Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Save to My Library
Look up keyword
Like this
2Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Dipak 'Mashal' ki rachnaayen

Dipak 'Mashal' ki rachnaayen

Ratings: (0)|Views: 158 |Likes:
Published by Dipak Chaurasia

More info:

Published by: Dipak Chaurasia on Jul 22, 2010
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as DOC, PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

07/21/2010

pdf

text

original

 
<
एक
 
लघु 
 
कथा 
 
का 
 
अं
>"
डा 
.
 िवदा 
 
या 
 
  े िमसाल
 
रचना 
 
 िलखी 
 
  ै
 
आपन   े
!
सच
 
पू  िछए
 
तो
 
मन   े
 
आजतक
 
ऐसी 
 
सं  ेनायुत
 
किवता 
 
नह 
 
सुनी 
", "
अर  े
 
शु ला 
 
जी 
 
आप
 
सुनगे
 
  ैसे
?
ऐसी 
 
रचनाए  ँ 
 
तो
 
साल 
 
म
,
हजार 
 
रचनाओं
 
म
 
से
 
एक
 
 िनकल
 
  े
 
आती 
 
  ै
.
मेरी 
 
तो
 
आँ 
 
भर
 
आई
" "
  े
 
ऐसी 
 
  ैसी 
 
नह 
 
बिक
 
आपको
 
सुभा 
 
  ु मारी 
 
चौहान 
 
और
 
महा  ेवी 
 
वम 
 
जी 
 
की 
 
ेणी 
 
म
 
पह  ु   ँ चान   े
 
वाली 
 
  ृ ित
 
  ै
 
 िवदा 
 
जी 
.
  ै
 
की 
 
नह 
 
भटनागर
 
साब
?"
एक
 
  े
 
बा
 
एक
 
लेखन 
 
जगत
 
  े
 
मू धय
 
 िवान 
 
  े
 
मु खारिबं
 
से
 
 िनकले
 
  े
 
श
 
  ैसे
-
  ैसे
 
डा 
.
 िवदा 
 
वाषणय
 
  े
 
कान 
 
म
 
पड़
 
रह  े
 
थे
 
  ैसे
 
  ैसे
 
उनक  े
 
य
 
की 
 
  ेना 
 
बढती 
 
जा 
 
रही 
 
थी 
.
लगता 
 
था 
 
मानो
 
कोई
 
 िपघला 
 
  ु 
 
शीशा 
 
कान 
 
म
 
डाल
 
रहा 
 
हो
.
अपनी 
 
तारीफ 
 
  े
 
बंधत  े
 
पु ल 
 
को
 
पीछ  े
 
छोड़
 
उस
 
किव
-
गोी 
 
की 
 
अया 
 
 िवदा 
 
अतीत
 
  े
 
गिलयार 
 
म
 
वापस
 
लौटती 
 
ो
 
व
 
पू व
 
उसी 
 
थान 
 
पर
 
आयोिजत
 
एक
 
अय
 
किव
-
गोी 
 
म
 
पह  ु   ँच
 
जाती 
 
  ै
,
जब
 
वह
 
 िसफ
 
 िवदा 
 
थी 
 
  े िसक
 
 िशा 
 
अिधकारी 
 
डा 
.
 िवदा 
 
नह 
.
ह 
 
अलबा 
 
एक
 
रसायन 
 
 िवान 
 
की 
 
शोधाथ 
 
जर
 
थी 
.
शाय
 
इतन   े
 
ही 
 
लोग
 
जमा 
 
थे
 
उस
 
गोी 
 
म
 
भी 
,
सब
 
वही 
 
चेहर  े
,
वही 
 
मौसम
,
वही 
 
माहौल
.
सभी 
 
तथाकिथत
 
किव
 
एक
 
  े
 
बा
 
एक
 
करक  े
 
अपनी 
-
अपनी 
 
नवीनतम
 
वरिचत
 
किवता 
,
ल
,
गीत
 
आि
 
सुना 
 
रह  े
 
थे
.
अिधकश
 
लेखिनय 
 
शहर
 
  े
 
मशह  ू 
 
डॉटर
,
ोफ  ेसर
,
वकील
,
इंजीिनयर
 
और
 
 िं िसपल
 
आि
 
की 
 
थ 
.
  ेखन   े
 
लायक
 
या 
 
  े
 
कह
 
की 
 
  ँ सन   े
 
लायक
 
बात
 
  े
 
थी 
 
की 
 
