नेट पर चेट ....

एक ििन

1

-हे लो...िनशा!
-हाय िे व !
-कया हम चेट कर सकते है !
-यस...शयोर
-िनशा..कयूट नेम
-थेकस
-िनशा तुम कहां से
-ििलली
-ओर तुम
-मुमबइ
-कया करती हो
-मोडिलंग एजंसी मे कसटमर केयर संभालती हू...
-ओर तुम

-कुछ नही....जसट बाप के पैसे पर एश .....हाहाहा.
-कमआन सच बोलो...
-ओके पापा की गारमेटस फेकटी है उसे संभालता हू

-गुड.....मुझे तुमसे जलन है ...काश मेरा भी एसा बाप
होता...

2
-कोइ बात नही मुझ िोसत बना लो...ओर मेरे साथ
मजे करो
-वेरी समाटट .....
-वो तो मे हू...
-िनशा तुमहे चेट मे कया पसंि है ..
-िनशा...मुझे तो फेड, फेटे सी और गमाट-गमट फलटट ...
-...मुझे भी यही सब पसंि है
-िरयली...!
-सच िे व
-ओह िनशा...
-आर यू होट सवीट
-यस आइ एम होट...2 होट
-कया

गमाट-गमट मसती की बाते अचछी लगती है !

-ओह मेने बोला तो.... यस िे व
-तुमहारा िफगर!

3
-38/24/36 5-10
-यानी जूसी िफगर....राइट िनशा
-ठीक समझा...:)
-िे व मेरा रं ग़ गोरा रं ग काले लमबे बाल काली आंखे
और ..िचकना रे शमी मुलायम बिन!
-तुम तो मुझे पागल बना रही हो...
-हां िे व मेरे गुलाबी मिभरे होठ रे शमी मुलायम
िचकना बिन रसीले गोल मुलायम बूबस...िे खकर तुम
पागल हो जाओगे...
-तो कब पागल बनाने का इअरािा है ...मेरी जान
अचछा तेरे बूबस का साइज..
मेरे बूबस .....DD साइज के बडे जािलम शेतान है ...
-ओर तुम िे व
-38/32......5-11
-गोरा..एथलेिटक बाडी...बालो भरा चोडा सीना
लडकीयां मुझे पलेबाय के नाम से बुलाती है .

-पलेबाय...कया वाकइ तुम एसा समझते हो

4

-मै नही ..लडकीया मेरे बारे मे एसा बोलती है ....
-मुझे

भी तो ििखाओ ...इस पलेबाय के जलवे

-ओके ... मेरे पास आओ िनशा
-तुमने कया पहना है
-साडी..
-कया नाभी िशन
ट ा साडी है ....
-ओह यस िे व... लो-कट.बलाउज......मै साडी कमर
पर बहुत नीचे बांधती हू....मालुम हे कयो!
-कयो सवीट
-मेरी नाभी मेरा पेट सबसे सेकसी है ......एंड यू
नो...मे नेवाल िरं ग भी पहनती हू...

-ओह िनशा सच तुम तो मुझे पागल बना रही हो
-....कया अकेली हो अभी.
-नहीं आिफस मे हू...कयो

- सोचा तुमहे कुछ गमट िकया जाय ....पयार की
गमाग
ट म ट मसती भरी बांते...तुमहे मसती से पागल
बनाने को ििल कर रहा है .....
-ओह....वो तो रात को पोसीबल है ...तब मै.. अकेली
भी रहती हू ओर मसती की पयासी भी
-पयासी!
-यस मसती की पयासी...
-तो रात को चेट पकका....
-यस यार

मै इं ितजार करगी...

-िे व मेने तुमहे फेड िलसट एड करने के िलये
िरकवेसट भेजी है ...
-सो सवीट ...मै अभी करता हू

-कम आन िनशा से समिथंग सेकसी.....
-शरमा रही है कया.....
-िनशा आर यू िे यर...
-कया हुआ....

5

-िे व मे आिफस मे हू.....थोडा सा िबजी...

6

-पलीज िे व अभी नहीं यार ..पर मुझे तुमहारे जेसा
िोसत चािहये....
-िनशा कया तुमहे मसती भरे गमाग
ट मट इमेल िलखना
और पढना पसंि है .
-हां िे व मुझे बहुत पसंि है .
-कया तुम मुझे इमेल भेजोगे ....
-यस िनशा....मेल योर एडस....लव टू मेल माई नयू
होट-बेब िनशा...!”
-िनशा तुम नुझे seccnhot@gmail.com पर मेल करो
-शयोर िे व....अब हम अचछे िोसत है
-तुमहारी बाते ...तुमहारा सटाइल मुझे पसंि आया.
-मुझे भी बोलड िनशा पसंि आइ...
-कया तुम मुझसे रोज एसे ही चेट कर सकते हो..

-हां कयो नहीं....तुम मेरी पयारी िोसत जो बन गइ

7

हो...
-ओए ये लाइन िकतनी लडकीयो से बोल चुके हो...
-कभी िगना नही....हाहाहा...
-यू नाटी तुम मुझे पसंि हो...इसी तरह हं सते
रहो...हमेशा...
-तुमहे कभी लडकीयो की कमी ना हो...
-सच िनशा....ओह िनशा तुम िकतनी अचछी हो....
-िे व मुझे बोस ने बुलाया है ...
-चलती हू....रात को चेट पर 9 बजे िमलना इितंजार
करगी...बाय िे व!

-वो रात. कयामत की रात ...मेने िे खा पलेन मे सभी
गहरी नींि मे है ....ििलली आने मे अभी समय है ....मै
िफर उसकी यािो मे खोने लगा... िनशा मेरी चेट फेड
, मेरी जान, मेने अपनी आंखे बंि कर ली. िनशा मेरी
खयालो मे छाने लगी. मै उसके सपनो मे खो गया.

उस रात हम िोनो ही 9 की जगह 8 बजे ही गूगल

8

चेट पर िमल गये...
-िनशा मेरी जान िे खो मेने तुमहे 8 बजे ही पकड
िलया...
-मालुम है ििनभर तुम मेरे खयालो मे थी....तुमहारे
िलये बेचेन था.
-कयो ओर कोइ नही िमली चेट पर...
-िमली यार पर जो बात तुम मे है वो उनमे नही ...
-मुझमे एसा कया है .
-पता नही पर मुझे लगता है िक िजससे मै अभी
चेट कर रहा हू...वो मेरे सपनो को पूरा करे गी...जेसे
तुम मेरे िलये िलये अजनबी नही हो.

-....जेसे मेरे खयालो की ही कोइ परी हो ....ओए
तुमने ही तो ििन मे अपना धांसू िडसििपशन ििया
था....तभी से मे तुमहारे लुये बेचेन हू यार....
-बाते बनाना तो कोइ तुमसे सीखे िे व...

-तो कया मेरी बाते तुमहे पसंि नही िनशा.

-ये मेने कब कहा ...अगर पसंि नही होती तो कया
हम िफर से चेट कर रहे होते.
-िनशा छोडो भी ये बाते..ओह िनशा...अब मेरी बाहो
मे आओ ...-तुमहे िोसती का िकस कर!
-सच िे व तो करो ना कब से तुमहारे पास पयासी
खडी हू.

-िनशा मेरी फेटे सी की ििुनया मे सवागत है ....
-िनशा मेरी िोसत..मेरी बांहो मे
आओ....इइइइसससससमममूऊकचचचचचचकछ
-(((((((((((िनशा)))))))))))
-((((((((((िे व)))))))))))))))
-चुबंन कैसा था...िनशा
-मीठा .....गमट ...
-तुमहे मेरे होठ केसे लगे...

9

-मीठे , रसीले, नाजुक ...जेसे गुलाब की पखुडीयो

10

को चूमा हो...
-वेरी समाटट बाय...आइ लाइक इट!
-िनशा मुझे तो तुम गमट ओर चाकलेटी मीठी लगी....
-तुम शरारती हो िे व..तुमहारी शरारत ने मेरे अिं र
मसती भर िी
-सच िनशा...
-िनशा ...लेटस चेट अबाउट सेकसुअल फेटे सी!
-कया हर लडकी से इसी तरह बात करते हो!
-बुराइ कया है इसमे....मसती करनी हे तो बोलो...;)
-िजसने की शरम उसके फुटे करम हा..हा...हा.......
-आइ लव 3 एफ... फलटट फेड और फक...
-ओह िनशा...तो चलो अभी कुछ गमाट-गमट मसती
केरे ...

-यू नाटी ...ओर कया कर रहे हो तुम अब ओर

11

कया करना है ........मै कुछ समझी नही िे व
-िनशा..अभी तो यह शुरआत है
-िनशा मेरी जान अभी तो मसती की शुरआत
है ...अब करना यह है िक ....जो महसूस कर रही हो
उसे कहो ओर मुझे मसती से भरो....ओर जो मे कहू
उसे मसती के साथ महसूस करो ...सो िसमपल...
-;)....कयो नही! िे व
-तो पहले तुम शुरआत करो िे व...
-नही पहले तुम....लडकीया पहले....
-नो तुम पहले...
-िनशा तेरी कोई फेटे सी कोई डीम है तो मुझ से शेयर
कर....उसे पूरा करने की िजममेिारी मेरी...कम ओन
मेरे से कया शरमाना.”
-तुम सच कह रहे हो. तुम जेसे बेशमट से कया
शरमाना ....हा...हा...हहहहहहाआ.
तुम ने कया पहना है अभी ....
-मै अभी रे शमी आसमानी नीले गाउन ओर उससे

मेच करती हुई बा और पेटी...सच तुम अगर मुझे

12

िे खते तो पागल हो जाते िे व.

-िनशा बा तेरे बूबस को पूरा ढके नही है ... बूबस के
बारउन िहससे को कवर िकये हुये है ओर बाकी का
बूबस बा के बाहर छलक रहे है ....गोल बा फाड
बूबस....मै सच बोल रहा हू ना...
-िे व तुम मुझे िे ख तो नही रहे ...
-ओह िनशा सच बेबी मे पागल हो रहा हू..तुमने

टांसपरे ट नाइलोन पेटी पहनी हुइ है ओर तुम कलीन
शेवड हो....;)

तुम यह सब केसे िे खी पा रहे हो यार...सच िे व
तुमहारी हर बात सच है मेने आज ही कलीन शेव
िकया है .....
-ओह िे व ओर तुमने िे व...
बलेक बाकसर ...ओर कुछ नहीं.
-अब चलो बेबी तुम अपने डीम अपनी फेटे सी
बताओ...

-नो िे व पहले तुम ....

13

-यू नाटी गलट....कम आन से सेकसी....मेलट ि
आइस िबटबीन अस....यस िनशा...
"िे व मेरे ये बूबस...38 साइज
इनमे जवानी का करं ट भरा हुआ है .
ओह िरयली.. सच िनशा....

-िनशा मेरी कमजोरी गोल गुिगुिे जूसी बूबस है ...
....ओह िनशा....िनशा टे ल मी मोर अबाउट योर
बूबस !
ये शेतान जूसी है .....
सच..ओह िनशा
....यू आर मेिकंग मी होट...
”जब तुम इनहे िबाओगे मसलोगे, चूसोगे तो मे
मसती मे पागल हो जाउगी"
-ओर बोलो ... मजा आ र हा है ....शुरआत मसाले
िार है ...मजा आ गया...
-मेरा लंड हाडट हो रहा है ....िनशा अब इस शेतान को
संभालो!
-ओह िे व इसे मेरे होठो के पास लाओ

14
-ओह यस मेरे िनपपलस भी....बेबी!
....मै अब मसती मे हू. मेरे बूबस मे भी गुिगुिाहट

होने लगी है ....िे खो मेरे िनपपलस ..िे खो िे व िकतने
हाडट हो रहे है ....तुम नभी इनहे चूसो.... मसलो ...!
-अब तुम बोलो...िे व
-मेरा सीना बालो भरा...मसकुलर..लंड िचकना, मोटा
गमट....सनसनाता हुआ....जूसी
-ओह िे व मुझे बालो भरा सीना पसंि है ....मिो
वाला सीना
लंड िचकना मोटा....मेरे मुह मे पानी आ रहा
है ...तुम शेतान को बाहर िनकालो...
-सच िनशा...तुम ही बाहर िनकाल िो ना .....
-वो भी तुमहारे हाथो से ...मे मसती से पागल हो
जाउगा
-लो बाहर िनकाल िलया..िे व...सच िे व िकतना
मोटा...िकतना गमट िकतना बडा..
-कया अचछा लगा िनशा .... !

-ओह िे व अब तो इसे पयार करने को ििल कर

15

रहा है ..मे इसे चूसू इसे चूम.ू ...
सच िनशा...तुम मुझे मसती से भर रही हो
यस िे व मेझे भी मजा आ रहा है
-िनशा कुछ ओर बताओ...पर पहले तुमहारे गाउअन
को खोलने िो...मुझे बा मे से बूबस िनकालने िो...
-ओह हां िे व जरर.... और जब मिट इन शेतान बूबस
को मसलते है तो बिन मे आग लग जाती है .
-ओह िनशा तुमहारे बूबस...सच यार कयामत
है ...मुलायम जूसी....तने हुये िनपपलस ....कया मे
इनहे चूमू िनशा ...

तुमहे िकसने रोका है ....इन शेतानो को मसलो...
चूमो...चाटो... .काटो अब यह तुमहारे हवाले है िे व
...इनकी जबरिसत खबर लो.... इन शेतानो की...

िे व जब इन शेतानो पर आयल मसाज होता है तो

16

मै पागल हो जाती हू िे व...

-िे व ....मुझे आयल मसाज पसंि है .
-जब कडक हाथ से आयल मसाज इन बूबस पर होता
है . तो मसती की जननत िमल जाती है ."
-बता तुम रही हो ...हालत मेरी खराब हो रही
है ....ओह

िनशा यू आर टू हाट...

-आइ लव िबग कोक...मुझे बडे मोटे लंड ...कलीन
शेवड ---मुझे िचकने....गमट लंड पसंि है ....उनहे जब
चूसती हू तो पागल हो जाती हू...ओर वो भी पागल हो
जाता है ..जब वो पागल ििवाने की तरह चोिता है तो
.....मजा आ जाता है ...
-ओह िनशा ओर बताओ .....
-जब मोटी लमबी जीभ....चूत के अिं र तक जाती है तो
चूत मे आग लग जाती है "...
-िे व ...कया तुम सुन रहे हो...
-ओह िनशा लंड सहला रहा हू....
-िे व सच कह रही हू.

-ओह...िनशा मुझे तुम पसंि हो....बता तुम रही हो

मजा मुझे आ रहा है ...

17

-मुझे भी मजा आ रहा है िे व
-तुम बोलती जाओ.....ओह िनशा...
-मेरी हालत......... खराब हो रही है िनशा
-तो पागल बोल ना
-अब तो ....खुल जा मेरे साथ.
-हो जा मेरे साथ बेशमट....
-कया तेरा लंड नही तरसता चूत को !....कया तेरे होठ
बूबस का सवाि नेही लेना चाहते...."
-मै भी तो जानू तुझे केसी चुिाई पसंि है ....तेरे गमट
सपने ...."
-िनशा तूने मुझे पागल कर ििया जान ...
-एक तो वाइन का नशा उपर से तेरी चुिाई की बाते.
-ओएहे तो कया तुम वाइन पी रहे हो....बिमाश मुझे
पूछा भी नहीं...
-ओह िनशा....कम बेबी िगव मी टं ग तू टं ग िकस

-..... ओर टे क वाइन ....

18

-इसससससममूऊचचचच.....
-केसी लगी....
-मजा आया....
-हां िनशा ..हां ....मुझे भी चूत चूसना अचछा लगता है ..
आइ लव िबग बूबस...समाल बूबस गोल बूबस
...कलीन शेवड िचकनी चूत पसंि है
-....उनहे चूसने के िलए मे पागल हू .

-िनशा कया तुमहारी चूत कलीन शेवड है ...
-ओह यस िे व ...मेरी चूत िचकनी है ...ओर अब
मसती की आग मे उबल रही है िे व....ओह िे व मै
कया कर!
-िे खो िे व चूत के जूस ने मेरी चूत को गीला कर
ििया...मेरी पेटी पूरी तरह भीग गई िे व....
-तुमहारी बांतो ने मुझे मसती से भर ििया िे व...ओह
िे व मेरे पयारे िे व...मै कया कर िे व...कुछ करो
िे व...कुछ करो ना....पलीज िे व कुछ करो...

19
-िनशा मुझे िचकनी चूत पसंि है ...उसे चूसने का
मजा ..ओह िनशा....चूत रस का सवाि....मेरे मूह
मे पानी आ रहा है ...
-ओह िे व....तुम चूत चूसते हो....िे व तुम मुझे
मसती मे पागल कर रहे हो सवीट....ओह मेरे सवीट
िे व ...मै पागल हो रही हू िे व ...तुमहारी पागल

सवीट सेकसी िनशा ...अब तुमहारी ििवानी िनशा....
-मेरी पागल िनशा .....सो सवीट...
-कब तुमहारी मोटी लमबी जीभ....चूत के अिं र
जाएगी....मेरी चूत मे भी आग लगी है ......."
-िनशा तेरी बाते मेरी लंड मे मीठी सी गुिगुिी कर रही है
-मै तुमहे चोिना चाहता हू िनशा.....ओह िनशा
-मुझे मालुम है ....पर कया कर!
-अपनी पेटी उतार!
-ओह िे व तुमही उतार िो ना..
-चेट ने मुझे गमट कर ििया....मेरी पेटी गीली हो
गई...

-सच िनशा..मेरा भी बुरा हल है ...ओह िनशा...

20

-िनशा ओर बताओ
नहीं अब तुम बोलो िे व ...
मै तुमहे भीगती बिरस और शावर के फुआरो मे
चोिना चाहता हूं....

तुमहारे गीले बिन को चुबंनो से सुखाना चाहता हू...
सच िे व ...ओह िे व ओर बताओ....

-चािनी रात मे ..चािनी रे त पर ..बीच पर लहरो की आते
अवाज.... मै तेरी चुिाई की बाते करे ओर चुिाइ करे
रात भर....
-िे व यू आर सो रोमांटीक....आइ टू लव िे ट.
-ओह िनशा माई बेबी मै तुमहारी डीमस पूरा करना
चाहता हू

-िनशा....:मेरी सांसे गहरी होने लगी......मै मसती से भर
रहा हू......
-ओह िे व

-िनशा ... फुल बाडी आयल मसाज....एक लीटर आयल
से तर-बतर मै मसाज कर ....जब तक आयल सूख ना
जाए..

21

.-...मै मसाज अचछी करता हू
-िरयली िे व...
-हां िनशा....
-ओह िे व ....मै मसती मै चूत सहला रही
हू....बोलते जाओ!

-िनशा ....आयली बूबस के बीच फसा मेरा लंड....जब मे
बूबस फक कर....ओर लंड बूबस मे अिं र तक समा
जाये....तब लंड के हे ड को होठो से तुम

चूमो ..

-ओह िे व....मै एसा ही करंगी....
.बूबस फक ओर उसके बाि चुिाई...तेरी चूत मे फसा
मोटा लंड...
-मजा आ रहा है ...तेरे गोल िनतमबो पर लंड का
एहसास....तेरे िनतमबो के अिं र फंसा लंड...."
-लंड तेरी चूत मे हो..
.-तेरी गांड मे हो...
.-तेरे होठो के बीच हो..
-तेरे बूबस के बीच मे लंड हो
-ओह िनशा ये मुझे कया हो रहा है "
- िनशा मे मसती से पागल हो रहा हूं."

-िे व मुझे मिट सांड की तरह चोिने वाला चािहए....

-पर पयार करे एक खरगोश की तरह...एक मुलायम

22

मखमली खरगोश...
-कभी सांड की तरह का ििवाना पन ओर
कभी....मखमली मुलायम खरगोश सा एहसास.
-िनशा तुमहारी की बातो मे िम है ....मेरी इचछा कर
रही है की अभी आकर तुमहे आयल मसाज ि ू...काश
-ओह िे व...कया तुम एसा चाहते हो..

-िनशा मुझे कोई रात भर पयार करे ....पयार करते
-करते कभी थके ना....वो पयार करती रहे ..करती रहे
-कोई मुझे सुबह से रात तक...ओर िफर सुबह तक पयार
करे .....मै रह...रह..कर उसे चोिता रहू....ना पयस लगे
ना भूख..बस हो चुिाई.....बेरहम चुिाई... खरगोश सा
पयार....!
-मै रात-भर तुमहे चोिता रहू...सुबह की सुनहरे धूप

िखडकी से आ रही हो ओर मै तुमहे चोिता रहू...ओर
तुम मसती मै चुिवाती रहो....

-ओह िे व..कया तुम एसा कर सकते हो. िे व यह तो
मेरा भी सपना है ....कया तुम मेरा सपना पूरा कर
सकते हो....सच िे व यह मेरा भी सपना है ....िरयली
हमारा सोचना चुिासी भरा है ....सच मेरा भी यही

सोचना है ...ओह िे व मै तुमहारी ििवानी हो गई.

23

-ओह िे व अब तो तुमसे िमलने को ििल कर रहा है .
कया तुम मुझसे िमल सकते हो. अब मे तुमहारी
ििवानी हू िे व ...तुमहे ििवानो की तरह चाहने लगी
हू....कास अभी तुम मेरे साथ होते...
िे व कया तुम मुझे सुन रहे हो...
-िे व तुम कहां हो िे व ्....
.
-िे व
-िे व ...ओह िे व.....
..................................एनाउं समेट ने मेरा धयान
भंग िकया...जेट एयर वेज की िफलाईट ििलली मे उतरने
की तैयारी मे है ....
सीट बेलट बांधने को बोला जा रहा है .
मेरी घबराहट भी अपने चरम पर है , मै अपनी िोसत
िनशा से जो िमलने वाला हूं. वो अभी तक िो बार
फोन कर चुकी है . िे खो िफर मोबाईल बज उठा.

यह उसी का मोबाइल होगा ....हां उसी की अवाज है !
"हे लो....हे लो... िे व!
“तुमहारा इं तजार कर रही हूं!"

"वेट सवीट ...मै ििलली के उपर हू, कभी भी पलेन

24

लेड कर सकता है .”

“ िनशा... कुछ ही िे र तुम मेरी बांहो मे होगी."
"यस सवीट, 15 िमिनट ओर !् ...यस बेबी ...या...बी
रे डी...फोर माय हग एंड िकस!”

गूगल पर पहली गमाग
ट मट चेट के बाि हम रोज ही
जब भी मोका िमलता चेट करते . इ-मेल ओर चेट से
िोसती परवान चढने लगी. हम िपछले 6 मिहनो से ही
एक िस
ु रे को जानते है , पर एसा लगता है जेसे जनमो
जनमो क नाता हो. इटरनेट का िोसती ओर पयार

एसा ही तो होता है . िजसे हम जानते नहीं पहचानते नहीं
उससे खुलते चले जाते है .. हम िोनो ही साइबर के
शोकीन िनकले सेकसुअल फेटे सी ओर साइबर सेकस
के ििवाने हम

पूरी-पूरी रात एक िस
ू रे को फलटट

करते सेकसी चेट के मजे लेते. हमने एक िस
ु रे के साथ

अपनी सेकसुअल फेटे सी, गमट सपने, गमट िकससे शेयर
िकये. कुछ ही समय मे हम िो बिन एक जान हो गये.
सेकस के भूखे, घंटो चेट करते ओर वचुअ
ट ल फक करते.
साइबर का िनयम है िक जो बोलो उसे महसूस करो
ओर जो महसूस करो वेसा िरयेकट करो. पाटट नर की

सोच को िजतना वाइलड कर सकते हो करो, अपने

25

अिं र के हसरतो को जगाओ, सेकसी गमट सपनो मे
खो जाओ ओर अपने पाटट नर को भी डु बो िो. यही
हम िोनो एक िस
ू रे के साथ करते. मेरी गमाट गरम

बाते सुनकर उसे मजा आता. वो भी मुझे गमट करने
मे कोइ कसर नही छोडती. मैने उसे कई बार नेट पर
चोिा.
...ओर िफर उस ििन तो

जेसे कयामत ही आ

गई... मािडलंग पोटट फोिलयो के िलए िखचाए फोटो मे
से कुछ मेरे पास मेल िकये. फोटो माइं ड बलोइं ग थे.
उसका एक फोटो जो माइिो िबकनी मे था. उसने
मेरे िलये खास बोलड अिांज मे उसने खुि टाईमर
िडजीटल केमरे से खीचा था ... उफफ कया फोटो,
बूबस ... माइिो िबकनी मे फूट पढने को बेताब ... मे उस
ििन मसती मे पागल सा हो गया...उसमे सेकस की
इतनी मसती जो भरी हुई थी!

सच मे उसके बूबस बड़ी जािलम है ... DD साइज के
बूबस नाजुक बा से छलकने को बेताब. गजब की
गोलाइयां मुह मे पानी आ गया. इनहे चूसने का मजा ही
कुछ और होगा उसकी जाघो के बीच पेटी ..ना होने के

बराबर . मेने अपने लंड पर हाथ फेरा. अभी भी

26

उसकी याि ििमाग मे तेजाब भर रही है . उस ििन की
चेट मे उसे जम कर चोिा उसे भी साइबर चुिाई मे
मजा आया.
साइबर का ही नाितजा था िक मै उससे िमलने को
बेताव होने लगा. वो भी मुझसे िमलने को बेताब हो
गई बातो ही बातो मे उसने मुझे अपने यहां आने का
िनमंतण िे ििया. पहले तो लगा एसे ही मजाक कर
रही है . पर जब चेट मे मुझसे कसमेवािे लेने लगी
तो लगा आग बराबर की लगी है . मै मना नही कर
सका ....उस जेसी मसत लडकी कोई केसे मना कर
पाता. िजसकी साइबर चुिाई इतनी मसत है तो
असली चुिाइ का कया कहना. मेने उसे हर हाल
िमलने की ठान ली. अब मे उससे िमलने वाला हूं.
मेरी आखे उसे एयरपोटट पर खोजने लगी. कहां हे वो..!
उलझन से भरा मे एयपोटट लांज मे खड़ा हुआ हूं. 15

िमिनट हो गये कहीं कोई नजर नही आ रहा. अभी कुछ
िे र पहले तो मेरे से बात कर रही थी. मै मायुस होने
लगा. तो िनशा ने मुझे बेवकूफ बना ििया. एसे िकससे
अकसर नेट पर आते रहते है ...केसे लोग बेवकोफ

बकरा बनते रहते है ....इसका मतलब आज मे

27

बेवेकूफ बनाया गया..िे व जो अपने को समाटट
समझता है आज बेवकूफ बनाया गया..अब कया कर
कहां जाउ....चलो होटल चलकर िफर सोचेगे......तभी
िकसी ने मुझे पीछे से छुआ. मे चोक कर पीछे मुडा....
वो िनशा थी.
“िनशा...ओह िनशा ..”
मै बेवेकूफ नहीं बना वो मेरे सामने है ... उसे िे खता
ही रह गया ...समय जेसे रक गया. उसने पीला टाप और
सफेि सकटट पहनी हुइ है ....फोटो से कही जयािा वो

सुिंर और सेकसी ििख रही है . मेने उसे बाहो मे कस
िलया.
आिखर िनशा मेरी बांहो मे है ..िनशा सपना नही
हकीकत है ...वो मेरी बांहो मे है .... जो मुझे 6 मिहनो
से ििवाना पागल बना रही है अब मेरी बाहो मे है
और मेरे होठ उसके रसीले होठो पर िचपक गये. मै
उसे ििवानो की तरह चूमता चला गया ...ििुनया से
बेखबर.

िे व लोग िे ख रहे है .....िनशा ने मुझे लगभग धकलते
हुये कहा...सभांलो िे व अपने को सभंलो....यह ििलली

है ...

28

मुझे अपनी गलते का अहसास हुआ...!

“कहा थी जानू , तुमने तो मेरी जान हे िनकाल िी ..”
"एक अजट
े मैसेज हे घर से. उसी को अटे ड कर रही
थी.
'मुझे जाना होगा िे व." उसने मायुस होकर कहा
"मै समझा नहीं..मै हकबका सा उसे िे खने लगा."
"मुझे एसे नही िे खो िे व ....कय करं पापा ने मेरे
िलए लड़का िे खा है उसे िरजेकट करके आना है ."..वो
मुसकरा कर बोली
"ओह तो जनाब मुझे बुलाकर खुि जा रहे है ..."
“तुमहारे भरोसे तो यहां आया...अब तुम ही जा रही
हो....नोट फेयर!”
“बुरा मत मानो िसफट एक ििन की तो बात है यार.... तुमहे
बोर नहीं होने िग
ु ीं मेरा वािा..”..

“ओके ...चलो मुझे िकसी अचछे से होटल मे छोड
िो.”
“होटल कयो ...मे मर गई कया....मेरा घर है . उसमे
रहोगे.”

“िे व एक ििन की बात है पलीज मेनेज करो ना.

29

कल सुबह तो मे आ जाउगी”.
"कोई बात नही " मेने उसके हाथो को सहलाते हुए
कहा." वी िवल मेनेज इट"

”BMW गाडी ....कया बात है ....!!”
”यार बास की है .......”उसने गाडी का िरवाजा खोलते हुए
कहा.

गाडी गुडगांव की तरफ िोडने लगी...उसने हाथ मेरी
जांघो पर रख ििए...मेने उसके हाथो को लेकर जींस के
उपर से लंड को िबाया....
"यह नाराज है ...."
वो िखलिखलाकर हं स पडी ..".इसको तो मै मना लुगीं."
..”अब गाडी चलाने िो यार”...उसने हाथ छुडाते हुए कहा.
सुंिर होठो पर हलके गुलाबी रं ग की िलिपसटीक ...होठो
को उसने गीला िकया.
िनशा ने अपने टॉप को िर
ु सत कीया जो उसकी भरी और
गोल बूबस को ढके हुए है .
“एसे ही रहने िे यार” ...

मै टाप का गला थोडा एडजसट कर रही हू िजससे मेरे
बूबस का िीिार ठीक से कर सको...

मै झेप गया. ओर िफर बेशमट होकर बोला- “ये

30

शेतान बूबस कब चूसने को िमलेगे मेरे मूह मे पानी आ
रहा है यार !” ओर उसके बूबस को घूरने लगा.
“ये शेतान तो फोटो से जयािा खूबसूरत....ओर जूसी
ििख रहे है ”
“ओर मे !”
”तुम ...एक गंिी लडकी जो अपने िोसत को बुलाकर
भाग रही है .....”
”ओह िे व....एसा मत बोलो...सच बहुत अजट
े है ...नही
तो पापा यहां आ जाते....ओर वो ओर बुरा

होता....तुम समझ रहे हो िे व...हमारा पोरा पलान
बरबाि हो जाता. िफर तुम कभी भी िनशा को पयार
नही कर पाते....पलीज िे व मेनेज इदस टाइम मेरी
मिि करो....नही तो मुझे िख
ु होगा...”
”ओह िनशा मे समझता हू...कोइ बात नही....जसट
तुमहे टीस कर रहा था...”.

”सच िनशा तुम बडी ििलफेक हो यार....सपनो से कही
जयािा हसीन हो तुम.”

मेरे ििमाग मे हलचल होने लगी. सत रं गी सपने छाने

31

लगे....वो जेसे चेट पर िरयेकट करते थी. वेसी ही अब
भी कर रहे थी. उसके नशीले होठो, कामुक िनपपलो,
सैकसी नाभी मीठी पुससी सब का सवाि लेने के िलए मे
बेताब... मै उसकी पीठ उसके िनतमबो , उसकी कोमल
चूत की पकड़। सब का सपश
ट पता लगाने को बेताब होने
लगा।
जेसी वो चेट करते समय होती थी वेसी ही अब ...ना कोइ
डर...ना कोइ िझझक...एसी लड़की का साथ पाकर मेरे मे
मसती भरने लगी.
उसकी िसिसकयां जो संगीत की तरह है उन पर नाचना
है । ओह िकतना उतेिजत करने वाला सपना िे ख रहा हू.
मेरे लणड को चूसना उसकी जुबान का मेरे लणड के टोपे
पर झूमना उसके मूंह की नमी जो मेरे लणड को इतना
उतेिजत करे िक मै आपे से बाहर हो कर अपने लव जूस
की वषाट उसके बूबस पर कर ....
“हे कया सोच रहे हो....िे व !”
“अपनी िकसमत के बारे मे सोच रहा हू...िजसको

सपनो मे पयार िकया. अब हकीकत मे करगा...िनशा
तुमने एयरपोतट पर डरा ििया था...लगा आज मे

बकरा बनाया गया...!”

32

“िे व ...मेरे बारे मे कया एसा सोचते हो....जाओ मे
तुमसे बात नही करती.”
“बात कोन करना चाहता है सवीट अब तो एकशन
टाइम है .”
“ओह िे व मै तुमसे नही जीत सकती”
पर मन मानने को तैयार नहीं...मै िनशा की चूत की
खुशबू की कलपना करने लगा! उसकी चूत के बाल नमट
और रे शमी होगे या चूत िचकनी होगी...कया उसकी चूत
भरपूर िफसलन के साथ गीली होगी. मेरे लणड को उसकी
मयान सी चूत िकतनी गमी पहूंचायेगी।

मै उसके कान के बूंिो वाली जगह को चाटू । उसका

मखमली पेट मेरे पेट को सहलाये।
जब वह मेरे रसो को पी जाये तो अपने बैठे लणड को जैसे
ही िनशा की जांघो पर रखू तो वह तन कर उसकी चूत मे
िफर िािखल होने को तैयार हो जाये।
जब वह झड़ने को तैयार ..... िससिकयां बढ जाती है और
वह ओर जोर से करने के िलये उतेिजत करती है ...या

चुप रहने की कोिशश मे अपने होठो को िांतो से

33

काटती है । सवालो की सूची का कोई अनत नहीं और मेरे
िलये एक जनून बन गयी सवालो की अनंत िलसट। मेरा
मेन िे खना चाहता था िक मै िकतना सही हूं.

“अचानक मेरी सोच को झटका लगा. उसने घर के सामने
गाडी पाकट की. “अरे ...समय का पता ही नही चला.”
“ओये कया सपने मे तो मेरी ले तो नहीं रहे ....जागो िे व!”
“मै झेप गया... इतनी बेताबी अचछी नहीं...मेने अपने को
समझाया”
”हां.. जब हसीन लडकी साथ हो होतो एसा होता है ...”
घर के अनिर िािखल होते ही उसने मुझे चूमा ..., िरवाजे
की चाबी मुझे िे ते हुए बोली!-“मुझे अब जाना
होगा....आइ एम गेटींग लेट....”

”वहाट! इसक कया मतलब हुआ! “ मै चोकते हुए बोला.
“सवीट मुझे जाना होगा ...इटस अरजेट! समझो

“पर इस तरह....इस तरह अपने िरवाजे पर छोडकर
कोई जाता है ”
“िे व कल सुबह तक आजाउगी...”

“कल सुबह...पागल हो कया”

34

“मुझे बुलाकर खुि जा रही हो...नोट फेयर ये कया बात
हुइ “- मै नाराज होते हुए बोला.

मुझे चाबी िे ते हुए बोली-“.पलीज बेबी िफजट मे सब कुछ
है , कल सुबह तक की तो बात है . कल सुबह तक ..उसने
चाबी िे ते हुए बोला.टे क केयर...”

उसने गाडी घुमाइ और आखो से ओझल हो गई.
ये लफडा कया हे ... यह सब...माजरा कया हे .... ििल
धडकने लगा. लगा मुसीबत आने वाली है . भाग जा,
भाग जा िे व यह लडकी नही एक खूबसूरत बला है .
पता नही कया चककर है . मेरा मन बोला जा िे व
...जा िकसी होटल मे चला जा. पता नही इस घर मे
कया हो. यहां कोई तुझे बचाने भी नही आएगा.
जगंल सफारी की और जगंली जानवरो से नहीं डरा.
जगंल मे भी तो कही से भी सांप िबचछू शेर चीता
जगंली जानवर आ सकते है . जब उनसे नही
घबराया, यह तो तेरी िोसत का घर है . पर डर लग
रहा है . कही मे मुसीबत तो नही बुला रहा.
मै िनशा के िलए कुछ भी कर गुजरने को तैयार था.
मेरा ििल कह रहा है िनशा मेरे साथ एसा नहीं कर

सकती. जरर उसका जाना अरजेट होगा. वो कल

35

आजाएगी. िसफट एक रात की तो बात थी. िे खा
जाएगा -मेने बुरे खयालो को ििमागे से झटकते हुए अपने

मन को समझाया. ओर धडकते ििल से िरवाजा खोला.
सजा हुआ डाइं ग रम सामने उससे लगे हुए िो कमरे ,

बगल मे ओपन िकचन....सलीके से सजा हुआ घर.एक

कमरे मे ताला लगा हुआ है िस
ू रा खुला हुआ है मे समान
लेकर अिं र आ गया . िकंग साइज बेड एयर कंडीशनर
सामने बडा सा डे िसंग टे बल . अटै चड बाथरम ,
बाथरम मे चारो तरफ िमरर शावर , बाथटब ....
िनशा के सुिंर घर को मे िे खता रह गया. चेट मे
भी उसने मुझे अपने बारे मे बहुत सारी बाते बताई

थी. तभी मेरी नजर सामने तिकए के नीचे िलफाफे के
उपर पडी. आगे बड़कर उसे उठाया. उआ पर मेरा नाम
िलखा हुआ था.

ििल धडकने लगा उसे खोला और पढता चला गया.
ओह िे व...नाराज हो कया!
मेरे सवीट िे व मेरी ििुनया मे तुमहारा सवागत है . मे

चाहकर भी तुमहारे साथ नहीं हूं. बस कल तक सब करो.
मै पापा की बात टाल नही सकी. बात िबगडने से रोकने

के िलए मुझे जाना पङ रहा है . नही तो वो आ जाते

36

ओर सब गडबड हो जाता. मेरी एश और मसती भरी
िजिं गी सब खतम हो जाती.
बस कल तक सब करो. आने वाले पल हमारी िजिं गी के
सबसे रं गीन लमहे होगे. तुम मुझे सवगट की सेर कराओगे
और मे तुमहे .
और... हां एक सरपराइज िगफट है . सोचा था अपने
हाथो से तुमहे सोपुगी पर एसा नही कर पा रही
हू!...अफसोस!

तुमसे अभी तक िछपाया. कल मेने नई रम मेट रखी है
नाम है लीना. मेरी पुरानी िोसत है .. मुझ से जयािा
सेकसी और मसत है , तुम उसको िोसत बनाना
चाहोगे...गजब की िमठास है उसके अंगो मे..., वो
सब कुछ उसमे है जो तुमहारे अिं र आग लगा िे .
मुझे नही मालुम वो तुमहे पसंि करे गी या नहीं. पर वो
तुमहारा खयाल जरर रखेगी, मेने उसे सब समझा ििया है ,
अब िे खना है िकतना जलिी तुम उसे अपना िोसत बनाते
हो.
नाजुक कमसीन गुलाब की कली है , मूडी है , उसका
खयाल रखना. अगर तुम िोनो की बात बन गई तो वो

तुमहारे सबसे हसीन पल होगे. असके कालेज से आने

37

का समय होने वाला होगा. वो तुमहारा खयाल रखेगी और
उममीि है तुम उसका खयाल रखोगे. अगर सब ठीक रहा
तो जननत की सर करोगे और उसे जननत ििखाओगे...
ििखाओगे ना!
उममीि है मेरी कमी नही खलेगी
पर कोई िशकायत ना िमले. नो जोर-जबरजसती....
वन मोर िथंग ...यू िवल एकसपलोड आफटर सीइं ग हर
बूबस ...बहुत मसत है . िे खते है तुम उसे िकतना जलिी
पटा पाते हो . उममीि है

तुमहारा समय मजेिार रहे गा.

