Welcome to Scribd, the world's digital library. Read, publish, and share books and documents. See more
Download
Standard view
Full view
of .
Look up keyword
Like this
3Activity
0 of .
Results for:
No results containing your search query
P. 1
Yograhasya Hindi

Yograhasya Hindi

Ratings: (0)|Views: 43 |Likes:
Published by arvindsharma7997

More info:

Published by: arvindsharma7997 on May 25, 2012
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

09/08/2013

pdf

text

original

 
 1
.
.
ौवासुदेवानदसरःवतवरचत
 
यगरहःयम।
 
ःमृत
S
यवत
 
य
 
वन
 
ननमबासुत
 
ःतत।
 
गधवःथ
 
 
ह
 
कल
 
मलघन
S
ःत
 
मे
 
द।।
 
नमम
 
शारदा
 
देव
 
वणावादनतपराम।
 
सरःवत
 
जगमाता
 
सा
 
मे
 
ब
 
ूचदयात।।
 
वासुदेवयत
 
वदे
 
वामन
 
मम
 
सम।
 
कवर
 
 
दाय
 
याचे
 
मतूकाशनम।।
 
वासुदेवमय
 
च
 
यःय
 
भाभवसलम।
 
अवधते
S
वधत
 
त
 
ौरग
 
ूणमायहम।।
 
उपात
 
योगरहःय 
 
यह 
 
वल 
42
ोक 
 
का 
 
ूकरण 
 
साहॐ 
 
गुचरतम 
 
 
अत 
 
म
 
समाव 
 
दो 
 
रहःय 
 
म
 
से
 
  ्एक 
 
है।
 
साहॐ 
 
प 
.
प 
.
ौवासुदेवानदसरःवत 
 
ःवाम 
 
महाराज 
 
का 
 
आ 
 
थ 
 
है
,
जस 
 
क 
 
रचना 
 
पवाौम 
 
म
 
माणगाव 
 
म
 
हई।
 
उस 
 
पर 
 
टका 
 
महाराजौ 
 
ने
 
सयासाौम 
 
म  ु
,
करब 
15
वष
 
बाद 
,
ूभास 
 
और 
 
ारका 
 
ेऽ 
 
म
 
लख 
 
है।
 
ःवपत
 
यह 
 
थ 
 
मराठ 
 
ौगुचरऽ 
 
का 
 
स 
 
सःकत 
 
अनुवाद 
 
है।
 
परतु
 
अनेक 
 
ूकार 
 
से
 
यह 
 
थ 
 
बहत 
 
ह 
 
महवपण
 
है।
 
ौगुचरऽ 
 
क 
 
कथाओ
 
का 
 
अनुवाद 
 
तो 
 
उस 
 
म
 
है
 
ह।
 
उह
 
 
साथ 
 
महाराजौ 
 
ने
 
इस 
 
  ुथ 
 
म
 
और 
 
क 
 
महवपण
 
तथा 
 
गढ 
 
वषय 
 
का 
 
उाटन 
 
कया 
 
है।
 
थ 
 
 
आरभ 
 
म
 
ौगुःतुत 
,
थ 
 
 
बच 
 
चथा 
 
अयाय 
(
जसे
 
महाराजौ 
 
ःप 
 
प 
 
से
 
ेपक 
 
कहते
 
है
),
और 
 
अत 
 
म
 
योग 
 
और 
 
बोध 
 
नाम 
 
 
दो 
 
रहःय 
 
आते
 
ह।
 
इन 
 
 
ारा 
 
महाराजौ 
 
ने
 
मराठ 
 
गुचरऽ 
 
म
 
जो 
 
वषय 
 
सकण
 
और 
 
सदध 
 
