एंड 
 
हंद  ूइम 
 
वशेष 
 
क 
 
हद  ुव 
 
को 
 
वागारलाने
 
 
लये
 
खा 
 
गया 
 
है
.
इसे
 
चताथर
 
कया 
 
डॉ 
-
जाक 
 
नाइक 
 
ने
,
इह 
 
ने
 
कताब 
 
लिख 
 
है
,
जो 
 
हद  ू
 
 औ 
 
इलाम 
 
म
 
समानता 
 
दखाई 
 
है
.
हद  ू
 
पहले
 
से
 
ह 
 
उदा 
 
वाद 
 
पू 
 
वसुधा 
 
को 
 
 अपना 
 
ट  ुब 
 
समझने
 
वाले
,
सांप 
 
को 
 
द  ूध 
 
पलाना 
 
जो 
 
धमर
 
मानता 
 
हो 
 
 अपने
 
हाथ 
 
से
 
मूतर
 
बना 
 
क 
 
वयं
 
ाण 
 
डाले
,
उसी 
 
मूतर
 
से
 
फ 
 
जो 
 
खुद 
 
मांगता 
 
हो 
,
ऐसे
 
भोले
 
लोग 
 
को 
 
भटकाने
 
म
 
या 
 
दे 
 
लगेगी 
 
भला 
?
 