वेसे ..िडं क िफज मे िमल जायेगे मजा करो.
...तुमहारी िनशा
मै मुसकरा ििया. यू नाटी गलट .....अब ये बला कया
है ...केसी होगी लीना....
तो ये बात है ....हो सकता है उसका इस तरह जाना
उसके गेम पलान का िहससा हो, वो कुछ भी कर सकती है .
तो मेरे िलए एक ओर सरपाइज है , एक सेकसी
सरपाइज...ओह िनशा तुम िकतनी पयारी हो...मेरा
िकतना खयाल रखा है ...एक सचचा िोसत ही एसा
कर सकता है ....तुमहारा यह सेकसी चेलेज कबूल है .

तुमहारा िोसत इसे जीतकर ििखाएगा....तुमहारे

38

आने से पहले वो मेरी बाहो मे होगी. ओह िनशा यू आर टू
मच
...अब तक तो सब ठीक था.

िनशा और लीना
िनशा िकतनी बिल गयी है . मुझे तो यकीन ही नही हो
पा रह है , उसे इतने माडट न आउटिफट मे िे खूंगी. कहां
हम िोनो मेरठ मे रहने वाली सीधी सािी लड़िकयां कहां
आज का सटाइल.
बात-बात मे "ओह फक" कहने वाली अब की िनशा.
कपडे भी कया पहनती है .
िमनी- माइिो!
छोटा सकटट िजसमे से उसकी जानघे उपर तक िीखती.
सामने वाले को पेटी के िशन
ट करने मे शायि ही कोई
तकलीफ हो. साथ ही टॉप ऐसा की उसके िोनो बूबस
पूरी गोलाइयो के साथ छलकते...उनके बीच की घाटी िरू
तक जाती हूई ििखायी पड़ती. सामने वाला आिमी तो
भोचंका हुये उपर से नीचे तक िे खता रहे . डे स का

मतलब ही जलवा ििखाना...िक िे खने वाले की आंखे फटी

की फटी रह जाए.

39

िनशा का रप ही ऐसा था की लडको मे हौड बनी रहती
की कैसे इसे पाया जाय. उस समय की िनशा िकसी
को नजर उठा कर भी नही िे खती थी. वैसे खूबसूरत
मै भी कम नही हूँ. मेरा गोरा बिन और मेरा सांचे मे
ढला िजसम रात भर तड़फाता है . मेरे होठो चूमने को

मेरे बूबस मसलने को तैयार...ऐसा मेरा नहीं मेरे बोयफरे ड का कहना है . िनशा का कीसी से अफेयसट नही
था वहीं मेरा अफेयसट कई लडको के साथ चल रहा है .
एक के साथ तो शारीरीक संबंध भी बन गए. चूमा
चाटी तो बहुत कामन है . मै पाटीयो की हजान थी.
लडके मेरी अिाओं पर खूब पैसे लुटाते. उनका मेरे

िलये पागल होना मुझे मसत कर िे ता. सच बताउ तो
मेरे इन बूबस का यह साइज बनाने मे इन लडको
का कम हाथ नही है .....मै िनशा के मुकाबले काफी
फासट-फोरवडट हूँ. लेकीन यह आज िनशा को िे खकर

पता चला की मै फासट-फोरवडट नही बलकी सलो मोशन
हूँ.
2-बेडरम हॉल का फलैट गुडगांव इलाके मे िनशा को

नये जाब मे िमला है . यह पोश इलाका माना जाता

40

है . फेशन िडजाइन मे एिडमशन होते ही मेने िनशा से
सपंकट िकया वो मेरे से 2 साल सीिनयर है . मेरठ मे हम
पड़ोसी थे. िनशा को पता चलते ही उसने अपने पास
रहने का आफर िे ििया और मे ना न कर सकी.
िनशा के साथ मे कल ही रहने के िलए पहुची. िनशा ने

मुझे सब तफसील से बताया की उसे अब माडट न रप ही
पसंि है . इस जाब मे उँ ची सोिसएटी वालो के साथ
उठना बैठना हो गया है , तो रोज कीसी ना कीसी पाटी
या कलब मे जाना पड़ता है . वहाँ पर सभी माडट न
ओउटिफटस पहने हुये नाचते गाते हुये सारी रात

मसती करते है और िे र रात बाि घर वापस आते है .
फलैट के िो रम मे से एक िनशा का बेडरम और अब
एक

मेरा रम है .

िनशा मुझे बोली, "लीना, तेरे को तो यह सब पहले से
ही पसंि है . अब मुझे भी यही सब अचछा लगने लगा
है ."
" अब ऐसी डे स तो छोड़ िे . यहाँ तो माडट न ओउटिफटस
पहन कर मजा ले.”

”मेरठ मे तो तुझे पहनने का मौका िमलेगा नही."

41

मै हँ सते हूई बोली, "सलवार कमीज ठीक नही है कया?"
"नही. यह बात नही. यहाँ हम लोग जब पािटट यो मे
जाते है तो माडट न ओउटिफटस ही पहनते है . तू भी वही
सब अब पहन."
"मेरे पास तो वो सब कुछ नही है ."
"तो मेरे वाले पहन ले. एक सी ही िफिटं ग है हम िोनो
की. कोई तकलीफ नही होगी."
मेरा भी माडटन ओउटिफटस पहनने का शौक है लेकीन
वहां पर नही चलता था. तभी िनशा ने अपनी अलमारी
से ढे र सारी डे स नीकाली और मुझे िे िी और बोली,
"जो पसंि है उसे पहन ले.”
साथ ही 5-7 डे स और नीकाल ले ताकी रोज-रोज मेरी
अलमारी से िनकालना ना पडे ."
मेरी नजर उसके वाडट रोब पर पडी. एक से एक माडट न
सेकसी बिन ििखाउ आउटिफटस. एक से एक माडट न
िलगंरी. नाइलोन की छोटी-छोटी बा और पेटी. नाइलोन

के गाउन...मै उनहे बस फटी नजरो से िखती रही.

42

“ये सब तुम पहनती हो!”
“हां कयो....!!”
“कुछ जयािा ही बिन ििखाउ नही है कया!”
“जब बिन सुिंर हो तो ििखाने मे कया बुराइ है ...”
अचछा यह सब छोड...अभी तू नहीं समझेगी. जब यहां
के रं ग मे रं ग जाएगी तब तेरे को अपने आप सब
बात समझ मे आयेगी. अभी तो जो पहनना है उठा
ले. तू मेरी सबसे पयारी सहे ली है इसिलए िझझक
नहीं जो अचछा लगे उठा ले...जो कुछ यहां पर है
सब अपना समझ.
मै िनशा की बात का मतलब खूब समझ रही हू. माडट न
आओिटफटस को िे खकर लगता है िक िनशा को

जवानी का नशा चड़ चुका है . वेसे नशा मुझ मे भी कम
नहीं है .
फेशन िडजाइन की पढाइ के िलए यहा आइ. िनशा
पहले से ही सेटल है इसिलए उसके साथ रहने को आ
गई. मेरठ मै हम िोनो पड़ोसी है . िनशा यहाँ पर
अपनी बाकी पढाइ पूरी कर जाब मे लग गई. एसी
छुपी रसतम िनकलेगी पता ना था. पर जो कुछ है मुझे

अचछा लग रहा है . उसके रं ग-ढं ग िे खकर मेरी

43

हसरते जवान होने लगी. लगा जेसे मे अब सवगट मे
थी.
कया सोच रही है उसने पीछे से मेरे कधे पर हाथ रखकर
कहा!
"जसट बी कूल यार टे शन नही ले मेरे साथ मजे
कर...िजिगी के मजे ले.
मैने अपनी पसंि की डे स नीकल ली. जयािातर सकटट
और बलाउज .
कयो बा पेटी टाइ नहीं करे गी....यार गाउन लेले उसने
एक ननहे से नाइअलोन के कपडे को उठाते हुए कहा”
कया.... ये गाउन है ”!....मेने चोकते हुए कहा
यस बेबी ...

जब इसे पहनकर अपने बाय के पास जायेगी
...तो...ओर वो जोर से हं स िी...ओर मे झेप गई....
मेरा सामना अब एक ििलली की माडट न लड़की से
है ...मेरठ वाली लड़की मै उसमे डू ढ़ती रह गई.अब मेरे
सामने माडटन िनशा खडी है . जो मजे के िलए कुछ भी
कर सकती है . मै भी तो शायि यही सब चाहती हू.

सच बताउ तो मुझे उससे जलन हो रही है ...ओर

44

खुशी भी िक वो सब मुझसे शेयर कर रही है . उसके
साथ अब अगर मे चाहू तो इस खेल के मजे ले
सकती हू.

थेकस िनशा मेने डे से उठाते हुए कहा. िनशा ने

जबरजसती कुछ बा पेटी ओर गाउन उठा कर मुझे िे
ििए.....
लीना ...अब के बाि नौ थेकस. यार हम िोसत है .
जाओ टाई करके िे खो िफिटं ग ठीक है या नहीं.
ओके मे अभी आइ!!
भागकर अपने कमरे मे आइ ओर िरवाजा बंि कर
िलया. वहां तो मे ना-नुकुर कर रही थी, पर कमरे मे
आते ही मेरे ििमाग मे िबजिलयां चमकने लगी मेरे
अिं र का जानवर जाग उठा . मै इन सेकसी
आउिटफट को पहले पहनकर िे खना चाहती हू. मे

िे खना चाहती हू िक मै इनहे पहन कर केसी लगती हू.

मेने सबसे पहले पीले रं ग की नाइलोन की बा ओर पेटी
टाइ की...
ओह माइ गाड मे....िमरर मे अपने रप को िे खती रह
गई. नाइलोन बा मे से पूरी गोलाइयो मे झाकते बूबस

ओर पेटी मे से िखलती मेरी जवानी मेरी खूबसूरती

45

मे जेसे चार चांि लग गए...मेने िे खा मेरी चूत के बाल
उसमे से अचछे नही लग रहे थे. बाथरम मे जाकर उनहे
शेव िकया. मेने िमरर मे अपने को एक बार िफर िे खा.
मेरी जांघो के बीच पीली पेटी गजब थी. िे खा अब
मेरी चूत पेटी मे कयामत सेकसी लग रही थी. चूत का
गुलाबी पन...मेने पहली बार महसूस िकया मेरी चूत के
िलपस का शेप बहुत मसत है . जो िे खेगा पागल हो

जाएगा. मेने एक मीठी अगडाइ ली मेरे बूबस पूरे उठान
पर आ गए, उनमे मीठी –मीठी गुिगुिी होने
लगी.....लगा बा फाडकर बाहर आ जायेगे.
अपने ही तने हुए बाउअन िनपपलस टासंपेट बा मे से

िे खकर मिहोश होने लगी......कोइ आके इनहे िबोच
ले...इन का रस िनचोड ले.....मुझे पयार करे ....मे
बूबस को उठाकर हॉठो के पास ले गई ओर िनपपलस को
चूमने लगी. बङे बूबस होने का यही तो फायिा है . तुम
खुि उनहे िकस कर सकते हो चूसने का मजा ले सकते
हो. पर ये शेतान चूसने पर पूरे बिन मे आग भर िे ते है .
ओर लोगो पर जो कयामत ढाते हे सो अलग. जो इनहे
िे खता है िे खता रह जाता है . मै उनहे पयार से सहलाने

लगी...

46

िनपपलस आसानी से मेरे होठो के बीच मे आ
गए...मेने जीभ से होठो को गीला कर बारी बारी से
उनहे चूमा ओर पयार िकया बा का नाइलोन सपशट ओर
मेरी जीभ का गीलापन जेसे इनमे आग भरने
लगा....ओर गुिगुिी मेरी नयूली शेवड चूत हो ने लगी.
िे रे तक मे उनहे पयार करती रही. मेरे हाथ कभी पेटी
के अिं र चूत के िलपस पर तो कभी बूबस को
सहलाने लगे. मेरी चूत चूत-रस से गीली होने लगी.
ओह...गाड.....कया कर......मेरी सांसे गहरी होने
लगी....मेने सीसे मे अपने को िे खा...बा मे से
छलकते बूबस....मे उन पर चूतरस मलने लगी.....हे
भगवान मे मर जाउगी...कोइ आकर मुझे
चोिे .....मुझे पयार करे .. ...ओह कोइ आकर मुझे
िबोचे...मुझे मसले....हाय ये जवानी, मै कया कर! मेने
चूत मे उगली घुसा िी...ओर अिं र बाहर करने
लगी...मुझे मजा आ रहा है ...जेसे हजारो लंड बिन
को सहला रहे हो....मे िे र तक अपनी मसती को
िमरर मे िे खकर मिहोश होती रही ओर अपने को
िफंगर फक करती रही....ओर जूस से गीली उगलीयो

को बीच-बीच मे
तभी जेसे

मूह मे लेकर चूसती रही...ओर

47

मसती की हजारो वोलट का धमाका

हुआ...मसती का िवसफोट हुआ...चूत ने ढे र सारा रस
छोड ििया....मे हांफने लगी.....पसीने से तर बतर
अपने को िे खने लगी.....ओह गाड कया मसती
थी.....पयार भरे पल गुजरते ही मे अपने को हलका
महसूस करने लगी.
मेने िकसी तरह अपने को संभाला... बा पेटी को चेज
िकया इस बार काली बा ओर पेटी िनकाली ये पीली
वाली से जयािा बिन ििखाउ िनकली ..हे भगवान
िनशा केसे यह सब पहनती है . उस पर मेने पीला
टाप ओर बलयू डे नम माइिो सकटट पहन िलया. कांटा
लगा सटाइल मे मेरी पेटी या तो नीचे से ििखती...या िफर
उपर से....मेने उसे उपर से ििखाना ठीक समझा....नीचे
से टासपरे ट पेटी ििखाने की िहममत नही हुई. . काली

पेटी की पतली सी लेस ओर बीच का िहससा सकटट
के उपर से िोखाई पडने लगी. नभी के नीचे वी-शेप
बनाती हुई पेटी की लेस ने नाभी को ओर सेकसी

बना ििया. डे स पहने के बाि जब मैने आईने मे िे खा.
मेरा रप कुछ जयािा ही खील पड़ा. मै िे सी लडकी से

अब एक सेकसी, हसीन, जवानी बन गई थी. मे

48

अपने को िे खकर मिहोश होने लगी..मै इतनी सुिंर
हू....मुझे आज पता लगा..... सही डे स िकसी को

िकतना सेकसी बना सकता है . मेरी िे ह के िशन
ट भी
कुछ जयािा ही हो रहे है पर अगर शरीर सुिंर है तो
उसे ििखाने मै कया बुराइ...मै िनशा की बात िोहरा
कर मुसकराइ. उसकी बात मै िकतनी सचचाइ है वो
अब समझ मे आइ.
मेरी िचकनी जाघे सकटट के नीचे से अपना पुरा जलवा
िीखा रही है . गहरी नाभी , सपाट पेट शोटट सकटट और
शोटट टॉप के बीच चमकने लगा. लो कट टॉप के कारण
मेरे उरोज खील उठे . सकटट के उपर ििखती पेटी बता रही
थी िक वो टासपरे ट है . मुझे कमरे से बाहर जाने शरम आ
रही थी. पता नही िनशा केसे यह सब मेनेज करती है .
मेने गुलाबी िलपसटीक लगाई. अब मे िकसी पर भी
िबजली िगराने को तैयार थी. उफ मेरा सेकसी बिन!!!
मै िनशा को डे स िफिटं ग ििखाने उसके कमरे मे िािखल
हुई. सकटट मुिसकल से मेरी पेटी को ढक पा रही है ...पर

मेरी टांगे ...िचकनी मासल, मसत ओर नाभी पर हलका
सा बल. टाप का गला गहराई तक नीचे...मेरे बूबस के

शेप कयामत ...मे गजब की खूबसूरत ििख रही

49

हू...कही मुझे नजर ना लग जाए

होठो को गोल बनाकर सीटी बजाते हुए िनशा ने आँख
मारी. नाओ यू आर माइ टाइअप ओफ गलट

उसने मुझे चारो तरफ से घूमकर िे खा...लीना अगर
तू एसे सड़क पर िनकली तो तेरा रे प होना पकका है
.....हाय कया जवानी है िजसे िे ता है तो छपपर फाड
कर िे ता है ....माए...माए....तू तो बडी सेकसी ििख रही
है लड़का होती तो अभी मसल िे ती
उसने मेरी कमर पर हाथ रख कर कहा.-“तेरी
जवानी के जलवे... आज तो तेरी जवानी लूटनी
पडे गी...” मेरी कमर मे चकोटी काटते हुए कहा. ओर

मे उसकी बाते सुनकर मसती से भरने लगी . उसने भी
चेज िकया था ...बलयू कलर के सी थू गाउन
...उससे मेच करता बा ओर पेटी मे कयामत लग
रही है वो. मुझसे जयािा सेकसे नजर आ रही थी.
सच बताउ तो मुझे भी उसे लूटने का मन कर रहा
था. अब हम िोनो सेकस बमब नजर आ रही है .
बमब कब फटे गा, कहां फटे गा पता नहीं
उसने मुझे गहरी नजर से िे खा. मेने भी उसे उपर से

नीचे िे खा िनशा की बाडी पफेकट थी. उसने अपने

50

िफगर का खयाल रखा. िफगर तो मेरा भी गजब का
है . ....समझ मे नही आया की उसके रप की तारीफ
कर या उसके रम से भाग जाउ! मै उलझन मै आ
गई.
"अरे यार मेरे से कया शरमाना ...अब मेरे साथ रहने
आइ हे तो शरमाना छोड, कया लडको की तरह शरमा
रही है . मै तेरे बारे मे कया जानती नहीं.....", उसने
शरारत से मुसकराकर कहा
यह सच था. मेरठ मे मेरे िकससे महशूर हो गए . जब
यहाँ के िलए आ रही थी तब लगा था कही गलती तो
नहीं कर रही. पर मै गलत थी. यहाँ का नजारा ही कुछ
और है . िनशा के रं ग िे खकर समझ मे आ गया िक यह
जवानी के मजे लेना सीख गई है . मेरा काम आसान हो
गया. अब मुझे भी उसके रं ग मे रं ग कर जवानी के
मजे लेने है . अपनी हसरते पूरी करनी है .
उसने गहरी नजर से मुझे िे खा...जसट परफेकट..यू
लुकस सो कयूट.!!
मै िसफट उसके कमेटस पर थेकस ही कह सकी.
हम िे र तक बाते करते रहे . वो अपने िकससे सुनाती

रही. उसके बाते सुनकर लगा मै अभी बहुत सलो हू

51

िडनर पर हम िोनो ने भरपूर बाते करते हुये ही लीया.
रात कब गहरी हूई पता ही नहीं चला. वाइन के साथ

िनशा खुलने लगी. हलका सा सरर मुझ पर भी था. सब
कुछ नशीला, मसती भरा.
“लीना मेने मेरठ मे िकसी लडके को आख उठाकर भी
नही िे खा तू तो जानती है . पर यहा आकर मेरी ििुनया
ही बिल गई यार. ये जवानी यू बरबाि करने के िलए

नही है . उपर वाले ने हमे ये रप सती सावीित बने रहने
के िलए नही ििया है . इसिलए मै तो अब एश कर रही हू
िजस ििन मेरा ििल भर जाएगा. उस ििन िकसी का
भी हाथ पकडकर शािी कर लूगी.”
“लीना तू बता...कया मे गलत हू.”

“नही तुम गलत नही हो िनशा. सच बताउ तो मुझे
तुझसे जलन हो रही है . िनशा तू तो मेरे बारे मे जानित
है .
हां पर अब जलने की जररत नही. अब तू िनशा के साथ
है . हम िोनो िमलकर एश करे गे. जवानी के मजे लूटेगे.
लीना तेरी कोई फेटे सी कोई डीम है तो मुझ से शेयर कर

मै उसे पूरा करवाने मे मिि करगी.

52

"तुम इतना कुछ तो कर रही हो मेरे िलये.".....मै कुछ
समझ नही पाई. कया बोलू...अभी तो मेरी शुरआत है .
"शरमा रही है कया.....कम ओन मेरे से कया शरमाना.
िनशा शायि सच कह रही थी.जवानी के मजे लेने है तो
शरम छोडनी पडे गी.
"लीना तू मेरे ये बूबस िे खी रही है ...इनमे जवानी का
करं ट भरा हुआ है . जब मिट इनहे िबाता है िकसस करता
है ...चूसता है ....तो मै मसती मे पागल हो जाती हू."
मेने िे खा उसके बूबस गोल और हाडट िनपपलस....वो
मसती के सरर मै आ रही थी.
मेरे बूबस मे भी गुिगुिाहट होने लगी.
िनशा मसती मे खुलने लगी....
"मुझे आयल मसाज पसंि है . ओर जब इन शेतानो पर
आयल मसाज होता है ...वो भी िकसी मिट के हाथो से
तो मे मसती से पागल हो जाती हू. जब कडक हाथ से
आयल मसाज इन बूबस पर होता है . तो मसती की
जननत िमल जाती है ."
बता वो रही ठीक ...हालत मेरी खराब हो रही है ....
"आइ लव िबग कोक...मुझे बडे मोटे लंड ...कलीन

शेवड िचकने....गमट लंड पसंि है ....उनहे जब चूसती

53

हू तो पागल हो जाती हू...ओर वो भी पागल हो जाता
है , जब पागल ििवाना सा चोिता है तो “.....ओर

उसने आंखे बंि कर ली....वो खयालो मे थी....”जब
मोटी लमबी जीभ....चूत के अिं र तक जाती है तो चूत
मे आग लग जाती है "
िनशा सच कह रही थी.
"ओह...िनशा मुझे भी यही सब पसंि है ....बता तुम
रही हो हालत मेरी खराब हो रही है ."
"तो पागल बोलती कयो नही ििल मे मत रख....खुल
जा मेरे साथ. कया तेरी चूत नही तरसती मोटे लंड
को....कया तेरे होठ मोटे गमट ताजे लंड के मीट का
सवाि नही लेना चाहते...मै भी तो जानू तुझे केसी चुिाई
पसंि है ....तेरे गमट सपने ...."
एक तो वाइन का नशा उपर से िनशा के अपने चुिाई
के िकससे सुनकर मै गमट हो गई. मे जोश मे आ गई.
"हां िनशा ..हां मोटे लंड मेरी चूत को मसत करते
है ....मुझे भी लंड चूसना अचछा लगता है .."
"आइ ओलसो लव िबग कोक...मुझे बडे मोटे लंड
...कलीन शेवड िचकने....गमट लंड पसंि है ....उनहे

चूसने के िलए मे भी पागल हू . ओर वो भी पागल हो

54

जाए, अब पागल ििवाने से चुिना चाहती हू.

.........कब मोटी लमबी जीभ....चूत के अिं र
जाएगी....मेरी चूत मे भी आग लगी है िनशा ......."
"लीना तेरी बाते मेरी चूत मे मीठी सी गुिगुिी कर रही है "
मेने िे खा िनशा अपनी चूत को रगड रही है ....मसती मै
अपने होठ बार-बार काट रही है ....हाल मेरा भी बुरा होने
लगा.
मेने भी अपने टांगे फेलाकर अपनी चूत के उपर हाथ
रगडने लगी. थोडी सी तसलली िमली.
"लीना ओर बताओ"
मे मसती मे ओर खुलती गई, िनशा को बताने मे मुझे
मजा आने लगा. मेरी बाते उसको मसती से भरने लगी.
मै भीगती बिरस मे या शावर के नीचे चुिना चाहती
हूं....मेरे गीले बिन को कोई चुबंनो से सुखाए....हा जब
मिट इन शेतान बूबस को मसलते है तो बिन मे आग
लग जाती है .
चािनी रात मे ..चािनी रे त पर ..बीच पर लहरो की आते
अवाज.... मेरी कोई चुिाई करे रात भर....
लीना यू आर सो रोमांटीक....आइ टू लव िे ट.

ओह लीना माई बेबी होप तुमहारा डीमस जलि पुरा

55

हो.
"िनशा....:
मेरी सांसे गहरी होने लगी......मै मसती से भरने लगी....
ओह िनशा "
मे ओर िनशा कभी बूबस ओर कभी चूत को सहलाने लगे.
िनशा... फुल बाडी आयल मसाज....एक लीटर आयल
से तर-बतर कोई तब तक मसाज करे जब तक आयल
सूख ना जाए..आयली बूबस के बीच फसा लंड....जब वो
बूबस फक करे ....ओर लंड बूबस मे अिं र तक समा
जाये....तब उसके लंड के हे ड को होठो से चूम.ू ..बूबस फक
ओर उसके बाि चुिाई...मेरी चूत मे फसा मोटा
लंड.....मेरे गोल िनतमबो पर लंड का एहसास....मेरे
िनतमबो के अिं र फंसा लंड...."
"लंड मेरी चूत मे हो...मेरी गांड मे हो....मेरे होठो के बीच
हो...मेरे बूबस के बीच मे लंड हो...ओह िनशा ये मुझे कया
हो रहा है "
"ओह िनशा मे मसती से पागल हो रही हूं."

"लीना मुझे मिट सांड की तरह चोिने वाला चािहए....पर
पयार करे एक खरगोश की तरह...एक मुलायम

मखमली खरगोश....कभी सांड की तरह का ििवाना

56

पन ओर कभी....मखमली मुलायम खरगोश सा
एहसास."
िनशा की बातो मे िम है ....मेरी भी इचछा कर रही है कोई
अभी आकर मुझे आयल मसाज िे ...काश िनशा लडका
होती....मेरे पूरे बिन मे मसती भरी हुई थी....जेसे पेटोल
आग लगने को तैयार....बस एक जलती मािचस की

तीली की िे र. एसा ही हाल मेरा हो रहा है ...कोई आकर
मुझे चोिे .
"िनशा मुझे कोई रात भर पयार करे ....पयार करते
-करते कभी थके ना....वो पयार करता रहे ..करता रहे
....कोई मुझे सुबह से रात तक...ओर िफर सुबह तक
पयार करे .....मुझे रह...रह..कर चोिता रहे ....ना पयस लगे
ना भूख..बस हो लंड की चुिाई.....गमट लंड ओर हां कया
कहा खरगोश सा पयार....!"
मेने अपनी जांघे भीच ली..मेरी चूत रस से सरोबार हो
गई.....अब मसती रकने का नाम नही ले रही.
अभी तो लीना मै तुझ से पयार करना चाहती
हू.....ओर तू मुझे पयार कर-...लेसबीयन लव

" .....कया तूने लेसिबयन लव टाई िकया है ..."

वो अपने बूबस सहलाने लगी....लीना इन शेतानो

57

को चूमो...इनहे मसलो.....मसत तने हुए िनशा के गोल
बूबस.....

िनशा की बात से ..मेरे अिं र की भूख जाग उठी. मेरे
उपर मसती छाने लगी.
मेने बलयू िफलम मे लेसिबयन लव िे खा है . िनशा
की बात सुनकर मे मसती से पागल होने लगी. मुझे
वो बेहि सेकसी नजर आने लगी....उसको िे खकर
मेरी चूत मे मीठी गुिगुिी होने लगी...मै िखसक कर
उसके पास आ गई.
....तेरी जाघे िकतनी िचकनी है ....िनशा ने टांगो पर
हाथ फेराते हुए कहा.

उसके हाथ लगते ही मेरे अिं र मसती बढ गई. मुझे
उसका हाथ िफराना अचछा लग रहा है . मेरा ििल
जोर से धडकने लगा. मै उसका मतलब खूब समझ रही
हू ...मसती मे मेरी आखे बंि होने लगी. वो मेरे करीब
आ गई. िविे शी सेट के खुशबू....उसकी खुशबू मुझे
मिहोश करने लगी. मेरे होठ सूखने लगे. उसने
अपने होठ मेरे सूखे पयासे होठो पर रख ििए.
ओह ...िनशा.....

उसकी जीभ मेरे होठो के बीच रासता बनाने के

58

िलए मचल उठी....मेने मुह हलका सा खोल ििया वो
रासता बनाती हुई मेरी जीभ से टकराई.

यह फंच िकस है ....पर िकसी लडकी के साथ पहली
बार रही हू.

मजे मे कोई कमी नही...िनशा का

िकस मेरे अिं र आग भरने लगा. हमारी जीभे एक
िस
ू रे का जायका लेने लगी. उसकी जीभ क नमट
मुलायम एहसास...मेने उसकी जीभ को हलके से
चूसा....िनशा मेरी इस हरकत से मचल उठी.
हम िोनो मिहोशी के आलम मे डू बती चली गई.
उसका मुझे इस तरह छूना मेरे अिं र आग भरने
लगा. उसने िोनो हाथो से मेरे बूबस को सहलाते हुए
कहा शमट छोड ओर जो तेरे ििल मे आए मेरे साथ

कर.....कहते हुए उसने एक झटके मे अपना एक बूब
बाहर िनकालकर िनपपल मेरे होठो से लगा ििया....

कया तू इनहे चूसना नही चाहती....कया तेरे हाथ इनहे
मसलने के िलए बेताब नही हो रहे .
"ओह िनशा ....तेरी अिा ने मेरे अिं र आग भर िी
है .....मेरे बूबस का भी हाल ओर भी

बुरा है ....."मै

अपने बूबस टाप से बाहर िनकालकर मसलने लगी

मेने उसके बूबस पर होठो को जीभ से गीला कर

59

एक जबरिसत चुबंन ििया.
"ओह लीना....माइ बेबी....या यू नो हाउ टू
िकस....िकस मी हाडट बेबी...."
सच बताउ मे उसकी इस अिा की िीवानी हो गई.
मुझे अब शमट छोडकर लेसबीयन लव के मजे लेने
है . बलयू िफलमो मे िे खा है . इसिलए कोई परे शानी
नही.

ओर िफर िनशा जेसी लडकी का साथ...

मे बेशमट हो गई...
उसके बूबस पर टू ट पडी....जािलम के बूबस भी
...कसी को भी ििवाना बना िे ....मुलायम
मखमली...गोल....पर हाडट िनपपलस....मेरी पेटी का
गीलापन बता रहा था िक मे गमट हो रही हू.
...मेने अपने हाथ िनशा की पेटी मे डाल

ििए...उसकी िचकनी कलीन शेवड चूत....मखमली
एहसास.....
िनशा का एक हाथ मेने अपनी चूत पर पेटी के उपर
रख ििया..
कुछ करो िनशा...इसमे आग लगी है ...
िनशा की उगिलया मेरी पुसी िलपस को सहलाने

लगी....ओह िनशा....अ...आ....आअ........हह...हह

60

लीना लव मी...मेरी चूत मे उगली डाल
िनशा मेरे बूबस को चूस रही है ...मसल रही
है ...उसकी सटाइल मेरी चूत का बुरा हाल करने लगी.
िनशा इन बूबस का सीधा कनेकशन चूत से हे कया
....पूरी चूत गम ट हो गई ....चूत रस से सरोबार.....
िनशा ने मेरे चूत रस मे उगली गीली की ओर मेरे
होठो से लगा िी....मै अपना ही रस का सवािे लेने
लगी..... िनशा ने होठ मेरे होठ से लगा ििए.
िनशा की हरकते मेरे ... बिन मे जवानी की आग
भर रही है ...वो इसी तरह चूसती रहे ....मसलती रहे ...
"िनशा.... पले िवि माइ बूबस !" ..मेने िोनो बूबस
को उपर उठाते हुए कहा

ओह यस ...उसकी पुससी भी गीली हो गई. ठीक हम
िोनो बारी बारी एक िस
ू रे के बूबस को पयार करती
रही....

उसका िचकना पेट....गेहरी नाभी....
मेरी गीली जीभ उसकी नाभी मे जाते ही वो मचल
उठी.....नाभी से िकस करती हुई
आ गई. ..

मै उसकी पेटी पर

टासंपरे ट पेटी मे से झंकते उसके पुससी

61

िलपस....िकतने सुिंर...गुलाब की तरह
गुलाबी....मुलायम. मेने होठ उस पर रख
ििये...मुझे उसके जूस का सवाि िमलने
लगा....लाजाबाब सवाि....एक माउथफुल िकस उसकी
पुससी पर ििया....नाइलोन का गीला पन....पुससी
जूस की सुगंध...उसका सवाि....एक भरपूर
िकस..ओर वो उछल पडी.
मेने आगे बढकर उसकी पेटी अलग की. जीभ उसकी
चूत के उपर ले आई. उसके पुससी िलपस को
खोलकर जीभ चूत मे घुसा िी. मेरी जीभ उसकी चूत
मे अिं र तक समा गई....यही हाल िनशा ने मेरे
साथ िकया....हम एक िस
ू रे की चूत को टं ग फक
करने लगे.

अब वही सब कुछ वो मेरी चूत के साथ करने लगी.
ओह लीना....सक मी मोर....ओह या.... उसके होठ
मेरी पुससी िलपस पर . मै पागल हो गई. मसती मेरे
अिं र भरती चली गई. मै तडपने लगी....मै उसे इसी
तरह चूसती रहू ओर वो मुझे इसी तरह चूसती रहे .
हम एक िस
ू रे के बिन से खेलती रही.....

एक िस
ू रे की चूत रस का मजा लेते रहे ......यह

62

मेरा पहला मोका.

िनशा की चूत का भर पूर मजा ले रही हू.

वो जािलम भी चूत रस पीने मे मािहर है ....मुझे
उसने मसती से सरोबार कर ििया.
ओह लीना .....सक हाडट बेबी...
यू टू बेबी मेने उसे उकसाते हुए कहा...मे मसती से
सरोबार हू....ओर िफर हम िोनो ने एक साथ पीक

का मजा िलया.....एक िस
ू रे से कस कर िलपट कर
हांफेने लगे...

िनशा तूने यह सब केसे शुर िकया तू तो एसी नही
थी.िनशा मुसकरा िी.
"मेरी कहानी...िफर कभी.....यार" उसने टालते हुए
कहा.

मेने एक मीठी अंगडाई ली ओर िनशा के गले मे
बांहे डाल िी...िनशा तू िकतनी अचछी है .... वो मेरे
पूरे शरीर पर चूबंन िे ती रही...ओर मे आंख बंि
िकए मेजे ले रही हू........

िनशा ने अचानक मुझे अपनी केि मे जकडते हुए

मेरे चहरे पर चुबंन की बोछार लगाते हुए कहा..मजा

आया.....

63

हां यार आधी रात गुजर गई. अगर मजा नही आता
तो कया हम अभी भी बाहो मे होते....मेरी बात
सुनकर वो मुसकरा िी....
यस िनशा....बहुत मजा आया....

ओर तुझे?.... मेने िनशा के गालो को चूमते हुए
कहा!

ओह लीना तुने मुझे अपना ििवाना बना ििया....तेरे
सवीट चूत का रस पीने का मज आ गया...बेबी
..अब तू इसे डे ली खाने के मेनू मे िलख ले....रात
को सोने से पहले लीना की चूत का गमट जूस....
"ओह िनशा तू भी.....वेसे मुझे भी तेरा जूस रोज
चािहए ....हर रात बार-बार."
िनशा ने मेरे बूबस के बीच गहरा िकस करते हुए

कहा..य बडे शेतान है इनहे सभालकर रखना.....िे
आर सो सवीट...इन पर मुझे बहुत पयार आ रहा

है ...उसने बारी -बारी से मेरे िनपपलस को चूसते हुये
एक गहरा चुबंन ििया......

उसकी बाते उसकी अिा मुझे ििवाना बना गई. सच
मुझे भी इस खेल मे पूरा मजा आया. सच बताउ तो

अभी तक का सबसे जयािा मसती भरा पयार था.

64

इतनी मसती पहले मेने कभी महसुउस नही की थी.
िनशा के साथ लेसिबयन लव ने मुझे मसत कर
ििया..
"लीना मेरा िोसत आने वाला है ...."उसने बात बिलते
हुए कहा

"िोसत...केसा िोसत .".मेने चोकते हुए कहा

“अरे यार नेट पर िोसती हुई िमलने आ रहा है .

बहुत अचछा िोसत है , तुम भी उसे पसंि करोगी. “
"उसे लेने सुबह एयर पोटट जाना होगा "
“अभी इसी वक!”
'िनशा ...आर यू शयोर!'
“... यू िेजी..”
लीना यार ...डरने की कोई बात नहीं...पुरानी िोसती
है . कुछ ििन रहकर चला जाएगा.
“ओके बट वो रहे गा कहां....”
”कहां का कया मतलब, वो हमारे पास रहे गा”
“ओह बट आइ एम नोट शयोर ....मै बोली...मुझे तो
इस सब से िरू ही रखो. ..मुझे तो डर लग रहा है ”

65
“लीना माइ सवीट डरने की कोइ बात नही, वो मेरे
साथ मेरे कमरे मे रहे गा. तुमहे डरने या घबाराने की
कोइ बात नही है . वो एक शानिार इसांन है तुम
िमलकर खुि समझ जाओगी”
“पर इस तरह तुम िोनो”
ओह लीना यहा सब अब ििलली मे बहुत कामन हो

गया है . अब लोग िबना शािी के एक साथ रहते है .
जब तक अचछा लगा साथ रहे ओर जब ििल नही
िमले तो अलग हो गये. अब साथ रहने के िलये
शािी सुिा होना जररी नहीं अब यहाँ ििलली मुमबई
जेसे मेटो मे बहुत कामन होता जा रहा है ....सो कूल
बेबी...!

पर ....कया िनशा इतनी िे र से बता रही हो..मै ने
नाराजगी जताते हुए कहा.

"यार उसका आज शाम को आना कंफमट हुआ. मै समझ

नहीं पा रही थी िक कैसे तुमसे शेयर कर वेसे बभी तक
तो तुमहारे बारे मे शयोर नही थी, सोचा था शायि
होटल मे ठहराना पडे गा. पर अब"

“अब कया...”

66

“अब तुम मेरे सारे राज जानती हो सवीट...अब
तुमसे कया छुपाना. ओर िफर तुमहे मसती भरी
िजिं गी िे ने का वायिा िकया है . अभी तो तूने मसती
के जलवे िे खे ही कया है . इसिलये सोचा िे व को अब
हमारा साथ ही ठहरायेगे.”
ओके

सवीट!

ओके लीना..एज यू लाइक मे जोर नहीं िग
ू ी. पर जसट
कीप ििस िबटबीन अस.
आइ पोिमस िनशा....
“होप यू कीप ििस एज सीकरे ट.
कुछ ििन हमारे साथ रहे गा. सुबह उसे लेने एयर पोटट
जाना है .
फलाइट लेट हो गई ..िफर अचानक उसके िपताजी
का फोन आया...पता लगा उसको आज घर पर
पहुचना जररी था. उसको एक लडका िे खने के िलए
आ रहा था. मेसेज मेने ही िनशा को पास िकया.
उसके बाि िनशा को जाना पङा.
अब उसके िोसत को एक ििन के िलए मुझे सभांलना
था. मेरा ििल जोर से धडकने लगा. िनशा के जलवो

से उसके िोसत का अिांज हो गया था. िनशा ने

67

भी िकिलयर िहं ट िे ििया है .
मेरे मन ने कहा लीना तू चुिने से नही बच पाएगी.
िनशा का िोसत िे व तुझे नही छोडे गा. तुझ
पटक_पटक कर चोिे गा....िे खना तू अपने को नही
रोक पाएगी. अगर बचना चहती है तो भाग जा. .....
यहां भागना कोन चाहता है ....ये मन भी .....ओर मे
मन ही मन मुसकरा िी.
जो होगा िे खा जाएगा.... रात भर िनशा ने पयार
िकया ....हलकी मीठी सी मसती भरी

थकान,

कालेज मै भी आज मन नही लगा....िनशा की मसती
भरी हरकते मेरे ििमाग को बचेन करती रही! ओर
िफर उसके आने वाले िोसत िे व का खयाल. बार-बार
मन कर रहा है की कलास से भाग जाउ.
पता नही िे व कैसा होगा....वो िनशा के िलये आ रहा
है पता नही मुझसे केसे िरयेकट करे गा...अभी तो
मुझे उसके साथ एक पूरी रात गुजारनी है ...हे
भगवान आज कया होगा...मेरी बैचेनी बडने लगी.
बैचेनी मसती की...बेचेनी उसे िे खने की....ओह वो
केसा होगा....मेरी ििल जोर से धडकने लगा....िनशा

का िोसत को मे कैसे हे िडल करंगी...मे कालेज

68

की कलास बंक करके जलि घर को चल िी... िरवाजे
का लाक खोला...पर ये कया िरवाजा तो खुला हुआ है .
ओह तो जनाब आ चुके है .

