You are on page 1of 225

क्रसं

1892
2508
2752
541
1105
2431
2463
3103
2385
2435
3043
1759
2043
3512
3516
3611
1807
3622
803
2719
2653
1527
480
1621
2631
2854
856
1262
2165
462
84
795
406
3982
2291
1827
858
1480
870
1047
234
1157
4235
4044
438
2204
1641
532
3385
1442
468

पुस्तक का नाम

लेखक का नाम

1084वें की भ ॊ
भह श्वेत दे वी
17 स र फ द
शिव न य मण श्रीव स्तव
1857 क ब यतीम स्व तॊत्र्म सॊघववन
र्ष मक द भोदय
1857 की भह न य ष्ट्रीम क् ॊतत हरयप्रस द
1980 की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ
डॉ. भहीऩ शसॊह
1980 की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ
ड ॅॎ भहीऩ शसॊह
अकथ कह नी प्रेभ की
गॊग यत्न ऩ ण्डे
अकथ कह नी प्रेभ की
गॊग यत्न ऩ ॊडे
अकभषक क्रक्म
से.य . म त्री
अकर न्त कौयव
भह श्वेत दे वी
अकेतन
ध्म न भ खीज
अकेर ऩर स
भेहरूतनस
अकेरी
ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म
अक्र क घड़
ववजम बटन गय
अऺय कुण्डरी
अभत
ृ प्रीतभ
अऺय कुण्डरी
अभत
ृ प्रीतभ
अऺयों क ववरोह
सुिीर
अऺयों की कह नी
गण
ु कय भर
ु े
अगनु क ऩेड़
भधक

शसॊ


अग्नन खोय
पणीश्वय न थ ये णु
अग्नन गबष
भह श्वेत दे वी
अग्ननदे व
भधक
ु य शसॊह
अग्नन ऩयीऺ
गुरूदत्त
अग्नन ऩुत्र
य जेन्र ऩ ण्डेम
अग्नन फीज
भ यकण्डेम
अग्नन सॊबव
हहभ ॊिु जोिी
अग्नन स्थ न
य जकभर चैधयी
अग्रजी - हहॊदी कोि
प दय क शभर फुल्के
अचयज रोक
हरयकृष्ट्ण दे वसये
अचर एक बव ग्स्थतत
भर
ु य ऺस
अच्छी हहॊदी
य भचन्र वभ ष
अच्छी हहॊदी कैसे फोरे कैसे शरखेंबोर न थ ततव यी
अच्छी हहॊदी कैसे शरखें
ड . ब गीयथ शभश्र
अच्छे आदभी
पणीश्वय न थ ये णु
अछुत
भुल्कय ज आनॊद
अछूत भें बी य भ है
व्मथथत रृदम
अछूते पूर औय अन्म कह तनम अ
ॊ ऻेम
अजनफी इन््ॅय धनुॅुर्
आिीर् शसन्ह
अजन्भ वह
शिवस गय शभश्र
अज त ित्रु
जम िॊकय प्रस द
अजेम य ष्ट्र ब वन
बगवती ियण उऩ ध्म म
अजेॅेम ववमतन भ
उत्ऩर दत्त
अऻ त क तनभॊत्रण
अभत
ृ प्रीतभ
अऻ तव स
श्रीर र िुक्र
अटूट फॊधन
हरय प्रस द
अट्ठ यह सौ सत्त वन
भहे ि
अठ यह सौ सत्त वन
शियोभणणभहे ि
अणणभ
तनय र
अततथथ
शिव नी
अततथथ कऺ
यवीन्र न थ त्म गी
अतीत भें कुछ
गॊग प्रस द ववभर

2904
1165
2693
3724
2895
2480
2831
2046
556
655
2502
743
2403
344
637
3973
2612
2042
4327
2540
2095
3883
3704
3990
1850
693
3162
1235
658
3061
1506
3072
3828
2126
2805
1295
2551
4149
4219
930
3031
3348
3671
2756
454
2982
1134
1797
1866
1181
3947
2415

अथव
प्रणव कुभ य फॊधोऩ ध्म म
अथ ह
जमन्त दर
ु वही
अथ ह
जमवन्त दरवी
अथ ह की थ ह
गोऩ र नीर कण्ठ
अदर-फदर
आच मष चतयु सेन
अद वत
फ र दफ
ु े
अदीन
य हुर स ॊकृत्म मन
अदृिष हो ज मेगी सूखी ऩग्त्तम ॊ ववजम कुभ य
अधकचये
सुदिषन चैऩड़
अधणखरी
दे वेि द स
अथधक य
य भ कुभ य भ्रभय
अधयू जीवन
श्म भ सूयी
अधयू स्वऩन
गौयी िॊकय
अधयू ी आव ज
कभरेश्वय
अधयू ी तस्वीय
वसन्त प्रब
अधयू ी तस्वीय
शभश्र
अधयू े जीवन
य जय नी
अधेये के वतर
धनॊजम वभ ष
ुष
अनकहे कथ्म
अिोक वभ ष
अनज नी य हें
सुब र् बें डे
अनदे खे अनज नऩुय
य जेन्र म दव
अनदे खे अनज न ऩुर
य जेन्र म दव
अनन्त आक ि अथ ह स गय जम प्रक ि ब यती
अनम
अयववन्द गोखरे
अन गत
सुयेन्र कुभ य
अन भ तुभ आते हो
बव नी प्रस द
अन भ रयश्तों के न भ
िब
वभ ष

अन भ
स्व भी
जैनेन्र कुभ य
अन भ
अन भ
अन शभक
शिवस गय शभश्र
अन वयण
भनीर् य भ
अन वयण
भनीर् य म
अन िग्क्त मोग
ग ॊधी जी
अतन अभ वत
कुभ यी ईहदय य

अतनत्म
भद
ु गगष
ृ र
अतनरूद्ध
अभय थचॅत्र कथ एॊ
अनी
ववजम तेदॊ र
ु कय
अन.ु 370 औय कश्भीय
य केि भ थयु
अनत
हदनेि ऩ ठक
ु रयत
अनुबूततमों की अजॊत
कैर ि कग्ल्ऩत
अनुरॊघ्म
क् ग्न्त त्रत्रवेदी
अनुव द कर
डॉ. एन. ई. ववश्वन थ
अनुव द कर
डॉ. बोर न थ ततव यी
अनुव द प्रक्रक्म
डॉ. सीत य नी
अनुव द ववऻ न
बे र न थ ततव यी
अनुव द शसद्ध न्त औय सभस्म एॊ डॉ. यववन्र श्रीव स्तव
अनुि सन की फोध कथ एॊ
डॉ. ववनोद फ र
अनुि सन की फोध कथ एॊ
ववनोद फ र
अनोख उऩह य
दे वेन्र
अनोख द न
कभर िक्
ु र
अनोखी तप्ृ ती
ओशरवय गोल्ड ग्स्भथ
अनोखी म त्र
गौयी िॊकय

4330
1788
3885
3988
2472
782
3227
2901
132
2288
1451
3010
1662
3888
2711
3011
950
2439
1760
1002
2546
1785
2216
2004
94
2818
1403
3891
2811
4029
1772
2079
4430
2739
3567
1064
1152
3746
380
799
268
2309
1497
3115
445
3929
1167
3186
894
2391
379
3859

अनॊत व्म स
अनॊतश्री
अनॊद
अन्तत्
अन्तय त्भ क उऩरव
अन्धी आग
अन्नद
अन्न हहनभ क्रक्म हहनभ
अन्न केये तनन
अन्म म को ऺभ
अनॊग्ॅतभ थचत्र
अऩन अतीत
अऩन -अऩन आज
अऩन -अऩन दख

अऩन -अऩन ब नम ब ग-2
अऩन -अऩन भन
अऩन ऩय म
अऩनी-अऩनी म त्र
अऩनी केवर ध य
अऩनी दतु नम
अऩनी तनग ह भें
अऩनी ऩहच न
अऩनी ऩहच न
अऩनी ही तर ि
अऩने-अऩने अजनफी
अऩने-अऩने अजन
ुष
अऩने अऩने च य वर्ष
अऩने-अऩने यॊ ग
अऩने णखरौने
अऩने भोचे ऩय
अऩने रोग
अऩने रोग
अऩने रोग
अऩने सभम क सूमष हदनकय
अऩने सूयज ऩय ववश्व स
अऩय
अऩय जम
अऩय जेम
अऩय ध औय दॊ ड
अऩय थधनी
अऩय धी
अऩरयथचत
अऩरयथचत क ऩरयचम
अऩयोऺ
अऩववत्र नदी
अऩुरूर्
अऩूणष कथ
अऩेऺ
अऩेक्षऺत
अऩोरो क यथ
अप्सय
अप्सय

सोहन र र सुफद्ध
इॊहदय
अभय न थ िुक्र
हहभ ॊिु जोिी
कुन्दन शसॊह
सॅ
ु ुभॊगर प्रक ि
अभयन थ िुक्र
न ग जन
ुष
भह त्भ
य त्रफन ि ऩुष्ट्ऩ
फरय ज सह नी
म दवेन्र
ड ॅॎ सुयेन्र
जगदीि चन्र ऩ ण्डेम
जैनेन्र शसॊह
ओॊक य ियद
श्रीय भ िभ ष
कुसभ अॊचर
अरूण कभर
यवीन्र न थ ठ कुय
सुशभत्र वयतय भ
यत्न र र
उभेि सहगर
अशबभन्मू
अऻेम
वप्रम दिषन
अभत
ृ प्रीतभ
जशभर ह िभी
भगवती चयण वभ ष
नवीन जोिी
य जेन्र कौय
य भ दयि शभश्र
य जेन्र कौय
भन्भथन थ गुप्त
व सु आच मष
तनय र
आहदत्म हदव यत्नन
िीर बर
दोस्तोमवस्की
मऻदत्त िभ ष
आच मष चतुय सेन ि स्त्री
गोववन्द शभश्र
वप्रम दिॉ प्रक ि
अऻेम
रक्ष्भी न य मण
फदीउज्जभ
यववन्र न थ त्म गी
उत्तभ ऩयभ य
प्रेभ ऩ ठक
श्रीक न्त वभ ष
सूमक
ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र
सूमक
ष ॊत त्रत्रऩ ठी तनय र

2374
3450
3818
2280
3812
4041
2838
1790
1393
3604
4043
1296
2873
1481
2837
1891
3339
4221
3069
4222
1964
3720
2776
2777
2921
638
3258
2105
2104
4373
2615
169
2487
3830
2522
4223
3037
2257
2524
2536
4072
291
2734
2533
4189
3126
1285
3539
3807
3648
313
89

अप्सय क श्र ऩ
मिऩ र
अपसय गमे ववदे ि
सुयेि क ॊत
अफ्रीक की रोक कथ एॊ
वप्रम दिॉ प्रक ि
अफ औय नहीॊ
ववष्ट्णु प्रब कय
अफ प इरें नहीॊ रूकती
तनशिक ॊत
अफर
खरीर ग्जब्र न
अब्दल्
रक्ष्भी न य मण र र
ु र दीव न
अशबअन वत
इॊहदय

अशबऻ न
नयें र कोहरी
अशबऻ न
नयें र कोहरी
अशबनन्दन
न ग जन
ुष
अशबभन्मु
अभय थचॅत्र कथ एॊ
अशबभन्मु
श्री प्रदीऩ
अशबभ न
नये न्र कोहरी
अशबभ न
शिव स गय शभश्र
अशबिप्त
य भ कुभ य
अशबिप्त
प्रेभरत
अबी हदल्री दयू है
स. य जेन्र म दव
अबी नहीॊ
क ॊततदे व
अबी नहीॊ
यभेि फऺी
अभय आन
हरय कृष्ट्ण प्रेभी
अभय कथ एॊ
मि ऩ र जैन
अभय थचत्र कथ ब ग-1
अभय थचत्र कथ
अभय थचत्र कथ ब ग-2
अभय थचत्र कथ
अभय ज्मोतत
शिव स गय शभश्र
अभय प्रेभ
ववबूतत बूर्ण
अभय िहीद इॊहदय ग ॊधी
अऺम कुभ य जैन
अभय िहीद चन्र िेखय आज द ववब गप्ु त
अभय िहीद बगत शसहॊ
ववनोद गगष
अभय िहीद बगत शसॊह
ि स्त्री स्वरूऩ कुसुभ
अभ नत एक िहीद की
कृष्ट्ण फ दर
अभत
अभत
ृ औय ववर्
ृ र र न गय
अभत
अऻ त
ृ कन्म
अभत
आनन्द कुभ य
ृ की फॊॅूदें
अभत
अनॊत गोऩ र िेवड़े
ृ कॊु ब
अभत
ओभ प्रक ि भेहय
ृ कॊॅुब
अभत
घट
क् ग्न्त त्रत्रवेदी

अभत
फे

सयु े न्र शसॊह

अभत
कभर द स

अभत
ड ॅॎ.यघुवीय चैधयी

अभत
शिव प्रस द शसॊह

अभत
ऩ ॊच वर्ष रम्फी सड़क
ृ प्रीतभ
अभत
तनम

ु ी हुई कहअभ
ृ प्रीतभ की चन
ृ ॊ प्रीतभ
अभत
स त
ु े हुए इततह अभ
ृ प्रीतभ के चन
ृ प्रीतभ
अभॊगर
डॉ. सयोज त्रफस रयम
अम्फेडकय
फ फूर र सुभन
अय्म ऩन
अभय थचॅत्र कथ एॊ
अयण्म
हहभ िु जोिी
अयण्म वैबव
डॉ. सशु भत्र तरूण
अयफ व्म ऩ यी औय उसक उॊ ट-9श्री एस. के. गभ
ू य
अयववन्द जीवन व दिषन
यववन्र
अयी ओ करूण भम
अऻेम

ऩ थयी अिोक के पूर हज यी प्रस द ्वववेदी अिोक के शिर रेख ि गुण य अिोक तनफॊध स गय ववजम कुभ य अश्वत्थ भ रक्ष्भीन य मण अश्व योही दीऩक असभ की रोक कथ ए कभर स ॊस्कृत्म मन असर ह थगरयय ज अस ध्म य भ कुभ य भ्रभय असीभ य भ कुभ य भ्रभय असुयक्षऺत थगयीि यस्तोगी असॊभजस ड . य जेंर प्रस द अग्स्तत्व जम जम य भ अरूणऩ र अग्स्भत िोब श्रीव स्तव अग्स्भत के शरए वव्म तनव स अस्वीक य गोऩ र उऩ ध्म म अहस सों की एक बगवती ियण शभश्र अहस सों के फीच ऩष्ट्ु ऩरत कश्मऩ अहहय वण अभय थचॅत्र कथ एॊ अहहल्म फ ई वॊद ृ वन र र वभ ष अहहॊस की कह नी य भन य मण उऩ ध्म म अॊक ज्मोततर् श्रीभती उशभषर दे वी अॊकुय य भ कुभ य भ्रभय अॊकों की कह नीॊ गुण कय भुरे अॊगद क ऩ ॊव श्री र र िुक्र अॊगुरी भ र अभय थचॅत्र कथ एॊ अॊगुरीभ र अनॊतवप्रम अॊग्रेजी हहॊदी कोि डॉ.अरग आकृततम ॊ म दवेन्र िभ ष चन्र अरग-अरग य स्ते उऩेन्र न थ अश्क अरग-अरग य स्ते हर्षन थ अरग-अरग वैतयणी शिव प्रस द शसॊह अर जुग्ल्पक य भन्भथन थ गुप्त अरववद प्रदर् सुनीत िभ ष ू ण अर दीन के थचय ग की कह नी रूर दे व झ यी अल्क सूमक ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र अल्ऩ जीवी ववश्वन थ ि स्त्री अवत यों की कह तनम ॊ भहे ि ब य्व ज अवत यों की कह तनम ॊ भहे ि ब य्व ज अवध की ि भ ख्व ज अहभद अब्फ स अवसय नये न्र कोहरी अितन सॊकेत ववबूतत बुर्ण अिेर् क यतत त्रत्रवेदी अिोक ड .2323 985 2287 4040 3945 261 126 1209 1596 2515 4513 4108 177 781 678 2456 130 1601 2622 1944 835 2279 332 466 1780 2099 1363 3503 3038 3039 2558 3138 4487 1796 2172 922 1202 3294 1269 240 2179 3488 2501 4105 1118 1266 361 4002 3373 828 3196 3753 अये ओभ प्रक ि भनहय चैह न अचषन सूमक ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र अथ षन्तय चन्र क ॊत अद्धष न यीश्वय ववष्ट्णु प्रब कय अद्धष ववय भ अभय न थ िक् ु र अरग. क शभर फुल्के अॊग्रेजी-हहॊदी िब्दों क ठीक प्रमोग कैर ि चन्र ब हटम अॊडे के तछरके अन्म एक ॊकी तथ भोहन फीजय क ने ि टक अॊततोगत्व य ध क ॊत ब यती अॊतत् फ र िभ ष .

5 नये न्र कोहरी अॊतय रों भें घटत सभम सुदिषन वशिष्ट्ठ अॊतरयऺ के आकर्षण एवॊ ववबीवर्क जमय एॊ भ शसॊह अॊतरयऺ भें घूभते शिऺक दग ु ष प्रस द िुक्र अॊतरयऺ भें चहर-ऩहर सुनीत िभ ष अॊतवेदन शिवजी ततव यी अॊतहीन डॉ. भधु गुप्त अॊततभ अनुच्छे द कृष्ट्ण िॊकय बटन गय अॊततभ आव ज वल्रब डोब र अॊततभ फेर ओॊक य ियद अॊततभ स क्ष्म डॉ. स्नेह भोहतनि अॊत्सॅ ग्ॅर सभये िु फॊधु अॊधकूऩ शिव प्रस द शसॊह अॊधये के फ वजूद फरदे व फसी अॊध कुआॊ रक्ष्भी न य मण र र अॊधे आक ि क सूयज य त्रफन ि ऩुष्ट्ऩ अॊधेय नगयी अभय थचॅत्र कथ एॊ अॊधेय उज र ख्व ज अहभद अब्फ स अॊधेय उज र ववये न्र कुभ य बट्ट च मष अॊधेय औय अॊधेये मोगेि गप्ु त अॊधेयी कववत एॊ बव नी प्रस द अॊधेयी णखड़की अतनरूद्ध उभट अॊधेये क सूयज शिवस गय शभश्र अॊधेये क सैर फ सुनीर कौशिक अॊधेये की रहय इन्द ु फ री अॊधेये के वतर धनॊजम वभ ष ुष अॊधेये थचय ग गुरश्न नन्द अॊधेये भें उज र गोववन्द फल्रब अॊधेयों क सूयज शिवस गय शभश्र आइने अकेरे हैं कृश्न चॊदय आइने के स भने भद ु शसन्ह ृ र आइॊसट इन सॊतय भ आउट ह उस यभेि गुप्त आओ एक सऩन दे खें अतुर कुभ य आओ कयें ये र की सैय भनोहय र र वभ ष आओ गरे शभरे यचन ब यती आओ ग में खि ववनोद चन्र ऩ ण्डेम ु ी भन में आओॊ फैठ रें कुछ दे य श्रीर र िुक्र आकिदीऩ जम िॊकय प्रस द आकर् शिव नी आक यों के आस-ऩ स कु. न य मण आक ि कुसभ सत्मेन्र ियत ू आक ि दीऩ जम िॊकय प्रस द आक ि सूमष औय ऩथ् शिविॊकय ृ वी आक्ोि य त्रफन ि ऩुष्ट्ऩ .1771 2128 1022 1603 1640 2201 3964 4211 3215 4000 968 4267 1809 3491 3036 3020 3174 4169 215 2971 3445 2029 2484 1332 101 3954 3181 1860 4509 872 1664 3931 1176 252 2464 573 331 3466 1887 2102 3080 961 2369 2645 4314 1059 2740 3884 3394 3901 842 2131 अॊत नहीॊ इॊहदय अॊत नहीॊ ईहदय अॊतयकथ ब र् नये ि भेहत अॊतय भन की व्मथ कथ एॊ सुयेन्र न थ र र अॊतय भन की व्मथ कथ एॊ सयु े न्रन थ अॊतयवेदन शिव जी ततव यी अॊतय र भोहन य केि अॊतय र भह सभय .

855 1478 4333 4037 1927 2120 4461 1880 3313 562 3078 629 2855 2090 1239 3842 1259 3207 677 498 2219 600 925 297 4125 841 3042 1800 4374 3027 3076 3221 4503 3064 3139 4021 4432 3259 1486 488 1174 499 3684 4510 2746 4190 1075 2489 4050 113 42 2796 आणखय कफ तक आणखयी द व आणखयी हदन आणखयी ऩड़ व आणखयी सप आणखयी सव र आणखयी स ॊस की म त्र आखेट आग औय अन्म कह तनम आग औय ऩ नी आग औय र ठी आग औेय धॊॅुआ आग के अऺय आग तऩ सोन आगभ की कह तनम ॊ आग भी अतीत आग भी कर आग भी वसॊत भें आगेॅे फढ़ो आच मष िॊकय क ब्रह्भ व द आज क इि आज की भहहर एॊ आज के तीन यॊ ग न टक आज के द वेद य आज द ब यत भें क रू आज द हहॊद पौज क भुकदभ आज दी क ऩहर शसऩ ही आज दी की ऩहरी रड़ ई आज दी की भि रें आजीवन क य व स आठवें दिक के रोग आठवें दिक के रोग आती है जैसे भत्ृ मु आतॊकव दी आत्भ कथ आत्भकथ आत्भकथ आत्भकथ य भ प्रस द त्रफग्स्भर आत्भ द ह आत्भद ह आत्भद ह आत्भ दीऩ आत्भ तनबषय आत्भयथी आत्भ ववऻ न आत्भ स ऺ त्क य आत्भहत्म आत्भहत्म आत्भ आत्भ की आॊखें आत्भेन ऩद आदभ की ऩसरी शिवस गय शभश्र बगवती चयण वभ ष यभेि चन्र ि ह से. ऩॊ. गोऩीन थ कववय ज डॉ. के. खल् ु रय य ध कृष्ट्ण फरय भ भनीर् य म फरय भ भनीर् य म नन्द क्रकिोय आच मष शिवस गय शभश्र भह त्भ ग ॊधी य भ प्रस द त्रफग्स्भर प्रब त त्रत्रऩ ठी ऩॊड़डत फन यसी द स आच मष चतयु सेन आच मष चतुय सेन ि स्त्री आच मष चतुय सेन ि स्त्री गोववन्द र र ऩॊत डॉ. म त्री भनहय चैह न कुसभ ु त फे वसन्त क नेटकय य फीन स ह ऩुष्ट्ऩ म दवेन्र हरय सुभन त्रफष्ट्ट यघुवीय ियण यभेि नीरकॊठ आच मष चतुय सेन ि स्त्री ॅॊस यस्वत भोहन तनकोर ई अस्त्रो ववभर भेहत कभरेश्वय ियत चन्र आिीि शसॊह दे वेन्र कुभ य य भ स्वरूऩ शसॊह गोऩ र चोयड़ड़म ववभर भेहत आहद यॊ ग च मष म दवेन्र िभ ष चन्र गोऩ र चतुवेदी सुयेि चॊर श्रीकृष्ट्ण भ मस ू य जेंर भोहन बटन गय के. भॊगर भेहत स्व भी मोगेश्वय नन्द सयस्वती प्रब क्रकयण शिव कुभ य कुभ रयर सम ष ॊत त्रत्रऩ ठी तनय र ू क हदनकय अऻेम प्रेभ ऩ ठक . य .

एन.2057 1541 3808 734 1646 3022 159 229 2595 501 4491 2866 2890 1661 2969 277 1992 1950 3760 3511 2841 262 3591 53 4013 455 2985 4143 4246 456 527 3571 1381 526 2359 2036 596 1443 417 3948 3470 1226 2436 3853 3417 3403 351 588 1021 1569 2917 2699 आदभ सव य भ तनक फच्छ वत आदभी क जहय य जय नी आदभी को तर िते हुए प्रेभऩ र िभ ष आदभी जहय श्रीर र िुक्र आदभी ग्जसके क यण दे वत फनअरक भहे श्वयी आदभी जो भछुआय नहीॊ थ भण ृ र ऩ ॊडे आदिष क म षरम ऩद्धतत भन्नू र र ्वववेदी आदिष क म षरम ऩद्धतत भन्नू र र ्वववेदी आदिष न रयम ॊ आच मष चतुयसेन आदिष ऩत्र रेखन मऻदत्त िभ आदिष ऩत्र रेखर श्म भ चन्र कऩूय आदिष प्रेयक कथ एॊ व्मथथत रृदम आदिष फ रक आच मष चतुयसेन आदिष भ त -वऩत स ववत्री दे वी आहद क ॊड ऩणव कुभ य फॊधोऩ ध्म म आहदभ मग उदम िॊकय बट्ट ु आहदभ य त्रत्र की भहक पणीश्वय न थ ये णु आध इन्स न ख्व ज अहभद आध ग ॊव य ही भ सूभ ख ॊ आधी-धऩ ववनोद गगष ू आधी छ ॊव आधी य त के फ द डॉ. के. कौर आधतु नक ये रवे दयू सॊच य एभ. यथचॊ भतन क्रकसन सैनी आधे अधयू े श्रीय भ िभ ष आधे-अधयू े भे हन य केि आधे सपय की ऩयू ी कह नी कृष्ट्ण चन्र आध्र कथ भॊजर् स्व भी शिविॊकय ि स्त्री ू आनन्द नगय डोशभतनक र वऩमय आनन्द बवन से सॊसद तक डॉ. न य मण दत्त ऩ रीव र आनन्द भठ फक्रकभ चन्र चटजॉ आनन्द भठ फॊक्रकभ चन्र चटजॉ आनन्द भठ फॊक्रकभ चन्र आन एक वी आई ऩी क डॉ. गोयी िॊकय य जहॊ स आने व र कर रक्ष्भीन य मण र र आनॊद की ऩगडॊड़डम ॊ अयववॊद आऩक फॊटी भन्नू बॊड यी आऩक फॊटी भन्नु बॊड यी आऩक फॊटी भन्नू बॊड यी आऩक स्व स्थ्म फरय ज शसॊह आऩकी कृऩ है ववष्ट्णु प्रब कय . के. हयदम र आधतु नक हहॊदी क व्म भें अयववन्द ड . कौर आधतु नक ववऻ न कथ एॊ य जीव यॊ जन उऩ ध्म म आधतु नक व्मवस तमक सॊगठन जम प्र कि रूस्तोगी आधतु नक हहदी ग्म स हहत्म ड . दिष दे वन दत्त िभ ष आधतु नक हहॊदी क व्म भें ऩ श्च त्म य भदिष क्रकिन न सैनी आधतु नक हहॊदी क व्म भें व्मॊनम फयस ने र र चतुवेदी आधतु नक हहॊदी क व्मों भें ऩ श्च त्म ड . न श्रीतनव स आधतु नक ये रवे दयू सॊच य एस. िॊकय िेर् आधी योटी दत्त ब यती आधी सदी के फ द वजीय आग आधतु नक कवव ववश्म्बय भ नव आधतु नक तनफॊध श्म भचन्र कऩूय आधतु नक ब यत भें स भ ग्जक ऩरयवतष एभ.

अग्रव र आॊखे भेयी फ की उनक प्रब कय भ चवे आॊगन के ऩ य ्व य अऻेम आॊगन कोठ रोणवीय कोहरी आॊगन नहदम ॊ अन्न य भ सुद भ आॊचशरक कह तनम ॊ हदनेि ऩ ठक आॊधी जम िॊकय प्रस द आॊधी औय आस्थ अन्न य भ आॊसु जमिॊकय प्रस द आॊसू फन गमे पूर वसॊत क नेटकय आॊॅॎख शभचोनी भ कष ट्वेन इच्छ वती ववबूतत बूर्ण इच्छ िग्क्त कैसे फढ एॊ ज ॅॎन कैनेडी इतन फड़ ऩर सद ु ु ष िन नीयज इतव य क हदन य जेॅेॅॊर सक्सेन इतत औय ह स आनॊद प्रक ि जैन . सी. य म आयण्मक ववबतू त बर् ू ण आयम्ब य भकुभ य भ्रभय आयम्ब क अॊत एच. एस.2401 1895 3067 2100 1926 2789 280 1063 219 1410 1584 4434 3122 4427 2503 4407 2479 4328 937 4359 3407 2154 3976 3099 2318 1458 2356 994 3722 3040 2963 122 128 833 3436 2060 2766 3576 87 2996 4032 2649 1062 1998 2330 3890 3519 2200 424 2619 397 640 आऩ चोथे भूखष है भोहन र र आऩ सपर कैंसे हों जेम्स ऐरन आब औय भोती आच मष चतुयसेन आमकय एच. ऩुयी आय धन तनय र आरभगीय चतुयसेन ि स्त्री आल्ह उदर ऩयभहॊ स प्रभोद आव ज अवधेि श्रीव स्तव आव ज इतनी ऩहच नी क्रक अऩनी फॊिरगी ी भहे श्वयी आव य भसीह ववष्ट्णु प्रब कय आव सीम कर के भौशरक शसद्धववश्फय ॊत प्रस द आव ह्न य भ कुभ य भ्रभय आववष्ट्क य ग्जन्होंने दतु नम को फदर सॊस य डचन्र र आवेि कवऩर कुभ य आि ज्मोतत गीत सॊग्रह जम प्रक ि ततव यी आि व द क भह भॊत्र य भऋवर् िुक्र आिुतोर् य ज कुभ य सैनी आर् ढ़ क ऩहर हदन भधक ु य शसॊह आस भ त भन्नू बॊड यी आसभ न क्रकतन नीर श्री गोववन्र शभश्र आस न य स्त नये न्र कोहरी आस भ की रोक कथ एॊॅे श्रीक न्त व्म स आस य भह वीय प्रस द जैन आसॊकशरत कववत एॊ तनय र आस्थ सशु भत्र नॊदन ऩॊत आह य ववऻ न मि ऩ र जैन आहुतत य भ कुभ य भ्रभय आॅॎग्रयन इजेिन र ॅॎ ड़डज इन्ससुभतत दफ ु े आॅॎॅॊख की क्रकयक्रकयी यववन्रन थ ठ कुय आॅॎॅॊसू जमिॊकय प्रस द आॊक -फ ॊक प्रफोध कुभ य स न्म र आॊक सूयज फ ॊक सूयज केद य न थ शसॊह आॊख औय अॊगुरी चन्रदत्त आॊखे डॉ. एस. एन.

एन. भोहम्भद ि हहद हुसैन इग्न्दय ग ॊधी: ऩुनभल् अयववन्द गुरू ूष म ॊकन इन्र औय वत अभय थचॅत्र कथ एॊ ृ इन्रज र जम िॊकय प्रस द इन्र धनुर् अनन्त गोऩ र इन्र धनुर् उधने रगे यभेि म दव इन्न की आव ज असगय वज हत इन्सन भुग षफी इब्सन इन्स प कबी नहीॊ ह य स ववत्री दे वी इन्स्ट रभें ट बगवती चयण इरैक्ट तनक्स की कह नी कुरदीऩ चड्ड इि य हहभ ॊिु श्रीव स्तव इस किभकि भें रक्ष्भण दत्त गौतभ इससे आगे क इन्तज य भनोहय फ्मोऩ ध्म म इॊड़डमन इकोनोशभ एन. अग्रव र इॊतज य नये न्र िभ ष इॊहदय ग ॊधी क सच य जीव यॊ जन न ग इॊहदय वप्रमदशिषनी व्मथथत रृदम ईय न की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ न शसय िभ ष ईि प दय क शभर ईश्वय की शभठ ई िैरेि बहटम नी ईश्वय चन्र वव्म स गय औय उनक इग्न्दय े प्रेयस्वप्न क प्रसॊग ईश्वय फ फू अनुऩग्स्थत थे ॅॊप्रणव कुभ य वन्दोऩ ध्म म ईश्वयी र र की कथ म भ र र गॊगोऩ ध्म म ईस की कह तनम ॊ कृष्ट्ण ववकर उजड़ घय यववन्रन थ ठ कय उजर कपन यघुवीय ियण उज री गोववन्द फल्रब उज रे के उल्रू भहीऩ शसॊह उठो रक्ष्भी न य मण सुयेन्र भेनन उठो रक्ष्भी न य मण सयु े न्र भगन उड़त चोय केसयी अभय थचॅत्र कथ एॊ उड़ती हुई नहदम ॊ भणी भधक ु य उड़ड़म की चथचषत कह तनम ॊ य जेन्र प्रस द शभश्र उड़ीस की रोक कथ ऐॊ जगन्न थ प्रस द उतन वह सूयज है ब यत बूर्ण उतयते ज्व य की सीवऩम ॊ य जेंर अवस्थी उत्तय ऩथ प्रबु दम र शभश्र उत्तय प्रदे ि की फोध कथ एॊ इन्र स्वऩन उत्तय प्रदे ि की रोक कथ ए अ स ववत्री उत्तय प्रदे ि के अभीय िहदों कीफी. तनमफोहय ॊ उत्तय प्रदे ि से ज न ऩहच न डॉ. य ष्ट्र फॊधु उत्तय वप्रमदिॉ अऻेम उत्तय वप्रमदिॉ अऻेम उत्तय ब यत की रोक कथ एॊ श्री चन्र जैन .1696 2304 2922 4313 3369 2466 949 4114 1185 1355 1061 2425 1846 2554 399 2664 2067 3679 2529 1656 4053 2964 741 4347 3101 2317 2324 4384 3718 2728 1163 2885 146 2635 2462 665 1674 2253 1345 2897 2727 2370 997 561 4444 2589 1368 4436 4422 381 2059 1425 इततह स क ददष िैरेि श्रीव स्तव इततह स क ददष िरैॅेॅॊर श्रीव स्तव इततह स की कयवटें शिव स गय शभश्र इततह स झूठ फोरत है शसद्धेश्वय प्रस द इततह स हॊ त जगदीि चतव ु ेदी इधय-उधय से यतन र र िभ ष इन्टयव्मू कैसे दें दग ु ष प्रस द िुक्र इन्दय सब की ऩयम्ऩय डॉ. कहएर.

सुयजीत उदष ू के श्रेष्ट्ठ ह स्म व्मॊनम स. अिोक अग्रव र उभड़ती घट एॊ गुरू दत्त उभय व ज न अद शभज ष ह दी रूख उभॊग गोऩ र शसॊह नेऩ री उभॊग गोॅेऩ र शसॊह उभॊग गोऩ र शसॊह उज ष के भूर स्तोत्र डॉ. फरदे व वॊिी उऩन्म स की ितष जगदीि न य मण श्रीव स्तव उऩप्रेती शिव नी उऩ सॊस्क य यभ क ॊत उफरते यॊ ग क ढॊ ग उत य वीण ध णेकय उभड़ती आक ॊऺ डॉ. एर. गणेि दत्त उदष ि मयी के चन प्रक ि ऩॊड़डत ु े हुए िेय उदष ु कह नीक य-। इस्भत चग ु तई उदष ु कह नीक य-।। हॊ सय ज यहफय उदष ु कह नीक य-।।। गर ु भ अब्फ स उदष ू कह नीक य य जेन्र शसॊह फेदीनन्द क्रकिोय ववक्भ उदष ू क प्रेभचन्द नन्द क्रकिोय ववक्भ उदष ू की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ नये न्र िभ ष उदष ू की ह स्म यस कह तनम ॊ जगन्न थ प्रब कय उदष ू के प्रशसद्ध स हहय रुथधम नवीस हहय रुधीम नवी उदष ू के श्रेष्ट्ठ ह स्म व्मनम-1 स.हरयजीत ृ छकहटक उत्तय थधक यी मिऩ र उत्तय मण य भ कुभ य वभ ष उत्तयी ध्रव की कह तनम ॊ मूयी रयकयव्मू ु उदमन अभय थचॅत्र कथ एॊ उद स भन आि ऩण ू ष दे वी उद्धव ितक जगन्न थ द स यत्न कय उद्भव ब र चन्र उ्मोग औय सुयऺ फी. य ध कृष्ट्णन उऩतनर्दों की कथ ऐ आच मष ववश्व प्रक ि उऩतनर्दों की कह तनम ॊ य भ प्रत ऩ ॅग्ॅत्रऩ ठी उऩतनर्दों की बूशभक डॉ. सुयजीत उवषिी य भध यी शसॊह हदनकय उवषिी अभय थचॅत्र कथ एॊ उवषिी क स भ ग्जक सॊदबष भीन आहूज उवषसी रखन र र उरट फ ॊस िैरी औय सॊत कफीययभेि चन्र उरॊघन बैयप्ऩ . य ध कृष्ट्णन उऩतनर्दों की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ व्मथथत रृदम उऩन्म सक य शिव स गय शभश्र डॉ. फोहय उध य की ग्जॊदगी यभेि गुप्त उनक ह र यचन भणण उनके आईने य जीव शसॊह उन्भ हदनी तनभषर व जऩेमी उन्भुक्त शसम य भ ियण गुप्त उन्भुक्त प्रेभ गुरूदत्त उऩतनवेि धभषऩ र उऩतनर्दों क सॊदेॅेि डॉ. ज नकी प्रस द उऩन्म सक य शिव स गय शभश्र डॉ.जे.2176 2207 2581 366 1318 4353 3247 1725 4482 3508 2286 4224 3586 548 214 3185 4129 3414 580 172 3506 2913 2914 4081 3758 3304 1847 4363 4159 1409 104 349 1210 4250 1590 4181 4182 4183 4226 4225 3903 3687 1530 2123 2124 1419 973 1328 3487 2490 1614 2015 उत्तय भच् वव. सुयजीत उदष ू के श्रेष्ट्ठ ह स्म व्मनम-2 स.

