P. 1
Nirmala

Nirmala

|Views: 139|Likes:
Published by sudhir sharma
Premchand's novel Nirmala, first published in 1928, is one of the most poignant novels in Hindi on the theme of the young adolescent yoked to an elderly husband.
Premchand's novel Nirmala, first published in 1928, is one of the most poignant novels in Hindi on the theme of the young adolescent yoked to an elderly husband.

More info:

Published by: sudhir sharma on Sep 02, 2009
Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as DOC, PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

11/20/2012

pdf

text

original

ििमम ला

तो बाबू उदयभािुलाल के पििवाि मे बीसो ही पाी !े, को" ममेिा
भा" !ा, को" #ु #े िा, को" भां$ा !ा, को" भती$ा, ले%कि यहां हमे
उिसे को" पयो$ि िहीं, वह &'(े वकील !े, ल)मी पस*ि !ीं +ि कु ,ु -ब
के दिि. पा/यो को 01य दे िा उिका क23य ही !ा4 हमािा स-ब*5 तो
के वल उिकी दोिो क*या6ं से ह7 , /$िमे ब8ी का िाम ििमलम ा +ि (ो,ी
का क9 :ा !ा4 &भी कल दोिो सा!-सा! ;ु %8या <ेलती !ीं4 ििमलम ा का
प*.हवां साल !ा, क9 :ा का दसवां, %#ि भी उिके =वभाव मे को" >व?े@
&*ति ि !ा4 दोिो चं चल, /<ला%8ि +ि स7ि-तमा?े पि $ाि दे ती !ीं4
दोिो ;ु %8या का 5ू म5ाम से Aयाह किती !ीं, सदा काम से $ी चुिाती !ीं4
मां पु कािती िहती !ी, पि दोिो कोBे पि ि(पी ब7BC िहती !ीं %क ि $ािे
%कस काम के िलD बुलाती हE 4 दोिो &पिे भाFयो से ल8ती !ीं , िGकिो को
Hां,ती !ीं +ि बा$े की 0वा$ सुिते ही Iाि पि 0कि <8ी हो $ाती !ीं
पि 0$ DकाDक Dक Jसी बात हो ;" ह7 , /$सिे ब8ी को ब8ी +ि (ो,ी
को (ो,ी बिा %दया ह7 4 क9 :ा यही ह7 , पि ििमलम ा ब8ी ;-भीि, Dका*त->पय
+ि लK$ा?ील हो ;" ह7 4 F5ि महीिो से बाबू उदयभािुलाल ििमलम ा के
>ववाह की बातचीत कि िहे !े4 0$ उिकी मेहित %Bकािे ल;ी ह7 4 बाबू
भालच*. िस*हा के KयेL पुM भुवि मोहि िस*हा से बात पNकी हो ;" ह7 4
वि के >पता िे कह %दया ह7 %क 0पकी <ु?ी ही दहे $ दे , या ि दे , मुOे
Fसकी पिवाह िहीं; हां, बािात मे $ो लो; $ाये उिका 0दि-सPकाि &'(C
तिह होिा च%हD, /$समे मेिी +ि 0पकी $;-हं सा" ि हो4 बाबू
उदयभािुलाल !े तो वकील, पि संचय कििा ि $ािते !े4 दहे $ उिके
सामिे क%Bि सम=या !ी4 FसिलD $ब वि के >पता िे =वयं कह %दया %क
मुOे दहे $ की पिवाह िहीं , तो मािो उ*हे 0ं<े िमल ;"4 Hिते !े , ि $ािे
%कस-%कस के सामिे हा! #7 लािा प8े , दो-तीि महा$िो को BCक कि ि<ा
!ा4 उिका &िुमाि !ा %क हा! िोकिे पि भी बीस ह$ाि से कम <च म ि
हो;े4 यह 0Qासि पाकि वे <ु ?ी के मािे #ू ले ि समाये4
यो
Fसकी सूचिा िे &Rाि बिलका को मुंह Sांप कि Dक कोिे मे >बBा
ि<ा ह7 4 उसके Tदय मे Dक >विचM ?ंका समा ;" ह7 , िो-िोम मे Dक &Rात
भय का संचाि हो ;या ह7 , ि $ािे Nया हो;ा4 उसके मि मे वे उमं;े िहीं
2
हE , $ो युवितयो की 0ं <ो मे िति(C िचतवि बिकि, 6ं Bो पि म5ुि हा=य
बिकि +ि &ं ;ो मे 0ल=य बिकि पक, होती ह7 4 िहीं वहां &िभला@ाDं
िहीं हE वहां के वल ?ं काDं, िच*ताDं +ि भीU कVपिाDं हE 4 यGवि का &भी
तक पू म पका? िहीं ह

0 ह7 4
क9 :ा कु (-कु ( $ािती ह7 , कु (-कु ( िहीं $ािती4 $ािती ह7 , बहि को
&'(े -&'(े ;हिे िमले;े, Iाि पि बा$े ब$े;े, मेहमाि 0ये;े, िाच हो;ा-यह
$ािकि पस*ि ह7 +ि यह भी $ािती ह7 %क बहि सबके ;ले िमलकि
िोये;ी, यहां से िो-5ोकि >वदा हो $ाये;ी, मE &के ली िह $ाWं ;ी- यह $ािकि
दु:<ी ह7 , पि यह िहीं $ािती %क यह FसिलD हो िहा ह7 , माता$ी +ि
>पता$ी Nयो बहि को Fस Xि से ििकालिे को Fतिे उPसुक हो िहे हE 4
बहि िे तो %कसी को कु ( िहीं कहा, %कसी से ल8ा" िहीं की, Nया Fसी
तिह Dक %दि मुOे भी ये लो; ििकाल दे ;े ? मE भी Fसी तिह कोिे मे
ब7Bकि िोWं ;ी +ि %कसी को मुO पि दया ि 0ये;ी? FसिलD वह भयभीत
भी हE 4
संYया का समय !ा, ििमलम ा (त पि $ािकि &के ली ब7BC 0का? की
+ि त>9 @त िेMो से ताक िही !ी4 Jसा मि होता !ा पं < होते, तो वह उ8
$ाती +ि Fि सािे OंO,ो से (ू , $ाती4 Fस समय बह

5ा दोिो बहिे कहीं
स7ि कििे $ाया किती !ीं4 बZXी <ाली ि होती, तो ब;ीचे मे ही ,हला
कितीं, FसिलD क9 :ा उसे <ो$ती %#िती !ी, $ब कहीं ि पाया, तो (त पि
0" +ि उसे दे <ते ही हं सकि बोली-तुम यहां 0कि ि(पी ब7 BC हो +ि मE
तु-हे Sूं Sती %#िती ह

ं 4 चलो, बZXी त7याि किा 0यी ह

ं 4
ििमलम ा- िे उदासीि भाव से कहा-तू $ा, मE ि $ाWं ;ी4
क9 :ा-िहीं मेिी &'(C दीदी, 0$ $Uि चलो4 दे <ो, क7 सी B[Hी-B[Hी
हवा चल िही ह7 4
ििमलम ा-मेिा मि िहीं चाहता, तू चली $ा4
क9 :ा की 0ं<े HबHबा 0"4 कांपती ह

" 0वा$ से बोली- 0$ तुम
Nयो िहीं चलतीं मुOसे Nयो िहीं बोलतीं Nयो F5ि-उ5ि ि(पी-ि(पी %#िती
हो? मेिा $ी &के ले ब7Bे -ब7Bे Xब8ाता ह7 4 तुम ि चलो;ी, तो मE भी ि $ाW;ी4
यहीं तु-हािे सा! ब7BC िह

ं ;ी4
ििमलम ा-+ि $ब मE चली $ाWं ;ी तब Nया किे ;ी? तब %कसके सा!
<ेले;ी +ि %कसके सा! Xूमिे $ाये;ी, बता?
3
क9 :ा-मE भी तु-हािे सा! चलूं;ी4 &के ले मुOसे यहां ि िहा $ाये;ा4
ििमलम ा मु=किाकि बोली-तुOे &-मा ि $ािे दे ;ी4
क9 :ा-तो मE भी तु-हे ि $ािे दं;ू ी4 तुम &-मा से कह Nयो िहीं दे ती %क
मE ि $ाउं ;ी4
ििमलम ा- कह तो िही ह

ं , को" सुिता ह7 !
क9 :ा-तो Nया यह तु-हािा Xि िहीं ह7 ?
ििमलम ा-िहीं, मेिा Xि होता, तो को" Nयो $बदम =ती ििकाल दे ता?
क9 :ा-Fसी तिह %कसी %दि मE भी ििकाल दी $ाWं ;ी?
ििमलम ा-+ि िहीं Nया तू ब7BC िहे ;ी! हम ल8%कयां हE , हमािा Xि कहीं
िहीं होता4
क9 :ा-च*दि भी ििकाल %दया $ाये;ा?
ििमलम ा-च*दि तो ल8का ह7 , उसे कGि ििकाले;ा?
क9 :ा-तो ल8%कयां बह

त <िाब होती हो;ी?
ििमलम ा-<िाब ि होतीं, तो Xि से भ;ा" Nयो $ाती?
क9 :ा-च*दि Fतिा बदमा? ह7 , उसे को" िहीं भ;ाता4 हम-तुम तो
को" बदमा?ी भी िहीं कितीं4
DकाDक च*दि 5म-5म किता ह

0 (त पि 0 पह

ं चा +ि ििमलम ा
को दे <कि बोला-&'(ा 0प यहां ब7BC हE 4 6हो! &ब तो बा$े ब$े;े, दीदी
दVु हि बिे;ी, पालकी पि च\े ;ी, 6हो! 6हो!
च*दि का पूिा िाम च*.भािु िस*हा !ा4 ििमलम ा से तीि साल (ो,ा
+ि क9 :ा से दो साल ब8ा4
ििमलम ा-च*दि, मुOे िच\ा6;े तो &भी $ाकि &-मा से कह दं;ू ी4
च*.-तो िच\ती Nयो हो तुम भी बा$े सुििा4 6 हो-हो! &ब 0प
दVु हि बिे;ी4 Nयो %क?िी, तू बा$े सुिे;ी ि व7से बा$े तूिे कभी ि सुिे
हो;े4
क9 :ा-Nया ब7[H से भी &'(े हो;े?
च*.-हां-हां, ब7[H से भी &'(े , ह$ाि ;ु िे &'(े , ला< ;ुिे &'(े 4 तुम
$ािो Nया Dक ब7[H सुि िलया, तो समOिे ल;ीं %क उससे &'(े बा$े िहीं
होते4 बा$े ब$ािेवाले लाल-लाल व%दम यां +ि काली-काली ,ो>पयां पहिे हो;े4
Jसे <बूसूित मालूम हो;े %क तुमसे Nया कह

ं 0ित?बा/$यां भी हो;ी,
4
हवाFयां 0समाि मे उ8 $ाये;ी +ि वहां तािो मे ल;े;ी तो लाल, पीले, हिे ,
िीले तािे ,ू,-,ू,कि ि;िे ;े4 ब8ा ब$ा 0ये;ा4
क9 :ा-+ि Nया-Nया हो;ा च*दि, बता दे मेिे भ7या?
च*.-मेिे सा! Xूमिे चल, तो िा=ते मे सािी बाते बता दं4ू Jसे -Jसे
तमा?े हो;े %क दे <कि तेिी 0ं<े <ुल $ाये;ी4 हवा मे उ8ती ह

" पिियां
हो;ी, सचमु च की पिियां4
क9 :ा-&'(ा चलो, ले%कि ि बता6;े, तो माUं ;ी4
च*.भािू +ि क9 :ा चले ;D, पि ििमलम ा &के ली ब7 BC िह ;"4
क9 :ा के चले $ािे से Fस समय उसे ब8ा ]ोभ ह

04 क9 :ा, /$से वह
पाो से भी &ि5क ^याि किती !ी, 0$ Fतिी ििBु ि हो ;"4 &के ली
(ो8कि चली ;"4 बात को" ि !ी, ले%कि दु:<ी Tदय द<ु ती ह

" 0ं< ह7 ,
/$समे हवा से भी पी8ा होती ह7 4 ििमलम ा ब8ी दे ि तक ब7BC िोती िही4 भा"-
बहि, माता->पता, सभी Fसी भांित मुOे भूल $ाये;े , सबकी 0ं<े %#ि $ाये;ी,
%#ि ?ायद F*हे दे <िे को भी तिस $ाWं 4
बा; मे #ू ल /<ले ह

D !े4 मीBC-मीBC सु;*5 0 िही !ी4 च7त की
?ीतल म*द समीि चल िही !ी4 0का? मे तािे ि(,के ह

D !े4 ििमलम ा
F*हीं ?ोकमय >वचािो मे प8ी-प8ी सो ;" +ि 0ं< ल;ते ही उसका मि
=व^ि-दे ? मे, >वचििे ल;ा4 Nया दे <ती ह7 %क सामिे Dक िदी लहिे माि
िही ह7 +ि वह िदी के %किािे िाव की बाB दे < िही ह7 4 स*Yया का समय
ह7 4 &ं 5ेिा %कसी भयं कि $*तु की भांित ब\ता चला 0ता ह7 4 वह Xोि
िच*ता मे प8ी ह

" ह7 %क क7 से यह िदी पाि हो;ी, क7 से पह

ं चूं ;ी! िो िही ह7 %क
कहीं िात ि हो $ाये, िहीं तो मE &के ली यहां क7 से िह

ं ;ी4 DकाDक उसे Dक
सु*दि िGका Xा, की 6ि 0ती %द<ा" दे ती ह7 4 वह <ु ?ी से उ(ल प8ती ह7
+ि Kयोही िाव Xा, पि 0ती ह7 , वह उस पि च\िे के िलD ब\ती ह7 ,
ले%कि Kयोही िाव के प,िे पि प7ि ि<िा चाहती ह7 , उसका मVलाह बोल
उBता ह7 -तेिे िलD यहां $;ह िहीं ह7 ! वह मVलाह की <ु?ामद किती ह7 ,
उसके प7िो प8ती ह7 , िोती ह7 , ले%कि वह यह कहे $ाता ह7 , तेिे िलD यहां $;ह
िहीं ह7 4 Dक ] मे िाव <ुल $ाती ह7 4 वह िचVला-िचVलाकि िोिे ल;ती
ह7 4 िदी के िि$िम त, पि िात भि क7 से िहे ;ी, यह सोच वह िदी मे कू द
कि उस िाव को पक8िा चाहती ह7 %क Fतिे मे कहीं से 0वा$ 0ती ह7 -
Bहिो, Bहिो, िदी ;हिी ह7 , Hूब $ा6;ी4 वह िाव तु-हािे िलD िहीं ह7 , मE
5
0ता ह

ं , मेिी िाव मे ब7 B $ा64 मE उस पाि पह

ं चा दं;ू ा4 वह भयभीत होकि
F5ि-उ5ि दे <ती ह7 %क यह 0वा$ कहां से 0"? !ो8ी दे ि के बाद Dक
(ो,ी-सी Hो;ी 0ती %द<ा" दे ती ह7 4 उसमे ि पाल ह7 , ि पतवाि +ि ि
म=तूल4 पेदा #,ा ह

0 ह7 , त_ते ,ू,े ह

D, िाव मे पािी भिा ह

0 ह7 +ि Dक
0दमी उसमे से पािी उलीच िहा ह7 4 वह उससे कहती ह7 , यह तो ,ू,ी ह

" ह7 ,
यह क7 से पाि ल;े;ी? मVलाह कहता ह7 - तु-हािे िलD यही भे$ी ;" ह7 , 0कि
ब7B $ा6! वह Dक ] सोचती ह7 - Fसमे ब7Bूं या ि ब7 Bूं ? &*त मे वह
िि`य किती ह7 - ब7B $ाWं 4 यहां &के ली प8ी िहिे से िाव मे ब7 B $ािा %#ि
भी &'(ा ह7 4 %कसी भयंकि $*तु के पे, मे $ािे से तो यही &'(ा ह7 %क
िदी मे Hूब $ाWं 4 कGि $ािे, िाव पाि पह

ं च ही $ाये4 यह सोचकि वह
पाो की मुaBC मे िलD ह

D िाव पि ब7 B $ाती ह7 4 कु ( दे ि तक िाव
H;म;ाती ह

" चलती ह7 , ले%कि पित] उसमे पािी भिता $ाता ह7 4 वह भी
मVलाह के सा! दोिो हा!ो से पािी उलीचिे ल;ती ह7 4 यहां तक %क उिके
हा! िह $ाते हE , पि पािी ब\ता ही चला $ाता ह7 , 0/<ि िाव चNकि <ािे
ल;ती ह7 , मालूम होती ह7 - &ब Hूबी, &ब Hूबी4 तब वह %कसी &bcय सहािे के
िलD दोिो हा! #7 लाती ह7 , िाव िीचे $ाती ह7 +ि उसके प7 ि उ<8 $ाते हE 4
वह $ोि से िचVला" +ि िचVलाते ही उसकी 0ं <े <ुल ;"4 दे <ा, तो माता
सामिे <8ी उसका क*5ा पक8कि %हला िही !ी4
दो
बू उदयभािुलाल का मकाि बा$ाि बिा ह

0 ह7 4 बिामदे मे सुिाि
के ह!G8े +ि कमिे मे द$d की सु"यां चल िही हE 4 सामिे िीम
के िीचे ब\" चािपाFयां बिा िहा ह7 4 <पि7 ल मे हलवा" के िलD भaBा <ोदा
;या ह7 4 मेहमािो के िलD &ल; Dक मकाि BCक %कया ;या ह7 4 यह पब*5
%कया $ा िहा ह7 %क हिे क मेहमाि के िलD Dक-Dक चािपा", Dक-Dक कु सd
+ि Dक-Dक मे$ हो4 हि तीि मेहमािो के िलD Dक-Dक कहाि ि<िे की
त$वी$ हो िही ह7 4 &भी बािात 0िे मे Dक महीिे की दे ि ह7 , ले%कि
त7यािियां &भी से हो िही हE 4 बािाितयो का Jसा सPकाि %कया $ाये %क
%कसी को $बाि %हलािे का मGका ि िमले4 वे लो; भी याद किे %क %कसी
के यहां बािात मे ;ये !े4 पूिा मकाि बतिम ो से भिा ह

0 ह7 4 चाय के से,
बा
6
हE , िाcते की तcतिियां, !ाल, लो,े , ि;लास4 $ो लो; ििPय <ा, पि प8े


Nका पीते िहते !े, ब8ी तPपिता से काम मे ल;े ह

D हE 4 &पिी उपयोि;ता
िसe कििे का Jसा &'(ा &वसि उ*हे %#ि बह

त %दिो के बाद िमले;ा4
$हां Dक 0दमी को $ािा होता ह7 , पांच दG8ते हE 4 काम कम होता ह7 , ह

Vल8
&ि5क4 $िा-$िा सी बात पि X[,ो तकम ->वतकम होता ह7 +ि &*त मे
वकील साहब को 0कि िियम कििा प8ता ह7 4 Dक कहता ह7 , यह Xी <िाब
ह7 , दसू िा कहता ह7 , Fससे &'(ा बा$ाि मे िमल $ाये तो ,ां; की िाह से
ििकल $ाWं 4 तीसिा कहता ह7 , Fसमे तो हीक 0ती ह7 4 चG!ा कहता ह7 ,
तु-हािी िाक ही स8 ;" ह7 , तुम Nया $ािो Xी %कसे कहते हE 4 $ब से यहां
0ये हो, Xी िमलिे ल;ा ह7 , िहीं तो Xी के द?िम भी ि होते !े! Fस पि
तकिाि ब\ $ाती ह7 +ि वकील साहब को O;8ा चुकािा प8ता ह7 4
िात के िG ब$े !े4 उदयभािुलाल &*दि ब7Bे ह

D <च म का त<मीिा
ल;ा िहे !े4 वह पाय: िो$ ही त<मीिा ल;ते !े पि िो$ ही उसमे कु (-ि-
कु ( पििवतिम +ि पििव5िम कििा प8ता !ा4 सामिे कVयाी भfहे िसको8े


D <8ी !ी4 बाबू साहब िे ब8ी दे ि के बाद िसि उBाया +ि बोले -दस ह$ाि
से कम िहीं होता, ब/Vक ?ायद +ि ब\ $ाये4
कVयाी-दस %दि मे पांच से दस ह$ाि ह

D4 Dक महीिे मे तो ?ायद
Dक ला< िGबत 0 $ाये4
उदयभािु-Nया कUं , $; हं सा" भी तो &'(C िहीं ल;ती4 को"
ि?कायत ह

" तो लो; कहे ;े , िाम ब8े द?िम !ो8े 4 %#ि $ब वह मुOसे दहे $
Dक पा" िहीं लेते तो मेिा भी कत3म य ह7 %क मेहमािो के 0दि-सPकाि मे
को" बात उBा ि ि<ूं4
कVयाी- $ब से ghा िे स>9 i िची, तब से 0$ तक कभी बािाितयो
को को" पस*ि िहीं ि< सकता4 उ*हे दो@ ििकालिे +ि िि*दा कििे का
को"-ि-को" &वसि िमल ही $ाता ह7 4 /$से &पिे Xि सू<ी िो%,यां भी
मय=सि िहीं वह भी बािात मे $ाकि तािा?ाह बि ब7Bता ह7 4 तेल <ु?बूदाि
िहीं, साबुि ,के सेि का $ािे कहां से ब,ोि लाये, कहाि बात िहीं सुिते,
लाल,े िे 5ु0ं दे ती हE , कु िसयम ो मे <,मल ह7 , चािपाFयां Sीली हE , $िवासे की
$;ह हवादाि िहीं4 Jसी-Jसी ह$ािो ि?कायते होती िहती हE 4 उ*हे 0प
कहां तक िो%कये;ा? &;ि यह मGका ि िमला, तो +ि को" Jब ििकाल िलये
$ाये;े4 भ", यह तेल तो िं %Hयो के ल;ािे लायक ह7 , हमे तो सादा तेल
7
चा%हD4 $िाब िे यह साबुि िहीं भे$ा ह7 , &पिी &मीिी की ?ाि %द<ा" ह7 ,
मािो हमिे साबुि दे <ा ही िहीं4 ये कहाि िहीं यमदतू हE , $ब दे /<ये िसि
पि सवाि! लाल,े िे Jसी भे$ी हE %क 0ं<े चमकिे ल;ती हE , &;ि दस-पांच
%दि Fस िो?िी मे ब7Bिा प8े तो 0ं<े #ू , $ाDं4 $िवासा Nया ह7 , &भा;े
का भाZय ह7 , /$स पि चािो ति# से Oोके 0ते िहते हE 4 मE तो %#ि यही
कह

ं ;ी %क बािितयो के ि<िो का >वचाि ही (ो8 दो4
उदयभािु- तो 0/<ि तुम मुOे Nया कििे को कहती हो?
कVयाी-कह तो िही ह

ं , पNका Fिादा कि लो %क मE पांच ह$ाि से
&ि5क ि <च म कUं ;ा4 Xि मे तो ,का ह7 िहीं, क$ म ही का भिोसा Bहिा, तो
Fतिा क$ म Nयो ले %क /$*द;ी मे &दा ि हो4 0/<ि मेिे +ि ब'चे भी
तो हE , उिके िलD भी तो कु ( चा%हD4
उदयभािु- तो 0$ मE मिा $ाता ह

ं ?
कVयाी- $ीिे-मििे का हाल को" िहीं $ािता4
कVयाी- Fसमे >ब;8िे की तो को" बात िहीं4 मििा Dक %दि सभी
को ह7 4 को" यहां &मि होकि !ो8े ही 0या ह7 4 0ं<े ब*द कि लेिे से तो
होिे-वाली बात ि ,ले;ी4 िो$ 0ं <ो दे <ती ह

ं , बाप का दे हा*त हो $ाता ह7 ,
उसके ब'चे ;ली-;ली Bोकिे <ाते %#िते हE 4 0दमी Jसा काम ही Nयो किे ?
उदयभािु ि $लकि कहा- $ो &ब समO लूं %क मेिे मििे के %दि
ििक, 0 ;ये, यही तु-हािी भ>व:यवाी ह7 ! सुहा; से /jयो का $ी Wबते
िहीं सुिा !ा, 0$ यह ि" बात मालूम ह

"4 िं Hापे मे भी को" सु< हो;ा
ही!
कVयाी-तुमसे दिु िया की को" भी बात कही $ाती ह7 , तो $हि
उ;लिे ल;ते हो4 FसिलD ि %क $ािते हो, Fसे कहीं %,किा िहीं ह7 , मेिी ही
िो%,यो पि प8ी ह

" ह7 या +ि कु (! $हां को" बात कही, बस िसि हो ;ये,
मािो मE Xि की लfHी ह

ं , मेिा के वल िो,ी +ि कप8े का िाता ह7 4 /$तिा ही
मE दबती ह

ं , तुम +ि भी दबाते हो4 मुkत<ोि माल उ8ाये, को" मुंह ि <ोले,
?िाब-कबाब मे Uपये लु,े , को" $बाि ि %हलाये4 वे सािे कां,े मेिे ब'चो ही
के िलD तो बोये $ा िहे ह7 4
उदयभािु लाल- तो मE Nया तु-हािा ;ुलाम ह

ं ?
कVयाी- तो Nया मE तु-हािी लfHी ह

ं ?
उदयभािु लाल- Jसे मदम +ि हो;े, $ो +ितो के F?ािो पि िाचते हE 4
8
कVयाी- तो Jसी /jयो भी हो;ी, $ो मदl की $ूितयां सहा किती हE 4
उदयभािु लाल- मE कमाकि लाता ह

ं , $7 से चाह

ं <च म कि सकता ह

ं 4
%कसी को बोलिे का &ि5काि िहीं4
कVयाी- तो 0प &पिा Xि संभिलये! Jसे Xि को मेिा दिू ही से
सलाम ह7 , $हां मेिी को" पू ( िहीं Xि मे तु-हािा /$तिा &ि5काि ह7 , उतिा
ही मेिा भी4 Fससे $G भि भी कम िहीं4 &;ि तुम &पिे मि के िा$ा हो,
तो मE भी &पिे मि को िािी ह

ं 4 तु-हािा Xि तु-हे मुबािक िहे , मेिे िलD
पे, की िो%,यो की कमी िहीं ह7 4 तु-हािे ब'चे हE , मािो या /$ला64 ि
0ं<ो से दे <ूं ;ी, ि पी8ा हो;ी4 0ं<े #ू ,ीं, पीि ;"!
उदयभािु- Nया तुम समOती हो %क तुम ि संभाले;ी तो मेिा Xि ही
ि संभले;ा? मE &के ले Jसे-Jसे दस Xि संभाल सकता ह

ं 4
कVयाी-कGि? &;ि m0$ के महीिे %दि िमa,ी मे ि िमल $ाये, तो
कहिा को" कहती !ी!
यह कहते-कहते कVयाी का चेहिा तमतमा उBा, वह Oमककि उBC
+ि कमिे के Iाि की 6ि चली4 वकील साहब मुकदमे मे तो <ूब मीि-मे<
ििकालते !े, ले%कि /jयो के =वभाव का उ*हे कु ( यो ही-सा Rाि !ा4 यही
Dक Jसी >वnा ह7 , /$समे 0दमी बू \ा होिे पि भी कोिा िह $ाता ह7 4 &;ि
वे &ब भी ििम प8 $ाते +ि कVयाी का हा! पक8कि >बBा लेते , तो
?ायद वह Uक $ाती, ले%कि 0पसे यह तो हो ि सका, उV,े चलते-चलते
Dक +ि चिका %दया4
बोल-म7के का Xम[H हो;ा?
कVयाी िे Iािा पि Uक कि पित की 6ि लाल-लाल िेMो से दे <ा
+ि >ब#िकि बोल- म7के वाले मेिे तकदीि के सा!ी िहीं ह7 +ि ि मE Fतिी
िीच ह

ं %क उिकी िो%,यो पि $ा पHूं 4
उदयभािु-तब कहां $ा िही हो?
कVयाी-तुम यह पू (िे वाले कGि होते हो? "Qि की स>9 i मे &सं_य
पा>पयो के िलD $;ह ह7 , Nया मेिे ही िलD $;ह िहीं ह7 ?
यह कहकि कVयाी कमिे के बाहि ििकल ;"4 0ं ;ि मे 0कि
उसिे Dक बाि 0का? की 6ि दे <ा, मािो तािा; को सा]ी दे िही ह7 %क
मE Fस Xि मे %कतिी ििदम यता से ििकाली $ा िही ह

ं 4 िात के Zयािह ब$
;ये !े4 Xि मे स*िा,ा (ा ;या !ा, दोिो बे,ो की चािपा" उसी के कमिे मे
9
िहती !ी4 वह &पिे कमिे मे 0", दे <ा च*.भािु सोया ह7 , सबसे (ो,ा
सूयभम ािु चािपा" पि उB ब7Bा ह7 4 माता को दे <ते ही वह बोला-तुम तहां द"
तीं &-मां?
कVयाी दिू ही से <8े -<8े बोली- कहीं तो िहीं बे,ा, तु-हािे बाबू$ी के
पास ;" !ी4
सूयम-तुम तली द", मु5े &तेले दि लदता !ा4 तुम Nयो तली द" तीं ,
बता6?
यह कहकि ब'चे िे ;ोद मे च\िे के िलD दोिो हा! #7 ला %दये4
कVयाी &ब &पिे को ि िोक सकी4 मात9 -=िेह के सु5ा-पवाह से उसका
संतo Tदय पिि^ला>वत हो ;या4 Tदय के कोमल पG5े , $ो pो5 के ताप से
मुिOा ;ये !े, %#ि हिे हो ;ये4 0ं <े स$ल हो ;"4 उसिे ब'चे को ;ोद
मे उBा िलया +ि (ाती से ल;ाकि बोली-तुमिे पु काि Nयो ि िलया, बे,ा?
सूयम-पुतालता तो ता, तुम !ु िती ि तीं, बता6 &ब तो कबी ि
दा6;ी4
कVयाी-िहीं भ7या, &ब िहीं $ाWं ;ी4
यह कहकि कVयाी सूयभम ािु को लेकि चािपा" पि ले,ी4 मां के Tदय
से िलप,ते ही बालक िि:?ंक होकि सो ;या, कVयाी के मि मे सं कVप-
>वकVप होिे ल;े, पित की बाते याद 0तीं तो मि होता-Xि को ितलां$िल
दे कि चली $ाWं , ले%कि ब'चो का मुंह दे <ती, तो वासVय से िच2 ;.;. हो
$ाता4 ब'चो को %कस पि (ो8कि $ाWं ? मेिे Fि लालो को कGि पाले;ा, ये
%कसके होकि िहे ;े? कGि पात:काल F*हे द5ू +ि हलवा /<लाये;ा, कGि
Fिकी िींद सोये;ा, Fिकी िींद $ा;े;ा? बेचािे कG8ी के तीि हो $ाये;े4 िहीं
^यािो, मE तु-हे (ो8कि िहीं $ाWं ;ी4 तु-हािे िलD सब कु ( सह लूं;ी4
िििादि-&पमाि, $ली-क,ी, <ो,ी-<िी, Xु 8की-/O8की सब तु-हािे िलD सह

ं ;ी4
कVयाी तो ब'चे को लेकि ले,ी, पि बाबू साहब को िींद ि 0"
उ*हे चो, कििेवाली बाते ब8ी मु/cकल से भूलती !ी4 उ#, यह िम$ा$!
मािो मE ही Fिकी jी ह

ं 4 बात मुंह से ििकालिी मु /cकल ह7 4 &ब मE Fिका
;ुलाम होकि िह

ं 4 Xि मे &के ली यह िहे +ि बाकी /$तिे &पिे बे;ािे हE ,
सब ििकाल %दये $ाये4 $ला किती हE 4 मिाती हE %क यह %कसी तिह मिे ,
तो मE &के ली 0िाम कUं 4 %दल की बात मुंह से ििकल ही 0ती ह7 , चाहे
को" %कतिा ही ि(पाये4 क" %दि से दे < िहा ह

ं Jसी ही $ली-क,ी सुिाया
10
किती हE 4 म7के का Xम[H हो;ा, ले%कि वहां को" भी ि पू (े ;ा, &भी सब
0वभ;त किते हE 4 $ब $ाकि िसि प8 $ाये;ी तो 0,े -दाल का भाव
मालूम हो $ाये;ा4 िोती ह

" $ाये;ी4 वाह िे Xम[H! सोचती हE -मE ही यह
;ह9 =!ी चलाती ह

ं 4 &भी चाि %दि को कहीं चला $ाWं , तो मालूम हो
$ाये;ा, सािी ?े<ी %कि%किी हो $ाये;ा4 Dक बाि Fिका Xम[H तो8 ही दं4ू
$िा व7 53य का म$ा भी च<ा दं4ू ि $ािे Fिकी %ह-मत क7 से प8ती ह7 %क
मुOे यो कोसिे ल;त हE 4 मालूम होता ह7 , पेम F*हे (ू िहीं ;या या समOती
हE , यह Xि से Fतिा िचम,ा ह

0 ह7 %क Fसे चाहे /$तिा कोसूं, ,लिे का
िाम ि ले;ा4 यही बात ह7 , पि यहां संसाि से िचम,िेवाले $ीव िहीं हE !
$ह*िुम मे $ाये यह Xि, $हां Jसे पा/यो से पाला प8े 4 Xि ह7 या ििक?
0दमी बाहि से !का-मांदा 0ता ह7 , तो उसे Xि मे 0िाम िमलता ह7 4 यहां
0िाम के बदले कोसिे सुििे प8ते हE 4 मेिी मP9 यु के िलD qत ि<े $ाते हE 4
यह ह7 पचीस व@ म के दा-पPय $ीवि का &*त! बस, चल ही दं4ू $ब दे <
लूं;ा Fिका सािा Xम[H 5ूल मे िमल ;या +ि िम$ा$ B[Hा हो ;या, तो
लG, 0Wं ;ा4 चाि-पांच %दि का#ी हो;े4 लो, तुम भी याद किो;ी %कसी से
पाला प8ा !ा4
यही सोचते ह

D बाबू साहब उBे , िे ?मी चादि ;ले मे Hाली, कु ( Uपये
िलये, &पिा काHम ििकालकि दसू िे कु त r की $ेब मे ि<ा, (8ी उBा" +ि
चुपके से बाहि ििकले4 सब िGकि िींद मे म=त !े4 कु 2ा 0ह, पाकि चfक
प8ा +ि उिके सा! हो िलया4
पि यह कGि $ािता !ा %क यह सािी लीला >वि5 के हा!ो िची $ा
िही ह7 4 $ीवि-िं ;?ाला का वह ििदम य सूM5ाि %कसी &;म ;ुo =!ाि पि
ब7Bा ह

0 &पिी $%,ल pू ि pी8ा %द<ा िहा ह7 4 यह कGि $ािता !ा %क
िकल &सल होिे $ा िही ह7 , &िभिय सPय का Uप sह कििे वाला ह7 4
िि?ा िे F*द ू को पिा=त किके &पिा साtाKय =!ा>पत कि िलया
!ा4 उसकी प7?ािचक सेिा िे पक9 ित पि 0तं क $मा ि<ा !ा4 स.व>9 2यां
मुंह ि(पाये प8ी !ीं +ि कु व>9 2यां >व$य-;व म से FBलाती %#िती !ीं4 वि मे
व*य$*तु ि?काि की <ो$ मे >वचाि िहे !े +ि ि;िो मे िि->प?ाच
;िलयो मे मं Hिाते %#िते !े4
बाबू उदयभािुलाल लपके ह

D ;ं ;ा की 6ि चले $ा िहे !े4 उ*होिे
&पिा कु 2ा म Xा, के %किािे ि<कि पांच %दि के िलD िम$ापम ु ि चले $ािे का
11
िि`य %कया !ा4 उिके कप8े दे <कि लो;ो को Hूब $ािे का >वQास हो
$ाये;ा, काHम कु त r की $ेब मे !ा4 पता ल;ािे मे को" %दNकत ि हो सकती
!ी4 दम-के -दम मे सािे ?हि मे <बि म?ह

ि हो $ाये;ी4 0B ब$ते-ब$ते
तो मेिे Iाि पि सािा ?हि $मा हो $ाये;ा, तब दे <ूं, दे वी $ी Nया किती हE ?
यही सोचते ह

D बाबू साहब ;िलयो मे चले $ा िहे !े , सहसा उ*हे
&पिे पी(े %कसी दसू िे 0दमी के 0िे की 0ह, िमली, समOे को" हो;ा4
0;े ब\े , ले%कि /$स ;ली मे वह मु8ते उसी ति# यह 0दमी भी मु8ता
!ा4 तब बाबू साहब को 0?ं का ह

" %क यह 0दमी मेिा पी(ा कि िहा ह7 4
Jसा 0भास ह

0 %क Fसकी िीयत सा# िहीं ह7 4 उ*होिे तु ि*त $ेबी
लाल,े ि ििकाली +ि उसके पका? मे उस 0दमी को दे <ा4 Dक बिि:L
मिु:य क*5े पि लाBC ि<े चला 0ता !ा4 बाबू साहब उसे दे <ते ही चfक
प8े 4 यह ?हि का (,ा ह

0 बदमा? !ा4 तीि साल पहले उस पि Hाके का
&िभयो; चला !ा4 उदयभािु िे उस मुकदमे मे सिकाि की 6ि से प7िवी
की !ी +ि Fस बदमा? को तीि साल की स$ा %दला" !ी4 सभी से वह
Fिके <ूि का ^यासा हो िहा !ा4 कल ही वह (ू ,कि 0या !ा4 0$ द7 वातu
साहब &के ले िात को %द<ा" %दये, तो उसिे सोचा यह Fिसे दाव चु कािे का
&'(ा मGका ह7 4 Jसा मGका ?ायद ही %#ि कभी िमले4 तु ि*त पी(े हो िलया
+ि वाि कििे की Xात ही मे !ा %क बाबू साहब िे $ेबी लाल,े ि $ला"4
बदमा? $िा %BBककि बोला-Nयो बाबू$ी पहचािते हो? मE ह

ं मत"4
बाबू साहब िे Hप,कि कहा- तुम मेिे >प(े ->प(े Nयो 0िहे हो?
मत"- Nयो, %कसी को िा=ता चलिे की मिाही ह7 ? यह ;ली तु-हािे बाप
की ह7 ?
बाबू साहब $वािी मे कु cती ल8े !े, &ब भी Ti-पुi 0दमी !े4 %दल
के भी क'चे ि !े4 (8ी संभालकि बोले-&भी ?ायद मि िहीं भिा4 &बकी
सात साल को $ा6;े4
मत"-मE सात साल को $ाWं ;ा या चGदह साल को, पि तु-हे /$vा ि
(ोHूं ;ा4 हां, &;ि तुम मेिे प7िो पि ि;िकि कसम <ा6 %क &ब %कसी को
स$ा ि किाWं ;ा, तो (ो8 दं4ू बोलो मं$ूि ह7 ?
उदयभािु-तेिी ?ामत तो िहीं 0"?
मत"-?ामत मेिी िहीं 0", तु-हािी 0" ह7 4 बोलो <ाते हो कसम-Dक!
उदयभािु-तुम ह,ते हो %क मE पुिलसम7ि को बुलाWं 4
12
मत"-दो!
उदयभािु-(;ि$कि) ह, $ा बाद?ाह, सामिे से!
मत"-तीि!
मुंह से mतीिw ?Aद ििकालते ही बाबू साहब के िसि पि लाBC का Jसा
तुला हा! प8ा %क वह &चेत होकि $मीि पि ि;ि प8े 4 मुं ह से के वल
Fतिा ही ििकला-हाय! माि Hाला!
मत" िे समीप 0कि दे <ा, तो िसि #, ;या !ा +ि <ूि की Xाि
ििकल िही !ी4 िा8ी का कहीं पता ि !ा4 समO ;या %क काम तमाम हो
;या4 उसिे कला" से सोिे की X8ी <ोल ली, कु त r से सोिे के ब,ि ििकाल
िलये, उं ;ली से &ं ;ू BC उतािी +ि &पिी िाह चला ;या, मािो कु ( ह

0 ही
िहीं4 हां , Fतिी दया की %क ला? िा=ते से Xसी,कि %किािे Hाल दी4 हाय,
बेचािे Nया सोचकि चले !े, Nया हो ;या! $ीवि, तुमसे Kयादा &साि भी
दिु िया मे को" व=तु ह7 ? Nया वह उस दीपक की भांित ही ]भं;ु ि िहीं ह7 ,
$ो हवा के Dक Oोके से बुO $ाता ह7 ! पािी के Dक बुलबुले को दे <ते हो,
ले%कि उसे ,ू,ते भी कु ( दे ि ल;ती ह7 , $ीवि मे उतिा साि भी िहीं4 सांस
का भिोसा ही Nया +ि Fसी िQिता पि हम &िभला@ा6ं के %कतिे >व?ाल
भवि बिाते हE ! िहीं $ािते, िीचे $ािेवाली सांस Wपि 0ये;ी या िहीं , पि
सोचते Fतिी दिू की हE , मािो हम &मि हE 4
तीि
वाह का >वलाप +ि &िा!ो का िोिा सुिाकि हम पाBको का %दल
ि द<ु ाये;े4 /$सके Wपि प8ती ह7 , वह िोता ह7 , >वलाप किता ह7 ,
प(ा8े <ाता ह7 4 यह को" ियी बात िहीं4 हां, &;ि 0प चाहे तो कVयाी
की उस Xोि माििसक यातिा का &िुमाि कि सकते हE , $ो उसे Fस >वचाि
से हो िही !ी %क मE ही &पिे पाा5ाि की Xाितका ह

ं 4 वे वाNय $ो pो5
के 0वे? मे उसके &संयत मु< से ििकले !े , &ब उसके Tदय को वाो की
भांित (े द िहे !े4 &;ि पित िे उसकी ;ोद मे किाह-किाहकि पा-Pया;
%दD होते, तो उसे संतो@ होता %क मEिे उिके पित &पिे कत3म य का पालि
%कया4 ?ोकाकु ल Tदय को Fससे Kयादा सा*Pविा +ि %कसी बात से िहीं
होती4 उसे Fस >वचाि से %कतिा संतो@ होता %क मेिे =वामी मुOसे पस*ि
>व
13
;ये, &/*तम समय तक उिके Tदय मे मेिा पेम बिा िहा4 कVयाी को यह
स*तो@ ि !ा4 वह सोचती !ी-हा! मेिी पचीस बिस की तप=या िि:#ल हो
;"4 मE &*त समय &पिे पापित के पेम के वंिचत हो ;यी4 &;ि मEिे
उ*हे Jसे कBोि ?Aद ि कहे होते, तो वह कदा>प िात को Xि से ि $ाते4ि
$ािे उिके मि मे Nया-Nया >वचाि 0ये हो? उिके मिोभावो की कVपिा
किके +ि &पिे &पिा5 को ब\ा-ब\ाकि वह 0Bो पहि कु \ती िहती !ी4
/$ि ब'चो पि वह पा दे ती !ी, &ब उिकी सूित से िच\ती4 F*हीं के
काि मुOे &पिे =वामी से िाि मोल लेिी प8ी4 यही मेिे ?Mु हE 4 $हां
0Bो पहि कचहिी-सी ल;ी िहती !ी, वहां &ब <ाक उ8ती ह7 4 वह मेला ही
उB ;या4 $ब /<लािेवाला ही ि िहा, तो <ािेवाले क7 से प8े िहते4 5ीिे -5ीिे
Dक महीिे के &*दि सभी भां$े-भती$े >बदा हो ;ये4 /$िका दावा !ा %क
हम पािी की $;ह <ू ि बहािेवालो मे हE , वे Jसा सिप, भा;े %क पी(े
%#िकि भी ि दे <ा4 दिु िया ही दसू िी हो ;यी4 /$ि ब'चो को दे <कि ^याि
कििे को $ी चाहता !ा उिके चेहिे पि &ब म/N<यां िभििभिाती !ीं4 ि
$ािे वह कांित कहां चली ;"?
?ोक का 0वे; कम ह

0, तो ििमलम ा के >ववाह की सम=या उप/=!त


"4 कु ( लो;ो की सलाह ह

" %क >ववाह Fस साल िोक %दया $ाये , ले%कि
कVयाी िे कहा- Fतिी त7यिियो के बाद >ववाह को िोक दे िे से सब %कया-
5िा िमa,ी मे िमल $ाये;ा +ि दसू िे साल %#ि यही त7यािियां कििी
प8े ;ी, /$सकी को" 0?ा िहीं4 >ववाह कि ही दे िा &'(ा ह7 4 कु ( लेिा-दे िा
तो ह7 ही िहीं4 बािाितयो के सेवा-सPकाि का का#ी सामाि हो चु का ह7 ,
>वल-ब कििे मे हािि-ही-हािि ह7 4 &तDव महा?य भालच*. को ?क-सूचिा
के सा! यह स*दे ? भी भे$ %दया ;या4 कVयाी िे &पिे पM मे िल<ा-
Fस &िाि!िी पि दया की/$D +ि Hूबती ह

" िाव को पाि ल;ाFये4
=वामी$ी के मि मे ब8ी-ब8ी कामिाDं !ीं, %कं तु "Qि को कु ( +ि ही मं$ू ि
!ा4 &ब मेिी ला$ 0पके हा! ह7 4 क*या 0पकी हो चु की4 मE लो;ो के
सेवा-सPकाि कििे को &पिा सGभाZय समOती ह

ं , ले%कि य%द Fसमे कु (
कमी हो, कु ( Mु%, प8े , तो मेिी द?ा का >वचाि किके ]मा की/$ये;ा4 मुOे
>वQास ह7 %क 0प Fस &िाि!िी की िि*दा ि होिे दे ;े, 0%द4
कVयाी िे यह पM Hाक से ि भे$ा, ब/Vक पु िो%हत से कहा-0पको
कi तो हो;ा, पि 0प =वयं $ाकि यह पM दी/$D +ि मेिी 6ि से बह


14
>विय के सा! क%हये;ा %क /$तिे कम 0दमी 0ये, उतिा ही &'(ा4 यहां
को" पब*5 कििेवाला िहीं ह7 4
पुिो%हत मो,े िाम यह स*दे ? लेकि तीसिे %दि ल<िW $ा पह

ं चे4
संYया का समय !ा4 बाबू भालच*. दीवाि<ािे के सामिे 0िामकु सd
पि िं;-58ं ; ले,े ह

D ह

Nका पी िहे !े4 बह

त ही =!ूल, Wं चे कद के 0दमी
!े4 Jसा मालूम होता !ा %क काला दे व ह7 या को" हA?ी &xीका से
पक8कि 0या ह7 4 िसि से प7ि तक Dक ही िं ; !ा-काला4 चेहिा Fतिा =याह
!ा %क मालूम ि होता !ा %क मा!े का &ंत कहां ह7 िसि का 0ि-भ कहां4
बस, कोयले की Dक स$ीव मूित म !ी4 0पको ;मd बह

त सताती !ी4 दो
0दमी <8े पं <ा Oल िहे !े, उस पि भी पसीिे का ताि बं 5ा ह

0 !ा4 0प
0बकािी के >वभा; मे Dक Wं चे 6हदे पि !े4 पांच सG Uपये वेति िमलता
!ा4 Bे के दािो से <ूब ििQत लेते !े4 Bे के दाि ?िाब के िाम पािी बेचे,
चGबीसो Xं ,े दकु ाि <ुली ि<े, 0पको के वल <ु ? ि<िा का#ी !ा4 सािा
कािूि 0पकी <ु?ी !ी4 Fतिी भयंकि मूित म !ी %क चांदिी िात मे लो;
उ*हे दे < कि सहसा चfक प8ते !े -बालक +ि /jयां ही िहीं, पुU@ तक
सहम $ाते !े4 चांदिी िात FसिलD कहा ;या %क &ं5ेिी िात मे तो उ*हे
को" दे < ही ि सकता !ा-cयामलता &*5काि मे >वलीि हो $ाती !ी4
के वल 0ं<ो का िं ; लाल !ा4 $7 से पNका मुसलमाि पांच बाि िमा$ प\ता
ह7 , व7से ही 0प भी पांच बाि ?िाब पीते !े, मुkत की ?िाब तो का$ी को
हलाल ह7 , %#ि 0प तो ?िाब के &#सि ही !े, /$तिी चाहे >पये, को" हा!
पक8िे वाला ि !ा4 $ब ^यास ल;ती ?िाब पी लेते 4 $7 से कु ( िं ;ो मे
पि=पि सहािुभूित ह7 , उसी तिह कु ( िं ;ो मे पि=पि >विो5 ह7 4 लािलमा के
संयो; से कािलमा +ि भी भयं कि हो $ाती ह7 4
बाबू साहब िे पं%Hत$ी को दे <ते ही कु सd से उBकि कहा-&_<ाह!
0प हE ? 0FD-0FD4 5*य भा;! &िे को" ह7 4 कहां चले ;ये सब-के -सब,
O;Hू, ;ुिदीि, (कG8ी, भवािी, िाम;ुलाम को" ह7 ? Nया सब-के -सब मि ;ये!
चलो िाम;ुलाम, भवािी, (कG8ी, ;ुिदीि, O;8ू4 को" िहीं बोलता, सब मि
;ये! द$िम -भि 0दमी हE , पि मGके पि Dक की भी सूित िहीं ि$ि 0ती, ि
$ािे सब कहां ;ायब हो $ाते हE 4 0पके वा=ते कु सd ला64
बाबू साहब िे ये पांचो िाम क" बाि दहु िाये , ले%कि यह ि ह

0 %क
पं<ा Oलिेवाले दोिो 0दिमयो मे से %कसी को कु सd लािे को भे$ दे ते4
15
तीि-चाि िमि, के बाद Dक कािा 0दमी <ांसता ह

0 0कि बोला-सिकाि,
"तिा की िGकिी हमाि कीि ि हो" ! कहां तक उ5ाि-बा\ी ल7 -ल7 <ा"
मां;त-मां;त !े!ि होय ;येिा4
भाल- बको मत, $ाकि कु सd ला64 $ब को" काम कििे की कहा
;या, तो िोिे ल;ता ह7 4 क%हD प%Hत$ी, वहां सब कु ?ल ह7 ?
मो,े िाम-Nया कु ?ल कह

ं बाबू$ी, &ब कु ?ल कहां? सािा Xि िमa,ी मे
िमल ;या4
Fतिे मे कहाि िे Dक ,ू,ा ह

0 ची8 का स*दकू लाकि ि< %दया
+ि बोला-कसd-मे$ हमािे उBाये िाहीं उBत ह7 4
पं%Hत$ी ?मातम े ह

D Hिते-Hिते उस पि ब7 Bे %क कहीं ,ू, ि $ाये +ि
कVयाी का पM बाबू साहब के हा! मे ि< %दया4
भाल-&ब +ि क7 से िमa,ी मे िमले;ा? Fससे ब8ी +ि कGि >वप>2
प8े ;ी? बाबू उदयभािु लाल से मेिी पुिािी दो=ती !ी4 0दमी िहीं, हीिा !ा!
Nया %दल !ा, Nया %ह-मत !ी, (0ं <े पो(कि) मेिा तो $7 से दा%हिा हा! ही
क, ;या4 >वQास माििD, $बसे यह <बि सुिी ह7 , 0ं<ो मे &ं 5ेिा-सा (ा
;या ह7 4 <ािे ब7Bता ह

ं , तो कGि मुंह मे िहीं $ाता4 उिकी सूित 0ं<ो के
सामिे <8ी िहती ह7 4 मुंह $ू Bा किके उB $ाता ह

ं 4 %कसी काम मे %दल िहीं
ल;ता4 भा" के मििे का िं $ भी Fससे कम ही होता ह7 4 0दमी िहीं , हीिा
!ा!
मो,े - सिकाि, ि;ि मे &ब Jसा को" ि"स िहीं िहा4
भाल- मE <ूब $ािता ह

ं , पं%Hत$ी, 0प मुOसे Nया कहते हE 4 Jसा
0दमी ला<-दो-ला< मे Dक होता ह7 4 /$तिा मE उिको $ािता !ा, उतिा
दसू िा िहीं $ाि सकता4 दो-ही-तीि बाि की मुलाकात मे उिका भy हो ;या
+ि मििे दम तक िह

ं ;ा4 0प समि5ि साहब से कह दी/$D;ा, मुOे %दली
िं $ ह7 4
मो,े -0पसे Jसी ही 0?ा !ी! 0$-$7से सK$िो के द?िम दलु भम हE 4
िहीं तो 0$ कGि >बिा दहे $ के पुM का >ववाह किता ह7 4
भाल-महािा$, दे ह$ की बातचीत Jसे सPयवादी पुU@ो से िहीं की
$ाती4 उिसे स-ब*5 हो $ािा ही ला< Uपये के बिाबि ह7 4 मE Fसी को
&पिा &होभाZय समOता ह

ं 4 हा! %कतिी उदाि 0मPमा !ी4 Uपये को तो
उ*होिे कु ( समOा ही िहीं, ितिके के बिाबि भी पिवाह िहीं की4 बु िा
16
ििवा$ ह7 , बेहद बुिा! मेिा बस चले, तो दहे $ लेिेवालो +ि दहे $ दे िेवालो
दोिो ही को ;ोली माि दं ू , हां साहब, सा# ;ोली माि दं ू, %#ि चाहे #ांसी ही
Nयो ि हो $ाय! पू (ो, 0प ल8के का >ववाह किते हE %क उसे बेचते हE ? &;ि
0पको ल8के के ?ादी मे %दल <ोलकि <च म कििे का &िमाि ह7 , तो ?Gक
के <च म की/$D, ले%कि $ो कु ( की/$D, &पिे बल पि4 यह Nया %क क*या
के >पता का ;ला िे ितD4 िीचता ह7 , Xोि िीचता! मेिा बस चले, तो Fि
पा/$यो को ;ोली माि दं4ू
मो,े - 5*य हो सिकाि! भ;वाि u िे 0पको ब8ी बु >e दी ह7 4 यह 5मम
का पताप ह7 4 माल%कि की F'(ा ह7 %क >ववाह का मुह

त म वही िहे +ि तो
उ*होिे सािी बाते पM मे िल< दी हE 4 बस, &ब 0प ही उबािे तो हम उबि
सकते हE 4 Fस तिह तो बािात मे /$तिे सK$ि 0ये;े , उिकी सेवा-सPकाि
हम किे ;े ही, ले%कि पिि/=!ित &ब बह

त बदल ;यी ह7 सिकाि, को" कििे-
5ििेवाला िहीं ह7 4 बस Jसी बात की/$D %क वकील साहब के िाम पि
बa,ा ि ल;े4
भालच*. Dक िमि, तक 0ं <े ब*द %कये ब7 Bे िहे , %#ि Dक ल-बी
सांस <ींच कि बोले-"Qि को मं$ूि ही ि !ा %क वह ल)मी मेिे Xि 0ती,
िहीं तो Nया यह वz ि;िता? सािे मिसूबे <ाक मे िमल ;ये4 #ू ला ि
समाता !ा %क वह ?ुभ-&वसि ििक, 0 िहा ह7 , पि Nया $ािता !ा %क
"Qि के दिबाि मे कु ( +ि @{य*M िचा $ा िहा ह7 4 मििेवाले की याद ही
Uलािे के िलD का#ी ह7 4 उसे दे <कि तो $_म +ि भी हिा $ो $ाये;ा4
उस द?ा मे ि $ािे Nया कि ब7Bूं 4 Fसे ;ु सम/OD, चाहे दो@ %क /$ससे
Dक बाि मेिी XििLता हो ;यी, %#ि उसकी याद िच2 से िहीं उतिती4 &भी
तो <7ि Fतिा ही ह7 %क उिकी सूित 0ं <ो के सामिे िाचती िहती ह7 ,
ले%कि य%द वह क*या Xि मे 0 ;यी, तब मेिा /$*दा िहिा क%Bि हो
$ाये;ा4 सच माििD, िोते-िोते मेिी 0ं<े #ू , $ाये;ी4 $ािता ह

ं , िोिा-5ोिा
3य! म ह7 4 $ो मि ;या वह लG,कि िहीं 0 सकता4 सg कििे के िसवाय
+ि को" उपाय िहीं ह7 , ले%कि %दल से म$बूि ह

ं 4 उस &िा! बािलका को
दे <कि मेिा कले$ा #, $ाये;ा4
मो,े - Jसा ि क%हD सिकाि! वकील साहब िहीं तो Nया, 0प तो हE 4
&ब 0प ही उसके >पता-तुVय हE 4 वह &ब वकील साहब की क*या िहीं ,
0पकी क*या ह7 4 0पके Tदय के भाव तो को" $ािता िहीं , लो; समOे;े,
17
वकील साहब का दे हा*त हो $ािे के काि 0प &पिे वचि से %#ि ;ये4
Fसमे 0पकी बदिामी ह7 4 िच2 को समOाFD +ि हं स-<ु?ी क*या का
पा/sह किा ली/$D4 हा!ी मिे तो िG ला< का4 ला< >वप>2 प8ी ह7 ,
ले%कि माल%कि 0प लो;ो की सेवा-सPकाि कििे मे को" बात ि उBा
ि<े;ी4
बाबू साहब समO ;ये %क पं %Hत मो,े िाम कोिे पो!ी के ही पं %Hत
िहीं, विि 3यवहाि-िीित मे भी चतुि हE 4 बोले-पं%Hत$ी, हल# से कहता ह

ं ,
मुOे उस ल8की से /$तिा पेम ह7 , उतिा &पिी ल8की से भी िहीं ह7 , ले%कि
$ब "Qि को मं$ूि िहीं ह7 , तो मेिा Nया बस ह7 ? वह मP9 यु Dक पकाि की
&मं;ल सूचिा ह7 , $ो >व5ाता की 6ि से हमे िमली ह7 4 यह %कसी 0िेवाली
मुसीबत की 0का?वाी ह7 >व5ाता =पi िीित से कह िहा ह7 %क यह
>ववाह मं;लमय ि हो;ा4 Jसी द?ा मे 0प ही सोिचये, यह संयो; कहां
तक उिचत ह7 4 0प तो >वIाि 0दमी हE 4 सोिचD, /$स काम का 0ि-भ ही
&मं;ल से हो, उसका &ंत &मं ;लमय हो सकता ह7 ? िहीं, $ािबूOकि मN<ी
िहीं िि;ली $ाती4 समि5ि साहब को समOाकि कह दी/$D;ा, मE उिकी
0Rापालि कििे को त7याि ह

ं , ले%कि Fसका पििाम &'(ा ि हो;ा4 =वा!म
के वं? मे होकि मE &पिे पिम िमM की स*ताि के सा! यह &*याय िहीं
कि सकता4
Fस तकम िे प%Hत$ी को िि|2ि कि %दया4 वादी िे यह तीि (ो8ा
!ा, /$सकी उिके पास को" का, ि !ी4 ?Mु िे उ*हीं के हि!याि से उि
पि वाि %कया !ा +ि वह उसका पितकाि ि कि सकते !े4 वह &भी को"
$वाब सोच ही िहे !े, %क बाबू साहब िे %#ि िGकिो को पुकाििा ?ुU %कया-
&िे , तुम सब %#ि ;ायब हो ;ये - O;Hू, (कG8ी, भवािी, ;ु Uदीि, िाम;ुलाम!
Dक भी िहीं बोलता, सब-के -सब मि ;ये4 पं%Hत$ी के वा=ते पािी-वािी की
%#p ह7 ? िा $ािे Fि सबो को को" कहां तक समOये4 &Nल (ू तक िहीं
;यी4 दे < िहे हE %क Dक महा?य दिू से !के -मांदे चले 0 िहे हE , पि %कसी
को $िा भी पिवाह िहीं4 ला6ं, पािी-वािी ि<ो4 प%Hत$ी, 0पके िलD ?बतम
बिवाWं या #लाहािी िमBा" मं;वा दं4ू
मो,े िाम$ी िमBाFयो के >व@य मे %कसी तिह का ब*5ि ि =वीकाि
किते !े4 उिका िसeा*त !ा %क Xत9 से सभी व=तुDं प>वM हो $ाती हE 4
िस;ुVले +ि बेसि के ल{Hू उ*हे बह

त >पय !े , पि ?बतम से उ*हे |िच ि
18
!ी4 पािी से पे, भििा उिके िियम के >वUe !ा4 सकु चाते ह

D बोले -?बतम
पीिे की तो मुOे 0दत िहीं, िमBा" <ा लूं;ा4
भाल- #लाहािी ि?
मो,े - Fसका मुOे को" >वचाि िहीं4
भाल- ह7 तो यही बात4 (ू त-(ात सब Sकोसला ह7 4 मE =वयं िहीं
मािता4 &िे , &भी तक को" िहीं 0या? (कG8ी, भवािी, ;ु|दीि, िाम;ुलाम,
को" तो बोले!
&बकी भी वही बू \ा कहाि <ांसता ह

0 0कि <8ा हो ;या +ि
बोला-सिकाि, मोि तलब द7 दीि $ाय4 Jसी िGकिी मोसे ि हो"4 कहां लो
दGिी दGित-दGित ;ो8 >पिाय ला;त ह7 4
भाल-काम कु ( किो या ि किो, पि तलब प%हले च%हD! %दि भि प8े -
प8े <ांसा किो, तलब तो तु-हािी च\ िही ह7 4 $ाकि बा$ाि से Dक 0िे की
ता$ी िमBा" ला4 दG8ता ह

0 $ा4
कहाि को यह ह

Nम दे कि बाबू साहब Xि मे ;ये +ि jी से बोले -वहां
से Dक पं %Hत$ी 0ये हE 4 यह <त लाये हE , $िा प\ो तो4
प}ी $ी का िाम िं ;ीलीबा" !ा4 ;ोिे िं ; की पस*ि-मु< म%हला !ीं4
Uप +ि यGवि उिसे >वदा हो िहे !े, पि %कसी पेमी िमM की भांित मचल-
मचल कि तीस साल तक /$सके ;ले से ल;े िहे , उसे (ो8ते ि बिता !ा4
िं ;ीलीबा" ब7BC पाि ल;ा िही !ीं4 बोली-कह %दया ि %क हमे वहां
Aयाह कििा मं$ू ि िहीं4
भाल-हां, कह तो %दया, पि मािे संकोच के मुंह से ?Aद ि ििकलता
!ा4 OूB-मूB का होला कििा प8ता4
िं ;ीली-सा# बात कििे मे संकोच Nया? हमािी F'(ा ह7 , िहीं किते4
%कसी का कु ( िलया तो िहीं ह7 ? $ब दसू िी $;ह दस ह$ाि ि;द िमल िहे
हE ; तो वहां Nयो ि कUं ? उिकी ल8की को" सोिे की !ो8े ही ह7 4 वकील
साहब $ीते होते तो ?िमाते-?माते प*.ह-बीस ह$ाि दे मिते4 &ब वहां Nया
ि<ा ह7 ?
भाल- Dक द#ा $बाि दे कि मु कि $ािा &'(C बात िहीं4 को" मु<
से कु ( ि कह, पि बदिामी ह

D >बिा िहीं िहती4 म;ि तु-हािी /$द से
म$बूि ह

ं 4
19
िं ;ीलीबा" िे पाि <ाकि <त <ोला +ि प\िे ल;ीं4 %ह*दी का
&~यास बाबू साहब को तो >बVकु ल ि !ा +ि यn>प िं ;ीलीबा" भी ?ायद
ही कभी %कताब प\ती हो, पि <त-वत प\ लेती !ीं4 पहली ही पांित प\कि
उिकी 0ं<े स$ल हो ;यीं +ि पM समाo %कया4 तो उिकी 0ं <ो से 0ंसू
बह िहे !े-Dक-Dक ?Aद कUा के िस मे Hूबा ह

0 !ा4 Dक-Dक &]ि से
दीिता ,पक िही !ी4 िं ;ीलीबा" की कBोिता पP!ि की िहीं , ला< की !ी,
$ो Dक ही 0ंच से >पXल $ाती ह7 4 कVयाी के कUोPपादक ?Aदो िे
उिके =वा!म-मं%Hत Tदय को >पXला %दया4 Uं 5े ह

D कं B से बोली-&भी
gाh ब7Bा ह7 ि?
भालच*. प}ी के 0ं सु6ं को दे <-दे <कि सू<े $ाते !े4 &पिे Wपि
OVला िहे !े %क िाहक मEिे यह <त Fसे %द<ाया4 Fसकी $Uित Nया !ी?
Fतिी ब8ी भूल उिसे कभी ि ह

" !ी4 सं%दZ5 भाव से बोले-?ायद ब7Bा हो,
मEिे तो $ािे को कह %दया !ा4 िं ;ीली िे /<8की से Oांककि दे <ा4 पं%Hत
मो,े िाम $ी ब;ुले की तिह Yयाि ल;ाये बा$ाि के िा=ते की 6ि ताक िहे
!े4 लालसा मे 3यs होकि कभी यह पहलू बदलते, कभी वह पहलू4 mDक
0िे की िमBा"w िे तो 0?ा की कमि ही तो8 दी !ी, उसमे भी यह
>वल-ब, दाU द?ा !ी4 उ*हे ब7Bे दे <कि िं ;ीलीबा" बोली-ह7 -ह7 &भी ह7 ,
$ाकि कह दो, हम >ववाह किे ;े, $Uि किे ;े4 बेचािी ब8ी मुसीबत मे ह7 4
भाल- तुम कभी-कभी ब'चो की-सी बाते कििे ल;ती हो, &भी उससे
कह 0या ह

ं %क मुOे >ववाह कििा मं $ूि िहीं4 Dक ल-बी-चG8ी भूिमका
बां5िी प8ी4 &ब $ाकि यह संदे ? कह

ं ;ा, तो वह &पिे %दल मे Nया कहे ;ा,
$िा सोचो तो? यह ?ादी->ववाह का मामला ह7 4 ल8को का <ेल िहीं %क &भी
Dक बात तय की, &भी पल, ;ये4 भले 0दमी की बात ि ह

", %दVल;ी ह

"4
िं ;ीली- &'(ा, तुम &पिे मुंह से ि कहो, उस gाh को मेिे पास भे$
दो4 मE Fस तिह समOा दं ;ू ी %क तु-हािी बात भी िह $ाये +ि मेिी भी4
Fसमे तो तु-हे को" 0प>2 िहीं ह7 4
भाल-तुम &पिे िसवा सािी दिु िया को िादाि समOती हो4 तुम कहो
या मE कह

ं , बात Dक ही ह7 4 $ो बात तय हो ;यी, वह हो ;", &ब मE उसे
%#ि िहीं उBािा चाहता4 तु-हीं तो बाि-बाि कहती !ीं %क मE वहां ि कUं ;ी4
तु-हािे ही काि मुOे &पिी बात <ोिी प8ी4 &ब तुम %#ि िं ; बदलती
20
हो4 यह तो मेिी (ाती पि मूं ; दलिा ह7 4 0/<ि तु-हे कु ( तो मेिे माि-
&पमाि का >वचाि कििा चा%हD4
िं ;ीली- तो मुOे Nया मालूम !ा %क >व5वा की द?ा Fतिी हीि हो
;या ह7 ? तु-हीं िे तो कहा !ा %क उसिे पित की सािी स-प>2 ि(पा ि<ी ह7
+ि &पिी ;िीबी का Sो; िचकि काम ििकालिा चाहती ह7 4 Dक ही (ं ,ी
+ित ह7 4 तुमिे $ो कहा, वह मEिे माि िलया4 भला" किके बुिा" कििे मे
तो लK$ा +ि संकोच ह7 4 बु िा" किके भला" कििे मे को" संकोच िहीं4
&;ि तुम mहांw कि 0ये होते +ि मE mिहींw कििे को कहती, तो तु-हािा
संकोच उिचत !ा4 mिहींw कििे के बाद mहांw कििे मे तो &पिा ब8^पि ह7 4
भाल- तु-हे ब8^पि मालूम होता हो, मुOे तो लु'चापि ही मालूम होता
ह7 4 %#ि तुमिे यह क7 से माि िलया %क मEिे वकीलाFि मे >व@य मे $ो बात
कही !ी, वह OूBC !ी! Nया वह पM दे <कि? तुम $7 सी <ुद सिल हो, व7से ही
दसू िे को भी सिल समOती हो4
िं ;ीली- Fस पM मे बिाव, िहीं मालूम होती4 बिाव, की बात %दल मे
चुभती िहीं4 उसमे बिाव, की ;*5 &वcय िहती ह7 4
भाल- बिाव, की बात तो Jसी चुभती ह7 %क स'ची बात उसके सामिे
>बVकु ल #ीकी मालूम होती ह7 4 यह %क=से -कहािियां िल<िे वाले /$िकी
%कताबे प\-प\कि तुम X[,ो िोती हो, Nया स'ची बाते िल<ते ह7 ? सिासि
OूB का तूमाि बां5ते हE 4 यह भी Dक कला ह7 4
िं ;ीली- Nयो $ी, तुम मुOसे भी उ8ते हो! दा" से पे, ि(पाते हो? मE
तु-हािी बाते माि $ाती ह