हर
 
कलम
 
की 
 
  ृ ित
 
को
 
किवता 
 
  े
 
अनुप
 
न 
 
 िमलकर
 
रचनाकार
 
  े
 
ओह  े
 
  े
 
अनु प
 
ा
 
या 
 
सराहना 
 
 िमल
 
रही 
 
थी 
.
इा 
 
  ु ा 
 
ऐसे
 
भी 
 
थे
 
जो
 
और 
 
से
 
  ेहतर
 
 िलखत  े
 
तो
 
थे
 
ले िकन 
 
पिवहीन 
 
या 
 
समानजनक
 
  ेशे
 
से
 
न 
 
जु   े
 
होन   े
 
की 
 
वजह
 
से
 
आयाराम
-
गयाराम
 
की 
 
तरह
 
अन  ेखे
 
ही 
 
रहत  े
.
गोी 
 
गित
 
  े
 
थी 
,
समीाओं
 
  े
 
बीच
-
बीच
 
म
 
ठहाक  े
 
सुनाई
 
पड़त  े
 
तो
 
कभी 
 
 िबक  ु 
 
की 
 
  ु रक  ु राहट
 
या 
 
चाय
 
की 
 
चु  िकय 
 
की 
 
आवाज
.
शाय
 
उ
 
म
 
सबसे
 
छोटी 
 
होन   े
 
  े
 
कारण
 
 िवदा 
 
को
 
अपनी 
 
बारी 
 
आन   े
 
तक
 
लबा 
 
इत  ेार
 
करना 
 
पड़ा 
.
सबसे
 
आिखर
 
म
 
ले िकन 
 
अय
 
महोय
,
जो
 
 िक
 
एक
 
शासिनक
 
अिधकारी 
 
थे
,
से
 
पहले
 
 िवदा 
 
को
 
कायपाठ
 
का 
 
अवसर
 
अहसान 
 
 िक
 
तरह
 
 िया 
 
गया 
. '
पुधान 
 
समाज
 
म
 
एक
 
नारी 
 
का 
 
कायपाठ
 
वो
 
भी 
 
एक
 
२२
-
२३
 
साल
 
की 
 
अबोध
 
लड़की 
 
का 
,
इसका 
 
हमसे
 
या 
 
मुकाबला 
?'
कई
 
बुिजीिवय 
 
की 
 
योिरय 
 
खामोशी 
 
से
 
  े
 
सवाल
 
कर
 
रह 
 
थ 
.
  ैसे
 
तो
 
 िवदा 
 
बचपन 
 
से
 
ही 
 
किवता 
,
कहािनय 
,
य ंय
 
आि
 
 िलखती 
 
 
रही 
 
थी 
 
ले िकन 
 
उसे
 
यही 
 
एक
 
  ु ःख
 
था 
 
की 
 
कई
 
बार
 
गोिय 
 
म
 
कायपाठ
 
करक  े
 
भी 
 
वह
 
उन 
 
लोग 
 
  े
 
बीच
 
कोई
 
 िवशे
 
थान 
 
नह 
 
अिजत
 
कर
 
पाई
 
थी 
.
 िफर
 
भी 
 
'
बीती 
 
को
 
 िबसािरय  े
'
सोच
 
 िवदा 
 
न   े
 
एक
 
ऐसी 
 
किवता 
 
पढनी 
 
ार ं
 
की 
 
 िजसको
 
सुनकर
 
उसक  े
 
ोत 
 
और
 
सहपािठय 
 
न   े
 
उसे
 
पलक 
 
  े
 
 िबठा 
 
 िलया 
 
था 
 
और
 
उस
 
किवता 
 
न   े
 
सभी 
 
  े
 
 िल 
 
और
 
हठ 
 
  े
 
का 
 
कर
 
 िलया 
 
था 
.
 िफर
 
भी 
 
  ेखना 
 
बाकी 
 
था 
 
की 
 
उस
 
  ृ ित
 
को
 
 िवान 
 
सािहयकार 
 
और
 
आलोचक 
 
की 
 
शंसा 
 
का 
 
ठपा 
 
 िमलता 
 
  ै
 
या 
 
नह 
.
  ेजी 
 
से
 
धड़कत  े
 
 िल
 
को
 
काबू 
 
म
 
करत  े
 
  ु 
,
अपन   े
 
सु मधुर
 
कठ
 
से
 
आधी 
 
किवता 
 
सुना 
 
चुकन   े
 
  े
 
बा
 
 िवदा 
 
न   े
 
अचानक
 
महसू 
 
 िकया 
 
की 
 
'
  े
 
या 
 
किवता 
 
की 
 
जान 
 
समझी 
 
जान   े
 
वाली 
 
अितसं  ेनशील
 
 ं ितय 
 
  े
 
भी 
 
ना 
 
आह
,
ना 
 
वाह
 
और
 
ना 
 
ही 
 
कोई
 
ितिया 
!'
 िफर
 
भी 
 
हौसला 
 
बु लं
 
रखत  े
 
  ु 
 
उसन   े
 
 िबना 
 
सुर
-
लय
-