इसी 
 
भोले
 
पनका 
 
फायदा 
.
डॉ 
 
जाक 
 
नाईक 
 
 औ 
 
उसके
 
 अनुयायी 
 
ने
 
पछले
 
कई 
 
वष 
 
से
,
पू 
 
द  ुनया 
 
मे
 
 अपना 
 
नेटवकर
 
बनाक 
 
हद  ुव 
 
को 
 
मुसलमान 
 
बनाना 
 
चालू
 
कया 
,
मूतर
 
पूजा 
 
गलत 
 
है
 
दखाते
 
 औ 
 
बतलाते
 
ह  ुए 
 
हद  ू
 
घाने
 
 
नौजवान 
,
 औ 
 
नव 
 
युवतव 
 
को 
 
 अपनी 
 
मनमानी 
 
तके
 
से
 
इलाम 
 
म
 
वेश 
 
काने
 
का 
 
काम 
 
बह  ुत 
 
बड़
 
त 
 
प 
 
कना 
 
चालू
 
कया 
,
लोग 
 
को 
 
समझाया 
 
तुम 
 
हद  ू
 
हो 
 
तुहाे
 
वेद 
 
 औ 
 
पुाण 
 
म
 
हज़ात 
 
मुहमद 
 
का 
 
नाम 
 
है
,
 औ 
 
वह 
 
कलयुग 
 
 
 अवता 
 
ह
,
तुह
 
इस 
 
ान 
 
 
शण 
 
म
 
 आना 
 
चाहए 
 
 आद 
.
हद  ू
 
 
भोले
 
पनका 
 
फायदा 
 
उठाक 
 
उनलोग 
 
को 
 
इलाम 
 
क 
 
द�ा 
 
देना 
 
िजनक 
 
ाथमकता 
 
,
याद 
 
खने
 
वाली 
 
बात 
 
यह 
 
है
 
क 
 
यह 
 
कोई 
 
इलाम 
 
 
वान 
 
नहं
 
है
 
सफर
 
ान 
 
क 
 
छ 
 
 आयात 
 
को 
 
सूा 
 
 औ 
 
नंब 
 
का 
 
ह 
 
पता 
 
बताता 
 
है
,
 आयात 
 
को 
 
सह 
 
ढंग 
 
से
 
पढ़ना 
 
भी 
 
नहं
 
जानता 
,
यू ं
 
क 
 
यह 
 
तो 
MBBS
मुना 
 
भाई 
 
ह
.
इनके
 
सूा 
 
 औ 
 
 आयात 
 
का 
 
नंब 
 
सुनक 
 
 
लोग 
 
समझते
 
ह
 
क 
 
इलाम 
 
का 
 
बह  ुत 
 
बड़ा 
 
जानक 
 
है
,
कतु
 
यह 
 
सय 
 
नहं
|
इलाम 
 
 
जो 
 
जानक 
 
ह
 
जैसा 
 
दाल 
 
उलूम 
 
देवबंद 
 
मुजाह 
 
उलूम 
 
नदवे
 
लखनऊ 
 
 औ 
 
भात 
 
भ 
 
म
 
िजतने
 
भी 
 
मदसा 
 
है
 
जहाँ
 
ान 
 
 औ 
 
हदस 
 
क 
 
पढाई 
 
होती 
 
है
,
जो 
 
बह  ुत 
 
बड़ा 
 
भाग 
 
है
 
वह 
 
जाक 
 
को 
 
घांस 
 
तक 
 
नहं
 
डालते
.
भात 
 
म
 
ह 
 
 अनेक 
 
जगह 
 
इसका 
 
वोध 
 
ह  ुवा 
,
बाह 
 
 
कई 
 
देश 
 
म
 
इसप 
 
 आज 
 
भी 
 
तबध 
 
है
,
जहाँ
 
यह 
 
जा 
 
नह 
 
सकते
.
जब 
 
इनके
 
कई 
 
पुतक
 
मेे
 
सामने
 
 आई 
 
िजसका 
 
त 
 
वाद 
 
मेे
 
ाा 
 
ह  ुवा 
,
िजसमे
 
जाक 
 
ने
2004
म
 
मुझे
 
मुबई 
 
 अपने
 
कायरम 
 
प 
 
बुलावा 
 
भेज 
 
दया 
,
मै
 
वहां
 
जाने
 
 
बजाय 
 
ान 
 
प 
 
छ 
 
सवाल भेज दया. क आप ान को ईय ान कस का मानते ै, जा मुझेसमझाएं. मैने
 
लखा 
 
ान 
 
को 
 
समझदा 
 
से
 
पड़ने
 
या 
 
यान 
 
देने
 
प 
 
नयंत 
 
उटा 
 
ह 
 
मालूम 
 
पड़ता 
 
है
.
य 
 
क 
 
वहां
 
ान 
 
 
उतने
 
 
वषय 
 
म
 
ह 
 
शंका 
 
होती 
 
है
.
क 
 
ान 
 
 
ल 
 
 आयते
 
या 
 
पूा 
 
हसा 
 
एक 
 
ह 
 
बा 
 
म
 
उता 
 
या 
 
कालांत 
 
म
.
तो 
 
इसका 
 
वोध 
 
ान 
 
से
 
ह 
 
होता 
 
है
,
योक 
 
येक 
 
सूा 
 
 
थम 
 
म
 
लखा 
 
है
 
यह 
 
मका 
 
म
 
उत 
 
 औ 
 
यह 
 
मदना 
 
म
.
जब 
 
सूते
 
पृथक 
पृथक 
 
थान 
 
प 
 
उत 
 
तो 
 
उनका 
 
एक 
 
ह 
 
थान 
 
म
 
एक 
 
ह 
 
बा 
 
उतना 
 
संभव 
 
नहं
.
 औ 
 
यह 
 
मान 
 
ले
 
क 
 
ान 
 
पृथक 
पृथक 
 
सूतो 
 
को 
 
 अलग 
 अलग 
 
थान 
 
प 
 
 अलाह 
 
ने
 
उताा 
.
जो 
 
इलाम 
 
वालो 
 
क 
 
मायता 
 
है
 
तो 
 
ान 
 
क 
 
 आयतो 
 
से
 
यह 
 
स 
 
होना 
 
संभव 
 
नहं
|
यो 
 
क 
 
 अलाह 
 
ने
25
पाा 
 
सूा 
 
द  ुखान 
 
 आयात 
2
तथा 
3
प 
 
कहा 
 
ईनानजनाह  ू
 
फ 
 
लई 
 
लातम 
 
मुबाकतन 
 
इना 
 
ना 
 
मु 
 
सलीन 
.
 अथर
कसम 
 
है
 
कताब 
 
वयान 
 
कने
 
वाले
 
क 
,
तहकक 
 
उताा 
 
हमने
 
इस 
 
ान 
 
को 
 
बीच 
 
ात 
 
बकत 
 
वाली 
 
 
ज 
 
 
हम 
 
डाने
 
वाले
 
वचाणीय 
 
वषय 
 
है
 
खुदा 
 
कसम 
 
या 
 
सौगंध 
 
खाक 
 
कह 
 
ह
 
है
,
क 
 
मैने
 
ान 
 
को 
 
बकत 
 
वाली 
 
ात 
 
म
 
उताा 
,
 औ 
 
डाने
 
 
लए 
.
 अब 
 
मुसलमान 
 
क 
 
हमत 
 
देिखए 
,
क 
 
 अलाह 
 
से
 
डते
 
नहं
.
 
