Start Reading

Bhikarin Aur Vidaa: Do Kahaniya

Ratings:
Length: 30 pages29 minutes

Summary

कन्या के पिता के लिए धैर्य धरना थोड़ा-बहुत संभव भी था; परन्तु वर के पिता पल भर के लिए भी सब्र करने को तैयार न थे। उन्होंने समझ लिया था कि कन्या के विवाह की आयु पार हो चुकी है; परन्तु किसी प्रकार कुछ दिन और भी पार हो गये तो इस चर्चा को भद्र या अभद्र किसी भी उपाय से दबा रखने की क्षमता भी समाप्त हो जायेगी?

Read on the Scribd mobile app

Download the free Scribd mobile app to read anytime, anywhere.