Start Reading

मिस्री वाद्ययंत्र

Ratings:
215 pages1 hour

Summary

यह पुस्तक प्राचीन मिस्र के प्रमुख वाद्ययंत्रों, उनकी श्रेणियों, और उन्हें बजाने की तकनीकों का वर्णन करती है।
स पुस्तक में पांच अध्याय हैं:

अध्याय 1: वाद्ययंत्रों के ख़ज़ाने में मिस्र के वाद्ययंत्रों की सामान्य विशेषताओं और ऑर्केस्ट्रा के प्रमुख घटकों को समेटा जाएगा।

अध्याय 2: तार वाले वाद्ययंत्र में प्राचीन मिस्र के तार वाले विभिन्न वाद्ययंत्रों जैसे कि लायर, ट्राई-गोनोन (ज़िथर), हार्प आदि के बारे में जानकारियों को उन्हें बजाने की तकनीक सहित शामिल किया जाएगा; हार्प—बजाने की तकनीकें; प्राचीन मिस्र के गर्दन युक्त तार वाले वाद्ययंत्र —जैसे कि छोटी गर्दन वाली ल्यूट; लंबी गर्दन वाले मिस्री गिटार; और धनुषाकार कमंगा, राबाबा, आदि की सभी निहित क्षमताओं पर प्रकाश डाला जाएगा।

अध्याय 3: वायु-वाद्य में खुले सिरे वाली बांसुरी, आड़ी बांसुरी, पैन बांसुरी, सिंगल रीड पाइप (क्लैरिनेट), डबल पाइप, डबल क्लैरिनेट, डबल ओबोए, अर्गुल तथा अन्य जैसे (बैगपाइप और ऑर्गन); और सींग/तुरहियों आदि को कवर किया जाएगा।

अध्याय 4: तालवाद्य में ड्रम और डफ जैसे झिल्लीदार वाद्ययंत्रों और ताल-छड़ी, खड़ताल, सिस्ट्रम/सिस्त्रा, झांझ, मजीरा, घंटी (झंकार), ज़ाइलोफोन और ग्लॉकेन्सपीएल और मानव अंगों (हाथ, उंगलियां, जांघों, पैर, आदि) जैसे गैर- झिल्लीदार वाद्यों पर प्रकाश डाला जाएगा।

अध्याय 5: संगीत का प्रदर्शन में संगीत प्रदर्शनों को बनाने और निर्देशन में उंगलियों और उनके पोरों के महत्व और भूमिका के बारे में बताया जाएगा साथ ही—लिखित प्रतीकों के उपयोग सहित—तालबद्ध समय/गति को बनाए रखने के विभिन्न तरीकों पर प्रकाश डाला जाएगा।

Read on the Scribd mobile app

Download the free Scribd mobile app to read anytime, anywhere.