ताल
 
 िबगड़  े
 
किवता 
 
को
 
समाित
 
तक
 
पह  ु   ँचाया 
.
परतु 
 
तब
 
भी 
 
ना 
 
ताली 
,
ना 
 
तारी
,
ना 
 
सराहना 
 
और
 
ना 
 
ही 
 
सलाह
,
या 
 
ऐसी 
 
सं  ेनाशील
 
रचना 
 
भी 
 
 िकसी 
 
का 
 
यान 
 
ना 
 
आक  ृ
 
कर
 
सकी 
?
तभी 
 
अय
 
जी 
 
न   े
 
बोला 
 
"
अभी 
 
सुधार
 
की 
 
बह  ु 
 
आवयकता 
 
  ै
,
यास
 
करती 
 
रहो
."
मायू 
 
 िवदा 
 
को
 
लगा 
 
की 
 
इसबार
 
भी 
 
उससे
 
चू 
 
  ु 
 
  ै
.
अपन   े
 
 िवचिलत
 
मन 
 
को
 
सहालत  े
 
  ु 
 
वो
 
अय
 
महोय
 
की 
 
किवता 
 
सुनन   े
 
लगी 
.
एक
 
ऐसी 
 
किवता 
 
 िजसक  े
 
ना 
 
सर
 
का 
 
पता 
 
ना 
 
  ै
 
का 
,
ना 
 
भावः
 
का 
 
और
 
ना 
 
ही 
 
अथ
 
का 
,
या 
 
यू  ं
 
कह
 
की 
 
इससे
 
  ेहतर
 
तो
 
ज 
 
पच
 
का 
 
छा
 
 िलख
 
ले
.
लेिकन 
 
अचभा 
 
  े
 
की 
 
ऐसी 
 
कोई
 
 ं ित
 
नह 
 
 िजसप  े
 
तारीफ
 
ना 
 
  ु 
 
हो
,
ऐसा 
 
कोई
 
मु 
 
नह 
 
 िजसन   े
 
तारीफ
 
ना 
 
की 
 
हो
 
और
 
तो
 
और
 
समात
 
होन   े
 
  े
 
तािलय 
 
की 
 
गड़गडाहट
 
थामे
 
ना 
 
थमती 
.
सािहयजगत
 
की 
 
उस
 
सची 
 
आराधक
 
का 
 
आहत
 
मन 
 
पू 
 
  ैठा 
 
'
या 
 
यह 
 
भी 
 
राजनीित
?
या 
 
यह 
 
भी 
 
सरवती 
 
की 
 
हार
?
ऐसे
 
ही 
 
तथाकिथत
 
सािहियक
 
मठाधीश 
 
  े
 
कारण
 
हर
 
रोज
 
ना 
 
जान   े
 
 िकतन   े
 
योय
 
उीयमान 
 
रचनाकार 
 
को
 
सािहियक
 
आमहया 
 
करनी 
 
पड़ती 
 
होगी 
 
और
 
वहीँ 
 
 िविभ
 
प 
 
को
 
सु शोिभत
 
करन   े
 
वाल 
 
की 
 
नर ंा
 
करन   े
 
योय
 
रचनाए  ँ 
 
भी 
 
पुरक  ृ
 
होती 
 
ह 
.'
उस
 
 िन 
 
 िवदा 
 
न   े
 
ठान 
 
 िलया 
 
की 
 
अब
 
वह
 
भी 
 
समानजनक
 
प
 
हािसल
 
करन   े
 
  े
 
बा
 
ही 
 
उस
 
गोी 
 
म
 
वापस
 
आय  ेगी 
.
वापस
 
वतमान 
 
म
 
लौट
 
चुकी 
 
डा 
.
 िवदा 
 
  े
 
चेहर  े
 
पर
 
ु शी 
 
नह 
 
  ु ःख
 
था 
 
की 
 
 िजस
 
किवता 
 
को
 
ो
 
व
 
पू व
 
यान 
 
  ेन   े
 
योय
 
भी 
 
नह 
 
समझा 
 
गया 
 
आज
 
वही 
 
किवता 
 
उसक  े
 
प
 
  े
 
साथ
 
अितिविश
 
हो
 
चुकी 
 
  ै
.
अं
 
म
 
सार  े
 
घटनाम
 
को
 
सबको
 
मरण
 
करन   े
 
  े
 
बा
 
ऐसे
 
छ
 
सािहयजगत
 
को
 
  ू 
 
से
 
ही 
 
णाम
 
कर
 
 िवदा 
 
न   े
 
उसम
 
पुनः
 
व  े
 
ना 
 
करन   े
 
की 
 
घोणा 
 
कर
 
ी 
.
अब
 
उसे
 
रोकता 
 
भी 
 
कौन 
,
सभी 
 
किव
 
 
आलोचकगण
 
तो
 
सचाई
 
  े
 
आईन   े
 
म
 
खु
 
को
 
न  ंगा 
 
पाकर
 
जमीन 
 
फटन   े
 
का 
 
इत  ेार
 
कर
 
रह  े
 
थे
.
ीपक
 
'
मशाल
'
 
