Start Reading

वेदों का सर्व-युगजयी धर्म : वेदों की मूलभूत अवधारणा

Ratings:
Length: 144 pages1 hour

Summary

जैसे पदार्थ एवं उर्जा को अलग-अलग अविनाशी एवं मात्र रूप बदलने वाला माना गया था परन्तु ये सापेक्षता (रिलेटिविटी) के सिद्धांत द्वारा सम्बद्ध कर दिए गए, उसी प्रकार अचेतन एवं चेतन को भी वेद-ज्ञान सम्बद्ध कर देता है । अर्थात् चेतन को अचेतन और अचेतन को चेतन में परिवर्तित किया जा सकता है । यह वेदों के प्रयोग से संभव है । जैसे पदार्थ को उर्जा में बदलने के लिए एक परमाणु बम में क्रांतिक मात्रा में रेडियो-एक्टिव पदार्थ चाहिए, वैसे ही अचेतन को चेतन में बदलने के लिए जो संरचनाएं चाहिए उनका वर्णन वेदों में प्राप्त होता है । अधिक क्या कहें वेद मानव मात्र के कल्याण के लिए ईश्वर का अनमोल उपहार है ।

पुस्तक के मुख्य विषय १. वेद का निहितार्थ , २. वेद की मूल अवधारणा, ३. वेद के साहित्य का स्वरूप, ४. सामवेद ५.यजुर्वेद में चैतन्यानुभूति द्वारा ईश्वरानुभूति इत्यादि हैं ।  

Read on the Scribd mobile app

Download the free Scribd mobile app to read anytime, anywhere.