Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword or section
Like this
24Activity
P. 1
Gurutva Jyotish Oct-2010

Gurutva Jyotish Oct-2010

Ratings: (0)|Views: 507|Likes:
Published by CHINTAN JOSHI
(font help>> http//gurutvajyotish.blogspot.com/) free monthly Astrology Magazines absolutely free, You can read in Monthly GURUTVA JYOTISH Magazines Astrology, Numerology, Vastu, Gems Stone, Mantra, Yantra, Tantra, Kawach & ETC Related Article absolutely free of cost.
गुरुत्व ज्योतिष मासिक ई पत्रीका ज्योतिष, अंक ज्योतिष, वास्तु, रत्न, मंत्र, यंत्र, तंत्र, कवच इत्यादि प्राचिन गूढ सहस्यो एवं आध्यात्मिक ज्ञान से आपको परिचित कराती हैं। नवदुर्गा और ज्योतिष, नवदुर्गा आराधना का महत्व, माँ दुर्गा के अचुक प्रभावी मंत्र, मातृसुख एवं ज्योतिष, प्रथम शैलपुत्री, द्वितीयं ब्रह्मचारिणी, तृतीयं चन्द्रघण्टा, चतुर्थ कूष्माण्डा, पंचम स्कंदमाता, षष्ठम् कात्यायनी, सप्तम कालरात्रि, अष्टम महागौरी, नवम् सिद्धिदात्री, मां दुर्गा के नवरुपों कि उपासना, प्रमुख शक्ति पीठों में होती हैं विशेष पूजा, शारदीय नवरात्र व्रत के लाभ, नवरात्र व्रत, प्रभाते कर दर्शनम्, नवरात्र में कन्या पूजन अनुष्ठान, दुर्गा चालीसा, शाप विमोचन मंत्र, श्रीकृष्ण कृत देवी स्तुति, देवी आराधना से सुख प्राप्ति, मां के चरणों निवास करते समस्त हैं तीर्थ, ऋग्वेदोक्त देवी सूक्तम्, विभिन्न देवी की प्रसन्नता के लिये गायत्री मंत्र, सप्‍तश्र्लोकी दुर्गा, दुर्गा आरती, दुर्गाष्टकम्‌, सिद्धकुंजिकास्तोत्रम्‌, भवान्यष्टकम्‌, देव प्रतिमा, दुर्गाष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम्, विश्वंभरी स्तुति,
पति-पत्नी में कलह निवारण हेतु, महिषासुरमर्दिनिस्तोत्रम्, तुलसी सेवन करते समय रखे सावधानी, करवा चौथ व्रत, अक्टूबर 2010 मासिक पंचांग, अक्टूबर -2010 मासिक व्रत-पर्व-त्यौहार, अक्टूबर २०१० विशेष योग, ग्रह चलन अक्टूबर-2010, मासिक राशि फल, दैनिक शुभ एवं अशुभ समय
चौघडिये, वास्तु परामर्श, ज्योतिष परामर्श, ज्वाला मां का परम भक्त, मातृभक्त, पुत्र चार प्रकार के होते हैं,
ओक्टूबर-२०१० मासिक राशि फल( ओक्टूबर-२०१०) मासिक राशी फल, mashik rashi Phal, Masik rashi Fal, Masik Rashee Phal
(font help>> http//gurutvajyotish.blogspot.com/) free monthly Astrology Magazines absolutely free, You can read in Monthly GURUTVA JYOTISH Magazines Astrology, Numerology, Vastu, Gems Stone, Mantra, Yantra, Tantra, Kawach & ETC Related Article absolutely free of cost.
गुरुत्व ज्योतिष मासिक ई पत्रीका ज्योतिष, अंक ज्योतिष, वास्तु, रत्न, मंत्र, यंत्र, तंत्र, कवच इत्यादि प्राचिन गूढ सहस्यो एवं आध्यात्मिक ज्ञान से आपको परिचित कराती हैं। नवदुर्गा और ज्योतिष, नवदुर्गा आराधना का महत्व, माँ दुर्गा के अचुक प्रभावी मंत्र, मातृसुख एवं ज्योतिष, प्रथम शैलपुत्री, द्वितीयं ब्रह्मचारिणी, तृतीयं चन्द्रघण्टा, चतुर्थ कूष्माण्डा, पंचम स्कंदमाता, षष्ठम् कात्यायनी, सप्तम कालरात्रि, अष्टम महागौरी, नवम् सिद्धिदात्री, मां दुर्गा के नवरुपों कि उपासना, प्रमुख शक्ति पीठों में होती हैं विशेष पूजा, शारदीय नवरात्र व्रत के लाभ, नवरात्र व्रत, प्रभाते कर दर्शनम्, नवरात्र में कन्या पूजन अनुष्ठान, दुर्गा चालीसा, शाप विमोचन मंत्र, श्रीकृष्ण कृत देवी स्तुति, देवी आराधना से सुख प्राप्ति, मां के चरणों निवास करते समस्त हैं तीर्थ, ऋग्वेदोक्त देवी सूक्तम्, विभिन्न देवी की प्रसन्नता के लिये गायत्री मंत्र, सप्‍तश्र्लोकी दुर्गा, दुर्गा आरती, दुर्गाष्टकम्‌, सिद्धकुंजिकास्तोत्रम्‌, भवान्यष्टकम्‌, देव प्रतिमा, दुर्गाष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम्, विश्वंभरी स्तुति,
पति-पत्नी में कलह निवारण हेतु, महिषासुरमर्दिनिस्तोत्रम्, तुलसी सेवन करते समय रखे सावधानी, करवा चौथ व्रत, अक्टूबर 2010 मासिक पंचांग, अक्टूबर -2010 मासिक व्रत-पर्व-त्यौहार, अक्टूबर २०१० विशेष योग, ग्रह चलन अक्टूबर-2010, मासिक राशि फल, दैनिक शुभ एवं अशुभ समय
चौघडिये, वास्तु परामर्श, ज्योतिष परामर्श, ज्वाला मां का परम भक्त, मातृभक्त, पुत्र चार प्रकार के होते हैं,
ओक्टूबर-२०१० मासिक राशि फल( ओक्टूबर-२०१०) मासिक राशी फल, mashik rashi Phal, Masik rashi Fal, Masik Rashee Phal