चन्रधय ॊ िभ ष गुरेयी उससे कह दे न ऩन्न र र नयोशरम उॊ च ईमों क ईश्वय बगवती ियण शभश्र ऋतु गॊध य भ ववर स िभ ष ऋतु वणषन यववन्र न थ त्म गी ऋवर्केस क ऩत्थय फशरव डे क न्त य व एक अदद औयत भभत क शरम एक अद रत औय है ड ॅॎ हरय भेहत एक अधयु अश्वभेघ डॉ.3585 1139 754 4280 504 1994 882 3229 698 1561 3897 4348 1198 3246 2020 3794 876 2839 4423 4362 611 2205 1131 1444 3458 1636 1864 3974 1618 2187 127 1650 1770 609 3453 415 4493 1868 342 2902 3217 2951 4227 245 1833 326 3925 790 1203 1862 2512 2541 उल्क वव.श्रीदे वी एक असम्बव भत्ृ मु प्रदीप्त ऩॊत एक इॊच भुस्क न य जेन्र म दव एक उरूक कथ श्म भ सुन्रय घे र् एक औय अनेक सीत ॊिु ब य्व ज एक औय अनेक ऺण िेय जॊग एक औय अहहल्म शभश्र एक औय आदभी भत्स्मेन्र एक औय गजर कृष्ट्ण नन्दन शसन्ह एक औयत की ग्जॊदगी शिवद न शसॊह चैह न एक औय तथ गत ध्म न भ खीज एक औय तथ गत ध्म न भ खीज एक औयत से इन्टयव्मू य जेन्र अवस्थी एक औय ऩॊचतॊत्र यभेि फक्िी एक औय पेय है जी क बगवती ियण एक औय भीय बगवती प्रस द व जऩेई एक औय भख् मभॊ त्र ी म दवेन्र ु एक औय र र त्रत्रकोण नयें र कोहरी एक औय व ऩसी दे वेन्र उऩ ध्म म एक औय हुभ मू न य मणी एक कयोड़ की फोतर कृष्ट्ण चन्र एक खफ दे वेन्र उऩ ध्म म ू सूयत सऩन एक गध नेप भें कृष्ट्ण चन्र एक चीख अॊधेये की गोऩ र उऩ ध्म म एक छोड. एक य ॊगेम य घव एक छोय एक य ॊगेम य धव एक ज ग दे ि ज ग म दवेन्र िभ ष एक जीतनमस प्रेभ कथ बैयव प्रस द गप्ु त एक टुकड़ इततह स हरयक ॊत एक टुकड़ इततह स गोऩ र उऩ ध्म म एक टुकड़ जभीन यभ िॊकय श्रीव स्तव . ब स्कय य व एक अशबम न ओय सुॅुयेि अतनम र एक अवक ग्जॊदगी के.ख ण्डेकय उल्क ऩ त फरनीर दे वभ उल्ट द ॊव प्रफोध कुभ य स न्म र उल्रू प्रवीण िभ ष उर् क र न य मण आप्टे उसक घय भेहरूतनस उसक फचऩन कृष्ट्ण फरदे व उसक फचऩन कृष्ट्ण फरदे व उसकी चड़ू ड़म ॊ कयत य शसॊह उसकी रड़ ई यभ क ॊत उसने कह थ औय अन्म कह तनम ऩॊ. दम िॊकय ववजम वगॉम एक अधयू ी आत्भ सी.स.

3025 2440 900 3531 2880 4351 1148 2582 951 1158 1773 845 3310 2035 2246 1265 628 3953 1096 2139 3009 3449 2211 4092 2737 1708 3570 4192 1417 871 3980 1602 1671 3081 247 2972 475 2918 3393 1208 583 1489 821 3983 3000 916 1252 4228 3979 216 742 3093 एक टुकड़ धयती कभर शसॊघवी एक ठहयी हुई य त य जेन्र भोहन एक ड र के कई पूर व्मथथत रृदम एकत अखण्डत की तस्वीयें व्मथथत रृदम एकत क सत्र य जकुभ य अतनर ू एकत के च य अध्म म बयत य म बट्ट एक त ये की आॊख भणण भधक ु य एक दधीथच औय डॉ.य ज नॊद एकफ य क्रपय ववनोद ऩ ण्डे एक फीघ प्म य अशबभन्मु अनॊत एक फीज शिवस गय शभश्र एक फॊगर फने न्म य ववजम भोहन शसॊह एक भह न नेत श्रीभती इॊहदय गव्मथथत ॊधी रृदम एक भह न नेत श्रीभती इॊहदय गव्मथथत ॊधी रृदम एक भुट्ठी आसभ न सत्मेंर शसॊह एक भॊॅॎॅूह दो ह थ गुरूदत्त एक म त्र सतह के नीचे शिव प्रस द शसॊह एक य त क नयक बूऩेन्र न थ एक यॊ ग औय कुछ य ग अऻेम एक रड़की की ड मयी ि नी एकर चरोये बगवती ियण शभश्र एक वह य भदयि शभश्र एक व मशरन सभुर के क्रकन ये कृष्ट्ण चन्र एक व्मग्क्त एक मुग तनय र न ग जन ुष एक श्र वणी दोऩहयी की घूऩ पणीश्वय न थ ये णु एक श्र वणी दोऩहयी की धऩ पणीिॅेवय न थ ये णु ू एक सड़क सत्त वन गशरम ॊ कभरेश्वय एक सड़क सत्त वन गशरम ॊ कभरेश्वय एक स थषक हदन भ रती जोिी एक स्त्री क ववद गीत भण ृ र ऩ ण्डे एक स्वय आॊसू क बगवती प्रस द व जऩेमी एक ही य ह िुकदे व शसॊह एक ही सुख तनयोगी क म िशि िभ ष . श्म भ शसॊह एकद नैशभर् यण्मे अभत ृ र र न गय एक द मय टूट स ओभ प्रक ि एक द मय टूट स ओभ प्रक ि एक धध यॊ जन िभ ष ुॊ से एक नदी क भनोवेग केिव एक नदी भें एक फ य कृष्ट्ण नन्दन शसन्ह एक नमे आदभी की भौत रशरत सहगर एक न थ अभय थचॅत्र कथ एॊ एक न यी एक प्ररम य भजी द स ऩयु ी एक तनमतत औय म दवेन्र िभ ष चन्र एक नीच रे जडी भण ृ र ऩ डे एक ऩत्त औय सुदिषन बॊड यी एक ऩहहए की ग ड़ी यभेि चैधयी एक ऩुशरस अथधक यी की आत्भकथ ववश्व न थ र हहयी एक ऩॊखड़ िभिेय शसॊह ु ी की तेज ध य एक फथगम भें अिोक चक्धय एक फहढ़म ि भ जीवन शसॊह ट कुय एक फस्ती एक दतु नम ॅॊभहे न्र यॊ जन एकफ य क्रपय ड .

य .2908 2961 2960 1979 1349 1412 1231 2367 2665 3518 3004 2826 4514 4281 1684 4364 2428 4193 363 2937 4425 1579 492 4282 1128 909 3169 2186 861 1460 2614 4025 2076 4340 1922 3800 512 1909 273 4195 890 2284 2117 1289 3795 2989 2481 2445 1947 1108 3755 1753 एक ॊकी िशि अरूण एक्जक्मूहटव क्रपजोशसस के. के. ऩोट्टवेक ट कथ ओॊ की अॊतय कथ एॊ य भ न य मण कथ ऩथ प्रेभऩ र िभ ष कथ वववेचन औय ग्म शिल्ऩ य भ ववर स . अभय चन्द एऩ य फॊगर ओऩ य फ ॊगर िॊकय एरीपैन्ट अभय थचॅत्र कथ एॊ एवभृ इन्रजीत प्रततभ अग्रव र एवये स्ट की कह नी हरयऩ र शसॊह अहुज एशिम की रोक कथ एॊ जगदीि चन्र एग्स्कभों की रोक कथ एॊ य भ कृष्ट्ण िभ ष ऐशिम की श्रेष्ट्ठ रोक कथ एॊ प्रहर द ियण ऐस सत्मव्रत ने नहीॊ च ह थ य जकुभ य गौतभ ऐस ही होग हे भॊत कुभ य ऐस है हभ य ियीय हयीि म दव ऐसे आती है खि ध्म न भुखीज ु ह री ऐसे फनो फह दयु भधु दीऩ ओथेरो िेक्स ऩीमय ओशरवय हटवस्ट सयु े ि सशरर ओशरवय हटवस्ट च ल्सष ड़डकेंस ओरॊवऩक अजम औझ प्रवेि ऩ त्र की औझ ई प्रत ऩ चन्र औ्मोथगक प्रफॊध एवॊ सॊगठन ि यद एवॊ बूरय औय अॊत भें हरयिॊकय औय इसके फ द दत्त ब यती औय कम्प्मूटय फैठ गम यभेि आज द औयत औय न ते दीग्प्त खण्डेरव र औय नदी फहती यही अभत ृ प्रीतभ औय भेय ववगत फ र िभ ष औय सयू ज ढर गम ऩरू ु र्ोत्तभ कªॅ ततक यी सुब र् िॊकय सुल्त न ऩुयी कई अॊधेये के ऩ य से. के. खन्न एन इन्रोडेक्िन टू भ केहटॊग डी. म त्री कई एक चेहये दे वेन्र उऩ ध्म म कच्ची धऩ ववजम तें दर ू ु कय कच्ची ऩक्की दीव यें य भ कुभ य कच्ची शभट्टी के रोग ववजम गोमर कच्चे भक न तनरूऩभ कच्चे ये िभ सी रड़की अभत ृ प्रीतभ कज्ज क शरमो त रस्ट म कट हुआ आसभ न जगदम्फ प्रस द कठऩत शरम ॊ सग्च्चद नन्द ु कठऩुतशरम ॊ भ णणक फॊधोऩ ध्म म कठऩुतरी प्रत ऩ चॊर कठऩुतरी नसष तथ अन्म कह तनम िीरॊ गुजय र कड़ी धऩ अभत ू क सपय ृ प्रीतभ कण्णयी अभय थचॅत्र कथ एॊ कतयन ववब दे व दे वसये कतयने क िी न थ वेसेकय कत यें य भ गोऩ र कथ अनन्त क् ग्न्त ्वववेदी कथ एक प्र न्तय की एस.

3326 1183 982 1630 3141 3416 2354 1347 70 1038 1099 3198 1072 948 4136 4426 3780 3910 4305 3909 4303 3390 3876 2182 476 1608 1505 1715 4492 155 630 3850 1828 797 1249 1129 2141 228 1122 3706 993 3051 3580 2365 785 1815 1701 4497 1819 2294 2371 2051 कथ सुन्दयी हहभ ॊिु कनक कभर गोववन्द फल्रब ऩॊत कन्म द न अयववन्द गोखरे कन्म द न फुवद्धय ज कन्म द न अयववॊद गोखरे कपन भें शरऩटे गर फ यभेि गप्ु त ु कत्रफय खड़ फ ज य भें बीष्ट्भ स हनी कफीय अभय थचॅत्र कथ एॊ कफीय ग्रॊथ वरी ऩुष्ट्म ऩ र कफीय ग्रॊथ वरी म भ सुन्दय द स कफीय खड़ फ ज य भें बीष्ट्भ स हनी कत्रब्रस्त न भें सॊववध न सत्मजीत य म कभतनस ॅ ॅॊकय फसु कभये भें फन्द अभ्म स शसम्भी हर्ंत कम्प्मूटय हयजीत कौय कम्प्मट य एक ऩरयचम धयु े न्र कुभ य ू कम्प्मट य औय हहॊ द ी डॉ. हयदम र कवव व हहनी फ दर सयक य किभीयी की रोक कथ ऐॊ तनभषर अग्रव र कश्भीय की ग्क्रमोऩेर गोववन्द फल्रब . थगयी कणष अभय थचत्र कथ कणष की आत्भकथ भनु िभ ष कनषर है प्ऩी के.के. हरयभोहन ू कम्प्मूटय औय हहॊदी डॉ. ऩी. सक्सेन कभषक ण्ड अभये न्र शभश्र कभषबूशभ प्रेभ चॊद कभषबूशभ प्रेभचन्द कभषबूशभ प्रेभ चन्द कभष मोग स्व भी वववेक नन्द कभषमोग स्व भी वववेक नन्द कभषमोग स्व भी वववेक नॊद कर की पटे ह र कह तनम ॊ क िीन थ शसॊह कर बी सूयज नहीॊ चढ़े ग सूयजीत शसॊह करभ क शसऩ ही प्रेभ चॊद करभ हुए ह थ फरय भ करय पोटो ग्र पी श्री सयण कर औय फूढ़ च ॊद सुशभत्र नॊदन ऩॊत कशरमुग आ गम ववभर शभत्र करॊगी व रे सुनीर िभ ष कल्ऩन वववऩन कल्म णी जैनेन्र कुभ य कवव क यचन व्म ऩ य औय स हहत्म जमिॊक ियस्त्र प्रस द कववत औय सॊघर्ष चेतन डॉ. भल्होत्र कम्प्मूटय क्म है गुण कय भुरे कम्प्मूटय सॊयचन औय सॊगठन आहदत्म ि स्त्री कयभ व री कश्भीयी र र कयवट अभत ृ र र न गय करूण रम जमिॊकय प्रस द कयोड़ों को योजग य ॅॊवी. मि गुर टी कववमो की ि मयी िेय जॊग गषग कववय ज फ ॊकी द स डॉ. हरयभोहन कम्प्मूटय के ब वर्क अनुप्रमोग वी. वी.

फरदे व फॊिी कह न सके जफ ऩेड़ य केि खन्न कहरय की ऩदशभनी मभ रर कह थ सुन थ जगदीि चन्र कह तनम ॊ नीतत की ियण कह नी अस्ऩत र श्री कृष्ट्णऩद बट्ट च मष कह नी क यचन ववध न जगन्न थ प्रस द िभ ष कह नी खद ज ट की श्रीकृष्ट्ण न थ ु कह नी नई कह नी न भवय शसॊह कह नी वीय सऩूतो की जमव्रत चटजॉ कह वतों की कह नी भुह वयों की डॉ. ऩी. जुफऩ नी ण्डेम सूयजक ॊत कह ॊ ऩ उ उसे सभये िु वसु कही-अनकही गॊग यत्न ऩ ण्डे कहीॊ जय स भुकेि ऩोऩरी कहीॊ से कहीॊ हरयकृष्ट्ण द स कहे ग ॊव की ग थ शिवस गय शभश्र कहे नीभ सुने नग ड़ के. सक्सेन क ई औय कभर यघुवीय ियण क ई न यहे फेक य दे वेन्र उऩ ध्म म क कटे र तनभ ई बट्ट च मष क क दत क क ह थयसी ू क क ह थयसी ह स्म यचन वरी क क ह थयसी क कोयी के क् ॊॅॎततक यी सुयेि क गज औय कैनव स अभत ृ प्रीतभ क गज क रॊगय शिव स गय शभश्र क जय की कोठयी दे वकी नन्दन खत्री क जय की कोठयी दे वकी नन्दन खत्री क ठ की हॊ ड़डम दे वय ज क त्म मनी सूमफ ष र क दम्फयी बगवती ियण उऩ ध्म म क नन कुसभ जम िॊकय प्रस द ु क नून क पैसर िॊकय फ भ क ऩुरूर् ऩमोद त्रत्रवेदी क ऩुरूर् प्रभोद त्रत्रवेदी क ऩुरूर्-भह ऩुरूर् आत्रफद सुयती क पी ह उस य भ प्रस द क भधेनु कुफेय न थ य म क भन गुरूदत्त क भन जम िॊकय प्रस द क भये ड प ततभ दम नॊद अनॊत क भ मनी जम िॊकय प्रस द क भ मनी ऩय वेॅैहदक क प्रब वड ॊ कणष शसॊह वभ ष क म कल्ऩ प्रेभ चन्द क फेट नेिनर ऩ कष यभेि फेदी . अनॊत कसे हुए त य यभेि फक्िी कसौटी श्रीन य मण चतव ु ेदी कस्तुयी भग शिव प्रस द शसॊह ृ कस्फे क आदभी कभरेश्वय कहत कफीय डॉ.शिफन कृष्ट्ण कश्भीय सभस्म औय ब यत ऩ कड म ॅॎॅ ुद्ध कृष्ट्ण दे व कसभ वी.1983 1595 304 3058 895 1237 469 2829 4485 4107 3318 2298 1685 412 43 2417 2634 1826 3823 2397 1716 4508 1852 1168 2647 660 3262 1915 2336 2774 1573 2994 2825 1018 1535 421 4365 210 1044 1587 1673 2452 2019 1855 1213 485 1048 2801 1043 517 832 3298 कश्भीय कीततष िेर् यघुन थ शसॊह कश्भीय की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ ड ॅॎ.

ख डेकय ृ क ॊतत क दे वत जगन्न थ शभश्र क यग्न्तवीय सुब र् थगयीय ज ियण क्रकतन फड़ झूठ उर् वप्रमवॊद क्रकतनी भुग्क्त सुध बटन गय क्रकतनी भग्ु क्त सध ु बटन गय क्रकतयू की य नी अभय थचॅत्र कथ एॊ क्रकत्ती अग्जत क्रकत्तुय की य नी अ. एभ. य भ भूततष क िी क नम ऩॊड़डत कभर िुक्र क हे होत उद स गुरूदत्त क ॅॎकटे र तनभ ई बट्ट च मष क ॅॎस्टीट्मि न आॅॎ प इॊ ड़ डम -1 डॉ. अऻ त क र हीय द भोदय म दव क शरद स की आत्भकथ य भ अवत य क शरद स कृत भेघदत य ॊगेम य घव ू क शरद स के न टक डॉ.ु न शसय िभ ष क रीद स अभय थचॅत्र कथ एॊ क रीद स की आत्भकथ ऩोद्द य य भ अवत य क री ऩयी औय अन्म कह तनम ॊ सववत चड्ढ क रे कोि फरवन्त शसॊह क रे हदन य जकुभ य क रे हदन उग्जम रे हदन सतीि दत्त क वेयी फुवद्धय ज क व्म क स्वरूऩ सत्मदे व क व्म तत्व ववभिष डॉ. ख डेकय ृ क ॊचनभग वव.3938 2912 1736 3633 3779 761 486 4486 2639 1816 3151 1580 2045 3754 2037 2027 3410 3662 2620 2667 1445 1030 3430 1929 914 2701 1290 1504 4283 2342 1695 1913 1629 1668 1747 1721 885 634 2966 2967 272 2998 1006 1565 932 2623 576 1085 1680 1333 1776 118 क शभषक प्रफॊध कर भहे न्र न थ चतुयवेदी क मष भूल्म ॊकन सुब र् गौड़ क म षरम अनुव द की सभस्म बोर न थ क म षरमी अनुव द तनदे शिक गोऩीन थ श्रीव स्तव क म षरमी हहॊदी की प्रकृतत चन्र ऩ र िभ ष क र क ऩहहम ॊ ड . बगवत ियण क री आॊधी कभरेश्वय क री क्रकत फ कभर िुक्र क री छोटी भछरी अन. जैन ू क ॅॎस्टीट्मूिन आॅॎप इॊड़डम -2 डॉ. हयदम र क र ऩ त्र सुभेय शसॊह दहहम क रभुॊह गोववन्द च तक क रय ग ओभ प्रक ि क र कोर ज कृष्ट्ण फरदे व वैद क र गुर फ बीभ सेन त्म गी क र जर ि नी क र नवम्फय सयु े न्र ततव यी क र ऩ नी ववन मक द भोदय स वयकय क र ऩुरूर् डॉ.स. सी. क्ष्ण य व . जैन क ॊगड़ भहे न्र शसॊह क ॊग्रेस के सौ वर्ष भन्भथन थ गुप्त क ॊचन भग वव. एभ. सी. हय गर ु र क रचक् गुरूदत्त क र थचन्तन ब ग-1 य जेन्र अवस्थी क रजमी बव नी प्रस द क रजमी कथ कृतत डॉ.स.

ु आच मष दीक्षऺत कीतषन तथ अन्म कह तनम ॊ य जेन्र प्रस द कीतषन तथ अन्म कह तनम ॊ य ॊगेम य घव कीर भहीऩ शसॊह कुआॊयी इस्भत चग ु तई कुकुयभुत्त सूमक ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र कुछ कण कुछ फूॊदें सॊगदे व त्रत्रऩ ठी कुछ चॊदन की कुछ कऩयू की ववष्ट्णक ु ॊत ि स्त्री कुछ हदन औय भॊजयू एहति भ कुछ दयू की कुछ ऩ स की फच्चु प्रस द शसॊह कुछ दयू तक अचषन वभ ष कुछ नॊॅीतत ॅॊकुछ य जनीतत बव नी प्रस द कुछ फ ते कुछ रोग िॊकय दम र शसॊह कुछ भह ब यत औय ॅ िी क न्त कुण र सोहन ्वववेदी कुत्ते की कह नी प्रेभचन्द कुत्ते की भौत प्रदीऩ ऩॊत कुब्ज सुन्दयी चक्वती य जगोऩ र च मष कुबी ऩ क न ग जन ुष कुभ रयक एॊ बट्ट च मष कुभ रयक एॊ कृष्ट्ण अग्ननहोत्री कुय न ियीप अहभद फिीय कुरू-कुरू स्व ह नये न्र कुरूऺेत्र य भध यी शसॊह हदनकय कुरूऺेत्र य भध यी शसॊह हदनकय कुरूऺेत्र की एक स ॊझ चन्र िेखय कुरजभ स्वरूऩ औय इस्र भ धभष डॉ. अॊस रूर हक अॊस यी कुर ररन ड . सीत य भ शसॊह कीड़-भकोड़ो क ववथचत्र जगत भीन चैधयी कीयो अॊक ववऻ न औय ज्मोततर्अन. िभ ष क्रकय मे क भक न रूऩ न य मण िभ ष क्रकथचषम ॊ आि ऩण ू ष दे वी क्रकरो की कह नी क्रकरो की जुफश्रीक नी ृ ष्ट्ण क्रकिन र र सुदीऩ फनजॉ क्रकिन र र सुदीऩ फनजॉ क्रकिोय प्रब कय भ चवे क्रकिोरयम ॊ भ त -वऩत के स थ तन ड ॅॎव. स्म रूऩ न हटक न य एॊमण.प्रभीर टकय वकऩुय क्रकस कर के शरए नन्द क्रकिोय क्रकस के शरए हदनेि चन्र क्रकस न की बूर जैनेन्र कुभ य क्रकस्स द ढ़ी क रतीप घोंधी क्रकस्से उऩय क्रकस्स यभेि फऺी क्रकॊ गशरमय फचन कीटों क सॊस य प्रो. य भकुभ य कुरहीन मोगी शिवस गय शभश्र कुरी ब ट सम ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र ू क कुसभ क भ यी दे व की नॊदन खत्री ु ु कॊु डरी चक् वॊॅृद वन र र वभ ष कॊु दन अभय न थ िुक्र .क्रकन ये सीत य भ ऩ यीक क्रकन्नय घय कृष्ट्णन थ क्रकन्नयी ि शरग्र भ शभश्र क्रकय ए क भक न औय अन्म ह डॉ.2485 3136 1230 3699 2171 3618 2281 1698 2226 1155 1516 1706 748 4302 1175 1787 1394 4111 2646 3673 429 801 843 1974 986 710 328 774 1830 2390 2768 3498 1113 977 2268 2722 1544 3383 3183 3872 79 1026 934 974 1160 4185 394 3062 190 3116 355 720 क्रकन ये .

सतीि जैन कैंसय व डष अरेक्जेंडय कोई एक घय भनहय चैह न कोई एक दस आिुतोर् भुखोऩ ध्म म ू य कोई तो ववष्ट्णु प्रब कय कोई तो ववष्ट्णु प्रब कय कोई ऩत्थय से के. के.वॊिी की धन कन्है म र र ु केन्र औय ऩरयथध अऻेम केयर के क् ग्न्तक यी ववष्ट्णु प्रब कय केिव की केि स धन िॊकय सुल्त नऩूयी कैक्टस औय गर फ जगदीि चतव ु ु ेदी कैक्टस के क ॊटे िॊकय ऩण तोफे कय ु कैद आव जें य भ कुभ य भ्रभय कैस है हभ य व मुभॊडर िुक् दे व प्रस द कैसे क भ कयते हैं मॊत्र औय भिीन य जेन्र कुभ य य जीव कैसे कैसे सच ववभर शभत्र कैसे कैसे सच ववभर शभत्र कैसे फचे कीड़ों औय भच्छयों से डॉ. गूभय कौक्रकर गौयी िॊकय कौन क्रकसी क यववन्रन थ ठ कुय कौशिक जी 21 कह ॊतनम ॊ ऩीत म्फय न थ कॊप्मूटय एक ऩरयचम डॉ. तनम नन्दॊ क्रकिोय ववक्भ कृवर् ववऻ न प्रवेशिक वव प्रस द गुप्त कृष्ट्ण औय शििऩ अभय थचॅत्र कथ एॊ ु र कृष्ट्ण कथ सयू ज भर भेहत कृष्ट्ण कशर शिव नी कृष्ट्णचॊर की कह तनम ॊ कृष्ट्ण चन्र कृष्ट्ण व हन की कथ यवीन्र न थ त्म गी कृष्ट्ण वेणी शिव नी कृष्ट्ण वत य-ऩ ॊच ऩ ण्डव कन्है म र र कृष्ट्ण वत य .ऩी.3024 502 4462 4090 1292 3832 2023 2013 2275 1500 2078 1593 2977 3898 2383 1679 2173 2061 4408 4276 1455 2116 4247 423 2322 2517 1578 2461 3089 2633 4248 2534 4046 1735 3811 256 3641 2681 142 1902 3677 3245 3900 148 343 287 2039 4133 3759 1625 1150 3688 कृतत स्भतृ त कन्है म र र नॊदन कृत्रत्रव स य भ मण सॊत कृत्रत्रव स कृश्न चन्दय औय उनकी श्रेष्ट्ठ कह स.सक्सेन कोमरे क यॊ ग र र तनभषर घोर् कोमरे की कह नी सुब र् चन्र कोये क गज अभत ृ प्रीतभ कोण षक प्रतीब य म कोि ववऻ न बोर न थ कोहये की घ टी भें दे वेन्र उऩ ध्म म कोॅेतव र की कय भ त वन्ृ द वन र र वभ ष कौआ औय हॊ स-2 श्री एस. आि बटन गय क्म कह कय ऩुक रूॊ सवेश्वय दम र सक्सैन क्म खोम क्म ऩ म ववष्ट्णु प्रब कय क्म गौयी क्म स ॊवरी दे वेन्र सत्म थॉ क्म ऩ क्रकस्त न ग्जॊद यहे ग जभन द स क्म बूॊरूॊ क्म म द करूॊ फचन क्मों शिव नी क्मों औय कैसे भनोहय र र वभ ष क्मों-क्मों कैसे स भ न्म ऻ न ववववध हरय दत्त िभ ष क् ग्न्तक यी अजीजन फ ई ईश्वय प्रस द क् ग्न्तक यी आज द िॊकय सुल्त न ऩुयी क् ग्न्तक यी दे िबक्त भुसरभ न बयत य भ बट्ट .

ख डेकय क्ौंचवध तथ अन्म कह तनम ऋच िुक्र क्रकष जम जम य भ अरूणऩ र ऺणजीवी ऻ न यॊ जन ऺणों भें फॊट आदभी कुरदीऩ फनग ऺुथधत ऩ र् ण यवीन्र न थ ठ कुय खजुय हो क शिल्ऩी िॊकय िेर् खजुय हो की इततरूऩ अग्म्फक प्रस द खजॊन नमन अभत ृ र र न गय खड़डत य ग ववये न्र सक्सेन खम्बों के खेर गोऩ र चतुवेदी खम्भ अन्नद त म दवेन्र खयीदी कौड़ड़मों के भोर -1 ववभर शभत्र खयीदी कौड़ड़मों के भोर -2 ववभर शभत्र खरीर ग्जब्र न ऩैगॊफय डॉ. तनरीन शसॊह खव तर हव स न य मण ब्रजक्रकिोय ु ख खी वहदष मों क जॊगर के. स. व ई ऩेतवीम ख तुर भॊजुर बगत ख भोि अद रत ज यी है ववजम तें दर ु कय ख र क घय न हह य जेंर य व ख री ह थ हरय कृष्ट्ण दे वसये णखड़की के टूटे हुए िीिे भें य जेन्र उऩ ध्म म णखड़की फॊद कयदों थगयीि फक्िी णखरती धऩ उर् ऩ ॊडम े ू की ये ख णखर ड़ड़मों क फचऩन जसदे व शसॊह णखर ड़ी य जवॊि णखरौने ववष्ट्णु प्रब कय खद ै िभ ष ु य भ औय चॊद हॊ शसनो के खत ु ऩुरण्डेम फेचन खद यववॊर क शरम ु सही सर भत है खयु क औय फीभ रयम ॊ अभय न थ खऩ शभज ष अजीभ फेग ु ष फह दयु खर हयीि ब द नी ु अर व ऩक ई घ टी खर यभेि फक्िी ु े आभ खर यभेि फक्िी ु े आभ खर यभेि फक्िी ु े आभ खर वीयय ज ु े जॊगर क िेय खर े जॊ ग र क िे य वीय य ज ु खि फ ओ ॊ क े दॊ ि मोगें र दत्त ु ु खि धभेन्र गप्ु त ु फू औय ऩग्त्तम ॊ खि दे वेन्र इस्सय ु फू फन के रौटें गे .2308 1524 617 3896 544 725 4127 3264 2119 1832 572 4194 2496 3127 4401 2248 3932 522 537 3047 2775 3956 4380 1873 1009 1010 3672 395 1975 1882 1924 2543 4045 4343 3433 711 3250 457 2220 3328 2549 4409 253 1101 953 1723 3933 1863 2222 3288 3176 4052 क् ग्न्तक यी मिऩ र य जेि िभ ष क् ग्न्तक यी सुब र् िॊकय सुल्त न ऩुयी क् ग्न्त फीज गोऩी कुभ य कौसर क् ॊततक यी एक ॊकी सॊग्रह सूयज दे व प्रस द क् ॊततक यी की कह नी ववजम कुभ य क् ॊततक यी थचहट्ठम ॊ ववन मक द भोदय क् ॊततक यी दे ि बक्त शसक्ख बयत य भ बट्ट क् ॊततक यी स वयकय शिव कुभ य गोमर क् ॊतत की कह ॊतनम -ॊ 1 सुिीर कुभ य क् ॊतत के हदन य जदे व शसॊह क् ॊततदत भन्भथ न थ गुप्त ू बगत शसॊह क् ॊततवीय चन्रिेखय आज द हरय भोहन र र क्ोंचवध वव. एभ.

गुप्त खेरों की कह नी ड . सक्सेन गजर फ र िभ ष गजर एक सपय नख ू फी अब्फ सी गजरें ही गजरें िेयजॊग गढ़ कुड य वन्ृ द वन र र गढ़व र की झरक्रकम ॊ डॉ. शिव नन्द नौहटम र गणदे वत त य िॊकय ॅॊफन्धोऩ ध्म म गणऩुत्र दे वी िॊकय गणणत क प्रश्न मिऩ र जैन गणणत क प्रश्न नये न्र कोहरी गणणत के चट रशरत न य मण ु कुरे गणणत के योचक खेर बगव न स्वरूऩ गुप्त गणेि िॊकय वव्म थॉ फन यसीद स चतव ु ेदी गणेि िॊकय वव्म थॉ दे वदत्त ि स्त्री गणेि िॊकय वव्म थॉ की जेर ड सुयमयी ेि गदय ऋर्ब चयण जैॅैन गदय के पूर अभत ृ र र न गय गदय के पूर अभत ृ र र न गय गदय ऩ टॊ क इततह स प्रीतभ शसॊह ऩॊछी गद्द य डॉ.एशिम भ थयु गरत जगह सुबर गशरम ॊ य भ कुभ य भ्रभय गशरम ॊ गशरम ये कववत शसॊह गरी आगे भुड़ती है शिव प्रस द शसॊह गरी के भोड़ ऩय प्रब कय भ चवे गरी के भोड़ ऩय प्रब कय भ चवे गव ऺ शिव नी गव ऺ दीनदम र ओझ गव ह गैय ह ग्जय चन्र क्रकिोय . फी. हरयकृष्ट्ण दे वसये गद्द य य जभॊत्री फॊिी र र गफन प्रेभचॊद गफन प्रेभ चन्द गयभ य ख उऩेन्र न थ अश्क गरयम ह ट के ऩर ऩय वे दोनों गौय क्रकिोय घोर् ु गयीफ ऩयी तथ अन्म कह तनम रक्ष्भी न य मण र र गरूड़ क्रकसने दे ख है श्रीक न्त वभ ष गहदष ि के हदन कभरेश्वय गवषभेन्ट एॊड ऩ ॅॎशरहटक्स इन सऩी. उथसी. ऩी. खेर-खेर भें गणणत डॉ. गूभय खॊजन नमन अभत ृ र र न गय खॊड़डत म त्र एॊ कभरेश्वय गज पुट इॊच के.भनभोहन सयरी/मोगेन्र कु.2407 2505 722 1838 959 3652 4243 1187 493 2830 2162 3646 1114 2014 2108 4198 4308 3443 1900 4265 197 2274 829 1491 2888 4475 69 3520 2221 3683 1456 2340 4500 3962 2453 971 3849 158 1957 3102 3438 1116 2956 1615 2335 2803 703 3515 3631 735 1386 1582 खन य भ कुभ य ू की आव ज खन मऻदत्त ू की हय फूॅॎॅॊद खफ भनहय चैह न ू रड़ी भद षनी खफ कृष्ट्णदे व ू सूयत फर खि फ क े शिर रे ख बव नी प्रस द ू ू खेर-2 भें ववऻ न स. के. एस. हरय कृष्ट्ण दे वसये खोई हुई आव ज यभ क ॊत खोई हुई हदि एॊ कभरेश्वय खोखर ढोर जैनेन्र कुभ य खोद ऩह ड़ औय तनकर चह ू -7 श्री एस.

अगीत गोऩ र द स धीयज गीत अगीत सुशभत्र नॊदन ऩॊत गीतगॊॅॎॅूज तनय र गीत पुह य य केि नद ु यत गीत हॊ स सशु भत्र नॊदन ऩॊत गीत अभय थचॅत्र कथ एॊ गीत ऻ न फोध की कथ भद ु गुप्त ृ र गीत ॊजशर यववन्रन थ ठ कुय गीततक तनय र गीरी धऩ य जेि जैन ू गुजय त की ऩुयस्कृत कह तनम ॊ आत्रफद सुयतत गुजय त की रोक कथ ए भनहय चैह न गुजय त की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ अयववन्द जोिी गुजय ती औय उसक स हहत्म ऩदभ शसॊह िभ ष गज ु य ती की चथचषत कह ॊतनम ॊ नये न्र धीय गज कृष्ट्ण -फरदे व वैद ु य हुआ जभ न गुड़डम खो गई ववष्ट्णु प्रब कय गुड्डी गई दे खने भेर ऩवन कयण गुण मुग प्रत ऩशसॊह तरूण गुन हो क दे वत धभषवीय ब यती गुन हों क दे वत धभषवीय ब यती गुन हों क दे वत ड . भहीऩ शसॊह ु गरू ते ग फह द य अभय थचॅत्र कथ एॊ ु ु गुरू न नकदे व य जेि िभ ष गुरू न नकदे व नये न्र ऩ ठक . स हदक गीत . के.च.च.च. ग ॊधी ग ॊधी स हहत्म प्र थषन प्रवचन-2 भोहन द स क. ग ॊधी ग ॊधी स हहत्म -सत्म के प्रमोग भोहन द स क. न य मण ग ओ फच्चों फ रकवव फैय गी ग त हुआ ददष य भवत य त्म गी ग थ िेख थचल्री यववन्र वभ ष ग न्ध य की शबऺुणी ववष्ट्णु प्रब कय ग न्धी के दे ि भें हरयय भ ग ॊठ रृदमेि ग ॊध यी अभय थचॅत्र कथ एॊ ग ॊधी की दे न य जेंर प्रस द ग ॊधी की दे न य जेंर प्रस द ग ॊधी दिषन उर् कऩूय ग ॊधी नेॅे कह थ थगयीय ज ियण ग ॊधीव द की िव ऩयीऺ मिऩ र ग ॊधी स हहत्म प्र थषन प्रवचन-1 भोहन द स क. ग ॊधी ग ॊव से गौयव अन्न य भ ग ॊव हॊ से पसरें भुस्कय ई य जेंर भोहन बटन गय थगजु ब ई क शिऺ भें मोगद नब यत र र ऩ ठक थगनीज फुक ऑप वल्डष रयक डष न रयॊस थगयते आसभ न क फोझ डॉ.2341 759 164 1718 3234 1098 2557 1531 773 1314 352 392 408 1463 2432 13 14 15 1988 3100 3587 3255 4429 3624 996 1065 4439 995 1323 899 1514 1066 1477 661 1361 2669 225 1586 2088 3713 4385 1179 154 440 814 1690 178 1279 3804 1278 393 906 गव ह गैय ह ग्जय चन्र क्रकिोय गव ह नम्फय तीन ववभर शभत्र ग ईड आय. धभषवीय ब यती गुप्त औय उनकी सूग्क्तम ॊ ियण गुप्तधन बगवती प्रस द व जऩेमी गुरू गोववन्द शसॊह अभय थचॅत्र कथ एॊ गरू गोववन्द शसॊ ह जीवन औय आदिष डॉ.

