Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more ➡
Download
Standard view
Full view
of .
Add note
Save to My Library
Sync to mobile
Look up keyword
Like this
4Activity
×
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
16.00pmTo17

16.00pmTo17

Ratings: (0)|Views: 4,023|Likes:
Published by ndtvonline

More info:

Published by: ndtvonline on Dec 29, 2011
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See More
See less

12/30/2011

pdf

text

original

 
 AKG/3D/4.00
ी 
 
िशवानद 
 
ितवारी 
(
मागत 
) :
जो 
 
गरीब 
 
आदमी 
 
है
,
िजसके
 
पास 
 
दोन 
 
समय 
 
भोजन
 
नह 
 
है
,
िजसके
 
पास 
 
खैनी 
 
खाने
 
का 
 
पैसा 
 
नह 
 
है
,
िजसके
 
पास 
 
चाय 
 
पीने
 
का 
 
पैसा 
 
नह 
 
है
,
वोट
 
देते
-
देते
 
उसकी 
 
तकदीर 
 
नह 
 
बदल 
 
रही 
 
है
,
उसकी 
 
हालत 
 
नह 
 
बदल 
 
रही 
 
है।
 
चुनाव 
 
 
समय 
 
उसको 
 
दो 
 
सौ 
,
पाँच 
 
सौ 
,
एक 
 
हजार 
,
दो 
 
हजार 
 
पए 
 
िमल 
 
जाते
 
ह
,
यही 
 
उसके
 
िलए 
 
बहुत 
 
है।
 
इसिलए 
 
सीताराम 
 
जी 
,
अगर 
 
चुनाव 
 
म
 
भी 
 
टाचार 
 
रोकना 
 
है
,
तो 
 
इस 
 
श 
 
 
अदर 
 
जो 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
है
,
उस 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
को 
 