ं , तो तुम समOते हो, Fसे चकमा %दया4 म;ि मE
तु-हािी Dक-Dक िस पहचािती ह

ं 4 तुम &पिा Jब मेिे िसि म\कि <ु द
बेदा; बचिा चहाते हो4 बोलो, कु ( OूB कहती ह

ं , $ब वकील साहब $ीते !े,
$ो तुमिे सोचा !ा %क Bहिाव की $Uित ही कया ह7 , वे <ुद ही /$तिा
उिचत समेOे;े दे ;े, ब/Vक >बिा Bहिाव के +ि भी Kयादा िमलिे की 0?ा
हो;ी4 &ब $ो वकील साहब का दे हा*त हो ;या, तो तिह-तिह के हीले-हवाले
कििे ल;े4 यह भलमिसी िहीं, (ो,ापि ह7 , Fसका Fल$ाम भी तु-हािे िसि
ह7 4 म74 &ब ?ादी-Aयाह के ि;ीच ि $ाWं ;ी4 तु-हािी $7सी F'(ा हो, किो4
Sो;ी 0दिमयो से मुOे िच\ ह7 4 $ो बात किो, स#ा" से किो, बु िा हो या
&'(ा4 mहा!ी के दांत <ािे के +ि %द<ािे के +िw वाली िीित पि चलिा
तु-हे ?ोभा िहीं दे ता4 बोला 0ब भी वहां ?ादी किते हो या िहीं?
21
भाला- $ब मE बे"माि, द;ाबा$ +ि OूBा Bहिा, तो मुOसे पू(िा ही
Nया! म;ि <ूब पहचािती हो 0दिमयो को! Nया कहिा ह7 , तु-हािी Fस सूO-
बूO की, बल7या ले ले!
िं ;ीली- हो ब8े हयादाि, ब भी िहीं ?िमाते4 "माि से कहा, मEिे बात
ता8 ली %क िहीं?
भाल-&$ी $ा6, वह दसू िी +िते होती हE $ो मदl को पहचािती हE 4
&ब तक मE यही समOता !ा %क +ितो की b>i ब8ी सू)म होती ह7 , पि
0$ यह >वQास उB ;या +ि महाPमा6ं िे +ितो के >व@य मे $ो तPव
की बाते कही ह7 , उिको माििा प8ा4
िं ;ीली- $िा 0"िे मे &पिी सूित तो दे < 06ं , तु-हे मेिी कमस ह7 4
$िा दे < लो, %कतिा Oेपे ह

D हो4
भाल- सच कहिा, %कतिा Oेपा ह

0 ह

ं ?
िं ;ीली- Fतिा ही, /$तिा को" भलामािस चोि चोिी <ुल $ािे पि
Oेपता ह7 4
भाल- <7 ि, मE Oेपा ही सही, पि ?ादी वहां ि हो;ी4
िं ;ीली- मेिी बला से, $हां चाहो किो4 Nयो, भुवि से Dक बाि Nयो िहीं
पू( लेते?
भाल- &'(C बात ह7 , उसी पि #7 सला िहा4
िं ;ीली- $िा भी F?ािा ि कििा!
भाल- &$ी, मE उसकी ति# ताकूं ;ा भी िहीं4
संयो; से BCक Fसी वy भुविमोहि भी 0 पह

ं चा4 Jसे सु*दि, सुHGल,
बिलL यु वक काले$ो मे बह

त कम दे <िे मे 0ते हE 4 >बVकु ल मां को प8ा
!ा, वही ;ोिा-िचa,ा िं ;, वही पतले-पतले ;ु लाब की प2ी के -से 6ं B, वही
चG8ा, मा!ा, वही ब8ी-ब8ी 0ं<े, Hील-HGल बाप का-सा !ा4 Wं चा को,, gीचे$,
,ा", बू,, ह7 , उस पि <ूब ल िहे !े4 हा! मे Dक हाकी-/=,क !ी4 चाल मे
$वािी का ;Uि !ा, 0ं<ो मे 0मPम;Gिव4
िं ;ीली िे कहा-0$ ब8ी दे ि ल;ा" तुमिे ? यह दे <ो, तु-हािी ससुिाल
से यह <त 0या ह7 4 तु-हािी सास िे िल<ा ह7 4 सा#-सा# बतला दो, &भी
सबेिा ह7 4 तु-हे वहां ?ादी कििा मं$ूि ह7 या िहीं?
भुवि- ?ादी कििी तो चा%हD &-मां, पि मE कUं ;ा िहीं4
िं ;ीली- Nयो?
22
भुवि- कहीं Jसी $;ह ?ादी किवाFये %क <ूब Uपये िमले4 +ि ि
सही Dक ला< का तो HGल हो4 वहां &ब Nया ि<ा ह7 ? वकील साहब िहे ही
िहीं, बु%\या के पास &ब Nया हो;ा?
िं ;ीली- तु-हे Jसी बाते मुंह से ििकालते ?म म िहीं 0ती?
भुवि- Fसमे ?म म की कGि-सी बात ह7 ? Uपये %कसे का,ते हE ? ला<
Uपये तो ला< $*म मे भी ि $मा कि पाWं ;ा4 Fस साल पास भी हो
;या, तो कम-से-कम पांच साल तक Uपये से सूित ि$ि ि 0ये;ी4 %#ि
सG-दो-सG Uपये महीिे कमािे ल;ूं ;ा4 पांच-(: तक पह

ं चते-पह

ं चते उt के
तीि भा; बीत $ाये;े4 Uपये $मा कििे की िGबत ही ि 0ये;ी4 दिु िया
का कु ( म$ा ि उBा सकूं ;4 %कसी 5िी की ल8की से ?ादी हो $ाती , तो
च7ि से क,ती4 मE Kयादा िहीं चाहता, बस Dक ला< हो या %#ि को" Jसी
$ायदादवाली बेवा िमले, /$सके Dक ही ल8की हो4
िं ;ीली- चाहे +ित क7 से ही िमले4
भूवि- 5ि सािे Jबो को ि(पा दे ;ा4 मुOे वह ;ािलयां भी सुिाये, तो
भी चूं ि कUं 4 द5ु ाU ;ाय की लात %कसे बुिी मालूम होती ह7 ?
बाबू साहब िे प?ंसा-सूचक भाव से कहा-हमे उि लो;ो के सा!
सहािुभित ह7 +ि दु:<ी ह7 %क "Qि िे उ*हे >वप>2 मे Hाला, ले%कि बु>e से
काम लेकि ही को" िि`य कििा च%हD4 हम %कतिे ही #,े -हालो $ाये, %#ि
भी &'(C-<ासी बािात हो $ाये;ी4 वहां भो$ि का भी %Bकािा िहीं4 िसवा
Fसके %क लो; हं से +ि को" िती$ा ि ििकले;ा4
िं ;ीली- तुम बाप-पूत दोिो Dक ही !7ली के चa,े -बa,े हो4 दोिो उस
;िीब ल8की के ;ले पि (ु िी #े ििा चाहते हो4
भुवि-$ो ;िीब ह7 , उसे ;िीबो ही के यहां स-ब*5 कििा च%हD4
&पिी ह7 िसयत से ब\कि.....4
िं ;ीली- चु प भी िह, 0या ह7 वहां से ह7 िसयत लेकि4 तुम कहां के
5*िा-सेB हो? को" 0दमी Iािा पि 0 $ाये, तो Dक लो,े पािी को तिस
$ाये4 ब8े ह7 िसयतवाले बिे हो!
यह कहकि िं ;ीली वहां से उBकि िसो" का पब*5 कििे चली ;यी4
भुविमोहि मु=किाता ह

0 &पिे कमिे मे चला ;या +ि बाबू साहब
मू(ो पि ताव दे ते ह

D बाहि 0ये %क मो,े िाम को &/*तम िि`य सुिा दे 4
पि उिका कहीं पता ि !ा4
23
मो,े िाम$ी कु ( दे ि तक तो कहाि की िाह दे <ते िहे , $ब उसके 0िे
मे बह

त दे ि ह

", तो उिसे ब7 Bा ि ;या4 सोचा यहां ब7Bे -ब7Bे काम ि चले;ा,
कु ( उnो; कििा चा%हD4 भाZय के भिोसे यहां &8ी %कये ब7 Bे िहे , तो भू<ो
मि $ाये;े4 यहां तु-हािी दाल िहीं ;लिे की4 चुपके से लक8ी उBायी +ि
/$5ि वह कहाि ;या !ा, उसी ति# चले4 बा$ाि !ो8ी ही दिू पि !ा, Dक
] मे $ा पह

ं चे4 दे <ा, तो बु {Sा Dक हलवा" की दकू ाि पि ब7 Bा िचलम पी
िहा !ा4 उसे दे <ते ही 0पिे ब8ी बेतकVलु#ी से कहा-&भी कु ( त7याि िहीं
ह7 Nया महिा? सिकाि वहां ब7Bे >ब;8 िहे हE %क $ाकि सो ;या या ता8ी
पीिे ल;ा4 मEिे कहा-‘सिकाि यह बात िहीं, बु•Hा 0दमी ह7 , 0ते ही 0ते
तो 0ये;ा4w ब8े >विचM $ीव हE 4 ि $ािे Fिके यहां क7 से िGकि %,कते हE 4
कहाि-मुOे (ो8कि 0$ तक दसू िा को" %,का िहीं, +ि ि %,के ;ा4
साल-भि से तलब िहीं िमली4 %कसी को तलब िहीं दे ते4 $हां %कसी िे
तलब मां;ी +ि ल;े Hां,िे4 बेचािा िGकिी (ो8कि भा; $ाता ह7 4 वे दोिो
0दमी, $ो पं<ा Oल िहे !े, सिकािी िGकि हE 4 सिकाि से दो &दम ली िमले हE
ि! Fसी से प8े ह

D हE 4 मE भी सोचता ह

ं , $7सा तेिा तािा-बािा व7से मेिी
भििी! Fस साल क, ;ये हE , साल दो साल +ि Fसी तिह क, $ाये;े4
मो,े िाम- तो तु-हीं &के ले हो? िाम तो क" कहािो का लेते ह7 4
कहाि- वह सब Fि दो-तीि महीिो के &*दि 0ये +ि (ो8-(ो8 कि
चले ;ये4 यह &पिा िोब $मािे को &भी तक उिका िाम $पा किते हE 4
कहीं िGकिी %दलाFD;ा, चलूं?
मो,े िाम- &$ी, बह

त िGकिी ह7 4 कहाि तो 0$कल Sूं Sे िहीं िमलते4
तुम तो पुिािे 0दमी हो, तु-हािे िलD िGकिी की Nया कमी ह7 4 यहां को"
ता$ी ची$? मुOसे कहिे ल;े, /<च8ी बिाFD;ा या बा,ी ल;ाFD;ा? मEिे कह
%दया-सिकाि, बु•Hा 0दमी ह7 , िात को उसे मेिा भो$ि बिािे मे कi हो;ा,
मE कु ( बा$ाि ही से <ा लूं;ा4 Fसकी 0प िच*ता ि किे 4 बोले , &'(C बात
ह7 , कहाि 0पको दकु ाि पि िमले;ा4 बोलो साह$ी, कु ( ति माल त7याि ह7 ?
ल{Hू तो ता$े मालूम होते हE तGल दो Dक सेि भि4 0 $ाWं वहीं Wपि ि?
यह कहकि मो,े िाम$ी हलवा" की दकू ाि पि $ा ब7 Bे +ि ति माल
च<िे ल;े4 <ू ब (ककि <ाया4 Sा"-तीि सेि च, कि ;ये4 <ाते $ाते !े
+ि हलवा" की तािी# किते $ाते !े- ?ाह$ी, तु-हािी दकू ाि का $7सा िाम
सुिा !ा, व7सा ही माल भी पाया4 बिािसवाले Jसे िस;ुVले िहीं बिा पाते ,
24
कलाक*द &'(C बिाते हE , पि तु-हािी उिसे बुिी िहीं, माल Hालिे से &'(C
ची$ िहीं बि $ाती, >वnा च%हD4
हलवा"-कु ( +ि ली/$D महािा$! !ो8ी-सी िब8ी मेिी ति# से
ली/$D4
मो,े िाम-F'(ा तो िहीं ह7 , ले%कि दे दो पाव-भि4
हलवा"-पाव-भि Nया ली/$D;ा? ची$ &'(C ह7 , 05 सेि तो ली/$D4
<ूब F'(ापू म भो$ि किके पं%Hत$ी िे !ो8ी दे ि तक बा$ाि की स7ि
की +ि िG ब$ते-ब$ते मकाि पि 0ये4 यहां स*िा,ा-सा (ाया ह

0 !ा4
Dक लाल,े ि $ल िही !ी4 &पिे चबूतिे पि >ब=ति $माया +ि सो ;ये4
सबेिे &पिे िियमािुसाि को" 0B ब$े उBे , तो दे <ा %क बाबूसाहब
,हल िहे हE 4 F*हे $;ा दे <कि वह पाला;ि कि बोले-महािा$, 0$ िात
कहां चले ;ये? मE ब8ी िात तक 0पकी िाह दे <ता िहा4 भो$ि का सब
सामाि ब8ी दे ि तक ि<ा िहा4 $ब 0$ ि 0ये, तो ि<वा %दया ;या4
0पिे कु ( भो$ि %कया !ा4 या िहीं?
मो,े - हलवा" की दकू ाि मे कु ( <ा 0या !ा4
भाल- &$ी पूिी-िमBा" मे वह 0ि*द कहां, $ो बा,ी +ि दाल मे ह7 4
दस-बािह 0िे <च म हो ;ये हो;े, %#ि भी पे, ि भिा हो;ा, 0प मेिे
मेहमाि हE , /$तिे प7से ल;े हो ले ली/$D;ा4
मो,े - 0प ही के हलवा" की दकू ाि पि <ाया !ा, वह $ो िुNक8 पि
ब7Bता ह7 4
भाल- %कतिे प7से दे िे प8े ?
मो,े - 0पके %हसाब मे िल<ा %दये हE 4
भाल- /$तिी िमBाFयां ली हो, मुOे बता दी/$D, िहीं तो पी(े से
बे"मािी कििे ल;े;ा4 Dक ही B; ह7 4
मो,े - को" Sा" सेि िमBा" !ी +ि 05ा सेि िब8ी4
बाबू साहब िे >व=#िित िेMो से पं %Hत$ी को दे <ा, मािो को" &च-भे
की बात सुिी हो4 तीि सेि तो कभी यहां महीिे भि का ,ो,ल भी ि होता
!ा +ि यह महा?य Dक ही बाि मे को" चाि Uपये का माल उ8ा ;ये4
&;ि Dक 05 %दि +ि िह ;ये , तो या ब7 B $ाये;ी4 पे, ह7 या ?7ताि की
कg? तीि सेि! कु ( %Bकािा ह7 ! उ%IZि द?ा मे दG8े ह

D &*दि ;ये +ि
25
िं ;ीली से बोल-कु ( सुिती हो, यह महा?य कल तीि सेि िमBा" उ8ा ;ये4
तीि सेि पNकी तGल!
िं ;ीलीबा" िे >व/=मत होकि कहा-&$ी िहीं, तीि सेि भला Nया <ा
$ाये;ा! 0दमी ह7 या ब7ल?
भाल- तीि सेि तो &पिे मुंह से कह िहा ह7 4 चाि सेि से कम ि हो;ा,
पNकी तGल!
िं ;ीली- पे, मे सिीचि ह7 Nया?
भाल- 0$ +ि िह ;या तो (: सेि पि हा! #े िे ;ा4
िं ;ीली- तो 0$ िहे ही Nयो, <त का $वाब $ो दे िा दे कि >वदा किो4
&;ि िहे तो सा# कह दे िा %क हमािे यहां िमBा" मुkत िहीं 0ती4 /<च8ी
बिािा हो, बिावे, िहीं तो &पिी िाह ले4 /$*हे Jसे पे,ु 6ं को /<लािे से
मु>y िमलती हो, वे /<लाये हमे Jसी मु>y ि चा%हये!
म;ि पं %Hत >वदा होिे को त7याि ब7Bे !े , FसिलD बाबूसाहब को कG?ल
से काम लेिे की $Uित ि प8ी4
पू(ा- Nया त7यािी कि दी महािा$?
मो,े - हां सिकाि, &ब चलूं;ा4 िG ब$े की ;ा8ी िमले;ी ि?
भाल- भला 0$ तो +ि ि%हD4
यह कहते-कहते बाबू$ी को भय ह

0 %क कहीं यह महािा$ सचमुच ि
िह $ाये, Fसिलये वाNय को यो पूिा %कया- हां, वहां भी लो; 0पका F*त$ाि
कि िहे हो;े4
मो,े - Dक-दो %दि की तो को" बात ि !ी +ि >वचाि भी यही !ा %क
>Mवेी का =िाि कUं ;ा, पि बुिा ि माििD तो कह

ं , 0प लो;ो मे gा€ाो
के पित ले?माM भी 1eा िहीं ह7 4 हमािे $$माि हE , $ो हमािा मुंह $ोहते
िहते हE %क पं %Hत$ी को" 0Rा दे , तो उसका पालि किे 4 हम उिके Iािा
पह

ं च $ाते हE , तो वे &पिा 5*य भाZय समOते हE +ि सािा Xि-(ो,े से ब8े
तक हमािी सेवा-सPकाि मे मZि हो $ाते हE 4 $हां &पिा 0दि िहीं , वहां
Dक ] भी Bहििा &स€ाय ह7 4 $हां g€ा का 0दि िहीं, वहां कVया
िहीं हो सकता4
भाल- महािा$, हमसे तो Jसा &पिा5 िहीं ह

04
मो,े - &पिा5 िहीं ह

0! +ि &पिा5 कहते %कसे हE ? &भी 0प ही िे
Xि मे $ाकि कहा %क यह महा?य तीि सेि िमBा" च, कि ;ये , पNकी
26
तGल4 0पिे &भी <ािेवाले दे <े कहां? Dक बाि /<लाFये तो 0ं <े <ुल
$ाये4 Jसे-Jसे महाि पुU@ प8े हE , $ो पसेिी भि िमBा" <ा $ाये +ि Hकाि
तक ि ले4 Dक-Dक िमBा" <ािे के िलD हमािी िचिGिी की $ाती ह7 , Uपये
%दये $ाते हE 4 हम िभ]ुक gा€ा िहीं हE , $ो 0पके Iाि पि प8े िहे 4 0पका
िाम सुिकि 0ये !े, यह ि $ािते !े %क यहां मेिे भो$ि के भी लाले
प8े ;े4 $ाFये, भ;वाि u 0पका कVया किे !
बाबू साहब Jसा Oेपे %क मुंह से बात ि ििकली4 /$*द;ी भि मे उि
पि कभी Jसी #,काि ि प8ी !ी4 बह

त बाते बिायीं-0पकी चचा म ि !ी, Dक
दसू िे ही महा?य की बात !ी, ले%कि पं%Hत$ी का pो5 ?ा*त ि ह

04 वह
सब कु ( सह सकते !े, पि &पिे पे, की िि*दा ि सह सकते !े4 +ितो
को Uप की िि*दा /$तिी >पय ल;ती ह7 , उससे कहीं &ि5क &>पय पुU@ो
को &पिे पे, की िि*दा ल;ती ह7 4 बाबू साहब मिाते तो !े ; पि 58का भी
समाया ह

0 !ा %क यह %,क ि $ाये4 उिकी क9 पता का पिदा <ुल ;या
!ा, &ब Fसमे स*दे ह ि !ा4 उस पदr को Sांकिा $Uिी !ा4 &पिी क9 पता
को ि(पािे के िलD उ*होिे को" बात उBा ि ि<ी पि होिेवाली बात होकि
िही4 प(ता िहे !े %क कहां से Xि मे Fसकी बात कहिे ;या +ि कहा भी
तो उ'च =वि मे4 यह दiु भी काि ल;ाये सुिता िहा, %क*तु &ब प(तािे
से Nया हो सकता !ा? ि $ािे %कस मिह

स की सूित दे <ी !ी यह >वप>2
;ले प8ी4 &;ि Fस वy यहां से Ui होकि चला ;या; तो वहां $ाकि
बदिाम किे ;ा +ि मेिा सािा कG?ल <ुल $ाये;ा4 &ब तो Fसका मुंह ब*द
कि दे िा ही प8े ;ा4
यह सोच->वचाि किते ह

D वह Xि मे $ाकि िं ;ीलीबा" से बोले -Fस
दiु िे हमािी-तु-हािी बाते सुि ली4 UBकि चला $ा िहा ह7 4
िं ;ीली-$ब तुम $ािते !े %क Iाि पि <8ा ह7 , तो 5ीिे से Nयो ि
बोले?
भाल->वप>2 0ती ह7 ; तो &के ले िहीं 0ती4 यह Nया $ािता !ा %क
वह Iाि पि काि ल;ाये <8ा ह7 4
िं ;ीली- ि $ािे %कसका मुंह दे < !ा?
भाल-वही दiु सामिे ले,ा ह

0 !ा4 $ािता तो उ5ि ताकता ही िहीं4
&ब तो Fसे कु ( दे -%दलाकि िा$ी कििा प8े ;ा4
27
िं ;ीली- Wं ह, $ािे भी दो4 $ब तु-हे वहां >ववाह ही िहीं कििा ह7 , तो
Nया पिवाह ह7 ? $ो चाहे समOे, $ो चाहे कहे 4
भाल-यो $ाि ि बचे;ी4 06ं दस Uपये >वदा" के बहािे दे दं4ू "Qि
%#ि Fस मिह

स की सूित ि %द<ाये4
िं ;ीली िे बह

त &(ताते -प(ताते दस |पये ििकाले +ि बाबू साहब िे
उ*हे ले $ाकि पं %Hत$ी के चिो पि ि< %दया4 पं%Hत$ी िे %दल मे कहा-
527 िे मN<ीचूस की! Jसा ि;8ा %क याद किो;े4 तुम समOते हो;े %क दस
|पये दे कि Fसे उVलू बिा लूं;ा4 Fस #े ि मे ि िहिा4 यहां तु-हािी िस-िस
पहचािते हE 4 |पये $ेब मे ि< िलये +ि 0?ीवादम दे कि &पिी िाह ली4
बाबू साहब ब8ी दे कि तक <8े सोच िहे !े -मालूम िहीं, &ब भी मुOे
क9 प ही समO िहा ह7 या पिदा Sं क ;या4 कहीं ये |पये भी तो पािी मे
िहीं ि;ि प8े 4
चाि
Vयाी के सामिे &ब Dक >व@म सम=या 0 <8ी ह

"4 पित के
दे हा*त के बाद उसे &पिी दिु व=!ा का यह पहला +ि बह

त ही
क8वा &िुभव ह

04 दिि. >व5वा के िलD Fससे ब8ी +ि Nया >वप>2 हो
सकती ह7 %क $वाि बे,ी िसि पि सवाि हो? ल8के िं;े पांव प\िे $ा सकते
हE , चGका-ब2िम भी &पिे हा! से %कया $ा सकता ह7 , U<ा-सू<ा <ाकि ििवाहम
%कया $ा सकता ह7 , Oोप8े मे %दि का,े $ा सकते हE , ले%कि युवती क*या
Xि मे िहीं ब7 Bा" $ा सकती4 कVयाी को भालच*. पि Jसा pो5 0ता
!ा %क =वयं $ाकि उसके मुंह मे कािल< ल;ाWं , िसि के बाल िोच लूं, कह


%क तू &पिी बात से %#ि ;या, तू &पिे बाप का बे,ा िहीं4 पं %Hत मो,े िाम
िे उिकी कप,-लीला का िZि व29 ा*त सुिा %दया !ा4

वह Fसी pो5 मे भिी ब7BC !ी %क क9 :ा <ेलती ह

" 0यी +ि बोली-
क7 %दि मे बािात 0ये;ी &-मां? पं%Hत तो 0 ;ये4
कVयाी- बािात का सपिा दे < िही ह7 Nया?
क9 :ा-वही च*दि तो कह िहा ह7 %क-दो-तीि %दि मे बािात 0ये;ी,
Nया ि $ाये;ी &-मां?
कVयाी-Dक बाि तो कह %दया, िसि Nयो <ाती ह7 ?
28
क9 :ा-सबके Xि तो बािात 0 िही ह7 , हमािे यहां Nयो िहीं 0ती?
कVयाी-तेिे यहां $ो बािात लािे वाला !ा, उसके Xि मे 0; ल;
;"4
क9 :ा-सच, &-मां! तब तो सािा Xि $ल ;या हो;ा4 कहां िहते हो;े ?
बहि कहां $ाकि िहे ;ी?
कVयाी-&िे प;ली! तू तो बात ही िहीं समOती4 0; िहीं ल;ी4
वह हमािे यहां Aयाह ि किे ;ा4
क9 :ा-यह Nयो &-मां? पहले तो वहीं BCक हो ;या !ा ि?
कVयाी-बह

त से |पये मां;ता ह7 4 मेिे पास उसे दे िे को |पये िहीं
हE 4
क9 :ा-Nया ब8े लालची हE , &-मां?
कVयाी-लालची िहीं तो +ि Nया ह7 4 पूिा कसा" ििदम यी, द;ाबा$4
क9 :ा-तब तो &-मां, बह

त &'(ा ह

0 %क उसके Xि बहि का Aयाह
िहीं ह

04 बहि उसके सा! क7 से िहती? यह तो <ु? होिे की बात ह7 &-मां ,
तुम िं $ Nयो किती हो?
कVयाी िे पुMी को =िेहमयी b>i से दे <ा4 Fिका क!ि %कतिा
सPय ह7 ? भोले ?Aदो मे सम=या का %कतिा मािमकम ििUप ह7 ? सचमुच यह
ते पस*ि होिे की बात ह7 %क Jसे कु पाMो से स-ब*5 िहीं ह

0, िं $ की
को" बात िहीं4 Jसे कु मािुसो के बीच मे बेचािी ििमलम ा की ि $ािे Nया
;ित होती &पिे िसीबो को िोती4 $िा सा Xी दाल मे &ि5क प8 $ाता, तो
सािे Xि मे ?ोि मच $ाता, $िा <ािा Kयादा पक $ाता, तो सास दििया
िसि पि उBा लेती4 ल8का भी Jसा लोभी ह7 4 ब8ी &'(C बात ह

", िहीं,
बेचािी को उt भि िोिा प8ता4 कVयाी यहां से उBC, तो उसका Tदय हVका
हो ;या !ा4
ले%कि >ववाह तो कििा ही !ा +ि हो सके तो Fसी साल, िहीं तो
दसू िे साल %#ि िये िसिे से त7यािियां कििी पHे ;ी4 &ब &'(े Xि की
$Uित ि !ी4 &'(े वि की $Uित ि !ी4 &भाि;िी को &'(ा Xि-वि
कहां िमलता! &ब तो %कसी भांित िसि का बोOा उताििा !ा, %कसी भांित
ल8की को पाि ल;ािा !ा, उसे कु Dं मे Oोकिा !ा4 यह Uपवती ह7 , ;ु ?ीला
ह7 , चतुि ह7 , कु लीि ह7 , तो ह

0 किे , दहे $ िहीं तो उसके सािे ;ु दो@ हE ,
29
दहे $ हो तो सािे दो@ ;ु हE 4 पाी का को" मूVय िहीं , के वल दे ह$ का
मूVय ह7 4 %कतिी >व@म भZयलीला ह7 !
कVयाी का दो@ कु ( कम ि !ा4 &बला +ि >व5वा होिा ही उसे
दो@ो से मुy िहीं कि सकता4 उसे &पिे ल8के &पिी ल8%कयो से कहीं
Kयादा ^यािे !े4 ल8के हल के ब7ल हE , भूसे <ली पि पहला हक उिका ह7 ,
उिके <ािे से $ो बचे वह ;ायो का! मकाि !ा, कु ( िकद !ा, क" ह$ाि के
;हिे !े, ले%कि उसे &भी दो ल8को का पालि-पो@ कििा !ा, उ*हे प\ािा-
िल<ािा !ा4 Dक क*या +ि भी चाि-पांच साल मे >ववाह कििे योZय हो
$ाये;ी4 FसिलD वह को" ब8ी िकम दहे $ मे ि दे सकती !ी, 0/<ि
ल8को को भी तो कु ( चा%हD4 वे Nया समOे;े %क हमािा भी को" बाप !ा4
पं%Hत मो,े िाम को ल<िW से लG,े प*.ह %दि बीत चु के !े4 लG,िे
के बाद दसू िे ही %दि से वह वि की <ो$ मे ििकले !े4 उ*होिे प %कया
!ा %क मE ल<िW वालो को %द<ा दं;ू ा %क संसाि मे तु-हीं &के ले िहीं हो ,
तु-हािे Jसे +ि भी %कतिे प8े ह

D हE 4 कVयाी िो$ %दि ि;िा किती !ी4
0$ उसिे उ*हे पM िल<िे का िि`य %कया +ि कलम-दवात लेकि ब7BC
ही !ी %क पं %Hत मो,े िाम िे पदापम %कया4
कVयाी-0Fये पं%8त$ी, मE तो 0पको <त िल<िे $ा िही !ी, कब
लG,े ?
मो,े िाम-लG,ा तो पात:काल ही !ा, पि Fसी समय Dक सेB के यहां से
ििम*M 0 ;या4 क" %दि से ति माल ि िमले !े4 मEिे कहा %क ल;े
हा! यह भी काम ििप,ाता चलूं4 &भी उ5ि ही से लG,ा 0 िहा ह

ं , को"
पांच सG g€ाो को पं;त !ी4
कVयाी-कु ( काय म भी िसe ह

0 या िा=ता ही िापिा प8ा4
मो,े िाम- काय म Nयो ि िसe हो;ा? भला, यह भी को" बात ह7 ? पांच
$;ह बातचीत कि 0या ह

ं 4 पांचो की िकल लाया ह

ं 4 उिमे से 0प चाहे
/$से पस*द किे 4 यह दे /<D Fस ल8के का बाप Hाक के सी;े मे सG Uपये
महीिे का िGकि ह7 4 ल8का &भी काले$ मे प\ िहा ह7 4 म;ि िGकिी का
भिोसा ह7 , Xि मे को" $ायदाद िहीं4 ल8का होिहाि मालूम होता ह7 4
<ािदाि भी &'(ा ह7 दो ह$ाि मे बात तय हो $ाये;ी4 मां;ते तो यह तीि
ह$ाि हE 4
कVयाी- ल8के के को" भा" ह7 ?
30
मो,े -िहीं, म;ि तीि बहिे हE +ि तीिो Nवांिी4 माता $ी>वत ह7 4
&'(ा &ब दसू िी िकल %दये4 यह ल8का िे ल के सी;े मे पचास Uपये
महीिा पाता ह7 4 मां-बाप िहीं हE 4 बह

त ही Uपवाि u सु?ील +ि ?िीि से <ू ब
Ti-पुi कसिती $वाि ह7 4 म;ि <ािदाि &'(ा िहीं , को" कहता ह7 , मां
िाFि !ी, को" कहता ह7 , Bकु िाFि !ी4 बाप %कसी िियासत मे मु_ताि !े4
Xि पि !ो8ी सी $मींदािी ह7 , म;ि उस पि क" ह$ाि का क$ म ह7 4 वहां कु (
लेिा-दे िा ि पHे ;ा4 उt को" बीस साल हो;ी4
कVयाी-<ािदाि मे दा; ि होता, तो मं$ू ि कि लेती4 दे <कि तो
मN<ी िहीं िि;ली $ाती4
मो,े -तीसिी िकल दे /<D4 Dक $मींदाि का ल8का ह7 , को" Dक ह$ाि
सालािा ि#ा ह7 4 कु ( <ेती-बािी भी होती ह7 4 ल8का प\-िल<ा तो !ो8ा ही
ह7 , कचहिी-&दालत के काम मे चतुि ह7 4 दहु ा$ू ह7 , पहली jी को मिे दो साल


D4 उससे को" संताि िहीं, ले%कि िहिा-सहि, मो,ा ह7 4 पीसिा-कू ,िा Xि
ही मे होता ह7 4
कVयाी- कु ( दे ह$ मां;ते हE ?
मो,े -Fसकी कु ( ि पू ि(D4 चाि ह$ाि सुिाते हE 4 &'(ा यह चG!ी
िकल %दये4 ल8का वकील ह7 , उt को" पEतीस साल हो;ी4 तीि-चाि सG की
0मदिी ह7 4 पहली jी मि चु की ह7 उससे तीि ल8के भी हE 4 &पिा Xि
बिवाया ह7 4 कु ( $ायदाद भी <िीदी ह7 4 यहां भी लेि-दे ि का O;8ा िहीं
ह7 4
कVयाी- <ािदाि क7 सा ह7 ?
मो,े -बह

त ही उ2म, पुिािे ि"स हE 4 &'(ा, यह पांचवीं िकल %दD4 बाप
का (ापा<ािा ह7 4 ल8का प\ा तो बी. D. तक ह7 , पि उस (ापे<ािे मे काम
किता ह7 4 उt &Bािह साल की हो;ी4 Xि मे पेस के िसवाय को" $ायदाद
िहीं ह7 , म;ि %कसी का क$ म िसि पि िहीं4 <ािदाि ि बह

त &'(ा ह7 , ि
बुिा4 ल8का बह

त सु*दि +ि स'चििM ह7 4 म;ि Dक ह$ाि से कम मे
मामला तय ि हो;ा, मां;ते तो वह तीि ह$ाि हE 4 &ब बताFD, 0प कGि-सा
वि पस*द किती हE ?
कVयाी-0पको सबो मे कGि पस*द ह7 ?
मो,े -मुOे तो दो वि पस*द हE 4 Dक वह $ो िे लव" मे ह7 +ि दसू िा
$ो (ापे<ािे मे काम किता ह7 4
31
कVयाी-म;ि पहले के तो <ािदाि मे 0प दो@ बताते हE ?
मो,े -हां, यह दो@ तो ह7 4 (ापे<ािे वाले को ही िहिे दी/$ये4
कVयाी-यहां Dक ह$ाि दे िे को कहां से 0ये;ा? Dक ह$ाि तो
0पका &िु माि ह7 , ?ायद वह +ि मुंह #7 लाये4 0प तो Fस Xि की द?ा
दे < ही िहे हE , भो$ि िमलता $ाये, यही ;िीमत ह7 4 Uपये कहां से 0ये;े ?
$मींदाि साहब चाि ह$ाि सुिाते हE , Hाक बाबू भी दो ह$ाि का सवाल किते
हE 4 Fिको $ािे दी/$D4 बस, वकील साहब ही बच सकते हE 4 पEतीस साल की
उt भी को" Kयादा िहीं4 F*हीं को Nयो ि ि/<D4
मो,े िाम-0प <ूब सोच->वचाि ले4 मE यो 0पकी म$d का ताबेदाि ह

ं 4
$हां क%हD;ा वहां $ाकि ,ीका कि 0Wं ;ा4 म;ि ह$ाि का मुंह ि दे /<D,
(ापे<ािे वाला ल8का ि} ह7 4 उसके सा! क*या का $ीवि स#ल हो
$ाD;ा4 $7 सी यह Uप +ि ;ु की पूिी ह7 , व7सा ही ल8का भी सु*दि +ि
सु?ील ह7 4
कVयाी-पस*द तो मुOे भी यही ह7 महािा$, पि |पये %कसके Xि से
0ये! कGि दे िे वाला ह7 ! ह7 को" दािी? <ािेवाले <ा-पीकि चं पत ह

D4 &ब
%कसी की भी सू ित िहीं %द<ा" दे ती, ब/Vक +ि मुOसे बुिा मािते हE %क
हमे ििकाल %दया4 $ो बात &पिे बस के बाहि ह7 , उसके िलD हा! ही Nयो
#7 लाWं ? स*ताि %कसको ^यािी िहीं होती? कGि उसे सु<ी िहीं दे <िा
चाहता? पि $ब &पिा काबू भी हो4 0प "Qि का िाम लेकि वकील साहब
को ,ीका कि 0Fये4 0यु कु ( &ि5क ह7 , ले%कि मििा-$ीिा >वि5 के हा!
ह7 4 पEतीस साल का 0दमी बु•Hा िहीं कहलाता4 &;ि ल8की के भाZय मे
सु< भो;िा बदा ह7 , तो $हां $ाये;ी सु<ी िहे ;ी, दु:< भो;िा ह7 , तो $हां
$ाये;ी दु:< Oेले;ी4 हमािी ििमलम ा को ब'चो से पेम ह7 4 उिके ब'चो को
&पिा समOे;ी4 0प ?ुभ मुह

त म दे <कि ,ीका कि 0ये4
पांच
मलम ा का >ववाह हो ;या4 ससुिाल 0 ;यी4 वकील साहब का िाम
!ा मुं?ी तोतािाम4 सांवले िं ; के मो,े -ता$े 0दमी !े4 उt तो &भी
चालीस से &ि5क ि !ी, पि वकालत के क%Bि पिि1म िे िसि के बाल
पका %दये !े4 3यायाम कििे का उ*हे &वका? ि िमलता !ा4 वहां तक %क
िि
32
कभी कहीं Xूमिे भी ि $ाते, FसिलD तोद ििकल 0" !ी4 दे ह के =!ूि
होते ह

D भी 0ये %दि को"-ि-को" ि?कायत िहती !ी4 मंद/Zि +ि
बवासीि से तो उिका िचि=!ायी स-ब*5 !ा4 &तDव बह

त #ूं क-#ूं ककि
कदम ि<ते !े4 उिके तीि ल8के !े4 ब8ा मंसािाम सोहल व@ म का !ा,
मंOला /$यािाम बािह +ि िसयािाम सात व@ म का4 तीिो &ं sे$ी प\ते !े4
Xि मे वकील साहब की >व5वा ब%हि के िसवा +ि को" +ित ि !ी4 वही
Xि की माल%कि !ी4 उिका िाम !ा |किमी +ि &व=!ा पचास के Wपि
!ी4 ससुिाल मे को" ि !ा4 =!ायी िीित से यहीं िहती !ीं4
तोतािाम द-पित->वRाि मे कु ?ल !े4 ििमलम ा के पस*ि ि<िे के
िलD उिमे $ो =वाभा>वक कमी !ी, उसे वह उपहािो से पूिी कििा चाहते !े4
यn>प वह बह

ही िमत3ययी पुU@ !े, पि ििमलम ा के िलD को"-ि-को"
तोह#ा िो$ लाया किते4 मGके पि 5ि की पिवाF ि किते !े4 ल8के के
िलD !ो8ा द5ू 0ता !ा, पि ििमलम ा के िलD मेवे , मुिAबे, िमBाFयां-%कसी
ची$ की कमी ि !ी4 &पिी /$*द;ी मे कभी स7ि-तमा?े दे <िे ि ;ये !े,
पि &ब (ु /a,यो मे ििमलम ा को िसिेमा, सिकस, D,ि, %द<ािे ले $ाते !े4
&पिे बह

मूVय समय का !ोHा-सा %ह=सा उसके सा! बEBकि sामो#ोि
ब$ािे मे 3यतीत %कया किते !े4
ले%कि ििमलम ा को ि $ािे Nयो तोतािाम के पास ब7 Bिे +ि हं सिे -
बोलिे मे संकोच होता !ा4 Fसका कदािचत u यह काि !ा %क &ब तक Jसा
ही Dक 0दमी उसका >पता !ा, /$सके सामिे वह िसि-Oुकाकि, दे ह चु िाकि
ििकलती !ी, &ब उिकी &व=!ा का Dक 0दमी उसका पित !ा4 वह उसे
पेम की व=तु िहीं स-माि की व=तु समOती !ी4 उिसे भा;ती %#िती,
उिको दे <ते ही उसकी प#ु Vलता पलायि कि $ाती !ी4
वकील साहब को िके द-प>2->वRाि ि िस<ाया !ा %क युवती के
सामिे <ूब पेम की बाते कििी चा%हये4 %दल ििकालकि ि< दे िा च%हये,
यही उसके व?ीकि का मु_य मंM ह7 4 FसिलD वकील साहब &पिे पेम-
पद?िम मे को" कसि ि ि<ते !े, ले%कि ििमलम ा को Fि बातो से X9 ा होती
!ी4 वही बाते, /$*हे %कसी युवक के मु< से सुिकि उिका Tदय पेम से
उ*म2 हो $ाता, वकील साहब के मुंह से ििकलकि उसके Tदय पि ?ि के
समाि 0Xात किती !ीं4 उिमे िस ि !ा उVलास ि !ा, उ*माद ि !ा,
Tदय ि !ा, के वल बिाव, !ी, Xो<ा !ा +ि ?ु:क, िीिस ?AदाH-बि4 उसे
33
FM +ि तेल बु िा ि ल;ता, स7ि-तमा?े बुिे ि ल;ते, बिाव-िसं;ाि भी बु िा ि
ल;ता !ा, बु िा ल;ता !ा, तो के वल तोतािाम के पास ब7Bिा4 वह &पिा Uप
+ि यGवि उ*हे ि %द<ािा चाहती !ी, Nयो%क वहां दे <िे वाली 0ं<े ि !ीं4
वह उ*हे Fि िसो का 0=वादि लेिे योZय ि समOती !ी4 कली पभात-
समीि ही के सप? म से /<लती ह7 4 दोिो मे समाि साि=य ह7 4 ििमलम ा के
िलD वह पभात समीि कहां !ा?
पहला महीिा ;ु$िते ही तोतािाम िे ििमलम ा को &पिा <$ांची बिा
िलया4 कचहिी से 0कि %दि-भि की कमा" उसे दे दे ते4 उिका _याल !ा
%क ििमलम ा Fि Uपयो को दे <कि #ू ली ि समाD;ी4 ििमलम ा ब8े ?Gक से
Fस पद का काम &ं $ाम दे ती4 Dक-Dक प7से का %हसाब िल<ती, &;ि कभी
Uपये कम िमलते, तो पू(ती 0$ कम Nयो हE 4 ;ह9 =!ी के स-ब*5 मे
उिसे <ू ब बाते किती4 F*हीं बातो के लायक वह उिको समOती !ी4 Kयोही
को" >विोद की बात उिके मुंह से ििकल $ाती, उसका मु< िलि हो $ाता
!ा4
ििमलम ा $ब वjाभू:ो से &लंक9 त होकि 0Fिे के सामिे <8ी होती
+ि उसमे &पिे सf*दय म की सु@मापू म 0भा दे <ती, तो उसका Tदय Dक
सत:9 कामिा से त8प उBता !ा4 उस वy उसके Tदय मे Dक Kवाला-सी
उBती4 मि मे 0ता Fस Xि मे 0; ल;ा दं4ू &पिी माता पि pो5 0ता ,
पि सबसे &ि5क pो5 बेचािे िििपिा5 तोतािाम पि 0ता4 वह सद7 व Fस
ताप से $ला किती4 बांका सवाि ल.दू-,a,ू पि सवाि होिा कब पस*द
किे ;ा, चाहे उसे प7दल ही Nयो ि चलिा प8े ? ििमलम ा की द?ा उसी बांके
सवाि की-सी !ी4 वह उस पि सवाि होकि उ8िा चाहती !ी, उस उVलासमयी
>वnत u ;ित का 0ि*द उBािा चाहती !ी, ,a,ू के %हि%हिािे +ि किGितयां
<8ी कििे से Nया 0?ा होती? संभव !ा %क ब'चो के सा! हं सिे-<ेलिे से
वह &पिी द?ा को !ो8ी दे ि के िलD भूल $ाती, कु ( मि हिा हो $ाता,
ले%कि |किमी दे वी ल8को को उसके पास #,किे तक ि दे तीं, मािो वह
को" >प?ािचिी ह7 , $ो उ*हे िि;ल $ाये;ी4 |किमी दे वी का =वभाव सािे
संसाि से िििाला !ा, यह पता ल;ािा क%Bि !ा %क वह %कस बात से <ु ?
होती !ीं +ि %कस बात से िािा$4 Dक बाि /$स बात से <ु? हो $ाती
!ीं, दसू िी बाि उसी बात से $ल $ाती !ी4 &;ि ििमलम ा &पिे कमिे मे
ब7BC िहती, तो कहतीं %क ि $ािे कहां की मिह

िसि ह7 ! &;ि वह कोBे पि
34
च\ $ाती या महिियो से बाते किती, तो (ाती पी,िे ल;तीं-ि ला$ ह7 , ि
?िम, िि;ो8ी िे हया भूि <ा"! &ब Nया कु ( %दिो मे बा$ाि मे िाचे;ी!
$ब से वकील साहब िे ििमलम ा के हा! मे |पये-प7से दे िे ?ुU %कये,
|किमी उसकी 0लोचिा कििे पि 0U\ हो ;यी4 उ*हे मालूम होता !ा4
%क &ब पलय होिे मे बह

त !ो8ी कसि िह ;यी ह7 4 ल8को को बाि-बाि प7सो
की $Uित प8ती4 $ब तक <ुद =वािमिी !ीं , उ*हे बहला %दया किती !ीं4
&ब सी5े ििमलम ा के पास भे$ दे तीं4 ििमलम ा को ल8को के च,ोिापि &'(ा
ि ल;ता !ा4 कभी-कभी प7से दे िे से F*काि कि दे ती4 |किमी को &पिे
वाZबा सि कििे का &वसि िमल $ाता-&ब तो माल%कि ह

" ह7 , ल8के
काहे को /$ये;े4 >बिा मां के ब'चे को कGि पू (े ? Uपयो की िमBाFयां <ा
$ाते !े, &ब 5ेले-5ेले को तिसते हE 4 ििमलम ा &;ि िच\कि %कसी %दि >बिा
कु ( पू(े -ता(े प7से दे दे ती, तो दे वी$ी उसकी दसू िी ही 0लोचिा कितीं-F*हे
Nया, ल8के मिे या /$ये, Fिकी बला से, मां के >बिा कGि समOाये %क बे,ा,
बह

त िमBाFयां मत <ा64 0यी-;यी तो मेिे िसि $ाये;ी, F*हे Nया? यहीं
तक होता, तो ििमलम ा ?ायद $Aत कि $ाती, पि दे वी$ी तो <ु%#या पुिलस
से िसपाही की भांित ििमलम ा का पी(ा किती िहती !ीं4 &;ि वह कोBे पि
<8ी ह7 , तो &वcय ही %कसी पि िि;ाह Hाल िही हो;ी, महिी से बाते किती
ह7 , तो &वcय ही उिकी िि*दा किती हो;ी4 बा$ाि से कु ( मं ;वाती ह7 , तो
&वcय को" >वलास व=तु हो;ी4 यह बिाबि उसके पM प\िे की चेiा %कया
किती4 ि(प-ि(पकि बाते सुिा किती4 ििमलम ा उिकी दो5िी तलवाि से
कांपती िहती !ी4 यहां तक %क उसिे Dक %दि पित से कहा-0प $िा $ी$ी
को समOा दी/$D, Nयो मेिे पी(े प8 िहती हE ?
तोतािाम िे ते$ होकि कह- तु-हे कु ( कहा ह7 , Nया?
‘िो$ ही कहती हE 4 बात मुंह से ििकालिा मु/cकल ह7 4 &;ि उ*हे Fस
बात की $लि हो %क यह माल%कि Nयो बिी ह

" ह7 , तो 0प उ*हीं को
Uपये-प7से दी/$ये, मुOे ि चा%हये, यही माल%कि बिी िहे 4 मE तो के वल Fतिा
चाहती ह

ं %क को" मुOे तािे-मेहिे ि %दया किे 4w
यह कहते-कहते ििमलम ा की 0ं <ो से 0ंसू बहिे ल;े4 तोतािाम को
&पिा पेम %द<ािे का यह बह

त ही &'(ा मGका िमला4 बोले-मE 0$ ही
उिकी <बि लूं;ा4 सा# कह दं;ू ा, मुंह ब*द किके िहिा ह7 , तो िहो, िहीं तो
&पिी िाह लो4 Fस Xि की =वािमिी वह िहीं ह7 , तुम हो4 वह के वल तु-हािी
35
सहायता के िलD हE 4 &;ि सहायता कििे के बदले तु-हे %दक किती हE , तो
उिके यहां िहिे की $Uित िहीं4 मEिे सोचा !ा %क >व5वा हE , &िा! हE , पाव
भि 0,ा <ाये;ी, प8ी िहे ;ी4 $ब +ि िGकि-चाकि <ा िहे हE , तो वह तो
&पिी ब%हि ही ह7 4 ल8को की दे <भाल के िलD Dक +ित की $Uित भी
!ी, ि< िलया, ले%कि Fसके यह मािे िहीं %क वह तु-हािे Wपि ?ासि किे 4
ििमलम ा िे %#ि कहा-ल8को को िस<ा दे ती हE %क $ाकि मां से प7से
मां;े, कभी कु (-कभी कु (4 ल8के 0कि मेिी $ाि <ाते हE 4 X8ी भि ले,िा
मु/cकल हो $ाता ह7 4 Hां,ती ह

ं , तो वह 0<े लाल-पीली किके दG8ती हE 4 मुOे
समOती हE %क ल8को को दे <कि $लती ह7 4 "Qि $ािते हो;े %क मE ब'चो
को %कतिा ^याि किती ह

ं 4 0/<ि मेिे ही ब'चे तो हE 4 मुOे उिसे Nयो
$लि होिे ल;ी?
तोतािाम pो5 से कांप उBे 4 बोल-तु-हे $ो ल8का %दक किे , उसे पी,
%दया किो4 मE भी दे <ता ह

ं %क लfHे ?िीि हो ;ये हE 4 मंसािाम को तो मे
बो%H• ; हाउस मे भे$ दं;ू ा4 बाकी दोिो को तो 0$ ही BCक %कये दे ता ह

ं 4
उस वy तोतािाम कचहिी $ा िहे !े, Hां,-Hप, कििे का मGका ि !ा,
ले%कि कचहिी से लG,ते ही उ*होिे Xि मे |/Nमी से कहा-Nयो ब%हि,
तु-हे Fस Xि मे िहिा ह7 या िहीं? &;ि िहिा ह7 , ?ा*त होकि िहो4 यह Nया
%क दसू िो का िहिा मु/cकल कि दो4
|/Nमी समO ;यीं %क बह

िे &पिा वाि %कया, पि वह दबिे वाली
+ित ि !ीं4 Dक तो उt मे ब8ी ितस पि Fसी Xि की सेवा मे /$*द;ी
का, दी !ी4 %कसकी म$ाल !ी %क उ*हे बेद<ल कि दे ! उ*हे भा" की Fस
]ु.ता पि 0`य म ह

04 बोलीं-तो Nया लfHी बिाकि ि<े;े? लfHी बिकि
िहिा ह7 , तो Fस Xि की लfHी ि बिूं ;ी4 &;ि तु-हािी यह F'(ा हो %क Xि
मे को" 0; ल;ा दे +ि मE <8ी दे <ा कUं , %कसी को बेिाह चलते दे <ूं; तो
चुप सा5 लूं , $ो /$सके मि मे 0ये किे , मE िमa,ी की दे वी बिी िह

ं , तो
यह मुOसे ि हो;ा4 यह ह

0 Nया, $ो तुम Fतिा 0पे से बाहि हो िहे हो?
ििकल ;यी सािी बु>eमािी, कल की लf%Hया चो,ी पक8कि िचािे ल;ी?
कु ( पू (िा ि ता(िा, बस, उसिे ताि <ींचा +ि तुम काB के िसपाही की
तिह तलवाि ििकालकि <8े हो ;ये4
36
तोता-सुिता ह

ं , %क तुम हमे?ा <ु चि ििकालती िहती हो, बात-बात पि
तािे दे ती हो4 &;ि कु ( सी< दे िी हो, तो उसे ^याि से, मीBे ?Aदो मे दे िी
चा%हये4 तािो से सी< िमलिे के बदले उल,ा +ि $ी $लिे ल;ता ह7 4
|/Nमी-तो तु-हािी यह म$d ह7 %क %कसी बात मे ि बोलूं , यही सही,
%कि %#ि यह ि कहिा, %क तुम Xि मे ब7 BC !ीं, Nयो िहीं सलाह दी4 $ब
मेिी बाते $हि ल;ती हE , तो मुOे Nया कु 2े िे का,ा ह7 , $ो बोलूं? मसल ह7 -
‘िा,ो <ेती, बह

िियो Xि4w मE भी दे <ूं, बह

ििया क7 से कि चलाती ह7 !
Fतिे मे िसयािाम +ि /$यािाम =कू ल से 0 ;ये4 0ते ही 0ते
दोिो बु0$ी के पास $ाकि <ािे को मां;िे ल;े4
|/Nमी िे कहा-$ाकि &पिी ियी &-मां से Nयो िहीं मां;ते , मुOे
बोलिे का ह

Nम िहीं ह7 4
तोता-&;ि तुम लो;ो िे उस Xि मे कदम ि<ा, तो ,ां; तो8 दं;ू ा4
बदमा?ी पि कमि बां5ी ह7 4
/$यािाम $िा ?ो< !ा4 बोला-उिको तो 0प कु ( िहीं कहते, हमीं
को 5मकाते हE 4 कभी प7 से िहीं दे तीं4
िसयािाम िे Fस क!ि का &िुमोदि %कया-कहती हE , मुOे %दक किो;े
तो काि का, लूं;ी4 कहती ह7 %क िहीं /$या?
ििमलम ा &पिे कमिे से बोली-मEिे कब कहा !ा %क तु-हािे काि का,
लूं;ी &भी से OूB बोलिे ल;े?
Fतिा सुििा !ा %क तोतािाम िे िसयािाम के दोिो काि पक8कि
उBा िलया4 ल8का $ोि से ची< मािकाि िोिे ल;ा4
|/Nमी िे दG8कि ब'चे को मुं?ी$ी के हा! से (ु 8ा िलया +ि
बोलीं- बस, िहिे भी दो, Nया ब'चे को माि Hालो;े ? हाय-हाय! काि लाल हो
;या4 सच कहा ह7 , ियी बीवी पाकि 0दमी &*5ा हो $ाता ह7 4 &भी से यह
हाल ह7 , तो Fस Xि के भ;वाि ही मािलक हE 4
ििमलम ा &पिी >व$य पि मि-ही-मि पस*ि हो िही !ी, ले%कि $ब
मुं?ी $ी िे ब'चे का काि पक8कि उBा िलया, तो उससे ि िहा ;या4
(ु 8ािे को दG8ी, पि |/Nमी पहले ही पह

ं च ;यी !ीं4 बोलीं-पहले 0; ल;ा
दी, &ब बुOािे दG8ी हो4 $ब &पिे ल8के हो;े, तब 0ं<े <ुले;ी4 पिा" पीि
Nया $ािो?
37
ििमलम ा- <8े तो हE , पू( लो ि, मEिे Nया 0; ल;ा दी? मEिे Fतिा ही
कहा !ा %क ल8के मुOे प7सो के िलD बाि-बाि %दक किते हE , Fसके िसवाय
$ो मेिे मुंह से कु ( ििकला हो, तो मेिे 0ं <े #ू , $ाये4
तोता-मE <ु द Fि लfHो की ?िाित दे <ा किता ह

ं , &*5ा !ो8े ही ह

ं 4
तीिो /$vी +ि ?िीि हो ;ये हE 4 ब8े िमयां को तो मE 0$ ही हो=,ल मे
भे$ता ह

ं 4
|/Nमी-&ब तक तु-हे Fिकी को" ?िाित ि सूOी !ी, 0$ 0ं <े
Nयो Fतिी ते$ हो ;यीं?
तोतािाम- तु-हीं ि F*हे Fतिा ?ो< कि ि<ा ह7 4
|किमी- तो मE ही >व@ की ;ांB ह

ं 4 मेिे ही काि तु-हािा Xि चGप,
हो िहा ह7 4 लो मE $ाती ह

ं , तु-हािे ल8के हE , मािो चाहे का,ो, ि बोलूं;ी4
यह कहकि वह वहां से चली ;यीं4 ििमलम ा ब'चे को िोते दे <कि
>वTल हो उBC4 उसिे उसे (ाती से ल;ा िलया +ि ;ोद मे िलD ह

D &पिे
कमिे मे लाकि उसे चुमकाििे ल;ी, ले%कि बालक +ि भी िससक-िससक
कि िोिे ल;ा4 उसका &बो5 Tदय Fस ^याि मे वह मात9 -=िेह ि पाता !ा,
/$ससे द7 व िे उसे वं िचत कि %दया !ा4 यह वाPसVय ि !ा, के वल दया !ी4
यह वह व=तु !ी, /$स पि उसका को" &ि5काि ि !ा, $ो के वल िभ]ा के
Uप मे उसे दी $ा िही !ी4 >पता िे पहले भी दो-Dक बाि मािा !ा, $ब
उसकी मां $ी>वत !ी, ले%कि तब उसकी मां उसे (ाती से ल;ाकि िोती ि
!ी4 वह &पस*ि होकि उससे बोलिा (ो8 दे ती, यहां तक %क वह =वयं !ो8ी
ही दे ि के बाद कु ( भूलकि %#ि माता के पास दG8ा $ाता !ा4 ?िाित के
िलD स$ा पािा तो उसकी समO मे 0ता !ा, ले%कि माि <ािे पाि
चुमकािा $ािा उसकी समO मे ि 0ता !ा4 मात9-पेम मे कBोिता होती !ी,
ले%कि मद9 लु ता से िमली ह

"4 Fस पेम मे कUा !ी, पि वह कBोिता ि !ी,
$ो 0Pमीयता का ;ुo संदे ? ह7 4 =व=! &ं ; की पािवाह कGि किता ह7 ?
ले%कि वही &ं ; $ब %कसी वेदिा से ,पकिे ल;ता ह7 , तो उसे Bे स +ि
XNके से बचािे का य} %कया $ाता ह7 4 ििमलम ा का कU िोदि बालक को
उसके &िा! होिे की सूचिा दे िहा !ा4 वह ब8ी दे ि तक ििमलम ा की ;ोद
मे ब7Bा िोता िहा +ि िोते -िोते सो ;या4 ििमलम ा िे उसे चािपा" पि सुलािा
चाहा, तो बालक िे सु@ुoाव=!ा मे &पिी दोिो कोमल बाहे उसकी ;दम ि मे
Hाल दीं +ि Jसा िचप, ;या, मािो िीचे को" ;\ा हो4 ?ंका +ि भय से
38
उसका मु< >वक9 त हो ;या4 ििमलम ा िे %#ि बालक को ;ोद मे उBा िलया,
चािपा" पि ि सुला सकी4 Fस समय बालक को ;ोद मे िलये ह

D उसे वह
तु>i हो िही !ी, $ो &ब तक कभी ि ह

" !ी, 0$ पहली बाि उसे
0Pमवेदिा ह

", /$सके िा 0ं< िहीं <ुलती, &पिा क23म य-मा; म िहीं
समOता4 वह मा; म &ब %द<ायी दे िे ल;ा4
(ह
स %दि &पिे प;ा\ पय का सबल पमा दे िे के बाद मुं?ी
तोतािाम को 0?ा ह

" !ी %क ििमलम ा के ममम -=!ल पि मेिा िसNका
$म $ाये;ा, ले%कि उिकी यह 0?ा ले?माM भी पूिी ि ह

" ब/Vक पहले
तो वह कभी-कभी उिसे हं सकि बोला भी किती !ी, &ब ब'चो ही के लालि-
पालि मे 3य=त िहिे ल;ी4 $ब Xि 0ते , ब'चो को उसके पास ब7Bे पाते4
कभी दे <ते %क उ*हे ला िही ह7 , कभी कप8े पहिा िही ह7 , कभी को" <ेल,
<ेला िही ह7 +ि कभी को" कहािी कह िही ह7 4 ििमलम ा का त>9 @त Tदय
पय की 6ि से िििा? होकि Fस &वल-ब ही को ;िीमत समOिे ल;ा,
ब'चो के सा! हं सिे-बोलिे मे उसकी मात9 -कVपिा तo9 होती !ीं4 पित के
सा! हं सिे-बोलिे मे उसे $ो सं कोच, $ो &|िच त!ा $ो &िि'(ा होती !ी,
यहां तक %क वह उBकि भा; $ािा चाहती, उसके बदले बालको के स'चे,
सिल =िेह से िच2 पस*ि हो $ाता !ा4 पहले मंसािाम उसके पास 0ते


D /OOकता !ा, ले%कि माििसक >वकास मे पांच साल (ो,ा4 ह‚की +ि
#ु ,बाल ही उसका संसाि, उसकी कVपिा6ं का मुy-]ेM त!ा उसकी
कामिा6ं का हिा-भिा बा; !ा4 Fकहिे बदि का (िहिा, सु*दि, हं समु<,
लK$?ील बालक !ा, /$सका Xि से के वल भो$ि का िाता !ा, बाकी सािे
%दि ि $ािे कहां Xूमा किता4 ििमलम ा उसके मुंह से <ेल की बाते सुिकि
!ो8ी दे ि के िलD &पिी िच*ता6ं को भूल $ाती +ि चाहती !ी Dक बाि
%#ि वही %दि 0 $ाते, $ब वह ;ु %8या <ेलती +ि उसके Aयाह िचाया
किती !ी +ि /$से &भी !ो8े 0ह, बह

त ही !ो8े %दि ;ु$िे !े4

मुं?ी तोतािाम &*य Dका*त-सेवी मिु:यो की भांित >व@यी $ीव !े4
कु ( %दिो तो वह ििमलम ा को स7ि-तमा?े %द<ाते िहे , ले%कि $ब दे <ा %क
Fसका कु ( #ल िहीं होता, तो %#ि Dका*त-सेवि कििे ल;े4 %दि-भि के
39
क%Bि मािसक पिि1म के बाद उिका िच2 0मोद-पमोद के िलD लालियत
हो $ाता, ले%कि $ब &पिी >विोद-वा%,का मे पवे? किते +ि उसके #ू लो
को मुिOाया, पG5ो को सू<ा +ि Nयािियो से 5ूल उ8ती ह

" दे <ते, तो
उिका $ी चाहता-Nयो ि Fस वा%,का को उ$ा8 दं ू? ििमलम ा उिसे Nयो
>विy िहती ह7 , Fसका िह=य उिकी समO मे ि 0ता !ा4 द-पित ?ाj के
सािे म*Mो की पिी]ा कि चु के , पि मिोि! पू िा ि ह

04 &ब Nया कििा
चा%हये, यह उिकी समO मे ि 0ता !ा4
Dक %दि वह Fसी िचंता मे ब7Bे ह

D !े %क उिके सहपाBC िमM
ियिसु<िाम 0कि ब7B ;ये +ि सलाम-वलाम के बाद मु=किाकि बोले -
0$कल तो <ूब ;हिी (िती हो;ी4 ियी बीवी का 0िलं ;ि किके $वािी
का म$ा 0 $ाता हो;ा? ब8े भाZयवाि हो! भ" UBC ह

" $वािी को मिािे
का Fससे &'(ा को" उपाय िहीं %क िया >ववाह हो $ाये4 यहां तो /$*द;ी
बवाल हो िही ह7 4 प}ी $ी Fस बुिी तिह िचम,ी हE %क %कसी तिह >प[H ही
िहीं (ो8ती4 मE तो दसू िी ?ादी की %#p मे ह

ं 4 कहीं HGल हो, तो BCक-Bाक
कि दो4 द=तूिी मे Dक %दि तु-हे उसके हा! के बिे ह

D पाि /<ला दे ;े4
तोतािाम िे ;-भीि भाव से कहा-कहीं Jसी %हमाकत ि कि ब7Bिा,
िहीं तो प(ता6;े4 लf%Hयां तो लfHो से ही <ु? िहती हE 4 हम तुम &ब उस
काम के िहीं िहे 4 सच कहता ह

ं मE तो ?ादी किके प(ता िहा ह

ं , बुिी बला
;ले प8ी! सोचा !ा, दो-चाि साल +ि /$*द;ी का म$ा उBा लूं, पि उल,ी
0ंते ;ले प8ीं4
ियिसु<-तुम Nया बाते किते हो4 लG%Hयो को पं$ो मे लािा Nया
मु/cकल बात ह7 , $िा स7ि-तमा?े %द<ा दो, उिके Uप-िं ; की तािी# कि दो,
बस, िं ; $म ;या4
तोता-यह सब कु ( कि-5िके हाि ;या4
ियि-&'(ा, कु ( FM-तेल, #ू ल-प2े, चा,-वा, का भी म$ा च<ाया?
तोता-&$ी, यह सब कि चु का4 द-प>2-?ाj के सािे म*Mो का
F-तहाि ले चु का, सब कोिी ;^पे हE 4
ियि-&'(ा, तो &ब मेिी Dक सलाह मािो, $िा &पिी सूित बिवा
लो4 0$कल यहां Dक >ब$ली के H‚N,ि 0ये ह

D हE , $ो बु\ापे के सािे
िि?ाि िम,ा दे ते हE 4 Nया म$ाल %क चेहिे पि Dक Oुिƒया या िसि का बाल
40
पका िह $ाये4 ि $ािे Nया $ाद ू कि दे ते हE %क 0दमी का चोला ही बदल
$ाता ह7 4
तोता-#ीस Nया लेते हE ?
ियि-#ीस तो सुिा ह7 , ?ायद पांच सG Uपये!
तोता-&$ी, को" पा<[Hी हो;ा, बेवकू #ो को लू, िहा हो;ा4 को" िो;ि
ल;ाकि दो-चाि %दि के िलD $िा चेहिा िचकिा कि दे ता हो;ा4 Fcतहािी
H‚N,िो पि तो &पिा >वQास ही िहीं4 दस-पांच की बात होती, तो कहता,
$िा %दVल;ी ही सही4 पांच सG Uपये ब8ी िकम ह7 4
ियि-तु-हािे िलD पांच सG Uपये कGि ब8ी बात ह7 4 Dक महीिे की
0मदिी ह7 4 मेिे पास तो भा" पांच सG Uपये होते, तो सबसे पहला काम यही
किता4 $वािी के Dक X[,े की कीमत पांच सG Uपये से कहीं Kयादा ह7 4
तोता-&$ी, को" स=ता िु=<ा बता6, को" #कीिी $ु 8ी-बू,ी $ो %क
>बिा हिम -%#,किी के िं ; ची<ा हो $ाये4 >ब$ली +ि िे %Hयम ब8े 0दिमयो
के िलD िहिे दो4 उ*हीं को मुबािक हो4
ियि-तो %#ि िं ;ीलेपि का =वां; िचो4 यह Sीला-Sाला को, #े को,
तं$ेब की चु =त &चकि हो, चु *ि,दाि पा$ामा, ;ले मे सोिे की $ं $ीि प8ी


", िसि पि $यपुिी सा#ा बां5ा ह

0, 0ं<ो मे सुिमा +ि बालो मे %हिा
का तेल प8ा ह

04 तोद का >पचकिा भी $Uिी ह7 4 दोहिा कमिब*द बां5े4
$िा तकली# तो हो;ी, पाि &चकि स$ उBे ;ी4 /<$ाब मE ला दं;ू ा4 सG-
पचास ;$ले याद कि लो +ि मGके -मGके से ?ेि प\ी4 बातो मे िस भिा हो4
Jसा मालूम हो %क तु-हे दीि +ि दिु िया की को" %#p िहीं ह7 , बस, $ो
कु ( ह7 , >पयतमा ही ह7 4 $वांमदƒ +ि साहस के काम कििे का मGका Sूं Sते
िहो4 िात को OूB-मूB ?ोि किो-चोि-चोि +ि तलवाि लेकि &के ले >पल
प8ो4 हां, $िा मGका दे < लेिा, Jसा ि हो %क सचमु च को" चोि 0 $ाये
+ि तुम उसके पी(े दG8ो, िहीं तो सािी कल" <ुल $ाये;ी +ि मुkत के
उVलू बिो;े4 उस वy तो $वांमदƒ Fसी मे ह7 %क दम सा5े <8े िहो, /$ससे
वह समOे %क तु-हे <बि ही िहीं ह

", ले%कि Kयोही चोि भा; <8ा हो, तुम
भी उ(लकि बाहि ििकलो +ि तलवाि लेकि mकहां? कहां?’ कहते दG8ो4
Kयादा िहीं, Dक महीिा मेिी बातो का F-तहाि किके दे <े4 &;ि वह
तु-हािी दम ि भििे ल;े, तो $ो $ुमािम ा कहो, वह दं4ू
41
तोतािाम िे उस वy तो यह बाते हं सी मे उ8ा दीं , $7 सा %क Dक
3यवहाि कु ?ल मिु:य को कििा च%हD !ा, ले%कि Fसमे की कु ( बाते
उसके मि मे ब7 B ;यी4 उिका &सि प8िे मे को" संदे ह ि !ा4 5ीिे -5ीिे
िं ; बदलिे ल;े, /$समे लो; <,क ि $ाये4 पहले बालो से ?ुU %कया, %#ि
सुिमे की बािी 0यी, यहां तक %क Dक-दो महीिे मे उिका कलेवि ही बदल
;या4 ;$ले याद कििे का प=ताव तो हा=या=पद !ा, ले%कि वीिता की Hीं;
माििे मे को" हािि ि !ी4
उस %दि से वह िो$ &पिी $वांमदƒ का को"-ि-को" पसं; &वcय
(े 8 दे ते4 ििमलम ा को स*दे ह होिे ल;ा %क कहीं F*हे उ*माद का िो; तो
िहीं हो िहा ह7 4 $ो 0दमी मूं; की दाल +ि मो,े 0,े के दो #ु लके <ाकि
भी िमक सुलेमािी का मुहता$ हो, उसके (7 लेपि पि उ*माद का स*दे ह हो,
तो 0`य म ही Nया? ििमलम ा पि Fस पा;लपि का +ि Nया िं ; $मता? हो
उसे उि पाि दया 0$े ल;ी4 pो5 +ि X9 ा का भाव $ाता िहा4 pो5
+ि X9 ा उि पि होती ह7 , $ो &पिे हो? मे हो, पा;ल 0दमी तो दया ही
का पाM ह7 4 वह बात-बात मे उिकी चु ,%कयां लेती, उिका म$ाक उ8ाती, $7से
लो; पा;लो के सा! %कया किते हE 4 हां, Fसका Yयाि ि<ती !ी %क वह
समO ि $ाये4 वह सोचती, बेचािा &पिे पाप का पाय/`त कि िहा ह7 4 यह
सािा =वां; के वल FसिलD तो ह7 %क मE &पिा दु :< भूल $ाWं 4 0/<ि
&ब भाZय तो बदल सकता िहीं, Fस बेचािे को Nयो $लाWं ?
Dक %दि िात को िG ब$े तोतािाम बांके बिे ह