 औ 
 
मानता 
 
है
 
क 
 
 अलाह 
 
ने
 
 अलग 
 अलग 
 
 आयात 
 
को 
 
 अलग 
 अलग 
 
थान 
 
प 
 
उताा 
.
जब 
 
क 
 
 अलाह 
 
ने
 
कसम 
 
खाक 
 
ान 
 
उताने
 
क 
 
बात 
 
कह 
 
प 
 
यह 
 
ह  ु आ 
 
क 
 
 अलाह 
 
म
 
व 
 
मुसलमान 
 
म
 
मतभेद 
 
है
 
इन 
 
दोन 
 
म
 
कौन 
 
सह 
 
है
 
 अलाह 
 
या 
 
बंदा 
?
ान 
 
 
येक 
 
सूत 
 
 
ऊप 
 
लखा 
 
है
 
यह 
 
 आयात 
 
मका 
 
म
 
यह 
 
 आयात 
 
मदना 
 
म
 
उता 
 
गई 
 
कहं
 
ऐसा 
 
तो 
 
नहं
 
क 
 
सह 
 
कतार
 
ने
 
 अपने
 
मन 
 
से
 
ह 
 
लख 
 
दया 
 
हो 
?
योक 
 
 अलाह 
 
ने
 
कसम 
 
खाक 
 
कहा 
,
ान 
 
को 
 
मने
 
बकत 
 
वाली 
 
ात 
 
को 
 
उताा 
,
इससे
 
यह 
 
भी 
 
माण 
 
मला 
 
क 
 
शायद 
 
 अलाह 
 
को 
 
पता 
 
था 
 
क 
 
तेे
 
बदे
 
तुझ 
 
प 
 
वास 
 
नहं
 
कगे
 
कसम 
 
खाने
 
प 
 
भी 
.
 अब 
 
कलाम 
 
 अलाह 
 
क 
 
 औ 
 
कसम 
 
भी 
 
 अलाह 
 
खाए 
,
 अलाह 
 
को 
 
कसम 
 
खाने
 
क 
 
नौबत 
 
कस 
 
लए 
 
 आई 
?
 औ 
 
कसम 
 
खाई 
 
जाती 
 
है
 
तब 
.
िजसम
 
लोग 
 
बात 
 
प 
 
भोसा 
 
न 
 
के
 
तब 
 
वास 
 
दलाने
 
को 
 
लोग 
 
कसम 
 
खाते
 
है
.
 अब 
 
यह 
 
कहा 
 
गया 
 
क 
 
ान 
 
को 
 
मने
 
बकत 
 
वाली ात 
 
म
 
उताा 
,
जब 
 
क 
 
ान 
 
एक 
 
साथ 
 
 आया 
 
भी 
 
नहं
 
थोड़ 
,
थोड़ 
 
उत 
.
तो 
 
ान 
 
जब 
114,
सूत 
 
 
बंदश 
 
का 
 
नाम 
 
ान 
 
है
,
फ 
 
छ 
 
 आयात 
 
को 
 
ान 
 
कहना 
 
कसलए 
 
संभव 
 
होगा 
.
जब 
 
क 
 
ान 
 
को 
 
उता 
 
गयी 
 
कहा 
 
गया 
 
 औ 
 
जो 
 
जो 
 
 आयत
 
उत 
 
वह 
 
भी 
 
म 
 
से
 
नहं
 
कहं
 
का 
 
ईटा 
 
कहं
 
का 
 
ोड़ा 
 
वाली 
 
कहावत 
 
को 
 
ह 
 
चताथर
 
कया 
 
 औ 
 
ान 
 
को 
 
 अलाहने
 
भेजी 
 
फत 
 
से
,
ान 
 
गवाह 
 
है
 
क 
 
 अलाह 
 
तक 
 
जाने
 
मे
 
फत 
 
को 
 
हजा 
 
वषर
,
बताया 
 
तो 
 
कहं
 
पचास 
 
हज़ा 
 
साल 
 
लगते
 
बताया 
,
तो 
 
 अलाह 
 
को 
 
ह 
 
पता 
 
नहं
 
क 
 
सह 
 
या 
 
है
 
 औ 
 
गलत 
 
या 
 
है
 
ज़बक 
 
ल 
 
सपूणर
 
ान 
 
मा 
23
वष 
 
म
 
ह 
 
उत 
.
इसके
 
 अत 
 
ान 
 
 
उताने
 
म
 
कई 
 
सवाल 
 
कने
 
बाद 
2
 
 
मने
 
 औ 
 
क 
,
जैद 
 
पी 
,
जैनब 
 
 
क 
 
शाद 
 
 अलाहने
 
यू ं
 
 औ 
 
 अलाह 
 
को 
 
कस 
 
लए 
 
कनी 
 
पड़ 
 
मैह 
 