More info:

Published by: CHINTAN JOSHI on Oct 03, 2010
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF or read online from Scribd
See more
See less

05/27/2013

pdf

 
 
गुव
 
कायालय
 
ारा
 
तुत मािसक
 
-
पका
 
अटबर
-2010
NON PROFIT PUBLICATION
Font Help >> http://gurutvajyotish.blogspot.com
 
 
2
 
अटबर  ू
2010
 
FREEE CIRCULAR
गुव 
 
योितष 
 
पका 
 
संपादक 
 
िचंतन 
 
जोशी 
 
संपक
 
गुव 
 
योितष 
 
वभाग 
 
गुव 
 
कायालय 
 
92/3. BANK COLONY,BRAHMESHWAR PATNA,BHUBNESWAR-751018,(ORISSA) INDIA
फोन 
 
91+9338213418,91+9238328785,
ईमेल 
 
gurutva.karyalay@gmail.com,gurutva_karyalay@yahoo.in,
 
वेब 
 
http://gk.yolasite.com/  http://www.gurutvakaryalay.blogspot.com/ 
 
 
पका 
 
तुित 
िचंतन 
 
जोशी 
,
वतक 
.
ऎन 
.
जोशी 
 
फोटो 
 
ाफस 
 
िचंतन 
 
जोशी 
,
वतक 
 
आट
 
हमारे
 
मुय 
 
सहयोगी 
 
वतक 
.
ऎन 
.
जोशी 
 
(
वतक 
 
सोटेक 
 
इडया 
 
िल 
)
 