एर. चन्रधय िभ ष गुरेयी गुरेयी जी की अभय कह तनम ॊ डॉ.1280 3015 3053 1546 4130 3278 2863 685 2726 3349 4274 2606 1874 818 3283 4039 2564 4284 3793 72 500 852 552 3275 3597 1205 1837 1094 2249 2629 505 123 150 282 810 151 1574 2315 2991 1382 284 3943 1204 2975 2153 2368 314 2475 1750 1999 1149 गुरू हय गोववन्द शसॊह अभय थचॅत्र कथ एॊ गुर भोहय के आॊसू आत्रफद सूयती गुर हुए थचय ग भहक्रपर के य जेश्वय प्रस द गुशरवय फ र कवव फैय गी गशु रवय की म त्र एॊ श्री क ॊन्त व्म स गशु रस्त ॊ िेख स दी गुशरस्त ॊ की कह तनम ॊ िेख स दी गुरेयी की अभय कह तनम ॊ ऩॊड़डत चन्र धय िभ ष गुरेयी की अभय कह तनम ॊ ऩॊ. हरयय भ जी भह प्रबु दीनदम र ओझ गौतभ दत्त ब यती गौद न प्रेभ चन्द गौभती भॊगर ब्रज बुर्ण गौयवफ नी ऩयम्ऩय औय क व्मत्वभनीर् िभ ष गौय फ दर दे वय ज हदनेि गॊग की कह नी प्रब त्रत्रऩ ठी गॊग की ऩुक य सोभ दत्त फखोयी गॊग गॊग क्रकतन ऩ नी बगवती ियण गॊग -गॊग क्रकतन ऩ नी बगवती ियण गॊग जर केिव प्रस द गॊग भ टी रक्ष्भी न य मण र र . वव्म धय िभ ष गुरेयी यचन वरी भनोहय र र गुरेर 4 िॊकय ऩुणत त्रफकये गुस्त खी भ प यभेि फक्िी गुॊगे कॊठ की ऩुक य जव हय शसॊह गूॊग जह ज वववेकी य म गॊग े स य फ स ॊ य ी क े ऩन्न र र ऩटे र ू ु ु गॊग ों क ग व ॊ चन्र िेखय दफ ू ु े गें ह्ॅू औय गुर फ ख्व ज अहभद अब्फ स गैंड प्रवीण िभ ष गोदबयी ऩद्म सचदे व गोद न प्रेभ चॊद गोद न प्रेभचॊद गोद न प्रेभचन्द गोद न एक नव्म ऩरयफोध त्रत्ररोकीन थ खन्न गोधशू र एस.एर. बैयप्ऩ ू गोऩरी गपुयन ॅौरेि बहटम नी गोऩरी गपूयन िैरेर् बहटम नी गोऩी गॊज सॊव द प्रणव कुभ य फॊधोऩ ध्म म गोभ ॊतक स वयकय गोय यववन्रन थ ठ कुय गोय यववन्रन थ ठ कुय गोय यववन्र न थ ठ ॊकुय गोय यववन्र न थ ठ कुय गोरी आच मष चतुय सेन ि स्त्री गोरी आच मष चतयु सेन गोरू के भ भ यभेि चन्र गोल्थ के ज टों क इततह स ड . अजम कुभ य गो. बैयप्ऩ गोधशू र आि ऩूण ष दे वी गोधर ी आि ऩण ू ू ष दे वी गोधर ी एस.

एन.ॊ सुबर ग्र भीण ऩरयवेि की श्रेष्ट्ठ कह तनम ड .2457 4471 315 2782 3290 4123 954 4285 2658 1110 2337 3150 2662 1970 2233 886 514 1991 2848 4196 1881 4420 1327 134 4084 2395 4512 3627 2474 3073 2183 673 2458 2325 3177 2836 97 1559 3329 1336 3595 1677 2392 2269 3435 2792 1841 1049 211 232 307 1528 गॊग भैम बैयव प्रस द गॊग से गटय तक गोऩ र प्रस द व्म स गॊग से ऩववत्र अबम कुभ य गॊगोत्री से गॊग स गय प्रेभ र र बट्ट गॊदे ह थ जव ॊ ऩ रस ु त्र गॊध अबी फ की है जगन्न थ ऩ ठक गॊध औय ऩय ग दे वय ज हदनेि ग्र भ औय ग्र भीण य हुर स ॊकृत्म मन ग्र भ रक्ष्भी ऩीत म्फय ऩटे र ग्र भीण ऩरयवेि की श्रेष्ट्ठ कह तनम डॉ.ॊ सुबदत्त ग्र म्म जीवन की श्रेष्ट्ठ कह तनम भधक ु य शसॊह ग्र म्म रोक कथ एॊ शिव न य मण नरेशिमय से भद ु गगष ृ र नरोफ की ये ख एॊ चॊरिेखय घटन चक् सभ ु ततउच्चय घनश्म भ द प्रेभेन्र शभश्र घनश्म भ द के औय क्रकस्से प्रभेन्र शभत्र घयजभ ई िै कत थ नवी घय रौट चरो वैि री अशबभन्मु अनॊत घय-सॊस य अन्न य भ घय ही स्वगष है हदव्म भ यभ दे वी घये रू इर ज ड ॅॎ सभयसेन घयौंद य ॊगेम य घव घ ट-घ ट क ऩ नी कन्है म र र नन्दन घ टी के रोग जमव्रत घ तक य गों से कैसे फचें डॉ. श्रीव स्तव व ि ही श्रीव स्तव घ सी य भ कोतव र ववजम तेदर ु कय घूभती हुई ग्जन्दगी श्रीय भ िभ ष घेये के फॊदी कुरदीऩ चॊद घोय घने जॊगरों भें आनॊद स्व भी घ्रुव फरवीय त्म गी चकय करव मिऩ र चक्वतॉ दियथ सुिीर कुभ य चक्व त भॊजु गुप्त चक्व्मूह शिव स गय शभश्र चट्ट नों के फीच प्म ये र र अव य चढत न दज ो यॊ ग अभत ू ृ र र न गय चतयु ऩीतय औय नसरूदीन ह जीसत्मेन्र ववज चतुय फीयफर अभय थचॅत्र कथ एॊ चतुयॊग यवीॊरन थ ठ कुय चतुहदष क यभेि उऩ ध्म म चन्द टुकड़े औयत थगरयि फक्िी चन्दन औय ऩर ि य भ न य मण उऩ ध्म म चन्दन है भ टी भेये दे ि की वीये न्र शभश्र चन्रक ॊन्त दे वकी नन्दन खत्री चन्रकॊु वय वत्वशर की कववत एॊ उभ िॊकय चन्र गुप्त जम िॊकय प्रस द चन्र फु प्त ववक्भ हदत्म श्री शभश्र फॊधु चन्र फु प्त ववक्भ हदत्म शभश्र फॊधु चन्र म त्र ओॊ की कह नी धभषऩ र चन्र वरी न हटक बूर्ण स्व भी .

क्मो कैसेधभषऩ र ि स्त्री चरयत्र फोध की कह तनम ॊ न य मण र र चरयत्रहीन ियतचॊर चटटोऩ ध्म म चरयत्रहीन ियतचॊर चट्टोऩ ध्म म चरयत्रहीन ियत चन्र चरयत्रहीन कौन फ र िभ ष चच ष सुह ग की िॊकय चथचषत कह तनम ॊ जगदीि चतुवेदी चथचषत कह तनम ॊ गॊग प्रस द चथचषत कह तनम ॊ गॊग प्रस द चथचषत कह तनम ॊ जगदीि चतुवेदी चथचषत कह तनम ॊ गॊग प्रस द ववभर चरकय दे खो अच्छी य ह ऩवन कयण चरते-चरते ववभर शभत्र चरते-चरते ववभर शभत्र चर भेये भटके ठभक ठभ रक्ष्भण ब य्व ज चर यही रड़ ई भह श्वेत दे वी चरो करकत्त ववभर शभत्र चरो वऩम के दे ि ववभर शभत्र च कय ग थ गुरूदत्त च कय ग थ ववभर शभत्र च करेट ऩ ण्डेम फेचन ै च कू फरवन्त ग गॉ च च चकल्रस क क्रकयक्रकट चक्कय दे वेंर ब य्व ज च च नेहरू भल् ु कय ज आनॊद च णक्म बगवती चयण च णक्म की जम कथ ववष्ट्णुॅु चन्र िभ ष च णक्म के चेरे डॉ. के. फयस ने र र चभत्क य ववऻ न के जभत य म आच मष चम्ऩ करी ऋर्बचयण जैन चयण कभर चॊरक ॊत ब य्व ज चय दआ तनभषर िभ ष ु य चरयत्र ववभर शभत्र चरयत्र तनभ षण की कह तनम ॊ . गूभय चभचभ चभके स त शसत ये जम प्रक ि चभच थगयी डॉ. फयस ने र र च णक्म प्रततऻ कैर ि न थ च णक्म भह न य भऋवर् िुक्र च णक्मे बगवती चयण वभ ष च म के फ ग न कयष तुर एवॊ है दय च य अध्म म यवीन्र न थ ठ कुय च य आॊखों क खेर ववतर शभत्र च य गग्ल्तम ॊ िोकत थ नवीॊ च य चेहयें सह ु ै र आजीभ फ दी च य हदन य भ ववर स िभ ष च य हदन की शिव नी च य दीऩ शिख एॊ ऩी.266 3647 2167 2429 4249 813 506 1124 1452 4387 4388 612 4386 1177 1648 120 812 3861 3029 2018 1713 1714 2234 2235 4071 4389 998 1145 624 3534 390 2815 1082 1247 2011 3810 3505 3513 2306 2352 2846 1965 933 2940 4441 1001 2074 271 3889 4197 1961 3236 चभकी अजीभ फेग चकत ई चभग दड़ की ि भत-8 श्री एस. डी. टॊ डन .। य ज फह दयु शसॊह चरयत्र तनभ षण की कह तनम ॊ .।।य ज फह दयु शसॊह चरयत्र तनभ षण की प्रेयक कह तनमव्मथथत ॊ रृदम चरयत्र तनभ षण क्म क्मों औय कैधभष से ऩ र ि स्त्री चरयत्र तनभ षॅ ण् क्म .

य भ गोऩर वभ ष ि ग्न्त स्वरूऩ गुरूदत्त भद ु गगष ृ र वववेकी य म जम िॊकय प्रस द ि न्त प्रम ग िक् ु र आि य नी सीत य भ भह ऩ त्र क जर एण्ड सॊगीत डॉ. ग्जतेन्र ऩ र य भ चॊर िुक्र य भ चॊर िुक्र स्वेट भ डषन स्वेट भ डषन िैरेि बहटम नी ज्मोत्सन शभत्तर य ज कुभ य भ्रभय ओभ प्रक ि शसॊह हे तु ब य्व ज अशबभन्मू अभत ृ प्रीतभ िोब क ॊत शभश्र िोब क ॊत शभश्र िोब क ॊत शभश्र ग ववध भ री य जेन्र गढ़व शरम ्व रयक प्रस द इन्र य ज िभ ष िॊकय य म म दवेन्र िभ ष चन्र म दवेन्र उऩेन्र न थ अश्क उऩेन्र न थ अश्क थगयीय ज क्रकिोय म दवेन्र उऩेन्र न थ अश्क य भदे व धयु न्धय य जेन्र म दव अशबभन्मु अॊत अशबभन्मु फदी उज्जभ व्मथथत रृदम .1867 109 4122 896 1196 1681 4448 3157 4390 2858 484 2276 3664 1045 3079 3263 2384 4079 4154 4315 137 138 808 2002 2016 3214 4229 4383 2228 2448 2575 3350 3351 3356 275 2738 1793 4150 4370 4354 2017 2600 2601 2562 1912 2599 2444 3424 834 2488 3075 1537 च य फह दयु च रूरत च रीस स र क सपय च ॊद क भुॊह टे ढ़ है च ॊद के धब्फे च ॊदनी क चोय च ॊद स ॊवर हे च ॊद से आगे थचड़ड़मों क गीत थचत थचॊतन थचतेयेॅे थचत्तकोफय थचत्रकूट के घ ट ऩय थचत्र ध य थचत्र ॊजशर थचत्रों क सॊस य थचन्तन औय चेत वनी थचयई यी तू क्म ज ने थचल्रन वऩक्चय ड़डक्सनयी थचॊग यी थचॊत भणी ब ग-। थचॊत भणी ब ग-।। थचॊत भुक्त कैसे हों थचॊत भुक्त कैसे हों चीख चीखो आयऩ य चीड़ क आदभी चीन की रोक कथ एॊ चीप स हफ आ यहें हैं चन ु -चन ु चन ु व चन ु ी हुई कववत एॊ चन ु ी हुई यचन एॊ-न ग जन ुष -1 चन ु ी हुई यचन एॊ-न ग जन ुष -2 चन ु ी हुई यचन एॊ-न ग जन ुष -3 चन ु ी हुई शसॊधी कह तनम ॊ चन ु े की दीव य औय ऩौध चन ु ौततम ॊ चन ु ौततम ॊ चन ु ौती चऩ ु हो ज ओॊ ऩीटय चन ू य की ऩीड़ चेहये अनेक-2 चेहये अनेक -3 चेहये चेहये क्रकस के चेहये चेहये भत उत यों चेहयें अनेक-1 चेहयों क आदभी चैखटॊ ॅे तोड़ते ॅॊत्रत्रकोण चैथ प्र णी चैथ प्र णी चैथ ब्र ह्भण चैदह जुफ ने चैदह कह तनम ॊ जमव्रत चटजॉ मोगेि गुप्त ओभ प्रक ि शभश्र भुग्क्तफोध शिव स गय शभश्र वीय कुभ य सुध अवऩषत सुब र् जैऩ डॉ.

737 3428 2334 483 4115 1594 2034 550 3359 3360 3361 3362 3363 3364 1025 1890 1823 3971 1310 510 3661 2537 1623 1340 1387 2696 3614 4391 3222 4057 2012 920 4056 762 2714 3030 407 2195 2136 4063 1104 3095 3743 1488 999 317 2648 1384 738 3825 789 90 चैदह पेये शिव नी चैऩट य ज ववजम तेदर ु कय चैफ ये य भ कुभ य भ्रभय चैय ह गुरूदत्त चैय हे प्रेभ ऩ र िभ ष चैयॊगी िॊकय चॊग-ु भॊगू िॊकय सुल्त नऩूयी चॊगेज ख ॊन ियण चॊरक ॊत सॊततत-1 दे वकी नन्दन खत्री चॊरक ॊत सॊततत-2 दे वकी नन्दन खत्री चॊरक ॊत सॊततत-3 दे वकी नन्दन खत्री चॊरक ॊत सॊततत-4 दे वकी नन्दन खत्री चॊरक ॊत सॊततत-5 दे वकी नन्दन खत्री चॊरक ॊत सॊततत-6 दे वकी नन्दन खत्री चॊरन थ ियत चन्र चॊर िेखय वैंकॊटयभण सॊतय भ चॊर मन क ब र् स्वरुऩ डॉ.गण . शिव कुभ य चॊफर की चभेरी कृष्ट्ण चन्र छत्रि र अभय थचॅत्र कथ एॊ छरन बगवती प्रस द फ जऩेमी छह मुग ऩुरूर् अभत ृ र र न गय छव शिव जी स वॊत तछद ऩहरव न व री गरी िैरेि बहटम नी तछऩ खज न अभय थचॅत्र कथ एॊ छोटी उम्र भोट क भ दीनदम र ओझ छोटी कह तनम ॊ य ज रक्ष्भी य घवन छोटी-छोटी खशु िम ॊ हयफॊस कश्मऩ छोटी भछरी .फड़े रोग अश्क छोटे स हफ बगवती प्रस द छोड़ हुआ य स्त ब गे अऻेम छोॅेटे-2 भह मुद्ध यभ क ॊत छ् फीघ जभीन पकीय भोहन जकड़न म दवें र िभ ष जग त यणी एवॊ अन्म कह तनम ॊ थगयीय ज क्रकिोय जगदम्फ फ फू ग ॊव आ यहे हैं थचत्र भुदथगर जथगम की व ऩसी अन्न य भ सुद भ जड़ी फूहटम ॊ औय भ नव यभेि फेदी जड़ी फूटी औय भ नव यभेि वेदी जन अयण्म िॊकय जन .भन ववभर शभत्र जनतॊत्र ग्जन्द फ द ववनोद यस्तोगी जननी जन्भ बूशभ भहे न्र कुभ य जनऩदीम सॊत दीनदम र ओझ जनभ जनभ हभ प्रफोध कुभ य स न्म र जन भ ध्मभ सम्प्रेर्ण औय ववकदेस वेन्र इस्सय जन नी ड्मोढ़ी म दवेन्र िभ ष जन्भ कैॅैद थगरयज कुभ य .फड़ी भछरी िैरेस बहटम नी छोटे -2 त जभहर य जेंर म दव छोटे -2 भह मुद्ध यभ क ॊत छोटे -छोटे ऩऺी िैरेि बहटम नी छोटे छोटे सव र दष्ट्ु मन्त कुभ य छोटे .

शिव नये न्र ऩ ठक शिव स गय शभश्र चम्ऩ स हनी इर चॊर जोिी ि नी उभ व चस्ऩतत भधयु नी भ रती ऩ रकय व्मथथत रृदम हदनेि नॊदनी वविम्बय न थ श्री व्मथथत रृदम वीये न्र शभश्र अभय थचॅत्र कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ आनन्द कुभ य अभय थचॅत्र कथ एॊ नये न्र िभ ष फ ऩू य व ववजम तें दर ु कय कॊु वय ऩ र भद ु गगष ृ र प्रत ऩ चन्र चन्दय . ऩण ू ष शसॊह य भ स्व भी वेंकटयभन न ग जन ुष खदीज भस्तूय म दवेन्र िभ ष चन्र गुरूदत्त अभय थचॅत्र कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ सुभॊगर प्रक ि य हुर स ॊकृत्म मन य हुर स ॊकृत्म मन ड ॅॎॅॎ य भ कुभ य जैनेन्र कुभ य कन्है म र र भ णक र र कन्है म र र भ णणक र र भुॊिी कन्है म र र भ णणक र र ॅॊ वुद्धदे व ध्रव ु ज मसव र य भ दयस शभश्र यभेि फक्िी हहभ िु जोिी त य िॊकय फॊधोऩ ध्म म वी.597 1969 850 3034 1946 2326 4238 3601 3178 4061 2050 1309 1273 1173 1978 2832 204 2347 730 3143 3869 1483 1484 335 1726 1135 2906 2483 965 2835 4452 265 3608 3970 2691 1645 2860 2376 957 3432 1264 1284 1287 1338 2040 1342 3412 3528 2293 1703 4074 1916 जन्भ कैॅैद जन्भ जन्भ के पेये जन्भेजम फचो जफ-2 पूर णखरे जफ जल् ु पो ऩय रयसचष होगी जफ जल् ु पो ऩय रयसचष होगी जफ भैं य ष्ट्रऩतत थ जभतनम क फ फ जभीन जभीन क टुकड़ जमदभन जमदे व जमरथ जम ऩय जम जम मोधेम जम मौधेम जम वद्धषन जमवधषन जम सोभन थ जम सोभन थ जम सोंभन थ जय सी उष्ट्णत के शरए जर कॊॅुबी जर टूटत हुआ जरत हुआ र व जरते हुए डैनेॅेॅॊ जर स गय जव हय ज्मोतत जव हय र र नेहरू जहय जहय भोहय जह ज क ऩॊछी जह ॊऩन ह जह ॊऩन ह भुसद्दी र र जह ॊ ऩौ पटने व री है ज गत चर जग त चर ज गती हुई य त है औयत ज ग भछन्दय गोयख आम ज गयण के अग्रदत ू ज गे यै न ग म रूऩ ज तक कथ एॊ ज तक कथ एॊ ज तक कथ एॊ ज तक कथ एॊ ज तक कथ एॊ ज तक कथ एॊ ऩक्षऺमों ज तक कथ ऐ ज तत उन्भूरन ज तत न ऩछ ू ों स धू की ज तत-त्रफय दयी ज द ू क क रीन ज न च नषक की फीवी थगरयज कुभ य भ थयु य भ न य मण शिवस गय शभश्र चॊरसेन डॉ. ऩण ू ष शसॊह ड . ऩी.

यघुवॊि जैनेन्र की कह तनम ॊ जैनेन्र कुभ य जैनेन्र की कह तनम ॊ जैनेन्र शसॊह जैनेन्र की सवषश्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ तनभषर जैन जैसरभेय स ॊस्कृततक ऩरयप्रक्ष्म भेंदीनदम र ओझ जो इततह स नहीॊ है ववभर शभत्र जो इततह स भेॅेॅॊ नहीॊ ववभर शभत्र जोगी भत ज ऩुष्ट्ऩ दे वड़ . य भ चन्र ज मसी ग्रॊथ वरी य भ चन्र िक् ु र जर भनहय चैह न जर आथषय क नन ड मर ज र टूटत हुआ य भ दयि शभश्र ग्जगय भुय द फ दी प्रक ि ऩॊड़डत ग्जऻ स जमशसॊह ग्जनके स थ ग्जम अभत ृ र र न गय ग्जन्दगी गुरूदत्त ग्जन्दगी एक घ व एक पूर ड .2460 260 2795 715 1039 736 4355 1012 3440 2434 1449 3538 246 93 4016 2741 1619 2953 4048 2451 4410 3685 2677 1199 1542 3725 4156 1112 2388 4008 3723 2442 2443 2545 2808 267 1140 4450 525 2044 1976 1968 1966 2346 903 2447 2713 2899 1400 3995 1115 2038 ज नवय भदन भोहन ज ने क्रकतनी आॊखे य जेन्र अवस्थी ज ने से ऩहरे यॊ जन िभ ष ज मसी की प्रेभ स धन डॉ.ॅॎ हयन भ प्रस द फ जऩेमी ग्जन्दगी औय गुर फ के पूर उर् वप्रमवॊद ग्जन्दगी औय भौत के दस्त वेज य जेन्र अवस्थी ग्जन्दगी की रड़ ई कन्है म र र शभश्र ग्जन्दगी से जझ ते ह ए सयु े न्र न थ र र ू ु ग्जन्द फ द भुद षफ द दम नन्द वभ ष ग्जन्द भुह वये न शसय िभ ष ग्जर धीि की व ऩसी बगवती ियण ग्जव णु की जीवन म त्र बगवती प्रस द ्वववेदी ग्जॊदगी क फह व बगवती चयण शसॊह ग्जॊदगी के भोड़ ववष्ट्णु कुभ य ग्जॊदगी से जूझते हुए सुयेन्र न थ र र जीने के शरए य हुर स ॊस्कृत्म मन जीवन औय स धन इन्र स्वप्न जीवन की कुण्डरी यथभर ू जीवन के कुछ ऩॅृॅ ष्ट्ठ य जेन्र अवस्थी जीवन के कुछ ऩॅृॅ ष्ट्ठ य जेन्र अवस्थी जीवन के ग न शिवभॊगर शसॊह सुभन जीवन ज्मोतत मि ऩ र जैन जीवन भूल्म -1 प्रगसहस्त्र फुद्ध जीवन भूल्म -2 प्रगसहस्त्र फुद्ध जीवन सरयत सुशभत्र वयतय भ जीवन सॊगीत मभुन िेवड़े जीवन सॊग्र भ हरय प्रस द जीवन सॊध्म आि ऩूण ष दे वी जीवन सॊध्म आि ऩण ु ष दे वी जीवनोऩमोगी सयस कथ एॊ श्म भ र र जीवी ऩन्न र र जुद ई की ि भ क गीत उऩन्र न थ अश्क जुम्भन शभम ॊ क कहन श्री फ र जी ऩ ण्डे जेठव उजरी ध्म न भ खीज जेनेन्र के ववच य जैनेन्र कुभ य जेर औय स्वतॊत्रत ड .

बोजय ज ्वववेदी ज्मों भेहदी के यॊ ग भद ु शसन्ह ृ र ज्व य के उस तयप न यवी ज्व र भुखी अनन्त गोऩ र झयते हैं भेघ जगन्न थ ऩ ठक झ ॊसी की य नी रक्ष्भी फ ई वॊद ृ वन र र वभ ष झ ॊसी की य नी रक्ष्भी फ ई वॊद ृ वन र र वभ ष झ ॊसी की य नी रक्ष्भी फ ई ॅ ॅॊकय फ भ णझगुयो क स्वय य भकुभ य झीनी झीनी फीनी चदरयम अब्दर ु त्रफग्स्भर ह झोंऩड़ीव रे शभह इर टक्कय भुझसे है वसन्त क नेतकय ट रस्ट म की कह तनम ॊ प्रेभ चन्द ट रू शभक्सचय ड . हरयकृष्ट्ण दे वसये ू ु टुकड़ -टुकड़ आदभी भद ु गगष ृ र टुकडे-2 सूयजभुखी िग्क्तऩ र केवर टुकड़े . य भकुभ य टूटते ऩरयवेि ववष्ट्णु प्रब कय टूट टी सैट बगवती प्रस द टूट हुआ ऩॊख अब्दर ु त्रफग्स्भर ि ह टूट हुआ फ जफ द ॊ ववभर भेहत ू टूटी हुई जभीन हयदिषन सहगर टूटे ऩॊख गुरिन नॊद .टुकड़े ग्जन्दगी ऩॊकज धवन टुटे हुए सूमष त्रफम्फ ऩ नू खोशरम टूटत हुआ भम फ दि ह हुसैनरयजवी टूटत हुआ भैं ड . िशि िभ ष जॊजीय खीचें ग ड़ी योके नन्द कुभ य सोभ नी ऻ न क स्वरूऩ नीशरभ शसन्ह ऻ नद न मिऩ र ऻ नऩीठ ऩुयस्क य ववजेत स हहत्मक वीये न्यर जैन ऻ नवधषक कह तनम ॊ य जेन्र कुभ य ऻ न ववऻ न कोस श्री व्मथथत रृदम ऻ न सयोवय ऻ न जी गोकुर वभ ष ऻ न सयोवय-6 सख ु ऩ र गप्ु त ऻ न सयोवय-8 सुखऩ र गुप्त ऻ नी तोत वव्म कनोग्जम ऻ नी तोत वव्म कह तनम ॊ ऻ नेश्वय अभय थचॅत्र कथ एॊ ज्मोततर् औय आकृतत ववऻ न ऩॊ.3710 2097 3330 3460 771 3209 3497 857 1637 3317 4268 2206 3731 1737 4419 2778 3592 3593 2870 4289 1267 4245 2125 2736 2069 3805 136 193 236 3137 3301 389 2561 836 800 2348 893 1275 3108 1989 2521 3874 3928 1120 3606 3170 791 2379 3228 3291 4484 558 जो फुझे सो फुवद्धभ न रशरत न य मण उऩ ध्म म जौहय के अऺय सॊतोर् िैरज जौंक श्रीन भ जॊगर क य ज थचत्र भुदथगर जॊगर के पूर य जेन्र अवस्थी जॊगर भें आग यभेि चॊर ि ह जॊगर भें फोर है भोय प्रम ग िुॅुक्र जॊगर भें भॊगर िैरेि भहटम नी जॊगर से गुजयत िहय डॉ.टुकड़े यभेि फक्िी टुकड़े .वयस रीत हटप्ऩण प्र रूऩ एवॊ प्रुप ऩठन ओभ प्रक ि टीन की तरव य उत्ऩर दत्त टीऩू सल् त न अभय थचॅत्र कथ एॊ ु टीऩस ल् त न ड .

कृष्ट्णन तख्ते त उस आच मष चतयु सेन ि स्त्री तख्ते त उस आच मष चतयु सेन ि स्त्री तख्ते त उस आच मष चतुयसेन तट की खोज हरय िॊकय ऩयस ई . ि ॊतत स्वरूऩ बटन गय सॊतय भ डॉ.194 1375 1376 32 645 2098 1411 2009 2784 250 1159 2799 2626 907 577 1511 2742 3912 3452 1767 2476 116 641 1628 1554 2962 751 3868 1147 3987 1851 648 706 2273 4428 1513 672 4392 3801 4177 4178 1889 3946 1374 699 2707 3966 3168 203 1428 3388 2794 टे क्नीकर टम्र्स हहॊदी शिऺ भॊत्र रम टे ढ़े भुॊह व र हदन हय दिषन सहगर टे ढ़े भुॊह व र हदन हय दिषन सहगर टे ढे-भेढे य स्ते बगवती चयण वभ ष टे शरस्भैन व टय स्क ॅॎट-मिऩ र टे सू के पूर क्रकिोय स हू टोऩी य ही भ सूभ यज टोफ टे क शसॊह सआदत हसन टोर शिव नी ठकुय नी म दवेन्र िभ ष चन्र ठहय हुआ ऩ नी ि ॊतत भहयोत्र ठहय हुआ िहय ववष्ट्णु चन्र िभ ष ठ कुय फ फ प्रत ऩ शसॊह तरूण ठ कुय सॊव द सीतीि ज भ री हठठुयत हुआ गणॊतत्र हरयिॊकय ऩयस ई ठुभ यी पणीश्वय न थ ये णु ठे रे ऩय हहभ रम धभषवीय ब यथी ठे रे ऩय हहभ रम धभषवीय ब यती ठोकय से ठ कुय ऩवन चैधयी डय हुआ आदभी पजर डय हुआ आदभी पजर त त्रफस ड कघय यववन्रन थ ठ कुय ड क फॊगर कभरेश्वय ड क्टय आनॊद सीत ॊिु ब य्व ज ड क्टय क प्रततिोध शिवस गय शभश्र ड मशभक्स आॅॎप रूयर ऩ वय स्रे भोहन क्चय र र िभ ष ड य से त्रफछुड़ी कृष्ट्ण सोफती ड य से त्रफछुड़ी कृष्ट्ण सोफती ड ॅॎक्टय ववष्ट्णु प्रब कय ड ॅॎक्टय डॉ. िैप री उदम िॊकय बट्ट डॊकीजत भ नव अन्न य भ सुद भ ढ़हती हुई दीव य आच मष चतुय सेन ि स्त्री ढ ई आखय प्रेभ क भणणक भोहहनी ढ ई घय थगरयय ज क्रकिोय तकीर्ी की कह तनम ॊ फी. रौहहम की कह नी उनके स हयीि थथमों की चन्दजुफ नी डॉ. य जेन्र भोहन बटन गय डॉ.डी. रौहहम की कह नी उनके स हयीि थथमों की चन्दजुफ नी डॉ. बीभय व अम्फेडकय बयत य म बट्ट डॉ. ववश्व प्रब कय ड ॅॎक्टय की भुसीफत िौकत थ नवी ड ॅॎ य ध कृष्ट्णन ऩयभेश्वय प्रस द ड़डप्रोभेट तनभ ई बट्ट च मष ड़डपेंस क ॅॎरोनी तनभ ई बट्ट च मष डूफत सूयज भहे न्र शसॊह डेये व रे िैरेि बहटम नी डेस्कों ऩय खद जगदीि फोय ु े नभ डॉ. रोहहम व्मग्क्तत्व औय कृततत्व डॉ.

सक्सेन तस की आन बव नी प्रस द शभश्र तस्वीय उसकी थचयॊ जीत तस्वीयें फीन िभ ष तहों के फीच प्रदीऩ सक्सैन त क्रक सनद यहै य भ कुभ य त जभहर ऩै कोआ फोर सूमष कुभ य जोिी त त्क शरक थचक्रकत्स र र फह दयु त नसेन इकफ र फह दयु त नसेन अभय थचॅत्र कथ एॊ त य ऩऺ सुशभत्र नॊदन ऩॊत तय फई कभर िुक्र त ॊफे के ऩैसे प्रब कय भ चवे तततरी जम िॊकय प्रस द तततरी जम िॊकय प्रस द ततब्फत की फेटी वल्रब डोन र ततब्फत की फेटी फल्रब डोभ र ततयछी ब्मोछ य भॊजुर बगत ततयछी ये ख एॊ हरयिॊकय ऩयस ई ततरक ने कह थ थगयीय ज ियण ततष्ट्म यक्षऺत थगयीि सक्सेन तीन उऩन्म स कतर ुष एन है दय तीन कह तनम ॊ सुयेि व जऩेमी तीन छॊ द आि ऩूण ष दे वी तीन जोिी जैनेन्र कुभ य तीन हदन गोववन्द फल्रब तीन दृश्म अशबभन्मु गप्ु त तीनध भ तीन झयोख तीयथी ववभर तीन न टक आ्म यॊ ग च मष तीन यॊ ग गुरिन नन्द . ऩी. भहे श्वय तर क प्रपुर चन्द ओझ तर क दय तर क म दवेन्र चन्र िभ ष तर ि िीत ॊिु ब य्व ज तर ि शित ॊिु ब य्व ज तर ि ग मत्री वभ ष तर ि क शरद स व रे ऩेड़ की शिव न य मण शसॊह सुमोगी तर ि ज यी है अभत ृ रर तर ि ज यी है अभत ृ र र भद न तर ि ज यी है चयण द स की बव नी िॊकय व्म स तर ि क्रपय एक कोरम्फस की के.म त्रकन्है म र र शभश्र तऩन ववनोद ब यती तऩस्म तथ अन्म कह तनम ॊ हहभ ॊिु जोिी तरूण ई के सऩनेॅे गोऩ र र र तरूदत्त ऩदभनी सैन गुप्त तरघय डॉ.1144 2184 2712 3187 2052 2828 700 3777 2678 4022 251 2332 2809 99 1092 3303 3920 4494 3999 1810 2217 3569 3457 3514 3629 2905 2218 620 2270 85 1014 1346 1036 1557 2935 2598 3867 1634 2499 2802 2621 3477 2659 4199 3578 1020 2316 2285 2106 3546 3274 3308 तट के फॊधन ववष्ट्णु प्रब कय तत्वऻ न आनॊद स्व भी तत्सत तथ अन्म कह तनम ॊ जैनेन्र शसॊह तत्सभ य नी सेठ तन भन शिवय भ तन-भन शिवय भ क यॊ त तन व य जेन्र ऩ र शसॊह तऩती ऩग डॊड़डमों ऩय ऩद .

ड र भैं ऩ त . प्रब ॊकय भ चवे तैन री य भ अभय थचॅत्र कथ एॊ तैन री य भ स. शसम य भ ततव यी तुरसी ऩद वरी तुरसीद स तुरसी स हहत्म भें नमे सॊदबष रक्ष्भीन य मण तू नहीॊ सुधये ग बगवती र र िभ ष तत ीम ऩ रू र् कन्है म र र ओझ ु ृ तेर की कह नी सब ु र् जैऩ तेर की ऩकौड़ड़म ॊ डॉ. शसम य भ ततव यी तुरसीद स क आच मषत्व ड .2424 766 3603 1857 2363 3173 3787 2497 88 1037 2761 921 3799 2092 1808 2893 2842 2672 2685 2555 2148 4424 2999 616 1691 1639 1040 1041 963 969 1067 3490 3295 538 1845 4499 3050 3156 744 1283 4375 2812 4034 4049 837 1011 1464 2426 2082 784 33 1322 तीन श्रेष्ट्ठ वैऻ तनक उऩन्म स भनहय चैह न तीसय आदभी कभरेश्वय तीसय आदभी कभरेश्वय तीसय दे ि यभ क ॊत तीसय दे ि यभ क न्त तीसय दे ि यभ क ॊत तीसय ऩत्थय य भ कुभ य भ्रभय तीसय ऩहय धनय ज चैधयी तीसय सप्तक अऻेम तीसय सप्तक प्रम ग न य मण त्रत्रऩ ठी तीसयी आॊख अभत ृ प्रीतभ तीसयी आॊख क ददष भस्तय भ कऩुय तीसयी थचट्डी प्रेभरत िभ ष तीसये फन्दय की कथ रतीप घोंघी तीस स र क सपयन भ सॊजीव तीस स र क सपयन भ सॊजीव तग रक थगयीि कन षड ु तुप न के फ द जगन्न थ प्रस द तुभ ड र .ऩ त भधक ु य शसॊह तुभ रौट आओ भद ु गगष ृ र तुम्ह यी ऺम य हुर स ॊकृत्म मन तुम्ह यी नगयी भें थचयॊ जीत तुम्ह यी योिनी भें गोववन्द शभश्र तुम्ह ये गभ भेये है ये वती ियण तुरसी औय उनकी सूग्क्तम ॊ ियण तुरसी के क व्म भें औथचत्म ववध रक्ष्भीन न य मण तर सी ग्रॊ थ वरी-। कभर ऩतत त्रत्रऩ ठी ु तर सी ग्रॊ थ वरी-।। कभर ऩतत त्रत्रऩ ठी ु तुरसी द स गोववन्द फल्रब ऩॊत तुरसी द स उभय न थ िुक्र तुरसी द स तनय र तुरसी द स क आच मषत्व डॉ. यत्न प्रक ि िीत तोड़भ-पोड़भ भन्भथन थ गुप्त तोड़ो क य तोड़ो नये न्र कोहरी तोड़ो क य तोड़ो-।। नये न्र कोहरी त्म ग प्रेभ आव य त्म ग क बोग इर चन्र जोिी त्म ग क बोग इर चन्र जोिी त्म ग क भूल्म यववन्र न थ टै गोय त्म ग .ऩत्र जैनेन्र कुभ य त्म ग ऩत्र जैनेन्र कुभ य त्म ग-ऩत्र जैनेन्र कुभ य त्म ग य ज अभय थचॅत्र कथ एॊ .

केरकय ु त्रत्रवेणी कृष्ट्ण नॊद त्रत्रवेणी ववभर शभत्र त्रत्रिॊकु फज ृ भोहन त्वभेव भ त भणण भधक ु य थक हुआ आदभी श्रीय भ िभ ष थकी हुई सुफह य भदयि शभश्र थके चरे ऩ ॊव श्रीय भ िभ ष थके ऩ ॊव बगवती चयण वभ ष थके ऩ ॊव बगवती चयण वभ ष थके ऩ ॊव बगवती चयण वभ ष थडष ड़डवीजन ओेभ प्रक ि थ ने ॅॊभें रयऩ टष कैसे शरखव एॊ गद धय न य मण शसॊह थ प्ऩड़ थैम य भयतन फड़ोर थथमेटय यभेि चन्र ि ह थैर बय िक्कय िॊकय थोक वस्तुएॊ एवॊ ब यत भें उनकभनोहय योर र र दक्षऺण ध्रव एडशभयर ज ॅॎजष ु की खोज दयकते कग य दग ु ष ह कये दयकते रयश्ते िीत ॊिु ब य्व ज दयम्म न भण ृ र ऩ डे दयव जे ऩय आग यभ क ॊत दय य औय घॊआ बगवती प्रस द व जऩेमी ु दख्तों के ऩ य ि भ गोववन्द शभश्र ददष हदम नीयज ददष फस्ती क ववनोद ततव यी दऩषण रक्ष्भीन य मण दिषनीम भ रव भदनशसॊह दे वड़ दरदर य ज य भ शसॊह दि बुज प्रब कय भ चवे दि कष जैनेन्र दस फजे य त ववष्ट्णु प्रब कय दस्ते सफ पैज अहभद पैज दहे ज दे वन य मण दहे ज की फशर फेदी ऩय डॉ.ि.1200 3589 709 1132 750 1824 1871 1728 1792 2449 4320 631 471 1570 3878 647 4278 757 4490 2022 3936 365 3600 4230 1549 3195 3951 3886 47 2574 2302 1422 3605 2377 3163 143 4309 530 3194 2781 3944 73 1739 1738 1697 482 2193 1080 3179 1305 1576 3950 त्रमम्फक तनयॊ जनशसॊह त्र सहदम ॊ नयें र कोहरी त्रत्रनमन य.केरकय त्रत्रऩदी आि ऩूण ष दे वी त्रत्रऩयु सन् दयी य. जगदीि भह जन द खद य हुर स ॊकृत्म मन ु दग आववद सुयती द द क भये ड मिऩ र द दी की कह तनम ॊ इन्र स्वप्न द नवीयों की अनूठी कह तनम ॊ इन्र स्वप्न द न -बुस भ कषण्डेम द मये गुरूदत्त द मये अऩने अऩने भदनगोऩ र द मये के फ हय ववभर शभत्र द य शिकोह क जी अब्दर ु सत्त य द य शिकोह औय औयॊ गजेफ अभय थचॅत्र कथ एॊ द रूरिप य जकृष्ट्ण शभश्र द व नर .ि.

