Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Save to My Library
Look up keyword
Like this
2Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
madhushala (1)

madhushala (1)

Ratings: (0)|Views: 19 |Likes:

More info:

Published by: Chetna Kanchan Bhagat on Sep 03, 2011
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

11/07/2012

pdf

text

original

 
मधुशाला
 
मृद 
 
भाव 
 
 
अंग 
 
क 
 
आज 
 
बना 
 
लाया 
 
हाला   ु
,
 
ूयतम 
,
अपने
 
ह 
 
हाथ 
 
से
 
आज 
 
पलाऊ गा 
 
याला 
,
 
पहले
 
भोग 
 
लगा 
 
ल  
 
तेा 
 
फ 
 
ूसाद 
 
जग 
 
पाएगा 
,
 
सबसे
 
पहले
 
तेा 
 
ःवागत 
 
कती 
 
मे 
 
मधुशाला।।१।
 
यास 
 
तुझे
 
तो 
,
व 
 
तपाक 
 
पणर
 
नकाल  गा 
 
हाला 
,
 
एक 
 
पाव 
 
से
 
साक 
 
बनक 
 
नाच  गा 
 
लेक 
 
याला 
,
 
जीवन 
 
क 
 
मधुता 
 
तो 
 
ते
 
ऊप 
 
कब 
 
का 
 
वा 
 
चुका 
,
 
आज 
 
नछाव 
 
क 
 
दगा 
 
म
 
तुझ 
 
प 
 
जग 
 
क 
 
मधुशाला।।  २।
 
ूयतम 
,
त
 
मे 
 
हाला 
 
,
म
 
तेा 
 
यासा 
 
याला 
,
 
अपने
 
को 
 
मुझम
 
भक 
 
त
 
बनता 
 
 
पीनेवाला 
,
 
म
 
तुझको 
 
छक 
 
छलका 
 
कता 
,
मःत 
 
मुझे
 
पी 
 
त
 
होता 
,
 
एक 
 
दसे  
 
क 
 
हम 
 
दोन 
 
आज 
 
पःप 
 
मधुशाला।।३।
 
भावुकता 
 
अंग 
 
लता 
 
से
 
खींच 
 
कपना 
 
क 
 
हाला 
,
 
कव 
 
साक 
 
बनक 
 
आया 
 
 
भक 
 
कवता 
 
का 
 
याला 
,
 
कभी 
 
न 
 
कण 
-
भ 
 
खाली 
 
होगा 
 
लाख 
 
पए
,
दो 
 
लाख 
 
पए
!
पाठकगण 
 
 
पीनेवाले
,
पुःतक 
 
मे 
 
मधुशाला।।४।
 
मधु 
 
भावनाओं
 
क 
 
सुमधु 
 
नय 
 
बनाता 
 
 
हाला   
,
 
भता 
 
 
इस 
 
मधु
 
से
 
अपने
 
अंत 
 
का 
 
यासा 
 
याला   
,
 
उठा 
 
कपना 
 
 
हाथ 
 
से
 
ःवयं
 
उसे
 
पी 
 
जाता 
 
  
,
 
अपने
 
ह 
 
म
 
 
म
 
साक   
,
पीनेवाला 
,
मधुशाला।।५।
 
 
 
मदालय 
 
जाने
 
को 
 
घ 
 
से
 
चलता 
 
 
पीनेवला 
,
 
'
कस 
 
पथ 
 
से
 
जाऊ
?'
असमंजस 
 
म
 
 
वह 
 
भोलाभाला 
,
 
अलग 
-
अलग 
 
पथ 
 
बतलाते
 
सब 
 
प 
 
म
 
यह 
 
बतलाता 
 
 
  
-
'
ाह 
 
पकड़ 
 
त
 
एक 
 
चला 
 
चल 
,
पा 
 
जाएगा 
 
मधुशाला।
'
 