प 
 
से
 
ह 
 
लत 
 
हए 
 
ह  ु
,
उन 
 
को 
 
वशद 
 
कया 
 
है।
 
उदाहरणाथ
,
ौगुचरऽ 
 
म
 
ौदजम 
 
क 
 
कथा 
 
आत 
 
है
 
और 
 
ौपादौवलभ 
 
तथा 
 
ौनृ सहसरःवत 
 
को 
 
ौ 
 
द 
 
भगवान 
 
 
अवतार 
 
कहा 
 
गया 
 
है।
 
परतु
 
इन 
 
दो 
 
महापुष 
 
 
काय
 
और 
 
तवान 
 
का 
 
ौदपरपरा 
 
से
 
सबध 
 
ूाय
 
सदध 
 
है।
 
ौगुःतुत 
 
तथा 
 
चथे
 
अयाय 
 
म
 
ौद 
 
भगवान 
 
का 
 
ःवप 
,
ौदपरपरा 
 
का 
 
तावक 
 
आधार 
 
और 
 
उपसनापत 
 
सुःप 
 
क 
 
गई 
 
है।
 
तथा 
 
दसूदाय 
 
का 
 
ौभागवत 
 
परपरा 
 
से
 
नाता 
 
लत 
 
कया 
 
है।
 
उस 
 
तरह 
 
से
 
जगह 
 
जगह 
 
पर 
,
वशेष 
 
कर 
 
बोधरहःय 
 
म
,
ौदपरपरा 
 
 
शाकर 
 
अैत 
 
वेदात 
 
से
 
घन 
 
सबध 
 
पर 
 
ूकाश 
 
डाला 
 
गया 
 
है।
 
उस 
 
ूकार 
 
योगरहःय 
 
 
ारा 
 
मराठ 
 
गुचरऽ 
 
म
 
अयात 
 
योगशा 
 
का 
 
दपरपरा 
 
म
 
वशेष 
 
ःथान 
 
वशद 
 
कया 
 
गया 
 
है।
 
इस 
 
थ 
 
को 
 
ःवय
 
दभगवान 
 
ने
 
  ्
सहता 
 
कह 
 
कर 
 
इस 
 
 
मऽःवप 
 
होने
 
का 
 
सत 
 
दया 
 
है।
 
महाराजौ 
 
 
सम 
 
वाय 
 
का 
 
अवलोकन 
 
करने
 
पर 
 
ऐसा 
 
जान 
 
पडता 
 
है
 
क 
 
उस 
 
मे
 
ूतपादत 
 
सभ 
 
सात 
 
का 
 
सऽपात 
 
साहॐ 
 
म
 
ह 
 
हआ 
 
है।
 
  ुइस 
 
से
 
यह 
 
ःप 
 
होता 
 
है
 
क 
 
साहॐ 
 
थ 
 
म
 
महाराजौ 
 
 
सभ 
 
तव 
 
और 
 
सात 
 
का 
 
सह 
 
है।
 
रहःय
 
य
 
इसे
 
रहःय 
 
य  
 
कहा 
 
गया 
 
है
 
इस 
 
का 
 
थोडा 
 
चतन 
 
करना 
 
चाहए।
 
इस 
 
रहःय 
 
 
अत 
 
म
 
महाराजौ 
 
कहते
 
ह
 
क 
 
यह 
 
परम 
 
रहःय 
 
है
 
और 
 
जस 
 
कस 
 
को 
 
नह 
 
बताना 
 
चाहए।
 
इद
 
रहःय
 
परम
 
 
ॄयात
 
यःय
 
कःयचत।
 
यद 
 
ऐसा 
 
है
 
तो 
 
इसक 
 
रचना 
 
ह 
 
य  
 
क 
 
गई।
 
इस 
 
से
 
यह 
 
ूतत 
 
होता 
 
है
 
क 
 
अधकार 
 
जास
 
 
मागदशन 
 
 
लए 
 
इस 
 
को 
 
अशत
 
ूकट 
 
कया 
 
गया 
 
है।
 
ौमगवता 
 
म
 
भ 
 
अत 
 
म
 
ौकंण 
 
भगवान 
 
अजुन 
 
से
 
कहते
 
ह
 
क 
 
यह 
 
म
 
ने
 
तुझे
 
गु 
 
से
 
भ 
 
गुतर 
 
ान 
 
