Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Save to My Library
Look up keyword
Like this
27Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Letter to Anna

Letter to Anna

Ratings: (0)|Views: 27,051|Likes:
Kumar Vishwas writes letter to Anna requesting him to dissolve core committee...
Kumar Vishwas writes letter to Anna requesting him to dissolve core committee...

More info:

Published by: Shivendra Singh Chauhan on Oct 28, 2011
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

11/09/2011

pdf

text

original

 
ीमान अा हजारे दनां क- 28-10-2011  राले गन िसि  महारा आदरणीय अा जी, णाम आशा हैआप वथ एवं सानं द हगे.  िपछलेकुछ दन सेएक िवशे ष मु ेपर आप सेबात करने का मन था. यिप मनह चाहता था क आपके  पिव मौन क ऊजाइस षं कारी कोलाहल क सू  चना सेभं ग क, तथािप मिववश हो कर यह प आपको 
 
 िलख रहा ँ.
 
 वथा मा ाचार किव जब आपनेिबगु ल बजाया, तो कोट-कोट उे िलत और चे तना-सं प  भारतीय आपके सािवक ने तृ व मबढ़ चले. वाधीनता के बाद देश को पहली बार ऐसा लग रहा हैक वराज  और जनतं  क मू  ल अवधारणा, िवचार और या के तर पर एक होनेवाली है. रामलीला मै दान पर आपके  साहिसक अनशन नेपू  रे देश मएक ऐसी सकारामक ऊजाका समावेश कया है, िजसेरोक पाना  ताक़त   के बस मनह है. एक बड़ेसरोकार को पानेक दशा मबढ़तेभारत कइस अहसक और शिशाली आवे ग को   दे ख कर पू  रा िव आपके ने तृ व को ा सेणाम कर रहा है.  रामलीला मै दान मउमड़ी जनता क शि नेतथा िव भर मए उसके समथ न नेक सरकार को मजबू  र   कया क ाचार के िखलाफ एक मज़बू  त जन-लोकपाल लानेक तरफ कदम बढ़ाए. ले कन कुछ ामक कदम 
 
 उठानेके अलावा सरकार नेअब तक इस मु ेपर कोई ठोस काय वाई नह क. एक ओर तो माननीय धानमं ी 
 
 जी प िलख कर आपको आत करतेहक लोकपाल क दशा मआवयक काय वाई होगी, तो दू  सरी ओर 
 
 साधारी पाट के ने तागण आपक और कोर किमटी के एक-एक ि क साव जिनक छिव एवं िवसनीयता 
 
 को धू  िमल करनेमजी-जान सेजु टे ह.
 
 दरअसल इस सं घषमिवराट जन-शि के अलावा तीन महवपू  णभाग और ह, िजन मआप के ने तृ व, आप के  सदेश के अतर एक सं गठनामक ढां चा भी मु ख तव है. आदोलन का ने तृ व आपके हाथो महैिजस के ित पू  रे देश को अखं ड और अटूट िवास है. यही कारण हैक  आप को लय करना ाचारय कबस मअब नह है.पहलेजब कुछ राजनै ितक चे हर ारा आपके ऊपर   मौिखक प सेहमला करनेक जो कोिशश क गयी, तब उसेजनता नेएक िसरे सेख़ारज कर दया था. अत:  यह , कच और षं कारी ताक़ समझ गयी हक आप पर हमला करनेसेजन-लोकपाल के बढ़ते   क़दम को रोकना संभव नह.आदोलन का सदेश भी आप क ही तरह सरल और प है- "ाचार के िखलाफ एक साथ क सं वैधािनक 
 
 लड़ाई". सं पू  णदेश को इस पिव आदोलन के सदेश (उेय) पर भी रंच मा सं दे ह नह है. पू  रा देश ाचार   सेिथत ह. इसिलए वाह आपक एक आवाज़ पर चल पड़नेके िलए तपर है.

Activity (27)

You've already reviewed this. Edit your review.
1 hundred reads
1 thousand reads
Narendra Prajapati added this note
Dear vishwaas Sir...M a good fan of ur thots since u appeared in RAMLILA Maidaan.. n in KNIT Sultanpur ( m a MTECH student there)....Yet u r more intellectual than me.my point is to stay united despite many differences in thot sof the ANNA TEAM... perhaps..thz z d need of the hour n TEST of UNITY as JANATA is alws wi dthe TEAM n ANNA...God Bless u ALL ...JAI HIND!
Satparkash Phogat added this note
bhai kumar vishvas ji ham aapke vichar se sahamat hain kyonki yadi samiti me aur jyada achchhe log honge to ve sajisho ko andekha karke aage badhte rahenge
Ravirao Ghogare Patil added this note
After reading the letter to Anna, a feeling rise that kumarji and many others have their opinions . Veiw kept towards the riot is what gives opinion.
Anand Jajodia added this note
Good to read the letter, but creating new committe is not that imporatant. More important is to stop bad people from corrupting the mind of good Indians. Please do needful and guide the people to protect their mind from veiws of diggy and other bad viruses.
Kiran Kulkarni liked this
Shrey Joshi liked this
Vishal Sharma liked this

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->