Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Save to My Library
Look up keyword
Like this
11Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Hindi poems by Subhadra Kumari Chauhan

Hindi poems by Subhadra Kumari Chauhan

Ratings:

3.5

(2)
|Views: 5,548 |Likes:
Published by api-3764735
Hindi poems by Subhadra Kumari Chauhan : Jhansi ki Rani, Mera Naya Bachpan and Thukra do ya pyaar karo
Hindi poems by Subhadra Kumari Chauhan : Jhansi ki Rani, Mera Naya Bachpan and Thukra do ya pyaar karo

More info:

Published by: api-3764735 on Oct 16, 2008
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

05/09/2014

pdf

text

original

 
झासी
 
क
 
रानी
 
सहासन 
 
हल 
 
उठ
 
ाजवश 
 
ने
 
भृट 
 
तानी 
 
थी 
,
 
ब ढ़
 
भात 
 
म
 
आई 
 
फ 
 
से
 
नयी 
 
जवानी 
 
थी 
,
 
गुमी 
 
हई 
 
आज़ाद 
 
क 
 
कमत 
 
सबने
 
पहचानी 
 
थी   ु
,
 
द 
 
फगी 
 
को 
 
कने
 
क 
 
सबने
 
मन 
 
म
 
ठानी 
 
थी।  
 
चमक 
 
उठ 
 
सन 
 
सावन 
 
म
,
वह 
 
तलवा 
 
पुानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
कानप 
 
 
नाना 
 
क 
,
मु  ँहबोली 
 
बहन 
 
छबीली 
 
थी 
,
 
लमीबाई 
 
नाम 
,
पता 
 
क 
 
वह 
 
सतान 
 
अकली 
 
थी 
,
 
नाना 
 
 
सँग 
 
पढ़ती 
 
थी 
 
वह 
,
 
नाना 
 
 
सँग 
 
खेली 
 
थी 
,
 
बछ 
 
ढाल 
,
पाण 
,
कटा 
 
उसक 
 
यह 
 
सहेली 
 
थी।
 
वी 
 
शवाजी 
 
क 
 
गाथाय
 
उसक 
 
याद 
 
ज़बानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
लमी 
 
थी 
 
या 
 
दगार
 
थी 
 
वह 
 
ःवय
 
वीता 
 
क 
 
अवता   ु
,
 
ख 
 
माठे
 
पुलकत 
 
होते
 
उसक 
 
तलवा 
 
 
वा 
,
 
नकली 
 
यु 
-
यह 
 
क 
 
चना 
 
औ 
 
खेलना 
 
खब 
 
शका 
,
 
सैय 
 
घेना 
,
द   ुगर
 
तोड़ना 
 
ये
 
थे
 
उसके
 
ूय 
 
खलवा।
 
महाा 
-
ल 
-
देवी 
 
उसक 
 
भी 
 
आाय 
 
भवानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
 
हई 
 
वीता 
 
क 
 
वैभव 
 
 
साथ 
 
सगाई 
 
झाँसी 
 
म  ु
,
 
याह 
 
हआ 
 
ानी 
 
बन 
 
आई 
 
लमीबाई 
 
झाँसी 
 
म  ु
,
 
ाजमहल 
 
म
 
बजी 
 
बधाई 
 
खुशयाँ
 
छाई 
 
झाँसी 
 
म
,
 
चऽा 
 
ने
 
अजुरन 
 
को 
 
पाया 
,
शव 
 
से
 
मली 
 
भवानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
उदत 
 
हआ 
 
सभाय   ु
,
मुदत 
 
महल 
 
म
 
उजयाली 
 
छाई 
,
 
कतु
 
कालगत 
 
चुपक
-
चुपक
 
काली 
 
घटा 
 
घे 
 
लाई 
,
 
ती 
 
चलाने
 
वाले
 
क 
 
म
 
उसे
 
चड़याँ
 
कब 
 
भाई 
,
 
ानी 
 
वधवा 
 
हई   ु
,
हाय 
!
वध 
 
को 
 
भी 
 
नह
 
दया 
 