D स7ि किके लG,े +ि
ििमलम ा से बोले-0$ तीि चोिो से सामिा हो ;या4 $िा ि?वपु ि की ति#
चला ;या !ा4 &ं 5ेिा !ा ही4 Kयोही िे ल की स8क के पास पह

ं चा, तो तीि
0दमी तलवाि िलD ह

D ि $ािे %क5ि से ििकल प8े 4 यकीि मािो, तीिो
काले दे व !े4 मE >बVकु ल &के ला, पास मे िस#म यह (8ी !ी4 उ5ि तीिो
तलवाि बां5े ह

D, हो? उ8 ;ये4 समO ;या %क /$*द;ी का यहीं तक सा!
!ा, म;ि मEिे भी सोचा, मिता ही ह

ं , तो वीिो की मGत Nयो ि म|ं 4 Fतिे मे
Dक 0दमी िे ललकाि कि कहा-ि< दे तेिे पास $ो कु ( हो +ि चुपके से
चला $ा4
मE (8ी संभालकि <8ा हो ;या +ि बोला-मेिे पास तो िस#म यह (8ी
ह7 +ि Fसका मूVय Dक 0दमी का िसि ह7 4
42
मेिे मुंह से Fतिा ििकलिा !ा %क तीिो तलवाि <ींचकि मुO पि
Oप, प8े +ि मE उिके वािो को (8ी पि िोकिे ल;ा4 तीिो OVला-
OVलाकि वाि किते !े, <,ाके की 0वा$ होती !ी +ि मE >ब$ली की तिह
Oप,कि उिके तािो को का, दे ता !ा4 को" दस िमि, तक तीिो िे <ूब
तलवाि के $Gहि %द<ाये, पि मुO पि िे # तक ि 0यी4 म$बूिी यही !ी
%क मेिे हा! मे तलवाि ि !ी4 य%द कहीं तलवाि होती, तो Dक को $ीता ि
(ो8ता4 <7ि, कहां तक बयाि क|ं 4 उस वy मेिे हा!ो की स#ा" दे <िे
का>बल !ी4 मुOे <ुद 0`य म हो िहा !ा %क यह चपलता मुOमे कहां से 0
;यी4 $ब तीिो िे दे <ा %क यहां दाल िहीं ;लिे की, तो तलवाि -याि मे
ि< ली +ि पीB Bोककि बोले-$वाि, तुम-सा वीि 0$ तक िहीं दे <ा4 हम
तीिो तीि सG पि भािी ;ांव-के -;ांव Sोल ब$ाकि लू,ते हE , पि 0$ तुमिे
हमे िीचा %द<ा %दया4 हम तु-हािा लोहा माि ;D4 यह कहकि तीिो %#ि
ि$िो से ;ायब हो ;D4
ििमलम ा िे ;-भीि भाव से मु=किाकि कहा-Fस (8ी पि तो तलवाि
के बह

त से िि?ाि बिे ह

D हो;े?
मुं?ी$ी Fस ?ंका के िलD त7याि ि !े, पि को" $वाब दे िा 0वcयक
!ा, बोले-मE वािो को बिाबि <ाली कि दे ता4 दो-चाि चो,े (8ी पि प8ीं भी,
तो उच,ती ह

", /$िसे को" िि?ाि िहीं प8 सकता !ा4
&भी उिके मुंह से पूिी बात भी ि ििकली !ी %क सहसा |/Nमी
दे वी बदहवास दG8ती ह

" 0यीं +ि हां#ते ह

D बोलीं-तोता ह7 %क िहीं? मेिे
कमिे मे सांप ििकल 0या ह7 4 मेिी चािपा" के िीचे ब7Bा ह

0 ह7 4 मE उBकि
भा;ी4 मु0 को" दो ;$ का हो;ा4 #ि ििकाले #ु #काि िहा ह7 , $िा चलो
तो4 Hं Hा लेते चलिा4
तोतािाम के चेहिे का िं ; उ8 ;या, मुंह पि हवाFयां (ु ,िे ल;ीं, म;ि
मि के भावो को ि(पाकि बोले-सांप यहां कहां? तु-हे 5ो<ा ह

0 हो;ा4 को"
ि=सी हो;ी4
|/Nमी-&िे , मEिे &पिी 0ं <ो दे <ा ह7 4 $िा चलकि दे < लो ि4 हE ,
हE 4 मदम होकि Hिते हो?
मुं?ी$ी Xि से तो ििकले, ले%कि बिामदे मे %#ि %BBक ;ये4 उिके
पांव ही ि उBते !े कले$ा 58-58 कि िहा !ा4 सांप ब8ा pो5ी $ािवि ह7 4
कहीं का, ले तो मुkत मे पा से हा! 5ोिा प8े 4 बोले -Hिता िहीं ह

ं 4 सांप
43
ही तो ह7 , ?ेि तो िहीं, म;ि सांप पि लाBC िहीं &सि किती, $ाकि %कसी
को भे$ूं, %कसी के Xि से भाला लाये4
यह कहकि मुं?ी$ी लपके ह

D बाहि चले ;ये4 मंसािाम ब7 Bा <ािा <ा
िहा !ा4 मुं?ी$ी तो बाहि चले ;ये , F5ि वह <ािा (ो8, &पिी ह‚की का
Hं Hा हा! मे ले, कमिे मे Xुस ही तो प8ा +ि तुिं त चािपा" <ींच ली4 सांप
म=त !ा, भा;िे के बदले #ि ििकालकि <8ा हो ;या4 मंसािाम िे च,प,
चािपा" की चादि उBाकि सांप के Wपि #े क दी +ि ताब8तो8 तीि-चाि Hं Hे
कसकि $माये4 सांप चादि के &ं दि त8प कि िह ;या4 तब उसे Hं Hे पि
उBाये ह

D बाहि चला4 मुं?ी$ी क" 0दिमयो को सा! िलये चले 0 िहे !े4
मंसािाम को सांप ल,काये 0ते दे <ा, तो सहसा उिके मुंह से ची< ििकल
प8ी, म;ि %#ि संभल ;ये +ि बोले-मE तो 0 ही िहा !ा, तुमिे Nयो $Vदी
की? दे दो, को" #े क 0D4
यह कहकि बहादिु ी के सा! |/Nमी के कमिे के Iाि पि $ाकि <8े
हो ;ये +ि कमिे को <ूब दे <भाल कि मूं(ो पि ताव दे ते ह

D ििमलम ा के
पास $ाकि बोले-मE $ब तक 0Wं -$ाWं , मंसािाम िे माि Hाला4 बेसमOu
ल8का Hं Hा लेकि दG8 प8ा4 सांप हमे?ा भाले से माििा चा%हD4 यही तो
ल8को मे Jब ह7 4 मEिे Jसे-Jसे %कतिे सांप मािे हE 4 सांप को /<ला-/<लाकि
मािता ह

ं 4 %कतिो ही को मुaBC से पक8कि मसल %दया ह7 4
|/Nमी िे कहा-$ा6 भी, दे < ली तु-हािी मदािम ;ी4
मुं?ी$ी Oेपकि बोले-&'(ा $ा6, मE Hिपोक ही सही, तुमसे कु (
Fिाम तो िहीं मां; िहा ह

ं 4 $ाकि महािा$ से कहा, <ािा ििकाले4
मुं?ी$ी तो भो$ि कििे ;ये +ि ििमलम ा Iाि की चG<, पि <8ी
सोच िही !ी-भ;वाि4u Nया F*हे सचमुच को" भी@ िो; हो िहा ह7 ? Nया
मेिी द?ा को +ि भी दा| बिािा चाहते हो? मE Fिकी सेवा कि सकती ह

ं ,
स-माि कि सकी ह

ं , &पिा $ीवि Fिके चिो पि &पम कि सकती ह

ं ,
ले%कि वह िहीं कि सकती, $ो मेिे %कये िहीं हो सकता4 &व=!ा का भेद
िम,ािा मेिे व? की बात िहीं 4 0/<ि यह मुOसे Nया चाहते हE -समOu
;यी4 0ह यह बात पहले ही िहीं समOी !ी, िहीं तो Fिको Nयो Fतिी
तप=या कििी प8ती Nयो Fतिे =वां; भििे प8ते4
सात
44
स %दि से ििमलम ा का िं ;-Sं ; बदलिे ल;ा4 उसिे &पिे को क23म य
पि िम,ा दे िे का िि`य कि %दया4 &ब तक ि7िाcय के संताप मे
उसिे क23म य पि Yयाि ही ि %दया !ा उसके Tदय मे >व^लव की Kवाला-सी
दहकती िहती !ी, /$सकी &स„ वेदिा िे उसे संRाहीि-सा कि ि<ा !ा4
&ब उस वेदिा का वे; ?ांत होिे ल;ा4 उसे Rात ह

0 %क मेिे िलD $ीवि
का को" 0ंिद िहीं4 उसका =व^ि दे <कि Nयो Fस $ीवि को िi क|ं 4
संसाि मे सब-के -सब पाी सु<-से$ ही पि तो िहीं सोते4 मE भी उ*हीं
&भा;ो मे से ह

ं 4 मुOे भी >व5ाता िे द<ु की ;Bिी Sोिे के िलD चु िा ह7 4
वह बोO िसि से उति िहीं सकता4 उसे #े किा भी चाह

ं , तो िहीं #े क
सकती4 उस क%Bि भाि से चाहे 0ं <ो मे &ं 5ेिा (ा $ाये , चाहे ;दम ि ,ू,िे
ल;े, चाहे प7ि उBािा द=ु ति हो $ाये, ले%कि वह ;Bिी Sोिी ही प8े ;ी ? उt
भि का क7 दी कहां तक िोये;ा? िोये भी तो कGि दे <ता ह7 ? %कसे उस पि
दया 0ती ह7 ? िोिे से काम मे ह$ म होिे के काि उसे +ि यातिाDं ही तो
सहिी प8ती हE 4

दसू िे %दि वकील साहब कचहिी से 0ये तो दे <ा-ििमलम ा की सहा=य
मूित म &पिे कमिे के Iाि पि <8ी ह7 4 वह &िि*n (>व दे <कि उिकी 0ं <े
तo9 हा ;यीं4 0$ बह

त %दिो के बाद उ*हे यह कमल /<ला ह

0 %द<ला"
%दया4 कमिे मे Dक ब8ा-सा 0"िा दीवाि मे ल,का ह

0 !ा4 उस पि Dक
पिदा प8ा िहता !ा4 0$ उसका पिदा उBा ह

0 !ा4 वकील साहब िे कमिे
मे कदम ि<ा, तो ?ी?े पि िि;ाह प8ी4 &पिी सू ित सा#-सा# %द<ा" दी4
उिके Tदय मे चो,-सी ल; ;यी4 %दि भि के पिि1म से मु< की कांित
मिलि हो ;यी !ी, भांित-भांित के पG>iक पदा! म <ािे पि भी ;ालो की
Oुििम यां सा# %द<ा" दे िही !ीं4 तोद कसी होिे पि भी %कसी मुंह$ोि Xो8े
की भांित बाहि ििकली ह

" !ी4 0"िे के ही सामिे %क*तू दसू िी 6ि
ताकती ह

" ििमलम ा भी <8ी ह

" !ी4 दोिो सूितो मे %कतिा &ं ति !ा4 Dक
ि} $%,त >व?ाल भवि, दसू िा ,ू,ा-#ू ,ा <ं Hहि4 वह उस 0"िे की 6ि ि
दे < सके 4 &पिी यह हीिाव=!ा उिके िलD &स„ !ी4 वह 0"िे के सामिे
से ह, ;ये, उ*हे &पिी ही सूित से X9 ा होिे ल;ी4 %#ि Fस Uपवती
45
कािमिी का उिसे X9 ा कििा को" 0`य म की बात ि !ी4 ििमलम ा की 6ि
ताकिे का भी उ*हे साहस ि ह

04 उसकी यह &िुपम (>व उिके Tदय का
?ूल बि ;यी4
ििमलम ा िे कहा-0$ Fतिी दे ि कहां ल;ायी? %दि भि िाह दे <ते-दे <ते
0ं<े #ू , $ाती हE 4
तोतािाम िे /<8की की 6ि ताकते ह

D $वाब %दया-मुकदमो के मािे
दम माििे की (ु a,ी िहीं िमलती4 &भी Dक मुकदमा +ि !ा, ले%कि मE
िसिददम का बहािा किके भा; <8ा ह

04
ििमलम ा-तो Nयो Fतिे मुकदमे लेते हो? काम उतिा ही कििा चा%हD
/$तिा 0िाम से हो सके 4 पा दे कि !ो8े ही काम %कया $ाता ह7 4 मत
िलया किो, बह

त मुकदमे4 मुOे |पयो का लालच िहीं4 तुम 0िाम से िहो;े ,
तो |पये बह

त िमले;े4
तोतािाम-भ", 0ती ह

" ल)मी भी तो िहीं Bु किा" $ाती4
ििमलम ा-ल)मी &;ि िy +ि मांस की भे, लेकि 0ती ह7 , तो उसका
ि 0िा ही &'(ा4 मE 5ि की भू<ी िहीं ह

ं 4
Fस वy मंसािाम भी =कू ल से लG,ा4 5ू प मे चलिे के काि मु<
पि पसीिे की बूंदे 0यी ह

" !ीं , ;ोिे मु<8े पि <ू ि की लाली दG8 िही !ी,
0ं<ो से Kयोित-सी ििकलती मालूम होती !ी4 Iाि पि <8ा होकि बोला-
&-मां $ी, लाFD, कु ( <ािे का ििकािलD, $िा <ेलिे $ािा ह7 4
ििमलम ा $ाकि ि;लास मे पािी ला" +ि Dक तcतिी मे कु ( मेवे
ि<कि मंसािाम को %दD4 मंसािाम $ब <ाकि चलिे ल;ा, तो ििमलम ा िे
पू(ा-कब तक 06;े?
मंसािाम-कह िहीं सकता, ;ोिो के सा! ह‚की का म7 च ह7 4 बािक यहां
से बह

त दिू ह7 4
ििमलम ा-भ", $Vद 0िा4 <ािा B[Hा हो $ाये;ा, तो कहो;े मुOे भू<
िहीं ह7 4
मंसािाम िे ििमलम ा की 6ि सिल =िेह भाव से दे <कि कहा-मुOे दे ि
हो $ाये तो समO ली/$D;ा, वहीं <ा िहा ह

ं 4 मेिे िलD ब7 Bिे की $|ित
िहीं4
46
वह चला ;या, तो ििमलम ा बोली-पहले तो Xि मे 0ते ही ि !े, मुOसे
बोलते ?मातम े !े4 %कसी ची$ की $|ित होती, तो बाहि से ही मं ;वा भे$ते4
$ब से मEिे बुलाकि कहा, तब से 0िे ल;े हE 4
तोतािाम िे कु ( िच\कि कहा-यह तु-हािे पास <ािे-पीिे की ची$े
मां;िे Nयो 0ता ह7 ? दीदी से Nयो िही कहता?
ििमलम ा िे यह बात प?ंसा पािे के लोभ से कही !ी4 वह यह %द<ािा
चाहती !ी %क मE तु-हािे ल8को को %कतिा चाहती ह

ं 4 यह को" बिाव,ी पेम
ि !ा4 उसे ल8को से सचमुच =िेह !ा4 उसके चििM मे &भी तक बाल-भाव
ही प5ाि !ा, उसमे वही उPसुकता, वही चंचलता, वही >विोद>पयता >वnमाि
!ी +ि बालको के सा! उसकी ये बालव>9 2यां प=#ु %,त होती !ीं4 प}ी-
सुलभ ":या म &भी तक उसके मि मे उदय िहीं ह

" !ी, ले%कि पित के
पस*ि होिे के बदले िाक-भf िसको8िे का 0?य ि सम…कि बोली-मE Nया
$ािूं, उिसे Nयो िहीं मां;ते? मेिे पास 0ते हE , तो दPु काि िहीं दे ती4 &;ि
Jसा क|ं , तो यही हो;ा %क यह ल8को को दे <कि $लती ह7 4
मुं?ी$ी िे Fसका कु ( $वाब ि %दया, ले%कि 0$ उ*होिे
मुव/Nकलो से बाते िहीं कीं, सी5े मंसािाम के पास ;ये +ि उसका F-तहाि
लेिे ल;े4 यह $ीवि मे पहला ही &वसि !ा %क F*होिे मंसािाम या %कसी
ल8के की ि?]ो*िित के >व@य मे Fतिी %दलच=पी %द<ायी हो4 उ*हे &पिे
काम से िसि उBािे की #ु िसत ही ि िमलती !ी4 उ*हे Fि >व@यो को प\े


D चालीस व@ म के ल;भ; हो ;ये !े4 तब से उिकी 6ि 0ं < तक ि
उBायी !ी4 वह कािूिी पु =तको +ि पMो के िसवा +ि कु ( प8ते ही ि !े4
Fसका समय ही ि िमलता, पि 0$ उ*हीं >व@यो मे मंसािाम की पिी]ा
लेिे ल;े4 मंसािाम $हीि !ा +ि Fसके सा! ही मेहिती भी !ा4 <ेल मे
भी ,ीम का क7 ^,ि होिे पि भी वह Nलास मे प!म िहता !ा4 /$स पाB
को Dक बाि दे < लेता, पP!ि की लकीि हो $ाती !ी4 मुं?ी$ी को उतावली
मे Jसे मािमकम प† तो सूOे िहीं, /$िके उ2ि दे िे मे चतुि ल8के को भी
कु ( सोचिा प8ता +ि Wपिी प†ो को मंसािाम से चु,%कयो मे उ8ा %दया4
को" िसपाही &पिे ?Mु पि वाि <ाली $ाते दे <कि $7से OVला-OVलाकि
+ि भी ते$ी से वाि किता ह7 , उसी भांित मंसािाम के $वाबो को सुि-
सुिकि वकील साहब भी OVलाते !े4 वह को" Jसा प† कििा चाहते !े,
/$सका $वाब मंसािाम से ि बि प8े 4 दे <िा चाहते !े %क Fसका कम$ोि
47
पहलू कहां ह7 4 यह दे <कि &ब उ*हे संतो@ ि हो सकता !ा %क वह Nया
किता ह7 4 वह यह दे <िा चाहते !े %क यह Nया िहीं कि सकता4 को"
&~य=त पिी]क मंसािाम की कम$ोिियो को 0सािी से %द<ा दे ता, पि
वकील साहब &पिी 05ी ?ताAदी की भूली ह

" ि?]ा के 05ाि पि Fतिे
स#ल क7 से होते? &ंत मे उ*हे &पिा ;ु =सा उताििे के िलD को" बहािा ि
िमला तो बोले-मE दे <ता ह

ं , तुम सािे %दि F5ि-उ5ि म,ि;cती %कया किते
हो, मE तु-हािे चििM को तु-हािी बु>e से ब\कि समOता ह

ं +ि तु-हािा यो
0वािा Xूमिा मुOे कभी ;वािा िहीं हो सकता4
मंसािाम िे ििभdकता से कहा-मE ?ाम को Dक X[,ा <ेलिे के िलD
$ािे के िसवा %दि भि कहीं िहीं $ाता4 0प &-मां या बु 0$ी से पू ( ले4
मुOे <ुद Fस तिह Xू मिा पसंद िहीं4 हां, <ेलिे के िलD हे H मा=,ि साहब
से 0sह किके बुलाते हE , तो म$बूिि $ािा प8ता ह7 4 &;ि 0पको मेिा
<ेलिे $ािा पसंद िहीं ह7 , तो कल से ि $ाWं ;ा4
मुं?ी$ी िे दे <ा %क बाते दसू िी ही |< पि $ा िही हE , तो तीq =वि मे
बोले-मुOे Fस बात का Fतमीिाि Nयोकि हो %क <ेलिे के िसवा कहीं िहीं
Xूमिे $ाते? मE बिाबि ि?कायते सुिता ह

ं 4
मंसािाम िे उ2े/$त होकि कहा-%कि महा?य िे 0पसे यह ि?कायत
की ह7 , $िा मE भी तो सुिूं?
वकील-को" हो, Fससे तुमसे को" मतलब िहीं4 तु-हे Fतिा >वQास
होिा चा%हD %क मE OूBा 0]ेप िहीं किता4
मंसािाम-&;ि मेिे सामिे को" 0कि कह दे %क मEिे F*हे कहीं Xूमते
दे <ा ह7 , तो मुंह ि %द<ाWं 4
वकील-%कसी को Jसी Nया ;ि$ प8ी ह7 %क तु-हािी मुंह पि तु-हािी
ि?कायत किे +ि तुमसे ब7ि मोल ले ? तुम &पिे दो-चाि साि!यो को लेकि
उसके Xि की <पि7 ल #ो8ते %#िो4 मुOसे Fस %क=म की ि?कायत Dक
0दमी िे िहीं, क" 0दिमयो िे की ह7 +ि को" व$ह िहीं ह7 %क मE &पिे
दो=तो की बात पि >वQास ि क|ं 4 मE चाहता ह

ं %क तुम =कू ल ही मे िहा
किो4
मंसािाम िे मुंह ि;िाकि कहा-मुOे वहां िहिे मे को" 0प>2 िहीं ह7 ,
$ब से क%हये, चला $ाWं 4
48
वकील- तुमिे मुंह Nयो ल,का िलया? Nया वहां िहिा &'(ा िहीं
ल;ता? Jसा मालूम होता ह7 , मािो वहां $ािे के भय से तु-हािी िािी मिी
$ा िही ह7 4 0/<ि बात Nया ह7 , वहां तु-हे Nया तकली# हो;ी?
मंसािाम (ाMालय मे िहिे के िलD उPसुक िहीं !ा, ले%कि $ब
मुं?ी$ी िे यही बात कह दी +ि Fसका काि पू (ा, सो वह &पिी Oेप
िम,ािे के िलD पस*ििच2 होकि बोला-मुंह Nयो ल,काWं ? मेिे िलD $7से
बो%H• ; हाउस4 तकली# भी को" िहीं, +ि हो भी तो उसे सह सकता ह

ं 4 मE
कल से चला $ाWं ;ा4 हां &;ि $;ह ि <ाली ह

" तो म$बूिी ह7 4
मुं?ी$ी वकील !े4 समO ;ये %क यह लfHा को" Jसा बहािा Sूं S िहा
ह7 , /$समे मुOे वहां $ािा भी ि प8े +ि को" FV$ाम भी िसि पि ि 0ये4
बोले-सब ल8को के िलD $;ह ह7 , तु-हािे ही िलये $;ह ि हो;ी?
मंसािाम- %कतिे ही ल8को को $;ह िहीं िमली +ि वे बाहि %किाये
के मकािो मे प8े ह

D हE 4 &भी बो%H• ; हाउस मे Dक ल8के का िाम क,
;या !ा, तो पचास &/$यम ां उस $;ह के िलD 0यी !ीं4
वकील साहब िे Kयादा तकम ->वतकम कििा उिचत िहीं समOा4
मंसािाम को कल त7याि िहिे की 0Rा दे कि &पिी बZXी त7याि किायी +ि
स7ि कििे चल ;ये4 F5ि कु ( %दिो से वह ?ाम को पाय: स7ि कििे चले
$ाया किते !े4 %कसी &िुभवी पाी िे बतलाया !ा %क दीX म $ीवि के िलD
Fससे ब\कि को" मंM िहीं ह7 4 उिके $ािे के बाद मंसािाम 0कि |/Nमी
से बोला बु0$ी, बाबू $ी िे मुOे कल से =कू ल मे िहिे को कहा ह7 4
|/Nमी िे >व/=मत होकि पू(ा-Nयो?
मंसािाम-मE Nया $ािू? कहिे ल;े %क तुम यहां 0वािो की तिह F5ि-
उ5ि %#िा किते हो4
|/Nमी-तूिे कहा िहीं %क मE कहीं िहीं $ाता4
मंसािाम-कहा Nयो िहीं, म;ि वह $ब मािे भी4
|/Nमी-तु-हािी ियी &-मा $ी की क9 पा हो;ी +ि Nया?
मंसािाम-िहीं, बु0$ी, मुOे उि पि संदे ह िहीं ह7 , वह बेचािी भूल से
कभी कु ( िहीं कहतीं4 को" ची‡ मां;िे $ाता ह

ं , तो तुि*त उBाकि दे दे ती
हE 4
|/Nमी-तू यह >Mया-चििM Nया $ािे, यह उ*हीं की ल;ा" ह

" 0;
ह7 4 दे <, मE $ाकि पू(ती ह

ं 4
49
|/Nमी OVला" ह

" ििमलम ा के पास $ा पह

ं ची4 उसे 08े हा!ो लेिे
का, कां,ो मे Xसी,िे का, तािो से (े दिे का, |लािे का सु&वसि वह हा! से
ि $ािे दे ती !ी4 ििमलम ा उिका 0दि किती !ी, उिसे दबती !ी, उिकी
बातो का $वाब तक ि दे ती !ी4 वह चाहती !ी %क यह िस<ावि की बाते
कहे , $हां मE भूलूं वहां सु5ािे , सब कामो की दे <-िे < किती िहे , पि |/Nमी
उससे तिी ही िहती !ी4
ििमलम ा चािपा" से उBकि बोली-0FD दीदी, ब7%BD4
|/Nमी िे <8े -<8े कहा-मE पू (ती ह

ं Nया तुम सबको Xि से
ििकालकि &के ले ही िहिा चाहती हो?
ििमलम ा िे काति भाव से कहा-Nया ह

0 दीदी $ी? मEिे तो %कसी से
कु ( िहीं कहा4
|/Nमी-मंसािाम को Xि से ििकाले दे ती हो, ितस पि कहती हो, मEिे
तो %कसी से कु ( िहीं कहा4 Nया तुमसे Fतिा भी दे <ा िहीं $ाता?
ििमलम ा-दीदी $ी, तु-हािे चिो को (ू कि कहती ह

ं , मुOे कु ( िहीं
मालूम4 मेिी 0ं<े #ू , $ाये, &;ि उसके >व@य मे मुंह तक <ोला हो4
|/Nमी-Nयो 3य! म कसमे <ाती हो4 &ब तक तोतािाम कभी ल8के से
िहीं बोलते !े4 Dक हkते के िलD मंसािाम िििहाल चला ;या !ा, तो Fतिे
XबिाD %क <ुद $ाकि िलवा लाD4 &ब Fसी मंसािाम को Xि से ििकालकि
=कू ल मे ि<े दे ते हE 4 &;ि ल8के का बाल भी बांका ह

0, तो तुम $ािो;ी4
वह कभी बाहि िहीं िहा, उसे ि <ािे की सु5 िहती ह7 , ि पहििे की-$हां
ब7Bता, वहीं सो $ाता ह7 4 कहिे को तो $वाि हो ;या, पि =वभाव बालको-सा
ह7 4 =कू ल मे उसकी मिि हो $ाये;ी4 वहां %कसे %#p ह7 %क Fसिे <ोया या
िहीं, कहां कप8े उतािे , कहां सो िहा ह7 4 $ब Xि मे को" पू (िे वाला िहीं, तो
बाहि कGि पू (े ;ा मEिे तु-हे चेता %दया, 0;े तुम $ािो, तु-हािा काम $ािे4
यह कहकि |/Nमी वहां से चली ;यी4
वकील साहब स7ि किके लG,े , तो ििमलम ा ि तुिं त यह >व@य (े 8
%दया-मंसािाम से वह 0$कल !ो8ी &ं sे$ी प\ती !ी4 उसके चले $ािे पि
%#ि उसके प\िे का हि$ ि हो;ा? दसू िा कGि प\ाये;ा? वकील साहब को
&ब तक यह बात ि मालूम !ी4 ििमलम ा िे सोचा !ा %क $ब कु ( &~यास
हो $ाये;ा, तो वकील साहब को Dक %दि &ं sे$ी मे बाते किके च%कत कि
दं;ू ी4 कु ( !ो8ा-सा Rाि तो उसे &पिे भाFयो से ही हो ;या !ा4 &ब वह
50
िियिमत Uप से प\ िही !ी4 वकील साहब की (ाती पि सांप-सा लो, ;या,
Pयोिियां बदलकि बोले-वे कब से प\ा िहा ह7 , तु-हे 4 मुOसे तुमिे कभी िही
कहा4
ििमलम ा िे उिका यह Uप के वल Dक बाि दे <ा !ा, $ब उ*होिे
िसयािाम को मािते-मािते बेदम कि %दया !ा4 वही Uप +ि भी >वकिाल
बिकि 0$ उसे %#ि %द<ा" %दया4 सहमती ह

" बोली-उिके प\िे मे तो
Fससे को" हि$ िहीं होता, मE उसी वy उिसे प\ती ह

ं $ब उ*हे #ु िसत
िहती ह7 4 पू( लेती ह

ं %क तु-हािा हि$ होता हो, तो $ा64 बह

5ा $ब वह
<ेलिे $ािे ल;ते हE , तो दस िमि, के िलD िोक लेती ह

ं 4 मE <ु द चाहती ह


%क उिका िुकसाि ि हो4
बात कु ( ि !ी, म;ि वकील साहब हता? से होकि चािपा" पि ि;ि
प8े +ि मा!े पि हा! ि<कि िचंता मे मZि हो ;ये4 उ*होिं /$तिा
समOा !ा, बात उससे कहीं &ि5क ब\ ;यी !ी4 उ*हे &पिे Wपि pो5
0या %क मEिे पहले ही Nयो ि Fस लfHे को बाहि ि<िे का पबं5 %कया4
0$कल $ो यह महािािी Fतिी <ु? %द<ा" दे ती हE , Fसका िह=य &ब
समO मे 0या4 पहले कभी कमिा Fतिा स$ा-स$ाया ि िहता !ा, बिाव-
चुिाव भी ि किती !ीं, पि &ब दे <ता ह

ं कायापल,-सी हो ;यी ह7 4 $ी मे
तो 0या %क Fसी वy चलकि मंसािाम को ििकाल दे , ले%कि पG\ बु>e िे
समOाया %क Fस &वसि पि pो5 की $Uित िहीं4 कहीं Fसिे भांप िलया,
तो ;$ब ही हो $ाये;ा4 हां, $िा Fसके मिोभावो को ,,ोलिा चा%हD4 बोले-
यह तो मE $ािता ह

ं %क तु-हे दो-चाि िमि, प\ािे से उसका हि$ िहीं
होता, ले%कि 0वािा ल8का ह7 , &पिा काम ि कििे का उसे Dक बहािा तो
िमल $ाता ह7 4 कल &;ि #े ल हो ;या, तो सा# कह दे ;ा-मE तो %दि भि
प\ाता िहता !ा4 मE तु-हािे िलD को" िमस िGकि ि< दं ;ू ा4 कु ( Kयादा
<च म ि हो;ा4 तुमिे मुOसे पहले कहा ही िहीं4 यह तु-हे भला Nया प\ाता
हो;ा, दो-चाि ?Aद बताकि भा; $ाता हो;ा4 Fस तिह तो तु-हे कु ( भी ि
0ये;ा4
ििमलम ा िे तुि*त Fस 0]ेप का <[Hि %कया-िहीं, यह बात तो िहीं4
वह मुOे %दल ल;ा कि प\ाते हE +ि उिकी ?7ली भी कु ( Jसी ह7 %क प\िे
मे मि ल;ता ह7 4 0प Dक %दि $िा उिका समOािा दे /<D4 मE तो
समOती ह

ं %क िमस Fतिे Yयाि से ि प\ाये;ी4
51
मुं?ी$ी &पिी प†-कु ?लता पि मूं(ो पि ताव दे ते ह

D बोले -%दि मे
Dक ही बाि प\ाता ह7 या क" बाि?
ििमलम ा &ब भी Fि प†ो का 0?य ि समOी4 बोली-पहले तो ?ाम
ही को प\ा दे ते !े, &ब क" %दिो से Dक बाि 0कि िल<िा भी दे < लेते
हE 4 वह तो कहते हE %क मE &पिे Nलास मे सबसे &'(ा ह

ं 4 &भी पिी]ा मे
F*हीं को प!म =!ाि िमला !ा, %#ि 0प क7 से समOते हE %क उिका प\िे
मे $ी िहीं ल;ता? मE FसिलD +ि भी कहती ह

ं %क दीदी समOे;ी, Fसी िे
यह 0; ल;ा" ह7 4 मुkत मे मुOे तािे सुििे प8े ;े4 &भी $िा ही दे ि ह

",
5मकाकि ;यी हE 4
मुं?ी$ी िे %दल मे कहा-<ूब समOता ह

ं 4 तुम कल की (ोकिी होकि
मुOे चिािे चलीं4 दीदी का सहािा लेकि &पिा मतलब पूिा कििा चाहती हE 4
बोले-मE िहीं समOता, बो%H• ; का िाम सुिकि Nयो लfHे की िािी मिती ह7 4
+ि ल8के <ु? होते हE %क &ब &पिे दो=तो मे िहे ;े, यह उल,े िो िहा ह7 4
&भी कु ( %दि पहले तक यह %दल ल;ाकि प\ता !ा, यह उसी मेहित का
िती$ा ह7 %क &पिे Nलास मे सबसे &'(ा ह7 , ले%कि F5ि कु ( %दिो से
Fसे स7ि-सपा,े का च=का प8 चला ह7 4 &;ि &भी से िोक!ाम ि की ;यी,
तो पी(े किते-5िते ि बि प8े ;ा4 तु-हािे िलD मE Dक िमस ि< दं ;ू ा4
दसू िे %दि मुं?ी$ी पात:काल कप8े -ल2े पहिकि बाहि ििकले4
दीवाि<ािे मे क" मुव/Nकल ब7Bे ह

D !े4 Fिमे Dक िा$ा साहब भी !े,
/$िसे मुं?ी$ी को क" ह$ाि सालािा मेहितािा िमलता !ा, म;ि मुं?ी$ी
उ*हे वहीं ब7Bे (ो8 दस िमि, मे 0िे का वादा किके बZXी पि ब7 Bकि
=कू ल के हे Hमा=,ि के यहां $ा पह

ं चे4 हे Hमा=,ि साहब ब8े सK$ि पु|@ !े4
वकील साहब का बह

त 0दि-सPकाि %कया, पि उिके यहा Dक ल8के की भी
$;ह <ाली ि !ी4 सभी कमिे भिे ह

D !े4 Fं =पेN,ि साहब की क8ी ताकीद
!ी %क मु #/=सल के ल8को को $;ह दे कि तब ?हि के ल8को को %दया
$ाये4 FसीिलD य%द को" $;ह <ाली भी ह

", तो भी मंसािाम को $;ह ि
िमल सके ;ी, Nयो%क %कतिे ही बाहिी ल8को के पा!िम ा-पM ि<े ह

D !े4
मुं?ी$ी वकील !े, िात %दि Jसे पा/यो से सा>बका िहता !ा, $ो लोभव?
&संभव का भी संभव, &साYय को भी साYय बिा सकते हE 4 समOे ?ायद
कु ( दे -%दलाकि काम ििकल $ाये, दkति Nलकम से Sं ; की कु ( बातचीत
कििी चा%हD, पि उसिे हं सकि कहा- मुं?ी$ी यह कचहिी िहीं, =कू ल ह7 ,
52
ह7 Hमा=,ि साहब के कािो मे Fसकी भिक भी प8 ;यी, तो $ामे से बाहि हो
$ाये;े +ि मंसािाम को <8े -<8े ििकाल दे ;े4 संभव ह7 , &#सिो से
ि?कायत कि दे 4 बेचािे मुं?ी$ी &पिा-सा मुंह लेकि िह ;ये4 दस ब$ते-
ब$ते OुंOलाये ह

D Xि लG,े 4 मंसािाम उसी वy Xि से =कू ल $ािे को
ििकला मुं?ी$ी िे कBोि िेMो से उसे दे <ा, मािो वह उिका ?Mु हो +ि Xि
मे चले ;ये4
Fसके बाद दस-बािह %दिो तक वकील साहब का यही िियम िहा %क
कभी सुबह कभी ?ाम, %कसी-ि-%कसी =कू ल के हे Hमा=,ि से िमलते +ि
मंसािाम को बो%H• ; हाउस मे दा/<ल कििे कल चेiा किते , पि %कसी =कू ल
मे $;ह ि !ी4 सभी $;हो से कोिा $वाब िमल ;या4 &ब दो ही उपाय
!े-या तो मंसािाम को &ल; %किाये के मकाि मे ि< %दया $ाये या %कसी
दसू िे =कू ल मे भतd किा %दया $ाये4 ये दोिो बाते 0साि !ीं4 मु#/=सल
के =कू लो मे $;ह &Nसि <ाली िहे ती !ी, ले%कि &ब मुं?ी$ी का ?ं%कत
Tदय कु ( ?ांत हो ;या !ा4 उस %दि से उ*होिे मंसािाम को कभी Xि मे
$ाते ि दे <ा4 यहां तक %क &ब वह <ेलिे भी ि $ाता !ा4 =कू ल $ािे के
पहले +ि 0िे के बाद, बिाबि &पिे कमिे मे ब7Bा िहता4 ;मd के %दि !े,
<ुले ह

D म7दाि मे भी दे ह से पसीिे की 5ािे ििकलती !ीं , ले%कि मंसािाम
&पिे कमिे से बाहि ि ििकलता4 उसका 0Pमािभमाि 0वािापि के
0]ेप से मुy होिे के िलD >वकल हो िहा !ा4 वह &पिे 0चि से Fस
कलंक को िम,ा दे िा चाहता !ा4
Dक %दि मुं?ी$ी ब7Bे भो$ि कि िहे !े , %क मंसािाम भी िहाकि <ािे
0या, मुं?ी$ी िे F5ि उसे महीिो से िं;े बदि ि दे <ा !ा4 0$ उस पि
िि;ाह प8ी, तो हो? उ8 ;ये4 ह/{Hयो का Sांचा सामिे <8ा !ा4 मु< पि
&ब भी g€ाचय म का ते$ !ा, पि दे ह Xुलकि कां,ा हो ;यी !ी4 पू(ा-
0$कल तु-हािी तबीयत &'(C िहीं ह7 , Nया? Fतिे दबु लम Nयो हो?
मंसािाम िे 5ोती 6\कि कहा-तबीयत तो >बVकु ल &'(C ह7 4
मुं?ी$ी-%#ि Fतिे दबु लम Nयो हो?
मंसािाम- दबु लम तो िहीं ह

ं 4 मE Fससे Kयादा मो,ा कब !ा?
मुं?ी$ी-वाह, 05ी दे ह भी िहीं िही +ि कहते हो, मE दबु लम िहीं ह

ं ?
Nयो दीदी, यह Jसा ही !ा?
53
|/Nमी 0ं;ि मे <8ी तुलसी को $ल च\ा िही !ी, बोली-दबु ला Nयो
हो;ा, &ब तो बह

त &'(C तिह लालि-पालि हो िहा ह7 4 मE ;ंवाििि !ी,
लHको को /<लािा->पलािा िहीं $ािती !ी4 <ोमचा /<ला-/<लाकि Fिकी
0दत >ब;ा8 दे ते !ी4 &ब तो Dक प\ी-िल<ी, ;ह9 =!ी के कामो मे चतुि
+ित पाि की तिह #े ि िही ह7 ि4 दबु ला हो उसका दcु मि4
मुं?ी$ी-दीदी, तुम ब8ा &*याय किती हो4 तुमसे %कसिे कहा %क
ल8को को >ब;ा8 िही हो4 $ो काम दसू िो के %कये ि हो सके , वह तु-हे <ुद
कििे चा%हD4 यह िहीं %क Xि से को" िाता ि ि<ो4 $ो &भी <ुद ल8की
ह7 , वह ल8को की दे <-िे < Nया किे ;ी? यह तु-हािा काम ह7 4
|/Nमी-$ब तक &पिा समOती !ी, किती !ी4 $ब तुमिे ;7 ि
समO िलया, तो मुOे Nया प8ी ह7 %क मE तु-हािे ;ले से िचप,ूं ? पू(ो, क7 %दि
से द5ू िहीं >पया? $ाके कमिे मे दे < 06, िाcते के िलD $ो िमBा" भे$ी
;यी !ी, वह प8ी स8 िही ह7 4 माल%कि समOती हE , मEिे तो <ािे का सामाि
ि< %दया, को" ि <ाये तो Nया मE मुंह मे Hाल दं ू? तो भ7या, Fस तिह वे
ल8के पलते हो;े, /$*होिे कभी ला8-^याि का सु< िहीं दे <ा4 तु-हािे ल8के
बिाबि पाि की तिह #े िे $ाते िहे हE , &ब &िा!ो की तिह िहकि सु<ी िहीं
िह सकते4 मE तो बात सा# कहती ह

ं 4 बुिा मािकि ही को" Nया कि ले;ा?
उस पि सुिती ह

ं %क ल8के को =कू ल मे ि<िे का पबं 5 कि िहे हो4 बेचािे
को Xि मे 0िे तक की मिाही ह7 4 मेिे पास 0ते भी Hिता ह7 , +ि %#ि मेिे
पास ि<ा ही Nया िहता ह7 , $ो $ाकि /<लाWं ;ी4
Fतिे मे मंसािाम दो #ु लके <ाकि उB <8ा ह

04 मुं?ी$ी िे पू(ा-
Nया दो ही #ु लके तो िलये !े4 &भी ब7Bे Dक िमि, से Kयादा िहीं ह

04
तुमिे <ाया Nया, दो ही #ु लके तो िलये !े4
मंसािाम िे सकु चाते ह

D कहा-दाल +ि तिकािी भी तो !ी4 Kयादा
<ा $ाता ह

ं , तो ;ला $लिे ल;ता ह7 , <a,ी Hकािे 0िे ल;तीं हE 4
मुं?ी$ी भो$ि किके उBे तो बह

त िचं ितत !े4 &;ि यो ही दबु ला
होता ;या, तो उसे को" भंयकि िो; पक8 ले;ा4 उ*हे |/Nमी पि Fस
समय बह

त pो5 0 िहा !ा4 उ*हे यही $लि ह7 %क मE Xि की माल%कि
िहीं ह

ं 4 यह िहीं समOतीं %क मुOे Xि की माल%कि बििे का Nया
&ि5काि ह7 ? /$से |पया का %हसाब तक िहीं &ता, वह Xि की =वािमिी
क7 से हो सकती ह7 ? बिीं तो !ीं साल भि तक माल%कि, Dक पा" की बचत ि
54
होती !ी4 Fस 0मदिी मे Uपकला दो-Sा" सG |पये बचा लेती !ी4 Fिके
िा$ मे वही 0मदिी <च म को भी पूिी ि प8ती !ी4 को" बात िहीं, ला8-
^याि िे Fि ल8को को चGप, कि %दया4 Fतिे ब8े -ब8े ल8को को Fसकी
Nया $Uित %क $ब को" /<लाये तो <ाये4 F*हे तो <ु द &पिी %#p
कििी चा%हD4 मुं?ी $ी %दिभि उसी उ5े8-बुि मे प8े िहे 4 दो-चाि िमMो से
भी /$p %कया4 लो;ो िे कहा-उसके <ेल-कू द मे बा5ा ि HािलD, &भी से
उसे क7 द ि की/$D, <ुली हवा मे चििM के ˆi होिे की उससे कम संभाविा
ह7 , /$तिा ब*द कमिे मे4 कु सं;त से $Uि बचाFD, म;ि यह िहीं %क उसे
Xि से ििकलिे ही ि दी/$D4 युवाव=!ा मे Dका*तवास चििM के िलD बह


ही हाििकािक ह7 4 मुं?ी$ी को &ब &पिी ;लती मालूम ह

"4 Xि लG,कि
मंसािाम के पास ;ये4 वह &भी =कू ल से 0या !ा +ि >बिा कप8े उतािे ,
Dक %कताब सामिे <ोलकि, सामिे /<8की की 6ि ताक िहा !ा4 उसकी
b>i Dक िभ<ाििि पि ल;ी ह

" !ी, $ो &पिे बालक को ;ोद मे िलD िभ]ा
मां; िही !ी4 बालक माता की ;ोद मे ब7Bा Jसा पस*ि !ा, मािो वह %कसी
िा$िसंहासि पि ब7 Bा हो4 मंसािाम उस बालक को दे <कि िो प8ा4 यह
बालक Nया मुOसे &ि5क सु<ी िहीं ह7 ? Fस &*ित >वQ मे Jसी कGि-सी
व=तु ह7 , /$से वह Fस ;ोद के बदले पाकि पस*ि हो? "Qि भी Jसी व=तु
की स>9 i िहीं कि सकते4 "Qि Jसे बालको को $*म ही Nयो दे ते हो, /$िके
भाZय मे मात9->वयो; का द<ु भो;िा बHा? 0$ मुO-सा &भा;ा संसाि मे
+ि कGि ह7 ? %कसे मेिे <ािे-पीिे की, मििे-$ीिे की सु5 ह7 4 &;ि मE 0$
मि भी $ाWं , तो %कसके %दल को चो, ल;े;ी4 >पता को &ब मुOे |लािे मे
म$ा 0ता ह7 , वह मेिी सूित भी िहीं दे <िा चाहते, मुOे Xि से ििकाल दे िे
की त7यािियां हो िही हE 4 0ह माता4 तु-हािा ला8ला बे,ा 0$ 0वािा कहां
$ा िहा ह7 4 वही >पता$ी, /$िके हा! मे तुमिे हम तीिो भाFयो के हा!
पक8ाये !े, 0$ मुOे 0वािा +ि बदमा? कह िहे हE 4 मE Fस योZय भी
िहीं %क Fस Xि मे िह सकूं 4 यह सोचते -सोचते मंसािाम &पाि वेदिा से
#ू ,-#ू ,कि िोिे ल;ा4
उसी समय तोतािाम कमिे मे 0कि <8े हो ;ये4 मंसािाम िे च,प,
0ंसू पो( Hाले +ि िसि Oुकाकि <8ा हो ;या4 मुं?ी$ी िे ?ायद यह
पहली बाि उसके कमिे मे कदम ि<ा !ा4 मंसािाम का %दल 5858 कििे
ल;ा %क दे <े 0$ Nया 0#त 0ती ह7 4 मुं?ी$ी िे उसे िोते दे <ा, तो Dक
55
] के िलD उिका वाPसVय Xेि िि.ा से चfक प8ा Xबिाकि बोले -Nयो, िोते
Nयो हो बे,ा4 %कसी िे कु ( कहा ह7 ?
मंसािाम िे ब8ी मु/cकल से उम8ते ह

D 0ंसु6ं को िोककि कहा- $ी
िहीं, िोता तो िहीं ह

ं 4
मुं?ी$ी-तु-हािी &-मां िे तो कु ( िहीं कहा?
मंसािाम-$ी िहीं, वह तो मुOसे बोलती ही िहीं4
मुं?ी$ी-Nया क|ं बे,ा, ?ादी तो FसिलD की !ी %क ब'चो को मां िमल
$ाये;ी, ले%कि वह 0?ा पूिी िहीं ह

", तो Nया >बVकु ल िहीं बोलतीं?
मंसािाम-$ी िहीं, F5ि महीिो से िहीं बोलीं4
मुं?ी$ी->विचM =वभाव की +ित ह7 , मालूम ही िहीं होता %क Nया
चाहती ह7 ? मE $ािता %क उसका Jसा िम$ा$ हो;ा, तो कभी ?ादी ि किता
िो$ Dक-ि-Dक बात लेकि उB <8ी होती ह7 4 उसी िे मुOसे कहा !ा %क
यह %दि भि ि $ािे कहां ;ायब िहता ह7 4 मE उसके %दल की बात Nया
$ािता !ा? समOा, तुम कु सं;त मे प8कि ?ायद %दिभि Xू मा किते हो4
कGि Jसा >पता ह7 , /$से &पिे ^यािे पुM को 0वािा %#िते दे <कि िं $ ि
हो? FसीिलD मEिे तु-हे बो%H• ; हाउस मे ि<िे का िि`य %कया !ा4 बस,
+ि को" बात िहीं !ी, बे,ा4 मE तु-हािा <ेलि-कू दिा बंद िहीं कििा चाहता
!ा4 तु-हािी यह द?ा दे <कि मेिे %दल के ,ु क8े ह

D $ाते हE 4 कल मुOे
मालूम ह

0 मE ˆम मे !ा4 तुम ?Gक से <ेलो, सुबह-?ाम म7दाि मे ििकल
$ाया किो4 ता$ी हवा से तु-हे लाभ हो;ा4 /$स ची$ की $Uित हो मुOसे
कहो, उिसे कहिे की $Uित िहीं4 समO लो %क वह Xि मे ह7 ही िहीं4
तु-हािी माता (ो8कि चली ;यी तो मE तो ह

ं 4
बालक का सिल िि:कप, Tदय >पत9-पेम से पुल%कत हो उBा4 मालूम


0 %क सा]ात u भ;वाि u <8े हE 4 ि7 िाcय +ि ]ोभ से >वकल होकि उसिे
मि मे &पिे >पता का ििLु ि +ि ि $ािे Nया-Nया समO ि<ा4 >वमाता से
उसे को" ि;ला ि !ा4 &ब उसे Rात ह

0 %क मEिे &पिे दे वतुVय >पता के
सा! %कतिा &*याय %कया ह7 4 >पत9-भ>y की Dक तिं ;-सी Tदय मे उBC,
+ि वह >पता के चिो पि िसि ि<कि िोिे ल;ा4 मुं?ी$ी क|ा से >व‰ल
हो ;ये4 /$स पुM को ] भि 0ं <ो से दिू दे <कि उिका Tदय 3यs हो
उBता !ा, /$सके ?ील, बु >e +ि चििM का &पिे-पिाये सभी ब<ाि किते
!े, उसी के पित उिका Tदय Fतिा कBोि Nयो हो ;या? वह &पिे ही >पय
56
पुM को ?Mु समOिे ल;े, उसको ििवासम ि दे िे को त7याि हो ;ये4 ििमलम ा
पुM +ि >पता के बी मे दीवाि बिकि <8ी !ी4 ििमलम ा को &पिी 6ि
<ींचिे के िलD पी(े ह,िा प8ता !ा, +ि >पता त!ा पुM मे &ं ति ब\ता
$ाता !ा4 #लत: 0$ यह द?ा हो ;यी ह7 %क &पिे &िभ*ि पुM उ*हे
Fतिा (ल कििा प8 िहा ह7 4 0$ बह

त सोचिे के बाद उ*हे Dक Dक Jसी
यु>y सूOी ह7 , /$ससे 0?ा हो िही ह7 %क वह ििमलम ा को बीच से ििकालकि
&पिे दसू िे बा$ू को &पिी ति# <ींच ले;े4 उ*होिे उस यु>y का 0िं भ
भी कि %दया ह7 , ले%कि Fसमे &भीi िसe हो;ा या िहीं, Fसे कGि $ािता
ह7 4
/$स %दि से तोतोिाम िे ििमलम ा के बह

त िम*ित-समा$त कििे पि
भी मंसािाम को बो%H• ; हाउस मे भे$िे का िि`य %कया !ा, उसी %दि से
उसिे मंसािाम से प\िा (ो8 %दया4 यहां तक %क बोलती भी ि !ी4 उसे
=वामी की Fस &>वQासपू म तPपिता का कु (-कु ( 0भास हो ;या !ा4
6k#ोह4 Fतिा ?Nकी िम$ा$4 "Qि ही Fस Xि की ला$ ि<े4 Fिके मि
मे Jसी-Jसी दभु ावम िाDं भिी ह

" हE 4 मुOे यह Fतिी ;यी-;ु $िी समOते हE 4
ये बाते सोच-सोचकि वह क" %दि िोती िही4 तब उसिे सोचिा ?ूU %कया,
F*हे Nया Jसा संदे ह हो िहा ह7 ? मुO मे Jसी कGि-सी बात ह7 , $ो Fिकी
0ं<ो मे <,कती ह7 4 बह

त सोचिे पि भी उसे &पिे मे को" Jसी बात
ि$ि ि 0यी4 तो Nया उसका मंसािाम से प\िा, उससे हं सिा-बोलिा ही
Fिके संदे ह का काि ह7 , तो %#ि मE प\िा (ो8 दं;ू ी, भूलकि भी मंसािाम से
ि बोलूं ;ी, उसकी सूित ि द<ूं;ी4
ले%कि यह तप=या उसे &साYय $ाि प8ती !ी4 मंसािाम से हं सिे -
बोलिे मे उसकी >वलािसिी कVपिा उ2े/$त भी होती !ी +ि तo9 भी4 उसे
बाते किते ह

D उसे &पाि सु< का &िुभव होता !ा, /$से वह ?Aदो मे पक,
ि कि सकती !ी4 कु वासिा की उसके मि मे (ाया भी ि !ी4 वह =व^ि
मे भी मंसािाम से कलु >@त पेम कििे की बात ि सोच सकती !ी4 पPयेक
पाी को &पिे हम$ोिलयो के सा!, हं सिे-बोलिे की $ो Dक ि7सि;कम त:9 ा
होती ह7 , उसी की ति9 o का यह Dक &Rात सा5ि !ा4 &ब वह &तo9 त:9 ा
ििमलम ा के Tदय मे दीपक की भांित $लिे ल;ी4 िह-िहकि उसका मि
%कसी &Rात वेदिा से >वकल हो $ाता4 <ोयी ह

" %कसी &Rात व=तु की
<ो$ मे F5ि-उ5ि Xूमती-%#िती, $हां ब7Bती, वहां ब7 BC ही िह $ाती, %कसी
57
काम मे $ी ि ल;ता4 हां , $ब मुं?ी$ी 0 $ाते, वह &पिी सािी त:9 ा6ं
को ि7िाcय मे Hु बाकि, उिसे मु=किाकि F5ि-उ5ि की बाते कििे ल;ती4
कल $ब मुं?ी$ी भो$ि किके कचहिी चले ;ये , तो |/Nमी िे
ििमलम ा को <ुब तािो से (े दा-$ािती तो !ी %क यहां ब'चो का पालि-
पो@ कििा प8े ;ा, तो Nयो Xिवालो से िहीं कह %दया %क वहां मेिा >ववाह
ि किो? वहां $ाती $हां पु|@ के िसवा +ि को" ि होता4 वही यह बिाव-
चुिाव +ि (>व दे <कि <ु? होता, &पिे भाZय को सिाहता4 यहां बु {Sा
0दमी तु-हािे िं ;-Uप, हाव-भाव पि Nया लa,ू हो;ा? Fसिे F*हीं बालको की
सेवा कििे के िलD तुमसे >ववाह %कया ह7 , भो;->वलास के िलD िहीं वह ब8ी
दे ि तक Xाव पि िमक ि(8कती िही, पि ििमलम ा िे चूं तक ि की4 वह
&पिी स#ा" तो पे? कििा चाहती !ी, पि ि कि सकती !ी4 &;ि कहे %क
मE वही कि िही ह

ं , $ो मेिे =वामी की F'(ा ह7 तो Xि का भ[Hा #ू ,ता ह7 4
&;ि वह &पिी भूल =वीकाि किके उसका सु5ाि किती ह7 , तो भय ह7 %क
उसका ि $ािे Nया पििाम हो? वह यो ब8ी =पiवा%दिी !ी, सPय कहिे मे
उसे संकोच या भय ि होता !ा, ले%कि Fस िा$ुक मGके पि उसे चु ^पी
सा5िी प8ी4 Fसके िसवा दसू िा उपाय ि !ा4 वह दे <ती !ी मंसािाम बह


>विy +ि उदास िहता ह7 , यह भी दे <ती !ी %क वह %दि-%दि दबु लम होता
$ाता ह7 , ले%कि उसकी वाी +ि कम म दोिो ही पि मोहि ल;ी ह

" !ी4 चोि
के Xि चोिी हो $ािे से उसकी $ो द?ा होती ह7 , वही द?ा Fस समय ििमलम ा
की हो िही !ी4
0B
ब को" बात हमािी 0?ा के >व|e होती ह7 , तभी द<ु होता ह7 4
मंसािाम को ििमलम ा से कभी Fस बात की 0?ा ि !ी %क वे
उसकी ि?कायत किे ;ी4 FसिलD उसे Xोि वेदिा हो िही !ी4 वह Nयो मेिी
ि?कायत किती ह7 ? Nया चाहती ह7 ? यही ि %क वह मेिे पित की कमा" <ाता
ह7 , Fसके प\ाि-िल<ािे मे |पये <च म होते हE , कप8ा पहिता ह7 4 उिकी यही
F'(ा हो;ी %क यह Xि मे ि िहे 4 मेिे ि िहिे से उिके |पये बच $ाये;े4
वह मुOसे बह

त पस*ििच2 िहती हE 4 कभी मEिे उिके मुंह से क,ु ?Aद िहीं
सुिे4 Nया यह सब कG?ल ह7 ? हो सकता ह7 ? िच%8या को $ाल मे #ं सािे के
$
58
पहले ि?कािी दािे >ब<ेिता ह7 4 0ह4 मE िहीं $ािता !ा %क दािे के िीचे
$ाल ह7 , यह मात9-=िेह के वल मेिे ििवासम ि की भूिमका ह7 4
&'(ा, मेिा यहां िहिा Nयो बुिा ल;ता ह7 ? $ो उिका पित ह7 , Nया वह
मेिा >पता िहीं ह7 ? Nया >पता-पुM का संबं5 jी-पु|@ के संबं5 से कु ( कम
Xििi ह7 ? &;ि मुOे उिके संपू म 0ि5पPय से ":या म िहीं होती, वह $ो चाहे
किे , मE मुं ह िहीं <ोल सकता, तो वह मुOे Dक &;ुंल भि भूिम भी दे िा िहीं
चाहतीं4 0प पNके महल मे िहकि Nयो मुOे व]9 की (ाया मे ब7 Bा िहीं
दे < सकतीं4
हां, वह समOती हो;ी %क वह ब8ा होकि मेिे पित की स-प>2 का
=वामी हो $ाये;ा, FसिलD &भी से ििकाल दे िा &'(ा ह7 4 उिको क7 से
>वQास %दलाWं %क मेिी 6ि से यह ?ंका ि किे 4 उ*हे Nयोकि बताWं %क
मंसािाम >व@ <ाकि पा दे दे ;ा, Fसके पहले %क उिका &%हत कि4 उसे
चाहे %कतिी ही क%BिाFयां सहिी पHे वह उिके Tदय का ?ूल ि बिे;ा4 यो
तो >पता$ी िे मुOे $*म %दया ह7 +ि &ब भी मुO पि उिका =िेह कम
िहीं ह7 , ले%कि Nया मE Fतिा भी िहीं $ािता %क /$स %दि >पता$ी िे
उिसे >ववाह %कया, उसी %दि उ*होिे हमे &पिे Tदय से बाहि ििकाल %दया?
&ब हम &िा!ो की भांित यहां प8े िह सकते हE , Fस Xि पि हमािा को"
&ि5काि िहीं ह7 4 कदािचत u पूव म सं=कािो के काि यहां &*य &िा!ो से
हमािी द?ा कु ( &'(C ह7 , पि हE &िा! ही4 हम उसी %दि &िा! ह

D, /$स
%दि &-मां $ी पिलोक िस5ािीं4 $ो कु ( कसि िह ;यी !ी, वह Fस >ववाह
िे पू िी कि दी4 मE तो <ु द पहले Fिसे >व?े@ संबं5 ि ि<ता !ा4 &;ि,
उ*हीं %दिो >पता$ी से मेिी ि?कायत की होती, तो ?ायद मुOे Fतिा द<ु ि
होता4 मE तो उसे 0Xात के िलD त7याि ब7 Bा !ा4 संसाि मे Nया मE म$दिू ी
भी िहीं कि सकता? ले%कि बुिे वy मे F*होिे चो, की4 %हं सक प?ु भी
0दमी को ;ा%#ल पाकि ही चो, किते हE 4 FसीिलD मेिी 0वभ;त होती
!ी, <ािा <ािे के िलD उBिे मे $िा भी दे ि हो $ाती !ी, तो बुलावे पि
बुलावे 0ते !े , $लपाि के िलD पात: हलु0 बिाया $ाता !ा, बाि-बाि पू (ा
$ाता !ा-|पयो की $Uित तो िहीं ह7 ? FसीिलD वह सG |पयो की X8ी
मं;वा" !ी4
म;ि Nया F*हे Nया दसू िी ि?कायत ि सूOी, $ो मुOे 0वािा कहा?
0/<ि उ*होिे मेिी Nया 0वाि;ी दे <ी? यह कह सकती !ीं %क Fसका मि
59
प\िे-िल<िे मे िहीं ल;ता, Dक-ि-Dक ची$ के िलD ििPय |पये मां;ता
िहता ह7 4 यही Dक बात उ*हे Nयो सूOी? ?ायद FसीिलD %क यही सबसे
कBोि 0Xात ह7 , $ो वह मुO पि कि सकती हE 4 पहली ही बाि F*होिे मुOे
पि &/ZिŠबा चला %दया, /$ससे कहीं ?ि िहीं4 FसीिलD ि %क वह
>पता की ि$िो से ि;ि $ाये? मुOे बो%H• ;-हाउस मे ि<िे का तो Dक बहािा
!ा4 उvे cय यह !ा %क Fसे द5ू की मN<ी की तिह ििकाल %दया $ाये4 दो-
चाि महीिे के बाद <चम-वच म दे िा बंद कि %दया $ाये, %#ि चाहे मिे या
/$ये4 &;ि मE $ािता %क यह पेिा Fिकी 6ि से ह

" ह7 , तो कहीं $;ह ि
िहिे पि भी $;ह ििकाल लेता4 िGकिो की कोBिियो मे तो $;ह िमल
$ाती, बिामदे मे प8े िहिे के िलD बह

त $;ह िमल $ाती4 <7ि, &ब सबेिा
ह7 4 $ब =िेह िहीं िहा, तो के वल पे, भििे के िलD यहां प8े िहिा बेहया"
ह7 , यह &ब मेिा Xि िहीं4 Fसी Xि मे प7 दा ह

0 ह

ं , यही <ेला ह

ं , पि यह &ब
मेिा िहीं4 >पता$ी भी मेिे >पता िहीं हE 4 मE उिका पुM ह

ं , पि वह मेिे >पता
िहीं हE 4 संसाि के सािे िाते =िेह के िाते हE 4 $हां =िेह िहीं , वहां कु (
िहीं4 हाय, &-मां$ी, तुम कहां हो?
यह सोचकि मंसािाम िोिे ल;ा4 Kयो-Kयो मात 9 =िेह की पूवम-=मि9 तयां
$ा;त9 होती !ीं, उसके 0ंसू उम8ते 0ते !े4 वह क" बाि &-मां-&-मां
पुकाि उBा, मािो वह <8ी सुि िही हE 4 मात9-हीिता के दु:< का 0$ उसे
पहली बाि &िुभव ह

04 वह 0Pमािभमािी !ा, साहसी !ा, पि &ब तक
सु< की ;ोद मे लालि-पालि होिे के काि वह Fस समय &पिे 0प को
िििा5ाि समO िहा !ा4
िात के दस ब$ ;ये !े4 मुं?ी$ी 0$ कहीं दावत <ािे ;ये ह

D !े4
दो बाि महिी मंसािाम को भो$ि कििे के िलD बुलािे 0 चु की !ी4
मंसािाम िे >प(ली बाि उससे OुंOलाकि कह %दया !ा-मुOे भू< िहीं ह7 ,
कु ( ि <ाWं ;ा4 बाि-बाि 0कि िसि पि सवाि हो $ाती ह7 4 FसीिलD $ब
ििमलम ा िे उसे %#ि उसी काम के िलD भे$िा चाहा, तो वह ि ;यी4
बोली-बह

$ी, वह मेिे बुलािे से ि 0वे;े4
ििमलम ा-0ये;े Nयो िहीं? $ाकि कह दे <ािा B[Hा ह

0 $ाता ह7 4 दो
चाि कGि <ा ले4
महिी-मE यह सब कह के हाि ;यी, िहीं 0ते4
ििमलम ा-तूिे यह कहा !ा %क वह ब7BC ह

" हE 4
60
महिी-िहीं बह

$ी, यह तो मEिे िहीं कहा, OूB Nयो बोलूं4
ििमलम ा-&'(ा, तो $ाकि यह कह दे िा, वह ब7BC तु-हािी िाह दे < िही
हE 4 तुम ि <ा6;े तो वह िसो" उBाकि सो िहे ;ी4 मेिी भूं;ी, सुि, &बकी
+ि चली $ा4 (हं सकि) ि 0वे, तो ;ोद मे उBा लािा4
भूं;ी िाक-भf िसको8ते ;यी, पि Dक ही ] मे 0कि बोली-&िे
बह

$ी, वह तो िो िहे हE 4 %कसी िे कु ( कहा ह7 Nया?
ििमलम ा Fस तिह चGककि उBC +ि दो-तीि प; 0;े चली, मािो
%कसी माता िे &पिे बे,े के कु Dं मे ि;ि प8िे की <बि पायी हो, %#ि वह
%BBक ;यी +ि भूं;ी से बोली-िो िहे हE ? तूिे पू (ा िहीं Nयो िो िहे हE ?
भूं;ी- िहीं बह

$ी, यह तो मEिे िहीं पू(ा4 OूB Nयो बोलूं?
वह िो िहे हE 4 Fस िि=तब5 िा>M मे &के ले ब7 B7 ह

D वह िो िहे हE 4
माता की याद 0यी हो;ी? क7 से $ाकि उ*हे समOाWं ? हाय, क7 से समOाWं ?
यहां तो (Cंकते िाक क,ती ह7 4 "Qि, तुम सा]ी हो &;ि मEिे उ*हे भूल से
भी कु ( कहा हो, तो वह मेिे ;े 0ये4 मE Nया क|ं ? वह %दल मे समOते
हो;े %क Fसी िे >पता$ी से मेिी ि?कायत की हो;ी4 क7 से >वQास %दलाWं
%क मEिे कभी तु-हािे >व|e Dक ?Aद भी मुंह से िहीं ििकाला? &;ि मE Jसे
दे वकु माि के -से चििM ि<िे वाले युवक का बु िा चेतूं, तो मुOसे ब\कि िा]सी
संसाि मे ि हो;ी4
ििमलम ा दे <ती !ी %क मंसािाम का =वा=‹य %दि-%दि >ब;8ता $ाता
ह7 , वह %दि-%दि दबु लम होता $ाता ह7 , उसके मु< की ििमलम कांित %दि-%दि
मिलि होती $ाती ह7 , उसका सहास बदि संकु िचत होता $ाता ह7 4 Fसका
काि भी उससे ि(पा ि !ा, पि वह Fस >व@य मे &पिे =वामी से कु ( ि
कह सकती !ी4 यह सब दे <-दे <कि उसका Tदय >वदी म होता िहता !ा, पि
उसकी $बाि ि <ुल सकती !ी4 वह कभी-कभी मि मे OुंOलाती %क
मंसािाम Nयो $िा-सी बात पि Fतिा ]ोभ किता ह7 ? Nया Fिके 0वािा
कहिे से वह 0वािा हो ;या? मेिी +ि बात ह7 , Dक $िा-सा ?क मेिा
सविम ा? कि सकता ह7 , पि उसे Jसी बातो की Fतिी Nया पिवाह?
सके $ी मे पबल F'(ा ह

" %क चलकि उ*हे चु प किाWं +ि लाकि
<ािा /<ला दं4ू बेचािे िात-भि भू<े प8े िहे ;े4 हाय4 मE Fस उप.व की
$8 ह

ं 4 मेिे 0िे के पहले Fस Xि मे ?ांित का िाKय !ा4 >पता बालको पि

61
$ाि दे ता !ा, बालक >पता को ^याि किते !े4 मेिे 0ते ही सािी बा5ाDं 0
<8ी ह

Œ4 Fिका &ं त Nया हो;ा? भ;वाि u ही $ािे4 भ;वाि u मुOे मGत भी
िहीं दे ते4 बेचािा &के ले भू<ो प8ा ह7 4 उस वy भी मुंह $ु Bा किके उB ;या
!ा4 +ि उसका 0हाि ही Nया ह7 , /$तिा वह <ाता ह7 , उतिा तो साल-दो-
साल के ब'चे <ा $ाते हE 4
ििमलम ा चली4 पित की F'(ा के >व|e चली4 $ो िाते मे उसका पुM
होता !ा, उसी को मिािे $ाते उसका Tदय कांप िहा !ा4 उसिे पहले
|/Nमी के कमिे की 6ि दे <ा, वह भो$ि किके बे<बि सो िही !ीं, %#ि
बाहि कमिे की 6ि ;यी4 वहां स*िा,ा !ा4 मुं?ी &भी ि 0ये !े4 यह
सब दे <-भालकि वह मंसािाम के कमिे के सामिे $ा पह

ं ची4 कमिा <ुला


0 !ा, मंसािाम Dक पु=तक सामिे ि<े मे$ पि िसि Oुकाये ब7 Bा ह

0
!ा, मािो ?ोक +ि िच*ता की स$ीव मूित म हो4 ििमलम ा िे पु काििा चाहा पि
उसके कं B से 0वा‡ ि ििकली4
सहसा मंसािाम िे िसि उBाकि Iाि की 6ि दे <ा4 ििमलम ा को
दे <कि &ं5ेिे मे पहचाि ि सका4 चfककि बोला-कGि?
ििमलम ा िे कांपते ह

D =वि मे कहा-मE तो ह

ं 4 भो$ि कििे Nयो िहीं
चल िहे हो? %कतिी िात ;यी4
मंसािाम िे मुंह #े िकि कहा-मुOे भू< िहीं ह7 4
ििमलम ा-यह तो मE तीि बाि भूं;ी से सुि चु की ह