बता 
 
दया 
 
है।
 
इस 
 
से
 
यह 
 
सत 
 
मलता 
 
है
 
क 
 
गता 
 
 
ोक 
 
उस 
 
गु 
 
का 
 
आवरणमाऽ 
 
ह।
 
वल 
 
उन 
 
 
पढने
 
से
 
या 
 
उन 
 
का 
 
शदाथ
 
जान 
 
लेने
 
से
 
उस 
 
गढ 
 
आशय 
 
का 
 
आकलन 
 
नह 
 
हो 
 
सकता।
 
वह 
 
बात 
 
योग 
 
और 
 
बोध 
 
इन 
 
रहःय 
 
क 
 
भ 
 
है।
 
एक 
 
तो 
 
अागयोग 
 
और 
 
ानयोग 
 
इन 
 
रहःय 
 
म
 
सऽप 
 
से
 
कहा 
 
गया 
 
है।
 
अयथा 
42
और 
44
ोक 
 
म
 
इन 
 
वषय 
 
का 
 
कथन 
 
नह 
 
हो 
 
सकता।
 
इस 
 
से
 
भ 
 
बड 
 
बात 
 
यह 
 
है
 
क 
 
वेद 
,
शा 
,
पुराणाद 
 
इन 
 
थ 
 
को 
 
समझने
 
 
लए 
 
वल 
 
भाषा 
 
का 
 
ान 
 
पया 
 
नह 
 
है।
 
जैसे
 
क 
 
ेतातर 
 
उपनष 
 
म
 
कहा 
 
गया 
 
है
,
यह 
 
कहे
 
गये
 
अथ
 
या 
 
आशय 
 
उस 
 
महामा 
 
क 
 
बु 
 
म
 
ूकाशत 
 
होते
 
ह
 
जस 
 
 
मन 
 
म
 
ईर 
 
और 
 
ईराभन 
 
ौगु 
 
 
लए 
 
परा 
 
भ 
 
है।
 
यःय
 
देवे
 
परा
 
भयथा
 
देवे
 
तथा
 
गुर।
 
तःयैते
 
कथता
 
था
 
ूकाशते
 
महामन।।
 
माऽ 
 
युप 
 
और 
 
तक
 
से
 
इन 
 
बात 
 
को 
 
 
  2
जान 
 
पाना 
 
असभव 
 
है।
 
इस 
 
लए 
,
यह 
 
थ 
 
 
अययन 
 
 
लए 
 
अधकार 
 
क 
 
बात 
 
कह 
 
जात 
 
है।
 
अनधकार 
 
 
लए 
 
कतने
 
भ 
 
ववरण 
 
 
होते
 
हए 
 
भ 
 
यह 
 
रहःय   ु
,
रहःय 
 
ह 
 
रह 
 
जाते
 
ह।
 
इस 
 
रहःय
 
का
 
वःतारपव
 
ववेचन
 
ौगुचरण 
 
ूातःमरणय 
 
योगराज 
 
ौ 
 
वामनरावज 
 
गुळवणमहाराज 
 
ने
 
कया 
 
है।
 
उस 
 
 
आधार 
 
पर 
 
हम 
 
इस 
 
योगरहःय 
 
का 
 
परचय 
 
माऽ 
 
कराने
 
जा 
 
रह
 
ह।
 
इस 
 
ूवचन 
 
 
सुनने
 
से
 
ौोतागण 
 
म
 
यह 
 
ववेचन 
 
 
वषय 
 
म
 
जासा 
 
जाग
 
यह 
 
इस 
 
का 
 
मयादत 
 
उेँय 
 
है।
 
योगरहःय 
 
म
 
छ 
 
परवतन 
 
कर 
 
 
हठयोग 
 
का 
 
अधक 
 
वःतारपवक 
 
कथन 
,
महाराजौ 
 
ने
 
ौदपुराण 
 
 
सातव
 
वे
 
तथा 
 
आठव
 
अयाय 
 
म
 
कया 
 
है।
 
इस 
 
से
 
यह 
 
वषय 
 
महाराज 
 
को 
 
कतना 
 
महवपण
 
लगता 
 
है
 
इस 
 
का 
 
पता 
 
चलता 
 
है।
 
भमका
 
इस 
 
रहःय 
 