~
एक
 
समसामियक
 
राजनीितक
 
य ंय
~ 
आज
 
की 
 
ताा 
 
खबर
,
आज
 
की 
 
ताा 
 
खबर
... '
कसाब
 
की 
 
ाल
 
म
 
नमक
 
याा 
',
आज
 
की 
 
ताा 
 
खबर
..... .
चिकए
 
मत
,
या 
 
मजाक
 
  ै
 
यार
,
आप
 
चक  े
 
भी 
 
नह 
 
हगे
 
यिक
 
हमारी 
 
महान 
 
मीिडया 
 
  ु 
 
समय
 
बा
 
ऐसी 
 
खबर
 
बनान   े
 
लगे
 
तो
 
कोई
 
बड़ी 
 
बात
 
नह 
.
आप
 
 िवगत
 
  ु 
 
 िन 
 
की 
 
बर 
 
पर
 
रा 
 
गौर
 
फरमाइए
, '
कसाब
 
की 
 
 िरमड
 
एक
 
हत  े
 
और
 
बढी 
', '
कसाब
 
न   े
 
माना 
 
की 
 
वो
 
पािकतानी 
 
  ै
', '
कसाब
 
मेरा 
 
  ेटा 
 
  ै
-
एक
 
पािकतानी 
 
का 
 
ावा 
', '
कसाब
 
मेरा 
 
खोया 
 
  ु 
 
  ेटा 
-
एक
 
इं िडयन 
 
म 
', '
  े
 
  े
 
अर
 
बब
-
रोधक
 
  े
 
बन   ेगी 
 
कसाब
 
  े
 
 िलए
', '
कसाब
 
  े
 
 िलए
 
वकील
 
की 
 
खोज
 
  े
', '
अंजिल
 
बाघमार  े
 
लडगी 
 
कसाब
 
  े
 
बचाव
 
म
', '
गधी 
 
की 
 
आम
-
कथा 
 
पढ
 
रहा 
 
  ै
 
कसाब
'
वगैरह
-
वगैरह
....
अर  े
 
महाराज
,
  े
 
मिहमामंडन 
 
य 
?
कसाब
 
न 
 
  ु 
 
'
ओय  े
 
लकी 
,
लकी 
 
ओय  े
'
का 
 
अभय
 
  ेओल
 
हो
 
गया 
.
रा 
 
सोिचय  े
 
की 
 
या 
 
गुरती 
 
होगी 
 
  े
 
सब
 
  े
 
कर
 
उीक  ृषणन 
,
करकर  े
,
सालसकर
 
और
 
कामत  े
 
  ैसे
 
शही 
 
पर
.
अर  े
 
इतनी 
 
बार
 
नाम
 
तो
 
हमन   े
 
  े
 
को
 
इस
 
भयावह
 
संकट
 
से
 
 िनकलन   े
 
वाले
 
इन 
 
वीर 
 
का 
 
भी 
 
नह 
 
 िलया 
.
मा
 
कीिजय  े
 
म 
 
  े
 
सब
 
य ंय
 
की 
 
भाा 
 
म
 
 िलख
 
सकता 
 
था 
 
मगर
 
म 
 
उन 
 
मुयमंी 
 
जी 
 
की 
 
तरह
 
सं  ेनाहीन 
 
नह 
 
बन 
 
सकता 
 
जो
 
शही 
 
का 
 
समान 
 
करना 
 
नह 
 
जानत  े
.
इतन   े
 
  े
 
बावजू 
 
शाय
 
महामीिडया 
 
और
 
तथाकिथत
 
से  ु लर 
 
का 
 
तक
 
हो
 
की 
 
'
पाप
 
से
 
घृणा 
 
करो
,
पापी 
 
से
 
नह 
',
तो
 
ठीक
 
  ै
 
उसे
 
उसक  े
 
पाप 
 
की 
 
ही 
 
सजा 
 
  े
 
ो
,
नह 
 
 िहमत
 
पड़ती 
 
तो
 
गीता 
 
पढ
 
  े
 
  ेो
,
  ु रान 
 
का 
 
सही 
 
अथ
 
समझ
 
  े
 
  ेो
 
और
 
ो
,
ऐसी 
 