4038 1236 2608 3444 2923 3855 4220 3959 4157 3676 3420 2305 2297 869 1605 674 1707 2180 4168 4324 3380 1077 1243 719 1054 1585 1507 3726 100 2959 4036 3930 3579 4393 4394 4395 4396 581 3636 1103 329 1288 646 3875 2454 4498 3367 614 1949 3881 2381 3887 हदग्क्चन्ह हदनकय: एक सहज ऩुरूर् हदनकय औय उनकी सूग्क्तम ॊ हदनकय के गीत हदभ गी गर ु ॊॅ भी हदर एक स द क गज हदर की शिक मत हदरपैंक हदरोद तनि हदल्री न भ हदल्री भें ऩहर हदन हदव ये ही हदव ये हदव स्वप्न हदव स्वप्न हदव स्वप्न हदव्म जीवन की झ क्रकॊ म ॊ हदव्म सॊद ु यी हदव्म सुॊदयी हदि ववद हदि ववद हदि ह य हदि हीन हदि हीन दीऩक य ग दीऩशिख दीऩशिख दीम जर दीम फझ ु दीघषजीवी कैसे हो दीघषतम दी होरी फी दख ु अऩने . य . म त्री हॊ सॊय ज यहफय हॊ सय ज यहफय गोऩी कुभ य भह दे वी वभ ष ववभर िभ ष म दवेन्र िभ ष भहे न्र ऩ र शसॊह पणीश्वय न थ ये णु जी. य भ प्रस द शभश्र वीये न्र सक्सेन बीभसेन फटयोही यत्न चन्र धीय यतन चन्द धीय मिऩ र जैन सयु े न्र न थ सुयेंर न थ डॉ. ियण हदनकय य हुर स ॊकृत्म मन य ही भ सभ ू यज फॊसत ऩुरूर्ोत्तभ क रे िौकत थ नवी कृष्ट्ण सोफती डॉ. सुशभत्र वस्म से. सुशभत्र डॉ.अऩने दख ु ीद स क प्रभोिन दतु नम क क मद दतु नम के आश्चमष-1 दतु नम के आश्चमष-2 दतु नम के आश्चमष-3 दतु नम के आश्चमष-4 दफ ु जन्भ आई दभ ु की व ऩसी दयु हदस वय दयु शब सॊथध दग ु ष की कथ एॊ दग ु ेि नग्न्दनी दग ु ेि नग्न्दनी दग ु ेि नॊहदनी दघ ष न के ईदष थगदष ु ट दद ु ष म्म दहु दष न की घूऩ दव ु ष दर ु बष फॊधु दर ु यी फ ई दल् ु हन आि ऩूणष दे वी शिवस गय शभश्र से. य भ नुजभ म दवेन्र िभ ष चन्र फरवीय त्म गी भद ु गगष ृ र धभष ऩ र ि स्त्री धभष ऩ र ि स्त्री धभष ऩ र ि स्त्री धभष ऩ र ि स्त्री शिवस गय शभश्र डॉ. गोऩ र चतव ु ेदी अन्न य भ सुद भ फ ग्ल्भक त्रत्रऩ ठी अभय थचॅत्र कथ एॊ फॊक्रकभ चन्र चट्टोऩ ध्म म फॊक्रकभ चन्र फॊक्रकभ चन्र चटजॉ फुर की िभ ष गॊग धय ग डथगर शिव स गय शभश्र शबखु ब यतेन्द ु हरयि चन्र भणणभधक ु य िौकत थ नवी .

हरयकृष्ट्ण दे वसये मिऩ र मिऩ र गुरूदत्त ऩ ण्डेम फेचन ै िभ ष अऺम ॅॊकुभ य जैय व्मथथत रृदम व्मथथत रृदम य जकुभ य सेठ गोववन्द द स . नल्रे य जेन्र भोहन बटन गय आच मष चतुय सेन ि स्त्री आच मष चतुय सेन सॊजम प्रक ि ब यती जमव्रत चटजॉ डॉ.152 3012 1470 233 2844 3018 3238 4106 4455 1258 1652 3175 687 2682 384 1479 2720 3220 2077 2760 1509 4286 2909 1424 511 618 727 121 848 975 105 3747 3967 877 131 1508 3265 1660 3739 3738 3741 3737 3740 139 140 489 3981 1238 1963 1575 1683 181 दल् ु हन की जीत दल् ु हन फ ज य दष्ट्ु ट कुभ य दष्ट्ु मॊत वप्रम दफ ू जनभ आई दफ ू धन दयू क आक ि दल् ू ह रौट त्रफन ब्म ह दस ू य अध्म म दस ू य दयव ज दस ू य ऩतझड़ दस ू य भह ब यत दस ू य सप्त ह दस ू य सूयज दस ू यी दतु नम दस ू यी फ य दस ू ये के ऩैय दस ू ये दौय के फ द दे ख कत्रफय दे ख कफीय दे ख सोच सभझ दे खो दे ि हभ ये सॊग दे व की दीऩशिख दे वथगयी से हहभथगयी तक दे वत भेये दे ि क दे वत भेये दे ि क दे वत भेये दे ि क दे वद स दे वद स दे वद स दे वदत ू दे वन गयी एक नम प्रमोग दे व ऩुरूर् दे वरीर दे व ॊगन दे व ॊगन दे वी क भॊहदय दे ि एक कथ एॊ अनेक दे ि औय फच्चे. सोववमत रूस दे ि क बववष्ट्म झूठ सच-। दे ि क बववष्ट्म झूठ सच-।। दे ि की हत्म दे ि के शरए दे ि प्रेभ की कह तनम ॊ दे ि बक्त िहहदों की ग थ एॊ दे िबक्त िहीदों की ग थ एॊ दे िबग्क्त के एक ॊकी दे ियत्न य जेन्र प्रस द डॉ. ऻ न वती य त्रफन िॉ ऩुष्ट्ऩ बगवती ियण भॊजुर गुप्त शिव स गय शभश्र उर् क्रकयण गोववॊद च तक ि ॊतत दे वी अजम िुक्र रक्ष्भी न य मण र र ऻ न शसॊह भ न आच मष ि ॊतनु कुभ य ियद जोिी य भ कुभ य भ्रभय अऺम कुभ य जैन श्रीक न्त वभ ष श्रीक न्त वभ ष कभर प्रस द ्वववेदी अभत ृ प्रीतभ अभत ृ प्रीतभ मिऩ र फरवीय त्म गी वव्म तनव स शभश्र बयत य भ बट्ट अभय फह दयु शसॊह अभय फह दयु शसॊह अभय फह दयु ियतचॊर चटटोऩ ध्म म ियत चॊर ियत चन्र ऋर्बचयण जैन भहे श्वय प्रस द वी. हरयकृष्ट्ण दे वसये डॉ. एन. हरयकृष्ट्ण दे वसये डॉ. हरयकृष्ट्ण दे वसये डॉ. ज ऩ न दे ि औय फच्चे फ्र न्स दे ि औय फच्चे. इनरैंड दे ि औय फच्चे जभषनी दे ि औय फच्चे. हरयकृष्ट्ण दे वसये डॉ.

3705
2520
2544
4120
1811
3206
4476
3125
1795
3319
1469
298
2493
598
2896
593
1607
2146
491
2610
2122
441
1413
2628
4146
3315
1192
3978
4070
1501
2258
112
115
3336
4447
3396
2721
1058
2597
2005
3529
345
4411
4361
633
881
2396
513
4352
3375
3957
117

दे ि-ववदे ि की रोक कथ एॊ
ववश्व न थ गुप्त
दे ह म त्र
य त्रफन ि ऩुष्ट्ऩ
दे हयी बमी ववदे स
फ र दफ
ु े
दे ह न्तय
नन्द क्रकिोय आच मष
दे ह श्रभ क भन जोगी
प्रफोध कुभ य
दें ग तें ग
य ज थगर
दै तनक जीवन भें बौततकी
थ ई ऩेयेरभ न
दो अगस्त से एक अगस्त तक अिोक के ि ह
दोआफ
य भिेय फह दयु शसॊह
दो उॊ गशरम ॊ औय दश्ु चक्
सद
ु िषन वशिष्ट्ठ
दो क्रकन ये
आच मष चतुय सेन ि स्त्री
दो णखड़क्रकम ॊ
अभत
ृ प्रीतभ
दो णखड़क्रकम ॊ
अभत
ृ प्रीतभ
दो जोड़ी आॊखे
य जेंर अवस्थी
दो झोऩड़े
शिव न य मण
दो टूक
फ र कवव वैय गी
दोण
अभय थचत्र कथ
दो नम्फय
फुद्ध दे व
दो फहने
बगवती प्रस द
दो फीघ जभीन
िीत ॊिु ब य्व ज
दो य हों ऩय औय कह तनम ॊ
यीत य म
दोरन
आि ऩूण ष दे वी
दो श्रेष्ट्ठ उऩन्म स
म दवेन्र िभ ष
दो श्रेष्ट्ठ उऩन्म स
म दे वेन्र िभ ष चन्र
दो सणखम ॊ
गोवधषन ठ कुय
दो सॊस य
जगदीि शसॊह वोहय
दोस्तों की दतु नम ॊ
य जेन्र अवस्थी
दोहयी ग्जन्दगी
श्री गोयी ऩॊत
दोहयी ग्जन्दगी
गौयी ऩॊत
दो ह थ
ख्व ज अहभद
दो हहस्से भें फटी भैं
कनकरत
दोॅे गीत
नीयॊ ज
दोॅे ऩतत एक करी
भुल्कय ज आनन्द
दौहन
नवेन्द ु
रोण
सतीि वभ ष
रोऩदी
प्रततब य म
्व दसी
एन. य भन न मय
्व ऩय
भैथरी ियण गप्ु त
्व ऩय के दो शभत्र
कभर िक्
ु र
धन की फचत कैसे कयें
सेभुमर
धम्भऩद
फ ऩू य व
धयती औय आक ि
बगवती प्रस द
धयती क म्ऩती क्मों है
जगय भ आमष
धयती की गोद भें
उभ िॊकय दीक्षऺत
धयती की ऩीय
म दवें र चॊर
धयती के आॊसू
एरन ऩैटन
धयती के यॊ ग
उशभषर वभ ष
धयती भ त
ऩरष फक
धय की गोद से
ववजम गोमर
धभष औय सभ ज
डॉ. य ध कृष्ट्णन
धभष ऺेत्रे कुरूऺेत्रे
िॊकय िेर्
धभष ऩुत्र
आच मष चतयु सेन ि स्त्री

2314
2810
1904
2840
4179
387
927
3224
4059
324
2413
2364
3225
649
1932
667
218
1865
1184
1954
2898
1052
1495
2997
1710
2852
892
3005
1195
2168
2900
1369
3906
2089
2642
1186
3749
144
4310
4443
1936
77
827
1457
4200
4006
3626
4241
3212
2073
1556
1644

धभष ऩुत्र
जैनेन्र कुभ य
धभषऩुय की फहू
भधक
ु य शसॊह
धभषय ज
आच मष चतुयसेन
धभषय ज
आच मष चतुयसेन
धभषय ज मथु धग्ष्ट्ठय
चन्र वरी त्रत्रऩ ठी
धीये धीये
वॊद
ृ वन र र वभ ष
धीवय
य गेम य धव
धभ
ु केतु की प्रतततनथध कह तनम ॊ धभ
ू केतु
धध
हदनेि ऩ ठक
ुॊ बय आक ि
धध
ड . भहे न्र शभत्तर
ुॊ री ये ख एॊ
धऩ
सॊतोर् खये
ू क चश्भ
धऩ
नपीस आपयीदी
ू क दरयम
धऩ
तेजय भ िभ ष
ू की छ म
धऩ
दीग्प्त खन्डेरव र
ू के अहस स
धप्ू ऩर
बगवती चयण
धभ
शिख
उदम िॊकय बट्ट

धर

चॊ


नगेन्र यस्तोगी

धर
ू बये चहये
ध्म न औय एक ग्रत
अयववन्द
ध्म न सम्प्रद म
बयत शसॊह
ध्रव
ु म त्र एवॊ अन्म कह तनम ॊ जैनेन्र
ध्रव
जम िॊकय प्रस द
ु स्व शभनी
ध्वॊस औय तनभ षत
गोववन्द फल्रब ऩॊत
न आने व र कर
भोहन य केि
नई इभ यत
अग्जत ऩुष्ट्कर
नई क व्म प्रततब एॊ
उर् गुप्त
नई त यीख
क िीन थ शसॊह
नई दे वम नी
भद
ु शसन्ह
ृ र
नई ऩौध
न यग जन
ुष
नई योिनी
वेद ऩ य िय
नए फ दर
भोहन य केि
नऺत्र रोक
गुण कय भुरे
नऺत्र रोक
गुण कय भुरे
नथचकेत
गौयी िॊकय कऩूय
नट-खट गणेि
उभ क ॊत भ रवीम
नटखट च ची
अभत
ृ र र न गय
नटयॊ ग ऩत्रत्रक
स. नेभी चन्द जैन
नद क्रकन ये
नीयॊ ज
नहदम
डॉ. सयू ज भणण कुजयु
नदी
िभोएर अहभद
नदी की फ ॊक ऩय छ म
अऻेम
नदी के ्वीऩ
अऻेम
नदी के ्वीऩ
अऻेम
नदी नहीॊ भुड़ती
बगवती चयण शभश्र
नदी न व सॊमोग
क्रकिोयी र र वै्म
नदी ऩय खर
फरदे व फॊिी
ु त ्व य
नदी प्म सी थी
धभषवीय ब यती
नदी प्म सी थी
धभषवीय ब यती
नदी भें स थ
यभेि उऩ ध्म म
नदी मिस्वी है
नये ि भेहत
नन्ही सी रौ
उऩेन्रन थ अश्क
नन्हे भुन्ने की नन्हीॊ कह तनम ॊ अरूण भहे ि

4093
2882
3499
160
1091
696
2189
3344
110
1023
1843
1821
4287
3357
2278
2716
4138
1996
2191
1914
543
566
1291
3124
992
4058
1705
3609
1744
4251
689
3144
1986
4269
3219
2690
1000
1920
3991
1553
1033
4201
2242
4511
3055
3663
1271
989
1758
2491
2936
1734

नन्हे भुन्ने वैऻ तनक फनो
यभेि चन्र प्रेभ
नन्हे ह थ खोज भह न
डॉ. हरयकृष्ट्ण
न बेजेॅे गमे ऩत्र
डॉ. दे वय ज
नभूदे िहय
ववग्स्भर दे हेरवी
नमन नीय बये
म दवेन्र चन्र िभ ष
नम थगयथगट
के. ऩी. सक्सेन
नम तभ ि
रक्ष्भी न य मण र र
नम फीस सूत्री क मषक्भ
वी. आय. बट्ट च मष
नम भनुष्ट्म
अनुश्म भ सन्म सी
नम ववध न
नये ि भेहत
नम ववध न
ियत चन्र
नमी कववत औय सवेश्वय
यभेि ऋवर्
नमी योिनी
वेद ऩय िय
नमे णखरौनो की भ टी
उर् गोऩ र
नमे तीथष नई म त्र
रक्ष्भी न य मण र र
नमे - ऩयु ने भ ॊ-फ ऩ
गोववन्द शभश्र
नमे सथचत्र खेर तनमभ
अजम बल्र
नयथगस के पूर
य जेश्वय प्रस द
नयभ-गयभ
यतन र र
नयभेघ
आच मष चतुयसेन
नयवीय भह दजी शसॊथधम
िॊकय
नयशसॊह कथ
रक्ष्भी न य मण र र
नयसी भेहत
अभय थचॅत्र कथ एॊ
नय ध न रूकभणी
अभत
ृ प्रीतभ
नये न्र भोहनी
दे वकी नन्दन खत्री
नये न्र भोहहनी
दे वकी नन्दन खत्री
नये ि भेहत क क व्म
प्रब कय य भ
नर-दभमॊती
सन्वय भ वत्सम
नवग्रहों की कह तनम ॊ
य जेन्र कुभ य
नवग्रहों की कह नी
य जेन्र कुभ य य जीव
नव ब यत के चन्द तनभ षत
क क स हे फ क रेरकय
नव ब यत के तनभ षत स्व भी वववे
कैर
कि
नॊदन य मण य भदे व
नवय ग
आिुतोर् भुखजॉ
नव सम्र ज्मव द औय सॊस्कृतत सुधीि ऩचोयी
नव ॊकुय
इश्वय नॊद
निे की खोज भें
सोभदत्त फखोयी
नष्ट्ट नीड़
यवीन्र न थ ठ कुय
नष्ट्ट नीड़
उर् दे वी
नहरे ऩे दे हर
ग दष ऩीि
नहरेॅे ऩे दहर
ग्जतेन्र कौिर
नहुर्
भैथरी ियण गुप्त

त य िॊकय फॊधोऩ ध्म म
न क क सव र
य भन य मण उऩ ध्म म
न क ऩय थचॊतन
कृष्ट्ण कुभ य आिू
न ग चॊऩ
फ र दफ
ु े
न गभणण
अभत
ृ प्रीतभ
न ग नॊद
अभय थचॅत्र कथ एॊ
न च्मो फहुत गोऩ र
अभत
ृ र र न गय
न ग्जभ हहकभत की कववत
सोभदत्त
न जक
िॊकय सल्
ु शभज ज ऩत्नी
ु त नऩयु ी
न टक नहीॊ
आच मष चतुयसेन
न ट्म ऩरयवेि
कन्है म र र

3041
3300
3742
1577
3425
388
2785
3858
1356
3239
3240
3563
3926
35
3325
551
4346
3894
82
4306
2539
2717
2063
64
2312
2319
2349
3287
3680
4350
60
565
188
4135
185
3969
3057
1081
778
536
2689
2531
991
1869
418
2494
449
1440
2584
1798
3716
4010

न द न फहुत योम
ड . क भत कभरेि
न दीद
जोगें रऩ र
न न -न नी कहो कह नी
धभषऩ र गप्ृ त
न नी भयी द दी की
डॉ. ऩ थष स यथथ
न पूरों की व्मथ
अभत
ृ प्रीतभ
न भदे व
भ धवगोऩ र
न तमक
ववभर शभत्र
न तमक
ववभर शभत्र
न यद की कथ एॊ
अभय थचॅत्र कथ एॊ
न यद जी खफय र ए हैं
गोऩ र प्रस द व्म स
न यद जी खफय र ए हैं
गोऩ र प्रस द व्म स
न यद भोह
ड . य जेंर भोहन
न रयमर क ऩेड़
खरीर ग्जब्र न
न यी
शसम य भ ियण गप्त
न यी
सतीि ब वरऩुयी
न यी जीवन की कह तनम ॊ
प्रेभचॊद
न यी भग्ु क्त सॊग्र भ
रे स ॊमी कुस्थर
न यी रृदम की स ख
सत्मवती भशरक
न रॊद ववि र िब्द स गय
नवरजी
न ॊद औय सॊगीत
जततन्र खन्न
तनकट की दयू ी
अविेर् कुभ य
तनचरे फ्रेट भें
नये न्र कोहरी
तनठल्रे की ड मयी
हरयिॊकय ऩयस ई
तनफॊध सॊग्रह
श्री कष्ट्ण र र
तनभ ड़ी की रोग कथ एॊ
कृष्ट्ण र र
तनभ ड़ी की रोग कथ एॊ
कृष्ट्ण र र
तनशभर्
उऩेन्र न थ अश्क
तनमतत के ववध न
शिव जी ततव यी
तनमशभत
भोती र र, जोतव णी
तनय शभर् आह य
जगदीश्वय जौहयी
तनय र ् क व्म औय व्मततत्व धनॊजम वभ ष
तनरूऩभ
तनय र
तनयॊ तय
बगवती प्रस द
तनबषम फनो औय उत्स ह से ग्जमो
स्वेट भ डषन
तनभषर
प्रेभ चॊद
तनभषर
प्रेभ चन्द
तनभ षणऩथ
मऻदत्त
तनरेऩ
गरू
ु दत्त
तनि की गोद
कभर िक्
ु र
तनि तनभॊत्रण
फच्चन
तनि तनभॊत्रण
फचरक
तनि ॊत के सहम त्री
कुतर
ुष एन है दय
तनसॊग ऩथथक
जय सन्ध
तनस्सॊगत
ब्रज न य मण शसॊह
तनह य
भह दे वी
नीड़
सुदीऩ
नीड़ क तनभ षण
हरयवॊि य म फच्चन
नीड़ क तनभ षण
फचन
नीतत की सीऩीमों भें ऺभ के भोती
व्मथथत रृदम
नीतत के पूर ऻ न की कशरम ॊ य जेि
नीतत सप्तक
जगदीि चतुवेदी
नीयज की ऩ ती
नीयज

ु ऩी. गोववन्द च तक डॉ. गोववन्द च तक डॉ. एभ. व च र िभ ष ऩॅृॅ थ्वीय ज कऩुय ऩी. केिवदे व . गोववन्द च तक प्रो. अग्रव र ियोवन धभेन्र गुप्त क क ह थयसी गोववन्द फल्रब ऩॊत य जेन्र य व हदरीऩ कौय य भदयि शभश्र मिऩ र डॉ. आवटे प्रततब अग्रव र गोववन्द शभश्र उर् वप्रमवन्द ववभर शभत्र यणवीय थगयीय ज ियण अन. व च र िभ ष अन. जी.ु ऩी. एन. सीत य भ शसॊह डॉ.2473 1055 3235 3045 3734 3054 3786 758 636 653 688 3822 223 1311 426 2583 2386 2375 2450 3500 2762 3690 4272 327 2920 3504 3721 3107 4438 4326 2262 2351 213 2779 3297 571 739 4099 4097 4098 4024 4231 1933 3419 1432 2527 1861 1462 3399 3400 1903 769 नीयज के रोक वप्रम गीत नीयज नीय की थचड़ड़म नीरकॊठी व्रज नीर ऩयी को धन्मव द नीरभणण नीर च ॊद नीरी दयी औय नीरी झीर नीरोपय नूतन फ र एक ॊकी नूतन फ र एक ॊकी नूतन ब्रह्भच यी नूयजह ॊ नूयजह ॊ नत ृ ग्त्वक बूगोर नेकी क ऩयु स्क य नेत जी कहहन नेत जी की व ऩसी नेत जी की व ऩसी नेत्रद न भह द न नेऩथ्म नेऩ र की रोक कथ एॊ नेऩ र भे हहॊदी नेप की एक ि भ नेहरू औय गणतॊत्र नेहरू् अॊतय षष्ट्रीम ऩरयप्रेक्ष्म नैततक कथ एॊ नैततक ग थ मे नैत्र थचक्रकत्स नैम नोन तैर रकड़ी नौक झोक नौजव न नौशसणखम नॊगे ऩैयों क सपय ऩक गमी धऩ ू ऩक्क कदभ ऩक्षऺमों की कह तनम -ॊ ।।। ऩक्षऺमों की कह तनम ‘ॊ । ऩक्षऺमों की कह तनम ‘ॊ ।। ऩक्षऺमों को सॊस य ऩगडॊडी ऩगर घोड़ ऩगर फ फ ऩचऩन खम्बें र र दीव य ऩटय नी ऩटरयम ॊ ऩटे र ने कह थ ऩट्ट भह दे वी ि ॊतर -1 ऩट्ट भह दे वी ि ॊतर -2 ऩठ न ऩड़ौसी गोऩ र द स भह दे वी वभ ष शिवभततष शसॊह ड . शिव प्रस द शसॊह दभमन्ती बट्ट िै कत थ नवी ववष्ट्णु प्रब कय ववष्ट्णु प्रब कय फ र कृष्ट्ण बट्ट गोववन्द फल्रब ऩॊत अभय थचॅत्र कथ एॊ य जीव रोचन श्रीकृष्ट्ण ॅ भनोहय फरय भ फरय भ आच मष अनूऩ श्री नये न्र कोहरी िशि कर ि ही कृष्ट्ण चन्र शभश्र ऻ न दे व अग्ननहोत्री शिव स गय शभश्र ड . एस. बक्त य भ िभ ष मि ऩ र जैन म भ र र भधऩ ु डॉ. इॊहदय गोस्व भी य भ यतन फ डोर आच मष चतयु सेन डॉ.

एस. इॊर न थ भद न ऩयतनॊद ऩयभ सुखभ सीतेि आरोक ऩयभ णु मुग ॅ ग्क्त त्रत्रवेदी ऩयिुय भ की कह तनम ॊ प्रफोध कुभ य ऩयिुय भ की चन ु ी हुई कह तनम ॊ य जेश्वय वसु ऩयिुय भ की प्रतीऺ य भध यी शसॊह हदनकय ऩयिुय भ की प्रतीऺ य भध यी शसॊह हदनकय ऩयियु भ की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ प्रफोध कुभ य ऩयस्कृत फ र एक की मोगेन्र कुभ य ऩयस्त्री ववभर शभत्र ऩयस्त्री ववभरशभत्र ऩय ग तष्ट्ृ ण हहभ ॊिु श्रीव स्तव ऩय ग्जत अॊत वीये न्र कुभ य ऩय ग्जत न मक धनॊजम वैय गी ऩय म य ॊगेम य घव ऩरयचम एवॊ प्रतततनथध श्रीक न्त वभ ष ऩरयच रयक गोववन्द फल्रब ऩॊत ऩरयणणत ॅ यत चन्र ऩरयणीत ॅ यत चन्र ऩरयणीत ियतचन्र ऩरयत्म ग गुरूदत्त ऩरयन्दे अफ क्मों नहीॊ उड़ते दे वेन्र .259 3934 2250 4202 2654 2655 2700 919 3302 3915 3844 1940 1232 1392 2107 2389 3871 3902 4118 187 4203 1692 3545 2942 2613 1329 3243 3002 3384 1418 3260 2086 428 3211 269 3 235 2239 2394 979 2026 2605 2129 2559 258 2856 1241 1024 1250 1571 1221 1583 ऩतन बगवती चयण वभ ष ऩतत की िव म त्र व सुदेव िभ ष ऩतततऩ वनी वविन ऩतततो के दे ि भें य भवऺ ृ फेनी ऩुयी ऩतत ऩयभ गरू -1 ववभर शभत्र ु ऩतत ऩयभ गरू -2 ववभर शभत्र ु ऩत्ते फदरते हैं कुसुभ अॊसर ऩत्तों की त्रफय दयी भणण भधक ु य ऩत्थय गरी न शसय िभ ष ऩत्थय व री न शसय िभ ष ऩत्थयों की फ रयि ग्जर नी फ नो ऩग्त्न ियणॊ गच्छ शभ योिन र र सुयीयव र ऩत्नी औय धभष ऩत्नी श्रीन य मण चतुवेदी ऩत्र औय दस्त वेज सयद य बगत शसॊह ऩत्रक रयत के ववववध रूऩ य भ चन्र ततव यी ऩत्र की सम्ऩ दन कर ड . शिव भॊगर शसॊह ऩयख जैनेन्र ऩयती ऩयी कथ पणीश्वय न थ ये णु ऩय तनन्द ऩयम्सुखभ सीतेि आरोक ऩयतनॊद ड . य भचन्र ऩत्र व्मवह य तनदे शिक बोर न थ ततव यी ऩथ क ऩ ऩ य ॊगेम य धव ऩथ कुऩथ हॊ सय ज यहफय ऩथथक गुरूदत्त ऩद्म नदी क भ झी भणणक फॊधोऩ ध्म म ऩद्म नदी क भ ॊझी भ णणक फॊदोऩ ध्म म ऩद्म नदी के तट ऩय एभ. द स ऩतद्मनी क ि ऩ रक्ष्भी तनव स ऩनघट क ऩत्थय श्रीय भ िभ ष ऩन्न औय ह ड़ी य नी अभय थचॅत्र कथ एॊ ऩय आॊखें नहीॊ बयीॊ ड .

फरमभ चक्वतॉ ऩ त्र ऩ नी िॊकय ऩ नी की कह नी सॊतय भ वत्स्म ऩ नी बी दवू र्त हो चर िुक् दे व प्रस द ऩ ऩ औय प्रक ि जैनेन्र कुभ य ऩ ऩ क पर य भ स्वरूऩ कौिर ऩ मर जभन द स अखतय ऩ यदिॉ य जेंर िभ ष . वव्म श्रीव स्तव ऩहरी यऩट जगदीि चॊर ऩह ड़ की य नी नयवीय र म्फ ऩह ड़ ऩय र रटे न भॊगरेि डफय र ऩह ड़ से सभुर तक तुरसी यभण ऩह ड़ी कन्म के. वी. कोभर शसॊह ऩद ष उठ ओ उऩेन्र न थ अश्क ऩदे की य नी इर चन्र जोिी ऩदे के ऩीछे क्रकिोय स हू ऩमषटन कोि हरय दत्त िभ ष ऩम षवयण औय ऩऺी िभिेय अहभद ख न ऩम षवयण औय हभ सुकदे व प्रस द ऩम षवयण क स थी नीभ डॉ. बैयप्ऩ ऩवषतों की गूॊज हरयय भ जसट ऩवषतों के उऩय डॉ. गुटप्ऩ ऩहहम सभम क शिवस गय शभश्र ऩहहम सभम क शिवस गय शभश्र ऩहे री सयु जीत ऩ क्रकस्त न क उत्थ न म ऩतनसध ु कय एभ ऩ क्रकस्त न की श्रेष्ट्ठ उदष ू कह तनम स.416 1015 1839 490 615 3166 4506 2793 1568 2071 1919 2006 4270 4252 3781 4273 3733 3338 3094 4204 4317 2670 1512 591 92 2091 2617 2504 4161 4288 2225 1086 1945 3340 3345 873 928 2878 1624 4464 4031 702 2556 2135 4167 1997 3816 4412 807 4400 107 3509 ऩरयभर तनय र ऩरयभर तनय र ऩरयवतषन ग्जए बव नी प्रस द ऩरयवतैन गुरूदत्त ऩरयव य मऻदत्त िभ ऩरयशिष्ट्ट थगरयय ज क्रकिोय ऩरयष्ट्कृत हहॊदी व्म कयण फरी न थ कऩूय ऩयीऺ गुरू श्रीतनव स द स ऩणषश्री डॉ.ॊ नन्द क्रकिोय ववक्भ ऩ खी घोड़ वीये न्र कुभ य बट्ट च मष ऩ गर खपीर ज वन ऩ णणग्रहण गोववन्द फल्रब ऩ तय न चनी ग्ॅ धय न य मण ऩ त र दे िों की कथ एॊ डॉ. स गय ऩम षवयण सभस्म औय सभ ध नथगयधय गैयोर ऩवष एस.एर. सुिीर कुभ य पुल्र ऩरकों के स मे य केि नुदयत ऩरतछन दे वय ज ऩथथक ऩरटू फ फू योड़ पणीश्वय न थ ये णु ऩहच नी हुई िक्रे श्रीय भ िभ ष ऩहर कह नीक य य नी ऩहर ऩ ठ बीष्ट्भ स हनी ऩहर ऩ ठ बीष्ट्भ स हनी ऩहर वर्ष मऻदत्त ऩहर सूयज बगवती ियण शभश्र ऩहशरमों क सॊस य डॉ.

एयीस्टोर ऩी.473 2833 3066 1613 4480 1829 2072 2990 2571 659 2958 1885 4205 519 2178 2603 4399 3299 3873 3492 3919 321 1420 1678 3841 3314 1523 1109 1960 3882 3204 1675 2212 4162 3682 1663 205 2509 369 2075 3130 1207 4206 4184 1337 531 802 4094 4095 4096 1438 3133 ऩ यशरम भें ट स्रीट तनभ ई बट्ट च मष ऩ यसगॊध ऩ यस सूयज प्रक ि ऩ यसन थ यतनचॊद धीय ऩ यस ऩत्थय ओभ प्रक ि ऩ रयब वर्क व क्म ॊि य भ चन्र शसॊह सभ य ऩ यो की ड मयी हरयकृष्ट्ण द स ऩ वन स्भयण श्रीन य मण चतुवेदी ऩ र् ण प्रततभ एॊ यववन्र न थ शसॊह ऩ स से दे खने क सुख िॊकय दम र शसॊह ऩ हुन ऐि ब यती ऩ ॅूशरहटकर क्रपरोसपी आॅॎप वी. जोतव णी ऩुतर ग्जसे भनुष्ट्म ने फन म िचीन्रन थ ऩुथ्वीय ज की आॊखे ड ॅॎ य भ कुभ य वभ ष ऩन जष न् भ गौयी िॊकय ऩॊडम ु ऩन जॉवन ट ॅॎरस्ट म ु ऩुननषव हज यी प्रस द ऩुननषव गौयी प्रस द ्वववेदी ऩुन तनषभर य भ नॊद िभ ष ऩुनशभषरन भ म क्ेटकय ऩुनव षस यभेि चन्र ि ह ऩुयन्दय द स अभय थचॅत्र कथ एॊ ऩुयस्कृत हहॊदी कह तनम ॊ श्रीकृष्ट्ण ऩुय णों की अभय कथ एॊ सुर्भ िभ ष ऩुय णों की कह तनम -ॊ । य ज फह दयु शसॊह ऩयु णों की कह तनम -ॊ ।। य ज फह दयु शसॊह ऩयु णों की कह तनम -ॊ ।।। य ज फह दयु शसॊह ऩुय तत्व जमॊत भेहत ऩुरूर्ोत्तभ रक्ष्भी न य मण र र . भधु गुप्त वऩतयों क घय प्रेभ र र बट्ट वऩत -ऩुत्र तुगन ष ेव वऩत ऩुॅत्र तुय षनेव वऩम की अनुगूॊज यघुनन्दन वऩॊजड़े की थचड़ड़म ॊ आि ऩूणष दे वी वऩॊजय सुदिषन वशिष्ट्ठ वऩॊजये क ऩॊछी ॅॊगरू ु दत्त वऩॊजये भें ऩन्न भणण भधक ु य वऩॊजये भें ऩन्न भणण भधक ु य वऩॊजये भें ऩन्न भणण भधक ु य ऩीछे छूट हुआ र व आनॊद जैन ऩीहढमों क खन यभेि फत्र ू ऩीहढमों क खन यभेि ू ऩीत म्फय बगवती ियण शभश्र ऩीरी फत्ती ऩय भोती र र. वभ ष ऩ ॊच एब्सई उऩन्म स नये न्र कोहरी ऩ ॊच एब्सडष उऩन्म स नये न्र कोहरी ऩ ॊच ऩुतशरम ॊ त य िॊकय फॊधोऩ ध्म म ऩ ॊच प्रहसन थचयजीत ऩ ॊच रेणखक एॊ ऩ ॊच उऩन्म शसक भ एॊ णणक फॊधोऩ ध्म म ऩ ॊच हहॊदस् त नी ियण ु ऩ ॊच री यभेि चॊर िभ ष ऩ ॊव भें आॊख व रे म दवेन्र िभ ष वऩघरती तनह इम ॊ डॉ.