क 
 
भमका 
 
ूारभक 
 
छ 
 
ोक 
 
म
 
बताई 
 
है।
 
पहले
 
ोक 
 
म
 
महाराज 
 
कहते
 
ह
 
ौेपुजमसाफय
 
काय
 
यगऽयाौयात।
 
समायातसाहॐ
-
सहतासहःवयम।।
1
।।
 
दो 
 
हजार 
 
ोक 
 
क 
 
इस 
 
सहता 
 
का 
 
सार 
 
बताया 
 
गया 
 
है।
 
वह 
 
यह 
 
है
 
क 
 
ौे 
 
मानवजम 
 
क 
 
सफलता 
 
भ 
,
कम
 
और 
 
ान 
 
इन 
 
तन 
 
योग 
 
 
आौय 
 
से
 
क 
 
जान 
 
चाहए।
 
साहॐ 
 
म
 
यह 
 
तन 
 
योग 
 
कस 
 
ूकार 
 
थत 
 
ह
 
यह 
 
बोधरहःय 
 
 
पात   ्
 
थ 
 
 
अत 
 
म
 
महाराजौ 
 
कहते
 
ह।
 
ान
 
ऽयदशायायै
 
कमयग
 
 
पचभ।
 
पचभभयग
 
 
कारयामास
 
यगरा।।
 
पहले
 
तेरह 
 
अयाय 
 
म
 
ान 
,
फर 
 
पाच 
 
अयाय 
 
म
 
कम
(14-18)
और 
 
शेष 
 
पाच 
 
अयाय 
 
म
 
भ 
 
का 
 
नपण 
 
योगराज 
 
दूभ
 
ने
 
कराया 
 
है।
 
ौगुचरऽ 
 
क 
 
यह 
 
ऽकाडामक
 
रचना
 
ःवाम 
 
महाराज 
 
का 
 
ह 
 
योगदान 
 
है।
 
इस 
 
 
अनुसार 
 
मराठ 
 
गुचरऽ 
 
म
 
पथम 
24
अयाय 
 
ानकाड 
,
फर 
13
अयाय 
(37
तक 
)
कम
 
और 
14
अयाय 
 
भकाड 
 
माने
 
जाते
 
ह।
 
इन 
 
तन 
 
क 
 
आवँयकता 
 
य  
 
होत 
 
है
 
यह 
 
अगले
 
ोक 
 
म
 
ःप 
 
कया 
 
है।
 
भ
 
वना
 
 
साफय
 
कमण
 
कमणा
 
वना।
 
 
 
ान
 
वना
 
ानान
 
 
म
 
यःय
 
कःयचत।।
2
 
इस 
 
म
 
ूमुख 
 
सात 
 
भ 
.
प
.
पाद 
 
ौ 
 
आदशकराचायज 
 
का 
 
ानादेव
 
 
वय
 
यह 
 
है।
 
ःवाभावक 
 
ह 
 
शका 
 
उपःथत 
 
होत 
 
है
 
क 
 
यद 
 
ान 
 
ह 
 
से
 
मो 
 
ूा 
 
होता 
 
है
 
तो 
 
दसरे
 
दो 
 
योग   
 
का 
 
नपण 
 
कस 
 
कारण 
 
कया 
 
गया 
 
है
?
 
इस 
 
का 
 
कारण 
 
वातकसार 
 
म
 
यह 
 
बताया 
 
गया 
 
है
 
क 
 
ान 
 
क 
 
ूा 
 
 
लए 
 
शमाद 
 
ष 
 
सपत 
 
  ्क 
 
आवँयकता 
 
है।
 
इस 
 
को 
 
पाना 
 
वल 
 
चशु 
 
से
 
ह 
 
सभव 
 
है।
 
और 
 
चशु 
 
का 
 
एकमाऽ 
 
साधन 
 
नयाद 
 
वहत 
 
कम 
 
का 
 
नंकाम 
 
अनुान 
 
ह 
 
है।
 
इस 
 
लए 
 
यहा
 
महाराजौ 
 
कहते
 
ह
 
कमणा
 
वना
 
 
 
ानम
 
कमयोग 
 
से
 
चशु 
 
होत 
 
है
 
तो 
 
फर 
 
भ 
 
क 
 
या 
 
आवँयकता 
 
है
?
 
