Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more ➡
Download
Standard view
Full view
of .
Add note
Save to My Library
Sync to mobile
Look up keyword
Like this
1Activity
×
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
ParvonKaPunjDepawali

ParvonKaPunjDepawali

Ratings: (0)|Views: 286|Likes:
Published by HariOmGroup

More info:

Published by: HariOmGroup on Jun 19, 2010
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, DOC, TXT or read online from Scribd
See More
See less

01/17/2011

pdf

text

original

 
िििििि
ििििि िि ििििि िि ििििि ििि िििि िििििि िि ििििि
 िि
।।
 
महीन   ेम अथवा वषर म ए
-
 
दो िदन आद  े  े ोई ाम मनुय   ेाा वाया जाय  ेतो उससे मनुय ा 
 
 िवास संभव नह ह  ैप ंतु मनु य यदा 
-
 
दा अपना िवव  े जगा उलास
,
आन  ं
,
सता 
,
वाय औ न   ेा 
 
गुण िविसत   ेतो उसा जीवन िविसत हो सता ह  ैउलास
,
आन  ं
,
सता बढान   ेवाे हमा  ेपवं म
,
पवं ा पुं
-
 
दीपावी अणी थान प ह  ै। भातीय
 
सं  ृ ित   ेऋिष
-
मुिनय 
,
संत ी यह द  ू द  ृ ि ही ह  ै
,
जो ऐसे पवं   ेमाधयम से व  ेसमाज ो आिम आन  ं
,
शात
 
सुख   ेमागर प े जात  ेथे। पम पू य संत ी आसाामजी बापू    ेइस पवर   ेपावन अवस िय  ेससंग वचन 
 
ा यह संन पु त   ेप म आप  ेम त पह  ु   ँ चन   ेी सेवा ा सुअवस पा सिमित यता ा 
 
अनु भव ती ह  ै
िििि ििि ििििििि िििि िििििििििििि िििििि
ििि िििििि ििििि ििि ििििि िििििि
 
सं  ृदय तो भाई सं  ृदय ही होता ह  ै। उसे जानन   े  ेिए हम भी अपनी वृ ि ो सं
-
 
वृि बनाना होता 
 
  ै। आज इस युग म अपनव से गीब   े  ु ःख ो
,
 ो समझ अग ोई च ह  ेह तो उनम पम
 
पू य संत ी आसााम जी बापू सबसे अणी थान प ह पू य बापू जी िदवाी    ेिदन म घू 
-
 
घू म  जात  ेह उन 
 
आिदवािसय   ेपास
,
उन गीब
,
  ेसहाा 
,
 िनाित   ेपास िजन  ेपास हन   ेो मान नह 
,
पहनन   ेो व नह 
,
खान   ेो ोटी नह 
!
  ैसे मना सत  ेह ऐसे ोग िदवाी 
?
ेिन पू य बापू ाा आयोजन होता ह  ैिवशा भ ंडा ा 
,
 िजसम ऐसे सभी ोग ो इा  िमठाइय 
,
फ
,
व
,
बतरन 
,
दिणा 
,
अ आिद ा िवतण होता ह  ै। साथ
-
ही 
-
 
साथ पू य बापू उह सुनात  ेह गीता 
-
भागवत
-
ामायण
-
 
उपिनषद ा सं  ेश तथा भातीय सं  ृ ित ी गिमा तो व   ेअपन   े
 
  ु ःख ो भू  भु मय हो हिीतरन म नाचन    ेगत  ेह औ दीपावी   ेपावन पवर प अपना उलास ायम खत  ेह 
ििििििििििि िििि िििि िििििि िि ििििििििििििि
 
हमाी सनातन सं  ृ ित म व
,
यौहा औ उसव अपना िवशेष महव खत  ेह । सनातन मर म पवर औ
 
यौहा ा इतना बाह  ू लय   ैि यह   ेोगो म
'
 
सात वा नौ यौहा
'
ी हावत चित हो गयी। इन पवं तथा 
 
यौहा   ेप म हमा  ेऋिषय न   ेजीवन ो सस औ उलासपू णर बनान   ेी सुद यवथा ी ह  ै। य  े पवर
 
औ यौहा ा अपना ए िवशेष महव ह  ै
,
जो िवशेष िवचा तथा उ  ेय ो सामन   ेख िनित िया गया ह  ै
 
