¬

श्रीयाभचरयतभानस
vuqØef.kdk
v/;k;

i`‘B la[;k

फार काण्ड

2
137
248
273
287
310
365

अमोध्मा काण्ड
अयण्म काण्ड
ककष्ककन्धा काण्ड
सुन्दय काण्ड
रॊका काण्ड
उत्तय काण्ड

izLrqrhdj.k

1

%& jksfgr flag

BAL KAND

फार काण्ड
।।श्री गणेशाम नभ् ।।
श्रीजानकीवल्रबो ववजमते
श्री याभचरयत भानस
प्रथभ सोऩान
(फारकाण्ड)
श्लोक
वणाानाभथासॊघानाॊ यसानाॊ छन्दसाभवऩ।
भङ्गरानाॊ च कत्ताायौ वन्दे वाणीववनामकौ।।1।।
बवानीशङ्कयौ वन्दे श्रद्धाववश्वासरूवऩणौ।
माभ्माॊ ववना न ऩश्मष्न्त ससद्धा्स्वान्त्स्थभीश्वयभ ्।।2।।
वन्दे फोधभमॊ सनत्मॊ गुरुॊ शङ्कयरूवऩणभ ्।

मभासश्रतो कह वक्रोऽवऩ चन्र् सवात्र वन्यते।।3।।
सीतायाभगुणग्राभऩुण्मायण्मववहारयणौ।
वन्दे ववशुद्धववऻानौ कफीश्वयकऩीश्वयौ।।4।।
उद्भवष्स्थसतसॊहायकारयणीॊ क्रेशहारयणीभ ्।

सवाश्रम
े स्कयीॊ सीताॊ नतोऽहॊ याभवल्रबाभ ्।।5।।
मन्भामावशवसतं ववश्वभष्िरॊ ब्रह्माकददे वासुया

मत्सत्वादभृषैव बासत सकरॊ यज्जौ मथाहे र्भ्भ
ा ्।
मत्ऩादप्रवभेकभेव कह बवाम्बोधेष्स्ततीषाावताॊ
वन्दे ऽहॊ तभशेषकायणऩयॊ याभाख्मभीशॊ हरयभ ्।।6।।
नानाऩुयाणसनगभागभसम्भतॊ मद्

याभामणे सनगकदतॊ क्वसचदन्मतोऽवऩ।
स्वान्त्सुिाम तुरसी यघुनाथगाथाबाषासनफन्धभसतभञ्जुरभातनोसत।।7।।
सो0-जो सुसभयत सससध होइ गन नामक करयफय फदन।
कयउ अनुग्रह सोइ फुवद्ध यासस सुब गुन सदन।।1।।
भूक होइ फाचार ऩॊगु चढइ सगरयफय गहन।
जासु कृ ऩाॉ सो दमार रवउ सकर कसर भर दहन।।2।।
नीर सयोरुह स्माभ तरुन अरुन फारयज नमन।

2

कयउ सो भभ उय धाभ सदा छीयसागय समन।।3।।
कुॊद इॊ द ु सभ दे ह उभा यभन करुना अमन।

जाकह दीन ऩय नेह कयउ कृ ऩा भदा न भमन।।4।।
फॊदउ गुरु ऩद कॊज कृ ऩा ससॊधु नयरूऩ हरय।
भहाभोह तभ ऩुॊज जासु फचन यवफ कय सनकय।।5।।
फॊदउ गुरु ऩद ऩदभ
ु ऩयागा। सुरुसच सुफास सयस अनुयागा।।

असभम भूरयभम चूयन चारू। सभन सकर बव रुज ऩरयवारू।।
सुकृसत सॊबु तन वफभर वफबूती। भॊजुर भॊगर भोद प्रसूती।।
जन भन भॊजु भुकुय भर हयनी। ककएॉ सतरक गुन गन फस कयनी।।
श्रीगुय ऩद नि भसन गन जोती। सुसभयत कदब्म रवृ ि कहमॉ होती।।
दरन भोह तभ सो सप्रकासू। फड़े बाग उय आवइ जासू।।

उघयकहॊ वफभर वफरोचन ही के। सभटकहॊ दोष दि
ु बव यजनी के।।

सूझकहॊ याभ चरयत भसन भासनक। गुऩुत प्रगट जहॉ जो जेकह िासनक।।
दो0-जथा सुअॊजन अॊष्ज दृग साधक ससद्ध सुजान।
कौतुक दे ित सैर फन बूतर बूरय सनधान।।1।।
–*–*–
एकह भहॉ यघुऩसत नाभ उदाया। असत ऩावन ऩुयान श्रुसत साया।।
भॊगर बवन अभॊगर हायी। उभा सकहत जेकह जऩत ऩुयायी।।
बसनसत वफसचत्र सुकवफ कृ त जोऊ। याभ नाभ वफनु सोह न सोऊ।।
वफधुफदनी सफ बाॉसत सॉवायी। सोन न फसन वफना फय नायी।।
सफ गुन यकहत कुकवफ कृ त फानी। याभ नाभ जस अॊककत जानी।।
सादय कहकहॊ सुनकहॊ फुध ताही। भधुकय सरयस सॊत गुनग्राही।।
जदवऩ कवफत यस एकउ नाही। याभ प्रताऩ प्रकट एकह भाहीॊ।।
सोइ बयोस भोयईऄ भन आवा। केकहॊ न सुसॊग फडप्ऩनु ऩावा।।
धूभउ तजइ सहज करुआई। अगरु प्रसॊग सुगॊध फसाई।।
बसनसत बदे स फस्तु बसर फयनी। याभ कथा जग भॊगर कयनी।।
छॊ 0-भॊगर कयसन कसर भर हयसन तुरसी कथा यघुनाथ की।।
गसत कूय कवफता सरयत की ज्मं सरयत ऩावन ऩाथ की।।
प्रबु सुजस सॊगसत बसनसत बसर होइकह सुजन भन बावनी।।
बव अॊग बूसत भसान की सुसभयत सुहावसन ऩावनी।।
दो0-वप्रम रासगकह असत सफकह भभ बसनसत याभ जस सॊग।
दारु वफचारु कक कयइ कोउ फॊकदअ भरम प्रसॊग।।10(क)।।

3

स्माभ सुयसब ऩम वफसद असत गुनद कयकहॊ सफ ऩान।
सगया ग्राम्म ससम याभ जस गावकहॊ सुनकहॊ सुजान।।10(ि)।।
–*–*–
गुरु ऩद यज भृद ु भॊजुर अॊजन। नमन असभअ दृग दोष वफबॊजन।।

तेकहॊ करय वफभर वफफेक वफरोचन। फयनउॉ याभ चरयत बव भोचन।।
फॊदउॉ प्रथभ भहीसुय चयना। भोह जसनत सॊसम सफ हयना।।
सुजन सभाज सकर गुन िानी। कयउॉ प्रनाभ सप्रेभ सुफानी।।
साधु चरयत सुब चरयत कऩासू। सनयस वफसद गुनभम पर जासू।।
जो सकह दि
ु ऩयसछर दयु ावा। फॊदनीम जेकहॊ जग जस ऩावा।।
भुद भॊगरभम सॊत सभाजू। जो जग जॊगभ तीयथयाजू।।

याभ बवि जहॉ सुयसरय धाया। सयसइ ब्रह्म वफचाय प्रचाया।।
वफसध सनषेधभम कसर भर हयनी। कयभ कथा यवफनॊदसन फयनी।।
हरय हय कथा वफयाजसत फेनी। सुनत सकर भुद भॊगर दे नी।।
फटु वफस्वास अचर सनज धयभा। तीयथयाज सभाज सुकयभा।।
सफकहॊ सुरब सफ कदन सफ दे सा। सेवत सादय सभन करेसा।।
अकथ अरौककक तीयथयाऊ। दे इ सय पर प्रगट प्रबाऊ।।
दो0-सुसन सभुझकहॊ जन भुकदत भन भज्जकहॊ असत अनुयाग।
रहकहॊ चारय पर अछत तनु साधु सभाज प्रमाग।।2।।
–*–*–
भज्जन पर ऩेष्िअ ततकारा। काक होकहॊ वऩक फकउ भयारा।।
सुसन आचयज कयै जसन कोई। सतसॊगसत भकहभा नकहॊ गोई।।
फारभीक नायद घटजोनी। सनज सनज भुिसन कही सनज होनी।।
जरचय थरचय नबचय नाना। जे जड़ चेतन जीव जहाना।।
भसत कीयसत गसत बूसत बराई। जफ जेकहॊ जतन जहाॉ जेकहॊ ऩाई।।
सो जानफ सतसॊग प्रबाऊ। रोकहुॉ फेद न आन उऩाऊ।।

वफनु सतसॊग वफफेक न होई। याभ कृ ऩा वफनु सुरब न सोई।।
सतसॊगत भुद भॊगर भूरा। सोइ पर सससध सफ साधन पूरा।।
सठ सुधयकहॊ सतसॊगसत ऩाई। ऩायस ऩयस कुधात सुहाई।।
वफसध फस सुजन कुसॊगत ऩयहीॊ। पसन भसन सभ सनज गुन अनुसयहीॊ।।
वफसध हरय हय कवफ कोवफद फानी। कहत साधु भकहभा सकुचानी।।
सो भो सन ककह जात न कैसईऄ। साक फसनक भसन गुन गन जैसईऄ।।
दो0-फॊदउॉ सॊत सभान सचत कहत अनकहत नकहॊ कोइ।

अॊजसर गत सुब सुभन ष्जसभ सभ सुगॊध कय दोइ।।3(क)।।

4

सॊत सयर सचत जगत कहत जासन सुबाउ सनेहु।

फारवफनम सुसन करय कृ ऩा याभ चयन यसत दे हु।।3(ि)।।
–*–*–
फहुरय फॊकद िर गन ससतबाएॉ। जे वफनु काज दाकहनेहु फाएॉ।।
ऩय कहत हासन राब ष्जन्ह केयईऄ । उजयईऄ हयष वफषाद फसेयईऄ।।

हरय हय जस याकेस याहु से। ऩय अकाज बट सहसफाहु से।।

जे ऩय दोष रिकहॊ सहसािी। ऩय कहत घृत ष्जन्ह के भन भािी।।
तेज कृ सानु योष भकहषेसा। अघ अवगुन धन धनी धनेसा।।
उदम केत सभ कहत सफही के। कुॊबकयन सभ सोवत नीके।।
ऩय अकाजु रसग तनु ऩरयहयहीॊ। ष्जसभ कहभ उऩर कृ षी दसर गयहीॊ।।
फॊदउॉ िर जस सेष सयोषा। सहस फदन फयनइ ऩय दोषा।।
ऩुसन प्रनवउॉ ऩृथुयाज सभाना। ऩय अघ सुनइ सहस दस काना।।
फहुरय सक्र सभ वफनवउॉ तेही। सॊतत सुयानीक कहत जेही।।

फचन फज्र जेकह सदा वऩआया। सहस नमन ऩय दोष सनहाया।।
दो0-उदासीन अरय भीत कहत सुनत जयकहॊ िर यीसत।
जासन ऩासन जुग जोरय जन वफनती कयइ सप्रीसत।।4।।
–*–*–
भईआ अऩनी कदसस कीन्ह सनहोया। सतन्ह सनज ओय न राउफ बोया।।
फामस ऩसरअकहॊ असत अनुयागा। होकहॊ सनयासभष कफहुॉ कक कागा।।
फॊदउॉ सॊत असज्जन चयना। दि
ु प्रद उबम फीच कछु फयना।।
वफछुयत एक प्रान हरय रेहीॊ। सभरत एक दि
ु दारुन दे हीॊ।।

उऩजकहॊ एक सॊग जग भाहीॊ। जरज जंक ष्जसभ गुन वफरगाहीॊ।।
सुधा सुया सभ साधू असाधू। जनक एक जग जरसध अगाधू।।
बर अनबर सनज सनज कयतूती। रहत सुजस अऩरोक वफबूती।।
सुधा सुधाकय सुयसरय साधू। गयर अनर कसरभर सरय ब्माधू।।
गुन अवगुन जानत सफ कोई। जो जेकह बाव नीक तेकह सोई।।
दो0-बरो बराइकह ऩै रहइ रहइ सनचाइकह नीचु।
सुधा सयाकहअ अभयताॉ गयर सयाकहअ भीचु।।5।।
–*–*–
िर अघ अगुन साधू गुन गाहा। उबम अऩाय उदसध अवगाहा।।
तेकह तईऄ कछु गुन दोष फिाने। सॊग्रह त्माग न वफनु ऩकहचाने।।
बरेउ ऩोच सफ वफसध उऩजाए। गसन गुन दोष फेद वफरगाए।।
कहकहॊ फेद इसतहास ऩुयाना। वफसध प्रऩॊचु गुन अवगुन साना।।

5

दि
ु सुि ऩाऩ ऩुन्म कदन याती। साधु असाधु सुजासत कुजाती।।
दानव दे व ऊॉच अरु नीचू। असभअ सुजीवनु भाहुरु भीचू।।

भामा ब्रह्म जीव जगदीसा। रष्छछ अरष्छछ यॊ क अवनीसा।।
कासी भग सुयसरय क्रभनासा। भरु भायव भकहदे व गवासा।।
सयग नयक अनुयाग वफयागा। सनगभागभ गुन दोष वफबागा।।
दो0-जड़ चेतन गुन दोषभम वफस्व कीन्ह कयताय।
सॊत हॊ स गुन गहकहॊ ऩम ऩरयहरय फारय वफकाय।।6।।
–*–*–
अस वफफेक जफ दे इ वफधाता। तफ तष्ज दोष गुनकहॊ भनु याता।।
कार सुबाउ कयभ फरयआई। बरेउ प्रकृ सत फस चुकइ बराई।।
सो सुधारय हरयजन ष्जसभ रेहीॊ। दसर दि
ु दोष वफभर जसु दे हीॊ।।
िरउ कयकहॊ बर ऩाइ सुसॊगू। सभटइ न भसरन सुबाउ अबॊगू।।
रष्ि सुफेष जग फॊचक जेऊ। फेष प्रताऩ ऩूष्जअकहॊ तेऊ।।
उधयकहॊ अॊत न होइ सनफाहू। कारनेसभ ष्जसभ यावन याहू।।

ककएहुॉ कुफेष साधु सनभानू। ष्जसभ जग जाभवॊत हनुभानू।।
हासन कुसॊग सुसॊगसत राहू। रोकहुॉ फेद वफकदत सफ काहू।।

गगन चढ़इ यज ऩवन प्रसॊगा। कीचकहॊ सभरइ नीच जर सॊगा।।
साधु असाधु सदन सुक सायीॊ। सुसभयकहॊ याभ दे कहॊ गसन गायी।।
धूभ कुसॊगसत कारयि होई। सरष्िअ ऩुयान भॊजु भसस सोई।।
सोइ जर अनर असनर सॊघाता। होइ जरद जग जीवन दाता।।
दो0-ग्रह बेषज जर ऩवन ऩट ऩाइ कुजोग सुजोग।
होकह कुफस्तु सुफस्तु जग रिकहॊ सुरछछन रोग।।7(क)।।
सभ प्रकास तभ ऩाि दह
ु ुॉ नाभ बेद वफसध कीन्ह।

ससस सोषक ऩोषक सभुष्झ जग जस अऩजस दीन्ह।।7(ि)।।
जड़ चेतन जग जीव जत सकर याभभम जासन।
फॊदउॉ सफ के ऩद कभर सदा जोरय जुग ऩासन।।7(ग)।।
दे व दनुज नय नाग िग प्रेत वऩतय गॊधफा।
फॊदउॉ ककॊनय यजसनचय कृ ऩा कयहु अफ सफा।।7(घ)।।
–*–*–
आकय चारय राि चौयासी। जासत जीव जर थर नब फासी।।
सीम याभभम सफ जग जानी। कयउॉ प्रनाभ जोरय जुग ऩानी।।

जासन कृ ऩाकय ककॊकय भोहू। सफ सभसर कयहु छाकड़ छर छोहू।।

सनज फुसध फर बयोस भोकह नाहीॊ। तातईऄ वफनम कयउॉ सफ ऩाही।।

6

कयन चहउॉ यघुऩसत गुन गाहा। रघु भसत भोरय चरयत अवगाहा।।
सूझ न एकउ अॊग उऩाऊ। भन भसत यॊ क भनोयथ याऊ।।
भसत असत नीच ऊॉसच रुसच आछी। चकहअ असभअ जग जुयइ न छाछी।।
छसभहकहॊ सज्जन भोरय कढठाई। सुसनहकहॊ फारफचन भन राई।।
जौ फारक कह तोतरय फाता। सुनकहॊ भुकदत भन वऩतु अरु भाता।।
हॉ ससहकह कूय कुकटर कुवफचायी। जे ऩय दष
ू न बूषनधायी।।

सनज कववत केकह राग न नीका। सयस होउ अथवा असत पीका।।
जे ऩय बसनसत सुनत हयषाही। ते फय ऩुरुष फहुत जग नाहीॊ।।

जग फहु नय सय सरय सभ बाई। जे सनज फाकढ़ फढ़कहॊ जर ऩाई।।
सज्जन सकृ त ससॊधु सभ कोई। दे ष्ि ऩूय वफधु फाढ़इ जोई।।
दो0-बाग छोट असबराषु फड़ कयउॉ एक वफस्वास।
ऩैहकहॊ सुि सुसन सुजन सफ िर कयहकहॊ उऩहास।।8।।
–*–*–
िर ऩरयहास होइ कहत भोया। काक कहकहॊ करकॊठ कठोया।।
हॊ सकह फक दादयु चातकही। हॉ सकहॊ भसरन िर वफभर फतकही।।

कवफत यससक न याभ ऩद नेहू। सतन्ह कहॉ सुिद हास यस एहू।।
बाषा बसनसत बोरय भसत भोयी। हॉ ससफे जोग हॉ सईऄ नकहॊ िोयी।।

प्रबु ऩद प्रीसत न साभुष्झ नीकी। सतन्हकह कथा सुसन रागकह पीकी।।
हरय हय ऩद यसत भसत न कुतयकी। सतन्ह कहुॉ भधुय कथा यघुवय की।।
याभ बगसत बूवषत ष्जमॉ जानी। सुसनहकहॊ सुजन सयाकह सुफानी।।
कवफ न होउॉ नकहॊ फचन प्रफीनू। सकर करा सफ वफया हीनू।।
आिय अयथ अरॊकृसत नाना। छॊ द प्रफॊध अनेक वफधाना।।
बाव बेद यस बेद अऩाया। कवफत दोष गुन वफवफध प्रकाया।।
कवफत वफफेक एक नकहॊ भोयईऄ । सत्म कहउॉ सरष्ि कागद कोये ।।
दो0-बसनसत भोरय सफ गुन यकहत वफस्व वफकदत गुन एक।
सो वफचारय सुसनहकहॊ सुभसत ष्जन्ह कईऄ वफभर वफवेक।।9।।
–*–*–
भसन भासनक भुकुता छवफ जैसी। अकह सगरय गज ससय सोह न तैसी।।
नृऩ ककयीट तरुनी तनु ऩाई। रहकहॊ सकर सोबा असधकाई।।
तैसेकहॊ सुकवफ कवफत फुध कहहीॊ। उऩजकहॊ अनत अनत छवफ रहहीॊ।।
बगसत हे तु वफसध बवन वफहाई। सुसभयत सायद आवसत धाई।।

7

याभ चरयत सय वफनु अन्हवाएॉ। सो श्रभ जाइ न कोकट उऩाएॉ।।
कवफ कोवफद अस रृदमॉ वफचायी। गावकहॊ हरय जस कसर भर हायी।।
कीन्हईऄ प्राकृ त जन गुन गाना। ससय धुसन सगया रगत ऩसछताना।।
रृदम ससॊधु भसत सीऩ सभाना। स्वासत सायदा कहकहॊ सुजाना।।
जं फयषइ फय फारय वफचारू। होकहॊ कवफत भुकुताभसन चारू।।
दो0-जुगुसत फेसध ऩुसन ऩोकहअकहॊ याभचरयत फय ताग।
ऩकहयकहॊ सज्जन वफभर उय सोबा असत अनुयाग।।11।।
–*–*–
जे जनभे कसरकार कयारा। कयतफ फामस फेष भयारा।।
चरत कुऩॊथ फेद भग छाॉड़े। कऩट करेवय कसर भर बाॉड़ईऄ।।
फॊचक बगत कहाइ याभ के। ककॊकय कॊचन कोह काभ के।।
सतन्ह भहॉ प्रथभ ये ि जग भोयी। धीॊग धयभध्वज धॊधक धोयी।।
जं अऩने अवगुन सफ कहऊॉ। फाढ़इ कथा ऩाय नकहॊ रहऊॉ।।
ताते भईआ असत अरऩ फिाने। थोये भहुॉ जासनहकहॊ समाने।।

सभुष्झ वफवफसध वफसध वफनती भोयी। कोउ न कथा सुसन दे इकह िोयी।।
एतेहु ऩय करयहकहॊ जे असॊका। भोकह ते असधक ते जड़ भसत यॊ का।।
कवफ न होउॉ नकहॊ चतुय कहावउॉ । भसत अनुरूऩ याभ गुन गावउॉ ।।
कहॉ यघुऩसत के चरयत अऩाया। कहॉ भसत भोरय सनयत सॊसाया।।
जेकहॊ भारुत सगरय भेरु उड़ाहीॊ। कहहु तूर केकह रेिे भाहीॊ।।

सभुझत असभत याभ प्रबुताई। कयत कथा भन असत कदयाई।।
दो0-सायद सेस भहे स वफसध आगभ सनगभ ऩुयान।
नेसत नेसत ककह जासु गुन कयकहॊ सनयॊ तय गान।।12।।
–*–*–
सफ जानत प्रबु प्रबुता सोई। तदवऩ कहईऄ वफनु यहा न कोई।।
तहाॉ फेद अस कायन यािा। बजन प्रबाउ बाॉसत फहु बाषा।।
एक अनीह अरूऩ अनाभा। अज सष्छचदानॊद ऩय धाभा।।

ब्माऩक वफस्वरूऩ बगवाना। तेकहॊ धरय दे ह चरयत कृ त नाना।।
सो केवर बगतन कहत रागी। ऩयभ कृ ऩार प्रनत अनुयागी।।
जेकह जन ऩय भभता असत छोहू। जेकहॊ करुना करय कीन्ह न कोहू।।
गई फहोय गयीफ नेवाजू। सयर सफर साकहफ यघुयाजू।।

फुध फयनकहॊ हरय जस अस जानी। कयकह ऩुनीत सुपर सनज फानी।।
तेकहॊ फर भईआ यघुऩसत गुन गाथा। ककहहउॉ नाइ याभ ऩद भाथा।।

भुसनन्ह प्रथभ हरय कीयसत गाई। तेकहॊ भग चरत सुगभ भोकह बाई।।

8

दो0-असत अऩाय जे सरयत फय जं नृऩ सेतु कयाकहॊ ।
चकढ वऩऩीसरकउ ऩयभ रघु वफनु श्रभ ऩायकह जाकहॊ ।।13।।
–*–*–
एकह प्रकाय फर भनकह दे िाई। करयहउॉ यघुऩसत कथा सुहाई।।
ब्मास आकद कवफ ऩुॊगव नाना। ष्जन्ह सादय हरय सुजस फिाना।।
चयन कभर फॊदउॉ सतन्ह केये । ऩुयवहुॉ सकर भनोयथ भेये।।

कसर के कवफन्ह कयउॉ ऩयनाभा। ष्जन्ह फयने यघुऩसत गुन ग्राभा।।
जे प्राकृ त कवफ ऩयभ समाने। बाषाॉ ष्जन्ह हरय चरयत फिाने।।
बए जे अहकहॊ जे होइहकहॊ आगईऄ। प्रनवउॉ सफकहॊ कऩट सफ त्मागईऄ।।
होहु प्रसन्न दे हु फयदानू। साधु सभाज बसनसत सनभानू।।