ं 4
मंसािाम-तो चG!ी बाि मेिे मुंह से सुि ली/$D4
ििमलम ा-?ाम को भी तो कु ( िहीं <ाया !ा, भू< Nयो िहीं ल;ी?
मंसािाम िे 3यं Zय की हं सी हं सकि कहा-बह

त भू< ल;े;ी, तो 0ये;
कहां से?
यह कहते-कहते मंसािाम िे कमिे का Iाि बंद कििा चाहा, ले%कि
ििमलम ा %कवा8ो को ह,ाकि कमिे मे चली 0यी +ि मंसािाम का हा! पक8
स$ल िेMो से >विय-म5ुि =वि मे बोली-मेिे कहिे से चलकि !ो8ा-सा <ा
लो4 तुम ि <ा6;े, तो मE भी $ाकि सो िह

ं ;ी4 दो ही कGि <ा लेिा4 Nया
मुOे िात-भि भू<ो माििा चाहते हो?
मंसािाम सोच मे प8 ;या4 &भी भो$ि िहीं %कया, मेिे ही Fं त$ाि मे
ब7BC िहीं4 यह =िेह, वाPसVय +ि >विय की दे वी हE या ":या म +ि &मं ;ल
की माया>विी मूितम? उसे &पिी माता का =मि हो 0या4 $ब वह |B
62
$ाता !ा, तो वे भी Fसी तिह मिािे 0 किती !ीं +ि $ब तक वह ि
$ाता !ा, वहां से ि उBती !ीं4 वह Fस >विय को &=वीकाि ि कि सका4
बोला-मेिे िलD 0पको Fतिा कi ह

0, Fसका मुOे <ेद ह7 4 मE $ािता %क
0प मेिे Fं त$ाि मे भू<ी ब7BC हE , तो तभी <ा 0या होता4
ििमलम ा िे िति=काि-भाव से कहा-यह तुम क7 से समO सकते !े %क
तुम भू<े िहो;े +ि मE <ाकि सो िह

ं ;ी? Nया >वमाता का िाता होिे से ही
मE Jसी =वाि!िम ी हो $ाWं ;ी?
सहसा मदािम े कमिे मे मुं?ी$ी के <ांसिे की 0वा$ 0यी4 Jसा
मालूम ह

0 %क वह मंसािाम के कमिे की 6ि 0 िहे हE 4 ििमलम ा के चेहिे
का िं ; उ8 ;या4 वह तुिं त कमिे से ििकल ;यी +ि भीति $ािे का मGका
ि पाकि कBोि =वि मे बोली-मE लfHी िहीं ह

ं %क Fतिी िात तक %कसी के
िलD िसो" के Iाि पि ब7BC िह

ं 4 /$से ि <ािा हो, वह पहले ही कह %दया
किे 4
मुं?ी$ी िे ििमलम ा को वहां <8े दे <ा4 यह &ि!4म यह यहां Nया कििे
0 ;यी? बोले-यहां Nया कि िही हो?
ििमलम ा िे ककम ? =वि मे कहा-कि Nया िही ह

ं , &पिे भाZय को िो
िही ह

ं 4 बस, सािी बुिाFयो की $8 मE ही ह

ं 4 को" F5ि |Bा ह7 , को" उ5ि
मुंह #ु लाये <8ा ह7 4 %कस-%कस को मिाWं +ि कहां तक मिाWं 4
मुं?ी$ी कु ( च%कत होकि बोले-बात Nया ह7 ?
ििमलम ा-भो$ि कििे िहीं $ाते +ि Nया बात ह7 ? दस द#े महिी को
भे, 0/<ि 0प दG8ी 0यी4 F*हे तो Fतिा कह दे िा 0साि ह7 , मुOे भू<
िहीं ह7 , यहां तो Xि भि की लfHी ह

ं , सािी दिु िया मुंह मे कािल< पोतिे को
त7याि4 %कसी को भू< ि हो, पि कहिे वालो को यह कहिे से कGि िोके ;ा
%क >प?ािचिी %कसी को <ािा िहीं दे ती4
मुं?ी$ी िे मंसािाम से कहा-<ािा Nयो िहीं <ा लेते $ी? $ािते हो
Nया वy ह7 ?
मंसािाम /=P-भत-सा <8ा !ा4 उसके सामिे Dक Jसा िह=य हो िहा
!ा, /$सका मम म वह कु ( भी ि समO सकता!ा4 /$ि िेMो मे Dक ]
पहले >विय के 0ं सू भिे ह

D !े , उिमे &क=मात u ":या म की Kवाला कहां से
0 ;यी? /$ि &5िो से Dक ] पहले सु5ा-व>9 i हो िही !ी, उिमे से >व@
पवाह Nयो होिे ल;ा? उसी &5 म चेतिा की द?ा मे बोला-मुOे भू< िहीं ह7 4
63
मुं?ी$ी िे Xु8ककि कहा-Nयो भू< िहीं ह7 ? भू< िहीं !ी, तो ?ाम को
Nयो ि कहला %दया? तु-हािी भू< के Fं त$ाि मे कGि सािी िात ब7Bा िहे ?
तुममे पहले तो यह 0दत ि !ी4 |Bिा कब से सी< िलया? $ाकि <ा लो4
मंसािाम-$ी िहीं, मुOे $िा भी भू< िहीं ह7 4
तोतािाम-िे दांत पीसकि कहा-&'(C बात ह7 , $ब भू< ल;े तब <ािा4
यह कहते ह

D Dवह &ंदि चले ;ये4 ििमलम ा भी उिके पी(े ही चली ;यी4
मुं?ी$ी तो ले,िे चले ;ये, उसिे $ाकि िसो" उBा दी +ि कु Vलाकि, पाि
<ा मु=किाती ह

" 0 पह

ं ची4 मुं?ी$ी िे पू (ा-<ािा <ा िलया ि?
ििमलम ा-Nया किती, %कसी के िलD &*ि-$ल (ो8 दं;ू ी?
मुं?ी$ी-Fसे ि $ािे Nया हो ;या ह7 , कु ( समO मे िहीं 0ता? %दि-
%दि Xुलता चला $ाता ह7 , %दि भि उसी कमिे मे प8ा िहता ह7 4
ििमलम ा कु ( ि बोली4 वह िचंता के &पाि सा;ि मे Hु ब%कयां <ा िही
!ी4 मंसािाम िे मेिे भाव-पििवतिम को दे <कि %दल मे Nया-Nया समOा
हो;ा? Nया उसके मि मे यह प† उBा हो;ा %क >पता$ी को दे <ते ही Fसकी
Pयोिियं Nयो बदल ;यीं? Fसका काि भी Nया उसकी समO मे 0 ;या
हो;ा? बेचािा <ािे 0 िहा !ा, तब तक यह महा?य ि $ािे कहां से #,
प8े ? Fस िह=य को उसे क7 से समOाWं समOािा संभव भी ह7 ? मE %कस >वप>2
मे #ं स ;यी?
सवेिे वह उBकि Xि के काम-5ं 5े मे ल;ी4 सहसा िG ब$े भूं;ी िे
0कि कहा-मंसा बाबू तो &पिे का;$-प2ि सब FNके पि लाद िहे हE 4
भूं;ी-मEिे पू(ा तो बोले, &ब =कू ल मे ही िह

ं ;ा4
मंसािाम पात:काल उBकि &पिे =कू ल के हे Hमा=,ि साहब के पास
;या !ा +ि &पिे िहिे का पबं5 कि 0या !ा4 हे Hमा=,ि साहब िे पहले
तो कहा-यहां $;ह िहीं ह7 , तुमसे पहले के %कतिे ही ल8को के पा!िम ा-पM
पHे ह

D हE , ले%कि $ब मंसािाम िे कहा-मुOे $;ह ि िमले;ी, तो कदािचतu
मेिा प\िा ि हो सके +ि मE F-तहाि मे ?िीक ि हो सकूं , तो हे Hमा=,ि
साहब को हाि माििी प8ी4 मंसािाम के प!म 1े ी मे पास होिे की 0?ा
!ी4 &Yयापको को >वQास !ा %क वह उस ?ाला की कीित म को उK$वल
किे ;ा4 हे Hमा=,ि साहब Jसे ल8को को क7 से (ो8 सकते !े? उ*होिे &पिे
दkति का कमिा <ाली किा %दया4 FसीिलD मंसािाम वहां से 0ते ही &पिा
सामाि FNके पि लादिे ल;ा4
64
मुं?ी$ी िे कहा-&भी Jसी Nया $Vदी ह7 ? दो-चाि %दि मे चले $ािा4
मE चाहता ह

ं , तु-हािे िलD को" &'(ा सा िसोFया BCक कि दं4ू
मंसािाम-वहां का िसोFया बह

त &'(ा भो$ि पकाता ह7 4
मुं?ी$ी-&पिे =वा=‹य का Yयाि ि<िा4 Jसा ि हो %क प\िे के पी(े
=वा=‹य <ो ब7Bो4
मंसािाम-वहां िG ब$े के बाद को" प\िे िहीं पाता +ि सबको िियम
के सा! <ेलिा प8ता ह7 4
मुं?ी $ी->ब=ति Nयो (ो8 दे ते हो? सो6;े %कस पि?
मंसािाम-कं बल िलD $ाता ह

ं 4 >ब=ति $|ित िहीं4
मुं?ी $ी-कहाि $ब तक तु-हािा सामाि ि< िहा ह7 , $ाकि कु ( <ा
लो4 िात भी तो कु ( िहीं <ाया !ा4
मंसािाम-वहीं <ा लूं ;ा4 िसोFये से भो$ि बिािे को कह 0या ह

ं यहां
<ािे ल;ूं;ा तो दे ि हो;ी4
Xि मे /$यािाम +ि िसयािाम भी भा" के सा! $ािे के /$द कि िहे
!े ििमलम ा उि दोिो के बहला िही !ी-बे,ा, वहां (ो,े िहीं िहते, सब काम
&पिे ही हा! से कििा प8ता ह7 4
DकाDक |/Nमी िे 0कि कहा-तु-हािा वz का Tदय ह7 , महािाि4
ल8के िे िात भी कु ( िहीं <ाया, Fस वy भी >बिा <ाय-पीये चला $ा िहा
ह7 +ि तुम ल8को के िलD बाते कि िही हो? उसको तुम $ािती िहीं हो4
यह समO लो %क वह =कू ल िहीं $ा िहा ह7 , बिवास ले िहा ह7 , लG,कि %#ि
ि 0ये;ा4 यह उि ल8को मे िहीं ह7 , $ो <ेल मे माि भूल $ाते हE 4 बात
उसके %दल पि पP!ि की लकीि हो $ाती ह7 4
ििमलम ा िे काति =वि मे कहा-Nया क|ं , दीदी$ी? वह %कसी की सुिते
ही िहीं4 0प $िा $ाकि बुला ले4 0पके बुलािे से 0 $ाये;े4
|/Nमी- 0/<ि ह

0 Nया, /$स पि भा;ा $ाता ह7 ? Xि से उसका $ी
कभ उचा, ि होता !ा4 उसे तो &पिे Xि के िसवा +ि कहीं &'(ा ही ि
ल;ता !ा4 तु-हीं िे उसे कु ( कहा हो;ा, या उसकी कु ( ि?कायत की हो;ी4
Nयो &पिे िलD कां,े बो िही हो? िािी, Xि को िमa,ी मे िमलाकि च7 ि से ि
ब7Bिे पा6;ी4
65
ििमलम ा िे िोकि कहा-मEिे उ*हे कु ( कहा हो, तो मेिी $बाि क,
$ाये4 हां, सGतेली मां होिे के काि बदिाम तो ह

ं ही4 0पके हा! $ो8ती ह


$िा $ाकि उ*हे बुला लाFये4
|/Nमी िे तीq =वि मे कहा- तुम Nयो िहीं बुला लातीं? Nया (ो,ी
हो $ा6;ी? &पिा होता, तो Nया Fसी तिह ब7BC िहती?
ििमलम ा की द?ा उस पं<हीि प]ी की तिह हो िही !ी, $ो सप म को
&पिी 6ि 0ते दे < कि उ8िा चाहता ह7 , पि उ8 िहीं सकता, उ(लता ह7
+ि ि;ि प8ता ह7 , पं < #8#8ाकि िह $ाता ह7 4 उसका Tदय &ंदि ही &ं दि
त8प िहा !ा, पि बाहि ि $ा सकती !ी4
Fतिे मे दोिो ल8के 0कि बोले-भ7या$ी चले ;ये4
ििमलम ा मूितवम त u <8ी िही, मािो संRाहीि हो ;यी हो4 चले ;ये ? Xि
मे 0ये तक िहीं, मुOसे िमले तक िहीं चले ;ये4 मुOसे Fतिी X9 ा4 मE
उिकी को" ि सही, उिकी बु0 तो !ीं4 उिसे तो िमलिे 0िा चा%हD !ा?
मE यहां !ी ि4 &ंदि क7 से कदम ि<ते? मE दे < लेती ि4 FसीिलD चले ;ये4
िG
सािाम के $ािे से Xि सूिा हो ;या4 दोिो (ो,े ल8के उसी =कू ल मे
प\ते !े4 ििमलम ा िो$ उिसे मंसािाम का हाल पू(ती4 0?ा !ी %क
(ु a,ी के %दि वह 0ये;ा, ले%कि $ब (ु a,ी के %दि ;ु $ि ;ये +ि वह ि
0या, तो ििमलम ा की तबीयत Xबिािे ल;ी4 उसिे उसके िलD मूं ; के ल{Hू
बिा ि<े !े4 सोमवाि को पात: भूं;ी का ल{Hू दे कि मदिसे भे$ा4 िG ब$े
भूं;ी लG, 0यी4 मंसािाम िे ल{Hू Kयो-के -Pयो लG,ा %दये !े4
मं
ििमलम ा िे पू (ा-पहले से कु ( हिे ह

D हE , िे ?
भूं;ी-हिे -विे तो िहीं ह

D, +ि सू< ;ये हE 4
ििमलम ा- Nया $ी &'(ा िहीं ह7 ?
भूं;ी-यह तो मEिे िहीं पू (ा बह

$ी, OूB Nयो बोलूं? हां, वहां का कहाि
मेिा दे वि ल;ता ह7 4 वह कहता !ा %क तु-हािे बाबू $ी की <ु िाक कु ( िहीं
ह7 4 दो #ु ल%कयां <ाकि उB $ाते हE , %#ि %दि भि कु ( िहीं <ाते4 हिदम
प\ते िहते हE 4
ििमलम ा-तूिे पू(ा िहीं, ल{Hू Nयो लG,ाये दे ते हो?
66
भूं;ी- बह

$ी, OूB Nयो बोलूं? यह पू (िे की तो मुOे सु 5 ही ि िही4 हां ,
यह कहते !े %क &ब तू यहां कभी ि 0िा, ि मेिे िलD को" ची$ लािा
+ि &पिी बह

$ी से कह दे िा %क मेिे पास को" िचaBC-प2िी ि भे$े4
ल8को से भी मेिे पास को" संदे ?ा ि भे$े +ि Dक Jसी बात कही %क मेिे
मुंह से ििकल िहीं सकती, %#ि िोिे ल;े4
ििमलम ा-कGि बात !ी कह तो?
भूं;ी-Nया कह

ं कहते !े मेिे $ीिे को 5ीNकाि ह7 ? यही कहकि िोिे
ल;े4
ििमलम ा के मुंह से Dक Bं Hी सांस ििकल ;यी4 Jसा मालूम ह

0, मािो
कले$ा ब7 Bा $ाता ह7 4 उसका िोम-िोम 0तिम ाद कििे ल;ा4 वह वहां ब7BC ि
िह सकी4 $ाकि >ब=ति पि मुंह Sांपकि ले, िही +ि #ू ,-#ू ,कि िोिे
ल;ी4 mवह भी $ाि ;येw4 उसके &*त:कि मे बाि-बाि यही 0वा‡ ;ूं $िे
ल;ी-‘वह भी $ाि ;येw4 भ;वाि u &ब Nया हो;ा? /$स संदे ह की 0; मे
वह भ=म हो िही !ी, &ब ?त;ु वे; से 55किे ल;ी4 उसे &पिी को"
िचंता ि !ी4 $ीवि मे &ब सु< की Nया 0?ा !ी, /$सकी उसे लालसा
होती? उसिे &पिे मि को Fस >वचाि से समOाया !ा %क यह मेिे पू व म कमl
का पाय/`त ह7 4 कGि पाी Jसा ििलKम $ हो;ा, $ो Fस द?ा मे बह

त %दि
$ी सके ? क23म य की वेदी पि उसिे &पिा $ीवि +ि उसकी सािी कामिाDं
होम कि दी !ीं4 Tदय िोता िहता !ा, पि मु< पि हं सी का िं ; भििा प8ता
!ा4 /$सका मुंह दे <िे को $ी ि चाहता !ा, उसके सामिे हं स-हं सकि बाते
कििी प8ती !ीं4 /$स दे ह का =प? म उसे सप म के ?ीतल =प? म के समाि
ल;ता !ा, उससे 0िलंि;त होकि उसे /$तिी X9 ा, /$तिी ममवम ेदिा होती
!ी, उसे कGि $ाि सकता ह7 ? उस समय उसकी यही F'(ा !ी %क 5िती #,
$ाये +ि मE उसमे समा $ाWं 4 ले%कि सािी >वH-बिा &ब तक &पिे ही
तक !ी4 &पिी िचंता उसि (ो8 दी !ी, ले%कि वह सम=या &ब &Pयंत
भयंकि हो ;यी !ी4 वह &पिी 0ं <ो से मंसािाम की 0Pमपी8ा िहीं दे <
सकती !ी4 मंसािाम $7से मि=वी, साहसी युवक पि Fस 0]ेप का $ो &सि
प8 सकता !ा, उसकी कVपिा ही से उसके पा कांप उBते !े4 &ब चाहे
उस पि %कतिे ही संदे ह Nयो ि हो, चाहे उसे 0PमहPया ही Nयो ि कििी
प8े , पि वह चु प िहीं ब7 B सकती4 मंसािाम की ि]ा कििे के िलD वह
67
>वकल हो ;यी4 उसिे सं कोच +ि लK$ा की चादि उतािकि #े क दे िे का
िि`य कि िलया4
वकील साहब भो$ि किके कचहिी $ािे के पहले Dक बाि उससे
&वcय िमल िलया किते !े4 उिके 0िे का समय हो ;या !ा4 0 ही िहे
हो;े, यह सोचकि ििमलम ा Iाि पि <8ी हो ;यी +ि उिका Fं त$ाि कििे
ल;ी ले%कि यह Nया? वह तो बाहि चले $ा िहे ह7 4 ;ा8ी $ु तकि 0 ;यी,
यह ह

Nम वह यहीं से %दया किते !े4 तो Nया 0$ वह ि 0ये;े , बाहि-ही-
बाहि चले $ाये;े4 िहीं, Jसा िहीं होिे पाये;ा4 उसिे भूं;ी से कहा-$ाकि
बाबू $ी को बुला ला4 कहिा, Dक $|िी काम ह7 , सुि ली/$D4
मुं?ी$ी $ािे को त7याि ही !े4 यह संदे ?ा पाकि &ं दि 0ये, पि कमिे
मे ि 0कि दिू से ही पू (ा-Nया बात ह7 भा"? $Vदी कह दो, मुOे Dक $|िी
काम से $ािा ह7 4 &भी !ो8ी दे ि ह

", हे Hमा=,ि साहब का Dक पM 0या ह7
%क मंसािाम को Kवि 0 ;या ह7 , बेहति हो %क 0प Xि ही पि उसका
Fला$ किे 4 FसिलD उ5ि ही से हाता ह

0 कचहिी $ाWं ;ा4 तु-हे को" <ास
बात तो िहीं कहिी ह7 4
ििमलम ा पि मािो वz ि;ि प8ा4 0ं सु6ं के 0वे; +ि कं B-=वि मे
Xोि संsाम होिे ल;ा4 दोिो पहले ििकलिे पि तुले ह

D !े4 दो मे से को"
Dक कदम भी पी(े ह,िा िहीं चाहता !ा4 कं B-=वि की दबु लम ता +ि
0ंसु6ं की सबलता दे <कि यह िि`य कििा क%Bि िहीं !ा %क Dक ]
यही संsाम होता िहा तो म7दाि %कसके हा! िहे ;ा4 &<ीि दोिो सा!-सा!
ििकले, ले%कि बाहि 0ते ही बलवाि िे ििबलम को दबा िलया4 के वल Fतिा
मुंह से ििकला-को" <ास बात िहीं !ी4 0प तो उ5ि $ा ही िहे हE 4
मुं?ी$ी- मEिे ल8को पू (ा !ा, तो वे कहते !े, कल ब7Bे प\ िहे !े, 0$
ि $ािे Nया हो ;या4
ििमलम ा िे 0वे? से कांपते ह

D कहा-यह सब 0प कि िहे हE
मुं?ी$ी िे Pयोिियां बदलकि कहा-मE कि िहा ह

ं ? मE Nया कि िहा ह

ं ?
ििमलम ा-&पिे %दल से पूि(D4
मुं?ी$ी-मEिे तो यही सोचा !ा %क यहां उसका प\िे मे $ी िहीं
ल;ता, वहां +ि ल8को के सा! <ामा_वह प\े ;ा ही4 यह तो बु िी बात ि
!ी +ि मEिे Nया %कया?
68
ििमलम ा-<ू ब सोिचD, FसीिलD 0पिे उ*हे वहां भे$ा !ा? 0पके मि
मे +ि को" बात ि !ी4
मुं?ी$ी $िा %हच%कचाD +ि &पिी दबु लम ता को ि(पािे के िलD
मु=किािे की चेiा किके बोले-+ि Nया बात हो सकती !ी? भला तु-हीं
सोचो4
ििमलम ा-<7ि, यही सही4 &ब 0प क9 पा किके उ*हे 0$ ही लेते
0Fये;ा, वहां िहिे से उिकी बीमािी ब\ $ािे का भय ह7 4 यहां दीदी$ी
/$तिी तीमािदािी कि सकती हE , दसू िा िहीं कि सकता4
Dक ] के बाद उसिे िसि िीचा किके कहा-मेिे काि ि लािा
चाहते हो, तो मुOे Xि भे$ दी/$D4 मE वहां 0िाम से िह

ं ;ी4
मुं?ी$ी िे Fसका कु ( $वाब ि %दया4 बाहि चले ;ये , +ि Dक ]
मे ;ा8ी =कू ल की 6ि चली4
मि4 तेिी ;ित %कतिी >विचM ह7 , %कतिी िह=य से भिी ह

", %कतिी
दभु nr 4 तू %कतिी $Vद िं ; बदलता ह7 ? Fस कला मे तू ििपु ह7 4
0ित?बा$ी की च<d को भी िं ; बदलते कु ( दे िी ल;ती ह7 , पि तुOे िं ;
बदलिे मे उसका ल]ां? समय भी िहीं ल;ता4 $हां &भी वाPसVय !ा, वहां
%#ि संदे ह िे 0सि $मा िलया4
वह सोचते !े-कहीं उसिे बहािा तो िहीं %कया ह7 ?
दस
सािाम दो %दि तक ;हिी िचंता मे Hूबा िहा4 बाि-बाि &पिी माता की
याद 0ती, ि <ािा &'(ा ल;ता, ि प\िे ही मे $ी ल;ता4 उसकी
कायापल,-सी हो ;"4 दो %दि ;ु $ि ;ये +ि (ाMालय मे िहते ह

D भी
उसिे वह काम ि %कया, $ो =कू ल के मा=,िो िे Xि से कि लािे को %दया
!ा4 पििाम =व|प उसे बेच पि <8ा िहिा प8ा4 $ो बात कभी ि ह

" !ी,
वह 0$ हो ;"4 यह &स„ &पमाि भी उसे सहिा प8ा4
मं
तीसिे %दि वह F*हीं िचंता6ं मे मZि ह

0 &पिे मि को समOा िहा
!ा-कहा संसाि मे &के ले मेिी ही माता मिी ह7 ? >वमाताDं तो सभी Fसी पकाि
की होती हE 4 मेिे सा! को" ि" बात िहीं हो िही ह7 4 &ब मुOे पु|@ो की
भांित %I;ु पिि1म से &पिा म कििा चा%हD, $7 से माता->पता िा$ी िहे ,
69
व7से उ*हे िा$ी ि<िा चा%हD4 Fस साल &;ि (ाMवि9 त िमल ;", तो मुOे
Xि से कु ( लेिे की $|ित ही ि िहे ;ी4 %कतिे ही ल8के &पिे ही बल पि
ब8ी-ब8ी उपाि5यां पाo कि लेते हE 4 भा;य के िाम को िोिे-कोसिे से Nया
हो;ा4
Fतिे मे /$यािाम 0कि <8ा हो ;या4
मंसािाम िे पू (ा-Xि का Nया हाल ह7 /$या? ि" &-मां$ी तो बह


पस*ि हो;ी?
/$यािाम-उिके मि का हाल तो मE िहीं $ािता, ले%कि $ब से तुम
0ये हो, उ*होिे Dक $ू ि भी <ािा िहीं <ाया4 $ब दे <ो, तब िोया किती
हE 4 $ब बाबू$ी 0ते हE , तब &लब2ा हं सिे ल;ती हE 4 तुम चले 0ये तो मEिे
भी ?ाम को &पिी %कताबे संभाली4 यहीं तु-हािे सा! िहिा चाहता !ा4
भूं;ी चु 87 ल िे $ाकि &-मां$ी से कह %दया4 बाबू $ी ब7Bे !े , उिके सामिे ही
&-मां$ी िे 0कि मेिी %कताबे (Cि लीं +ि िोकि बोलीं, तुम भी चले
$ा6;े, तो Fस Xि मे कGि िहे ;ा? &;ि मेिे काि तुम लो; Xि (ो8-
(ो8कि भा;े $ा िहे तो लो, मE ही कहीं चली $ाती ह

ं 4 मE तो OVलाया ह

0
!ा ही, वहां &ब बाबू $ी भी ि !े, >ब;8कि बोला, 0प Nयो कहीं चली
$ाये;ी? 0पका तो Xि ह7 , 0प 0िाम से ि%हD4 ;7ि तो हमीं लो; हE , हम ि
िहे ;े, तब तो 0पको 0िाम-0िाम ही हो;4
मंसािाम-तुमिे <ूब कहा, बह

त ही &'(ा कहा4 Fस पि +ि भी
OVला" हो;ी +ि $ाकि बाबू $ी से ि?कायत की हो;ी4
/$यािाम-िहीं, यह कु ( िहीं ह

04 बेचािी $मीि पि ब7Bकि िोिे
ल;ीं4 मुOे भी क|ा 0 ;यी4 मE भी िो प8ा4 उ*होिे 0ंचल से मेिे 0ंसू
पो(े +ि बोलीं, /$या4 मE "Qि को सा]ी दे कि कहती ह

ं %क मEिे तु-हािे
भ7या के F>व@य मे तु-हािे बाबू $ी से Dक ?Aद भी िहीं कहा4 मेिे भा; मे
कलंक िल<ा ह

0 ह7 , वही भा; िही ह

ं 4 %#ि +ि ि $ािे Nया-Nया कहा, $ा
मेिी समO मे िहीं 0या4 कु ( बाबु$ी की बात !ी4
मंसािाम िे उ%IZिता से पू(ा-बाबू$ी के >व@य मे Nया कहा? कु ( याद
ह7 ?
/$यािाम-बाते तो भ", मुOे याद िहीं 0ती4 मेिी mमेमोिीw कGि ब8ी
ते ह7 , ले%कि उिकी बातो का मतलब कु ( Jसा मालूम होता !ा %क उ*हे
बाबू $ी को पस*ि ि<िे के िलD यह =वां; भििा प8 िहा ह7 4 ि $ािे 5मम-
70
&5म म की क7 सी बाते किती !ीं $ो मE >बVकु ल ि समO सका4 मुOे तो &ब
Fसका >वQास 0 ;या ह7 %क उिकी F'(ा तु-हे यहां भे$ि की ि !ी4
मंसािाम- तुम Fि चालो का मतलब िहीं समO सकते4 ये ब8ी ;हिी
चाले हE 4
/$यािाम- तु-हािी समO मे हो;ी, मेिी समO मे िहीं हE 4
मंसािाम- $ब तुम Kयोमे•ी िहीं समO सकते, तो Fि बातो को Nया
समO सको;े? उस िात को $ब मुOे <ािा <ािे के िलD बुलािे 0यी !ीं
+िउिके 0sह पि मE $ािे को त7याि भी हो ;या !ा, उस वy बाबू $ी को
दे <ते ही उ*होिे $ो कE Hा बदला, वह Nया मE कभी भी भूल सकता ह

ं ?
/$यािाम-यही बात मेिी समO मे िहीं 0ती4 &भी कल ही मE यहां
से ;या, तो ल;ीं तु-हािा हाल पू (िे4 मEिे कहा, वह तो कहते !े %क &ब
कभी Fस Xि मे कदम ि ि<ूं ;ा4 मEिे कु ( OूB तो कहा िहीं , तुमिे मुOसे
कहा ही !ा4 Fतिा सुििा !ा %क #ू ,-#ू ,कि िोिे ल;ीं मE %दल मे बह


प(ताया %क कहां-से-कहां मEिे यह बात कह दी4 बाि-बाि यही कहती !ीं,
Nया वह मेिे काि Xि (ो8 दे ;े? मुOसे Fतिे िािा$ ह7 4? चले ;ये +ि
मOसे िमले तक िहीं4 <ािा त7याि !ा, <ािे तक िहीं 0ये4 हाय4 मE Nया
बताWं , %कस >वप>2 मे ह

ं 4 Fतिे मे बाबू $ी 0 ;ये4 बस तुि*त 0ं<े
पो(कि मु=कु िाती ह

" उिके पास चली ;"4 यह बात मेिी समO मे िहीं
0ती4 0$ मुOे ब8ी िम*ित की %क उिको सा! लेते 0िा4 0$ मE
तु-हे <ींच ले चलूं ;ा4 दो %दि मे वह %कतिी दबु ली हो ;यी हE , तु-हे यह
दे <कि उि पि दया 0यी4 तो चलो;े ि?
मंसािाम िे कु ( $वाब ि %दया4 उसके प7ि कांप िहे !े4 /$यािाम तो
हा/$िी की Xं,ी सुिकि भा;ा, पि वह बेच पि ले, ;या +ि Fतिी ल-बी
सांस ली, मािो बह

त दे ि से उसिे सांस ही िहीं ली ह7 4 उसके मु< से द=ु सह
वेदिा मे Hूबे ह

D ?Aद ििकले -हाय "Qि4 Fस िाम के िसवा उसे &पिा
$ीवि िििा5ाि मालूम होता !ा4 Fस Dक उ'(वास मे %कतिा ि7 िाcय !ा,
%कतिी संवेदिा, %कतिी क|ा, %कतिी दीि-पा!िम ा भिी ह

" !ी, Fसका कGि
&िुमाि कि सकता ह7 4 &ब सािा िह=य उसकी समO मे 0 िहा !ा +ि
बाि-बाि उसका पी%8त Tदय 0तिम ाद कि िहा !ा-हाय "Qि4 Fतिा Xोि
कलंक4
71
Nया $ीवि मे Fससे ब8ी >वप>2 की कVपिा की $ा सकती ह7 ? Nया
संसाि मे Fससे Xोितम िीचता की कVपिा हो सकती ह7 ? 0$ तक %कसी
>पता िे &पिे पुM पि Fतिा ििदम य कलंक ि ल;ाया हो;ा4 /$सके चििM
की सभी प?ंसा किते !े, $ो &*य युवको के िलD 0द? म समOा $ाता !ा,
/$सिे कभी &प>वM >वचािो को &पिे पास िहीं #,किे %दया, उसी पि यह
Xोितम कलंक4 मंसािाम को Jसा मालूम ह

0, मािो उसका %दल #,ा $ाता
ह7 4
दसू िी Xं,ी भी ब$ ;"4 ल8के &पिे-&पिे कमिे मे ;D, पि मंसािाम
ह!ेली पि ;ाल ि<े &ििमे@ िेMो से भूिम की 6ि दे < िहा !ा, मािो
उसका सव=म व $लमZि हो ;या हो, मािो वह %कसी को मुंह ि %द<ा सकता
हो4 =कू ल मे ;7िहा/$िी हो $ाये;ी, $ु मािम ा हो $ाये;ा, Fसकी उसे िचंता िहीं,
$ब उसका सव=म व लु, ;या, तो &ब Fि (ो,ी-(ो,ी बातो का Nया भय?
Fतिा ब8ा कलंक ल;िे पि भी &;ि $ीता िह

ं , तो मेिे $ीिे को ि5Nकाि
ह7 4
उसी ?ोकाितिे क द?ा मे वह िचVला प8ा-माता$ी4 तुम कहां हो?
तु-हािा बे,ा, /$स पि तुम पा दे ती !ीं , /$से तुम &पिे $ीवि का 05ाि
समOती !ीं, 0$ Xोि संक, मे ह7 4 उसी का >पता उसकी ;दम ि पि (ु िी #े ि
िहा ह7 4 हाय, तुम हो?
मंसािाम %#ि ?ांतिच2 से सोचिे ल;ा-मुO पि यह संदे ह Nयो हो िहा
ह7 ? Fसका Nया काि ह7 ? मुOमे Jसी कGि-सी बात उ*होिे दे <ी, /$ससे उ*हे
यह संदे ह ह

0? वह हमािे >पता हE , मेिे ?Mु िहीं ह7 , $ो &िायास ही मO पि
यह &पिा5 ल;ािे ब7 B $ाये4 $|ि उ*होिे को"-को" बात दे <ी या सुिी ह7 4
उिका मुO पि %कतिा =िेह !ा4 मेिे ब;7ि भो$ि ि किते !े , वही मेिे ?Mु
हो $ाये, यह बात &काि िहीं हो सकती4
&'(ा, Fस संदे ह का बी$ािोप %कस %दि ह

0? मुOे बो%H• ; हाउस
मे Bहिािे की बात तो पी(े की ह7 4 उस %दि िात को वह मेिे कमिे मे
0कि मेिी पिी]ा लेिे ल;े !े, उसी %दि उिकी Pयोिियां बदली ह

Œ !ीं4 उस
%दि Jसी कGि-सी बात ह

", $ो &>पय ल;ी हो4 मE ि" &-मां से कु ( <ािे
को मां;िे ;या !ा4 बाबू$ी उस समय वहां ब7Bे !े4 हां, &ब याद 0ती ह7 ,
उसी वy उिका चेहिा तमतमा ;या !ा4 उसी %दि से ि" &-मां िे मुOसे
प\िा (ो8 %दया4 &;ि मE $ािता %क मेिा Xि मे 0िा-$ािा, &-मां$ी से
72
कु ( कहिा-सुििा +ि उ*हे प\ािा-िल<ािा >पता$ी को बु िा ल;ता ह7 , तो
0$ Nयो यह िGबत 0ती? +ि ि" &-मां4 उि पि Nया बीत िही हो;ी?
मंसािाम िे &ब तक ििमलम ा की 6ि Yयाि िहीं %दया !ा4 ििमलम ा
का Yयाि 0ते ही उसके िोये <8े हो ;ये4 हाय उिका सिल =िेह?ील Tदय
यह 0Xात क7 से सह सके ;ा? 0ह4 मE %कतिे ˆम मे !ा4 मE उिके =िेह को
कG?ल समOता !ा4 मुOे Nया मालूम !ा %क उ*हे >पता$ी का ˆम ?ांत
कििे के िलD मेिे पित Fतिा क,ु 3यवहाि कििा प8ता ह7 4 0ह4 मEिे उि
पि %कतिा &*याय %कया ह7 4 उिकी द?ा तो मुOसे भी <िाब हो िही हो;ी4
मE तो यहां चला 0य, म;ि वह कहां $ाये;ी? /$या कहता !ा, उ*होिे दो
%दि से भो$ि िहीं %कया4 हिदम िोया किती हE 4 क7 से $ाकि समOाWं 4 वह
Fस &भा;े के पी(े Nयो &पिे िसि यह >वप>2 ले िही हE ? वह बाि-बाि मेिा
हाल पू(ती हE ? Nयो बाि-बाि मुOे बुलाती हE ? क7 से कह दं ू %क माता मुOे
तुमसे $िा भी ि?कायत िहीं, मेिा %दल तु-हािी ति# से सा# ह7 4
वह &ब भी ब7 BC िो िही हो;ी4 %कतिा ब8ा &ि! म ह7 4 बाबू $ी को यह
Nया हो िहा ह7 ? Nया FसीिलD >ववाह %कया !ा? Dक बािलका की हPया कििे
के िलD ही उसे लाये !े? Fस कोमल पु:प को मसल Hालिे के िलD ही तो8ा
!ा4
उिका उIाि क7 से हो;ा4 उस िििपिाि5िी का मु< क7 स उK$वल
हो;ा? उ*हे के वल मेिे सा! =िेह का 3यवहाि कििे के िलD यह दं H %दया
$ा िहा ह7 4 उिकी सK$िता का उ*हे यह उपहाि िमल िहा ह7 4 मE उ*हे Fस
पकाि ििदम य 0Xात सहते दे <कि ब7Bा िह

ं ;ा? &पिी माि-ि]ा के िलD ि
सही, उिकी 0Pम-ि]ा के िलD Fि पाो का बिलदाि कििा प8े ;ा4 Fसके
िसवाय उeाि का का" उपाय िहीं4 0ह4 %दल मे क7 से-क7 से &िमाि !े4 वे
सब <ाक मे िमला दे िे हो;े4 Dक सती पि संदे ह %कया $ा िहा ह7 +ि मेिे
काि4 मुOे &पिी पाो से उिकी ि]ा कििी हो;ी, यही मेिा क23म य ह7 4
Fसी मे स'ची वीिता ह7 4 माता, मE &पिे िy से Fस कािलमा को 5ो दं ;ू ा4
Fसी मे मेिा +ि तु-हािा दोिो का कVया ह7 4
वह %दि भि F*हीं >वचािो मे Hूबा िहा4 ?ाम को उसके दोिो भा"
0कि Xि चलिे के िलD 0sह कििे ल;े4
िसयािाम-चलते Nयां िही? मेिे भ7या$ी, चले चलो ि4
मंसािाम-मुOे #ु िसत िहीं ह7 %क तु-हािे कहिे से चला चलूं4
73
/$यािाम-0/<ि कल तो Fतवाि ह7 ही4
मंसािाम-Fतवाि को भी काम ह7 4
/$यािाम-&'(ा, कल 00;े ि?
मंसािाम-िहीं, कल मुOे Dक म7च मे $ािा ह7 4
िसयािाम-&-मां$ी मूं; के ल{Hू बिा िही हE 4 ि चलो;े तो Dक भी
पा0;े4 हम तुम िमल के <ा $ाये;े, /$या F*हे ि दे ;े4
/$यािाम-भ7या, &;ि तुम कल ि ;ये तो ?ायद &-मां$ी यहीं चली
0ये4
मंसािाम-सच4 िहीं Jसा Nयो किे ;ी4 यहां 0यीं, तो ब8ी पिे ?ािी
हो;ी4 तुम कह दे िा, वह कहीं म7 च दे <िे ;ये हE 4
/$यािाम-मE OूB Nयो बोलिे ल;ा4 मE कह दं ;ू ा, वह मुंह #ु लाये ब7Bे
!े4 दे < ले उ*हे सा! लाता ह

ं %क िहीं4
िसयािाम-हम कह दे ;े %क 0$ प\िे िहीं ;ये4 प8े -प8े सोते िहे 4
मंसािाम िे Fि दतू ो से कल 0िे का वादा किके ;ला (ु 8ाया4 $ब
दोिो चले ;ये, तो %#ि िचंता मे Hूबा4 िात-भि उसे किव,े बदलते ;ु $िी4
(ु a,ी का %दि भी ब7Bे -ब7 Bे क, ;या, उसे %दि भि ?ंका होती िहती %क कहीं
&-मां$ी सचमुच ि चली 0ये4 %कसी ;ा8ी की <8<8ाह, सुिता, तो
उसका कले$ा 5क5क कििे ल;ता4 कहीं 0 तो िहीं ;यीं?
(ाMालय मे Dक (ो,ा-सा +@5ालय !ा4 Dक HांN,ि साहब संYया
समय Dक X[,े के िलD 0 $ाया किते !े4 &;ि को" ल8का बीमाि होता
तो उसे दवा दे ते4 0$ वह 0ये तो मंसािाम कु ( सोचता ह

0 उिके पास
$ाकि <8ा हो ;या4 वह मंसािाम को &'(C तिह $ािते !े4 उसे दे <कि
0`य म से बोले-यह तु-हािी Nया हालत ह7 $ी? तुम तो मािो ;ले $ा िहे हो4
कहीं बा$ाि का का च=का तो िहीं प8 ;या? 0/<ि तु-हे ह

0 Nया? $िा
यहां तो 064
मंसािाम िे मु=किाकि कहा-मुOे /$*द;ी का िो; ह7 4 0पके पास
Fसकी भी तो को" दवा ह7 ?
HाN,ि-मE तु-हािी पिी]ा कििा चाहता ह

ं 4 तु-हािी सूित ही बदल ;यी
ह7 , पहचािे भी िहीं $ाते4
74
यह कहकि, उ*होिे मंसािाम का हा! पक8 िलया +ि (ाती, पीB,
0ं<े, $ीभ सब बािी-बािी से दे <ीं4 तब िचंितत होकि बोले -वकील साहब से
मE 0$ ही िमलूं;ा4 तु-हे !ाFिसस हो िहा ह7 4 सािे ल] उसी के हE 4
मंसािाम िे ब8ी उPसुकता से पू(ा-%कतिे %दिो मे काम तमाम हो
$ाये;ा, HN,ि साहब?
HाN,ि-क7 सी बात किते हो $ी4 मE वकील साहब से िमलकि तु-हे
%कसी पहा8ी $;ह भे$िे की सलाद दं;ू ा4 "Qि िे चाहा, तो बह

त $Vद
&'(े हो $ा6;े4 बीमािी &भी पहले =,े $ मे ह7 4
मंसािाम-तब तो &भी साल दो साल की दे ि मालूम होती ह7 4 मE तो
Fतिा Fं त$ाि िहीं कि सकता4 सुििD, मुOे !ायिसस-वायिसस कु ( िहीं ह7 ,
ि को" दसू िी ि?कायत ही ह7 , 0प बाबू$ी को िाहक ति.ददु मे ि
HािलD;ा4 Fस वy मेिे िसि मे ददम ह7 , को" दवा दी/$D4 को" Jसी दवा हो,
/$ससे िींद भी 0 $ाये4 मुOे दो िात से िींद िहीं 0ती4
H‚N,ि िे $हिीली दवाFयो की 0लमािी <ोली +ि ?ी?ी से !ो8ी सी
दवा ििकालकि मंसािाम को दी4 मंसािाम िे पू(ा-यह तो को" $हि ह7 भला
Fस को" पी ले तो मि $ाये?
H‚N,ि-िहीं, मि तो िहीं $ाये, पि िसि मे चNकि $Uि 0 $ाये4
मंसािाम-को" Jसी दवा भी Fसमे ह7 , /$से पीते ही पा ििकल $ाये?
H‚N,ि-Jसी Dक-दो िहीं %कतिी ही दवाDं हE 4 यह $ो ?ी?ी दे < िहे
हो, Fसकी Dक बूंद भी पे, मे चली $ाये, तो $ाि ि बचे4 0िि-#ािि मे
मGत हो $ाये4
मंसािाम-Nयो H‚N,ि साहब, $ो लो; $हि <ा लेते हE , उ*हे ब8ी
तकली# होती हो;ी?
H‚N,ि-सभी $हिो मे तकली# िहीं होती4 बा$ तो Jसे हE %क पीते ही
0दमी Bं Hा हो $ाता ह7 4 यह ?ी?ी Fसी %क=म की ह7 , Fस पीते ही 0दमी
बेहो? हो $ाता ह7 , %#ि उसे हो? िहीं 0ता4
मंसािाम िे सोचा-तब तो पा दे िा बह

त 0साि ह7 , %#ि Nयो लो;
Fतिा Hिते हE ? यह ?ी?ी क7 से िमले;ी? &;ि दवा का िाम पू (कि ?हि के
%कसी दवा-#िो? से लेिा चाह

ं , तो वह कभी ि दे ;ा4 Wं ह, Fसे िमलिे मे को"
%दNकत िहीं4 यह तो मालूम हो ;या %क पाो का &*त ब8ी 0सािी से
%कया $ा सकता ह7 4 मंसािाम Fतिा पस*ि ह

0, मािो को" Fिाम पा ;या
75
हो4 उसके %दल पि से बोO-सा ह, ;या4 िचंता की मेX-िाि? $ो िसि पि
मंHिा िही !ी, ि(*ि-िभ*ि u हो ;यी4 महीिो बाद 0$ उसे मि मे Dक
=#ू ित म का &िु भव ह

04 ल8के ि!ये,ि दे <िे $ा िहे !े, िििी]क से 0Rा
ले ली !ी4 मंसािाम भी उिके सा! ि!ये,ि दे <िे चला ;या4 Jसा <ु? !ा,
मािो उससे Kयादा सु<ी $ीव संसाि मे को" िहीं ह7 4 ि!ये,ि मे िकल
दे <कि तो वह हं सते-हं सते लो, ;या4 बाि-बाि तािलयां ब$ािे +ि mव*स
मोिw की हांक ल;ािे मे पहला ि-बि उसी का !ा4 ;ािा सुिकि वह म=त
हो $ाता !ा, +ि m6हो हो4 किके िचVला उBता !ा4 द?कम ो की िि;ाहे
बाि-बाि उसकी ति# उB $ाती !ीं4 ि!ये,ि के पाM भी उसी की 6ि ताकते
!े +ि यह $ाििे को उPसुक !े %क कGि महा?य Fतिे ििसक +ि भावु क
हE 4 उसके िमMो को उसकी उ'(9 ं <लता पि 0`य म हो िहा !ा4 वह बह

त ही
?ांतिच2, ;-भीि =वभाव का युवक !ा4 0$ वह Nयो Fतिा हा=य?ील हो
;या ह7 , Nयो उसके >विोद का पािावाि िहीं ह7 4
दो ब$े िात को ि!ये,ि से लG,िे पि भी उसका हा=यो*माद कम िहीं


04 उसिे Dक ल8के की चािपा" उल, दी, क" ल8को के कमिे के Iाि
बाहि से बंद कि %दये +ि उ*हे भीति से <,-<, किते सुिकि हं सता िहा4
यहां तक %क (ाMालय के &Yय] महोदय किी िींद मे भी ?ोि;ुल सुिकि
<ुल ;यी +ि उ*होिे मंसािाम की ?िाित पि <ेद पक, %कया4 कGि
$ािता ह7 %क उसके &*त:=!ल मे %कतिी भी@ pांित हो िही ह7 ? संदे ह के
ििदम य 0Xात िे उसकी लK$ा +ि 0Pमस-माि को कु चल Hाला ह7 4 उसे
&पमाि +ि िति=काि का ले?माM भी भय िहीं ह7 4 यह >विोद िहीं , उसकी
0Pमा का क| >वलाप ह7 4 $ब +ि सब ल8के सो ;ये , तो वह भी चािपा"
पि ले,ा, ले%कि उसे िींद िहीं 0यी4 Dक ] के बाद वह ब7 Bा +ि &पिी
सािी पु=तके बां5कि संदकू मे ि< दीं4 $ब मििा ही ह7 , तो प\कि Nया
हो;ा? /$स $ीवि मे Jसी-Dसी बा5ाDं हE , Jसी-Jसी यातिाDं हE , उससे मP9 यु
कहीं &'(C4
यह सोचते-सोचते त8का हो ;या4 तीि िात से वह Dक ] भी ि
सोया !ा4 Fस वy वह उBा तो उसके प7 ि !ि-!ि कांप िहे !े +ि िसि मे
चNकि सा 0 िहा !ा4 0ं<े $ल िही !ीं +ि ?िीि के सािे &ं ; ि?ि!ल
हो िहे !े4 %दि च\ता $ाता !ा +ि उसमे Fतिी ?>y %दि च\ता $ाता
!ा +ि उसमे Fतिी ?>y भी ि !ी %क उBकि मुंह हा! 5ो Hाले4 DकाDक
76
उसिे भूं;ी को Uमाल मे कु ( िलD ह

D Dक कहाि के सा! 0ते दे <ा4
उसका कले$ा स*ि िह ;या4 हाय4 "Qि वे 0 ;यीं4 &ब Nया हो;ा? भूं;ी
&के ले िहीं 0यी हो;ी? बZXी $Uि बाहि <8ी हो;ी? कहां तो उससे उBा
प† $ाता !ा, कहां भूं;ी को दे <ते ही दG8ा +ि Xबिा" ह

" 0वा$ मे
बोला-&-मां$ी भी 0यी हE , Nया िे ? $ब मालूम ह

0 %क &-मां$ी िहीं
0यी, तब उसका िच2 ?ांत ह

04
भूं;ी िे कहा-भ7या4 तुम कल ;ये िही, बह

$ी तु-हािी िाह दे <ती िह
;यीं4 उिसे Nयो |Bे हो भ7या? कहती हE , मEिे उिकी कु ( भी ि?कायत िहीं
की ह7 4 मुOसे 0$ िोकि कहिे ल;ीं -उिके पास यह िमBा" लेती $ा +ि
कहिा, मेिे काि Nयो Xि (ो8 %दया ह7 ? कहां ि< दं ू यह !ाली?
मंसािाम िे |<ा" से कहा-यह !ाली &पिे िसि पि प,क दे चु 87 ल4
वहां से चली ह7 िमBा" लेकि4 <बिदाि, $ो %#ि कभी F5ि 0यी4 सG;ात
लेकि चली ह7 4 $ाकि कह दे िा, मुOे उिकी िमBा" िहीं चा%हD4 $ाकि कह
दे िा, तु-हािा Xि ह7 तुम िहो, वहां वे ब8े 0िाम से हE 4 <ूब <ाते +ि मG$
किते हE 4 सुिती ह7 , बाबू $ी की मुंह पि कहिा, समO ;यी? मुOे %कसी का Hि
िहीं ह7 , +ि $ो कििा चाहे , कि Hाले, /$ससे %दल मे को" &िमाि ि िह
$ाये4 कहे तो Fलाहाबाद, ल<िW, कलक2ा चला $ाWं 4 मेिे िलD $7 से बिािस
व7से दसू िा ?हि4 यहां Nया ि<ा ह7 ?
भूं;ी-भ7या, िमBा" ि< लो, िहीं िो-िोकि मि $ाये;ी4 सच मािो िो-
िोकि मि $ाये;ी4
मंसािाम िे 0ं सु6ं के उBते ह

D वे; को दबाकि कहा-मि $ाये;ी, मेिी
बला से4 कGि मुOे ब8ा सु< दे %दया ह7 , /$सके िलD प(ताWं 4 मेिा तो
उ*होिे सविम ा? कि %दया4 कह दे िा, मेिे पास को" संदे ?ा ि भे$े, कु (
$Uित िहीं4
भूं;ी- भ7या, तुम तो कहते हो यहां <ू ब <ाता ह

ं +ि मG$ किता ह

ं ,
म;ि दे ह तो 05ी भी ि िही4 $7से 0ये !े , उससे 05े भी ि िहे 4
मंसािाम-यह तेिी 0ं<ो का #े ि ह7 4 दे <िा, दो-चाि %दि मे मु,ाकि
कोVह

हो $ाता ह

ं %क िहीं4 उिसे यह भी कह दे िा %क िोिा-5ोिा बंद किे 4
$ो मEिे सुिा %क िोती हE +ि <ािा िहीं <ातीं, मुOसे बुिा को" िहीं4 मुOे
Xि से ििकाला ह7 , तो 0प ि से िहे 4 चली हE , पेम %द<ािे4 मE Jसे >Mया-
चििM बह

त प\े ब7 Bा ह

ं 4
77
भूं;ी चली ;यी4 मंसािाम को उससे बाते किते ही कु ( B[H मालूम
होिे ल;ी !ी4 यह &िभिय कििे के िलD उसे &पिे मिोभावो को /$तिा
दबािा प8ा !ा, वह उसके िलD &साYय !ा4 उसका 0Pम-स-माि उसे Fस
कु %,ल 3यवहाि का $Vद-से-$Vद &ंत कि दे िे के िलD बाYय कि िहा !ा,
पि Fसका पििाम Nया हो;ा? ििमलम ा Nया यह 0Xात सह सके ;ी? &ब
तक वह मP9 यु की कVपिा किते समय %कसी &*य पाी का >वचाि ि
किता !ा, पि 0$ DकाDक Rाि ह

0 %क मेिे $ीवि के सा! Dक +ि
पाी का $ीवि-सूM भी बं5ा ह

0 ह7 4 ििमलम ा यह समOे;ी %क मेिी ििLु िता
ही िे Fिकी $ाि ली4 यह समOकि उसका कोमल Tदय #, ि $ाये;ा?
उसका $ीवि तो &ब भी संक, मे ह7 4 संदे ह के कBोि पं $े मे #ं सी ह

"
&बला Nया &पिे का हPयाििी समOकि बह

त %दि $ी>वत िह सकती ह7 ?
मंसािाम िे चािपा" पि ले,कि िलहा# 6\ िलया, %#ि भी सदƒ से
कले$ा कांप िहा !ा4 !ो8ी ही दे ि मे उसे $ोि से Kवि च\ 0या, वह बेहो?
हो ;या4 Fस &चेत द?ा मे उसे भांित-भांित के =व^ि %द<ा" दे िे ल;े4
!ो8ी-!ो8ी दे ि के बाद चfक प8ता, 0ं <े <ुल $ाती, %#ि बेहो? हो $ाता4
सहसा वकील साहब की 0वा$ सुिकि वह चfक प8ा4 हां , वकील
साहब की 0वा$ !ी4 उसिे िलहा# #े क %दया +ि चािपा" से उतिकि
िीचे <8ा हो ;या4 उसके मि मे Dक 0वे; ह

0 %क Fस वy Fिके
सामिे पा दे दं4ू उसे Jसा मालूम ह

0 %क मE मि $ाWं , तो F*हे स'ची
<ु?ी हो;ी4 ?ायद FसीिलD वह दे <िे 0ये हE %क मेिे मििे मे %कतिी दे ि
ह7 4 वकील साहब िे उसका हा! पक8 िलया, /$ससे वह ि;ि ि प8े +ि
पू(ा-क7 सी तबीयत ह7 लVलू4 ले,े Nयो ि िहे ? ले, ि $ा6, तुम <8े Nयो हो
;ये?
मंसािाम-मेिी तबीयत तो बह

त &'(C ह7 4 0पको 3य! म ही कi ह

04
मुं?ी $ी िे कु ( $वाब ि %दया4 ल8के की द?ा दे <कि उिकी 0ं <ो
से 0ंसू ििकल 0ये4 वह Ti-पुi बालक, /$से दे <कि िच2 पस*ि हो $ाता
!ा, &ब सू<कि कां,ा हो ;या !ा4 पांच-(: %दि मे ही वह Fतिा दबु ला हो
;या !ा %क उसे पहचाििा क%Bि !ा4 मुं?ी$ी िे उसे 0%ह=ता से चािपा"
पि िल,ा %दया +ि िलहा# &'(C तिह उसे उ\ाकि सोचिे ल;े %क &ब
Nया कििा चा%हD4 कहीं ल8का हा! से तो िहीं $ाD;ा4 यह _याल किके
वह ?ोक >व‰वल हो ;ये +ि =,ूल पि ब7 Bकि #ू ,-#ू ,कि िोिे ल;े4
78
मंसािाम भी िलहा# मे मुंह लपे,े िो िहा !ा4 &भी !ो8े ही %दिो पहले उसे
दे <कि >पता का Tदय ;व म से #ू ल उBता !ा, ले%कि 0$ उसे Fस दा|
द?ा मे दे <कि भी वह सोच िहे हE %क Fसे Xि ले चलूं या िहीं4 Nया यहां
दवा िहीं हो सकती? मE यहां चGबीसो X[,े ब7 Bा िह

ं ;ा4 H‚N,ि साहब यहां हE
ही4 को" %दNकत ि हो;ी4 Xि ले चलिे से मे उ*हे बा5ाDं -ही-बा5ाDं %द<ा"
दे ती !ीं, सबसे ब8ा भय यह !ा %क वहां ििमलम ा Fसके पास हिदम ब7 BC
िहे ;ी +ि मE मिा ि कि सकूं ;ा , यह उिके िलD &स„ !ा4
Fतिे मे &Yय] िे 0कि कहा-मE तो समOता ह

ं %क 0प F*हे &पिे
सा! ले $ाये4 ;ा8ी ह7 ही, को" तकली# ि हो;ी4 यहां &'(C तिह दे <भाल
ि हो सके ;ी4
मुं?ी$ी-हां, 0या तो मE Fसी <याल से !ा, ले%कि Fिकी हालत बह


ही िा$ुक मालूम होती ह7 4 $िा-सी &साव5ािी होिे से सिसाम हो $ािे का
भय ह7 4
&Yय]-यहां से F*हे ले $ािे मे !ो8ी-सी %दNकत $|ि ह7 , ले%कि यह
तो 0प <ु द सोच सकते हE %क Xि पि $ो 0िाम िमल सकता ह7 , वह यहां
%कसी तिह िहीं िमल सकता4 Fसके &ितििy %कसी बीमाि ल8के को यहां
ि<िा िियम->व|e भी ह7 4
मुं?ी$ी- क%हD तो मE हे Hमा=,ि से 0Rा ले लूं4 मुOे Fिका यहां से
Fस हालत मे ले $ािा %कसी तिह मुिािसब िहीं मालूम होता4
&Yय] िे हे Hमा=,ि का िाम सुिा, तो समOे %क यह महा?य 5मकी
दे िहे हE 4 $िा ितिककि बोले-हे Hमा=,ि िियम->व|I को" बात िहीं कि
सकते4 मE Fतिी ब8ी /$-मेदािी क7 से ले सकता ह

ं ?
&ब Nया हो? Nया Xि ले $ािा ही प8े ;ा? यहां ि<िे का तो यह
बहािा !ा %क ले $ािे बीमािी ब\ $ािे की ?ंका ह7 4 यहां से ले $ाकि
ह=पताल मे Bहिािे का को" बहािा िहीं ह7 4 $ो सुिे;ा, वह यही कहे ;ा %क
HाN,ि की #ीस बचािे के िलD ल8के को &=पताल #े क 0ये, पि &ब ले
$ािे के िसवा +ि को" उपाय ि !ा4 &;ि &Yय] महोदय Fस वy
ििQत लेिे पि त7याि हो $ाते, तो ?ायद दो-चाि साल का वेति ले लेते,
ले%कि कायदे के पाबंद लो;ो मे Fतिी बु %I, Fतिी चतु िा" कहां4 &;ि Fस
वy मुं?ी$ी को को" 0दमी Jसा उz सुOा दे ता, /$समे उिहे मंसािाम को
Xि ि ले $ािा प8े , तो वह 0$ीवि &सका Dहसाि मािते4 सोचिे का
79
समय भी ि !ा4 &Yय] महोदय ?7ताि की तिह िसि पि सवाि !ा4
>वव? होकि मुं?ी$ी िे दोिो सा"सो को बुलाया +ि मंसािाम को उBािे
ल;े4 मंसािाम &5चम ेतिा की द?ा मे !ा, चGककि बोला, Nया ह7 ? कोि ह7 ?
मुं?ी$ी-को" िहीं ह7 बे,ा, मE तु-हे Xि ले चलिा चाहता ह

ं , 06, ;ोद
मे उBा लूं4
मंसािाम- मुOे Nयो Xि ले चलते हE ? मE वहां िहीं $ाWं ;ा4
मुं?ी$ी- यहां तो िह िहीं सकत, िियम ही Jसा ह7 4
मंसािाम- कु ( भी हो, वहां ि $ाWं ;ा4 मुOे +ि कहीं ले चिलD, %कसी
पे8 के िीचे, %कसी Oोप8े मे, $हां चाहे ि/<D, पि Xि पि ि ले चिलD4
&Yय] िे मुं?ी$ी से कहा-0प Fि बातो का _याल ि किे , यह तो
हो? मे िहीं ह7 4
मंसािाम- कGि हो? मे िहीं ह7 ? मE हो? मे िहीं ह

ं ? %कसी को ;ािलयां
दे ता ह

? दांत का,ता ह

ं ? Nयो हो? मे िहीं ह

ं ? मुOे यहीं प8ा िहिे दी/$D, $ो
कु ( होिा हो;ा, &;िि Jसा ह7 , तो मुOे &=पताल ले चिलD, मE वहां प8ा
िह

ं ;ा4 $ीिा हो;ा, $ीW;ा, मििा हो;ा म|ं ;ा, ले%कि Xि %कसी तिह भी ि
$ाWं ;ा4
यह $ोि पाकि मुं?ी$ी %#िा &Yय] की िम*िते कििे ल;े , ले%कि
वह कायदे का पाबंदी 0दमी कु ( सुिता ही ि !ा4 &;ि (ू त की बीमािी


" +ि %कसी दसू िे ल8के को (ू त ल; ;यी, तो कGि उसका $वाबदे ह
हो;ा4 Fस तकम के सामिे मुं?ी$ी की कािूिी दलीले भी मात हो ;यीं4
0/<ि मुं?ी$ी िे मंसािाम से कहा-बे,ा, तु-हे Xि चलिे से Nयो Fं काि
हो िहा ह7 ? वहां तो सभी तिह का 0िाम िहे ;ा4 मुं?ी$ी िे कहिे को तो यह
बात कह दी, ले%कि Hि िहे !े %क कहीं सचमुच मंसािाम च लिे पि िा$ी ि
हो $ाये4 मंसािाम को &=पताल मे ि<िे का को" बहािा <ो$ िहे !े +ि
उसकी /$-मेदािी मंसािाम ही के िसि Hालिा चाहते !े4 यह &Yय] के
सामिे की बात !ी, वह Fस बात की सा]ी दे सकते !े %क मंसािाम &पिी
/$द से &=पताल $ा िहा ह7 4 मुं?ी$ी का Fसमे ले?माM भी दो@ िहीं ह7 4
मंसािाम िे OVलाकि हा-िहीं, िहीं सG बाि िहीं, मE X िहीं $ाWं ;ा4
मुOे &=पताल ले चिलD +ि Xि के सब 0दिमयो को मिा कि दी/$D
%क मुOे दे <िे ि 0ये4 मुOे कु ( िहीं ह

0 ह7 , >बVकु ल बीमाि िहीं ह

4
0प मुOे (ो8 दी/$D, मE &पिे पांव से चल सकता ह

ं 4
80
वह उB <8ा ह

0 +ि उ*म2 की भांित Iाि की 6ि चला, ले%कि प7ि
ल8<Hा ;ये4 य%द मुं?ी$ी िे संभाल ि िलया होता, तो उसे ब8ी चो, 0ती4
दोिो िGकिो की मदद से मुं?ी$ी उसे बZXी के पास लाये +ि &ं दि ब7 Bा
%दया4
;ा8ी &=पताल की 6ि चली4 वही ह

0 $ो मुं?ी$ी चाहते !े4 Fस
?ोक मे भी उिका िच2 संतुi !ा4 ल8का &पिी F'(ा से &=पताल $ा िहा
!ा Nया यह Fस बात का पमा िहीं !ा %क Xि मे Fसे को" =िेह िहीं ह7 ?
Nया Fससे यह िसe िहीं होता %क मंसािाम ििदŽ@ ह7 ? वह उसक पि
&काि ही ˆम कि िहे !े4
ले%कि $िा ही दे ि मे Fस तु>i की $;ह उिके मि मे Zलािि का
भाव $ाsत ह

04 वह &पिे पा->पय पुM को Xि ि ले $ाकि &=पताल
िलये $ा िहे !े4 उिके >व?ाल भवि मे उिके पुM के िलD $;ह ि !ी, Fस
द?ा मे भी $ब%क उसकी $ीवल सं क, मे प8ा ह

0 !ा4 %कतिी >वH-बिा
ह7 !
Dक ] के बाद DकाDक मुं?ी$ी के मि मे प† उBा-कहीं मंसािाम
उिके भावो को ता8 तो िहीं ;या? FसीिलD तो उसे Xि से X9 ा िहीं हो
;ेयी ह7 ? &;ि Jसा ह7 , तो ;$ब हो $ाये;ा4
उस &ि! म की कVपिा ही से मुं?ी$ी के िोD <8े हो ;ये +ि कले$ा
5N5क कििे ल;ा4 Tदय मे Dक 5Nका-सा ल;ा4 &;ि Fस Kवि का यही
काि ह7 , तो "Qि ही मािलक ह7 4 Fस समय उिकी द?ा &Pय*त दयिीय
!ी4 वह 0; $ो उ*होिे &पिे %BBु िे ह

D हा!ो को सेकिे के िलD $ला"
!ी, &ब उिके Xि मे ल;ी $ा िही !ी4 Fस क|ा, ?ोक, प`ा2ाप +ि ?ंका
से उिका िच2 Xबिा उBा4 उिके ;ुo िोदि की Yविि बाहि ििकल सकती,
तो सुििे वाले िो प8ते4 उिके 0ं सू बाहि ििकल सकते, तो उिका ताि बं5
$ाता4 उ*होिे पुM के वम-हीि मु< की 6ि Dक वाPसVयूप म िेMो से दे <ा,
वेदिा से >वकल होकि उसे (ाती से ल;ा िलया +ि Fतिा िोये %क %हचकी
बंच ;यी4
सामिे &=पताल का #ा,क %द<ा" दे िहा !ा4
Zया िह
81
?ी तोतािाम संYया समय कचहिी से Xि पह

ं चे , तो ििमलम ा िे पू(ा- उ*हे
दे <ा, Nया हाल ह7 ? मुं?ी$ी िे दे <ा %क ििमलम ा के मु< पि िाममाM को
भी ?ोक यािचिता का िच*ह िहीं ह7 4 उसका बिाव-िसं;ाि +ि %दिो से भी
कु ( ;ा\ा ह

0 ह7 4 मसलि वह ;ले का हाि ि पहिती !ी, पि 0$ा वह
भी ;ले मे ?ोभ दे िहा !ा4 Oूमि से भी उसे बह

त पेम !ा, वह 0$ वह
भी महीि िे ?मी सा8ी के िीचे, काले-काले के ?ो के Wपि, #ािुस के दीपक की
भांित चमक िहा !ा4
मुं
मुं?ी$ी िे मुंह #े िकि कहा- बीमाि ह7 +ि Nया हाल बताWं ?
ििमलम ा- तुम तो उ*हे यहां लािे ;ये !े?
मुं?ी$ी िे OुंOलाकि कहा- वह िहीं 0ता, तो Nया मE $बिद=ती उBा
लाता? %कतिा समOाया %क बे,ा Xि चलो, वहां तु-हे को" तकली# ि होिे
पावे;ी, ले%कि Xि का िाम सुिकि उसे $7 से दिू ा Kवि हो $ाता !ा4 कहिे
ल;ा- मE यहां मि $ाWं ;ा, ले%कि Xि ि $ाWं ;ा4 0/<ि म$बूि होकि
&=पताल पह

ं चा 0या +ि Nया किता?
|/Nमी भी 0कि बिामदे मे <8ी हो ;" !ी4 बोलीं - वह $*म का
हBC ह7 , यहां %कसी तिह ि 0ये;ा +ि यह भी दे < लेिा, वहां &'(ा भी ि
हो;ा?
मुं?ी$ी िे काति =वि मे कहा- तुम दो-चाि %दि के िलD वहां चली
$ा6, तो ब8ा &'(ा हो बहि, तु-हािे िहिे से उसे त=कीि होती िहे ;ी4 मेिी
बहि, मेिी यह >विय माि लो4 &के ले वह िो-िोकि पा दे दे ;ा4 बस हाय
&-मां! हाय &-मां! की ि, ल;ाकि िोया किता ह7 4 मE वहीं $ा िहा ह

ं , मेिे
सा! ही चलो4 उसकी द?ा &'(C िहीं4 बहि, वह सूित ही िहीं िही4 दे <े
"Qि Nया किते हE ?
यह कहते-कहते मुं?ी$ी की 0ं<ो से 0ंसू बहिे ल;े, ले%कि |/Nमी
&>वचिलत भाव से बोली- मE $ािे को त7याि ह

ं 4 मेिे वहां िहिे से &;ि मेिे
लाल के पा बच $ाये, तो मE िसि के बल दG8ी $ाWं , ले%कि मेिा कहिा
ि;िह मे बां5 लो भ7या, वहां वह &'(ा ि हो;ा4 मE उसे <ूब पहचािती ह

ं 4
उसे को" बीमािी िहीं ह7 , के वल Xि से ििकाले $ािे का ?ोक ह7 4 यही दु:<
Kवि के |प मे पक, ह

0 ह7 4 तुम Dक िहीं, ला< दवा किो, िस>वल स$िम
को ही Nयो ि %द<ा6, उसे को" दवा &साि ि किे ;ी4
82
मुं?ी$ी- बहि, उसे Xि से ििकाला %कसिे ह7 ? मEिे तो के वल उसकी
प\ा" के <याल से उसे वहां भे$ा !ा4
|/Nमी- तुमिे चाहे /$स <याल से भे$ा हो, ले%कि यह बात उसे
ल; ;यी4 मE तो &ब %कसी ि;िती मे िहीं ह

ं , मुOे %कसी बात मे बोलिे का
को" &ि5काि िहीं4 मािलक तुम, माल%कि तु-हािी jी4 मE तो के वल
तु-हािी िो%,यो पि प8ी ह