  ेपवर औ यौहा चाह  ेिसी भी ेणी   ेह तथा उना बा प भे िभ
-
 
 िभ हो
,
पतु उह थािपत
 
न   े  ेपीछ  ेहमा  ेऋिषय ा उ  ेय था समाज ो भौितता से आधयािमता ी ओ ाना
 
अतमुरख हो अंतया ना यह भातीय सं  ृ ित ा मुख िसात ह  ै। बाही वतु   ँ   ैसी भी चम
-
 
दमवाी या भय ह 
,
पतु उनसे आम लयाण नह हो सता 
,
यि व  ेमनु य ो पमाथर से जीवन म अन   े पवं
 
औ यौहा ो जो हम हमा  ेउम य ी ओ बढत  ेह
,
ऐसी यवथा बनायी ह  ै
 
मनु य अपनी वाभािव वृि   ेअनुसा सदा ए स म ही हना पसंद नह ता। यिद वषर भ वह
 
अपन   ेिनयिमत ायं म ही गा ह  ेतो उस  ेिच म उिनता ा भाव उप हो जाय  ेगा। इसिए यह आवय ह  ै
 
 
 
 ि उसे बीच
-
 
बीच म ऐसे अवस भी िमत  ेह
,
 िजनसे वह अपन   ेजीवन म   ु छ नवीनता तथा हषलास ा अनुभव
 
 स  े
 
जो यौहा िसी महापु ष   ेअवता या जय ंती   ेप म मनाय  ेजात  ेह 
,
उन  ेाा समाज ो
 
सचिता 
,
सेवा 
,
न   ै ितता 
,
सदभावना आिद ी िशा िमती ह  ै। िबना िसी मागरदशर अथवा ाशत ं  ेसंसा
 
म सफतापू वर याा ना मनु य   ेिए संभव नह ह  ै। इसीिए उित ी आा न   ेवाी जाितय अपन   े
 
महान पू वरज   ेचि ो ब  ेगौव   ेसाथ याद ती ह। िजस यित या जाित   ेजीवन म महापुष ा सीा 
-
 
अनसीा ान ाश नह 
,
वह यित या जाित अि उिन 
,
जिट व अशत पायी जाती ह  ै। सनातन मर म
 
यौहा ो   ेव   ु ी ा िदन अथवा महापुष ी जय ंती ही न समझ उनससमाज ी वातिव उित
 
तथा चह  ु   ँ मुखी िवास ा उ  ेय िस िया गया ह  ै
 
ं  ेसमय से अन   ेथप  े ो सहन   े
,
अन   े  से जू झन   ेतथा अन   े पिवतरन   ेबाद भी हमाी 
 
सं  ृ ित आज त ायम ह  ैतो इस  ेमू  ाण म इन पवं औ यौहा ा भी बा योगदान हा ह  ै
 
हमा  ेतवव  ेा पू यपाद ऋिषय न   ेमहान उ  ेय ो य बना अन   े पवं तथा यौहा   ेिदवस
 
 िनयुत िय  ेह। इन सबम ौि ायं   ेसाथ ही आधयािम तव ा समाव  ेश इस ा से  िदया गया ह  ै
 
 ि हम उह अपन   ेजीवन म सुगमतापू वर उता स। सभी उसव समाज ो नवजीवन 
,
फ  ू ितर व उसाह द  ेन   ेवाे
 
ह । इन उसव ा य यही ह  ैि हम अपन   ेमहान पू वरज   ेअनुणीय तथा उजव समं ी प ंपा ो
 
ायम खत  े  ु ए जीवन ा चह  ु   ँमु खी िवास ।
 
हम सभी ा यह तरय ह  ैि अपन   ेउसव ो हषलास तथा गौव   ेसाथ मनाय
,
पतु साथ ही यह भी 
 
पम आवय ह  ैि हम उन  ेवातिव उ  ेय औ वप ो न भू  उह जीवन म उता
 
ान ी िचंगाी ो फ  ू ँत  ेहना। योत जगात  ेहना। ाश बढात  ेहना। सू ज ी िण   ेजिय  े
 
सू ज ी खब पा ेना। सदगुओं   ेसाद   ेसहा  ेवय ंसय ी ाित त पह  ु   ँ च जाना। ऐसी हो मु  िदवाी 
 
आपी 
...

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->