जो प्रफॊध फुध नकहॊ आदयहीॊ। सो श्रभ फाकद फार कवफ कयहीॊ।।
कीयसत बसनसत बूसत बसर सोई। सुयसरय सभ सफ कहॉ कहत होई।।
याभ सुकीयसत बसनसत बदे सा। असभॊजस अस भोकह अॉदेसा।।
तुम्हयी कृ ऩा सुरब सोउ भोये । ससअसन सुहावसन टाट ऩटोये ।।
दो0-सयर कवफत कीयसत वफभर सोइ आदयकहॊ सुजान।
सहज फमय वफसयाइ रयऩु जो सुसन कयकहॊ फिान।।14(क)।।
सो न होइ वफनु वफभर भसत भोकह भसत फर असत थोय।
कयहु कृ ऩा हरय जस कहउॉ ऩुसन ऩुसन कयउॉ सनहोय।।14(ि)।।
कवफ कोवफद यघुफय चरयत भानस भॊजु भयार।

फार वफनम सुसन सुरुसच रष्ि भोऩय होहु कृ ऩार।।14(ग)।।
–*–*–
सो0-फॊदउॉ भुसन ऩद कॊजु याभामन जेकहॊ सनयभमउ।
सिय सुकोभर भॊजु दोष यकहत दष
ू न सकहत।।14(घ)।।
फॊदउॉ चारयउ फेद बव फारयसध फोकहत सरयस।

ष्जन्हकह न सऩनेहुॉ िेद फयनत यघुफय वफसद जसु।।14(ङ)।।
फॊदउॉ वफसध ऩद ये नु बव सागय जेकह कीन्ह जहॉ ।

सॊत सुधा ससस धेनु प्रगटे िर वफष फारुनी।।14(च)।।
दो0-वफफुध वफप्र फुध ग्रह चयन फॊकद कहउॉ कय जोरय।
होइ प्रसन्न ऩुयवहु सकर भॊजु भनोयथ भोरय।।14(छ)।।
–*–*–
ऩुसन फॊदउॉ सायद सुयसरयता। जुगर ऩुनीत भनोहय चरयता।।
भज्जन ऩान ऩाऩ हय एका। कहत सुनत एक हय अवफफेका।।
गुय वऩतु भातु भहे स बवानी। प्रनवउॉ दीनफॊधु कदन दानी।।

9

सेवक स्वासभ सिा ससम ऩी के। कहत सनरुऩसध सफ वफसध तुरसीके।।
कसर वफरोकक जग कहत हय सगरयजा। साफय भॊत्र जार ष्जन्ह ससरयजा।।
अनसभर आिय अयथ न जाऩू। प्रगट प्रबाउ भहे स प्रताऩू।।
सो उभेस भोकह ऩय अनुकूरा। करयकहॊ कथा भुद भॊगर भूरा।।
सुसभरय ससवा ससव ऩाइ ऩसाऊ। फयनउॉ याभचरयत सचत चाऊ।।
बसनसत भोरय ससव कृ ऩाॉ वफबाती। ससस सभाज सभसर भनहुॉ सुयाती।।
जे एकह कथकह सनेह सभेता। ककहहकहॊ सुसनहकहॊ सभुष्झ सचेता।।
होइहकहॊ याभ चयन अनुयागी। कसर भर यकहत सुभॊगर बागी।।
दो0-सऩनेहुॉ साचेहुॉ भोकह ऩय जं हय गौरय ऩसाउ।

तौ पुय होउ जो कहे उॉ सफ बाषा बसनसत प्रबाउ।।15।।
–*–*–
फॊदउॉ अवध ऩुयी असत ऩावसन। सयजू सरय कसर करुष नसावसन।।
प्रनवउॉ ऩुय नय नारय फहोयी। भभता ष्जन्ह ऩय प्रबुकह न थोयी।।
ससम सनॊदक अघ ओघ नसाए। रोक वफसोक फनाइ फसाए।।
फॊदउॉ कौसल्मा कदसस प्राची। कीयसत जासु सकर जग भाची।।
प्रगटे उ जहॉ यघुऩसत ससस चारू। वफस्व सुिद िर कभर तुसारू।।
दसयथ याउ सकहत सफ यानी। सुकृत सुभॊगर भूयसत भानी।।
कयउॉ प्रनाभ कयभ भन फानी। कयहु कृ ऩा सुत सेवक जानी।।

ष्जन्हकह वफयसच फड़ बमउ वफधाता। भकहभा अवसध याभ वऩतु भाता।।
सो0-फॊदउॉ अवध बुआर सत्म प्रेभ जेकह याभ ऩद।
वफछुयत दीनदमार वप्रम तनु तृन इव ऩरयहये उ।।16।।
प्रनवउॉ ऩरयजन सकहत वफदे हू। जाकह याभ ऩद गूढ़ सनेहू।।
जोग बोग भहॉ यािेउ गोई। याभ वफरोकत प्रगटे उ सोई।।

प्रनवउॉ प्रथभ बयत के चयना। जासु नेभ ब्रत जाइ न फयना।।
याभ चयन ऩॊकज भन जासू। रुफुध भधुऩ इव तजइ न ऩासू।।
फॊदउॉ रसछभन ऩद जरजाता। सीतर सुबग बगत सुि दाता।।
यघुऩसत कीयसत वफभर ऩताका। दॊ ड सभान बमउ जस जाका।।
सेष सहस्त्रसीस जग कायन। जो अवतये उ बूसभ बम टायन।।
सदा सो सानुकूर यह भो ऩय। कृ ऩाससॊधु सौसभवत्र गुनाकय।।
रयऩुसूदन ऩद कभर नभाभी। सूय सुसीर बयत अनुगाभी।।
भहावीय वफनवउॉ हनुभाना। याभ जासु जस आऩ फिाना।।
सो0-प्रनवउॉ ऩवनकुभाय िर फन ऩावक ग्मानधन।

10

जासु रृदम आगाय फसकहॊ याभ सय चाऩ धय।।17।।
कवऩऩसत यीछ सनसाचय याजा। अॊगदाकद जे कीस सभाजा।।
फॊदउॉ सफ के चयन सुहाए। अधभ सयीय याभ ष्जन्ह ऩाए।।
यघुऩसत चयन उऩासक जेते। िग भृग सुय नय असुय सभेते।।
फॊदउॉ ऩद सयोज सफ केये । जे वफनु काभ याभ के चेये।।
सुक सनकाकद बगत भुसन नायद। जे भुसनफय वफग्मान वफसायद।।
प्रनवउॉ सफकहॊ धयसन धरय सीसा। कयहु कृ ऩा जन जासन भुनीसा।।

जनकसुता जग जनसन जानकी। असतसम वप्रम करुना सनधान की।।
ताके जुग ऩद कभर भनावउॉ । जासु कृ ऩाॉ सनयभर भसत ऩावउॉ ।।
ऩुसन भन फचन कभा यघुनामक। चयन कभर फॊदउॉ सफ रामक।।
याष्जवनमन धयईऄ धनु सामक। बगत वफऩसत बॊजन सुि दामक।।
दो0-सगया अयथ जर फीसच सभ ककहअत सबन्न न सबन्न।
फदउॉ सीता याभ ऩद ष्जन्हकह ऩयभ वप्रम ष्िन्न।।18।।
–*–*–
फॊदउॉ नाभ याभ यघुवय को। हे तु कृ सानु बानु कहभकय को।।
वफसध हरय हयभम फेद प्रान सो। अगुन अनूऩभ गुन सनधान सो।।
भहाभॊत्र जोइ जऩत भहे सू। कासीॊ भुकुसत हे तु उऩदे सू।।
भकहभा जासु जान गनयाउ। प्रथभ ऩूष्जअत नाभ प्रबाऊ।।
जान आकदकवफ नाभ प्रताऩू। बमउ सुद्ध करय उरटा जाऩू।।
सहस नाभ सभ सुसन ससव फानी। जवऩ जेई वऩम सॊग बवानी।।
हयषे हे तु हे रय हय ही को। ककम बूषन सतम बूषन ती को।।
नाभ प्रबाउ जान ससव नीको। कारकूट परु दीन्ह अभी को।।
दो0-फयषा रयतु यघुऩसत बगसत तुरसी सासर सुदास।।
याभ नाभ फय फयन जुग सावन बादव भास।।19।।
–*–*–
आिय भधुय भनोहय दोऊ। फयन वफरोचन जन ष्जम जोऊ।।
सुसभयत सुरब सुिद सफ काहू। रोक राहु ऩयरोक सनफाहू।।

कहत सुनत सुसभयत सुकठ नीके। याभ रिन सभ वप्रम तुरसी के।।
फयनत फयन प्रीसत वफरगाती। ब्रह्म जीव सभ सहज सॉघाती।।
नय नायामन सरयस सुर्भ्ाता। जग ऩारक वफसेवष जन त्राता।।
बगसत सुसतम कर कयन वफबूषन। जग कहत हे तु वफभर वफधु ऩूषन ।
स्वाद तोष सभ सुगसत सुधा के। कभठ सेष सभ धय फसुधा के।।
जन भन भॊजु कॊज भधुकय से। जीह जसोभसत हरय हरधय से।।

11

दो0-एकु छत्रु एकु भुकुटभसन सफ फयनसन ऩय जोउ।
तुरसी यघुफय नाभ के फयन वफयाजत दोउ।।20।।
–*–*–
सभुझत सरयस नाभ अरु नाभी। प्रीसत ऩयसऩय प्रबु अनुगाभी।।
नाभ रूऩ दइ
ु ईस उऩाधी। अकथ अनाकद सुसाभुष्झ साधी।।

को फड़ छोट कहत अऩयाधू। सुसन गुन बेद सभुष्झहकहॊ साधू।।
दे ष्िअकहॊ रूऩ नाभ आधीना। रूऩ ग्मान नकहॊ नाभ वफहीना।।
रूऩ वफसेष नाभ वफनु जानईऄ। कयतर गत न ऩयकहॊ ऩकहचानईऄ।।
सुसभरयअ नाभ रूऩ वफनु दे िईऄ। आवत रृदमॉ सनेह वफसेषईऄ।।
नाभ रूऩ गसत अकथ कहानी। सभुझत सुिद न ऩयसत फिानी।।
अगुन सगुन वफच नाभ सुसािी। उबम प्रफोधक चतुय दब
ु ाषी।।
दो0-याभ नाभ भसनदीऩ धरु जीह दे हयी द्वाय।

तुरसी बीतय फाहे यहुॉ जं चाहसस उष्जआय।।21।।
–*–*–
नाभ जीहॉ जवऩ जागकहॊ जोगी। वफयसत वफयॊ सच प्रऩॊच वफमोगी।।
ब्रह्मसुिकह अनुबवकहॊ अनूऩा। अकथ अनाभम नाभ न रूऩा।।
जाना चहकहॊ गूढ़ गसत जेऊ। नाभ जीहॉ जवऩ जानकहॊ तेऊ।।
साधक नाभ जऩकहॊ रम राएॉ। होकहॊ ससद्ध असनभाकदक ऩाएॉ।।
जऩकहॊ नाभु जन आयत बायी। सभटकहॊ कुसॊकट होकहॊ सुिायी।।
याभ बगत जग चारय प्रकाया। सुकृती चारयउ अनघ उदाया।।
चहू चतुय कहुॉ नाभ अधाया। ग्मानी प्रबुकह वफसेवष वऩआया।।

चहुॉ जुग चहुॉ श्रुसत ना प्रबाऊ। कसर वफसेवष नकहॊ आन उऩाऊ।।
दो0-सकर काभना हीन जे याभ बगसत यस रीन।

नाभ सुप्रेभ वऩमूष हद सतन्हहुॉ ककए भन भीन।।22।।
–*–*–
अगुन सगुन दइ
ु ब्रह्म सरूऩा। अकथ अगाध अनाकद अनूऩा।।

भोयईऄ भत फड़ नाभु दह
ु ू तईऄ। ककए जेकहॊ जुग सनज फस सनज फूतईऄ।।

प्रोकढ़ सुजन जसन जानकहॊ जन की। कहउॉ प्रतीसत प्रीसत रुसच भन की।।
एकु दारुगत दे ष्िअ एकू। ऩावक सभ जुग ब्रह्म वफफेकू।।
उबम अगभ जुग सुगभ नाभ तईऄ। कहे उॉ नाभु फड़ ब्रह्म याभ तईऄ।।
ब्माऩकु एकु ब्रह्म अवफनासी। सत चेतन धन आनॉद यासी।।
अस प्रबु रृदमॉ अछत अवफकायी। सकर जीव जग दीन दि
ु ायी।।

नाभ सनरूऩन नाभ जतन तईऄ। सोउ प्रगटत ष्जसभ भोर यतन तईऄ।।

12

दो0-सनयगुन तईऄ एकह बाॉसत फड़ नाभ प्रबाउ अऩाय।
कहउॉ नाभु फड़ याभ तईऄ सनज वफचाय अनुसाय।।23।।
–*–*–
याभ बगत कहत नय तनु धायी। सकह सॊकट ककए साधु सुिायी।।
नाभु सप्रेभ जऩत अनमासा। बगत होकहॊ भुद भॊगर फासा।।
याभ एक ताऩस सतम तायी। नाभ कोकट िर कुभसत सुधायी।।
रयवष कहत याभ सुकेतुसुता की। सकहत सेन सुत कीन्ह वफफाकी।।
सकहत दोष दि
ु दास दयु ासा। दरइ नाभु ष्जसभ यवफ सनसस नासा।।
बॊजेउ याभ आऩु बव चाऩू। बव बम बॊजन नाभ प्रताऩू।।

दॊ डक फनु प्रबु कीन्ह सुहावन। जन भन असभत नाभ ककए ऩावन।।।
सनससचय सनकय दरे यघुनॊदन। नाभु सकर कसर करुष सनकॊदन।।
दो0-सफयी गीध सुसेवकसन सुगसत दीष्न्ह यघुनाथ।
नाभ उधाये असभत िर फेद वफकदत गुन गाथ।।24।।
–*–*–
याभ सुकॊठ वफबीषन दोऊ। यािे सयन जान सफु कोऊ।।
नाभ गयीफ अनेक नेवाजे। रोक फेद फय वफरयद वफयाजे।।
याभ बारु कवऩ कटकु फटोया। सेतु हे तु श्रभु कीन्ह न थोया।।
नाभु रेत बवससॊधु सुिाहीॊ। कयहु वफचारु सुजन भन भाहीॊ।।

याभ सकुर यन यावनु भाया। सीम सकहत सनज ऩुय ऩगु धाया।।
याजा याभु अवध यजधानी। गावत गुन सुय भुसन फय फानी।।
सेवक सुसभयत नाभु सप्रीती। वफनु श्रभ प्रफर भोह दरु जीती।।
कपयत सनेहॉ भगन सुि अऩनईऄ। नाभ प्रसाद सोच नकहॊ सऩनईऄ।।
दो0-ब्रह्म याभ तईऄ नाभु फड़ फय दामक फय दासन।
याभचरयत सत कोकट भहॉ सरम भहे स ष्जमॉ जासन।।25।।
भासऩायामण, ऩहरा ववश्राभ
–*–*–
नाभ प्रसाद सॊबु अवफनासी। साजु अभॊगर भॊगर यासी।।
सुक सनकाकद ससद्ध भुसन जोगी। नाभ प्रसाद ब्रह्मसुि बोगी।।
नायद जानेउ नाभ प्रताऩू। जग वप्रम हरय हरय हय वप्रम आऩू।।
नाभु जऩत प्रबु कीन्ह प्रसाद।ू बगत ससयोभसन बे प्रहराद।ू ।

ध्रुवॉ सगरासन जऩेउ हरय नाऊॉ। ऩामउ अचर अनूऩभ ठाऊॉ।।
सुसभरय ऩवनसुत ऩावन नाभू। अऩने फस करय यािे याभू।।
अऩतु अजासभरु गजु गसनकाऊ। बए भुकुत हरय नाभ प्रबाऊ।।

13

कहं कहाॉ रसग नाभ फड़ाई। याभु न सककहॊ नाभ गुन गाई।।
दो0-नाभु याभ को करऩतरु कसर कल्मान सनवासु।
जो सुसभयत बमो बाॉग तईऄ तुरसी तुरसीदासु।।26।।
–*–*–
चहुॉ जुग तीसन कार सतहुॉ रोका। बए नाभ जवऩ जीव वफसोका।।
फेद ऩुयान सॊत भत एहू। सकर सुकृत पर याभ सनेहू।।

ध्मानु प्रथभ जुग भिवफसध दज
ू ईऄ। द्वाऩय ऩरयतोषत प्रबु ऩूजईऄ।।

कसर केवर भर भूर भरीना। ऩाऩ ऩमोसनसध जन जन भीना।।
नाभ काभतरु कार कयारा। सुसभयत सभन सकर जग जारा।।
याभ नाभ कसर असबभत दाता। कहत ऩयरोक रोक वऩतु भाता।।
नकहॊ कसर कयभ न बगसत वफफेकू। याभ नाभ अवरॊफन एकू।।
कारनेसभ कसर कऩट सनधानू। नाभ सुभसत सभयथ हनुभानू।।
दो0-याभ नाभ नयकेसयी कनककससऩु कसरकार।
जाऩक जन प्रहराद ष्जसभ ऩासरकह दसर सुयसार।।27।।
–*–*–
बामॉ कुबामॉ अनि आरसहूॉ। नाभ जऩत भॊगर कदसस दसहूॉ।।

सुसभरय सो नाभ याभ गुन गाथा। कयउॉ नाइ यघुनाथकह भाथा।।
भोरय सुधारयकह सो सफ बाॉती। जासु कृ ऩा नकहॊ कृ ऩाॉ अघाती।।
याभ सुस्वासभ कुसेवकु भोसो। सनज कदसस दै ष्ि दमासनसध ऩोसो।।
रोकहुॉ फेद सुसाकहफ यीतीॊ। वफनम सुनत ऩकहचानत प्रीती।।
गनी गयीफ ग्राभनय नागय। ऩॊकडत भूढ़ भरीन उजागय।।

सुकवफ कुकवफ सनज भसत अनुहायी। नृऩकह सयाहत सफ नय नायी।।
साधु सुजान सुसीर नृऩारा। ईस अॊस बव ऩयभ कृ ऩारा।।
सुसन सनभानकहॊ सफकह सुफानी। बसनसत बगसत नसत गसत ऩकहचानी।।
मह प्राकृ त भकहऩार सुबाऊ। जान ससयोभसन कोसरयाऊ।।
यीझत याभ सनेह सनसोतईऄ। को जग भॊद भसरनभसत भोतईऄ।।
दो0-सठ सेवक की प्रीसत रुसच यष्िहकहॊ याभ कृ ऩारु।
उऩर ककए जरजान जेकहॊ ससचव सुभसत कवऩ बारु।।28(क)।।
हौहु कहावत सफु कहत याभ सहत उऩहास।

साकहफ सीतानाथ सो सेवक तुरसीदास।।28(ि)।।
–*–*–
असत फकड़ भोरय कढठाई िोयी। सुसन अघ नयकहुॉ नाक सकोयी।।

सभुष्झ सहभ भोकह अऩडय अऩनईऄ। सो सुसध याभ कीष्न्ह नकहॊ सऩनईऄ।।

14

सुसन अवरोकक सुसचत चि चाही। बगसत भोरय भसत स्वासभ सयाही।।
कहत नसाइ होइ कहमॉ नीकी। यीझत याभ जासन जन जी की।।
यहसत न प्रबु सचत चूक ककए की। कयत सुयसत सम फाय कहए की।।
जेकहॊ अघ फधेउ ब्माध ष्जसभ फारी। कपरय सुकॊठ सोइ कीन्ह कुचारी।।
सोइ कयतूसत वफबीषन केयी। सऩनेहुॉ सो न याभ कहमॉ हे यी।।
ते बयतकह बईऄटत सनभाने। याजसबाॉ यघुफीय फिाने।।

दो0-प्रबु तरु तय कवऩ डाय ऩय ते ककए आऩु सभान।।
तुरसी कहूॉ न याभ से साकहफ सीरसनधान।।29(क)।।
याभ सनकाईं यावयी है सफही को नीक।

जं मह साॉची है सदा तौ नीको तुरसीक।।29(ि)।।
एकह वफसध सनज गुन दोष ककह सफकह फहुरय ससरु नाइ।

फयनउॉ यघुफय वफसद जसु सुसन कसर करुष नसाइ।।29(ग)।।
–*–*–
जागफसरक जो कथा सुहाई। बयद्वाज भुसनफयकह सुनाई।।
ककहहउॉ सोइ सॊफाद फिानी। सुनहुॉ सकर सज्जन सुिु भानी।।

सॊबु कीन्ह मह चरयत सुहावा। फहुरय कृ ऩा करय उभकह सुनावा।।
सोइ ससव कागबुसुॊकडकह दीन्हा। याभ बगत असधकायी चीन्हा।।

तेकह सन जागफसरक ऩुसन ऩावा। सतन्ह ऩुसन बयद्वाज प्रसत गावा।।
ते श्रोता फकता सभसीरा। सवॉदयसी जानकहॊ हरयरीरा।।
जानकहॊ तीसन कार सनज ग्माना। कयतर गत आभरक सभाना।।
औयउ जे हरयबगत सुजाना। कहकहॊ सुनकहॊ सभुझकहॊ वफसध नाना।।
दो0-भै ऩुसन सनज गुय सन सुनी कथा सो सूकयिेत।
सभुझी नकह तसस फारऩन तफ असत यहे उॉ अचेत।।30(क)।।
श्रोता फकता ग्मानसनसध कथा याभ कै गूढ़।
ककसभ सभुझं भै जीव जड़ कसर भर ग्रससत वफभूढ़।।30(ि)
–*–*–
तदवऩ कही गुय फायकहॊ फाया। सभुष्झ ऩयी कछु भसत अनुसाया।।
बाषाफद्ध कयवफ भईआ सोई। भोयईऄ भन प्रफोध जेकहॊ होई।।
जस कछु फुसध वफफेक फर भेयईऄ। तस ककहहउॉ कहमॉ हरय के प्रेयईऄ।।
सनज सॊदेह भोह र्भ्भ हयनी। कयउॉ कथा बव सरयता तयनी।।
फुध वफश्राभ सकर जन यॊ जसन। याभकथा कसर करुष वफबॊजसन।।
याभकथा कसर ऩॊनग बयनी। ऩुसन वफफेक ऩावक कहुॉ अयनी।।
याभकथा कसर काभद गाई। सुजन सजीवसन भूरय सुहाई।।

15

सोइ फसुधातर सुधा तयॊ सगसन। बम बॊजसन र्भ्भ बेक बुअॊसगसन।।
असुय सेन सभ नयक सनकॊकदसन। साधु वफफुध कुर कहत सगरयनॊकदसन।।
सॊत सभाज ऩमोसध यभा सी। वफस्व बाय बय अचर छभा सी।।
जभ गन भुहॉ भसस जग जभुना सी। जीवन भुकुसत हे तु जनु कासी।।
याभकह वप्रम ऩावसन तुरसी सी। तुरससदास कहत कहमॉ हुरसी सी।।
ससवप्रम भेकर सैर सुता सी। सकर ससवद्ध सुि सॊऩसत यासी।।

