अनब

ु तू िि वशीकयण प्रमोग॰
मह क्रिमा फहोि ही आसान क्रिमा है ,इसके लरए आऩको अभावस्मा के दिन यात्री भे 7:30 फजे के फाि शभशान भे
जाना है ,
साथ भे एक नीींफ,ू एक शयाफ का फोटर औय कोयी ईट होना चादहए ,इन 3 छीजो को छुऩाके अऩने साथ रेकय
जाए,शभशान भे जाकय आऩको वहासे कोई बी चीिा का कोमरा रेना है ,औय उसी कोमरे से तनम्न मींत्र को ईट ऩय
तनकारना (लरखना) है ,जहा अभुक लरखा है वह ऩे आऩकी गरलफ्रेंड का नाभ लरखे,मींत्र लरखिे सभम तनम्न भींत्र का
जाऩ कये ॰
॥ हाम भीन शीन काप हा मा ऐन शीन काप ॥
जफ मींत्र लरखना हो जामे िफ ईट को जभीन भे गड्डा खोिकय गाड़ िे ,गाड़ने के फाि क्रकसी बी धायिाय चीज से नीींफू
का फलर िे ना है औय शयाफ चढ़ा िे ॰
हो गमा अफ आऩका काभ,ऩूणल सपरिा िो लभरेगा ही लभरेगा॰ मह एक अनुबूतिि प्रमोग है ,इस प्रमोग का वाय
कबी बी खारी नहीीं जािा है ,मह प्रमोग भैंने इन 6 सारो से कई रोगो से कयवामा औय हय फाय खया उिया है ॰
मींत्र
३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

३०

अभुक को काफू कय

खुश यहो भेये प्माये बाई मही िआ
है भेयी,हभेशा अहीं काय,घुस्सा,रारच,काभ वासना को अऩने से ियू यखो..........

आऩका अऩना -अभन तनखखर