िमटाना 
 
होगा।
 
अभी 
 
संिवधान
 
की 
 
बात 
 
हो 
 
रही 
 
थी।
 
सतीश 
 
च 
 
िमा 
 
जी 
 
ने
 
कहा 
 
िक 
 
हम 
 
संिवधान
 
की 
 
शपथ 
 
लेते
 
ह।
 
संिवधान
 
की 
 
िजतनी 
 
अवहेलना 
,
िजतना 
 
अपमान
 
आपने
 
िकया 
 
है
,
उतना 
 
िकसी 
 
ने
 
नह 
 
िकया 
 
है।
 
जब 
 
संिवधान
 
बनाया 
 
जा 
 
रहा 
 
था 
,
किपल 
 
िसबल 
 
साहब 
,
आप 
 
तो 
 
उसके
 
जानकार 
 
ह
,
ानी 
 
ह
,
जब 
 directive principle
तय 
 
हो 
 
रहा 
 
था 
 
िक 
 
सरकार 
 
जो 
 
भी 
 
नीित 
 
बनाएगी 
,
उस 
 
नीित 
 
का 
 
लय 
 
या 
 
होगा 
,
यही 
directive principle
था 
,
उस 
 
समय 
 
उसको 
 fundamental rights
म
 
शािमल 
 
कराने
 
की 
 
बात 
 
हो 
 
रही 
 
थी।
 
उस 
 
समय 
 
देश 
 
की 
 
हालत 
 
ऐसी 
 
नह 
 
थी 
 
िक 
 
उसको 
fundamental rights
म
 
शािमल 
 
िकया 
 
जाता 
,
इसिलए 
directive principle
बनाया 
 
गया।
 
अबेडकर 
 
ह 
 
या 
 
नेह 
,
सबने
 
यह 
 
कहा 
 
िक 
 
कोई 
 
भी 
 
सरकार 
 
बनेगी 
 
और 
 
कोई 
 
भी 
 
नीित 
 
बनाएगी 
,
तो 
 
इसको 
 
यान
 
म
 
रखेगी।
 
हम 
 
उसी 
 
संिवधान
 
की 
 
शपथ 
 
लेते
 
ह।
 
आपने
 
देश 
 
म
 
कै सी 
 
नीित 
 
चलाई 
?
उस 
 
नीित 
 
 
चलते
1950
म
 
जो 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
थी 
 
और 
 
आज 
 
जो 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
है
,
आपके
 
पास 
 
कोई 
 
गज 
-
मीटर 
 
नह 
 
है
 
िक 
 
आप 
 
इस 
 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
को 
 
नाप 
 
सक
,
आपने
 
इतनी 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
बढ़ाई 
 
है।
 
इस 
 
देश 
 
म
 
िजस 
 
अनुपात 
 
म
 
गैर 
-
बराबरी 
 
बढ़ी 
,
उसी 
 
अनुपात 
 
म
 
टाचार 
 
बढ़ा।
 
टाचार 
 
की 
 
जननी 
 
ह
 
आप 
 
और 
 
आप 
 
इसे
 
रोिकएगा 
?
इस 
 
देश 
 
म
 
िकतने
 
कानून
 
बने
 
ह
 
िदली 
 
पुिलस 
 
इटैलशमट
 
एट
,
सेकंड 
 
वड
 
वार 
 
 
बाद 
 
जो 
 
टाचार 
 
ुआ 
,
उसके
 
िलए 
 
बना 
;
आजादी 
 
 
बाद 
 
खेमचद 
 
कमेटी 
 
बनी 
, 1952
म
CrPC
बनी 
,
मनी 
 
लॉग 
 
एट
,
बेनामी 
 
सप 
 
एट
,
िफर 
 
आपने
 
आईपीसी 
 
म
 
कई 
 
कानून
 
बनाए 
,
आपने
 
सीवीसी 
 
बनाया।
 
या 
 
टाचार 
 
का 
?
यह 
 
नह 
 
का 
,
यिक 
 
आप 
 
इन
 
कानून 
 
का 
 
इतेमाल 
 
नह 
 
करते
 
ह।
 
हमको 
 
िकसी 
 
ने
 
बताया 
 
िक 
 
बेनामी 
 
ांजेशन
 
एट
 
पास 
 
हो 
 
गया 
,
लेिकन
 
उसका 
 
ल 
 
नह 
 
बना।
 
अभी 
 
हाल 
 
म
 
एस 
-
चीफ 
 
जटस 
 
ऑफ 
 
इंिडया 
 
ने
 
सोिनया 
 
जी 
 
को 
 
िची 
 
िलखी 
 
िक 
 
सीवीसी 
 
म
 
दो 
 
मैबस
 
 
पद 
 
खाली 
 
ह।
 
हमारे
 
िबहार 
 
 
युष 
 
कु मार 
 
िसहा 
 
दो 
 
महीने
 
म
 
िरटायर 
 
होने
 
वाले
 
थे
 
और 
 
दो 
-
दो 
 
पद 
 
खाली 
 
थे।
 
आप 
 
वहाँ
 
जगह 
 
नह 
 
देते
 
ह
,
उनको 
 
साधन
 
नह 
 
देते
 
ह
 
और 
 
आप 
 
