Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword
Like this
1Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Jivan Rasayan

Jivan Rasayan

Ratings: (0)|Views: 70|Likes:
Published by Anurag Chand

More info:

Published by: Anurag Chand on Jan 24, 2010
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

02/26/2010

pdf

text

original

 
 
ूात
 
ःमणीय 
 
पम 
 
पय 
 
सत 
 
ौी 
 
आसाामजी 
 
बाप
 
ससग 
 
ूवचन 
 
म
 
से
 
नवनीत 
 
जीवन 
-
सायन 
 
 
-
?
ूःतावना
 
इस 
 
पुःतका 
 
का 
 
एक 
-
एक 
 
वाय 
 
ऐसा 
 
ःफलग 
 
है
 
क 
 
वह 
 
हजा 
 
वष 
 
 
घनघ 
 
अधका 
 
क 
 
एक 
 
पल 
 
म
 
ह 
 
घास 
 
क 
 
तह 
 
जला 
 
क 
 
भःम 
 
क 
 
सकता 
 
है
 
|
इसका 
 
ह 
 
एक 
 
वचन 
 
आमानी 
 
महापुष 
 
 
अतःतल 
 
से
 
ूकट 
 
ह   ुआ 
 
 
|
सामाय 
 
मनुंय 
 
क 
 
ऊप 
 
उठाक 
 
देवव 
 
क 
 
उचतम 
 
भमका 
 
म
 
पह  ुचाने
 
का 
 
सामयर
 
इसम
 
नहत 
 
है
 
|
ूाचीन 
 
भात 
 
क 
 
आयामक 
 
पपा 
 
म
 
पषत 
 
महापुष 
 
ने
 
समाध 
 
ाा 
 
अपने
 
अःतव 
 
क 
 
गहाईय 
 
म
 
गते
 
लगाक 
 
ज 
 
अगय 
,
अगच 
 
अमृत 
 
का 
 
खजाना 
 
पाया 
 
है
,
 
उस 
 
अमृत 
 
 
खजाने
 
क 
 
इस 
 
छट 
 
सी 
 
पुःतका 
 
म
 
भने
 
का 
 
ूयास 
 
कया 
 
गया 
 
है
 
|
गाग 
 
म
 
साग 
 
भने
 
का 
 
यह 
 
एक 
 
नॆ 
 
ूयास 
 
है
 
|
उसके
 
एक 
-
एक 
 
वचन 
 
क 
 
सपान 
 
बनाक 
 
आप 
 
अपने
 
लय 
 
तक 
 
पह  ुच 
 
सकते
 
ह
 
|
इसके
 
सेवन 
 
से
 
मुद
 
 
दल 
 
म
 
भी 
 
ूाण 
 
का 
 
सचा 
 
ह 
 
सकता 
 
है
 
|
हताश 
,
नाश 
,
द  ुखी 
,
 
चतत 
 
हक 
 
बै
 
ह   ुए 
 
मनुंय 
 
 
लये
 
यह 
 
पुःतका 
 
अमृत 
-
सजीवनी 
 
 
समान 
 
|
इस 
 
पुःतका 
 
क 
 
दैनक 
 
टॉनक 
 
समझक 
 
ौाभाव 
 
से
,
धैयर
 
से
 
इसका 
 
पठन 
,
चतन 
 
एव
 
मनन 
 
कने
 
से
 
त 
 
अवँय 
 
लाभ 
 
हगा 
 
ह 
,
लेकन 
 
कसी 
 
आमवेा 
 
महापुष 
 
 
ौीचण 
 
म
 
हक 
 
इसका 
 
ौवण 
-
चतन 
 
एव
 
मनन 
 
कने
 
का 
 
सभाय 
 
मल 
 
जाये
 
तब 
 
त 
 
पछना 
(
 
या 
 
कहना 
)
 
ह 
 
या 
?
 
दैनक 
 
जीवन 
-
यवहा 
 
क 
 
थकान 
 
से
 
वौात 
 
पाने
 
 
लये
,
चाल
 
कायर
 
से
 
द 
 
मनट 
 
उपाम 
 
हक 
 
इस 
 
पुःतका 
 
क 
 
द 
-
चा 
 
सुवणर
-
कणकाए
 
पढ़क 
 
आमःवप 
 
म
 
गता 
 
लगाओ 
,
तन 
-
मन 
-
जीवन 
 
क 
 
आयामक 
 
तग 
 
से
 
झत 
 
हने
 
द 
,
जीवन 
-
सता 
 
 
ता 
 
प 
 
पमामा 
 
क 
 
खेलने
 
द 
 
|
आपके
 
शाक 
,
मानसक 
 
व 
 
आयामक 
 
ताप 
-
सताप 
 
शात 
 
हने
 
लगगे
 
|
जीवन 
 
म
 
पम 
 
तृ 
 
क 
 
तग
 
लहा 
 
उठगी 
 
|
 
जीवन 
 
सायन 
 
का 
 
यह 
 
दय 
 
कटा 
 
आमस 
 
 
पपासुओ
 
 
हाथ 
 
म
 
खते
 
ह   ुए 
 
समत 
 
अयत 
 
आनद 
 
का 
 
अनुभव 
 
कती 
 
 
|
वास 
 
 
क 
 
अयाम 
 
 
जासुओ
 
 
जीवन 
 
क 
 
दयामृत 
 
से
 
सबा 
 
कने
 
म
 
यह 
 
पुःतका 
 
उपयगी 
 
स 
 
हगी 
 
|-
 
ौी 
 
यग 
 
वेदात 
 
सेवा 
 
समत 
 
अमदावाद 
 
आौम 
 
जीवन
 
सायन
 
1)
 