तो 
 
कहते
 
ह
 
भ
 
वना
 
कमण
 
साफय
 
न।
 
भ 
 
 
बना 
 
कम
 
क 
 
सफलता 
 
नह 
 
होत।
 
कम
 
क 
 
सफलता 
 
चशु 
 
है।
 
उनसवे
 
अयाय 
 
क 
 
टका 
 
म
 
महाराजौ 
 
ने
 
भ 
 
क 
 
आवँयकता 
 
य  
 
होत 
 
है
 
इस 
 
का 
 
वःतार 
 
से
 
ववेचन 
 
कया 
 
है।
 
नयाद 
 
वहत 
 
कम
 
यद 
 
सपन 
 
हो 
 
भ 
 
जाए
,
वे
 
तब 
 
तक 
 
नंकाम 
 
नह 
 
हो 
 
सकते
 
जब 
 
तक 
 
वे
 
ईरापण 
 
बु 
 
से
 
नह 
 
होते।
 
परमेर 
 
 
ूत 
 
 
उेँय 
 
से
 
कया 
 
गया 
 
कम
 
ह 
 
नंकाम 
 
हो 
 
सकता 
 
है।
 
यह 
 
तो 
 
याया 
 
भ 
 
क 
 
भ 
 
है।
 
सा
 
 
अःमन
 
परमूेमःवपा।
 
इस 
 
से
 
यह 
 
ःप 
 
होता 
 
है
 
क 
 
कम
 
भ 
 
 
सहत 
 
होना 
 
चाहए।
 
इस 
 
कारण 
 
से
 
यह 
 
तन 
 
योग 
 
का 
 
ूतपादन 
 
साहॐ 
 
म
 
कया 
 
है।
 
इस 
 
 
बाद 
 
योग 
 
का 
 
ूयोजन 
 
ःप 
 
करते
 
ह।
 
 
ान
 
जवत
 
ूाणे
 
मनःयप
,
लय
 
नयेत।
 
यःत
,
गछत
 
म
 
 
यग
,
नाय
 
कथचन।।
3
।।
 
ूाण 
 
और 
 
मन 
 
 
जवत 
 
रहते
(
आम 
)
ान 
 
नह 
 
होता।
 
इन 
 
दोन 
 
का 
 
लय 
 
करनेवाला 
 
योग 
 
ह 
 
मो 
 
पाता 
 
है
,
दसरा 
 
कोई 
 
भ 
 
नह।
 
बा 
 
नासका 
 
से
 
चलने
 
वाल 
 
इडा 
 
और 
 
दाहन 
 
नासका 
 
से
 
चलने
 
वाल 
 
पगला 
 
इन 
 
  दो 
 
नाडय 
 
म
 
ूवाहत 
 
होना 
 
ह 
 
ूाण 
 
का 
 
जवन 
 
है।
 
नरतर 
 
सकप 
 
और 
 
वकपारा 
 
अनेक 
 
वषयाकार 
 
वृ य 
 
 
  3
का 
 
नमाण 
 
ह 
 
मन 
 
का 
 
जवन 
 
है।
 
उस 
 
तरह 
 
अपने
 
अपने
 
वषय 
 
का 
 
हण 
 
इियो 
 
का 
 
जवन 
 
है।
 
ासोवास 
 
जब 
 
पर 
 
तरह 
 
क 
 
जाएगा 
 
और 
 
उस 
 
 
साथ 
 
मन 
 
नवचार 
 
हो 
 
जाएगा 
 
तब 
 
ह 
 
आमानप 
 
मो 
 
क 
 
स 
 
होत 
 
है।
 
सामायत
 
यह 
 
तो 
 
जते
 
ज 
 
सभव 
 
नह 
 
लगता।
 
परतु
 
यहा
 