" &भि;िी >व5वा ह

ं 4 मेिी कGि सुिे;ा +ि कGि
पिवाह किे ;ा? ले%कि >बिा बोले िही िहीं $ाता4 मंसा तभी &'(ा हो;ा:
$ब Xि 0ये;ा, $ब तु-हािा Tदय वही हो $ाये;ा, $ो पहले !ा4
यह कहकि |/Nमी वहां से चली ;यीं , उिकी Kयोितहीि, पि
&िुभवपू म 0ं <ो के सामिे $ो चििM हो िहे !े, उिका िह=य वह <ूब
समOती !ीं +ि उिका सािा pो5 िििपिाि5िी ििमलम ा ही पि उतिता !ा4
Fस समय भी वह कहते-कहते |; ;यीं, %क $ब तक यह ल)मी Fस Xि मे
िहे ;ी, Fस Xि की द?ा >ब;8ती हो $ाये;ी4 उसको प;, |प से ि कहिे
पि भी उसका 0?य मुं?ी$ी से ि(पा िहीं िहा4 उिके चले $ािे पि
मुं?ी$ी िे िसि Oुका िलया +ि सोचिे ल;े4 उ*हे &पिे Wपि Fस समय
Fतिा pो5 0 िहा !ा %क दीवाि से िसि प,ककि पाो का &*त कि दे 4
उ*होिे Nयो >ववाह %कया !ा? >ववाह किे ि की Nया $|ित !ी? "Qि िे उ*हे
Dक िहीं, तीि-तीि पुM %दये !े? उिकी &व=!ा भी पचास के ल;भ; पह

ं च
;ेयी !ी %#ि उ*होिे Nयो >ववाह %कया? Nया Fसी बहािे "Qि को उिका
सविम ा? कििा मं $ूि !ा? उ*होिे िसि उBाकि Dक बाि ििमलम ा को सहास,
पि िि`ल मूित म दे <ी +ि &=पताल चले ;ये4 ििमलम ा की सहास, (>व िे
उिका िच2 ?ा*त कि %दया !ा4 0$ क" %दिो के बाद उ*हे ?ा/*त
मयसि ह

" !ी4 पेम-पी%8त Tदय Fस द?ा मे Nया Fतिा ?ा*त +ि
&>वचिलत िह सकता ह7 ? िहीं, कभी िहीं4 Tदय की चो, भाव-कG?ल से िहीं
ि(पा" $ा सकती4 &पिे िच2 की दबु िम $ा पि Fस समय उ*हे &Pय*त
]ोभ ह

04 उ*होिे &काि ही स*दे ह को Tदय मे =!ाि दे कि Fतिा &ि!म
%कया4 मंसािाम की 6ि से भी उिका मि िि:?ंक हो ;या4 हां उसकी
$;ह &ब Dक ियी ?ंका उPप*ि हो ;यी4 Nया मंसािाम भांप तो िहीं
;या? Nया भांपकि ही तो Xि 0िे से F*काि िहीं कि िहा ह7 ? &;ि वह
भांप ;या ह7 , तो महाि u &ि! म हो $ाये;ा4 उसकी कVपिा ही से उिका मि
दहल उBा4 उिकी दे ह की सािी ह/{Hयां मािो Fस हाहाकाि पि पािी Hालिे
83
के िलD 3याकु ल हो उBCं4 उ*होिे कोचवाि से Xो8े को ते$ चलािे को कहा4
0$ क" %दिो के बाद उिके Tदय मंHल पि (ाया ह

0 सXि #, ;या !ा
+ि पका? की लहिे &*दि से ििकलिे के िलD 3यs हो िही !ीं4 उ*होिे
बाहि िसि ििकाल कि दे <ा, कोचवाि सो तो िहीं िहा ह4 Xो8े की चाल
उ*हे Fतिी म*द कभी ि मालूम ह

" !ी4
&=पताल पह

ं चकि वह लपके ह

D मंसािाम के पास ;ये4 दे <ा तो
H‚N,ि साहब उसके सामिे िच*ता मे मZि <8े !े4 मुं?ी$ी के हा!-पांव
#ू ल ;ये4 मुंह से ?Aद ि ििकल सका4 भिभिा" ह

" 0वा$ मे ब8ी
मु/cकल से बोले- Nया हाल ह7 , H‚N,ि साहब? यह कहते-कहते वह िो प8े +ि
$ब H‚N,ि साहब को उिके प† का उ2ि दे िे मे Dक ] का >वल-बा


0, तब तो उिके पा िहो मे समा ;ये4 उ*होिे पलं; पि ब7Bकि &चेत
बालक को ;ोद मे उBा िलया +ि बालक की भांित िससक-िससककि िोिे
ल;े4 मंसािाम की दे ह तवे की तिह $ल िही !ी4 मंसािाम िे Dक बाि 0ं<े
<ोलीं4 0ह, %कतिी भयं कि +ि उसके सा! ही %कतिी दी b>i !ी4 मुं?ी$ी
िे बालक को क[B से ल;ाकि H‚N,ि से पू(ा-Nया हाल ह7 , साहब! 0प चुप
Nयो हE ?
H‚N,ि िे सं%दZ5 =वि से कहा- हाल $ो कु ( ह7 , वह 0पे दे < ही िहे
हE 4 106 %Hsी का Kवि ह7 +ि मE Nया बताWं ? &भी Kवि का पकोप ब\ता ही
$ाता ह7 4 मेिे %कये $ो कु द हो सकता ह7 , कि िहा ह

ं 4 "Qि मािलक ह7 4 $बसे
0प ;ये हE , मE Dक िमि, के िलD भी यहां से िहीं %हला4 भो$ि तक िहीं
कि सका4 हालत Fतिी िा$ुक ह7 %क Dक िमि, मे Nया हो $ाये;ा, िहीं
कहा $ा सकता? यह महाKवि ह7 , >बलकु ल हो? िहीं ह7 4 िह-िहकि
m%Hलीिियमw का दGिा-सा हो $ाता ह7 4 Nया Xि मे F*हे %कसी िे कु ( कहा
ह7 ! बाि-बाि, &-मां$ी, तुम कहां हो! यही 0वा$ मुंह से ििकली ह7 4
H‚N,ि साहब यह कह ही िहे !े %क सहसा मंसािाम उBकि ब7B ;या
+ि 5Nके से मुं?ी$ को चािपा" के िीचे Sके लकि उ*म2 =वि से बोला-
Nयो 5मकाते हE , 0प! माि HािलD, माि Hािल, &भी माि HािलD4 तलवाि िहीं
िमलती! ि=सी का #*दा ह7 या वह भी िहीं4 मE &पिे ;ले मे ल;ा लूं;ा4
हाय &-मां$ी, तुम कहां हो! यह कहते-कहते वह %#ि &चेते होकि ि;ि प8ा4
मुं?ी$ी Dक ] तक मंसािाम की ि?ि!ल मु.ा की 6ि 3यि!त िेMो
से ताकते िहे , %#ि सहस उ*होिे H‚N,ि साहब का हा! पक8 िलया +ि
84
&Pय*त दीितापू म 0sह से बोले -H‚N,ि साहब, Fस ल8के को बचा ली/$D,
"Qि के िलD बचा ली/$D, िहीं मेिा सविम ा? हो $ाये;ा4 मE &मीि िहीं ह


ले%कि 0प $ो कु ( कहे ;े, वह हा/$ि क|ं ;ा, Fसे बचा ली/$D4 0प ब8े -से-
ब8े H‚N,ि को बुलाFD +ि उिकी िाय ली/$Dक , मE सब <च म दं ;ू ा4
Fसीक &ब िहीं दे <ी $ाती4 हाय, मेिा होिहाि बे,ा!
H‚N,ि साहब िे क| =वि मे कहा- बाबू साहब, मE 0पसे सPय कह
िहा ह

ं %क मE Fिके िलD &पिी ति# से को" बात उBा िहीं ि< िहा ह

ं 4
&ब 0प दसू िे H‚N,िो से सलाह लेिे को कहते हE 4 &भी H‚N,ि ला%हिी,
H‚N,ि भा%,या +ि H‚N,ि मा!ुि को बुलाता ह

ं 4 >विायक ?ाjी को भी
बुलाये लेता ह

ं , ले%कि मE 0पको 3य! म का 0Qासि िहीं दे िा चाहता, हालत
िा$ुक ह7 4
मं?ी$ी िे िोते ह

D कहा- िहीं, H‚N,ि साहब, यह ?Aद मुं ह से ि
ििकािलD4 हाल Fसके दcु मिो की िा$ुक हो4 "Qि मुO पि Fतिा कोप ि
किे ;े4 0प कलक2ा +ि ब-ब" के H‚N,िो को तािा दी/$D, मE /$*द;ी
भि 0पकी ;ुलामी क|ं ;ा4 यही मेिे कु ल का दीपक ह7 4 यही मेिे $ीवि का
05ाि ह7 4 मेिा Tदय #,ा $ा िहा ह7 4 को" Jसी दवा दी/$D, /$ससे Fसे
हो? 0 $ाये4 मE $िा &पिे कािो से उसकी बाते सुिूं $ािूं %क उसे Nया
कi हो िहा ह7 ? हाय, मेिा ब'चा!
H‚N,ि- 0प $िा %दल को त=कीि दी/$D4 0प बु$ु ; म 0दमी हE , यो
हाय-हाय कििे +ि H‚N,िो की #G$ $मा कििे से को" िती$ा ि
ििकले;ा4 ?ा*त होकि ब7 %BD, मE ?हि के लो;ो को बुला िहा ह

ं , दे /<D Nया
कहते हE ? 0प तो <ुद ही बदहवास ह

D $ाते हE 4
मुं?ी$ी- &'(ा, H‚N,ि साहब! मE &ब ि बोलूं;, $बाि तब तक ि
<ोलूं ;ा, 0प $ो चाहे किे , ब'चा &ब हा! मे ह7 4 0प ही उसकी ि]ा कि
सकते हE 4 मE Fतिा ही चाहता ह

ं %क $िा Fसे हो? 0 $ाये, मुOे पहचाि ले,
मेिी बाते समOिे ल;े4 Nया को" Jसी सं$ीविी बू,ी िहीं ? मE Fससे दो-चाि
बाते कि लेता4
यह कहते-कहते मुं?ी$ी 0वे? मे 0कि मंसािाम से बोले- बे,ा, $िा
0ं<े <ोलो, क7 सा $ी ह7 ? मE तु-हािे पास ब7 Bा िो िहा ह

ं , मुOे तुमसे को"
ि?कायत िहीं ह7 , मेिा %दल तु-हािी 6ि से सा# ह7 4
85
H‚N,ि- %#ि 0पिे &ि;लम ा बाते कििी ?ु| कीं4 &िे साहब, 0प
ब'चे िहीं हE , बु$ु ; म ह7 , $िा 57य म से काम ली/$D4
मुं?ी$ी- &'(ा, H‚N,ि साहब, &ब ि बोलूं;ा, <ता ह

"4 0प $ो चाहे
की/$D4 मEिे सब कु ( 0प पि (ो8 %दया4 को" Jसा उपाय िहीं, /$ससे मE
Fसे Fतिा समOा सकूं %क मेिा %दल सा# ह7 ? 0प ही कह दी/$D H‚N,ि
साहब, कह दी/$D, तु-हािा &भा;ा >पता ब7 Bा िो िहा ह7 4 उसका %दल तु-हािी
ति# से >बलकु ल सा# ह7 4 उसे कु ( ˆम ह

0 !ा4 वब &ब दिू हो ;या4
बस, Fतिा ही कि दी/$D4 मE +ि कु ( िहीं चाहता4 मE चुपचाप ब7 Bा ह

ं 4
$बाि को िहीं <ोलता, ले%कि 0प Fतिा $|ि कह दी/$D4
H‚N,ि- "Qि के िलD बाबू साहब, $िा सg की/$D, वििा मुOे म$बूि
होकि 0पसे कहिा प8े ;ा %क Xि $ाFD4 मE $िा दkति मे $ाकि H‚N,िो
को <त िल< िहा ह

ं 4 0प चु पचाप ब7Bे ि%हD;ा4
ििदम यी H‚N,ि! $वाि बे,े की यहा द?ा दे <कि कGि >पता ह7 , $ो 57 यम
से कामे ले;ा? मुं?ी$ी बह

त ;-भीि =वभाव के मिु:य !े4 यह भी $ािते !े
%क Fस वy हाय-हाय मचािे से को" िती$ा िहीं , ले%कि %#िी भी Fस
समय ?ा*त ब7Bिा उिके िलD &स-भव !ा4 &;ि द7 व-;ित से यह बीमािी
होती, तो वह ?ा*त हो सकते !े, दसू िो को समOा सकते !े, <ुद H‚N,िो का
बुला सकते !े , ले%कि Nयायह $ािकि भी 57य म ि< सकते !े %क यह सब
0; मेिी ही ल;ा" ह

" ह7 ? को" >पता Fतिा वz-Tदय हो सकता ह7 ? उिका
िोम-िोम Fस समय उ*हे ि5Nकाि िहा !ा4 उ*होिे सोचा, मुOे यह दभु ावम िा
उPप*ि ही Nयो ह

"? मEिे Nयां >बिा %कसी पPय] पमा के Jसी भी@
कVपिा कि Hाली? &'दा मुOे उसक द?ा मे Nया कििा चा%हD !ा4 $ो
कु ( उ*होिे %कया उसके िसवा वह +ि Nया किते , Fसका वह िि`य ि कि
सके 4 वा=तव मे >ववाह के ब*5ि मे प8िा ही &पिे प7िो मे कु Vहा8ी मािािा
!ा4 हां, यही सािे उप.व की $8 ह7 4
म;ि मEिे यह को" &िो<ी बात िहीं की4 सभी jी-पु|@ का >ववाह
किते हE 4 उिका $ीवि 0ि*द से क,ता ह7 4 0ि*द की &'दा से ही तो
हम >ववाह किते हE 4 मुहVले मे स7क8ो 0दिमयो िे दसू िी, तीसिी, चG!ी यहां
तक %क सातवीं ?%दयां की हE +ि मुOसे भी कहीं &ि5क &व=!ा मे4 वह
$ब तक /$ये 0िाम ही से /$ये4 यह भी िहीं ह0 %क सभी jी से पहले
मि ;ये हो4 दहु ा$-ितहा$ होिे पि भी %कतिे ही %#ि िं Hु D हो ;ये4 &;ि
86
मेिी-$7सी द?ा सबकी होती, तो >ववाह का िाम ही कGि लेता? मेिे >पता$ी िे
पचपिवे व@ म मे >ववाह %कया !ा +ि मेिे $*म के समय उिकी &व=!ा
साB से कम ि !ी4 हां, Fतिी बात $|ि ह7 %क तब +ि &ब मे कु ( &ंति
हो ;या ह7 4 पहले jीयां प\ी-िल<ी ि होती !ीं4 पित चाहे क7 सा ही हो, उसे
पूKय समOती !ी, यह बात हो %क पु|@ सब कु ( दे <कि भी बेहया" से
काम लेता हो, &वcय यही बात ह7 4 $ब युवक वe9 ा के सा! पस*ि िहीं िह
सकता, तो युवती Nयो %कसी वe9 के सा! पस*ि िहिे ल;ी? ले%कि मE तो
कु ( Jसा बु{\ा ि !ा4 मुOे दे <कि को" चालीस से &ि5क िहीं बता
सकता4 कु ( भी हो, $वािी Sल $ािे पि $वाि +ित से >ववाह किके
कु (-ि-कु ( बेहया" $|ि कििी प8ती ह7 , Fसमे स*दे ह िहीं4 jी =वभाव से
लK$ा?ील होती ह7 4 कु ल,ा6ं की बात तो दसू िी ह7 , पि सा5ाित: jी पु|@
से कहीं Kयादा संयम?ील होती ह7 4 $ो8 का पित पाकि वह चाहे पि-पु|@ से
हं सी-%दVल;ी कि ले, पि उसका मि ?ुe िहता ह7 4 बे$ो8े >ववाह हो $ािे से
वह चाहे %कसी की 6ि 0ं<े उBाकि ि दे <े , पि उसका िच2 द<ु ी िहता ह7 4
वह पNकी दीवाि ह7 , उसमे सबिी का &सि िहीं होता, यह क'ची दीवाि ह7
+ि उसी वy तक <8ी िहती ह7 , $ब तक Fस पि सबिी ि चला" $ाये4
F*हीं >वचािां मे प8े -प8े मुं?ी$ी का Dक Oपकी 0 ;यी4 मिे के
भावो िे तPकाल =व^ि का |प 5ाि कि िलया4 Nया दे <ते हE %क उिकी
पहली jी मंसािाम के सामिे <8ी कह िही ह7 - ‘=वामी, यह तुमिे Nया
%कया? /$स बालक को मEिे &पिा िy >पला->पलाकि पाला, उसको तुमिे
Fतिी ििदम यता से माि Hाला4 Jसे 0द? म चििM बालक पि तुमिे Fतिा Xोि
कलंक ल;ा %दया? &ब ब7 Bे Nया >बसूिते हो4 तुमिे उससे हा! 5ो िलया4 मE
तु-हािे ििदम या हा!ो से (Cिकि उसे &पिे सा! िलD $ाती ह

ं 4 तुम तो
Fतिो ?Nकी कभी ि !े4 Nया >ववाह किते ही ?क को भी ;ले बां5 लाये ?
Fस कोमल Tदय पि Fतिा कBािे 0Xात! Fतिा भी@ कलं क! Fति ब8ा
&पमाि सहकि $ीिेवाले को" बेहया हो;े4 मेिा बे,ा िहीं सह सकता!’ यह
कहते-कहते उसिे बालक को ;ोद मे उBा िलया +ि चली4 मुं?ी$ी िे िोते


D उसकी ;ोद से मंसािाम को (Cििे के िलD हा! ब\ाया, तो 0ं<े <ुल
;यीं +ि H‚N,ि ला%हिी, H‚N,ि ला%हिी, H‚N,ि भा%,या 0%द 05े द$िम
H‚N,ि उिको सामिे <8े %द<ायी %दये4
87
बा िह
ि %दि ;ु $ि ;ये +ि मुं?ी$ी Xि ि 0ये4 |/Nमी दोिो वy
&=पताल $ातीं +ि मंसािाम को दे < 0ती !ीं4 दोिो ल8के भी
$ाते !े, पि ििमलम ा क7 से $ाती? उिके प7िो मे तो बे%8यां प8ी ह

" !ीं4 वह
मंसािाम की बीमािी का हाल-चाल $ाििे क िलD 3यs िहती !ी, य%द
|/Nमी से कु ( पू (ती !ीं, तो तािे िमलते !े +ि ल8को से पू(ती तो
बेिसि-प7ि की बाते कििे ल;ते !े4 Dक बाि <ुद $ाकि दे <िे के िलD
उसका िच2 3याकु ल हो िहा !ा4 उसे यह भय होता !ा %क स*दे ह िे कहीं
मुं?ी$ी के पुM-पेम को ि?ि!ल ि कि %दया हो, कहीं उिकी क9 पता ही तो
मंसािाम क &'(े होिे मे बा5क िहीं हो िही ह7 ? H‚N,ि %कसी के स;े िहीं
होते, उ*हे तो &पिे प7सो से काम ह7 , मुदा म दो$< मे $ाये या ब%हcत मे4
उसक मि मे पबल F'(ा होती !ी %क $ाकि &=पताल क H‚N,िो का Dक
ह$ाि की !7 ली दे कि कहे - F*हे बचा ली/$D, यह !7ली 0पकी भे, हE , पि
उसके पास ि तो Fतिे |पये ही !े , ि Fतिे साहस ही !ा4 &ब भी य%द
वहां पह

ं च सकती, तो मंसािाम &'(ा हो $ाता4 उसकी $7 सी सेवा-?ु1@ू ा
होिी चा%हD, व7सी िहीं हो िही ह7 4 िहीं तो Nया तीि %दि तक Kवि ही ि
उतिता? यह द7 %हक Kवि िहीं, माििसक Kवि ह7 +ि िच2 के ?ा*त होिे ही
से Fसका पकोप उति सकता ह7 4 &;ि वह वहां िात भि ब7 BC िह सकती
+ि मुं?ी$ी $िा भी मि म7ला ि किते, तो कदािचत u मंसािाम को >वQास
हो $ाता %क >पता$ी का %दल सा# ह7 +ि %#ि &'(े होिे मे दे ि ि
ल;ती, ले%कि Jसा हो;ा? मुं?ी$ी उसे वहां दे <कि पस*ििच2 िह सके ;े?
Nया &ब भी उिका %दल सा# िहीं ह

0? यहां से $ाते समय तो Jसा Rात


0 !ा %क वह &पिे पमाद पि प(ता िहे हE 4 Jसा तो ि हो;ा %क उसके
वहां $ाते ही मुं?ी$ी का स*दे ह %#ि भ8क उBे +ि वह बे,े की $ाि लेकि
ही (ो8े ?
ती
Fस द>ु व5ा मे प8े -प8े तीि %दि ;ु$ि ;ये +ि ि Xि मे चूVहा $ला,
ि %कसी िे कु ( <ाया4 ल8को के िलD बा$ाि से पू िियां ली $ाती !ीं,
|/Nमी +ि ििमलम ा भू<ी ही सो $ाती !ीं4 उ*हे भो$ि की F'(ा ही ि
होती4
88
चG!े %दि /$यािाम =कू ल से लG,ा, तो &=पताल होता ह

0 Xि
0या4 ििमलम ा िे पू (ा-Nयो भ7या, &=पताल भी ;ये !े? 0$ Nया हाल ह7 ?
तु-हािे भ7या उBे या िहीं?
/$यािाम |0ंसा होकि बोला- &-मां$ी, 0$ तो वह कु ( बोलते -
चालते ही ि !े4 चु पचाप चािपा" पि प8े $ोि-$ोि से हा!-पांव प,क िहे
!े4
ििमलम ा के चेहिे का िं ; उ8 ;या4 Xबिाकि पू(ा- तु-हािे बाबू$ी वहां
ि !े?
/$यािाम- !े Nयो िहीं? 0$ वह बह

त िोते !े4
ििमलम ा का कले$ा 5कu -5कu कििे ल;ा4 पू(ा- H‚N,ि लो; वहां ि !े?
/$यािाम- H‚N,ि भी <8े !े +ि 0पस मे कु ( सलाह कि िहे !े4
सबसे ब8ा िस>वल स$िम &ं ;िे $ी मे कह िहा !ा %क मिी$ की दे ह मे कु (
ता$ा <ूि Hालिा चा%हD4 Fस पि बाबू$ीय िे कहा- मेिी दे ह से /$तिा <ू ि
चाहे ले ली/$D4 िस>वल स$िम िे हं सकि कहा- 0पके AलH से काम िहीं
चले;ा, %कसी $वाि 0दमी का AलH चा%हD4 0/<ि उसिे >पचकािी से
को" दवा भ7या के बा$ू मे Hाल दी4 चाि &ं ;ुल से कम के सु" ि िही हो;ी,
पि भ7या िमिके तक िहीं4 मEिे तो मािे Hिके 0ं<े ब*द कि लीं4
ब8े -ब8े महाि संकVप 0वे? मे ही $*म लेते हE 4 कहां तो ििमलम ा
भय से सू<ी $ाती !ी, कहां उसके मुंह पि b\ संकVप की 0भा Oलक
प8ी4 उसिे &पिी दे ह का ता$ा <ू ि दे िे का िि`य %कया4 0;ि उसके
िy से मंसािाम के पा बच $ाये , तो वह ब8ी <ु ?ी से उसकी &/*तम बूंद
तक दे Hाले;ी4 &ब /$सका $ो $ी चाहे समOे, वह कु ( पिवाह ि किे ;ी4
उसिे /$यािाम से काह- तुम लपककि Dक DNका बुला लो, मE &=पताला
$ाWं ;ी4
/$यािाम- वहां तो Fस वy बह

त से 0दमी हो;े4 $िा िात हो $ािे
दी/$D4
ििमलम ा- िहीं, तुम &भी DNका बुला लो4
/$यािाम- कहीं बाबू $ी >ब;8े ि?
ििमलम ा- >ब;8िे दो4 तुमे &भी $ाकि सवािी ला64
/$यािाम- मE कह दं;ू ा, &-मां$ी ही िे मुOसे सवािी मं;ा" !ी4
ििमलम ा- कह दे िा4
89
/$यािाम तो उ5ि तां;ा लािे ;या, Fतिी दे ि मे ििमलम ा िे िसि मे
कं Xी की, $ू 8ा बां5ा, कप8े बदले, 0भू@ पहिे, पाि <ाया +ि Iाि पि
0कि तां;े की िाह दे <िे ल;ी4
|/Nमी &पिे कमिे मे ब7BC ह

" !ीं उसे Fस त7यािी से 0ते दे <कि
बोलीं- कहां $ाती हो, बह

?
ििमलम ा- $िा &=पताल तक $ाती ह

ं 4
|/Nमी- वहां $ाकि Nया किो;ी?
ििमलम ा- कु ( िहीं, क|ं ;ी Nया? कििे वाले तो भ;वाि हE 4 दे <िे को
$ी चाहता ह7 4
|/Nमी- मE कहतीं ह

ं , मत $ा64
ििमलम ा- िे >विीत भाव से कहा- &भी चली 0Wं ;ी, दीदी$ी4 /$यािाम
कह िहे हE %क Fस वy उिकी हालत &'(C िहीं ह7 4 $ी िहीं मािता, 0प
भी चिलD ि?
|/Nमी- मE दे < 0" ह

ं 4 Fतिा ही समO लो %क, &ब बाहिी <ूि
पह

ं चािे पि ही $ीवि की 0?ा ह7 4 कGि &पिा ता$ा <ूि दे ;ा +ि Nयो
दे ;ा? उसमे भी तो पाो का भय ह7 4
ििमलम ा- FसीिलD तो मE $ाती ह

ं 4 मेिे <ूि से Nया काम ि चले;ा?
|/Nमी- चले;ा Nयो िहीं, $वाि ही का तो <ूि चा%हD, ले%कि
तु-हािे <ूि से मंसािाम की $ाि बचे , Fससे यह कहीं &'(ा ह7 %क उसे
पािी मे बहा %दया $ाये4
तां;ा 0 ;या4 ििमलम ा +ि /$यािाम दोिो $ा ब7 Bे 4 तां;ा चला4
|/Nमी Iाि पि <8ी दे त तक िोती िही4 0$ पहली बाि उसे
ििमलम ा पि दया 0", उसका बस होता तो वह ििमलम ा को बां5 ि<ती4
क|ा +ि सहािुभूित का 0वे? उसे कहां िलये $ाता ह7 , वह &पक, |प से
दे < िही !ी4 0ह! यह दभु ाZम य की पेिा ह7 4 यह सविम ा? का मा; म ह7 4
ििमलम ा &=पताल पह

ं ची, तो दीपक $ल चुके !े4 H‚N,ि लो; &पिी
िाय दे कि >वदा हो चु के !े4 मंसािाम का Kवि कु ( कम हो ;या!ा वह
,क,की ल;ाD ह

द Iाि की 6ि दे < िहा !ा4 उसकी b>i उ*मुy 0का?
की 6ि ल;ी ह

" !ी, मािे %कसी दे वता की पती]ा कि िहा हो! वह कहां
ह7 , /$स द?ा मे ह7 , Fसका उसे कु ( Rाि ि !ा4
90
सहसा ििमलम ा को दे <ते ही वह चfककि उB ब7Bा4 उसका समाि5 ,ू,
;"4 उसकी >वलुo चेतिा पदीo हो ;"4 उसे &पिे /=!ित का, &पिी द?ा
का Rाि हो ;या, मािो को" भूली ह

" बात याद हो ;" हो4 उसिे 0ं<े
#ा8कि ििमलम ा को दे <ा +ि मुंह #े ि िलया4
DकाDक मुं?ी$ी तीq =वि से बोले- तुम, यहां Nया कििे 0Œ?
ििमलम ा &वाकu िह ;"4 वह बतलाये %क Nया कििे 0"? Fतिे सी5े
से प† का भी वह को" $वाब दे सकी? वह Nया कििे 0" !ी? Fतिा
$%,ल प† %कसिे सामिे 0या हो;ा? Xि का 0दमी बीमाि ह7 , उसे दे <िे
0" ह7 , यह बात Nया >बिा पू(े मालूम ि हो सकती !ी? %#ि प† Nयो?
वह हतबु eी-सी <8ी िही, मािो संRाहीि हो ;" हो उसिे दोिो ल8को
से मुं?ी$ी के ?ोक +ि संताप की बाते सुिकि यह &िुमाि %कया !ा %क
&ब उसिका %दल सा# हो ;या ह7 4 &ब उसे Rात ह

0 %क वह ˆम !ा4
हां, वह महाˆम !ा4 म;ि वह $ािती !ी 0ंसु6ं की b>i िे भी संदे ह की
&/Zि ?ांत िहीं की, तो वह कदा>प ि 0ती4 वह कु \-कु \ाकि मि $ाती, Xि
से पांव ि ििकालती4
मुं?$ी िे %#ि वही प† %कया- तुम यहां Nयो 0Œ?
ििमलम ा िे िि:?ं क भाव से उ2ि %दया- 0प यहां Nया कििे 0ये हE ?
मुं?ी$ी के ि!ुिे #8किे ल;ा4 वह OVलाकि चािपा" से उBे +ि
ििमलम ा का हा! पक8कि बोले- तु-हािे यहां 0िे की को" $|ित िहीं4 $ब
मE बु लाWं तब 0िा4 समO ;Œ?
&िे ! यह Nया &ि! म ह

0! मंसािाम $ो चािपा" से %हल भी ि सकता
!ा, उBकि <8ा हो ;या +s ििमलम ा के प7िो पि ि;िकि िोते ह

D बोला-
&-मां$ी, Fस &भा;े के िलD 0पको 3य! म Fतिा कi ह

04 मE 0पका =िेह
कभी भी ि भूलं;ा4 "Qि से मेिी यही पा!िम ा ह7 %क मेिा पुि$म िम 0पके
;भ म से हो, /$ससे मE 0पके • से &• हो सकूं 4 "Qि $ािता ह7 , मEिे
0पको >वमाता िहीं समOा4 मE 0पको &पिी माता समOता िहा 4 0पकी
उt मुOसे बह

त Kया ि हो, ले%कि 0प, मेिी माता के =!ाि पि !ी +ि
मEिे 0पको सद7 व Fसी b>i से दे <ा...&ब िहीं बोला $ाता &-मां$ी, ]मा
की/$D! यह &ंितम भे, ह7 4
ििमलम ा िे &1ु-पवाह को िोकते ह

D कहा- तुम Jसी बाते Nयो किते
हो? दो-चाि %दि मे &'(े हो $ा6;े4
91
मंसािाम िे ]ी =वि मे कहा- &ब $ीिे की F'(ा िहीं +ि ि
बोलिे की ?>y ही ह7 4
यह कहते-कहते मंसािाम &?y होकि वहीं $मीि पि ले, ;या4
ििमलम ा िे पित की 6ि ििभयम िेMो से दे <ते ह

D कहा- H‚N,ि िे Nया
सलाह दी?
मुं?ी$ी- सब-के -सब भं; <ा ;D हE , कहते हE , ता$ा <ूि चा%हD4
ििमलम ा- ता$ा <ूि िमल $ाये, तो पा-ि]ा हो सकती ह7 ?
मुं?ी$ी िे ििमलr ा की 6ि तीq िेMो से दे <कि कहा- मE "Qि िहीं ह


+ि ि H‚N,ि ही को "Qि समOता ह

ं 4
ििमलम ा- ता$ा <ूि तो Jसी &ल~य व=तु िहीं!
मुं?ी$ी- 0का? के तािे भी तो &ल~य िही! मुंह के सामिे <दं क
Nया ची$ ह7 ?
ििमलम ा- मE 0पिा <ूि दे िे को त7याि ह

ं 4 H‚N,ि को बुलाFD4
मुं?ी$ी िे >व/=मत होकि कहा- तुम!
ििमलम ा- हां , Nया मेिे <ूि से काम ि चले;ा?
मुं?ी$ी- तुम &पिा <ूि दो;ी? िहीं, तु-हािे <ू ि की $|ित िहीं4
Fसमे पाो का भय ह7 4
ििमलम ा- मेिे पा +ि %कस %दि काम 0ये;े?
मुं?ी$ी िे स$ल-िेM होकि कहा- िहीं ििमलम ा, उसका मूVय &ब मेिी
िि;ाहो मे बह

त ब\ ;या ह7 4 0$ तक वह मेिे भो; की व=तु !ी, 0$ से
वह मेिी भ>y की व=तु ह7 4 मEिे तु-हािे सा! ब8ा &*याय %कया ह7 , ]मा
किो4
तेि ह
कु ( होिा !ा हो ;या, %कसी को कु ( ि चली4 H‚N,ि साहब
ििमलम ा की दे ह से िy ििकालिे की चेiा कि ही िहे !े %क मंसािाम
&पिे उKKवल चििM की &/*तम Oलक %द<ाकि Fस ˆम-लोक से >वदा हो
;या4 कदािचत u Fतिी दे ि तक उसके पा ििमलम ा ही की िाह दे < िहे !े4
उसे िि:कलं क िसe %कये >बिा वे दे ह को क7 से Pया; दे ते ? &ब उिका उvे cय
पूिा हो ;या4 मुं?ी$ी को ििमलम ा के ििदŽ@ होिे का >वQास हो ;या, पि
$ो
92
कब? $ब हा! से तीि ििकल चु का !ा, $ब मुस%#ि िे िकाब मे पांव Hाल
िलया !ा4
पुM-?ोक मे मुं?ी$ी का $ीवि भाि-=व|प हो ;या4 उस %दि से %#ि
उिके 6Bो पि हं सी ि 0"4 यह $ीवि &ब उ*हे 3य!म -सा $ाि प8ता !ा4
कचहिी $ाते, म;ि मुकदमो की प7िवी कििे के िलD िहीं, के वल %दल बहलािे
के िलD Xं,े -दो-Xं,े मे वहां से उकताकि चले 0ते4 <ािे ब7 Bते तो कGि मुंह
मे ि $ाता4 ििमलम ा &'(C से &'(C ची$ पकाती पि मुं?ी$ी दो-चाि कGि
से &ि5क ि <ा सकते4 Jसा $ाि प8ता %क कGि मुंह से ििकला 0ता ह7 !
मंसािाम के कमिे की 6ि $ाते ही उिका Tदय ,ूक-,ूक हो $ाता !ा4 $हां
उिकी 0?ा6ं का दीपक $लता िहता !ा, वहां &ब &ं 5काि (ाया ह

0 !ा4
उिके दो पुM &ब भी !े, ले%कि द5ू दे ती ह

" ;ायमि ;", तो बि(या का
Nया भिोसा? $ब #ू लिे-#लिेवाला व]9 ि;ि प8ा, ि*हे -ि*हे पG5ो से Nया
0?ा? यो ता $वाि-बू\े सभी मित हE , ले%कि दु:< Fस बात का !ा %क
उ*होिे =वयं ल8के की $ाि ली4 /$स दम बात याद 0 $ाती, तो Jसा
मालूम होता !ा %क उिकी (ाती #, $ाये;ी-मािो Tदय बाहि ििकल
प8े ;ा4
ििमलम ा को पित से स'ची सहािुभूित !ी4 $हां तक हो सकता !ा, वह
उिको पस*ि ि<िे का %#p ि<ती !ी +ि भूलकि भी >प(ली बाते $बाि
पि ि लाती !ी4 मुं?ी$ी उससे मंसािाम की को" चचा म किते ?िमाते !े4
उिकी कभी-कभी Jसी F'(ा होती %क Dक बाि ििमलम ा से &पिे मि के
सािे भाव <ोलकि कह दं ू, ले%कि लK$ा िोक लेती !ी4 Fस भांित उ*हे
सा*Pविा भी ि िमलती !ी, $ो &पिी 3य!ा कह Hालिे से, दसू िो को &पिे
;म मे ?िीक कि लेिे से, पाo होती ह7 4 मवाद बाहि ि ििकलकि &*दि-ही-
&*दि &पिा >व@ #7 लाता $ाता !ा, %दि-%दि दे ह Xुलती $ाती !ी4
F5ि कु ( %दिो से मुं?ी$ी +ि उि H‚N,ि साहब मे /$*होिे
मंसािाम की दवा की !ी, यािािा हो ;या !ा, बेचािे कभी-कभी 0कि मुं?ी$ी
को समOाया किते, कभी-कभी &पिे सा! हवा /<लािे के िलD <ींच ले
$ाते4 उिकी jी भी दो-चाि बाि ििमलम ा से िमलिे 0" !ीं4 ििमलम ा भी
क" बाि उिके Xि ;" !ी, म;ि वहां से $ब लG,ती, तो क" %दि तक
उदास िहती4 उस द-प>2 का सु<मय $ीवि दे <कि उसे &पिी द?ा पि
दु:< ह

D >बिा ि िहता !ा4 H‚N,ि साहब को कु ल दो सG |पये िमलते !े ,
93
पि Fतिे मे ही दोिो 0ि*द से $ीवि 3यतीत किते !े4 Xि मं के वल Dक
महिी !ी, ;ह9 =!ी का बह

त-सा काम jी को &पिे ही हा!ो कििा प8ता !4
;हिे भी उसकी दे ह पि बह

त कम !े , पि उि दोिो मे वह पेम !ा, $ो 5ि
की त9 के बिाबि पिवाह िहीं किता4 पु |@ को दे <कि jी को चेहिा /<ल
उBता !ा4 jी को दे <कि पु|@ ििहाल हो $ाता !ा4 ििमलम ा के Xि मे 5ि
Fससे कहीं &ि5क !ा, &भू@ो से उिकी दे ह #,ी प8ती !ी, Xि का को"
काम उसे &पिे हा! से ि कििा प8ता !ा4 पि ििमलम ा स-प*ि होिे पि
भी &ि5क द<ु ी !ी, +ि सु5ा >वपिि होिे पि भी सु<ी4 सु5ा के पास
को" Jसी व=तु !ी, $ो ििमलम ा के पास ि !ी, /$सके सामिे उसे &पिा
व7भव तु'( $ाि प8ता !ा4 यहां तक %क वह सु5ा के Xि ;हिे पहिकि
$ाते ?िमाती !ी4
Dक %दि ििमलम ा H‚N,ि साहब से Xि 0", तो उसे बह

त उदास
दे <कि सु 5ा िे पू (ा-ब%हि, 0$ बह

त उदास हो, वकील साहब की तबीयत
तो &'(C ह7 , ि?
ििमलम ा- Nया कह

ं , सु5ा? उिकी द?ा %दि-%दि <िाब होती $ाती ह7 ,
कु ( कहते िहीं बिता4 ि $ािे "Qि को Nया मं$ूि ह7 ?
सु5ा- हमािे बाबू $ी तो कहते हE %क उ*हे कहीं $लवायु बदलिे के िलD
$ािा $|िी ह7 , िहीं तो, को" भंयकि िो; <8ा हो $ाये;ा4 क" बाि वकील
साहब से कह भी चु के हE पि वह यही कह %दया किते हE %क मE तो बह


&'(C तिह ह

ं , मुOे को" ि?कायत िहीं4 0$ तुम कहिा4
ििमलम ा- $ब H‚N,ि साहब की िहीं सुिा, तो मेिी सुिे;े?
यह कहते-कहते ििमलम ा की 0ं <े HबHबा ;" +ि $ो ?ंका, F5ि
महीिो से उसके Tदय को >वकल किती िहती !ी, मुंह से ििकल प8ी4 &ब
तक उसिे उस ?ंका को ि(पाया !ा, पि &ब ि ि(पा सकी4 बोली-ब%हि
मुOे ल] कु द &'(े िहीं मालूम होते4 दे <े, भ;वाि u Nया किते हE ?
सा5ु-तुम 0$ उिसे <ूब $ोि दे कि कहिा %क कहीं $लवायु बदलिे
चा%हD4 दो चाि महीिे बाहि िहिे से बह

त सी बाते भूल $ाये;ी4 मE तो
समOती ह

ं ,?ायद मकाि बदलिे से भी उिका ?ोक कु ( कम हो $ाये;ा4
तुम कहीं बाहि $ा भी ि सको;ी4 यह कGि-सा महीिा ह7 ?
ििमलम ा- 0Bवां महीिा बीत िहा ह7 4 यह िच*ता तो मुOे +ि भी मािे
Hालती ह7 4 मEिे तो Fसके िलD "`ि से कभी पा!िम ि की !ी4 यह बला मेिे
94
िसि ि $ािे Nयो म\ दी? मE ब8ी &भाि;िी ह

ं , ब%हि, >ववाह के Dक महीिे
पहले >पता$ी का दे हा*ता हो ;या4 उिके मिते ही मेिे िसि ?िीचि सवाि


D4 $हां पहले >ववाह की बातचीत पNकी ह

" !ी, उि लो;ो िे 0ं <े #े ि
लीं4 बेचािी &-मां को हािकि मेिा >ववाह यहां कििा प8ा4 &ब (ो,ी ब%हि
का >ववाह होिे वाला ह7 4 दे <े, उसकी िाव %कस Xा, $ाती ह7 !
सु5ा- $हां पहले >ववाह की बातचीत ह

" !ी, उि लो;ो िे F*काि Nयो
कि %दया?
ििमलम ा- यह तो वे ही $ािे4 >पता$ी ि िहे , तो सोिे की ;Bिी कGि
दे ता?
सु5ा- यह ता िीचता ह7 4 कहां के िहिे वाले !े?
ििमलम ा- ल<िW के 4 िाम तो याद िहीं, 0बकािी के को" ब8े &#सि
!े4
सु5ा िे ;-भीिा भाव से पू(ा- +ि उिका ल8का Nया किता !ा?
ििमलम ा- कु ( िहीं, कहीं प\ता !ा, पि ब8ा होिहाि !ा4
सु5ा िे िसि िीचा किके कहा- उसिे &पिे >पता से कु ( ि कहा !ा?
वह तो $वाि !ा, &पिे बाप को दबा ि सकता !ा?
ििमलम ा- &ब यह मE Nया $ािूं ब%हि? सोिे की ;Bिी %कसे ^यािी िहीं
होती? $ो प/[Hत मेिे यहां से स*दे ? लेकि ;या !ा, उसिे तो कहा !ा %क
ल8का ही F*काि कि िहा ह7 4 ल8के की मां &लब2ा दे वी !ी4 उसिे पुM +ि
पित दोिो ही को समOाया, पि उसकी कु ( ि चली4
सु5ा- मE तो उस ल8के को पाती, तो <ूब 08े हा!ो लेती4
ििमलम ा- मिे भाZय मे $ो िल<ा !ा, वह हो चु का4 बेचािी क9 :ा पि ि
$ािे Nया बीते;ी?
संYया समय ििमलम ा िे $ािे के बाद $ब H‚N,ि साहब बाहि से 0ये ,
तो सु5ा िे कहा-Nयो $ी, तुम उस 0दमी का Nया कहो;े, $ो Dक $;ह
>ववाह BCक कि लेिे बाद %#ि लोभव? %कसी दसू िी $;ह?
H‚N,ि िस*हा िे jी की 6ि कु तूहल से दे <कि कहा- Jसा िहीं
कििा चा%हD, +ि Nया?
सु5ा- यह Nयो िहीं कहते %क ये Xोि िीचता ह7 , पहले िसिे का
कमीिापि ह7 !
िस*हा- हां, यह कहिे मे भी मुOे F*काि िहीं4
95
सु5ा- %कसका &पिा5 ब8ा ह7 ? वि का या वि के >पता का?
िस*हा की समO मे &भी तक िहीं 0या %क सु5ा के Fि प†ो का
0?य Nया ह7 ? >व=मय से बोले- $7सी /=!ित हो &;ि वह >पता क &5ीि
हो, तो >पता का ही &पिा5 समOो4
सु5ा- &5ीि होिे पि भी Nया $वाि 0दमी का &पिा को" क23म य
िहीं ह7 ? &;ि उसे &पिे िलD िये को, की $|ित हो, तो वह >पता के
>विा5 कििे पि भी उसे िो-5ोकि बिवा लेता ह7 4 Nया Jसे मह2व के >व@य
मे वह &पिी 0वा$ >पता के कािो तक िहीं पह

ं चा सकता? यह कहो %क
वह +ि उसका >पता दोिो &पिा5ी हE , पि*तु वि &ि5क4 बू\ा 0दमी
सोचता ह7 - मुOे तो सािा <च म संभालिा प8े ;ा, क*या प] से /$तिा Jं B
सकूं , उतिा ही &'(ा4 म;ेि वि का 5म म ह7 %क य%द वह =वा! म के हा!ो
>बलकु ल >बक िहीं ;या ह7 , तो &पिे 0Pमबल का पििचय दे 4 &;ि वह
Jसा िहीं किता, तो मE कह

ं ;ी %क वह लोभी ह7 +ि कायि भी4 दभु ाZम यव?
Jसा ही Dक पाी मेिा पित ह7 +ि मेिी समO मे िहीं 0ता %क %कि
?Aदो मे उसका िति=काि क|ं !
िस*हा िे %हच%कचाते ह

D कहा- वह...वह...वह...दसू िी बात !ी4 लेि-दे ि
का काि िहीं !ा, >बलकु ल दसू िी बाता !ी4 क*या के >पता का दे हा*त हो
;या !ा4 Jसी द?ा मे हम लो; Nयो किते ? यह भी सुििे मे 0या !ा %क
क*या मे को" Jब ह7 4 वह >बलकु ल दसू िी बाता !ी, म;ि तुमसे यह क!ा
%कसिे कही4
सु5ा- कह दो %क वह क*या कािी !ी, या कु ब8ी !ी या िाFि के पे,
की !ी या ˆiा !ी4 Fतिी कसि Nयो (ो8 दी? भला सुिूं तो, उस क*या मे
Nया Jब !ा?
िस*हा- मEिे दे <ा तो !ा िहीं, सुििे मे 0या !ा %क उसमे को" Jब
ह7 4
सु5ा- सबसे ब8ा Jब यही !ा %क उसके >पता का =व;वम ास हो ;या
!ा +ि वह को" लंबी-चG8ी िकम ि दे सकती !ी4 Fतिा =वीकाि किते
Nयो Oेपते हो? मE कु ( तु-हािे काि तो का, ि लूं;ी! &;ि दो-चाि %#किे
कह

ं , तो Fस काि से सुिकि उसक काि से उ8ा दे िा4 Kयादा-चीं-चप8 क|ं ,
तो (8ी से काम ले सकते हो4 +ित $ात H[Hे ही से BCक िहती ह7 4 &;ि
96
उस क*या मे को" Jब !ा, तो मE कह

ं ;ी, ल)मी भी बे-Jब िहीं4 तु-हािी
<ो,ी !ी, बस! +ि Nया? तु-हे तो मेिे पाले प8िा !ा4
िस*हा- तुमसे %कसिे कहा %क वह Jसी !ी व7सी !ी? $7 से तुमिे %कसी
से सुिकि माि िलया4
सु5ा- मEिे सुिकि िहीं माि िलया4 &पिी 0ं <ो दे <ा4 Kयादा ब<ाि
Nया क|ं , मEिे Jसी सु*दी jी कभी िहीं दे <ी !ी4
िस*हा िे 3यs होकि पू(ा-Nया वह यहीं कहीं ह7 ? सच बता6, उसे
कहां दे <ा! Nया तुम•ािे Xि 0" !ी?
सु5ा-हां, मेिे Xि मे 0" !ी +ि Dक बाि िहीं, क" बाि 0 चु की ह7 4
मE भी उसके यहां क" बाि $ा चु की ह

ं , वकील साहब के बीवी वही क*या ह7 ,
/$से 0पिे Jबो के काि Pया; %दया4
िस*हा-सच!
सु5ा->बलकु ल सच4 0$ &;ि उसे मालूम हो $ाये %क 0प वही
महापु|@ हE , तो ?ायद %#ि Fस Xि मे कदम ि ि<े4 Jसी सु?ीला, Xि के
कामो मे Jसी ििपु +ि Jसी पिम सु*दािी jी Fस ?हि मे दो ही चाि
हो;ी4 तुम मेिा ब<ाि किते हो4 म74 उसकी लfHी बििे के योZय भी िहीं


ं 4 Xि मे "Qि का %दया ह

0 सब कु ( ह7 , म;ि $ब पाी ही मेल के ‘ा
िहीं, तो +ि सब िहकि Nया किे ;ा? 5*य ह7 उसके 57 य म को %क उस बु{Sे
<ूस, वकील के सा! $ीवि के %दि का, िही ह7 4 मEिे तो कब का $हि <ा
िलया होता4 म;ि मि की 3य!ा कहिे से ही !ो8े पक, होती ह7 4 हं सती ह7 ,
बोलती ह7 , ;हिे-कप8े पहिती ह7 , पि िोयां-िोयां िाया किता ह7 4
िस*हा-वकील साहब की <ूब ि?कायत किती हो;ी?
सु5ा-ि?कायत Nयो किे ;ी? Nया वह उसके पित िहीं हE ? संसाि मे &ब
उसके िलD $ो कु ( हE , वकील साहब4 वह बु{Sे हो या िो;ी, पि हE तो उसके
=वामी ही4 कु लवंती jीयां पित की िि*दा िहीं कितीं,यह कु ल,ा6ं का काम
ह7 4 वह उिकी द?ा दे <कि कु \ती हE , पि मुंह से कु (ा िहीं कहती4
िस*हा- Fि वकील साहब को Nया सूOी !ी, $ो Fस उt मे Aयाह
कििे चले?
सु5ा- Jसे 0दमी ि हो, तो ;िीब Nवािियो की िाव कGि पाि ल;ाये?
तुम +ि तु-हािे सा!ी >बिा भािी ;Bिी िलD बात िहीं किते , तो %#ि ये
बेचािि %कसके Xि $ायं? तुमिे यह ब8ा भािी &*याय %कया ह7 , +ि तु-हे
97
Fसका पा/cयचत कििा प8े ;ा4 "Qि उसका सुहा; &मि किे , ले%कि वकील
साहब को कहीं कु ( हो ;या, तो बेचािी का $ीवि ही िi हो $ाये‘े;ा4
0$ तो वह बह

त िोती !ी4 तुम लो; सचमुच ब8े ििदम यी हो4 म74 तो
&पिे सोहि का >ववाह %कसी ;िीब ल8की से क|ं ;ी4
H‚N,ि साहब िे यह >प(ला वाNया िहीं सुिा4 वह Xोि िच*ता मं प8
;ये4 उिके मि मे यह प† उB-उBकि उ*हे >वकल कििे ल;ा-कहीं वकील
साहब को कु ( हो ;या तो? 0$ उ*हे &पिे =वा! म का भंयकि =व|प
%द<ायी %दया4 वा=तव मे यह उ*हीं का &पिा5 !ा4 &;ि उ*होिे >पता से
$ोि दे कि कहा होता %क म74 +ि कहीं >ववाह ि क|ं ;ा, तो Nया वह उिकी
F'(ा के >व|I उिका >ववाह कि दे ते?
सहसा सु5ा िे कहा-कहो तो कल ििमलम ा से तु-हािी मुलाकात किा
दं ू? वह भी $िा तु-हािी सूित दे < ले4 वह कु ( बोल;ी तो िहीं, पि कदािचतu
Dक b>i से वह तु-हािा Fतिा िति=काि कि दे ;ी, /$से तुम कभी ि भूल
सको;े4 बोलो, कल िमला द’ ू? तु-हािा बह

त सं /]o पििचय भी किा दं ;ू ीं
िस*हा िे कहा-िहीं सु5ा, तु-हािे हा! $ो8ता ह

ं , कहीं Jसा ;$ब ि
कििा! िहीं तो सच कहता ह

ं , Xि (ो8कि भा; $ाWं ;ा4
सु5ा-$ो कां,ा बोया ह7 , उसका #ल <ाते Nयो Fतिा Hिते हो? /$सकी
;दम ि पि क,ाि चला" ह7 , $िा उसे त8पते भी तो दे <ो4 मेिे दादा $ी िे पांच
ह$ाि %दये ि! &भी (ो,े भा" के >ववाह मं पांच-(: ह$ाि +ि िमल $ाये;े4
%#ि तो तु-हािे बिाबि 5िी संसाि मे का" दसू िा ि हो;ा4 Zयािह ह$ाि
बह

त होते हE 4 बाप-िे -बाप! Zयािह ह$ाि! उBा-उBाकि ि<िे ल;े, तो महीिो
ल; $ाये &;ि ल8के उ8ािे ल;े, तो पी%\यो तक चले4 कहीं से बात हो िही
ह7 या िहीं?
Fस पििहास से H‚N,ि साहब Fतिा Oेपे %क िसि तक ि उBा सके 4
उिका सािा वाकu -चातुय म ;ायब हो ;या4 ि*हा-सा मुंह ििकल 0या, मािो
माि प8 ;" हो4 Fसी वy %कसी H‚N,ि साहब को बाहि से पु कािां बेचािे
$ाि लेकि भा;े4 jी %कतिी पििहास कु ?ल होती ह7 , Fसका 0$ पििचय
िमल ;या4
िात को H‚N,ि साहब ?यि किते ह

D सु5ा से बोले -ििtला की तो
को" ब%हि ह7 ि?
98
सु5ा- हां, 0$ उसकी चचा म तो किती !ी4 Fसकी िच*ता &भी से सवाि
हो िही ह7 4 &पिे Wपि तो $ो कु ( बीतिा !ा, बीत चु का, ब%हि की %क#p
मे प8ी ह

" !ी4मां के पास तो &ब 6ि भी कु ( िहीं िहा, म$बूिि %कसी
Jसे ही बू\े बाबा क ;ले वह भी म\ दी $िये;ी4
िस*हा- ििमलम ा तो &पिी मां की मदद कि सकती ह7 4
सु5ा िे ती) =वि मे कहा-तुम भी कभी-कभी >बलकु ल बेिसिw प7ि
की बाते कििे ल;ते हो4 ििमलम ा बह

त किे ;ी, तो दा-चाि सG |पये दे दे ;ी,
+ि Nया कि सकती ह7 ? वकील साहब का यह हाल हो िहा ह7 , उसे &भी
पहा8-सी उt का,िी ह7 4 %#ि कGि $ािे उिके Xि का Nय? हाल ह7 ? F5ि
(:महीिे से बेचािे Xि ब7 Bे हE 4 |पये 0का? से !ो8े ही बिसते ह7 4 दस-बीस
ह$ाि हो;े भी तो बE क मे हो;े , कु ( ििमलम ा के पास तो ि<े ि हो;े4 हमािा
दो सG |पया महीिे का <च म ह7 , तो Nया Fिका चाि सG |पये महीिे का भी
ि हो;ा?
सु5ा को तो िींद 0 ;",पि H‚N,ि साहब बह

त दे ि तक किव,
बदलते िहे , %#ि कु ( सोचकि उBे +ि मे$ पि ब7Bकि Dक पM िल<िे
ल;े4
चG दह
िो बाते Dक ही सा! ह

Œ-ििमलम ा के क*या को $*म %दया, क9 :ा का
>ववाह िि/`त ह

0 +ि मुं?ी तोतािाम का मकाि िीलाम हो ;या4
क*या का $*म तो सा5ाि बात !ी, यn>प ििमलम ा की b>i मे यह उसके
$ीवि की सबसे महाि X,िा !ी, ले%कि ?े@ दोिो X,िाDं &या5ाि !ीं4
क9 :ा का >ववाह-Jसे स-प*ि Xिािे मे Nयोकि BCक ह

0? उसकी माता के
पास तो दहे $ के िाम को कG8ी भी ि !ी +ि F5ि बू\े िस*हा साहब $ो
&ब पे?ि लेकि Xि 0 ;ये !े , >बिादिी महालोभी म?ह

ि !े4 वह &पिे पुM
का >ववाह Jसे दिि. Xिािे मे कििे पि क7 से िा$ी ह

D4 %कसी को सहसा
>वQास ि 0ता !ा4 Fससे भी ब8 0`य म की बात मुं?ी$ी के मकाि का
िीलाम होिा !ा4 लो; मुं?ी$ी को &;ि ल<पती िहीं, तो ब8ा 0दमी
&वcय समOते !े4 उिका मकाि क7 से िीलाम ह

0? बात यह !ी %क
मुं?ी$ी िे Dक महा$ि से कु ( |पये क$ म लेकि Dक ;ांव िहे ि ि<ा!ा4
दो
99
उ*हे 0?ा !ी %क साल-05-साल मे यह |पये पा, दे ;े, %#ि दस-पांच साल
मे उस ;ांव पि कA$ा कि ले;े4 वह $मींदाि&सल +ि सूद के कु ल |पये
&दा कििे मे &सम! म हो $ाये;ा4 Fसी भिोसे पि मुं?ी$ी िे यह मामला
%कया !ा4 ;ांव बेह

त ब8ा !ा, चाि-पांच सG |पये ि#ा होता !ा, ले%कि मि
की सोची मि ही मे िह ;"4 मुं?ी$ %दल को बह

त समOािे पि भी
कचहिी ि $ा सके 4 पुM?ोक िे उिमं को" काम कििे की ?>y ही िहीं
(ो8ी4 कGि Jसा Tदय Š?ू*य >पता ह7 , $ो पुM की ;दम ि पि तलवाि चलाकि
िच2 को ?ा*त कि ले?
महा$ि के पास $ब साल भि तक सूद ि पह

ं चा +ि ि उसके बाि-
बाि बुलािे पि मुं?ी$ी उसके पास ;ये4 यहां तक %क >प(ली बाि उ*होिे
सा#-सा# कही %दया %क हम %कसी के ;ुलाम िहीं हE , साह

$ी $ो चाहे किे
तब साह

$ी को ;ु =सा 0 ;या4 उसिे िािल? कि दी4 मुं?$ी प7 िवी कििे
भी ि ;ये4 DकाDक %Hsी हो ;"4 यहां Xि मे |पये कहां ि<े !े ? Fतिे ही
%दिो मे मुं?ी$ी की सा< भी उB ;" !ी4 वह |पये का को" पब*5 ि कि
सके 4 0/<ि मकाि िीलाम पि च\ ;या4 ििtला सGि मे !ी4 यह <बि
सुिी, तो कले$ा स*ि-सा हो ;या4 $ीवि मे को" सु< ि होिे पि भी
5िाभाव की िच*ता6ं से मुy !ी4 5ि मािव $ीवि मे &;ि सवपम 5ाि
व=तु िहीं, तो वह उसके बह

त ििक, की व=तु &वcय ह7 4 &ब +ि &भावो
के सा! यह िच*ता भी उसके िसि सवाि ह

"4 उसे दा" Iािा कहला भे$ा,
मेिे सब ;हिे बेचकि Xि को बचा ली/$D, ले%कि मुं?ी$ी िे यह प=ताव
%कसी तिह =वीकाि ि %कया4
उस %दि से मुं?ी$ी +ि भी िच*ताs=त िहिे ल;े4 /$स 5ि का
सु< भो;िे के िलD उ*होिे >ववाह %कया !ा, वह &ब &तीत की =मि9 त माM
!ा4 वह मािे Zलािि क &ब ििमलम ा को &पिा मुंह तक ि %द<ा सकते4
उ*हे &ब उसक &*याय का &िुमाि हो िहा !ा, $ो उ*होिे ििमलम ा के सा!
%कया !ा +ि क*या के $*म िे तो िही-सही कसि भी पू िी कि दी,
सविम ा? ही कि Hाला!
बािहवे %दि सGि से ििकलकि ििमलम ा िव$ात ि??ु को ;ोद िलये
पित के पास ;"4 वह Fस &भाव मे भी Fतिी पस*ि !ी, मािो उसे को"
िच*ता िहीं ह7 4 बािलका को Tदय से ल;ाि वह &पिी सािी िच*ताDसं भूल
;" !ी4 ि??ु के >वकिसत +ि ह@ म पदीo िेMो को दे <कि उसका Tदय
100
प#ु /Vलत हो िहा !ा4 मातP9 व के Fस उ“ाि मे उसके सािे Nले? >वलीि हो
;ये !े4 वह ि??ु को पित की ;ोद मे दे कि ििहाल हो $ािा चाहती !ी,
ले%कि मुं?ी$ी क*या को दे <कि सहम उBे 4 ;ोद लेिे के िलD उिका Tदय


लसा िहीं, पि उ*होिे Dक बाि उसे क| िेMो से दे <ा +ि %#ि िसि
Oुका िलया, ि??ु की सूित मंसािाम से >बलकु ल िमलती !ी4
ििमलम ा िे उसके मि का भाव +ि ही समOा4 उसिे ?त;ु =िेह से
ल8की को Tदय से ल;ा िलया मािो उसिसे कह िही ह7 -&;ि तुम Fसके
बोO से दबे $ाते हो, तो 0$ से मE Fस पि तु-हाि साया भी िहीं प8िे
दं;ू ी4 /$स िति को मEिे Fतिी तप=या के बाद पाया ह7 , उसका िििादि
किते ह

D तु-हाि Tदय #, िहीं $ाता? वह उसी ] ि??ु को ;ोद से
िचपकाते ह

D &पिे कमिे मे चली 0" +ि दे ि तक िोती िही4 उसिे पित
की Fस उदासीिता को समOिे की $िी भी चेiा ि की, िहीं तो ?ायद वह
उ*हे Fतिा कBोि ि समOती4 उसके िसि पि उ2िदाियPव का Fतिा ब8ा
भाि कहां !ा,$ो उसके पित पि 0 प8ा !ा? वह सोचिे की चेiा किती, तो
Nया Fतिा भी उसकी समO मे ि 0ता?
मुं?ी$ी को Dक ही ] मे &पिी भूल मालूम हो ;"4 माता का
Tदय पेम मे Fतिा &िुिy िहता ह7 %क भ>व:य की िच*PR +ि बा5ाDं उसे
$िा भी भयभीत िहीं कितीं4 उसे &पिे &ं त:कि मे Dक &लG%कक ?>y
का &िुभव होता ह7 , $ो बा5ा6ं को उिके सामिे पिा=त कि दे ती ह7 4
मुं?ी$ी दG8े ह

D Xि मे 0ये +ि ि??ु को ;ोद मे लेकि बोले मुOे याद
0ती ह7 , मंसा भी Jसा ही !ा->बलकु ल Jसा ही!
ििमलम ा-दीदी$ी भी तो यही कहती ह7 4
मुं?ी$ी->बलकु ल वहीं ब8ी-ब8ी 0ं <े +ि लाल-लाल 6ं B हE 4 "Qि िे
मुOे मेिा मंसािाम Fस |प मे दे %दया4 वही मा!ा ह7 , वही मुंह, वही हा!-पांव!
"Qि तु-हािी लीला &पाि ह7 4
सहसा |/Nमी भी 0 ;"4 मुं?ी$ी को दे <ते ही बोली-दे <ो बाबू,
मंसािाम ह7 %क िहीं? वही 0या ह7 4 को" ला< कहे , मE ि मािूं ;ी4 सा#
मंसािाम ह7 4 साल भि के ल;भ; ही भी तो ;या4
मुं?ी$ी-ब%हि, Dक-Dक &ं ; तो िमलता ह7 4 बस, भ;वाि u िे मुOे मेिा
मंसािाम दे %दया4 (ि??ु से) Nयो िी, तू मंसािाम ही ह7 ? (G8कि $ािे का
िाम ि लेिा, िहीं %#ि <ींच लाWं ;ा4 क7 से ििLु ि होकि भा;े !े4 0/<ि
101
पक8 लाया %क िहीं? बस, कह %दया, &ब मुOे (ो8कि $ािे का िाम ि
लेिा4 दे <ो ब%हि, क7 सी ,ु कु ि-,ु कु ि ताक िही ह7 ?
उसी ] मुं?ी$ी िे %#ि से &िभला@ा6ं का भवि बिािा ?ु| कि
%दया4 मोह िे उ*हे %#ि संसाि की 6ि <ींचां मािव $ीवि! तू Fतिा
]भं;ु ि ह7 , पि तेिी कVपिाDं %कतिी दीXालम ु! वही तोतािाम $ो संसाि से
>विy हो िह !े , $ो िात-%दि मुPयु का 0वाहि %कया किते !े , ितिके का
सहािा पाकि त, पि पह

ं चिे के िलD पूिी ?>y से हा!-पांव माि िहे हE 4
म;ि ितिके का सहािा पाकि को" त, पि पह

ं चा ह7 ?
प*. ह
मलम ा को यn>प &पिे Xि के OंO,ो से &वका? ि !ा, पि क9 :ा के
>ववाह का संदे ? पाकि वह %कसी तिह ि |क सकी4 उसकी माता िे
बेह

त 0sह किके बुलाया !ा4 सबसे ब8ा 0क@म यह !ा %क क9 :ा का
>ववाह उसी Xि मे हो िहा !ा, $हां ििमलम ा का >ववाह पहले तय ह

0 !ा4
0`य म यही !ा %क Fस बाि ये लो; >बिा कु ( दहे $ िलD क7 से >ववाह कििे
पि त7याि हो ;D! ििमलम ा को क9 :ा के >व@य मे ब8ी िच*ता हो िही !ी4
समOती !ी- मेिी ही तिह वह भी %कसी के ;ले म\ दी $ाये;ी4 बह


चाहती !ी %क माता की कु ( सहायता क|ं , /$ससे क9 :ा के िलD को"
योZय वह िमले, ले%कि F5ि वकील साहब के Xि ब7B $ािे +ि महा$ि के
िािल? कि दे िे से उसका हा! भी तं; !ा4 Jसी द?ा मे यह <बि पाकि
उसे ब8ी ?/*त िमली4 चलिे की त7यािी कि ली4 वकील साहब =,े ?ि तक
पह

ं चािे 0ये4 ि*हीं ब'ची से उ*हे बह

त पेम !ा4 (ो‘7 8ते ही ि !े , यहां
तक %क ििमलम ा के सा! चलिे को त7याि हो ;ये, ले%कि >ववाह से Dक
महीिे पहले उिका ससुिाल $ा ब7Bिा ििमलम ा को उिचत ि मालूम ह

04
ििमलम ा िे &पिी माता से &ब तक &पिी >वप>2 क!ा ि कही !ी4 $ो
बात हो ;", उसका िोिा िोकि माता को कi दे िे +ि |लािे से Nया
#ायदा? FसिलD उसकी माता समOती !ी, ििमलम ा ब8े 0ि*द से ह7 4 &ब
$ो ििमलम ा की सूित दे <ी, तो मािो उसके Tदय पि 5Nका-सा ल; ;या4
ल8%कयां सुसुिाल से Xु लकि िहीं 0तीं, %#ि ििमलम ा $7सी ल8की, /$सको
सु< की सभी सामिsयां पाo !ीं4 उसिे %कतिी ल8%कयो को द$ू की
िि
102
च*.मा की भांित ससुिाल $ाते +ि पू म च*. बिकि 0ते दे <ा !ा4 मि
मे कVपिा कि िही !ी, ििमलम ा का िं ; िि<ि ;या हो;ा, दे ह भिकि सुHGल
हो ;" हो;ी, &ं ;-पPयं; की ?ोभा कु ( +ि ही हो ;" हो;ी4 &ब $ो
दे <ा, तो वह 05ी भी ि िही !ीं ि यGवि की चंचलता !ी सि वह >वहिसत
(>व लो Tदय को मोह लेती ह7 4 वह कमिीयता, सुकु मािता, $ो >वलासमय
$ीवि से 0 $ाती ह7 , यहां िाम को ि !ी4 मु< पीला, चेiा ि;िी ह

Œ, तो
माता िे पू (ा-Nयो िी, तुOे वहां <ािे को ि िमलता !ा? Fससे कहीं &'(C
तो तू यहीं !ी4 वहां तुOे Nया तकली# !ी?
क9 :ा िे हं सकि कहा-वहां माल%कि !ीं %क िहीं4 माल%कि दिु िया
भि की िच*ताDं िहती हE , भो$ि कब किे ?
ििमलम ा-िहीं &-मां, वहां का पािी मुOे िास िही 0या4 तबीयत भािी
िहती ह7 4
माता-वकील साहब *योते मे 0ये;े ि? तब पू (ूं ;ी %क 0पिे #ू ल-सी
ल8की ले $ाकि उसकी यह ;त बिा Hाली4 &'(ा, &ब यह बता %क तूिे
यहां |पये Nयो भे$े !े? मEिे तो तुमसे कभी ि मां;े !े4 ला< ;"-;ु लिी ह

ं ,
ले%कि बे,ी का 5ि <ािे की िीयत िहीं4
ििमलम ा िे च%कत होकि पू(ा- %कसिे |पये भे$े !े4 &-मां, मEिे तो
िहीं भे$े4
माता-OूB िे बोल! तूिे पांच सG |पये के िो, िहीं भे$े !े?
क9 :ा-भे$े िहीं !े, तो Nया 0समाि से 0 ;ये? तु-हािा िाम सा#
िल<ा !ा4 मोहि भी वहीं की !ी4
ििमलम ा-तु-हािे चि (ू कि कहती ह

ं , मEिे |पये िहीं भे$े4 यह कब की
बात ह7 ?
माता-&िे , दो-Sा" महीिे ह

D हो;े4 &;ि तूिे िहीं भे$े, तो 0ये कहां
से?
ििमलम ा-यह मE Nया $ािू? म;ि मEिे |पये िहीं भे$े4 हमािे यहां तो
$ब से $वाि बे,ा मिा ह7 , कचहिी ही िहीं $ाते4 मेिा हा! तो 0प ही तं;
!ा, |पये कहां से 0ते?
माता- यह तो ब8े 0`य म की बात ह7 4 वहां +ि को" तेिा स;ा
स-ब*5ी तो िहीं ह7 ? वकील साहब िे तुमसे ि(पाकि तो िहीं भे$े?
ििमलम ा- िहीं &-मां, मुOे तो >वQास िहीं4
103
माता- Fसका पता ल;ािा चा%हD4 मEिे सािे |पये क9 :ा के ;हिे-
कप8े मे <च म कि Hाले4 यही ब8ी मु/cकल ह