कहते
 
ह
 
िक 
 
टाचार 
 
से
 
लड़गे
!
आप 
 
नह 
 
लड़ 
 
सकते
,
यिक 
 
टाचार 
 
म
 
आपका 
vested interest
है।
 
आप 
 
जो 
 
आथक 
 
नीित 
 
चला 
 
रहे
 
ह
,
वह 
 
आथक 
 
नीित 
 
गैर 
-
बराबरी 
 
बढ़ाने
 
वाली 
 
है
,
जो 
 
बगैर 
 
टाचार 
 
 
चल 
 
ही 
 
नह 
 
सकती 
 
है
,
उसे
 
चलाया 
 
ही 
 
नह 
 
जा 
 
सकता 
 
है।
 
इसिलए 
,
हम
 
बहुत 
 
संदेह 
 
है
,
िफर 
 
भी 
 
आप 
 
इसे
 
ले
 
आए 
 
ह
,
इसकी 
 
हम
 
बहुत 
 
खुशी 
 
है।
 
जैसा 
 
अभी 
 
कहा 
 
गया 
, 1963-64
म
 
नह 
,
सबसे
 
पहली 
 
दफा 
 Ombudsman
की 
 
बात 
 
सी 
.
डी 
.
देशमुख 
 
जी 
 
ने
 
उठाई 
 
थी 
,
जो 
1952
म
 
जब 
 
पहला 
 
चुनाव 
 
आ 
 
था 
,
उस 
 
पहले
 
चुनाव 
 
 
बाद 
 
इस 
 
देश 
 
 
िव 
 
मंी 
 
बने
 
थे।
 
 
वे
 
महारा
 
 
थे
,
मनोहर 
 
जोशी 
 
जी 
 
 
ात 
 
 
थे।
 
सबसे
 
पहले
 
उहने
 
इसके
 
बारे
 
म
 
कहा 
 
था।
 
या 
 
आप 
 
जानते
 
ह
 
िक 
 
पंिडत 
 
नेह 
 
की 
 
इस 
 
पर 
 
या 
 
ितिया 
 
ई 
?
उहने
 
कहा 
 
िक 
 
अरे
!
या 
 
कर 
 
रहे
 
हो 
,
इससे
 
तो 
 
आपस 
 
म
 
खचातानी 
 
चलेगी 
,
कोई 
 
काम 
 
नह 
 
कर 
 
पाएगा।
 
राजे 
 
साद 
 
जी 
 
ने
 
पंिडत 
 
जवाहर 
 
लाल 
 
नेह 
 
जी 
 
को 
 
िची 
 
िलखी 
 
िक 
 
इसे
 
बनाइए 
,
यह 
 
बहुत 
 
जरी 
 
है।
 
उहने
 
कहा 
 
िक 
 
देिखए 
,
राजे 
 
बाबू
 
तो 
 
हमारी 
 
मुखालफ़त 
 
करने
 
वाले
 
ह।
 
राजे 
 
बाबू
 
ने
 
यह 
 
मुँह 
 
पर 
 
कहा।
 1946
म
 
जब 
 
सरकार 
 
बनी 
,
उसके
 
पहले
1937
म
 
ेश 
 
 
राय 
 
म
 
सरकार 
 
बनी 
 
थी 
, 6-6
राय 
 
म
 
कांेस 
 
की 
 
सरकार 
 
थी।
 
उस 
 
समय 
 
हालत 
 
यह 
 
थी 
 
िक 
 
गाँधी 
 
जी 
 
 
पास 
 
जब 
 
खबर
 
आने
 
लग 
,
तो 
 
गाँधी 
 
जी 
 
ने
 
कहा 
 
िक 
 
इस 
 
कांेस 
 
को 
 
दफना 
 
देना 
 
चािहए।
 
यह 
 
रेकॉड
 
म
 
है।
 
अभी 
 
जो 
 
है
...(
समय 
 
की 
 
घंटी 
)
ी 
 
उपसभापित 
:
 
ितवारी 
 
जी 
,
आप 
 
समात 
 
कीिजए।
 
ी 
 
िशवानद 
 
ितवारी 
:
म
 
बस 
 
दो 
 
िमनट
 
म
 
अपनी 
 
बात 
 
खम 
 
कर 
 
रहा 
 
हूँ।
 
ी 
 
उपसभापित 
:
 
नह 
-
नह 
,
लीज़ 
,
अब 
 
आप 
 
बैिठए।
 
ी 
 
िशवानद 
 
ितवारी 
:
एक 
 
उदाहरण 
 
और 
 
देकर 
 
म
 
अपनी 
 
बात 
 
समात 
 
कर 
 
रहा 
 
हूँ।
 
अभी 
 
टेलीाफ 
 
अखबार 
 
म
 
यह 
 
छपा 
 
था।
 
चेनई 
 
 
एक 
 
तिमल 
 
य 
,
जो 
 
स 
1947-48
म
 
महामा 
 
गाँधी 
 
जी 
 
 
ाइवे
 
सेे टरी 
 
थे
,
उनका 
 
एक 
 
इंटरयू
 
छपा।
 
उहने
 
कहा 
 
िक 
1947
 
िसतबर 
 
महीने
 
से
 
ही 
 
गाँधी 
 
जी 
 
 
पास 
on an average
टचार 
 
की 
80
िचयाँ
 
आ 
 
रही 
 
थ 
,
लेिकन
 
टाचार 
 
दूर 
 
नह 
 
हुआ।
 
उहने
 
उसी 
 
टेटमट
 
म
 
यह 
 
बताया 
 
िक 
 
एक 
 
बार 
 
लोक 
 
सभा 
 
म
 

You're Reading a Free Preview

Download
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->