कतना 
 
दया 
?
 औ 
 
 आयशा 
 
 
च 
 
प 
 
शक 
 
होने
 
को 
 
लेक 
,
 अलाह 
 
को 
 
ह 
 
बीच 
 
म
 
गवाह 
 
देनी 
 
कसलए 
 
पड़ 
 
 आद 
,
तो 
 
जब 
 
उहने
 
कोई 
 
उ 
 
नहं
 
दया 
 
तो 
 
मैने
 
 अपनी 
 
पका 
,
ऋष 
 
सधात 
 
�क 
 
िजसका 
 
मै
 
संपादक 
 
था 
2004
 
माचर
 
मास 
 
 
 अंक 
 
म
 
छाप 
 
दया 
,
उनको 
 
कई 
 
बा 
 
प 
 
डाला 
,
जो 
 
माण 
 
मने
 
 अभी 
 
नेट 
 
प 
 
भी 
 
डाला 
 
 
जब 
 
यह 
 
मुिफक 
 
 
पालतू
 
बकवास 
 
क 
 
हे
 
थे
.
लबी 
 
कहानी 
 
है
 
तो 
 
नाईक 
 
हद  ू
 
वोधी 
 
वेद 
 
प 
 
 अनगरल 
 
लाप 
 
को 
 
मने
 
बह  ुत 
 
बा 
 
लिखत 
 
चुनौती 
 
द 
 
है
.
इनके
 
कई 
 
कताब
 
है
 
हद  ू
 
को 
 
मुिलम 
 
बनजाने
 
क 
 
दावत 
 
है
.
मै
 
 अपनी 
 
पुतक 
 
मिजद 
 
से
 
यशाला 
 
क 
 
 ओ 
 
म
 
बता 
 
से
 
लखा 
 
ह  ू ँ
.
हद  ू
 
को 
 
इलाम 
 
म
 
वापस 
 
होने
 
 
लए 
 
कई 
 
पुतक
 
जाक 
 
ने
 
लखा 
 
है
 
एक 
 
बा 
 
मै
 
लखनऊ 
 
म
 
इनके
 
जो 
 
कायारलय 
,
मो०
 
नंब 
09453834478
प 
 
मने
 
बात 
 
क 
,
यह 
 
जो 
 
पुतक 
 
 
इसलाम 
 
 औ 
 
हंद  ु 
 
प 
,
क 
 
इलाम 
 
पहले
 
है
 
या 
 
हंद  ु 
,
जवाब 
 
नहं
 
दे
 
पाया 
 
 औ 
 
कहा 
 
यह 
 
जाक 
 
भाई 
 
से
 
पू
 
जो 
 
न०
 
दया 
 
वह 
 
उठता 
 
ह 
 
नहं
.
इस 
 
तह 
 
मै
 
उसका 
 
पीछा 
 
कता 
 
 आया 
,
कतु
 
जो 
 
लोग 
 
वेदको 
 
धोह 
 
मानते
 
ह
 
धमर
 
थ 
 
मानते
 
ह
,
सयवाओं
 
क 
 
पुतक 
 
मानते
 
है
,
िजस 
 
वेद 
 
म
 
मुहमद 
 
का 
 
नाम 
 
बताया 
 
जा 
 
हा 
 
है
,
इन 
 
बात 
 
से
 
उनका 
 
कोई 
 
लेना 
 
देना 
 
नहं
 
है
,
वेद 
 
 
िखलाफ 
 
चा 
 
हो 
 
हा 
 
 
न 
 
उह
 
जान 
 
का 
,
इनके
 
हद  ू
 
घ 
 
से
 
इनके
 
बेटा 
,
बेट 
.
मुलमान 
 
बनहे
 
 
हजा 
 
क 
 
तादाद 
 
म
,
इन 
 
को 
 
कोई 
 
फक 
 
नहं
,
इनकोअपनी 
 
पद 
 
से
 
मतलब 
 
समाज 
 
संथा 
 
 
नाम 
 
संप 
 
क 
 
कमाई 
 
से
,
 
मतलब 
 
कूल 
 
कालेज 
 
क 
 
कमाई 
 
से
 
मतलब 
 
दलगत 
 
ाजनीत 
 
कने
 
से
 
मतलब 
 
संथा 
 
क 
 
संप 
 
म
 
ग 
 
जैसे
 
नोचा 
,
नोची 
 
कने
 
से
 
मतलब 
,
कहं
 
उसव 
 
काक 
,
चंदा 
 
एक 
 
क 
 
 अपनी 
 
जेब 
 
गमर
 
कने
 
से
 
मतलब 
|
वेद 
 
को 
 
वैदक 
 
धमर
 
को 
 
छोड़ 
 
जो 
 
इलाम 
 
बूल 
 
कने
 