६।
 
चलने
 
ह 
 
चलने
 
म
 
कतना 
 
जीवन 
,
हाय 
,
बता 
 
डाला 
!
'
द 
 
अभी 
 
  
',
प 
,
कहता 
 
 
ह 
 
पथ 
 
बतलानेवाला 
,
 
हमत 
 
 
न 
 
बढ
 
आगे
 
को 
 
साहस 
 
 
न 
 
फ
 
पीछे  
,
 
ककतरयवम ढ़ 
 
मुझे
 
क 
 
द 
 
खड़ 
 
 
मधुशाला।।  ७।
 
मुख 
 
से
 
त
 
अवत 
 
कहता 
 
जा 
 
मधु
,
मदा 
,
मादक 
 
हाला 
,
 
हाथ 
 
म
 
अनुभव 
 
कता 
 
जा 
 
एक 
 
ललत 
 
कपत 
 
याला 
,
 
यान 
 
कए 
 
जा 
 
मन 
 
म
 
सुमधु 
 
सुखक 
,
सु ंद 
 
साक 
 
का 
,
 
औ 
 
बढ़ा 
 
चल 
,
पथक 
,
 
न 
 
तुझको 
 
द 
 
लगेगी 
 
मधुशाला।।  ८।
 
मदा 
 
पीने
 
क 
 
अभलाषा 
 
ह 
 
बन 
 
जाए 
 
जब 
 
हाला 
,
 
अध 
 
क 
 
आतुता 
 
म
 
ह 
 
जब 
 
आभासत 
 
हो 
 
याला 
,
 
बने
 
यान 
 
ह 
 
कते
-
कते
 
जब 
 
साक 
 
साका 
,
सखे
,
 
ह
 
न 
 
हाला 
,
याला 
,
साक 
,
तुझे
 
मलेगी 
 
मधुशाला।।९।
 
सुन 
,
कलक 
 
,
छलछ 
 
मधुघट 
 
से
 
गती 
 
याल 
 
म
 
हाला 
,
 
सुन 
,
 
नझुन 
 
नझुन 
 
चल 
 
वतण 
 
कती 
 
मधु
 
साकबाला 
,
 
बस 
 
आ 
 
पहंचे  ु
,
द 
 
नहं
 
छ   ु
,
चा 
 
कदम 
 
अब 
 
चलना 
 
,
 
चहक 
 
ह
,
सुन 
,
पीनेवाले
,
महक 
 
ह 
,
ले
,
मधुशाला।।१०।
 
 
जलतंग 
 
बजता 
,
जब 
 
चु ंबन 
 
कता 
 
याले
 
को 
 
याला 
,
 
वीणा 
 
झंत 
 
होती 
,
चलती 
 
जब 
 
नझुन 
 
साकबाला 
,
 
डाट 
 
डपट 
 
मधुवेता 
 
क 
 
वनत 
 
पखावज 
 
कती 
 
,
 
मधुव 
 
से
 
मधु
 
क 
 
मादकता 
 
औ 
 
बढ़ाती 
 
मधुशाला।।११।
 
महद 
 
ंजत 
 
मृदल 
 
हथेली 
 
प   ु
 
माणक 
 
मधु
 
का 
 
याला 
,
 
अंग 
 
अवगु ंठन 
 
डाले
 
ःवणर
 
वणर
 
साकबाला 
,
 
पाग 
 
बजनी 
,
जामा 
 
नीला 
 
डाट 
 
डट
 
पीनेवाले
,
 
इिधनुष 
 
से
 
होड़ 
 
लगाती 
 
आज 
 
ंगीली 
 
मधुशाला।।१२।
 
हाथ 
 
म
 
आने
 
से
 
पहले
 
नाज़ 
 
दखाएगा 
 
याला 
,
 
अध 
 
प 
 
आने
 
से
 
पहले
 
अदा 
 
दखाएगी 
 
हाला 
,
 
बहतेे
 
इनका 
 
केगा 
 
सा   ुक 
 
आने
 
से
 
पहले
,
 
पथक 
,
न 
 
घबा 
 
जाना 
,
पहले
 
मान 
 
केगी 
 
मधुशाला।।१३।
 
लाल 
 
सुा 
 
क 
 
धा 
 
लपट 
 
सी 
 
कह 
 
न 
 
इसे
 
देना 
 
वाला 
,
 
नल 
 
मदा 
 
,
मत 
 
इसको 
 
कह 
 
देना 
 
उ 
 
का 
 
छाला 
,
 
ददर
 
नशा 
 
 
इस 
 
मदा 
 
का 
 
वगत 
 
ःमृतया
 
साक 
 
,
 
पीड़ा 
 
म
 
आनंद 
 
जसे
 
हो 
,
आए 
 
मे 
 
मधुशाला।।१४।
 
जगती 
 
क 
 
शीतल 
 
हाला 
 
सी 
 
पथक 
,
नहं
 
मे 
 
हाला 
,
 
जगती 
 
 
ठंडे
 
याले
 
सा 
 
पथक 
,
नहं
 
मेा 
 
याला 
,
 
वाल 
 
सुा 
 
जलते
 
याले
 
म
 
दध 
 
दय 
 
क 
 
कवता 
 
,
 
जलने
 
से
 
भयभीत 
 
न 
 
जो 
 
हो 
,
आए 
 
मे 
 
मधुशाला।।१५।
 
बहती 
 
हाला 
 
देखी 
,
 
देखो 
 
लपट 
 
उठाती 
 
अब 
 
हाला 
,
 

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->