मेने अपनी सांसो को काबू मे िकया मेरा ििल जोर
से धडकने लगा गला सूखने लगा. घबराहट हो रही
है ...कया कर!
. लगा मै उसका

सामना नही कर पाउगी.. मै

धडकते हुए ििल के साथ अिं र िािखल हुई.

िनशा पापा से िमलने
िे व को अपने फलेट पर छोडकर मे तेजी से मेरठ की
ओर गाडी चला रही हू. मेरे ििमाग मे रात के गुजरे
पल अभी भी हलचल मचा रहे है . मेने कभी नही

सोचा था िक िलना के साथ इतनी जलिी बात बन

जायेगी. वो बहुत ही मसत ओर गमट पाटट नर

69

सािबत हुई. उसकी चूत की खुशबू अभी भी मुझे

बचेन कर रही है . अब िे व मुझसे िमलने आया है .
ओह इन मसती के पलो मे घरवालो को भी कया
सूझी है . मुझे तो जलिी से जलिी लोटकर अपने िे व
ओर लीना के पास जाना

है .

सलवार कुताट पहनने वाली सीधी सािी छोटे शहर की
लडकी से अब मे माडट न सेकसी िनशा बन गई.
कालेज मे मेरी कलीग मोना िसंह ने मेरी िजिं गी
बिल िी. मै उसके घर आने जाने लगी, मुझे वो
पाटीयो मे भी ले जाने लगी. मोना सेकसी, सावंली
नमकीन, मसत जवानी....एक नबंर की चुिसी
लडकी.... उसने मुहे रं गीन िजिं गी के शुरआती पाठ
पढाये. ओर िफर एक रात पाटी से लोटने पर उसने
मुझे अपने घर रोक िलया. वो रात मेरी पहली
लेसबीयन रात बनी...उसके बाि मेने पीछे मुडकर
नही िे खा.... मे बिलती चली गई.
एक रात जब मे उससे िमलने उसके घर गई तो
उसके िोसत को उस रात अपनी जवानी िे बैठी.
मोना और उसके िोसत के साथ पहली बार थीसम

का मजा िलया. मोना ने मुझे एक अचछा काक

70

सकर बनाया. उसके पास पोनट मूवीस का भंडार
िे खकर मे िं ग रह गई, इन मूवीस से भी मुझे बहुत

कुछ सीखने को िमला. मोटे गमट लंडो की मे ििवानी
हो गई. मेरी पयास बढती गई. रं गीन पाटीया, मसती,
मजे, पैसा, िगफट सब कुछ िमलने लगा इस िजिं गी
मे.
यहां लोग जवानी के मजे लेते है ओर जब जवानी
ढलने लगती है तो िकसी भी धनी आसामी को
अपनी जवानी मे फसा लेते है . जो बाकी िजिं गी के
मजे का खुला चेक होता है .
िे व की चेट ने ििवाना बना रखा है . उसको बांहो मे
लेकर जो चुबंन िलया उसकी मसती से अब तक
सरोबार हूं. जबसे िे व मेरी िजिं गी मे आया सेकस
ओर मसती भरा हो गया उसकी बाते मुझे अनंत
मसती से भर िे ती. नेट पर चेट...उसकी चटपटी
रसीली बातो की मै ििवानी हो गई. ...6 मिहनो से
नेट पर पागल बनाये हुए है ....मेरी सोई हुई हसरतो
को जगाने मे इस जािलम का बडा हाथ है . उसकी

नेट पर मसती भरी बाते ओर इधर नया-नया जवानी

का नशा. उसकी मसत फेटे सी की बाते सुनकर

71

मुजे मजा आता. उसकी रात भर चुिाइइ वाली बात
ििल को छू गइ. ओर मेने सोच िलया िक िे व से
मुझे िमलना चािहए. पता नही कयो मुझे उससे कभी
डर नही लगा...लगा जेसे िकसी अपने से बात कर
रही हू. जब से उसने मुझे अपने लंड के बारे मे

बताया तो मे अपने को रोक नही पाई..... मै इन 6
मिहनो मे कहां से कहां पहुच गई. लीना भी मुझे
िे खकर समझ नही पाई.

िे व की बाते, वो मुझसे से रात भर पयार करना
चाहता है ....मै भी तो यही चाहती हू की वो मुझे

पयार करता चला जाये....सुबह से शाम तक िफर
सुबह तक....उसकी बाते मे पयार की मसत गहराइ है .
उसे मेरे ििल की हसरतो की समझ है . जब िे व से
िमलने की घडी आई तो मै उसे लीना के भरोसे
छोडकर यहां डाइव कर रही हू.

ओह िे व मै तुमहारे िलये बैचेन हू. लीना के साथ

िबताये पल मेरे अंिर अभी भी मसती की गुिगुिी
कर रहे है . मै चाहती तो िे व को होटल मे भी रख
सकती हू. पर मै िे व को लीना ओर लीना को िे व

िगफट करना चाहती थी. मेरे िलये तो िोनो ही

72

अनमोल है ....अपनी लीना को िे व िगफट करना
चाहती हू...ओर िे व के िलये लीना िकसी िगफट से

कम नही होगा...मेरे सामने शायि वो िोनो खुल ना
पाते...िे खते है इस मोके पर िोनो कया गुल िखलाते
है ....मेरी गमट नम ट लीना को िे व जैसा िखलोना िे ना
जररी है ....मेने उसे वायिा जो िकया है . उसे गमट
िे खना चाहती हू. यही तो एक अचछे िोसत की

पहचान है . यह मेरी सटाइल भी है . िोसतो को जी भर
कर िो...ओर उनसे लेने मे भी कोइ शमट ना करो...मै
जलि से जलि उनके पास पहुचना चाहती हू.
िे व के लीना से मुलाकात
मैने लपक कर िरवाजा खोला वो सामने खङी है .
सलवार कुते मे गोरा बिन. धूप मे हो गए गुलाबी
चहरे के साथ वो सामने खडी है . सािगी मे सुिंरता
िे खता ही रह गया. कोई इतना सुिंर भी हो सकता
है . चेहरे पर मासुिमयत पर आंखो मे शरारत भरी
शोखी

िकसी को भी िोवाना बना िे . मे पहली नजर

मे ििल िे बठा.

73

"तुम िे व हो"
मै जेसे सपने से जगा!

“ हां मे िे व...मे िे व हू”-मेने हाथ उसके हाथ मे िे ते
हुए कहा.

"मै लीना ...िनशा की िोसत और अब तुमहारी भी".
"िे व तुमहारे िलए मुझे कालेज बंक करना पडा"
"ओह..िरयली िे न थेकस फोर टे िकंग माये केयर!"
मेने उसकी आंखो मे झांकते हुए कहा

"या ... िनशा मुझे तुमहारे हवाले करके िस
ू रा पसंि
करने चली गई....", मेने

मुसकरा जबाब ििया

"मै बुकस रखकर अभी आई.", ओर मुडकर अपने
कमरे मे चली गई...मै उसे पीछे से केटावाक करते उसे
िे खने लगा. गोल चोडे िथरकते िनतमब...... टाइट
पीले कुताट ओर हरे रं ग की सलवार मे वो बला की
हसीन लग रही है . िनशा से भी जयािा...रग रग मे
सेकस अपील. गजब का डे स सेस. हरी चुनरी को उपर
उठाते बूबस.. उभर कर जैसे िचलला रहे हो िक हम यहां
है हमे आजाि कराओ। उसका सांचे मे ढला गठीला
बिन बड़े बड़े बूबस... पतली कमर...छरछरी काया.
रसीले होठ.... िचकने मुलायम गाल ...गोल गुिगुिे

िनतमब. वो गजब की हसीन ओर सेकसी लग रही

74

है . िनशा गलत नही बोली...ये लडकी तो सेकस बमब
है .
मेरा मन लीना के िलए बैचेन होने लगा. िनशा की तरह
यह भी मसालेिार है . यानी एक के साथ एक फी ...थेकस
िनशा ...मेने मन ही मन कहा.
वो कमरे से वापस बाहर आ गई.
सेकसी, मसत, शानिार, मसालेिार....लीना एक बार िफर
मेरे सामने आ गई ओर मे गोर से उसे िे खने लगा.
मुझमे मसती छाने लगी. पर मै सावधान हू, मै बनती

बात िबगाड़ना नहीं चाहता । मै तो उसके बूबस के साथ
खेलने उसके कोमल अधरो को चूमने नमट जांघो को
सहलाने। उसकी पैटी मे घुसने के िलये बहुत ततपर हू
परनतु मैने िनशय िकया िक हर काम आिहसता होना

चािहये। वैसे भी मै इस बात मे िवशास रखता हूं िक सैकस
और इशक की पूती तभी होती है जब िोनो भागीिार

बराबरी से शरीक हो। मै चाहता हू िक लीना पयार के
बुखार मे बहुत गमट हो।
िे व...

मेरी िवचार तनदा टू टी...मै जेसे नींि से जागा...लगा जसे

उसने मेरी चोरी पकड ली

75

“िे व आर यू ओके....”
या..यू आर सो बयूटीफुल....तमहारी सुिंर बिन से आंखे
नही हटती, तुमहारी ये आंखे तुमहारे 3 ये होठ...!!
“आते हे फलटट , ए िमसटर तुम िनशा के िोसत हो, उससे
िमलने आए हो ओर आते हे मुझसे फलटट करने लगे.तुम
केसे िनशा के िोसत हो” उसने मुझे घूरते हुये कहा
मेरी िसटटीिपटटी गुम हो गई.....उसने मेरी बोलती बंि

कर िी...! िे व तेरी िाल नहीं गलने वाली....पतली गली से
िनकल ले.
“सारी मेरा यह मतलब नही था......सुिंर को सुिंर नही
बोलू तो कया बोलू. “
“बोिलए, ओर अब मै कया बोलू!”
“ओके इफ िे टस ि कैस िे न थेकस फोर कमपलींमवटस!”
मेरी सांस मे सांस आई...मेने जोर से राहत की सांस
ली....थेकस गोड!
"कयो कया हुआ."

"मुझे लगा मेने तुमहे नाराज कर ििया एक अचछा िोसत
बनते-बनते रह गया...!"
“अब इसमे इतना सीिरयस होने की कोइ बात नही.”

76
“लीना सच मे तुमहे िे खकर अपने को रोक नही
सका. तुम सुिंर हो लीना. अब अगर मे सुिंर को
सुिंर बनही कहता तो कया करता. पता नही तुमहे
िकसी ने बताया या नही की तुम िकतनी सुिंर हो.
तुमहारी आंखे जो इनहे िे खे िे खता रह जाये. तुमहारे
चेहरे की मासुिमयत”
मेने सांस ली ओर उसकी तरफ िे खा...वो मेरी बातो
को गोर से सुन रही थी- “िनशा ने आपके बारे मे
कुछ नही बताया था. बस एक लेटर मे िलख ििया
की आप से मुलाकात होगी ओर एक ििन के िलये
आप मेरा खयाल रखेगी. मुझे नही मालुम था िक
िनशा ने एक खूबसूरत सपना मेरे िलये छोडा है . सच
लीना मेरे ििल से पूछो िे खो यह तुम से िोसती के
िलये केसे मचल रहा है .मेरी िोसत बन जाओ”
"ओह सारी िे व ....िरयली सारी ..मेरा तुमहारा ििल
िख
ु ाने का कोई इरािा नही था. बस मे थोडा सा कंफयूज
हो गई. मुझे लगा पता नही तुम केसे िनशा के िोसत हो
जो आते ही उसकी िोसत को लाइन मार रहे हो.”

"मै लाइन तो नही मार रहा हू, पर तुमहे एक अचछा

77

िोसत जरर बनना चाहुंगा".

"सच मे तुम बहुत सुिंर हो....तुमहारी आंखे ..िकसी को

भी िीवाना बना िे . अब तुम नाराज हो तो हो जाओ जो
सच लगा बोल ििया...."
तीर नीशाने पर लगा...उसको मेरी तारीफ करना अचछा
लगा. उसके चेहरे की बेचेनी बता रही है , िक वो नही
समझ पा रही िक मुझसे केसे रे येकट करे . पर मुझे मालुम
है तीर िनशाने पर लगा है . अब लीना भी शायि समझ
गई िक मै उतना बुरा भी नही हू, ओर मुझमे डरने वाली

कोई बात नही है . उसने बात को संभालने के िलए कहा...
."...िे व अगर तुम तैयार होतो हम बाहर खाने चलते है ,
मेरा कुछ बनाने क ििल नही है . पास ही एक
मलटीपलेकस मे सुबह के शो मे ओमकारा लगी हुई है
उसे िे खेगे. ओर िफर वही लंच ले लेगे."

मुझे भी इससे बेटर आपशन नजर नही आया. उसे पूरा
मोका िे ना चािहए
ओर मेने कहा...“एज यू िवश!”
“जसट वेट मे तैयार होकर आई. “

78
लीना....िे व
सच िे व को िे खकर मे पागल हो गइ. गीक के िे वता
की मूितट सा, आंखो मे शरारत, . मिट का भरा पूरा
शरीर.. डे िनम जीन ओर टी-शटट मे समाटट नजर आ
रहा है . इसका

साथ कोन नही चाहे गा मुझे िे व को

इमपेस करना है . उसने िबना घबराये िजस तरह से
मेरी तारीफ की. मै उसकी ििवानी होने लगी..मै
अपनी फेवरे ट गुलाबी साडी ओर उससे मेच करता
गहरे गले का बलाउज, गुलाबी चुडीया, गुलाबी
िलिपिसटक.....मे उपर से नीचे तक गुलाबी हो गइ.
मेने अपने को सीसे मे िे खा ......मे िे व पर िबजली
िगराने को तेयार थी.
वो फटी आंखो से मुझे िे खता रह गया. मुझे मालुम
है जब भी मै गुलाबी साडी पहनती हू तो लोगो की

सांसे थम जाती है . उस पर लो-कट गले का बलाउज,
कमर पर नाभी से 6 इं च नीचे बांधी साडी. मेरी
जवानी को िे खकर वो कया...कोई भी सकते मे आ
जाता . उसकी तो जेसे सांसे रक गई. उसकी िनगाहे
मुझ पर िटक गई. साडी का पललू से बलाउज ढका

होने पर भी टांसपरे ट साडी से वो मेरे छलकते

79

बूबस ओर सपाट पेट पर गहरी नाभी को िे ख पा रहा
है . सूखते होटो पर जबान फेरे ते हुए वो मुितट सा बना

खडा रह गया. उसका मुझे इस तरह िे खना मेरे अिं र
मसती भर गया.
मुझे बात बनती नजर आने लगी. उस पर मेरा ििल
आगया. मुझे अब उअसका साथ चािहये. िे व को अब
मसती से गमट करिे ना था. उसको मुझे अपना ििवाना
बनाना था. उसकी बाते से मुझे समझ मे आ गया
था िक वो मेरी सुिंरता का ििवाना बन गया है ”
”िे व ...िे व

वी आर गेटींग लेट.”

वो जेसे नींि से जागा-“लीना ......तुम साडी मे
गजब ढा रही हो!”
मै मुसकाराई....मुझे मालुम है उसके होठ मेरे बूबस
को चूमने को बैचेन है उसके हाथ उनहे मसलने को
बेकरार है . मुझे इमपेस करने की उसकी कोिशश मुझे
अचछी लगी. िनशा का यह िोसत बडा भोला, बडा
सेसीबल ओर पयारा सा लगा. बलेक टी शटट ओर
डे िनम जीनस मे कामिे व सा नजर आ रहा है ...मेरा
ििल उसके िलये बैचेन होने लगा..

. कहीं मै िपकचर जाने का पोगाम बनाकर इन

80

खास लमहो को बरबाि तो नही कर रही.... िनशा के
आ जाने के बाि पता नही वो मुझे िे खागा भी या
नही.....उसकी बाते बडी रमानी लगी, बस वो बोलता
रहे ओर मे सुनती रहू, उसका मेरी तारीफ करना मेरे

बारे मे एसी खुिबयां बताना िजनके बारे मे मुझे भी नही
मालुम था बडा अचछ लगा.
मै कया करं केसे कहू िक मे उसके साथ मसती

करना चाहती हू. मे कोई एसा बहाना सोचने लगी

िक मेरा इमपेशन भी बना रहे ओर मेरी बात भी बन
जाये..... मोका भी हाथ से ना जाये.... अचानक मेरे
ििमाग मे एक िटक आ गई..... एसी िटक जो फेल
नही हो सकती.... िफलमो मे िहरोइन हीरो को पटाने
के िलये करती है ...िरवाजे से िनकलते ही मेने
झटके के साथ पेर मोढ ििया...
ओह िे व सभांलो.....उउउउउईईई....पेरे मोच
गया.....
उसने मुझे पीछे से कमर से पकड िलया.....ओर
िगरने से संभाल िलया ... मेने जान बूझकर अपना
सारा बोझ उसके उपर डाल ििया......वो मुझे लेकर

अपने को सभांल नही पाया ओर िगर पडा... मै

81

उसके उपर कुछ इस तरह िगरी िक मेरे बूबस ठीक
उसके चहरे से

टकराए..मेरे बालो ने उसके चेहरे को

ढक िलया..मै कुछ सेकंड

उसके उपर इसी तरह

पडी रही...उसने मुझे सहारा ििया....मैने ििट का
बहाना बनाकर सारा बोझ उस पर डाल ििया. मेरी
एक बांह को अपनी गिट न के पीछे से लेकर हाथ से
थामा ओर एक हाथ से मेरी कमर को सहारा िे ते हुए
मुझे कमरे के अिं र लेकर आया...मेरी नंगी कमर
पर उसके हाथ..... मै ििट का बहाना बनाकर

उस

पर ओर झुक गई...उसने हाथ मेरे सपाट पेट पर
फेला ििये...उसके हाथ की छुअन मेरे अिं र मसती
भरी सनसनी पैिा करने लगी. मुझे मालुम है मेरी
इस अिा का असर उस पर भी जरर हुआ होगा.पर

यह तो मेरी चाल की शुरआत भर है ... वो मुझे घर
के अिं र लेकर आ गया. उसने मुझे मेरे बेड पर
िलटा ििया....
”तुम ठीक तो हो....उसने मुझे बेड रे सट से िटकाते
हुये कहा...”

मै बेड रे सट के साथ िटक गई....मेने िे खा ...मेरे

82

हुसन का जाि ू चल गया....उसकी िनगाहे मेरे शरीर

का एकसरे करने मे लगी हुई है ...उसकी िनगाहे अब

मेरे बूबस पर िटक गई.....मेरे पललू के िखसक जाने
से....ओर बलाउज के उपर का बटन खुल जाने से वो
पूरे गोलाई मे बाहर ििखाई िे ने लगे....मेने उसे ओर
तरसाने के िलये...िे िट का बहाना करते हुये उनहे

उपर को तानते हुये...ििट से करहाई..ओर पीछे बेड

रे सट से अपने िसर को िटका ििया..वो आंखे फाडते
हुये मुझे िे खता रहा....

”ओह िे व कुछ करो.....िे खो डे िसंग डावर मे मूव
पडी होगी.”
मूव लेकर बेड पर मेरे पेर के पास आ कर बैठ गया.
तब तक मेने साडी जानबूझकर िपडं ली से उपर उठा
ली िजससे वो मेरी िचकनी िपडिलयो के िशन
ट कर
सके.... उसने सेिडल उतारकर पेर अपनी जांघो पर
रख िलया....ओर धीरे -धीरे मेरे पेर पर मूव की
मािलश करने लगा....
ओह िे व तुम िकतने अचछे हो....मेने पेर उसके
जांघो के बीच घुसाते हुये कहा

”तुम िकतनी अचछे मािलश करते हो.”

83

मेरे पेर का अगूंठा उसकी जींस की चेन से टकराने
लगा....उसके चेहरे पर टे शन ििखाई िे ने लगी...
पललू िखसक कर नीचे जमीन पर िगर पडा है
....मेरा हुसन पूरे जलवे के साथ उसके सामने

िबखरा पडा है ...मेने अपनी आंखे बंि करली िजससे
वो मेरे हुसन का िििार खुल कर कर सके....मे बेड

रे सट से नीचे िखसक आइ. तिकया मेरे कधे के नीचे
आ गया....ओर मेरे बूबस उपर की ओर तन
गये....मुझे मालुम है िे व की हालत कया हो रही
होगी. उसके कांपते हाथो की मािलश उसकी हालत
बता रही है . मुझे उसे तरसाने मे मजा आने लगा
उसकी गहरी

सांसे बता रही है की वो मसती मै आ

रहा है ....मेरे पेरे का िबाब उसकी चेन पर बढ
गया......मेरे पेर पर उसके पेट के अिं र का
एहसास मसती भरी गुिगुिी करने लगा.
मै लमबी-लमबी सांसे लेने लगी....मुझे मालुम है वो
इस समय मेरे उठते िगरते इन शेतान बूबस को िे ख
रहा होगा.

मै ििट का बहाना बना कर पेर को उसकी चेन पर

84

उपर नीचे करने लगी मेरे पेर के िबाब से वो बैचेन
हो उठा...उसने मेरे पेरे अपने चेन से सटा
िलये....वो मेरी हरकत के मजे लेने लगा....
साडी अब मेरी जांघो तक िखसक आई......मेने
सपाट पेट को अिं र लेते हुये बूबस को ओर उपर

उठा िलया.....मेने महसूस िकया उसके हाथो कांप
रहे है ....चेन के उपर मेरे अगूठे का िबाब बडने
लगा....मुझे जीस के अिं र मसती का एहसास होने
लगा. .मुझे मालुम है वो मुझे िे खकर पागल हो रहा
है .......उसकी हालत िे खकर मेरी मसती बडने लगी.
उसको तरसाने मे मुझे मजा आने लगा....मुझे
एहसास होने लगा िक वो मुझ पर कभी भी टू ट पड
सकता है ......यह अहसास मेरे अिं र मसती भरी
गुिगुिी जगाने लगा.
“िे व अब मुझे अचछा लग रहा है ...ििट कम
है ...थेकस िे व.””
पर मेरी हालत खराब है लीना....उसके हाथो से नंगी
हो गई जांघो को जकडते हुये कहा....मेरा िचकनी
जांघो का जाि ू चल गया....

उसने िोनो हाथो से मेरी जांघो को पकडकर उन

85

पर एक के बाि एक ताबडतोड

जबरजसत चुबंन िे ने

लगा.....उसने कस कर जांघो से पकडकर अपनी
ओर खीचा ओर बारी-बारी से मेरी जांघो को चूमने
लगा....
िे व ...िे व....कया कर रहे हो..... िे व ये कया कर
रहे हो........
जेसे उसने कुछ नही सुना....
कुछ मत बोलो....मुझे पयार करने िो....तेरी जवानी
ने मुझे पागल कर ििया....अब मुझे नही
रोको....मुझे पयार करने िो.... उसने जाघोके अिं र
की तरफ गीले चुबंनो की बोछार करते हुए कहा.
“.....लीना मै तुमहे बताउगा पयार केसे करते है .”

मेरी एक ना सुनते हुये मेरे उपर छा गया....यही तो
मे चाह रही थी.....मेरी मसती का अब जबाब

नही....मे मसती मे लमबी सांसे लेने लगी.....
मेरे हाथो की उगिलया उसके बालो मे आ गई....मै
उनहे मसती मे सहलाने लगी.....इतना इशारा पाकर
िे व मचल उठा....

वो मेरे उपर आते हुये बोला ...”यू नाटी पेर के

86

ििट का बहाना करती है ....िे िट कही है ओर मािलश
कही ओर

करवा रही है ...मै तेरा नाटक इतनी िे र

से िे ख रहा हू....कया मै समझता नही िक तेरे बूबस
मेरे होठो के िलये तरस रहे है ....वो मेरी हाथो से

मसलने के िलये बेकरार है ....तेरी चूत मेरे लंड के
िलये तरस रही है . इतनी िे र से तेरे पेर मेरे अिं र
आग जगा रहे है ...कया तू नही चाहती िक मै तेरा
चूत रस चाटू .....ओर तू मेरे लंड को कया चूसना
नही चाहती.....
बोल ...उसने मुझे बाहो मे जकडते हुये मेरी आंखो
मे झांकते हुये कहा...

मै उसका यह तेवर िे खकर सकते मे आ गई....मै
समझ गई िक मेरा जाि ू चल गया.

”हां िे व मे तो तुमहे िे खते ही ििवानी हो गई थी.
पर..”
“...पर कया..”
“पर मे आपके बारे मे शयोर नही ठीक िक आप मुझे
अपना िोसत बनायेगे िक नही. “

“ओह लीना तेरी जेसी मसत जवानी को कोन नही

87

पाना चाहे गा. आज मै तुझे जी भर कर पयार करगा.
मुझे पयार करने िे गी ना.”
“हां िे व मुझे पयार करो...मेरी सारी मसती की आग
को बुझ िो...”
”लीना मसती की आग बुझाइ नही जाती बलकी आग
ओर भडकाइ जाती है . आज सारा ििन ओर सारी
रात इस आग को तुमहारे अिं र जला के रखूगा. चलो
हम इस पहले पयार को यािगार लमहा बना िे .”
अपने बिन से मेरे बिन को मसलते हुये मेरे गाल, मेरे

कान और मेरी गिटन को चूमता रहा. अपने गरमा-गरम
चुमबनो की छाप मेरे चेहरे , मेरी गरिन पर छोडता
रहा.
िे व ने मुझे अपनी बाँहो से आजाि नही कीया और ना
ही मेरे सुलगते होठो को छोड़ा. उसने अपने अिलनागन
मे मुझे कस कर जकड लीया और मेरे सुखट गुलाबी होठो
को चूमने लगा. िे व मेरे होठो का सारा रस पी ले. िे व
ने जाघो के बीच मे मेरी जांघो को लेकर मुझे िबसतर
पर कस कर िबोच िलया और मेरे बिन पर छा गया.

मुझे ऐसी िीवानगी ही पसंि है .

88

”अब बोलती कयो नही.....”
“िे व मुझे जी भर पयार करो...जेसे चाहे पयार करं
मे तुमहारी हू...”ओर मे बेहताशा उसे चूमने लगी.
उसके मूह से चाकेलेटी खुशबू ....चाकलेटी

िमठास....ओर उसने चाकलेट मेरे मूह मे पास कर
िी...उसका चाकलेट िखलाने का अंिाज िनराला है .
उसमे मसती ...पयार ....मेरा बिन मीठी गुिगुिी से
भर उठा.
“हां िे व हां मै जनमो-जनमो की पयासी हू मेरी मसती
की पयास बुझाओ िे व...तुमने मुझे पागल बना

ििया...तुमहारी बाते मुझे ििवाना बना रही है िे व.”
”ओह िे व .....मुझे पयार करो...मेरे जलते बिन की
आग बुझाओ िे व ...मुझे पागल होने से बचा लो
िे व....िे व इन शेतानो बूबस को िे खो मुझे मसती की
आग मे जला रहे है .....इनहे मसलो ...इनहे चूसो
िे व....ओह िे व.....मुझे पयार करो िे व .......”
वो मेरे सारे बिन पर चूमता रहा. पूरा बिन मीठे ििट से
भर गया.... अब मै भी उसके चुमबनो का जवाब अपने

गमात
ट े चुमबनो से िे ने लगी. उसके कान और उसकी

89

गिटन बेताहासा चूमने लगी. उसे चूमते हुये मेरा ििल

धड़कने लगा उसने मुझे पूरा नशीला बना ििया....मेरी
सांसे गहरी होने लगी.... लगा जेसे 100 मीटर की
रे स िोड रही हू. पूरे बिन मे आनंि की लहरे ....बस िे व
एसे ही चूमता

रहे चूसता रहे .

उसके होठ बूबस पर आते ही मे मसती मे मचलने
लगी...उसने बलाउज के उपर से जीभ को मेरे
िनपपलस के चारो ओर घुमाया ओर िनपपलस को
जीभ से सहलाने लगा...उसकी हरकत मेरे अिं र
अनंत मसती भरती चली गई...मे बूबस को उपर
उठाते हुये उसे उकसाने लगी.
वो अपने होठ का चुबंन पेट पर

बरसाने

लगा....ओह िे व....
जीभ जब नाभी मे घुसी तो मे मसती मे तन गई
“....ओह िे व मजा आ रहा है ”
उसके होठो ने एक बार िफर जब जाघो पर गीला
चुबंन ििया तो मे मसती मे अकड गई.
ओह िे व ...

उसने मेरे सूखे होठो को चूमते हुये कहा.....मुझे

90

पयार करने िो......अब ओर ना तरसो....अब मै हू
ना!

मेरी हालत िवरोध करने की नही है . मेरा हसीन
सेकसी नंगा बिन मेरी सारी पोल खोलने लगा.खुले
बलाउज मे उपर नीचे होते बूबस....जाघो पर उपर
तक उठ चुकी साडी से झांकती मेरी िचकनी मसत
जाघे.... मुझे िे खकर कोइ अंधा भी समझ जाता
िक मुझे िे व जेसे मिट की जररत है .
मुझे उसने अपनी बाँहो मे भर लीया. मै िवरोध करने
की परीिसथती मे नही हू. मेरे पूरे बिन मे वासना की

लहरे उठने लगी. मेरी साँसे गरम . मेरे तने हुए बूबस
गहरे साँसो के साथ उठते- िगरते उपपर-नीचे होकर
अपनी कहानी खुि बता रहे है .
शटट ओर जींस के उतरते ही

िे व माइिो पेटी मे

मसत ििखाई िे ने लगा...चोडा बालो भरा
सीना....उसकी फूली हुई पेटी पर मेरा हाथ जाते ही
उसने मुझे रोक िलया....
अभी नहीं.....

ओह िे व....

91

एसे कया िे ख रहे हो....
लीना सोच रहा हू तुझे कहां से चूसना शुर

कर....ओह िे व पहले इन शेतानो को सभांलो...मेने
बूबस को उपर उठाते हुये कहा.....इसमे हो रहे मीठे
ििट से परे शान हू.....

हां अब सही जगह तूने ििट बताया...
घर मे िे व ओर मे ...िनशा कल सुबह आने वाली
है ...पूरा ििन पूरी रात बाकी है . िे व जैसा रं गीला
रसीला नोजवान पास मे है ....
िे व भी एसे ही पागल नही हो रहा था. िमरर मै अपने
को िे खकर मै समझ गइ. मेरी जवानी िे खकर कोन
पागल नही होगा. ..
"लव मी िे व...लव मी...मै बोलती चली गई.....मुझे
ओर ना तरसाओ मै तुमहारे पयार मे िपघलना चाहती
हू".

.ओह िे व आओ मुझे रगडो....मुझे मसलो....गमट

92

सलाख जेसे लंड से मेरी चूत को फाड िो....आओ िे व
आओ...मै बेचेन थी....पूरे बिन मे मसती छा गई.
"ओहहहहहहहछ
आआआह"
..उसके गमट कडक लंड का एहसास मुझे बेचेन करने
लगा. उसके लंड का गरम एहसास. उसके गीले होठ
का गमट चुबंन....हाथ बूबस पर ... इनहे मसलो िे व
इनहे चूसो....ओह िे व आओ िे व मेरी जवानी मसती
की आग मे जल रही है उसे बुझाओ िे व..... आओ मुझे
सहलाओ...मुझे पयार करो....इनहे मसलो
िे व....िे व......ओह िे व!
ओर मे मसती मे पलटी ओर उसके माइिो के उपर से
उसके लंड को चूमने लगी... िांत गाडने मे िे व के
साथ मुझे भी मजा आने लगा. मेरी हरकत ने उसे
पागल बना ििया ....पागल तो मै भी हो रही हू.

बूबस को सहलाते हुये उसने बलाउज के सारे बटन
खोल ििये

मै भी अब पेटी ओर बा मे रह गई..... बा मे से

झाकते बूबस और जाघो के बीच कसी पेटी मे चूत

93

मे होती गुिगुिी बता रही है की मै गमट हो गई हू.
अब मुझे िे व चािहए....

गमट होकर तन गये िनपपलस. बा मे से पूरे गोलाइ
के साथ नजर आते बूबस....
मेने सामने िमरर मे िे खा पेटी के अिं र चूत... पर
ओस की बूिो सा चूत रस उसे साफ ििखाइ िे रहा
है ...
....मेरी सांसे गहरी होने लगी ....मेरी चूत मे गुिगुिी
की लहर उठने लगी उसकी हथेली पुससी िलपस को
सहलाने लगी....उगली पेटी को एक तरफ करते हुये
चूत मै घुस िी....मसत ओर बढने लगी. चूत रस मे

भीगी हुई उगिलयो को चूसने लगा. िनपपलस पर चूत रस
मलने लगा....मेरे बूबस मसती से भरते चले गये.....मै

अब िस
ू री ििुनया हू...वो मेरे बूबस को चूस रहा है .... .
चूत पर अंगुली से रगड़ कर गीली करने लगा. मेरी

नजर सामने िमरर पर है . अपनी नंगी जवानी सीसे मे
िे खकर मे पागल हो रही हू.
मेरे गोल मुलायम गमट बूबस हाडट ....तने हुए

िनपपलस...िे व के होठो मे िनपपलस ....उनहे

94

चूसता िे व....आग ओर भडक उठी.... िे व मेरे उपर है
ओह िे व तुम इनहे चूसो........ तुमहारे लंड को तरस
रही हूं

..आओ िे व आओ
.....ओह िे व...मेरे सवीट िे व
मुझे चोिो अपने गमट कडक लंड से मुझे चोिो!!
. ओहहहहहहहछ
मेरी िससकािरयो की आवाज तेज होने लगी.
ऊऊऊऊऊफफफफफफफफफफफफफफफफफूऊऊऊऊऊऊऊ
ऊऊ आआआआआआहहहहहहाआआआअ
िे व के होठ मेरी पुससी िलपस के पास आते ही .... मै
मचल उठी...
लीना िचकनी चूत मुझे पागल बना िे ती है ....उसने
पेटी से झांकत मेरी िचकनी गमट मुलायम पुससी िलपस
को चूमते हुए कहा....

योर पुससी सो सवीट...
मेने माइिो से लंड िनकालने की कोिशश की...मै उसे
िे खने को ...उसे पयार करने को बेताब होने लगी.
िे व ने मुझे एसा करने से रोक ििया....

"डोट बी हरी...सवीट........."

95

मे मन मसोस कर रह गई...िे व ने लंड बाहर नही
िनकालने ििया...मै सुलग उठी. सुलगने तो वो भी लगा.
मुझसे रहा नही जा रहा .
तभी वो खड़ा हो गया और मुझे अपनी बाँहो मे उठा
िलया
बहुत गमट हो रही हो चलो कुछ ठंडा हो जाये ....और
मुझे गोि मे उठाकर बाथरम की ओर ले चला.

बाथरम मे पहुँचते ही उसने शावर चालू िकया. मै और
िे व आपस मे िचपके हुये शोवेर के नीचे भीगने लगे
शावर का ठं डा पानी पनी पडते ही हम ििनो िसहर

उठे .... उसने मुझे अपने से लपेट िलया....थोडी ही िे र
मे शावर से गमट पानी आने लगा.
हे भगवान उसे केसे पता मुझे शावर की चुिाई पसंि है .
गमट पानी पड़ते ही ठनड जाती रही. ओर मे अब मसती
मे कांपने लगे. बा मे से अब मेरे झांकते बूबस. पानी
पडते ही नाइलोन बा ना के बराबर हो गई...मेरे उरोज
की गोलाई और िनपपल का कलर साफ ििखाई पड़ने
लगे. मेरी पूरी मसती का िीिार उसकी आंखे करने

लगी. िे व ने अपने मुहं को मेरी गिट न से नीचे लेते

96

हुये मेरे िोनो उरोजो के बीच की घाटी मे अपनी जीभ

डालने लगा. िनपपलस को चूसते हुये उसके िांत मेरे
बा का हुक को खोलने लगे. उसकी हरकत मेरे बूबस
मे गुिगुिी करने लगी.

उसके हाथ मेरे िनतमबो का जायजा लेने लगे. बूबस पर
पानी की पडती बूिो को वह िे खने लगा..... "िे व इनहे
िे खो भी ओर पयार भी करो....िे खो ये बाहर िनकलने
को बेताब है ...इनहे आजाि करो िे व"
िे व ने अपने हाथ आगे बढाते हुये मेरे िोनो गोलईयो को
थाम िलया....उनहे मसलते हुये अपनी अंगुिलयो से
िनपपलस िबाने लगा. मै िसहर उठी. उतेजना के मेरे
मुहं से िससकिरयाँ िनकलने लगी.
मैने उसकी कमर को कस कर जकड िलया और उसकी
जाँघो के बीच अपनी जानघे घुसाने लगी. इधर िे व ने
मेरे बा के उपर से ही मेरे िोनो उरोजो को बारी-बारी से
अपने गाल से रगड़ने लगा. गीले नाइलोन का नमट गीला
सपशट ओर उसके गाल की रगड. मै मसती मै झूम उठी.
"अब मुझसे रहा नही जा रहा ."

मैने िससकारी भरते हुये कहा,

97

` "िे व ्. नीकाल फेको मेरी बा को

िोनो कैि कबुतारो को आजाि कर िो.

इनको अपने मुहं मे लेकर चाटो... िे व.."
मेरी बात को सुनकर िे व ने अपने हाथ से मुझे िीवाल
की और धकेल िीया और मुझे पलट िीया.
मेरी पीठ िे व की तरफ थी. पेटी के उपर से मेरी
िनतमब को मसलते हुए मेरे गले मे अपने िांत गडा

ििए....िे व का लंड मेरे िनतमब पर गड कर मेरे अंिर
मसती की हलचल मचाने लगा
“थोडा सा ओर आगे झुको”
मने िनतमबो को पीछे धकलते हुए उसके लंड को बीच

की िरार मे िलया...िनतंबो को उपर नीचे करके उसके
लंड को माइिो के उपर से सहलाने लगी....
मेरी हरकत उसे बचेन कर गई. ओर मेरे अिं र मसती
की आग भरने लगी....हम िोनो लमबी-लमबी सांसे
लेने लगे. उसने गहरी सांस मेरी गिट न पर छोडते हुए

मेरे बूबस को कस कर मसला.... उसने होठ मेरी पीठ
पर बढा ििये...