जा 
 
ह
 
कतने
 
ह 
 
 आयर
 
पवा 
 
 
बेटा 
 
हो 
 
या 
 
बेट 
,
 
िजनमे
 
से
 
छ 
 
को 
 
मै
 
पुनः
 
वैदक 
 
धमर
 
म
 
लौटाया 
 
ह  ू ँ
,
िजनके
 
माण 
 
प 
 
मै
 
शु 
 
सभा 
 
से
 
ह 
 
बनवाता 
 
ह  ू ँ
,
मेे
 
मायम 
 
से
 
वैदकधम 
 
बने
 
कई 
 
गुकल 
 
 
 आचायर
 
ह
 
 औ 
 
कई 
 
संकत 
 
 
 अयापक 
 
भी 
 
ह
 
छ 
 
को 
 
 अभी 
 
तक 
 
नहं
 
लौटा 
 
पाए 
 
उनसे
 
कोई 
 
मतलब 
,
 
इन 
 
 आयर
 
समाजी 
 
कहलाने
 
वाल 
 
का 
 
या 
 
 अपने
 
को 
 
 आयर
 
नमारण 
 
कने
 
या 
 
बताने
 
वाल 
 
 
पास 
 
भी 
 
नहं
 
,
ज़त 
 
पड़ने
 
प 
 
मेे
 
पास 
 
भजवाए 
 
जो 
 
काम 
 
उनका 
 
है
 
नहं
 
तो 
 
से
 
कगे
,
 
इस 
 
का 
 
 
मेे
 
जो 
 
काम 
 
 अबतक 
 
है
 
जो 
,
कसी 
 
सभा 
 
 
पास 
 
इतना 
 
माण 
 
नहं
,
 
29
वष 
 
म
 
जो 
 
मै
 
कया 
 
ह  ू ँ
,
मने
 
 अपनी 
 
पुतक 
 
म
 
छ 
 
लखभी 
 
दया 
 
ह  ू ँ
.
ढोल 
 
बजाक 
 
कामकना 
 
मदा 
 
का 
 
खेल 
 
होता 
 
है
,
जब 
 
नकाम 
 
भाव 
 
से
 
कामकना 
 
है
 
तो 
 
ढोल 
 
कसलए 
 
बजा 
 
ह
?
हां
 
ढोल 
 
बना 
 
बजाये
 
नोट 
 
नह 
 
मलते
,
 
काम 
 
भले
 
ह 
 
न 
 
हो 
 
छका 
 
छ 
 
बताक 
 
समाज 
 
से
 
नोट 
 
बटो 
 
ह
 
है
 
ऐस 
 
क 
 
तादाद 
 
यादा 
 
है
 
शु 
 
 
नाम 
 
से
 
भी 
 
क 
 
ह
,
छ 
 
लोग 
 
ह
 
िजनको 
 
मै
 
ह 
 
लाया 
 
िजनक 
 
नौक 
 
शु 
 
सभा 
 
म
 
मने
 
लगवाई 
 
उसे
 
देने
 
को 
 
बेतन 
 
का 
 
बंध 
 
मने
 
ह 
 
क 
,
 अब 
 
एकह 
 
पवा 
 
को 
 
घुमा 
 
घुमा 
 
क 
 
समाज 
 
म
 
दखा 
 
ह
 
 औ 
 
नोट 
 
बटो 
 
ह
,
 
छ 
 
लोग 
 
उह लेक 
 
भी 
 
 अपना 
 
धंधा 
 
बनाये
 
 
छ 
 
लोग 
 
ह
 
 आयर
 
समाज 
 
से
 
लेना 
 
देना 
 
नहं
 
हमाे
 
वान 
 
 
पुतक 
 
से
 
उठा 
 
क 
 
हंद 
 
को 
 
 अंेजी 
 
म
 
लख 
 
क 
 
 अपने
 
को 
 
ऋष 
 
 औ 
 
महषर
 
बताने
 
लगे
.
 
तो 
 
हम
 
सावधानी 
 
वतना 
 
चाहए 
 
 अतु
.IRF
से
 
 अलग 
 
होक 
 
मुिफक 
 
सुतान 
 
ने
 
 अपनी 
 
टम 
 
बनाली 
,
 औ 
 
जाक 
 
जैसा 
 
काम 
 
शु 
 
कया 
,
इसके
 
पास 
 
भी 
 
 अछ 
 
भीड़ 
 
होगई 
,
कान 
 
भीड़ 
 
भेड़ 
 
क 
 
होती 
 
है
,
प 
,
शे 
 
 अकला 
 
ह 
 
चलता 
 
है
 
मने
 
इसे
 
चताथर
 
कया 
,
मेा 
 

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->