सदगुन सुयगन अॊफ अकदसत सी। यघुफय बगसत प्रेभ ऩयसभसत सी।।
दो0- याभ कथा भॊदाककनी सचत्रकूट सचत चारु।
तुरसी सुबग सनेह फन ससम यघुफीय वफहारु।।31।।
–*–*–
याभ चरयत सचॊताभसन चारू। सॊत सुभसत सतम सुबग ससॊगारू।।
जग भॊगर गुन ग्राभ याभ के। दासन भुकुसत धन धयभ धाभ के।।
सदगुय ग्मान वफयाग जोग के। वफफुध फैद बव बीभ योग के।।
जनसन जनक ससम याभ प्रेभ के। फीज सकर ब्रत धयभ नेभ के।।
सभन ऩाऩ सॊताऩ सोक के। वप्रम ऩारक ऩयरोक रोक के।।
ससचव सुबट बूऩसत वफचाय के। कुॊबज रोब उदसध अऩाय के।।
काभ कोह कसरभर करयगन के। केहरय सावक जन भन फन के।।
असतसथ ऩूज्म वप्रमतभ ऩुयारय के। काभद घन दारयद दवारय के।।
भॊत्र भहाभसन वफषम ब्मार के। भेटत ककठन कुअॊक बार के।।
हयन भोह तभ कदनकय कय से। सेवक सासर ऩार जरधय से।।
असबभत दासन दे वतरु फय से। सेवत सुरब सुिद हरय हय से।।
सुकवफ सयद नब भन उडगन से। याभबगत जन जीवन धन से।।
सकर सुकृत पर बूरय बोग से। जग कहत सनरुऩसध साधु रोग से।।
सेवक भन भानस भयार से। ऩावक गॊग तॊयग भार से।।
दो0-कुऩथ कुतयक कुचासर कसर कऩट दॊ ब ऩाषॊड।
दहन याभ गुन ग्राभ ष्जसभ इॊ धन अनर प्रचॊड।।32(क)।।
याभचरयत याकेस कय सरयस सुिद सफ काहु।

सज्जन कुभुद चकोय सचत कहत वफसेवष फड़ राहु।।32(ि)।।
–*–*–
कीष्न्ह प्रस्न जेकह बाॉसत बवानी। जेकह वफसध सॊकय कहा फिानी।।
सो सफ हे तु कहफ भईआ गाई। कथाप्रफॊध वफसचत्र फनाई।।

जेकह मह कथा सुनी नकहॊ होई। जसन आचयजु कयईआ सुसन सोई।।
कथा अरौककक सुनकहॊ जे ग्मानी। नकहॊ आचयजु कयकहॊ अस जानी।।

16

याभकथा कै सभसत जग नाहीॊ। असस प्रतीसत सतन्ह के भन भाहीॊ।।
नाना बाॉसत याभ अवताया। याभामन सत कोकट अऩाया।।
करऩबेद हरयचरयत सुहाए। बाॉसत अनेक भुनीसन्ह गाए।।
करयअ न सॊसम अस उय आनी। सुसनअ कथा सायद यसत भानी।।
दो0-याभ अनॊत अनॊत गुन असभत कथा वफस्ताय।
सुसन आचयजु न भासनहकहॊ ष्जन्ह कईऄ वफभर वफचाय।।33।।
–*–*–
एकह वफसध सफ सॊसम करय दयू ी। ससय धरय गुय ऩद ऩॊकज धूयी।।
ऩुसन सफही वफनवउॉ कय जोयी। कयत कथा जेकहॊ राग न िोयी।।
सादय ससवकह नाइ अफ भाथा। फयनउॉ वफसद याभ गुन गाथा।।
सॊफत सोयह सै एकतीसा। कयउॉ कथा हरय ऩद धरय सीसा।।
नौभी बौभ फाय भधु भासा। अवधऩुयीॊ मह चरयत प्रकासा।।
जेकह कदन याभ जनभ श्रुसत गावकहॊ । तीयथ सकर तहाॉ चसर आवकहॊ ।।
असुय नाग िग नय भुसन दे वा। आइ कयकहॊ यघुनामक सेवा।।
जन्भ भहोत्सव यचकहॊ सुजाना। कयकहॊ याभ कर कीयसत गाना।।
दो0-भज्जकह सज्जन फृॊद फहु ऩावन सयजू नीय।

जऩकहॊ याभ धरय ध्मान उय सुॊदय स्माभ सयीय।।34।।
–*–*–
दयस ऩयस भज्जन अरु ऩाना। हयइ ऩाऩ कह फेद ऩुयाना।।
नदी ऩुनीत असभत भकहभा असत। ककह न सकइ सायद वफभरभसत।।
याभ धाभदा ऩुयी सुहावसन। रोक सभस्त वफकदत असत ऩावसन।।
चारय िासन जग जीव अऩाया। अवध तजे तनु नकह सॊसाया।।
सफ वफसध ऩुयी भनोहय जानी। सकर ससवद्धप्रद भॊगर िानी।।
वफभर कथा कय कीन्ह अयॊ बा। सुनत नसाकहॊ काभ भद दॊ बा।।
याभचरयतभानस एकह नाभा। सुनत श्रवन ऩाइअ वफश्राभा।।
भन करय ववषम अनर फन जयई। होइ सुिी जौ एकहॊ सय ऩयई।।
याभचरयतभानस भुसन बावन। वफयचेउ सॊबु सुहावन ऩावन।।
वत्रवफध दोष दि
ु दारयद दावन। कसर कुचासर कुसर करुष नसावन।।
यसच भहे स सनज भानस यािा। ऩाइ सुसभउ ससवा सन बाषा।।
तातईऄ याभचरयतभानस फय। धये उ नाभ कहमॉ हे रय हयवष हय।।
कहउॉ कथा सोइ सुिद सुहाई। सादय सुनहु सुजन भन राई।।
दो0-जस भानस जेकह वफसध बमउ जग प्रचाय जेकह हे तु।
अफ सोइ कहउॉ प्रसॊग सफ सुसभरय उभा फृषकेतु।।35।।

17

–*–*–
सॊबु प्रसाद सुभसत कहमॉ हुरसी। याभचरयतभानस कवफ तुरसी।।
कयइ भनोहय भसत अनुहायी। सुजन सुसचत सुसन रेहु सुधायी।।
सुभसत बूसभ थर रृदम अगाधू। फेद ऩुयान उदसध घन साधू।।
फयषकहॊ याभ सुजस फय फायी। भधुय भनोहय भॊगरकायी।।
रीरा सगुन जो कहकहॊ फिानी। सोइ स्वछछता कयइ भर हानी।।
प्रेभ बगसत जो फयसन न जाई। सोइ भधुयता सुसीतरताई।।
सो जर सुकृत सासर कहत होई। याभ बगत जन जीवन सोई।।
भेधा भकह गत सो जर ऩावन। सककसर श्रवन भग चरेउ सुहावन।।
बये उ सुभानस सुथर सथयाना। सुिद सीत रुसच चारु सचयाना।।
दो0-सुकठ सुॊदय सॊफाद फय वफयचे फुवद्ध वफचारय।
तेइ एकह ऩावन सुबग सय घाट भनोहय चारय।।36।।
–*–*–
सप्त प्रफन्ध सुबग सोऩाना। ग्मान नमन सनयित भन भाना।।
यघुऩसत भकहभा अगुन अफाधा। फयनफ सोइ फय फारय अगाधा।।
याभ सीम जस ससरर सुधासभ। उऩभा फीसच वफरास भनोयभ।।
ऩुयइसन सघन चारु चौऩाई। जुगुसत भॊजु भसन सीऩ सुहाई।।
छॊ द सोयठा सुॊदय दोहा। सोइ फहुयॊग कभर कुर सोहा।।

अयथ अनूऩ सुभाव सुबासा। सोइ ऩयाग भकयॊ द सुफासा।।
सुकृत ऩुॊज भॊजुर असर भारा। ग्मान वफयाग वफचाय भयारा।।
धुसन अवये फ कवफत गुन जाती। भीन भनोहय ते फहुबाॉती।।

अयथ धयभ काभाकदक चायी। कहफ ग्मान वफग्मान वफचायी।।
नव यस जऩ तऩ जोग वफयागा। ते सफ जरचय चारु तड़ागा।।
सुकृती साधु नाभ गुन गाना। ते वफसचत्र जर वफहग सभाना।।
सॊतसबा चहुॉ कदसस अवॉयाई। श्रद्धा रयतु फसॊत सभ गाई।।

बगसत सनरुऩन वफवफध वफधाना। छभा दमा दभ रता वफताना।।
सभ जभ सनमभ पूर पर ग्माना। हरय ऩत यसत यस फेद फिाना।।
औयउ कथा अनेक प्रसॊगा। तेइ सुक वऩक फहुफयन वफहॊ गा।।
दो0-ऩुरक फाकटका फाग फन सुि सुवफहॊ ग वफहारु।

भारी सुभन सनेह जर सीॊचत रोचन चारु।।37।।
–*–*–
जे गावकहॊ मह चरयत सॉबाये । तेइ एकह तार चतुय यिवाये ।।
सदा सुनकहॊ सादय नय नायी। तेइ सुयफय भानस असधकायी।।

18

असत िर जे वफषई फग कागा। एकहॊ सय सनकट न जाकहॊ अबागा।।
सॊफुक बेक सेवाय सभाना। इहाॉ न वफषम कथा यस नाना।।
तेकह कायन आवत कहमॉ हाये । काभी काक फराक वफचाये ।।
आवत एकहॊ सय असत ककठनाई। याभ कृ ऩा वफनु आइ न जाई।।
ककठन कुसॊग कुऩॊथ कयारा। सतन्ह के फचन फाघ हरय ब्मारा।।
गृह कायज नाना जॊजारा। ते असत दग
ा सैर वफसारा।।
ु भ

फन फहु वफषभ भोह भद भाना। नदीॊ कुतका बमॊकय नाना।।
दो0-जे श्रद्धा सॊफर यकहत नकह सॊतन्ह कय साथ।

सतन्ह कहुॉ भानस अगभ असत ष्जन्हकह न वप्रम यघुनाथ।।38।।
–*–*–
जं करय कि जाइ ऩुसन कोई। जातकहॊ नीॊद जुड़ाई होई।।
जड़ता जाड़ वफषभ उय रागा। गएहुॉ न भज्जन ऩाव अबागा।।

करय न जाइ सय भज्जन ऩाना। कपरय आवइ सभेत असबभाना।।
जं फहोरय कोउ ऩूछन आवा। सय सनॊदा करय ताकह फुझावा।।
सकर वफघ्न ब्माऩकह नकहॊ तेही। याभ सुकृऩाॉ वफरोककहॊ जेही।।
सोइ सादय सय भज्जनु कयई। भहा घोय त्रमताऩ न जयई।।
ते नय मह सय तजकहॊ न काऊ। ष्जन्ह के याभ चयन बर बाऊ।।
जो नहाइ चह एकहॊ सय बाई। सो सतसॊग कयउ भन राई।।
अस भानस भानस चि चाही। बइ कवफ फुवद्ध वफभर अवगाही।।
बमउ रृदमॉ आनॊद उछाहू। उभगेउ प्रेभ प्रभोद प्रफाहू।।

चरी सुबग कवफता सरयता सो। याभ वफभर जस जर बरयता सो।।
सयजू नाभ सुभॊगर भूरा। रोक फेद भत भॊजुर कूरा।।
नदी ऩुनीत सुभानस नॊकदसन। कसरभर तृन तरु भूर सनकॊकदसन।।
दो0-श्रोता वत्रवफध सभाज ऩुय ग्राभ नगय दह
ु ुॉ कूर।

सॊतसबा अनुऩभ अवध सकर सुभॊगर भूर।।39।।
–*–*–
याभबगसत सुयसरयतकह जाई। सभरी सुकीयसत सयजु सुहाई।।
सानुज याभ सभय जसु ऩावन। सभरेउ भहानद ु सोन सुहावन।।

जुग वफच बगसत दे वधुसन धाया। सोहसत सकहत सुवफयसत वफचाया।।
वत्रवफध ताऩ त्रासक सतभुहानी। याभ सरुऩ ससॊधु सभुहानी।।
भानस भूर सभरी सुयसरयही। सुनत सुजन भन ऩावन करयही।।

वफच वफच कथा वफसचत्र वफबागा। जनु सरय तीय तीय फन फागा।।
उभा भहे स वफफाह फयाती। ते जरचय अगसनत फहुबाॉती।।

19

यघुफय जनभ अनॊद फधाई। बवॉय तयॊ ग भनोहयताई।।
दो0-फारचरयत चहु फॊधु के फनज वफऩुर फहुयॊग।

नृऩ यानी ऩरयजन सुकृत भधुकय फारयवफहॊ ग।।40।।
–*–*–
सीम स्वमॊफय कथा सुहाई। सरयत सुहावसन सो छवफ छाई।।
नदी नाव ऩटु प्रस्न अनेका। केवट कुसर उतय सवफफेका।।
सुसन अनुकथन ऩयस्ऩय होई। ऩसथक सभाज सोह सरय सोई।।
घोय धाय बृगुनाथ रयसानी। घाट सुफद्ध याभ फय फानी।।
सानुज याभ वफफाह उछाहू। सो सुब उभग सुिद सफ काहू।।

कहत सुनत हयषकहॊ ऩुरकाहीॊ। ते सुकृती भन भुकदत नहाहीॊ।।
याभ सतरक कहत भॊगर साजा। ऩयफ जोग जनु जुये सभाजा।।
काई कुभसत केकई केयी। ऩयी जासु पर वफऩसत घनेयी।।
दो0-सभन असभत उतऩात सफ बयतचरयत जऩजाग।
कसर अघ िर अवगुन कथन ते जरभर फग काग।।41।।
–*–*–
कीयसत सरयत छहूॉ रयतु रूयी। सभम सुहावसन ऩावसन बूयी।।

कहभ कहभसैरसुता ससव ब्माहू। ससससय सुिद प्रबु जनभ उछाहू।।
फयनफ याभ वफफाह सभाजू। सो भुद भॊगरभम रयतुयाजू।।
ग्रीषभ दस
ु ह याभ फनगवनू। ऩॊथकथा िय आतऩ ऩवनू।।
फयषा घोय सनसाचय यायी। सुयकुर सासर सुभॊगरकायी।।

याभ याज सुि वफनम फड़ाई। वफसद सुिद सोइ सयद सुहाई।।
सती ससयोभसन ससम गुनगाथा। सोइ गुन अभर अनूऩभ ऩाथा।।
बयत सुबाउ सुसीतरताई। सदा एकयस फयसन न जाई।।
दो0- अवरोकसन फोरसन सभरसन प्रीसत ऩयसऩय हास।
बामऩ बसर चहु फॊधु की जर भाधुयी सुफास।।42।।
–*–*–
आयसत वफनम दीनता भोयी। रघुता रसरत सुफारय न थोयी।।
अदबुत ससरर सुनत गुनकायी। आस वऩआस भनोभर हायी।।
याभ सुप्रेभकह ऩोषत ऩानी। हयत सकर कसर करुष गरानौ।।
बव श्रभ सोषक तोषक तोषा। सभन दरु यत दि
ु दारयद दोषा।।
काभ कोह भद भोह नसावन। वफभर वफफेक वफयाग फढ़ावन।।
सादय भज्जन ऩान ककए तईऄ। सभटकहॊ ऩाऩ ऩरयताऩ कहए तईऄ।।
ष्जन्ह एकह फारय न भानस धोए। ते कामय कसरकार वफगोए।।

20

तृवषत सनयष्ि यवफ कय बव फायी। कपरयहकह भृग ष्जसभ जीव दि
ु ायी।।
दो0-भसत अनुहारय सुफारय गुन गसन भन अन्हवाइ।

सुसभरय बवानी सॊकयकह कह कवफ कथा सुहाइ।।43(क)।।
–*–*–
अफ यघुऩसत ऩद ऩॊकरुह कहमॉ धरय ऩाइ प्रसाद ।
कहउॉ जुगर भुसनफजा कय सभरन सुबग सॊफाद।।43(ि)।।
बयद्वाज भुसन फसकहॊ प्रमागा। सतन्हकह याभ ऩद असत अनुयागा।।
ताऩस सभ दभ दमा सनधाना। ऩयभायथ ऩथ ऩयभ सुजाना।।
भाघ भकयगत यवफ जफ होई। तीयथऩसतकहॊ आव सफ कोई।।
दे व दनुज ककॊनय नय श्रेनी। सादय भज्जकहॊ सकर वत्रफेनीॊ।।
ऩूजकह भाधव ऩद जरजाता। ऩयसस अिम फटु हयषकहॊ गाता।।
बयद्वाज आश्रभ असत ऩावन। ऩयभ यम्म भुसनफय भन बावन।।
तहाॉ होइ भुसन रयषम सभाजा। जाकहॊ जे भज्जन तीयथयाजा।।
भज्जकहॊ प्रात सभेत उछाहा। कहकहॊ ऩयसऩय हरय गुन गाहा।।
दो0-ब्रह्म सनरूऩभ धयभ वफसध फयनकहॊ तत्त्व वफबाग।
कहकहॊ बगसत बगवॊत कै सॊजुत ग्मान वफयाग।।44।।
–*–*–
एकह प्रकाय बरय भाघ नहाहीॊ। ऩुसन सफ सनज सनज आश्रभ जाहीॊ।।
प्रसत सॊफत असत होइ अनॊदा। भकय भष्ज्ज गवनकहॊ भुसनफृॊदा।।
एक फाय बरय भकय नहाए। सफ भुनीस आश्रभन्ह ससधाए।।
जगफासरक भुसन ऩयभ वफफेकी। बयव्दाज यािे ऩद टे की।।
सादय चयन सयोज ऩिाये । असत ऩुनीत आसन फैठाये ।।
करय ऩूजा भुसन सुजस फिानी। फोरे असत ऩुनीत भृद ु फानी।।
नाथ एक सॊसउ फड़ भोयईऄ । कयगत फेदतत्व सफु तोयईऄ ।।

कहत सो भोकह रागत बम राजा। जौ न कहउॉ फड़ होइ अकाजा।।
दो0-सॊत कहकह असस नीसत प्रबु श्रुसत ऩुयान भुसन गाव।
होइ न वफभर वफफेक उय गुय सन ककएॉ दयु ाव।।45।।
–*–*–
अस वफचारय प्रगटउॉ सनज भोहू। हयहु नाथ करय जन ऩय छोहू।।
यास नाभ कय असभत प्रबावा। सॊत ऩुयान उऩसनषद गावा।।

सॊतत जऩत सॊबु अवफनासी। ससव बगवान ग्मान गुन यासी।।
आकय चारय जीव जग अहहीॊ। कासीॊ भयत ऩयभ ऩद रहहीॊ।।

21

सोवऩ याभ भकहभा भुसनयामा। ससव उऩदे सु कयत करय दामा।।
याभु कवन प्रबु ऩूछउॉ तोही। ककहअ फुझाइ कृ ऩासनसध भोही।।
एक याभ अवधेस कुभाया। सतन्ह कय चरयत वफकदत सॊसाया।।
नारय वफयहॉ दि
ु ु रहे उ अऩाया। बमहु योषु यन यावनु भाया।।
दो0-प्रबु सोइ याभ कक अऩय कोउ जाकह जऩत वत्रऩुयारय।

सत्मधाभ सफाग्म तुम्ह कहहु वफफेकु वफचारय।।46।।
–*–*–
जैसे सभटै भोय र्भ्भ बायी। कहहु सो कथा नाथ वफस्तायी।।

जागफसरक फोरे भुसुकाई। तुम्हकह वफकदत यघुऩसत प्रबुताई।।
याभभगत तुम्ह भन क्रभ फानी। चतुयाई तुम्हायी भईआ जानी।।
चाहहु सुनै याभ गुन गूढ़ा। कीष्न्हहु प्रस्न भनहुॉ असत भूढ़ा।।
तात सुनहु सादय भनु राई। कहउॉ याभ कै कथा सुहाई।।
भहाभोहु भकहषेसु वफसारा। याभकथा कासरका कयारा।।

याभकथा ससस ककयन सभाना। सॊत चकोय कयकहॊ जेकह ऩाना।।
ऐसेइ सॊसम कीन्ह बवानी। भहादे व तफ कहा फिानी।।
दो0-कहउॉ सो भसत अनुहारय अफ उभा सॊबु सॊफाद।
बमउ सभम जेकह हे तु जेकह सुनु भुसन सभकटकह वफषाद।।47।।
–*–*–
एक फाय त्रेता जुग भाहीॊ। सॊबु गए कुॊबज रयवष ऩाहीॊ।।
सॊग सती जगजनसन बवानी। ऩूजे रयवष अष्िरेस्वय जानी।।
याभकथा भुनीफजा फिानी। सुनी भहे स ऩयभ सुिु भानी।।
रयवष ऩूछी हरयबगसत सुहाई। कही सॊबु असधकायी ऩाई।।
कहत सुनत यघुऩसत गुन गाथा। कछु कदन तहाॉ यहे सगरयनाथा।।
भुसन सन वफदा भासग वत्रऩुयायी। चरे बवन सॉग दछछकुभायी।।
तेकह अवसय बॊजन भकहबाया। हरय यघुफॊस रीन्ह अवताया।।
वऩता फचन तष्ज याजु उदासी। दॊ डक फन वफचयत अवफनासी।।
दो0-ह्दमॉ वफचायत जात हय केकह वफसध दयसनु होइ।
गुप्त रुऩ अवतये उ प्रबु गएॉ जान सफु कोइ।।48(क)।।
–*–*–
सो0-सॊकय उय असत छोबु सती न जानकहॊ भयभु सोइ।।
तुरसी दयसन रोबु भन डरु रोचन रारची।।48(ि)।।
यावन भयन भनुज कय जाचा। प्रबु वफसध फचनु कीन्ह चह साचा।।
जं नकहॊ जाउॉ यहइ ऩसछतावा। कयत वफचारु न फनत फनावा।।

22

एकह वफसध बए सोचफस ईसा। तेकह सभम जाइ दससीसा।।
रीन्ह नीच भायीचकह सॊगा। बमउ तुयत सोइ कऩट कुयॊ गा।।
करय छरु भूढ़ हयी फैदेही। प्रबु प्रबाउ तस वफकदत न तेही।।
भृग फसध फन्धु सकहत हरय आए। आश्रभु दे ष्ि नमन जर छाए।।
वफयह वफकर नय इव यघुयाई। िोजत वफवऩन कपयत दोउ बाई।।
कफहूॉ जोग वफमोग न जाकईऄ। दे िा प्रगट वफयह दि
ु ताकईऄ।।
दो0-असत ववसचत्र यघुऩसत चरयत जानकहॊ ऩयभ सुजान।

जे भसतभॊद वफभोह फस रृदमॉ धयकहॊ कछु आन।।49।।
–*–*–
सॊबु सभम तेकह याभकह दे िा। उऩजा कहमॉ असत हयऩु वफसेषा।।
बरय रोचन छवफससॊधु सनहायी। कुसभम जासनन कीष्न्ह सचन्हायी।।
जम सष्छचदानॊद जग ऩावन। अस ककह चरेउ भनोज नसावन।।
चरे जात ससव सती सभेता। ऩुसन ऩुसन ऩुरकत कृ ऩासनकेता।।
सतीॊ सो दसा सॊबु कै दे िी। उय उऩजा सॊदेहु वफसेषी।।

सॊकरु जगतफॊय जगदीसा। सुय नय भुसन सफ नावत सीसा।।
सतन्ह नृऩसुतकह नह ऩयनाभा। ककह सष्छचदानॊद ऩयधभा।।
बए भगन छवफ तासु वफरोकी। अजहुॉ प्रीसत उय यहसत न योकी।।
दो0-ब्रह्म जो व्माऩक वफयज अज अकर अनीह अबेद।