िे व जीभ से मेरी पूरी रीढ को चाटने लगा. उसकी

98

उगिलया पेटी के साथ िनतमब की िरार मे घुस कर
मेरी मसती का जायजा लेने लगी. मै कांप रही थी. इस
बार पानी के ठं डे पन से नही बलकी उसकी हरकतो के
कारण.
मैने िससकारी लेते हुये अपना चेहरा उपर उठाया और
शोवेर के पानी को अपने चेहरे पर पड़ने िीया.

मुझे लगा िनतमबो की िरार मे िे व की जीभ थी. मेने
आखे खोली....सामने िमरर मे िे खा वो सच मुच मेरी
िरार मे अपनी जीभ घुसाए हुए था....मे मसती मे झूम

उठी,,,मेने िोनो हाथो से िनतमबो को चोडा िकया,,िजससे
वो अिं र तक अपनी जीभ ले जा सके....ओर वो बारी-बारी मेरे िनतमबो पर वो िांत गडाने लगा....ििट ओर
मसती का एहसास......मे मजा लेने लगी ...उसे भी मजा
आने लगा.....वो िे र तक मेरे नोतमबो से खेलता रहा ओर
मे मसत होती रही
िे व ने मेरे बूबस को पीछे से थाम िलया ओर ..अपने िांत
से मेरी बा हुक खोल ििया और मुझे पलट कर अपनी
बाँहो मे जकड लीया. मेने बांहे उपर की, उसने बा को
िनकालकर अलग कर ििया.

99
अब मेरे िोनो कबूतर आजाि होकर िे व के सीने से सट
गए.
मै सेकस के िहलोरे लेते हुये अपने िोनो उरोज को उसके
सखत सीने से रगड़ने लगी.

ऐसा करते िे ख िे व ने मेरे होठो को फीर अपने होठो की
िगराफत मे ले लीया और लगा मेरे मािक होठो का रस
पीने.
“तेरे जैसी गमट लडकी मेने नही िे खी. तू उपर से
नीचे तक मसत है ”
मुझसे रहा नही जा रहा था. मैने िे व के िोनो हाथो को
पकडा और अपने िोनो उरोज उसकी हथेली की िगराफत
मे िे िीये.
"िे व.. अब रहा नही जा रहा है . पकड़ के रगड़ िो इन
शैतानो को.”
“मुझे अपनी बाँहो मे लेकर मेरे िोनो उरोज को मसल
िो.
इनहे अपने मुहं मे लेकर चूसो "

िे व ने अब अपने िोनो हाथो से मेरे भरे हुये सखत

100

उरोजो को जकड लीया और उनहे मसलने लगा.
मसलने के साथ ही मेरी िससकिरयाँ बढ गयी.

यस िे व ....य...स....ि...ए....व...ओ....ह.....
मै झूम उठी. मै पानी से भीगते हुये िे व की हरकतो का

मजा लेने लगी. िे व मेरे िोनो कबुतारो को मसलते
हुये चूसने लगा. मेरे िोनो िनपपलेस उसके मुहं मे

बारी- बारी से जाने लगे. साथ ही मै उसके िसर को
पकड़ कर सीने पर जयािा से जयािा िबाने मे लगी गई.
िे व ने अपने मुहं को और नीचे कीया और मेरी नाभी का
चाटने लगा.
यह सब मेरे बिाशटत से बाहर हो रहा था. मै आंखे बंि
शोवेर के गमट पानी से भीगती हूई जोर-जोर से साँसे
लेने लगी. िे व ने एक झटके मे मेरी पेटी नीचे

िखसका िी...अपनी एक हथेली मेरी चूत पर रख िी
और... और...
और.. मेरी चूत को रगड़ने लगा.
है ईई... मेरी तो जान ही अटक गयी.
उसने मुझे टांगे फलाने का इशारा िकया....उसकी आंखे
चूत पर टीक गई.

“कया िे ख रहे हो....”

101

“भीगती ... चूत....उसमे से झलकती तुमहारी गोलाबी
िलपस को ....”
” ओह िे व....िकस मी िे यर....मेने उसके िसर को
जाघो के बीच लेते हुए कहा ....वो िे र तक मेरी पुससी
िलपस को चूमता रहा ....वो पयार भरी गुिगुिी बस

एसे ही...वो चूसता रहे चाटता रहे ....िे व ओह िे व..”
मै एकिम नंगी उसके सामने भीगती हूई खडी हू. िे व

अब थोड़ी िरू होकर मुझे िनहारने लगा. मेरे जीसम की
शराब को अपनी आँखो से पीने लगा.

ऐसा ही हाल उसके लंड का है जो माइिो के अंिर झूम
रहा होगा.
मेरे बिन की शराब का नशा मै उसके लंड पर िे ख रही
हू जोकी माइिो के बीच अटका हुआ है . उसका लंड मेरे
हुसन का िीिार करने को उतावला है . यह कमीना

माइिो इतना टाइट होकर उसके आड़े आ रहा है . मन
कर रहा है िक फाडकर उसे बाहर िनकाल लू!
अब मुझसे रहा नही जा रहा था. ििल तड़फ रहा है
लाइट के उजाले मे उसे भरपूर िे खने के लीये. मै जैसे

ही नीचे झुक कर उसे आजाि करने के लीये झुकी

102

िे व ने मुझे रोक िीया और मेरे होठो का चुमबन लेते
हुआ बोला,

"रको हुसन की िे वी. जरा अपने सेकसी जीसम का

िीिार तो करने िो."

और इसके साथ ही उसने मुझे बाथरम की िीवार से
सटा कर खड़ा कर िीया और मुझे उपपर से नीचे िे खते
हुये बोला,

"उफ कयया जवानी है
उफ यह हसीं चेहरा, गहरी आंख,े भीगे होठ, िचकने

गाल तुमहारे , तराशी हूई लंबी गिट न, गोल भरे
हुये....बूबस, िचकना सपाट पेट...गहरी

नाभी....िचकनी जांघो के बीच...गुलाब की कली सी
िखली मिभरी चूत.....पूरी हुसन की िे वी लग रही हो.
अब मेरा कया कसूर

जो तुमहे िे ख कर मै आपे से बहार आ गया .
मै अपनी पशंसा सुनकर फुला ना समां रही थी. मेरे
बोयफेड ने भी ऐसी तारीफ नही की जैसी िे व कर रहा
है . मै शोवर के पानी से भीगते हुये आंखे बंि कीये िे व
को सुनने लगी.

िे व मेरे उरोजो पर अपने हाथ फेरते हुये कहने

103

लगा,

"इन भीगते उरोजो को िे ख कौन पागल ना होगा.”
यह बरसता पानी तुमहारे उरोजो पर पड़ कर मेरे होठो
पर गीर रहा है मनो अमत
ृ की बूंिे छलक रही है . टप
टप िगरती हूई बूंिे

तुमहारी िनपपलेस से मुझे मिहोश बाना रही है . उफ
कयामत ढहा रहे है तुमहारे कड़क गोरे -गोरे उरोज. और
यह जलीम तुमहारी पतली कमर.
इनको जैसे अपनी बाँहो मे लपेटे हुये ही पड़ा रहूँ तुमहारे

साथ. हाथ लगता हूँ तो लगता है जैसे टू ट ना जाये.

इतने भारी उरोजो को संभाले हुये कैसे तुमहारी नाजुक
कमर खडी है .
उफफफ..."
िचकने टागो के बीच ये िखले फूल सी गुलाबी
चूत.....गुलाब के पखुंिडया....इनसे टपकता चूत
रस...ओह लीना तुमहे पयार करने का मजा ही कुछ ओर
है .....
मै उसकी बातो का आनंि लेती रही...वो गलत नही
बोल रहा था...मै सुिंर ओर सेकसी हू....ओर अब िे व

के लंड की पयासी....जाने कब उसके िशन

104

कराएगा...मै कब उसे पयारी पपपी िग
ु ी....
धीरे से मेरी कमर को अपनी बाँहो मे लेकर मेरे उरोजो
को चूम लीया और मेरे िनपपलेस को अपने िांतो से
रगड़ता रहा.
मेरी िससकारी जोर से नीकल गयी.
अब वो नीचे बैठ गया...
िे व ने अपने चेहरे को मेरी चूत के सामने लाकर मेरी
िचकनी चूत को सहलाने लगा. उफफफ.. मै तड़फ उठी.
मैने अपनी जांघो को भींच लीया. अपनी चूत को अपनी
िोनो जनघो के बीच छुपा लीया. यह मैने कोई शरम के
मारे नही बलकी चूत मे उफान लेती हूई मसती को िबाने
के लीये कीया. लेकीन िे व ने अपना हाथ मेरी जनघो के
बीच फंसा िीया. उसने मेरी िोनो जांघो को अलग करते
हुये मेरे चूत को सहलाते हुये बोला

, "मेरी जान इस जलीम जवानी को ना छुपाओ.”
हमे इसका लुतफ लेने िो.
अपनी चूत की िोनो पंखुिड़यो को खोलो. इसका गुलाबी
पन िे खने िो.

इसका जूस िनकलते हुये िे खने िो.

105

मेरे होठ बेकाबू हो रहे है इसे चूमने के लीये."

यह कहकर उसने अपना िसर मेरी िोनो जनघो के बीच
डाल िीया. मै कांप उठी. उसके होठ मेरी चूत के िलपस
से जा िचपके. मेरी चूत का रस िनकलता गया और िे व
उससे पीकर मसती से झूमने लगा. मै जोर-जोर से साँसे
लेते हुये अपनी मसती का चूतरस उसके मुहं मे डालने

लगी. उसकी हरकत से मे िथरकने लगी. मै बाथरम की
िीवार से सटी हूई अपनी िोनो टांगो को खोलती गई.

अब मुझसे रहा नही जा रहा लेकीन िे व भी मुझे छोड़
नही रहा . उसका उतावलापन मुझे बेकाबू करने लगा.
"िे व, अब मुझसे रहा नही जा रहा है .
"पलीज अब मेरी चूत को चूसना छोडो. अब मुझे अपनी
बाँहो मे लेकर मुझे मसल िो. मेरे बिन को रगड़-रगड़
कर चोिो."
“मुझे अपने लंड के िशन
ट कराओ...मे उसे पयार
करने के िलये बेचेन हू, मुझे ओर ना तरसाओ”
"पर एक शतट माननी पडे गी ....उसने शरारत से
कहा....मेरा लंड िे खकर बेहोश नही होगी."

"उसे िे खते ही एक पयारा सा िकस उसके हे ड पर

106

करोगी. ओर तब तक चूसोगी....पयार करोगी जब तक िक
वो मान ना जाए....बोलो मंजूर है ..... ओर हां... उसे
तरसाने के िलये सारी बोलोगी....,.”
हां िे व हां तुमहारी सारी बाते मंजूर है . तुमहारी सारी शते
मंजूर है . "
"तो िफर खडी कयो हो झुको ओर उसके िीिार करो उसे
सलाम करो मेरी जान... "
िे व ने मेरी फिरयाि सुन ली. वो मेरे सामने खड़ा हो
गया. मै मसती मे झूमती हुई नीचे झुकी ओर िे र ना

करते हुये उसके माइिो को झट से नीचे की और खींच
िीया.

"...हे भगवान...इतना मोटा... उफफफ.. इतना लमबा...
यह उसका लंड! िे खकर मे मसती से पागल हो गई."
मेरे िीमाग पर भुचाल आ गया.
कल ही तो मै ओर िनशा मोटे लमबे लंड के सपने िे ख रही
थी. अब आज वो मेरे सामने है ....!
लीना यही तो तेरा सेकसी डीम है ...मेरे ििल ने कहा...ओर
मैने झट से िे व के लंड को मेने िोनो हाथो से थाम

िलया ...

107

"िे व मै तुमहारे लंड ििवानी हो गई...ये तो मेरा डीम
लंड है ...ओह िे व अब मे समझी िनशा कयो तुमहारे
िलये बेचेन थी. मेने आगे बढकर िे व के लंड थाम
िलया. िे व मे इसको चुमना चाहती हू....उसे चूसना
चाहती हू....", मै नीचे झुक गई.

मेरे लंड के साथ खेलो....उसने उसे मेरे हाथ मे िे ते हुए
बोला.

मेने नीचे झुककर िोनो हाथो से उसके लंड को थाम
िलया. लगा जेसे हातो मे तलवार पकडी हू.

लंड को िोनो हाथो मे थामा....ओह िकतना बडा...
मोटा है ...आज मेरी चूत की शामत है भगवान जाने
मेरी चूत का आज कया होगा....मै कसे इसे अिं र
लूगी....पर उस पर मुझे पयार भी आ रहा था...लंड का
ठोस गमट एहसास मेरे अिं र मसती भरने लगा. मेने
उसके हे ड के िसकन को पीछे लेकर उसके गुलाबी हे ड
को चूमा. िे खा उस पर पेम रस की बूंिे ििखाई िे रही है
मेने उसका सवाि िलया. सवाि मसती भरा था. सवाि
लेकर मे मसत होकर उसे चूमने लगी. उस पर एक
गहरा चुबंन ििया. मेरी जीभ पूरे शाफट पर उपर से नीचे

जाने लगी.

108

मेने उसके माइिो को नीचे उतार ििया...मेरी होठ
मेरी जीभ उसका पूरा मजा लेने लगे....लंड पर
पङती शावर की बूंिे...मै िे र तक उसे चूसती रही
सहलाती रही...िे व आंखे बंि िकये तो कभी मुझे
मसती मे चूसता िे खकर मसत होता रहा. मै उसके
लंड के साथ-साथ उसके बालस को भी सहलाती
रही...मेरी मसती खतम होने का नाम ही नही ले
रही. मेरी इस हरकत का िे व भी मजा लेता रहा.
मेरे िनतमबो पर िगरता गमट पानी...ओर उस पर िे व
के हाथो की पकड.
अबकी बार मेने आगे झुककर..मेने लंड को पयार से
काटा ....िे व मुझे िे खकर मुसकराया.
मेरे गुलाबी होठ उस पर िटक गए. मै बेहताशा उसे
चूमने लगी....चाटने लगी....िे व की िसससकारीया बता
रही थी...िक उसे मेरी इस हरकत का मजा आ रहा था.
मेरी जीभ उपर से नीचे तक उसके लंड पर चलने
लगी....मुझे मजा आ रहा था. मेरा मोटे लमबे लंड से
चुिाई का सपना पूरा होने वाला था. इतना मोटा
...इतना लमबा लंड.....ओह िे व

...उसके जूस का मसत सवाि ने मुझे मसती की

109

आग से भर ििया मै िे र तक उसे चूसती रही. िे व ने
मुझे उठाया.... ” -अब तुम चुिने के िलए तैयार
हो...!” उसने मुझे पास खींच िलया.
चूत के नजिीक िे व का लंड....िे व का गरमा-गरम लंड
मेरी चूत के सामने आते ही मेरी सांसे उपर नीचे होने
लगा.
लीना कभी लंड चूत मे िलया है . मेरा मतलब इस तरह
के लंड से है . मेरे ना कहने पर उसने अपने लंड को
पकडा और पास पडी साबुन का ििखाकर बोला.
"जरा इस पर लगाओ तो तुमहे ििट नही होगा."
मेने साबुन उसके लंड पर उपर से नीचे तक लगाया. िे व
को अपने लंड की साइज का खयाल था. वो भी जानता
था की कोई लडकी पहली बार मे उसके लंड को सहन
नही कर सकती.
मै उसके सामने खडी हो गई ....मेने अपनी टांगे
चोडी करली...िे व ने मेरे िनतमबो को हाथो मे लेकर
उपर उठा िलया ओर खडे लंड को ठीक मेरी चूत के
सामने ले आया....लंड का हे ड मेरी चूत टच करने

लगा.

110

चुिाइ के िलये तैयार हो ना जान....उसने लंड को मेरी
चूत सेओर सटाते हुये कहा...उसकी हरकत से मेरी
मसती मे हालत खराब होने लगी...उसने मुझे

लगभग हवा मे उठा रखा था. मेरे शरीर का वजन
उसने अपने लड डाला....ओर उसने हलका सा धकका
लगाया...
साबुन लगाने से चीकना हुआ लंड मेरी चूत के अंिर
घुसने की जगह बनाने लगा.

उसका सुपाडा मेरी चूत मे धँसने लगा. मेरी चूत
इलासटीक की तरह फेलेने लगी.... िे व रका नही. उसने
अपने लंड का चूत मे घूसाना जारी रखा. मै मसती भरे
ििट से कसमसाने लगी. पर वो रका नही. मेरी चूत के
अंिर आधा लंड घुसाने मे कामयाब हो गया. मै अपने
होठ को भींचते हुये ििट को सहन करने की कोिशश कर
रही थी.

लेकीन ििट अब बढने लगा. मैने अपने हाथ से उसके
सीने पर धकके मारते हुये कहा, "िनकालो िे व, सहन
नही हो रहा है ."

िे व ने कहा, "हाँ नीकलता हूँ."

111

ऐसा कहकर उसने लंड थोडा सा बहार िनकाला.
लेकीन वो पुरा कमीना िनकला. थोडा सा बहार िनकाला
और फीर एक करारा धकका िीया.
मेरी तो साँसे ही अटक गयी. जबान से कुछ भी नही
नीकल रहा . नीकल रहे है तो मेरे आंसू. लंड मेरी चूत
भीतर तक घुस गया. उसे मालूम था ऐसा होना है .
उसने झट से मेरे होठ को अपने होठ की िगराफत मे ले
लीया और मुझे अपने से सटाकर अपने हाथो से मेरे
उरोज को मसलने लगा.
मै छटपटा रही थी. लेकीन बोल नही पा रही थी. मेरे
नाखुन उसके सीने मे गडने लगे. वो भी ििट से छटपटा
गया. मैने अपने बिन से उसके बिन को धकेलने की
कोिशश की लेकीन उसके सामने मेरा बस नही चला.
उसके धकके रके हुये थे. मेरा चुमबन लेते हुये मेरे
उरोजो को मसलता रहा.

उसने धीरे -धीरे धकके लगाने शुर कीये. मै अब भी
छटपटा रही थी. मेरे होठो को अपने होठो से जकडे हुये
मुझे कुछ भी बोलने िे नही रहा था. लेकीन धीरे -धीरे

ििट कम होने लगा. मुझे अपनी पहली सेकस धयान

112

आ गयी. उस ििन भी इससे कुछ जयािा ही ििट हुआ था
लेकीन बाि मे उस ििन मुझे काफी मजा आया था. जब
आप मसती मे हो तो ििट जलि ही काफूर हो जाता है .
यही हुआ मेरा ििट कम होता गया. मेरे हाथ जो िे व को
धकेलने की कोिशश कर रहे थे अब उससे अपने मे

समेटने की कोिशश करने लगे. यह िे खकर िे व ने अपने
होठ मेरे होठो से हटा लीया.
जैसे ही मेरे होठ मुक हुये...मै जोर-जोर की साँसे लेने

लगी.

फीर सँभालते हुये बोली, "तुमने तो मुझे मार ही िीया
था."

िे व अब अपनी सपीड बढाते हुये बोला, "लेकीन अब
मजे ले रही हो.
है ना."
और िे व सच है . मै मसती से पागल हो रही हू. उसने
मुझे हवा मे उठा रखा था. मै िससकारी लेते हुये बोली,
"हाँ. अब धीरे धीरे कयो. अब तो जोर- जोर के धकके

मारो."

113

िे व ने यह सुनते ही मुझे ििवार से सटा कर अपनी
सपीड बढा िी और मै िनािन-िनािन आते हुये धकको
का सवागत अपनी जनघो को खोलते हुये करने लगी.
कुछ ही िे र मे मेरे सब की सीमा टू ट गयी और चीख
मारते हुये िे व से िलपट गयी ओर होठ मेरे होठो से
लगा ििए.

उसका कड़क लंड मेरी चूत की िीवारो पर अब भी चोट
लगाए जा रहा था. वो रके नही रक रहा था. मै फीर
से छूटने लगी.
अबकी बार मेरी िससकिरयाँ जयािा जोर से नीकल रही
थी, "उफफफ..... कया चुिाई है ..कया चोि रहे हो तुम.
मेरी चूत िो बार छूट चुकी है . तुमहारे लंड मेरी चूत को
रौि कर रख िीया. अब बस करो.
अभी कहां...ओर उसने मुझे पलट कर ििवार से
िटका ििया...ओर िनतमबो को अपनी ओर खीचा..
”ये कया कर रहे हो िे व”
बस िमरर मे िे खती रहो..ओर हां अपने िोनो हाथो
से अपने िनतमबो को जरा फेलाओ...मेने वेसा ही

िकया...मेमसतीसे जो पागल थी...मे थककर चूर

114

हो रही ठीक पर मसती कम होने का नाम ही नही
ले रई थी....
लीना मेरी जान िनतमबूं को ओर चोडा करो...ओर
थोडा ओर झुको...अब मेरे समझ मे आने लगा...िक
िे व कया करने वाला....मे इस सटाइल मे चुिने के
िलये तैयार हो गई. मेने

िे खा िे व लंड को मेरी

िरार मे उपर से नीचे करने लगा. हे -भगवान...मजा
आ रहा है ...वो जब भी मेरी गांड के छे ि पर लाता
..अजीब सा मसती का नशा मुझ पर छाने
लगता....वो िे र तक मेरे िरार मे उपर से नीचे तक
लंड को करता हुआ मुझे टीज करता रहा....ओर

िफर अचानक ही जेसे मेरी सांस रक गई. उसने एक
झटके मे ही आधे सा जयािा लंड मेरी चूत मे पीछे
से घुसेड ििया. ओर िफर उसने मेरी कमर को
पकडकर जो धकके मारना शुर कर ििये तो मे मसती
मे डू बती चली गई....हर धकके के जबाब मे मसती
से भरकर िचललाने लगी. ऊऊऊऊऊऊओहहहहह िे व
मममममममजजजजजजाआआआआआआआआआआआअ
राहहाआआआआआआआराआअ ही िे व..ओर जोर से

धका लगाओ...

115

िे व मसती मे मेरे उपर झुकता चला गया.
"ओहहहह लीना मै छूटने वाला हूं। मेरा लनड
िपचकारी चलाने के िलये तैययार है ।"

िे व ने अपने धकको को बंि कीया और अपने ताने हुये
मोटे लंबे लंड को बहार नीकाला. लगा जेसे मयान मे से

तलवार िनकल रही है . उसका लंड तो अब जयािा ही बड़ा
लग रहा था.
मेरे रस से भीगा हुआ लंड मेरी चूत की और ही ताना
हुआ था. मेने नीचे झुकर िे व के लंड को भरपूर पयार

िकया...उसने आज पहली बार चुिाई का असली मजा जो
ििया . मै चूत रस को चाटने लगी.... मेरी चूत रस का
सवाि िनराला था.
िे व का लंड जबरिसत कडा हो गया लगा अब वो
छूटने वाला है ...मेरा गला भी सूखने लगा....ओर िे व
जोर से चीखा तेज फुववारा मेरे मुह
ं मे छूट
गया...और मे पूरा रस पीने की कोिशश करने लगी.

मै उसके रस से सरोबार हो गई. मै उसका पूरा

116

रस पी कर अपनी पयस बुझाने लगी.
थोडे िे र मे मेने उसे डाई कर ििया.
मै िे व की बाँहो मे समां गयी. िे व ओर मे लमबी-लमबी
सांसे भरने लगे...िे व ने आगे बढकर शावर को बंि
कर ििया.
मुझे अपनी बाँहो मे उठा लीया और भीगे बिन बेडरम
के िबसतर की और ले चला.
उसने मुझे िबसतर पर िलटा िीया और मेरी बगल मे
लेट गया. मै अपनी उखड़ी हूई साँसो को िनयंतण मे

लेने की कोिशश करने लगी. िे व मेरे गीले बिन को
चूमता रहा....चाटता रहा...मेरे बिन का पानी तो सूख
गया. पर मै उसके पयार से अिं र तक गीली हो गई. िे व
का पयार पाकर मे धनय हो गई. पहली बार मुझे उसने
ओरत होने का एहसास ििलाया. उसके पयार की िे वानगी
को िे खकर मे िनहाल हो गई. िजस तरह उसने पयार के
बाि मेरे िजसम पर चुबंन की बोछार की वो बता रही है
िक वो मुझे िकस तरह चाहता है .
ओह िे व तुम िकतने अचछे हो. मेने आगे बढकर उसे

अपनी बांहो मे िलया ओर उसके गालो को चूमते हुए

117

बोली...बस िे व बस मुझसे इतना पयार नही करो नही तो
मै .......
िे व बेड रे सट के साथ िटक गया. मै उसके सीने पर सर
रखकर िटक गई. वो बालो पर हाथ फेरने लगा.
मै उसकी आंखो मै झांकर बोली..."िे व तुम तो िनशा के
पास आए हो...ओर अब तुम मेरे बाहो मे हो तुमहे केसा
लगता है ...कया तुमहे नही लगता िक तुम िनशा के साथ
गलत कर रहे हो"
“लीना, िनशा हमारी िोसत है . हमने िोसती करने से पहले
एसे कोई शतट नही रखी. ििल को लगा हमे िोसत बनना है
तो िोसत बन गए, उसने िोसत की तरह मुझे बुलाया मै
चला आया. ये अलग बात है िक हमे सेकस पसंि है .
सेकस हमे मसती भरा आनंि िे ता है , सच बात तो यह है
िक सेकस ही हमे पास लाया. हम िोनो िपछले 6 मिहनो
से साइबर कर रहे है . मै उसे इतना जानता हू िजतना वो
खुि को नही समझती होगी इसी तरह वो मुझे इतना

जानती है िक शायि मुझे भी अपने बारे मै ना पता हो. “
“तुमहे एक चीज ििखाउ.....कयोकी अब मै तुमहे उसे
ििखा सकता हू...” उसने मुसकराते हुए कहा ओर उठ कर

िनशा के कमरे मे चला गया...लोटा तो उसके हाथ मे

118

लेटर पेड का पेपर था. उसने वो मुझे पढने के िलए
ििया....वो िनशा का िे व को िलखा गया पत था. मै एक
सांस मे उसे पढ गई. अब सब बाते मुझे सीसे की तरह
साफ हो गई.
ओह तो यह सब नटखट िनशा का िकया धरा है .....िनशा
ओह िनशा....ओर मै मन ही मन मुसकरा िी. अब मेरे
अिं र कोई अपराधबोध नहीं रहा. रजामंिी से िकया गया
पयार गलत केसे हो सकता है .
मुझे याि आया िनशा भी तो मुझे उकसा रही थी. उस
समय लगा शायि मजाक कर रही है . अब पता चला वो
मजाक नही कर रही थी.....एक सचचे िोसत की तरह मेरी
हर खवािहश को वो शायि पूरा करना चाहती है . कया पता
इस तरह उसके अचानक चले जाने के पीछे भी यही
कारण रहा हो.
“मेडम आपका अपराधबोध अगर कुछ कम हो गया हो
तो अब कुछ भोजन करे .”
शाम हो गई...भूख लगी है यार....
“लीना अब तैयार हो जाओ...हमे खाने जाना
है .....मुझे भी कुछ खाना है ....उसके बाि रात भर

तेरी चुिाइ ....उसने शरारत से कहा....”

119

“कुछ भोजन िमले तो तुझे चोिने के िलये एकसटा
ताकत िमले!
””एकसटा ताकत ....आर यू िेजी...!
तुमहारी इसी चुिाइ ने मेरी जान िनकाल िी...
तो ठीक है खाने के बाि हमारा तुमहे नही
चोिे गे..मेने उसे घूरते हुये कहा...पर खाना तो
िखलाओ यार....

“पर एक शतट पर...खाने के बाि तुम मुझे पयार
करोगे...मेने शरारत से कहा”
“हे भगवान तुम लोगो को भगवान ही नही समझ
पाया...कभी मना करती हो तो कभी हां,अरे यार यह
सब छोडो ओर जलिी से तैयार हो जाओ”
“मै तो भोजन कराने के िलये िनकली थी....
ओर यह सब हो गया. मसती मे भूख का पता ही
नहीं चला. “
“वो सब ठीक है . यार”
“अब बाते बनाना छोडो ओर तैयार हो जाओ.

हम खाना खायेगे...मसती करे गे....ओर शािपंग
भी

120

“अब फटाफट तैयार हो जाओ!”
**************
िे व ने रात भारत लीना को चोिा
मेने कमरे मे सेटेड केडल लाइट जला िीं ताजे लाये
हुये गुलाब के फूल उसके चारो ओर सजा ििये. कमरे
की लाइट आफ कर िी. केिडल की रोशनी और

चा6ि की रोशनी मे माहोल रोमांिटक हो गया. आज
मुझे रात भर उसे पयार करना है . एसी पयार जो उसे
और मुझे लमब समय तक याि रहे . मसती से भरी
लीना का मे पूरा आनंि लेना चाहता था. वो भी
मुझसे खुश थी. और इस मसती के िलये पूरी तरह
तैयार थी.
मेने वाइन िगलासो मे डाली और उसका इितंजार
करने लगा.
“िे व मे केसी लग रही हू”

मै उसे िे खता ही रह गया. नया ..परपल रे शमी शाटट
गाउन

उसके िनतमबो को आधा ढक पा रहा था.

गहरे गले मे से झाकते उसके गोल मुलायम बूबस.

केिडल की रोशनी मे िमकता चेहरा. िखडकी से

121

आती चांि की रोशनी... चेहरे पर मसती भरी
मुसकान.
मै उसे इस तरह घूरकर िे खने लगा जेसे पहली बार
उसे िे ख रहा हू.

केटवाक करती हुई वो मेरे पास आने लगी. उसकी

चाल मे मसती है ....उसके चलने से उसके बूबस पर
उठती हलकी सी लहर....िचकनी चमकती चूत ओह
लीना तुम मुझे पागल बना रही हो
िखडकी से आती चांि की रोशनी.

उसके चेहरे पर

पडती चांि की रोशनी ओर केिडल की सुनहरी िकरणे
उसे बेहि खूबसूरत बना रही है . लीना इन केिडलो के
बुझने तक मसती करनी है ....मेने उसे उपर से नीचे
तक उसकी मसती का जायजा लेते हुये कहा ...
नाइस अरे ज मेट...िे व

” िे व तुमहारी यही अिा ...मेरे अिं र मसती को
खतम नेही होने िे रहा...वो बढती ही जा रही है इ
यार...अब मै कया कर”
थोडा घूमो...मेने उसे घुमाते हुये कहा...तेरे गोल

िनतमबो को जी भर कर िे खने िे ...चांि की रोशनी

मे इनहे मे पयार करना चाहता हू...

122

वो घूमी...मेने उसे तेबोल पर झुका ििया...उसके
िनतमब िखडकी से आती चांिनी मे कहा उठे ...मेरे
मेरे गीले होठो का चुबंन पाते ही वो िसहर उठी...मै
ििवानो की तरह उसके िनतमबो के साथ खेलने
लगा...गूल चोडे िनतमब...पतली कमर....मेने उसकी
तंगे चोडी करने का इशारा िकया ओर जीभ को
उसकी िचकनी मुलायम जांघे के बीच ले गया..
िे ...व म...जा...आ.र...हा...है िे अव इसई तरह करते
रहो....आआआअह िे व थोडा ओर अिं र...थोडा ओर
िे व मजा आ रहा है ...
मेने िे खा मसती मे उसकी टं गे कमजोर होने
लगी..... मेने खीच कर उसे अपनी बाहो मे भर कर
उसके माथे को चूम िलया. “इस परपल गाउन मे
सुिंर लग रही हो..मै अपने आप को रोक नही पाया
जान .”.मेने गुलाब का फूल उसके होठो से लगाते
हुये कहा

ििनभर की चुिाइ के वाबजूि...अब िफर से पयार को
तरसती वो मेरे सामने खडी है .
मालुम हे कयो....कयोकी इसमे तुमहारी पूरी मसती को

िे ख पा रहा हूं

123

“...... ओर यह गुलाब हमारी िोसती के िलये. उसके
होठो को चूमते हुए कहा”

मेने टे बल से अगूठी उठाकर उसकी तजन
ट ी उगली मे
उसे पहना ििया.....वो अचरज से मुझे िे खने लगी....
“यह अगूठी िे व...पर कयो!

“िे व यह कया....इसे तुमने कब िलया....इतनी मंहगी
अंगठ
ू ी....”
“लीना तुम मेरे िलये अनमोल हो....यह तुमहे हमारे
पयार की याि ििलाइगी.”
वो मेरे से भाव-िवभोर होकर िलपट गई.
“सच िे व तुमहारे पयार का अिांज गजब का है . तुम
सब से अलग हो िे व...”
”लीना तुम भी तो िकसी से कम नहीं! आया था
िनशा से िमलने ओर अब मे इस समय तुमहारे साथ
हू...हमे िनशा को थेकस कहना चािहये िक उसने हमे
िमलाया”

ओर मुझे मालुम है तुम उसे थेकस केसे िोगे...
उसने शरारत से मुझे िे खते हुये कहा...

124

"कया सोच रहे हो....िे व?"

“यही िक सुबह मै तुमहारे तेवर िे खकर मै तो घबरा
गया....चोिने की बात तो िरू...तुमहे छूने की
िहममत नही हो रही था.
.
ओर वो मुसकरा िी.

मै भी मुसकरा ििया........”अगर तुमहे मोच नही
लगती तो मै तुमहे कभी भी उस हाल मे नही िे ख
पाता....ना ही कभी तुमहे चोिने की िहममत कर
पाता....”
“ओर तुमहे लगता है ..िक मोच अपने आप लग
गई.”.....ओर वो जोर से हं स िी.
उसकी

बात सुनकर मुझे झटका लगा! मेरा मुह

आशचय से खुला रह गया...... “यू नाटी.. तू तो
छुपी रसतम िनकली..”
मे उसके उपर झपटा....”तू तो मुझे पागल कर
िे गी....तुम लडकीयो को तो भगवान भी नही समझ
पाया...!”
“मुझे मालुम है पागल िे व....अब आओ इस

रात

को जवान बनाओ ओर मुझे भी पागल बना िो.

125

मुझे पयार करो िे व
मे उसे बांहो मे लेते हुए बोला....”एक ओर चुिाई के
िलये तैयार हो!”

"तुमहारी चुिाई ने पूरा शरीर तोडकर रख ििया पर
जािलम ििल नही मानता”
मेने उसे वाइन िगलास िे ते हुये कहा .....इसे लो

...ओर असर िे खो ....हम िोनो वाइन का मजा लेने
लगे .....धीरे -धीरे नशा मसती भरने लगा. ....जेसे
-जेसे वाइन अिं र जाती गई बूबस मसती मे अकडने
लगे....मेरे लंड मे मसती की सनसनाहट होने लगी.
लीना ने सटे िमना भी पुरा पाया है . तभी तो ििन भर
चुिने के बाि भी अब िफर रात भर की मसती के
िलये तैयार है ....उसके तने बूबस मुझे इस तरह िे ख
रहे है जेसे कह रह हो मसती अभी बाकी है ... उसकी
एक टांग अपनी एक टांग से सटाते हुये मेने उसकी

कमर मे हाथो मे लेकर उसके चेहरे को चूमने लगा.
उसके रसभरे होठ को अपने होठो के बीच लेकर

चुसने लगा...

126

“िे व मेरे िनपपलस तुमहारा इितंजार कर रहे
है ....उसने बूबस को मेरे होठो के पास लाते हुये
कहा.”

लीना तेरे िनतमब तेरे बूबस की तरह सेकसी हे यार
जबसे िे खा है इनका ििवाना बन गया. मै इनको जी
भर कर पयार करना चाहता हू सवीट...तुमहे मालुम है
इनमे भी बूबस की तरह आग भरी है ...कया तुम इस
आग की जलन का मीठा मजा नही लेना चाहोगी...’
कयो नही िे व मुझे इसका अहसास है ...आज तुम
इनका जी भर कर मजा लो...लीना मेरे हाथो को
अपने िनतमब पार ले जाती हुई बोली.

मेरे िोनो हाथो से उसके मुलायम मसत गोल
िनतमबो को जकड िलया.. “िे व मे चूस तुमहारे
िनपपलस को रही ओर मजा मुझे हो रहा है ...िे खो तो
मेरी चूत मे भी मसती छाने लगी है ...” उसने मेरा
हाथ अपने चूत रखते हुये कहा.

“सच यार तुमहारी चूत तो गमट हो रही है ...मेने
उसकी चूत मे पयार भरी गुिगुिी करते हुये कहा.”

उसने मुठठी मे मेरे लंड को जकड िलया जेसे

127

जेसे वो मेरे िनपपलस को चूसती रही मेरे लंड उसकी
मुठठी मे बढता गया.....मेरे लंड का साइज बढता
गया...मै भी उसके बूबस को सहलाने लगा और उसके
िनपपलेस से खेलने लगा.
मेने आगे बढकर उसके िनतमब थाम िलए. उसके उपर
झुकते हुए उसके िनतमबो के उपर आ गया.

“लीना तुमहारे िनतमब का शेप मसत है . गोल मुलायम
उठे हुए मखमली ... एसे परफेकट शेप मुझे कभी िे खने
को नही िमला.

मै इनके साथ रात भर मसती कर सकता हू...”
“ इसकी िसकन को िे खो िकतनी िचकनी....िकतनी
मुलायम ओर मखमली है ..”.मेने उसके िनतमबो को
भीचते हुए कहा.

“ये तेरे बूबस की तरह ही मसत है सच कहू तो शेप मे तेरे
बूबस के बाप है . इन शेतानो की तरह ही मसत है . .

“िे व आज तक िकसी ने मेरे िनतमबो की तारीफ इस
तरह नही की थी. तुमहारी बाते सुनकर सच मे मुझे
मजा आ रहा है ....आज तुम अपना कमाल ििखा ही

िो...”

128

.
पर उसके िलये तेरा गमट होना जररी है ...
“तो िफर िे र ् िकस बात की मुझे गरम करो ना...”
लीना ने मचलते हुये कहा

हम िोनो ने बिन से गाउन अलग कर ििये.
मे उसे लेकर बेड पर आ गया. बेड रे सट के साथ
िटककर मेने लीना को मेने अपने उपर खीच िलया
”ओर तेरा लंड मेरी चूत के होठो का!”
...उसे इस तरह उपर खींचा की लंड ठीक उसकी पुससी
िलपस के नीचे आ गया. गमट तने हुए लंड का एहसास

पाकर जेसे उसकी चूत मै मसती का धमाका हुआ.....
“मेरी चूत मे हुए मसती के धमाके को तुमने सुना ...”
उसने होठ मेरे कान के पास लाकर धीरे से कहा

...लीना मेरे िनपपलस को चूसने लगी. मेरे पूरे बिन मे
मसती भरने लगी.
लीना मेरे िनपपलस ठीक वेसे ही चूसो जेसे मे तुमहारे

िनपपलस को चूसता हू....अपने िनपपलस जेसी

129

मसती तुम इनमे भी भर िो..िे खो चूस तुम मेरे
िनपपलस रही हो ओर असर मेरे लणड पर हो रहा है .
िबलकुल
“उसी तरह ना जेसे मेरे िनपपलस चूसने पर चूत मे
होता है ....!”
मुझे मालुम है ...अब मुझे सब मालुम है ...तुमहारी सब
मिसतयो को अब मे समझने लगी हू....तुमहारे अिं र
भी एक सेकसी लडकी है ....
कयो

तुम सोचते तो होगे की काश एक चूत भी

तुमहारे पास होती...ओर िनपपलस भी मेरी तरह बढे बढे होते...ओर वो मुसकरा िी...
सच यार तुम तो जीिनयस हो....हमारी सोच िकतना
िमलती है ...मेने उसके िोनो िनतमबो को हाथो से
मसलते हुये कहा.
तुमहारी हर अिा िनराली है . उसने िसर उठाकर होठ लंड
की तरफ बडा ििए.. वो बेताहशा चूसने लगी...ओर मे
िनतमबो को मसती मे चूमता रहा ओर काटता रहा. जीभ
गहराई तक िरार गुसती गई मेरी गीली जीभ क

अहसास उसे मसती से भरने लगा ....मुझे

130

मालुम है वो मसती मे है ...कयोकी वो पूरे जोश से उसे
चूसने लगी.
मेरी सांसे गहरी होती गई.....”लीना मेरी जान जोर से
......आ आ ह ह ह”
अचानक मेने िांत गहराई तक उसके िनतमब मै गढ गये
....वो ििट से िसहर उठी.
ओह िे व ....तुमहारा ििट भरी मसती का एहसास भी
गजब का है .....इस ििट की मसती से मुझे मजा आने लगा
है ....चाह रही हू की तुम इसी तरह मेरे िनतमबो को
बेििट होकर भीचते रहो.