भहीऩ शसॊह ऩॊज फ की फोध कथ एॊ इन्र स्वऩन ऩॊज फ की रोक कथ ए श्रीभती ववजमी चैह न ऩॊज फ सभस्म आॅॎऩ.1268 3026 4496 1935 243 2422 241 1791 2358 1548 4413 3154 2215 1958 3223 478 2877 3465 1782 2240 2903 1801 3197 1326 2459 3230 3429 3484 830 2868 1343 1371 815 2114 1032 4449 59 2698 2588 1365 2980 4398 3924 3331 716 2525 1633 520 3857 1143 1834 1993 ऩुरूर्ोत्तभ औय ऩद्म वती अभय थचॅत्र कथ एॊ ऩुर टूटते हुए फदी उज्जभ ऩुर टूटते हुए से. य भ ववर स ऩॊचवटी भैथरी ियण गुप्त ऩॊछी वऩॊजय औय उड़ न ख्व ज अहभद अब्फ स ऩॊज फ की प्रेभ कथ एॊ सॊतय भ ऩॊज फ की प्रयतततनथध कह तनम ॊ डॉ. य . ब्रूस्ट य औय कुरदीऩ उसक नैे मफय दखि ु वॊत शसॊह ऩॊज फ से ज न ऩहच न सुयेि सेठ ऩॊज फी की प्रतततनथध कह तनम ॊ डॉ. भहीऩ शसॊह ऩॊज फी के चन ु े हुए ह स्म व्मॊनमसुयजीत ऩॊज फी के तीन उऩन्म स अभत ृ प्रीतभ ऩॊथ क ऩ ऩ य ॊगेम य घव ऩॊरह जभ ऩच्चीस ऩॊकज त्रफष्ट्ट प्म य औय प्म स कृश्नचन्र प्म स औय िे रे यघव ु ीय िय ण शभश्र प्म स के ऩॊख म दवेन्द चन्द प्म स ऩ नी िॊकय फ भ प्म सी ये त द भोदय . म त्री ऩुष्ट्ऩ ह य शिव नी ऩस् तक रम सॊ ग ठन व सॊ च रन म भ न थ श्रीव स्तव ु ऩॅ न ु ज ग ष यण हरय हय ्वववेदी ु ऩूयफ औय ऩग्श्चभ ड य ध कृष्ट्णन ऩूणष ववय भ वसॊत कुभ य ऩूवष औय ऩग्श्चभ तनत्म नन्द ऩटे र ऩूवॉ ब यत की रोक कथ एॊ श्रीचन्द जैन ऩथ् शिव गोऩ र शभश्र ृ वी की योचक फ तें ऩेड़ रग एॊ ऩुण्म कभ एॊ शिवन थ शसॊह ऩेभ-ऩथथक जमिॊकय प्रस द ऩेरयस की एक ि भ ख्व ज अहभद ऩेरयस की दो कब्रें रूऩ शसॊह चॊदेर ऩेयभ के ऩज यी-।। मिऩ र जैन ु ऩैगम्फयों की कह तनम ॊ ववजम दे व ऩैगम्फयों की कह तनम ॊ ववजम दे व झ यी ऩैदर अॊधेये भें यभेि उऩ घ्म म ऩैदर अॊधेये भें यभेि ऩैदर अॊधेये भें यभेॅेि उऩ ध्म म ऩौय णणक फोध कथ एॊ य जेि िभ ष ऩौरस्त्म श्रीतनथध ऩॊचतॊत्र अभय थचॅत्र कथ एॊ ऩॊचतॊत्र ववष्ट्णु िभ ष ऩॊचतॊत्र ववष्ट्णु िभ ष ऩॊचतॊत्र िॊकय िेर् ऩॊचतॊत्र की अभय कह तनम ॊ व्मथथत रृदम ऩॊचतॊत्र की कह तनम ॊ नॊदी उज्जभ ऩॊचतॊॅॅत्र की कह तनम ॊ अम्फ िॊकय न गय ऩॊचतॊत्र-शसम य व ह थी अभय थचॅत्र कथ एॊ ऩॊच ऩयभेश्वय प्रेभ चन्र ऩॊच ऩुरूर् रक्ष्भी न य मण र र ऩॊच यत्न ड .

य . एभ. म त्री प्रथभ ऩुरूर् सतीि जभ री प्रथभ प्रेभ इव न तग ष ेव ु न प्रथभ प ल्गन नये ि भे ह त ु प्रथभ प ल्गुन नये ि भेहत प्रथभ स्वतॊत्रत सॊग्र भ की झरक्रकम डॉ. भुन्िी प्रततिोध हरय कृष्ट्ण प्रेभी प्रततिोध शिव स गय शभश्र प्रततग्ष्ट्ठत ब यतीम डॉ. ओभ प्रक ि प्रभुख य जनैततक ववच यक हरयदत्त वेद रॊक य प्रम स शिव नी . भोती ॊ रर प्रदक्षऺण ठ कुय प्रस द शसॊह प्रन्दह शभनट भें स्वस्थ फने ड .2437 729 3686 3814 3193 3276 3365 2049 2604 1749 3960 2694 1911 1060 3880 2576 2652 3408 3521 3522 3523 3607 3941 2743 4 5 6 4454 141 2409 2834 4077 4064 3060 3806 3397 1967 4207 883 3049 2926 182 1169 1888 3939 208 1563 4075 195 30 442 1127 प्म से फ दर यजनी ऩतनक्कय प्रक ि औय ऩयछ ई ववष्ट्णु प्रब कय प्रक ि औय ऩयछ ईं ववष्ट्णु प्रब कय प्रक ि की कह नी सॊतय भ वत्स्म प्रक िऩॊज धन शसह ु प्रकृतत ऩरू र् आहद यॊ ग च मष ु प्रगततिीर कववत भें सौंदमष थचॊत तन न ुज ततव यी प्रज य भ म दवेन्र प्रण भ की प्रदशिषनी भें आच मष दे वेन्र न थ िभ ष प्रततक य इन्र ऩतत त्रत्रऩ ठी प्रततक य सुदिषन चैऩड़ प्रततऻ क नन आि ऩूणष दे वी प्रतत्वदीॊ सुनीर चट्टोऩ ध्म म प्रततध्वतन जम िॊकय प्रस द प्रततध्वतनम ॊ फरय भ प्रतततनथध कववत एॊ भह दे वी प्रतततनथध कह तनम ॊ केसयी कुभ य प्रतततनथध कह तनम ॊ तनभषर वभ ष प्रतततनथध कह तनम ॊ प्रेभचॊद प्रतततनथध कह तनम ॊ बीष्ट्भ स हनी प्रतततनथध कह तनम ॊ बगवती चयण वभ ष प्रतततनथध कह तनम ॊ शभथथरेश्वय प्रतततनथध कह तनम ॊ खि ु वॊत शसॊह प्रतततनथध ग्म यचन एॊ भह दे वी प्रतततनथध यचन एॊ प्रो. सभय सेन प्रपुर चन्र य म सॊतय भ प्रफॊध कर भें उऩफोधन आनन्द प्रस द स ह प्रफॊध ऩदभ सूमक ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र प्रब य ज कुभ य सैनी प्रब य हुर स ॊकृत्म मन प्रभ ्व दिी प्रेभ चॊद प्रभ णणक आरेखन व हटप्ऩणी डॉ. भ डगर ू कय प्रततफोध अजम िक् र ु प्रततिोध के. न य मण सीत य भ प्रतततनथध यचन एॊ -2 ऩयिुय भ प्रतततनथध यचन एॊ -3 व्म. िॊकय दम र िभ ष प्रततहहॊस तथ अन्म कह तनम ॊ भुर य ऺस प्रतीऺ शिवस गय शभश्र प्रथभ थचन्ह अजम िुक्र प्रथभ ऩरयचम से.हद.

तनय र . हयदे व फ हयी प्र ण दॊ ड आच मष चतयु सेन ि स्त्री प्र ण ववऻ न स्व भी मोगेश्वय नन्द सयस्वती प्र त् की प्रततऻ य भ प्रक ि प्र थशभक थचक्रकत्स श्म भ सुन्दय िभ ष प्र मग्श्चत भोऩ स प्र यब्ध आि ऩूणष दे वी प्र रूऩ हटप्ऩण ऩूयप ऩठन बोर न थ ततव यी वप्रम दिषनी िोब ऩ ठक वप्रम प्रव स अमोध्म प्रस द हरयऔध वप्रम-प्रव स हरयऔध वप्रम च हे प्रेभ यस य भ नॊद िभ ष प्रेत औय छ म इर चन्द जोिी प्रेत छ म अभये न्र शभश्र प्रेभ कह नी भभत क शरम प्रेभ के ऩुज यी-। मिऩ र जैन प्रेभ चतुथॉ प्रेभ चन्द प्रेभ चन्द नथन शसॊह प्रेभचन्द के ववच य-1 प्रेभचन्द प्रेभचन्द के ववच य-2 प्रेभचन्द प्रेभचन्द के ववच य-3 प्रेभचन्द प्रेभ चन्द घय भें शिवय नी दे वी प्रेभ चन्द स हहत्म भेॅेॅॊ ग्र म्म डॉ.भह दे वी की श्रेव ष्ट्ठचस्ऩतत यचन एॊऩ ठक प्रस द तनय र व भह दे वी की कह व चस्ऩतत तनम ॊ ऩ ठक प्रस द मुगीन न टक यभेि खनेज प्रहर द अभय थचॅत्र कथ एॊ प्र कृत औय उसक स हहत्म हयदे व फ हयी प्र च प्रहसन थचयॊ जीत प्र चीन कथ कोि जम प्रक ि ब यती प्र चीन कवव ववश्म्बय भ नव प्र चीन प्रेभ औय नीतत की कह तनम य ॊगेमॊ य धव प्र चीन ब्र ह्भण कह तनम ॊ य ॊगेम य धव प्र चीन ब यत की कथ एॊ डॉ. दॊ गर झ ल्टे प्रमोॅेजन भूरक हहॊदी यघुनन्दन प्रस द िभ ष प्रव सी ब यतीमों की हहॊदी सेव डॉ.ऩॊत. जीवन सुबर प्रेभचॊद प्रत ऩ न य मण टॊ डन प्रेभ चॊद कथ स हहत्म ह स्म व्मॊडॉ. भॊगर दे व उऩ ध्म म प्र चीन ब यत की ववदर् ु ी न रयम ॊगौयी िॊकय ऩ ॊडम प्र चीन ब यत के भह न फ रक इन्र स्वप्न प्र चीन ब यत के वैऻ तनक कणषधस्वय भी सत्म प्रक ि सयस्वती प्र चीन ब यतीम य ध कुभुन्द भुखजॉ प्र चीन ब यतीम सॊस्कृतत कोि डॉ. भहे ि चन्र गुप्त प्रि सतनक हहॊदी एततह शसक सॊदभहे बष ि चन्र गुप्त प्रश्न औय प्रसॊग प्रदीऩ ऩॊत प्रश्न तीत फुवद्धय ज प्रस द. कैर ि फ जऩ मी प्रवीण मोग शिऺ अडप्ऩ आनन्द प्रिग्स्त गरू ु इकफ र शसॊह प्रि सतनक हहॊदी डॉ. नम प्रेभचॊद घय भें शिवय नी प्रेभ चॊद ब यतीम सॊदबष डॉ.1755 3371 4188 4165 2995 3594 4132 4003 3918 1631 54 2255 1638 1331 226 3231 4023 52 4035 4066 3895 4109 1682 3783 3717 3377 175 2747 2679 4477 3923 3838 3870 2675 545 55 1257 2948 3917 940 477 676 2344 1609 1610 1611 4018 1126 592 1717 220 1745 प्रमोग त्भक हहॊदी थगयी ज नन प्रमोजनभूरक हहॊदी डॉ. तनभषर जैन .

ऩ ण्डे प टक यभेि फत्र प यस क भुततषक य कृऩ क ॊत झ प यस क भूततषक य कृऩ क ॊन्त झ प ल्गन क े हदन च य ऩ ण्डेम फेचन ै िभ ष ु प ॊसी य भ कुभ य भ्रभय प ॊसी की कोठयी से जभुन द स अख्तय प ॊसी तथ अन्म कह तनम ॊ जैनेन्र शसॊह क्रपय एक हदन ववभर शभत्र क्रपय बी अकेरे नपीस अपयीदी क्रपय भहकेगे कदम्फ िकॊॅुतर ऩ ण्डेम क्रपय वही फेखद िीत ॊिु ब य्व ज ु ी क्रपय क गौयखऩुयी प्रक ि ऩॊड़डत पीते से फॊधी ग्जॊदगी केिव ऩ ॊडे पूरों के अग्ननवन य जेन्र सक्सेन पेय फ सभये िु वसु पेरद एण्ड कम्ऩनी सत्मग्जत य म ू पैज अहभद पैज प्रक ि ऩॊड़डत पैज अहभद पैज प्रक ि ऩॊड़डत पोटोग्र पी ववय ज पोटोग्र पी औय ववऻ न व भन ठ कये पॊड भेन्टर य इट्स डॉ. थगयीि चन्द िभ ष प्रेयक कथ एॊ मिऩ र जैन प्रेयक वन्दनीम कह तनम ॊ व्मथथत रृदम प्रोपेसय जोसेप ॅुॅुपुड प्रोपेसय िैकु के क यन भे सत्मग्जत य म प्रौढ शिऺण नये ि चॊर प्रयभुख कवव औय रेखक डॉ. ववजमश्री ियण पजॉ अदव यभ क ॊत पशरत ज्मोततर् डॉ. न य मण दत्त श्रीभ री पसरों की सुयऺ ववनोद फ र प इनें शिमर भैनेंजभें ट आय. एभ. शभश्र फकुर कथ आि ऩूण ष दे वी फकुर कथ आि ऩूण ष दे वी फकुर कथ आि ऩूण ष दे वी फक्िीि न भ य भन य मण उऩ ध्म म फचऩन की म द यही कह तनम ॊ स. हहभ ॊिु जोिी फच ओें च च श्म भ पड़के फच्चन के ववशिष्ट्ट ऩ त्र चन्र दे व फच्चे क्मों त्रफगड़ते है जगत शसॊह . िशि ऩी.606 222 1260 880 888 360 286 889 3495 2181 1612 823 4208 2891 1492 350 2328 1818 554 3132 1390 1783 2965 3210 3389 4209 3386 2021 71 2710 3562 2798 1222 2498 3439 718 1201 516 1406 1447 3441 1437 4255 2957 1007 1233 3582 1251 3695 1539 2767 1515 प्रेभचॊद व्मग्क्त औय स हहत्मक यभन्भथ न थ गुप्त प्रेभतीथष प्रेभ चॊद प्रेभ ्व दिी प्रेभ चन्र प्रेभ ऩचीसी प्रेभचॊद प्रेभऩणू णषभ प्रेभचॊद प्रेभ ऩॊचभी प्रेभचॊद प्रेभ प्रसून प्रेभ चॊद प्रेभ प्रसून प्रेभचॊद प्रेभ भें बगव न जैनेन्र प्रेभ ववव ह िॊकय ऩुण तोफेकय प्रेभ ऩषण उधो फक्िी प्रेभ श्रभ प्रेभ चन्द प्रेभ ॊचर डॉ.

म त्री य भन थ अवस्थी सुयेन्र ततव यी य भ नॊद अभय थचॅत्र कथ एॊ द भोदय ियण रतीप घोंघी सत्मग्जत य म कृश्नचन्र ड . के.4404 1214 2875 1733 2406 1687 1688 2160 2780 402 3332 767 2954 3335 479 1872 1910 2804 2791 2362 610 1778 796 1938 1215 1319 1138 2085 3320 643 3003 3068 2387 3544 2636 244 263 663 2062 2208 3866 3172 1439 4495 595 1670 2010 3697 839 967 2771 2145 फच्चे क्मों त्रफगड़ते हैं फच्चे भन के सच्चे फच्चों की अनोखी ह स्म कथ एॊ फच्चों की दतु नम फच्चों की म्म उ फच्चों की य भ मण .2 फजयॊ गी ऩहरव न फज्भे ग्जन्दगी यॊ गे ि मयी फज्भे ग्जॊदगी यॊ गे ि मयी फड़ आदभी छोट आदभी फड़ी दीदी फड़ी फेगभ फड़े घय की फहू फढ़ॊ ते कदभ फणी ठणी फदचरन फदचरन फदरती य हें फदर व से ऩहरे फदर हुआ आदभी फनते-त्रफगडते रयश्ते फन्द न कयन ्व य फन्द न कयन ्व य फन्दनीम फन्द फह दयु फफर ू फब्फू शभम कत्रब्रस्त न फम्फई की फ गी फम्फई की ि भ फम क घोंसर औय स ॊऩ फम न फम न एक गधे क फपष क आदभी फपष के अॊग ये फशर क फकय फशरद न फल्रबऩयु की रूऩ कथ फल्रबऩयू की रूऩ कथ फस आज की य त फस क हटकट फसेये फसेये से दयू फस्ती फहत हुआ ऩ नी फहती फम य फहते आॊसू फह दयु फच्चे फह दयु रड़क फह दयु रड़क फहहयॊ ग मोग फहुयॊ गी न टक जगत शसॊह य जकुभ य अशभर भनहय चैह न फरदे व ध्रव ु कुभ य तर ु सी य भ तुरसी य भ अभत ृ र र न गय क्रपय क गौयखऩुयी क्रपय क गोयखऩुयी कुरदीऩ नगभ ियतचन्र चट्टोऩ ध्म म आच मष चतुयसेन सुयज दे व प्रस द मिऩ र जैन ध्म न भ खीज कववत शसॊह प्रततब वभ ष मऻदत्त यभेि उऩ ध्म म श्रीय भ िभ ष से. रक्ष्भी न य मण र र कभरेश्वय चन्रिेखय अयववॊद यघुवीय ियण भन्भथ न थ गुप्त हरय प्रस द प्रततब अग्रव र प्रततब अग्रव र सुधीक ॊत गॊग धय ग डथगर य भ अयोड़ फचन धभष ऩ र य जेंर अवस्थी कभर िुक्र आच मष चतुयसेन आय. गुप्त शिवस गय शभश्र शिवस गय शभश्र स्व भी मोगेश्वय नन्द सयस्वती य भ कुभ य वभ ष .1 फच्चों की य भ मण .य .

1487
2058
1925
2519
4456
4304
3456
1901
1672
2847
913
39
309
854
3863
3233
3392
4431
3111
2292
3442
435
3727
2593
66
1307
935
4151
575
4015
9
1197
91
49
192
3478
3712
3701
3702
3703
3826
2110
772
1313
555
3309
2047
2177
58
2101
2411
2538

फह्भर्यॅग्ॅॅ वॊि
चैधयी य जन य मण
फ की इततह स
फ दर सयक य
फ की सफ खैरयमत है
चन्रक न्त
फ की सफ खैरयमत है
चॊरक ॊत
फ ग ओ फह य
भीय अभन दे हरवी
फ गव नी की तकनीक
इर कुभ य एभ कुभ य
फ ज य क मह ह र है
िैर चतुवेदी
फ जीगय
आिुतोर् भुखजॉ
फ जी ह य गए
जमिॊकय प्रस द
फ जूफॊद खर
के. ऩी. सक्सेन
ु गए
फ णबट़ट क सॊघर्ष
कृष्ट्ण ब वुक
फ णबट़ट की आत्भ कथ
हज यी प्रस द ्वववेदी
फ ण बट्ट की आत्भ कथ
ड ॅॎॅ हज यी प्रस द
फ ण बट्ट की आत्भ कथ
ड .हज यी प्रस द
फ ण बट्ट की आत्भकथ
हज यी प्रस द ्वववेदी
फ त-2 भें फ त
गोऩ र प्रस द व्म स
फ त एक औयत की
कृष्ट्ण अग्ननहोत्री
फ त एक औयत की
कृष्ट्ण अग्ननहोत्री
फ त क धनी
आच मष चतुयसेन
फ त खत्भ नहीॊ होती
अऩण ष टै गोय
फ दय फयस गमों
गोऩ र द स नीयज
फ दि ही अॊगूठी
सत्मजीत य म
फ ऩू क ऩथ
मि ऩ र जैन
फ ऩू की फोध कथ एॊ
य भ कुष्ट्ण िभ ष
फ ऩू भेयी नजय भें
जव हयर र
फ फय
अभय थचॅत्र कथ एॊ
फ फयन भ
मग
ु जीत फ वरऩयु ी
फ फयन भ के यॊ गथचत्र
एभ. एस. यॊ ध व
फ फ फटे श्वय न थ
न ग जन
ुष
फ फ स हफ अम्फेडकय् एक थचन्तन
भधु शरभेम
फ फू की क य व स की कह नी सुिीर नैमय
फ फू जी
शभथथरेश्वय
फ यह एक ॊकी
ववष्ट्णु प्रब कय
फ यह फ ॊनर श्रेष्ट्ठ कह ॅॎॅॊतनम ॊ ऩुष्ट्ऩ जैन
फ रूद औय फुय द
भन्भथ न थ गुप्त
फ रक की सभस्म ऐॊ
जभन र र व ऩती
फ र कथ ए
यववन्र न थ ठ कुय
फ र ऻ न-ववऻ न एन्स इक्रोऩीड़डम
य जेन्र कुभ य य जीव
फ र ऻ न-ववऻ न एन्स इक्रोऩीड़डम
य जेन्र
कीट
कुभऩतॊ
य गये जीव
फ र ऻ न-ववऻ न एन्स इक्रोऩीड़डम
य जेन्र
जर-थर
कुभ य जीव
य जीव
फ र ववऻ न एन्स इक्रोऩीड़डम सॊ
यच
जेन्यर ऩरयवहन
कुभ य य जीव
फ र सेन
बगवती ियण शभश्र
फ शरक वधू
ववभरकय
फ री
अभय थचॅत्र कथ एॊ
फ रू की दीव य
श्रीय भ िभ ष य भ
फ वन ऩत्ते
कृष्ट्ण चन्र
फ वन ऩत्ते एक जोकय
भॊजुर बगत
फ वन ऩत्ते एक जोकय
भॊजुर बगत
फ वय अहे यी
अऻेम
फ हय न बीतय
गॊग प्रस द
फ ॊके र र
यववन्र क शरम
फ ॊके र र
यववॊर क शरम

540
1482
3199
1472
2814
3542
3249
2163
2482
1651
3985
4210
2590
1360
4381
56
1042
1581
3916
817
2121
2066
557
3657
2591
3907
1848
4451
3829
1206
3693
4307
2373
4253
448
3202
119
4442
3077
2194
1729
1769
2632
1069
1107
4047
3411
1035
4334
4180
1256
2299

फ ॊगर दे ि के सॊदबष भें
ववष्ट्णुक ॊत
फ ॊहो क ऋण
ध्ररुव प्रयस द ज मसव र
त्रफआव न भें उगते क्रकॊ िुक
डॉ. सुध श्रीव स्तव
त्रफखये ततनके
अभत
ृ र र न गय
त्रफखये ततनके
अभत
ृ र र न गय
त्रफखये -त्रफखये भन
य ज नॊद
त्रफजरी य नी की कह नी
जम प्रक ि ब यती
त्रफहटम य नी सुनो कह नी
जम प्रक ि
त्रफन फचऩन के फच्चे
हरय भेहत
त्रफन छत क भक न
इन्द ु फ री
त्रफन दयव जे क भक न
य भ दे यि शभश्र
त्रफस्तय औय आक ि
यभ क ॊत
त्रफह य की फोध कथ एॊ
इन्र स्वऩन
त्रफह य की रोक कथ ए
प्रक िवती
त्रफह य से ज न ऩहच न
बगवती प्रस द ्वववेदी
त्रफह यी सतसई
ववय भ एभ.ए.
त्रफह यी सतसई
दे वेन्र िभ ष
फीक नेय य ज्म क इततह स
कन्है म
फीच के रोग
य भ कुभ य भ्रभय
फीच भें नदी है
ववभर शभत्र
फीच से टूट हुआ
य भध यी शसॊह
फीफी जी कहती हैं क्रक भेय चेहयमिऩ
योत्रफर
र है
फीभ य िहय
फीयफर की कह तनम ॊ
आनन्द कुभ य
फुढ़ ऩे की जव नी
भ इकर भधस
ु ूदन
फुढ़ ऩे से जव नी की ओय
डॉ. सत्मव्रत
फढ़
ु ी जड़ों क नवज त जॊगर उऩेन्र कुभ य
फद्ध
फ रक य म कुटीय
ु औय श्र वक सॊघ
फुद्ध व णी
डॉ. ववमोगी हरय
फुद्ध ियणॊभ
हरय स्वरूऩ गौड़
फुवद्ध क चभत्क य
बगवत ियण उऩ ध्म म
फुवद्ध क चभत्क य
धभषऩ र ि स्त्री
फुवद्धभ न भूखष
भह वीय प्रस द
फुवद्धवधषक गणणत
हरय दत्त िभ ष
फुनी हुई यस्सी
बव नी प्रस द
फुन्दे रखॊड क सूयज
इॊर सन
फुद षपयोि
जभन द स अखतय
फढ़
भछ
आय
अयनेस्ट है शभॊनवे


फॊद
-2
वे


स यस्वत भोहन

फूॊद-फूॊद यक्त
म दवें र िभ ष
फेईभ नी की ऩयत
हरय िॊकय ऩयस ई
फेगभ क तक्रकम
आनन्द कुभ य
फेगभ भेयी ववश्व स
ववभर शभत्र
फेटे की त्रफक्ी
वववेकी य म
फेटे की त्रफक्ी
वववेकी य म
फेतव फहती यही
भैत्रीम ऩुष्ट्ऩ
फेत र कथ ऐ
गोववन्द शसॊह
फेर
तनय र
फेवकूपी क कोसष
सत्म ऩ र शसॊह
फेहतय बववष्ट्म के शरए
डॉ. िॊकय दम र िभ ष
फैरग्रेड भें हज य स र
शिवस गय शभश्र
फै य प ल्गुन क
स्नेह भोहनीि

3218
371
4232
2751
838
2500
1806
3610
2924
626
3584
3085
912
1784
3790
4331
2053
4240
3649
3696
602
2133
1467
316
2478
622
765
2773
1182
3674
3140
3446
3837
333
3032
2915
4069
1071
1225
783
1689
3120
1034
2169
1538
2339
2750
2378
2907
3644
2876
701

फोध कथ एॊ
भह त्भ आनॊद स्व भी
फोधोदम
ॅ ॅॊकय
फोन्स ई
कनक रत
फोतनषमों के नय भुण्ड शिक यी पणी भजुभद य
फोर-च र सध
यतन कुभ य जैन
ु रयए
फोरती क्मों नहीॊ
यभ िॊकय श्रीव स्तव
फोरते ह शिमे
य ज नयें र
फोर यी कठऩुतरी
भ रती जोिी
फौद्ध दिषन
य हुर स ॊकृत्म मन
फौनी ऩयछ ईम ॊ
कृष्ट्ण अग्ननहोत्री
फौने क चन
हर्षदेव भ रवीम
ु व मुद्ध
फॊक्रकभचॊर चट्टोऩ ध्म म
कृऩ क ॊत झ
फॊगर की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ
वसु बट्ट च मष
फॊगर के प्रशसद्ध कथ क य
प्रफोध कुभ य
फॊग ववजेत
यभेि चन्र दत्त
फॊग र की क रजमी कह तनम ॊ डॉ. अमर सयक य
फॊजयों की रोक कथ एॊ
इन्र स्वऩन
फॊद दयव जे
उभेि चन्र
फॊदय की फ ॊह-10
श्री एस. के. गूभय
फॊदय फ ॊट
फच्चन
फॊदी की चेतन
कभर ऩतत त्रत्रऩ ठी
फॊधन
िशि क्रकयण जैन
फॊॅूद औय सभुर
अभत
ृ र र न गय
ब्रह्भचमष की िग्क्त
स्व भी य भ तीथष
ब्रह्भचमष की िग्क्त
स्व भी य भतीथष
ब्रह्भ ण्ड ऩरयचम
गुण कय भुरे
ब्र ह्भण की फेटी
ियतचन्र
ब्र ह्भणत्व एक उऩ थध ज तत नहीॊ
सद
ु िषन वशिष्ट्ठ
बग्क्त औय वेद ॊत
स्व भी वववेक नॊद
बगव्गीत
डॉ. एस. गोऩ र
बगव न एकशरॊग
स न्म र स्व भी
बगव न फुद्ध की आत्भकथ
ऩयदे िी
बगव न यो यह है
ववभर शभत्र
बगव न हभ य शभत्र
सी य जगोऩ र च यी
बगोड़
भुर य ऺस
बजन भत
अभर द स िभ ष

बटकती य ख
बीष्ट्भ स हनी
बटक व
भह श्वेत दे वी
बर ऩरू
र्
यववन्र न थ त्म गी

बम बीत
स्टीपन ज्व इॊग
बयत भुतन के फ द
भणण भधक
ु य
बयततम सॊस्कृतत के स्वय
भह दे वी वभ ष
बयी-बूयी ख क धर
गज नन भ धव भुग्क्तफोध

बयोस
यतन र र िभ ष
बवन तनभ षण कर एवॊ शिल्ऩ ववऻ
सुयेन्र
नन
केथशसद्ध
र रन्त तत्व
बवन भत
अचर द स

बववष्ट्म की चन
इग्न्दय ग ॊधी
ु ौततम ॊ
बई
ऋर्ब चयण जैन
बई
भधक
ु य शसॊह
ब ई औय फहन-5
श्री एस. के. गभ
ू य
ब ई की ववद ई
आच मष चतुयसेन
ब गवॊती
ओभ प्रक ि

3972
2152
2683
1894
2944
1188
656
74
437
3744
373
413
938
481
695
450
1229
2236
4137
2140
2730
2643
2644
2724
3461
1423
3757
4402
334
4148
2663
4244
1840
3145
4236
4290
432
422
431
4318
460
1435
1
78
370
4142
2984
3483
463
4089
3517
4521

ब गीयथ की फेटी
ऩटर
ब गो नहीॊ दतु नम ॊ को फदरो
य हुर स ॊकृत्म मन
ब नम क खेर
िॊकय फ भ
ब ऩ इॊजन की सच्ची कह नी फ्रेडरयक
ब बी क आॊचर
बभिह
दे वय ज हदनेि
ब यत क ऩयभ णु ववस्पोट
य भ कृष्ट्ण सुध कय
ब यत क य जनैततक इततह स य जकुभ य
ब यत क य जनैततक एवॊ स ॊस्कृततक
दे वन यइततह
मण स
ब यत क स भ ग्जक ऩुनतनषभ षण जी. आय. भदन
ब यत क स ॊस्कृततक इततह स हरयदत्त
ब यत क सॊववध न तथ न गरयक
भत
जीवन
प्रस द
ब यत की अन्तय त्भ
सवषऩल्री ड . य ध कृष्ट्णन
ब यत की कह नी
बगवत ियण
ब यत की कह नी-1
बगत शसॊह
ब यत की कह नी ब ग 2
फ नी य म चैधयी
ब यत की गौयव ग थ
शिवस गय शभश्र
ब यत की गौयव ग थ
शिवस गय
ब यत की ववश्व को दे न
भें क्स भूरय
ब यत की वीय ववदर्
ु ी भहहर एॊ आच मष ऩदभ वती
ब यत की वीय ववदर्
ु ी ग्स्त्रम ॊ ररत प्रस द
ब यत की श्रेष्ट्ठ कह तनम -ॊ 1
स्नेह अग्रव र
ब यत की श्रेष्ट्ठ कह तनम -ॊ 2
स्नेह अग्रव र
ब यत की श्रेष्ट्ठ रोक कथ एॊ
भहे ि ब य्व ज
ब यत की श्रेष्ट्ठ रोक कथ एॊ
प्रो. श्रीचन्द जैन
ब यत की श्रेष्ट्ठ रोककथ एॊ
श्री चॊद जैन
ब यत की स ॊस्कृततक कह नी य भध यी शसॊह हदनकय
ब यत के दिषनीम
क्रकिोय क फय
ब यत के ्वीऩ
मोगय ज
ब यत के ऩमषटन स्थ न
गज नन य व
ब यत के प्रभुख कर
र र फह दयु शसॊह
ब यत के प्र चीन नगयों क ऩतनय भ चयण िभ ष
ब यत के बूशभगत क् ॊततक यी य जकुभ यी
ब यत के भह न सऩूत
भहे ि िभ ष
ब यत के भुख्म न्म मभूततष
ऩवन चैधयी भनभोजी
ब यत के वऺ
श्रीचन्द जैन

ब यत दिषन उत्तय प्रदे ि
हरयदत्त
ब यत दिषन हदल्री
यभेि फक्िी
ब यत दिषन य जस्थ न
म दवें र चॊर
ब यत ऩतन की ओय
टी. एन. िेर्न
ब यत ऩ क तनणषन मक मुद्ध
डी.आय. भ को व य
ब यत ऩुत्र नौयॊ गी र र
अभत
ृ र र न गय
ब यत-ब यती
भैथथरी ियण गुप्त
ब यत भ ॊ की रोयी
दे वय ज हदनेि
ब यत भें इस्र भ
आच मष चतुय सेन ि स्त्री
ब यत भें ये र म त म त क अथष एभ.
ि स्त्र
फी. ट री
ब यत भें ये र म त म त क अथषि
एभ.
स्त्रवी. द री
ब यत भें ि सक औय ि सन व्मवस्थ
स्व भी क
दम
ै स नन्द
हो सयस्वती
ब यत यत्न
डॉ. ईश्वय प्रस द
ब यत यत्न
भक
ु ु न्द र र गप्ु त
ब यत यत्न ऩॊ. गोववन्द वल्रब ऩॊहहभ
त िु जोिी
ब यतयत्न सम्भ तनत ववबूततम ॊ भुकुन्द र र गुप्त

भधक ु य गॊग धय ब यतीम ब र् ओॊ के स हहग्त्मक गौयी सॊदेि िॊकय ब यतीम ब र् सॊगभ िब्दकोि डॉ. बव नी िॊकय त्रत्रवेदी ब यतीम अॊक ऩद्धतत की कह नी गण ु कय भर ु े ब यतीम ॅॅऋवर्मों की कह तनमववजम ॊ कुभ य ब यतीमकयण थचयॊ जी र र ब यतीम कह तनम ॊ वैऻ तनकों कीर र भधऩ ु ब यतीम कह ॊतनम -ॊ 1983 फ रस्वरूऩ ब यतीम कह ॊतनम -ॊ 1984 फ रस्वरूऩ ब यतीम क व्मि स्त्र डॉ.अॊग्रआय. य भ र र िभ ष ब यतीम सॊस्कृतत के ग मक कॊवय र र जैन ब यतीम सॊस्कृतत के स्वय भह दे वी ब यतीम स्वतॊत्रत आन्दोरन क थगयधय इततह स ब यतीम ह ॊस्म व्मॊनम कोि डॉ.अॊग्रआय. ऩ ठक ब रे रुन व ज्मो क्रकती क्रकयण न हट ब वन के अॊकुय ववश्भॅीॅ य . ऩ ठक ब गषव सथचत्र कोि .हहॊदी . फयस ने र र चतुवेदी ब गषव सथचत्र कोि . य भ जीवन भ ल्म ब यतीम ब र् सॊगभ िब्दकोि-।डॉ. ववश्व स हहत्मशभत्र उऩ ध्म म ब यतीम क्रक्केट कप्त न मोग य जध नी ब यतीम थचन्तन डॉ. न य मण दत्त श्रीभ री ब यतीम ऩवष त्मौह यो की कह ॊतनम अभय ॊ न थ िुक्र ब यतीम प्रस यण्ववववध आम भ डॉ. िॊकय दम र िभ ष ब यतीम जनत के भह प्र ण जमप्रक व्मथथत ि रृदम ब यतीम ज्मोततर् डॉ. य भ भूततष ब यतीम क व्म शसद्ध ॊतों क सवेऺ डण ॅॎ सत्मदे व ब यतीम क्रकिोयों की कह तनम ॊ म भर र ब यतीम क् ग्न्तक यी आॊदोरन औय डॉ. ेजी सी. ववकभणी स ब यतीम स हहत्म ऩरयचम प्रब कय भ चवे ब यतीम सॊतों की प्रेयक कथ एॊ अऺम कुभ य जैन ब यतीम सॊस्कृतत एक अगस्र प्रवउदम ह न य मण ततव यी ब यतीम सॊस्कृतत औय इततह स सॊग्र भ शसॊह ब यतीम सॊस्कृतत औय कर डॉ.हहॊदी . क एभ.1383 560 2733 3346 3368 3678 1849 443 3921 3285 3286 1822 1666 623 3776 3253 4472 1550 1391 2393 3372 1702 4275 4163 3097 4254 434 377 3481 3271 1430 3750 4171 1429 3827 3797 4233 924 217 2455 3835 508 3342 4237 534 2758 3494 3892 80 81 2000 2859 ब यत य तनभ षत दीनदम र ओझ ब यत व वर्षक सॊदबष सॊकरन ब यत ववब जन उदष ू की श्रेष्ट्ठ कह नयेतनम न्र ॅॊ ॊ भोहन ब यत से हभ क्म सीखें बव नी िॊकय त्रत्रवेदी ब यत से हभ क्म सीखें डॉ. शिव प्रस द ब यतीम य ष्ट्रीमत क अग्रदत ू ड . नगेन्र ब यतीम सॊस्कृतत के आध य स्तम्ब डॉ. ेजी सी. कणषशसॊह ब यतीम रुहढव द आच मष कृष्ट्णऩ द ब यतीम ये र व्मवस्थ एवॊ स्थ ऩन य भ स गय शभश्र ब यतीम ये रों की म त्री सेव एॊ उभ न थ कऩूय ब यतीम शरवऩमों की कह नी गुण कय भुरे ब यतीम व ॊगभम ऩय हदव्म दृग्ष्ट्टक िी य भ िभ ष ब यतीम ववक स क मों क ऩम षवदयणइग्न्स्टम ऩय प्रयब व इॊजीतनमसष ूट ऑप ब यतीम ववऻ न की कह नी गुण कय भुरे ब यतीम ववऻ न की कह नी गुण कय भुरे ब यतीम शिखय कथ कोि तेरगस. य भजीवन ब यतीम मुग ऩुरूर् शिवस गय शभश्र ब यतीम य केट औय शभस इरें डॉ. कभरे कहश्तनम वय ॊ ू की ब यतीम शिखय कथ कोर् ओड़ड़म कभरे कह श्वय तनम ॊ ब यतीम सभ ज भें न यी आदिों सी.

वी.3532 2978 1659 2227 3533 1502 353 1137 1335 2263 1298 168 1454 3564 3312 2414 1172 901 740 955 51 1897 4414 458 2327 4139 875 1228 2416 1017 3001 867 777 809 1503 1995 3984 2290 3709 1972 844 3422 521 2313 3311 1282 1450 2790 3324 680 1591 3565 ब र् औय स हहत्म शिऺण भें मॊडत्रों.क प्रमोग ु रकणॉ ब र् औय सॊस्कृतत बे र न थ ततव यी ब र् मुगफोध औय कववत य भ ववर स िभ ष शबऺुणी सुब र् भेड शबख रयणी ववश्वॊबय न थ शबतत थचत्र यववन्रन थ त्म गी बीगे ऩॊख क् ॊतत त्रत्रवेदी बीड़ भें गुभ तनरूऩभ सेवती बीभ औय हनुभ न अभय थचॅत्र कथ एॊ बीरों की रोक कथ एॊ ऩुरूर्ोत्तभ बीष्ट्भ अभय थचॅत्र कथ एॊ बुरे ववसये थचॅत्र बगवती चयण वभ ष बूख अभत ृ र र न गय बूख अभत ृ र र न गय बूखे ियीय नॊगी आत्भ एॊ सुध कय िभ ष बत य भ कुभ य ू भहर बर क ि र ब्रज बर् ू ू ु ण बूरन भत क क आनन्द प्रक ि जैन बूर बटक स धन प्रत ऩी बूरे त्रफसये थचत्र बगवती चयण वभ ष बूर्ण ग्रॊथ वरी श्म भ त्रफह यी शभश्र बेड़ड़मे शिव प्रस द शसॊह बे जन औय स्व स्थ्म प्रदीऩ कुभ य बैयवी शसव नी बै ततक सॊस्कृतत के ऩरयवेि फनवीय शसॊह बोजन फन न सीखो िैर सयर कभरेि बोय की फेर कभर िक् ु र भ्रभय नन्द के ऩत्र वव्म तनव स शभश्र भ्रष्ट्ट च य औय हभ श्रीकृष्ट्ण न थ भक न श्रीर र िुक्र भगध श्रीक ॊत वभ ष भगध की जम शिवस गय शभश्र भघु औय तकवी शिव िॊकय भछरी ज र य जकभर चैधयी भछरी फ ज य य जेन्र अवस्थी भछरी भय गई य जकभर चैधयी भजहफ नहीॊ शसख त सत्मेन्र ियत भजेद य चट करे कृष्ट्ण ववकर ु भजेद य प्रश्न ऻ नवधषक उत्तय रशरत न य मण उऩ ध्म म भणणक शिव नी भणणकणणषक घ ट क स्वप्न ववनोद चॊर ऩ ॊडे भणणम ॊ औय जख्भ नवनीत शभश्र भणणहीन यवीन्र न थ ठ कुय भतव र तनय र रशरत िुक्र भत्सम कन्म य भ प्रत ऩ शभश्र भददग य फीयफर अभय थचॅत्र कथ एॊ भदय टे येस ववजम दे व भधु मऻदत्त भधशु रक ववजम धीय भधि र हरयवॊि य म फच्चन ु भधि फच्चन ु र भधॅ फच्चन ु ुि र . जे क.