"4
दोिो ल8को मे %कसी >व@य पि >ववाद उB <8ा ह

0 +ि क9 :ा
उ5ि #7 सला कििे चली ;", तो ििमलम ा िे माता से कहा- Fस >ववाह की
बात सुिकि मुOे ब8ा 0`य म ह

04 यह क7 से ह

0 &-मां?
माता-यहां $ो सुिता ह7 , दांतो उं ;ली दबाता हE 4 /$ि लो;ो िे पNकी
की किा" बात #े ि दी +ि के वल !ो8े से |पये के लोभ से , वे &ब >बिा
कु ( िलD क7 से >ववाह कििे पि त7याि हो ;ये , समO मे िहीं 0ता4 उ*होिे
<ुद ही पM भे$ा4 मEिे सा# िल< %दया %क मेिे पास दे िे -लेिे को कु ( िहीं
ह7 , कु ?-क*या ही से 0पकी सेवा कि सकती ह

ं 4
ििमलम ा-Fसका कु ( $वाब िहीं %दया?
माता-?ाjी$ी पM लेकि ;ये !े4 वह तो यही कहते !े %क &ब
मुं?ी$ी कु ( लेिे के F'(ु क िहीं ह7 4 &पिी पहली वादा-/<ला# पि कु (
ल/K$त भी हE 4 मुं?ी$ी से तो Fतिी उदािता की 0?ा ि !ी, म;ि सुिती


ं , उिके ब8े पुM बह

त सK$ि 0दमी ह7 4 उ*होिे कह सुिकि बाप को िा$ी
%कया ह7 4
ििमलम ा- पहले तो वह महा?य भी !7ली चाहते !े ि?
माता- हां, म;ि &ब तो ?ाjी$ी कहते !ो %क दहे $ के िाम से िच\ते
हE 4 सुिा ह7 यहां >ववाह ि कििे पि प(ताते भी !े4 |पये के िलD बात
(ो8ी !ी +ि |पये <ूब पाये, jी पसं*द िहीं4
ििमलम ा के मि मे उस पु|@ को दे <िे की पबल उPकं Bा ह

", $ो
उसकी &वहे लिा किके &ब उसकी ब%हि का उIाि कििा चाहता हE पाय/`त
सही, ले%कि %कतिे Jसे पाी हE , $ो Fस तिह पाय/`त कििे को त7याि हE ?
उिसे बाते कििे के िलD, िt ?Aदो से उिका िति=काि कििे के िलD,
&पिी &िुपम (>व %द<ाकि उ*हे +ि भी $लािे के िलD ििमलम ा का Tदय
&5ीि हो उBा4 िात को दोिो ब%हिे Dक ही के मिे मे सो"4 मुहVले मे
%कि-%कि ल8%कयो का >ववाह हो ;या, कGि-कGि ल8कोिी ह

Œ, %कस-%कस
का >ववाह 5ूम-5ाम से ह

04 %कस-%कस के पित कि F'(ािुकू ल िमले, कGि
%कतिे +ि क7 स ;हिे च\ावे मे लाया, F*हीं >व@यो मे दोिो मे ब8ी दे ि तक
बाते होती िहीं4 क9 :ा बाि-बाि चाहती !ी %क ब%हि के Xि का कु ( हाल
पू(ं , म;ि ििमलम ा उसे पू(िे का &वसि ि दे ती !ी4 $ािती !ी %क यह $ो
104
बाते पू (े ;ी उसके बतािे मे मुOे सं कोच हो;ा4 0/<ि Dक बाि क9 :ा पू (
ही ब7BC-$ी$ा$ी भी 0ये;े ि?
ििमलाम- 0िे को कहा तो ह7 4
क9 :- &ब तो तुमसे पस*ि िहते हE ि या &ब भी वही हाल ह7 ? मE तो
सुिा किती !ी दहु ा$ू पित jी को पाो से भी >पया समOते हE , वहां
>बलकु ल उV,ी बात दे <ी4 0/<ि %कस बात पि >ब;8ते िहते हE ?
ििमलम ा- &ब मE %कसी के मि की बात Nया $ािू?
कु :ा- मE तो समOती ह

ं , तु-हािी |<ा" से वह िच\ते हो;े4 तुम हो
यहीं से $ली ह

" ;" !ी4 वहां भी उ*हे कु ( कहा हो;ा4
ििमलम ा- यह बात िहीं ह7 , क9 :ा, मE सG;*5 <ाकि कहती ह

ं , $ो मेिे
मि मे उिकी 6ि से $िा भी म7ल हो4 मुOसे $हां तक हो सकता ह7 , उिकी
सेवा किती ह

ं , &;ि उिकी $;ह को" दे वता भी होता, तो भी मE Fससे
Kयादा +ि कु ( ि कि सकती4 उ*हे भी मुOसे पेम ह7 4 बिाबि मेिा मुं<
दे <ते िहते हE , ले%कि $ो बात उिक +ि मेिे काबू के बाहि ह7 , उसके िलD
वह Nया कि सकते हE +ि मE Nया कि सकती ह

ं ? ि वह $वाि हो सकते
हE , ि मE बु%\या हो सकती ह

ं 4 $वाि बििे के िलD वह ि $ािे %कतिे िस
+ि भ=म <ाते िहते हE , मE बु %\या बििे के िलD द5ू -Xी सब (ो8े ब7BC ह

ं 4
सोचती ह

ं , मेिे दबु लेपि ही से &व=!ा का भेद कु ( कम हो $ाय, ले%कि ि
उ*हे पG>iक पदा!l से कु ( लाभ होता ह7 , ि मुOे उपवसो से4 $ब से
मंसािाम का दे हा*त हो ;या ह7 , तब से उिकी द?ा +ि <िाब हो ;यी ह7 4
क9 :ा- मंसािाम को तुम भी बह

त ^याि किती !ीं?
ििमलम ा- वह ल8का ही Jसा !ा %क $ो दे <ता !ा, ^याि किता !ा4
Jसी ब8ी-ब8ी Hोिे दाि 0ं <े मEिे %कसी की िहीं दे <ीं4 कमल की भांित मु<
हिदम /<ला िह !ा4 Jसा साहसी %क &;ि &वसि 0 प8ता, तो 0; मे
#ांद $ाता4 क9 :ा, मE तुमसे कहती ह

ं , $ब वह मेिे पास 0कि ब7B $ाता, तो
मE &पिे को भूल $ाती !ी4 $ी चाहता !ा, वह हिदम सामिे ब7 Bा िहे +ि
मE दे <ा क|ं 4 मेिे मि मे पाप का ले? भी ि !ा4 &;ि Dक ] के िलD
भी मEिे उसकी 6ि %कसी +ि भाव से दे <ा हो, तो मेिी 0ं<े #ू , $ाये, पि
ि $ािे Nयो उसे &पिे पास दे <कि मेिा Tदय #ू ला ि समाता !ा4
FसीिलD मEिे प\िे का =वां; िचा िहीं तो वह Xि मे 0ता ही ि !ा4 यह
105
म74 $ािती ह

ं %क &;ि उसके मि मे पाप होता, तो मE उसके िलD सब कु (
कि सकती !ी4
क9 :ा- &िे ब%हि, चुप िहो, क7 सी बाते मुं ह से ििकालती हो?
ििमलम ा- हां, यह बात सुििे मे बु िी मालूम होती ह7 +ि ह7 भी बु िी,
ले%कि मिु:य की पक9 ित को तो को" बदल िहीं सकता4 तू ही बता- Dक
पचास व@ म के मदम से तेिा >ववाह हो $ाये, तो तू Nया किे ;ी?
क9 :ा-ब%हि, मE तो $हि <ाकि सो िह

ं 4 मुOसे तो उसका मुंह भी ि
दे <ते बिे4
ििमलम ा- तो बस यही समO ले4 उस ल8के िे कभी मेिी 6ि 0ं <
उBाकि िहीं दे <ा, ले%कि बु{Sे तो ?Nकी होते ही हE , तु-हािे $ी$ा उस ल8के
के दcु मि हो ;D +ि 0/<ि उसकी $ाि लेकि ही (ो8ी4 /$से %दि उसे
मालूम हो ;या %क >पता$ी के मि मे मेिी 6ि से स*दे ह ह7 , उसी %दि के
उसे Kवि च\ा, $ो $ाि लेकि ही उतिा4 हाय! उस &/*तम समय का bcय
0ं<ो से िहीं उतिता4 मE &=पताल ;" !ी, वह Kवी मे बेहो? प8ा !ा, उBिे
की ?>y ि !ी, ले%कि Kयो ही मेिी 0वा$ सुिी, चfककि उB ब7Bा +ि
mमाता-माताw कहकि मेिे प7िो पि ि;ि प8ा (िोकि) क9 :ा, उस समय Jसा $ी
चाहता !ा &पिे पा ििकाल कि उसे दे दं4ू मेिे प7िां पि ही वह मूि(म त हो
;या +ि %#ि 0ं <े ि <ोली4 H‚N,ि िे उसकी दे ह मे ता$ा <ूि Hालिे
का प=ताव %कया !ा, यही सुिकि मE दG8ी ;" !ी ले%कि $ब तक H‚N,ि
लो; वह प%pया 0ि-भ किे , उसके पा, ििकल ;D4
क9 :ा- ता$ा िy प8 $ािे से उसकी $ाि बच $ाती?
ििमलम ा- कGि $ािता ह7 ? ले%कि मE तो &पिे |ि5ि की &/*तम बूंद
तक दे िे का त7याि !ी उस द?ा मे भी उसका मु<म[Hल दीपक की भांित
चमकता !ा4 &;ि वह मुOे दे <ते ही दG8कि मेिे प7 िो पि ि ि;ि प8ता,
पहले कु ( िy दे ह मे पह

ं च $ाता, तो ?ायद बच $ाता4
क9 :ा- तो तुमिे उ*हे उसी वyा िल,ा Nयो ि %दया?
ििमलम ा- &िे प;ली, तू &भी तक बात ि समOी4 वह मेिे प7 िो पि
ि;िकि +ि माता-पुM का स-ब*5 %द<ाकि &पिे बाप के %दल से वह
स*दे ह ििकाल दे िा चाहता !ा4 के वल FसीिलD वह उBा !4 मेिा Nले?
िम,ािे के िलD उसिे पा %दये +ि उसकी वह F'(ा पूिी हो ;"4 तु-हािे
$ी$ा$ी उसी %दि से सी5े हो ;ये4 &ब तो उिकी द?ा पि मुOे दया 0ती
106
ह7 4 पुM-?ाक उिक पा लेकि (ो8े ;ा4 मुO पि स*दे ह किके मेिे सा! $ो
&*याय %कया ह7 , &ब उसका पित?ो5 कि िहे हE 4 &बकी उिकी सूित
दे <कि तू Hि $ाये;ी4 बू\े बाबा हो ;ये हE , कमि भी कु ( Oुक चली ह7 4
क9 :ा- बु {Sे लो; Fतिी ?Nकी Nयो होते हE , ब%हि?
ििमलम ा- यह $ाकि बु{Sो से पू (ो4
क9 :ा- मE समOती ह

ं , उिके %दल मे हिदम Dक चोि-सा ब7Bा िहता
हो;ा %क Fस युवती को पस*ि िहीं ि< सकता4 FसिलD $िा-$िा-सी बात
पि उ*हे ?क होिे ल;ता ह7 4
ििमलम ा- $ािती तो ह7 , %#ि मुOसे Nयो पू(ती ह7 ?
कु :ा- FसीिलD बेचािा jी से दबता भी हो;ा4 दे <िे वाले समOते
हो;े %क यह बह

त पेम किता ह7 4
ििमलम ा- तूिे Fतिे ही %दिो मे F तिी बाते कहां सी< लीं ? Fि बातो
को $ािे दे , बता, तुOे &पिा वि पस*द ह7 ? उसकी त=वीि ता दे <ी हो;ी?
क9 :ा- हां, 0" तो !ी, लाWं , दे <ो;ी?
Dक ] मे क9 :ा िे त=वीि लाकि ििमलम ा के हा! मे ि< दी4
ििमलम ा िे मु=किाकि कहा-तू ब8ी भाZयवाि u ह7 4
क9 :ा- &-मा$ी िे भी बह

त पस*द %कया4
ििमलम ा- तुOे पस*द ह7 %क िहीं, सो कह, दसू िो की बात ि चला4
क9 :ा- (ल$ाती ह

") ?Nल-सूित तो बु िी िहीं ह7 , =वभाव का हाल "Qि
$ािे4 ?ाjी$ी तो कहते !े, Jसे सु?ील +ि चििMवाि u युवक कम हो;े4
ििमलम ा- यहां से तेिी त=वीि भी ;" !ी?
क9 :ा- ;" तो !ी, ?ाjी$ी ही तो ले ;D !े4
ििमलम ा- उ*हे पस*द 0"?
क9 :ा- &ब %कसी के मि की बात मE Nया $ािूं ? ?ाjी $ी कहते !े,
बह

त <ु? ह

D !े4
ििमलम ा- &'(ा, बता, तुOे Nया उपहाि दं ू? &भी से बता दे , /$ससे
बिवा ि<ूं4
क9 :ा- $ो तु-हािा $ी चाहे , दे िा4 उ*हे पु=तको से बह

त पेम ह7 4
&'(C-&'(C पु=तके मं;वा दे िा4
ििमलम ा-उिके िलD िहीं पू (ती तेिे िलD पू (ती ह

ं 4
क9 :ा- &पिे ही िलये तो मE कह िही ह

ं 4
107
ििमलम ा- (त=वीि की ति# दे <ती ह

") कप8े सब <vि के मालूम होते
हE 4
क9 :ा- हां, <vि के ब8े पेमी हE 4 सुिती ह

ं %क पीB पि <vि लाद कि
दे हातो मे बेचिे $ाया किते हE 4 3या_याि दे िे मे भी चतु ि हE 4
ििमलम ा- तब तो मुOे भी <v पहििा प8े ;ा4 तुOे तो मो,े कप8ो से
िच\ ह7 4
क9 :ा- $ब उ*हे मो,े कप8े &'(े ल;ते हE , तो मुOे Nयो िच\ हो;ी,
मEिे तो च<ा म चलािा सी< िलया ह7 4
ििमलम ा- सच! सूत ििकाल लेती ह7 ?
क9 :ा- हां, ब%हि, !ो8ा-!ो8ा ििकाल लेती ह

ं 4 $ब वह <vि के Fतिे
पेमी हE , $ो च<ा म भी $|ि चलाते हो;े4 मE ि चला सकूं ;ी , तो मुOे %कतिा
ल/K$त होिा प8े ;ा4
Fस तिह बात किते-किते दोिो ब%हिो सोŒ4 को" दो ब$े िात को
ब'ची िो" तो ििमलम ा की िींद <ुली4 दे <ा तो क9 :ा की चािपा" <ाली प8ी
!ी4 ििमलम ा को 0`य म ह

0 %क Fतिा िात ;ये क9 :ा कहां चली ;"4
?ायद पािी-वािी पीिे ;" हो4 म;िी पािी तो िसिहािे ि<ा ह

0 ह7 , %#ि
कहां ;" ह7 ? उसे दो-तीि बाि उसका िाम लेकि 0वा$ दी, पि क9 :ा का
पता ि !ा4 तब तो ििमलम ा Xबिा उBC4 उसके मि मे भांित-भांित की ?ंकाDं
होिे ल;ी4 सहसा उसे _याल 0या %क ?ायद &पिे कमिे मे ि चली ;"
हो4 ब'ची सो ;", तो वह उBकि क9 :ा के के कमिे के Iाि पि 0"4
उसका &िुमाि BCक !ा, क9 :ा &पिे कमिे मे !ी4 सािा Xि सो िहा !ा
+ि वह ब7BC च<ा म चला िही !ी4 Fतिी त*मयता से ?ायद उसिे ि!J,ि
भी ि दे <ा हो;ा4 ििमलम ा दं ; िह ;"4 &*दि $ाकि बोली- यह Nया कि
िही ह7 िे ! यह च<ा म चलािे का समय ह7 ?
क9 :ा चfककि उB ब7BC +ि सं कोच से िसि Oुकाकि बोली- तु-हािी
िींद क7 से <ुल ;"? पािी-वािी तो मEिे ि< %दया !ा4
ििमलम ा- मE कहती ह

ं , %दि को तुOे समय िहीं िमलता, $ो >प(ली िात
को च<ा म लेकि ब7BC ह7 ?
क9 :ा- %दि को #ु िसत ही िहीं िमलती?
ििमलम ा- (सूत दे <कि) सूत तो बह

त महीि ह7 4
108
क9 :ा- कहां-ब%हि, यह सूत तो मो,ा ह7 4 मE बािीक सूतकात कि उिके
िलD सा#ा बिािा चाहती ह

ं 4 यही मेिा उपहाि हो;ा4
ििमलम ा- बात तो तूिे <ूब सोची ह7 4 Fससे &ि5क मूVयवसाि व=तु
उिकी b>i मे +ि Nया हो;ी? &'(ा, उB Fस वy, कल कातिा! कहीं बीमाि
प8 $ाये;ी, तो सब 5िा िह $ाये;ा4
क9 :ा- िहीं मेिी ब%हि, तुम चलकि सो6, मE &भी 0ती ह

ं 4
ििमलम ा िे &ि5क 0sह ि %कया, ले,िे चली ;"4 म;ि %कसी तिह
िींद ि 0"4 क9 :ा की उPसुकता +ि यह उमं; दे <कि उसका Tदय %कसी
&ल/]त 0कां]ा से 0*दोिलत हो उBां 6ह! Fस समय Fसका Tदय
%कतिा प#ु /Vलत हो िहा ह7 4 &िुिा; िे Fसे %कतिा उ*म2 कि ि<ा ह7 4
तब उसे &पिे >ववाह की याद 0"4 /$स %दि ितलक ;या !ा, उसी %दि से
उसकी सािी चं चलता, सािी स$ीवता >वदा हो ;े" !ी4 &पिी कोBिी मे ब7 BC
वह &पिी %क=मत को िोती !ी +ि "Qि से >विय किती !ी %क पा
ििकल $ाये4 &पिा5ी $7से दं H की पती]ा किता ह7 , उसी भांित वह >ववाह
की पती]ा किती !ी, उस >ववाह की, /$समे उसक $ीवि की सािी
&िभला@ाDं >वलीि हो $ाDं;ी, $ब म[Hप के िीचे बिे ह

D हवि-कु [H मे
उसकी 0?ाDं $लकि भ=म हो $ाये;ी4
सो लह
हीिा क,ते दे ि ि ल;ी4 >ववाह का ?ुभ मुह

त म 0 पह

ं चां मेहमािो से
Xाि भाि ;या4 मं?ी तोतािाम Dक %दि पहले 0 ;ये +ि उसिके
सा! ििमलम ा की सहे ली भी 0"4 ििमलम ा िे बह

त 0sह ि %कया !ा, वह
<ुद 0िे को उPसुक !ी4 ििमलम ा की सबसे ब8ी उPकं Bा यही !ी %क वि के
ब8े भा" के द?िम क|ं ;ी +ि हो सकता तो उसकी सुबु%I पि 5*यवाद
दं;ू ी4

सु5ा िे हं स कि कहा-तुम उिसे बोल सको;ी?
ििमलम ा- Nयो, बोलिे मे Nया हािि ह7 ? &ब तो दसू िा ही स-ब*5 हो
;या +ि मE ि बोल सकूं ;ी , तो तुम तो हो ही4
सु5ा-ि भा", मुOसे यह ि हो;ा4 मE पिाये मदम से िहीं बोल सकती4
ि $ािे क7 से 0दमी हो4
109
ििमलम ा-0दमी तो बु िे िहीं ह7 , +ि %#ि उिसे कु ( >ववाह तो कििा
िहीं, $िा-सा बोलिे मे Nया हािि ह7 ? H‚N,ि साहब यहां होते, तो मE तु-हे
0Rा %दला दे ती4
सु5ा-$ो लो; ह

दय के उदाि होते हE , Nया चििM के भी &'(े होते ह7 ?
पिा" jी की Xूििे मे तो %कसी मदम को संकोच िहीं होता4
ििमलम ा-&'(ा ि बोलिा, मE ही बाते कि लूं;ी, Xू ि ले;े /$तिा उिसे
Xूिते बिे;ा, बस, &ब तो िा$ी ह

"4
Fतिे मे क9 :ा 0कि ब7B ;"4 ििमलम ा िे मु=किाकि कहा-सच बता
क9 :ा, तेिा मि Fस वy Nयो उचा, हो िहा ह7 ?
क9 :ा-$ी$ा$ी बुला िहे हE , पहले $ाकि सुिा 00, पी(े ;^पे ल8ािा
बह

त >ब;8 िहे हE 4
ििमलम ा- Nया ह7 , तूि कु ( पू(ा िहीं?
क9 :ा- कु ( बीमाि से मालूम होते हE 4 बह

त दबु ले हो ;D हE 4
ििमलम ा- तो $िा ब7Bकि उिका मि बहला दे ती4 यहां दG8ी Nयो चली
0"? यह कहो, "Qि िे क9 पा की, िहीं तो Jसा ही पु|@ा तुOे भी िमलता4
$िा ब7Bकि बाते किो4 बु{Sे बाते ब8ी ल'(े दाि किते हE 4 $वाि Fतिे
Hींि;यल िहीं होते4
क9 :ा- िहीं ब%हि, तुम $ा6, मुOसे तो वहां ब7Bा िहीं $ाता4
ििमलम ा चली ;", तो सु5ा िे क9 :ा से कहा- &ब तो बािात 0 ;"
हो;ी4 Iाि-पू$ा Nयो िही होती?
क9 :ा- Nया $ािे ब%हि, ?ाjी$ी सामाि FकaBा कि िहे हE ?
सु5ा- सुिा ह7 , दVू हा का भाव$ ब8े क8े =वाभाव की jी ह7 4
क9 :ा- क7 से मालूम?
सु5ा- मEिे सुिा ह7 , FसीिलD चेताये दे ती ह

ं 4 चाि बाते ;म <ाकि िहिा
हो;ा4
क9 :ा- मेिी O;8िे की 0दत िहीं4 $ब मेिी ति# से को" ि?कायत
ही ि पाये;ी तो Nया &िायास ही >ब;8े ;ी!
सु5ा- हां, सुिा तो Jसा ही ह7 4 OूB-मूB ल8ा कािती ह7 4
क9 :ा- मE तो सGबात की Dक बात $ािती ह

ं , िtता पP!ि को भी
मोम कि दे ती ह7 4
110
सहसा ?ोि मचा- बािात 0 िही ह7 4 दोिो िम/यां /<8की के सामिे
0 ब7BCं4 Dक ] मे ििमलम ा भी 0 पह

ं ची4
वि के ब8े भा" को दे <िे की उसे ब8ी उPसुकता हो िही !ी4
सु5ा िे कहा- क7 से पता चले;ा %क ब8े भा" कGि हE ?
ििमलम ा- ?ाjी$ी से पू(ूं , तो मालूम हो4 हा!ी पि तो क9 :ा के ससुि
महा?य हE 4 &'(ा H‚N,ि साहब यहां क7 से 0 पह

ं चे! वह Xो8े पि Nया
हE , दे <ती िहीं हो?
सु5ा- हां, हE तो वही4
ििमलम ा- उि लो;ो से िमMता हो;ी4 को" स-ब*5 तो िहीं ह7 4
सु5ा- &ब भे, हो तो पू(ूं , मुOे तो कु ( िहीं मालूम4
ििमलम ा- पालकी मे $ो महा?य ब7 Bे ह

D हE , वह तो दVू हा के भा" $7 से
िहीं दी<ते4
सु5ा- >बलकु ल िहीं4 मालूम होता ह7 , सािी दे हे मे पे(-ही-पे, ह7 4
ििमलम ा- दसू िे हा!ी पि कGि ब7Bा ह7 , समO मे िही 0ता4
सु5ा- को" हो, दVू हा का भा" िहीं हो सकता4 उसकी उt िहीं दे <ती
हो, चालीस के Wपि हो;ी4
ििमलम ा- ?ाj$ी तो Fस वy Iाि-पू $ा %क %#p मे हE , िहीं तो‘ा उिसे
पू(ती4
संयो; से िा" 0 ;या4 स*दकू ो की कुंिलयां ििमलम ा के पास !ीं4 Fस
वy Iािचाि के िलD कु ( |पये की $|ित !ी, माता िे भे$ा !ा, यह िा"
भी प/[Hत मो,े िाम $ी के सा! ितलक लेकि ;या !ा4
ििमलम ा िे कहा- Nया &भी |पये चा%हD?
िा"- हां ब%हि$ी, चलकि दे दी/$D4
ििमलम ा- &'(ा चलती ह

ं 4 पहले यह बता, तू दVू हा क ब8े भा" को
पहचािता ह7 ?
िा"- पहचािता काहे िहीं, वह Nया सामिे हE 4
ििमलम ा- कहां, मE तो िहीं दे <ती?
िा"- &िे वह Nया Xो8े पि सवाि हE 4 वही तो हE 4
ििमलम ा िे च%कत होकि कहा- Nया कहता ह7 , Xो8े पि दVू हा के भा" हE !
पहचािता ह7 या &,कल से कह िहा ह7 ?
111
िा"- &िे ब%हि$ी, Nया Fतिा भूल $ाWं ;ा &भी तो $लपाि का
सामाि %दये चला 0ता ह

ं 4
ििमलम - &िे , यह तो H‚N,ि साहब हE 4 मेिे प8ोस मे िहते हE 4
िा"- हां-हां, वही तो H‚N,ि साहब ह7 4
ििमलम ा िे सु5ा की 6ि दे <कि कहा- सुिती ही ब%हि, Fसकी बाते?
सु5ा िे हं सी िोककि कहा-OूB बोलता ह7 4
िा"- &'(ा साहब, OूB ही सही, &ब ब8ो के मुंह कGि ल;े! &भी
?ाjी$ी से पू(वा दं;ू ा, तब तो माििD;ा?
िा" के 0िे मे दे ि ह

", मो,े िाम <ुद 0ं ;ि मे 0कि ?ोि मचािे
ल;े-Fस Xि की मयादम ा ि<िा "Qि ही के हा! ह7 4 िा" X[,े भि से 0या


0 ह7 , +ि &भी तक |पये िहीं िमले4
ििमलम ा- $िा यहां चले 0FD;ा ?ाjी$ी, %कतिे |पये दिकिाि हE ,
ििकाल दं ू?
?ाjी$ी भुिभुिाते +ि $ोि-$ािे से हां#ते ह

D Wपि 0ये +ि Dक
ल-बी सांस लेकि बोले-Nया ह7 ? यह बातो का समय िहीं ह7 , $Vदी से |पये
ििकाल दो4
ििमलम ा- ली/$D, ििकाल तो िहीं ह

ं 4 &ब Nया मुंह के बल ि;ि पHूं ?
पहले यह बताFD %क दलू हा के ब8े भा" कGि हE ?
?ाjी$ी- िामे-िाम, Fतिी-सी बात के िलD मुOे 0का? पि ल,का
%दया4 िा" Nया ि पहचािता !ा?
ििमलम ा- िा" तो कहता ह7 %क वह $ो Xो8े पि सवाि ह7 , वही हE 4
?ाjी$ी- तो %#ि %कसे बता दे ? वही तो हE ही4
िा"- X8ी भि से कह िहा ह

ं , पि ब%हि$ी मािती ही िहीं4
ििमलम ा िे सु5ा की 6ि =िेह, ममता, >विोद क9 >Mम िति=काि की b>i
से दे <कि कहा- &'(ा, तो तु-ही &ब तक मेिे सा! यह >Mया-चििM <ेि िही
!ी! मE $ािती, तो तु-हे यहां बुलाती ही िहीं4 6k#ोह! ब8ा ;हिा पे, ह7
तु-हािा! तुम महीिो से मेिे सा! ?िाित किती चली 0ती हो, +ि कभी
भूल से भी Fस >व@य का Dक ?Aद तु-हािे मुंह से िहीं ििकला4 मE तो दो-
चाि ही %दि मे उबल प8ती4
सु5ा- तु-हे मालूम हो $ाता, तो तुम मेिे यहां 0ती ही Nयो?
112
ििमलम ा- ;$ब-िे -;$ब, मE H‚N,ि साहब से क" बाि बाते कि चुकी ह

ं 4
तु-हािो Wपि यह सािा पाप प8े ;ा4 दे <ा क9 :ा, तूिे &पिी $ेBािी की
?िाित! यह Jसी माया>विी ह7 , Fिसे Hिती िहिा4
क9 :ा- मE तो Jसी दे वी के चि 5ो-5ोकि मा!े चSाWं ;ी4 5*य-भा;
%क Fिके द?िम ह

D4
ििमलम ा- &ब समO ;"4 |पये भी तु-हे ि िभ$वाये हो;े4 &ब िसि
%हलाया तो सच कहती ह

ं , माि ब7Bूं ;ी4
सु5ा- &पिे Xि बुलाकि के मेहमाि का &पमाि िहीं %कया $ाता4
ििमलम ा- दे <ो तो &भी क7 सी-क7 सी <बिे लेती ह

ं 4 मEिे तु-हािा माि
ि<िे को $िा-सा िल< %दया !ा +ि तुम सचमु च 0 पह

ं ची4 भला वहां
वाले Nया कहते हो;े?
सु5ा- सबसे कहकि 0" ह

ं 4
ििमलम ा- &ब तु-हािे पास कभी ि 0Wं ;ी4 Fतिा तो F?ािा कि दे तीं
%क H‚N,ि साहब से पदा म ि<िा4
सु5ा- उिके दे < लेिे ही से कGि बु िा" हो ;"? ि दे <ते तो &पिी
%क=मत को िोते क7 से? $ािते क7 से %क लोभ मे प8कि क7 सी ची$ <ो दी?
&ब तो तु-हे दे <कि लाला$ी हा! मलकि िह $ाते हE 4 मुंह से तो कु ( िहीं
सकहते, पि मि मे &पिी भूल पि प(ताते हE 4
ििमलम ा- &ब तु-हािे Xि कभी ि 0Wं ;ी4
सु5ा- &ब >प[H िहीं (ू , सकता4 मEिे कGि तु-हािे Xि की िाह िीं
दे <ी ह7 4
Iाि-पू$ा समाo हो चु की !ी4 मेहमाि लो; ब7 B $लपाि कि िहे !े4
मुं?ी$ी की बे;ल मे ही H‚N,ि िस*हा ब7Bे ह

D !े4 ििमलम ा िे कोBे पि िचक
की 08 से उ*हे दे <ा +ि कले$ा !ामकि िह ;"4 Dक 0िोZय, यGवि
+ि पितभा का दे वता !ा, पि दसू िा...Fस >व@य मे कु ( ि कहिा ही दिचत
ह7 4
ििमलम ा िे H‚N,ि साहब को स7 क8ो ही बाि दे <ा !ा, पि 0$ उसके
Tदय मे $ो >वचाि उBे , वे कभी ि उBे !े4 बाि-बाि यह $ी चाहता !ा %क
बुलाकि <ू ब #,का|ं , Jसे-Jसे तािे मा|ं %क वह भी याद किे , |ला-|लाकि
(ोHूं , मे;ि िहम किके िह $ाती !ी4 बािात $िवासे चली ;" !ी4 भो$ि
की त7यािी हो िही !ी4 ििमलम ा भो$ि के !ाल चु ििे मे 3य=त !ी4 सहसा
113
महिी िे 0कि कहा- >बa,ी, तु-हे सु5ा िािी बुला िही ह7 4 तु-हािे कमिे मे
ब7BC हE 4
ििमलम ा िे !ाल (ो8 %दये +ि Xबिा" ह

" सु5ा के पास 0", म;ि
&*दि कदम ि<ते ही %BBक ;", H‚N,ि िस*हा <8े !े4
सु5ा िे मु=किाकि कहा- लो ब%हि, बुला %दया4 &ब /$तिा चाहो,
#,कािो4 मE दिवा$ा िोके <8ी ह

ं , भा; िहीं सकते4
H‚N,ि साहब िे ;-भीि भाव से कहा- भा;ता कGि ह7 ? यहां तो िसि
OुकाD <8ा ह

ं 4
ििमलम ा िे हा! $ो8कि कहा- Fसी तिह सदा क9 पा-b>i ि/<D;ा, भूल
ि $ाFD;ा4 यह मेिी >विय ह7 4
सMह
:ा के >ववाह के बाद सु 5ा चली ;", ले%कि ििमलम ा म7के ही मे िह
;"4 वकील साहब बाि-बाि िल<ते !े, पि वह ि $ाती !ी4 वहां $ािे
को उसका $ी ि चाहता !ा4 वहां को" Jसी ची$ ि !ी, $ो उसे <ींच ले
$ाये4 यहां माता की सेवा +ि (ो,े भाFयो की दे <भाल मे उसका समय ब8े
0ि*द के क, $ाता !ा4 वकील साहब <ुद 0ते तो ?ायद वह $ािे पि
िा$ी हो $ाती, ले%कि Fस >ववाह मे, मुहVले की ल8%कयो िे उिकी वह
द;ु तम की !ी %क बेचािे 0िे का िाम ही ि लेते !े4 सु5ा िे भी क" बाि
पM िल<ा, पि ििमलम ा िे उससे भी हीले-ह”ाले %कया4 0/<ि Dक %दि सु5ा
िे िGकि को सा! िलया +ि =वयं 0 5मकी4
क9
$ब दोिो ;ले िमल चु कीं, तो सु5ा िे कहा-तु-हे तो वहां $ाते मािो
Hि ल;ता ह7 4
ििमलम ा- हां ब%हि, Hि तो ल;ता ह7 4 Aयाह की ;" तीि साल मे 0",
&ब की तो वहां उt ही <तम हो $ाये;ी, %#ि कGि बुलाता ह7 +ि कGि
0ता ह7 ?
सु5ा- 0िे को Nया ह

0, $ब $ी चाहे चली 0िा4 वहां वकील साहब
बह

त बेच7ि हो िहे हE 4
ििमलम ा- बह

त बेच7ि, िात को ?ायद िींद ि 0ती हो4
114
सु5ा- ब%हि, तु-हािा कले$ा पP!ि का ह7 4 उिकी द?ा दे <कि तिस
0ता ह7 4 कहते !े, Xि मे को" पू (िे वाला िहीं , ि को" ल8का, ि बाला,
%कससे $ी बहलाये? $ब से दसू िे मकाि मे उB 0D हE , बह

त द<ु ी िहते हE 4
ििमलम ा- ल8के तो "Qि के %दये दो-दो हE 4
सु5ा- उि दोिो की तो ब8ी ि?कायत किते !े4 /$यािाम तो &ब बात
ही िहीं सुिता-तु कd-बतुकd $वाब दे ता ह7 4 िहा (ो,ा, वह भी उसी के कहिे
मे ह7 4 बेचािे ब8े ल8के की याद किके िोया किते हE 4
ििमलम ा- /$यािाम तो ?िीि ि !ा, वह बदमा?ी कब से सी< ;या?
मेिी तो को" बात ि ,ालता !ा, F?ािे पि काम किता !ा4
सु5ा- Nया $ािे ब%हि, सुिा, कहता ह7 , 0प ही िे भ7या को $हि दे कि
माि Hाला, 0प हPयािे हE 4 क" बाि तुमसे >ववाह कििे के िलD तािे दे चु का
ह7 4 Jसी-Jसी बाते कहता ह7 %क वकील साहब िो प8ते हE 4 &िे , +ि तो Nया
कह

ं , Dक %दि पP!ि उBाकि माििे दG8ा !ा4
ििमलम ा िे ;-भीि िच*ता मे प8कि कहा- यह ल8का तो ब8ा ?7ताि
ििकला4 उसे यह %कसिे कहा %क उसके भा" को उ*होिे $हि दे %दया ह7 ?
सु5ा- वह तु-हीं से BCक हो;ा4
ििमलम ा को यह ि" िच*ता प7 दा ह

"4 &;ि /$या की यही िं ; ह7 ,
&पिे बाप से ल8िे पि त7याि िहता ह7 , तो मुOसे Nयो दबिे ल;ा? वह िात
को ब8ी दे ि तक Fसी %#p मे Hूबी िही4 मंसािाम की 0$ उसे बह

त याद
0"4 उसके सा! /$*द;ी 0िाम से क, $ाती4 Fस ल8के का $ब &पिे
>पता के सामिे ही वह हाल ह7 , तो उिके पी(े उसके सा! क7 से ििवाहम हो;ा!
Xि हा! से ििकल ही ;या4 कु (-ि-कु ( क$ म &भी िसि पि हो;ा ही,
0मदिी का यह हाल4 "Qवि ही बे8ा पाि ल;ाये;े4 0$ पहली बाि
ििमलम ा को ब'चो की %#p प7दा ह

"4 Fस बेचािी का ि $ािे Nया हाल
हो;ा? "Qि िे यह >वप>2 िसि Hाल दी4 मुOे तो Fसकी $|ित ि !ी4 $*म
ही लेिा !ा, तो %कसी भाZयवाि के Xि $*म लेती4 ब'ची उसकी (ाती से
िलप,ी ह

" सो िही !ी4 माता िे उसको +ि भी िचप,ा िलया, मािो को"
उसके हा! से उसे (Cिे िलये $ाता ह7 4
ििमलम ा के पास ही सु5ा की चािपा" भी !ी4 ििमलr ा तो िच*PR
सा;ि मे ;ोता !ा िही !ी +ि सु5ा मीBC िींद का 0ि*द उBा िही !ी4
Nया उसे &पिे बालक की %#p सताती ह7 ? मP9 यु तो बू\े +ि $वाि का भेद
115
िहीं किती, %#िि सु5ा को को" िच*ता Nयो िहीं सताती? उसे तो कभी
भ>व:य की िच*ता से उदास िहीं दे <ा4
सहसा सु5ा की िींद <ुल ;"4 उसिे ििमलम ा को &भी तक $ा;ते
दे <ा, तो बोली- &िे &भी तुम सो" िहीं?
ििमलम ा- िींद ही िहीं 0ती4
सु5ा- 0ं<े ब*द कि लो, 0प ही िींद 0 $ाये;ी4 मE तो चािपा" पि
0ते ही मि-सी $ाती ह

ं 4 वह $ा;ते भी हE , तो <बि िहीं होती4 ि $ािे
मुOे Nयो Fतिी िींद 0ती ह7 4 ?ायद को" िो; ह7 4
ििमलम ा- हां, ब8ा भािी िो; ह7 4 Fसे िा$-िो; कहते हE 4 H‚N,ि साहब से
कहो-दवा ?ु| कि दे 4
सु5ा- तो 0/<ि $ा;कि Nया सोचूं? कभी-कभी म7 के की याद 0 $ाती
ह7 , तो उस %दि $िा दे ि मे 0ं< ल;ती ह7 4
ििमलम ा- H‚N,ि साहब की यादा िहीं 0ती?
सु5ा- कभी िहीं, उिकी याद Nयो 0ये? $ािती ह

ं %क ,े ििस <ेलकि
0ये हो;े, <ािा <ाया हो;ा +ि 0िाम से ले,े हो;े4
ििमलम ा- लो, सोहि भी $ा; ;या4 $ब तुम $ा; ;Œ
तो भला यह Nयो सोिे ल;ा?
सु5ा- हां ब%हि, Fसकी &$ीब 0दत ह7 4 मेिे सा! सोता +ि मेिे ही
सा! $ा;ता ह7 4 उस $*म का को" तप=वी ह7 4 दे <ो, Fसके मा!े पि ितलक
का क7 सा िि?ाि ह7 4 बांहो पि भी Jसे ही िि?ाि हE 4 $|ि को" तप=वी ह7 4
ििमलम ा- तप=वी लो; तो च*दि-ितलक िहीं ल;ाते4 उस $*म का
को" 5ूत म पु $ािी हो;ा4 Nयो िे , तू कहां का पु $ािी !ा? बता?
सु5ा- Fसका Aयाह मE ब'ची से क|ं ;ी4
ििमलम ा- चलो ब%हि, ;ाली दे ती हो4 ब%हि से भी भा" का Aयाह होता
ह7 ?
सु5ा- मE तो क|ं ;ी, चाहे को" कु ( कहे 4 Jसी सु*दि बह

+ि कहां
पाWं ;ी? $िा दे <ो तो बहि, Fसकी दे ह कु ( ;म म ह7 या मुOके ही मालूम
होती ह7 4
ििमलम ा िे सोहि का मा!ा (ू कि कहा-िहीं-िहीं, दे ह ;म म ह7 4 यह Kवि
कब 0 ;या! द5ू तो पी िहा ह7 ि?
116
सु5ा- &भी सोया !ा, तब तो दे ह Bं Hी !ी4 ?ायद सदƒ ल; ;", उ\ाकि
सुलाये दे ती ह

ं 4 सबेिे तक BCक हो $ाये;ा4
सबेिा ह

0 तो सोहि की द?ा +ि भी <िाब हो ;"4 उसकी िाक
बहिे ल;ी +ि बु <ाि +ि भी ते$ हो ;या4 0ं <े च\ ;Œ +ि िसि Oुक
;या4 ि वह हा!-प7 ि %हलाता !ा, ि हं सता-बोलता !ा, बस, चुपचाप प8ा !ा4
Jसा मालूम होता !ा %क उसे Fस वy %कसी का बोलिा &'(ा िहीं ल;ता4
कु (-कु ( <ांसी भी 0िे ल;ी4 &ब तो सु 5ा Xबिा"4 ििमलम ा की भी िाय


" %क H‚N,ि साहब को बुलाया $ाये , ले%कि उसकी बू\ी माता िे कहा-
H‚N,ि-हकीम साहब का यहां कु ( काम िहीं4 सा# तो दे < िही ह

ं 4 %क ब'चे
को ि$ि ल; ;" ह7 4 भला H‚N,ि
0कि Nया किे ;े?
सु5ा- &-मां$ी, भला यहां ि$ि कGि ल;ा दे ;ा? &भी तक तो बाहि
कहीं ;या भी िहीं4
माता- ि$ि को" ल;ाता िहीं बे,ी, %कसी-%कसी 0दमी की दीB बु िी
होती ह7 , 0प-ही-0प ल; $ाती ह7 4 कभी-कभी मां-बाप तक की ि$ि ल;
$ाती ह7 4 $ब से 0या ह7 , Dक बाि भी िहीं िोया4 चोचले ब'चो को यही
;ित होती ह7 4 मE Fसे ह

मकते दे <कि Hिी !ी %क कु (-ि-कु ( &ििi होिे
वाला ह7 4 0ं <े िहीं दे <ती हो, %कतिी च\ ;" हE 4 यही ि$ि की सबसे ब8ी
पहचाि ह7 4
बु%\या महिी +ि प8ोस की पं%HताFि िे Fस क!ि का &िु मोदि
कि %दया4 बस महं ;ू िे 0कि ब'चे का मुंह दे <ा +ि हं स कि बोला-
माल%कि, यह दीB ह7 +ि िहीं4 $िा पतली-पतली तीिलयां मं;वा दी/$D4
भ;वाि िे चाहा तो संOा तक ब'चा हं सिे ल;े;ा4
सिक[Hे के पांच ,ु क8े लाये ;ये4 मह;ूं िे उ*हे बिाबि किके Dक Hोिे
से बां5 %दया +ि कु ( बुदबुदाकि उसी पोले हा!ो से पांच बाि सोहि का
िसि सहलाया4 &ब $ो दे <ा, तो पांचो तीिलयां (ो,ी-ब8ी हो ;े" !ी4 सब
jीयो यह कGतुक दे <कि दं ; िह ;Œ4 &ब ि$ि मे %कसे स*दे ह हो सकता
!ा4 मह;ूं िे %#ि ब'चे को तीिलयो से सहलािा ?ु| %कया4 &ब की
तीिलयां बिाबि हो ;Œ4 के वल !ो8ा-सा &*ति िह ;या4 यह सब Fस बात
का पमा !ा %क ि$ि का &सि &ब !ो8ा-सा +ि िह ;या ह7 4 मह;ू
सबको %दलासा दे कि ?ाम को %#ि 0िे का वायदा किके चला ;या4 बालक
117
की द?ा %दि को +ि <िाब हो ;"4 <ांसी का $ोि हो ;या4 ?ाम के
समय मह;ूं िे 0किा %#ि तीिलयो का तमा?ा %कया4 Fस वy पांचो
तीिलयो बिाबि ििकलीं4 jीयां िि/`त हो ;Œ ले%कि सोहि को सािी िात
<ांसते ;ु $िी4 यहां तक %क क" बाि उसकी 0ं<े उल, ;Œ4 सु5ा +ि
ििमलम ा दोिो िे ब7 Bकि सबेिा %कया4 <7ि, िात कु ?ल से क, ;"4 &ब वI9 ा
माता$ी िया िं ; लाŒ4 मह;ूं ि$ि ि उताि सका, FसिलD &ब %कसी
मGलवी से #ूं क Hलवािा $|िी हो ;या4 सु5ा %#ि भी &पिे पित को सूचिा
ि दे सकी4 मेहिी सोहि को Dक चादि से लपे, कि Dक म/=$द मे ले ;"
+ि #ूं क Hलवा ला" , ?ाम को भी #ूं क (ो8ी , पि सोहि िे िसि ि उBाया4
िात 0 ;", सु5ा िे मि मे िि`य %कया %क िात कु ?ल से बीते;ी, तो
पात:काल पित को ताि दं;ू ी4
ले%कि िात कु ?ल से ि बीतिे पा"4 05ी िात $ाते-$ाते ब'चा हा!
से ििकल ;या4 सु5ा की $ीि- स-प>2 दे <ते-दे <ते उसके हा!ो से ि(ि
;"4
वही /$सके >ववाह का दो %दि पहले >विोद हो िहा !ा, 0$ सािे Xि
को |ला िहा ह7 4 /$सकी भोली-भाली सूित दे <कि माता की (ाती #ू ल
उBती !ी, उसी को दे <कि 0$ माता की (ाती #,ी $ाती ह7 4 सािा Xि
सु5ा को समOाता !ा, पि उसके 0ंसू ि !मते !े, सg ि होता !ा4 सबसे
ब8ा दु:< Fस बात का !ा का पित को कGि मुंह %द<लाWं ;ी! उ*हे <बि
तक ि दी4
िात ही को ताि दे %दया ;या +ि दसू िे %दि H‚N,ि िस*हा िG ब$ते -
ब$ते मो,ि पि 0 पह

ं चे4 सु 5ा िे उिके 0िे की <बि पा", तो +ि भी
#ू ,-#ू ,कि िोिे ल;ी4 बालक की $ल-%pया ह

", H‚N,ि साहब क" बाि
&*दि 0ये, %क*तु सु 5ा उिके पास ि ;"4 उिके सामिे क7 से $ाये? कGि
मुंह %द<ाये? उसिे &पिी िादािी से उिके $ीवि का ि} (Cिकि दििया मे
Hाल %दया4 &ब उिके पास $ाते उसकी (ाती के ,ु क8े -,ु क8े ह

D $ाते !े4
बालक को उसकी ;ोद मे दे <कि पित की 0ं <े चमक उBती !ीं4 बालक


मककि >पता की ;ोद मे चला $ाता !ा4 माता %#ि बु लाती, तो >पता की
(ाती से िचप, $ाता !ा +ि ला< चुमिािे-दलु ाििे पि भी बाप को ;ोद ि
(ो8ता !ा4 तब मां कहती !ी- ब7 8ा मतलबी ह7 4 0$ वह %कसे ;ोद मे
लेकि पित के पास $ाये;ी? उसकी सूिी ;ोद दे <कि कहीं वह िचVलाकि िो
118
ि प8े 4 पित के स-मु< $ािे की &पे]ा उसे मि $ािा कहीं 0साि $ाि
प8ता !ा4 वह Dक ] के िलD भी ििमलम ा को ि (ो8ती !ी %क कहीं पित
से सामिा ि हो $ाये4
ििमलम ा िे कहा- ब%हि, $ो होिा !ा वह हो चु का, &ब उिसे कब तक
भा;ती %#िो;ी4 िात ही को चले $ाये;े4 &-मां कहती !ीं4
सु5ा से स$ल िेMो से ताकते ह

D कहा- कGि मुंह लेकि उिके पास
$ाWं ? मुOे Hि ल; िहा ह7 %क उिके सामिे $ाते ही मेिा प7 िा ि !िािम े ल;े
+ि मE ि;ि पHूं 4
ििमलम ा- चलो, मE तु-हािे सा! चलती ह

ं 4 तु-हे संभाले िह

ं ;ी4
सु5ा- मुOे (ो8कि भा; तो ि $ा6;ी?
ििमलम ा- िहीं-िहीं, भा;ूं;ी िहीं4
सु5ा- मेिा कले$ा तो &भी से उम8ा 0ता ह7 4 मE Fतिा Xोि q$पाता
होिे पि भी ब7BC ह

ं , मुOे यही 0`य म हो िहा ह7 4 सोहि को वह बह

त ^याि
किते !े ब%हि4 ि $ािे उिके िच2 की Nया द?ा हो;ी4 मE उ*हे Sा\स Nया
दं;ू ी, 0प हो िोती िह

ं ;ी4 Nया िात ही को चले $ाये;े?
ििमलम ा- हां , &-मां$ी तो कहती !ी (ु a,ी िहीं ली ह7 4
दोिो सहे िलयां मदािम े कमिे की 6ि चलीं , ले%कि कमिे के Iाि पि
पह

ं चकि सु5ा िे ििमलम ा से >वदा कि %दया4 &के ली कमिे मे दा/<ल ह

"4
H‚N,ि साहब Xबिा िहे !े %क ि $ािे सु 5ा की Nया द?ा हो िही ह7 4
भांित-भांित की ?ंकाDं मि मे 0 िही !ीं4 $ािे को त7याि ब7 Bे !े, ले%कि
$ी ि चाहता !ा4 $ीवि ?ू*य-सा मालूम होता !ा4 मि-ही-मि कु \ िहे !े,
&;ि "Qि को Fतिी $Vदी यह पदा! म दे कि (Cि लेिा !ा, तो %दया ही Nयो
!ा? उ*होिे तो कभी स*ताि के िलD "Qि से पा!िम ा ि की !ी4 वह
0$*म िि:स*ताि िह सकते !े, पि स*ताि पाकि उससे वंिचत हो $ािा
उ*हं &स€ा $ाि प8ता !ा4 Nया सचमुच मिु:य "Qि का /<लGिा ह7 ? यही
मािव $ीवि का महPव ह7 ? यह के वल बालको का Xिfदा ह7 , /$सके बििे का
ि को" हे तु ह7 ि >ब;8िे का? %#ि बालको को भी तो &पिे Xिfदे से &पिी
का;े$ की िावो से, &पिी लक8ी के Xो8ो से ममता होती ह7 4 &'(े /<लGिे
का वह $ाि के पी(े ि(पाकि ि<ते हE 4 &;ि "Qि बालक ही ह7 तो वह
>विचM बालक ह7 4
119
%क*तु बु%I तो "`ि का यह |प =वीकाि िहीं किती4 &ि*त स>9 i
का क2ा म उv[H बालक िहीं हो सकता ह7 4 हम उसे उि सािे ;ुो से
>वभू>@त किते हE , $ो हमािी बु%I का पह

ं च से बाहि ह7 4 /<ला8ीपि तो साउि
महाि u ;ु ो मे िहीं! Nया हं सते-<ेलते बालको का पा हि लेिा <ेल ह7 ? Nया
"Qि Jसा प7?ािचक <ेल <ेलता ह7 ?
सहसा सु5ा दबे-पांव कमिे मे दा/<ल ह

"4 Hास•N,ि साहब उB <8े


D +ि उसके समीप 0कि बोले -तुम कहां !ी, सु5ा? मE तु-हािी िाह दे <
िहा !ा4
सु5ा की 0ं <ो से कमिा त7िता ह

0 $ाि प8ा4 पित की ;दम ि मे
हा! Hालकि उसिे उिकी (ाती पि िसि ि< %दया +ि िोिे ल;ी, ले%कि
Fस &1ु-पवाह मे उसे &सीम 57य म +ि सांPविा का &िुभव हो िहा !ा4
पित के व]-=!ल से िलप,ी ह

" वह &पिे Tदय मे Dक >विचM =#ू ितम
+ि बल का संचाि होते ह

D पाती !ी, मािो पवि से !ि!िाता ह

0 दीपक
&ं चल की 08 मे 0 ;या हो4
H‚N,ि साहब िे िमी के &1ु-िसं िचत कपोलो को दोिो हा!ो मे
लेकि कहा-सु5ा, तुम Fतिा (ो,ा %दल Nयो किती हो? सोहि &पिे $ीवि मे
$ो कु ( कििे 0या !ा, वह कि चु का !ा, %#ि वह Nयो ब7 Bा िहता? $7 से
को" व]9 $ल +ि पका? से ब\ता ह7 , ले%कि पवि के पबल Oोको ही से
सुb\ होता ह7 , उसी भांित पय भी दु:< के 0Xातो ही से >वकास पाता ह7 4
<ु?ी के सा! हं सिेवाले बह

तेिे िमल $ाते हE , िं $ मे $ो सा! िोये , वहि
हमािा स'चा िमM ह7 4 /$ि पेिमयो को सा! िोिा िहीं िसीब ह

0, वे
मुहAबत के म$े Nया $ािे? सोहि की मP9 यु िे 0$ हमािे I7 त को >बलकु ल
िम,ा %दया4 0$ ही हमिे Dक दसू िे का स'चा =व|प दे <ा4;?!
सु5ा िे िससकते ह

D कहा- मE ि$ि के 5ो<े मे !ी4 हाय! तुम उसका
मुंह भी ि दे <िे पाये4 ि $ािे Fि स%दिो उसे Fतिी समO कहां से 0
;" !ी4 $ब मुOे िोते दे <ता, तो &पिे के i भूलकि मु=किा दे ता4 तीसिे ही
%दि मिे लाHले की 0ं< ब*द हो ;"4 कु ( दवा-दपिम भी ि कििे पाŒ4
यह कहते-कहते सु5ा के 0ंसू %#ि उम8 0ये4 H‚N,ि िस*हा िे उसे
सीिे से ल;ाकि क|ा से कांपती ह

" 0वा$ मे कहा->पये, 0$ तक को"
Jसा बालक या वI9 ि मिा हो;ा, /$ससे Xिवालो की दवा-दपिम की लालसा
पूिी हो ;"4
120
सु5ा- ििमलम ा िे मेिी ब8ी मदद की4 मE तो Dका5 Oपकी ले भी लेती
!ी, पि उसकी 0ं <े िहीं Oपकी4 िात-िात िलये ब7BC या ,हलती िहती !ी4
उसके &हसाि कभी ि भूलं;ी4 Nया तुम 0$ ही $ा िहे हो?
H‚N,ि- हां , (ु a,ी लेिे का मGका ि !ा4 िस>वल स$िम ि?काि <ेलिे
;या ह

0 !ा4
सु5ा- यह सब हमे?ा ि?काि ही <ेला किते हE ?
H‚N,ि- िा$ा6ं को +ि काम ही Nया ह7 ?
सु5ा- मE तो 0$ ि $ािे दं;ू ी4
H‚N,ि- $ी तो मेिा भी िहीं चाहता4
सु5ा- तो मत $ा6, ताि दे दो4 मE भी तु-हािे सा! चलूं;ी4 ििमलम ा
को भी लेती चलूं ;ी4
सु5ा वहां से लG,ी, तो उसके Tदय का बोO हलका हो ;या !ा4 पित
की पेमपूा म कोमल वाी िे उसके सािे ?ोक +ि संताप का हि कि िलया
!ा4 पेम मे &सीम >वQास ह7 , &सीम 57य म ह7 +ि &सीम बल ह7 4
&Bाि ह
ब हमािे Wपि को" ब8ी >वप>2 0 प8ती ह7 , तो उससे हमे के वल
दु:< ही िहीं होता, हमे दसू िो के तािे भी सहिे प8ते हE 4 $िता को
हमािे Wपि %,^प/यो कििे का वह सु&वसि िमल $ाता ह7 , /$सके िलD
वह हमे?ा बेच7ि िहती ह7 4 मंसािाम Nया मिा, मािो समा$ को उि पि
0वा$े कसिे का बहाि िमल ;या4 भीति की बाते कGि $ािे , पPय] बात
यह !ी %क यह सब सGतेली मां की कितूत ह7 चािो ति# यही चचा म !ी, "Qि
िे किे ल8को को सGतेली मां से पाला प8े 4 /$से &पिा बिा-बिाया Xि
उ$ा8िा हो, &पिे ^यािे ब'चो की ;दम ि पि (ु िी #े ििी हो, वह ब'चो के
िहते ह

D &पिा दसू िा Aयाह किे 4 Jसा कभी िहीं दे <ा %क सGत के 0िे पि
Xि तबाह ि हो ;या हो, वही बाप $ो ब'चो पि $ाि दे ता !ा सGत के 0ते
ही उ*हीं ब'चो का दcु मि हो $ाता ह7 , उसकी मित ही बदल $ाती ह7 4 Jसी
दे वी िे $7*म ही िहीं िलया, /$सिे सGत के ब'चो का &पिा समOा हो4
$
मु/cकल यह !ी %क लो; %,^प/यो पि स*तुi ि होते !े4 कु ( Jसे
सK$ि भी !े, /$*हे &ब /$यािाम +ि िसयािाम से >व?े@ =िेह हो ;या
121
!ा4 वे दािो बालको से ब8ी सहािुभूित पक, किते , यहां तक %क दो-सDक
म%हलाDं तो उसकी माता के ?ील +ि =वभाव को याद किे 0ंसू बहािे
ल;ती !ीं4 हाय-हाय! बेचािी Nया $ािती !ी %क उसके मिते ही ला8लो की
यह ददु म ?ा हो;ी! &ब द5ू -मN<ि काहे को िमलता हो;ा!
/$यािाम कहता- िमलता Nयो िहीं?
म%हला कहती- िमलता ह7 ! &िे बे,ा, िमलिा भी क" तिह का होता ह7 4
पािीवाल द5ू ,के सेि का मं ;ाकि ि< %दया, >पयो चाहे ि >पयो, कGि पू (ता
ह7 ? िहीं तो बेचािी िGकि से द5ू दहु वा कि मं;वाती !ी4 वह तो चेहिा ही
कहे दे ता ह7 4 द5ू की सू ित ि(पी िहीं िहती, वह सूित ही िहीं िहीं
/$या को &पिी मां के समय के द5ू का =वाद तो याद !ा सिहीं, $ो
Fस 0]ेप का उ2ि दे ता +ि ि उस समय की &पिी सूित ही याद !ी,
चुप िह $ाता4 Fि ?ुभाकां]ा6ं का &सि भी प8िा =वाभा>वक !ा4
/$यािाम को &पिे Xिवालो से िच\ होती $ाती !ी4 मुं?ी$ी मकाि िीलामी
हो $ोिे के बाद दसू िे Xि मे उB 0ये , तो %किाये की %#p ह

"4 ििमलम ा िे
मN<ि ब*द कि %दया4 वह 0मदिी हा िहीं िही, तो <च म क7 से िहता4 दोिो
कहाि &ल;े कि %दये ;ये4 /$यािाम को यह कति-Aयोत बु िी ल;ती !ी4
$ब ििमलम ा म7के चली ;यी, तो मुं?ी$ी िे द5ू भी ब*द कि %दया4 िव$ात
क*या की िचिता &भी से उिके िसि पि सवाि हा ;यी !ी4
िसयािाम िे >ब;8कि कहा- द5ू ब*द िहिे से तो 0पका महल बि
िहा हो;ा, भो$ि भी बंद कि दी/$D!
मुं?ी$ी- द5ू पीिे का ?Gक ह7 , तो $ाकि दहु ा Nयो िही लाते ? पािी के
प7से तो मुOसे ि %दये $ाये;े4
/$यािाम- मE द5ू दहु ािे $ाWं , को" =कू ल का ल8का दे < ले तब?
मुं?ी$ी- तब कु ( िहीं4 कह दे िा &पिे िलD द5ू िलD $ाता ह

ं 4 द5ू
लािा को" चोिी िहीं ह7 4
/$यािाम- चोिी िहीं ह7 ! 0प ही को को" द5ू लाते दे < ले , तो 0पको
?म म ि 0ये;ी4
मुं?ी$ी- >बVकु ल िहीं4 मEिे तो F*हीं हा!ो से पािी <ींचा ह7 , &िा$
की ;Bिियां लाया ह

ं 4 मेिे बाप ल<पित िहीं !े4
/$यािाम-मेिे बाप तो ;िीब िहीं , मE Nयो द5ू दहु ािे $ाWं ? 0/<ि
0पिे कहािो को Nयो $वाब दे %दया?
122
मं?ी$ी- Nया तु-हे Fतिा भी िहीं सूOता %क मेिी 0मदिी &ब पहली
सी िहीं िही Fतिे िादाि तो िहीं हो?
/$यािाम- 0/<ि 0पकी 0मदिी Nयो कम हो ;यी?
मुं?ी$ी- $ब तु-हे &कल ही िहीं ह7 , तो Nया समOाWं 4 यहां /$*द;ी
से तं;े 0 ;या ह

ं , मुकदमे कGि ले +ि ले भी तो त7याि कGि किे ? वह %दल
ही िहीं िहा4 &ब तो /$ंद;ी के %दि पूिे कि िहा ह

ं 4 सािे &िमाि लVलू के
सा! चले ;ये4
/$यािाम- &पिे ही हा!ो ि4
मुं?ी$ी िे ची<कि कहा- &िे &हमक! यह "Qि की म$d !ी4 &पिे
हा!ो को" &पिा ;ला का,ता ह7 4
/$यािाम- "Qि तो 0पका >ववाह कििे ि 0या !ा4
मं?ी$ी &ब $Aत ि कि सके , लाल-लाल 0ं <े ििकालक बोले-Nया
तुम 0$ ल8िे के िलD कमि बां5कि 0ये हो? 0/<ि %कस >बिते पि?
मेिी िो%,यां तो िहीं चलाते? $ब Fस का>बल हो $ािा, मुOे उपदे ? दे िा4 तब
मE सुि लूं;ा4 &भी तुमको मुOे उपदे ? दे िे का &ि5काि िहीं ह7 4 कु ( %दिो
&दब +ि तमी‡ सी<ो4 तुम मेिे सलाहकाि िहीं हो %क मE $ो काम क|ं ,
उसमे तुमसे सलाह लूं4 मेिी प7दा की ह

" दGलत ह7 , उसे $7 से चाह

ं <च म कि
सकता ह

ं 4 तुमको $बाि <ोलिे का भी हक िहीं ह7 4 &;ि %#ि तुमिे
मुOसे बे&दबी की, तो िती$ा बुिा हो;ा4 $ब मंसािाम Jसा ि} <ोकि मिे
पा ि ििकले, तो तु-हािे ब;7 ि मE मि ि $ाWं ;ा, समO ;ये?
यह क8ी #,काि पाकि भी /$यािाम वहां से ि ,ला4 िि:?ं क भाव से
बोला-तो 0प Nया चाहते हE %क हमे चाहे %कतिी ही तकली# हो मुं ह ि
<ोले? मुOसे तो यह ि हो;ा4 भा" साहब को &दब +ि तमी$ का $ो
Fिाम िमला, उसकी मुOे भू< िहीं4 मुOमे $हि <ाकि पा दे िे की %ह-मत
िहीं4 Jसे &दब को दिू से दं Hवत किता ह

ं 4
मुं?ी$ी- तु-हे Jसी बाते किते ह

D ?म म िहीं 0ती?
/$यािाम- ल8के &पिे बु $ु;l ही की िकल किते हE 4
मुं?ी$ी का pो5 ?ा*त हो ;या4 /$यािाम पि उसका कु ( भी &सि
ि हो;ा, Fसका उ*हे यकीि हो ;या4 उBकि ,हलिे चले ;ये4 0$ उ*हे
सूचिा िमल ;यी के Fस Xि का ?ी– ही सविम ा? होिे वाला हE 4
123
उस %दि से >पता +ि पुM मे %कसी ि %कसी बात पि िो$ ही Dक
Oप, हो $ाती ह7 4 मुं?ी$ी Kयो-Pयो तिह दे ते !े, /$यािाम +ि भी ?ेि
होता $ाता !ा4 Dक %दि /$यािाम िे |/Nमी से यहां तक कह Hाला- बाप
हE , यह समOकि (ो8 दे ता ह

ं , िहीं तो मेिे Jसे-Jसे सा!ी हE %क चाह

ं तो भिे
बा$ाि मे >प,वा दं4ू |/Nमी िे मुं?ी$ी से कह %दया4 मुं?ी$ी िे पक, |प
से तो बेपिवाही ही %द<ायी, पि उिके मि मे ?ंका समा ;या4 ?ाम को स7ि
कििा (ो8 %दया4 यह ियी िच*ता सवाि हो ;यी4 Fसी भय से ििमलम ा को
भी ि लाते !े %क ?7ताि उसके सा! भी यही बतावम किे ;ा4 /$यािाम Dक
बाि दबी $बाि मे कह भी चु का !ा- दे <ूं, &बकी क7 से Fस Xि मे 0ती ह7 ?
मुं?ी$ी भी <ूब समO ;ये !े %क मE Fसका कु ( भी िहीं कि सकता4 को"
बाहि का 0दमी होता, तो उसे पुिलस +ि कािू ि के ि?ं $े मे कसते4 &पिे
ल8के को Nया किे ? सच कहा ह7 - 0दमी हािता ह7 , तो &पिे ल8को ही से4
Dक %दि H‚N,ि िस*हा िे /$यािाम को बुलाकि समOािा ?ु| %कया4
/$यािाम उिका &दब किता !ा4 चु पचाप ब7Bा सुिता िहा4 $ब H‚N,ि
साहब िे &*त मे पू(ा, 0/<ि तुम चाहते Nया हो? तो वह बोला- सा#-सा#
कह दं ू? बूिा तो ि माििD;ा?
िस*हा- िहीं, $ो कु ( तु-हािे %दल मे हो सा#-सा# कह दो4
/$यािाम- तो सुििD, $ब से भ7या मिे हE , मुOे >पता$ी की सूित
दे <कि pो5 0ता ह7 4 मुOे Jसा मालूम होता ह7 %क F*हीं िे भ7या की हPया
की ह7 +ि Dक %दि मGका पाकि हम दोिो भाFयो को भी हPया किे ;े4
&;ि उिकी यह F'(ा ि होती तो Aयाह ही Nयो किते?
H‚N,ि साहब िे ब8ी मु /cकल से हं सी िोककि कहा- तु-हािी हPया
कििे के िलD उ*हे Aयाह कििे की Nया $|ित !ी, यह बात मेिी समO मे
िहीं 0यी4 >बिा >ववाह %कये भी तो वह हPया कि सकते !े4
/$यािाम- कभी िहीं, उस वy तो उिका %दल ही कु ( +ि !ा, हम
लो;ो पि $ाि दे ते !े &ब मुंह तके िहीं दे <िा चाहते4 उिकी यही F'(ा ह7
%क उि दोिो पा/यो के िसवा Xि मे +ि को" ि िहे 4 &ब $से ल8के हो;े
उिक िा=ते से हम लो;ो का ह,ा दे िा चाहते ह7 4 यही उि दोिो 0दिमयो
की %दली मं?ा ह7 4 हमे तिह-तिह की तकली#े दे कि भ;ा दे िा चाहते हE 4
FसीिलD 0$कल मु कदमे िहीं लेते4 हम दोिो भा" 0$ मि $ाये, तो %#ि
दे /<D क7 सी बहाि होती ह7 4
124
H‚N,ि- &;ि तु-हे भा;िा ही होता, तो को" FV$ाम ल;ाकि Xि से
ििकल ि दे ते?
/$यािाम- Fसके िलD पहले ही से त7याि ब7Bा ह

ं 4
H‚N,ि- सुिूं, Nया त7यािी कही ह7 ?
/$यािाम- $ब मGका 0ये;ा, दे < ली/$D;ा4
यह कहकि /$यिाम चलता ह

04 H‚N,ि िस*हा िे बह

त पु कािा, पि
उसिे %#ि कि दे <ा भी िहीं4
क" %दि के बाद H‚N,ि साहब की /$यािाम से %#ि मुलाकात हो
;यी4 H‚N,ि साहब िसिेमा के पेमी !े +ि /$यािाम की तो $ाि ही
िसिेमा मे बसती !ी4 H‚N,ि साहब िे िसिेमा पि 0लोचिा किके
/$यािाम को बातो मे ल;ा िलया +ि &पिे Xि लाये4 भो$ि का समय 0
;या !ा,, दोिो 0दमी सा! ही भो$ि कििे ब7Bे 4 /$यािाम को वहां भो$ि
बह

त =वा%दi ल;ा, बोल- मेिे यहां तो $ब से महािा$ &ल; ह

0 <ािे का
म$ा ही $ाता िहा4 बु 0$ी पNका व7:वी भो$ि बिाती हE 4 $बिद=ती <ा
लेता ह

ं , पि <ािे की ति# ताकिे को $ी िहीं चाहता4
H‚N,ि- मेिे यहां तो $ब Xि मे <ािा पकता ह7 , तो Fसे कहीं =वा%दi
होता ह7 4 तु-हािी बु0$ी ^या$-लहसुि ि (ू ती हो;ी?
/$यािाम- हां साहब, उबालकि ि< दे ती हE 4 लालाली को Fसकी पिवाह
ही िहीं %क को" <ाता ह7 या िहीं4 FसीिलD तो महािा$ को &ल; %कया ह7 4
&;ि |पये िहीं ह7 , तो ;हिे कहां से बिते हE ?
H‚N,ि- यह बात िहीं ह7 /$यािाम, उिकी 0मदिी सचमुच बह