तुमहारी जीभ मेरी िरार मे एसे ही मसती की आग
भरती रहे
" िे खो मेरी पुसी िबलकुल गीली हो गयी है ।"
"कया तुम मेरा जूस पीओगे...."
"ओह ....िे व ....."
"....जूस िपओ िे व"
"मै मसती मे पागल हो रही हू"
"हां बोलो िे व..."

"ओह िे व िे खो िकतना जूस है ...."

"इसे चूसो िे व....आओ िे व ..."
मेने चूत के िलपस

खोल कर

131

जीभ अिं र तक घुसा

िी....मेरे गालो पर उसने जाघे कस ली.
मै ििवाने की तरह उसकी चूत चूसने लगा....
चूत ने ढे र सारा रस छोडा....मै रस चूसता
रहा..चूसता रहा...चूसता रहा....
उसका शरीर मसती मे अकडने लगा....”ओह िे व मे
चरम पर हू....आ...अ..आअ...हहह”
लुक इन िमरर....

मेने िे खा ...हम िोनो िमरर मे सेकसी लग रहे
थे.... ओह लीना...मेने उसकी

जाघो का गहरा

चुबंन लेते हुए कहा.

मै हलके ...हलेक उसकी जांघो पर िांत गडाने
लगा..ओह लीना......तुम.... तुम तो पफेकट सकर
हो....
मेने झुककर लंड को िनतमबो के बीच िे ििया. िनतमबो
की जकडभरी मसाज पाते ही मे मसत हो गया.
मेरे जीसम मे अब वासना की लहरे िहलोरे मारने लगी.
मेने लंड को उसके लव होल पर रखकर हलका सा

िबाब ििया...

132

ओह िे व तुम यह ....ओह िे व तुमने सच मेरे अिं र
एक नई मसती का अहसास ििलाया.
मुझे मालुम था अभी वो इसे अिं र लेने लायक नहीं
है ...पर िजस तरह वो मसती मे मचल रही थी. उसे
मसती का जायका िे ना जररी था...पर अभी के िलये
इअतना ही काफी था मेउसे ओर तरसाना चाहता
था...जब तक की वो मसती मे पागला ना जाये.
झुक कर वो लंड को अपनी मुठी मे जकड़ने लगी.
लेकीन एक हाथ की मुठी मे वो नही आया. िोनो हाथो
मे लेकर उसे पयार करने लगी.
वो उसे उपर से नीचे चाटने लगी. ..मेने वाइन लडं के
उपर डाली....
लंड को वो नीचे से उपर तक अपनी जीभ से चाटने
लगी. वाइन िपलाने का यह अिांज उसे िनराला
लगा....वो सुपारे को अपने होठ के बीच िबा कर चूसने
लगी. मै वाइन डालता रहा ओर वो वाइन से भरे लंड
को सबसे मोटा भाग उसके सुपाडे से पीती रही.
मसती मै वो लंड को अपने मुहं मे पूरा लेने की कोिशश
करने लगी. काफी मशककत के बाि आधा लंड ही मुहं

मे जा पाया मै उसकी हसीन हरकत का मजा
लेता रहा. उसकी

133

इस हरकत पर मुझे मजा आने

लगा. जब उसका मुहं िख
ु ने लगा तो लंड को मैने
बहार नीकाल िीया.

लीना कया कभी इसे लव होल मे िलया है ...
लव होल!
लव होल इसे कहते है पगली...मेने उगली उसके
िनतमबो के बीच होल की गोलाई को चूते हुये
कहा...

उअह सुनाओ वो मुसकराइ...नेही िे व ...कभी मोका
नही लगा....
तो कया खयाल है ....मेने चूत के रस से उगली को
गीला कर उसके लव होल पर लगाते हुये कहा...
अचछा बोल केसा लग रहा है ...

मजा आ रहा है ...िे व...थोडी सी अिं र डालो ना...
उगली के अि6र घुसते ही उसने मसती मे उसे जकड
िलया....मै उगली डाले उसके बूबस को चूसने
लगा...वो मसती भरी लमबी सांसे लेने लगी
अब उसके अंिर चुिाने की इचछा इतनी बढ गयी की

मुझे िबना बताये, उसके उपर चढ गयी.... और

134

उसके लंड को अपनी चूत मे लेने की कोिशश करने
लगी.
"कयो? कया हुआ?"
"अभी बाथरम मे तुम मेरे लंड को कहां तो बहार
िनकालने को कह रही थी और कहां तुम मेरे लंड को
अपनी चूत मे लेने को आतुर हो?"
"अब मुझे इससे पयारी चीज कोई नही लग रही है िजसे
मै अपने अंिर छुपा लू."
िे व बोला, "पगली यह ऐसे थोड़े ही जाएगा. जा िीम
ला और मेरे लंड पर और तेरी चूत मे लगा. तभी यह
अंिर जाएगा.
"नही मेरी चूत गीली है यह एसे ही चला जाएगा."
उसने मेरे िोनो तरफ पेर िकये ओर घुटने के बल
बेठकर वो लंड को उपर से नीचे तक अपनी चूत की
िलपस से रगड कर गीला करने लगी...उसकी इस
मसत हरकत पर मै मचल उठा....

“ओह लीना यह तो सबसे बेसट िीम है .....आइ

135

लव इट बेबी....”
उसने चूत को उस पर रगड़ कर ओर चीकना कर िीया
इस रगड से उसकी चूत भी भरपूर रस छोडने लगी....
और थोड़ी िे र मे वो पूरी तरह चुिासी हो गई.
अपने आपको उठाते हुये मेरे लंड पर धीरे से बैठ
गई....

इस धकके से मेरा लंड का आधा अंिर चला गया
"थोडा सा ििट है , कुछ करो, िे व."
मेरी उगली अभी भी उसके लव होल मे थी...मे
धीरे -धीरे उउसे अि6र बाहर करने लगा
मेने एक बूब को हाथो मे लीया ओर िस
ू रे को उसने
मेरे मूह मे िाल ििया ...इसे चूसो िे व

मै चूसते हुये िस
ू रे बूब की मािलश करने लगा....

िजससे उसे थोड़ी रहत मीली. मेरे मन मे धकका मारने
की इचछा बढने लगी. और मैने फीर से एक जोर का
धकका मार िीया. अबकी बार लंड पूरा घुस गया ओर
वो मचल उठी....

उसने बेचेन आवाज से कहा, "िे व मेरे िोनो उरोज

136

को कस- कस कर मसलो. िबा िो इनहे . तभी मुझे
मजा आएगा."
मेने अब अपनी िनकाल कर हाथ उसकी कमर पर
लगा िलया और िस
ु रे हाथ से उसके एक उरोज को कस
कर मसलन शुर कर िीया.

साथ ही पहले हाथ से उसकी कमर को जकडते हुये मे

उसे अपने लंड पर िहलाने लगा.

थोड़ी ही िे र मे उसका ििट गायब हो गया और मैने
अपना िस
ू रा हाथ भी कमर पर लगा िीया. अब उसे
धकका नही मारना पड़ रहा बलकी मे िोनो हाथो से
उसकी कमर को आगे पीछे करने लगा.
िजससे उसकी चूत को मेरे लंड की रगड़ िमलने लगी.
ििट खतम होते ही वो भी अपनी कमर को िहलाने
लगी.
रगड़ लंड और चूत िोनो को मीलने लगी. मुझे बड़ा
मजा आने लगा. मेरा लंड और उसकी चूत की रगड़
हमारे जीसम मे मसतीभरी आग पैिा करने लगी.
यह वासना की जवाला... यह सेकस की आग़....इस आग

मे हम िोनो के बिन मसती मे झुलसने लगे.

137

हम िोनो खूब मजा लेने लगे. उपर होने की वजह से
अब वो अपनी मजी से धकके लगाने लगी. मेरे फी हाथ
उसके बूबस को बारी बारी से मसलने लगे ओर उनमे
मसती की आग भरने लगे..मेरे हाथ कभी उसके
िनतमबो को सहलाते तो कभी उसकी चूत िलपस को
रगडते .....मुझे ओर उसे इस पोिजशन मे बेहि मजा
आने लगा.
हमारी िससकारीयां बढने लगी. एक िस
ू रे की आवाजे हम
िोनो को मसती से सरोबार करने लगी.

वो मसती मे बोखाला गयी और अपना पानी छोड़ िीया
ओर लंबी-लंबी सांसे लेने लगी. पर पर वो रकी नही.
िचकनी चूत मे अब लंड आसानी से अिं र बाहर होने
लगा मेरी मसती बढने लगी. ना ही मेरे हाथ की सपीड
को कम होने िीया. इस आग मे मै उसे पूरी तरह
झुलसना चाहता था. मै चुिाई जहाँ तक हो सके जारी
रखना चाहता था.
इस तरह चुिाते हुये जेसे उसे रह रह कर मसती के
िोरे पडने लगे...वो बीच बीच मे जोर जोर िचललाने

लगी....उसकी मसती भरी चीख सुनकर मुझे भी

138

चीखने की इचछा होने लगी...मै भी मसती भरी
अवाजे िनकालने लगा....उसकी चूत की उसके बूबस
की उसके िजसम की ओर उसकी चुिाइ की तारीफ
करने लगा ...उसकी चूत बार---बार ढे र सार रस
छोडती रही....मेरा लंड पूरी तरह उसके चूतरस से
सरोबार हो गया.
उसके बिन को िबसतर पर लेटा िीया और लंड को चूत
मे डालते हुये उस पर छा गया. मेरी टांगो पर उसकी

टांग, मेरी जनघो पर उसकी जांघ, उसकी चूत मे मेरा
लंड, मेरे सीने पर उसका बूबस की मसती भरी
गुिगुिी... और मेरे होठो पर उसके होठ.
उफफफ! यह सब सवगट का मजा है या अभी भी कुछ
बाकी रह गया था.
नही. िबलकुल नही. येही तो था जननत का मजा. ऐसी
चुिाई मे और कया बाकी रह जाता है .
अपनी सपीड बढाते हुये उसे कस-कस कर चोिने लगा.
मेरे धकके का जवाब वो अपने िनतमबो को उठा कर

िे ने लगी. तभी मेने जोर से चीखते हुये पानी उसकी

चूत मे छोड़ ििया. वो मसती मे िनहाल हो गयी.

139

उसने भी इसका जवाब चूत का पानी छोड़ कर िीया.
हम िोनो िनढाल हो कर पडे रहे .
केिडल तीन चोथाइ से जयािा जल चुकी थी.
थोड़ी िे र बाि मे उसके उपर से उतर कर बगल मे लेट
गया.
वो मुझसे िचपटी हूई पडी रही. थोड़ी िे र बाि घड़ी िे खी
तो सुबह के 4 बज चुके थे.

“िे व तुमने मेरे बिन के पोर-पोर ढीले कर िीये.”
मेने उसे अपने बिन से िचपका िलया...वो भी मेरे
से कस कर िलपट गई जेसे मेरे मे समा जाना
चाहती हो.
लीना िे व
एक-डे ड घंटे बाि मेरी आंखे खुली तो िे खा की िे व अभी
भी सोया हुआ है . िखडकी से छनकर आती की सुबहा
के सुनहरी धूप मे उसका लंड अभी भी कड़क था.
लगता है सपने मुझे अभी चोि रहा था.

140

मैने उसे जगाया

रात भर की चुिाई से ििल नही भरा कया! जो लंड
अभी भी तना हुआ है

”नही भरा जान अभी एक राउं ड ओर”
"हद करते हो. मेरे बिन के अशथी पंजर ढीले कर िीये
और कहते हो की एक राउं ड और चलाना है .
"लीना सुबह की चुिाई तुमहे ििनभर मसत ओर
तरोताजा रखेगी."
ओर मै चाहता हू िक यह वक तुम कभी ना भूलो ओर
िे व की इस बात का मेरे पास कोई जबाब नही
था....िे व ने मुझे यािगार समय

ििया ....मै अब उसे

केसे मना करती. ओर िफर मै भी तो जनमो-जनमो की
पयासी यही सब चाहती हू . मै भी चाहती हू की कोई
मुझे पयार करे तो इतना करे के िफर ना ििन हो ना
रात हो बस हम पयार करते रहे ...पयार करते रहे .
िे व को िचढाने के िलए झूठ-मूठ के िलए बोली "ना
बाबा ना.."
लेकीन उसने मुझे झटके से अपने उपर िगरा लीया और
लगा मेरे होठो के फटाफट चुमबन लेने. उसके पयार की

िरिं गी मेरे मे मसती भरने लगी. मेरे उरोज से

141

खेलते हुये उसने मुझे घोड़ी बाना िीया और अपने
कड़क लंड को मेरी चूत से सटा िीया.

मैने उससे कहा, "रको. गीला तो कर लो."
उसने कहा, "अब तुझे गीले की नही...बस मेरे लंड की
जररत है . िे खती नही तेरी चूत से चूत रस टपक
रहा है ...अब तेरी चूत मेरे लंड को एक ही िम मे अिं र
ले लेगी. अब तू कमर िहला-िहलाकर धकका खायेगी
और खूब हीला-हीला कर चुिायेगी."
िफर उसने गीली हो चुकी मेरी चूत पर लंड लगाया और
कस कर धकका मारते हुये मेरी चूत को जेसे चीर िीया.
..ये जािलम िे व....
ओह िे व ....
.....और लगी सेकस का मजा लेने. इस बार मुझे
चुिवाने मे बड़ा मजा आ रहा था. 15-20 िमनट के
सेकस के बाि िे व के लंड ने पानी छोड़ िीया और तब
तक मै भी २ बार झाड़ चुकी थी. सुबह की इस चुिाई
ने मुझे जबरिसत मजा ििया.

142
थोडा सुसताने के बाि मैने उसके लंड का चुमबन लीया
और िबसतर छोड ििया.
मुझे कालेज जो जाना है . जाने का मन नही है , पर
आज कालेज मे जररी लकचर है नही गई तो
पोबलम हो जायेगी. मै िे व को सोता छोडकर बाथरम
की तरफ चल िी.

िनशा से िमलन
लीना को चोिने के बाि मे गहरी नींि मे सोया हुआ था

िक अचानक एक तेज सुगंध का झोका मुझे जगा गया.
आंख खुली तो िे खा सामने िनशा है .
िनशा...ओह गाड

वो मेरे सामने . मुझे आंखो पर िवशवास नहीं

143

हुआ....मै आंखे फाड कर उसे िे खने लगा.
गुलाबी पेटी और बा मे ठीक वेसे ही जैसे उस ििन फोटो
मे ििखी थी. कया ये सपना है ... मैने अपने को नोचा.
नहीं सपना नहीं है वो सामने है . बा उसके बूबस को
संभाल नहीं पा रहे . गोलाइयां बाहर आने को
बेताब....जेसे बुला रही हो...िक आओ मुझे िबाओ मुझे
चूसो...मुझे मसलो
मूितट की तरह खडी वो मुसकरा रही है ....उसने हाथो को
बूबस के उपर िफराकर धीरे से बा मे उभरे िनपल को
िबाया...ओर उपर को उठाते हुए उसने बूबस को जोर से
िबाया...बा जेसे फट पडे गी.

िनपपलस को बारी-बारी अपने होठो के बीच लाकर
चूमने लगी......मै उसे यह सब आंखे फाडकर िे खने
लगा. उसे एसा करते िे ख मेरी मसती मे सांसे थम गई.
मेरी िबगडी हालत का मजा लेते हुए उसने अपनी

उगिलयो को पेटी के अिं र डाल ििया. जब बाहर िनकली
तो चूत रस मे डू बी हुई....उसने उनहे चूसते हुए मुझे
अपने पास आने का इशारा िकया

चािर के नीचे मे नंगा,लीना को चोिने के बाि एसे

144

ही तो सो गया . िनशा की जवानी के जलवे िे खकर मेरा
तना लंड.
होठो के िांत से िबाते हुए उसने

एक बार िफर इशारे से

मुझे बुलाया.

मै बेड से उछल कर खड़ा हो गया. मुझे इस हाल मे
िे खकर उसकी भी आंखे फट गई. मेरे से जयािा अब वो
अचंभे मे है . मेने उसे बाहो मे लेते हुए एक जोरिार
चुबंन ििया.

मेरे खडे लंड को साइज िे खकर वो सकते मे आ गई....
उसकी आंखे फटी की फटी रह गई.
"माई गोड इटस माय डीम.....िे व यह तो वाकई कमाल
का है ....ओर वो मचल उठी"
"यु लुकस सो बयूटीफुल...मेरी रानी ...मसत चुिासी लग
रही हो !"
"पर तुमने अपना यह कया हाल बना रखा है ...."
"ओह यह हाल....यह तो ..."
"कया...यू नाटी....िनशा ने शरारत से कहा...रात भर
मेरे सपने िखते रहे ...हाथ से काम चलाते रहे !"
"पर तुम लीना के कमरे मे कया कर रहे हो!"...उसने माथे

पर बल डालते हुए कहा...जेसे कोई पहे ली सुलझाना

145

चाह रही हो.

मेने पीछे से कमर मे बाहे डालते हुए बोला "सोचो तो
जानू"

"िे व कया मेरा अिाजा सही है ....कहीं तुम ओर लीना....
"यह सब तुमहारी नाटी चुलबुली लीना ने िकया है ..."
...कया!!! "
उसका मुंह फटा रह गया.... उसे जेसे िवशवास नही
हुआ. बट इतनी जलिी....मन नही मान रहा...ओह िे व
आइ िमसड िे ट मूमेट..."

मै तुमहे उसे पहली बार उसे चोिते हुए िे खना चाहती

थी....इसिलए भागी-भागे यहां आइ पर तुम तो उससे
पहले ही....
"तुमहारी लीना तो एटम बमब िनकली यार. रात भर
हम पयार करते रहे . हमने रात को यािगार रात बना
ििया....मै ओर वो उसे कभी नही भूल सकते....ओर
इसके िलए तुमहे थेकस बोलना है यार"
"ओर मेने उसे माथे पर एक चुबंन ििया"
"िनशा ने आंख बंि करके उसे महसूस िकया...."
"हे अब छोडो उसकी बाते..."

िनशा को बडकर बाहो मे ले िलया...िजस लडकी

146

का मे ििवाना था अब वो मेरी बांहो मे है . मै उसे
िकस कर सकता हू....पयार कर सकता हू...उसे चोि
सकता हू. 6 मिहनो से मुझे उसकी जवानी ने पागल
िकया हुआ था. रात-रात भर हमंने वरचुअल चुिाई
की...अब असली चुिाई का समय है ....

िनशा अब हम असली चुिाई कर सकते है ....याि है
केसे हम रात-रात भर वरचुअल चुिाई करते थे....
हां िे व मुझे हर बात याि है ...
मेने उसे गोिी मे उठाया और बेड पर पटक
ििया....ओह बेबी धीरे से...कमसीन जवानी हे
यार....वो मेरे नीचे मचलते हुए बोली.

पर लीना इतनी जलिी तुमहारे साथ..आइ डोट
वलीव...
“िवशवास करने को ििल नही करता”
”....मेरे लंड से पूछो...उसे चाटोगी तो उसकी चूत के
लव जूस का सवाि अभी भी तुमहे उस पर लगा हुआ
िमल जाएगा!

“बलीव मी सवीट..सच अब बिल नही सकता....ओर
सच यह है िक लीना को रात भर पयार िकया.”

“तुमहारी िोसत बनी ही पयार करने के िलये....”

147

”ओर मै!...मेरे बारे मे कया खयाल है ...!”
”ओह िनशा....तुम तो मेरा सपना हो...”
"....समाटट बोय!....यू नाटी ..बाते बनाना तो कोइ
तुमसे सीखे. आइ नो तुम उसे नही छोडोगे...पर इतनी
जलिी....
तुम तो सच मे पलेबाय हो यार रात मे लीना ओर
अब मे ...!"
"हां यार मै तो जननत मे था . रात भर लीना को चोिा.
"
"सच बोलूं तो तुमहारे बारे मे सोचने की फुसत
ट ही नहीं
िमली..."मेने उसे छे डते हुए कहा
...पर यह सच था

और अब तुम...मेरा लंड तो धनय हे तुमहारे इस सवगट
मे....मैने उसके िनपपल को बा के उपर से जीभ से
चूमते हुए कहा.

"अब छोडो भी उसकी बाते....अभी तो बस तुमहारी
मसती से सरोबार होना है ...तुमहे चोिना है ओर इन
पयारे शेतानो से खेलना है ."

तुम चुिवाओगी ना....उसके गालो पर गीला चुबंन

148

जडते हुए मेने कहा.

रात भर चोिा िफर भी मन भरा नही....थके नहीं
"थका तो था..
"तुमहे िे खकर तो मुिे मे भी जान आ जाए....मे तो िजंिा
मिट हू... तेरा यार!"
कया अब मे थका ििख रहा हू".....उसके होठो को चूसते

हुए कहा

उसने लमबी सांस खीची ....ओह िे व..
उसके गोल बूबस बा मे मसत ििख रहे है . मेने हाथो से
उनहे िबाते हुए िनपपल पर गीली जीभ फेरी. मेरा लंड
उसकी टासपंट नाजुक पेटी के उपर अपनी जगह बनाने

लगा हुआ है ...मुझे मालुम था उसकी चूत मे भी मसती
के हलचल मची हुई है ....उसने भी अपने को एडजसट

िकया िजससे चूत ठीक मेरे लंड के नीचे आ जाए. चूत
रस मेरे लंड को िभगोने लगा.
मेने भी अपनी सांसे खींची और िफर से उसकी चुिममयां
लेनी शुर कर िीं
होठो को होठो स िचपकाए, हाथ से उसके गोल गोल

रसभरे बूबस पर रख कर उनहे परखने लगा। िनशा के

149

हाथ ने मेरे लंड को सहलाना शुर कर ििया। उसकी हाथ
की गमी से मेरा लनड तनतनाने लगा ।
"ओह िकतना बड़ा है "
है रानगी की एिकटनग करके। अपना होठो को गोल आकार
का कर के अपने होठो से सीटी मारके वह मुसकराई।
“मेने तुमहे साइज बताया था....याि नही
कया!...उसके बाि तुम मेरे से िमलने को बेताब हो
गई...कुछ याि आया मेरी जान!”
जुबान को अपने होठो पर उसने बड़े सैकसी तरह से फेरा
ओर मुसकरा िी....। मैने अपने हाथ उसकी कमर पर
रखे!
िनशा ने आिहसता से अपनी बा मे कसे मममो के उपर से
सहलाया।अचछ तो िकसके बूबस मार है ..मेरे या लीना के.!
मेने िे खा िनपपलस तने हुए....गोल मुलायम... बा फाडने

को तैयार बूबस...मचलते बूबस...पयारे बूबस..ओह बूबस.....
मेरी आंखे उन शेतानो पर िटक गई.
लेट मी चेक..
मेने उसे सीने से िचपका कर बा के हुक पीछे से खोला। बा
उतारने के िलये वो पीछे हुई और अपनी बांहो को उपर

उठाया। बा उसके उभरे मुलायम मममो पर अटकी

150

हुयी थी।

"उतारो" ...उसने मुझसे कहा।
मैने उसकी बांहो के उपर से सटै पो को िखसकाया और बा
उतर आई। उसके मममे बहुत सुनिर, भरे हुए, नमट गोल ।
मेरी आंखो के सामने सुनिरतम गोले झूम रहे है और उन
गोलो पर पयारे पयारे खडे िनपपल .....और िनपपल हलके
भूरे गुलाबी उभरे हुये ... चूसवाने के िलये उतावले हो रहे
हो।

आइ लव योर बूबस..
तुमहारे परफेकट...पर लीना के भी.....मसत है ...मेने शरारत
से कहा....
डोट िगव िडपलोमेटेक िरपलाइ!
ओके तुमहारे बूबस बडे है बा के सपॉटसट के साथ जब उठान
पर होते है तो िकसी को भी पागल बना िे ते है . ओर अब
जब तुम गमट हो तो यह मेरी हालत खराब कर रहे
है ....इनमे गजब की मसती है ...इने मसलने का....चूसने
का मजा ही कुछ ओरहै ....
बारी बारी से उसके िनपपलस को गीली जीभ से
छे डा...ओर वो मसती मे िससकारीया लेने लगी.

या िे व यू आर राइट....अब लीना के बूबस के बारे मे

151

बताओ...!
लीना के बूबस....ओर मेने आंखे बंि की....लीना के बूबस
थोडे से छोटे होने के कारण

फमट है गोल उठे हुये

रसीले कोनस उस पर तने कुए बड़ी िनपपलस उसके

अटरे कशन है . जब ढके हो तो उनकी मसती क पता नहीं
चलता. बा के उतरते ही वो िकसी को भी पागल बना िे ते
है .....खासकर उसके बड़ी ओर लमबे िनपपलस.....उनके
चूसने का मजा ही कुछ ओर है ....
"िे व ओह यू....यू....यू नाटी...खेल मेरे बूबस से रहो ओर
बढाइ लीना की कर रहे हो...नोट फेयर...."
"मुझे मालुम है वो झूटमूठ नराज हो रही है ".
मेने उसकी बातो पर धयान नही ििया ओर उसके बूबस
होले-होले पयार से चूसने लगा....वो आखे बंि िकए मजा ले
रही थी.
मैने िनशा की ठोड़ी को चूमा िफर उसकी गरिन को चाटा
"तुमहारा ििन कैसा रहा.."..
"बस उसे िरजेकट करके...तुमहारे पास भाग आई..."
"कया इतना बुरा था!".....बेचारा...
"हलके से उसके िनपपलो का चुममा िलया। पहले बांये वाले

को िफर िांये को। "

152

"एसी बात नही...अभी तो मे जवान हुई हू...ठीक से जवानी
के मजे तो लेने िो...िफर िे खेगे!"

उसने हाथ मेरे लंड की तरफ बढाया , मैने उसे रोका और
उसे खड़ा हो कर घूमने के िलये कहा..पहले तुमहे जी
भरकर िे ख तो लू
उसकी पीठ मेरी तरफ हो गयी। मेने नटखट तरीके से
उसकी पेटी के कपड़े को िनतमबो के बीच फसा कर ऊपर
से नीचे तक सहलाया।
"आह ....ओह िे व ...”वो आगे की तरफ झुक गई.
और जब मैने उसे अपनी तरफ खींचा तो वो मेरी गोि मे
बैठ गयी। मैने उसके कूलहो को रासता िे ते हुये इस तरह से
बैठाया िक मेरा लनड उसके नमट िनतमबो के बीच फस

गया। उसने िनतमबो को िसकोडकर मेरे लंड पर िबाब
बनाया और मुड़ कर मेरा एक जबरिसत चुममा िलया।
ओह िे व लंड फील सो गुड
मेरे हाथ उसके मममो पर गये और मैने उनसे खेलना शुर
िकया। उन पयारे पयारे मममो को मला गुिगुिी की
..मािलश की.... िबाया.. मममो को उठाया ..... िनपपलो को
अंगठ
ु े व अगुली के बीच चुटकी काटी...और नमट मुलायम

पेट पर हाथ फेरा...उसकी चूत िलपस उपर से

153

सहलाया ....
वो आखे बंद िकये मेरी हरकतो का मजा लेती रही.
अचानक उसकी पेटी मे हाथ घुसाकर उसके पुससी िलपस
को छुआ....वो रस से सरोबार थी...उगिलयो को रस से
गीला कर उसके होठो के पास ले गया.
उसने मेरी उगिलयो को चाटा
"....सो....टे ....सटी....."
उसे यह सब बहुत अचछा लग रहा था और इसका सबूत

उसकी िसिसकयां और उसका िनढाल तरीके से मेरे उपर
लेटना। अपने िनतमबो का मेरे लनड पर रगड़ना। मै भी
उसकी पयारी िे ह को छाती से जांघो तक और कंधे से
हथेिलयो तक सहला रहा था . चूत का गीलापन बता रहा
था िक वो गएम हो गई है .
िनशा के पयारे मममो के साथ खेलने के बाि मैने उसे घूम
कर बैठने को कहा।
उसने अपने पेरो को चौडा िकया और मेरे जांघो को बीच
मे ले कर वािपस मेरी गोि मे बैठ गयी। उसके कूलहे मेरी
जांघो पर आराम करने लगे।
मेरा खडा लंड चूत को बार-बार छूने लगा.

िनशा ने मेरी छाती पर हाथ फेरने शुर िकये और मेरे

154

िनपपलो की चयूंटी काटी।
उसके आगे पीछे होने से लंड पुससी िलपस पर रगडने
लगा..
मेरी छाती और पेट की मािलश करते हुये मेरे पतथर जैसे
सखत लनड को बार बार छू रही थी। साथ मे बीच बीच मे
मेरी गिटन और कनपटी की चुिममयां ले रही थी। मैने
अपनी बांहे उसके पीछे ले जा कर उसके नमट नमट िनतमबो
को िबाया । उसके कूलहो के बीच अपना हाथ िखसकाया
और िरार को ऊपर नीचे सहलाने लगा।
वह जैसे नशे मे कांपने लगी और मेरे कभी िांये कभी बांये
िनपपल को चूसने व हलके से काटने लगी। उसकी हरकत
मुझे मसत करने लगी.
हं सते हुये बोली "जो तुमने िकया वही अब मै कर रही
हूं"।

कयो मजा आ रहा है ...
ओह िनशा....सच तुम पयार करना जानती हो
उसने मेरा लनड को सहलाना शुर कर ििया। मै उसके
मममो को एक भूखे आिमी की तरह चूसने लगा।

बीच बीच मे िनपपलो को चाटता या पयार से िांतो

155

के बीच काटता ।
मै चूस रहा था और वह सी सी की आवाजे कर रही थी।
अचानक मैने जब जोर से मममो को मसला...
"हाय इतनी जोर से नहीं। गुिगुिी होती है ।"
"कयं गुिगुिी नही चािहए!....."
मै एक सेकनड के िलये रका उसने भी अपनी सांसे
थामी....और िफर से उसके मममो और िनपपलो को जुबान
से छे ड़ छाड़ करने लगा।
"हॉ इनको पयार से चूसो। "
"कया तुम िोने िनपपलो को मूंह मे ले सकते हो"
... यह एक ऐसा चैलेनज था जो मै कैसे जाने िे ता। मैने
उसके िोने बूबस को हाथ मे िलया और िोनो िनपपलो को
िमलाकर साथ साथ चूसना शुर कर ििया। वह इतनी
उतेिजत हो गयी िक सी सी करके उसकी चूत मेरे लनड पर
धकके लगने लगी।
"कया तुमहारे िनपपलो का तुमहारी चूत के साथ सीधा
कननेकशन है "
मैने पूछा। "हां मेरी जान"
उसने कहा "पर इस बात पर िनभरट करता है िक िनपपल के

साथ पयार कैसे िकया जाता है ।

156

तुमहारी जुबान तो िबजली के करं ट की तरह मेरे मममे
और पुसी मे खुजली मचा रही है ।
"मुझे चूत शबि से शमट आती है । इसे पुसी कहा करो।"
मै रक गया। हम िोनो की सांसे फूली हुई थी। समय आ

गया था।

मेरे हाथ उसके गोल गुिाज िनतमबो पर गये और मैने
उनकी नमी का मजा िलया। मैने उसे कमर से झुकाया
और पहले िांयी गोलाई को चूमा और िफर बांयी को। मेरे
हाथ उसकी लटकते बूबस के साथ खेल रहे थे। अचानक
उसने मेरे लनड पर झपटा मारा और ऐसे पकड़ा जैसे उसे
इससे अतयंत मजा िमल रहा हो।
लनड फूंकार मारने लगा। मै सीधा लेट गया। िनशा ने
लनड के िसरे को अंगुली से छूआ और जूस के कतरे को
अंगुली पर ले कर उसे जुबान से चखा।
"ममममममम।
सवाि भी अचछा है ।
िकतना मोटा और लमबा लनड है "
मै बेड रे सट के साथ टे क गया। िनशा घुटनो के बल मेरी

लातो के बीच बैठ गयी मेरी तरफ िे ख कर मुसकराई

157

और बोली
एक बार चेट पर बताया था तुम लंड अचछा सक कर
सकती हो.
"हां .....मै इसको इतना पयार करंगी िक आप को जननत
का मजा आ जायेगा। ये इतना टे सटी है िक मै लगातार
इसे चूसती रहूंगी..पयार करती रहूगी।"

उसने मेरे लनड को नीचे से ऊपर तक अपनी जुबान से
चाटा िफर अपनी जुबान को हे ड पर घुमाया। िफर उसे
अपने मूंह मे ले कर अपने सुनिर होठो से लपेट िलया।
"िनशा तुमहे केसे लंड पसंिहै ..."
मोटे लमबे िबलकुल तुमहारे लंड की तरह......पर यार मुझे
लगता है थोडा सा बडा है ....इसिलए मेरे अिं र मसती भी
जयािा हो रही है .....मुहे इतने लमबे लंड की उममीि नही
थी...
हे कम आन मेने तुमहे चेट परक बताया तो था....इन फेकट
उसके बाि ही तुम वाईलड होकर मेरे पीछे पड गई....मेने
उसे छे डते हुए कहा....

ओर तुम ...कया तुम मेरे ििवाने नही थे.....उसने मेरे लनड
हे ड पर जीभ फेरते हुए कहा.....

ओह यस मे केसे भुल सकता हू वो रात जब तुमने

158

फोटो भेजा था....ओर हमने रात भर साइबर िकया
था...याि है वो चुिाई.....उसके चेहरे को हाथो से छूते हुए
बोला....

िनशा ......मेरी पयारी िनशा...ओह िनशा....
मेने भी उस रात तेन बार पेटी बिली थी...
उसके गीले मूंह का सपश
ट सचमुच जननत के बराबर िे ने
लगा। िनशा ने अपने हाथ मेरे िनतमबो पर रख कर उनहे
िबाया और मेरे िनतमबो को िसथर रख कर अपना मूंह मेरे
लनड पर ऊपर नीचे िखसकाने लगी।
मै उसे िे खने लगा...जब भी उसकी आंख मुझसे िमलती,
वो मेरे हालत िे खकर ओर मसत हो जाती...ओर िग
ु ने

जोश से मेरे लंड को चूसने लगती. वो मुझे मसती से पागल
कर िे ना चाह रही है . मेरी मसती मे ही उसकी मसती है .
मे भी तो यही चाह रहा हू...िक वो मसती से पागल हो

जाए....तभी तो मे भी मसती का पागलपन का आनंि ले
पाउगा.
यही तो मसती भरे सेकस का फंडा है .
"िे व मुझे तुमहारे लनड पर लीना के जूस का भी सवाि

िमल रहा है "

159

"ओए....तुझे सवाि केसे मालूम"
"मेने उसे छे डते हुए कहा"
इटस सीिेट " वह बोली

ओए कुछ सीिेट-वीिेट नही है ...तुम ने उसकी चूत का
सवाि िलया है .....
इसका मतलब साफ है ...तुम ओर लीना लेसवीयन लव कर
चुकी हो....मै आंखे बंि कर उसे लीना की चूत पर िे खने
लगा....िकतनी मसत लग रही होगी लीना की चूत चूसते
हुए....

लीना की चूत को चूस चुकी हो.....कयो मे सही हू ना ...मैने
उसके बाल सहलाते हुये कहा

मेरे लनड को चाटते हुये बोली।" हे ... तुमने आखे कयो बंि

की "

"....तुमहे लीना की चूत को अपनी कलपना मे चूसते हुए
िे ख रहा हू..."

हां िे व हां....उसके चूत के जूस का जबाब नही.... उसकी
चूत लाजबाब है .....
" तुमहे डीम करने की जररत नही....हम िोनो उसे पयार
करे गे...वो मना नही कर सकती...."

"ओह िनशा"

160

" डािलग
ि तुम िकतनी अचछी हो....तो मे तुमहे ओर लीना
को एक साथ चोि पाउगा....यानी की थीसम "
मै मसती मै पागल होने लगा “कया मे यह सब कर
पाउगा...लीना”
"लंड कैसा लग रहा है ।"
"मुझे तुमहारा लनड बहुत पयारा लग रहा है । उसका सवाि

और सपशट....उसको अनिर बाहर करते हुये बहुत सेकसी
लग रहा है ।"

"ओह िे व ....िकतना गमट है ...मोटा है ....लमबा है "
".....िकतना पयारा है ...िे व "
"िे खो मुझे िोनो हाथो से पकडना पढा रहा है ."
" िे खो मेरी पुसी िबलकुल गीली हो गयी है ।"
"कया तुम मेरा जूस पीओगे...."
"ओह ....िे व ....."
"....जूस िपओ िे व"
"मै मसती मे पागल हो रही हू"
"हां बोलो िे व..."

"ओह िे व िे खो िकतना जूस है ...."
"इसे चूसो िे व....आओ िे व ..."

िनशा ने मेरा लनड अपने मीठे होठो के बीच

161

िफसलाया। वही अधर िजनहे मै कुछ िे र पहले चूम रहा
था। जैसे ही उसका मूंह मेरे लनड पर ऊपर नीचे होना शुर
हुआ मैने उसके मूंह को चोिना शुर कर ििया। उसने

पोतसहन िे ने कए िलये मेरे िनतमबो को पकड़ कर अपनी
तरफ खींचा। मैने और गहरे धकके लगाने शुर िकये और
मुझे लगा जैसे मेरा लनड उसके गले तक पहुंच रहा है । वह
उतेजना मे मेरा मीट खा रही थी और मेरी जांघो और
अनडकोशो को सहला रही थी।
"मै इन अनडो को खा जाउं गी। इनको चूसने से मेरी पुसी
की खुजली और भी बढती है ।"
िनशा को सचमुच लनड चूसना बहुत अचछी तरह आता था

ओह गोड उसने पूरा लंड अपने मूह मे ले िलया.....मै मसती
मे िचलला उठा....
इतने पयार से मुझे चूस रही थी....मै उसके बात को कसे
नही मानता...मै घुमा....
"िनशा अपनी चूत को मेरे पास लाओ!"
ओर पहली बार मेरे होठ िनशा की िचकनी मुलायम चूत
पर ....उसने कलीन शेव पुसी सुिंर लग रही थी...िखले
गुलाब की तरह.....मेरे होठो के छूते ही वो सनसना उठी.

मेने उसकी पेनटी को अलग िकया. िलपस को खोल

162

कर जीभ अिं र तक घुसा िी....उसकी जाघे मेरे गालो पर
कसने लगी....,.मै जीभ ओर अिं र ले गया. वो मचल उठी.
वो मेरे लंड पर....ओर मै उसकी चूत पर..मेरी जीभ उसके
कलोटीिरस को सहलाने लगी
ओह िे व ....सो गुड...ओह िे व यू आर ए गुड सकर....सक
हाडट ...आइ लव िे ट.....
िनशा की पूरी चूत मेरे मुह मे ,..,मे ििवाने की तरह चूसने
लगा ओर वो मीरे लंड को चूसने लगी....
उसकी चूत ढे र सारा रस छोडा....मे रस चूसता
रहा..चूसता रहा...चूसता रहा....
िनशा का शरीर मसती मे अकडने लगा....ओह िे व मे
चरम पर हू....आ...अ..आअ...हहह
लुक इन िमरर....