2587 1367 4382 4239 3792 4405 1558 2518 2673 1453 2197 2625 1813 3013 4019 714 3843 1918 114 3856 4020 4481 627 911 2113 1794 2003 4372 3277 446 1709 3573 3008 1427 2674 4011 249 318 1405 1272 4291 2580 2572 3625 4166 1518 3190 3086 3692 3323 3267 2410 भध्म प्रदे ि की फोध कथ एॊ ध्म न भ खीज भध्म प्रदे ि की रोक कथ ए यभेि फक्िी अचर िभ ष भध्म प्रदे ि से ज न ऩहच न यभेि फऺी भध्मय त्रत्र भें सूमष स्न न सुिीर क रय भनक भल् म नये ि गप्ु त नीयस ू भन क योग डॉ. जगन्न थ शभश्र भह प्रबु व्मथथत रृदम . िॊ ग्न्तस्वरूऩ गुप्त भयी वप्रम कववत एॊ श्रीक ॊत वभ ष भदष भय ठ िॊकय फ भ भम षद के फॊधन िग्क्तऩ र केवर भम षहदत हयदिषन सहगर भरम रभ की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ सुध न्िु चतुवेदी भरम रभ के श्रेष्ट्ठ एक ॊकी सध ु न्िु चतव ु ेदी भग्ल्रक जय सॊध भसखय गोऩ र अभय थचॅत्र कथ एॊ भहकते पूर डॉ. ये ख व्म स भहरों भें कैद योिनी श्म भ वैब्स भह कवव ग शरफ व्मथथत रृदम भह त्भ फुद्ध की घय व ऩसी हरयय ज असन्त भह त्म ग-ग ॊधी प्रथभ दिषन िॊकय दम र शसॊह भह दे वी वभ ष य जेॅेि िभ ष भह नन्द जमवॊत दरवी भह न शिऺ ि स्त्री भह त्भ हॊ सडय .एस.जबगतय भ भह ऩरू प्र णन थ व नप्रस्थी ु र्ों क फचऩन भह ऩरू र्ों क े स तनध्म भें अणखर तनमोगी ु भह ऩुरूर्ों के सॊस्भयण ड .सुदिषन भन के वन भें हहभ ॊिु श्रीव स्तव भन क्मों उद स है ववभर शभत्र भन ऩयदे सी कत षय शसह भन ऩवन की नौक कुफेय न थ य म भनफोध फ फू भधक ु य शसॊह भनफोध भ स्टय की ड मयी वववेकी य म भन शभज ष तन स हहफ अभत ृ प्रीतभ भन वद वन रक्ष्भी न य मण ृ भनीर्ी खरीर ग्जब्र न भनुष्ट्म की उत्ऩतत औय भ नव ज बुऩ ततम ेन्र ॊ न थ भनुष्ट्म के रूऩ मिऩ र भनुष्ट्म के रूऩ मिऩ र भनुष्ट्म जो दे वत फन गमे व्मथथत रृदम भनोयभ बूशभ अरूण चर प्रदे ि भ त प्रस द भनोयभ प्रेभचन्द भनोयभ प्रेभचन्द भनोयॊ जक कथ एॊ आनन्द कुभ य भनौववऻ न य ज य भ ि स्त्री भन्नू बॊड यी की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ य जेन्र म दव भभत भमी भ ॊ भदय टे येस अभय न थ िक् ु र भमूय नौक इन भद य भयण ज्वय भ खनर र चतुवेदी भयणोत्तय जीवन के अद्भत य भ गोऩ र ु यहस्म भय ठी की प्रतततनथध ह स्म कह तनम ड . मतीन्र अग्रव र भन की फ ॊसुयी सुनीर ग ॊगुरी भन के फॊधन आय.

थचत्र चतुवेदी िैरेि बहटम न भन्नू बण्ड यी गुणवत ि ह क क ह थयसी भोहन र र भहतो अऻेम ड ॅॎ फह दयु िभ ष म दवेन्र िभ ष के. खल् ु रय जमिॊकय प्रस द िॊकय फ भ इन्र स्वप्न कभर हदक्षऺत हरय न य मण आप्टे त य िॊकय फन्धोऩ ध्म म थचयॊ जीत नये न्र कोहरी नये न्र कोहरी नये न्र कोहरी नये न्र कोहरी आनॊद कौय भहे ि अनघ भनोहय प्रब कय नये न्र कोहरी फ र दफ ु े जमन य मण य जभ कृष्ट्णन गोऩीन थ भोहॊ ती गोऩीन थ भोहॊ ती भनोहय र र कन्है म र र शभश्र भह श्वेत दे वी आच मष चतुॅुयसेन आच मष चतुयसेन .घभष भह सभय ब ग-1 भहहर एवये स्ट ववजेत भहुअय की प्म स भहुए भहक गए भ जय क्म है भ टी क ऋण भ टी क भोर भ टी के र र भ टी भट र-1 भ टी भट र-2 भ टी भेये ग ॊव की भ टी हो गई सोन भ तछ ृ वव भ त ृ बूशभ भ तब ृ ूशभ कैहन्म र र भ णणक र र भुन्िी कन्है म र र भ णणक र र तनय र अभय थचॅत्र कथ एॊ अभय थचत्र कथ फज ृ बुर्ण िभ ष भहवर्ष वेद व्म स अम्फ िॊकय न गय भद ु गुप्त ृ र कृष्ट्ण र र वभ ष कृष्ट्ण र र वभ ष कृष्ट्ण र र वभ ष कृष्ट्ण र र वभ ष कृष्ट्ण र र वभ ष कृष्ट्ण र र वभ ष सयू ज भर भोहत ड . के.1097 3577 237 1216 1315 1606 2640 3413 2867 4366 3547 3548 3549 3550 3551 3552 2296 3284 619 3628 3486 2350 3028 2824 662 3427 3354 2185 683 1693 1359 207 1879 3296 3847 3846 4112 3845 3581 3035 2174 4062 2251 2400 3994 2530 2532 3226 2744 3048 3840 3167 भह फरी बीभ भह फरी बीभ-कृष्ट्ण वत य भह ब यत भह ब यत भह ब यत भह ब यत भह ब यत भह ब यत भह ब यत की कह तनम ॊ भह ब यत की प्रेयक कथ एॊ भह ब यत ब ग-1 भह ब यत ब ग-2 भह ब यत ब ग-3 भह ब यत ब ग-4 भह ब यत ब ग-5 भह ब यत ब ग-6 भह ब यत स य भह ब यती भह बोज भह बोज भह भ नव भह वीय भह भूखष सम्भेरन भह भॊॅत्री भह म त्र भह मोगी अयववन्द भह य ज िेखथचल्री भह य ज यणजीत शसॊह भह य ण क भहत्व भह य नी रक्ष्भीफ ई भह य ष्ट्ट क गौयव भह य ष्ट्र की रोक कथ एॊ भह य ष्ट्र प्रब त भह श्वेत भह श्वेत भह सभय -3 भह सभय अथधक यी-2 भह सभय .

भेनन भ स्टय द अचषन वभ ष भ स्टय शसरत्रफर थचयॊ जीत भ ॅॎयीिस की फ र हहॊदी कह तनम क ॊ भत कभरेि भ ॅॎयीिस की हहॊदी कह तनम ॊ क भत कभरेि भ ॊ क प्म य डॉ. नेहरू हयीि चन्र भ नवत के प्रतीक ऩॊ. ग्जन्द शभज जीर र तेग्जन्दय शभट्टी क ऩुतर क री चयण शभट्टी की कसभ भनहय चैह न .ऩी.एस. हयदे व फ हयी भ नथचत्र िॊकय भ नथचत्र िॊकय भ नऩत्र यभेि चन्र सह म भ नवत औय ववश्व प्रेभ स्व भी य भ तीथष भ नवत क अग्रदत भदन र र िभ ष ू भ नवत के प्रतीक ऩॊ.1320 401 3632 1421 2028 4433 293 3110 3802 4176 1494 866 419 3006 3307 941 22 23 942 24 943 25 944 26 945 27 946 28 29 4086 2565 2704 4054 1762 4017 3409 1510 427 2155 3639 1649 2209 4292 2871 465 3046 2237 340 2650 1642 786 474 भ धव च मष अभय थचॅत्र कथ एॊ भ नक हहॊदी अॊग्रेजी कोि य भभूततष शसॊह भ नक हहॊदी ऩम षम कोि डॉ.ु भोहहनी य व भ रव कुभ य बोज ड ॅॎ य भ कुभ य वभ ष भ र फ य से भ स्को तक के. य भ गोऩ र िभ ष भ ॊ क सऩन य केि रूसी भ ॊझी भ णणक फॊधोऩ ध्म म भ ॊझी भ णणक फॊदोऩ ध्म म भ ॊडवी य जेंर ततव यी भॉ भैग्क्सभ गोकी शभज जी र र रे. नेहरू श्री हयीि भ नव ववक स की कह तनम ॊ भ नववकी खण्ड-। िब्द सॊग्रह भ नस क हॊ स अभत ृ र र न गय भ नस भोती भह वीय अथधक यी भ नसयोवय के य ज हॊ स फज ृ बुर्ण भ न सयोवय ब ग-। प्रेभचॊद भ न सयोवय ब ग -1 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग -2 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग-2 प्रेभचॊद भ न सयोवय ब ग -3 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग-3 प्रेभचॊद भ न सयोवय ब ग -4 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग-4 प्रेभचॊद भ न सयोवय ब ग -5 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग-5 प्रेभचॊद भ न सयोवय ब ग -6 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग-6 प्रेभचॊद भ न सयोवय ब ग -7 प्रेभ चॊद भ न सयोवय ब ग -8 प्रेभ चॊद भ नशसक स्व स्थ्म औय भन् थचक्रकत्स आि य नी फोहय भ प कीग्जए हुजूय श्रीफ र ऩ ण्डेम भ म वी हहयण जगन्न थ प्रस द भ म सयोवय िैरेि भहटम नी भ यीिि की हहॊदी कह तनम ॊ क भत कभरेि भ कोऩोरो की स हशसक म त्र एॊ प्रक ि चन्र जैन भ रगुडी डेज अन.

अनॊत नशरतन यॊ जन श्रीय भ िभ ष ववभर शभत्र िैरेि बहटम नी बगवती ियण शभश्र य ॊगेम य घव भैथथरी ियण गप्ु त भि ु पष आरभ ज ॅॎकी ड ॅॎ फयस ने र र चतुवेदी आि य नी य भन य मण उऩ ध्म म ववये न्र कुभ य शसॊह अभत ृ प्रीतभ सॊकरन व्मथथत रृदम के. चन्रिेखय दीनदम र ओझ योिनर र नये न्र धीय ववनम कुभ य ववजनम कुभ य . िशि प्रब भीय फ ॊई भीय फ ई भीय फ ई अभय थचॅत्र कथ एॊ शिव स गय शभश्र शिवय भ क यॊ त शिवय भ क यॊ त आि ऩूणष दे वी रूऩ न य मण िभ ष ऻ न शसॊह डॉ.3961 1928 2103 1079 1117 1246 1178 2295 3820 1180 17 2684 2166 4473 2552 3254 209 539 811 1302 2919 879 3129 2947 1588 264 2261 1005 1004 430 3059 3065 776 1248 2513 2111 1466 2282 4356 2568 3159 3454 4341 2441 290 1597 4264 1388 494 4110 1923 2660 शभट्टी की गॊध शभत्रो भय ज नी शभथक की भौत शभथन ु रनन शभथन ु रनन शभथन ु रनन शभतनस्टय शभतनस्टय शभश्र की रोक कथ एॊ शभस भधु शभसेज व ये न भीठे ऩय ॊठे भीठे ॅे-भीठे स थी भीड़डम औय स हहत्म भीत की कह नी भीय भीय ऩद वरी भीय ऩद वरी भीय ऩद वरी भीय फ ई भीर के ऩत्थय भुकजी भुखजी भुखय य त्रत्र भुखोटे तथ अन्म ह स्म व्मॊनम भुग तष्ट्ृ ण भछ ु ऩयु ण भज ु रयभ ह ग्जय-्ववतीम खॊड भुजरयभ ह ग्जय-प्रथभ खॊड भुजीफ ऩ क्रकस्त नी जेर भें भुझे जीने दो भुझे दहे ज नहीॊ च हहए भुझे भत योको भुझे म द है भुठबेड़ भुखष फॊज य भुदो क टीर भि ु ी अजभेयी भस ु रभ न भुसीफत है भुसीफतों क सौद गय भुस्कय ती प इरें भुग्स्रभ ववथध एक ऩरयचम भुहब्फतन भ भुॅुठी-भुठी अऺत भुॅुह वये म कह तनम ॊ भॉह ु क कैंसय भूभर औय उनक जीवनवत ृ भख ू ष शियोभणी भख ू ों क ऩरयव य भूल्म ॊकन भूल्म ॊकन सुिीर ॅॊकुभ य कृष्ट्ण सोफती हॊ सय ज यहफय ववभर शभत्र ववभर शभत्र ववभर शभत्र ब नुभतत न गय ज ब नुभतत न गद न भधु य जीव प्रेभ दीव न ज जष फन षड ि ॅॎ श्रीभती यतन िभ ष हरयकृष्ट्ण दे वसये सुधीय ऩॊचोयी ववजम तेदॊ र ु कय ड . फयस ने र र ववभर शभत्र ववभर शभत्र कुभ य वप्रम वी.

स वयकय भेय कभय अभत ृ प्रीतभ भेय जीवन भह त्भ ग ॊधी भेय ऩन्न आहद यॊ ग च मष भेय ऩरयव य भह दे वी भेय ऩैंतीसव ॊ जन्भहदन अिोक िुक्र भेय ब ई शिव नी भेय ब यत अभय न थ य म भेय वतन ववष्ट्णु प्रब कय भेयी अद रत के कटघये भें दे वेन्र इस्सय भेयी कथ म त्र अवध न य मण भेयी कह तनम ॊ ववष्ट्णु प्रब कय भेयी कह तनम ॊ तनभषर वभ ष भेयी कह नी जव हयर र भेयी कह नी ऩॊ. वॊद ृ ृ वन र र वभ ष भग नै न ी व द ॊ वन र र वभ ष ृ ृ भग नै म नी व न् द वन र र वभ ष ृ ृ भत्ृ मुहीन ववभर शभत्र भत्ृ मुॊजम ओभ शिवय ज भत्ृ मुॊजमी कैर ि ि ह भद के.द . नेहरू भेयी गुड़ड.सी भरैम ु ृ र भेघदत हज यी प्रस द ्वववेदी ू एक ऩुय नी कह नी भेघन थ स ह सॊतय भ भेघ -भेघ ऩ नी दे भधक ु य शसॊह भेभ स हफ तनभ ई बट्ट च मष भेय अनन्म औॊक य य ही भेय अऩन सॊस य नये न्र कोहरी भेय आजीवन क य व स वव.कहहन शसॊह भेयी ऩेयभ कह तनम ॊ कभरेश्वय भेयी प्रतततनथध व्मॊनम यचन में श्रीय भ ठ कुय भेयी प्रतततनथध व्मॊॅयनम यचन एॊ श्रीय भ ठ कुय भेयी वप्रम कववत एॊ भह दे वी भेयी वप्रम कह तनम ॊ कृश्न चॊदय भेयी वप्रम कह तनम ॊ अभत ृ प्रीयतभ भेयी वप्रम कह तनम ॊ कभरेश्वय भेयी वप्रम कह तनम ॊ अभत ृ र र न गय भेयी वप्रम कह तनम ॊ भोहन य केि भेयी वप्रम कह तनम ॊ य जेंर अवस्थी भेयी वप्रम कह तनम ॊ अऻेम भेयी वप्रम कह तनम ॊ गोववन्द शभश्र भेयी वप्रम कह तनम ॊ शिव नी भेयी वप्रम कह तनम ॊ हरय कृष्ट्ण भेयी वप्रम कह तनम ॊ फ्रणीश्वय न थ ये णु भेयी वप्रम कह तनम ॊ अभत ृ र र न गय भेयी वप्रम कह तनम ॊ भन्नू बण्ड यी भेयी वप्रम कह तनम ॊ य जेन्र म दव भेयी प्रेभ कह तनम ॊ य जेन्र म दव भेयी भ ॊ ऩ ण्डेम फेचन ै िभ ष .2624 362 4321 3865 124 654 746 2535 1416 2470 1193 1875 2188 952 2668 162 4128 1990 690 926 372 3088 3791 666 1212 4012 2970 2892 3021 8 723 1704 3404 1905 2692 1952 330 358 563 567 569 570 824 1170 1408 1982 3615 3616 3763 4065 4009 3927 भग ववबूतत भुखोऩ ध्म म ृ जर दृगजर भग अनॊत गोऩ र ृ जर भग ओभ प्रक ि शभश्र ृ तष्ट्ृ ण भग नमनी डॉ.म ड ॅॎ.

के.छफर नी भोन शरस य जेन्र भोहन .ऩी. नगेन्र भेये वप्रम सम्ब र्ण भह दे वी वभ ष भेये वप्रम सॊस्भयण भह दे वी भेये शभत्र कुछ भहहर एॊ कुछ ऩुरूख र् ि ु वन्त शसॊह भेये भोहल्रे क सूमोदम कृष्ट्ण वयोद भेये भौत के फ द रतीपी धोधी भेये श्रेष्ट्ठ एॊक की जगदीि चन्र भेवे य रूॊॅॎख अन्न य भ सद ु भ भेॅेय ऩैतीसव ॊ जन्भ हदन अिोक िुक्र भें ढकी औय फैर-6 श्री एस. गूभय भें हदी के पूर म दवें र िभ ष भैत्रेमी चन्र वरी भैथथशरियण गुप्त जगदीि प्रस द चतुवेदी भैर आॅॎॅॊचर पणीश्वय न थ ये णु भैर आॊचर पणीश्वय न थ ये णु भैर आॊचर पणीश्वय न थ ये णु भैॅैॅॊ ह य गई भन्नू बॊड यी भैं ववभर शभत्र भैं औय भैं भद ु गगष ृ र भैं तुम्हे ऺभ करूॊग ववष्ट्णु प्रब कय भैं ब यत हूॅॎॅॊ म भ र र भधऩ ु भैं बी भ नव हॅं ववष्ट्णु प्रब कय भैं वही हूॅॎॅॊ सुनीर गॊगोऩ ध्म म भैं वही हूॊ सुनीर गॊगोऩ ध्म म भैं सभम हॉ वववऩन्न जैन भैं हॉ चम् श्म भ सुन्दय िभ ष ु फक भैं हॉ त्रफजरी धयु े न्र कुभ य गषग भोटय क य सुदिषन चैऩड़ भोट ऩ घट इमे डॉ. रक्ष्भी न य मण भोड़ से आगे कृष्ट्ण िॊकय बटन गय भोती र र नेहरू एस.319 2064 2283 2307 2566 2567 3638 793 816 1899 2054 2056 1898 2196 2569 3952 1984 347 3922 2630 2637 2910 2033 4376 2477 3996 292 1102 2041 3645 3590 1622 3281 135 822 3852 1956 1414 3341 3524 553 2190 2550 3188 4349 4293 4294 1436 3472 3935 368 1106 भेयी श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ यभेि फक्िी भेयी श्रेष्ट्ठ यॊ ग एक ॊकी उऩेन्र न थ अश्क भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन एॊ अभत ृ यम भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन एॊ श्रीर र िुक्र भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन एॊ रक्ष्भी क न्त वैष्ट्णव भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन एॊ वववेकी य म भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन एॊ ियद जोंिी भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन ऐॊ हरय िॊकय ऩयस ई भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन ऐॊ यववन्र न थ ठ कुय भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन में रतीप भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन में ियद जोिी भेयी श्रेष्ट्ठ व्मॊनम यचन में फयस ने र र भेयी ग्स्त्रम ॊ भणण भधक ु य भेयी ग्स्त्रम ॊ भणण भधक ु य भेये अग्रज भेये भीत ववष्ट्णु प्रब कय भेये ग ॊव के रोग भधक ु य िभ ष भेये हदर भेये भस क्रपय प ै ज अहभद ु भेये दोस्त क फेट कृश्न चॊदय भेये दोस्त क फेट कृष्ट्ण चन्र भेये वप्रम तनफन्ध भह दे वी भेये वप्रम तनफन्ध डॉ.

सी. गुप्त भोशरम य के दो न टक वज्रन थ भ धव फ जऩेमी भोहन य केि के न टकों भें शभथक अनऔय ऩ िभथषष ु भ मथ भोहबॊग अिोक कुभ य भोहह ब्ज ववसयत न हहॊ गोऩ र व्म स भोहह ब्ज ववसयत न हहॊ गोऩ र प्रस द भौज भेर गुरू दत्त भौत क सॊिम शबखु भौत के स मे भें य जकुभ य अतनर भौत के स मे भें ज्म ऩ र स ई भौसभ हय दिषन सहगर भौसभ हय दिषन सहगर भौसभ हयदिषन सहगर भौसभ हयदिषन सहगर भौसभ की कह नी सॊतय म वतन भॊगर की भ ॊ मऻदत्त भॊगर बवन वववेकी य म भॊग्जर भह वीय अथधक यी भॊजूर् डॉ. फयस ने र र भॊथन य भ गोऩ र भॊॅॎॅुह भें य भ बव नी िॊकय व्म स मऺ प्रश्न प्रेभर र बट्ट मथ कथ औय दज अन्न य भ ू ी कथ एॊ मथ प्रस्त ववत थगयीय ज क्रकिोय मथ सॊबव ियद जोिी महद असहभतत है तो य केि कुभ य महद एकफ य क्रपय दे वेन्र उऩ ध्म म मम तत अभय थचॅत्र कथ एॊ मम तत थगयीि कन षड मि क शिकॊज मिवॊत कोठ यी मि की धयोहय बगव न द स मिोधय भैथथरी ियण गुप्त मह क्रकसक रहू थगय है कयत य शसॊह दनु गर मह घय भेय नहीॊ श्रीर र िुक्र मह तो स वषजतनक ऩैस है ववष्ट्णु प्रब कय मह द ग द ग उज र कयष तुर एनहै दय मह हदरमुग है भॊगत फ दर मह दतु नम -1 भन्द क्रकनी मह दतु नम -2 भन्द क्रकनी मह धन क्रकसक है आनॊद स्व भी मह बी प्रेभ ववभर शभत्र मह सच है अभत ृ प्रीतभ मह सफ झूठ है गुरूदत्त मह ॊ तक ऩहुॊचने की दौड़ य जेन्र म दव . िॊकय दम र िभ ष भॊटो की य जनैततक कह तनम ॊ दे वेन्र इस्सय भॊटो की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ दे वेन्र ईस्सय भॊटोन भ दे वेन्र इस्सय भॊत्र त्रफद्ध औय कुरट य जेंर म दव भॊत्री जी के तनजी सथचव की ड मयी डॉ.3543 4026 1434 3940 255 1655 2467 1111 1245 2827 2031 1474 3992 1377 1378 1526 2149 4256 2382 4172 764 4325 3762 1722 3796 3165 2938 1775 3559 3789 1372 2548 3942 3583 4242 1270 3273 2732 2697 547 4028 1980 359 3989 4504 3653 3654 1604 1211 770 364 3977 भोय य जी दस्त वेज अरूण ग ॊधी भोयी यॊ ग दे चन भ रती जोिी ु रयम भोच ष फॊदी बगवती चयण वभ ष भोडषन योशरॊग स्ट कग इड ऩी.

भन् ु ु िी मुद्धयत यभेि गुप्त मुद्ध स थर शभथथरेश्वय मुद्ध हल्दीघ टी क श्रीकृष्ट्ण भ मूस मुथधग्ष्ट्ठय कन्है म र र भ णणक र र मुथधग्ष्ट्ठय की कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ मुवक अिोक गुप्त मुवय ज फदरते कश्भीय की कह डॉ.ऩी. श्म भ शसॊह ु मद्ध ऩथ के. नी कणष शसॊह मुवय ज फदरते कश्भीय की कह डॉ.फड़े रोग मे तेये प्रततरूऩ अऻेम मे दे ि मे रोग बगवती चयण उऩ ध्म म मे भेयी आई है आव ज प्रवेि चतुवेदी मोग औय सौन्दमष श्रीभतत प्रवेि ह ॊड मोग ्व य योगो की थचक्रकत्स पूर गॊॅेद शसॊह मोग ववमोग िॊकय हॊ स कुभ य ततव यी मोग स धन औय प्र ण म भ स्व भी जी गोकुर वभ ष मोग मोग यववन्र न थ ठ ॊकुय मोथगक थचक्रकत्स शिव गोववन्द त्रत्रऩ ठी यक्त कथ म दवेन्र िभ ष चन्र यक्तकथ म दवें र चॊर यक्त च ऩ यभेि वै्म .तनम वववऩन ॊ जैन मन न की रोक कथ एॊ गौयी िॊ क य ऩ ण्डम ू मे अन्ज ने भें ॅ ॅॊकय मे छोटे .3016 1854 4212 1496 4027 3501 1090 2433 296 1255 4213 3836 1095 2404 2759 3437 2147 976 2542 1027 3574 1028 3730 102 283 386 2861 4457 2800 2402 2886 3914 1350 1803 2979 3343 3756 3689 1121 2256 1446 3527 4453 4415 3123 3602 3471 248 2983 4214 635 2731 मह ॊ फन्दे सस्ते शभरते हैं टी. झुनझुनव र मह ॊ से वह ॊ श्रीर र िुक्र मही है ग्जन्दगी सुनीर गॊग ऩ ध्म म महूदी की रड़की आग ह किभीयी म त्र एॊ हहभ ॊिु जोिी म त्री के ऩत्र यभेि म क्षऻक म दों की तीथष म त्र ववष्ट्णु प्रब कय म दों की तीथष म त्र ववष्ट्णु प्रब कय म दों की ऩय छ ई आच मष चतुय सेन ि स्त्री म दों के झयोखें सुयेि शसॊह म दों के झयोंखे सुदिषन यत्न कय म नी की एक फ त थी भण ृ र ऩ ण्डे म ॊत्रत्रक शिव नी म ॊत्रत्रक शिव नी मुग दृष्ट्ट बगत शसॊह वीये न्र शसधुॊ मग ध य न ग जन ु ुष मग ऩ रू र् स्व भी वववे क नन्द स ि ीर कुभ य ु ु ु मुग ध य सोहन ्वववेदी मुद्ध सुयेि क ॊत मुद्ध-1 नये न्र कौहरी मुद्ध-1 नयें र कोहरी मुद्ध-2 नये न्र कौहरी मुद्ध अववय भ से य म त्री मुद्ध औय ि ॊतत ट रस्ट म मुद्ध औय ि ॊतत ट रस्ट म मुद्ध के चैय हे तक िॊकय दम र शसॊह मद्ध क े स्वय प्रे भ की रम डॉ. नी कणष शसॊह मुव कथ क यों की प्रतततनथध कहस. एभ.

149 1013 874 2916 805 1730 3782 984 621 1306 1325 503 2843 3244 497 1407 174 1948 2851 1344 1519 48 288 231 1931 312 931 692 3352 1934 4014 2055 2032 1835 2526 1805 752 819 3864 461 2976 1844 582 862 1856 2272 4087 4406 528 3560 4001 2887 यक्तद न हरयकृष्ट्ण प्रेभी यक्त म त्र शबखु यक्त सनी गुड़डम औय थगद्ध शिवस गय शभश्र यक्त ल्ऩत तथ अन्म योग डॉ. ऩी. उर् गप्ु त यस मन ऩ रयब वर्क िब्द कोर् ड . सक्सेन यववन्र न थ टै गोय अभय थचॅत्र कथ एॊ यववन्र न थ टै गोय य जेि िभ ष यववॊर के श्रेष्ट्ठ न टक ज्व र प्रस द यवीन्र न थ की कह तनम ॊ य भशसॊह तोभय यग्श्भ यथी य भध यी शसॊह हदनकय यसकऩूय उभेि ि स्त्री यस छन्द अरॊक य रक्ष्भण दत्त गौतभ यस छन्द अरॊक य प्रक ि ड . सक्सेन यहीभ ितकत्रम डॉ. िॊकय िेर् यत्नगब ष न ग जन ुष यथ चक् हहभ ॊिु जोिी यथ्म शिव नी यधव ि ॊ इन्र वव्म व चस्ऩतत ु यभइम तोय दल् ु हन रुटे फ ज य के. ऩी. सक्सेन यभइम तोय दल् ु हन रुटे फ ज य के. ऩी. फ र सब्र ु म्हभन्मभ यशसक ववनोद डॉ. फ रकृष्ट्ण य ई क ऩवषत य ॊगेम य घव य ऺस नत्ृ म प्रत ऩ शसॊह य गदयफ यी श्रीर र िुक्र य गदयफ यी श्रीर र िक् ु र य गदयफ यी श्रीर र िक् ु र य ग बैयव ववभर शभत्र य जकऩूय आधी हकीकत आध पसन प्रहर द अग्रव र य जक ज हहॊदी सॊदशबषक कैर ि कग्ल्ऩत य जततरक शिवस गय शभश्र य जततरक शिवस गय शभश्र य जततरक शिव स गय य जदत जगन्न थ प्रस द ू य जध नी कल्चय गणेि भॊत्री य जनीतत की कॊटीरी य हें अटर त्रफह यी फ जऩमी य जऩथ बगवती प्रयस द फ जऩेमी य जऩथ-जनऩथ च णक्म सेन य जऩ र हहॊदी िब्द कोि हयदे व फ हयी य जऩूत न रयम ॊ आच मष चतुयसेन . य भ कुभ य यगड़ ख ती आत्भ हत्म एॊ गोववन्द शभश्र यगु ब यत आ्म यॊ ग च मष यचन क्मों औय क्रकन के फीच अऻेम यजनी फॊक्रकभ चन्र यग्जम गोववॊद वल्रब ऩॊत यग्जम सुल्त न अभय थचॅत्र कथ एॊ यणजीत शसॊह अभय थचॅत्र कथ एॊ यण ॊगन ववश्र भ वेडक े य यत्नगब ष डॉ. हरयभोहन िभ ष यसीदी हटकट अभत ृ प्रीतभ यसीदी हटकट अभत ृ प्रीतभ यह क्रकन ये फैठ ियद जोिी यहहभन की ये र म त्र के.

ॊ फोहय य जस्थ न के प्रशसद्ध दोहें औय सोयठे य नी रक्ष्भी कुभ यी चड़ ु य जस्थ नी ब र् औय स हहत्म डॉ. तनम एर.3423 980 3353 887 3322 4445 2158 1600 1426 1720 2586 3617 1364 4367 2372 2310 4437 1373 1921 125 2783 57 1385 2245 374 4295 3541 574 3216 1352 3106 2118 1334 3599 3347 4116 601 1917 1053 652 2247 1353 1276 4007 1667 2355 3848 3391 4113 632 4335 2156 य जऩूत न रयम ॊ ववक्भ शसॊह य जफदर ववभर शभत्र य जब र् हहॊदी डॉ. भोती र र य जस्थ नी यतनव स य हुर स ॊस्कृत्म मन य जस्थ नी यनीव स य हुर स ॊकृत्म मन य जस्थ नी रोक गीत सूमक ष यण ऩ यीक य जस्थ नी सॊत सुध स य दीनदम र ओझ य जहठ व ग्ल्भकी त्रत्रऩ ठी यज भ क्रकम वेरी यज क फण स्वऩन सूची य ज गॊन एॊ दे वदत्त ि स्त्री य ज तनयफॊशसम कभरेश्वय य ज तनफवुष द्ध तथ अन्म कह तनमक ॊ ृ ष्ट्ण चॊर जोिी य ज बोज अभय थचॅत्र कथ एॊ य ज य भ भोहन य म नॊहदत य ज ववक्भ हदत्म कुण र श्रीव स्तव य ज हरयश्चन्द अभय थचॅत्र कथ एॊ य ज होने की भुसीफत ववभर शभत्र य जीव ग ॊधी शिव िॊकय शसॊह य जेन्र अवस्थी य जेन्र अवस्थी य जेन्र फ फू की आत्भ कथ ओॊक य ियण य जेन्र म दव की श्रेष्ट्ठ कह तनमभोहन ॊ य केि य ज्म श्री जम िॊकय प्रस द य ज्म शबर्ेक चतुयसेन ि स्त्री य ज्म शबर्ेक व ग्ल्भकी त्रत्रऩ ठी य ण कुम्ब अभय थचॅत्र कथ एॊ य ण स ॊग अभय थचॅत्र कथ एॊ य त अफ बी भौजूद है रीर धय जूगडी य त क अकेर सपय वेद प्रक ि य त क अकेर सपय वेद प्रक ि य त क रयऩोटष य तनभषर वभ ष य त क सपय य भ दयि शभश्र य त क सयू ज य भ वत य हदनेि य त चोय औय च ॊद फरवॊत शसॊह य त व रे ब ई प्रहर द ततव यी यध ज नकी फल्रब . भशरक भोहम्भद य जभ गष के म त्री अमूफ प्रेभी य जमोग् स धन औय शस्व न्तब्रह्भ शभत्र अवस्थी य जशसॊह फॊक्रकभ चन्र य जस्थ न औय नेहरू ऩरयव य झ फय भर य जस्थ न क ऩवष गणगौय दीनदम र ओझ य जस्थ न की एततह शसक ग थ एॊभदनशसॊह दे वड़ य जस्थ न की फोध कथ ध्म न भ खीज य जस्थ न की फोध कथ एॊ ध्म न भ खीज य जस्थ न की यॊ ग बीनी कह तनमरक्ष्भी ॊ कुभ यी चड़ ू वत य जस्थ न की रोक कथ ए ॅ ॅ ॅॊती बट्ट च मष य जस्थ न की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ म दवेन्र िभ ष चन्र य जस्थ न की श्रेष्ट्ठ फ र एक ॊकीभनोहय वभ ष य जस्थ न की श्रेष्ट्ठ फ र कह तनम भनोहय ॊ वभ ष य जस्थ न के अभीय िहदों की कह फी.

कभर रयऩोटष य तनभ ई बट्ट च मष रयश्त व अन्म कह तनम ॊ थगयीय ज क्रकिोय दीव न जभषनप्रस द . ऻ न अस्थ न य स्त फॊद शसद्ध न थ य ह के ऩत्थय बगवती ियण य हुर स ॊकृत्म मन के श्रेष्ट्ठ तनफॊध के. शिव प्रस द य ष्ट्रीम गौयव के थचन्ह हरयकृष्ट्ण दे वसये य ष्ट्रीम गौयव के थचन्ह डॉ. ऩ. रक्ष्भी न य मण र र य भ कृष्ट्ण ऩयभहॊ स ऩॊ.847 3387 1589 4357 1308 3637 2469 2084 1088 4004 1402 1339 3023 905 1316 724 4520 1321 1820 1217 3155 3764 3773 3774 3775 3765 3766 3767 3768 3769 3770 3771 3772 2495 3761 3619 1789 2723 1517 3241 325 962 409 3904 1540 4103 3405 1727 2446 2911 3237 1468 य ध -कृष्ट्ण सुनीत गॊगोऩ ध्म म य नी कभर वती आच मष चतुयसेन य नी क अऩहयण वप्रम दिॉ य नी झ ॊसी व री कभर िुक्र य नी दग व ष ती अभय थचॅत्र कथ एॊ ु य नी न गपणी की कह नी हरय िॊकय ऩयस ई य नी रक्ष्भी फ ई वन्ृ द वन र र वभ ष य त्रफन ि ऩुष्ट्ऩ दे ह म त्र य त्रफन य त्रफन ि ॅॎ ऩुष्ट्ऩ की चन यणतनम ॊ ु ी हुई कह ु य ब र् के नए आम भ ववजम कुभ य भल्होत्र य भकरी िैरेि बहटम नी य भ की कह नी अभय थचॅत्र कथ एॊ य भ की रड़ ई ड . फैन य ष्ट्रववबूतत बथगतन तनवेहदत ऩयभेश्वय प्रस द य ष्ट्रीम उऩग्रह इनसैट डॉ. य ज य भ के ऩूवज ष अभय थचॅत्र कथ एॊ य भ चरयत की प्रेयक कथ एॊ अभय न थ िक् ु र य भ भोहन य म उभ ऩ ठक य भ ि स्त्री अभय थचॅत्र कथ एॊ य भस्नेही सॊप्रद म की द िषतनक शिव ऩॅृॅ िॊ ष्ट्ठब कयूशभ य भ मण भनहय चैह न य भ मण ओॊक य ियद य भ मण ब ग-1 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-10 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-11 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-12 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-2 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-3 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-4 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-5 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-6 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-7 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-8 श्री तीथष य भ बनोट य भ मण ब ग-9 श्री तीथष य भ बनोट य भ वत य चरयत्र शिवभ कृष्ट्ण य वण ये ख आववद सुयती य ष्ट्ट के धयोहय जव हय र र नेहजगदीि रू प्रस द चतुवेदी य ष्ट्टीम ववदर् जव हय शसॊह ू क य ष्ट्रªॅीम य जभ गष यभेि उऩ ध्म म य ष्ट्र कवव हदनकय य जेि िभ ष य ष्ट्रन मक गुरू गोववॊद शसॊह हॊ सय ज यहफय य ष्ट्रवऩत ऩॊॅ नेहरू य ष्ट्रब र् आन्दोरन गो. हरय कृष्ट्ण दे वसये य स्त तनकर ही ज त है डॉ.