सजा 
 
ो
,
ऐसी 
 
सजा 
 
ो
 
की 
 
हर
 
आत ं
 
की 
 
ह
 
ना 
 
हो
 
जाय  े
,
कप
 
जाय  े
.
खैर
 
याा 
 
बोल
 
गया 
,
यिक
 
इस
 
सब
 
  े
 
 िलए
 
इन 
 
मीिडया 
 
वाल 
 
को
 
ोी 
 
ठहराना 
 
भी 
 
सही 
 
नह 
 
  ै
,
इन 
 
  ेचार 
 
  े
 
 िलए
 
तो
 
रोी 
-
रोटी 
 
वतन 
 
और
 
इत
 
से
 
 यारी 
 
हो
 
गयी 
 
  ै
.
तभी 
 
'
काली 
 
मुग 
 
न   े
 
स  े
 
अड  े
 
 िए
'
ेिकं
 
यू 
 
बनात  े
 
ह 
 
और
 
चुनावी 
 
बरसात
 
का 
 
मौसम
 
आत  े
 
ही 
 
  े
 
भी 
 
साधारी 
 
सरकार
 
को
 
पुनः
 
बहाल
 
करन   े
 
  े
 
'
अिभयान 
'(
सािजश
 
नह 
 
कह
 
सकता 
,
  े
 
श
 
चुनाव
 
आयोग
 
को
 
भड़का 
 
सकता 
 
  ै
 
खामवाह
 
मुझ
 
पर
 
भी 
 
रासु का 
 
लग
 
सकती 
 
  ै
)
  े
 
तहत
 
अघोित
,
अमािणत
,
अकट
 
 िकतु 
 
  ृय
 
गठबंधन 
 
बना 
 
लेत  े
 
ह 
.
चाणय
 
नीित
 
म
 
नयी 
 
नीित
 
एड
 
करनी 
 
पड़  ेगी 
 
'
 िजसकी 
 
लाठी 
 
उसकी 
 
भ स
'
  ैस
 
इसिलए
 
की 
 
कई
 
ह 
 
  ैसे
 
की 
 
ेिसडट
 
जी 
,
चीफ
 
इलेशन 
 
किमर
 
जी 
,
सी 
 
बी 
 
आई
 
जी 
,
मीिडया 
 
जी 
,
यायाधीश
 
जी 
.
कमाल
 
  े िखय  े
 
की 
 
 
व
 
तक
 
मू 
-
बिधर 
 
  े
 
 िलए
 
ोाम
 
बन   े
 
रहन   े
 
  े
 
बा
 
हमार  े
 
अितितभाशाली 
 
धानमंी 
 
जी 
 
अम
 
धानमंी 
 
का 
 
लेबल
 
हटान   े
 
  े
 
 िलए
 
अचानक
 
आजतक
 
की 
 
तरह
 
हला 
 
बोल
 
की 
 
मु ा 
 
म
 
 
गए
,
मगर
 
वो
 
भी 
 
हाईकमान 
 
  े
 
इशार  े
 
पर
.
ऐसे
 
लगा 
 
  ैसे
 
मािलक
 
न   े
 
बोला 
 
हो
 
'
टॉमी 
 
  ू 
'.
अर  े
 
महाराज
 
या 
 
करो
 
हम
 
पीअच् 
.
डी 
.,
ऍ
.
एन 
.
.
सी 
.
 िडीधारक
 
ोफ  ेसर
 
नह 
 
चािहए
 
जो
 
घड़ी 
 
  े
 
  े
 
लास
 
लेन   े
 
आय
 
और
 
घड़ी 
 
  े
 
  े
 
 िबना 
 
  ु 
 
समझाए
 
चले
 
जाए  ँ 
(
ऐसे
 
लोग
 
सलाहकार
 
ही 
 
अछ  े
 
लगत  े
 
ह 
).
मािलक
,
सिचन 
 
होना 
 
एक
 
बात
 
  ै
 
और
 
गैरी 
 
 िकटन 
 
होना 
 
  ू सरी 
,
जरी 
 
नह 
 
की 
 
अछा 
 
 िखलाडी 
 
अछा 
 
कोच
 
भी 
 
सािबत
 
हो
.
हम
 
एक
 
लीडर
 
चािहए
 
न 
 
की 
 
शोपीस
.
 