मेने िे खा ...हम िोनो िमरर मे सेकसी लग रहे थे....मै
िनशा को िमरर मे लनड को चूसते हुए िे खने लगा.

ओह िनशा...मेने उसकी जाघो का गहरा चुबंन लेते हुए
कहा.

तुम पफेकट सकर हो....
मै हलके ...हलेक उसकी जांघो पर िांत गडाने लगा...ओह

िनशा....फक मी हाडट ..

163

और कुछ ही िे र मे मेरी तोप शूट करने को तैयार थी।
"ओहहहह मै छूटने वाला हूं। मेरा लनड िपचकारी चलाने
के िलये तैययार है ।"
"मममममममफफ"
िनशा ने अपने होठो और जुबान की ििया तेज कर िी।
एक हाथ मेरे अनडो के साथ खेल रहा था और िस
ू रा मेरे

चूतड़ो को खींच रहा था जब मेरा लौड़ा उसके मूंह मे पूरा
धसा हुआ था।
"ओह िनशा। हां। मेरा िनकल रहा।।।।। बहुत जयािा
िनकलेगा।।।।।।।।"

मेरी तोप चली। मैने वीय की िपचकारी उसके मूंह और
गले मे चलायी। उसने मेरे गनने को और चूसा और मेरे
सारे रस को पीती रही। एक हाथ से मेरे अनडो को सहलाती
रही जैसे उनको िनचोड़ कर खाली कर रही हो।
जैसे वह चूसती जा रही थी मेरा लनड ठं डा हो गया परनतु
उसके गमट और गीले मूंह मे तननाया रहा। मै आराम करने

को पीछे हुआ अपने माथे से पसीना पौछा।

164

"िनशा तुमने तो सचमुच जननत ििखा िी है । मै है रान हूं
िक तुम इतनी अचछी कॉक सकर हो।
मै तुमहारी बड़ाई नहीं कर रहा हूं।
तुम ने यहासब केसे सेखा....

"बलयू िफलम िे खकर ....पहले मे बजार से अधपके केले
बजार से लाती उनहे खाने से जयािा चुसने ओर
सहलाने मे मजा आता....मै उनहे गहराइ तक चूसने
लगी...पहले पहल जब वो गले की मसलस मे जाकर
सांस रोक िे ते तो तकलीफ होती पर धीरे -धीरे इसमे
मजा आने लगा. अब असली मजा तो.... जब तुम को
मसत होते हुए िे खती हू तो मेरी भी मसती बढ जाती
है . मेरी चूत का कनेकशन लंड से हो जाता है ....लगता
है लंड गले मे नही मेरे चूत मै है ....ओर िफर लंड
रस का सवाि.....आइ लव िे ट टे सट लव िे त समय.
लंड के गमट मीट का सवाि मुझे ििवाना बना िे ता
है ...."
िनशा की बाते सुनकर मेरे लंड मे मसती की
संसनाहट होने लगी.
तुमहारा मूंह इतना कािबल होगा यह तो मै सपने मे भी

नहीं सोच सकता था।

165

" उसने मेरे गनने को और हे ड को िफर चाटा उसने मेरे
रस की एक बूंि को भी बरबाि नहीं िकया....मुझे िे ख कर
मुसकराई
तो तुमहारा सुिंरता का राज यह है ...तुमहारी िसकन
इसिलए गलो करती है ....तुम लंड रस जो पीती हो...कीप
इट अप िनशा....
"हां यार मेने भी कही पढा था इसिलए रस को कभी
बरबाि नहीं जाने िे ती....वलड
ट सेकसीएसट लो केलोरी
डींक...."
पयास भी बुझाए ओर मसती भी बढाए.
तुमहारी गले की मसलस ने मुझे जननत ििखा िी....
िे व अब मेरी पुसी का कुछ करो।
तुमहारे िलये िबलकुल गीली है ।"
मैने उसे िबसतर पर िलटाया और चुिममयां लेते हुये उसके
होठो से टांगो के बीच उसके सैकसीपन का सवाि लेते हुये

पहुंचा। मुझे उसकी उतेजना की खुशबू आ रही थी। जैसे ही
मैने अपने होठ उसकी चूत के उभार पर रखे.
"यह कया कर रहे हो। मुझे चोिो ना।"
"िनशा मेरी जान ये अभी-अभी तो झडा है ....इसे िफर से

अपने नमट होठो से गमट करो"

166

"तब तक तुमहारी चूत का रस चूसने िो..
"चूत की खुशबू को सूंघ लेने िो..."..
लंड गमट होने िो मेरी जान....उसके बाि जो चोिग
ू ा तो
जननत नजर आ जाएगी."

"िनशा ....तेरा रस पीने से जी नही भरा...इसे जी भर कर
पीने िे यार ।
“यह तो सवगट जैसी है । िे खो मेरे िलये िकतनी गीली है । मै
इसका िजतना रस पीना चाहूं िपयूगा।“

मैने पुसी को चाट कर कहा "तुमहारा चूत रस शहि

िकतना मीठा है ।"
तेरे चूत चाटता हू तो लंड मसत हो जाता है .
तुमहे मेरा चाटना अचछा नही लगा..!

िनशा कराही मेरा लनड पकड़ा िबना मेरे मूंह को चूत पर
से हटाये घूमी.... और लनड को िफर मूंह मे ले िलया।
अब उसकी चूत के गुलाबी फूल से होठ साफ ििखने लगे।
मै उनहे िनहार कर और उतेिजत हो रहा था। मैने िफर
चाटना शुर कर ििया। उसकी िसिसकयां और तेज हो
गयी। मैने उसकी लातो को उठा कर उसके कंधे की तरफ

मोड़ा। उसकी चूत की पंखुिड़यां गुलाब के फूल की

167

तरह फैल गयी जैसे मुझे अमत
ृ पान के िलये आमिनतत
कर रही हो। मैने भी िनशय कर िलया िक मै िनशा को उस
चम
ट सीमा तक पहुंचाउं गा िजसे उसने कभी पहले पार नहीं
िकया हो।

मैने उसकी चूत की िरार के िोनो तरफ अपने अंगूठे रखे
और पंखुिड़यो को खोला।
जैसे मै अपने लकय की तरफ बढा तो मैने िे खा िक
िबलकुल तैयार थी। गीलपन उसके शहि छोड़ने वाले
सुराख से िनकल कर सुराख के नीचे इकठठा हो गया था।
उसकी उतेजना की गंध मेरे नाक तक पहं ची और मै
अिधक इं तजार नहीं कर पा रहा था। मैने अपना मूंह
उसकी चूत पर रखा और उसके पयार के रस को िफर पीना
शुर कर ििया।
पुसी के पट खोल कर अपनी जुबान उस की चूत मे घुसा
िी। पुसी बहुत रसभरी थी।
"वाह कया सवाि है "
मेरी बात कोई इतनी खास नहीं थी पर मै पर मेरी बात
का असर हुआ....िनशा की मसती बढ गई. एक

खूबसूरत लड़की का सवाि लेते हुये इससे मजेिार

168

ओर कोई बात नहीं कर सकता.... खासकर जब वही
लड़की अपनी पितभाशाली जुबान और होठ आप के लनड
पर चला रही हो।
उसने अचानक मेरे लनड को छोड़ा और छटपटाने लगी।
उसका िजसम ऊपर नीचे जाने लगा िजस से मेरी जुबान
उसकी िकलटोरी पर रगड़ने लगी।
उसकी यह हरकत और भी तेज होने लगी और मेरी जुबान
उसकी रसभरी चूत मे िफसल कर जाने लगी। अब तक
चूत उतेजना से और भी चौड़ी हो गयी थी।
"मेरी पुसी को टं ग फक करो। अपनी जुबान अनिर बाहर
डालो"
मैने उसे िनराश नहीं िकया। मैने उसकी पयारी लातो को
और पीछे िकया िक वह अब उसके कंधो तक पहुंच गयी
थी। िफर उसके हाथो को पकड़ कर उसके िनतमबो पर
लाया और कहा.
"अपनी चूत को मेरी जुबान के िलये खोले।" उसने वही
िकया।
मैने अपने हाथो मे उसकी चूिचयां पकड़ी और उसके
िनपपलो को चुटकी मार कर उसकी उभरी उतेिजत चूत मे

अपनी जुबान को आरी की तरह चलाना शुर कर

169

ििया।
"ऊऊऊऊऊ हाय मां उफ। और करो। खा जाओ मेरी पुसी
को।
मेरै पुसी बस आपके पयार के िलये बनी है । जािलम और
मत तड़पाओ। और चूसो। टं ग फक करो।"
वह िबलकुल झड़ने की अवसथा मे थी और जोर जोर से
ऊपर धकके लगा रही थी। मैने अपनी जुबान उसकी चूत
को नीचे से ऊपर तक िफराया।
जैसे मै ऊपर की तरफ पंहुचा मेरी जुबान ने उसकी

िकलटोरी जो तन के खड़ी थीं को सहलाया तो उसने बहुत
जोर से हाय की और उसकी िे ह एकिम ऊपर उठी।

जुबान उसकी िकलटोरी पर रख कर अपना िसर जोर से
िहलाया।
मैने िकलटोरी को होठो के बीच भीच कर अपनी एक
अगुली उसकी चूत मे घुसाई। धीरे धीरे अंगुली को अनिर
बाहर करने लगा तािक और भी िकसी चीज के िलये
तैययार कर सकूं।
उसने उतेिजत आवज मे कहा "हां िे व मेरी पुसी को

िफनगर फक करो।

170

मेरी पुसी लगतार झड़ना चाहती है ।" मैने िनशा की
जायकेिार िकलटोरी को चाटता ओर सवाि भरे चूत रस को
पीता रहा
अगुली को उसकी चूत मे चलाता रहा। िफर मैने उसके
गमट गमट िरार मे एक और अंगुली घुसाई
िो अंगुिलयो से फक करना शर कर ििया।
िनशा जोर से कहराई और अपने मममो को िबाया अपने
िनपपलो को खींचो और अपने भरे बुबबो को मसलने लगी।
उसकी िे ह ने झटके खाने शुर कर ििये.
वो िोनो बूबस को बारी बारी चूसने लगी.....वो मसती से
सरोबार मचलने लगी.....मै उसे इस हालत मै िखकर
मसत होने लगा.
कमरा गमट अवाजो से भरने लगा
वो अपनी चूत को मेरी जुबान पर रगड़ने लगी। िनशा ने
अपनी लाते मेरे िसर पर लपेट लीं और करहा कर बोली "
मेरी पुसी और बिन को आग लगी है ।
ओह िे व।
हाय िे व।
चूसो।

मेरी पुसी चूसो।

171

मेरी गीली पुसी को और चूसो।
मेरी चूत को खा जाओ।"
उसके िनतमब झटके खाने लगे और अपनी चूत को मेरे
होठो के साथ रगड़ने लगी। उसने उतेजन मे बोला
"मेरे जानूं मेरी चूत और चूसो।
ओह हां। बहुत अचछा लग रहा है ।

और अंगुिलयां डालो।"

मैने एक और अंगुली डाली और तीन अंगुिलयो से चोिना
चालू कर ििया।
"चाटते रहो।
मुझे कुछ हो रहा है । एक तूफान पैिा हो रहा है ।
मै आई।.... मै आई।
हाय रबबो िकतना मजा आ रहा है ।
मेरा िनकल रहा है । चाटो। पुसी को चूसो। चूसते रहो।
मेरी चूत मे आग रग रही है । इसे बुझओ।
ओह िे व

अपनी अंगुिलयां और तेज चलाओ।

172

िस
ू रे हाथ से मेरे िनतमबो िबाओ।
उउउह ।

और। और।"
िनशा के शरीर ने एक जबरिसत झटका िलया और वह
िनढाल हो गयी। उसकी चूत ने ढे र सारा जूस उगल ििया.
मै उसकी चूत चाटता रहा और उसके सवाििशट रसो को
पीता रहा। वह धीरे धीरे झटके लेती रही और मेरे नाम को
पुकारती रही। इतने समय उसकी लातो ने मेरे िसर को
अपनी कैि मे रखा और मेरा मूंह उसकी चूत के साथ
िचपका रहा। जब उसे वािपस होश आया तो बोली
"िे व मेरे जानू। तुमने तो मेरी जान ही िनकाल िी। मुझे
पता है िक तुम चूसते ही नहीं चोिते भी बहुत अचछी तरह
से।"

मेरा लनड फुनकारे मार रहा था। िजस शहि भरी िरार को
मै इतने पयार से चाट रहा था अब वह उसमे घुसना चाहता
था। मैने कहा
"यह तो केवल शुरआत है ।"
"कया तुम अपना गमट गमट लोड़ा मेरी पुसी मे डालोगे। मेरी
पुसी तुमहारे िलये जूस से भरी हुयी है ।

173
जलिी से अपना लोड़ा मेरी पुसी मे डालो"
मैने उसके हलके शरीर को उठाया और सीधे करके िबसतर
पर िलटा ििया।
"कया करने की तैययारी हो रही है " उसने मुसकराते हुये
पूछा।

"आराम से लेटो िनशा। अब फक करने का समय आ गया
है ।
मै अब तुमहे चोिंग
ू ा।"

िनशा ने जलिी से हां की और अपनी गमट गमट िे ह को
उछालने लगी। उसकी चूत कारोड़ो की लग रही थी।
"िे व मै तुमहारे इस बड़े लौड़े से चुिवाने की और इनतजार
नहीं कर सकती।"
वह मुसकराई और बोली
"आिहसता शुर करना।
जब तुम अपना घोड़े का लनड इसमे डालोगे तो यह फट ना
जाये।"
उसने अपने हाथो मे मेरा लनड पकड़ा और जैसे मै उसकी

तरफ झुका उस ने मेरे लनड को अपनी चूत की ििशा

174

मे लगाया।
कराह कर बोली "आिहसता आिहसता।
मेरी चूत को तुमहारे बड़े डनडे की आित पड़ने िो।
बाि मे िजतनी जेर से चोिना हो चोिना।"
मेरे लनड के िसरे ने उसकी गमट और गीली सुरंग को छुआ।
मेरा तो मन कर रहा था िक एक ही धकके मे अनिर घुसा
िं ू पर उसके हाथ ने याि ििलाया िक उसने आिहसता करने
की मांग की थी। जैसे ही मैने अपना लनड उसकी गमट चूत
मे थोड़ा डाला उसने अपने िनतमब उछाले और मेरा लौड़ा
उसकी मकखन सी चूत मे अनिर तक घुस गया । उसकी
टाइट चूत ने मेरे लनड को अपने मे भींच िलया और
इलिसटक की तरह चौड़ी हो गयी।
मैने आिहसता आिहसता विपस धकके लगाने शुर िकये।
हर धकके के साथ िनशा ने वािपस जवाबी धकका ििया।
कुछ िे र मे जब उसकी पुसी को मेरे लनड की आित हो
गयी तो वह और जोर के धकके वािपस िे ने शुर िकये िजस
से मेरा लनड और अनिर घुसने लगा।
वह कराही

"मुझे और जोर से फक करो।

175

मेरी पुसी तुमहारे लनड से मरवाना चाहती है ।"
उसने अपनी बांहो का हार मेरे गले मे डाल कर कहा " िे व
मुझे जानवर की तरह चोिो।"
मैने उसके िनतमबो को पकड़ कर और तेज और जोरिार
धकके लगाये।
"मुझे फक करो िे व। मुझे जी भर कर चोिो"
वह बार बार कह रही थी।
मेने लंड िनकाला और वो पेट के बल लेट गई.
िनशा ने अपने हाथो से िनतमबूं को चोडा िकया.
यस िे व
लंड को शररत भरे अंिाज मे उपर से नीचे तक पूरी िरार
पर चलाने लगा.
..ओह िे व....सो...सवीट
लंड उसके बाउन होल पर राखी ििया....ओर िनशा
को धका लगने का इशारा िकया.....
यू नोटी....वो शरारत से मुसकराई.....िे व गलत जगह
है ...मेरे चूत मे डालो...
िनशा सच बताओ उपर वाले होल पर लंड को छूना
केसा लग रहा था.

ओह िे व उस छे ि मे आग थी....ओर उसने पीछे

176

मुडकर मुझे चूमा....पलीज िे व मुझे चोिो....मुझे
चोिो िे व....
िे खो मेरी चूत तरस रही है ...अपने लंड को मेरी चूत
मे लगाओ िे व....उसमे पूरा घुसा िो....चोिो िे व
चोिो
उसने हाथो से लंड पकडकर चूत पर लगाया...धकका
लगाओ िे व....ओह िे व....
लंड उसकी चूत मे समा गया गोल मुलायम िनतमब मेरी
जाघो से टकराने लगे...मुझे भी मजा आने लगा....उसकी
पतली कमर मेरे सामने थी
हे सामने िमरर मे तो िे खो
...या....मै मर जाउगी...फाड िो मेरी चूत को....जोर से
चोिो....मै भी जोरो से धकके लगाने लगा. हम िोनो पसीने
से तर बतर होने लगे
आिखर मेरे से रहा नहीं गया और मै िचललाया
"िनशा मै झड़ रहा हूं।"

उसने मुसकरा कर कहा "हां मेरी जान झडो पर मेरी पुसी
मे नहीं। मै तुमहारा रस पीना चाहती हूं।"

लणड से रस की बोछार उसके सारे बिन पर होने लगी.

ओह नौ...

177

उसने तुरंत उसे अपने मुंह मे अंिर तक ले िलया और
चूसने लगी...आंनि से मेरी आखे बंि हो गई ...कया यही
सवगट
या सवगट इससे भी मसत होता है ...वो मेरे उपर लेट
गई....मेरे लंड मे अभी भी तंनाव था
मेने उसे िफर से उसकी चूत मे डाल ििया
सो सवीट आफ यू...
मेरी चूत को भी अचछा लग रहा है ...एसे ही डालकर मेरे
पास लेटे रहो.....शाम होने वाली है ....डु बते सुरज की
रोशनी हमारे उपर पड रही है ....हम थकाने से िनढाल गहरी
नींि मे सो गए.
**************

मेने इं टरलाक खोला... मेरे कमरे का िरवाजा बंि है ...

178

ओह तो जनाब अभी तक मेरे कमरे मे है .मेने जैसे ही
िरवाजा खोला...जो िे खा मेरे तो होश उड गए.िनशा िे व के
उपर लेटी हुई है . िे व का लंड अभी भी िनशा की चूत मे है .

िोनो गहरी नींि मे. मेने धीरे से िरवाजा बंि िकया अपनी
उखडती सांसो को काबू मे िलया ओर िनशा के कमरे मे आ
गई. िे व के सटे िमना की िाि िे नी पडे गी. साला िमिार है .
रात भर मुझे चोिा....ििन भर िनशा को चोिा. अब िोनो
सो भी रहे है . तो लंड ने अभी भी िनशा की चूत का साथ
नहीं छोडा . ...मसती...मै पागल हो उठी....मन करा की
अभी जाकर उनके साथ ....पर जािलम िे व का सटे िमना
मुझे मालूम था....
ििन भर कालेज मे रात की चुिाई की मसती छाई
रही...रह रह कर मुझे चुिाई बचेन करती रही. उसका
गमट मोटे लंड का एहसास मुझे बेचेन करता रहा.
शावर मे भीगते हुए उससे चुिना....इससे पहले एसी
चुिाई कभी नही हुई...सपने मे भी नही...उसके बाि

रात भएर की चुिाई....िनशा सच कहती है ....मोटे गमट
लंड की चुिाई के आगे सब बेकार.....अगर रात को
चुिाई का मजा लेना

हे तो आराम भी जररी है और

वेसे

भी वो लोग भी गहरे नीि मे है .

179

वो जागे उससे पहले मुझे भी एक झपकी लेनी है .....
थकान और मसती छाने लगी सपनो मे खोइ हुइ गहरी
नींि मे सो गई .
*********

पाटी िे र रात तक चली. मै अपने साथ िे व और

180

लीना को भी ले आई गई. हम तीनो ने पाटी मे खूब
मजे िलए. लीना ने साडी पहनी हुई है वो उसमे परी

सी सुिंर लग रही है . मे अपने फेवरे ट डे िनम माइिो
सकटट ओर टाइट लो कट टाप मे हू....जवानी के

जलवे ििखाने के िलये इससे अचछी कोइ डे स नही.
लीना ओर मे पाटी का अटे कशन बन गई. लडको मे
हमे पटाने की होड लगी है . शराब और हमारे जैसा
बेहतरीन शबाब. इन पाटीयो का जान होता है ...मजे लो
और मजे िो. थोडे ही समय मे लीना पाटी की जान
बन गई. लडके उसके आगे पीछे मडराने लगे. वो भी
इन सब का खुलकर मजा ले रही थी. मेने िे खा एक
िो से वो घुलमल कर बाते भी कर रही थी. िे व
सारा समय अपने मे ही मसत रहा. बस वाइन पीता
रहा ओर पाटी की रोनक का मजा लेता रहा. पाटी
का भरपूर मजा लेकर िे र रात को हम वापस आए.
घर के अिं र घुसते ही हम तीनो का जानवर जाग उठा.
हम तीनो ही मसती के मूड मे जो थे एक तो शराब का
असर ओर उस पर यह जवानी...िे व ओर लीना को

साथ पाकर मेरी तो रग-रग मे मसती मचल

181

उठी.
अिं र आते ही ...हम िोनो िे व से िलपट गए. उसने बाहो
मे कस कर मुझे ओर लीना को करारा िकस ििया.
लीना.... यार इस पाटी मे तुम,अ िोनो को ही िे खता
रहा . तुम िोनो जेसा खूबसूरत कोई नही था. सच
तुम िोनो पाटी की जान थे. अब तुम िोनो मेरी
जान बनाया जाओ...अब रात को कोई एकसकयूज
नही.
कया तुम िोनो पयार के िलये तैयार हो...मसती के
िलये तैयार हो...मे तुम िोनो को एक साथ पयार करगा
...."से यस"
हम िोनो भी तो यही चाह रही थी. मेने ओर लीना ने
एक साथ हां मे गरिन िहला िी.
लीना से उममीि कम थी. पर वो मेरे से पहले हां मे गरिन
िहलाने लगी.
तुम िोनो मेरी पयारी सहे ली हो....
अपने िोनो हाथो से हम िोनो के चहरे पकड कर करीब
लाया और बारी बारी से हमारे होठो का रस पान करने

लगा. हम तीनो की जीभ आपस मे टकरकने लगी.

182

मेने ओर लीना ने िे व जीभ को एक साथ अधा- आधा
लेकर चूसने लगे.
कया तुम िोनो इसी तरह मेरे लंड को भी चूसोगी........
कयो नही !
लीना और मेरे हाथ एक साथ िे व की िजप पहुच.े ..िे व
का लंड का हमारे हाथ जायजा लेने को बेचेन होने

लगे...हमारे हाथो का िबाब ....उसको सहलाना उसमे
आग भरने लगा....
उसकी बाहो ने हमारी कमर को थाम िलया. उसका
कसाव हम िोनो पर बढने लग. .
हम तीनो ही मसती की आग मे जलने लगे. लीना से
मेरी आखे िमली. लीना की सेकस की पयास ने उसे
और सुिंर बना ििया.
लीना की आखो मे सेकस की भूख िे ख मेरा ओर भी
हाल बुरा होने लगा . जािलम के बूबस उसके बलाउज
से िनकलने को बेताव ...साडी का पललू िखसक कर
नीचे िगर गया. हम िोनो ने िे व के जींस की िजप एक
साथ खोली.

िे व की जींस नीचे िखसक गई.

183

ये कया..उसने मेरी पेटी पहनी हुई थी. पेटी फट पडने
को तैयार. मेरी नाजुक पेटी कैसे संभाल पाती उसके
लाजबाब लंड को.
यू नाटी िे व....बहुत कयूट लग रहे हो इस पेटी मे.
या बेब आइ नौ िे ट
तभी अचानक उसने भूखे भेिडये की तरह लीना को
िबोच िलया...मे है रान हो गई.उसने िोनो हाथो से
उसके नाजुक बलाउज को चीर ििया और उसके बूबस
पर पागलो की तरह टू ट पडा. और वो पीछे की तरफ
झुकती चली गई. मेने पीछे से लीना की कमर मे बाहे
डाल कर उसे सभांला.
उसे ना संभालती तो नीचे िगर जाती.लीना पहले तो
चोकी िफर मसती मे डू ब गई. मेने उसके पेटीकोट का
नाडा खोल ििया. पेटीकोट उसकी िचकनी जांघो पर से
िफसलता हुआ नीचे िगर गया, िचकनी जांघो पर मेरी

उगिलया िफसलने लगी.....लीना अब िसफट पेटी मे थी.
मेने नीचे झुक कर पेटी के उपर से उसकी चूत को चूम
िलया. लीन मचल उठी.

मै िोनो के बीच थी....मेरे एक तरफ लीना की

184

पयासी चूत...और िस
ू री तरफ....िे व का सनसनाता

लंड मेने िे व के लंड पर हाथ फेरा....और लीना की चूत
को जीभ से पेटी के उपर से सहलाने लगी.
नाइलोन का गीला पन अचछा लग रहा था. रस की
भीनी सुगंध मुझे पागल बनाने लगी.लीना को भी
मसती मे टागे चोडी कर ली....
हाथ से मेरे िसर को चूत पर िबाने लगी. उसकी
िससकािरया सांसो की अवाज कमरे मे गूजने लगी.
मेने उपर नजर उठा िे खा ...िे व पागलो की तरह उसके
बूबस को चूस रहा है .
लीना आखे बंि िकए चुसवाने का मजा ले रही है .
उसकी चूत बता रही थी है वो पूरी तरह गमट हो गई.
िे व मेरी तरफ घूमा.
अब मेरी बारी आ गई. उसके दखने की सटाइल से ही
मेरे अंिर िसहरन िोड गई. िे व मेरा भी टाप फाडता
उससे पहले ही मेने तुरंत टाप को अलग कर बूबस िे व के
होठो से लगा ििए....
ओर वो हं स ििया...
.इनहे जी भर चूसो िे व. िे व की सटाइल ने हम िोनो की

पयास और बड़ा िी.मेरे बूबस को वो बेहताशा चूसने

185

लगा....लीना अब मेरी टागे के बीच मे आ गई.
मेरी सकटट की चेन खुलते ही वो नीचे िगर पडी.
जालीिार नाइलान पेटी से झकती चूत की नाजुक
पखुिडयो पर लीना के होठ िचपक गए. मेरी टांगे
कमजोर होने लगी....पर िे व मुझे थामे रहा लीना की
जीभ मेरे अिं र आग भरती रही...मै अपने को ओर
नही सभांल पा रही थी.....ओर वही सोफे पर बेठ
गई.िे व ििवानो सा मेरे बूबस पर टू टा पडा....और लीना
के नाजुक होठ मेरी पुससी िलपसस के अिं र तक समा
गए. आज की रात....हम तीनो के िलए यािगार रात हो
रही है .
ओ......ह.......िे ................ली....ना....िकस मी
हाडट .....हे
कम ओन बेबस िकस माय िनपपलस...िे व ने अपनी
शटट खोलते हुए कहा.

िे व ने हम िोनो की कमर मे बाहे डाल कर अपने िोनो
तरफ बैठा िलया.मेने धयान से िे खा....िे व के िनपपलस
के आसपास के बाल साफ थे. उसके िनपपलस तने हुए
है िबलकुल हमारे िनपपल की तरह.

हम िोनो उसके िनपपलस को चूसने लगी.

186

ओह यस....िे व ने मसत होते हुए कहा....
या डू इट, ि वे आइ डू टू यू....

हमारे होठ उसके िनपपल पर और हाथ उसके लंड पर.
उसके तने हुए िनपपलस पर लीना ओर मे कमाल ििखाने
लगे. हम वेसे ही चूस रहे थे जेसे िे व से हम अपने बूबस
चुसवाना चाह रहे है . बीच बीच मे लींना और मै िांतो
से काट रहे थे...उसे मजा आने लगा
या एसे ही चूसती रहो...,. वो हमे उकसाने लगा. हमे भी
मजा आने लगा. िे व को पागल ओर मसत करना जररी
हो गया, तभी तो वो हमारी चुिाई जम कर कर पाएगा.
िे व की सांसे गहरी होने लगी....वो मसती मे डू बने
लगा.
मै चाहती थी िक वो हमे चोिने के िलए पागल हो जाए.
पागल मसत सांड की तरह. लंड के रस से हमारे हाथ
गीले होने लगे. उसकी िससकारीयां लमबी और गहरी
होने लगी.हम िोनो भी मसती मे सरोबार होने लगी.
लीना की मसती को िे खकर मुझे उस पर पयार आने
लगा. वो बहुत ही सुिंर लग रही है .

आइ वांट टू मेक लव टू यूह हनी ...मेने लीना की तरफ

बेठते हुए कहा.

187

लीना मेरे और िे व के बीच आ गई. मसती मे उसकी
आंखे बंि...गहरी सांसे....मसती मे मिहोश. हम उसके
बिन से खेलते रहे
मेने उसके एक बूब को िोनो हाथो से कस कर पकडा.
वो फूल कर गोल हो गया. िनपपल तन गये. और मेरी
जीभ िनपपल से खलने लगी.ओह िनशा...यू आर सो
परफेकट.....डू इट मोर....अपने िातो से होठो को
काटते हुए बोली.

मेरी तरह िे व भी अब लीनी के बूबस के साथ वेसा ही
कर रहा थी
.....लीना का शरीर मसती मे तन गया.....उसकी
िससकारीया गहरी होने लगी.
िे व ने अगुठा लीना की चूत मे ओर बीच की उगली
उसके बाउन होल मे डाल िी.
ओह गोड.....िे व तो इसे पागल कर िे गा.
ओह िे व मुझे मजा आ रहा है .....िे व मेरी पयास
बुझाओ....मुझे मसलो....िे व मुझे चोिो...लीना जोरजोर से िचललाने लगी..मुझे चोिो िे व...आइ वांट यू इन
मी....

.ओह िनशा सक…मी डीप..लीना ने बूबस को मेरे

188

मूह मे डालते हुए कहा.

वो हम िोनो के बीच मे मचलने लगी.
िे व ने उसे गोि मे उठाया...ओर बेडरम की तरफ चल
ििया.
मेने िफजट खोलकर वाइन की बोटल िनकाली....अब
हमे इसकी जररत थी.
******************

मेने सपने भी नहीं सोचा था िक यह टीप इतनी

189

जानिार होगी. मुझे तो भरोसा भी नहीं था िक िनशा
नाम की कोइ लड़की मुझे लेने भी आएगी. सब कुछ
सपने सा लगता है . लीना मेरी बाहो मे मचल रही है
और िनशा
....ओह िनशा!
"िनशा तुम कहा हो!"
"जसट वेट हनी"
शायि हमारे िलए वाइन लेने के िलए िफजट खोल रही
है ...
थीसम तो मे सोच भी नहीं सकता था वो भी िो शानिार
लडकीयो के साथ. िोनो मसत मेरी तरह सेकस की
िीवानी ...मेरे सामने लीना की गमट जवानी मेरे लंड
से खेल रही है . गुलाबी होठो के बीच अिं र बाहर
जाता लंड िे खकर मे मसत होने अगा. लीना मेरे लंड
की ििवानी हो गई . लंड की ििवनी तो िनशा भी है .
िनशा कम बेबी. कम
लीना की कमर को अपनी तरफ खीचकर उसकी
टागो को कमर के िोनो तरफ िकया ओर चूत को

लंड के ठीक सामने िकया . िो बार की चुिाई

190

मे ही चूत मेरे लंड के लायक हो गई . चूत की
िलपस पर लड को आगे पीछे करने लगा. मुझे उसे
टीस करने मे मजा आ रहा है ओर लंड को लुबीकेट
करना भी जररी है . इसी बहाने मे लंड को चूत के
जूस मे पूरा गीला करने लगा.
िे व डोट टीस मी.

उसने अपने हाथो स लंड को चूत

के अिं र ठेलते हुए कहा.

मेरे एक झटके मे लंड पूरा समा गया....लीना की
चीख िनकल गई.
ओह गाड तुम तो लीना को मार िोगे....िनशा ने मेरे
गालो पर कस कर चुबंन लेते हुए कहा.

वो कुछ िे र तक हमे चोिता िे खती रही....
उसके हाथ मे वाइन के पूरी बोटल .... वो हलकेहलके घूट ले कर

मुझे लीना को चोिता िे खने लगी

.
लीना की आखे मसती मे बंि मसती मे लमबी सांसे
....उसके बूबस उपर नीचे होने लगे... . वो िोनो
हाथो से अपने बोबस मसलने लगी...इनमे आग लगी
है ....

ओह िन....शा तु....म...क...हा....हो......

191

मेरा गला सूख रहा है . मेने िलशा को वाइन पास
करने का इशारा िकया.
उसने शरारत भरे अंिाज मे मुझे िे खा. ओर वाईन
से अपने बूबस को गीला िकया ओर हम िोनो के
बीच मे आकर उसने बूबस मेरे होठो से लगा ििए
सक इट बेबी
उसकी चूत ठीक लीना के होठो को टच करने लगी.
मे बारी-बारी से उसके िोनो बूबस को चूसेने लगा. वो
उन पर ओर वाईन डालती रही.
मुझे वाईन पीलाने के इस अंिाज ने मसती से भर
ििया.
मै पूरी मसती मे लेना को चोिने लगा.
लीना िनशा की चूत को चूसने लगी. उसकी बाडी
पूरी तरह हवा मे आ गई. मसती मे पूरी तरह अकडी
हुई....हाल मेरा भी एसा होने लगा.

हम तीनो की िससकारीया से कमरा भरने लगा.
लीना को वाइन की जररत है ...उसे भी वाईन िो
यार.
िनशा ने थोडी वाईन अपनी नाभी पर उडे ल िी.

वो

चूत के िलपस पर से होती हुई लीना के होठो

192

पर िगरने लगी.

वो चूत रस िमकस वाइन का मजा लेने लगी. िनशा
का अकङता िजसम बता रहा था वो पूरी मसती मे
है . लीना का चूसना जयािा अचछा है या मेरा....मेरी
मसती का आलमा ना था....मै िो मिसतयो की चुिाई
मे मसत.....वाइन पीने लगा.
पहले इस तरह वाईन पीने का अंिाज नही सोचा ....
नया सटाइल

मै ओर लीना िोनो ही इसका मजा

लेने लगे.
बोटल खतम होते ही उसने फेक िी ओर पलट कर
लीना के उपर डागी सटाइल मे हो गई,.
िनशा के िनतमब ओर लीना की चूत मेरे सामने हो
गए
मेने लंड को लीना की चूत से िनकाला. उसकी चूत
रस से सरोबार लंड

मै िनशा के िनतमबो की िरार

मे उपर नीचे करने लगा.
बाउन होल को छूते ही जेसे उसे करं ट लगा. उसके
िनतमब िसकुड गए...
यू नाटी....उसने मेरी ओर घूमकर मुसकरा कर कहा.

ओर मे ििवानो की तरह कभी लीना को तो

193

कभी िनशा को चोिने लगा.
हम तीनो अपने चरम पर थे.....
मेने िनशा के कमर मे हाथ डालकर उसके िनतमबो
को उपर उठा िलया. ओर उस पर अपने िांत गडा
ििए...,.
िनशा के बिने मे ििट की लहर िोड गई. फीर भी वो
िनतमब मेरे मूह पर िबा रही थी....उसे मेरे काटने
मे मजा आ रहा था. ििट ओर मसती की लहर. मेने
बारी-बारी से उसके िनतमबो पर िांत गहराई तक
गडाता रहा...वो मसती मे चीखती रही...िचललाती
रही.
मेरे धकके ओर बेििट होने लगे.....हम तीनो ही चरम
आने लगे.
लगा मे झडने वाला हू
ओह माइ गाड

....आ...आअ.....आ...इ..इ...ई....ए.....म.......क...िमं.
...ग
ओर मे

उन िोनो के बीच मे लेट गया....िोनो ने

तुरंत मेरे लंड को थाम िलया. िोनो के गुलाबी होठ

मेरे लंड पर लगा ििए.

194

िोनो मेरे जूस की एक-एक बूि पीने को तैयार.
ओर मे बलासट हो गया.....िोनो के चहरे मेरी जूस की
बोछार से भीग गये.
आखरी बूंि तक वो मेरे लंड को चूसती रही....िफर िोनो
एके िस
ू रे के चहरे पर पडी बूिो को चूसती रही.

मेने खीचकर िोनो को अपने उपर िलया....ओर बारी-बारी
िोनो को पागलो की तरह चूमने लगा.
मेरे िोनो हाथ लीना ओर िनशा के िनतमबो की िरार मे
थे....बीच की उगली चूत मे...ओर अगूंठा बाउन होल
मे.....उन िोनो को मेने अपने ओर नजिीक खीचा...
िोनो की गमट सांसे मेरी गिट न से टकरा रही थी.
मेने अपने उगली को चूत से िनकालना चाहा तो िोनो
ने रोक ििया.
मुझे मालुम था इससे उनकी थकी हुई चूत को बहुत
आराम िमल रहा था.

मेरे अगूठे पर िोनो की बाउन मसलस अब रीलेकसड थी
हमारा तीनो ही इस गेट सेकस पले के बाि मसती की
थकान मे थे.....
िोनो के एक-एक हाथ मेरे लंड पर िस
ू रे मेरे गाल पर

...िोनो मेरे िनपपलस पर अपनी गीली जीभ का

195

कमाल ििखा रही है . मेरे लंड मे िफर से गमी भरने
लगी.....
ओह गाड ....इट सीमस यू आर रे डी अगेन ....िोनो की
आंखो मे शरारत भरा आशचय था.
ि वे यू वर पलैईग िवथ माइ िनपपल....
आइ वोट लीव यू लाइक ििस...!
नोट अगेन .....पलीज....िोनो के होठ मेरे होठ से िचपक
गये.
िो ििन के लगातार सेकस से मुझे भी थकान होने
लगी....शरीर आराम मांग रहा था...
पर ििल मागे मोर मेने िोनो को अपने िजसम से िचपका
िलया.....!

िे व गायब
मेरी नींि खुली िप
ु हर होने को आई लीना गहरी नीि मे
थी. िे व िबसतर पर नही था. शायि बाथरम मे होगा.

मे बेड रे सट के साथ िटक कर अभी तक के एपीसोड के
बारे मे सोचने लगी.
घर पर मै लडके को रीजेक़ट कर के यहा सीधे वापस आ

गई थी. थीसम मेरा पहला एकसपलोडींग

196

एकसपीरीयंस था. लीना ओर मेरे बीच मे लेसबीयन
सबंध बनाया गया था.
अब लीना मेरी मसत सेकस पाटट नर बन गई.
....मेरी सवीट लीना. ...मुझे उस पर पयार आने लगा....पर
यह िे व कहा है ....शायि बाथरम मे होगा
मेने लीना को िे खा...उसके चेहरे पर मासूम
मुसकराहट थी...मुझे उस पर पयार आने लगा.
झुककर उसके होठो को छुआ...वो कुनमुनाई अभी
भी गहरी नींि मे थी....बेचारी....उसके बालो को
सहलाया...तभी मेरी नजर बालो के नीचे िबे िलफाफे
पर पडी उस पर मेरा ओर लीना का नाम िलखा हुआ
था. मेने धडकते ििल से उसे खोला...