व सव नी ये रवे तकनीकी िब्द वरी चन्र भौरी भणण ये रवे बतॉ फोडष ऩयीऺ -तकनीकी डॉ. एन वकीर रूऩ श्रग ॊृ य प्रवेि ह ॊड रूऩ जीव रक्ष्भी न य मण र र रूस की रोग कथ एॊ सुयेि सशरर रूस की श्रेष्ट्ठ क हतनम ॊ प्रबू नन्दन गुप्त रूस भें तछम शरस हदन मिऩ र रूहे रों क दे ि प्रणव कुभ य फॊधे ऩ ध्म म ये ख एॊ औय यॊ ग शिव स गय शभश्र ये ख थचत्र भह दे वी ये ख थचत्र फन यसीद स चतव ु ेदी ये ड़डमो की कह नी य जीव भ सूभ ये डीभेड कऩड़े िॊकय ऩुगत फैय ये त क टीर य ज फुवद्धय ज ये त की भछरी क न्त ब यती ये त की भछरी ॅॊक न्त ब यती ये त छ म यभेि गुप्त ये त बयी रीक वप्रम दिषन ये र ग ड़ी जमन्त भेहत ये रग ड़ी जमॊत भेहत ये रग ड़ी की कह नी य जीव भ सभ ू ये र दघ ट ष न एॊ औय जनत की ग्जन्दगी सयु े न्र न थ र र ु ये र दध ष न एॊ औय जनत की ग्जन्दगी सुयेन्र न थ र र ु ट ये र ऩथ ऻ न ब ग-1 ऩी. भिगषचन्र दशिषकवशिष्ट्ट ये रवे स्टे िन स्वच्छत एवॊ जन भहे स्विस्थ्म चन्रभ वशिष्ट्ठ गष दिषक ये र सेव अनुि सन औय अऩीर सोहन र र िभ ष .कऩष्ट्ु तऩरत र ु न . सुब्रभण्मभ ये रवे इॊजीतनमयी एन. सी.फ र सुब्र ये र ऩुरों क अनुयऺण एवॊ भयम्भत आय.2024 1078 749 2563 1627 398 731 2068 1301 1370 495 3406 2857 708 3395 167 420 1218 300 2769 1253 2267 189 157 4458 728 2757 63 3651 657 3171 613 1971 3327 2816 966 1431 3650 4145 2986 2770 3937 2988 3530 669 2765 4518 4140 3493 4144 2987 3480 रयश्ते सुदिषन चैऩड़ रयस्ते सुदिषन चैऩड़ रयहसषर हहभ ॊिु श्रीव स्तव रयहसषर ज यी है हरय जोिी यीततक रीन श्रॊॅृग रयक सतसईमोंडॉ.अग्रव र ये र ऩरयवहन क स्वरूऩ भहे न्र कुभ य शभश्र ये र ऩुरों क अनुयऺण एवॊ भयम्भत आय. स्वभहे . रे डर र एवॊ जैन ये रवे बॊड य ववब ग अिे क सक्सेन ये रवे सयु ऺ सौऩ न जम चन्र झ ये रवे स्टे िन स्वच्छत एवॊ जन डॉ.अध्ममन रुप्म तम् हें ख गम बगवती चयण वभ ष ु रूकभणी हयण कन्है म र र भ णक र र रूकोगी नहीॊ य थधक उर् वप्रमवन्ृ द रूक्भणी ऩरयणम अभय थचॅत्र कथ एॊ रूक्भणी भॊगर रूऩदे वी रूठी य नी दत्त ब यती रूठी य नी आच मष चतुयसेन रूऩ क्रपय क गौयखऩुयी रूऩ -अरूऩ श्रीय भ िभ ष रूऩ कोि भुतन य जेन्र कुभ य रूऩ गॊध गोववन्द फल्रब ऩॊत रूऩज र यईस अहभद ज पयी रूऩ त ऩस ॅ ॅॊकय रूऩमे क अवभूल्मन सी. के.

ु सत्म न य मण योिनी क सपय सज्ज द जहीय योिनी के ऩड़ व ववनोद योिनी के ऩड़ व ववनोद प्रव सी योिनी घय ड . शिव य भ रशरत एक ॊकी डॉ. ऩी.ु सत्म न य मण योम्म योर ॊ क ब यत ब ग-2 अन. सक्सेन रघु व्मॊनम कथ एॊ धभष स्वरूऩ रज्ज यभ ऩद चैधयी रज्ज हयण ववभर शभत्र रड़क्रकम ॊ भभत क शरम रड़क्रकम ॊ भभत क शरम रड़ ई के फ द भ भ वये यकय रद्द ख की छ म बव नी बट्ट च मष रम्ह रम्ह हदप्ती नवर ररक य डॉ.3337 1876 3833 2627 3282 4358 1853 3418 1162 1981 2763 2764 4152 1804 2607 3153 2618 2894 2353 1740 1774 1566 403 831 1617 2553 2265 2192 2946 3117 2845 1141 2345 1003 1908 2821 202 163 2007 1754 4378 1341 2872 2709 3148 546 1046 2214 147 917 3788 1781 ये र सॊऩग्त्त अथधतनमभ हसन ये िभी ट ई य भ कुभ य योगो की सयर थचक्रकत्स त्रफट्ठर द स भोदी योजन भच हस य ईर योजन भच इॊद ु जैन योज तनयॊ जन जभीद य योटी क ऩेड़ ववजेन्र शसॊह योटी तॊत्र सुिीर य जेि योत्रफन िो ऩुष्ट्ऩ की चन तनम ु ी हुई कहये ण ु ॊ योभ ॊचक कह तनम ॊ हरय कृष्ट्ण योम्म योर ॊ क ब यत ब ग-1 अन. य ज नॊद यौदें हुए गर फ भ त चयण ु यॊ ग दे फसॊती चोर आच मष चतुयसेन यॊ गन थ की व ऩसी थगयीि यस्तोगी यॊ ग-त्रफयॊ गी कह तनम ॊ इन्र स्वप्न यॊ ग-त्रफयॊ गी ॅॊ य जेन्र कुभ य यॊ ग ब यत आ्म यॊ ग च मष यॊ गबूशभ प्रेभचॊद यॊ गबूशभ प्रेभ चन्द यॊ ग भहर म दवेन्र िभ ष यॊ ग यस भ इकर भधस ु ूदन यॊ ग-यॊ ग के पूर णखरे जम प्रक ि यॊ ग यॊ ग गजरें प्रक ि ऩॊड़डत रक्ष्भणणम ॊ की फेटी सुध दे वी रखनउ की नगय वधू शभज ष कस्व रखनवी दे ि से के. य भ कुभ य वभ ष रव-कुि अभय थचॅत्र कथ एॊ रव-कुि य भ कृष्ट्ण िभ ष रवतन इर चन्द जोिी रवॊगी आत्रफद सूयती रहय जम िॊकय प्रस द रहय जम िॊकय प्रस द रहय जमिॊकय प्रस द रहय ऩक ये गोऩ र द स नीयज ु रहयें चऩ हैं ॅ ॅॊकय फ भ ु रहयों के फीच सुनीर गॊगोऩ ध्म म र ख के टुकड़े सुयेि क रेय .

गूभय रोय थगयीय ज क्रकिोय रौटत हुआ हदन उऩेन्र न थ अश्क रौटती ऩग डॊड़डम ब ग-2 अऻेम रौय थगयीय ज क्रकिोय रॊक ऩतत अभय थचॅत्र कथ एॊ वतन के ख ततय य ज कुभ य अतनर वत्सय ज ियण वनरूऩ भधक ु य त्रम ृ ॊफक दे व वमॊ यऺ भ् आच मष चतुय सेन ि स्त्री वय योिन िभ ष वयद सुत यत्न चन्र धीय वयॊ च य जकुभ य गौतभ वगॉकृत हहॊदी भुह वय कोि िोब य भ वणषसॊकय शिवस गय शभश्र वर्षग ॊठ हॊ सफय यहफय वर्षपर दऩषण डॉ. के. िॊकय दम र िभ ष रोकभ न्म ततरक सुिीर कुभ य रोको ग ईड हरय चन्द दत्त रोटे हुए भुस क्रपय कभरेश्वय रोभड़ी औय स यस -1 श्री एस. शसॊह वसुन्धय गुरूदत्त वसॊत की प्रतीऺ रक्ष्भी न य मण र र वसॊत चॊहरक ऻ न शसॊह भ न वसॊत भॊजयी तग ष ेव ु न वसॊत सेन अभय थचॅत्र कथ एॊ वसॊत सेन गोववन्द फल्रब .3017 2523 3135 301 684 2427 1884 305 642 651 65 191 1415 2939 2806 515 3958 3007 4474 3109 668 3402 3640 1087 425 2715 697 1300 4403 3201 3208 820 1654 2144 3665 1836 3063 2514 1389 3489 2929 2932 3205 1522 2579 1164 733 584 1653 111 1303 2822 र नमो यॊ ग हरय श्म भ यस मन वव्म तनव स शभश्र र ऩत प्रब कय भ चवे र ऩत औय अन्म कह तनम कृष्ट्ण फरदे व र र क्रकर आच मष चतुय सेन ि स्त्री र र गर फ स्वदे ि कुभ य ु र र गर फ स्वदे ि कुभ य ु रर धग शबखु र र फह दयु ववभर िभ ष र रफ ई-1 यभ ऩद चैधयी र रफ ई-2 यभ ऩद चैधयी शरख-शरख बेॅेॅेजे ऩ ती नीयज शररी सूमक ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र शररी सूमक ष न्त त्रत्रऩ ठी रुण तेर रकड़ी धभेन्र गुप्त रेक्रकन दयव ज ऩॊकज त्रफष्ट्ट रेन-दे न ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म रेनदे न ियत चन्र रोक ज गयण औय हहॊदी स हहत्मआच मष य भचॊर िुक्र रोकतॊत्र की प्रक्रक्म डॉ. के. न य मण दत्त श्रीभ री वल्र्ड कऩ क्रक्केट यवव चतुवेदी वल्रयी सजर वभ ष वल्रयी सजर वभ ष विीकयण आिुतोर् भुखोऩ ध्म म वसन्त क एक हदन य भ दयस शभश्र वसन्त के इॊतज य भें वेद प्रक ि वसन्त भ र श्रीभती ऩी.

रूऩ न य मण. के. गभ ू य ववक्भ फेत र-3 श्री एस. के. गभ ू य ववक्भ फेत र-2 श्री एस. य भचॊर ततव यी ववद अरववद इन्र न थ भद न ववद ई भयु यी र र त्म गी ववदयु नीतत डॉ. गगष ववजम केतु सीत य भ झ ववजमकेतु सीत य भ झ ववऻ न औय सभ्मत य भ चन्र ततव यी ततव यी ववऻ न की नई य हें जम प्रक ि ब यती ववऻ न की फ तें डॉ. गूभय ववक्भ फेत र-5 श्री एस. के. गूभय ववग्रह फ फू शभथरेश्वय ववथचत तनद न आरयग ववथचत्र मॊत्र भ नव योफोट डॉ. के. एर. के. गूभय ववक्भ फेत र-4 श्री एस.1234 2661 1125 712 95 763 1153 747 2254 768 717 1752 4134 86 2578 2130 4316 3598 4173 3821 472 605 1089 3568 1286 1224 3666 3667 3668 3669 3670 1973 2421 3698 1761 2210 4507 3834 3691 4257 1190 3736 4336 864 865 4091 3507 2151 2507 3700 3269 3270 वसॊती बीष्ट्भ स हनी वस्ती जर दो प्रक ि स थी वह अन्तदे िीम प्रम ग िुक्र वह आदभी वह औयत अभत ृ प्रीतभ वह कौन थी ऋर्बचयण जैन वह तीसय दीग्प्त खन्डेरव र वह नन्ह स आदभी सुभॊगर प्रक ि वह क्रपय नहीॊ आई बगवती चयण वभ ष वह फीच क आदभी अशबभन्मु वह बी नहीॊ भहीऩ शसॊह वही आग वही गॊग जर शिव स गय शभश्र व ग तॊत्र के फीच य भेश्वय व हटक फन न सीखो आनॊद प्रक ि जैन व णी सुशभत्र नन्दन ऩॊत व णी सुशभत्र नन्दन ऩॊत व णी क वयद न यॊ जन िभ ष व दी की ऩक य तनभषर अग्रव र ु व ऩसी म दवें र िभ ष व मयस ित्रु बी शभत्र बी ज फुर व मु औय जीवन चॊर सैन व रयस भोहन य केि व वर्षकी हहन्दस् 75 कुभ य गोमर ु त न सभ च य वर्षशिव व सक सज्ज आत्रफद सुयती व सक सज्ज आत्रफद सुयती व सव दत्त अभय थचॅत्र कथ एॊ ववकर ॊग श्रद्ध क दौय हरय िॊकय ऩयस ई ृ ववक्भ फेत र-1 श्री एस. फ रकृष्ट्ण ववऻ न की फ तें अणखरेि श्रीव स्तव चभन ववऻ न की ववबूततम ॊ जमप्रक ि ब यती ववऻ न के ऻ न दीऩ बगवती प्रस द ्वववेदी ववऻ न के धभ के अशभत गगष ववऻ न खण्ड-। िब्द सॊग्रह ववऻ न खण्ड-।। िब्द सॊग्रह ववऻ न प्रश्नोत्तयी सुिीर िभ ष य जीव िभ ष ववऻ ऩन ड . िभ ष ववदे िों भें ब यतीम क् ॊततक यी आॊववश्वशभत्र दोरन-1 उऩ ध्म म ववदे िों भें ब यतीम क् ॊततक यी आॊववश्वशभत्र दोरन-1 उऩ ध्म म . सी.

हदनेि चन्र िभ ष ववश्व ज्मोतत फ ऩू य भ गोऩ र ववश्वप्रशसद्ध 101 व्मग्क्तत्व अजम कुभ य कोठ यी ववश्व प्रशसद्ध थचक्रकत्स ऩद्धतत अिोक कुभ य िभ ष ववश्व प्रशसद्ध ज सूसी क ॊड अिोक कुभ य िभ ष ववश्व प्रशसद्ध दस् त्र एॊ गषग ु स हशसक खोज यम जीव ववश्व म त्र के सॊस्भयण य भेश्वय टोहटम ववश्वववजम य जकुभ य ववश्व ि ॊतत क सॊदेि स्व भी वववेॅेक नन्द ववश्व ि ॊतत क सॊदेि स्व भी वववेक नन्द ववश्व सॊतों की प्रेयक कथ एॊ य भकृष्ट्ण . यक हऔय स्भीइॊजीतनमय ववश्वकोि ब यतीम डॉ. िोब न थ ऩ ठक ववश्व की प्रतततनथध रोक कथ एॊश्रीकृष्ट्ण ववश्व की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ अभत ृ प्रीतभ ववश्व की स हशसक ग थ एॊ ित्रध् ु न र र शसन्ह ववश्व के आश्चमष इन्र स्वप्न ववश्व के आश्चमष य जेंर कुभ य य जीव ववश्व के आश्चमष य जेन्र कुभ य य जीव ववश्व के भह न वैऻ तनक आववष्ट्क ए.279 3074 1962 2418 3378 11 12 960 983 2419 1878 2930 2080 2081 3289 153 2786 529 2813 3879 2132 2955 3913 1943 3084 4519 2703 1050 4174 670 19 20 4516 3447 4117 587 322 1741 3112 4416 4465 4170 1768 3485 3675 3621 3620 1907 2680 1534 2412 804 वव्म द न गुरूदत्त वव्म ऩतत की कह तनम ॊ न ग जन ुष वव्म थॉ जीवन भें उन्नतत के उऩ कृष्ट्ण म ववकर ववरोही ऩूज छोटे ववथध िब्द वरी ववथध भॊत्र रम ववनोफ ब वे के ववच य ब ग-1 ववनोफ ब वे ववनोफ ब वे के ववच य ब ग-2 ववनोफ ब वे ववन्दोॅे क रड़क ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म ववन्दोॅे क रड़क ियत चन्र ववन्ध्म फ फू सॊतोर् न य मण ववऩथग अऻेम ववऩथग अऻेम ववभर शभत्र की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ ववभर शभत्र ववभर शभत्र की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ ववभर शभत्र ववभर भेहत सैक्रकॊ ड अवधेि श्रीव स्तव ववय ट की ऩतद्मनी वॊद ृ वन र र वभ ष ववय ट की ऩतद्मनी वन्ृ द वन र र वभ ष ववर सी ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म वववतष शिव नी वववतष शिव नी वववि हभ कुरवॊत कोछड़ ववव हहत ववभर शभत्र ववव हहत ववभर शभत्र वववेक के आनन्द से ब्रजबुर्ण वववेक नन्द ने कह थ थगरयय ज ियण वववेक नॊद आि गुप्त वववेकी य म की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ वववेकी य म ववि ख जम िॊकय प्रस द वविुद्ध चेतन औय प्रक्रक्म रोक फजीवन ज ृ त्रफह यी सह म ववश्रत ि ॊतत भहयोत्र ुॊ न रयम ॊ ववश्व इततह स की झरक -1 जव हयर र ववश्व इततह स की झरक -1 जव हयर र ववश्व एवॊ ब यत क बूगोर प्रततमोथगत स हहत्म सीयीज ववश्व कवव क शरद स डॉ.एच.

1658 3735 1799 257 1665 2772 639 1395 990 4421 2492 1073 1942 1951 378 1351 1223 2927 3535 3536 3561 3128 2573 533 1281 376 3268 863 2259 4175 3963 1404 3965 346 4368 2243 3708 1529 1475 4263 405 650 840 37 38 1626 1883 2864 775 3899 2127 410 ववश्व हहॊदी की म त्र रल्रन प्रस द ववश्व सघ त क पर य भ यतन फ डोर ववर् अभत कैर ि न य मण ृ फन गम ववर् कन्म शिव नी ववर्ऩ न पकीय चॊद ववर्म नय-न यी ववभर शभत्र ववर्म ववर् नहीॊ ववभर शभत्र ववर्म ववर् नहीॊ ववभर शभत्र ववर् वऺ फॊक्रकभ चन्र ृ ववष्ट्णु ऩुय ण ऩरयचम डॉ.धएन. जगन्न थ शभश्र वह िब्द सॊग्रह ृ त ऩ रयब वर्क िब्द सॊग्रह खण्ड-।। वे आॊखें ववभर शभत्र वेतन बे गी कयद त सभस्म सभ फी.य . एर.भुॊिीय भ वैि री की नगयवधू चतुयसेन ि स्त्री वैि री की नगयवधू आच मष चतुय सेन ि स्त्री वैि री की नगय वधू -1 आच मष चतुय सेन ि स्त्री वैि री की नगय वधू -2 आच मष चतुय सेन ि स्त्री वो दतु नम बगवती ियण वोल्ग से गॊग य हुर स ॊकृत्म मन वोस्त ॊ की कह तनम ॊ िेख स दी वॊिज भद ु र ु गगष वॊि . म त्री ववस्पोट अरूण स धु ववस्भतृ त के गबष भें य हुर स ॊकृत्म मन ववस्भतृ त के गबष भें य हुर स ॊकृत्म मन वीय कुड र शिवभूततष शसॊह वीय ऩ ॊडव अभय थचॅत्र कथ एॊ वीय भह ऩरू र् ियण ु वीय यत्नभ र यतन चन्र धीय वीययत्न भ र यत्न चॊद धीय वीययत्न भ र यत्न चॊद धीय वीययत्न भ र -2 यत्न चॊद धीय वीय य जेन्र भ हदत व्मॊकटे ि वीय स वयकय व्मथथत रृदम वीय शसऩ ही दे ि के य भकृष्ट्ण िभ ष वीय हम्भीय अभय थचॅत्र कथ एॊ वीय ॊगन चैन्नभ िॊकय फ भ वीय ॊगन रक्ष्भीफ ई क फशरद नड . बैयप्ऩ ृ व्मग्क्तगत ऩ ण्डेम वचन . य जीव यॊ जन वैऻ तनक रेखन फरय ज शसॊह वैहदक प्रज तॊत्र यवीन्र न थ वैहदक सॊस्कृतत औय ऩौय णणक प्रब आच व मष चतुयसेन वैहदक सॊस्कृतत औय सभ्मत ड .वऺ बै य प्ऩ ृ वॊि वऺ एस. रीर धय ववमोगी ववस्थ वऩत से. न गोमर वे हदन तनभषर वभ ष वे हदन वे रोग न गेश्वय प्रस दन य मण शसॊह वे दे वत भय गमे भ ईक फ रव यी वे दे ि वे रोग स. हुकुभ सॊग्ॅह वेदों की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ प्रेभ आच मष ि स्त्री वैऻ तनक कथ एॊ शिवन भ शसॊह वैऻ तनक रघु कथ एॊ डॉ.

बोजन औय योग ईश्वय चन्र य ही िव म त्र औक यय ही िव सन यभेि फक्िी िह औय भ त य जेन्र म दव िहय भें कफ्र्मू ववबूतत न य मण य व िहीद अब्रूरय सीत य भ य जू य भ य व िहीद औय िोहदे भन्भथ न थ गुप्त िहीद क् ग्न्तक यी भदन र र ढ़ीगय वचनेि त्रत्रऩ ठी ि ख भत चटक ओॊ ववजम गुप्त ि गी क गज व अन्म कह तनम ॊ न शसय िभ ष ि दी य हुर स ॊकृत्म मन ि ऩ भुग्क्त सत्मेंर ियत ि वऩत रोग बगवती ियण ि शरव हन अभय थचॅत्र कथ एॊ ि स्त्री जी ने कह थ भह वीय प्रस द जैन ि ह आरभ की आॊखें वव्म व चस्ऩतत . हयदे व फ हयी व्मोभ फ र आिुतोर् भुखजॉ िकीर की ड मयी अभय दहे रवी िकुनी भ भ सत्मऩ र वव्म रॊक य िकुन्तर न टक भॊजुर बगत िकुन्तर न टक रक्ष्भण शसॊह िग्क्तऩॊज तनय र डॉ. कृष्ट्णदे व झ यी ु िग्क्त ववजम ियद चॊर चट्टोऩ ध्म म िगुन गुरिन नन्द िटर नये न्र कोहरी िऩथ ऩत्र प्रभ द ब गषव िफुक की हत्म नये न्र कोहरी िब्द औय ये ख एॊ ववष्ट्णु प्रब कय िब्द की अनुबूतत ऩुष्ट्ऩ हीय र र िब्द गॊध के स्वय बोर न थ ततव ड़ी िब्द वध ववये न्र जैन िब्द सक्रक्म है ओभ तनश्चर िब्दों के वऩॊजय भें असीभ य म िभि न द भोदय ियण िभि नचॊऩ शिव नी िभी क गज औय अन्म कह तनमनॊ शसय िभ ष ियतचॊर चट्टोऩ ध्म म ियत चॊर चट्टोऩ ध्म म ियद की फ र कथ एॊ इग्न्दय ऩ ण्डेम िय फ एक भीठ ववर् य भदे व िय यत िौकत थ नवी ियीय औय यक्त सॊच य उत्तभ सैन ियीय की जीवन िग्क्त अभय न थ ियीय.594 3121 166 459 1711 3091 3092 2754 3252 599 1959 4311 2941 792 1533 3355 470 1567 2933 3203 2329 3634 4191 1748 3955 3321 2819 2087 338 1814 3257 3715 1802 1694 3824 4417 958 788 1219 825 4055 3426 254 4078 1831 2175 341 2510 2213 1263 3732 918 व्मग्क्तगत रक्ष्भी न य मण र र व्मग्क्तत्व क ववक स स्वेट भ डषन व्मभ यऺ भ् आच मष चतुय सेन ि स्त्री व्मवह रयक प्र्म म कोर् भहे ॅेन्र चतुवेदी व्मवह रयक व्म कयण तनसख ु यभ व्मवह रयक हहॊदी -1 ओभ प्रक ि शसॊहर व्मवह रयक हहॊदी -2 ओभ प्रक ि शसॊहर व्मवह रयक हहॊदी-अॊग्रेजी कोिष भहे न्र चतुवेदी व्मवह रयक हहॊदी ऻ न िभ ष म दव एवॊ िभ ष व्म वह रयक हहॊदी व्म कयण ड .

न गय ज य व शिक मत भझ े बी है हरय िॊकय ऩय स ई ु शिक मत भझ े बी है हरयिॊकय ऩयस ई ु शिक यी कुत्त आथषय क नन ड मर शिऺ एवॊ स थषक ऩरयसॊव द स. भ धयु ी चैयशसम शिऺ के आम भ डॉ. के. हयदे व फ हयी शिऺ स गय प्रत ऩ द स नथभर शिखयों की छ ह भें अऺम कुभ य जैन शिर न्म स मऻदत्त िभ शिव की कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ शिव िॊबू के थचठे फ रभुकुन्द गुप्त शिव जी ड . इन्रसेन िभ ष िीरभती आग फ र कवव फैय गी िीिे के ि शभम ने जगदीि च वर िुथच ग्स्भत जव हय चैधयी िुथचग्स्भत जव हय चोधयी िुभ्र कैर ि कग्ल्ऩत िुरूआत तथ अन्म कह तनम ॊ जगदम्फ प्रस द िन् सदज नन्द ू म भें खोम आदभी िेक्सवऩमय की फ र कथ एॊ इग्न्दय ऩ ण्डेम िेखय अऻेम िेखय अऻेम िेखय एक जीवनी .ब ग-।। अऻेम िेर् ग थ ऋत िुक्र िेर् प्रश्न ियत चॊर िेर् प्रश्न ियत चन्र िेर् प्रसॊग वल्रब शसद्ध थष िैक्षऺक व्म कयण औय व्मवह रयककृष्ट्ण हहॊदीकुभ य गोस्व भी िैत न ज जष फन षड ि ॅॎ िैत न क ह थ ित्रध् ु न रर िैत न के फह ने यभें ि चन्र िैरसुत वजेन्र ि ह िोक चक् आ्म यॊ ग च मष िोब म त्र बीष्ट्भ स हनी िोय भहीऩ शसॊह िॊकय न थ न न स हफ ऩेश्व िॊकय फ भ िॊकय ऩ वषती की रोक कथ एॊ कुण र श्रीव स्तव श्रभण भह वीय श्री कृष्ट्णप्रस द श्रवण कुभ य भहे ि ब य्व ज श्रवण कुभ य भहे ि ब य्व ज श्रवणध य सभ ु तत ऺेत्र श्री उरूक ऩुय ण श्री हरयकृष्ट्ण दे वसये श्रीक न्त ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म .1616 1304 2992 2993 289 3623 4459 4344 4266 4296 2883 3468 4033 868 2241 238 1317 3451 239 3098 2596 3180 2223 1724 3182 1123 4215 3714 826 1493 75 76 4067 36 3862 1779 2687 16 2266 1751 1632 1732 2303 1476 196 2311 414 559 2874 780 3711 285 ि ह औय शिल्ऩी फ रकृष्ट्ण ि हजह ॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ ि ॊतर ब ग-1 सी.ब ग-। अऻेम िेखय एक जीवनी . िॊकय दम र शसॊह शिऺ तथ रोक व्मवह य भहवर्ष स्व भी दम नॊद सयस्वती शिऺ प्रद कह तनम ॊ कृष्ट्ण ववकर शिऺ भनस्वी बयत य भ बट्ट शिऺ थॉ हहॊदी अॊग्रेजी कोि डॉ. य भकुभ य िभ ष शिव जी फन भ सेवक ड . न गय ज य व ि ॊतर ब ग-2 सी. के.

भ . फ र सब्र ु भन्मभ श्रेष्ट्ठ ह स्म व्मॊनम कववत एॊ क क ह थयसी श्रेष्ट्ठ ह स्म व्मॊनम कववत एॊ क क ह थयसी श्रेॅेष्ट्ठ कह तनम ॊ य जेॅेन्र म दव सआदत हसन भॊटो औय उनकी स. श्रेष्ट्नन्द ठ कहक्रकिोय तनम ॊ ववक्भ सख ओॊ क कन्है म गोऩ र अभत ृ र र न गय सगुन ऩऺी रक्ष्भीन य मण र र सथचत्र अतनव मष िब्द कोि हहॊदी-अॊ हयदेग्रवेजफ ी हयी सथचत्र अतनव मष िब्द कोि हहॊदी-अॊ हयदेग्रवेजफ ी हयी सथचत्र बू ववऻ न ववश्व कोि श्री ियण सथचत्र मोग सन स्व भी सेव नॊद सथचत्र ववऻ न कोि जे.846 3860 1194 3473 3272 221 4369 585 4121 1893 2252 644 956 3070 891 923 3213 3613 1817 564 2725 3612 604 1598 2729 2001 625 2849 1490 4379 98 4463 1599 3431 3784 3785 4259 433 4104 2143 3189 3537 2702 3975 682 2430 586 523 1294 4488 2705 176 श्रीक ॊत ियत चॊर श्रीक ॊत ियत चन्र श्रीक ॊत वभ ष की चन श्रीकॊ ॊत वभ ष ु ी हुई कह तनम श्री गणेि िॊकय वव्म थॉ की रेज्रगदीि खनी प्रस द चतुवेदी श्रीतनव स की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ भ ग्स्त वेंक्टे ि आमॊगय श्री प्रज ऩतत भ भ वये यकय श्रीभती जी िौकत थ नवी श्रीभ् छप्ऩम बगवत गीत श्री प्रबुदत्त ब्रह्भच यी श्रीय भ मतन फ फू र र सुभन श्री श्रीगणेि भहहभ भह श्वेत दे वी श्रद्ध ब्रयजबुर्ण ृ तेयो न भ श्रग ॊृ य रक्ष्भी न य मण श्रेष्ट्ठ आॊचशरक कह तनम ॊ य जेन्र अवस्थी श्रेष्ट्ठ ऐततह शसक कथ एॊ व्मथथत रृदम श्रेष्ट्ठ ऐततह शसक कह तनम ॊ गोऩी कुभ य श्रेष्ट्ठ ऐततह शसक कह तनम ॊ गोऩी कुभ य कौसर श्रेष्ट्ठ ऩौय णणक कह तनम ॊ य जकुभ यी श्रीव स्तव श्रेष्ट्ठ ऩौय णणक न रयम ॊ म दवें र िभ ष चन्र श्रेष्ट्ठ प्रगततिीर कह तनम ॊ वव्म धय श्रेष्ट्ठ प्रेभ कह तनम ॊ य जेंर अवस्थी श्रेष्ट्ठ फोद्ध कह तनम ॊ श्री व्मथथत रृदम श्रेष्ट्ठ फोद्ध कह तनम ॊ श्री व्मथथत रृदम श्रेष्ट्ठ ब यतीम कह तनम ॊ य जेंर अवस्थी श्रेष्ट्ठ ब यतीम कह तनम ॊ हहभ ॊिु जोिी श्रेष्ट्ठ भय ठी कह तनम ॊ प्रक ि भ त नेकय श्रेष्ट्ठ मथ थषव दी कह तनम ॊ आदिष सक्सेन श्रेष्ट्ठ व्मॊनम कथ एॊ कन्है म र र नॊदन श्रेष्ट्ठ स हहग्त्मक व्मॊनम आय.भुग्क्त फोध सती ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म सती औय शिव अभय थचॅत्र कथ एॊ सत्त के सत्र ध य ववक स झ ू सत्म असत्म ध्म न भ खीज सत्म की ओय ड 0 य ध कृष्ट्णन . भॊजुर सतगुरू ॅॊन नक दे व ववभर फक्िी सतह के उऩय सतह के नीचे यघुवीय चैधयी सतह से उठत आदभी ग. ऩी. अग्रव र सच्च ई की कय भ त आच मष सत्म थॉ सग्ज्जक आिुतोर् भुखोऩ ध्म म सड़क उद स थी सुखचैन शसॊह बॊड यी सड़क ऩ य कयते हुए ऻ नी सड़क ऩुर औय वे डॉ.

नन्द क्रकिे य आच मष सभ्मत की ओय गरू ु दत्त सभक रीन कववत ् वैच रयक आम ड . सी.भफरदे व सभझद य फीयफर अभय थचॅत्र कथ एॊ सभझोत ईस्भत चग ु त ई अहभद सभन्वम मोग य भ चन्र प्रध न सभम एक िब्द बय नहीॊ है धीये न्र अस्थ न सभम क दऩषण प्रेभ ऩ ठक सभम की आव ज जगदीि चन्र िभ ष सभम की ऩुक य प्रेभ ऩ ठक सभम के ऩॊख भ खन र र चतुवेदी सभम दॊ ि य भ जसव र सभम स ऺी है हहभ िु जोिी सभम स ऺी है हहभ ॊिु जोिी सभऩषण भनहय चैह न सभऩषण य जकुभ य सैनी . य ध कृष्ट्णन सत्म के प्रमोग भोहनद स कभषचन्द ग ॊधी सत्मग्जत य म की कह तनम ॊ मोगेन्र चैधयी सत्मब भ .3370 200 4147 2065 3104 1240 103 452 2823 2973 1939 2641 299 1877 1886 2093 2420 713 281 507 3728 2333 3158 3949 3113 3118 3401 1083 4234 4345 3379 2465 4297 3911 755 2025 4332 367 3525 1274 3415 4186 2150 3798 4339 3105 3469 1261 988 4042 2238 2706 सत्म की औय डॉ. एर.कृष्ट्ण वत य कन्है म र र सत्मभ शिवभ सन् दयभ य भस्वरूऩ ्वववेदी ु सत्मभेव जमते य जेन्र भोहन बटन गय सत्म ग्रह ऋर्बचयण जैन सत्म ग्रह ऋर्बचयण जैन सत्म ग्रह ऋर्ब चयण जैन सन्न टे के फीच वववऩन जैन सन्न टे के शिर खण्ड ऩय हयीि ब द णी सऩनों क दे ि जम प्रक ि ब यती सऩनों की य ख नये न्र िभ ष सऩ ट चेहये व र आदभी दध ू न थ शसॊह सप्तऩणॉ भन्नू बॊड यी सपय आित ु ोर् भख ु जॉ सपय सत्म प्रक ि ऩ ण्डेम सपय के स थी वरूण दत्त बटन गय सपरत क यहस्म स्व भी य भ तीथष सपरत क यहस्म स्व भी य भतीथष सपरत की कॊॅुजी मि ऩ र जैन सपरत की सीहढम ॊ व्मथथत रृदम सपरत के सूत्र आनॊद कौय सपेद घोड़ सपेद ऩोस य जकुभ य सपेद ऩॊखो की उड न हरयदिषन सहगर सपेद भेभने भणण भधक ु य सपेद भैभने भणण भधक ु य सफ कह कुछ असगय वज हत सफके शरए स्व स्थ्म डॉ. गगष सफसे उऩय कोन ववभर शभत्र सफसे नीचे क आदभी जगन्न थ प्रस द सफसे फड़ द न यीतू िभ ष सफसे फड़ शसऩहहम ववये न्र जैन सफही नच वत य भ गोस ई बगवती चयण वभ ष सब श्रॊॅृग य अगय चन्द न हट सभ्मत क ववकल्ऩ डॉ.

य भ कुभ य सभ नत गुणवत्त स सॊख्म त्भकजोगी ववस्तनयजुक सभ न्तय ये ख एॊ ववष्ट्णु प्रब कय सभ यट औय सुन्दयी िॊकय सभुर के द मये दे वेन्र भ ॊझी सभुर गुप्त कभर िुक्र सभुर तट ऩय खर क भतॊ न थ ु ने व री णखड़क्रकम सभद्ध सभ ज ज ॅॎॅॎन कैनेथ गोर फेयथ ृ सम्ऩकष ब र् हहॊदी रक्ष्भी न य मण सम्ऩण ष ग ह कर सॊतोर् ग्रोवय ू ृ सम्प्रतत बव नी प्रस द सम्र ट अिोक अभय थचॅत्र कथ एॊ सम्र ट की आॊखें कभर िुक्र सम्र ट के आॊसू के. श्म भ शसॊह सभ ज के स्वय डॉ. वी. श्रीव स्तव सम्र ट सभुर गुप्त इन्र स्वप्न सयक य तुम्ह यी आॊॅॎखों भें ऩ ण्डेम फेचन ै िभ ष सयद य ऩटे र सेठ गोववन्द द स सयद य ऩटे र सेठ गोववन्द द स सयद य ऩटे र सुयेन्र कुभ य सयद य वल्रब ब ई ऩटे र ववष्ट्णु प्रब कय सयपयोिी की तभन्न -1 य भ प्रस द त्रफग्स्भर सयपयोिी की तभन्न -2 य भ प्रस द त्रफग्स्भर सयपयोिी की तभन्न -3 य भ प्रस द त्रफग्स्भर सयपयोिी की तभन्न -4 य भ प्रस द त्रफग्स्भर सयर आमुवेहदक थचक्रकत्स वै्म सुयेि चतुवेदी सयर हहॊदी व्म कयण तथ यचन य जेन्र भोहन बटन गय सयस्वती चॊर गोवधषन य भ सयोक य आि य नी वोहय सजषन के ऺण अऻेम सजषन के ऺण अऻेम सऩषदॊि आि ऩण ू ष दे वी सवषन भ सॊदैम र र सवषन भ कैन्हम र र औझ सवोदम मोजन ववनोफ ब वे सरभ गौयीिॊकय य जहॊ स सरीफ ढ़ोते रोग शिवस गय शभश्र सव क ब यतीम हहॊदी क्रपल्भस उद्भव डॉ. यत्न चन्र धीय सभस भतमक हहॊदी स हहत्म हरयवॊि य म फच्चन सभस्म ग्रस्त फच्चे औय भ ॊ-फ ऩ य भ स्वरूऩ वशिष्ट्ट सभस्म ग्रस्त फ रक जगत शसॊह सभस्म भर क उऩन्म सक य प्रे भ चॊ डद. औय एन. के.ववक िभसष सववत ियत चन्र चट्टोऩ ध्म म सववत ियद चन्र चट्टोऩ ध्म म सहदे व य भ क इस्तीप भधक ु य शसॊह सहम त्र मिऩ र सहस़्त्त्रपण अन. नॅ ृ ृशसॊह य व सहस्त्र भ र अभय थचॅत्र कथ एॊ सही य स्ते की तर ि हय दिषन सहगर सही य स्ते की तर ि हय दिषन सहगर . वी. भहें र बटन गय ू सभ च य ऩत्र की कह नी कैर ि कौय सभ ज के सुऩुत्र ड .ु ऩी.3752 436 4260 1547 444 2159 756 2338 4489 2718 1433 4216 2611 2070 453 671 4478 2676 1324 1669 4323 4119 3502 180 4076 4377 2229 4466 4467 4468 4469 1398 607 337 3316 2320 2853 2807 987 1473 10 1459 853 3476 978 4501 1070 1551 2820 1312 1379 1380 सभवऩषत डॉ.