त कम
हो ;यी ह7 4 तुम उ*हे बह

त %दक किते हो4
/$यािाम- (हं सकि) मE उ*हे %दक किता ह

ं ? मुOससे कसम ले ली/$D,
$ो कभी उिसे बोलता भी ह

ं 4 मुOे बदिाम कििे का उ*होिे बी8ा उBा िलया
ह7 4 बेसबब, बेव$ह पी(े प8े िहते हE 4 यहां तक %क मेिे दो=तो से भी उ*हे
िच\ ह7 4 0प ही सोिचD, दो=तो के ब;7ि को" /$*दा िह सकता ह7 ? मE को"
लु'चा िहीं ह

%क लु'चो की सोहबत ि<ूं, म;ि 0प दो=तो ही के पी(े मुOे
िो$ सताया किते हE 4 कल तो मEिे सा# कह %दया- मेिे दो=त Xि
0ये;े, %कसी को &'(ा ल;े या बुिा4 $िाब, को" हो, हि वy की 5fस हीं
सह सकता4
125
H‚N,ि- मुOे तो भा", उि पि ब8ी दया 0ती ह7 4 यह $मािा उिके
0िाम कििे का !ा4 Dक तो बु\ापा, उस पि $वाि बे,े का ?ोक, =वा=‹य
भी &'(ा िहीं4 Jसा 0दमी Nया कि सकता ह7 ? वह $ो कु ( !ो8ा-बह


किते हE , वही बह

त ह7 4 तुम &भी +ि कु ( िहीं कि सकते , तो कम-से-कम
&पिे 0चि से तो उ*हे पस*ि ि< सकते हो4 बु{\ो को पस*ि कििा
बह

त क%Bि काम िहीं4 यकीि मािो, तु-हािा हं सकि बोलिा ही उ*हे <ु?
कििे को का#ी ह7 4 Fतिा पू(िे मे तु-हािा Nया <च म होता ह7 4 बाबू $ी,
0पकी तबीयत क7 सी ह7 ? वह तु-हािी यह उv[Hता दे <कि मि-ही-मि कु \ते
िहते हE 4 मE तुमसे सच कहता ह

ं , क" बाि िो चु के हE 4 उ*होिे माि लो ?ादी
कििे मे ;लती की4 Fसे वह भी =वीकाि किते हE , ले%कि तुम &पिे क23म य
से Nयो मुंह मो8ते हो? वह तु-हािे >पता ह7 , तु-हे उिकी सेवा कििी चा%हD4
Dक बात भी Jसी मुंह से ि ििकालिी चा%हD, /$ससे उिका %दल द<ु े4 उ*हे
यह <याल कििे का मGका ही Nयो दे %क सब मेिी कमा" <ािे वाले हE , बात
पू(िे वाला को" िहीं4 मेिी उt तुमसे कहीं Kयादा ह7 , /$यािाम, पि 0$
तक मEिे &पिे >पता$ी की %कसी बात का $वाब िहीं %दया4 वह 0$ भी
मुOे Hां,ते ह7 , िसि Oुकाकि सुि लेता ह

ं 4 $ािता ह

ं , वह $ो कु ( कहते हE ,
मेिे भले ही को कहते हE 4 माता->पता से ब\कि हमािा %हत7@ी +ि कGि हो
सकता ह7 ? उसके • से कGि मुy हो सकता ह7 ?
/$यािाम ब7 Bा िोता िहा4 &भी उसके स—ावो का स-पूतम : लोप ि


0 !ा, &पिी द$ु िम ता उसे सा# ि$ि 0 िही !ी4 Fतिी Zलािि उसे बह


%दिो से ि 0यी !ी4 िोकि H‚N,ि साहब से कहा- मE बह

त ल/K$त ह

ं 4
दसू िो के बहकािे मे 0 ;या4 &ब 0प मेिी $िा भी ि?कयत ि सुिे;े4
0प >पता$ी से मेिे &पिा5 ]मा कि दी/$D4 मE सचमुच ब8ा &भा;ा ह

ं 4
उ*हे मEिे बह

त सताया4 उिसे क%हD- मेिे &पिा5 ]मा कि दे , िहीं मE मुंह
मे कािल< ल;ाकि कहीं ििकल $ाWं ;ा, Hूब म|ं ;ा4
H‚N,ि साहब &पिी उपदे ?-कु ?लता पि #ू ले ि समाये4 /$यािाम को
;ले ल;ाकि >वदा %कया4
/$यािाम Xि पह

ं चा, तो Zयािह ब$ ;ये !े4 मुं?ी$ी भो$ि किे &भी
बाहि 0ये !े4 उसे दे <ते ही बोले- $ािते हो क7 ब$े ह7 ? बािह का वy ह7 4
126
/$यािाम िे ब8ी िtता से कहा- H‚N,ि िस*हा िमल ;ये4 उिके सा!
उिके Xि तक चला ;या4 उ*होिे <ािे के िलD /$द %क, म$बूिि <ािा
प8ा4 Fसी से दे ि हो ;यी4
मुं?ी$- H‚N,ि िस*हा से द<ु 8े िोिे ;ये हो;े या +ि को" काम !ा4
/$यािाम की िtता का चG!ा भा; उ8 ;य, बोला- द<ु 8े िोिे की मेिी
0दत िहीं ह7 4
मुं?ी$ी- $िा भी िहीं, तु-हािे मुंह मे तो $बाि ही िहीं4 मुOसे $ो
लो; तु-हािी बाते किते हE , वह ;\ा किते हो;े?
/$यािाम- +ि %दिो की मE िहीं कहता, ले%कि 0$ H‚N,ि िस*हा के
यहां मEिे को" बात Jसी िहीं की, $ो Fस वy 0पके सामिे ि कि सकूं 4
मुं?ी$ी- ब8ी <ु?ी की बात ह7 4 बेहद <ु?ी ह

"4 0$ से ;ु|दी]ा ले
ली ह7 Nया?
/$यािाम की िtता का Dक चतु!ा?• +ि ;ायब हो ;या4 िसि
उBाकि बोला- 0दमी >बिा ;ु |दी]ा िलD ह

D भी &पिी बुिाFयो पि
ल/K$त हो सकता ह7 4 &पािा सु5ाि कििे के िलD ;ु|प*M को" $|िी ची$
िहीं4
मुं?ी$ी- &ब तो लु'चे ि $मा हो;े?
/$यािाम- 0प %कसी को लु 'चा Nयो कहते हE , $ब तक Jसा कहिे के
िलD 0पके पास को" पमा िहीं?
मुं?ी$ी- तु-हािे दो=त सब लु'चे-ल#ं ;े हE 4 Dक भी भला 0दमी िही4
मE तुमसे क" बाि कह चु का %क उ*हे यहां मत $मा %कया किो< u पि तुमिे
सुिा िहीं4 0$ मे 0/<ि बाि कहे दे ता ह

ं %क &;ि तुमिे उि ?ोहदो को
$मा %कया, तो मुOो पुिलस की सहायता लेिी प8े ;ी4
/$यािाम की िtता का Dक चतु !ा?• +ि ;ायब हो ;या4 #8ककाि
बोला- &'(C बात ह7 , पुिलस की सहायता ली/$D4 दे <े Nया किती ह7 ? मेिे
दो=तो मे 05े से Kयादा पुिलस के &#सिो ही के बे,े हE 4 $ब 0प ही मेिा
सु5ाि कििे पि तुले ह

D ह7 , तो मE 3य! म Nयो कi उBाWं ?
यह कहता ह

0 /$यािाम &पिे कमिे मे चला ;या +ि Dक ] के
बाद हािमोििया के मीBे =विो की 0वा$ बाहि 0िे ल;ी4
127
सTदयता का $लया ह

0 दीपक ििदम य 3यंZय के Dक Oोके से बुO
;या4 &8ा ह

0 Xो8ा चुमकािािे से $ोि माििे ल;ा !ा, पि ह[,ि प8ते ही
%#ि &8 ;या +ि ;ा8ी की पी(े Sके लिे ल;ा4
उ*िीस
बकी सु5ा के सा! ििमलम ा को भी 0िा प8ा4 वह तो म7के मे कु (
%दि +ि िहिा चाहती !ी, ले%कि ?ोकातुि सु 5ा &के ले क7 से िही!
उसको 0/<ि 0िा ही प8ा4 |/Nमी िे भूं;ी से कहा- दे <ती ह7 , बह

म7के
से क7 सा िि<िकि 0यी ह7 !
&
भूं;ी िे कहा- दीदी, मां के हा! की िो%,यां ल8%कयो को बह

त &'(C
ल;ती ह7 4
|/Nमी- BCक कहती ह7 भूं;ी, /<लािा तो बस मां ही $ािती ह7 4
ििमलम ा को Jसा मालूम ह

0 %क Xि का को" 0दमी उसके 0िे से
<ु? िहीं4 मुं?ी$ी िे <ु ?ी तो बह

त %द<ा", पि Tदय;त िचिता को ि
ि(पा सके 4 ब'ची का िाम सु5ा िे 0?ा ि< %दया !ा4 वह 0?ा की
मूितम-सी !ी भी4 दे <कि सािी िच*ता भा; $ाती !ी4 मुं?ी$ी िे उसे ;ोद मे
लेिा चाहा, तो िोिे ल;ी, दG8कि मां से िलप, ;यी, मािो >पता को पहचािती
ही िहीं4 मुं?ी$ी िे िमBाFयो से उसे पिचािा चाहा4 Xि मे को" िGकि तो
!ा िहीं, $ाकि िसयािाम से दो 0िे की िमBाFयां लािे को कहा4
/$यिाम भी ब7 Bा ह

0 !ा4 बोल उBा- हम लो;ो के िलD तो कभी
िमBाFयां िहीं 0तीं4
मं?ी$ी िे OुंOलाकि कहा- तुम लो; ब'चे िहीं हो4
/$यािाम- +ि Nया बू\े हE ? िमBाFयां मं;वाकि ि< दी/$D, तो मालूम
हो %क ब'चे हE या बू\े 4 ििकािलD चाि 0िा +ि 0?ा के बदGलत हमािे
िसीब भी $ा;े4
मुं?ी$ी- मेिे पास Fस वy प7से िहीं ह7 4 $ा6 िसया, $Vद $ािा4
/$यािाम- िसया िहीं $ाये;ा4 %कसी का ;ु लाम िहीं ह7 4 0?ा &पिे
बाप की बे,ी ह7 , तो वह भी &पिे बाप का बे,ा ह7 4
मुं?ी$ी- Nया #$ू $ की बाते किते हो4 ि*हीं-सी ब'ची की बिाबिी
किते तु-हे ?म म िही 0ती? $ा6 िसयािाम, ये प7से लो4
128
/$यािाम- मत $ािा िसया! तुम %कसी के िGकि िहीं हो4
िसया ब8ी द>ु व5ा मे प8 ;या4 %कसका कहिा मािे? &*त मे उसिे
/$यािाम का कहिा माििे का िि`य %कया4 बाप Kयादा-से-Kयादा Xु8क
दे ;े, /$या तो मािे ;ा, %#ि वह %कसके पास #िियाद लेकि $ाये;ा4 बोला- मE
ि $ाWं ;ा4
मुं?ी$ी िे 5मकाकि कहा- &'(ा, तो मेिे पास %#ि को" ची$ मां;िे
मत 0िा4
मुं?ी$ी <ुद बा$ाि चले ;ये +ि Dक |पये की िमBा" लेकि लG,े 4
दो 0िे की िमBा" मां;ते ह

D उ*हे ?म म 0यी4 हलवा" उ*हे पहचािता !ा4
%दल मे Nया कहे ;ा?
िमBा" िलD ह

D मुं?ी$ी &*दि चले ;ये4 िसयािाम िे िमBा" का
ब8ा-सा दोिा दे <ा, तो बाप का कहिा ि माििे का उसे द<ु ह

04 &ब वह
%कस मुंह से िमBा" लेिे &*द $ाये;ा4 ब8ी भूल ह

"4 वह मि-ही-मि
/$यािाम को चो,ो की चो, +ि िमBा" की िमBास मे तुलिा कििे ल;ा4
सहसा भूं;ी िे दो तcतिियां दोिो के सामिे लाकि ि< दीं4 /$यािाम
िे >ब;8कि कहा- Fसे उBा ले $ा!
भूं;ी- काहे को >ब;8ता हो बाबू Nया िमBा" &'(C िहीं ल;ती?
/$यािाम- िमBा" 0?ा के िलD 0यी ह7 , हमािे िलD िहीं 0यी? ले
$ा, िहीं तो स8क पि #े क दं;ू ा4 हम तो प7 से -प7से के िलD ि,ते िहते ह4
+ यहां |पये की िमBा" 0ती ह7 4
भूं;ी- तुम ले लो िसया बाबू, यह ि ले;े ि सहीं4
िसयािाम िे Hिते-Hिते हा! ब\ाया !ा %क /$यािाम िे Hां,कि कहा-
मत (ू िा िमBा", िहीं तो हा! तो8कि ि< दं ;ू ा4 लालची कहीं का!
िसयािाम यह 5ु 8की सुिकि सहम उBा, िमBा" <ािे की %ह-मत ि
प8ी4 ििमलम ा िे यह क!ा सुिी, तो दोिो ल8को को मिािे चली4 मुं?$ी िे
क8ी कसम ि< दी4
ििमलम ा- 0प समOते िहीं ह7 4 यह सािा ;ु=सा मुO पि ह7 4
मुं?ी$ी- ;ु=ता< हो ;या ह7 4 Fस <याल से को" स_ती िहीं किता
%क लो; कहे ;े, >बिा मां के ब'चो को सताते हE , िहीं तो सािी ?िाित X8ी
भि मे ििकाल दं4ू
ििमलम ा- Fसी बदिामी का तो मुOे Hि ह7 4
129
मुं?ी$ी- &ब ि H|ं ;ा, /$सके $ी मे $ो 0ये कहे 4
ििमलम ा- पहले तो ये Jसे ि !े4
मुं?ी$ी- &$ी, कहता ह7 %क 0पके ल8के मG$ूद !े, 0पिे ?ादी Nयो
की! यह कहते भी Fसे संकोच िहीं हाता %क 0प लो;ो िे मंसािाम को >व@
दे %दया4 ल8का िहीं ह7 , ?Mु ह7 4
/$यािाम Iाि पि ि(पकि <8ा !ा4 jी-पु|@ मे िमBा" के >व@य मे
Nया बाते होती हE , यही सुििे वह 0या !ा4 मुं?ी$ी का &/*तम वाNय
सुिकि उससे ि िहा ;या4 बोल उBा- ?Mु ि होता, तो 0प उसके पी(े Nयो
प8ते? 0प $ो Fस वy कि हिे हE , वह मE बह

त पहले समOे ब7Bा ह

ं 4 भ7या ि
समO !े, 5ो<ा < ;ये4 हमािे सा! 0पकी दाला ि ;ले;ी4 सािा $मािा
कह िहा ह7 %क भा" साहब को $हि %दया ;या ह7 4 मE कहता ह

ं तो 0पको
Nयो ;ु=सा 0ता ह7 ?
ििमलम ा तो स*िा,े मे 0 ;यी4 मालूम ह

0, %कसी िे उसकी दे ह पि
&ं ;ािे Hाल %दये4 मं?$ी िे Hां,कि /$यािाम को चु प किािा चाहा, /$यािाम
िि:?ं <8ा Œ, का $वाब पP!ि से दे ता िहा4 यहां तक %क ििमलम ा को भी
उस पि pो5 0 ;या4 यह कल का (ोकिा, %कसी काम का ि का$ का, यो
<8ा ,िा म िहा ह7 , $7से Xि भि का पालि-पो@ यही किता हो4 Pयोिियां
च\ाकि बोली- बस, &ब बह

त ह

0 /$यािाम, मालूम हो ;या, तुम ब8े लायक
हो, बाहि $ाकि ब7Bो4
मुं?ी$ी &ब तक तो कु ( दब-दबकि बोलते िहे , ििमलम ा की ?ह पा"
तो %दल ब\ ;या4 दांत पीसकि लपके +ि Fसके पहले %क ििमलम ा उिके
हा! पक8 सके , Dक !^प8 चला ही %दया4 !^प8 ििमलम ा के मुंह पि प8ा,
वही सामिे पHी4 मा!ा चकिा ;या4 मुं?ी$ी िे सू<े हा!ो मे Fतिी ?>y ह7 ,
Fसका वह &िुमाि ि कि सकती !ी4 िसि पक8कि ब7B ;यी4 मुं?ी$ी का
pो5 +ि भी भ8क उBा, %#ि Xूंसा चलाया पि &बकी /$यािाम िे उिका
हा! पक8 िलया +ि पी(े Sके लकि बोला- दिू से बाते की/$D, Nयां‘े िाहक
&पिी बेFK$ती किवाते हE ? &-मां$ी का िलहा$ कि िहा ह

ं , िहीं तो %द<ा
दे ता4
यह कहता ह

0 वह बाहि चला ;या4 मुं?ी$ी संRा-?ू*य से <8े िहे 4
Fस वy &;ि /$यािाम पि द7 वी वz ि;ि प8ता, तो ?ायद उ*हे हा%दम क
130
0ि*द होता4 /$स पुM का कभी ;ोद मे लेकि ििहाल हो $ाते !े , उसी के
पित 0$ भांित-भांित की द:ु कVपिाDं मि मे 0 िही !ीं4
|/Nमी &ब तक तो &पिी कोBिी मे !ी4 &ब 0कि बोली-बे,ा
0पिे बिाबि का हो $ाये तो उस पि हा! ि (ो8िा चा%हD4
मुं?ी$ी िे 6ंB चबाकि कहा- मE Fसे Xि से ििकालकि (ोHूं ;ा4 भी<
मां;े या चोिी किे , मुOसे को" मतलब िहीं4
|/Nमी- िाक %कसकी क,े ;ी?
मुं?ी$ी- Fसकी िच*ता िहीं4
ििमलम ा- मE $ािती %क मेिे 0िे से यह तु #ाि <8ा हो $ाये;ा, तो
भूलकि भी ि 0ती4 &ब भी भला ह7 , मुOे भे$ दी/$D4 Fस Xि मे मुOसे
ि िहा $ाये;ा4
|/Nमी- तु-हािा बह

त िलहा$ किता ह7 बह

, िहीं तो 0$ &ि! म ही
हो $ाता4
ििमलम ा- &ब +ि Nया &ि! म हो;ा दीदी$ी? मE तो #ूं क-#ूं ककि पांव
ि<ती ह

ं , %#ि भी &पय? ल; ही $ाता ह7 4 &भी Xि मे पांव ि<ते दे ि िहीं


" +ि यह हाल हो ;ेया4 "Qि ही कु ?ल किे 4
िात को भो$ि कििे को" ि उBा, &के ले मुं?ी$ी िे <ाया4 ििमलम ा
को 0$ ियी िच*ता हो ;यी- $ीवि क7 से पाि ल;े;ा? &पिा ही पे, होता
तो >व?े@ िच*ता ि !ी4 &ब तो Dक ियी >वप>2 ;ले प8 ;यी !ी4 वह
सोच िही !ी- मेिी ब'ची के भाZय मे Nया िल<ा ह7 िाम?
बीस
*ता मे िींद कब 0ती ह7 ? ििमलम ा चािपा" पि किव,े बदल िही !ी4
%कतिा चाहती !ी %क िींद 0 $ाये, पि िींद िे ि 0िे की कसम
सी <ा ली !ी4 िचिा; बुOा %दया !ा, /<8की के दिवा$े <ोल %दये !े , %,क-
%,क कििे वाली X8ी भी दसू िे कमिे मे ि< 0यीय !ी, पि िींद का िाम
!ा4 /$तिी बाते सोचिी !ीं, सब सोच चु की, िच*ता6ं का भी &*त हो ;या,
पि पलके ि Oपकीं4 तब उसिे %#ि ल7-प $लाया +ि Dक पु=तक प\िे
ल;ी4 दो-चाि ही पL9 प\े हो;े %क Oपकी 0 ;यी4 %कताब <ुली िह ;यी4
िच
131
सहसा /$यािाम िे कमिे मे कदम ि<ा4 उसके पांव !ि-!ि कांप िहे
!े4 उसिे कमिे मे Wपि-िीचे दे <ा4 ििमलम ा सो" ह

" !ी, उसके िसिहािे ताक
पि, Dक (ो,ा-सा पीतल का स*दकू चा िN<ा ह

0 !ा4 /$यािाम दबे पांव
;या, 5ीिे से स*दकू चा उतािा +ि ब8ी ते$ी से कमिे के बाहि ििकला4 उसी
वy ििमलम ा की 0ं<े <ु ल ;यीं4 चfककि उB <8ी ह

"4 Iाि पि 0कि
दे <ा4 कले$ा 5कu से हो ;या4 Nया यह /$यािाम ह7 ? मेिे के मिे मे Nया
कििे 0या !ा4 कहीं मुOे 5ो<ा तो िहीं ह

0? ?ायद दीदी$ी के कमिे से
0या हो4 यहां उसका काम ही Nया !ा? ?ायद मुOसे कु ( कहिे 0या हो,
ले%कि Fस वy Nया कहिे 0या हो;ा? Fसकी िीयत Nया ह7 ? उसका %दल
कांप उBा4
मुं?ी$ी Wपि (त पि सो िहे !े4 मुंHे ि ि होिे के काि ििमलम ा Wपि
ि सो सकती !ी4 उसिे सोचा चलकि उ*हे $;ाWं , पि $ािे की %ह-मत ि
प8ी4 ?Nकी 0दमी ह7 , ि $ािे Nया समO ब7 Bे +ि Nया कििे पि त7याि हो
$ाये? 0कि %#ि पु=तक प\िे ल;ी4 सबेिे पू(िे पि 0प ही मालूम हो
$ाये;ा4 कGि $ािे मुOे 5ो<ा ही ह

0 हो4 िींद मे कभी-कभी 5ो<ा हो
$ाता ह7 , ले%कि सबेिे पू (िे का िि`य कि भी उसे %#ि िींद िहीं 0यी4
सबेिे वह $लपाि लेकि =वयं /$यािाम के पास ;यी, तो वह उसे
दे <कि चfक प8ा4 िो$ तो भूं;ी 0ती !ी 0$ यह Nयो 0 िही ह7 ? ििमलम ा
की 6ि ताकिे की उसकी %ह-मत ि प8ी4
ििमलम ा िे उसकी 6ि >वQासपू म िेMो से दे <कि पू(ा- िात को तुम
मेिे कमिे मे ;ये !े?
/$यािाम िे >व=मय %द<ाकि कहा- मE ? भला मE िात को Nया कििे
$ाता? Nया को" ;या !ा?
ििमलम ा िे Fस भाव से कहा, मािो उसे उसकी बात का पूिी >वQास हो
;या- हां , मुOे Jसा मालूम ह

0 %क को" मेिे कमिे से ििकला4 मEिे उसका
मुंह तो ि दे <ा, पि उसकी पीB दे <कि &िुमाि %कया %क ?यद तुम %कसी
काम से 0ये हो4 Fसका पता क7 से चले कGि !ा? को" !ा $|ि Fसमे को"
स*दे ह िहीं4
/$यािाम &पिे को िििपिा5 िसI कििे की चेiा कि कहिे ल;ा- म74
तो िात को ि!ये,ि दे <िे चला ;या !ा4 वहां से लG,ा तो Dक िमM के Xि
ले, िहा4 !ो8ी दे ि ह

" लG,ा ह

ं 4 मेिे सा! +ि भी क" िमM !े4 /$ससे $ी
132
चाहे , पू( ले4 हां, भा" मE बह

त Hिता ह

ं 4 Jसा ि हो, को" ची$ ;ायब हो
;यी, तो मेिा िामे ल;े4 चोि को तो को" पक8 िहीं सकता, मेिे मP!े
$ाये;ी4 बाबू$ी को 0प $ािती हE 4 मुOो माििे दGHे ;े4
ििमलम ा- तु-हािा िाम Nयो ल;े;ा? &;ि तु-हीं होते तो भी तु-हे को"
चोिी िहीं ल;ा सकता4 चोिी दसू िे की ची$ की $ाती ह7 , &पिी ची$ की
चोिी को" िहीं किता4
&भी तक ििमलम ा की िि;ाह &पिे स*दकू चे पि ि प8ी !ी4 भो$ि
बिािे ल;ी4 $ब वकील साहब कचहिी चले ;ये , तो वह सु5ा से िमलिे
चली4 F5ि क" %दिो से मुलाकात ि ह

" !ी, %#ि िातवाली X,िा पि >वचाि
पििवतिम भी कििा !ा4 भूं;ी से कहा- कमिे मे से ;हिो का बNस उBा ला4
भूं;ी िे लG,कि कहा- वहां तो कहीं स*दकू िहीं हE 4 ककहां ि<ा !ा?
ििमलम ा िे िच\कि कहा- Dक बाि मे तो तेिा काम ही कभी िहीं होता4
वहां (ो8कि +ि $ाये;ा कहां4 0लमािी मे दे <ा !ा?
भूं;ी- िहीं बह

$ी, 0लमािी मे तो िहीं दे <ा, OूB Nयो बोलूं?
ििमलम ा मु=किा प8ी4 बोली- $ा दे <, $Vदी 04 Dक ] मे भूं;ी
%#ि <ाली हा! लG, 0यी- 0लमािी मे भी तो िहीं ह7 4 &ब $हां बता6
वहां दे <ूं4
ििमलम ा OुंOलाकि यह कहती ह

" उB <8ी ह

"- तुOे "Qि िे 0ं <े ही
ि $ािे %कसिलD दी! दे <, उसी कमिे मे से लाती ह

ं %क िहीं4
भूं;ी भी पी(े -पी(े कमिे मे ;यी4 ििमलम ा िे ताक पि िि;ाह Hाली,
&लमािी <ोलकि दे <ी4 चािपा" के िीचे Oांककाि दे <ा, %#ि कप8ो का बHा
संदकू <ोलकि दे <ा4 बNस का कहीं पता िहीं4 0`य म ह

0, 0/<ि बNसा
;या कहां?
सहसा िातवाली X,िा >ब$ली की भांित उसकी 0ं<ो के सामिे
चमक ;यी4 कले$ा उ(ल प8ा4 &ब तक िि/`*त होकि <ो$ िही !ी4 &ब
ताप-सा च\ 0या4 ब8ी उतावली से चािो 6ि <ो$िे ल;ी4 कहीं पता िहीं4
$हां <ो$िा चा%हD !ा, वहां भी <ो$ा +ि $हां िहीं <ो$िा चा%हD !ा,
वहां भी <ो$ा4 Fतिा ब8ा स*दकू चा >ब(ावि के िीचे क7 से ि(प $ाता? पि
>ब(ावि भी Oा8कि दे <ा4 ]-] मु< की का/*त मिलि होती $ाती
!ी4 पा िहीं मे समाते $ाते !े4 &ित मे िििा?ा होकि उसिे (ाती पि
Dक Xूंसा मािा +ि िोिे ल;ी4
133
;हिे ही jी की स-प>2 होते हE 4 पित की +ि %कसी स-प>2 पि
उसका &ि5काि िहीं होता4 F*हीं का उसे बल +ि ;Gिव होता ह7 4 ििमलम ा
के पास पांच-(: ह$ाि के ;हिे !े4 $ब उ*हे पहिकि वह ििकलती !ी, तो
उतिी दे ि के िलD उVलास से उसका Tदय /<ला िहता !ा4 Dक-Dक ;हिा
मािो >वप>2 +ि बा5ा से बचािे के िलD Dक-Dक ि]ाj !ा4 &भी िात ही
उसिे सोचा !ा, /$यािाम की लfHी बिकि वह ि िहे ;ी4 "Qि ि किे %क
वह %कसी के सामिे हा! #7 लाये4 Fसी <ेवे से वह &पिी िाव को भी पाि
ल;ा दे ;ी +ि &पिी ब'ची को भी %कसी-ि-%कसी Xा, पह

ं चा दे ;ी4 उसे
%कस बात की िच*त ह7 ! उ*हे तो को" उससे ि (Cि ले;ा4 0$ ये मेिे
िसं;ाि हE , कल को मेिे 05ाि हो $ाये;े4 Fस >वचाि से उसके Tदय को
%कतिी सा*तविा िमली !ी! वह स-प>2 0$ उसके हा! से ििकल ;यी4
&ब वह िििा5ाि !ी4 संसाि उसे को" &वल-ब को" सहािा ि !ा4 उसकी
0?ा6ं का 05ाि $8 से क, ;या, वह #ू ,-#ू ,कि िोिे ल;ी4 "`ि! तुमसे
Fतिा भी ि दे <ा ;या? मुO द/ु <या को तुमिे यो ही &पं ; बिा %दया !,
&ब 0ं<े भी #ो8 दीं4 &ब वह %कसके सामिे हा! #7 लाये;ी, %कसके Iाि
पि भी< मां;े;ी4 पसीिे से उसकी दे ह भी; ;यी, िोते-िोते 0ं <े सू$ ;यीं4
ििमलम ा िसि िीचा %कये िा िही !ी4 |/Nमी उसे 5ीि$ %दला िही !ीं ,
ले%कि उसके 0ंसू ि |कते !े, ?ोके की Kवाल के म िे होती !ी4
तीि ब$े /$यािाम =कू ल से लG,ा4 ििमलम ा उसिे 0िे की <बि
पाकि >व/]o की भांित उBC +ि उसके कमिे के Iाि पि 0कि बोली-भ7या,
%दVल;ी की हो तो दे दो4 द/ु <या को सताकि Nया पा6;े?
/$यािाम Dक ] के िलD काति हो उBा4 चोि-कला मे उसका यह
पहला ही पयास !ा4 यह कBािे ता, /$ससे %हं सा मे मिोिं $ि होता ह7 &भी
तक उसे पाo ि ह

" !ी4 य%द उसके पास स*दकू चा होता +ि %#ि Fतिा
मGका िमलता %क उसे ताक पि ि< 0वे , तो कदािचत u वह उसे मGके को ि
(ो8ता, ले%कि स*दकू उसके हा! से ििकल चु का !ा4 यािो िे उसे सिा#े मे
पह

ं चा %दया !ा +ि +िे-पGिे बेच भी Hाला !4 चोिो की OूB के िसवा +ि
कGि ि]ा कि सकता ह7 4 बोला-भला &-मां$ी, मE 0पसे Jसी %दVल;ी
क|ं ;ा? 0प &भी तक मुO पि ?क किती $ा िही हE 4 मE कह चुका %क मE
िात को Xि पि ि !ा, ले%कि 0पको यकीि ही िहीं 0ता4 ब8े दु:< की
बात ह7 %क मुOे 0प Fतिा िीच समOती हE 4
134
ििमलम ा िे 0ंसू पो(ते ह

D कहा- मE तु-हािे पि ?क िहीं किती भ7या,
तु-हे चोिी िहीं ल;ाती4 मEिे समOा, ?ायद %दVल;ी की हो4
/$यािाम पि वह चोिी का संदे ह क7 से कि सकती !ी? दिु िया यही तो
कहे ;ी %क ल8के की मां मि ;" ह7 , तो उस पि चोिी का Fल$ाम ल;ाया $ा
िहा ह7 4 मेिे मुंह मे ही तो कािल< ल;े;ी!
/$यािाम िे 0Qासि दे ते ह

D कहा- चिलD, मE दे <ूं, 0/<ि ले कGि
;या? चोि 0या %कस िा=ते से?
भूं;ी- भ7या, तुम चोिो के 0िे को कहते हो4 चू हे के >बल से तो ििकल
ही 0ते हE , यहां तो चािो 6ि ही /<8%कयां हE 4
/$यािाम- <ू ब &'(C तिह तला? कि िलया ह7 ?
ििमलम ा- सािा Xि तो (ाि मािा, &ब कहां <ो$िे को कहते हो?
/$यािाम- 0प लो; सो भी तो $ाती हE मुदl से बा$ी ल;ाकि4
चाि ब$े मुं?ी$ी Xि 0ये, तो ििमलम ा की द?ा दे <कि पू(ा- क7 सी तबीयत
ह7 ? कहीं ददम तो िहीं ह7 ? कह कहकि उ*होिे 0?ा को ;ोद मे उBा िलया4
ििमलम ा को" $वाब ि दे सकी, %#ि िोिे ल;ी4
भूं;ी िे कहा- Jसा कभी िहीं ह

0 !ा4 मेिी सािी उम म Fसी Xि मं क,
;यी4 0$ तक Dक प7से की चोिी िहीं ह

"4 दिु िया यही कहे ;ी %क भूं;ी
का कोम ह7 , &ब तो भ;ेवाि ही पत-पािी ि<े4
मुं?ी$ी &चकि के ब,ि <ोल िहे !े, %#ि ब,ि ब*द किते ह

D बोले-
Nया ह

0? को" ची$ चोिी हो ;यी?
भूं;ी- बह

$ी के सािे ;हिे उB ;ये4
मुं?ी$ी- ि<े कहां !े?
ििमलम ा िे िसस%कयां लेते ह

D िात की सािी X,िा बयािा कि दी, पि
/$यािाम की सूित के 0दमी के &पिे कमिे से ििकलिे की बात ि कही4
मुं?ी$ी िे Bं Hी सांस भिकि कहा- "Qि भी ब8ा &*यायी ह7 4 $ो मिे उ*हीं
को मािता ह7 4 मालूम होता ह7 , &%दि 0 ;ये हE 4 म;ि चोि 0या तो %क5ि
से? कहीं से5 िहीं प8ी +ि %कसी ति# से 0िे का िा=ता िहीं4 मEिे तो
को" Jसा पाप िहीं %कया, /$सकी मुOे यह स$ा िमल िही ह7 4 बाि-बाि
कहता िहा, ;हिे का स*दकू चा ताक पि मत ि<ो, म;ेि कGि सुिता ह7 4
ििमलम ा- मE Nया $ािती !ी %क यह ;$ब ,ू, प8े ;ा!
135
मुं?ी$ी- Fतिा तो $ािती !ी %क सब %दि बिाबि िहीं $ाते4 0$
बिवािे $ाWं , तो Fस ह$ाि से कम ि ल;े;े4 0$कल &पिी $ो द?ा ह7 ,
वह तुमसे ि(पी िहीं, <च म भि का मु/cकल से िमलता ह7 , ;हिे कहां से
बिे;े4 $ाता ह

ं , पुिलस मे F>2ला कि 0ता ह

ं , पि िमलिे की उ-मीद ि
समOो4
ििमलम ा िे 0प>2 के भाव से कहा- $ब $ािते हE %क पुिलस मे F>2ला
कििे से कु द ि हो;ा, तो Nयो $ा िहे हE ?
मुं?ी$ी- %दल िहीं मािता +ि Nया? Fतिा ब8ा िु कसाि उBाकि
चुपचाप तो िहीं ब7B $ाता4
ििमलम ा- िमलिेवाले होते, तो $ाते ही Nयो? तकदीि मे ि !े, तो क7 से
िहते?
मुं?ी$ी- तकदीि मे हो;े, तो िमल $ाये;े, िहीं तो ;ये तो हE ही4
मुं?ी$ी कमिे से ििकले4 ििमलम ा िे उिका हा! पक8कि कहा- मE
कहती ह

ं , मत $ा6, कहीं Jसा ि हो, लेिे के दे िे प8 $ाये4
मुं?ी$ी िे हा! (ु 8ाकि कहा- तुम भी ब'चो की-सी /$v कि िही हो4
दस ह$ाि का िु कसाि Jसा िहीं ह7 , /$से मE यो ही उBा लूं4 मE िो िहीं िहा


ं , पि मेिे Tदय पि $ो बीत िही ह7 , वह मE ही $ािता ह

ं 4 यह चो, मेिे
कले$े पि ल;ी ह7 4 मुं?ी$ी +ि कु ( ि कह सके 4 ;ला #ं स ;या4 वह
ते$ी से कमिे से ििकल 0ये +ि !ािे पि $ा पह

ं चे4 !ािेदाि उिका बह


िलहा$ किता !ा4 उसे Dक बाि ििQत के मुकदमे से बिी किा चु के !े4
उिके सा! ही तkती? कििे 0 पह

ं चा4 िाम !ा &लायाि <ां4
?ाम हो ;यी !ी4 !ािेदाि िे मकाि के &;वा8े ->प(वा8े Xूम-Xूमकि
दे <ा4 &*दि $ाकि ििमलम ा के कमिे को ;Gि से दे <ा4 Wपि की मुंHे ि की
$ांच की4 मुहVले के दो-चाि 0दिमयो से चुपके -चु पके कु ( बाते की +ि
तब मुं?ी$ी से बोले- $िाब, <ुदा की कसम, यह %कसी बाहि के 0दमी का
काम िहीं4 <ुदा की कसम, &;ि को" बाहि की 0मदी ििकले, तो 0$ से
!ािेदािी कििा (ो8 दं4ू 0पके Xि मे को" मुला/$म Jसा तो िहीं ह7 , /$स
पि 0पको ?ुबहा हो4
मुं?ी$ी- Xि मे तो 0$कल िस#म Dक महिी ह7 4
!ािेदाि-&$ी, वह प;ली ह7 4 यह %कसी ब8े ?ािति का काम ह7 , <ुदा
की कसम4
136
मुं?ी$ी- तो Xि मे +ि कGि ह7 ? मेिे दोिे ल8के हE , jी ह7 +ि बहि
ह7 4 Fिमे से %कस पि ?क क|ं ?
!ािेदाि- <ुदा की कसम, Xि ही के %कसी 0दमी का काम ह7 , चाहे , वह
को" हो, F*?ा&Vलाह, दो-चाि %दि मे मE 0पको Fसकी <बि दं ;ू ा4 यह तो
िहीं कह सकता %क माल भी सब िमल $ाये;ा, पि <ुदा की कसम, चोि
$|ि पक8 %द<ाWं ;ा4
!ािेदाि चला ;या, तो मुं?ी$ी िे 0कि ििमलम ा से उसकी बाते कहीं4
ििमलम ा सहम उBC- 0प !ािेदाि से कह दी/$D, त#ती? ि किे , 0पके प7 िो
प8ती ह

ं 4
मुं?ी$ी- 0/<ि Nयो?
ििमलम ा- &ब Nयो बताWं ? वह कह िहा ह7 %क Xि ही के %कसी का काम
ह7 4
मुं?ी$ी- उसे बकिे दो4
/$यािाम &पिे कमिे मे ब7Bा ह

0 भ;वाि u को याद कि िहा !ा4
उसक मुंह पि हवाFयां उ8 िही !ीं4 सुि चु का !ा%क पुिलसवाले चेहिे से भांप
$ाते हE 4 बाहि ििकलिे की %ह-मत ि प8ती !ी4 दोिो 0दिमयो मे Nया
बाते हो िही हE , यह $ाििे के िलD (,प,ा िहा !ा4 Kयोही !ािेदाि चला
;या +ि भूं;ी %कसी काम से बाहि ििकली, /$यािाम िे पू(ा-!ािेदाि Nया
कि िहा !ा भूं;ी?
भूं;ी िे पास 0कि कहा- दा\ी$ाि कहता !ा, Xि ही से %कसी 0दमी
का काम ह7 , बाहि को को" िहीं ह7 4
/$यािाम- बाबू$ी िे कु ( िहीं कहा?
भूं;ी- कु ( तो िहीं कहा, <8े mह

ं -ह

ं w किते िहे 4 Xि मे Dक भूं ;ी ही ;7 ि
ह7 ि! +ि तो सब &पिे ही हE 4
/$यािाम- मE भी तो ;7ि ह

ं , तू ही Nयो?
भूं;ी- तुम ;7 ि काहे हो भ7या?
/$यािाम- बाबू $ी िे !ािेदाि से कहा िहीं, Xि मे %कसी पि उिका
?ुबहा िहीं ह7 4
भूं;ी- कु ( तो कहते िहीं सुिा4 बेचािे !ािेदाि िे भले ही कहा- भूं;ी
तो प;ली ह7 , वह Nया चोिी किे ;ी4 बाबू$ी तो मुOे #ं साये ही दे ते !े4
137
/$यािाम- तब तो तू भी ििकल ;यी4 &के ला मE ही िह ;या4 तू ही
बता, तूिे मुOे उस %दि Xि मे दे <ा !ा?
भूं;ी- िहीं भ7या, तुम तो Bे Bि दे <िे ;ये !े4
/$यािाम- ;वाही दे ;ी ि?
भूं;ी- यह Nया कहते हो भ7या? बह

$ी तkती? ब*द कि दे ;ी4
/$यिाम- सच?
भूं;ी- हां भ7या, बाि-बाि कहती ह7 %क तkती? ि किा64 ;हिे ;ये,
$ािे दो, पि बाबू$ी मािते ही िहीं4
पांच-(: %दि तक /$यािाम िे पे, भि भो$ि िहीं %कया4 कभी दो-
चाि कGि <ा लेता, कभी कह दे ता, भू< िहीं ह7 4 उसके चेहिे का िं ; उ8ा
िहता !ा4 िाते $ा;ते क,तीं, पित] !ािेदाि की ?ं का बिी िहती !ी4 य%द
वह $ािता %क मामला Fतिा तूल <ींचे;ा, तो कभी Jसा काम ि किता4
उसिे तो समOा !ा- %कसी चोि पि ?ुबहा हो;ा4 मेिी ति# %कसी का Yयाि
भी ि $ाये;ा, पि &ब भ[Hा #ू ,ता ह

0 मालूम होता !ा4 &भा;ा !ािेदाि
/$स Sं ;े से (ाि-बीि कि िहा !ा, उससे /$यािाम को ब8ी ?ं का हो िही
!ी4
सातवे %दि संYया समय Xि लG,ा तो बह

त िच/*तत !ा4 0$ तक
उसे बचिे की कु (-ि-कु ( 0?ा !ी4 माल &भी तक कहीं बिामद ि ह

0
!ा, पि 0$ उसे माल के बिामद होिे की <बि िमल ;यी !ी4 Fसी दम
!ािेदाि कां=,े >बल के िलD 0ता हो;ा4 बचिे को को" उपाय िहीं4 !ािेदाि
को ििQत दे िे से स-भव ह7 मु कदमे को दबा दे , |पये हा! मे !े , पि Nया
बात ि(पी िहे ;ी? &भी माल बिामद िही ह

0, %#ि भी सािे ?हि मे &#वाह
!ी %क बे,े िे ही माल उ8ाया ह7 4 माल िमल $ािे पि तो ;ली-;ली बात
#7 ल $ाये;ी4 %#ि वह %कसी को मुंह ि %द<ा सके ;ा4
मुं?ी$ी कचहिी से लG,े तो बह

त Xबिाये ह

D !े4 िसि !ामकि
चािपा" पि ब7B ;ये4
ििमलम ा िे कहा- कप8े Nयो िहीं उतािते? 0$ तो +ि %दिो से दे ि हो
;यी ह7 4
मुं?ी$ी- Nया कपHे Wता|ं ? तुमिे कु ( सुिा?
ििमलम ा- Nय बात ह7 ? मEिे तो कु ( िहीं सुिा?
मुं?ी$ी- माल बिामद हो ;या4 &ब /$या का बचिा मु/cकल ह7 4
138
ििमलम ा को 0`य म िहीं ह

04 उसके चेहिे से Jसा $ाि प8ा, मािो
उसे यह बात मालूम !ी4 बोली- मE तो पहले ही कि िही !ी %क !ािे मे
F2ला मत की/$D4
मुं?ी$ी- तु-हे /$या पि ?का !ा?
ििमलम ा- ?क Nयो िहीं !ा, मEिे उ*हे &पिे कमिे से ििकलते दे <ा
!ा4
मुं?ी$ी- %#ि तुमिे मुOसे Nयो ि कह %दया?
ििमलम ा- यह बात मेिे कहिे की ि !ी4 0पके %दल मे $|ि <याल
0ता %क यह ":यावम ? 0]ेप ल;ा िही ह7 4 क%हD, यह <याल होता या
िहीं? OूB ि बोिलD;ा4
मुं?ी$ी- स-भव ह7 , मE F*काि िहीं कि सकता4 %#ि भी उसक द?ा मे
तु-हे मुOसे कह दे िा चा%हD !ा4 ििपो,म की िGबत ि 0ती4 तुमिे &पिी
िेकिामी की तो- %#p की, पि यह ि सोचा %क पििाम Nया हो;ा? मE &भी
!ािे मे चला 0ता ह

ं 4 &लायाि <ां 0ता ही हो;ा!
ििमलम ा िे हता? होकि पू(ा- %#ि &ब?
मुं?ी$ी िे 0का? की 6ि ताकते ह

D कहा- %#ि $7सी भ;वाि u की
F'(ा4 ह$ाि-दो ह$ाि |पये ििQत दे िे के िलD होते तो ?ायद मामेला दब
$ाता, पि मेिी हालत तो तुम $ािती हो4 तकदीि <ो,ी ह7 +ि कु ( िहीं4
पाप तो मEिे %कया ह7 , द[H कGि भो;े;ा? Dक ल8का !ा, उसकी वह द?ा ह

",
दसू िे की यह द?ा हो िही ह7 4 िालायक !ा, ;ु=ता< !ा, ;ु =ता< !ा, कामचोि
!ा, पि !ा ता &पिा ही ल8का, कभी-ि-कभी चेत ही $ाता4 यह चो, &ब ि
सही $ाये;ी4
ििमलम ा- &;ि कु ( दे -%दलाकि $ाि बच सके , तो मE |पये का पब*5
कि दं4ू
मुं?ी$ी- कि सकती हो? %कतिे |पये दे सकती हो?
ििमलम ा- %कतिा दिकाि हो;ा?
मुं?ी$ी- Dक ह$ाि से कम तो ?ायद बातचीत ि हो सके 4 मEिे Dक
मुकदमे मे उससे Dक ह$ाि िलD !े4 वह कसि 0$ ििकाले;ा4
ििमलम ा- हो $ाये;ा4 &भी !ािे $ाFD4
मुं?ी$ी को !ािे मे ब8ी दे ि ल;ी4 Dका*त मे बातचीत कििे का बह


दे ि मे मGका िमला4 &लायाि <ां पुिािा XाX !4 ब8ी मु/cकल से &[,ी पि
139
च\ा4 पांच सG |वये लेकि भी &हसाि का बोOा िसि पि लाद ही %दया4
काम हो ;या4 लG,कि ििमलम ा से बोला- लो भा", बा$ी माि ली, |पये तुमिे
%दये, पि काम मेिी $बाि ही िे %कया4 ब8ी-ब8ी मु/cकलो से िा$ी हो ;या4
यह भी याद िहे ;ी4 /$यािाम भो$ि कि चु का ह7 ?
ििमलम ा- कहां, वह तो &भी Xूमकि लG,े ही िहीं4
मुं?ी$ी- बािह तो ब$ िहे हो;े4
ििमलम ा- क" द#े $ा-$ाकि दे < 0यी4 कमिे मे &ं5ेिा प8ा ह

0 ह7 4
मुं?ी$ी- +ि िसयािाम?
ििमलम ा- वह तो <ा-पीकि सोये हE 4
मुं?ी$ी- उससे पू (ा िहीं, /$या कहां ;या?
ििमलम ा- वह तो कहते हE , मुOसे कु ( कहकि िहीं ;ये4
मुं?ी$ी को कु ( ?ंका ह

"4 िसयािाम को $;ाकि पू (ा- तुमसे
/$यािाम िे कु ( कहा िहीं, कब तक लG,े ;ा? ;या कहां ह7 ?
िसयािाम िे िसि <ु $लाते +ि 0ं <ो मलते ह

D कहा- मुOसे कु (
िहीं कहा4
मुं?ी$ी- कप8े सब पहिकि ;या ह7 ?
िसयािाम- $ी िहीं, कु ता म +ि 5ोती4
मुं?ी$ी- $ाते वy <ु? !ा?
िसयािाम- <ु? तो िहीं मालूम होते !े4 क" बाि &*दि 0िे का
Fिादा %कया, पि दे हिी से ही लG, ;ये4 क" िमि, तक सायबाि मे <8े िहे 4
चलिे ल;े, तो 0ं<े पो( िहे !े4 F5ि क" %दि से &Nसा िोया किते !े4
मुं?ी$ी िे Jसी Bं Hी सांस ली, मािो $ीवि मे &ब कु ( िहीं िहा +ि
ििमलम ा से बोले- तुमिे %कया तो &पिी समO मे भले ही के िलD, पि को"
?Mु भी मुO पि Fससे कBािे 0Xात ि कि सकता !ा4 /$यािाम की माता
होती, तो Nया वह यह संकोच किती? कदा>प िहीं4
ििमलम ा बोली- $िा H‚N,ि साहब के यहां Nयो िहीं चले $ाते ? ?ायद
वहां ब7 Bे हो4 क" ल8के िो$ 0ते ह7 , उिसे पूि(D, ?ायद कु ( पता ल;
$ाये4 #ूं क-#ूं ककि चलिे पि भी &पय? ल; ही ;या4
मुं?ी$ी िे मािो <ुली ह

" /<8की से कहा- हां , $ाता ह

ं +ि Nया
क|ं ;ा4
140
मुं?ी$ बाहि 0ये तो दे <ा, H‚N,ि िस*हा <8े हE 4 चfककि पू(ा- Nया
0प दे ि से <8े हE ?
H‚N,ि- $ी िहीं, &भी 0या ह

ं 4 0प Fस वy कहां $ा िहे हE ? सा\े
बािह हो ;ये हE 4
मुं?ी$ी- 0प ही की ति# 0 िहा !ा4 /$यािाम &भी तक Xूमकि
िहीं 0या4 0पकी ति# तो िहीं ;या !ा?
H‚N,ि िस*हा िे मुं?ी$ी के दोिो हा! पक8 िलD +ि Fतिा कह
पाये !े, ‘भा" साहब, &ब 57 य म से काम..’ %क मुं?ी$ी ;ोली <ाये ह

D मिु:य
की भांित $मीि पि ि;ि प8े 4
FNकीस
%क-ी िे ििमलम ा से Pयािियां बदलकि कहा- Nया िं ;े पांव ही मदिसे
$ाये;ा?
|
ििमलम ा िे ब'ची के बाल ;ूं !ते ह

D कहा- मE Nया क|ं ? मेिे पास |पये
िहीं हE 4
|/Nमी- ;हिे बिवािे को |पये $ु8ते हE , ल8के के $ू तो के िलD
|पयो मे 0; ल; $ाती ह7 4 दो तो चले ही ;ये , Nया तीसिे को भी |ला-
|लाकि माि Hालिे का Fिादा ह7 ?
ििमलम ा िे Dक सांस <ींचकि कहा- /$सको $ीिा ह7 , /$ये;ा, /$सको
मििा ह7 , मिे ;ा4 मE %कसी को माििे-/$लािे िहीं $ाती4
0$कल Dक-ि-Dक बात पि ििमलम ा +ि |/Nमी मे िो$ ही O8प
हो $ाती !ी4 $ब से ;हिे चोिी ;ये हE , ििमलम ा का =वभाव >बलकु ल बदल
;या ह7 4 वह Dक-Dक कG8ी दांत से पक8िे ल;ी ह7 4 िसयािाम िोते-िोते चहे
$ाि दे दे , म;ि उसे िमBा" के िलD प7 से िहीं िमलते +ि यह बतावम कु (
िसयािाम ही के सा! िहीं ह7 , ििमलम ा =वयं &पिी $|ितो को ,ालती िहती
ह7 4 5ोती $ब तक #,किि ताि-ताि ि हो $ाये, ियी 5ोती िहीं 0ती4
महीिो िसि का तेल िहीं मं;ाया $ाता4 पाि <ािे का उसे ?Gक !ा, क"-क"
%दि तक पािदाि <ाली प8ा िहता ह7 , यहां तक %क ब'ची के िलD द5ू भी
िहीं 0ता4 ि*हे से ि??ु का भ>व:य >विा˜ |प 5ाि किके उसके >वचाि-
]ेM पि मंHिाता िहता 4
141
मुं?ी$ी िे &पिे को स-पूतम या ििमलम ा के हा!ो मे सfप %दया ह7 4
उसके %कसी काम मे द<ल िहीं दे ते4 ि $ािे Nयो उससे कु ( दबे िहते हE 4
वह &ब >बिा िा;ा कचहिी $ाते हE 4 Fतिी मेहित उ*होिे $वािी मे भी ि
की !ी4 0ं <े <िाब हो ;यी हE , H‚N,ि िस*हा िे िात को िल<िे -प\िे की
मुमुिियत कि दी ह7 , पाचि?>y पहले ही दबु लम !ी, &ब +ि भी <िाब हो
;यी ह7 , दमे की ि?कायत भी प7दा ही चली ह7 , पि बेचािे सबेिे से 05ी-05ी
िात तक काम किते हE 4 काम कििे को $ी चाहे या ि चाहे , तबीयत &'(C
हो या ि हो, काम कििा ही प8ता ह7 4 ििमलम ा को उि पि $िा भी दया
0ती4 वही भ>व:य की भी@ िच*ता उसके 0*तििक स—ावो को सविम ा?
कि िही ह7 4 %कसी िभ]ु क की 0वा$ सुिकि OVला प8ती ह7 4 वह Dक
को8ी भी <च म कििा िहीं चाहती 4
Dक %दि ििमलम ा िे िसयािाम को Xी लािे के िलD बा$ाि भे$ा4 भूं;ी
पि उिका >वQास ि !ा, उससे &ब को" सGदा ि मां;ती !ी4 िसयािाम मे
का,-कप, की 0दत ि !ी4 +िे-पGिे कििा ि $ािता !ा4 पाय: बा$ाि का
सािा काम उसी को कििा प8ता4 ििमलम ा Dक-Dक ची$ को तोलती, $िा भी
को" ची$ तोल मे कम प8ती, तो उसे लG,ा दे ती4 िसयािाम का बह

त-सा
समय Fसी लG,-#े िी मे बीत $ाता !ा4 बा$ाि वाले उसे $Vदी को" सGदा ि
दे ते4 0$ भी वही िGबत 0यी4 िसयािाम &पिे >वचाि से बह

त &'(ा Xी,
क" दकू ािि से दे <कि लाया, ले%कि ििमलम ा िे उसे सूंXते ही कहा- Xी <िाब
ह7 , लG,ा 064
िसयािाम िे OुंOलाकि कहा- Fससे &'(ा Xी बा$ाि मे िहीं ह7 , मE
सािी दकू ािे दे <कि लाया ह

ं ?
ििमलम ा- तो मE OूB कहती ह

ं ?
िसयािाम- यह मE िहीं कहता, ले%कि बििया &ब Xी वा>पस ि ले;ा4
उसिे मुOसे कहा !ा, /$स तिह दे <िा चाहो, यहीं दे <ो, माल तु-हािे सामिे
ह7 4 बो%हिी-बa,े के वy मे सGदा वापस ि लूं;ा4 मEिे सूंXकि, च<कि िलया4
&ब %कस मुंह से लG,िे $ाW?
ििमलम ा िे दांत पीसकि कहा- Xी मे सा# चिबी िमली ह

" ह7 +ि तुम
कहते हो, Xी &'(ा ह7 4 मE Fसे िसो" मे ि ले $ाWं ;ी, तु-हािा $ी चाहे लG,ा
दो, चाहे <ा $ा64
142
Xी की हां8ी वहीं (ो8कि ििमलम ा Xि मे चली ;यी4 िसयािाम pो5
+ि ]ोभ से काति हो उBा4 वह कGि मुंह लेकि लG,ािे $ाये ? बििया सा#
कह दे ;ा- मE िहीं लG,ाता4 तब वह Nया किे ;ा? 0स-पास के दस-पांच बििये
+ि स8क पि चलिे वाले 0दमी <ा8े हो $ाये;े4 उि सबो के सामिे उसे
ल/K$त होिा प8े ;ा4 बा$ाि मे यो ही को" बििया उसे $Vदी सGदा िहीं
दे ता, वह %कसी दकू ाि पि <8ा होिे िहीं पाता4 चािो 6ि से उसी पि लता8
प8े ;ी4 उसिे मि-ही-मि OुंOलाकि कहा- प8ा िहे Xी, मE लG,ािे ि $ाWं ;ा4
मात9-हीि बालक के समाि द<ु ी, दीि-पाी संसाि मे दसू िा िहीं होता
+ि सािे दु :< भूल $ाते हE 4 बालक को माता याद 0यी, &-मां होती, तो
Nया 0$ मुOे यह सब सहिा प8ता? भ7या चले ;ये, मE ही &के ला यह
>वप>2 सहिे के िलD Nयो बचा िहा? िसयािाम की 0ं <ो मे 0ंसू की O8ी
ल; ;यी4 उसके ?ोक काति क[B से Dक ;हिे िि:Qास के सा! िमले ह

D
ये ?Aद ििकल 0ये- &-मां! तुम मुOे भूल Nयो ;यीं, Nयो िहीं बुला लेतीं?
सहसा ििमलम ा %#ि कमिे की ति# 0यी4 उसिे समOा !ा,
िसयािाम चला ;या हो;ा4 उसे ब7Bा दे <ा, तो ;ु=से से बोली- तुम &भी तक
ब7Bे ही हो? 0/<ि <ािा कब बिे;ा?
िसयािाम िे 0ं<े पोH Hालीं4 बोला- मुOे =कू ल $ािे मे दे ि हो
$ाये;ी4
ििमलम ा- Dक %दि दे ि हो $ाये;ी तो कGि हि$ ह7 ? यह भी तो Xि ही
का काम ह7 ?
िसयािाम- िो$ तो यही 5*5ा ल;ा िहता ह7 4 कभी वy पि =कू ल िहीं
पह

ं चता4 Xि पि भी प\िे का वy िहीं िमलता4 को" सGदा दो-चाि बाि
लG,ाये >बिा िहीं $ाता4 Hां, तो मुO पि प8ती ह7 , ?िमद• ा तो मुOे होिा
प8ता ह7 , 0पको Nया?
ििमलम ा- हां, मुOे Nया? मE तो तु-हािी दcु मि Bहिी! &पिा होता, तब तो
उसे दु :< होता4 मE तो "Qि से मािाया किती ह

ं %क तुम प\-िल< ि सको4
मुOमे सािी बुिाFयां-ही-बुिाFयां हE , तु-हािा को" कसू ि िहीं4 >वमाता का िाम
ही बुिा होता ह7 4 &पिी मां >व@ भी /<लाये, तो &मत9 हE ; मE &मत9 भी
>पलाWं , तो >व@ हो $ाये;ा4 तुम लो;ो के काि मे िमa,ी मे िमल ;यी,
िोते-िोत उt का,ी $ाती ह7 , मालूम ही ि ह

0 %क भ;वाि िे %कसिलD
$*म %दया !ा +ि तु-हािी समO मे मE >वहाि कि िही ह

ं 4 तु-हे सतािे मे
143
मुOे ब8ा म$ा 0ता ह7 4 भ;वाि u भी िहीं पू (ते %क सािी >वप>2 का &*त
हो $ाता4
यह कहते-कहते ििमलम ा की 0ं <े भि 0यी4 &*दि चली ;यी4
िसयािाम उसको िोते दे <कि सहम उBा4 Zलाििक तो िहीं 0यी; पि ?ंका


" %क िे $ािे कGि-सा द[H िमले4 चुपके से हां8ी उBा ली +ि Xी लG,ािे
चला, Fस तिह $7 से को" कु 2ा %कसी िये ;ांव मे $ाता ह7 4 उसे दे <कि
सा5ाि बु%I का मिु:य भी 0िुमाि कि सकता !ा %क वह &िा! ह7 4
िसयािाम Kयो-Kयो 0;े ब\ता !ा, 0िेवाले संsाम के भय से उसकी
Tदय-;ित ब\ती $ाती !ी4 उसिे िि`य %कया-बििये िे Xी ि लG,ाया, तो
वह Xी वहीं (ो8कि चला 0ये;ा4 O< मािकि बििया 0प ही बुलाये;ा4
बििये को Hां,िे के िलD भी उसिे ?Aद सोच िलD4 वह कहे ;ा- Nयो साह

$ी,
0ं<ो मे 5ू ल Oोकते हो? %द<ाते हो चो<ा माल +ि +ि दे ते ही िvी माल?
पि यह िि`य कििे पि भी उसके प7ि 0;े बह

त 5ीिे -5ीिे उBते !े4 वह
यह ि चाहता !ा, बििया उसे 0ता ह

0 दे <े, वह &क=मात u ही उसके सामिे
पह

ं च $ािा चाहता !ा4 FसिलD वह चNकाि का,कि दसू िी ;ली से बििये
की दकू ाि पि ;या4
बििये िे उसे दे <ते ही कहा- हमिे कह %दया !ा %क हमे सGदा वापस
ि ले;े4 बोलो, कहा !ा %क िहीं4
िसयािाम िे >ब;8कि कहा- तुमिे वह Xी कहां %दया, $ो %द<ाया !ा?
%द<ाया Dक माल, %दया दसू िा माल, लG,ा6;े क7 से िहीं? Nया कु ( िाह$िी
ह7 ?
साह- Fससे चो<ा Xी बा$ाि मे ििकल 0ये तो $िीबािा दं4ू उBा लो हां8ी
+ि दो-चाि दकू ाि दे < 064
िसयािाम- हमे Fतिी #ु सतम िहीं ह7 4 &पिा Xी लG,ा लो4
साह- Xी ि लG,े ;ा4
बििये की दकु ाि पि Dक $,ा5ािी सा5ू ब7 Bा ह

0 यह तमा? दे <
िहा !ा4 उBकि िसयािाम के पास 0या +ि हां8ी का Xी सूंXकि बोला-
ब'चा, Xी तो बह

त &'(ा मालूम होता ह7 4
साह सिे ?ह पाकि कहा- बाबा$ी हम लो; तो 0प ही Fिको X%,या
माल िहीं दे ते4 <िाब माल Nया $ािे-सुिे sाहको को %दया $ाता ह7 ?
सा5ु- Xी ले $ाव ब'चा, बह

त &'(ा ह7 4
144
िसयािाम िो प8ा4 Xी को बु िा िसIा कििे के िलD उसके पास &ब
Nया पमा !ा? बोला- वही तो कहती हE , Xी &'(ा िहीं ह7 , लG,ा 064 मE
तो कहता !ा %क Xी &'(ा ह7 4
सा5ु- कGि कहता ह7 ?
साह- Fसकी &-मां कहती हो;ी4 को" सGदा उिके मि ही िहीं भाता4
बेचािे ल8के को बाि-बाि दG8ाया किती ह7 4 सGतेली मां ह7 ि! &पिी मां
हो तो कु ( _याल भी किे 4
सा5ु िे िसयिाम को सदय िेMो से दे <ा, मािो उसे Mा दे िे के िलD
उिका Tदय >वकल हो िहा ह7 4 तब क| =वि से बोले - तु-हािी माता का
=व;वम ास ह

D %कतिे %दि ह

D ब'च?
िसयािाम- (Bा साल ह7 4
सा5ु- ता तुम उस वy बह

त ही (ो,े िहे हो;े4 भ;ेवाि u तु-हािी लीला
%कतिी >विचM ह7 4 Fस द5ु मुंहे बालक को तुमिे मातu-पेम से वंिचत कि
%दया4 ब8ा &ि! म किते हो भ;वािu! (: साल का बालक +ि िा]सी >वमाता
के पािले प8े ! 5*य हो दयाििि5! साह$ी, बालक पि दया किो, Xी लG,ा लो,
िहीं तो Fसकी मात Fसे Xि मे िहिे ि दे ;ी4 भ;वाि की F'(ा से तु-हािा
Xी $Vद >बक $ाये;ा4 मेिा 0?ीवादम तु-हािे सा! िहे ;ां
साह$ी िे |पये वापस ि %कये4 0/<ि ल8के को %#ि Xी लेिे 0िा
ही प8े ;ा4 ि $ािे %दि मे %कतिी बाि चNकि ल;ािा प8े +ि %कस
$ािलये से पाला प8े 4 उसकी दकु ाि मे $ो Xी सबसे &'(ा !ा, वह िसयािाम
%दल से सोच िहा !ा, बाबा$ी %कतिे दयालु हE ? F*होिे िस#ािि? ि की होती,
तो साह$ी Nयो &'(ा Xी दे ते?
िसयािाम Xी लेकि चला, तो बाबा$ी भी उसके सा! ही िलये4 िा=ते मे
मीBC-मीBC बाते कििे ल;े4
‘ब'चा, मेिी माता भी मुOे तीि साल का (ो8कि पिलोक िस5ािी !ीं4
तभी से मात9->वहीि बालको को दे <ता ह

ं तो मेिा Tदय #,िे ल;ता हE 4w
िसयािाम िे पू (ा- 0पके >पता$ी िे भी तो दसू िा >ववाह कि िलया
!ा?
सा5ु- हां, ब'चा, िहीं तो 0$ सा5ु Nयो होता? पहले तो >पता$ी >ववाह
ि किते !े4 मुOे बह

त ^याि किते !े, %#ि ि $ािे Nयो मि बदल ;या,
>ववाह कि िलया4 सा5ु ह

ं , क,ु वचि मुंह से िहीं ििकालिा चा%हD, पि मेिी
145
>वमात /$तिी ही सु*दि !ीं, उतिी ही कBोि !ीं4 मुOे %दि-%दि-भि <ािे
को ि दे तीं, िोता तो माितीं4 >पता$ी की 0ं<े भी %#ि ;यीं4 उ*हे मेिी
सूित से X9 ा होिे ल;ी4 मेिा िोिा सुिकि मुOे पी,िे ल;ते4 &*त को मE
Dक %दि Xि से ििकल <8ा ह

04
िसयािाम के मि मे भी Xि से ििकल भा;िे का >वचाि क" बाि ह

0
!ा4 Fस समय भी उसके मि मे यही >वचाि उB िहा !ा4 ब8ी उPसुकता से
बोला-Xि से ििकलकि 0प कहां ;ये?
बाबा$ी िे हं सकि कहा- उसी %दि मेिे सािे कiो का &*त हो ;या
/$स %दि Xि के मोह-ब*5ि से (ू ,ा +ि भय मि से ििकला, उसी %दि
मािो मेिा उIाि हो ;या4 %दि भि मE Dक पुल के िीचे ब7 Bा िहा4 संYया
समय मुOे Dक महाPमा िमल ;ये4 उिका =वामी पिमाि*द$ी !ा4 वे बाल-
g€चािी !े4 मुO पि उ*होिे दया की +ि &पिे सा! ि< िलया4 उिके
सा! ि< िलया4 उिके सा! मE दे ?-दे ?ा*तिो मे Xूमिे ल;ा4 वह ब8े &'(े
यो;ी !े4 मुOे भी उ*होिे यो;->वnा िस<ा"4 &ब तो मेिे को Fतिा &~यास
हो ये;या ह7 %क $ब F'(ा होती ह7 , माता$ी के द?िम कि लेता ह

ं , उिसे बात
कि लेता ह

ं 4
िसयािाम िे >व=#ािित िेMो से दे <कि पू (ा- 0पकी माता का तो
दे हा*त हो चुका !ा?
सा5ु- तो Nया ह

0 ब'च, यो;->वnा मे वह ?>y ह7 %क /$स मत9 -
0Pम को चाहे , बुला ले4
िसयािाम- मE यो;->वnा सी< u लूं , तो मुOे भी माता$ी के द?िम हो;े?
सा5ु- &वcय, &~यास से सब कु ( हो सकता ह7 4 हां , योZय ;ु| चा%हD4
यो; से ब8ी-ब8ी िस%Iयां पाo हो सकती हE 4 /$तिा 5ि चाहो, पल-माM मे
मं;ा सकते हो4 क7 सी ही बीमािी हो, उसकी +@ि5 &ता सकते हो4
िसयािाम- 0पका =!ाि कहां ह7 ?
सा5ु- ब'चा, मेिे को =!ाि कहीं िहीं ह7 4 दे ?-दे ?ा*तिो से िमता
%#िता ह

ं 4 &'(ा, ब'चा &ब तुम $ा6, म74 $िा =िाि-Yययाि कििे
$ाWं ;ा4
िसयिाम- चिलD मE भी उसी ति# चलता ह

ं 4 0पके द?िम से $ी िहीं
भिा4
सा5ु- िहीं ब'चा, तु-हे पाB?ाला $ािे की दे िी हो िही ह7 4
146
िसयिाम- %#ि 0पके द?िम कब हो;े?
सा5ु- कभी 0 $ाWं ;ा ब'चा, तु-हािा Xि कहां ह7 ?
िसयािाम पस*ि होकि बोला- चिलD;ा मेिे Xि? बह

त ि$दीक ह7 4
0पकी ब8ी क9 पा हो;ी4
िसयािाम कदम ब\ाकि 0;े-0;े चलिे ल;ा4 Fतिा पस*ि !ा,
मािो सोिे की ;Bिी िलD $ाता हो4 Xि के सामिे पह

ं चकि बोला- 0FD,
ब7%BD कु ( दे ि4
सा5ु- िहीं ब'चा, ब7 Bूं ;ा िहीं4 %#ि कल-पिसो %कसी समय 0
$ाWं ;ा4 यही तु-हािा Xि ह7 ?
िसयािाम- कल %कस वy 0Fये;ा?
सा5ु- िि`य िहीं कह सकता4 %कसी समय 0 $ाWं ;ा4
सा5ु 0;े ब\े , तो !ो8ी ही दिू पि उ*हे Dक दसू िा सा5ु िमला4 उसका
िाम !ा हििहिाि*द4
पिमाि*द से पू(ा- कहां-कहां की स7ि की? को" ि?काि #ं सा?
हििहिाि*द- F5िा चािो ति# Xूम 0या, को" ि?काि ि िमलां Dका5
िमला भी, तो मेिी हं सी उ8ािे ल;ा4
पिमाि*द- मुOे तो Dक िमलता ह