सो कक दे ह धरय होइ नय जाकह न जानत वेद।। 50।।
–*–*–
वफकनु जो सुय कहत नयतनु धायी। सोउ सफाग्म जथा वत्रऩुयायी।।
िोजइ सो कक अग्म इव नायी। ग्मानधाभ श्रीऩसत असुयायी।।
सॊबुसगया ऩुसन भृषा न होई। ससव सफाग्म जान सफु कोई।।
अस सॊसम भन बमउ अऩाया। होई न रृदमॉ प्रफोध प्रचाया।।
जयवऩ प्रगट न कहे उ बवानी। हय अॊतयजाभी सफ जानी।।
सुनकह सती तव नारय सुबाऊ। सॊसम अस न धरयअ उय काऊ।।
जासु कथा कुबॊज रयवष गाई। बगसत जासु भईआ भुसनकह सुनाई।।
सोउ भभ इिदे व यघुफीया। सेवत जाकह सदा भुसन धीया।।
छॊ 0-भुसन धीय जोगी ससद्ध सॊतत वफभर भन जेकह ध्मावहीॊ।
ककह नेसत सनगभ ऩुयान आगभ जासु कीयसत गावहीॊ।।
सोइ याभु ब्माऩक ब्रह्म बुवन सनकाम ऩसत भामा धनी।
अवतये उ अऩने बगत कहत सनजतॊत्र सनत यघुकुरभसन।।

23

सो0-राग न उय उऩदे सु जदवऩ कहे उ ससवॉ फाय फहु।
फोरे वफहसस भहे सु हरयभामा फरु जासन ष्जमॉ।।51।।

जं तुम्हयईऄ भन असत सॊदेहू। तौ ककन जाइ ऩयीछा रेहू।।

तफ रसग फैठ अहउॉ फटछाकहॊ । जफ रसग तुम्ह ऐहहु भोकह ऩाही।।
जैसईऄ जाइ भोह र्भ्भ बायी। कये हु सो जतनु वफफेक वफचायी।।
चरीॊ सती ससव आमसु ऩाई। कयकहॊ वफचारु कयं का बाई।।

इहाॉ सॊबु अस भन अनुभाना। दछछसुता कहुॉ नकहॊ कल्माना।।
भोये हु कहईऄ न सॊसम जाहीॊ। वफधी वफऩयीत बराई नाहीॊ।।

होइकह सोइ जो याभ यसच यािा। को करय तका फढ़ावै सािा।।
अस ककह रगे जऩन हरयनाभा। गई सती जहॉ प्रबु सुिधाभा।।
दो0-ऩुसन ऩुसन रृदमॉ ववचारु करय धरय सीता कय रुऩ।
आगईऄ होइ चसर ऩॊथ तेकह जेकहॊ आवत नयबूऩ।।52।।
–*–*–
रसछभन दीि उभाकृ त फेषा चककत बए र्भ्भ रृदमॉ वफसेषा।।
ककह न सकत कछु असत गॊबीया। प्रबु प्रबाउ जानत भसतधीया।।
सती कऩटु जानेउ सुयस्वाभी। सफदयसी सफ अॊतयजाभी।।
सुसभयत जाकह सभटइ अग्माना। सोइ सयफग्म याभु बगवाना।।
सती कीन्ह चह तहॉ हुॉ दयु ाऊ। दे िहु नारय सुबाव प्रबाऊ।।

सनज भामा फरु रृदमॉ फिानी। फोरे वफहसस याभु भृद ु फानी।।

जोरय ऩासन प्रबु कीन्ह प्रनाभू। वऩता सभेत रीन्ह सनज नाभू।।
कहे उ फहोरय कहाॉ फृषकेतू। वफवऩन अकेसर कपयहु केकह हे तू।।
दो0-याभ फचन भृद ु गूढ़ सुसन उऩजा असत सॊकोचु।

सती सबीत भहे स ऩकहॊ चरीॊ रृदमॉ फड़ सोचु।।53।।
–*–*–
भईआ सॊकय कय कहा न भाना। सनज अग्मानु याभ ऩय आना।।
जाइ उतरु अफ दे हउॉ काहा। उय उऩजा असत दारुन दाहा।।
जाना याभ सतीॊ दि
ु ु ऩावा। सनज प्रबाउ कछु प्रगकट जनावा।।
सतीॊ दीि कौतुकु भग जाता। आगईऄ याभु सकहत श्री र्भ्ाता।।

कपरय सचतवा ऩाछईऄ प्रबु दे िा। सकहत फॊधु ससम सुॊदय वेषा।।
जहॉ सचतवकहॊ तहॉ प्रबु आसीना। सेवकहॊ ससद्ध भुनीस प्रफीना।।
दे िे ससव वफसध वफकनु अनेका। असभत प्रबाउ एक तईऄ एका।।
फॊदत चयन कयत प्रबु सेवा। वफवफध फेष दे िे सफ दे वा।।
दो0-सती वफधात्री इॊ कदया दे िीॊ असभत अनूऩ।

24

जेकहॊ जेकहॊ फेष अजाकद सुय तेकह तेकह तन अनुरूऩ।।54।।
–*–*–
दे िे जहॉ तहॉ यघुऩसत जेते। सविन्ह सकहत सकर सुय तेते।।
जीव चयाचय जो सॊसाया। दे िे सकर अनेक प्रकाया।।
ऩूजकहॊ प्रबुकह दे व फहु फेषा। याभ रूऩ दस
ू य नकहॊ दे िा।।
अवरोके यघुऩसत फहुतेये। सीता सकहत न फेष घनेये।।

सोइ यघुफय सोइ रसछभनु सीता। दे ष्ि सती असत बई सबीता।।
रृदम कॊऩ तन सुसध कछु नाहीॊ। नमन भूकद फैठीॊ भग भाहीॊ।।
फहुरय वफरोकेउ नमन उघायी। कछु न दीि तहॉ दछछकुभायी।।
ऩुसन ऩुसन नाइ याभ ऩद सीसा। चरीॊ तहाॉ जहॉ यहे सगयीसा।।
दो0-गई सभीऩ भहे स तफ हॉ सस ऩूछी कुसरात।
रीन्ही ऩयीछा कवन वफसध कहहु सत्म सफ फात।।55।।

भासऩायामण, दस
ू या ववश्राभ
–*–*–
सतीॊ सभुष्झ यघुफीय प्रबाऊ। बम फस ससव सन कीन्ह दयु ाऊ।।
कछु न ऩयीछा रीष्न्ह गोसाई। कीन्ह प्रनाभु तुम्हारयकह नाई।।

जो तुम्ह कहा सो भृषा न होई। भोयईऄ भन प्रतीसत असत सोई।।
तफ सॊकय दे िेउ धरय ध्माना। सतीॊ जो कीन्ह चरयत सफ जाना।।
फहुरय याभभामकह ससरु नावा। प्रेरय ससतकह जेकहॊ झूॉठ कहावा।।
हरय इछछा बावी फरवाना। रृदमॉ वफचायत सॊबु सुजाना।।

सतीॊ कीन्ह सीता कय फेषा। ससव उय बमउ वफषाद वफसेषा।।
जं अफ कयउॉ सती सन प्रीती। सभटइ बगसत ऩथु होइ अनीती।।
दो0-ऩयभ ऩुनीत न जाइ तष्ज ककएॉ प्रेभ फड़ ऩाऩु।
प्रगकट न कहत भहे सु कछु रृदमॉ असधक सॊताऩु।।56।।
–*–*–
तफ सॊकय प्रबु ऩद ससरु नावा। सुसभयत याभु रृदमॉ अस आवा।।
एकहॊ तन ससतकह बेट भोकह नाहीॊ। ससव सॊकल्ऩु कीन्ह भन भाहीॊ।।
अस वफचारय सॊकरु भसतधीया। चरे बवन सुसभयत यघुफीया।।
चरत गगन बै सगया सुहाई। जम भहे स बसर बगसत दृढ़ाई।।
अस ऩन तुम्ह वफनु कयइ को आना। याभबगत सभयथ बगवाना।।
सुसन नबसगया सती उय सोचा। ऩूछा ससवकह सभेत सकोचा।।
कीन्ह कवन ऩन कहहु कृ ऩारा। सत्मधाभ प्रबु दीनदमारा।।

जदवऩ सतीॊ ऩूछा फहु बाॉती। तदवऩ न कहे उ वत्रऩुय आयाती।।

25

दो0-सतीॊ रृदम अनुभान ककम सफु जानेउ सफाग्म।
कीन्ह कऩटु भईआ सॊबु सन नारय सहज जड़ अग्म।।57क।।
–*–*–
रृदमॉ सोचु सभुझत सनज कयनी। सचॊता असभत जाइ नकह फयनी।।
कृ ऩाससॊधु ससव ऩयभ अगाधा। प्रगट न कहे उ भोय अऩयाधा।।
सॊकय रुि अवरोकक बवानी। प्रबु भोकह तजेउ रृदमॉ अकुरानी।।
सनज अघ सभुष्झ न कछु ककह जाई। तऩइ अवाॉ इव उय असधकाई।।
ससतकह ससोच जासन फृषकेतू। कहीॊ कथा सुॊदय सुि हे तू।।
फयनत ऩॊथ वफवफध इसतहासा। वफस्वनाथ ऩहुॉचे कैरासा।।

तहॉ ऩुसन सॊबु सभुष्झ ऩन आऩन। फैठे फट तय करय कभरासन।।
सॊकय सहज सरुऩ सम्हाया। रासग सभासध अिॊड अऩाया।।
दो0-सती फसकह कैरास तफ असधक सोचु भन भाकहॊ ।
भयभु न कोऊ जान कछु जुग सभ कदवस ससयाकहॊ ।।58।।
–*–*–
सनत नव सोचु सतीॊ उय बाया। कफ जैहउॉ दि
ु सागय ऩाया।।

भईआ जो कीन्ह यघुऩसत अऩभाना। ऩुसनऩसत फचनु भृषा करय जाना।।
सो परु भोकह वफधाताॉ दीन्हा। जो कछु उसचत यहा सोइ कीन्हा।।
अफ वफसध अस फूष्झअ नकह तोही। सॊकय वफभुि ष्जआवसस भोही।।
ककह न जाई कछु रृदम गरानी। भन भहुॉ याभाकह सुसभय समानी।।
जौ प्रबु दीनदमारु कहावा। आयती हयन फेद जसु गावा।।

तौ भईआ वफनम कयउॉ कय जोयी। छूटउ फेसग दे ह मह भोयी।।
जं भोये ससव चयन सनेहू। भन क्रभ फचन सत्म ब्रतु एहू।।
दो0- तौ सफदयसी सुसनअ प्रबु कयउ सो फेसग उऩाइ।

होइ भयनु जेही वफनकहॊ श्रभ दस
ु ह वफऩवत्त वफहाइ।।59।।

सो0-जरु ऩम सरयस वफकाइ दे िहु प्रीसत कक यीसत बसर।

वफरग होइ यसु जाइ कऩट िटाई ऩयत ऩुसन।।57ि।।
–*–*–
एकह वफसध दष्ु ित प्रजेसकुभायी। अकथनीम दारुन दि
ु ु बायी।।
फीतईऄ सॊफत सहस सतासी। तजी सभासध सॊबु अवफनासी।।

याभ नाभ ससव सुसभयन रागे। जानेउ सतीॊ जगतऩसत जागे।।
जाइ सॊबु ऩद फॊदनु कीन्ही। सनभुि सॊकय आसनु दीन्हा।।
रगे कहन हरयकथा यसारा। दछछ प्रजेस बए तेकह कारा।।
दे िा वफसध वफचारय सफ रामक। दछछकह कीन्ह प्रजाऩसत नामक।।

26

फड़ असधकाय दछछ जफ ऩावा। असत असबभानु रृदमॉ तफ आवा।।
नकहॊ कोउ अस जनभा जग भाहीॊ। प्रबुता ऩाइ जाकह भद नाहीॊ।।
दो0- दछछ सरए भुसन फोसर सफ कयन रगे फड़ जाग।
नेवते सादय सकर सुय जे ऩावत भि बाग।।60।।
–*–*–
ककॊनय नाग ससद्ध गॊधफाा। फधुन्ह सभेत चरे सुय सफाा।।
वफकनु वफयॊ सच भहे सु वफहाई। चरे सकर सुय जान फनाई।।
सतीॊ वफरोके ब्मोभ वफभाना। जात चरे सुॊदय वफसध नाना।।
सुय सुॊदयी कयकहॊ कर गाना। सुनत श्रवन छूटकहॊ भुसन ध्माना।।
ऩूछेउ तफ ससवॉ कहे उ फिानी। वऩता जग्म सुसन कछु हयषानी।।
जं भहे सु भोकह आमसु दे हीॊ। कुछ कदन जाइ यहं सभस एहीॊ।।
ऩसत ऩरयत्माग रृदम दि
ु ु बायी। कहइ न सनज अऩयाध वफचायी।।
फोरी सती भनोहय फानी। बम सॊकोच प्रेभ यस सानी।।
दो0-वऩता बवन उत्सव ऩयभ जं प्रबु आमसु होइ।
तौ भै जाउॉ कृ ऩामतन सादय दे िन सोइ।।61।।
–*–*–
कहे हु नीक भोये हुॉ भन बावा। मह अनुसचत नकहॊ नेवत ऩठावा।।
दछछ सकर सनज सुता फोराई। हभयईऄ फमय तुम्हउ वफसयाई।।

ब्रह्मसबाॉ हभ सन दि
ु ु भाना। तेकह तईऄ अजहुॉ कयकहॊ अऩभाना।।
जं वफनु फोरईऄ जाहु बवानी। यहइ न सीरु सनेहु न कानी।।

जदवऩ सभत्र प्रबु वऩतु गुय गेहा। जाइअ वफनु फोरेहुॉ न सॉदेहा।।
तदवऩ वफयोध भान जहॉ कोई। तहाॉ गएॉ कल्मानु न होई।।

बाॉसत अनेक सॊबु सभुझावा। बावी फस न ग्मानु उय आवा।।
कह प्रबु जाहु जो वफनकहॊ फोराएॉ। नकहॊ बसर फात हभाये बाएॉ।।
दो0-ककह दे िा हय जतन फहु यहइ न दछछकुभारय।

कदए भुख्म गन सॊग तफ वफदा कीन्ह वत्रऩुयारय।।62।।
–*–*–
वऩता बवन जफ गई बवानी। दछछ त्रास काहुॉ न सनभानी।।

सादय बरेकहॊ सभरी एक भाता। बसगनीॊ सभरीॊ फहुत भुसुकाता।।

दछछ न कछु ऩूछी कुसराता। ससतकह वफरोकक जये सफ गाता।।
सतीॊ जाइ दे िेउ तफ जागा। कतहुॉ न दीि सॊबु कय बागा।।

तफ सचत चढ़े उ जो सॊकय कहे ऊ। प्रबु अऩभानु सभुष्झ उय दहे ऊ।।

27

ऩासछर दि
ु ु न रृदमॉ अस ब्माऩा। जस मह बमउ भहा ऩरयताऩा।।
जयवऩ जग दारुन दि
ु नाना। सफ तईऄ ककठन जासत अवभाना।।

सभुष्झ सो ससतकह बमउ असत क्रोधा। फहु वफसध जननीॊ कीन्ह प्रफोधा।।
दो0-ससव अऩभानु न जाइ सकह रृदमॉ न होइ प्रफोध।

सकर सबकह हकठ हटकक तफ फोरीॊ फचन सक्रोध।।63।।
–*–*–
सुनहु सबासद सकर भुसनॊदा। कही सुनी ष्जन्ह सॊकय सनॊदा।।
सो परु तुयत रहफ सफ काहूॉ। बरी बाॉसत ऩसछताफ वऩताहूॉ।।
सॊत सॊबु श्रीऩसत अऩफादा। सुसनअ जहाॉ तहॉ असस भयजादा।।

काकटअ तासु जीब जो फसाई। श्रवन भूकद न त चसरअ ऩयाई।।
जगदातभा भहे सु ऩुयायी। जगत जनक सफ के कहतकायी।।
वऩता भॊदभसत सनॊदत तेही। दछछ सुक्र सॊबव मह दे ही।।
तष्जहउॉ तुयत दे ह तेकह हे तू। उय धरय चॊरभौसर फृषकेतू।।
अस ककह जोग असगसन तनु जाया। बमउ सकर भि हाहाकाया।।
दो0-सती भयनु सुसन सॊबु गन रगे कयन भि िीस।
जग्म वफधॊस वफरोकक बृगु यछछा कीष्न्ह भुनीस।।64।।
–*–*–
सभाचाय सफ सॊकय ऩाए। फीयबर ु करय कोऩ ऩठाए।।

जग्म वफधॊस जाइ सतन्ह कीन्हा। सकर सुयन्ह वफसधवत परु दीन्हा।।
बे जगवफकदत दछछ गसत सोई। जसस कछु सॊबु वफभुि कै होई।।
मह इसतहास सकर जग जानी। ताते भईआ सॊछेऩ फिानी।।
सतीॊ भयत हरय सन फरु भागा। जनभ जनभ ससव ऩद अनुयागा।।
तेकह कायन कहभसगरय गृह जाई। जनभीॊ ऩायफती तनु ऩाई।।
जफ तईऄ उभा सैर गृह जाईं। सकर ससवद्ध सॊऩसत तहॉ छाई।।
जहॉ तहॉ भुसनन्ह सुआश्रभ कीन्हे । उसचत फास कहभ बूधय दीन्हे ।।
दो0-सदा सुभन पर सकहत सफ रभ
ु नव नाना जासत।
प्रगटीॊ सुॊदय सैर ऩय भसन आकय फहु बाॉसत।।65।।
–*–*–
सरयता सफ ऩुसनत जरु फहहीॊ। िग भृग भधुऩ सुिी सफ यहहीॊ।।
सहज फमरु सफ जीवन्ह त्मागा। सगरय ऩय सकर कयकहॊ अनुयागा।।
सोह सैर सगरयजा गृह आएॉ। ष्जसभ जनु याभबगसत के ऩाएॉ।।
सनत नूतन भॊगर गृह तासू। ब्रह्माकदक गावकहॊ जसु जासू।।

28

नायद सभाचाय सफ ऩाए। कौतुकहीॊ सगरय गेह ससधाए।।
सैरयाज फड़ आदय कीन्हा। ऩद ऩिारय फय आसनु दीन्हा।।
नारय सकहत भुसन ऩद ससरु नावा। चयन ससरर सफु बवनु ससॊचावा।।
सनज सौबाग्म फहुत सगरय फयना। सुता फोसर भेरी भुसन चयना।।
दो0-वत्रकारग्म सफाग्म तुम्ह गसत सफात्र तुम्हारय।।

कहहु सुता के दोष गुन भुसनफय रृदमॉ वफचारय।।66।।
–*–*–
कह भुसन वफहसस गूढ़ भृद ु फानी। सुता तुम्हारय सकर गुन िानी।।
सुॊदय सहज सुसीर समानी। नाभ उभा अॊवफका बवानी।।

सफ रछछन सॊऩन्न कुभायी। होइकह सॊतत वऩमकह वऩआयी।।
सदा अचर एकह कय अकहवाता। एकह तईऄ जसु ऩैहकहॊ वऩतु भाता।।
होइकह ऩूज्म सकर जग भाहीॊ। एकह सेवत कछु दर
ा नाहीॊ।।
ु ब

एकह कय नाभु सुसभरय सॊसाया। वत्रम चढ़हकहॉ ऩसतब्रत अससधाया।।
सैर सुरछछन सुता तुम्हायी। सुनहु जे अफ अवगुन दइ
ु चायी।।
अगुन अभान भातु वऩतु हीना। उदासीन सफ सॊसम छीना।।
दो0-जोगी जकटर अकाभ भन नगन अभॊगर फेष।।
अस स्वाभी एकह कहॉ सभसरकह ऩयी हस्त असस ये ि।।67।।
–*–*–
सुसन भुसन सगया सत्म ष्जमॉ जानी। दि
ु दॊ ऩसतकह उभा हयषानी।।
नायदहुॉ मह बेद ु न जाना। दसा एक सभुझफ वफरगाना।।

सकर सिीॊ सगरयजा सगरय भैना। ऩुरक सयीय बये जर नैना।।
होइ न भृषा दे वरयवष बाषा। उभा सो फचनु रृदमॉ धरय यािा।।
उऩजेउ ससव ऩद कभर सनेहू। सभरन ककठन भन बा सॊदेहू।।
जासन कुअवसरु प्रीसत दयु ाई। सिी उछॉ ग फैठी ऩुसन जाई।।
झूकठ न होइ दे वरयवष फानी। सोचकह दॊ ऩसत सिीॊ समानी।।

उय धरय धीय कहइ सगरययाऊ। कहहु नाथ का करयअ उऩाऊ।।
दो0-कह भुनीस कहभवॊत सुनु जो वफसध सरिा सरराय।
दे व दनुज नय नाग भुसन कोउ न भेटसनहाय।।68।।
–*–*–
तदवऩ एक भईआ कहउॉ उऩाई। होइ कयै जं दै उ सहाई।।
जस फरु भईआ फयनेउॉ तुम्ह ऩाहीॊ। सभरकह उभकह तस सॊसम नाहीॊ।।
जे जे फय के दोष फिाने। ते सफ ससव ऩकह भईआ अनुभाने।।
जं वफफाहु सॊकय सन होई। दोषउ गुन सभ कह सफु कोई।।

29

जं अकह सेज समन हरय कयहीॊ। फुध कछु सतन्ह कय दोषु न धयहीॊ।।
बानु कृ सानु सफा यस िाहीॊ। सतन्ह कहॉ भॊद कहत कोउ नाहीॊ।।
सुब अरु असुब ससरर सफ फहई। सुयसरय कोउ अऩुनीत न कहई।।
सभयथ कहुॉ नकहॊ दोषु गोसाई। यवफ ऩावक सुयसरय की नाई।।
दो0-जं अस कहससषा कयकहॊ नय जकड़ वफफेक असबभान।

ऩयकहॊ करऩ बरय नयक भहुॉ जीव कक ईस सभान।।69।।
–*–*–
सुयसरय जर कृ त फारुसन जाना। कफहुॉ न सॊत कयकहॊ तेकह ऩाना।।
सुयसरय सभरईऄ सो ऩावन जैसईऄ। ईस अनीसकह अॊतरु तैसईऄ।।

सॊबु सहज सभयथ बगवाना। एकह वफफाहॉ सफ वफसध कल्माना।।
दयु ायाध्म ऩै अहकहॊ भहे सू। आसुतोष ऩुसन ककएॉ करेसू।।

जं तऩु कयै कुभारय तुम्हायी। बाववउ भेकट सककहॊ वत्रऩुयायी।।
जयवऩ फय अनेक जग भाहीॊ। एकह कहॉ ससव तष्ज दस
ू य नाहीॊ।।
फय दामक प्रनतायसत बॊजन। कृ ऩाससॊधु सेवक भन यॊ जन।।

इष्छछत पर वफनु ससव अवयाधे। रकहअ न कोकट जोग जऩ साधईऄ।।
दो0-अस ककह नायद सुसभरय हरय सगरयजकह दीष्न्ह असीस।
होइकह मह कल्मान अफ सॊसम तजहु सगयीस।।70।।
–*–*–
ककह अस ब्रह्मबवन भुसन गमऊ। आसगर चरयत सुनहु जस बमऊ।।
ऩसतकह एकाॊत ऩाइ कह भैना। नाथ न भईआ सभुझे भुसन फैना।।
जं घरु फरु कुरु होइ अनूऩा। करयअ वफफाहु सुता अनुरुऩा।।
न त कन्मा फरु यहउ कुआयी। कॊत उभा भभ प्रानवऩआयी।।

जं न सभरकह फरु सगरयजकह जोगू। सगरय जड़ सहज ककहकह सफु रोगू।।
सोइ वफचारय ऩसत कये हु वफफाहू। जेकहॊ न फहोरय होइ उय दाहू।।
अस ककह ऩरय चयन धरय सीसा। फोरे सकहत सनेह सगयीसा।।
फरु ऩावक प्रगटै ससस भाहीॊ। नायद फचनु अन्मथा नाहीॊ।।
दो0-वप्रमा सोचु ऩरयहयहु सफु सुसभयहु श्रीबगवान।