महाराजौ 
 
योगशा 
 
का 
 
एक 
 
सात 
 
बता 
 
रहे
 
ह
 
जस 
 
का 
 
अनुभव 
 
वे
 
कर 
 
चु
 
ह।
 
और 
 
भ 
 
अनगनत 
 
महामाओ
 
ने
 
इस 
 
योगशा 
 
 
अनुानारा 
 
इस 
 
सय 
 
क 
 
पु 
 
अपने
 
अनुभव 
 
से
 
क 
 
है।
 
इस 
 
अनुभत 
 
को 
 
योग 
 
का 
 
परम 
 
साय 
 
बताया 
 
गया 
 
है।
 
हठयोगूदपका 
,
योगतारावल 
,
ानेर 
 
जैसे
 
सहॐावध 
 
स 
 
थ 
 
म
,
उपनषद 
 
म
 
एव
 
पतजलूणत 
 
योगशा 
 
म
 
यह 
 
योगस 
 
का 
 
लण 
 
बताया 
 
गया 
 
है।
 
आज 
 
भ 
 
इस 
 
अवःथा 
 
को 
 
ूा 
 
करने
-
करानेवाले
 
महामा 
 
इस 
 
पवऽ 
 
भारतभम 
 
म
 
वमान 
 
ह।
 
मन 
 
और 
 
ूाण 
 
एक 
 
दसरे
 
से
 
जुडे
 
हए 
 
ह।
 
ूाण 
 
  चलता 
 
है
 
तो 
 
मन 
 
भ 
 
चचल 
 
हो 
 
जाता 
 
है।
 
वैसे
 
ह 
 
ूाण 
 
ःथर 
 
होता 
 
है
 
तो 
 
मन 
 
भ 
 
ठहर 
 
जाता 
 
है।
 
चले
 
ूाणे
 
चल
 
च
 
नले
 
नल
 
तय।
 
न
 
एकतरे
 
नाश
 
यरप
,
 
यगत।।
4
।।
 
दोन 
 
म
 
से
 
एक 
 
का 
 
नाश 
 
हो 
 
गया 
 
तो 
 
दोनो 
 
का 
 
नाश 
 
होता 
 
है।
 
यह 
 
योग 
 
से
 
ह 
 
सभव 
 
है।
 
यह 
 
बात 
 
भगवान 
 
ौकंण 
 
गता 
 
म
 
इस 
 
ूकार 
 
कहते
 
ह।
 
युजनेव
 
सदामान
 
यग
 
नयतमानस।
 
शात
 
नवाणपरमा
 
मसःथामधगछत।।
6-15
।।
 
ॄानदज 
 
ने
 
हठयोगूदपका 
 
क 
 
टका 
 
म
 
मो 
 
 
लए 
 
योग 
 
क 
 
आवँयकता 
 
का 
 
ूतपादन 
 
करने
 
वाले
 
ौुत 
.
ःमृ त 
,
पुराण 
 
आद 
 
 
बहत 
 
से  ु
 
अवतरण 
 
उत 
 
कए 
 
ह।
 
जास
 
  ृ सजन 
 
उसे
 
मल 
 
थ 
 
म
 
देख 
 
सकते
 
ह।
 
यहा
 
योग 
 
शद 
 
से
 
महाराजौ 
 
को 
 
अागयोग 
 
अभूेत 
 
है।
 
अागयग
 
म
 
ान
,
कम
 
और
 
भ
 
अनुःय
 
ह।
 
आरभ 
 
म
 
मोूा 
 
 
लए 
 
भ 
,
कम
 
तथा 
 
ान 
 
क 
 
आवँयकता 
 
कह 
 
गई।
 
फर 
 
यह 
 
अागयोग 
 
कहा
 
से
 
आ 
 
गया 
?
 