आई।
 
नसतान 
 
मे
 
ाजाजी 
 
ानी 
 
शोक 
-
समानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
बुझा 
 
दप 
 
झाँसी 
 
का 
 
तब 
 
डलहज़ी 
 
मन 
 
म
 
हषाया 
,
 
ाय 
 
हड़प 
 
कने
 
का 
 
उसने
 
यह 
 
अछा 
 
अवस 
 
पाया 
,
 
फ़न 
 
फज
 
भेज 
 
दगर
 
प 
 
अपना 
 
झडा 
 
फहाया   ु
,
 
लावास 
 
का 
 
वास 
 
बनक 
 
ॄटश 
 
ाय 
 
झाँसी 
 
आया।
 
अौुपणार
 
ानी 
 
ने
 
देखा 
 
झाँसी 
 
हई 
 
बानी 
 
थी   ु
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
अनुनय 
 
वनय 
 
नह
 
सुनती 
 
,
वकट 
 
शासक 
 
क 
 
माया 
,
 
यापा 
 
बन 
 
दया 
 
चाहता 
 
था 
 
जब 
 
यह 
 
भात 
 
आया 
,
 
डलहज़ी 
 
ने
 
पै 
 
पसाे
,
अब 
 
तो 
 
पलट 
 
गई 
 
काया 
,
 
 
ाजाओ
 
नवाब 
 
को 
 
भी 
 
उसने
 
पै 
 
ठकाया।  ु
 
ानी 
 
दासी 
 
बनी 
,
बनी 
 
यह 
 
दासी 
 
अब 
 
महानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
छनी 
 
ाजधानी 
 
दली 
 
क 
,
लखनऊ 
 
छना 
 
बात 
-
बात 
,
 
द 
 
पेशवा 
 
था 
 
बठ 
 
म  ु
,
हआ 
 
नागपु 
 
का 
 
भी 
 
घात   ु
,
 
उदैपु 
,
तज 
,
सताा 
,
कनाटक 
 
क 
 
कन 
 
बसात 
?
 
जबक 
 
सध 
,
पजाब 
 
ॄ 
 
प 
 
अभी 
 
हआ 
 
था 
 
वळ   ु
-
नपात।
 
बगाले
,
मिास 
 
आद 
 
क 
 
भी 
 
तो 
 
वह 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
ानी 
 
ोयी
 
नवास 
 
म
,
बेगम 
 
ग़म 
 
से
 
थी
 
बेज़ा 
,
 
उनके
 
गहने
 
कपड़े
 
बकते
 
थे
 
कलके
 
 
बाज़ा 
,
 
से
 
आम 
 
नीलाम 
 
छापते
 
थे
 
अेज़ 
 
 
अखबा 
,
 
'
नागप 
 
 
ज़ेव 
 
ले
 
लो 
 
लखनऊ 
 
 
लो 
 
नलख 
 
हा 
'
 
य 
 
पदे
 
क 
 
इज़त 
 
पदेशी 
 
 
हाथ 
 
बकानी 
 
थी 
,
 
बु देले
 
हबोल 
 
 
मु  ँह 
 
हमने
 
सुनी 
 
कहानी 
 
थी 
,
 
खब 
 
लड़ 
 
मदारनी 
 
वह 
 
तो 
 
झाँसी 
 
वाली 
 
ानी 
 
थी।।
 
टय 
 
म
 
भी 
 
वषम 
 
वेदना 
,
महल 
 
म
 
आहत 
 
अपमान 
,
 
वी 
 
सैनक 
 
 
मन 
 
म
 
था 
 
अपने
 
पुख 
 
का 
 
अभमान 
,
 
नाना 
 
धु धपत 
 
पेशवा 
 
जुटा 
 
हा 
 
था 
 
सब 
 
सामान 
,
 
बहन 
 
छबीली 
 
ने
 
ण 
-
चड 
 
का 
 
क 
 
दया 
 
ूकट 
 
आहवान।
 
हआ 
 
य 
 
ूाभ 
 
उह
 
तो 
 
सोई 
 
योत 
 
जगानी 
 
थी   ु
,
 

Activity (11)

You've already reviewed this. Edit your review.
1 hundred reads
1 thousand reads
Beena Wahid liked this
Anuja Dadheech liked this
Safna Sulaiman liked this
Saurabh Mehta liked this
Ratnika Mishra liked this
mjaisee liked this
OmSilence2651 liked this
prakharagarwal90 liked this

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->