ऩायफसतकह सनयभमउ जेकहॊ सोइ करयकह कल्मान।।71।।
–*–*–
अफ जौ तुम्हकह सुता ऩय नेहू। तौ अस जाइ ससिावन दे हू।।

कयै सो तऩु जेकहॊ सभरकहॊ भहे सू। आन उऩामॉ न सभटकह करेसू।।
नायद फचन सगबा सहे तू। सुॊदय सफ गुन सनसध फृषकेतू।।
अस वफचारय तुम्ह तजहु असॊका। सफकह बाॉसत सॊकरु अकरॊका।।

30

सुसन ऩसत फचन हयवष भन भाहीॊ। गई तुयत उकठ सगरयजा ऩाहीॊ।।
उभकह वफरोकक नमन बये फायी। सकहत सनेह गोद फैठायी।।
फायकहॊ फाय रेसत उय राई। गदगद कॊठ न कछु ककह जाई।।
जगत भातु सफाग्म बवानी। भातु सुिद फोरीॊ भृद ु फानी।।
दो0-सुनकह भातु भईआ दीि अस सऩन सुनावउॉ तोकह।

सुॊदय गौय सुवफप्रफय अस उऩदे सेउ भोकह।।72।।
–*–*–
कयकह जाइ तऩु सैरकुभायी। नायद कहा सो सत्म वफचायी।।
भातु वऩतकह ऩुसन मह भत बावा। तऩु सुिप्रद दि
ु दोष नसावा।।
तऩफर यचइ प्रऩॊच वफधाता। तऩफर वफकनु सकर जग त्राता।।
तऩफर सॊबु कयकहॊ सॊघाया। तऩफर सेषु धयइ भकहबाया।।
तऩ अधाय सफ सृवि बवानी। कयकह जाइ तऩु अस ष्जमॉ जानी।।
सुनत फचन वफससभत भहतायी। सऩन सुनामउ सगरयकह हॉ कायी।।
भातु वऩतुकह फहुवफसध सभुझाई। चरीॊ उभा तऩ कहत हयषाई।।

वप्रम ऩरयवाय वऩता अरु भाता। बए वफकर भुि आव न फाता।।
दो0-फेदससया भुसन आइ तफ सफकह कहा सभुझाइ।।
ऩायफती भकहभा सुनत यहे प्रफोधकह ऩाइ।।73।।
–*–*–
उय धरय उभा प्रानऩसत चयना। जाइ वफवऩन रागीॊ तऩु कयना।।
असत सुकुभाय न तनु तऩ जोगू। ऩसत ऩद सुसभरय तजेउ सफु बोगू।।
सनत नव चयन उऩज अनुयागा। वफसयी दे ह तऩकहॊ भनु रागा।।
सॊफत सहस भूर पर िाए। सागु िाइ सत फयष गवाॉए।।
कछु कदन बोजनु फारय फतासा। ककए ककठन कछु कदन उऩफासा।।
फेर ऩाती भकह ऩयइ सुिाई। तीसन सहस सॊफत सोई िाई।।
ऩुसन ऩरयहये सुिानेउ ऩयना। उभकह नाभ तफ बमउ अऩयना।।
दे ष्ि उभकह तऩ िीन सयीया। ब्रह्मसगया बै गगन गबीया।।
दो0-बमउ भनोयथ सुपर तव सुनु सगरयजाकुभारय।
ऩरयहरु दस
ु ह करेस सफ अफ सभसरहकहॊ वत्रऩुयारय।।74।।
–*–*–
अस तऩु काहुॉ न कीन्ह बवानी। बउ अनेक धीय भुसन ग्मानी।।
अफ उय धयहु ब्रह्म फय फानी। सत्म सदा सॊतत सुसच जानी।।
आवै वऩता फोरावन जफहीॊ। हठ ऩरयहरय घय जाएहु तफहीॊ।।

सभरकहॊ तुम्हकह जफ सप्त रयषीसा। जानेहु तफ प्रभान फागीसा।।

31

सुनत सगया वफसध गगन फिानी। ऩुरक गात सगरयजा हयषानी।।
उभा चरयत सुॊदय भईआ गावा। सुनहु सॊबु कय चरयत सुहावा।।

जफ तईऄ सती जाइ तनु त्मागा। तफ सईऄ ससव भन बमउ वफयागा।।
जऩकहॊ सदा यघुनामक नाभा। जहॉ तहॉ सुनकहॊ याभ गुन ग्राभा।।
दो0-सचदानन्द सुिधाभ ससव वफगत भोह भद काभ।
वफचयकहॊ भकह धरय रृदमॉ हरय सकर रोक असबयाभ।।75।।
–*–*–
कतहुॉ भुसनन्ह उऩदे सकहॊ ग्माना। कतहुॉ याभ गुन कयकहॊ फिाना।।

जदवऩ अकाभ तदवऩ बगवाना। बगत वफयह दि
ु दष्ु ित सुजाना।।
एकह वफसध गमउ कारु फहु फीती। सनत नै होइ याभ ऩद प्रीती।।
नैभु प्रेभु सॊकय कय दे िा। अवफचर रृदमॉ बगसत कै ये िा।।

प्रगटै याभु कृ तग्म कृ ऩारा। रूऩ सीर सनसध तेज वफसारा।।
फहु प्रकाय सॊकयकह सयाहा। तुम्ह वफनु अस ब्रतु को सनयफाहा।।
फहुवफसध याभ ससवकह सभुझावा। ऩायफती कय जन्भु सुनावा।।

असत ऩुनीत सगरयजा कै कयनी। वफस्तय सकहत कृ ऩासनसध फयनी।।
दो0-अफ वफनती भभ सुनेहु ससव जं भो ऩय सनज नेहु।
जाइ वफफाहहु सैरजकह मह भोकह भागईऄ दे हु।।76।।
–*–*–

कह ससव जदवऩ उसचत अस नाहीॊ। नाथ फचन ऩुसन भेकट न जाहीॊ।।
ससय धरय आमसु करयअ तुम्हाया। ऩयभ धयभु मह नाथ हभाया।।
भातु वऩता गुय प्रबु कै फानी। वफनकहॊ वफचाय करयअ सुब जानी।।
तुम्ह सफ बाॉसत ऩयभ कहतकायी। अग्मा ससय ऩय नाथ तुम्हायी।।
प्रबु तोषेउ सुसन सॊकय फचना। बवि वफफेक धभा जुत यचना।।
कह प्रबु हय तुम्हाय ऩन यहे ऊ। अफ उय यािेहु जो हभ कहे ऊ।।
अॊतयधान बए अस बाषी। सॊकय सोइ भूयसत उय यािी।।

तफकहॊ सप्तरयवष ससव ऩकहॊ आए। फोरे प्रबु असत फचन सुहाए।।
दो0-ऩायफती ऩकहॊ जाइ तुम्ह प्रेभ ऩरयछछा रेहु।

सगरयकह प्रेरय ऩठएहु बवन दरू य कये हु सॊदेहु।।77।।
–*–*–
रयवषन्ह गौरय दे िी तहॉ कैसी। भूयसतभॊत तऩस्मा जैसी।।
फोरे भुसन सुनु सैरकुभायी। कयहु कवन कायन तऩु बायी।।

केकह अवयाधहु का तुम्ह चहहू। हभ सन सत्म भयभु ककन कहहू।।

32

कहत फचत भनु असत सकुचाई। हॉ ससहहु सुसन हभारय जड़ताई।।
भनु हठ ऩया न सुनइ ससिावा। चहत फारय ऩय बीसत उठावा।।
नायद कहा सत्म सोइ जाना। वफनु ऩॊिन्ह हभ चहकहॊ उड़ाना।।
दे िहु भुसन अवफफेकु हभाया। चाकहअ सदा ससवकह बयताया।।
दो0-सुनत फचन वफहसे रयषम सगरयसॊबव तफ दे ह।

नायद कय उऩदे सु सुसन कहहु फसेउ ककसु गेह।।78।।
–*–*–
दछछसुतन्ह उऩदे सेष्न्ह जाई। सतन्ह कपरय बवनु न दे िा आई।।
सचत्रकेतु कय घरु उन घारा। कनककससऩु कय ऩुसन अस हारा।।
नायद ससि जे सुनकहॊ नय नायी। अवसस होकहॊ तष्ज बवनु सबिायी।।
भन कऩटी तन सज्जन चीन्हा। आऩु सरयस सफही चह कीन्हा।।
तेकह कईऄ फचन भासन वफस्वासा। तुम्ह चाहहु ऩसत सहज उदासा।।
सनगुन
ा सनरज कुफेष कऩारी। अकुर अगेह कदगॊफय ब्मारी।।

कहहु कवन सुिु अस फरु ऩाएॉ। बर बूसरहु ठग के फौयाएॉ।।
ऩॊच कहईऄ ससवॉ सती वफफाही। ऩुसन अवडे रय भयाएष्न्ह ताही।।
दो0-अफ सुि सोवत सोचु नकह बीि भासग बव िाकहॊ ।
सहज एकाककन्ह के बवन कफहुॉ कक नारय िटाकहॊ ।।79।।
–*–*–
अजहूॉ भानहु कहा हभाया। हभ तुम्ह कहुॉ फरु नीक वफचाया।।

असत सुॊदय सुसच सुिद सुसीरा। गावकहॊ फेद जासु जस रीरा।।
दष
ू न यकहत सकर गुन यासी। श्रीऩसत ऩुय फैकुॊठ सनवासी।।

अस फरु तुम्हकह सभराउफ आनी। सुनत वफहसस कह फचन बवानी।।
सत्म कहे हु सगरयबव तनु एहा। हठ न छूट छूटै फरु दे हा।।

कनकउ ऩुसन ऩषान तईऄ होई। जाये हुॉ सहजु न ऩरयहय सोई।।

नायद फचन न भईआ ऩरयहयऊॉ। फसउ बवनु उजयउ नकहॊ डयऊॉ।।
गुय कईऄ फचन प्रतीसत न जेही। सऩनेहुॉ सुगभ न सुि सससध तेही।।
दो0-भहादे व अवगुन बवन वफकनु सकर गुन धाभ।

जेकह कय भनु यभ जाकह सन तेकह तेही सन काभ।।80।।
–*–*–
जं तुम्ह सभरतेहु प्रथभ भुनीसा। सुनसतउॉ ससि तुम्हारय धरय सीसा।।
अफ भईआ जन्भु सॊबु कहत हाया। को गुन दष
ू न कयै वफचाया।।

जं तुम्हये हठ रृदमॉ वफसेषी। यकह न जाइ वफनु ककएॉ फये षी।।
तौ कौतुककअन्ह आरसु नाहीॊ। फय कन्मा अनेक जग भाहीॊ।।

33

जन्भ कोकट रसग यगय हभायी। फयउॉ सॊबु न त यहउॉ कुआयी।।
तजउॉ न नायद कय उऩदे सू। आऩु कहकह सत फाय भहे सू।।
भईआ ऩा ऩयउॉ कहइ जगदॊ फा। तुम्ह गृह गवनहु बमउ वफरॊफा।।
दे ष्ि प्रेभु फोरे भुसन ग्मानी। जम जम जगदॊ वफके बवानी।।
दो0-तुम्ह भामा बगवान ससव सकर जगत वऩतु भातु।
नाइ चयन ससय भुसन चरे ऩुसन ऩुसन हयषत गातु।।81।।
–*–*–
जाइ भुसनन्ह कहभवॊतु ऩठाए। करय वफनती सगयजकहॊ गृह ल्माए।।
फहुरय सप्तरयवष ससव ऩकहॊ जाई। कथा उभा कै सकर सुनाई।।
बए भगन ससव सुनत सनेहा। हयवष सप्तरयवष गवने गेहा।।

भनु सथय करय तफ सॊबु सुजाना। रगे कयन यघुनामक ध्माना।।
तायकु असुय बमउ तेकह कारा। बुज प्रताऩ फर तेज वफसारा।।
तईऄकह सफ रोक रोकऩसत जीते। बए दे व सुि सॊऩसत यीते।।
अजय अभय सो जीसत न जाई। हाये सुय करय वफवफध रयाई।।
तफ वफयॊ सच सन जाइ ऩुकाये । दे िे वफसध सफ दे व दि
ु ाये ।।
दो0-सफ सन कहा फुझाइ वफसध दनुज सनधन तफ होइ।

सॊबु सुक्र सॊबूत सुत एकह जीतइ यन सोइ।।82।।
–*–*–
भोय कहा सुसन कयहु उऩाई। होइकह ईस्वय करयकह सहाई।।

सतीॊ जो तजी दछछ भि दे हा। जनभी जाइ कहभाचर गेहा।।
तेकहॊ तऩु कीन्ह सॊबु ऩसत रागी। ससव सभासध फैठे सफु त्मागी।।
जदवऩ अहइ असभॊजस बायी। तदवऩ फात एक सुनहु हभायी।।
ऩठवहु काभु जाइ ससव ऩाहीॊ। कयै छोबु सॊकय भन भाहीॊ।।

तफ हभ जाइ ससवकह ससय नाई। कयवाउफ वफफाहु फरयआई।।

एकह वफसध बरेकह दे वकहत होई। भय असत नीक कहइ सफु कोई।।
अस्तुसत सुयन्ह कीष्न्ह असत हे तू। प्रगटे उ वफषभफान झषकेतू।।
दो0-सुयन्ह कहीॊ सनज वफऩसत सफ सुसन भन कीन्ह वफचाय।
सॊबु वफयोध न कुसर भोकह वफहसस कहे उ अस भाय।।83।।
–*–*–
तदवऩ कयफ भईआ काजु तुम्हाया। श्रुसत कह ऩयभ धयभ उऩकाया।।
ऩय कहत रासग तजइ जो दे ही। सॊतत सॊत प्रसॊसकहॊ तेही।।
अस ककह चरेउ सफकह ससरु नाई। सुभन धनुष कय सकहत सहाई।।
चरत भाय अस रृदमॉ वफचाया। ससव वफयोध ध्रुव भयनु हभाया।।

34

तफ आऩन प्रबाउ वफस्ताया। सनज फस कीन्ह सकर सॊसाया।।
कोऩेउ जफकह फारयचयकेतू। छन भहुॉ सभटे सकर श्रुसत सेतू।।
ब्रह्मचजा ब्रत सॊजभ नाना। धीयज धयभ ग्मान वफग्माना।।

सदाचाय जऩ जोग वफयागा। सबम वफफेक कटकु सफ बागा।।
छॊ 0-बागेउ वफफेक सहाम सकहत सो सुबट सॊजुग भकह भुये।
सदग्रॊथ ऩफात कॊदयष्न्ह भहुॉ जाइ तेकह अवसय दयु े ।।
होसनहाय का कयताय को यिवाय जग ियबरु ऩया।

दइ
ु भाथ केकह यसतनाथ जेकह कहुॉ कोवऩ कय धनु सरु धया।।
दो0-जे सजीव जग अचय चय नारय ऩुरुष अस नाभ।

ते सनज सनज भयजाद तष्ज बए सकर फस काभ।।84।।
–*–*–
सफ के रृदमॉ भदन असबराषा। रता सनहारय नवकहॊ तरु सािा।।
नदीॊ उभसग अॊफुसध कहुॉ धाई। सॊगभ कयकहॊ तराव तराई।।

जहॉ असस दसा जड़न्ह कै फयनी। को ककह सकइ सचेतन कयनी।।
ऩसु ऩछछी नब जर थरचायी। बए काभफस सभम वफसायी।।
भदन अॊध ब्माकुर सफ रोका। सनसस कदनु नकहॊ अवरोककहॊ कोका।।
दे व दनुज नय ककॊनय ब्मारा। प्रेत वऩसाच बूत फेतारा।।
इन्ह कै दसा न कहे उॉ फिानी। सदा काभ के चेये जानी।।
ससद्ध वफयि भहाभुसन जोगी। तेवऩ काभफस बए वफमोगी।।
छॊ 0-बए काभफस जोगीस ताऩस ऩावॉयष्न्ह की को कहै ।
दे िकहॊ चयाचय नारयभम जे ब्रह्मभम दे ित यहे ।।
अफरा वफरोककहॊ ऩुरुषभम जगु ऩुरुष सफ अफराभमॊ।
दइ
ु दॊ ड बरय ब्रह्माॊड बीतय काभकृ त कौतुक अमॊ।।
सो0-धयी न काहूॉ सधय सफके भन भनससज हये ।
जे यािे यघुफीय ते उफये तेकह कार भहुॉ।।85।।

उबम घयी अस कौतुक बमऊ। जौ रसग काभु सॊबु ऩकहॊ गमऊ।।
ससवकह वफरोकक ससॊकेउ भारू। बमउ जथासथसत सफु सॊसारू।।
बए तुयत सफ जीव सुिाये । ष्जसभ भद उतरय गएॉ भतवाये ।।
रुरकह दे ष्ि भदन बम भाना। दयु ाधयष दग
ा बगवाना।।
ु भ

कपयत राज कछु करय नकहॊ जाई। भयनु ठासन भन यचेसस उऩाई।।
प्रगटे सस तुयत रुसचय रयतुयाजा। कुसुसभत नव तरु याष्ज वफयाजा।।
फन उऩफन फावऩका तड़ागा। ऩयभ सुबग सफ कदसा वफबागा।।

35

जहॉ तहॉ जनु उभगत अनुयागा। दे ष्ि भुएहुॉ भन भनससज जागा।।
छॊ 0-जागइ भनोबव भुएहुॉ भन फन सुबगता न ऩयै कही।
सीतर सुगॊध सुभॊद भारुत भदन अनर सिा सही।।
वफकसे सयष्न्ह फहु कॊज गुॊजत ऩुॊज भॊजुर भधुकया।

करहॊ स वऩक सुक सयस यव करय गान नाचकहॊ अऩछया।।
दो0-सकर करा करय कोकट वफसध हाये उ सेन सभेत।
चरी न अचर सभासध ससव कोऩेउ रृदमसनकेत।।86।।
–*–*–
दे ष्ि यसार वफटऩ फय सािा। तेकह ऩय चढ़े उ भदनु भन भािा।।
सुभन चाऩ सनज सय सॊधाने। असत रयस ताकक श्रवन रसग ताने।।
छाड़े वफषभ वफससि उय रागे। छुकट सभासध सॊबु तफ जागे।।
बमउ ईस भन छोबु वफसेषी। नमन उघारय सकर कदसस दे िी।।
सौयब ऩल्रव भदनु वफरोका। बमउ कोऩु कॊऩेउ त्रैरोका।।
तफ ससवॉ तीसय नमन उघाया। सचतवत काभु बमउ जरय छाया।।
हाहाकाय बमउ जग बायी। डयऩे सुय बए असुय सुिायी।।
सभुष्झ काभसुिु सोचकहॊ बोगी। बए अकॊटक साधक जोगी।।
छॊ 0-जोसग अकॊटक बए ऩसत गसत सुनत यसत भुरुसछत बई।
योदसत फदसत फहु बाॉसत करुना कयसत सॊकय ऩकहॊ गई।

असत प्रेभ करय वफनती वफवफध वफसध जोरय कय सन्भुि यही।
प्रबु आसुतोष कृ ऩार ससव अफरा सनयष्ि फोरे सही।।
दो0-अफ तईऄ यसत तव नाथ कय होइकह नाभु अनॊगु।
वफनु फऩु ब्मावऩकह सफकह ऩुसन सुनु सनज सभरन प्रसॊगु।।87।।
–*–*–
जफ जदफ
ु ॊस कृ कन अवताया। होइकह हयन भहा भकहबाया।।
कृ कन तनम होइकह ऩसत तोया। फचनु अन्मथा होइ न भोया।।

यसत गवनी सुसन सॊकय फानी। कथा अऩय अफ कहउॉ फिानी।।
दे वन्ह सभाचाय सफ ऩाए। ब्रह्माकदक फैकुॊठ ससधाए।।
सफ सुय वफकनु वफयॊ सच सभेता। गए जहाॉ ससव कृ ऩासनकेता।।
ऩृथक ऩृथक सतन्ह कीष्न्ह प्रसॊसा। बए प्रसन्न चॊर अवतॊसा।।
फोरे कृ ऩाससॊधु फृषकेतू। कहहु अभय आए केकह हे तू।।

कह वफसध तुम्ह प्रबु अॊतयजाभी। तदवऩ बगसत फस वफनवउॉ स्वाभी।।
दो0-सकर सुयन्ह के रृदमॉ अस सॊकय ऩयभ उछाहु।

सनज नमनष्न्ह दे िा चहकहॊ नाथ तुम्हाय वफफाहु।।88।।

36

–*–*–
मह उत्सव दे ष्िअ बरय रोचन। सोइ कछु कयहु भदन भद भोचन।
काभु जारय यसत कहुॉ फरु दीन्हा। कृ ऩाससॊधु मह असत बर कीन्हा।।
साससत करय ऩुसन कयकहॊ ऩसाऊ। नाथ प्रबुन्ह कय सहज सुबाऊ।।
ऩायफतीॊ तऩु कीन्ह अऩाया। कयहु तासु अफ अॊगीकाया।।

सुसन वफसध वफनम सभुष्झ प्रबु फानी। ऐसेइ होउ कहा सुिु भानी।।
तफ दे वन्ह दॊ द
ु ब
ु ीॊ फजाईं। फयवष सुभन जम जम सुय साई।।

अवसरु जासन सप्तरयवष आए। तुयतकहॊ वफसध सगरयबवन ऩठाए।।
प्रथभ गए जहॉ यही बवानी। फोरे भधुय फचन छर सानी।।
दो0-कहा हभाय न सुनेहु तफ नायद कईऄ उऩदे स।

अफ बा झूठ तुम्हाय ऩन जाये उ काभु भहे स।।89।।
भासऩायामण,तीसया ववश्राभ
–*–*–
सुसन फोरीॊ भुसकाइ बवानी। उसचत कहे हु भुसनफय वफग्मानी।।
तुम्हयईऄ जान काभु अफ जाया। अफ रसग सॊबु यहे सवफकाया।।
हभयईऄ जान सदा ससव जोगी। अज अनवय अकाभ अबोगी।।
जं भईआ ससव सेमे अस जानी। प्रीसत सभेत कभा भन फानी।।
तौ हभाय ऩन सुनहु भुनीसा। करयहकहॊ सत्म कृ ऩासनसध ईसा।।

तुम्ह जो कहा हय जाये उ भाया। सोइ असत फड़ अवफफेकु तुम्हाया।।
तात अनर कय सहज सुबाऊ। कहभ तेकह सनकट जाइ नकहॊ काऊ।।
गएॉ सभीऩ सो अवसस नसाई। असस भन्भथ भहे स की नाई।।
दो0-कहमॉ हयषे भुसन फचन सुसन दे ष्ि प्रीसत वफस्वास।।
चरे बवासनकह नाइ ससय गए कहभाचर ऩास।।90।।
–*–*–
सफु प्रसॊगु सगरयऩसतकह सुनावा। भदन दहन सुसन असत दि
ु ु ऩावा।।
फहुरय कहे उ यसत कय फयदाना। सुसन कहभवॊत फहुत सुिु भाना।।
रृदमॉ वफचारय सॊबु प्रबुताई। सादय भुसनफय सरए फोराई।।

सुकदनु सुनितु सुघयी सोचाई। फेसग फेदवफसध रगन धयाई।।
ऩत्री सप्तरयवषन्ह सोइ दीन्ही। गकह ऩद वफनम कहभाचर कीन्ही।।
जाइ वफसधकह दीष्न्ह सो ऩाती। फाचत प्रीसत न रृदमॉ सभाती।।
रगन फासच अज सफकह सुनाई। हयषे भुसन सफ सुय सभुदाई।।
सुभन फृवि नब फाजन फाजे। भॊगर करस दसहुॉ कदसस साजे।।
दो0- रगे सॉवायन सकर सुय फाहन वफवफध वफभान।

