Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword
Like this
1Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Rashmirathi-4

Rashmirathi-4

Ratings: (0)|Views: 75|Likes:
Published by Abhishek Sharma
Great work by Rashtrakavi Ramdhari Singh Dinkar.
Great work by Rashtrakavi Ramdhari Singh Dinkar.

More info:

Published by: Abhishek Sharma on Mar 14, 2012
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

03/14/2012

pdf

text

original

 
िमथी 
चत   ुथर
 
सगर
भाग 
 
1
 
जीवन 
 
का 
 
अभयान 
 
दान 
-
बल 
 
से
 
अज 
 
चलता 
 
है
,
 
उतनी 
 
बढ़ती 
 
योत 
,
 
नेह 
 
जतना 
 
अनप 
 
जलता 
 
है
,
 
औ 
 
दान 
 
मे
 
ोक 
 
या 
 
हसक 
 
हम 
 
जो 
 
देते
 
ह   
,
 
अहंका 
-
वश 
 
उसे
 
वव 
 
का 
 
याग 
 
मान 
 
लेते
 
ह   
.
 
यह 
 
न 
 
वव 
 
का 
 
याग 
,
 
दान 
 
तो 
 
जीवन 
 
का 
 
झना 
 
है
,
 
खना 
 
उसको 
 
ोक 
,
 
म   ृय   ु
 
 
पहले
 
ह 
 
मना 
 
है
.
 
कस 
 
प 
 
कते
 
क   ृपा 
 
व   ृ 
 
यद 
 
अपना 
 
फल 
 
देते
 
ह
,
 
गने
 
से
 
उसको 
 
स   ँभाल 
,
 
य 
 
ोक 
 
नह 
 
लेते
 
ह   
?
 
ऋत   ु
 
 
बाद 
 
फल 
 
का 
 
कना 
,
 
डाल 
 
का 
 
सडना 
 
है
.
 
मोह 
 
दखाना 
 
य 
 
वत   ु
 
प 
 
आमघात 
 
कना 
 
है
.
 
देते
 
त 
 
इसलए 
 
क 
 
मत 
 
ेश 
 
मे
 
कट 
 
समाए 
,
 
ह   
 
डालयां
 
वथ 
 
औ 
 
फ 
 
नये
-
नये
 
फल 
 
आएं
.
 
 
सिता 
 
देती 
 
वा 
 
क 
 
पाक 
 
उसे
 
स   ुप   ूित 
 
घन 
 
हो 
,
 
बसे
 
मेघ 
 
भ
 
फ 
 
सिता 
,
 
उदत 
 
नया 
 
जीवन 
 
हो 
.
 
आमदान 
 
 
साथ 
 
जगजीवन 
 
का 
 
ऋज   ु
 
नाता 
 
है
,
 
जो 
 
देता 
 
जतना 
 
बदले
 
मे
 
उतना 
 
ह 
 
पता 
 
है
 
दखलाना 
 
कापरय 
 
आप 
,
 
अपने
 
धोखा 
 
खाना 
 
है
,
 
खना 
 
दान 
 
अप   ूणर
,
 
ित 
 
नज 
 
का 
 
ह 
 
ह 
 
जाना 
 
है
,
 
त 
 
का 
 
अंतम 
 
मोल 
 
च   ुकाते
 
ह   ुए 
 
न 
 
जो 
 
ोते
 
ह   
,
 
प   ूणर
-
काम 
 
जीवन 
 
से
 
एकाका 
 
वह 
 
होते
 
ह   
.
 
जो 
 
न 
 
आम 
-
दान 
 
से
 
अपना 
 
जीवन 
-
घट 
 
भता 
 
है
,
 
वह 
 
म   ृय   ु
 
 
म   ुख 
 
मे
 
भी 
 
पड़क 
 
न 
 
कभी 
 
मता 
 
है
,
 
जहाँ
 
कहं
 
है
 
योत 
 
जगत 
 
म   
,
 
जहाँ
 
कहं
 
उजयाला 
,
 
वहाँ
 
खड़ा 
 
है
 
कोई 
 
अंतम 
 
मोल 
 
च   ुकानेवाला 
.
 
त 
 
का 
 
अंतम 
 
मोल 
 
ाम 
 
ने
 
दया 
,
 
याग 
 
सीता 
 
को 
,
 
जीवन 
 
क 
 
संगनी 
,
 
ाण 
 
क 
 
मण 
 
को 
,
 
स   ुप   ुनीता 
 
को 
.
 
 
दया 
 
अथ 
 
देक 
 
दधीच 
 
न   
,
 
शव 
 
ने
 
अंग 
 
क   ुत 
 
क 
,
 
हिच 
 
ने
 
कफ़न 
 
माँगते
 
ह   ुए 
 
सय 
 
प 
 
अड़ 
 
क 
.
 
ईसा 
 
ने
 
संसा 
-
हेत   ु
 
श   ूल 
 
प 
 
ाण 
 
ग   ँवा 
 
क 
,
 
अंतम 
 
म   ूय 
 
दया 
 
गाँधी 
 
ने
 
तीन 
 
गोलयाँ
 
खाक 
.
 
स   ुन 
 
अंतम 
 
ललका 
 
मोल 
 
माँगते
 
ह   ुए 
 
जीवन 
 
क 
,
 
समद 
 
ने
 
ह   ँसक 
 
उता 
 
द 
 
वचा 
 
सम   ूचे
 
तन 
 
क 
.
 
ह   ँसक 
 
लया 
 
मण 
 
ओठ 
 
प 
,
 
जीवन 
 
का 
 
त 
 
पाला 
,
 
अम 
 
ह   ुआ 
 
स   ुकात 
 
जगत 
 
मे
 
पीक 
 
वष 
 
का 
 
याला 
.
 
माक 
 
भी 
 
मनस   ू 
 
नयत 
 
क 
 
सह 
 
पाया 
 
ना 
 
ठठोल 
,
 
उत 
 
मे
 
सौ 
 
बा 
 
चीखक 
 
बोट 
-
बोट 
 
बोल 
.
 
दान 
 
जगत 
 
का 
 
क   ृत 
 
धमर
 
है
,
 
मन   ुज 
 
यथर
 
डता 
 
है
,
 
एक 
 
ोज 
 
तो 
 
हम   
 
वयं
 
सब 
-
क   ुछ 
 
देना 
 
पड़ता 
 
है
.
 
बचते
 
वह 
,
 
समय 
 
प 
 
जो 
 
सवरव 
 
दान 
 
कते
 
ह   
,
 
ऋत   ु
 
का 
 
ान 
 
नह 
 
जनको 
,
 
वे
 
देक 
 
भी 
 
मते
 
ह   
 

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->