ओबामा 
 
जी 
 
कलाकार
 
आमी 
 
ह 
,
खू 
 
मीठी 
 
मीठी 
 
बात
 
कह 
 
पी 
 
ऍम
 
साब
 
  े
 
बार  े
 
म
,
भाई
 
इलेशन 
 
टाइम
 
  ै
,
वो
 
भी 
 
मनमोहक
 
अा 
 
से
 
झू मत  े
 
  ु 
 
पलट
 
  े
 
तारीफ
 
कर
 
गए
 
भाई
 
की 
.
इसपर
 
मुझ  े
 
संक  ृ
 
का 
 
एक
 
लोक
 
या
 
आता 
 
  ै
 
 िक
-'
उषय
 
 िववाह  ेु 
 
गीत ं
 
गायित
 
गभः
,
परपर ं
 
शंयती 
 
अहो
 
पः
 
अहो
 
गुणं
'
याा 
 
मुिकल
 
अथ
 
नह 
 
  ै
-
ऊँट
 
  े
 
 िववाह
 
म
 
गध  े
 
जी 
 
न   े
 
गीत
 
गया 
,
 िफर
 
ोन 
 
न   े
 
आपस
 
म
 
ही 
 
एक
 
  ु सर  े
 
  े
 
गले
(
आवा
)
और
 
प
 
की 
 
शंसा 
 
भी 
 
कर
 
ली 
.
सच
 
  ै
 
जी 
 
न   ेता 
 
जी 
 
  े 
 
की 
 
ओर
 
लौट
 
रह  े
 
ह 
.
मुझ  े
 
सच
 
म
 
नह 
 
पता 
 
की 
 
न   ेह
-
गधी 
 
पिरवार
 
  े
 
सबसे
 
छोट  े
 
चम
-
-
 िचराग
 
न   े
 
  ु 
 
उटा 
-
पुटा 
 
बोला 
 
था 
 
की 
 
नह 
 
(
यिक
 
सी 
.
डी 
.
नह 
 
  े िख
)
मगर
 
  े
 
तो
 
सच
 
  ै
 
की 
 
आरोप
 
लगे
 
ह 
,
बाकी 
 
सचाई
 
चुनाव
 
बा
 
ही 
 
पता 
 
चलेगी 
 
यिक
 
अभी 
 
हाईकमान 
 
न   े
 
चीफ
 
इलेशन 
 
किमर
 
की 
 
 ंजीर
 
टाइट
 
कर
 
रखी 
 
  ै
.
मगर
 
ीमान 
 
वण
 
जी 
,
अछा 
 
सुर
,
धािमक
 
नाम
 
पाया 
 
  ै
 
आपन   े
 
और
 
आपक  े
 
सार  े
 
पिरवार
 
न   े
.
रा 
 
सोच
 
समझ
 
  े
 
ही 
 
बोल
 
लेत  े
,
जोश
 
म
 
होश
 
खो
 
 िया 
,
इतना 
 
भावुक
 
होन   े
 
की 
 
या 
 
जरत
 
थी 
.
लोग
 
अभी 
 
आपक  े
 
 िपताजी 
 
  े
 
सकमं
 
को
 
नह 
 
भू ले
 
ह 
,
माता 
 
जी 
 
पशु 
-
पी 
 
े
 
म
 
यत
 
ह 
,
लोग
 
उनसे
 
भी 
 
त
 
ह 
,
आप
 
य 
 
कोढ
 
म
 
खाज
 
कर
 
  ै  े
 
  ै  े
.
अगर
 
ऐसा 
 
कहना 
 
ही 
 
था 
 
तो
 
जसपाल
 
भी 
 
साब
 
  े
 
उटा 
-
पुटा 
 
म
 
एक
 
एपीसोड
 
बना 
 
लेत  े
,
 िफर
 
माी 
 
मग
 
लेत  े
.
अर  े
 
लेलेले
 
अगर
 
म न   े
 
मासू 
 
लालू 
 
  े
 
 िलए
 
नह 
 
 िलखा 
 
तो
 
इस
 
महान 
 
से  ु लर
 
का 
 
 िल
 
  ू 
 
जाय  ेगा 
 
और
 
लला 
 
ठ
 
जाय  ेगा 
.
खैर
 
ा 
 
आपकी 
 