37

होकह सगुन भॊगर सुबद कयकहॊ अऩछया गान।।91।।
–*–*–
ससवकह सॊबु गन कयकहॊ ससॊगाया। जटा भुकुट अकह भौरु सॉवाया।।
कुॊडर कॊकन ऩकहये ब्मारा। तन वफबूसत ऩट केहरय छारा।।
ससस रराट सुॊदय ससय गॊगा। नमन तीसन उऩफीत बुजॊगा।।
गयर कॊठ उय नय ससय भारा। अससव फेष ससवधाभ कृ ऩारा।।
कय वत्रसूर अरु डभरु वफयाजा। चरे फसहॉ चकढ़ फाजकहॊ फाजा।।
दे ष्ि ससवकह सुयवत्रम भुसुकाहीॊ। फय रामक दर
ु कहसन जग नाहीॊ।।
वफकनु वफयॊ सच आकद सुयब्राता। चकढ़ चकढ़ फाहन चरे फयाता।।
सुय सभाज सफ बाॉसत अनूऩा। नकहॊ फयात दर
ू ह अनुरूऩा।।
दो0-वफकनु कहा अस वफहसस तफ फोसर सकर कदससयाज।

वफरग वफरग होइ चरहु सफ सनज सनज सकहत सभाज।।92।।
–*–*–
फय अनुहारय फयात न बाई। हॉ सी कयै हहु ऩय ऩुय जाई।।

वफकनु फचन सुसन सुय भुसकाने। सनज सनज सेन सकहत वफरगाने।।
भनहीॊ भन भहे सु भुसुकाहीॊ। हरय के वफॊग्म फचन नकहॊ जाहीॊ।।
असत वप्रम फचन सुनत वप्रम केये । बृॊसगकह प्रेरय सकर गन टे ये।।
ससव अनुसासन सुसन सफ आए। प्रबु ऩद जरज सीस सतन्ह नाए।।
नाना फाहन नाना फेषा। वफहसे ससव सभाज सनज दे िा।।
कोउ भुिहीन वफऩुर भुि काहू। वफनु ऩद कय कोउ फहु ऩद फाहू।।
वफऩुर नमन कोउ नमन वफहीना। रयिऩुि कोउ असत तनिीना।।
छॊ 0-तन िीन कोउ असत ऩीन ऩावन कोउ अऩावन गसत धयईऄ ।
बूषन कयार कऩार कय सफ सय सोसनत तन बयईऄ ।।
िय स्वान सुअय सृकार भुि गन फेष अगसनत को गनै।
फहु ष्जनस प्रेत वऩसाच जोसग जभात फयनत नकहॊ फनै।।
सो0-नाचकहॊ गावकहॊ गीत ऩयभ तयॊ गी बूत सफ।

दे ित असत वफऩयीत फोरकहॊ फचन वफसचत्र वफसध।।93।।
जस दर
ू हु तसस फनी फयाता। कौतुक वफवफध होकहॊ भग जाता।।
इहाॉ कहभाचर यचेउ वफताना। असत वफसचत्र नकहॊ जाइ फिाना।।

सैर सकर जहॉ रसग जग भाहीॊ। रघु वफसार नकहॊ फयसन ससयाहीॊ।।
फन सागय सफ नदीॊ तरावा। कहभसगरय सफ कहुॉ नेवत ऩठावा।।
काभरूऩ सुॊदय तन धायी। सकहत सभाज सकहत फय नायी।।

38

गए सकर तुकहनाचर गेहा। गावकहॊ भॊगर सकहत सनेहा।।
प्रथभकहॊ सगरय फहु गृह सॉवयाए। जथाजोगु तहॉ तहॉ सफ छाए।।
ऩुय सोबा अवरोकक सुहाई। रागइ रघु वफयॊ सच सनऩुनाई।।

छॊ 0-रघु राग वफसध की सनऩुनता अवरोकक ऩुय सोबा सही।
फन फाग कूऩ तड़ाग सरयता सुबग सफ सक को कही।।
भॊगर वफऩुर तोयन ऩताका केतु गृह गृह सोहहीॊ।।
फसनता ऩुरुष सुॊदय चतुय छवफ दे ष्ि भुसन भन भोहहीॊ।।
दो0-जगदॊ फा जहॉ अवतयी सो ऩुरु फयसन कक जाइ।
रयवद्ध ससवद्ध सॊऩवत्त सुि सनत नूतन असधकाइ।।94।।
–*–*–
नगय सनकट फयात सुसन आई। ऩुय ियबरु सोबा असधकाई।।
करय फनाव सष्ज फाहन नाना। चरे रेन सादय अगवाना।।
कहमॉ हयषे सुय सेन सनहायी। हरयकह दे ष्ि असत बए सुिायी।।
ससव सभाज जफ दे िन रागे। वफडरय चरे फाहन सफ बागे।।
धरय धीयजु तहॉ यहे समाने। फारक सफ रै जीव ऩयाने।।
गएॉ बवन ऩूछकहॊ वऩतु भाता। कहकहॊ फचन बम कॊवऩत गाता।।
ककहअ काह ककह जाइ न फाता। जभ कय धाय ककधं फरयआता।।
फरु फौयाह फसहॉ असवाया। ब्मार कऩार वफबूषन छाया।।
छॊ 0-तन छाय ब्मार कऩार बूषन नगन जकटर बमॊकया।
सॉग बूत प्रेत वऩसाच जोसगसन वफकट भुि यजनीचया।।
जो ष्जअत यकहकह फयात दे ित ऩुन्म फड़ तेकह कय सही।
दे ष्िकह सो उभा वफफाहु घय घय फात असस ररयकन्ह कही।।
दो0-सभुष्झ भहे स सभाज सफ जनसन जनक भुसुकाकहॊ ।

फार फुझाए वफवफध वफसध सनडय होहु डरु नाकहॊ ।।95।।
–*–*–
रै अगवान फयातकह आए। कदए सफकह जनवास सुहाए।।
भैनाॉ सुब आयती सॉवायी। सॊग सुभॊगर गावकहॊ नायी।।
कॊचन थाय सोह फय ऩानी। ऩरयछन चरी हयकह हयषानी।।
वफकट फेष रुरकह जफ दे िा। अफरन्ह उय बम बमउ वफसेषा।।
बासग बवन ऩैठीॊ असत त्रासा। गए भहे सु जहाॉ जनवासा।।
भैना रृदमॉ बमउ दि
ु ु बायी। रीन्ही फोसर सगयीसकुभायी।।

असधक सनेहॉ गोद फैठायी। स्माभ सयोज नमन बये फायी।।
जेकहॊ वफसध तुम्हकह रूऩु अस दीन्हा। तेकहॊ जड़ फरु फाउय कस कीन्हा।।

39

छॊ 0- कस कीन्ह फरु फौयाह वफसध जेकहॊ तुम्हकह सुॊदयता दई।
जो परु चकहअ सुयतरुकहॊ सो फयफस फफूयकहॊ रागई।।
तुम्ह सकहत सगरय तईऄ सगयं ऩावक जयं जरसनसध भहुॉ ऩयं।।
घरु जाउ अऩजसु होउ जग जीवत वफफाहु न हं कयं।।
दो0-बई वफकर अफरा सकर दष्ु ित दे ष्ि सगरयनारय।

करय वफराऩु योदसत फदसत सुता सनेहु सॉबारय।।96।।
–*–*–
नायद कय भईआ काह वफगाया। बवनु भोय ष्जन्ह फसत उजाया।।
अस उऩदे सु उभकह ष्जन्ह दीन्हा। फौये फयकह रसग तऩु कीन्हा।।
साचेहुॉ उन्ह के भोह न भामा। उदासीन धनु धाभु न जामा।।

ऩय घय घारक राज न बीया। फाझॉ कक जान प्रसव कईआ ऩीया।।
जनसनकह वफकर वफरोकक बवानी। फोरी जुत वफफेक भृद ु फानी।।

अस वफचारय सोचकह भसत भाता। सो न टयइ जो यचइ वफधाता।।
कयभ सरिा जौ फाउय नाहू। तौ कत दोसु रगाइअ काहू।।
तुम्ह सन सभटकहॊ कक वफसध के अॊका। भातु ब्मथा जसन रेहु करॊका।।
छॊ 0-जसन रेहु भातु करॊकु करुना ऩरयहयहु अवसय नहीॊ।

दि
ु ु सुिु जो सरिा सरराय हभयईऄ जाफ जहॉ ऩाउफ तहीॊ।।
सुसन उभा फचन वफनीत कोभर सकर अफरा सोचहीॊ।।
फहु बाॉसत वफसधकह रगाइ दष
ू न नमन फारय वफभोचहीॊ।।
दो0-तेकह अवसय नायद सकहत अरु रयवष सप्त सभेत।

सभाचाय सुसन तुकहनसगरय गवने तुयत सनकेत।।97।।
–*–*–
तफ नायद सफकह सभुझावा। ऩूरुफ कथाप्रसॊगु सुनावा।।
भमना सत्म सुनहु भभ फानी। जगदॊ फा तव सुता बवानी।।

अजा अनाकद सवि अवफनासससन। सदा सॊबु अयधॊग सनवासससन।।
जग सॊबव ऩारन रम कारयसन। सनज इछछा रीरा फऩु धारयसन।।
जनभीॊ प्रथभ दछछ गृह जाई। नाभु सती सुॊदय तनु ऩाई।।
तहॉ हुॉ सती सॊकयकह वफफाहीॊ। कथा प्रससद्ध सकर जग भाहीॊ।।
एक फाय आवत ससव सॊगा। दे िेउ यघुकुर कभर ऩतॊगा।।

बमउ भोहु ससव कहा न कीन्हा। र्भ्भ फस फेषु सीम कय रीन्हा।।
छॊ 0-ससम फेषु सती जो कीन्ह तेकह अऩयाध सॊकय ऩरयहयीॊ।
हय वफयहॉ जाइ फहोरय वऩतु कईऄ जग्म जोगानर जयीॊ।।

40

अफ जनसभ तुम्हये बवन सनज ऩसत रासग दारुन तऩु ककमा।
अस जासन सॊसम तजहु सगरयजा सफादा सॊकय वप्रमा।।
दो0-सुसन नायद के फचन तफ सफ कय सभटा वफषाद।

छन भहुॉ ब्माऩेउ सकर ऩुय घय घय मह सॊफाद।।98।।
–*–*–
तफ भमना कहभवॊतु अनॊदे। ऩुसन ऩुसन ऩायफती ऩद फॊदे।।
नारय ऩुरुष सससु जुफा समाने। नगय रोग सफ असत हयषाने।।
रगे होन ऩुय भॊगरगाना। सजे सफकह हाटक घट नाना।।
बाॉसत अनेक बई जेवयाना। सूऩसास्त्र जस कछु ब्मवहाया।।
सो जेवनाय कक जाइ फिानी। फसकहॊ बवन जेकहॊ भातु बवानी।।
सादय फोरे सकर फयाती। वफकनु वफयॊ सच दे व सफ जाती।।
वफवफसध ऩाॉसत फैठी जेवनाया। रागे ऩरुसन सनऩुन सुआया।।
नारयफृॊद सुय जेवॉत जानी। रगीॊ दे न गायीॊ भृद ु फानी।।

छॊ 0-गायीॊ भधुय स्वय दे कहॊ सुॊदरय वफॊग्म फचन सुनावहीॊ।
बोजनु कयकहॊ सुय असत वफरॊफु वफनोद ु सुसन सचु ऩावहीॊ।।
जेवॉत जो फढ़्मो अनॊद ु सो भुि कोकटहूॉ न ऩयै कह्यो।
अचवाॉइ दीन्हे ऩान गवने फास जहॉ जाको यह्यो।।

दो0-फहुरय भुसनन्ह कहभवॊत कहुॉ रगन सुनाई आइ।

सभम वफरोकक वफफाह कय ऩठए दे व फोराइ।।99।।
–*–*–
फोसर सकर सुय सादय रीन्हे । सफकह जथोसचत आसन दीन्हे ।।
फेदी फेद वफधान सॉवायी। सुबग सुभॊगर गावकहॊ नायी।।
ससॊघासनु असत कदब्म सुहावा। जाइ न फयसन वफयॊ सच फनावा।।
फैठे ससव वफप्रन्ह ससरु नाई। रृदमॉ सुसभरय सनज प्रबु यघुयाई।।
फहुरय भुनीसन्ह उभा फोराई। करय ससॊगारु सिीॊ रै आई।।

दे ित रूऩु सकर सुय भोहे । फयनै छवफ अस जग कवफ को है ।।
जगदॊ वफका जासन बव बाभा। सुयन्ह भनकहॊ भन कीन्ह प्रनाभा।।
सुॊदयता भयजाद बवानी। जाइ न कोकटहुॉ फदन फिानी।।

छॊ 0-कोकटहुॉ फदन नकहॊ फनै फयनत जग जनसन सोबा भहा।
सकुचकहॊ कहत श्रुसत सेष सायद भॊदभसत तुरसी कहा।।

छवफिासन भातु बवासन गवनी भध्म भॊडऩ ससव जहाॉ।।

अवरोकक सककहॊ न सकुच ऩसत ऩद कभर भनु भधुकरु तहाॉ।।
दो0-भुसन अनुसासन गनऩसतकह ऩूजेउ सॊबु बवासन।

41

कोउ सुसन सॊसम कयै जसन सुय अनाकद ष्जमॉ जासन।।100।।
–*–*–
जसस वफफाह कै वफसध श्रुसत गाई। भहाभुसनन्ह सो सफ कयवाई।।
गकह सगयीस कुस कन्मा ऩानी। बवकह सभयऩीॊ जासन बवानी।।
ऩासनग्रहन जफ कीन्ह भहे सा। कहॊ मॉ हयषे तफ सकर सुयेसा।।
फेद भॊत्र भुसनफय उछचयहीॊ। जम जम जम सॊकय सुय कयहीॊ।।
फाजकहॊ फाजन वफवफध वफधाना। सुभनफृवि नब बै वफसध नाना।।
हय सगरयजा कय बमउ वफफाहू। सकर बुवन बरय यहा उछाहू।।
दासीॊ दास तुयग यथ नागा। धेनु फसन भसन फस्तु वफबागा।।

अन्न कनकबाजन बरय जाना। दाइज दीन्ह न जाइ फिाना।।
छॊ 0-दाइज कदमो फहु बाॉसत ऩुसन कय जोरय कहभबूधय कह्यो।
का दे उॉ ऩूयनकाभ सॊकय चयन ऩॊकज गकह यह्यो।।

ससवॉ कृ ऩासागय ससुय कय सॊतोषु सफ बाॉसतकहॊ ककमो।
ऩुसन गहे ऩद ऩाथोज भमनाॉ प्रेभ ऩरयऩूयन कहमो।।
दो0-नाथ उभा भन प्रान सभ गृहककॊकयी कये हु।

छभेहु सकर अऩयाध अफ होइ प्रसन्न फरु दे हु।।101।।
–*–*–
फहु वफसध सॊबु सास सभुझाई। गवनी बवन चयन ससरु नाई।।
जननीॊ उभा फोसर तफ रीन्ही। रै उछॊ ग सुॊदय ससि दीन्ही।।
कये हु सदा सॊकय ऩद ऩूजा। नारयधयभु ऩसत दे उ न दज
ू ा।।

फचन कहत बये रोचन फायी। फहुरय राइ उय रीष्न्ह कुभायी।।

कत वफसध सृजीॊ नारय जग भाहीॊ। ऩयाधीन सऩनेहुॉ सुिु नाहीॊ।।
बै असत प्रेभ वफकर भहतायी। धीयजु कीन्ह कुसभम वफचायी।।

ऩुसन ऩुसन सभरसत ऩयसत गकह चयना। ऩयभ प्रेभ कछु जाइ न फयना।।
सफ नारयन्ह सभसर बेकट बवानी। जाइ जनसन उय ऩुसन रऩटानी।।
छॊ 0-जनसनकह फहुरय सभसर चरी उसचत असीस सफ काहूॉ दईं।

कपरय कपरय वफरोकसत भातु तन तफ सिीॊ रै ससव ऩकहॊ गई।।
जाचक सकर सॊतोवष सॊकरु उभा सकहत बवन चरे।
सफ अभय हयषे सुभन फयवष सनसान नब फाजे बरे।।
दो0-चरे सॊग कहभवॊतु तफ ऩहुॉचावन असत हे तु।

वफवफध बाॉसत ऩरयतोषु करय वफदा कीन्ह फृषकेतु।।102।।
–*–*–

42

तुयत बवन आए सगरययाई। सकर सैर सय सरए फोराई।।
आदय दान वफनम फहुभाना। सफ कय वफदा कीन्ह कहभवाना।।

जफकहॊ सॊबु कैरासकहॊ आए। सुय सफ सनज सनज रोक ससधाए।।
जगत भातु वऩतु सॊबु बवानी। तेही ससॊगारु न कहउॉ फिानी।।
कयकहॊ वफवफध वफसध बोग वफरासा। गनन्ह सभेत फसकहॊ कैरासा।।
हय सगरयजा वफहाय सनत नमऊ। एकह वफसध वफऩुर कार चसर गमऊ।।
तफ जनभेउ षटफदन कुभाया। तायकु असुय सभय जेकहॊ भाया।।
आगभ सनगभ प्रससद्ध ऩुयाना। षन्भुि जन्भु सकर जग जाना।।
छॊ 0-जगु जान षन्भुि जन्भु कभुा प्रताऩु ऩुरुषायथु भहा।
तेकह हे तु भईआ फृषकेतु सुत कय चरयत सॊछेऩकहॊ कहा।।
मह उभा सॊगु वफफाहु जे नय नारय कहकहॊ जे गावहीॊ।
कल्मान काज वफफाह भॊगर सफादा सुिु ऩावहीॊ।।

दो0-चरयत ससॊधु सगरयजा यभन फेद न ऩावकहॊ ऩारु।
फयनै तुरसीदासु ककसभ असत भसतभॊद गवाॉरु।।103।।
–*–*–
सॊबु चरयत सुसन सयस सुहावा। बयद्वाज भुसन असत सुि ऩावा।।
फहु रारसा कथा ऩय फाढ़ी। नमनष्न्ह नीरु योभावसर ठाढ़ी।।

प्रेभ वफफस भुि आव न फानी। दसा दे ष्ि हयषे भुसन ग्मानी।।
अहो धन्म तव जन्भु भुनीसा। तुम्हकह प्रान सभ वप्रम गौयीसा।।

ससव ऩद कभर ष्जन्हकह यसत नाहीॊ। याभकह ते सऩनेहुॉ न सोहाहीॊ।।
वफनु छर वफस्वनाथ ऩद नेहू। याभ बगत कय रछछन एहू।।

ससव सभ को यघुऩसत ब्रतधायी। वफनु अघ तजी सती असस नायी।।
ऩनु करय यघुऩसत बगसत दे िाई। को ससव सभ याभकह वप्रम बाई।।
दो0-प्रथभकहॊ भै ककह ससव चरयत फूझा भयभु तुम्हाय।
सुसच सेवक तुम्ह याभ के यकहत सभस्त वफकाय।।104।।
–*–*–
भईआ जाना तुम्हाय गुन सीरा। कहउॉ सुनहु अफ यघुऩसत रीरा।।

सुनु भुसन आजु सभागभ तोयईऄ । ककह न जाइ जस सुिु भन भोयईऄ ।।
याभ चरयत असत असभत भुसनसा। ककह न सककहॊ सत कोकट अहीसा।।
तदवऩ जथाश्रुत कहउॉ फिानी। सुसभरय सगयाऩसत प्रबु धनुऩानी।।
सायद दारुनारय सभ स्वाभी। याभु सूत्रधय अॊतयजाभी।।
जेकह ऩय कृ ऩा कयकहॊ जनु जानी। कवफ उय अष्जय नचावकहॊ फानी।।

43

प्रनवउॉ सोइ कृ ऩार यघुनाथा। फयनउॉ वफसद तासु गुन गाथा।।
ऩयभ यम्म सगरयफरु कैरासू। सदा जहाॉ ससव उभा सनवासू।।
दो0-ससद्ध तऩोधन जोसगजन सूय ककॊनय भुसनफृॊद।
फसकहॊ तहाॉ सुकृती सकर सेवकहॊ ससफ सुिकॊद।।105।।
–*–*–
हरय हय वफभुि धभा यसत नाहीॊ। ते नय तहॉ सऩनेहुॉ नकहॊ जाहीॊ।।

तेकह सगरय ऩय फट वफटऩ वफसारा। सनत नूतन सुॊदय सफ कारा।।
वत्रवफध सभीय सुसीतसर छामा। ससव वफश्राभ वफटऩ श्रुसत गामा।।
एक फाय तेकह तय प्रबु गमऊ। तरु वफरोकक उय असत सुिु बमऊ।।
सनज कय डासस नागरयऩु छारा। फैठै सहजकहॊ सॊबु कृ ऩारा।।
कुॊद इॊ द ु दय गौय सयीया। बुज प्ररॊफ ऩरयधन भुसनचीया।।

तरुन अरुन अॊफुज सभ चयना। नि दसु त बगत रृदम तभ हयना।।
बुजग बूसत बूषन वत्रऩुयायी। आननु सयद चॊद छवफ हायी।।
दो0-जटा भुकुट सुयसरयत ससय रोचन नसरन वफसार।
नीरकॊठ रावन्मसनसध सोह फारवफधु बार।।106।।
–*–*–
फैठे सोह काभरयऩु कैसईऄ। धयईऄ सयीरु साॊतयसु जैसईऄ।।
ऩायफती बर अवसरु जानी। गई सॊबु ऩकहॊ भातु बवानी।।
जासन वप्रमा आदरु असत कीन्हा। फाभ बाग आसनु हय दीन्हा।।
फैठीॊ ससव सभीऩ हयषाई। ऩूरुफ जन्भ कथा सचत आई।।
ऩसत कहमॉ हे तु असधक अनुभानी। वफहसस उभा फोरीॊ वप्रम फानी।।
कथा जो सकर रोक कहतकायी। सोइ ऩूछन चह सैरकुभायी।।
वफस्वनाथ भभ नाथ ऩुयायी। वत्रबुवन भकहभा वफकदत तुम्हायी।।
चय अरु अचय नाग नय दे वा। सकर कयकहॊ ऩद ऩॊकज सेवा।।
दो0-प्रबु सभयथ सफाग्म ससव सकर करा गुन धाभ।।
जोग ग्मान फैयाग्म सनसध प्रनत करऩतरु नाभ।।107।।
–*–*–
जं भो ऩय प्रसन्न सुियासी। जासनअ सत्म भोकह सनज दासी।।
तं प्रबु हयहु भोय अग्माना। ककह यघुनाथ कथा वफसध नाना।।

जासु बवनु सुयतरु तय होई। सकह कक दरयर जसनत दि
ु ु सोई।।

सससबूषन अस रृदमॉ वफचायी। हयहु नाथ भभ भसत र्भ्भ बायी।।
प्रबु जे भुसन ऩयभायथफादी। कहकहॊ याभ कहुॉ ब्रह्म अनादी।।
सेस सायदा फेद ऩुयाना। सकर कयकहॊ यघुऩसत गुन गाना।।

44

तुम्ह ऩुसन याभ याभ कदन याती। सादय जऩहु अनॉग आयाती।।

याभु सो अवध नृऩसत सुत सोई। की अज अगुन अरिगसत कोई।।
दो0-जं नृऩ तनम त ब्रह्म ककसभ नारय वफयहॉ भसत बोरय।
दे ि चरयत भकहभा सुनत र्भ्भसत फुवद्ध असत भोरय।।108।।
–*–*–
जं अनीह ब्माऩक वफबु कोऊ। कफहु फुझाइ नाथ भोकह सोऊ।।

