Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Save to My Library
Look up keyword
Like this
3Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Premchand5

Premchand5

Ratings: (0)|Views: 42 |Likes:
Published by rajeshmishra

More info:

Published by: rajeshmishra on Apr 16, 2008
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

05/09/2014

pdf

text

original

 
 
ूेमचं
 
 
 2
 
कथा 
-
म 
 
अमत 
:
3
 
अपनी 
 
करनी 
 
:
12
 
गैरत 
 
क 
 
कटार 
:
22
 
घमड 
 
का 
 
पुतला 
:
29
 
 
 3
अमृ
 
र 
 
उठती 
 
जवानी 
 
थी 
 
जब 
 
मेरा 
 
दल 
 
दद
 
 
मजे
 
से
 
परचत 
 
ह   ुआ।
 
छ 
 
दन 
 
तक 
 
शायर 
 
का 
 
अयास 
 
करता 
 
रहा 
 
और 
 
धीर 
-
धीरे
 
इस 
 
शक 
 
ने
 
तलीनता 
 
का 
 
प 
 
ले
 
लया।
 
सासारक 
 
सबधो 
 
से
 
मु ह 
 
मोड़कर 
 
अपनी 
 
शायर 
 
क 
 
द   ुनया 
 
म
 
आ 
 
बैठा 
 
और 
 
तीन 
 
ह 
 
साल 
 
क 
 
मँक़ 
 
ने
 
मेर 
 
कपना 
 
 
जहर 
 
खोल 
 
दये।
 
कभी 
-
कभी 
 
मेर 
 
शायर 
 
उःताद 
 
 
मशह   र 
 
कलाम 
 
से
 
टकर 
 
खा 
 
जाती 
 
थी।
 
मेरे
 
क़लम 
 
ने
 
कसी 
 
उःताद 
 
 
सामने
 
सर 
 
नह
 
झुकाया।
 
मेर 
 
कपना 
 
एक 
 
अपने
-
आप 
 
बढ़ने
 
वाले
 
पधे
 
क 
 
तरह 
 
द 
 
और 
 
पगल 
 
क 
 
दो 
 
से
 
आजाद 
 
बढ़ती 
 
रह 
 
और 
 
ऐसे
 
कलाम 
 
का 
 
ग 
 
नराला 
 
था।
 
मने
 
अपनी 
 
शायर 
 
को 
 
फारस 
 
से
 
बाहर 
 
नकाल 
 
कर 
 
योरोप 
 
तक 
 
पह   ु  चा 
 
दया।
 
यह 
 
मेरा 
 
अपना 
 
रग 
 
था।
 
इस 
 
मैदान 
 
म
 
न 
 
मेरा 
 
कोई 
 
ूत 
 
था 
,
न 
 
बराबर 
 
करने
 
वाला 
 
बावजद 
 
इस 
 
शायर 
 
जैसी 
 
तलीनता 
 
 
मुझे
 
मुशायर 
 
क 
 
वाह 
-
वाह 
 
और 
 
सुभानअलाह 
 
से
 
नफ़रत 
 
थी।
 
हा
,
काय 
-
रसक 
 
से
 
बना 
 
अपना 
 
नाम 
 
बताये
 
ह   ुए 
 
असर 
 
अपनी 
 
शायर 
 
क 
 
अछाइय 
 
और 
 
बुराइय 
 
पर 
 
बहस 
 
कया 
 
करता।
 
तो 
 
मुझे
 
शायर 
 
का 
 
दावा 
 
न 
 
था 
 
मगर 
 
धीरे
-
धीरे
 
मेर 
 
शोहरत 
 
होने
 
लगी 
 
और 
 
जब 
 
मेर 
 
मसनवी 
 
द   ुनयाए 
 
ह   ुःन 
 
ूकाशत 
 
ह   ुई 
 
तो 
 
साहय 
 
क 
 
द   ुनया 
 
म
 
हल 
-
चल 
-
सी 
 
मच 
 
गयी।
 
पुराने
 
शायर 
 
ने
 
काय 
-
मम 
 
क 
 
ूशसा 
-
पणता 
 
म
 
पोथे
 
 
पोथे
 
रग 
 
दये
 
ह
 
मगर 
 
मेरा 
 
अनुभव 
 
इसके
 
बलकुल 
 
वपरत 
 
था 
 
 
मुझे
 
कभी 
-
कभी 
 
यह 
 
ख़याल 
 
सताया 
 
करता 
 
क 
 
मेरे
 
किदान 
 
क 
 
यह 
 
उदारता 
 
द   सरे
 
कवय 
 
क 
 
लेखनी 
 
क 
 
दरिता 
 
का 
 
ूमाण 
 
है।
 
यह 
 
ख़याल 
 
हसला 
 
तोने
 
वाला 
 
था।
 
बहरहाल 
,
जो 
 
छ 
 
ह   ुआ 
,
द   ुनयाए 
 
ह   ुःन 
 
ने
 
मुझे
 
शायर 
 
का 
 
बादशाह 
 
बना 
 
दया।
 
मेरा 
 
नाम 
 
हरेक 
 
ज़बान 
 
पर 
 
था।
 
मेर 
 
चचा
 
हर 
 
एक 
 
अखबार 
 
म
 
थी।
 
शोहरत 
 
अपने
 
साथ 
 
दलत 
 
भी 
 
लायी।
 
मुझे
 
दन 
-
रात 
 
शेरो 
-
शायर 
 
 
अलावा 
 
और 
 
कोई 
 
काम 
 
न 
 
था।
 
असर 
 
बै
-
बै
 
रात
 
गुज़र 
 
जाती
 
और 
 
जब 
 
कोई 
 
चुभता 
 
ह   ुआ 
 
शेर 
 
कलम 
 
से
 
नकल 
 
जाता 
 
तो 
 
म
 
खुशी 
 
 
मारे
 
उछल 
 
पड़ता।
 
म
 
अब 
 
तक 
 
शाद 
-
याह 
 
क 
 
द 
 
से
 
आजा 
 
था 
 
या 
 
य 
 
कहए 
 
क 
 
म
 
उसके
 
उन 
 
मज 
 
से
 
अपरचत 
 
था 
 
जनम
 
रज 
 
क 
 
तखी 
 
भी 
 
है
 
और 
 
खुशी 
 
क 
 
नमकनी 
 
भी।
 
असर 
 
पमी 
 
साहयकार 
 
क 
 
तरह 
 
मेरा 
 
भी 
 
याल 
 
था 
 
क 
 
साहय 
 
 
उमाद 
 
और 
 
सदय
 
 
उमाद 
 
म
 
पुराना 
 
बैर 
 
है।
 
मुझे
 
अपनी 
 
जबान 
 
से
 
कहते
 
ह   ुए 
 
शमदा 
 
होना 
 
पड़ता 
 
है
 
क 
 
मुझे
 
म 

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->