य 
 
आमय 
 
बंधु
 / 
बहन 
 
जय 
 
गुदेव 
 
युग 
-
युगांतर 
 
सेविभन समय पर दैवीय शयांउपन 
 
होकर अपनेलीलाएंबखेरती रहं। जसाका वतृत वणन हमारे
 
वेद 
,
पुराण 
 
व 
 
शा 
 
मे
 
िमलता 
 
ह।
 
जब 
-
जब 
 
कसी 
 
आसुर 
 
श 
 
ने
 
अयाचार 
 
व 
 
ाकृितक 
 
आपदाओं
 
ारा 
 
देवता 
-
मानव 
 
जीवन 
 
को 
 
तबाह 
 
करने
 
क 
 
कोिशश 
 
क ह
,
 
तब 
-
तब 
 
कसी 
 
न 
 
कसी 
 
दैवीय 
 
श 
 
का 
 
अवतरण 
 
हआ। ु
 
इसी 
 
कार 
 
जब 
 
महषासुराद 
 
दैय 
 
 
अयाचार 
 
से
 
भूलोक 
 
व 
 
देवलोक 
 
याकल 
 
हो 
 
उठा 
 
तब 
 
परम 
 
पता 
 
परमेर 
 
क 
 
ेरणा 
 
से
 
सभी 
 
देव 
 
गण 
 
ने
 
एक 
 
अत  ु
 
श 
 
का 
 
सृजन 
 
कया 
 
जो 
 
आद 
 
श 
 
माँ
 
जगदंबा 
 
 
नाम 
 
से
 
सपूण
 
ाड 
 
म
 
या 
 
हवां ु
 
जहने
 
महषासुर इयाद 
 
दैय 
 
का 
 
वध 
 
कर 
 
भूलोक 
 
व 
 
देवलोक 
 
लोक 
 
म
 
पुनः
 
ाण 
 
श 
 
व 
 
रा 
 
श 
 
का 
 
संचार 
 
कर 
 
दया ह।देवी 
 
भागवत 
,
सूय
 
पुराण 
,
िशव 
 
पुराण 
,
भागवत 
 
पुराण 
,
मारकडेय 
 
इयाद 
 
पुराण 
 
म
 
िशव 
-
श 
 
क 
 
कयाणकार 
 
कथाओं
 
का 
 
अतीय 
 
वणन 
 
कयागया ह।
 
नवरा कनौ 
 
दन पव
 
पूणआथा 
,
ा 
,
भ 
 
व 
 
हषलास 
 
 
साथ 
 
संयम एवंपवता 
 
को 
 
महव 
 
देते
 
हव ु
 
नव 
 
देवय 
 
क 
 
आराधना 
 
कर आप अपनेपरवार क उनित 
,
सुख 
 
एवं
 
समृ 
 
ा कर 
,
जीवन कभयंकर 
 
रोग 
,
क 
,
दःख  ु
-
दरता 
 
से
 
टकारा 
 
पानेममाँ
 
जगदंबा 
 
आपक सहायता करशुभकामनाएं
सवमं गल 
-
मां गये 
 
िशवे सवाथसािधके 
 
। 
 
शरये 
 
यबके 
 
गौर 
 
नारायण 
 
नमोऽतुते
 
सृथित 
 
वनाशानां
 
शभूते
 
सनातिन।
 
गुणाये
 
गुणमये
 
नारायण 
 
नमोऽतुते
 
अथा
:
 
हे
 
देवी 
 
नारायणी 
 
आप 
 
सब 
 
कार 
 
का 
 
मंगल 
 
दान 
 
करने
 
वाली 
 
मंगलमयी 
 
हो।
 
कयाण दाियनी िशवा 
 
हो।
 
सब 
 
पुषाथ 
 
को 
 
िस 
 
करने
 
वाली 
 
शरणा गतवसला तीन 
 
ने 
 
वाली 
 
गौर 
 
हो 
,
आपको 
 
नमकार 
 
ह।
 
आप 
 
सृ 
 
का 
 
पालन 
 
और 
 
संहार 
 
करने
 
वाली शभूता 
 
सनातनी 
 
देवी 
,
आप 
 
गुण 
 
का 
 
आधार 
 
तथा 
 
सवगुणमयी 
 
हो।
 
नारायणी 
 
देवी तुह
 
नमकार 
 
है।
 
िचंतन 
 
जोशी 
 
NON PROFIT PUBLICATION
 
 
 