अग्म जासन रयस उय जसन धयहू। जेकह वफसध भोह सभटै सोइ कयहू।।
भै फन दीष्ि याभ प्रबुताई। असत बम वफकर न तुम्हकह सुनाई।।

तदवऩ भसरन भन फोधु न आवा। सो परु बरी बाॉसत हभ ऩावा।।
अजहूॉ कछु सॊसउ भन भोये । कयहु कृ ऩा वफनवउॉ कय जोयईऄ ।।

प्रबु तफ भोकह फहु बाॉसत प्रफोधा। नाथ सो सभुष्झ कयहु जसन क्रोधा।।
तफ कय अस वफभोह अफ नाहीॊ। याभकथा ऩय रुसच भन भाहीॊ।।
कहहु ऩुनीत याभ गुन गाथा। बुजगयाज बूषन सुयनाथा।।
दो0-फॊदउ ऩद धरय धयसन ससरु वफनम कयउॉ कय जोरय।

फयनहु यघुफय वफसद जसु श्रुसत ससद्धाॊत सनचोरय।।109।।
–*–*–
जदवऩ जोवषता नकहॊ असधकायी। दासी भन क्रभ फचन तुम्हायी।।
गूढ़उ तत्व न साधु दयु ावकहॊ । आयत असधकायी जहॉ ऩावकहॊ ।।

असत आयसत ऩूछउॉ सुययामा। यघुऩसत कथा कहहु करय दामा।।

प्रथभ सो कायन कहहु वफचायी। सनगुन
ा ब्रह्म सगुन फऩु धायी।।
ऩुसन प्रबु कहहु याभ अवताया। फारचरयत ऩुसन कहहु उदाया।।
कहहु जथा जानकी वफफाहीॊ। याज तजा सो दष
ू न काहीॊ।।

फन फसस कीन्हे चरयत अऩाया। कहहु नाथ ष्जसभ यावन भाया।।
याज फैकठ कीन्हीॊ फहु रीरा। सकर कहहु सॊकय सुिरीरा।।
दो0-फहुरय कहहु करुनामतन कीन्ह जो अचयज याभ।

प्रजा सकहत यघुफॊसभसन ककसभ गवने सनज धाभ।।110।।
–*–*–
ऩुसन प्रबु कहहु सो तत्व फिानी। जेकहॊ वफग्मान भगन भुसन ग्मानी।।
बगसत ग्मान वफग्मान वफयागा। ऩुसन सफ फयनहु सकहत वफबागा।।
औयउ याभ यहस्म अनेका। कहहु नाथ असत वफभर वफफेका।।
जो प्रबु भईआ ऩूछा नकह होई। सोउ दमार यािहु जसन गोई।।

तुम्ह वत्रबुवन गुय फेद फिाना। आन जीव ऩाॉवय का जाना।।
प्रस्न उभा कै सहज सुहाई। छर वफहीन सुसन ससव भन बाई।।

45

हय कहमॉ याभचरयत सफ आए। प्रेभ ऩुरक रोचन जर छाए।।
श्रीयघुनाथ रूऩ उय आवा। ऩयभानॊद असभत सुि ऩावा।।
दो0-भगन ध्मानयस दॊ ड जुग ऩुसन भन फाहे य कीन्ह।
यघुऩसत चरयत भहे स तफ हयवषत फयनै रीन्ह।।111।।
–*–*–
झूठेउ सत्म जाकह वफनु जानईऄ। ष्जसभ बुजॊग वफनु यजु ऩकहचानईऄ।।
जेकह जानईऄ जग जाइ हे याई। जागईऄ जथा सऩन र्भ्भ जाई।।
फॊदउॉ फाररूऩ सोई याभू। सफ सससध सुरब जऩत ष्जसु नाभू।।
भॊगर बवन अभॊगर हायी। रवउ सो दसयथ अष्जय वफहायी।।
करय प्रनाभ याभकह वत्रऩुयायी। हयवष सुधा सभ सगया उचायी।।
धन्म धन्म सगरययाजकुभायी। तुम्ह सभान नकहॊ कोउ उऩकायी।।
ऩूॉछेहु यघुऩसत कथा प्रसॊगा। सकर रोक जग ऩावसन गॊगा।।

तुम्ह यघुफीय चयन अनुयागी। कीन्हहु प्रस्न जगत कहत रागी।।
दो0-याभकृ ऩा तईऄ ऩायफसत सऩनेहुॉ तव भन भाकहॊ ।

सोक भोह सॊदेह र्भ्भ भभ वफचाय कछु नाकहॊ ।।112।।
–*–*–
तदवऩ असॊका कीष्न्हहु सोई। कहत सुनत सफ कय कहत होई।।

ष्जन्ह हरय कथा सुनी नकहॊ काना। श्रवन यॊ ध्र अकहबवन सभाना।।
नमनष्न्ह सॊत दयस नकहॊ दे िा। रोचन भोयऩॊि कय रेिा।।
ते ससय कटु तुॊफरय सभतूरा। जे न नभत हरय गुय ऩद भूरा।।
ष्जन्ह हरयबगसत रृदमॉ नकहॊ आनी। जीवत सव सभान तेइ प्रानी।।
जो नकहॊ कयइ याभ गुन गाना। जीह सो दादयु जीह सभाना।।

कुसरस कठोय सनठु य सोइ छाती। सुसन हरयचरयत न जो हयषाती।।
सगरयजा सुनहु याभ कै रीरा। सुय कहत दनुज वफभोहनसीरा।।
दो0-याभकथा सुयधेनु सभ सेवत सफ सुि दासन।

सतसभाज सुयरोक सफ को न सुनै अस जासन।।113।।
–*–*–
याभकथा सुॊदय कय तायी। सॊसम वफहग उडावसनहायी।।
याभकथा कसर वफटऩ कुठायी। सादय सुनु सगरययाजकुभायी।।
याभ नाभ गुन चरयत सुहाए। जनभ कयभ अगसनत श्रुसत गाए।।
जथा अनॊत याभ बगवाना। तथा कथा कीयसत गुन नाना।।
तदवऩ जथा श्रुत जसस भसत भोयी। ककहहउॉ दे ष्ि प्रीसत असत तोयी।।

46

उभा प्रस्न तव सहज सुहाई। सुिद सॊतसॊभत भोकह बाई।।
एक फात नकह भोकह सोहानी। जदवऩ भोह फस कहे हु बवानी।।

तुभ जो कहा याभ कोउ आना। जेकह श्रुसत गाव धयकहॊ भुसन ध्माना।।
दो0-कहकह सुनकह अस अधभ नय ग्रसे जे भोह वऩसाच।
ऩाषॊडी हरय ऩद वफभुि जानकहॊ झूठ न साच।।114।।
–*–*–
अग्म अकोवफद अॊध अबागी। काई वफषम भुकय भन रागी।।
रॊऩट कऩटी कुकटर वफसेषी। सऩनेहुॉ सॊतसबा नकहॊ दे िी।।

कहकहॊ ते फेद असॊभत फानी। ष्जन्ह कईऄ सूझ राबु नकहॊ हानी।।
भुकय भसरन अरु नमन वफहीना। याभ रूऩ दे िकहॊ ककसभ दीना।।
ष्जन्ह कईऄ अगुन न सगुन वफफेका। जल्ऩकहॊ कष्ल्ऩत फचन अनेका।।
हरयभामा फस जगत र्भ्भाहीॊ। सतन्हकह कहत कछु अघकटत नाहीॊ।।
फातुर बूत वफफस भतवाये । ते नकहॊ फोरकहॊ फचन वफचाये ।।
ष्जन्ह कृ त भहाभोह भद ऩाना। सतन ् कय कहा करयअ नकहॊ काना।।
सो0-अस सनज रृदमॉ वफचारय तजु सॊसम बजु याभ ऩद।

सुनु सगरययाज कुभारय र्भ्भ तभ यवफ कय फचन भभ।।115।।
सगुनकह अगुनकह नकहॊ कछु बेदा। गावकहॊ भुसन ऩुयान फुध फेदा।।
अगुन अरुऩ अरि अज जोई। बगत प्रेभ फस सगुन सो होई।।
जो गुन यकहत सगुन सोइ कैसईऄ। जरु कहभ उऩर वफरग नकहॊ जैसईऄ।।
जासु नाभ र्भ्भ सतसभय ऩतॊगा। तेकह ककसभ ककहअ वफभोह प्रसॊगा।।
याभ सष्छचदानॊद कदनेसा। नकहॊ तहॉ भोह सनसा रवरेसा।।
सहज प्रकासरुऩ बगवाना। नकहॊ तहॉ ऩुसन वफग्मान वफहाना।।
हयष वफषाद ग्मान अग्माना। जीव धभा अहसभसत असबभाना।।
याभ ब्रह्म ब्माऩक जग जाना। ऩयभानन्द ऩये स ऩुयाना।।
दो0-ऩुरुष प्रससद्ध प्रकास सनसध प्रगट ऩयावय नाथ।।
यघुकुरभसन भभ स्वासभ सोइ ककह ससवॉ नामउ भाथ।।116।।
–*–*–
सनज र्भ्भ नकहॊ सभुझकहॊ अग्मानी। प्रबु ऩय भोह धयकहॊ जड़ प्रानी।।
जथा गगन घन ऩटर सनहायी। झाॉऩेउ भानु कहकहॊ कुवफचायी।।
सचतव जो रोचन अॊगुसर राएॉ। प्रगट जुगर ससस तेकह के बाएॉ।।
उभा याभ वफषइक अस भोहा। नब तभ धूभ धूरय ष्जसभ सोहा।।
वफषम कयन सुय जीव सभेता। सकर एक तईऄ एक सचेता।।

सफ कय ऩयभ प्रकासक जोई। याभ अनाकद अवधऩसत सोई।।

47

जगत प्रकास्म प्रकासक याभू। भामाधीस ग्मान गुन धाभू।।
जासु सत्मता तईऄ जड भामा। बास सत्म इव भोह सहामा।।
दो0-यजत सीऩ भहुॉ भास ष्जसभ जथा बानु कय फारय।

जदवऩ भृषा सतहुॉ कार सोइ र्भ्भ न सकइ कोउ टारय।।117।।
–*–*–
एकह वफसध जग हरय आसश्रत यहई। जदवऩ असत्म दे त दि
ु अहई।।
जं सऩनईऄ ससय काटै कोई। वफनु जागईऄ न दरू य दि
ु होई।।

जासु कृ ऩाॉ अस र्भ्भ सभकट जाई। सगरयजा सोइ कृ ऩार यघुयाई।।
आकद अॊत कोउ जासु न ऩावा। भसत अनुभासन सनगभ अस गावा।।
वफनु ऩद चरइ सुनइ वफनु काना। कय वफनु कयभ कयइ वफसध नाना।।
आनन यकहत सकर यस बोगी। वफनु फानी फकता फड़ जोगी।।
तनु वफनु ऩयस नमन वफनु दे िा। ग्रहइ घ्रान वफनु फास असेषा।।
असस सफ बाॉसत अरौककक कयनी। भकहभा जासु जाइ नकहॊ फयनी।।
दो0-जेकह इसभ गावकह फेद फुध जाकह धयकहॊ भुसन ध्मान।।
सोइ दसयथ सुत बगत कहत कोसरऩसत बगवान।।118।।
–*–*–
कासीॊ भयत जॊतु अवरोकी। जासु नाभ फर कयउॉ वफसोकी।।
सोइ प्रबु भोय चयाचय स्वाभी। यघुफय सफ उय अॊतयजाभी।।
वफफसहुॉ जासु नाभ नय कहहीॊ। जनभ अनेक यसचत अघ दहहीॊ।।
सादय सुसभयन जे नय कयहीॊ। बव फारयसध गोऩद इव तयहीॊ।।

याभ सो ऩयभातभा बवानी। तहॉ र्भ्भ असत अवफकहत तव फानी।।
अस सॊसम आनत उय भाहीॊ। ग्मान वफयाग सकर गुन जाहीॊ।।
सुसन ससव के र्भ्भ बॊजन फचना। सभकट गै सफ कुतयक कै यचना।।
बइ यघुऩसत ऩद प्रीसत प्रतीती। दारुन असॊबावना फीती।।
दो0-ऩुसन ऩुसन प्रबु ऩद कभर गकह जोरय ऩॊकरुह ऩासन।
फोरी सगरयजा फचन फय भनहुॉ प्रेभ यस सासन।।119।।
–*–*–
ससस कय सभ सुसन सगया तुम्हायी। सभटा भोह सयदातऩ बायी।।
तुम्ह कृ ऩार सफु सॊसउ हये ऊ। याभ स्वरुऩ जासन भोकह ऩये ऊ।।
नाथ कृ ऩाॉ अफ गमउ वफषादा। सुिी बमउॉ प्रबु चयन प्रसादा।।
अफ भोकह आऩसन ककॊकरय जानी। जदवऩ सहज जड नारय अमानी।।
प्रथभ जो भईआ ऩूछा सोइ कहहू। जं भो ऩय प्रसन्न प्रबु अहहू।।
याभ ब्रह्म सचनभम अवफनासी। सफा यकहत सफ उय ऩुय फासी।।

48

नाथ धये उ नयतनु केकह हे तू। भोकह सभुझाइ कहहु फृषकेतू।।

उभा फचन सुसन ऩयभ वफनीता। याभकथा ऩय प्रीसत ऩुनीता।।
दो0-कहॉ मॉ हयषे काभारय तफ सॊकय सहज सुजान
फहु वफसध उभकह प्रसॊसस ऩुसन फोरे कृ ऩासनधान।।120(क)।।
नवान्हऩायामन,ऩहरा ववश्राभ
भासऩायामण, चौथा ववश्राभ
सो0-सुनु सुब कथा बवासन याभचरयतभानस वफभर।
कहा बुसुॊकड फिासन सुना वफहग नामक गरुड।।120(ि)।।
सो सॊफाद उदाय जेकह वफसध बा आगईऄ कहफ।
सुनहु याभ अवताय चरयत ऩयभ सुॊदय अनघ।।120(ग)।।
हरय गुन नाभ अऩाय कथा रूऩ अगसनत असभत।

भईआ सनज भसत अनुसाय कहउॉ उभा सादय सुनहु।।120(घ।।
–*–*–
सुनु सगरयजा हरयचरयत सुहाए। वफऩुर वफसद सनगभागभ गाए।।
हरय अवताय हे तु जेकह होई। इदसभत्थॊ ककह जाइ न सोई।।
याभ अतक्मा फुवद्ध भन फानी। भत हभाय अस सुनकह समानी।।
तदवऩ सॊत भुसन फेद ऩुयाना। जस कछु कहकहॊ स्वभसत अनुभाना।।
तस भईआ सुभुष्ि सुनावउॉ तोही। सभुष्झ ऩयइ जस कायन भोही।।
जफ जफ होइ धयभ कै हानी। फाढकहॊ असुय अधभ असबभानी।।
कयकहॊ अनीसत जाइ नकहॊ फयनी। सीदकहॊ वफप्र धेनु सुय धयनी।।
तफ तफ प्रबु धरय वफवफध सयीया। हयकह कृ ऩासनसध सज्जन ऩीया।।
दो0-असुय भारय थाऩकहॊ सुयन्ह यािकहॊ सनज श्रुसत सेतु।
जग वफस्तायकहॊ वफसद जस याभ जन्भ कय हे तु।।121।।
–*–*–
सोइ जस गाइ बगत बव तयहीॊ। कृ ऩाससॊधु जन कहत तनु धयहीॊ।।
याभ जनभ के हे तु अनेका। ऩयभ वफसचत्र एक तईऄ एका।।
जनभ एक दइ
ु कहउॉ फिानी। सावधान सुनु सुभसत बवानी।।

द्वायऩार हरय के वप्रम दोऊ। जम अरु वफजम जान सफ कोऊ।।
वफप्र श्राऩ तईऄ दन
ू उ बाई। ताभस असुय दे ह सतन्ह ऩाई।।

कनककससऩु अरु हाटक रोचन। जगत वफकदत सुयऩसत भद भोचन।।
वफजई सभय फीय वफख्माता। धरय फयाह फऩु एक सनऩाता।।

होइ नयहरय दस
ू य ऩुसन भाया। जन प्रहराद सुजस वफस्ताया।।
दो0-बए सनसाचय जाइ तेइ भहाफीय फरवान।

49

कुॊबकयन यावण सुबट सुय वफजई जग जान।।122 ।
–*–*–
भुकुत न बए हते बगवाना। तीसन जनभ कद्वज फचन प्रवाना।।
एक फाय सतन्ह के कहत रागी। धये उ सयीय बगत अनुयागी।।
कस्मऩ अकदसत तहाॉ वऩतु भाता। दसयथ कौसल्मा वफख्माता।।
एक करऩ एकह वफसध अवताया। चरयत्र ऩववत्र ककए सॊसाया।।
एक करऩ सुय दे ष्ि दि
ु ाये । सभय जरॊधय सन सफ हाये ।।
सॊबु कीन्ह सॊग्राभ अऩाया। दनुज भहाफर भयइ न भाया।।

ऩयभ सती असुयासधऩ नायी। तेकह फर ताकह न ष्जतकहॊ ऩुयायी।।
दो0-छर करय टाये उ तासु ब्रत प्रबु सुय कायज कीन्ह।।
जफ तेकह जानेउ भयभ तफ श्राऩ कोऩ करय दीन्ह।।123।।
–*–*–
तासु श्राऩ हरय दीन्ह प्रभाना। कौतुकसनसध कृ ऩार बगवाना।।
तहाॉ जरॊधय यावन बमऊ। यन हसत याभ ऩयभ ऩद दमऊ।।
एक जनभ कय कायन एहा। जेकह रासग याभ धयी नयदे हा।।
प्रसत अवताय कथा प्रबु केयी। सुनु भुसन फयनी कवफन्ह घनेयी।।
नायद श्राऩ दीन्ह एक फाया। करऩ एक तेकह रसग अवताया।।
सगरयजा चककत बई सुसन फानी। नायद वफकनुबगत ऩुसन ग्मासन।।
कायन कवन श्राऩ भुसन दीन्हा। का अऩयाध यभाऩसत कीन्हा।।
मह प्रसॊग भोकह कहहु ऩुयायी। भुसन भन भोह आचयज बायी।।
दो0- फोरे वफहसस भहे स तफ ग्मानी भूढ़ न कोइ।

जेकह जस यघुऩसत कयकहॊ जफ सो तस तेकह छन होइ।।124(क)।।
सो0-कहउॉ याभ गुन गाथ बयद्वाज सादय सुनहु।

बव बॊजन यघुनाथ बजु तुरसी तष्ज भान भद।।124(ि)।।
–*–*–
कहभसगरय गुहा एक असत ऩावसन। फह सभीऩ सुयसयी सुहावसन।।
आश्रभ ऩयभ ऩुनीत सुहावा। दे ष्ि दे वरयवष भन असत बावा।।
सनयष्ि सैर सरय वफवऩन वफबागा। बमउ यभाऩसत ऩद अनुयागा।।
सुसभयत हरयकह श्राऩ गसत फाधी। सहज वफभर भन रासग सभाधी।।
भुसन गसत दे ष्ि सुयेस डे याना। काभकह फोसर कीन्ह सभाना।।
सकहत सहाम जाहु भभ हे तू। चकेउ हयवष कहमॉ जरचयकेतू।।

सुनासीय भन भहुॉ असस त्रासा। चहत दे वरयवष भभ ऩुय फासा।।
जे काभी रोरुऩ जग भाहीॊ। कुकटर काक इव सफकह डे याहीॊ।।

50

दो0-सुि हाड़ रै बाग सठ स्वान सनयष्ि भृगयाज।
छीसन रेइ जसन जान जड़ सतसभ सुयऩसतकह न राज।।125।।
–*–*–
तेकह आश्रभकहॊ भदन जफ गमऊ। सनज भामाॉ फसॊत सनयभमऊ।।
कुसुसभत वफवफध वफटऩ फहुयॊगा। कूजकहॊ कोककर गुॊजकह बृॊगा।।
चरी सुहावसन वत्रवफध फमायी। काभ कृ सानु फढ़ावसनहायी।।

यॊ बाकदक सुयनारय नफीना । सकर असभसय करा प्रफीना।।
कयकहॊ गान फहु तान तयॊ गा। फहुवफसध क्रीड़कह ऩासन ऩतॊगा।।

दे ष्ि सहाम भदन हयषाना। कीन्हे सस ऩुसन प्रऩॊच वफसध नाना।।
काभ करा कछु भुसनकह न ब्माऩी। सनज बमॉ डये उ भनोबव ऩाऩी।।
सीभ कक चाॉवऩ सकइ कोउ तासु। फड़ यिवाय यभाऩसत जासू।।
दो0- सकहत सहाम सबीत असत भासन हारय भन भैन।
गहे सस जाइ भुसन चयन तफ ककह सुकठ आयत फैन।।126।।
–*–*–
बमउ न नायद भन कछु योषा। ककह वप्रम फचन काभ ऩरयतोषा।।
नाइ चयन ससरु आमसु ऩाई। गमउ भदन तफ सकहत सहाई।।
भुसन सुसीरता आऩसन कयनी। सुयऩसत सबाॉ जाइ सफ फयनी।।
सुसन सफ कईऄ भन अचयजु आवा। भुसनकह प्रसॊसस हरयकह ससरु नावा।।
तफ नायद गवने ससव ऩाहीॊ। ष्जता काभ अहसभसत भन भाहीॊ।।
भाय चरयत सॊकयकहॊ सुनाए। असतवप्रम जासन भहे स ससिाए।।
फाय फाय वफनवउॉ भुसन तोहीॊ। ष्जसभ मह कथा सुनामहु भोहीॊ।।
सतसभ जसन हरयकह सुनावहु कफहूॉ। चरेहुॉ प्रसॊग दयु ाएडु तफहूॉ।।
दो0-सॊबु दीन्ह उऩदे स कहत नकहॊ नायदकह सोहान।

बायद्वाज कौतुक सुनहु हरय इछछा फरवान।।127।।
–*–*–
याभ कीन्ह चाहकहॊ सोइ होई। कयै अन्मथा अस नकहॊ कोई।।
सॊबु फचन भुसन भन नकहॊ बाए। तफ वफयॊ सच के रोक ससधाए।।
एक फाय कयतर फय फीना। गावत हरय गुन गान प्रफीना।।
छीयससॊधु गवने भुसननाथा। जहॉ फस श्रीसनवास श्रुसतभाथा।।
हयवष सभरे उकठ यभासनकेता। फैठे आसन रयवषकह सभेता।।
फोरे वफहसस चयाचय यामा। फहुते कदनन कीष्न्ह भुसन दामा।।

काभ चरयत नायद सफ बाषे। जयवऩ प्रथभ फयष्ज ससवॉ यािे।।
असत प्रचॊड यघुऩसत कै भामा। जेकह न भोह अस को जग जामा।।

51

दो0-रूि फदन करय फचन भृद ु फोरे श्रीबगवान ।

तुम्हये सुसभयन तईऄ सभटकहॊ भोह भाय भद भान।।128।।
–*–*–
सुनु भुसन भोह होइ भन ताकईऄ। ग्मान वफयाग रृदम नकहॊ जाके।।
ब्रह्मचयज ब्रत यत भसतधीया। तुम्हकह कक कयइ भनोबव ऩीया।।
नायद कहे उ सकहत असबभाना। कृ ऩा तुम्हारय सकर बगवाना।।
करुनासनसध भन दीि वफचायी। उय अॊकुये उ गयफ तरु बायी।।
फेसग सो भै डारयहउॉ उिायी। ऩन हभाय सेवक कहतकायी।।
भुसन कय कहत भभ कौतुक होई। अवसस उऩाम कयवफ भै सोई।।
तफ नायद हरय ऩद ससय नाई। चरे रृदमॉ अहसभसत असधकाई।।
श्रीऩसत सनज भामा तफ प्रेयी। सुनहु ककठन कयनी तेकह केयी।।
दो0-वफयचेउ भग भहुॉ नगय तेकहॊ सत जोजन वफस्ताय।