तो
 
कची 
 
लोई
 
  ै
,
जो
 
जी 
 
म
 
आय  े
 
बोलो
.
  ैसे
 
भी 
 
आपकी 
 
गलती 
 
नह 
 
मानता 
 
म 
,
चारा 
 
खा 
 
  े
 
कोई
 
और
 
बोलेगा 
 
भी 
 
या 
(
या
 
रह  े
 
  े
 
चारा 
 
  ै
,
राणा 
 
ताप
 
न   े
 
भू से
 
की 
 
रोिटय 
 
खाई
 
थ 
 
वो
 
भी 
 
अपन   े
 
  े
 
  े
 
 िलए
,
इसिलए
 
अपन   े
 
को
 
उस
 
  े  ेगरी 
 
म
 
मत
 
समझना 
).
ले िकन 
 
एक
 
नया 
 
रा
 
पता 
 
चला 
 
की 
 
चारा 
 
आपन   े
 
राबड़ी 
 
को
 
भी 
 
 िखलाया 
 
  ै
,
वो
 
तो
 
भला 
 
हो
 
उनकी 
 
जुबान 
 
का 
 
 िजसन   े
 
खु 
 
  े
 
सब
 
पफाश
 
कर
 
 िया 
 
की 
 
उनक  े
 
 िमाग
 
म
 
जो
 
  ै
 
वो
 
या 
 
खान   े
 
से
 
हो
 
सकता 
 
  ै
.
आहा 
 
हा 
,
पासवान 
 
साब
 
तो
 
मुझ  े
 
सािशव
 
अमरापु रकर
 
की 
 
या
 
 िला 
 
  े  े
 
ह 
(
 िरयल
 
लाइफ
 
नह 
 
रील
 
लाइफ
 
वाले
 
अमरापुरकर
 
की 
).
माननीय
 
मुलायम
 
जी 
 
  े
 
बार  े
 
म
 
 िलखन   े
 
से
 
तो
 
कलम
 
भी 
 
इकार
 
करती 
 
  ै
,
  ैसे
 
भी 
 
म 
 
इस
 
लॉग
 
और
 
य ंय
 
की 
 
गिरमा 
 
नह 
 
 िगराना 
 
चाहता 
.
बिहन 
 
मायावती 
 
जी 
 
  े
 
 िलए
 
जर
 
करब 
 
 िनव  ेन 
 
  ै
 
आप
 
लोग 
 
से
 
की 
 
एक
 
बार
 
इस
 
  ेचारी 
 
को
 
-
 
 िन 
 
  े
 
 िलए
 
ही 
 
सही 
 
धानमंी 
 
बनवा 
 
ो
 
यार
.
पु षपक
 
 िवमान 
 
से
 
  ु 
 
 िव  ेशी 
 
ौर  े
 
मार
 
लेगी 
,
बाहर
 
की 
 
धरती 
 
  े
 
लेगी 
,
 िव  ेशी 
 
मेम 
 
से
 
  ु 
 
  ैशन 
 
 िटस
 
ले
 
लेगी 
,
  े
 
म
 
-
 
हार
 
अपनी 
 
ट  ेयू 
 
लगवा 
 
लेगी 
 
और
 
उर
 
  े
 
म
 
करोड़ 
 
  े
 
करती 
 
  ै
 
यह 
 
अरब 
 
  े
 
वार  े
-
यार  े
 
कर
 
लेगी 
(
इंटरन   ेशनल
 
बथड  े
 
पाट 
 
  े
 
 िलए
 
चंा 
 
याा 
 
चािहए
 
ना 
)
और
 
याा 
 
  ु 
 
नह 
.
 िफर
 
लला 
 
कोई
 
बड़ी 
 
समया 
 
  ैसे
 
ही 
 
  े
 
  े
 
सामन   े
 
आव  ेगी 
 
अपन   े
 
आप
 
ही 
 
भड़भड़ा 
 
  े
 
इतीफा 
 
  े
 
  ेगी 
.
उसकी 
 
तमा 
 
पू री 
 
कर
 
ो
 
यार
,
कम
 
से
 
कम
 
सचाई
 
म
 
एक
 
तो
 
'
लमडोग
 
