Bac

• वषष 1897 के 23 वें ददन बगवान Janakinath फोस औय प्रबावती दे वी के हाथ से बायत को एक उऩहाय ददमा सब ु ाष चॊद्र फोस •वह प्रेसीडेंसी कॉरेज भें अऩने बायत ववयोधी दिप्ऩणिमों के लरए जई का हभरा प्रोपेसय के लरए ननष्कालसत कय ददमा गमा था जफ उनकी याष्रवादी स्वबाव प्रकाश भें आमा है . Back .

इसके फाद वे एक क्ाॊतिकायी के रूऩ भें अऩने ऩहरे सचेि कदभ उठामा औय उस आधाय ऩय तनमक्ु ति इस्िीपा दे ददमा: “एक सयकायी सभाप्ि कयने के सरए सफसे अच्छा ियीका मह से वाऩस रेने के सरए है . " Back .दे शबक्तत हो यही है ससववर सेवा ऩयीऺाओॊ भें उनका उच्च स्कोय रगबग एक स्वचासरि तनमुक्ति भिरफ.

1930 उन्होंने करकत्िा के भेमय फनने के सरए उबया 1938 िक फोस याष्ट्रीम नेिा के रूऩ भें फन गमा था काॊग्रेस अध्मऺ के रूऩ भें नाभाॊकन स्वीकाय कयने के सरए सहभि हुए कद औय ब्रिदिश के खिराप फर प्रमोग द्वाया भहात्भा गाॊधी के खिराप साभना ककमा.उत्तयार्द्ष 1924 भें करकत्ता के भेमय चन ु े गए थे जफ फोस दास के लरए काभ ककमा. Back .

2 सार के फाद जायी ककमा. Back .  कपय फोस को गगयफ्ताय कय लरमा औय सववनम अवऻा के लरए जेर भें फंद था.  फोस ने अऩने ब्रिदिश ववयोधी रुख भें भुखय था औय छह भहीने औय तीन सार के फीच अरग अवगध के लरए 1920 औय 1941 के फीच 11 (ग्मायह) फाय जेर भें फंद था.दे श के लरए जेर गमा  1925 भें याष्रवाददमों की एक roundup भें फोस को गगयफ्ताय कय लरमा गमा था औय वह बी तऩेददक अनफ ु ंगधत जहां भांडरे भें जेर बेज ददमा.

उनकी दिप्ऩिी को वह बायत की स्वतंत्रता के लरए शैतान के साथ हाथ लभराने के लरए ककमा था अगय वह ऐसा होता था Back .याजनीनतक ववचायों  सुबाष चंद्र फोस गीता अंग्रेजों के णखराप संघषष के लरए प्रेयिा का एक फडा स्रोत का भानना ​था कक. साभाक्जक सेवा औय सध ु ाय ऩय अऩने याष्रवादी ववचायों औय उसका जोय उसके फहुत मुवा ददनों से सबी प्रेरयत सब ु ाष चंद्र फोस की थी.  फोस नाक्जमों कबी ऩसंद नहीं रेककन वह अपगाननस्तान भें भदद के लरए रूस से संऩकष कयने भें ववपर यहा है जफ वह भदद के लरए जभषनी औय इिरी का दयवाजा खिखिामा.  स्वाभी वववेकानंद की लशऺाओं सावषबौलभकता ऩय.

हारांकक.  उनका सभझौता स्िैंड अंत भें बायतीम याष्रवाद फोस की भुख्म धाया से उसे काि ददमा तो याजनीनतक फाएं भजफूत फनाने के उद्देश्म से 22 जन ू को पायवडष ब्राक का आमोजन Back . कांग्रेस कामष सलभनत भें गांधी के नेतत्ृ व वारे गि ु के manoeuvrings के कायि.सम्भेरन फोस  थेवय फोस के लरए सबी दक्षऺि बायत वोि जि ु ाए. फोस खद ु कांग्रेस अध्मऺ ऩद से इस्तीपा दे ने के लरए भजफयू कय ऩामा.

 उनका ऩत्राचाय ब्रिदिश अधीनता के लरए अऩनी स्ऩष्ि नाऩसंदगी के फावजद ू . Back .  उन्होंने कहा कक कभ से कभ दो दशकों के लरए. एक भत ु त बायत सभाजवादी ननयं कुशता की जरूयत है कक ववश्वास कयने के लरए आमा था.फोस ऩय प्रबाव  उन्होंने कहा कक इिारवी याजनेिाओॊ ग्मूसेऩ Garibaldi औय ग्मस ू ेऩ Mazzini के उदाहयण से प्रबाववि था. तक ु ी के कभार अतातक ु ष की तजष ऩय. वह गहयाई से उनके व्मवक्स्थत औय व्मवक्स्थत दृक्ष्िकोि औय जीवन के प्रनत उनके रगाताय अनश ु ासन दृक्ष्िकोि से प्रबाववत था कक ऩता चरता है .

सफ कुछ प्रेभ औय मर्द् ु भें संबव है  फोस मर्द् ु के सभम ब्रििे न की याजनीनतक अक्स्थयता राब की फजाम लसपष मर्द् ु के अंत के फाद स्वतंत्रता दे ने के लरए ब्रििे न के लरए इंतजाय नहीं लरमा जाना चादहए कक दृक्ष्िकोि की वकारत की.. Back .  अपगाननस्तान औय सोववमत संघ के भाध्मभ से जभषनी के लरए फोस के बागने.

"दो फाय उन्हें थप्ऩड “एक आॊि के सरए एक आॊि ही ऩूयी दतु नमा को अॊधा फना यही सभाप्ि होिा है. “रोगों को एक फाय आऩ थप्ऩड हैं. “ Back . \गांधी औय फोस के फीच इसके ववऩयीत की एक उगचत उऩाम कयने के लरए उसे एक कहावत कायि भें कब्जा कय लरमा है .

फोस औय जभषनी Back .

भौत? हाराॊकक. वहाॉ था वास्िव भें . दृक्ष्ट्िकोण िाइवानी सयकाय ने ककमा था. औय. औय फोस रे जाने के कोई ववभान कबी िाइऩे भें दर् घ नाग्रस्ि हो गमा था कक ु ि िाइवान सयकाय से जानकायी प्राप्ि की. अगस्ि 1945 18 ऩय िाइवान भें कोई ववभान दर् घ ना ु ि आयोऩ रगामा है . अवधध 1999-2005 भें फोस राऩिा होने के यहस्म की जाॊच की क्जसभें जक्स्िस भुिजी के िहि जाॊच आमोग. Back .

Back .