1521 184 2142 3280 972 1953 2928 3161 2952 3479 3381 3398 1985 2949 447 464 294 2134 2398 2157 2138 2094 400 133 3090 3164 1161 1068 2408 2008 227 3854 721 4517 4515 4371 2657 310 3334 2968 3635 1299 3087 1592 2585 4298 4102 357 2879 2881 3659 2343 सही य स्ते की तर ि हयदिषन सहगर सरृम हद की चट्ट ने आच मष चतुय सेन ि स्त्री स इन्स की कय भ त ऻ न चन्र स इभन फोरीवय एक भह ्वीऩ प्रवीण एक तनभ कुभषतय स केत भैथरी ियण गप्ु त स केत भैथरी ियण गप्ु त स ऺ त्क य जगदीि फोहय स ऺी अचषन श्रीव स्तव स गय औय सीवऩम ॊ अभत ृ प्रीतभ स गय कन्म ऐॊ खरीर ग्जब्र न स गय क्रकन ये सभये ि वसु स गय की गशरम ॊ डॉ. फयस ने र र चतुवेदी स ववत्री अभय थचॅत्र कथ एॊ स हफ क टे रीपोन कृष्ट्ण चय टे स हफ फीफी गुर भ ववभर शभत्र स हस औय ऩय क्भ की कह तनमभनहय ॊ चैह न स हस औय फशरद न प्रव सी ववनम कृष्ट्ण स हस की कह तनम ॊ य भ स्वरूऩ कोिर स हस की योभ ॊचक सच्ची कहतनम सऩन ॊ कुभ य स हशसक शिक य कथ एॊ सयु जीत स हसी फच्चों की कथ एॊ डॉ. हरयकृष्ट्ण स हसी फ रक प्र णन थ व नप्रस्थी स हहत्म औय सॊस्कृतत जैनेन्र कुभ य . ववऻ एस. एन. एभ. प्रब िॊकय भ चवे स ज औय आव ज य जकुभ य स त घून्घट व र भुखड़ अभत ृ र र न गय स त त यों क उड़न खटोर िॊकय दम र शसॊह स त यॊ ग के पूर कभर िुक्र स त यॊ ग सऩने य भ कुभ य भ्रभय स त शिखय अख्तय भुहीदीन स त सभुर ऩ य भुल्कय ज आनन्द स त सव र अभत ृ प्रीतभ स थी भभत क शरम स दय आऩक दम प्रक ि शसन्ह स ध्म क वरी तनय र स त्रफत फच न कोम भन्भथ न थ स फुत फच न कोम भन्भथ न थ गुप्त स भथ्र्म औय सीभ बगवतीचयण वभ ष स भथ्र्म औय सीभ बगवती चयण वभ ष स भ ग्जक एकत की प्रेयक कहतनम व्मथथत ॊ रृदम स भ न्म अध्ममन एवॊ स भ न्म टी. य भन य मण स गय तनम आि ऩूणष स गय तनम आि ऩूणष दे वी स गयभुर सग्च्चद नन्द स गय रहयें औय भनष्ट्ु म उदमिॊकय बट्ट सच डॉ. न जै हदनदिष न न स भ न्म अध्ममन् ब यतीम अथषप्रततमोथगत व्मवस्थ दऩषण स म्प्रद तमक सद्भ व की कह तनमसॊॊ ध थगयीय ज ियण स मे भें घूऩ दष्ट्ु मॊत कुभ य स य आक ि य जेन्र म दव स रथगयह की ऩक य ऩय भह श्वेत दे वी ु स रथग्रयह की ऩुक य ऩय भह श्वेत दे वी स री वी आई ऩी की डॉ.

सॊतोर् अग्रव र सीभ एॊ भनहय चैह न सीभ फद्ध िॊकय सीभ भचर उठी डॉ. औक य ियद स हहत्म दिषन श्री अयववन्द स हहय रुथधम नवी प्रक ि ऩॊड़डत स हहर औय सभर ख्व ज अहभद ु स ॊच प्रब कय भ चवे स ॊध्मे गीत भह दे वी वभ ष स ॊऩों क सॊस य यभेि फेदी स ॊसों की वसीमत हरयहय प्रस द स ॊसों की वसीमत हरयहय प्रस द स ॊस्कृततक एकत की कह तनम ॊ व्मथथत रृदम शसक्के असरी नकरी डॉ.स.ख ण्डेकय सुखजीवी अभयक ॊन्त सख त म् हे ऩ क यें डॉ. रक्ष्भी चॊद जैन स हहत्मक य थचत्र वरी स. सुबर शसय कट सत्म नभषद प्रस द शसय कट सत्म नभषद प्रस द शसयक्रपय ववश्वेश्वय शसयक्रपय ववश्वेश्वय शसये अकफय ड हर्ष न य मण शसर त्रफर न भ थचयॊ जीत शसववर ड़डपेंस इकफ र शसॊह शसुधन प्रेभन थ ु द क प्रहयी शसॊरये े र फ रकवव फैय गी शसॊ्फ द की म त्र य भ स्वरूऩ कोिर शसॊह सेन ऩतत य हुर स ॊस्कृत्म मन शसॊह सन औय हत्म एॊ म दवें र चॊर शसॊह सन ख री है सि ु ीर कुभ य शसॊह सन फतीसी ब ग-1 ववनम सक्सेन शसॊह सन फतीसी ब ग-2 ववनम सक्सेन शसॊह सन फतीसी ब ग-3 ववनम सक्सेन शसॊह सन फतीसी ब ग-4 ववनम सक्सेन शसॊह सन फतीसी ब ग-5 ववनम सक्सेन शसॊह सन फतीसी ब ग-6 ववनम सक्सेन सीख फड़ों की भोती ऻ न के य जकुभ यी ऩ ण्डेम सीख फड़ों की भोती ऻ न के य जकुभ यी ऩ ण्डेम सीढीम ॊ दम प्रक ि शसन्ह सीत य भ फॊक्रकभ चन्र सीधी ये ख गॊग धय ग डथगर सीधॅी सच्ची फ तें बगवती चयण सीवऩम ॊ डॉ. खोड़कय सुख की खोज वव.स. जमन थ नशरन शसद्ध थष हय भन दे ि शसद्धी भॊत्र भीन गुप्त शसम य भ भम सफ जग ज नी डॉ. हरय कृष्ट्ण दे वसये ु ु ु सख द जैनेन्र कुभ य ु सुख ऩत्त डे. वरूण सुखी ऩरयव य म दवेन्र िभ ष . जी.41 3748 542 1448 1552 3893 1057 3261 1763 2202 3019 2708 859 4322 2889 1766 2203 1166 3033 311 3455 303 726 1643 4100 1543 732 2380 3553 3554 3555 3556 3557 3558 1396 1686 3809 981 3745 2030 4338 336 745 4319 3134 704 3596 2468 4299 1191 4446 970 स हहत्म क नम ऩरयऩेक्ष्म सॊ. दे वकी नन्दन श्रीव स्तव सुख ववश्वेश्वय प्रस द क ॊॅेॅेईय र सुख की खोज वव.

भोहन सुफह क बूर ववभर शभत्र सुफह की तर ि िॊकय सुल्त नऩुयी सुफह के बूरे इर चन्र जोिी सुफह के सूयज हहभ िु जोिी सुफह दोऩहय ि भ कभरेश्वय सुफह दोऩहय ि भ कभरेश्वय सफ ह होती है ि भ होती है प्रततभ वभ ष ु सफ ह होने तक आच मष चतयु सेन ि स्त्री ु सुब्रह्म्म ब यती डॉ. तनत्म नॊद सुफह क इन्तज य एस.487 1348 1100 2366 1293 1354 3292 3526 4085 3052 1220 34 451 2301 1742 1647 4300 2850 3131 4051 3540 2695 1498 3496 1499 3877 3851 295 3376 2423 1357 603 4068 3119 1461 1777 878 1955 2321 356 96 664 579 3656 2884 1825 4080 3382 509 2974 68 2112 सुखी रकड़ी गुरूदत्त सुखु औय दख अभय थचॅत्र कथ एॊ ु ु सुखे सयोवय क बुगोर भणण भधक ु य सुज न शभथथरेि कुभ यी सद अभय थचॅत्र कथ एॊ ु भ सद भ अभय थचॅत्र कथ एॊ ु सुद भ ड . शसॊह म दव ु सुनो ब ई स धो हरय िॊकय ऩयस ई सुनो वैष्ट्णवी ड . यववन्र कुभ य सेठ सुबर कुभ यी चैह न य जेि िभ ष सुब र् चन्र फोस अभय थचॅत्र कथ एॊ सुब वर्त सप्तिती भॊगर दे व ि स्त्री सुयऺ तथ अन्म कह तनम ॊ श्रीर र िुक्र सुयगभ शिव नी सुय ज हहभ ॊिु जोिी सुयॊग भें ऩहरी सुफह वसॊत कुभ य सुवणष रत आि ऩूण ष दे वी सव णष रत आि दे वी ु सव णष र त आि ऩण ु ू ष दे वी सुह ग के नूऩुय अभत ृ र र न गय सुह ग द न आनये न्र मदन ु न्दन सूग्क्त सयोवय स ियण सूखत हुआ त र फ य भदयि शभश्र सूझ-फूझ की कह तनम ॊ आनन्द कुभ य सूझफूझ की कह तनम ॊ कृष्ट्ण ववकर सूदखोय की भौत सदरूदीन सोनी सूनी न ॊव सवषश्वय दम र सक्सेन सूनी ऩ टी क सूयज श्रीर र िुक्र सन ी य ह बगवती प्रस द फ जऩेमी ू सप ी क व्म क द िष त नक वववे च न बोर चन्द ततव यी ू सूयज क स तव ॊ घोड़ धभषवीय ब यती सूयज के आने तक बगवती ियण शभश्र . हरयहय प्रस द गप्त सुद भ चरयत्र भोहन र र यत्न कय सुथधम उस चन्दन के फन की ववष्ट्णु क ॊत ि स्त्री सुन भेये शभतव श्रीकृष्ट्ण भ मूस सुनहय अवसय िॊकय सुनीत जैनेन्र कुभ य सुनीत जैनेन्र कुभ य सुने चैॅैखटे सवेश्वय दम र सुनो कह नी खेरों की आज द य भ सन ो कह नी ग ओ गीत ववनोद चॊर ऩ ण्डे ु सन ो ब ई कह नी ऩॊ.

भ खन र र िभ ष सोनबर की य ध भधक ु य शसॊह सोने क अॊड दे नेव री भुगॉ-3 श्री एस.3572 230 1520 3096 578 1536 1471 3149 1896 4337 549 3510 278 794 910 3968 302 2788 2797 3642 1562 1870 1076 1242 4397 3044 3333 2547 1119 44 170 2516 3200 1525 2170 3819 3839 2688 2609 4261 4279 1572 3719 3905 1620 2577 4505 1254 4164 898 1016 173 सूयज क्रपय तनकरेग ड . गूभय सोने क इन्रधनुर् फ क दफ ु े सोने क क्रकर सत्मग्जत य म सोने क थ र आच मष चतुय सेन ि स्त्री सोने क थ र आच मष चतुय सेन ि स्त्री सोने क द ॊत केद य न थ प्रज ऩतत सोने क सूयज कभर िुक्र सोने की थचड़ड़म ओय रट े य े अॊ ग्र स ेजयु े न्र न थ गप्ु त ु सोने की ढ र य हुर स ॊकृत्म मन सोनेॅे की करभ व र हीय भन पणीश्वय न थ ये णु सोभन थ आच मष चतुय सेन ि स्त्री सोभन थ आच मष चतुय सेन ि स्त्री सोम हुआ जर ऩ गर कुत्तों कसवेभसीह श्वय दम र सोम हुआ सच आच मष अनूऩ श्री सोमे नहीॊ थचय ग य भ फह दयु शसॊह सोववमत रोक कथ एॊ ववभरेि गोस्व भी सोववमत सॊध की रोक कथ एॊ सुयेि सशरर सोॅेने क थ र आच मष चतुॅुयसेन सौॅॅॅॅॅॅ --फचरक सौद गय कृष्ट्ण क ॊत झ सौय उज ष अिोक कुभ य सौय उज ष उत्ऩ दन एवॊ उऩमोग डॉ. के. नकुर ऩ य िय सौय भॊडर कृष्ट्ण गोऩ र सौय भॊडर गुण कय भुरे सौय भॊडर गुण कय भुरे सौरेह अप्र प्म कह तनम ॊ प्रेभचन्द सौवणष सुशभत्र नन्दन ऩॊत सौंदमष की ये ख एॊ य भ स्वरूऩ दफ ु े सॊकल्ऩ म भ न य मण सॊकल्ऩ जई भयु यी र र त्म गी सॊक् ॊतत सशु भत्र नॊदन ऩॊत सॊक् ॊतत सुशभत्र नॊदन ऩॊत सॊक्षऺप्त हहॊदी नवयत्न दर ु ये र र . नयऩत सोढ़ सूयस गय सूयद स सूमक ष न्त ॅग्ॅत्रऩ ठी तनय र य जेि िभ ष सूमष थचक्रकत्स शिव गोववॊद त्रत्रऩ ठी सम ष भ ख र क्ष्भी न य मण र र ू ु सम ोदम से ऩहरे आिीर् शसन्ह ू सेठ फ ॊकेभर अभत ृ र र न गय सेठ फ ॊकेभर अभत ृ र र न गय सेतु कथ य भ कुभ य शभश्र सेतु फॊध सतीि वभ ष सेन नी आक ि के य भकृष्ट्ण िभ ष सेय को सव सेय सऩन अतनर सेव सदन प्रेभ चॊद सेव सदन प्रेभ चन्द सेव सदन प्रेभचन्द सेव सदन प्रेभ चन्द सेंिम क मग आनॊद प्रक ि जैन ु सैर फ के फीच डॉ.

सुशभत्र वरूण सॊगीॊन भहतो फ दर सयक य सॊग्र भ प्रेभचॊद सॊघर्ष फ र िभ ष सॊघर्ष की ओय नये न्र कौहरी सॊघर्ष की ओय नये न्र कोहरी सॊच तमत हदनकय सॊजम ग ॊधी य जेि िभ ष सॊत गॊग द स के स हहत्म क अध्ममन ड .ॅॎ तनत्म क्रकिोय सॊत न भदे व प्रब कय भ चवे सॊतयों क ज द ू सुनीर िभ ष सॊतुशरत कह नी के नौ यत्न डॉ. तनत्म क्रकिोय सॊस्कृतत के च य अध्म म य भध यी शसॊह हदनकय सॊस्कृतत के च य अध्म म य भध यी शसॊह हदनकय सॊस्क्तत के च य अध्म म य भध यी शसॊह हदनकय सॊस्भयण फन यसीद स चतुवेदी सॊस्भयण भह दे वी सॊॅ ई फ फ की कथ एॊ अभय थचॅत्र कथ एॊ स्कन्द गप्ु त जम िॊकय प्रस द स्क टरैड की रोक कथ एॊ य भकृष्ट्ण िभ ष स्क टरैड की रोक कथ एॊ य भ कृष्ट्ण िभ ष स्र इकय भतत नग्न्दनी . डॉ.83 171 3751 1130 897 4440 1029 1465 524 1227 2360 4005 4342 4329 1765 1189 929 1019 779 2943 1056 3142 1786 2224 31 4141 4187 3266 3279 705 348 2865 3462 3463 3464 3475 4258 3655 4158 1545 3778 2925 199 3358 21 7 2570 1330 1051 2260 2666 3192 सॊक्षऺप्त हहॊदी िब्द स गय य भचन्र वभ ष सॊगभ वॊद ृ वन र र वभ ष सॊगभ क व्म सॊग्रह सॊ. यॊ गन थ शभश्र सॊतोर भुर य ऺस सॊतों की व णी य धेश्म भ सॊत्र स श्रीभती सॊध्म सक्सेन सॊदीऩन ऩ ठि र त य िॊकय फॊधोऩ ध्म म सॊदेह कॊऩती य म सॊथध क र की औयत म दवेन्र सॊथधनी भह दे वी वभ ष सॊन्म सी इर चॊर जोिी सॊफॊधों के घेये कभर शसॊघवी सॊफॊधों के घेये कभर शसॊघवी सॊम सी इर चॊर जोिी सॊयक्षऺत ये र ऩरयच रन गोववन्द फल्रब सॊयक्षऺत ये र ऩरयच रन गोववन्द फल्रब सॊव द श्री य भ ियण जोिी सॊव द प्रेटो सॊिम क आखेट गोववॊद वल्रब ऩॊत सॊस य की तेयह श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ गोऩ र सॊस य की योभ ॊचक घटन एॊ य जेन्र कुभ य सॊस य के धभो के जन्भ की कहगौयी तनम िॊ -ॊ 1कय ऩ ण्डम सॊस य के धभो के जन्भ की कहगौयी तनम िॊ -ॊ 2कय ऩ ण्डम सॊस य के धभों के जन्भ की कहगौयी तनम िॊ -ॊ 3कय ऩ ण्डम सॊस य के प्रशसद्ध खे जी ववश्व शभत्र िभ ष सॊस य के बमॊकय हथथम य य जेन्र कुभ य य जीव सॊस य के भह न आश्चमों की कह ग्जते नी न्र कुभ य शभत्तर सॊस्क य गरू ु दत्त सॊस्कृत कथ एॊ हरयकृष्ट्ण सॊस्कृत क सभ ज ि स्त्र हीय र र िुक्र सॊस्कृतत क स्वरूऩ व ववक स डॉ.

2528 3474 908 4124 1244 179 4460 3184 3630 206 276 3056 3248 806 382 2787 1397 1859 4088 884 2511 1977 3831 201 4217 1731 1560 3803 590 1031 183 3305 274 3694 385 2199 3306 396 851 904 3467 2198 3114 320 2277 4160 2616 1712 1699 3434 1146 4360 स्त्री ववभर शभत्र स्त्री कुण र ऩ ण्डे स्त्रोत औय सेतु अरऻेम स्नहे सुयशब स्नेह रत ऩ ठक स्नेह फ ती औय रौ बगवती प्रस द स्नेह व त ष औय रौ बगवती प्रस द व जऩेमी स्ऩिष गॊध िॊकय फ भ स्ऩ टष कस अन.टी. ख ड़ेकय स्वप्न णखर उठ मऻ दत्त िभ ष स्वप्न शसद्ध न्त चन्र फरी स्वमॊबू भह ऩॊड़डत गुण कय भुरे स्वमॊवय सत्मॊॅेर ियत स्वमॊवय सत्मेंर ियत स्वमॊ शसद्ध शिव नी स्वय ज्म क अथष ग ॊधी जी स्वय ज्म द न गुरूदत्त स्वगष की खयीदद यी आि ऩूणष दे वी स्वगष के तीन ही ्व य आ्म यॊ ग च मष स्वगो्म न त्रफन स ऩ मिऩ र स्वणष ऩदक ववजेत ऩी.ु हरयऩ र त्म गी स्भ इर प्रीज आत्रफद सुयती स्भतृ त स्व भी दम नॊद स्भतृ त के थचत्र रक्ष्भी फ ई ततरक स्भतृ त थचन्ह मऻदत्त स्वतॊत्रत के वप्रम सेन नी ववनोद चॊर ऩ ॊडे स्वतॊत्र ब यत के ्ववतीम प्रध न ईश्वय भॊत्री र प्रसरफह द दयु ि स्त्री स्वतॊत्र ब यत के सद च य सॊहहत श्री कृष्ट्णऩद बट्ट च मष स्वऩन बॊग वी. स. उर् रोकेि िभ ष स्वणष वऩॊजय सभये ि फसु स्वग्स्त औय सॊकेत भैथरी ियण गुप्त स्व धीनत के ऩथ ऩय गुरूदत्त स्व धीनत सॊग्र भ के क् ग्न्तक यीव्मथथत सेन नीरृदम स्व भी दम नन्द वववेक नन्द स्व भीबक्त चह शिव नी ू स्व भी य भतीथष स्व भी गोकुर वभ ष स्व भी य भतीथष की श्रेष्ट्ठ कह तनम जगन्न ॊ थ प्रस द स्व भी य भ तीथष की सवष श्रेष्ट्ठ कह जगन्न तनमथ प्रब कय स्व भी वववेक नन्द ओभ ऩेक ि वभ ष स्व भी वववेक नन्द य जकुभ य अतनर स्व भी वववेक नन्द प्रेभचन्द स्व भी वववेक नन्द ओभ प्रक ि स्व भी वववेक नॊद की अभय कथजगन्न एॊ थ प्रस द स्व स्थ्म औय सपरत फरवॊत य म स्व ॊतॊत्रोत्तय हहॊदी स हहत्म भहे न्र बटन गय स्वीक य ॊत सुदिषन चैऩड़ स्व् अग्स्तत्व की यऺ गुरू दत्त हज य घोड़ों क सव य म दे वेन्र िभ ष चन्र हज यी प्रस द ्वववेदी के उऩन्म भॊ सोंजू भेंस जीवन यस्वत दिषन हज यी प्रस द ्वववेदी के उऩन्म सॊ सोंजीव भें ब सन ॊस्कवत ृ ततक फोध हज यी प्रस द ्वववेदी के एततह स य जउऩन्म कवव स हड़त र प्रेभचॊद हड़त र प्रेभ चन्द .

िुकदे व दफ ु े भधु य जीव ड . गोववन्द यजनीि फुवद्धय ज ऋर्बचयण जैन डॉ. के. िभ ष भहे ि ववकेि तनब वन आच मष चतुय सेन आच मष चतुयसेन डॉ.2945 787 1358 3152 2164 2862 2115 2817 1441 915 2300 2638 2161 4479 4301 411 675 3813 3660 3817 2264 67 198 936 4418 939 4030 2331 964 2753 3191 339 323 3242 308 1743 3459 860 3729 1719 2981 3146 1812 1485 3575 4271 1635 106 2934 2560 2735 1362 हड़त र की हरय कथ हत्म एक आक य की हनुभ न हभ इनके ऋणी हैं हभ एक हैं हभ औय हभ य सभ ज हभ च कय यघुन थ के हभ तुभ एक क य हभ क्रपद ए रखनउ हभवतन हभ सफ भनस य भ हभसे ऩहरे बी रोक मह ॊ के हभसे सम ने फ रक हभ स्व स्थ हभ होंगे क भम फ हभ य ब यत हभ य य ष्ट्र हभ ये गीत हभ य ियीय हभ य सॊववध न हभ य स्व स्थ्म हभ यी आज दी की कह तनम ॊ हभ ये अय ध्म हभ ये आधतु नक कवव हभ ये आमुवेद च मष हभ ये च य ध भ हभ ये ज्मोततववषद हभ ये ऩथ प्रदिषक हभ ये ऩयभवीय हभ ये ऩ ॊचवें य ष्ट्रऩतत हभ ये प्म ये जीव हभ ये प्म ये जीव हभ ये प्रतततनथध कवव हभ ये प्रतततनथध रेखक हभ ये प्रथभ य ष्ट्रऩतत ड . इन्द ु जैन जैनेन्र कुभ य डॉ. वी. िुक्र ववष्ट्णु प्रब कय ऋतयु ज व्मथथत रृदम य भेि वैदी यभेि फेदी वविम्बय भ नव ववश्म्बय ऩयभे प्रस दश्वय प्रस द सत्मेन्र ऩ यीक रशरत बटन गय यववन्र न थ त्म गी यभेि दत्त िभ ष मि ऩ र जैन ियण डॉ. आय.जौहयी बगवती प्रस द ्वववेदी स्व भी य भ तीथष भ म स्वरूऩ सॊतय भ वत्स्म धभषऩ र ि स्त्री सॊतय भ वत्स्म यणवीय सक्सेन फन यसीद स चतुवेदी दग ु ष प्रस द झ र ड . एन. रक्ष्भी न य मण हरय भेहत भधक ु य शसॊह दे वी िॊकय प्रब कय . य जेंर हभ ये प्रध न भॊत्री हभ ये भह न वैऻ तनक हभ ये भ स्टय स हफ हभ ये वैऻ तनक हभ ये सॊत भह त्भ हभ ये सॊत हभ ये दे वत हभ ये स्वतॊत्रत सेन नी हभ ये हरयजन भह त्भ हय छत क अऩन द्ु ख हयण तनभॊत्रण हयण तनभॊत्रण हयदौर रोक कथ हय स र की तयह हय ह ईनेस हय सभन्दय गोऩी चन्दय हरयजन की दल् ु हन हरयजन सेवक हरयम ण की रोक कथ ए रृदमेि अभय थचॅत्र कथ एॊ ववष्ट्णु प्रब कय भनोयभ िेख वत आि य नी ववभर शभत्र व्मथथत रृदम अभत ृ र र न गय प्रेभ शसॊह वय भुर य ऺस के.

अॊग्रेजी िब्द कोि डॉ. ओभ प्रक ि . सख ु ठ कुय हहभ रम क मोगी ब ग-1 स्व भी मोगेश्वय नन्द सयस्वती हहभ रम क मोगी ब ग-2 स्व भी मोगेश्वय नन्द सयस्वती हहभ रम की कह नी य जेन्र कुभ य य जीव हहभ रम की भुग्क्त सॊजम ग ॊधी हहभ रम की वेदी ऩय मऻदत्त हहभ रम दिषन स्व भी तऩोवनम जी भधवन हहभ ॊिु जोिी की ववशिष्ट्ट कह तनम हहभॊ िु जोिी हहवडै यो उज य श्रीर र नथभर हहॊदी अग्स्तत्व की तर ि सुध कय ्वववेदी हहॊदी अग्स्तत्व की तर ि सध ु कय ्वववेदी हहॊदी:अग्स्तत्व की तर ि सध ु कय ्वववेदी हहॊदी .ऩ क्रकस्त न हहन्दध ड . य भ चन्र स गय हहॊदी आरेखन व हटप्ऩण डॉ.1151 1277 2137 849 3071 3643 3815 2232 4502 3566 686 1399 2602 4435 679 3707 2438 3160 1906 691 1676 2271 2592 3256 3997 4073 4470 270 108 2109 2869 186 242 4060 3251 2 1366 3681 4277 2748 2749 3658 1555 2506 3993 1142 3588 1842 2357 1937 4483 707 हर्षवद्ध चन्र क ॊत ब य्व ज ृ षन हर्षवद्ध अभय थचॅत्र कथ एॊ ृ षन हरव ह िेखय जोिी हल्दी घ टी भनहय चैह न हवस क ऩत र आग हश्र कश्भीयी ु हव औय सयू ज-4 श्री एस. स यस्वत हहभ चर के रोकव ्म डॉ. गभ ू य हव की कह नी सॊतय भ वत्स्म हव फहुत तेज है कृष्ट्ण फऺी हव्व की फेटी हदव्म जैन हसते हुए भेय अकेर ऩन भरमज हस्तऺेऩ धनॊजम वभ ष हस्त ये ख एॊ डॉ. कणष शसॊह ू भष-नई चन ु ोततम हहभ तयॊ थगनी भ खन र र चतुवेदी हहभ चर की रोक कथ ए सॊतोर् िैरज हहभ चर की श्रेष्ट्ठ कह तनम ॊ ओभ प्रक ि. के. न य मण दत्त श्रीभ री हग्स्तन ऩुय क शसॊह सन दे वी िॊकय ह उशसॊग सोस एटी कुतर ुष एन हे दय ह की मोगय ज थ नवी ह की के तनमभ सध ु ीय सेन ह थी औय चीॊटी की रड़ ई िैरेर् बहटम नी ह थी त्रफल्री ऩहुॅॎचे हदल्री सुयेंर वभ ष ह यभौन औय हभ दे वेन्र भेव ड़ी ह ये क हरयन भ य भध यी शसॊह हदनकय हरत कभर चोऩड़ ह स्म एक ॊकी दम प्रक ि शसन्ह ह स्म फ र कथ एॊ भ इकर भधस ु ूदन ह स्म भॊच ऩय दफ्तय थचयॊ जीत ह स्म व्मॊनम के ववववध यॊ ग फयस ने र र चतुयवेदी ह स्म व्मॊनम यॊ ग एक ॊकी य भ गोऩ र वभ ष ह स्म स गय गोऩ र प्रस द व्म स ह ॊ ह ॊ तेयी दतु नम भें ि ह नसीय पयीदी हहज ह ईनेस ऋर्बचयण जैन हहतोऩदे ि आनन्द कुभ य हहतोऩदे ि की कह तनम ॊ अम्फ िॊकय न गय हहदी भें सयक यी क भक ज की ववथध य भववन मक शसॊह हहन्दी न ट्म स हहत्म औय यॊ गभॊचन्र च कीप्रक भीभ ि ॊसशसॊह हहन्दस् अयववन्द ु त न .

कणष शसॊह ु ौततम ॊ हहॊदस् त न की कह नी जव हयर र ु हहॊद ू ववव ह भें कन्म द न क भहत्व सम्ऩूण षनॊद हहॊदस आच मष चतुय सेन ि स्त्री ू भ ज क नवतनभ षण . स्वरूऩ कभरेएवॊ ि थचॊ प्रसतद न हहॊदी भें सयक यी क भक ज कयनेय भ की ववन ववथधमक शसॊह हहॊदी वतषनी की सभस्म एॊ बोर न थ हहॊदी वतषनी की सभस्म एॊ बोर न थ हहॊदी िब्द नि सन क्रकिोयी द स व जऩेमी ु हहॊदी िोध तॊत्र की रूऩये ख भनभोहन सहगर हहॊदी सभस्म सभ ध न फरय ज शसयोही हहॊदी स हहत्म हज यी प्रस द ्वववेदी हहॊदी स हहत्म एक ऩरयचम त्रत्रबुवन शसॊह हहॊदी स हहत्म क आधतु नक मुग नन्द दर ु ये हहॊदी स हहत्म क आरोचन त्भकड इतत. वव्म तनव स शभश्र हहॊदी के आॅॎॅॊचशरक उऩन्म स य धेश्म भ कौशिक हहॊदी के तीन उऩन्म स ऩष्ट्ु ऩ ब यती हहॊदी के ववक स भें ववदे िी भेहभडनों .391 518 4312 2361 1700 608 3374 4083 2486 3908 2651 165 3986 4131 40 2471 3082 3482 3448 496 3147 61 62 1746 3293 4082 4155 467 2048 1756 4153 2755 2931 3366 212 1858 2230 45 2231 2745 46 404 1757 50 1764 3083 1532 1657 2950 18 129 383 हहॊदी उऩन्म स रक्ष्भी स गय हहॊदी उऩन्म स शसद्ध ॊत औय सभीऺ ड . जगन्न थन हहॊदी की उत्तभ कह तनम ॊ ववरोचन िभ ष हहॊदी की ग्म िैरी क ववक सजगन्न थ प्रस द िभ ष हहॊदी की नवीनतभ कह तनम ॊ योहहत श्व अस्थ न हहॊदी की िब्द सम्ऩद डॉ. नस रूऩी ये डी थॉ िब्द ुन्दयशबन्न हहॊदीध तु कोि भुयरीधय श्रीव स्तव हहॊदी न टकक य जगन्न थ नशरन हहॊदी तनफॊधक य जगन्न थ नशरन हहॊदी तनरूक्त क्रकिोयी प्रस द हहॊदी ऩत्रक रयत भें आठव ॊ दिकभरयमोर ओपेटी हहॊदी प्रि सन की हयी फ फू कॊसर हहॊदी ब र् अध्ममन भें ऩॊज फी ब िशि वर्मों फर के स शभत्तर भ न्म दोर् हहॊदी ब र् औय स हहत्म प्रेभन य मण िक् ु र हहॊदी ब र् क सॊक्षऺप्त इततह सडॉ. य भकुभ य हहॊदी औय उसकी उऩ ब र् एॊ डॉ. धभेन्र स गय हहॊदी भुह वय कोिष बोर न थ ततव यी हहॊदी भें क भ अनथगनत आम भिेयजॊग हहॊदी भें रॊफी कववत -अवध यण डॉ. स ॊक प्रब मन भ चवे ृ त्मकय हहॊदी तथ रववड़ ब र् ओॊ के सभजी. बोर न थ हहॊदी भह स गय क भोती भोयीिस डॉ. य . ववभरेि क न्ती वभ ष हहॊदी कह तनम ॊ जैनेन्र कुभ य हहॊदी कह वत कोि ियण हहॊदी क तनख य तथ ऩरयण भ शिव प्रस द िक् ु र हहॊदी क म षरम तनदे शिक श्रीगोऩी न थ श्रीव स्तव हहॊदी क व क्म त्भक व्म कयण सूयज ब न शसॊह हहॊदी की आणखयी क्रकत फ मिवन्त हहॊदी की आध यबूत िब्द वरी वी. बोर न थ हहॊदी ब र् की सॊयचन डॉ.ह ॅॎ य भसकुभ य वभ ष हहॊदी स हहत्म कुछ ग्म िैशरम ॊभहे न्र बटन गय हहॊदी स हहत्म् सॊक्षऺप्त इततह स आच मष नॊद दर ु ये हहॊदी हभ सफकी शिव स गय शभश्र हहॊदी ॅॊप्रफॊध क व्म भें य वण सुयेि चॊर हहॊद ु धभष की चन डॉ.जोस क आग्स्टन मोगद न हहॊदी के श्रेष्ट्ठ फ र गीत जम प्रक ि ब यती हहॊदी के स हहत्म तनभ षत य हुर डॉ.

फयस ने र र हॊ सी के इॊजेक्िन फयस ने र र हॊ सी ह ग्जय हो सुिीर क रय हॊ सों हॊ सों जल्स्दी हॊ सों यघुवीय सह म हॊ ॅ शसरे हम त ववग्स्भर दे हेरवी हियन स ॊवयी भनहय चैह न ॅ ब्द बेदी भण ृ र ऩ डे ॅ ब्दों की ववर् सभ ु ेय शसॊह दै म ॅ ॅ दी गुरूदत्त ॅ ॅ ऩ भुग्क्त सत्मन्र ियद ॅ ॅीिद न हरयकृष्ट्ण प्रेभी ॅ ॅुद्ध हहॊदी हयदे व फ हयी ॅ ॅुबद आच मष चतुय सेन ि स्त्री ॅ ॅोक सॊव द भुर य ऺस ॅेॅॊऩहर य ज जगदीि चन्र भ थयु ॅॊउसके हहस्से की घूऩ भद ु गगष ृ र ॅॊकफीय ऩद वरी सॊत कफीय ॅॊकुरी भल्कय ज आनन्द ॅॊकृष्ट्ण औय जय सॊघ अभय थचॅत्र कथ एॊ ॅॊक् ग्न्त के नऺत्र स वयकय ॅॊगहदष ि के हदन कभरेश्वय ॅॊतीन उऩन्म स अभत ृ प्रीतभ ॅॊतुको क खेर बव नी प्रस द ॅॊदीऩशिख शिव गोववन्द त्रत्रऩ ठी ॅॊयोचक ऩहशरम ॊ सुयजीत ॅॊग्ॅदव्म ऩुरूर् नेहरू आनॊद िॊकय भोहहन चटजॉ ववन मक द भोदय तनतेन्र िभ ष भह य ज दीव न जभषनी द स भह यनी दीव न जभषनी द स . ख ण्डेकय हे ब नुभतत भणणभधयु हे ब नुभतत भणण भधक ु य हे भेयी तुभ केद य न थ अग्रव र हे य पेयी भनहय चैह न है रो-है रो कुरदीऩ िभ ष होटर क कभय बगवती प्रस द हॊ ड़डम बय खन न नक शसॊह ु हॊ सते-हॊ सते कैसे ग्जऐॊ स्वेट भ डषन हॊ सते-हॊ सते कैसे ग्जमें स्वेट भ डषन हॊ सरी फ क की उऩ कथ त य िॊकय फॊधोऩ ध्म म हॊ शसक एॊ सयोजनी प्रीतभ हॊ शसक में ड . ख डेकय ु रृदम की ऩुक य वव.760 2096 2244 902 3014 1008 4218 1401 2399 2405 439 4262 1084 306 798 2594 1133 2686 681 2083 2671 1987 3998 1930 161 354 1154 1136 1074 1156 375 568 156 1171 1093 589 535 145 1297 2289 1564 694 753 3421 947 224 2656 3232 4101 4126 हुजूय य ॊगेम य घव हुजूय दयफ य गोववन्द शभश्र हुजूय दयफ य गोववन्द शभश्र हुस्न फीफी औय अन्म कह तनम यॊ भकुभ य रृदम की ऩयख आच मष चतयु सेन रृदम की ऩक य वव. स.स. सयोजनी प्रीतभ हॊ शसमे हस इमे सॊगीत हॊ सी के इन्जेक्िन डॉ.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

harimohan jha .