इस 
 
आशका 
 
का 
 
समाधान 
 
पाचव
 
ोक 
 
म
 
कया 
 
गया 
 
है।
 
भयाानयगामुाप
 
तत
 
ऽयम।
 
ेय
 
साागयगातगत
 
ैधमतऽ
 
न।।
5
।।
 
महाराजौ 
 
का 
 
कहना 
 
है
 
क 
 
भ 
,
कम
 
और 
 
ान 
 
इन 
 
तन 
 
का 
 
अतभाव 
 
अागयोग 
 
म
 
होता 
 
है।
 
इस 
 
तरह 
 
से
 
वरोध 
 
क 
 
कोई 
 
बात 
 
ह 
 
नह 
 
रहत।
 
यह 
 
तो 
 
सऽप 
 
से
 
महाराजौ 
 
ने
 
बता 
 
दया।
 
परतु
 
इस 
 
का 
 
वःतार 
 
से
 
ःपकरण 
 
हठयोगूदपका 
 
क 
 
टका 
 
म
 
ॄानदज 
 
ने
 
कया 
 
है।
 
यहा
 
उसे
 
सप 
 
से
 
देखते
 
ह।
 
योग 
 
 
आठ 
 
अग 
 
ये
 
ह।
 
यम 
,
नयम 
,
आसन 
,
ूाणायाम 
,
ूयाहार 
,
धारणा 
,
यान 
 
और 
 
समाध।
 
इस 
 
म
 
समाध 
 
दो 
 
ूकार 
 
क 
 
है
,
सूात 
 
और 
 
असूात।
 
सूात 
 
समाध 
 
योग 
 
आठवा 
 
अग 
 
है
 
तथा 
 
असूात 
 
समाध 
 
अग 
 
अथात 
 
योग 
 
है।
 
  ्
 
पहले
 
ानमाग
 
का 
 
वचार 
 
करते
 
ह।
 
ानमाग
 
 
मुय 
 
साधन 
 
ह
,
ौवण
,
मनन
 
और
 
नदयासन
 
इन 
 
म
 
से
 
ौवण 
 
और 
 
मनन 
 
अागयोग 
 
 
नयम 
 
ःवायाय 
 
म
 
नहत 
 
है।
 
शच
-
सतष
-
तप
-
ःवायायेरूणधानान
 
नयमा।
 
सात 
 
तथा 
 
वेदात 
 
 
ौवण
 
से
 
ह 
 
तापयाथ
 
का 
 
नणय 
 
होता 
 
है।
 
यह 
 
ःवायाय
 
है।
 
मोशा 
 
का 
 
अययन 
 
तथा 
 
तापयाथ
 
क 
 
नत 
 
 
लये
 
उस 
 
का 
 
चतन
 
यह 
 
ःवायाय
 
ह 
 
का 
 
अग 
 
है।
 
इस 
 
ूकार 
 
वजातय 
 
ूयय 
 
 
नरोध 
 
 
साथ 
 
सजातय 
 
ूयय 
 
मे
 
च 
 
ूवाहत 
 
करते
 
हए   ु
 
उस 
 
को 
 
येयाकार 
 
करना 
 
नदयासन
 
है।
 
यह 
 
अागयोग 
 
का 
 
सातवा 
 
अग 
 
यान
 
होता 
 
है।
 
तप 
,
ःवायाय 
 
तथा 
 
ईरूणधान 
 
इन 
 
तन 
 
को 
 
मला 
 
कर 
 
पतजल 
 
यायोग 
 
कहते
 
है।
 
तपःवायायेरूणधानान
 
यायग।
 
इस 
 
म
 
कम
 
तथा 
 
भ 
 
इन 
 
दोन 
 
का 
 
समावेश 
 
होता 
 
है।
 
तप
 
का 
 
अथ
 
है
 
उपवास 
,
 
,
चािायणाद 
 
से
 
शरर 
 
का 
 
शोषण।
 
ईरूणधान
 
ौवण 
,
कतन 
 
आद 
 
नववध 
 
करणभ
 
या 
 
साधनभ
 
का 
 
ह 
 
नाम 
 
है।
 
इस 
 
का 
 
फल 
 
योगशा 
 
म
 
समाध 
 
क 
 
स 
 
बताया 
 
गया 
 
है।
 
समाधसररूणधानात।
 
अथात 
 
पतजलूणत 
 
यायोग 
 
म
 
ान   ्
,
कम
 
और 
 
भ 
 
इन 
 
तन 
 
का 
 
अतभाव 
 
होता 
 
है।
 
भशा 
 
म
 
साधनभ 
 
 
साथ 
 
फलप
 
भ
 
का 
 
भ 
 
ूतपादन 
 
है।
 
नारायणतथज 
 

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->