3
 
अटबर  ू
2010
 
वशेष 
 
लेख 
 
नवदगा ु
 
और 
 
योितष 
 
14
 
माँ
 
दगा ु
 
 
अचुक 
 
भावी 
 
मं 
 
17
नवदगा ु
 
आराधना 
 
का 
 
महव 
 
16
मातृसुख 
 
एवं
 
योितष 
 
36
लघु
 
कथाएं
 
वाला 
 
मां
 
का 
 
परम 
 
भ 
 
27
पु 
 
चार 
 
कार 
 
 
होते
 
 
38
मातृभ 
 
38
अनुम 
 
थम 
 
शैलपुी 
 
4
िसकु ंजकातोम  ्
 
42
तीयं
 
चारणी 
 
5
दगाकम  ु ्
 
43
तृतीयं
 
चघटा 
 
6
भवायकम  ्
 
44
चतुथ
 
कूमाडा 
 
7
देव 
 
ितमा 
 
45
पंचम 
 
कदमाता 
 
8
दगाोर  ु
 
शतनाम 
 
तोम  ्
 
46
षम  ्
 
कायायनी 
 
9
वंभर 
 
तुित 
 
47
सम 
 
कालरा 
 
10
पित 
-
पी 
 
म
 
कलह 
 
िनवारण 
 
हेतु
 
48
अम 
 
महागौर 
 
11
महषासुरमदिनतोम  ्
 
49
नवम  ्
 
िसदाी 
 
12
तुलसी 
 
सेवन 
 
करते
 
समय 
 
रखे
 
सावधानी 
 
51
मां
 
दगा ु
 
 
नवप 
 
क 
 
उपासना 
 
13
करवा 
 
चौथ 
 
त 
 
53
मुख 
 
श 
 
पीठ 
 
म
 
होती 
 
 
वशेष 
 
पूजा 
 
21
अटबर  ू
2010
 
मािसक 
 
पंचांग 
 
54
शारदय 
 
नवरा 
 
त 
 
 
लाभ 
 
24
अटबर  ू
 
-
2010
मािसक 
 
त 
-
पव
-
यौहार 
 
56
नवरा 
 
त 
 
25
अटबर  ू
 
२०१०
 
वशेष 
 
योग 
 
58
भाते
 
कर 
 
दशनम  ्
 
26
ह 
 
चलन 
 
अटबर  ू
-2010
 
59
नवरा 
 
म
 
कया 
 
पूजन 
 
अनुान 
 
30
मािसक 
 
रािश 
 
फल 
 
60
दगा ु
 
चालीसा 
 
32
दैिनक 
 
शुभ 
 
एवं
 
अशुभ 
 
समय 
 
61
शाप 
 
वमोचन 
 
मं 
 
33
चौघडये
 
62
ीकण 
 
त 
 
देवी 
 
तुित 
 
34
वातु
 
परामश
 
63
मां
 
 
चरण 
 
िनवास 
 
करते
 
समत 
 
 
तीथ
 
35
योितष 
 
परामश
 
64
देवी 
 
आराधना 
 
से
 
सुख 
 
ाि 
 
39
ऋवेदो 
 
देवी 
 
सूम  ्
 
40
विभन 
 
देवी 
 
क 
 
सनता 
 
 
िलये
 
गायी 
 
मं 
 
40
स तलोक 
 
दगा ु
 
41
दगा ु
 
आरती 
 
41

Activity (24)

You've already reviewed this. Edit your review.
1 hundred reads
1 thousand reads
Xangot liked this
CHINTAN JOSHI liked this
catchdgreen liked this
mohit_bansal_15 liked this
Ravi Bhartia liked this
Ravi Bhartia liked this

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->