0 $ाि प8ता ह7 ! #ं स $ाये तो
$ािूं4
हििहिाि*द- तुम यो ही कहा किते हो4 $ो 0ता ह7 , दो-Dक %दि के
बाद ििकल भा;ता ह7 4
पिमाि*द- &बकी ि भा;े;ा, दे < लेिा4 Fसकी मां मि ;यी ह7 4 बाप
िे दसू िा >ववाह कि िलया ह7 4 मां भी सताया किती ह7 4 Xि से Wबा ह

0 ह7 4
हििहिाि*द- <ूब &'(C तिह4 यही तिकीब सबसे &'(C ह7 4 पहले
Fसका पता ल;ा लेिा चा%हD %क मुहVले मे %कि-%कि Xिो मे >वमाताDं हE ?
उ*हीं Xिो मे #*दा Hालिा चा%हD4
बा "स
ििमलम ा िे >ब;8कि कहा- Fतिी दे ि कहां ल;ायी?
िसयािाम िे %SBा" से कहा- िा=ते मे Dक $;ह सो ;या !ा4
147
ििमलम ा- यह तो मE िहीं कहती, पि $ािते हो क7 ब$ ;ये हE ? दस कभी
के ब$ ;ये4 बा$ाि कु द दिू भी तो िहीं ह7 4
िसयािाम- कु ( दिू िहीं4 दिवा$े ही पि तो ह7 4
ििमलम ा- सी5े से Nयो िहीं बोलते? Jसा >ब;8 िहे हो, $7से मेिा ही को"
कामे कििे ;ये हो?
िसयािाम- तो 0प 3य! म की बकवास Nयो किती हE ? िलया सGदा
लG,ािा Nया 0साि काम ह7 ? बििये से Xं,ो ह

K$त कििी प8ी यह तो कहो,
Dक बाबा$ी िे कह-सुिकि #े िवा %दया, िहीं तो %कसी तिह ि #े िता4 िा=ते
मे कहीं Dक िमि, भी ि |का, सी5ा चला 0ता ह

ं 4
ििमलम ा- Xी के िलD ;ये-;ये, तो तुम Zयािह ब$े लG,े हो, लक8ी के
िलD $ा6;े, तो सांO ही कि दो;े4 तु-हािे बाबू $ी >बिा <ाये ही चले ;ये4
तु-हे Fतिी दे ि ल;ािी !ा, तो पहले ही Nयो ि कह %दया? $ाते ही लक8ी
के िलD4
िसयािाम &ब &पिे को संभाल ि सका4 OVलाकि बोला- लक8ी %कसी
+ि से मं;ाFD4 मुOे =कू ल $ािे को दे ि हो िही ह7 4
ििमलम ा- <ािा ि <ा6;े?
िसयािाम- ि <ाWं ;ा4
ििमलम ा- मE <ािा बिािे को त7याि ह

ं 4 हां, लक8ी लािे िहीं $ा सकती4
िसयािाम- भूं;ी को Nयो िहीं भे$ती?
ििमलम ा- भूं;ी का लाया सGदा तुमिे कभी दे <ा िहीं हE ?
िसयािाम- तो मE Fस वy ि $ाWं ;ा4
ििमलम ा- मुOे दो@ ि दे िा4
िसयािाम क" %दिो से =कू ल िहीं ;या !ा4 बा$ाि-हा, के मािे उसे
%कताबे दे <िे का समय ही ि िमलता !ा4 =कू ल $ाकि /O8%कयां <ाि, से
बेच पि <8े होिे या Wं ची ,ोपी दे िे के िसवा +ि Nया िमलता? वह Xि से
%कताबे लेकि चलता, पि ?हि के बाहि $ाकि %कसी व]9 की (ांह मे ब7 Bा
िहता या पV,िो की कवायद दे <ता4 तीि ब$े Xि से लG, 0ता4 0$ भी
वह Xि से चला, ले%कि ब7Bिे मे उसका $ी ि ल;ा, उस पि 0ंते &ल ;
$ल िही !ीं4 हा! &ब उसे िो%,यो के भी लाले प8 ;ये4 दस ब$े Nया <ािा
ि बि सकता !ा? मािा %क बाबू$ी चले ;ये !े4 Nया मेिे िलD Xि मे दो-
148
चाि प7से भी ि !े? &-मां होतीं, तो Fस तिह >बिा कु ( <ाये->पये 0िे
दे तीं? मेिा &ब को" िहीं िहा4
िसयािाम का मि बाबा$ी के द?िम के िलD 3याकु ल हो उBा4 उसिे
सोचा- Fस वy वह कहां िमले;े? कहां चलकि दे <ूं? उिकी मिोहि वाी,
उिकी उPसाहपद सा*Pविा, उसके मि को <ींचिे ल;ी4 उसिे 0तुि होकि
कहा- मE उिके सा! ही Nयो ि चला ;या? Xि पि मेिे िलD Nया ि<ा !ा?
वह 0$ यहां से चला तो Xि ि $ाकि सी5ा Xी वाले साह$ी की
दकु ाि पि ;या4 ?ायद बाबा$ी से वहां मुलाकात हो $ाये , पि वहां बाबा$ी
ि !े4 ब8ी दे ि तक <8ा-<8ा लG, 0या4
Xि 0कि ब7 Bा ही !ा %कस ििमलम ा िे 0कि कहा- 0$ दे ि कहां
ल;ा"? सवेिे <ािा िहीं बिा, Nया Fस वy भी उपवास हो;ा? $ाकि बा$ाि
से को" तिकािी ला64
िसयािाम िे OVलाकि कहा- %दिभि का भू<ा चला 0ता ह

ं ; कु ( पीिी
पीिे तक को ला" िहीं, Wपि से बा$ाि $ािे का ह

Nम दे %दया4 मE िहीं
$ाता बा$ाि, %कसी का िGकि िहीं ह

ं 4 0/<ि िो%,यां ही तो /<लाती हो या
+ि कु (? Jसी िो%,यां $हां मेहित क|ं ;ा, वहीं िमल $ाये;ी4 $ब म$ूिी ही
कििी ह7 , तो 0पकी ि क|ं ;ा, $ाFD मेिे िलD <ािा मत बिाFD;ा4
ििमलम ा &वाकu िह ;यी4 ल8के को 0$ Nया हो ;या? +ि %दि तो
चुपके से $ाकि काम कि लाता !ा, 0$ Nयो Pयोिियां बदल िहा ह7 ? &ब
भी उसको यह ि सूOी %क िसयािाम को दो-चाि प7 से कु ( <ािे के दे दे 4
उसका =वभाव Fतिा क9 प हो ;या !ा, बोली- Xि का काम कििा तो म$ू िी
िहीं कहलाती4 Fसी तिह मE भी कह दं ू %क मE <ािा िहीं पकाती , तु-हािे
बाबू $ी कह दे %क कचहिी िहीं $ाता, तो Nया हो बता6? िहीं $ािा चाहते,
तो मत $ा6, भूं;ी से मं;ा लूं;ी4 मE Nया $ािती !ी %क तु-हे बा$ाि $ािा
बुिा ल;ता ह7 , िहीं तो बला से 5ेले की ची$ प7से मे 0ती, तु-हे ि भे$ती4
लो, 0$ से काि पक8ती ह

ं 4
िसयािाम %दल मे कु ( ल/K$त तो ह

0, पि बा$ाि ि ;या4 उसका
Yयाि बाबा$ी की 6ि ल;ा ह

0 !ा4 &पिे सािे द<ु ो का &*त +ि $ीवि
की सािी 0?ाDं उसे &ब बाबा$ी क 0?ीवादम मे मालूम होती !ीं4 उ*हीं की
?ि $ाकि उसका यह 05ािहीि $ीवि सा!कम हो;ा4 सूया=म त के समय
वह &5ीि हो ;या4 सािा बा$ाि (ाि मािा, ले%कि बाबा$ी का कहीं पता ि
149
िमला4 %दिभि का भू<-^यासा, वह &बो5 बालक द<ु ते ह

D %दल को हा!ो से
दबाये, 0?ा +ि भय की मूित म बिा, दकु ािो, ;ािलयो +ि म/*दिो मे उस
01मे को <ो$ता %#िता !ा, /$सके >बिा उसे &पिा $ीवि द=ु सह हो िहा
!ा4 Dक बाि म/*दि के सामिे उसे को" सा5ु <8ा %द<ा" %दया4 उसिे
समOा वही हE 4 ह@ŽVलास से वह #ू ल उBा4 दG8ा +ि सा5ु के पास <8ा हो
;या4 पि यह को" +ि ही महाPमा !े4 िििा? हो कि 0;े ब\ ;या4
5ािे -5ीिे स8को पि स*िा,ा दा ;या, Xिो के Iािा ब*द होिे ल;े4
स8क की प,िियो पि +ि ;िलयो मे बंस<,े या बोिे >ब(ा->ब(ाकि भाित
की प$ा सु<-िि.ा मे मZि होिे ल;ी, ले%कि िसयािाम Xि ि लG,ा4 उस
Xि से उसक %दल #, ;या !ा, $हां %कसी को उससे पेम ि !ा, $हां वह
%कसी पिाि1त की भांित प8ा ह

0 !ा, के वल FसीिलD %क उसे +ि कहीं
?ि ि !ी4 Fस वy भी उसके Xि ि $ािे को %कसे िच*ता हो;ी? बाबू $ी
भो$ि किके ले,े हो;े, &-मां$ी भी 0िाम कििे $ा िही हो;ी4 %कसी िे
मेिे कमिे की 6ि Oांककि दे <ा भी ि हो;ा4 हां, बु0$ी Xबिा िही हो;ी,
वह &भी तक मेिी िाह दे <ती हो;ी4 $ब तक मE ि $ाWं ;ा, भो$ि ि
किे ;ी4
|/Nमी की याद 0ते ही िसयािाम Xि की 6ि चल %दया4 वह
&;ि +ि कु ( ि कि सकती !ी, तो कम-से-कम उसे ;ोद मे िचम,ाकि
िोती !ी? उसके बाहि से 0िे पि हा!-मुंह 5ोिे के िलD पािी तो ि< दे ती
!ीं4 संसाि मे सभी बालक द5ू की कु /Vलयो िहीं किते, सभी सोिे के कGि
िहीं <ाते4 %कतिो के पे, भि भो$ि भी िहीं िमलता; पि Xि से >विy वही
होते हE , $ो मात9-=िेह से वं िचत हE 4
िसयािाम Xि की 6ि चला ही %क सहसा बाबा पिमाि*द Dक ;ली
से 0ते %द<ायी %दये4
िसयािाम िे $ाकि उिका हा! पक8 िलया4 पिमाि*द िे चfककि
पू(ा- ब'चा, तुम यहां कहां ?
िसयािाम िे बात बिाकि कहा- Dक दो=त से िमलिे 0या !ा4
0पका =!ाि यहां से %कतिी दिू ह7 ?
पिमाि*द- हम लो; तो 0$ यहां से $ा िहे हE , ब'चा, हििIाि की
याMा ह7 4
िसयािाम िे हतोPसाह होकि कहा- Nया 0$ ही चले $ाFD;ा?
150
पिमाि*द- हां ब'चा, &ब लG,कि 0Wं ;ा, तो द?िम दं;ू ा?
िसयािाम िे कात कं B से कहा- मE भी 0पके सा! चलूं;ा4
पिमाि*द- मेिे सा!! तु-हािे Xि के लो; $ािे दे ;े?
िसयािाम- Xि के लो;ो को मेिी Nया पिवाह ह7 ? Fसके 0;े िसयािाम
+ि कु ( सि कह सका4 उसके &1ु-पू िित िेMो िे उसकी क|ा
-;ा!ा उससे कहीं >व=ताि के सा! सुिा दी, /$तिी उसकी वाी कि सकती
!ी4
पिमाि*द िे बालक को कं B से ल;ाकि कहा- &'(ा ब'च, तेिी F'(ा
हो तो चल4 सा5ु-स*तो की सं;ित का 0ि*द उBा4 भ;वाि u की F'(ा
हो;ी, तो तेिी F'(ा पूिी हो;ी4
दािे पि म[Hिाता ह

0 प]ी &*त मे दािे पि ि;ि प8ा4 उसके $ीवि
का &*त >पं $िे मे हो;ा या 3या5 की (ु िी के तले- यह कGि $ािता ह7 ?
ते "स
?ी$ी पांच ब$े कचहिी से लG,े +ि &*दि 0कि चािपा" पि ि;ि
प8े 4 बु\ापे की दे ह, उस पि 0$ सािे %दि भो$ि ि िमला4 मुंह सू<
;या4 ििमलम ा समO ;यी, 0$ %दि <ाली ;यां ििमलम ा िे पू (ा- 0$ कु (
ि िमला4
मुं
मुं?ी$ी- सािा %दि दG8ते ;ु$िा, पि हा! कु ( ि ल;ा4
ििमलम ा- #G$दािी वाले मामले मे Nया ह

0?
मुं?ी$ी- मेिे मुव/Nकल को स$ा हो ;यी4
ििमलम ा- पं%Hत वाले मुकदमे मे?
मुं?ी$ी- पं %Hत पि %Hsी हो ;यी4
ििमलम ा- 0प तो कहते !े, दावा <िि$ हो $ाये;ा4
मुं?ी$ी- कहता तो !ा, +ि $ब भी कहता ह

ं %क दावा <ािि$ हो
$ािा चा%हD !ा, म;ि उतिा िसि म;$ि कGि किे ?
ििमलम ा- +ि सीिवाले दावे मे?
मुं?ी$ी- उसमे भी हाि हो ;यी4
ििमलम ा- तो 0$ 0प %कसी &भा;े का मुंह दे <कि उBे !े4
151
मुं?ी$ी से &ब काम >बलकु ल ि हो सकता !ां Dक तो उसके पास
मुकदमे 0ते ही ि !े +ि $ो 0ते भी !े , वह >ब;8 $ाते !े4 म;ि &पिी
&स#लता6ं को वह ििमलम ा से ि(पाते िहते !े4 /$स %दि कु ( हा! ि
ल;ता, उस %दि %कसी से दो-चाि |पये उ5ाि लाकि ििमलम ा को दे ते , पाय:
सभी िमMो से कु (-ि-कु ( ले चु के !े4 0$ वह HGल भी ि ल;ा4
ििमलम ा िे िच*तापू म =वि मे कहा- 0मदिी का यह हाल ह7 , तो "cQि
ही मािलक ह7 , उसक पि बे,े का यह हाल ह7 %क बा$ाि $ािा मु/cकल ह7 4
भूं;ी ही से सब काम किािे को $ी चाहता ह7 4 Xी लेकि Zयािह ब$े लG,ा4
%कतिा कहकि हाि ;यी %क लक8ी लेते 06, पि सुिा ही िहीं4
मुं?ी$ी- तो <ािा िहीं पकाया?
ििमलम ा- Jसी ही बातो से तो 0प मु कदमे हािते हE 4 Œ5ि के >बिा
%कसी िे <ािा बिाया ह7 %क मE ही बिा लेती?
मुं?ी$ी- तो >बिा कु ( <ाये ही चला ;या4
ििमलम ा- Xि मे +ि Nया ि<ा !ा $ो /<ला दे ती?
मुं?ी$ी िे Hिते-Hिते कहका- कु ( प7से-व7से ि दे %दये?
ििमलम ा िे भfहे िसको8कि कहा- Xि मे प7से #लते हE ि?
मुं?ी$ी िे कु ( $वाब ि %दया4 $िा दे ि तक तो पती]ा किते िहे %क
?ायद $लपाि के िलD कु ( िमले;ा, ले%कि $ब ििमलम ा िे पािी तक ि
मं;वाय, तो बेचािे िििा? होकि चले ;ये4 िसयािाम के कi का &िुमाि
किके उिका िच2 चचं ल हो उBा4 Dक बाि भूं;ी ही से लक8ी मं;ा ली
$ाती, तो Jसा Nया िुकसाि हो $ाता? Jसी %क#ायत भी %कस काम की %क
Xि के 0दमी भू<े िह $ाये4 &पिा संदकू चा <ोलकि ,,ोलिे ल;े %क
?ायद दो-चाि 0िे प7से िमल $ाये4 उसके &*दि के सािे का;$ ििकाल
Hाले, Dक-Dक, <ािा दे <ा, िीचे हा! Hालकि दे <ा पि कु ( ि िमला4 &;ि
ििमलम ा के स*दकू मे प7से ि #लते !े, तो Fस स*दकू चे मे ?ायद Fसके #ू ल
भी ि ल;ते हो, ले%कि संयो; ही क%हD %क का;$ो को OाH™ते ह

D Dक
चव*िी ि;ि प8ी4 मािे ह@ म के मुं?ी$ी उ(ल प8े 4 ब8ी-ब8ी िकमे Fसके
पहले कमा चु के !े, पि यह चव*िी पाकि Fस समय उ*हे /$तिा 0šाद


0, उिका पहले कभी ि ह

0 !ा4 चव*िी हा! मे िलD ह

D िसयािाम के
कमिे के सामिे 0कि पुकािा4 को" $वाब ि िमला4 तब कमिे मे $ाकि
दे <ा4 िसयािाम का कहीं पता िहीं- Nया &भी =कू ल से िहीं लG,ा? मि मे
152
यह प† उBते ही मुं?ी$ी िे &*दि $ाकि भूं;ी से पू (ा4 मालूम ह

0 =कू ल
से लG, 0ये4
मुं?ी$ी िे पू(ा- कु ( पािी >पया ह7 ?
भूं;ी िे कु ( $वाब ि %दया4 िाक िसको8कि मुंह #े िे ह

D चली ;यी4
मुं?ी$ी &%ह=ता-0%ह=ता 0कि &पिे कमिे मे ब7B ;ये4 0$ पहली
बाि उ*हे ििमलr ा पि pो5 0या, ले%कि Dक ही ] pो5 का 0Xात &पिे
Wपि होिे ल;ा4 उस &ं5ेिे कमेिे मे #? म पि ले,े ह

D वह &पिे पुM की 6ि
से Fतिा उदासीि हो $ािे पि ि5Nकाििे ल;े4 %दि भि के !के !े4 !ो8ी
ही दे ि मे उ*हे िींद 0 ;यी4
भूं;ी िे 0कि पुकािा- बाबू $ी, िसो" त7याि ह7 4
मुं?ी$ी चfककि उB ब7Bे 4 कमिे मे ल7-प $ल िहा !ा पू (ा- क7 ब$
;ये भूं;ी? मुOे तो िींद 0 ;यी !ी4
भूं;ी िे कहा- कोतवाली के X[,े मे िG ब$ ;ये हE +ि हम िाहीं
$ािित4
मुं?ी$ी- िसया बाबू 0ये?
भूं;ी- 0ये हो;े, तो Xि ही मे ि हो;े4
मुं?ी$ी िे OVलाकि पू (ा- मE पू (ता ह

ं , 0ये %क िहीं? +ि तू ि $ािे
Nया-Nया $वाब दे ती ह7 ? 0ये %क िहीं?
भूं;ी- मEिे तो िहीं दे <ा, OूB क7 से कह दं4ू
मुं?ी$ी %#ि ले, ;ये +ि बोले- उिको 0 $ािे दे , तब चलता ह

ं 4
05 Xं,े Iाि की 6ि 0ं< ल;ाD मुं?ी$ी ले,े िहे , तब वह उBकि
बाहि 0ये +ि दा%हिे हा! को" दो #ला;• तक चले4 तब लG,कि Iाि पि
0ये +ि पू (ा- िसया बाबू 0 ;ये?
&*दि से 0वा$ 0यी- &भी िहीं4
मुं?ी$ी %#ि बायीं 6ि चले +ि ;ली के िु Nक8 तक ;ये4 िसयािाम
कहीं %द<ा" ि %दया4 वहां से %#ि Xि 0ये +ि Iािा पि <8े होकि पू(ा-
िसया बाबू 0 ;ये?
&*दि से $वाब िमला- िहीं4
कोतवाली के Xं,े मे दस ब$िे ल;े4
मुं?ी$ी ब8े वे; से क-पिी बा; की ति# चले4 सोचि ल;े , ?ायद
वहां Xूमिे ;या हो +ि Xास पि ले,े -ले, िींद 0 ;यी हो4 बा; मे
153
पह

ं चकि उ*होिे हिे क बेच को दे <ा, चािो ति# Xूमे, बह

ते से 0दमी Xास
पि प8े ह

D !े, पि िसयािाम का िि?ाि ि !ा4 उ*होिे िसयािाम का िाम
लेकि $ोि से पु कािा, पि कहीं से 0वा$ ि 0यी4
_याल 0या ?ायद =कू ल मे तमा?ा हो िहा हो4 =कू ल Dक मील से
कु ( Kयादा ही !ा4 =कू ल की ति# चले, पि 05े िा=ते से ही लG, प8े 4
बा$ाि ब*द हो ;या !ा4 =कू ल मे Fतिी िात तक तमा?ा िहीं हो सकता4
&ब भी उ*हे 0?ा हो िही !ी %क िसयािाम लG, 0या हो;ा4 Iाि पि
0कि उ*होिे पु कािा- िसया बाबू 0ये? %कवा8 ब*द !े4 को" 0वा$ ि
0यी4 %#ि $ोि से पु कािा4 भूं;ी %कवा8 <ोलकि बोली- &भी तो िहीं 0ये4
मुं?ी$ी िे 5ीिे से भूं;ी को &पिे पास बुलाया +ि क| =वि मे बोले- तू
ता Xि की सब बाते $ािती ह7 , बता 0$ Nया ह

0 !ा?
भूं;ी- बाबू $ी, OूB ि बोलूं;ी, माल%कि (ु 8ा दे ;ी +ि Nया? दसू िे का
ल8का Fस तिह िहीं ि<ा $ाता4 $हां को" काम ह

0, बस बा$ाि भे$
%दया4 %दि भि बा$ाि दG8ते बीतता !ा4 0$ लक8ी लािे ि ;ये , तो चूVहा
ही िहीं $ला4 कहो तो मुंह #ु लावे4 $ब 0प ही िहीं दे <ते , तो दसू िा कGि
दे <े;ा? चिलD, भो$ि कि ली/$D, बह

$ी कब से ब7BC ह7 4
मुं?ी$ी- कह दे , Fस वy िहीं <ाये;े4
मुं?ी$ी %#ि &पिे कमेिे मे चले ;ये +ि Dक ल-बी सांस ली4 वेदिा
से भिे ह

D ये ?Aद उिके मुंह से ििकल प8े - "Qि, Nया &भी द[H पू िा िहीं


0? Nया Fस &ं5े की लक8ी को हा! से (Cि लो;े?
ििमलम ा िे 0कि कहा- 0$ िसयािाम &भी तक िहीं 0ये4 कहती
िही %क <ािा बिाये दे ती ह

ं , <ा लो म;ि सि $ािे कब उBकि चल %दये!
ि $ािे कहां Xूम िहे हE 4 बात तो सुिते ही िहीं4 कब तक उिकी िाह दे <ा
क|! 0प चलकि <ा ली/$D, उिके िलD <ािा उBाकि ि< दं;ू ी4
मुं?ी$ी िे ििमलम ा की 6ि कBािे िेMो से दे <कि कहा- &भी क7 ब$े
हो;े?
ििमलम - Nया $ािे, दस ब$े हो;े4
मुं?ी$ी- $ी िहीं, बािह ब$े हE 4
ििमलम ा- बािह ब$ ;ये? Fतिी दे ि तो कभी ि किते !े4 तो कब तक
उिकी िाह दे <ो;े! दोपहि को भी कु ( िहीं <ाया !ा4 Jसा स7लािी ल8का
मEिे िहीं दे <ा4
154
मुं?ी$ी- $ी तु-हे %दक किता ह7 , Nयो?
ििमलम ा- दे /<ये ि, Fतिा िात ;यी +ि Xि की सु5 ही िहीं4
मुं?ी$ी- ?ायद यह 0/<िी ?िाित हो4
ििमलम ा- क7 सी बाते मुं ह से ििकालते हE ? $ाये;े कहां? %कसी याि-दो=त
के यहां प8 िहे हो;े4
मुं?ी$ी- ?ायद Jसी ही हो4 "Qि किे Jसा ही हो4
ििमलम ा- सबेिे 0वे, तो $िा त-बीह की/$D;ा4
मुं?ी$ी- <ू ब &'(C तिह क|ं ;ा4
ििमलम ा- चिलD, <ा ली/$D, दिू बह

त ह

"4
मुं?ी$ी- सबेिे उसकी त-बीह किके <ाWं ;ा, कहीं ि 0या, तो तु-हे
Jसा "मािदाि िGकि कहां िमले;ा?
ििमलम ा िे Jं Bकि कहा- तो Nया मEिे भा;ा %दया?
मुं?ी$ी- िहीं, यह कGि कहता ह7 ? तुम उसे Nयो भ;ािे ल;ीं4 तु-हािा
तो काम किता !ा, ?ामत 0 ;यी हो;ी4
ििमलम ा िे +ि कु ( िहीं कहा4 बात ब\ $ािे का भय !ा4 भीति
चली 0यीय4 सोिे को भी ि कहा4 $िा दे ि मे भूं ;ी िे &*दि से %कवा8
भी ब*द कि %दये4
Nया मुं?ी$ी को िींद 0 सकती !ी? तीि ल8को मे के वल Dक बच
िहा !ा4 वह भी हा! से ििकल ;या, तो %#ि $ीवि मे &ं 5काि के िसवाय
+ि ह7 ? को" िाम लेिेवाल भी िहीं िहे ;ा4 हा! क7 से-क7 से ि} हा! से ििकल
;ये? मुं?ी$ी की 0ं <ो से &15ु ािा बह िही !ी, तो को" 0`य म ह7 ? उस
3यापक प`ाताप, उस सXि Zलािि-ितिमि मे 0?ा की Dक हVकी-सी िे <ा
उ*हे संभाले ह

D !ी4 /$स ] वह िे <ा लुo हो $ाये;ी, कGि कह सकता
ह7 , उि पि Nया बीते;ी? उिकी उस वेदिा की कVपिा कGि कि सकता ह7 ?
क" बाि मुं?ी$ी की 0ं<े Oपकीं , ले%कि हि बाि िसयािाम की 0ह,
के 5ो<े मे चfक प8े 4
सबेिा होते ही मुं?ी$ी %#ि िसयािाम को <ो$िे ििकले4 %कसी से
पू(ते ?म म 0ती !ी4 %कस मुंह से पू(े ? उ*हे %कसी से सहािुभूित की 0?ा
ि !ी4 पक, ि कहकि मि मे सब यही कहे ;े, $7सा %कया, व7सा भो;ो! सािे
दिि वह =कू ल के म7दािो, बा$ािो +ि ब;ीचो का चNकि ल;ाते िहे , दो %दि
िििाहाि िहिे पि भी उ*हे Fतिी ?>y क7 से ह

", यह वही $ािे4
155
िात के बािह ब$े मुं?ी$ी Xि लG,े , दिवा$े पि लाल,े ि $ल िही !ी,
ििमलम ा Iाि पि <8ी !ी4 दे <ते ही बोली- कहा भी िहीं, ि $ािे कब चल
%दये4 कु ( पता चला?
मुं?ी$ी िे 0Zिेय िेMो से ताकते ह

D कहा- ह, $ा6 सामिे से, िहीं
तो बुिा हो;ा4 मE 0पे मे िहीं ह

ं 4 यह तु-हािी कििी ह7 4 तु-हािे ही काि
0$ मेिी यह द?ा हो िही ह7 4 0$ से (: साल पहले Nया Fस Xि की यह
द?ा !ी? तुमिे मेिा बिा-बिाया Xि >ब;ा8 %दया, तुमिे मेिे लहलहाते बा;
को उ$ा8 Hाला4 के वल Dक Bूं B िह ;या ह7 4 उसका िि?ाि िम,ाकि तभी
तु-हे स*तो@ हो;ा4 मE &पिा सविम ा? कििे के िलD तु-हे Xि िहीं $ाया
!ा4 सु<ी $ीवि को +ि भी सु<मय बिािा चाहता !ा4 यह उसी का
पाय/`त ह7 4 $ो ल8के पाि की तिह #े िे $ाते !े, उ*हे मेिे $ीते-$ी तुमिे
चाकि समO िलया +ि मE 0ं<ो से सब कु ( दे <ते ह

D भी &ं 5ा बिा ब7 Bा
िहा4 $ा6, मेिे िलD !ो8ा-सा सं/<या भे$ दो4 बस, यही कसि िह ;यी ह7 ,
वह भी पूिी हो $ाये4
ििमलम ा िे िोते ह

D कहा- मE तो &भाि;ि ह

ं ही, 0प कहे ;े तब
$ािूं;ी? िे $ािे "Qि िे मुOे $*म Nयो %दया !ा? म;ि यह 0पिे क7 से
समO िलया %क िसयािाम 0वे;े ही िहीं?
मुं?ी$ी िे &पिे कमिे की 6ि $ाते ह

D कहा- $ला6 मत $ाकि
<ुि?यां मिा64 तु-हािी मिोकामिा पूिी हो ;यी4
ििमलम ा सािी िात िोती िही4 Fतिा कलंक! उसिे /$यािाम को ;हिे
ले $ाते दे <िे पि भी मुं ह <ोलिे का साहस िहीं %कया4 Nयो? FसीिलD तो
%क लो; समOे;े %क यह िम‹या दो@ािोप किके ल8के से व7ि सा5 िही हE 4
0$ उसके मGि िहिे पि उसे &पिाि5िी Bहिाया $ा िहा ह7 4 य%द वह
/$यािाम को उसी ] िोक दे ती +ि /$यािाम लK$ाव? कहीं भा; $ाता,
तो Nया उसके िसि &पिा5 ि म\ा $ाता?
िसयािाम ही के सा! उसिे कGि-सा द3ु यवम हाि %कया !ा4 वह कु (
बचत कििे के िलD ही >वचाि से तो िसयािाम से सGदा मं;वाया किती !ी4
Nया वह बचत किके &पिे िलD ;हिे ;\वािा चाहती !ी? $ब 0मदिी की
यह हाल हो िहा !ा तो प7से-प7से पि िि;ाह ि<िे के िसवाय कु ( $मा
कििे का उसके पास +ि सा5ाि ही Nया !ा? $वािो की /$*द;ी का तो
को" भिोसा हीं िहीं, बू\ो की /$*द;ी का Nया %Bकािा? ब'ची के >ववाह के
156
िलD वह %कसके सामिे हा! #7 लती? ब'ची का भाि कु द उसी पि तो िहीं
!ा4 वह के वल पित की सु>व5ा ही के िलD कु ( ब,ोििे का पय} कि िही
!ी4 पित ही की Nयो? िसयािाम ही तो >पता के बाद Xि का =वामी होता4
ब%हि के >ववाह कििे का भाि Nया उसके िसि पि ि प8ता? ििमलम ा सािी
कति- 3योत पित +ि पुM का संक,-मोचि कििे ही के िलD कि िही !ी4
ब'ची का >ववाह Fस पिि/=!ित मे सकं , के िसवा +ि Nया !ा? पि Fसके
िलD भी उसके भाZय मे &पय? ही बदा !ा4
दोपहि हो ;यी, पि 0$ भी चूVहा िहीं $ला4 <ािा भी $ीवि का
काम ह7 , Fसकी %कसी को सु5 ही ि!ी4 मुं?ी$ी बाहि बे$ाि-से प8े !े +ि
ििमलम ा भीति !ी4 ब'ची कभी भीति $ाती, कभी बाहि4 को" उससे बोलिे
वाला ि !ा4 बाि-बाि िसयािाम के कमिे के Iाि पि $ाकि <8ी होती +ि
mब7या-ब7याw पुकािती, पि mब7याw को" $वाब ि दे ता !ा4
संYया समय मुं?ी$ी 0कि ििमलम ा से बोले - तु-हािे पास कु ( |पये
हE ?
ििमलम ा िे चfककि पू(ा- Nया की/$D;ा4
मुं?ी$ी- मE $ो पू (ता ह

ं , उसका $वाब दो4
ििमलम ा- Nया 0पको िहीं मालूम ह7 ? दे िेवाले तो 0प ही हE 4
मुं?ी$ी- तु-हािे पास कु ( |पये हE या िहीं &;ेि हो, तो मुOे दे दो, ि
हो तो सा# $वाब दो4
ििमलम ा िे &ब भी सा# $वाब ि %दया4 बोली- हो;े तो Xि ही मे ि
हो;े4 मEिे कहीं +ि िहीं भे$ %दये4
मुं?ी$ी बाहि चले ;ये4 वह $ािते !े %क ििमलम ा के पास |पये हE ,
वा=तव मे !े भी4 ििमलम ा िे यह भी िहीं कहा %क िही हE या मE ि दं;ू ी, उि
उसकी बातो से पक, हो य;या %क वह दे िा िहीं चाहती4
िG ब$े िात तो मुं?ी$ी िे 0कि |/Nमी से काह- बहि, मE $िा
बाहि $ा िहा ह

ं 4 मेिा >ब=ति भूं;ी से बं 5वा दे िा +ि •ं क मे कु ( कप8े
ि<वाकि ब*द कि दे िा 4
|/Nमी भो$ि बिा िही !ीं4 बोलीं- बह

तो कमेिे मे ह7 , कह Nयो िही
दे ते? कहां $ािे का Fिादा ह7 ?
मुं?ी$ी- मE तुमसे कहता ह

ं , बह

से कहिा होता, तो तुमसे Nयो कहाता?
0$ तुमे Nयो <ािा पका िही हो?
157
|/Nमी- कGि पकावे? बह

के िसि मे ददम हो िहा ह7 4 0/<िFस वy
कहां $ा िहे हो? सबेिे ि चले $ािा4
मुं?ी$ी- Fसी तिह ,ालते-,ालते तो 0$ तीि %दि हो ;ये4 F5ि-F5ि
Xूम-Xामकि दे <ूं, ?ायद कहीं िसयािाम का पता िमल $ाये4 कु ( लो; कहते
हE %क Dक सा5ु के सा! बाते कि िहा !ा4 ?ायद वह कहीं बहका ले ;या
हो4
|/Nमी- तो लG,ो;े कब तक?
मुं?ी$ी- कह िहीं सकता4 हkता भि ल; $ाये महीिा भि ल; $ाये4
Nया %Bकािा ह7 ?
|/Nमी- 0$ कGि %दि ह7 ? %कसी पं%Hत से पू ( िलया ह7 %क िहीं?
मुं?ी$ी भो$ि कििे ब7Bे 4 ििमलम ा को Fस वy उि पि ब8ी दया
0यी4 उसका सािा pो5 ?ा*त हो ;या4 <ुद तो ि बोली, ब'ची को $;ाकि
चुमकािती ह

" बोली- दे <, तेिे बाबू$ी कहां $ो िहे हE ? पू( तो?
ब'ची िे Iाि से Oांककि पू(ा- बाबू दी, तहां दाते हो?
मुं?ी$ी- ब8ी दिू $ाता ह

ं बे,ी, तु-हािे भ7या को <ो$िे $ाता ह

ं 4
ब'ची िे वहीं से <8े -<8े कहा- &म बी तले;े4
मुं?ी$ी- ब8ी दिू $ाते हE ब'ची, तु-हािे वा=ते ची$े लाये;े4 यहां Nयो
िहीं 0ती?
ब'ची मु=किाकि ि(प ;यी +ि Dक ] मे %#ि %कवा8 से िसि
ििकालकि बोली- &म बी तले;े4
मुं?ी$ी िे उसी =वि मे कहा- तुमको िहम ले तले;े4
ब'ची- हमको Nयो ि" ले तलो;े?
मुं?ी$ी- तुम तो हमािे पास 0ती िहीं हो4
ल8की Bु मकती ह

" 0कि >पता की ;ोद मे ब7 B ;यी4 !ो8ी दे ि के
िलD मुं?ी$ी उसकी बाल-pी8ा मे &पिी &*तवदr िा भूल ;ये4
भो$ि किके मुं?ी$ी बाहि चले ;ये4 ििमलम ा <Hे ™ी ताकती िही4
कहिा चाहती !ी- 3य! म $ो िहे हो, पि कह ि सकती !ी4 कु ( |पये ििकाल
कि दे िे का >वचाि किती !ी, पि दे ि सकती !ी4
&ंत को ि िहा ;या, |/Nमी से बोली- दीदी$ी $िा समOा दी/$D,
कहां $ा िहे हE ! मेिी $बाि पक8ी $ाये;ी, पि >बिा बोले िहा िहीं $ाता4
>बिा %Bकािे कहां <ो$े;े? 3य! म की ह7 िािी हो;ी4
158
|/Nमी िे क|ा-सूचक िेMो से दे <ा +ि &पिे कमिे मे चली ;Œ4
ििमलम ा ब'ची को ;ोद मे िलD सोच िही !ी %क ?ायद $ािे के पहले
ब'ची को दे <िे या मुOसे िमलिे के िलD 0वे , पि उसकी 0?ा >व#ल हो
;"? मुं?ी$ी िे >ब=ति उBाया +ि तां;े पि $ा ब7 Bे 4
उसी वy ििमलम ा का कले$ा मसोसिे ल;ा4 उसे Jसा $ाि प8ा %क
Fिसे भे, ि हो;ी4 वह &5ीि होकि Iाि पि 0" %क मुं?ी$ी को िोक ले,
पि तां;ा चल चु का !ा4
प' चीस
ि ि ;ु $ििे ल;े4 Dक महीिा पू िा ििकल ;या, ले%कि मुं?ी$ी ि
लG,े 4 को" <त भी ि भे$ा4 ििमलम ा को &ब ििPय यही िच*ता बिी
िहती %क वह लG,कि ि 0ये तो Nया हो;ा? उसे Fसकी िच*ता ि होती !ी
%क उि पि Nया बीत िही हो;ी, वह कहां मािे -मािे %#िते हो;े, =वा=‹य क7 सा
हो;ा? उसे के वल &पिी +िं उससे भी ब\कि ब'ची की िच*ता !ी4 ;ह9 =!ी
का ििवाहम क7 से हो;ा? "Qि क7 से बे8ा पाि ल;ाये;े? ब'ची का Nया हाल
हो;ा? उसिे कति-3योत किके $ो |पये $मा कि ि<े !े , उसमे कु (-ि-कु (
िो$ ही कमी होती $ाती !ी4 ििमलम ा को उसमे से Dक-Dक प7सा ििकालते
Fतिी &<ि होती !ी, मािो को" उसकी दे ह से िy ििकाल िहा हो4
OुंOलाकि मुं?ी$ी को कोसती4 ल8की %कसी ची$ के िलD िोती, तो उसे
&भाि;ि, कलमुंही कहकि OVलाती4 यही िहीं, |/Nमी का Xि मे िहिा उसे
Jसा $ाि प8ता !ा, मािो वह ;दम ि पि सवाि ह7 4 $ब Tदय $लता ह7 , तो
वाी भी &/Zिमय हो $ाती ह7 4 ििमलम ा ब8ी म5ुि-भा>@ी jी !ी, पि &ब
उसकी ;िा ककम ?ा6 मे की $ा सकती !ी4 %दि भि उसके मु< से $ली-
क,ी बाते ििकला किती !ीं4 उसके ?Aदो की कोमलता ि $ािे Nया हो
;"! भावो मे मा5ु य म का कहीं िाम िहीं4 भूं;ी बह

त %दिो से Fस Xि मे
िGकि !ी4 =वभाव की सहि?ील !ी, पि यह 0Bो पहहि की बकबक उससे
भी ि सकी ;"4 Dक %दि उसिे भी Xि की िाह ली4 यहां तक %क /$स
ब'ची को पाो से भी &ि5क ^याि किती !ी, उसकी सूित से भी X9 ा हो
;"4 बात-बात पि Xु 8क प8ती, कभी-कभी माि ब7Bती4 |/Nमी िो" ह

"
%द
159
बािलका को ;ोद मे ब7Bा लेती +ि चुमकाि-दलु ाि कि चु प किातीं4 उस
&िा! के िलD &ब यही Dक 01य िह ;या !ा4
ििमलr ा को &ब &;ि कु ( &'(ा ल;ता !ा, तो वह सु5ा से बात
कििा !ा4 वह वहां $ािे का &वसि <ो$ती िहती !ी4 ब'ची को &ब वह
&पिे सा! ि ले $ािा चाहती !ी4 पहले $ब ब'ची को &पिे Xि सभी
ची$े <ािे को िमलती !ीं, तो वह वहां $ाकि हं सती-<ेलती !ी4 &ब वहीं
$ाकि उसे भू< ल;ती !ी4 ििमलम ा उसे Xूि-Xू िकि दे <ती, मु%,Bयां-बां5कि
5मकाती, पि ल8की भू< की ि, ल;ािा ि (ो8ती !ी4 FसिलD ििमलम ा उसे
सा! ि ले $ाती !ी4 सु5ा के पास ब7Bकि उसे मालूम होता !ा %क मE
0दमी ह

ं 4 उतिी दे ि के िलD वह िचंता0ं से मुy हो $ाती !ी4 $7 से ?िाबी
?िाब के ि?े मे सािी िच*ताDं भूल $ाता ह7 , उसी तिह ििमलम ा सु5ा के Xि
$ाकि सािी बाते भूल $ाती !ी4 /$सिे उसे उसके Xि पि दे <ा हो, वह उसे
यहां दे <कि च%कत िह $ाता4 वहीं ककम ?ा, क,ु -भा>@ी jी यहां 0कि
हा=य>विोद +ि मा5ुय म की पुतली बि $ाती !ी4 यGवि-काल की =वाभा>वक
व>9 2यां &पिे Xि पि िा=ता ब*द पाकि यहां %कलोले कििे ल;ती !ीं4 यहां
0ते वy वह मां;-चो,ी, कप8े -ल2े से ल7स होकि 0ती +ि य!ासाYय
&पिी >वप>2 क!ा को मि ही मे ि<ती !ी4 वह यहां िोिे के िलD िहीं ,
हं सिे के िलD 0ती !ी4
पि कदािचत u उसके भाZय मे यह सु< भी िहीं बदा !ा4 ििमलम ा
मामली तGि से दोपहि को या तीसिे पहि से सु 5ा के Xि $ाया किती !ी4
Dक %दि उसका $ी Fतिा Wबा %क सबेिे ही $ा पह

ं ची4 सु5ा िदी =िाि
कििे ;" !ी, H‚N,ि साहब &=पताल $ािे के िलD कप8े पहि िहे !े4
महिी &पिे काम-5ं 5े मे ल;ी ह

" !ी4 ििमलम ा &पिी सहे ली के कमिे मे
$ाकि िि/`*त ब7B ;"4 उसिे समOा-सु5ा को" काम कि िही हो;ी, &भी
0ती हो;ी4 $ब ब7Bे दो-%दि िमि, ;ु $ि ;ये, तो उसिे &लमािी से त=वीिो
की Dक %कताब उताि ली +ि के ? <ोल पलं; पि ले,कि िचM दे <िे ल;ी4
Fसी बीच मे H‚N,ि साहब को %कसी $|ित से ििमलम ा के कमिे मे 0िा
प8ा4 &पिी Jिक Sूं Sते %#िते !े4 बे58क &*दि चले 0ये4 ििमलम ा Iाि
की 6ि के ? <ोले ले,ी ह

" !ी4 H‚N,ि साहब को दे <ते ही चfककाि उB
ब7BC +ि िसि Sांकती ह

" चािपा" से उतकि <8ी हो ;"4 H‚N,ि साहब िे
लG,ते ह

D िचक के पास <8े होकि कहा- ]मा कििा ििमलम ा, मुOे मालूम ि
160
!ा %क यहां हो! मेिी Jिक मेिे कमिे मे िहीं िमल िही ह7 , ि $ािे कहां
उताि कि ि< दी !ी4 मEिे समOा ?ायद यहां हो4
ििमलम ा सिे चािपा" के िसिहािे 0ले पि िि;ाह Hाली तो Jिक की
%H>बया %द<ा" दी4 उसिे 0;े ब\कि %H>बया उताि ली, +ि िसि Oुकाये,
दे ह समे,े , संकोच से H‚N,ि साहब की 6ि हा! ब\ाया4 H‚N,ि साबह िे
ििमलम ा को दो-Dक बाि पहले भी दे <ा !ा, पि Fस समय के -से भाव कभी
उसके मि मे ि 0ये !े4 /$स Kवा$ा को वह बिसो से Tदय मे दवाये ह

D
!े, वह 0$ पवि का Oोका पाकि दहक उBC4 उ*होिे Jिक लेिे के िलD
हा! ब\ाया, तो हा! कांप िहा !ा4 Jिक लेकि भी वह बाहि ि ;ये , वहीं
<ोD ह

D से <8े िहे 4 ििमलम ा िे Fस Dका*त से भयभीत होकि पू (ा- सु5ा
कहीं ;" ह7 Nया?
H‚N,ि साहब िे िसि Oुकाये ह

D $वाब %दया- हां , $िा =िाि कििे
चली ;" हE 4
%#ि भी H‚N,ि साहब बाहि ि ;ये4 वहीं <8े िहे 4 ििमलम ा िे %#1
पू(ा- कब तक 0ये;ी?
H‚N,ि साहब िे िसि Oुकाये ह

D के हा- 0ती हो;ीं4
%#ि भी वह बाहि िहीं 0ये4 उिके मि मे Xािे I*I मचा ह

0 !ा4
+िचPय का बं 5ि िहीं, भी|ता का क'चा ता;ा उिकी $बाि को िोके ह

D
!ा4 ििमलम ा िे %#ि कहा- कहीं Xूमिे-Xामिे ल;ी हो;ी4 मE भी Fस वy
$ाती ह

ं 4
भी|ता का क'चा ता;ा भी ,ू, ;या4 िदी के क;ाि पि पह

ं च कि
भा;ती ह

" सेिा मे &—तु ?>y 0 $ाती ह7 4 H‚N,ि साहब िे िसि उBाकि
ििमलम ा को दे <ा +ि &िु िा; मे Hूबे ह

D =वि मे बोले - िहीं, ििमलम ा, &ब
0ती हो हो;ी4 &भी ि $ा64 िो$ सु5ा की <ािति से ब7Bती हो, 0$ मेिी
<ािति से ब7Bो4 बता6, कम तक Fस 0; मे $ला क|? सPय कहता ह


ििमलम ा...4
ििमलम ा िे कु ( +ि िहीं सुिा4 उसे Jसा $ाि प8ा मािो सािी प‹9 वी
चNकि <ा िही ह7 4 मािो उसके पाो पि सह›ो वzो का 0Xात हो िहा ह7 4
उसिे $Vदी से &ल;िी पि ल,की ह

" चादि उताि ली +ि >बिा मुंह से
Dक ?Aद ििकाले कमिे से ििकल ;"4 H‚N,ि साहब /<िसयाये ह

D-से िोिा
मुंह बिाये <8े िहे ! उसको िोकिे की या कु ( कहिे की %ह-मत ि प8ी4
161
ििमलम ा Kयोही Iाि पि पह

ं ची उसिे सु5ा को तां;े से उतिते दे <ा4
सु5ा उसे ििमलम ा िे उसे &वसि ि %दया, तीि की तिह Oप,कि चली4 सु5ा
Dक ] तक >व=मेय की द?ा मे <8ी िहीं4 बात Nया ह7 , उसकी समO मे
कु ( ि 0 सका4 वह 3यs हो उBC4 $Vदी से &*दि ;" महिी से पू(िे
%क Nया बात ह

" ह7 4 वह &पिा5ी का पता ल;ाये;ी +ि &;ि उसे मालूम


0 %क महिी या +ि %कसी िGकि से उसे को" &पमाि-सूचक बात कह दी
ह7 , तो वह <8े -<8े ििकाल दे ;ी4 लपकी ह

" वह &पिे कमिे मे ;"4 &*दि
कदम ि<ते ही H‚N,ि को मुंह ल,काये चािपा" पि ब7Bे दे <4 पू(ा- ििमलम ा
यहां 0" !ी?
H‚N,ि साहब िे िसि <ु $लाते ह

D कहा- हां, 0" तो !ीं4
सु5ा- %कसी महिी-&हिी िे उ*हे कु ( कहा तो िहीं ? मुOसे बोली तक
िहीं, Oप,कि ििकल ;Œ4
H‚N,ी साहब की मु<-का/*त म/$ि हो ;", कहा- यहां तो उ*हे %कसी
िे भी कु ( िहीं कहा4
सु5ा- %कसी िे कु ( कहा ह7 4 दे <ो, मE पू (ती ह

ं ि, "Qि $ािता ह7 , पता
पा $ाWं ;ी, तो <8े -<8े ििकाल दं;ू ी4
H‚N,ि साहब िस,>प,ाते ह

D बोले- मEिे तो %कसी को कु ( कहते िहीं
सुिा4 तु-हे उ*होिे दे <ा ि हो;ा4
सु5ा-वाह, दे <ा ही ि हो;ा! उसिके सामिे तो मE तां;े से उतिी ह

ं 4
उ*होिे मेिी 6ि ताका भी, पि बोलीं कु द िहीं4 Fस कमिे मे 0" !ी?
H‚N,ि साहब के पा सू<े $ा िहे !े4 %हच%कचाते ह

D बोले - 0" Nयो िहीं
!ी4
सु5ा- तु-हे यहां ब7Bे दे <कि चली ;" हो;ी4 बस, %कसी महिी िे कु (
कह %दया हो;ा4 िीच $ात हE ि, %कसी को बात कििे की तमी$ तो ह7 िहीं4
&िे , 6 सु*दििया, $िा यहां तो 0!
H‚N,ि- उसे Nयो बुलाती हो, वह यहां से सी5े दिवा$े की ति# ;Œ4
महिियो से बात तक िहीं ह

"4
सु5ा- तो %#ि तु-हीं िे कु ( कह %दया हो;ा4
H‚N,ि साहब का कले$ा 5कu -5कu कििे ल;ा4 बोले- मE भला Nया कह
दे ता Nया Jसा ;ंवाह ह

ं ?
सु5ा- तुमिे उ*हे 0ते दे <ा, तब भी ब7Bे िह ;ये?
162
H‚N,ि- मE यहां !ा ही िहीं4 बाहि ब7 Bक मे &पिी Jिक Sूं \ता िहा,
$ब वहां ि िमली, तो मEिे सोचा, ?ायद &*दि हो4 यहां 0या तो उ*हे ब7Bे
दे <ा4 मE बाहि $ािा चाहता !ा %क उ*होिे <ुद पू (ा- %कसी ची$ की $|ित
ह7 ? मEिे कहा- $िा दे <िा, यहां मेिी Jिक तो िहीं ह7 4 Jिक Fसी िसिहािे
वाले ताक पि !ी4 उ*होिे उBाकि दे दी4 बस Fतिी ही बात ह

"4
सु5ा- बस, तु-हे Jिक दे ते ही वह OVला" बाहि चली ;"? Nयो?
H‚N,ि- OVला" ह

" तो िहीं चली ;"4 $ािे ल;ीं , तो मEिे कहा- ब7%BD
वह 0ती हो;ी4 ि ब7BCं तो मE Nया किता?
सु5ा िे कु ( सोचकि कहा- बात कु ( समO मे िहीं 0ती, मE $िा
उसके पास $ाती ह

ं 4 दे <ूं, Nया बात ह7 4
H‚N,ि-तो चली $ािा Jसी $Vदी Nया ह7 4 सािा %दि तो प8ा ह

0 ह7 4
सु5ा िे चादि 6Sते ह

J कहा- मेिे पे, मे <लबली माची ह

" ह7 , कहते
हो $Vदी ह7 ?
सु5ा ते$ी से कदम ब\ती ह

" ििमलम ा के Xि की 6ि चली +ि पांच
िमि, मे $ा पह

ं ची? दे <ा तो ििमलम ा &पिे कमिे मे चािपा" पि प8ी िो िही
!ी +ि ब'ची उसके पास <8ी िही !ी- &-मां, Nयो लोती हो?
सु5ा िे ल8की को ;ोद मे उBा िलया +ि ििमलम ा से बोली-ब%हि, सच
बता6, Nया बात ह7 ? मेिे यहां %कसी िे तु-हे कु ( कहा ह7 ? मE सबसे पू(
चु की, को" िहीं बतलाता4
ििमलम ा 0ंसू पो(ती ह

" बोली- %कसी िे कु ( कहा िहीं ब%हि, भला
वहां मुOे कGि कु ( कहता?
सु5ा- तो %#ि मुOसे बोली Nयो िहीं 6ि 0ते-ही-0ते िोिे ल;ीं?
ििमलम ा- &पिे िसीबो को िो िही ह

ं , +ि Nया4
सु5ा- तुम यो ि बतला6;ी, तो मE कसम दं ;ू ी4
ििमलम ा- कसम-कसम ि ि<ािा भा", मुOे %कसी िे कु ( िहीं कहा, OूB
%कसे ल;ा दं ू?
सु5ा- <ा6 मेिी कसम4
ििमलम ा- तुम तो िाहक ही /$द किती हो4
सु5ा- &;ि तुमिे ि बताया ििमलम ा, तो मE समOूं;ी, तु-हे $िा भी पेम
िहीं ह7 4 बस, सब $बािी $मा- <च म ह7 4 मE तुमसे %कसी बात का पदा म िहीं
163
ि<ती +ि तुम मुOे ;7 ि समOती हो4 तु-हािे Wपि मुOे ब8ा भिोसा !4
&ब $ाि ;" %क को" %कसी का िहीं होता4
सु5ा कीं 0ं <े स$ल हो ;"4 उसिे ब'ची को ;ोद से उताि िलया
+ि Iाि की 6ि चली4 ििमलम ा िे उBाकि उसका हा! पक8 िलया +ि
िोती ह

" बोली- सु5ा, मE तु-हािे प7 ि प8ती ह

ं , मत पू(ो4 सुिकि द<ु हो;ा
+ि ?ायद मE %#ि तु-हे &पिा मुंह ि %द<ा सकूं 4 मE &भि;िी िे होती , तो
यह %दि %ह Nयो दे <ती? &ब तो "Qि से यही पा!िम ा ह7 %क संसाि से मुOे
उBा ले4 &भी यह द;ु िम त हो िही ह7 , तो 0;े ि $ािे Nया हो;ा?
Fि ?Aदो मे $ो संके त !ा, वह बु%Iमती सु5ा से ि(पा ि िह सका4
वह समO ;" %क H‚N,ि साहब िे कु ( (े 8-(ा8 की ह7 4 उिका %हचक-
%हचककि बाते कििा +ि उसके प†ो को ,ालिा, उिकी वह Zलाििमये,
कांितहीि मु.ा उसे याद 0 ;"4 वह िसि से पांव तक कांप उBC +ि >बिा
कु ( कहे -सुिे िसंहिी की भांित pो5 से भिी ह

" Iाि की 6ि चली4 ििमलम ा
िे उसे िोकिा चाहा, पि ि पा सकी4 दे <ते -दे <ते वह स8क पि 0 ;" +ि
Xि की 6ि चली4 तब ििमलम ा वहीं भूिम पि ब7B ;" +ि #ू ,-#ू ,कि िोिे
ल;ी4
(A बीस
ििमलम ा %दि भि चािपा" पि प8ी िही4 मालूम होता ह7 , उसकी दे ह मे पा
िहीं ह7 4 ि =िाि %कया, ि भो$ि कििे उBC4 संYया समय उसे Kवि हो
0या4 िात भि दे ह तवे की भांित तपती िही4 दसू िे %दि Kवि ि उतिा4 हां ,
कु (-कु ( कमे हो ;या !ा4 वह चािपा" पि ले,ी ह

" िि`ल िेMो से Iाि की
6ि ताक िही !ी4 चािो 6ि ?ू*य !ा, &*दि भी ?ू*य बाहि भी ?ू*य को"
िच*ता ि !ी, ि को" =मि9 त, ि को" दु:<, म/=त:क मे =प*दि की ?>y ही
ि िही !ी4
सहसा |/Nमी ब'ची को ;ोद मे िलये ह

D 0कि <8ी हो ;"4
ििमलम ा िे पू (ा- Nया यह बह

त िोती !ी?
|/Nमी- िहीं, यह तो िससकी तक िहीं4 िात भि चु पचाप प8ी िही,
सु5ा िे !ो8ा-सा द5ू भे$ %दया !ा4
ििमलम ा- &हीििि द5ू ि दे ;" !ी?
164
|/Nमी- कहती !ी, >प(ले प7से दे दो, तो दं4ू तु-हािा $ी &ब क7 सा ह7 ?
ििमलम ा- मुOे कु ( िहीं ह

0 ह7 ? कल दे ह ;िम हो ;" !ीं4
|/Nमी- H‚N,ि साहब का बु िा हाल ह7 ?
ििमलम ा िे Xबिाकि पू(ा- Nया ह

0, Nया? कु ?ल से ह7 ि?
|/Nमी- कु ?ल से हE %क ला? उBािे की त7यािी हो िही ह7 ! को"
कहता ह7 , $हि <ा िलया !ा, को" कहता ह7 , %दल का चलिा ब*द हो ;या
!ा4 भ;वाि u $ािे Nया ह

0 !ा4
ििमलम ा िे Dक B[Hी सांस ली +ि |ं 5े ह

D कं B से बोली- हाया
भ;वािu! सु5ा की Nया ;ित हो;ी! क7 से /$ये;ी?
यह कहते-कहते वह िो प8ी +ि ब8ी दे ि तक िससकती िही4 तब ब8ी
मु/cकल से उBकि सु 5ा के पास $ािे को त7याि ह

" पांव !ि-!ि कांप िहे
!े, दीवाि !ामे <8ी !ी, पि $ी ि मािता !ा4 ि $ािे सु5ा िे यहां से
$ाकि पित से Nया कहा? मEिे तो उससे कु ( कहा भी िहीं, ि $ािे मेिी
बातो का वह Nया मतलब समOी? हाय! Jसे |पवाि u दयालु, Jसे सु?ील पाी
का यह &*त! &;ि ििमलम ा को मालूम होत %क उसके pो5 का यह भी@
पििाम हो;ा, तो वह $हि का Xूं, पीकि भी उस बात को हं सी मे उ8ा
दे ती4
यह सोचकि %क मेिी ही ििLु िता के काि H‚N,ि साहब का यह हाल


0, ििमलम ा के Tदय के ,ु क8े होिे ल;े4 Jसी वेदिा होिे ल;ी, मािो Tदय
मे ?ूल उB िहा हो4 वह H‚N,ि साहब के Xि चली4
ला? उB चु की !ी4 बाहि स*िा,ा (ाया ह

0 !ा4 Xि मे jीयां $मा
!ीं4 सु5ा $मीि पि ब7 BC िो िही !ी4 ििमलम ा को दे <ते ही वह $ोि से
िचVलाकि िो प8ी +ि 0कि उसकी (ाती से िलप, ;"4 दोिो दे ि तके
िोती िहीं4
$ब +ितो की भी8 कम ह

" +ि Dका*त हो ;या, ििमलम ा िे पू (ा-
यह Nया हो ;या ब%हि, तुमिे Nया कह %दया?
सु5ा &पिे मि को Fसी प† का उ2ि %कतिी ही बाि दे चु की !ी4
उसकी मि /$स उ2ि से ?ांत हो ;या !ा, वही उ2ि उसिे ििमलम ा को
%दया4 बोली- चु प भी तो ि िह सकती !ी ब%हि, pो5 की बात पि pो5
0ती ही ह7 4
ििमलम ा- मEिे तो तुमसे को" Jसी बात भी ि कही !ी4
165
सु5ा- तुम क7 से कहती, कह ही िहीं सकती !ीं, ले%कि उ*होिे $ो बात


" !ी, वह कह दी !ी4 उस पि मEिे $ो कु द मुंह मे 0या, कहा4 $ब Dक
बात %दल मे 0 ;",तो उसे ह

0 ही समOिा चा%हये4 &वसि +ि Xात
िमले, तो वह &वcय ही पूिी हो4 यह कहकि को" िहीं ििकल सकता %क
मEिे तो हं सी की !ी4 Dका*त मे Dसा ?Aद $बाि पि लािा ही कह दे ता ह7
%क िीयत बुिी !ी4 मEिे तुमसे कभी कहा िहीं ब%हि, ले%कि मEिे उ*हे क"
बात तु-हािी 6ि Oांकते दे <ा4 उस वy मEिे भी यही समOा %क ?ायद
मुOे 5ो<ा हो िहा हो4 &ब मालूम ह

0 %क उसक ताक-Oांक का Nया
मतलब !ा! &;ि मEिे दिु िया Kयादा दे <ी होती, तो तु-हे &पिे Xि ि 0िे
दे ती4 कम-से-कम तुम पि उिकी िि;ाह कभी िे प8िे दे ती, ले%कि यह Nया
$ािती !ी %क पु|@ो के मुंह मे कु ( +ि मि मे कु ( +ि होता ह7 4 "Qि
को $ो मं$ूि !ा, वह ह

04 Jसे सGभाZय से मE व753य को बु ि िहीं समOती4
दिि. पाी उस 5िी से कहीं सु<ी ह7 , /$से उसका 5ि सांप बिकि का,िे
दG8े 4 उपवास कि लेिा 0साि ह7 , >व@7ला भो$ि किि उससे कहीं मुं/cकल 4
Fसी वy H‚N,ि िस*हा के (ो,े भा" +ि क9 :ा िे Xि मे पवे?
%कया4 Xि मे कोहिाम मच ;या4
स2ा" स
क महीिा +ि ;ु $ि ;या4 सु5ा &पिे दे वि के सा! तीसिे ही %दि
चली ;"4 &ब ििमलम ा &के ली !ी4 पहले हं स-बोलकि $ी बहला िलया
किती !ी4 &ब िोिा ही Dक काम िह ;या4 उसका =वा=!य %दि-%दि
>ब;Hे ™ता ;या4 पु िािे मकाि का %किाया &ि5क !ा4 दसू िा मकाि !ो8े
%किाये का िलया, यह तं; ;ली मे !ा4 &*दि Dक कमिा !ा +ि (ो,ा-सा
0ं;ि4 ि पका?ा $ाता, ि वायु4 द;ु *म 5 उ8ा किती !ी4 भो$ि का यह
हाल %क प7से िहते ह

ये भी कभी-कभी उपवास कििा प8ता !ा4 बा$ाि से
$ाये कGि? %#ि &पिा को" मदम िहीं, को" ल8का िहीं, तो िो$ भो$ि
बिािे का कi कGि उBाये? +ितो के िलये िो$ भो$ि किे ि की 0वcयका
ही Nया? &;ि Dक वy <ा िलया, तो दो %दि के िलये (ु a,ी हो ;"4 ब'ची
के िलD ता$ा हलु0 या िो%,यां बि $ाती !ी! Jसी द?ा मे =वा=‹य Nयो
ि >ब;8ता? िच*त, ?ोक, दिु व=!ा, Dक हो तो को" कहे 4 यहां तो Mयताप का
D
166
5ावा !ा4 उस पि ििमलम ा िे दवा <ािे की कसम <ा ली !ी4 किती ही
Nया? उि !ो8े -से |पयो मे दवा की ;ुं $ाF? कहां !ी? $हां भो$ि का
%Bकािा ि !ा, वहां दवा का /$p ही Nया? %दि-%दि सू<ती चली $ाती !ी4
Dक %दि |/Nमी िे कहा- बह

, Fस तिक कब तक Xुला किो;ी, $ी ही
से तो $हाि ह7 4 चलो, %कसी व7n को %द<ा लाWं 4
ििमलम ा िे >विy भाव से कहा- /$से िोिे के िलD $ीिा हो, उसका मि
$ािा ही &'(ा4
|/Nमी- बुलािे से तो मGत िहीं 0ती?
ििमलम ा- मGत तो >बि बुलाD 0ती ह7 , बुलािे मे Nयो ि 0ये;ी? उसके
0िे मे बह

त %दि ल;े;े ब%हि, $7 %दि चलती ह

ं , उतिे साल समO
ली/$D4
|/Nमी- %दल Jसा (ो,ा मत किो बह

, &भी संसाि का सु< ही Nया
दे <ा ह7 ?
ििमलम ा- &;ि संसाि की यही सु< ह7 , $ो Fतिे %दिो से दे < िही ह

ं , तो
उससे $ी भि ;या4 सच कहती ह

ं ब%हि, Fस ब'ची का मोह मुOे बां5े ह

D
ह7 , िहीं तो &ब तक कभी की चली ;" होती4 ि $ािे Fस बेचािी के भाZय
मे Nया िल<ा ह7 ?
दोिो म%हलाDं िोिे ल;ीं4 F5ि $ब से ििमलम ा िे चािपा" पक8 ली ह7 ,
|/Nमी के Tदय मे दया का सोता-सा <ुल ;या ह7 4 Iे @ का ले? भी िहीं
िहा4 को" काम किती हो, ििमलम ा की 0वा$ सुिते ही दG8ती हE 4 X[,ो
उसके पास क!ा-पु िा सुिाया किती हE 4 को" Jसी ची$ पकािा चाहती हE ,
/$से ििमलम ा |िच से <ाये4 ििमलम ा को कभी हं सते दे < लेती हE , तो ििहाल
हो $ाती ह7 +ि ब'ची को तो &पिे ;ले का हाि बिाये िहती हE 4 उसी की
िींद सोती हE , उसी की िींद $ा;ती हE 4 वही बािलका &ब उसके $ीवि का
05ाि ह7 4
|/Nमी िे $िा दे ि बाद कहा- बह

, तुम Fतिी िििा? Nयो होती हो?
भ;वाि u चाहे ;े, तो तुम दो-चाि %दि मे &'(C हो $ा6;ी4 मेिे सा! 0$
व7n$ी के पास चला4 ब8े सK$ि हE 4
ििमलम ा- दीदी$ी, &ब मुOे %कसी व7n, हकीम की दवा #ायदा ि किे ;ी4
0प मेिी िच*ता ि किे 4 ब'ची को 0पकी ;ोद मे (ो8े $ाती ह

ं 4 &;ि
$ीती-$ा;ती िहे , तो %कसी &'(े कु ल मे >ववाह कि दी/$ये;ा4 मE तो Fसके
167
िलये &पिे $ीवि मे कु ( ि कि सकी, के वल $*म दे िे भि की &पिाि5िी


ं 4 चाहे Nवांिी ि/<ये;ा, चाहे >व@ दे कि माि HािलD;, पि कु पाM के ;ले ि
म%\D;ा, Fतिी ही 0पसे मेिी >विय ह7 4 मEिे 0पकी कु ( सेवा ि की,
Fसका ब8ा दु:< हो िहा ह7 4 मुO &भाि;िी से %कसी को सु< िहीं िमला4
/$स पि मेिी (ाया भी प8 ;", उसका सविम ा? हो ;या &;ि =वामी$ी
कभी Xि 0वे, तो उिसे क%हD;ा %क Fस किम-$ली के &पिा5 ]मा कि
दे 4
|/Nमी िोती ह

" बोली- बह

, तु-हािा को" &पिा5 िहीं "Qि से कहती


ं , तु-हािी 6ि से मेिे मि मे $िा भी म7ल िहीं ह7 4 हां, मEिे सद7 व तु-हािे
सा! कप, %कया, Fसका मुOे मिते दम तक दु :< िहे ;ा4
ििमलम ा िे काति िेMो से दे <ते ह

ये के हा- दीदी$ी, कहिे की बात िहीं,
पि >बिा कहे िहा िहीं $ात4 =वामी$ी िे हमे?ा मुOे &>वQास की b>i से
दे <ा, ले%कि मEिे कभी मि मे भी उिकी उपे]ा िहीं की4 $ो होिा !ा, वह
तो हो ही चु का !ा4 &5म म किके &पिा पिलोक Nयो >ब;ा8ती? पूव म $*म
मे ि $ािे कGि-सा पाप %कया !ा, /$सका वह पाय/`त कििा प8ा4 Fस
$*म मे कां,े बोती, तोत कGि ;ित होती?
ििमलम ा की सांस ब8े वे; से चलिे ल;ी, %#ि <ा, पि ले, ;" +ि
ब'ची की 6ि Dक Jसी b>i से दे <ा, $ो उसके चििM $ीवि की संपूम
>वमPक!ा की वह9 œ 0लोचिा !ी, वाी मे Fतिी साम‹य म कहा?
तीि %दिो तक ििमलम ा की 0ं<ो से 0ंसु6ं की 5ािा बहती िही4 वह
ि %कसी से बोलती !ी, ि %कसी की 6ि दे <ती !ी +ि ि %कसी का कु (
सुिती !ी4 बस, िोये चली $ाती !ी4 उस वेदिा का कGि &िुमाि कि
सकता ह7 ?
चG!े %दि संYया समय वह >वप>2 क!ा समाo हो ;"4 उसी समय
$ब प?ु-प]ी &पिे-&पिे बसेिे को लG, िहे !े, ििमलम ा का पा-प]ी भी
%दि भि ि?कािियो के िि?ािो, ि?कािी िच%8यो के पं $ो +ि वायु के पचंH
Oोको से 0हत +ि 3यि!त &पिे बसेिे की 6ि उ8 ;या4
मुहVले के लो; $मा हो ;ये4 ला? बाहि ििकाली ;"4 कGि दाह
किे ;ा, यह प† उBा4 लो; Fसी िच*ता मे !े %क सहसा Dक बू\ा पि!क Dक
बकु चा ल,काये 0कि <8ा हो ;या4 यह मुं?ी तोतािाम !े4
168

You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->