ज 
 
मनुंय 
 
इसी 
 
जम 
 
म
 
मु 
 
ूा 
 
कना 
 
चाहता 
 
है
,
 
उसे
 
एक 
 
ह 
 
जम 
 
म
 
हजा 
 
वष 
 
का 
 
कम 
 
क 
 
लेना 
 
हगा 
 
|
उसे
 
इस 
 
युग 
 
क 
 
ता 
 
से
 
बह   ुत 
 
आगे
 
नकलना 
 
हगा 
 
|
जैसे
 
ःवन 
 
म
 
मान 
-
अपमान 
,
मेा 
-
तेा 
,
अछा 
-
बुा 
 
दखता 
 
है
 
औ 
 
जागने
 
 
बाद 
 
उसक 
 
सयता 
 
नह
 
हती 
 
वैसे
 
ह 
 
इस 
 
जात 
 
जगत 
 
म
 
भी 
 
अनुभव 
 
कना 
 
हगा 
 
|
बस 
ह 
 
गया 
 
हजा 
 
वष 
 
का 
 
काम 
 
पा 
 
|
ान 
 
क 
 
यह 
 
बात 
 
दय 
 
म
 
ठक 
 
से
 
जमा 
 
देनेवाले
 
कई 
 
महापुष 
 
मल 
 
जाय
 
त 
 
हजा 
 
वष 
 
 
सःका 
,
मे
-
तेे
 
 
ॅम 
 
क 
 
द 
 
पल 
 
म
 
ह 
 
नवृत 
 
क 
 
द
 
औ 
 
कायर
 
पा 
 
ह 
 
जाये
 
|2)
 
यद 
 
त
 
नज 
 
ःवप 
 
का 
 
ूेमी 
 
बन 
 
जाये
 
त 
 
आजीवका 
 
क 
 
चता 
,
मणय 
,
 
ौवण 
-
मनन 
 
औ 
 
शुओ
 
का 
 
द   ुखद 
 
ःमण 
 
यह 
 
सब 
 
ट 
 
जाये
 
|
उद
-
चता
 
ूय
 
चचार
 
वह
 
को
 
जैसे
 
खले
 
|
 
नज
 
ःवप
 
म
 
ना
 
हो
 
तो
 
ये
 
सभी
 
सहज
 
टले
 
||
 3)
 
ःवय
 
क 
 
अय 
 
लग 
 
क 
 
आख 
 
से
 
देखना 
,
अपने
 
वाःतवक 
 
ःवप 
 
क 
 
न 
 
देखक 
 
अपना 
 
नण 
 
अय 
 
लग 
 
क 
 
 
 
से
 
कना 
,
यह 
 
ज 
 
ःवभाव 
 
है
 
वह 
 
हमाे
 
सब 
 
द  ुख 
 
का 
 
काण 
 
है
 
|
अय 
 
लग 
 
क 
 
 
 
म
 
खब 
 
अछा 
 
दखने
 
क 
 
इछा 
 
कना 
-
यह 
 
हमाा 
 
सामाजक 
 
दष 
 
है
 
|4)
 
लग 
 
य 
 
द  ुखी 
 
ह
?
यक 
 
अान 
 
 
काण 
 
वे
 
अपने
 
सयःवप 
 
क 
 
भल 
 
गये
 
ह
 
औ 
 
अय 
 
लग 
 
जैसा 
 
कहते
 
 
वैसा 
 
ह 
 
अपने
 
क 
 
मान 
 
बैठते
 
ह
 
|
यह 
 
द  ुख 
 
तब 
 
तक 
 
द    
 
नह
 
हगा 
 
जब 
 
तक 
 
मनुंय 
 
आम 
-
सााका 
 
नह
 
क 
 
लेगा 
 
|5)
 
शाक 
,
मानसक 
,
नैतक 
 
व 
 
आयामक 
 
ये
 
सब 
 
पीड़ाए
 
वेदात 
 
का 
 
अनुभव 
 
कने
 
से
 
तुत 
 
द    
 
हती 
 
 
औ 
कई 
 
आमन 
 
महापुष 
 
का 
 
सग 
 
मल 
 
जाये
 
त 
 
वेदात 
 
का 
 
Edited by Foxit ReaderCopyright(C) by Foxit Software Company,2005-2008For Evaluation Only.

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->