अरे यह तो िे व ने िलखा है ..मे उसे पढने लगी
माइ सवीट िनशा/ लीना
जब तुम यह पत पढ रही होगी तो मे तुमसे िरू वापस जा
रहा हू. एक पत तुमने िलखा था. अब मेरी बारी है . िनशा
अब तुम सबसे पयारी िोसत हो, लीना के रप मे तुमने

मुझे एक हसीन सपना ििया.. मेरा वापस जाना जररी
था. इसिलए जा रहा हू. जाते वक मे तुम लोगो को फेस

नही कर सकता था. इसिलए िबन बताए जा रहा हू.

197

तुमसे बिला भी जो लेना था. :)

सच मुझे बुरा लगा था जब तुम मुझे छोडकर चली गई
थी. वो तो भला हो लीना का.
एंड थेकस फोर िगिवंग मी लीना
वेसे भी मै कया कारण .. अपनी नई -नई िोसत लीना को
बताता.
तुमहे केसे समझाता. ओर केसे अपने को समझाता.
आइ कांट बेबी ..आइ कांट फेस!
मे तुम िोनो को इस तरह छोडकर चला आया िजससे तुम
िोनो यह फेसला ले सको िक इस अनाम िरशते को यो ही
जारी रखना है या इस सपने को यही खतम हो जाने िे ना
है ...या िफर यह िोसती एसे ही कायम रहे . फेसला तुमहे
ओर लीना को लेना है . फेसला अपनी मजी से ले सको.
इसिलए इस तरह छोडकर जा रहा हू. उममीि है तुम मेरे
बात समझ पा रही हो.

तुम समझ पा रही हो ना िक इस तरह तुमहे छोडकर
जाना िकतना किठन रहा होगा
अब सब कुछ तुमहारे उपर है . तुमहारे ना कहते ही हम
िफर कभी नही िमलेगे, तुम िसफट मेरे सपनो मेरी यािो

का िहससा रहोगी. पर मुझे तुम िोनो की हां सुनकर

198

खुशी होगी. लीना को बताना िक मे इतना बुरा भी नही.
अब तुम हां कहो या ना....तुम िोनो अब मेरे यािो का एक
हसीन िहससा हो.
हे अब नाराज नही होना. मे तुमसे भागा नही हू बस
तुमहारी हां का इितंजार है .....िे व
मै एक सांस मे उसे पुरा पढ गई.
िे व तुम एसे नही जा सकते. हो सकता है उसकी शरारत
हो...वो एसे केसे जा सकता है , मै उसे िे खने बाथरम की
तरफ चल िी. वो वहा पर नही था. मेने पूरा घर छान
मारा ...िे व कहीं नही था. मै रआंसी होने लगी.
मै फेश होकर वापस िबसतर पर आई. लीना अभी भी सो
रही है . मायुस मन से मेने लीना को जगाया...."उठो िे व
चला गया..."
वो िे व का नाम सुनकर झटके से उठी..”कया कहा तुम ने
िे व के बारे मे...ओर ये िे व कहां है ”
"लीना िे व चला गया..."
"कया...मतलब िे व चला गया का"....
मतलब यह की िे व चला गया...सपना पूरा हुआ, अब

जाग जाओ!

199

वो भी कनफयूजड थी....हम िोनो को बुरा लगा...उसने भी
लेटर पढ िलया था
मने अपने को समझया .....लीना वी कूल..लीना अपने
कमरे मे चली गई....पूरा माहोल मे मायूसी छा गई.
मेने अपने को समझाया ..िे व बुरा नही है ...उसने शायि
ठीक ही िलखा है . मे फेश होने बाथरम मे घुस गई. हम
िोनो बाहर जाने के िलए िनकले ही वाले थे िक िरवाजे
की बेल बजी...इस समय कोन है !
“लीना पलीज िे खो कोन है !”
िे व!!!...िे व!!
यह लीना की अवाज है ...
ओह िे व तुम ने तो हमे मार ही डाला.....मै जलिी से कमरे
से बाहर आई.
“िे व अब तुम कयो वापस आए हो...चले जाओ...मेने
गुससे से कहा.”
“िनशा....मे वापस गया ही कब था यार...”
“पहले इसे कबूल करो....उसने हम िोनो को गुलाब की
सुिंर कली भेट की....हे पपी फंिडशप डे ...”
वाट...आज फंिडशप डे ....है .

...ओह या...14 फरवरी....”ओह िे व..यू

200

नाटी....हमारी तो जान ही नोकाल िी” हम िोनो िे व से
िलपट गई....
“मै तुम िोनो को इस तरह छोडकर कसे जा सकता
था....मेरी ििुनया की सबसे हसीन बेबस के साथ पयार
करके कोई गुनाह तो नही िकया .”

“यस िे व यू आर सो सवीट...हमे माफ कर िो...”
“यू इडीयटस नो माफी वाफी.....हम िोसत है ...सचचे
-िोसत...उसने हमे िोनो को भीचते हुए कहा. “
"बेशकीमती िोसत "

“सबसे हसीन पल तुम िोनो ने मुझे ििए.... तुम लोग
मेरे िलए अनमोल हो....तुम िोनो कही जाने वाली हो
कया.!”
“हां खाने ...”
“अब जाना केिसल. खाना मे साथ लाया हू....”

”हां अब हम कही नही जाएअगे...ओर अगर जाएगे तो
साथ-साथ....”लेना ओर मे साथ-साथ बोली....ओर
मुसकरा िी
“तुम िोनो इतनी मरी-मरी सी कयो हो यार....” िचयर
अप....आज फेडिशप डे हे यार....उसे शान से

मनायेगे”

201

सच िे व के ना होने से हम उिास हो गए ....पर अब तो वो
हमारे पास है .
“लेटस हे व फन...एंड फूड”
खाना पेट मे जाते ही मेरे अिं र मसती भरने
लगी....आज िे व कया करने वाला है ....मै ओर लीना िे व
के साथ कया करे .....मेरी आंखो मे वासना की चमक आ
गई.मेने लीना को िे खा एसा ही कुछ हाल उसका होने
लगा.
अचछा सुनो....यह िे खो यह कया है ....उसने पकेट खोलते
हुए कहा.

यह तो मसाज आयल की 2 लीटर की बोतल है .....उसे
िे खते ही...मेरे अिं र मसती भरने लगी....मेरी ओर लेना
के मसती से हालत खराब होने लगी
कोन पहले मसाज कराएगा. उसने हम िोनो को शरारत
से िे खते हुए कहा.

मन कर रहा था अभी सारे कपडे फाडकर उसके सामने
चले जाऊँ ओर बोलू पहले मुझे.....
ओह िे व यू डीसाइड
ओके...तुम िोनो डे स चेज करो...जो सबसे सेकसी डे स मे

होगा मसाज उसकी होगी....वी फासट....

202

ओर हम िोनो अपने कमरे की तरफ भागी.
िोनो के अिं र जाते ही मेने भी अपने कपडे उतार ििए. मै
अब बलेक माइको मे था. मेने नीचे फलोर पर बाथ
टावल िबछा िलए. सेसुअल मसाज मयुिजक सीडी लगा
िी. बोटल के साथ फी िमली. उसका कवर िे ख कर समझ
गया था िक वो मेरे काम की चीज है . मयुिजक ओन होते
ही मै समझ गया िक मे गलत नहीं था. सेकसी मसाज
के िलये बेसट सीडी. मेने वोलयूम बडा ििया.... मै सेकसी
ओर सेसुअल मसाज के िलये तैयार था
सबसे पहले लीना कमरे से बाहर आई. मै उसे िे खता रह
गया. पूरी सेकस बमब . उसने सफेि चुनरी से को साडी
की तरह लपेटा हुआ, छोटी सी चुनरी िकसी तरह
उसके बूबस ओर पुससी को कवर कर पा रही है .

उसके एक-एक कवट को साफ िे ख पा रहा हू. उसकी

इमेिजनेशन जबरिसत थी. मेने उसे चारो ओर से घूमकर
िे खा. उसने चुनरी िनतमबो से िचपकी हुई उसके
िनतमबो की गोलाई को पूरी तरह उभार रही थी.

चुनरी उसके सीने की गोलाइयो ओर उसके िनपपलस

पूरी तरह उभार रही थी. कमर पर

बहुत नीच

203

बांधे होने के कारण उसके नाभी के चारो ओर पडते
बल ... खुली जांघे....गजब की मािक ..गजब की
सेकसी.
गेट आयिडया.
लीना यू लुक हाट...2 हाट बेबी.... तो तुम तैयार हो
आयल मसाज के िलए....पर उसके बाि चुिाई भी
होगी.....!
”मै मसाज के िलये तैयार हू ओर चुिने के िलये

भी.....” लीना ने अपने बूबस को सहलाते हुए कहा.
“तुम कब मसाज करोगे....ओह िे व....”

लीना की मसती िे खकर मे उसे मसलने के िलये
बेकरार होने लगा.
”कब िबाओगे इन शेतानो को! कब करोग इन पर
मसाज..बोलो िे व ..कब करोगे”
पर िनशा कया कर रही

हे अब तक!

लीना मयूिजक पर िथरकने लगी. ओर मै उसे िे खने
लगा....लगा की लंड माइिो फाडकर बाहर आ जाएगा.
उसकी सेकसी अिाए मेरे अिं र आग भरने लगी. वो मुझे

सीडयूस करने लगी. आगे बढकर वो मेरे ठीक सामने

204

आ गई. सेट की खुशबू मुझे मसत करने लगी....वो मेरे
िनपपलस चाटने लगी......िजससे िक मे उसे मसाज के
िलए चुनु. उसने बूबस को िोनो हाथो से उठाकर िसर को
पीछे की तरफ झटक ििया. लगा की बोबस िनकलकर मेरे
पास आ जाएगे.
मै अपने लंड को सहलाने लगा. उसे मुझे टीस करने मे
मजा आने लगा. मै अपने को िकसी तरह रोका
तभी िनशा आई. उसको िे खकर हम िोनो की जेसे
धडकने रकने लगी. उसने सटींग िबकनी पहनी हुई

है ....सफेि .....मोितयो की माला से बनी िबकनी. पेटी
िसफट तीन मोितयो की माला से बना टे गला उसके
पुससी िलपस के बीच गुलाबी पन को ढक नही बलकी
उभार रहा था.....उसने पुससी िलपस को िो भागो मे
बाट रखा है . . उसके पुससी िलपस गजब के सुिंर ििखाइ
िे रहे है . चूसने को िावत िे ते पुससी िलपस. लीना भी
डांस रोककर उसे ही िे खने लगी. मोितयो की बा इस
तरह की उसके िनपपलस की जगह खाली
रहे ....िनपपलस के चारो ओर बनी मोितयो की माला
उसके बूबस को बेहि मािक बना रहे है ..तने हुए

चूसने को तरसते िनपपलस, मेरी सांसे रकने लगी.

205

बा ने उसके बूबस उपर उठा ििए ....तने हुए
बूबस....िनशा गजब की मसत ििख रही है .

मेने मसती मे अपनी माइिो को फाडते हुए.....िोनो
बांहो को फेलाकर उनहे अपने पास बुलाया.....मेरे
उफनते लंड को िे खकर वो सकते मे आ गई....
हे भगवान मे सवगट मे हू.....ओर मेने बाहे फेलाकर िोनो
को अपने पास बुलाया.

तुम िोनो ही फसट
ट हो अब जो मेरे लंड को पहले टच
करे गा मे उसे पहले मसाज िंग
ू ा...वो िोनो मेरी

हालत िे खकर मुसकरा िी....ओर एक साथ अगे बडी
ओर मेरे लंड को जकड िलया.
ओके..ओके... मै ....मे िोनो को ही मसाज िंग
ू ा ओर
तुम मुझे िोगी....

हां हम एक िस
ू रे को मसाज िे गे....िनशा ओर लीना एक
साथ बोली....

बोटल मे नोजल लगाकर....सबसे पहले मेने बोटल की
नोजल िनशा के बूबस पर चालू की.....तेल उसके बूबस
पर िगरने लगा....लीना के हाथ िनशा के बूबस को मसाज
िे ने लगे....मे तेल डालता गया.....बूबस को पूरा तेल से

नहला ििया....लीना को भी मेने उपर से नीचे तक

206

तेल मे िभगो ििया....उसकी चुनरी तेल से भीगते ही
उसके बिन से िचपक गई...िोनो बूबस गमाट-गमट
मसाज के िलये तैयार..िनशा को भी मेने नीचे से
उपर तक तेल से नहला ििया वो अब पहले से
जयािा मािक लगने लगी. लगा िक मै पागल हो
जाउ .बोतल आधी खाली हो गई. मेरे हाथ िोनो के
िजसम पर मसाज िे ने लगे. िोनो की गहरी सांसे बता
रही थी. वो पूरी मसती आने लगी. मेरे हाथ उनके पूरे
बिन मे मसती की आग भरने लगे....हाल मेरा भी
खराब होने लगा. िोनो टावल पर लेट गई ओर मे
उन िोनो के बीच मे...मै िे रे तक उनहे फंट मसाज
िे ता रहा...िोनो मसती मै सरोबार उसका मजा लेने
लगी...जब –जब हाथ उनके बूबस पर जाते तो वो
मचल उठती...पेट ..नाभी.....मेरे हाथ उनके सपाट
पेट पर िफसलने लगे. गहरी नाभी.....मे उगिलया
िालकर...मसती की गुिगुिी भरने लगा....लगा सबसे
जयािा मजा उनहे उसी जगह आ रहा है . वो बार-बार
मेरे हाथ अपने पेट ओर नाभी पर लेने लगी. उनके
िजसम पर िफसलते हाथ....मेरी मसती को िग
ु ना कर

207

रहे है ...मेने िोनो को पलटने को कहा.....
िोनो के सेकसी िनतमब मेरे समने आ गये....मे
उनपर तेल उडे लने लगा....उनहे बचे तेल से

पूरा

िभगो ििया.....मेरे उगिलया उनमे मसती की आग
भरने लगी....वो मसती मे िनतमब उपर उठाकर मजा
लेने लगी. िोनो की जांघो को सहलाती
उगिलया....उनकी िससकारीया बता रही है .....की वो
मसती मै है . बीच-बीच मे मै उनके पुससी िलपस को
सहला िे ता....चूत रस उनकी मसती बता रहा है
अब मै िोनो के बीच मे आ गया....िनशा ने तेल भरे
बूबस से मेरे तन की मसाज शुर की...उसको िे खते
हुये लीना ने भी अपने बूबस पर टे लीफोन िालकर

मेरे से िचपक गई...िोनो ने मेरे उपर तेल लगाना शुर
कर ििया. हम तीनो ही तेल से सरोबार हो गए. मयूिजक
अभी भी चालू था.....सेकसी मयूिजक उसमे से आती
चुिाई की आवाजे....सेकसी चुिाई की आवाजे . जो
मसती को िग
ु ना कर रही है . जो हम नही कह पा रहे थे
वो मयुिजक कह रहा है . वो िोनो टावल पर लेट
हुई...मुझसे मसाज का पूरा मजा ले रही है .

मे िोनो के बीच मे जगह बना कर बैठा हू. मै एक बार

िफर उनहे पलटने के िलए कहता हू. उनके

208

पलटते ही हमारी एक बार िफर आंखे िमलती
है ....उनकी आंखे

बोल रही है िक मै मसाज करता

रहू.

िोनो के बूबस पर हाथ लगते ही उनहोने मसती मे बूबस
उपर उठा िलए....ओर उनका िसर पीछे की ओर झुकता
चला गया. सरकुलर मोसन मे उनके बूबस पर हाथ घुमने
लगा.
िे व इनहे कस के मसलो....
िनशा मेरे बूबस को मसाज करो...िे व मेरे बूबस को
मसलो....मै ओर िनशा लीना के िजसम मे मसाज से
आग भरने लगे.
मेने अपना लंड िनकालकर लीना के बूबस के िनपपलस के
चारो ओर घुमाने लगा. िनशा मेरी सटाइल को िे खकर
मचल उठी....
“तुम लंड मसाज उसको कर रहे हो ओर चूत मे आग”
मेरे लग रही है ”
मेरे िोनो बूबस को लंड मसाज िो....बहुत मजा आ रहा

है ....ओह िे व एसे ही करते रहो. लंड का रस तेल लगे बूबस
पर िमलने लगा.....लीना के गोल मुलायम बूबस लंड की

मसती को िग
ु ना करने लगे....

209

िनशा भी लंड मसाज के िलए तरस उठी....उसने लंड
खीचकर अपने बूबस पर ले िलया.
मै मसती मे उसके बूबस को लंड मसज िे ने लगा....
लंड उसके कभी िाये तो कभी बाये बूबस पर घूमने
लगा.....वो मसती मे िससकारीया लने लगी.....
ओह िे व....मजा आ र हा है ...बस एसे ही पयार से
लंड घुमाते रहो...लंड मसाज मेरे बूबस मे मसती भर
रहा है ...ओह िे व.....
िनशा तू लीना की चूत को मसाज िे ....िे ख वो केसे
तडप रही है ....
लीना ने अपने पेर फेला ििए...वो घुटनो के बल एसे बेठी
की िनशा के होठ उसके पुससी िलपस को टच करने
लगे.ओर लीना झुकर मेरे सीने से िटक गई....उसके
हाथ मेरे सीने पर िफरने लगे.....मेरे िनपपलस को
उगिलयो के बीच लेकर मसलने लगी.
इनहे चूसो लीना....लीना मेरे िनपपलस चूसने
लगी...िनशा लीना की चूत रस का मजा रही है ...ओर
मै.....लंड से िनशा के गाल सहला रहा हू.....मेरा लड

कभी लीना की चूत को तो कभी िनशा कए गालो को

सहलाने लगे.

210

िनशा कभी मेरे लंड से तो कभी लीना की चूत से
खेलने लगी.
चलो िे व मेरे कमरे मे चलते है िकंग साइज बेड
पर....गुिगुिे िबसतर पर ....वाल टू वाल िमरर...मे एक
िस
ू ेरे को मसती मे िे खकर ओर मजा आएगा.

िनशा ने बेड पर टावल िबछा िी. मेने मयूिजक लगा ििया.
मे िोनो को टं ग टू टं ग िकस िे ने लगा...
लीना मेरे नीचे लेटकर अपने बूबस से मेरे लंड को मसाज
िे ने लगी बूबस मेरे लंड पर जकडने लगे....मे मसती मे
िससकारीयाअ लेने लगा.
लीना ओर िनशा के िनतमबो की गोलाई मुझे मीठी
मसती से भर रही है ....मै उनकी गांड मै लंड घुसाने
चाहता हू..उनके बाउन होल की मसती मुझे मसत

कर रही है ....मुझे आज िोनो की गांड मसती से भर
रही है ....काश मै िोनो की गांड मार पाउ...लगा
कोिशश करने मै बुराई नहीं....
िनशा अपने िनतमब को मेरे पास लाओ हनी. ...मैने उसे
खीचते उए अपने पास लेते हुए कहा. िनतमब की

गोलाइयो पर मेरे हाथ चलने लगे...उसके िनतमब गजब

के है ....मेरा लंड उसकी गांड के िलए मचलने लगा.

211

अगर मे उसे बताउ की मे गाड मारना चाहता हू तो शायि
घबरा कर मना कर िे .

अपने िोनो हाथो से जरा इनहे चोडा करो.....
उसने हाथो से िनतमब को चोडा कर ििया...जीभ उसकी
िरारो मे आग भरने लगी....जब मेने जीभ बाउअन होल
पर लगाई तो वो मचल उठी....
ओह िे व मजा आ रहा है ....जरा कस कर करो....
िनशा अब मे अपने लंड से जब यही सब करोगा तो
ओर मजा आयेगा...
तो करो िे व!
आज मुझे िनशा ओर लीना की कोरी गांड को तैयार
करना था...मुझे मालुम था वो उसे मरवाने के िलए तैयार
हो जाएगी. पर उससे हां कहलवाने से पहले उनहे पूरी
तरह गमट करना जररी है
िनशा लीना के पुससी िलपस को चूस रही थी....
ओर लीना मेरे लंड मे आग भर रही थी.
िनशा जरा लीना को बाउअन होल को सहलाओ उसे
मजा िो.... जेसे मे तुमहे िे रहा हू....
कयो मजा आ रहा है ना...

िे व मेरी चूत का कुछ करो तुमहारे हरकत मेरी चूत

212

मे आग भर रही है ....
ओर मेने अगूठा चूत मै घुसाते हुए बीच की उगली
िनशा की गांड मे घुसा िी....वो मसती मे चीख उठी....

उसको मजा आने लगा....उसने गांड मे उगली डाले
रहने िी...मेरी िहममत बडने लगी....लगा िनशा को
मजा आ रहा है ....िनशा तुम लीना की गांड मे उगली
डालो हनी...िे खो उसे भी मजा आएगा.
िे खा

िनशा ने लीना की गांड मे आसनी से उगली

घेसा िी....लीना िचंहुक उठी...

ओह िनशा मजा आ रहा है ...िस
ू री भी डालो.... लीना
.मेने भी धीरे -धीरे िनशा मे िस
ु री उगली भी घुसा
िी.....

ओह िे व तुम तो मुझे मार ही िोगे....बहुत मजा आ रहा
है .

कयो िनशा तुझे भी मजा आ रहा है ना
सच मै िनशा को मजा आ रहा है ...लगा आज मेरी
हसरत पूरी हो जाएगी.
लीना िनशा के साथ मसत थी....ओर मे िनशा के
साथ...लीना की गांड मे अब िनशा की िो उगिलया

घुसी हुई है .....वो मसती मै मचल है . .मेने तीसरी

213

उगली घुसाने की कोिशश की तो वो कराह उठी ...ओह
हनी ििट हो रहा है ....इसे िनकालो....पर मेने उसे नही
िनकाला. मै उसकी चूत हो सहलाने लगा...िजससे उसका
धयान हट सके..... .
लीना तू तो परफेकट सकर हो गई है .....तारीफ सुनकर
ओर मसत होकर लंड को सक करने लगी
मेने बोतल का बचा तेल िनशा के बाउअन होल मे भर
ििया.....लगा िनशा अब मेरे िलए तैयार है ...
िनशा तेरी ग़ांड फक चाहता हू सवीट

...से यस...िनशा...मेने उसे अपने पास खीचते हुए
कहा.

मेने कभी मरवाई नही....
मेने भी कभी मारी नही....पर आज तुझ पर टाई करना
चाहता हू...

ओह िे व.....मे तुमहे मना नही कर सकती.....लीना हमारी
बाते सुनकर मसत हो गई....
िे व िनशा को पॉबलम हे तो मेरी टाई करो.....
िोनो मसती मे पागल है ...कुछ भी करने को
तैयार.....मेरा भी एसा ही हाल है ....

लीना मेरे लंड पर तेल मलो

214

...लीना जरा हे लप करो....िनशा के .िनतमबो को चोडा
करो.
लीना मेरी चूत को टं ग फक करो.....
मेरी लव-होल को टं ग फक करो.
मेने लंड िनशा के लव होल पर रखा....मेने िे खा वो सीसे
मे मुझे िे ख रही हे मेने पयार से उसे हवा मे िकस
करते हुए.....उसकी कमर को हाथो मे थामा ओर
उसे हलका धकका लगाने को कहा....

िनशा धकका तुम लगाओ....इससे तुमहे घबराहट नहीं
होगी....
एंड डू इट वेरी सलोली...नो हरी......मेने हलका धकका
िे ने को कहा. ...हे ड थोडा सा..अिं र गया...मेने उसे वही
रोक ििया...
“कैसा लग रहा है ...िनशा..मेरा हे ड अिं र है ....ओह
िनशा मुझे मजा आ रहा है ...”
”मुझे भी अचछा लग रहा है .....ओह िे व तुम िकतने
अचछे हो....मेर िकतना खयाल रखते हो....”
मजा आ र रहा है .....िे व बस धीरे धीरे करो.....ओह िे व
तुमने मुझे मसत करििया....मजा आ रहा है .....

िनशा पलीज मेरी लव होल मे उगली डालो...लीना

215

ने अब मचलते हुए कहा

िनशा का बाउअन होल अब िरलेकसड था..मेने उसे एक
हलका सा झटका िे ने को कहा....ओर पूरा सुपाडा अिं र
चला गया....मे मसती मे कांपने लगा....िनशा का टाइट
होल....मेरे लंड को कस कर पकड िलया.
मुझे मजा आ रहा है िनशा ओह िनशा
िे व मुझे भी अचछा लग रहा है ..
िे व मेरी भी ...लीना ने मचलते हुए कहा...आइ िडं ट वांट
टू िमस ििस...

लीना चुिवाना अलग बात है ...गांड मारवाने के िलए
िहममत चािहए....मेने उसे उकसाते हुए कहा...

मेरे मे िहममत है ....ओर मसती भी...िे व पलीज....
लीना को मचलते िे ख मे मसत हो गया....
िनशा धीरे -धीरे िनतमब िहलाने लगी....ओर मे लंड उसमे
घुसाता गया.
िनशा तुम अधा लंड ले चुकी हो...ओह माई गोड...
िनशा की टाइट गांड मे मेरा लंड मसत हो गया.
ओह िे व मजा आ रहा है ....परििट भी हो रहा है ...िे व
धेरे...धीरे करो....

ओह यस िनशा तुमने पूरा ले िलया ओह गाड

216

....कया तुमहे मजा आ रहा है ....मै तोमसत हो गाअ
...ओह लीना िे खो िनशा के लव होल मे पूरा लंड
चला गाअ...ओह िनशा..मे मसती से पागल हो रहहा
हू.

िे व मुझे भी एक आजीब सा मजा आ रहा है ििट
भरा मजा....बस िे व एसी तरह डाले रखो...
ओर मे िे र तक योही िनशा के अिं र डाले आंखे बंि
िकये इस पल का मजा लेता रहा.....
लीना मुझे ओर िनशा को िे खती रही....
लीना िे खो िनशा की गांड मे मेरा लंड केसा लग रहा है .....
ओह िे व मेरी कब मारोगे....
िनशा पलीज िे व से बोलो...
लीना मचल उठी...िे व अब मुझे भी..
ओर मेने िनशा की लव होल से लंड को
िनकाला...धीरे ..धीरे ...िनशा लमबी-लमबी सांसे लेती
रही...मुझे मालुम है उसे ििट हो रहा है ...पर शायि
वो यहाँ सब मसती मे या िफर मेरी खाितर यह सब

झेल रही थी.

217

लीना तेरी भी मारगा पर पहले िनशा को तो मजा िे ि ू

िनशा तब तक लीना की एश होल मे उगली डालो....
लनड के िनकलते ही जेसे उसकी सांस मे सांस

आई...मेने उसे चूमते हुये कहा...अब केसा लग रहा
है ...

करीब पुरा ही लंड अब बाहरा आ गया ...मुझे डर था िक
कही उसकी फट ना जाए....पर यसा कुछ भी नही हुआ
उसे पूरा मजा आया...

सच िे व ििट तो हुआ पर मजा भी आया....पर िे व

आज ओर लेने की िहममत नही है ...ओर मे मुसकरा
ििया...ओर उसके चेहरे पर चुबंन पर चुबंन िे ने
लगा...
’ओह िनशा तुमने मेरा ििल जीत िलया. तुम िकतनी
अचछी हो....वो थक कर िनढाल लमबी सांसे लेने
लगी...
िनशा तुम आराम करं ओर अब लीना की मसती
िे खो...मेने लीना के तरफ मुडते हुये कहा..

218
िनशा केसा लग रहा है कुछ बोलो...
बस मजा गया....पहली बार बुरा नही रहा...हो सकता
है आगे ओर मजा आए...उसने मुसकरात हुए कहा.
लीना बेसब हो रही थी.
िनशा ने तीन उगिलया लीना की गांड मे घुसा िी थी.....
केसा लग रहा है लीना.....
लीना अब तेरी बारी है ....लीना के िनतमबो अपनी तरफ
खीचते हुए कहा....

यस िे व टाई करो....मै लंड अिं र िे खना चाहती हू...

मेने धयान से िे खा वो िनशा से जयािा िरलेकस थी....
लीना कया पहले कभी टाई िकया है ...
नो नेवर....कभी-कभी मसती मे अपनी उगली डाल
िे ती हू

मेरा पहली बार था....िनशा बोली...

मुझे मालुम है अभी मसती मे उसे कुछ पता नही चल रहा
...कल उसे मालुम पडे गा...मेने मन ही मन कहा.
लीना जसट िरलेकश ....उसके गाल पर चुबंन लेते हुए
कहा.

िनशा मेरे पास आओ....सवीट....ओर मेने उसे पयार

से बांहो मे जकड िलया....ओर उसे थेकस-िकस

219

ििया...वो मेरे इस तरह हग का कारण समझ
गई........ओर वो मुझसे िलपट गई....मेने उसके गालो
का भरपूर चुबंन िलया.
मने खूब सारा तेल लीना की होल मे उडे ल ििया...ओर
अपने लंड पर लगाया
िनशा बेडरे सट के साथ िटककर मुझे ओर लीना को
पयार करता िे खने लगी.
मेने उसे अपने िनतमबो को उपर उठाने के िलये
कहा...मेरे कहे िबना उसने हाथो से िनतमबो को
खीचकर चोडा कर िलया...
सुपाडे को होल पर लगाते ही वो िसहर उठी....लीना अब
तुम अपने िहसाब से धकका लगाओ...
लीना के एक हलके झटके के साथ सुपाडा थोडा सा अिं र
गया. ...यस लीना िे खो लंड अिं र गया...तुमहे केसा
लग रहा है ..सवीट ....यस लीना अब तुम अपने िहसाब
से मेरे लंड पर अपने िनतमबो को धकेलो...बस एसे ही
करते रहो....बहुत धीरे -धीरे ....ओर वो एसा ही करने
लगी....

मेने िनशा को खींचकर अपने पास िलया. वो मेरे

करीब आ गई....िनशा बूबस मेरे पास लाओ

220

िनशा के बूबस मेरे मूह मे आ गये...वो बारी बारी बूबस
मेरे मूह मे िे ने लगी. मै पयार से धीरे -धीरे उनहे चूसने
लगा....
िे व मेरी चूत मे आग लगी है .....उसे सांत करो...पलीज
िनशा मचलते हुए बोली....

लीना िनशा की मिि करो...उसकी चूत को टं ग फक करो
सवीट....ओर लीना िनशा की चूत पर टू ट पडी.
ओर मे तो लीना मे मसत था. लीना मेरे साथ मसत थी.
कहा वो चूत मे लंड जाने मे ििट से कहरा उठी थी. वही
लीना लनड को आसानी से होल ले ले पा रही थी....थोडी
सी कोिशश मे लंड का हे ड अिं र चला गया.
िनशा िे खो तो....ओर िनशा की आशचय से आखे फेल
गई....लीना मसत होकर मरवाती रही. उसकी टाइट गांड
मेरे अिं र आग भरने लगी.
िे व मजा आ रहा है .....ओह िे व...यू आर सो सवीट जर
ओर अिं र डालो....फाड िो साली को....ओह िे व....कुछ
करो...
लीना मचलने लगी......ओर मे जोश मे पूरा अिं र घूसाने
लगा.

आधे से जयािा अिं र चला गया...उसकी टाइट

221

गांड ने मुझे मसती से सरोबार कर ििया.
ओह लीना तूने मुझे मसत कर ििया
मै धीरे -धीरे लंड अिं र करने लगा. उसकी गांड की
मसती ने मेरे लंड को कस कर भींच रखा है ....मसती
हजार गुना बडने लगी.....
लीना िे खो जान तूने भी पूरा अिं र ले िलया... लीना
मजा आ गाया मेरी जान....ली...ना....
मै िे र तक़क उसकी गांड मे लंड डाले मजा लेता
रहा...उसकी गांड मे कसा

कसा लंड...मे मसती से

पागल िनशा को कातने लगा...
ओह िे व ििट होता है यार.....
लीना की गांड ले लंड को िनकाले िबना मे िबसतर
पर नीचे लेत गया...लेना मेरे उपर लेटी .....मेरे
िोनो हाथ लीना के बूबस से खेलने लगे...िनशा की
चूत मेरी होटो से िचपक गई...ओर वो खुि लीना की
चूत चूसने लगी..हम तीनो िे र तक योही एक िस
ू रे
को मसती िे ते रहे ...समय का कुछ पता नही
चला...वक एसे ही गुजरता गया...मेरे अिं र
मसती...का िवसफोट होने को था.

222
मेने लंड लीना की गांड से धीरे -धीरे िनकाला....ओर
िनशा मे उपर कर ििया
मेरे रस की तेज धार िनशा के बूबस से टकराई.....उसका
चेहरा पूरा भीग गया. िनशा अपने उपर िगरे मेरे रस को
चूसने लगी. मेने लंड िनशा की चूत मे घुसा ििया....ओर
जोरिार धकके लगाने लगा.....
िे व ओर जोर से....िे व तुम िकतने अचछे हो...
मुझे तुमहारे लंड की िकतनी जररत थी....ओर जोर से
चोिो....
चोिो ...ओर जोर से....ओर...ओर....
ओर मे उसके उपर िगर के हाफने लगा....इस बार
लगा....जेसे जननत का मजा आया हो.....मै िनशा ओर
लीना को बहताशा चूमता जा रहा था.
बाहर िे खा रात हो गई थी. 8 घंटे से जयािा चोिाई मे
गुजर गए.....
हम तीनो थक कर चूर.
हमारे उपर लगा तेल िसकन ने सोख िलया. हम तीनो की
िसकन गलो करने लगी.
िे व आज पहली बार मेने गांड मरवाई ...ओह िे व मजा आ

गया. िनशा बोली.

223

"मुझे भी ....चूत जेसा गाड मे मजा आया..."लीना
बोली.
" मुझे भी यही लगा उसकी गांड की मसलस जयािा
िफलेकसीबल है ".
हम तीनो ही मसती मे चूर थे. मेरा िनशा ओर लीना को
चोिना ...
"एक साथ िो को चोिना ..एक साथ तुम िोनो की गाड
मारना"
"थेकस फोर िगवीग मी परफेट िगफट ओफ ि
डे ....फेडिशप डे ..तुम िोनो को भी यह िगफट याि बना
रहे गा...
हे ना िनशा....
हां िे व.....आज का ििन याि रहे गा....तुमहारी
चुिाई...िफर मसाज...िफर चुिाई....ओर...गांड मे
तुमहारा लंड ....ओह िे व केसे भूल सकते है यह
सब....
लीना सवीट मेरे पास आओ....मुझे हग करो....ओर
मेने लीना को बांहो मे भर िलया....
िनशा ओर लीना मेरी बांहो मे आ गई...मै उनहे

चूमता रहा..पयार करता रहा....वो मुझे....चूमती

224

रही....पयार करती रही.....हम िे र तक एक िस
ू रे की
बांहो मे पडे रहे ....

“चलो अब बाहर जाकर िडनर करते है ......"
" कल सुबह की मेरी फलाइट है ...िडनर लेकर हम रात भर
डे र सारी बाते करे गे पयार करे गे... "
सच िे व कया कल जा रहे हो...
हां मुझे जाना होगा...बाकी बाते बाि मे...चलो तैयार हो
जाओ...िडनर पर लेट हो रहे है .
***************************************
िडनर लेकर हम सब िनशा के कमरे मे आ गये...िनशा
और मै नाइट गाउन मे थे, नाम का गाउन था, हमारी
जवानी का हर कवट ििखाई िे रहा है ...हम िोनो चाहते थे
की आखरी समय तक िे व हमारे साथ जवानी का खेल
खेलता रहे ....यह पयास साली बुझती ही नही है ....मसती
बडती ही जाती है . िे व ने टावल गाउन पहना है ...हमे
मालुम उसके नीचे कुछ भी नही है .
हम तीन ििन से लगातार चुिाई का मजा ले रहे है . िे व

के सटे िमना की िाि िे नी पडे गी...साले मे िम है , या

225

हो सकता है हमारी जवानी मै ही एसा मजा है िक
िे व थक नही रहा....िे व जेसा मिट पाकर हमारी
जवानी मसत हो गई.
िनशा तुमहे केसा फील हो रहा है .
िे व ने िनशा के िनतमबो हाथो से सहलाते हुए जायजा
लेकर बोला....

हलका सा ििट है ...वो मुसकरा कर बोली.
िे व बेडरे सट के साथ िटक गया. हम िोनो िे व के िाय-बाए
लेट गए.
सवीट मेरे साथ बाते करो. यह हमारी आखरे रात है . पता
नही आगे हम िमलेगे भी या नही.
"कयो नही िमल सकते....तुम तो जब चाहो मेरे पास आ
सकते हो....मेने उसके गले मे बाहे डालते हुए कहा."
...िनशा ने भी उसे चूमते हुए कहा

"हम िोसत है िोसत रहे गे. तुम जब चाहो आ सकते हो...यु
आर सो सवीट. तुमहारी चुिाई मे िम है ओर िोसती मे
भी...
"यार मायूसी की बाते नही करो"
"िे व तुम चेट मे बहुत सारी बाते बताया करते थे...यार

फीर से बताओ ना. लीना भी सुनेगी."

226

"पहले तो तुम ये चोगा िनकालो यार...तुमहारा सुि6र
बिन नंगा जयािा सेकसी नजर आता है ......तुमहारे
बिन की छुअन मे जो मसती है वो इन गाउन मे नही."
ओर उसने हमारे गाउन िनकाल कर फेक ििये. अब हम
िोनो नंगी थी....
हम िोनो को अपने से सटाते हुए िे व बोला
.
िे टस माई बेबस....!
तुम भी अपना गाउन िनकालो...तुमहारे लंड के साथ
खेलने िो. उसको हाथ मे लेकर मजा आता है ....मेने खीच
कर उसका गाउन भी फेक ििया.
वो टनन से तन कर खडा हो गया....
" िे व..."
िनशा ने उसे हाथ मे लेते हुए कहा....."िे खो तो बैचारा हमे
चोिने के िलए िकतना बेताव है , हमारी चूत से िमलने के
िलए बैचेन है ."
अचछा अब सुनो तुमहे एक बात बताता हू!

हम तीनो ही सेकस के भूखे है ...एसे लोगो को सुसाईटी
और समाज कुकमी, रं डीबाज, रं डी कुता ...ओर ना जाने

कया कया कहता है . वो हमारे जैसे लोगो को अचछे

227

नजरो से नही िे खते.
समाज सोचता है िक सेकस भोग के िलए नही है यह बचचे
पैिा करने के िलए है . भोग के िलए सेकस को गंिी नजरो
से िे खा जाता है . पर ये पूरा सच नही है . सेकस भोग ओर
आनंि के िलए भी होता है . सिीयो से लोगो ने इसे भोग
की तरह भी िजया है .
"हां, कामसूत ओर तंत िवदा इसका उिाहरण है ..."मै बोली
खजुराहो, कोणाकट भी है ..िनशा ने जोडा!
सेकस जब बचचे पैिा करने के िलए हो तो मयािटित सेकस
उतम है . अचछा हो अगर वो पित-पती बन कर बचचे पैिा
करे . नही तो केइ सारी समािजक समसयाए पैिा हो जाती
है .
पर सेकस आनंि भी है ...सेकस उतसव भी है . वो सबसे
उतम शरािरक सुख है बाकी सब भोितक सुख उसके
सामने बेकार है . सेकस से िनवाण
ट भी है ओर सभी
िनमाण
ट ो की शिक इसी मै है . सेकस मे इशवर है . वो पूजा
की तरह पिवत है . जब सेकस आनंि के िलए होता है तो
वो एक से जयािा के बीच आपसी रजाबंिी के साथ हो
सकता है . थोडी सी सावधानी के साथ उसको आनंि ओर

उतसव बनाया सकता है . यह तनाव खतम करने की

228

सबसे बडी ओषधी है . अचछा सेकस जवानी ओर लंबी
िजिगी का राज है . एक अचछे सेकस के बाि िकतना
अचछा लगता है . वो तुम लोग भी अब तक समझ
गये होगे ओर िजस काम से अचछा लगता हो ओर िस
ू रे
को परे शानी नहीं तो उसे करने मे कया बुराई है .