 िमिलय  ेनर
'
बन   े
.
बह  ु 
 
  े
 
से
 
कमेट
 
 िकय  े
 
जा 
 
रहा 
 
  ू   ँ 
 
भइया 
,
अब
 
सुनो
 
गौर
 
से
 
ऐसे
 
 िलखत  े
-
पढत  े
 
रहन   े
 
से
 
  ु 
 
ना 
 
होन   े
 
वाला 
,
  ु 
 
ठानो
,
  ु 
 
करो
.
मन   े
 
तो
 
सोच
 
 िलया 
 
  ै
 
अगला 
 
इलेशन 
 
लड़न   े
 
का 
,
आप
 
भी 
 
 िडसाइड
 
करलो
 
या 
 
 िबना 
 
मेरा 
 
नाम
 
बताय  े
 
सु साईड
 
कर
 
लो
.
यिक
 
अब
 
  े
 
ही 
 
ो
 
आशन 
 
ह 
.
सचाई
 
  े
 
  ै
 
की 
 
आज
 
जब
 
तक
 
एक
 
ऍम
.
पी 
.
एक
 
डी 
.
ऍम
.
  े
 
बराबर
 
योय
(
 िसफ
 
 िडी 
 
वाला 
 
योय
 
नह 
,
बोलन   े
 
और
 
करन   े
 
वाला 
 
योय
)
नह 
 
होगा 
 
तब
 
तक
 
  े
 
का 
 
यू   ँ 
 
ही 
 
मिटयामे
 
होता 
 
रह  ेगा 
 
और
 
इस
 
  ैसे
 
न 
 
जान   े
 
 िकतन   े
 
य ंय
 
सामन   े
 
आत  े
 
रहगे
.
एक
 
बात
 
 िल
 
से
 
बताना 
 
भाईलोग
 
की 
 
"
या 
 
आप
 
लोग 
 
को
 
ऐसा 
 
नह 
 
लगता 
 
की 
 
उमीवार 
 
  े
 
नाम
 
  े
 
बा
 
एक
 
आिखरी 
 
ऑशन 
 
इनम
 
से
 
कोई
 
नह 
 
का 
 
होना 
 
चािहए
 
और
 
यि
 
५०
%
से
 
याा 
 
मताता 
 
उस
 
ऑशन 
 
को
 
चुनत  े
 
ह 
 
तो
 
पु नः
 
चुनाव
 
हो
.
वो
 
भी 
 
नए
 
उमीवार 
 
  े
 
साथ
 
 िजससे
 
की 
 
सभी 
 
पािटय 
 
को
 
  े
 
स  े
 
जाय  े
 
की 
 
अब
 
'
अलोकत ं
'
नह 
 
चलेगा 
,
उनका 
 
उमीवार
 
नह 
 
चलेगा 
 
बिक
 
जनता 
 
का 
 
न   ेता 
 
चलेगा 
.
सं िवधान 
 
म
 
संशोधन 
 
होना 
 
चािहए
 
 िक
 
  ु 
 
 िवशे
 
योयता 
 
वाला 
 
यित
 
ही 
 
सस
 
या 
 
 िवधायक
 
प
 
का 
 
उमीवार
 
हो
 
वन 
 
ऐसे
 
ही 
 
भिसय 
 
की 
 
पीठ
 
से
 
उतर
 
  े
 
लोग
 
  े
 
 िक
 
  े
 
क  ेलत  े
 
रहगे
."
अर  े
 
जागो
 
ाहक
 
जागो
,
अब
 
और
 
घिटया 
 
माल
 
मत
 
खरीो
.
एक
 
नई
 
ित
 
का 
 
सू पात
 
करो
.
ीपक
 
'
मशाल
'
1-
~
ल
~
कोई
 
इक
 
खू बसू रत
,
गुनगुनाता 
 
गीत
 
बन 
 
जाऊँ 
,

Activity (2)

You've already reviewed this. Edit your review.
1 thousand reads
1 hundred reads

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->