Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword or section
Like this
2Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Premchand3

Premchand3

Ratings: (0)|Views: 30|Likes:
Published by rajeshmishra

More info:

Published by: rajeshmishra on Apr 16, 2008
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

05/09/2014

pdf

text

original

 
 
ूेमचंद
 
 
 2
 
बम
 
एक 
 
च 
 
क 
 
कसर 
: 3
माता 
 
का 
 
॑दय 
: 9
परा 
: 18
ततर 
: 22
नैराँय 
: 30
 
 3
एक
 
आं
 
क
 
कसर
 
 
नगर 
 
म
 
महाशय 
 
यशदानद 
 
का 
 
बखान 
 
ह 
 
रहा 
 
था।
 
नगर 
 
ह 
 
म
 
नह 
,
समःत 
 
ूात 
 
म
 
उनक 
 
कत
 
क 
 
जाती 
 
थी 
,
समाचार 
 
पऽ 
 
म
 
टपणया
 
ह 
 
रह 
 
थी 
,
मऽ 
 
से
 
ूशसापण
 
पऽ 
 
का 
 
ताता 
 
लगा 
 
ह   ुआ 
 
था।
 
समाज 
-
सेवा 
 
इसक 
 
कहते
 
 
!
 
उनत 
 
वचार 
 
 
लग 
 
ऐसा 
 
ह 
 
करते
 
 
महाशय 
 
जी 
 
ने
 
शत 
 
समुदाय 
 
का 
 
मुख 
 
उजवल 
 
कर 
 
दया।
 
अब 
 
कन 
 
यह 
 
कहने
 
का 
 
साहस 
 
कर 
 
सकता 
 
 
क 
 
हमारे
 
नेता 
 
वल 
 
बात 
 
 
धनी 
 
,
काम 
 
 
धनी 
 
नह 
 
 
!
 
महाशय 
 
जी 
 
चाहते
 
त 
 
अपने
 
पुऽ 
 
 
लए 
 
उह
 
कम 
 
से
 
कम 
 
बीज 
 
हतार 
 
पये
 
दहेज 
 
म
 
मलते
,
उस 
 
पर 
 
खुशामद 
 
घाते
 
म
 
!
 
मगर 
 
लाला 
 
साहब 
 
ने
 
सात 
 
 
सामने
 
धन 
 
क 
 
री 
 
बराबर 
 
परवा 
 
न 
 
क 
 
और 
 
अपने
 
पुऽ 
 
का 
 
ववाह 
 
बना 
 
एक 
 
पाई 
 
दहेज 
 
लए 
 
ःवीकार 
 
कया।
 
वाह 
 
!
 
वाह 
 
!
 
हमत 
 
ह 
 
त 
 
ऐसी 
 
ह 
,
सात 
 
ूेम 
 
ह 
 
त 
 
ऐसा 
 
ह 
,
आदश
-
पालन 
 
ह 
 
त 
 
ऐसा 
 
ह 
 
 
वाह 
 
रे
 
सचे
 
वीर 
,
अपनी 
 
माता 
 
 
सचे
 
सपत 
,
तने
 
वह 
 
कर 
 
दखाया 
 
ज 
 
कभी 
 
कसी 
 
ने
 
कया 
 
था।
 
हम 
 
बड
 
गव
 
से
 
तेरे
 
सामने
 
मःतक 
 
नवाते
 
 
महाशय 
 
यशदानद 
 
 
द 
 
पुऽ 
 
थे।
 
बडा 
 
लडका 
 
पढ 
 
लख 
 
कर 
 
फाजल 
 
ह 
 
चुका 
 
था।
 
उसी 
 
का 
 
ववाह 
 
तय 
 
ह 
 
रहा 
 
था 
 
और 
 
हम 
 
ख 
 
चु
 
,
बना 
 
छ 
 
दहेज 
 
लये।
 
आज 
 
का 
 
तलक 
 
था।
 
शाहजहापुर 
 
ःवामीदयाल 
 
तलक 
 
ले
 
कर 
 
आने
 
वाले
 
थे।
 
शहर 
 
 
गणमाय 
 
सजन 
 
क 
 
नमऽण 
 
 
दये
 
गये
 
थे।
 
वे
 
लग 
 
जमा 
 
ह 
 
गये
 
थे।
 
महफल 
 
सजी 
7
ह   ुई 
 
थी।
 
एक 
 
ूवीण 
 
सतारया 
 
अपना 
 
कशल 
 
दखाकर 
 
लग 
 
क 
 
मुध 
 
कर 
 
रहा 
 
था।
 
दावत 
 
क 
 
सामान 
 
भी 
 
तैयार 
 
था 
?
मऽगण 
 
यशदानद 
 
क 
 
बधाईया
 
 
रह
 
थे।
 
एक 
 
महाशय 
 
बले
तुमने
 
त 
 
कमाल 
 
कर 
 
दया 
 
!
द   सर
कमाल 
 
!
 
यह 
 
कहए 
 
क 
 
झडे
 
गाड 
 
दये।
 
अब 
 
तक 
 
जसे
 
देखा 
 
मच 
 
पर 
 
यायान 
 
झाडते
 
ह 
 
देखा।
 
जब 
 
काम 
 
करने
 
का 
 
अवसर 
 
आता 
 
था 
 
त 
 
लग 
 
द   ुम 
 
लगा 
 
लेते
 
थे।
 
तीसरे
से
-
से
 
बहाने
 
गढ
 
जाते
 
साहब 
 
हम
 
त 
 
दहेज 
 
से
 
सत 
 
नफरत 
 
 
यह 
 
मेरे
 
सात 
 
 
व 
 
,
पर 
 
या 
 
क
 
या 
,
बचे
 
क 
 
सा 

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->