जब सेकस के साथ डर, गलानी, और पाप का भाव जुड
जाता है तो वो जहर हो जाता है . आज धमट, समाज,
सरकारे , ओर मीिडया यहीं कर रहे है .
तुम लोग सो गई कया....!
नही... तुमहरी बाते सुन रहे है ..वोतो ठीक है पर मेरा लंड
केसे िगरा हुआ है ....अभी तो िोनो उसे पयार करने के
िलए बैचेन थी.

से सोरी टू िहम ...उसने हम िोनो को टीस करते हुए
कहा...

सच हम िोनो उसकी बाते इतने धयान से सुन रहे थे िक
िस
ू री तरफ धयान ही नही गया. हम िोनो िमलकर उसे
सहलाने लगे....

”ओह एसे नही....”
तो!

अपने होठो से मेरी जान ...

229

हम िोनो के होठ उसके लंड पर आ गए.
िनशा ने उसके हे ड को होठो के बाच ले िलया ओर मै
उसके शाफट पर जीभ चलाने लगी. मेरी चूत मै भी मीठी
गुिगुिी होने लगी.....
िनशा तुम लीना को अपना कमाल ििखाओ...
ओर मेने िे खा....माई गोड...िनशा ने िे व का पूरा लंड
अपने मूह मे ले िलया....लंड उसके गले तक चला
गया....मै िे ख सकती थी उसका गला फूल गया.उसके
मुह मै वो पूरा समा गया.....ओर िफर करीब एक िमिनट
के बाि िनशा ने उसे बहार िनकाला....ओर जोर से सांस
ली.....ओर मेरी तरफ िे खकर मुसकराई.
सच िनशा एक बेहतरीन कोक सकर है .
िनशा तुम आज सटींग िबकनी मे मसत िोख रही थी.
जाने से पहले तुमहे एक बार िफर उसमे चोिना है .
िे व तुमहारी बाते रसीली है .....
“लीना तुम भी आज बहुत सेकसी ििख रही थी. तुमहारा
आइिडया मसत था. तुम सेकस बमब लग रही थी. तुमहे

िे खकर लंड का हाल बुरा हाल हो गया था. सच बताउ तो

तेरे िनतमब चुनरी मे इतने सेकसी लगे की

230

उनका सवाि लेने के िलये मेरा लनड बेताब हो गया
था. आज केसी भी करके तुझे तो नही छोडने वाला
था...” उसने मुझे पयार से चूमते हुये कहा.

"िे व मालुम है ये पहली बार वेसटनट आउिटफट यूस कर
रही है ... "
िरयली!!.कभी इसने फील नही होने ििया.
“लीना तुम िसफट नाईलोन साडी पहन कर आ सकती हो
कया!”
कया अभी....!
“यस बेबी..जाओ ओर कुछ नही पहनना........
सच तुम बहुत सुिंर ििखोगी.

मेरे िलए...पलीज यार.....िे व ने मुझे चूमते हुए कहा.
िे व का कहना मे कैसे टाल सकती थी.

मै अभी आई...मै उठी ओर अपने िे व के िलए साडी
पहनने चल िी.
*********************************
लीना के जाते ही मेने िे व के लंड िबोच िलया....बूबस
उसके मूह के पास ला कर बोली सक मी िे व.
िे व मेरे िोनो िनपपलस आपस मे जोडकर एक साथ सक

करने लगा....मै मसती मे िससकारीया लेने लगी.

231

िनशा कया तुमहे गमी नही लग रही.
हां यार आज कुछ गमी तो है ...कया एयर कंडीशनर
चलाउ..
नही यार कया शावर मे नही चुिवाना चाहोगी. मै िे व को
ना कसे कह सकती थी.
िे व ने मुझे गोि मे उठाया ओर बाथरम की तरफ चल
ििया.
शावर चालू िकया ..उसकी पहली बोछार ठंडी थी, मेरी तो
जान ही िनिकल गई. उसके बाि गमट पानी शुर हो गया.
िे व ने मुझे पीछे से बाहो के घेरे मे ले िलया...सामने िमरर
मे मै पानी मे भीगती ििखाई ििखाई िे ने लगी. िे व के
हाथ मेरे बूबस पर ...ओर उसके होठ मेरी गरिन पर मेरी
चूत के ठीक नीचे टागो के बीच उसका खडा लंड ििखाई िे
रहा है . मै सीसे मे यह सब िे खकर मसत हो गई. कया मै
इतनी सुिंर हू. सांचे मे ढला मेरा बिन ....

िे व का लंड अपने हाथ मे लेकर अपनी चूत उस पर
िघसने लगी. लंड का रस मेरी चूत के रस से िमलने लगा.
मेरी मसती मै आंखे बंि होने लगी.
***********************

मेने िे खा वो सामने खडी थी. लीना हमे ढू ङती हुई

232

बाथरम मै आ गई. िनशा की गरिन से नजर हटी तो वो
सामने है . सफेि नाईलोन की साडी मे. उसने शानिार
तरीके से साडी पहनी हुए है . वो अपसरा सी सुिंर ििखाई
िे रही है . उसने साडी के नीचे कुछ भी नही पहना. एकएक कवट नाइलोन की साडी मे ििखाई िे रहा है . उसने
साडी कमर पर बहुत नीचे बांधी थी. सपाट पेट...गहरी
नाभी. मै उसे िे खता ही रह गया. िनशा भी उसे आंखे
फाडकर िे ख रही है .
िे व तुम सही थे. यह साडी मे ओर ही सेकसी लग रही है .
मै भी अगली बार एसे ही सािी पहन कर िे खूगी.
हमारी तारीफ भरी बाते सुनकर वो मसत हो गई. ओर
शावर के नीचे हमारे पास आ गई.
शावर का पानी िगरते ही उसकी साडी उसके बिन से
िचपक गई. मै ओर िनशा उसको िखते ही रह गए.
मने ओर िनशा ने उसे िोनो तरफ से पकड िलया ओर उसे
िमरर की तरफ घुमा ििया.
िे खो लीना अपने को िे खो.... उसके पललू मे से गोल
बूबस. पूरी गोलाई के साथ ििखाई िे ने लगे. पानी पडते
ही हे साडी टांसपरे ट हो गई. िनपपलसस तने हुए. बाउन

सरकल के साथ ििखाई िे ने लगे. जेसा सोचा

233

उससे बढकर सेकसी नजर आ रही है .
सच मै वो बहुत सेकसी नजर आ रही है . साडी उसके बिन
से िचपक गई . अगर मे जोर नही िे ता तो लीना अपना
यह रप कभी भी नही िे खी पाती.
“िे व अगर तुम जोर ना िे ते तो मे इस रप को कभी
ना िे ख पाती.”
उपर से नीचे तक भीगी साडी मे िलपटा उसका
बिन.
मेने उसकी नंगी पीठ पर चुबंन ििया. इतने ििन से सेकस
के मजे लेने के बाि भी लग रहा था के जैसे पहली बार
उसे चोिने के िलए जा रहा हू. शायि यही सचचा सेकस है .
जब वो हर बार नया लगता है . इससे पहले एसा एहसास
पहले कभी नही हुआ था...

लीना ने एसा कया जाि ू कर ििया

....िनशा ओर लीना की सतरं गी ििुनया. बस चोिने का
खयाल ही हर समय ििमाग मे भरा हुआ .
************************************
िे व ओर िनशा मेरे बूबस पर टू ट पडे . ....मेरे बूबस पर
पडती पानी की बूिे उनहे ििवाना बनाने लगी.

आज मुझे लगा मेरे सेकसी बिन पर गीली साडी

234

कया कयामत बना सकती है
िे व ने मुझे आगे झुका ििया....मेरे िनतमब पर उसके िांत
गडने लगे....मीठा ििट मेरे बिन मे िोडने लगा.
ओर मे िनशा के बूबस को चूस रही थी. उसके आयली
बूबस पर पानी की बूिे ओस की बूिो सी ििखाइ िे रही है .
िे व ने साडी उठाकर मेरे िनतमबो को ओर चोडा
िकया.....िरार पर लंड उपर नीचे करने लगा उसके लंड के
छुते ही मेरी िरार मे जेसे मसती की आग भर गई.
मै िमरर मै िे खी रही थी...मेरे िनतमबो पर पडता पानी
उसे ििवाना बना रहा था. उसने मुझे ओर आगे
झुकाया.....ओर एक करारे झटके के साथ पूरा लंड मेरी
चूत मे ....अब ना कोइ ििट ना कोइ अडचन...फचाफच की
अवाज के साथ वो अिं र बाहर होने लगा. ओर मै मसती
से भर उठी.
िे व सांड की तरह िचलला रहा है ....वो मसती मे . मसती मे
मै भीथी....मेरी चुिाई जो हो रही है ....शावर के नीचे
भीगते हुए.....उसके धकके तेज .....हर धकके के साथ चूत
ओर पानी छोड रही है .

िनशा मेरे बूबस को सभालो. ओह िनशा तुम कया कर रही

हो मेरे चुिने मे मेरी मिि केरो ना. िे खो मेरे बूबस

235

अकेले है .....इन शेतानो को पयार करो नही तो तुमसे
नाराज हो जाएगे!
उसने चूत रस मे भीगा लंड िनकाला ओर मेरे बाउन छे ि
पर लगा ििया.
कया कर रहे हो िे व!
शावर मे भीगती तुमहारी गांड मारना चाहता हू...बोलो
मारने िोगी ना! उसने मुझे टीस करते हुए कहा.

िे व िकसने रोका है तुमहे ..,.मेरे राजा िे र ना करो....
ओह गोड.....यह तो मुझे मसती मे मार ही डालेगा. उसके
छे ि पर लंड के लगाते ही मेने अपने िनतमबो को लंड पर
ठेलना शुर कर ििया. लंड आसानी से पूरा अिं र चला
गया. मुझे भी िवशवास नही हुआ.
िे व पूरा गया कया
हां मेरी रानी.....
मुझे अभी भी िनशा सहारा ििए हुए थी....वो हमारी गांड

मराई का आनंि लेने लगी ओर मे मसती मे मरा रही हू.
मराई िे खने का आनंि मराने से कम नही .... मेरी मराइ
भी िे खने लायक . िनशा की शरारती आंखे तो यही बता

रही है ...

236

वो मुझे ...अपनी पयारी सहे ली की जानिार मराई िे ख कर
पागल हो रही है . वो िे ख रही है िक मेने केसे पूरा लंड
आसानी से ले िलया ओर उफ तक नही की.
िे व ने एक जोर से झटका ििया ...लगा जेसे मरी नीि
खोलना चहता हो....मेरी तो जेसे जान ही िनिकल
जायेगी.
िे व एसे तो मे मर जाउगी...थोडा धीरे िे व ...
िे व तुम चोि नही रहे हो...मेरी गांड मार रहे हो....जरा
पयार से िे व. नजाकत से....नही तो मे मर जाउगी..!
िे व को भी गलती का एहसास हो गया था.....वो चोि नही
रहा ...वो मेरी गांड मार रहा था.
िे व
िे व का लंड पूरा मेरे अिं र समा गया.....वो धीरे -धीरे अिं र
बाहर करने लगा.
उसने मेरे बूबस पकड कर सीधा िकया....उसका लंड मेरी
गांड मे ....मै एक तरह से उसके लंड पर बेठी हुई थी.
मेने अपने आपको िमरर मे िे खा....

हे भगवान कया यह मै हू.....िे व मेरे बूबस मसल रहा

था.... मसती मे मेरी गरिन पीछे झुक कर िे व के कंधे पर

िटक गई.िे व ने मुझे कमर से पकड िलया.....मेने पेर

237

िे व के पेर पर चडा ििए िजससे मुझे िे व के लंड के बराबर
उचाइ िमले....ओर िफर मे उसके लंड पर उपर नीचे होने
लगी..मुझे जननत ििखाई िे रही है .
िनशा तुम मेरी चूत को फक करो.....मेरे चूत रस को
चूसो....िे खो िकतनी गीली हो गई है ....मेने िनशा को
अपनी चूत की तरफ इशारा िकया. ओर वो मेरी चूत पर
झुक गई. मेरी चूत मे उसकी जीभ अिं र तक समा गई.
चूत मे िनशा की जीभ ओर गांड मे िे व का भारी भरकम
लंड मे िोनो के मजे लेने लगी. आज की चुिाई मेरी सबसे
पयारी चुिाई.....मै चुिने का मजा ले रही हू. मसती मे मै

िोनो बूबस मसल ने लगी.....ओर िे व मुझे िमरर मै बेचेन
िे ख कर मजे ले रहा है .जािलम िे व...मसत िे व...पयारा
िे व.....मेरा िे व िनशा का िे व...ओह िे व तुम िकतने
अचछे हो.... मुझे मालुम है वो भी मसती के सातवे
आसमान पर है .
उसके लनड ने मेरी गांड को पूरा फेला ििया ....मुझे
मालुम है अब कुछ ििन मेरी चाल अलग होगी. समझने
वाले समझ जाएगे...मे एसा कयो चल रही हू. पर मसती
के सामने मुझे कोई परवाह नही थी..मै तो मसती मे

थी....

238

"ओह िे व तुम िकतने अचछे हो...िनशा के िोसत बन कर
आये थे....ओर मुझे जननत ििखा रहे हो...."
"िनशा तूम िकतनी अचछी हो अपने िोसत को मेरे साथ
शेयर कर रही हो. तुमहारा ििल बहुत बडा है "

तुमहारी वजह से मुझे िे व जेसा िमिार मिट िमला....ओह
िनशा...तम िकतनी अचछी सकर हो...मेरी पूरी चूत को
मूह मे लेलो....पूरी जीभ अिं र घुसा िो.....चूसो मुझे चूसो
िे व ने मुझे झुकाकर तेजी से लंड को बाहर िनकाला....
मेने िे खा िमरर मे एसा लगा जेसे मयाने से तलवार
िनकलती है .
इतना बडा मोटा लंड मेरी गांड मे था....हे भगवान मेरी
गाड सलामत तो हो.!
लंड को बाहर िनकालते ही िे व जोर से िचललाया.....िनशा
मेरे लंड को सभांलो.....िे खो यह छूटने वाला है .
िनशा ने लंड को थाम िलया....उसकी िपचकारी ने उसके
चहरे पर जूस की बािरश कर िी
मै चुिाई की मसती मे सची बात बोलती जा रही थी.
िनशा िे व के लंड को आखरी बूंि तक चूसती रही.....
अब मै अपनी टांग पर खडी नही हो पा रही . मै ने िे व के

गले मे बाहे डालकर िकसी तरह खडी हुई.

239

िे व शायि मेरी सथित समझ गया . उसने मुझे गोि मे
उठया ओर बाथरम से बाहर आ गया.
गीली साडी अभी भी मुझसे िलपटी हुई है . िे व और िनशा
ने गीली साडी को अलग करके मुझे बुसतर पर िलटाया.
मै बेड के हे डरे सट के साथ िटक गई.
िे व और िनशा के पयार भरे बरताव ने मुझे खुशी से भर
ििया. िनशा मेरी पूरी मिि करने लगी. जब िे व मुझे
चोि रहा था तो उसने जरा भी बुरा नही माना. बलकी
हमारी चुिाई का वो आनंि ले रही थी.
मने िनशा के गालो को चूम िलया.
आर यू ओके ...िनशा मेरे बिले हुए वयवाहर िे खकर
बोली.

मुझे तुझ पर सचचा पयार आ रहा है यार....आ मेरे बाहो
मे आ जाओ....ओर वो मेरी बाहो मे आ गई. िे व को भी
मेने अपनी बाहो मे ले िलया.
कया बहुत थक गई हो...मेरे गालो को चूमते हुए िे व ने

पूछा....मेने घडी िे खी की तरफ इशारा िकया सुबह के 5
बज रहे है .
सचचे पेमी कभी घडी िे खकर पयार नही करते.....जब वो

पयार करते हे तो समय नही िे खते है िसफट पयार

240

करने वाले की िनयत िे खते है .....िनशा इसे वाइन की
जररत है .
बोटल से वाइन लेकर बारी बारी वो मुझे माउथ टू माउथ
िकस से वाइन िपलाने लगे.
मेरे बूबस पर िगरती वाइन के बूिे वो अपने िकस से
सुखाते.....
िे व कया तुमहे सच मे जाना है ....कया तुम रक नही
सकते...
िनशा इसे बोलो ना ये अभी रके...
कुछ कहो ना...िे खो तुम बोलोगी तो यह रक जायेगा.
िनशा तुम बोलो ना...
लीना की बचची. मै तुमहारा भी उतना ही िोसत हू िजतना
िनशा का. तुम इतने पयार से रोक रही हो तो कोन उललू
का पटठा जाना चाहे गा. ओर िे व ने मेरे माथे पर एक
पयार भरा चुबंन ििया....ओर मे भाविवभोर हो गई. लगा
कोई अिं र तक मुझे कोई िभगो गया.
मेरी आंखो मे आंसु छलक आए.
िनशा इस पागल को समझाओ. ओर िनशा ने भी मेरा
माथा चूमा.

ओर मे अपने आंसू नही रोक पा रही. कोई मुझे

241

इतना पयार भी िे सकता है ....काश यह पल रक जाए.
वो िोनो मुझसे बुरी तरह िलपट गये. मे िोनो के बीच मे
थी. िोनो मुझे पयार से सहलाते रहे ....धीरे -धीरे मेरी पलके
भारी होने लगी. नींि मुझे घेरेने लगी.
*******************************
लीना के सोते ही मे िे व के उपर आ गई. िे व ने मेरी आंखो
की शरारत पढ ली. िे व ने मुझे गोि मे उठाया ओर लीना
के कमरे मे ले चला....
इसे सोने िो हम सुबह का सवागत लीना वाले कमरे मे
करते है ....
उसकी िखडकी से सुबह का सुरज भी कया खूब ििखाई
िे ता है ....
एक िमिनट रको...मै अभी आइ...
मै भागकर अपने कमरे मे गई. लीना गहरी नींि मे है .
मेने वाडोब खोलकर गुलाबी सटींग िबकनी िनकाली. िे व
मुझे इसमे चोिना चाहता है . यह सब एसे ही मोके पर
काम आता है . यह कलेकशन इसी काम के िलए तो
है ....मेने उसे पहन उपर से चािर ओढ कर वापस िे व के
पास आ गई उसे सरपाइज जो िे ना चाहती हू.

िे व खडकी से बाहर उगते सूरज की लाली िे खने मे

242

मगशूल ! उसका बिन िकसी िे वता सा लग रहा है .
िे व इधर िे खो....सोचो मेने कया पहना है ...
कुछ एसा जो मेरे होश उडाने वाला है ....िे व ने मुडते
हुये कहा.....िफर भी सोचो िे व ......

िनशा जो काम हाथ कर सकते है उसके िलये ििमाग
पर जोर कयो िे ना....ओर उसने आगे बढकर मेरी
चािर खींच ली....जेसे िे व पर मेरी जवानी की िबजली
िगरी....वो मुझे िे खता ही रह गया.
****************************************
िनशा ने जेसे मुझ पर िबजली िगरा िी. उगते सुरज की
लाली मे वो कामिे वी लग रही है . मेने कभी नही सोचा
मेरा कहा हुआ हर एक सपना इस तरह सच वो पूरा

करे गी. मै उसे चारो ओर से घुमकर िे खने लगा. एसा लगा
जेसे पहली बार उससे िमल रहा हू. मेरे अिं र मसती का
लावा भरने लगा. वो अपसरा है उसे उपर वाले ने हुसन

लुटाया. हर एक अंग मािक...सेकस से भरा. मेने पीछे से
उसे बाहो मे ले िलया. मै समझ नही पा रहा िक
िबकनी सेकसी है या तुम....सुरज की रोशनी कमरे मे
आने लगी. सुनहरी धूप हमारे िजसम मे नई उमंग नई

ताकत भरने लगी. मेने उसे िबसतर पर िलटा ििया.

243

िनशा के साथ कुछ नया करने की सोचने लगा....
िनशा अभी तक तुमने सेकस की मसती अपनी चूत
मे ही महसूस की होगी....आज चूत जैसी मसती पूरे
िजसम मै महसूस करोगी....
िे व कया एसा होगा...!
हाअं सवीट इसे तंता सेकस कहते है ..हम ओर तुम
अब इसे कर सकते है .....िनशा बडी आसानी से हम
एसा कर पायेगे. एक िस
ू रे की पसंि को गहराइ से
समझने लगेगी है ... ...कयोकी तुममे गजब की

मसती पहले से ही भरी है ...बस मेरे पयार मे डू ब
जाना है ....और जैसा बोलू करते जाना है ....
“िे व मै तैयार हू...”.
उसे बाहो मे लेकर पहला चुबंन उसके माथे पर
िलया...उसके िोनो आखो की पलको को चूमते हुए
मेने अपने ििल मे उसे पयारे से िोसत की तरह
जगह िी.......उसने भी मुझे िोसत की तरह
चूमा....

मैने उसके कानो को चूमते हुए जीभ से

244

सहलाया...

ओह िे व अचछा लग रहा है
मै जीभ को कानो की गहराइ तक ले गया.
िनशा तुम अपने हाथो से मेरे िनपपलस को
सहलाओ...या िफर वो करो जो तुम चाहती हो मै
तुमहारे साथ कर...
इसको हम िबना शबिो के बोलना कहते है ....यह
एक मसतीभरा तरीका है अपनी बात िबना शबिो के
कहने का. हम अकसर एसा करते है ...ओर उममीि
करते है की पाटट नर इसको समझे...मने उसकी
गरिन को चूमते हुए कहा...

मेरे होठ जब उसके िनपपलस के पास आये तो वो
मसती मै गहरी सांसे लेने लगी....मेने जीभ को
उसके िनपपलस के चारो ओर घुमाते हुए िनपपलस को
हलके से चूसा...

ओह िे व...एक बार ओर करो...अचछा लग रहा
है ...वो मसती मै पीछे को झुकते हुये बोली.

मे उसके िनपपलस को हलके पर गहरा चूसने लगा...

मेने नीचे झुकत हुये उसके पेट पर हलके...हलके

245

चुबंन लेने शुर िकये.....ओर िोनो हाथो को उसकी
कमर िटकाते हुये उसे अपने पास खीचा...मेरी जीभ

उसके नाभी मे जाते ही उसकी उगिलया मेरे बालो मे
घुसकर उसे सहलाने लगी.....मुझे मालुम है उसे यह
सब अचछा लग रहा है ...
मने जान भूझकर उसकी चूत को िबना छुये उसकी
जांघो मे अिं र तक चुबनो से गीला करता रहा...
ओह िे व ....वो गहराइ से मेरी जांघो

को चूमने

लगी.
“...िनशा धयान रखना जब भी कलाइमेकस हो तो
मेरे सीने पर ििल के उपर एक हाथ रखना है ...ओर
िस
ू रा हाथ अपनी चूतके उपर रखना....यह बहुत

जररी है ...मै भी जब कलाइमेकस होगा तो अपना
एक हाथ लंड पर ओर एक हाथ तुमहारे ििल पर
रखूगा........इससे सेकस की उजाट को सही रपातंरण
होगा.”....मेने उसके पेर के नाजुक तलवो को जीभ
से सहलाते हुये कहा...

’ओह िे व सच पूरी बाडी मे तुमने मसती भर िी..”

“मुझे तुमहारे साथ एसा ही करने िो “ ओर वो

246

मेरे तलवो मेरी िपडं ली....मेरी जांघो पर िे र तक
अपने हाथो से सहलाती रही...चूमती रही चाटती
रही...मे भी उसे उसी तरह पयार करता रहा...जब
भी हमे कलाइमेकस महसूस होता हम एक िस
ू रे के
ििल को हाथो से छूते ..लगने लगा जेसे शरीर

हलका हो गया...पूरे शरीर मे जाि ू भरी मसती भरने
लगी....मसती की तरं ग मसती का सगीत .....जेसे
लाखो गुलाब एक साथ महक उठे हो...जेसे हजारो
कोयल एक साथ कूहक रही हो...हमारे शरीर का हर
एक सेल मसती से सरोबार होने लगा. वो आखे बंि
िकये लेटी है ....गहरी सांसे बता रही है ...वो पूरी तरह
गमट है ....
िे व सच इसमे तो जाि ू सा असर है ..सारी थकान

सारी परे शानी हवा हो गई....एसा मेने कभी महसूस
नही िकया...सारे शरीर मे बस मसती का एहसास
है ......ओह िे व सच तुमने तो जाि ू कर ििया...

वो मुझे िसर से पेर तक चूमने लगा . लगा जेसे मेरी
पूजा कर रहा हो....उसके चुबंन मे पयार है .....मािकता

है ..नजाकत है . धीरे -धीरे मे सुलगने लगी.

247

मेरे उरोजो पर गीली जीभ मेरे िनपपल से वो खेल रहा है .
उसने पहले िांए िनपपल पर अपनी गीली जीभ
चलाई.....ओर िफर बांयी.....मेरे िनपपल मसती मे तन
गये.....वो उनहे कभी धीरे से तो कभी जोर से चूसेने
लगा.उसके हाथ मेरे बूबस थामे वो बारी-बारी मेरे
िनपपलस चूस रहा है . मेने पेर फेलाकर उसे अपने बीच
ले िलया.....
िे व अपने लंड को मेरी चूत पर रखो....उसने वेसा ही
िकया...लंड का िबाब मेरी चूत पर पडने लगा.....मीठी
गुिगुिी मेरी चूत मे भरने लगी. मेरी चूत मे नीचे से लेकर
उपर लंड का िबाब है . बूबस के चूसने से वेसे ही मेरी चूत
मे मसती भरने लगी है .
वो िखसककर मेरे पेट पर आ गया....मेने पेट अिं र की
तरफ िपचका िलया उससे मेरे िनपपलस ओर तन गये.
ओर नाभी ओर गहरी हो गई. उसने नाभी मे जीभ डाल
िी. मेरी नाभी को गहराई तक चाटने लगा..मे मसती से
सरोबार होने लगी. मुझसे चूत की मसती नही संभाली
जा रही थी...चूत का कुछ करो....
अभी तो शुरआत है कहो तो रोक िे ता हू.....

ओह नही िे व तुम एसा नही करना लीना की

248

कसम...
ओर वो हं स ििया.....अब वो चूत के करीब है ....मेरी जांघो
पर उसके होठ है ....
अब शायि मुझे चूत पर चूमगा.....
चूत पर कयो नही चूमता....मै मचल उठी....
मे झटके के साथ अपना िसर िे व की जांघो के बीच ले
गई...मुझे उसके लंड के रस की जररत महसूस होने
लगी. मेरा गला जो सूखने लगा.
िे व जानबूझकर मेरी चूत का सपशट नही कर रहा . उसमे
सब जबरिसत है . वो जांघो के अिं र वाले िहससे पर
.....चूत की पखंिडयो के बहुत करीब...मुझे चूमता रहा

चाटता रहा.....सच यह सब िकसी सपने सा है ....मे उसके
लंड के साथ...खेलने लगी.....जो कुछ भी वो मेरे साथ
करता मे उसके लंड के साथ करती...अगर वो मुझे काटता
तो मे उसके लंड पर िांत गडा िे ती....अगर वो तेज कटता
तो मे भी तेज काटती.... अगर वो चूसता तो मे भी चूसती
....वो चाटता तो मै भी चाटती....
हम िोनो को यह खेल खेलने मे मजा आ रहा है . मेरी चूत
मसती मे रस से सरोबार हो गई. िे व का लनड भी रस से

सरोबार था.....उसके रस का सवाि लेकर मे मसत .

249

अब िे व मेरी चूत के साथ खेल रहा है .... .....जो कुछ भी
वो मे उसके लंड के साथ करती..वो मेरी चूत मे
करता..अगर मे उसे काटती तो वो मेरे चूत िलपस को
काटता. वो मुझे काटता तो मे उसके लंड पर िांत गडा
िे ती....अगर वो तेज कटता तो मे भी तेज काटती....
अगर वो चूसता तो मे भी चूसती ....वो चाटता तो मै भी
चाटती....
वो मुझे बार-बार िसर से लेकर पेर तक पयार कर रहा . मै
भी उसे ििवानो की तरह पयार कर रही हू....हम एक िस
ू रे
की नकल करते हुए एक िस
ू रे को मसती से भरने
लगे. ओर पयार की आग मे एक िस
ू रे को सेक रहे है .
ओह िे व मेने मािक अगडाई लेट हुए कहा...कुछ

करो...मेरा पूरा बिन जल रहा है . जेसे उसने कुछ सुना ही
ना हो.
नटखट िे व..बेििट िे व ....िनषु र िे व.....लंड को मेरी चूत
पर रगड रहा है ....चूत ने ढे र सारा रस छोड ििया...ओर
रस से वो अपनी पयास बुझाने लगा......मै पयासी की
पयासी रह गई.
िे व मुडा ओर मुझे फेच िकस ििया....ओह नो िे व

मेरे चूत रस को मुझे ही िपला ने लगा....अपनी

250

पयास बुझाओ अपने ही रस से मेरे मूह को भर ििया
ओर िे र तक फेच िकस .....िे ता रहा.
िे व ने बहुत धीरे से लंड मेरी चूत मे घुसा ििया मुझे

एहसास भी नहीं हुआ.....बहुत धीरे धीरे मुझे चोिने लगा.
उसके चोिने मे एक रीिीम है ...संगीत है ....मसती

है ...मजा है . िे व मुझे चोि रहा है . बारी बारी से मेरे बूबस
को पयार भी कर रहा है ....कभी वो उनहे काटता कभी
चूसता....कभी चाटता कभी मेरे िनपपलस के साथ उसकी
जीभ खेलने लगती.....हम िोनो मसती मे सरोबार....एक
िस
ू रे को पयार करते रहे .

मसती अब रग-रग मै है ...पूरा शरीर....मसती मे जेसे
नाच रहा हो.....बस मे ओर िे व...ओर मसती
पूरे शरीर मे चूत जेसी मसती....मसती के सागर का
एसा एहसास पहली बार लगा...ओह िे व मुझे यह
कया हो रहा है
िे व का चूत रस से भीगा लंड मेरे पास लेकर आया....मेरे
उपर िोनो तरफ पेर िटका कर बैठ गया....मै समझ गई
वो बूबस फक करने के मूड है ....मेने अपने हाथो से बूबस
को थाम िलया ...उसने बूबस की घाटी मै लंड को घुसा

ििया....ओर धकके मारने लगा....धकके हलके ओर

251

धीमे पर पूरी गहराई तक लगाने लगा....जब वो लंड
अिं र ठे लता तो मेरे होठो उसे चूम लेते.....
वो धकके पर धकके मारने लगा.....ओर मे मसत बूबस
चुिाइ का आनंि लेने लगी.
इस बार मे िकतने बार चरम पहुची मेने िगनना छोड
ििया...बस मसती मे हू....चुिाई की मसती....िे व भी

मसती से बूबस को चोि रहा है . उसके पयार का सटाइल
ओरो से अलग था. ओर मे उसकी ििवानी हो गई.
िनशा तुमहे पहली बार कब ओर िकसने चोिा था...!
यही ििलली मे मेरी कलास की लडकी के िोसत ने मुझे
चोिा. तुमहे तो मालुम है मेने एक बार चेट पर तुमहे
बताया तो है .
“ओह हां....ओर तुम....”
“तुमने कब चोिा.....”
“मेने !!”
“िवशवास करोगी...!”
“मेने पहली बार लीना को चोिा. इससे पहले मेने िकसी
लडकी के साथ मसती नही की....”
“नो िे व मुझे वोशास नही हुआ...तुम झूट बोल रहे हो,

मुझे जलाने के िलये एसा कह रहे हो....”

252

“िनशा हम एक िस
ू रे के बारे मे इतना कुछ जानते
है ...तुमसे झूट बोलकर मुझे कया िमलेगा. तुमहारी
िोसती की कसम......मैने साइबर बहुत िकया ....पर
असली चुिाई तुमहारे यहां लीना के साथ ही की.....”

“ओह िे व लीना यह सुनेगी तो िकतनी खुश होगी......”
“इसिलए तुमने िे खा होगा मै लीना के साथ थोडा
इमोशनल हो रहा हू....लीना मेरी पहली चुिाई है . “

“ओह िनशा मेरे लनड को अपने मुह मे लो......मै छूटने
वाला हूं.....”

मै पयासी ....लंड के रस की एक एक बूि पी गई......
ओह िे व मजा आ गया.....िे खो ििन के 12 बज रहे है .
िनशा हम इतनी िे र से पयार कर रहे है ओर समय का
पता ही नही चला.
िे व को मेने अपनी बाहो मे भर िलया....मेरा पयारा सा िे व
िे व अब तुम पर ओर पयार आ रहा है .....मुझे बाहो मे ले
लो िे व....
िे व ने मुझे बाहो मे कस िलया....
ताजे फूल सी िखली लीना हमारे पास आ गई. वो अभी
नहाकर बाहर िनकली .

तुम िोनो पयार मे मसत थे मेने डीसटब नही

253

िकया......अब अगर पयार हो गया हो तो आप लोग फेश
हो जाइए.
तब तक मे एक अचछी काफी बनाती हू....!

पीली साडी मे वो पयारी सी घरे लू लडकी लग रही है ..
उससे मेच करती चुिडया....िबनिी ओर हलकी गुलाबी
िलिपसटीक ....उसका कलर सेस गजब का है . पयारी सी
गुिडया.....मेरी गुिडया िे व की गुिडया. उसके चेहरे की
चमक बता रह है िक वो हमारे साथ बहुत खुश है . हमे भी
उसे खुश िे खकर अचछा लगा.

हम िोनो फेश होकर बाहर िनकले. मेने भी आज साडी
पहन ली. सकाइ बलयू साडी ओर मेच करती
चुडीया....िबनिी....ओर िलिपसटीक .......मै तैयार होकर
बाहर आइ...
पहली नजर लीना की पडी.....वो मुझे िे खती रह गई.
िनशा तुम इस डे स मे बहुत सुिंर लग रही हो िकसी की

नजर ना लग जाए. लीना ने मेरे गाल को चूमते हुए कहा.
मेने भी लीना का माथा चूम िलया. तुम भी अपने को बुरी
नजरो से बचा कर रखो.
िे व भी िनशा को िे खता रह गया. िनशा तुम भी. सच

बहुत सुिंर लग रही हो.

254

तुम िोनो आओ....मुझे पयारा सा हग िो....
"पहले काफी"... लीना ने कफी कप मुझे िे ते हुए कहा.
काफी का टे सट बता रहा था िक उसे िकतने पयार से
बनाया गया है .....
हम िोनो िे व को छोडने एयरपोटट गए. उसका जाना हम
तीनो को अिं र तक िहला गया. पर खुशी है की एक
अचछा िोसत हमे िमला. उसको पाकर अब िकसी को पाने
की इचछा ििल मे नही . उसकी यािे हमारे साथ है . उसके
साथ 4 ििन कसे गुजर गए पता नही चला. लीना को पता
चल गया िक वो िे व का पहला पयार है . यह जानकर वो
बहुत भावुक हो गई. िे व ओर मेने उसे संभाल िलया.

िे व जेसे िोसत ओर मेरा साथ पाकर वो बहुत खुश है .

खुश तो मे भी बहुत हू. इन चार ििनो ने मन से जेसे सब
गुबार िनकालकर बाहर आ गया हर इचछा पूरी हो

गई.सेकस की पूरी तरह भोगा. मे अब अपने को हलका
महसूस कर रही हू. पहले मेरे ििमाग मे सेकस को
लेकर एक

वहशीपन था अब सेकस मे पयार ओर

सुिंरता िे ख पा रही हू. िे व ओर लीना जेसे िोसत

िमलना भागय की बात है . मुझे अपने भागय पर नाज है .

अब सब कुछ अचछा लग रहा है . िजस सेकस के पीछे

255

भाग रही थी उसे इन चार ििनो मे पूरे मन से भोगा था.
मन की हर इचछा पूरी हो गई . अब कोई खबािहश बाकी
नही बची. िे व हमारे िलए सच मे िे व बनकर आया .

मै जब सोकर उठी तो िे खा िे व ओर िनशा मेरे पास नही
थे. मै उठी ओर उनहे ढू डती हुई अपने कमरे मे आ गई. वो
ििनो मेरे कमरे मे पयार कर रहे है . मुझे डसटबट ना हो
इसिलए पयार करने मेरे कमरे मे आ गए. िे व की बाते
सुनकर मे सनन रह गई. िे व का मे पहला पयार . पर
िजस तरह से उसने मुझे पयार िकया, िवशवास करने
को ििल नही चाहता. मुझे मालुम है िक वो झूट नही
बोल रहा है . ओर अगर ये झूट भी है तो िकतना
पयारा झूट, उसकी बातो मे मेरे िलये पयार जो छलक
रहा था. िे व ने मुझे पूरी ओरत बनाया . उसने मेरे अिं र
से सेकस की भूख िनकालकर सेकस के िलए पयार भर
ििया ...उसने मेरे हर सपने को पूरा िकया. मुझे भरपूर
पयार िकया. ओह िे व मै तुमहारा पहला पयार हू....

िनशा बहुत पयारी िोसत है . एसे िोसती आसानी से नही

िमलते. मुझे िनशा ओर िे व पर गवट है . मै भागयशाली हू

की मुझे िनशा ओर िे व िमले. िे व को छोडना

256

आसान नही रहा उसने वायिा िकया की हम जलि
ही िफर िमलेगे. इस बार उसने हमे मुमबई बुलाया है .

******************************************************
िनशा ओर लीना को छोडना मेरे िलए आसान नही . लगा
जेसे आतमा शरीर से अलग होती है . जेसे मे अपने सपने
से िरू हो रहा हू. लीना मेरा पहला पयार . ओर िनशा मेरी

पयारी िोसत. उन िोनो ने मेरी हर इचछा पूरी की. इन चार
िोनो मे जेसे चार सििया गुजर गई. सेकस को मे आखरी
िलिमट तक ले गया. उन िोनो ने मेरा पूरा साथ ििया
मेरी हर उलटी सीधी हरकत पर पयार िकया.
मेरी हर फेटे सी को पूरा करने मे मिि की. मुझे लगता है
मै सेकस का सही अथट उन िोनो के साथ ही समझ पाया.
ओर शायि उनहे भी समझा पाया. सेकस सच मे एक
आनंि है एक उतसव है , उनहोने ही समझाया. ओर समझ
मे आया सेकस एक िजममेिारी भी है . सेकस का सही अथट
मुझे समझ मे आ गया. मेरी िोनो िोसतो को भी समझ
मे आ गया.

इस ििुनया मे िनशा ओर लीना जैसी िकतनी है . ओर

257

िकतने िे व है जो उनका इितंजार रहे है . सभी तो डरे ,

सहमे,गलानी से भरे हुए है . सेकस को पाप समझते है

जीवन िे ने वाली शिक उनके िलए पाप बना िी गई. िस
ू रे
के पाप िगनकर सोचते है उनके पाप कम हो गये. मै भी
तो कुछ एसा ही था पर अब नही.
***************समाप***********

Sign up to vote on this title
UsefulNot useful