श्रीसनवासऩुय तईऄ असधक यचना वफवफध प्रकाय।।129।।
–*–*–
फसकहॊ नगय सुॊदय नय नायी। जनु फहु भनससज यसत तनुधायी।।

तेकहॊ ऩुय फसइ सीरसनसध याजा। अगसनत हम गम सेन सभाजा।।
सत सुयेस सभ वफबव वफरासा। रूऩ तेज फर नीसत सनवासा।।
वफस्वभोहनी तासु कुभायी। श्री वफभोह ष्जसु रूऩु सनहायी।।
सोइ हरयभामा सफ गुन िानी। सोबा तासु कक जाइ फिानी।।
कयइ स्वमॊफय सो नृऩफारा। आए तहॉ अगसनत भकहऩारा।।
भुसन कौतुकी नगय तेकहॊ गमऊ। ऩुयफाससन्ह सफ ऩूछत बमऊ।।
सुसन सफ चरयत बूऩगृहॉ आए। करय ऩूजा नृऩ भुसन फैठाए।।
दो0-आसन दे िाई नायदकह बूऩसत याजकुभारय।
कहहु नाथ गुन दोष सफ एकह के रृदमॉ वफचारय।।130।।
–*–*–
दे ष्ि रूऩ भुसन वफयसत वफसायी। फड़ी फाय रसग यहे सनहायी।।
रछछन तासु वफरोकक बुराने। रृदमॉ हयष नकहॊ प्रगट फिाने।।
जो एकह फयइ अभय सोइ होई। सभयबूसभ तेकह जीत न कोई।।
सेवकहॊ सकर चयाचय ताही। फयइ सीरसनसध कन्मा जाही।।
रछछन सफ वफचारय उय यािे। कछुक फनाइ बूऩ सन बाषे।।
सुता सुरछछन ककह नृऩ ऩाहीॊ। नायद चरे सोच भन भाहीॊ।।
कयं जाइ सोइ जतन वफचायी। जेकह प्रकाय भोकह फयै कुभायी।।
जऩ तऩ कछु न होइ तेकह कारा। हे वफसध सभरइ कवन वफसध फारा।।

52

दो0-एकह अवसय चाकहअ ऩयभ सोबा रूऩ वफसार।
जो वफरोकक यीझै कुअॉरय तफ भेरै जमभार।।131।।
–*–*–
हरय सन भागं सुॊदयताई। होइकह जात गहरु असत बाई।।
भोयईऄ कहत हरय सभ नकहॊ कोऊ। एकह अवसय सहाम सोइ होऊ।।
फहुवफसध वफनम कीष्न्ह तेकह कारा। प्रगटे उ प्रबु कौतुकी कृ ऩारा।।
प्रबु वफरोकक भुसन नमन जुड़ाने। होइकह काजु कहएॉ हयषाने।।

असत आयसत ककह कथा सुनाई। कयहु कृ ऩा करय होहु सहाई।।
आऩन रूऩ दे हु प्रबु भोही। आन बाॉसत नकहॊ ऩावं ओही।।

जेकह वफसध नाथ होइ कहत भोया। कयहु सो फेसग दास भईआ तोया।।
सनज भामा फर दे ष्ि वफसारा। कहमॉ हॉ सस फोरे दीनदमारा।।
दो0-जेकह वफसध होइकह ऩयभ कहत नायद सुनहु तुम्हाय।

सोइ हभ कयफ न आन कछु फचन न भृषा हभाय।।132।।
–*–*–
कुऩथ भाग रुज ब्माकुर योगी। फैद न दे इ सुनहु भुसन जोगी।।

एकह वफसध कहत तुम्हाय भईआ ठमऊ। ककह अस अॊतयकहत प्रबु बमऊ।।
भामा वफफस बए भुसन भूढ़ा। सभुझी नकहॊ हरय सगया सनगूढ़ा।।
गवने तुयत तहाॉ रयवषयाई। जहाॉ स्वमॊफय बूसभ फनाई।।
सनज सनज आसन फैठे याजा। फहु फनाव करय सकहत सभाजा।।

भुसन भन हयष रूऩ असत भोयईऄ । भोकह तष्ज आनकह फारयकह न बोयईऄ ।।
भुसन कहत कायन कृ ऩासनधाना। दीन्ह कुरूऩ न जाइ फिाना।।
सो चरयत्र रष्ि काहुॉ न ऩावा। नायद जासन सफकहॊ ससय नावा।।
दो0-यहे तहाॉ दइ
ु रुर गन ते जानकहॊ सफ बेउ।

वफप्रफेष दे ित कपयकहॊ ऩयभ कौतुकी तेउ।।133।।
–*–*–
जईऄकह सभाज फईआठे भुसन जाई। रृदमॉ रूऩ अहसभसत असधकाई।।
तहॉ फैठ भहे स गन दोऊ। वफप्रफेष गसत रिइ न कोऊ।।
कयकहॊ कूकट नायदकह सुनाई। नीकक दीष्न्ह हरय सुॊदयताई।।
यीझकह याजकुअॉरय छवफ दे िी। इन्हकह फरयकह हरय जासन वफसेषी।।
भुसनकह भोह भन हाथ ऩयाएॉ। हॉ सकहॊ सॊबु गन असत सचु ऩाएॉ।।
जदवऩ सुनकहॊ भुसन अटऩकट फानी। सभुष्झ न ऩयइ फुवद्ध र्भ्भ सानी।।
काहुॉ न रिा सो चरयत वफसेषा। सो सरूऩ नृऩकन्माॉ दे िा।।

53

भकाट फदन बमॊकय दे ही। दे ित रृदमॉ क्रोध बा तेही।।
दो0-सिीॊ सॊग रै कुअॉरय तफ चसर जनु याजभयार।
दे ित कपयइ भहीऩ सफ कय सयोज जमभार।।134।।
–*–*–
जेकह कदसस फैठे नायद पूरी। सो कदसस दे कह न वफरोकी बूरी।।
ऩुसन ऩुसन भुसन उकसकहॊ अकुराहीॊ। दे ष्ि दसा हय गन भुसकाहीॊ।।
धरय नृऩतनु तहॉ गमउ कृ ऩारा। कुअॉरय हयवष भेरेउ जमभारा।।
दर
ु कहसन रै गे रष्छछसनवासा। नृऩसभाज सफ बमउ सनयासा।।

भुसन असत वफकर भंहॉ भसत नाठी। भसन सगरय गई छूकट जनु गाॉठी।।
तफ हय गन फोरे भुसुकाई। सनज भुि भुकुय वफरोकहु जाई।।

अस ककह दोउ बागे बमॉ बायी। फदन दीि भुसन फारय सनहायी।।
फेषु वफरोकक क्रोध असत फाढ़ा। सतन्हकह सयाऩ दीन्ह असत गाढ़ा।।
दो0-होहु सनसाचय जाइ तुम्ह कऩटी ऩाऩी दोउ।

हॉ सेहु हभकह सो रेहु पर फहुरय हॉ सेहु भुसन कोउ।।135।।
–*–*–
ऩुसन जर दीि रूऩ सनज ऩावा। तदवऩ रृदमॉ सॊतोष न आवा।।
पयकत अधय कोऩ भन भाहीॊ। सऩदी चरे कभराऩसत ऩाहीॊ।।
दे हउॉ श्राऩ कक भरयहउॉ जाई। जगत भोय उऩहास कयाई।।
फीचकहॊ ऩॊथ सभरे दनुजायी। सॊग यभा सोइ याजकुभायी।।
फोरे भधुय फचन सुयसाईं। भुसन कहॉ चरे वफकर की नाईं।।
सुनत फचन उऩजा असत क्रोधा। भामा फस न यहा भन फोधा।।
ऩय सॊऩदा सकहु नकहॊ दे िी। तुम्हयईऄ इरयषा कऩट वफसेषी।।

भथत ससॊधु रुरकह फौयामहु। सुयन्ह प्रेयी वफष ऩान कयामहु।।
दो0-असुय सुया वफष सॊकयकह आऩु यभा भसन चारु।

स्वायथ साधक कुकटर तुम्ह सदा कऩट ब्मवहारु।।136।।
–*–*–
ऩयभ स्वतॊत्र न ससय ऩय कोई। बावइ भनकह कयहु तुम्ह सोई।।

बरेकह भॊद भॊदेकह बर कयहू। वफसभम हयष न कहमॉ कछु धयहू।।
डहकक डहकक ऩरयचेहु सफ काहू। असत असॊक भन सदा उछाहू।।

कयभ सुबासुब तुम्हकह न फाधा। अफ रसग तुम्हकह न काहूॉ साधा।।
बरे बवन अफ फामन दीन्हा। ऩावहुगे पर आऩन कीन्हा।।

फॊचेहु भोकह जवसन धरय दे हा। सोइ तनु धयहु श्राऩ भभ एहा।।

कवऩ आकृ सत तुम्ह कीष्न्ह हभायी। करयहकहॊ कीस सहाम तुम्हायी।।

54

भभ अऩकाय कीन्ही तुम्ह बायी। नायी वफयहॉ तुम्ह होफ दि
ु ायी।।
दो0-श्राऩ सीस धयी हयवष कहमॉ प्रबु फहु वफनती कीष्न्ह।

सनज भामा कै प्रफरता कयवष कृ ऩासनसध रीष्न्ह।।137।।
–*–*–
जफ हरय भामा दरू य सनवायी। नकहॊ तहॉ यभा न याजकुभायी।।

तफ भुसन असत सबीत हरय चयना। गहे ऩाकह प्रनतायसत हयना।।
भृषा होउ भभ श्राऩ कृ ऩारा। भभ इछछा कह दीनदमारा।।
भईआ दफ
ा न कहे फहुतेये। कह भुसन ऩाऩ सभकटकहॊ ककसभ भेये।।
ु च
जऩहु जाइ सॊकय सत नाभा। होइकह रृदमॉ तुयॊत वफश्राभा।।

कोउ नकहॊ ससव सभान वप्रम भोयईऄ । असस ऩयतीसत तजहु जसन बोयईऄ ।।
जेकह ऩय कृ ऩा न कयकहॊ ऩुयायी। सो न ऩाव भुसन बगसत हभायी।।

अस उय धरय भकह वफचयहु जाई। अफ न तुम्हकह भामा सनअयाई।।
दो0-फहुवफसध भुसनकह प्रफोसध प्रबु तफ बए अॊतयधान।।

सत्मरोक नायद चरे कयत याभ गुन गान।।138।।
–*–*–
हय गन भुसनकह जात ऩथ दे िी। वफगतभोह भन हयष वफसेषी।।
असत सबीत नायद ऩकहॊ आए। गकह ऩद आयत फचन सुनाए।।
हय गन हभ न वफप्र भुसनयामा। फड़ अऩयाध कीन्ह पर ऩामा।।
श्राऩ अनुग्रह कयहु कृ ऩारा। फोरे नायद दीनदमारा।।

सनससचय जाइ होहु तुम्ह दोऊ। फैबव वफऩुर तेज फर होऊ।।

बुजफर वफस्व ष्जतफ तुम्ह जकहआ। धरयहकहॊ वफकनु भनुज तनु तकहआ।
सभय भयन हरय हाथ तुम्हाया। होइहहु भुकुत न ऩुसन सॊसाया।।
चरे जुगर भुसन ऩद ससय नाई। बए सनसाचय कारकह ऩाई।।
दो0-एक करऩ एकह हे तु प्रबु रीन्ह भनुज अवताय।
सुय यॊ जन सज्जन सुिद हरय बॊजन बुवफ बाय।।139।।
–*–*–
एकह वफसध जनभ कयभ हरय केये । सुॊदय सुिद वफसचत्र घनेये।।
करऩ करऩ प्रसत प्रबु अवतयहीॊ। चारु चरयत नानावफसध कयहीॊ।।
तफ तफ कथा भुनीसन्ह गाई। ऩयभ ऩुनीत प्रफॊध फनाई।।
वफवफध प्रसॊग अनूऩ फिाने। कयकहॊ न सुसन आचयजु समाने।।
हरय अनॊत हरयकथा अनॊता। कहकहॊ सुनकहॊ फहुवफसध सफ सॊता।।
याभचॊर के चरयत सुहाए। करऩ कोकट रसग जाकहॊ न गाए।।
मह प्रसॊग भईआ कहा बवानी। हरयभामाॉ भोहकहॊ भुसन ग्मानी।।

55

प्रबु कौतुकी प्रनत कहतकायी।।सेवत सुरब सकर दि
ु हायी।।
सो0-सुय नय भुसन कोउ नाकहॊ जेकह न भोह भामा प्रफर।।
अस वफचारय भन भाकहॊ बष्जअ भहाभामा ऩसतकह।।140।।
अऩय हे तु सुनु सैरकुभायी। कहउॉ वफसचत्र कथा वफस्तायी।।
जेकह कायन अज अगुन अरूऩा। ब्रह्म बमउ कोसरऩुय बूऩा।।
जो प्रबु वफवऩन कपयत तुम्ह दे िा। फॊधु सभेत धयईऄ भुसनफेषा।।
जासु चरयत अवरोकक बवानी। सती सयीय यकहहु फौयानी।।

अजहुॉ न छामा सभटसत तुम्हायी। तासु चरयत सुनु र्भ्भ रुज हायी।।
रीरा कीष्न्ह जो तेकहॊ अवताया। सो सफ ककहहउॉ भसत अनुसाया।।
बयद्वाज सुसन सॊकय फानी। सकुसच सप्रेभ उभा भुसकानी।।
रगे फहुरय फयने फृषकेतू। सो अवताय बमउ जेकह हे तू।।

दो0-सो भईआ तुम्ह सन कहउॉ सफु सुनु भुनीस भन राई।।
याभ कथा कसर भर हयसन भॊगर कयसन सुहाइ।।141।।
–*–*–
स्वामॊबू भनु अरु सतरूऩा। ष्जन्ह तईऄ बै नयसृवि अनूऩा।।
दॊ ऩसत धयभ आचयन नीका। अजहुॉ गाव श्रुसत ष्जन्ह कै रीका।।
नृऩ उत्तानऩाद सुत तासू। ध्रुव हरय बगत बमउ सुत जासू।।
रघु सुत नाभ वप्रय्रब्रत ताही। फेद ऩुयान प्रसॊसकह जाही।।
दे वहूसत ऩुसन तासु कुभायी। जो भुसन कदा भ कै वप्रम नायी।।

आकददे व प्रबु दीनदमारा। जठय धये उ जेकहॊ कवऩर कृ ऩारा।।
साॊख्म सास्त्र ष्जन्ह प्रगट फिाना। तत्व वफचाय सनऩुन बगवाना।।
तेकहॊ भनु याज कीन्ह फहु कारा। प्रबु आमसु सफ वफसध प्रसतऩारा।।
सो0-होइ न वफषम वफयाग बवन फसत बा चौथऩन।

रृदमॉ फहुत दि
ु राग जनभ गमउ हरयबगसत वफनु।।142।।

फयफस याज सुतकह तफ दीन्हा। नारय सभेत गवन फन कीन्हा।।
तीयथ फय नैसभष वफख्माता। असत ऩुनीत साधक सससध दाता।।
फसकहॊ तहाॉ भुसन ससद्ध सभाजा। तहॉ कहमॉ हयवष चरेउ भनु याजा।।
ऩॊथ जात सोहकहॊ भसतधीया। ग्मान बगसत जनु धयईऄ सयीया।।
ऩहुॉचे जाइ धेनुभसत तीया। हयवष नहाने सनयभर नीया।।

आए सभरन ससद्ध भुसन ग्मानी। धयभ धुयॊधय नृऩरयवष जानी।।
जहॉ जॉह तीयथ यहे सुहाए। भुसनन्ह सकर सादय कयवाए।।
कृ स सयीय भुसनऩट ऩरयधाना। सत सभाज सनत सुनकहॊ ऩुयाना ।

56

दो0-द्वादस अछछय भॊत्र ऩुसन जऩकहॊ सकहत अनुयाग।
फासुदेव ऩद ऩॊकरुह दॊ ऩसत भन असत राग।।143।।
–*–*–
कयकहॊ अहाय साक पर कॊदा। सुसभयकहॊ ब्रह्म सष्छचदानॊदा।।
ऩुसन हरय हे तु कयन तऩ रागे। फारय अधाय भूर पर त्मागे।।
उय असबराष सनॊयॊतय होई। दे िअ नमन ऩयभ प्रबु सोई।।
अगुन अिॊड अनॊत अनादी। जेकह सचॊतकहॊ ऩयभायथफादी।।
नेसत नेसत जेकह फेद सनरूऩा। सनजानॊद सनरुऩासध अनूऩा।।
सॊबु वफयॊ सच वफकनु बगवाना। उऩजकहॊ जासु अॊस तईऄ नाना।।
ऐसेउ प्रबु सेवक फस अहई। बगत हे तु रीरातनु गहई।।
जं मह फचन सत्म श्रुसत बाषा। तौ हभाय ऩूजकह असबराषा।।
दो0-एकह वफसध फीतईऄ फयष षट सहस फारय आहाय।
सॊफत सप्त सहस्त्र ऩुसन यहे सभीय अधाय।।144।।
–*–*–
फयष सहस दस त्मागेउ सोऊ। ठाढ़े यहे एक ऩद दोऊ।।
वफसध हरय तऩ दे ष्ि अऩाया। भनु सभीऩ आए फहु फाया।।

भागहु फय फहु बाॉसत रोबाए। ऩयभ धीय नकहॊ चरकहॊ चराए।।
अष्स्थभात्र होइ यहे सयीया। तदवऩ भनाग भनकहॊ नकहॊ ऩीया।।

प्रबु सफाग्म दास सनज जानी। गसत अनन्म ताऩस नृऩ यानी।।
भागु भागु फरु बै नब फानी। ऩयभ गबीय कृ ऩाभृत सानी।।
भृतक ष्जआवसन सगया सुहाई। श्रफन यॊ ध्र होइ उय जफ आई।।
ह्रिऩुि तन बए सुहाए। भानहुॉ अफकहॊ बवन ते आए।।

दो0-श्रवन सुधा सभ फचन सुसन ऩुरक प्रपुष्ल्रत गात।
फोरे भनु करय दॊ डवत प्रेभ न रृदमॉ सभात।।145।।
–*–*–
सुनु सेवक सुयतरु सुयधेनु। वफसध हरय हय फॊकदत ऩद ये नू।।
सेवत सुरब सकर सुि दामक। प्रनतऩार सचयाचय नामक।।
जं अनाथ कहत हभ ऩय नेहू। तौ प्रसन्न होइ मह फय दे हू।।

जो सरूऩ फस ससव भन भाहीॊ। जेकह कायन भुसन जतन कयाहीॊ।।
जो बुसुॊकड भन भानस हॊ सा। सगुन अगुन जेकह सनगभ प्रसॊसा।।
दे िकहॊ हभ सो रूऩ बरय रोचन। कृ ऩा कयहु प्रनतायसत भोचन।।
दॊ ऩसत फचन ऩयभ वप्रम रागे। भुदर
ु वफनीत प्रेभ यस ऩागे।।
बगत फछर प्रबु कृ ऩासनधाना। वफस्वफास प्रगटे बगवाना।।

57

दो0-नीर सयोरुह नीर भसन नीर नीयधय स्माभ।
राजकहॊ तन सोबा सनयष्ि कोकट कोकट सत काभ।।146।।
–*–*–
सयद भमॊक फदन छवफ सीॊवा। चारु कऩोर सचफुक दय ग्रीवा।।
अधय अरुन यद सुॊदय नासा। वफधु कय सनकय वफसनॊदक हासा।।
नव अफुॊज अॊफक छवफ नीकी। सचतवसन रसरत बावॉती जी की।।
बुकुकट भनोज चाऩ छवफ हायी। सतरक रराट ऩटर दसु तकायी।।

कुॊडर भकय भुकुट ससय र्भ्ाजा। कुकटर केस जनु भधुऩ सभाजा।।
उय श्रीफत्स रुसचय फनभारा। ऩकदक हाय बूषन भसनजारा।।
केहरय कॊधय चारु जनेउ। फाहु वफबूषन सुॊदय तेऊ।।

करय कय सरय सुबग बुजदॊ डा। ककट सनषॊग कय सय कोदॊ डा।।
दो0-तकडत वफसनॊदक ऩीत ऩट उदय ये ि फय तीसन।।
नासब भनोहय रेसत जनु जभुन बवॉय छवफ छीसन।।147।।
–*–*–
ऩद याजीव फयसन नकह जाहीॊ। भुसन भन भधुऩ फसकहॊ जेन्ह भाहीॊ।।
फाभ बाग सोबसत अनुकूरा। आकदसवि छवफसनसध जगभूरा।।
जासु अॊस उऩजकहॊ गुनिानी। अगसनत रष्छछ उभा ब्रह्मानी।।
बृकुकट वफरास जासु जग होई। याभ फाभ कदसस सीता सोई।।
छवफसभुर हरय रूऩ वफरोकी। एकटक यहे नमन ऩट योकी।।
सचतवकहॊ सादय रूऩ अनूऩा। तृसप्त न भानकहॊ भनु सतरूऩा।।
हयष वफफस तन दसा बुरानी। ऩये दॊ ड इव गकह ऩद ऩानी।।
ससय ऩयसे प्रबु सनज कय कॊजा। तुयत उठाए करुनाऩुॊजा।।
दो0-फोरे कृ ऩासनधान ऩुसन असत प्रसन्न भोकह जासन।
भागहु फय जोइ बाव भन भहादासन अनुभासन।।148।।
–*–*–
सुसन प्रबु फचन जोरय जुग ऩानी। धरय धीयजु फोरी भृद ु फानी।।
नाथ दे ष्ि ऩद कभर तुम्हाये । अफ ऩूये सफ काभ हभाये ।।

एक रारसा फकड़ उय भाही। सुगभ अगभ ककह जात सो नाहीॊ।।
तुम्हकह दे त असत सुगभ गोसाईं। अगभ राग भोकह सनज कृ ऩनाईं।।
जथा दरयर वफफुधतरु ऩाई। फहु सॊऩसत भागत सकुचाई।।

तासु प्रबा जान नकहॊ सोई। तथा रृदमॉ भभ सॊसम होई।।
सो तुम्ह जानहु अॊतयजाभी। ऩुयवहु भोय भनोयथ स्वाभी।।

सकुच वफहाइ भागु नृऩ भोकह। भोयईऄ नकहॊ अदे म कछु तोही।।

58

दो0-दासन ससयोभसन कृ ऩासनसध नाथ कहउॉ ससतबाउ।।
चाहउॉ तुम्हकह सभान सुत प्रबु सन कवन दयु ाउ।।149।।
–*–*–
दे ष्ि प्रीसत सुसन फचन अभोरे। एवभस्तु करुनासनसध फोरे।।
आऩु सरयस िोजं कहॉ जाई। नृऩ तव तनम होफ भईआ आई।।
सतरूऩकह वफरोकक कय जोयईऄ । दे वफ भागु फरु जो रुसच तोये ।।
जो फरु नाथ चतुय नृऩ भागा। सोइ कृ ऩार भोकह असत वप्रम रागा।।
प्रबु ऩयॊ तु सुकठ होसत कढठाई। जदवऩ बगत कहत तुम्हकह सोहाई।।
तुम्ह ब्रह्माकद जनक जग स्वाभी। ब्रह्म सकर उय अॊतयजाभी।।
अस सभुझत भन सॊसम होई। कहा जो प्रबु प्रवान ऩुसन सोई।।
जे सनज बगत नाथ तव अहहीॊ। जो सुि ऩावकहॊ जो गसत रहहीॊ।।
दो0-सोइ सुि सोइ गसत सोइ बगसत सोइ सनज चयन सनेहु।।
सोइ वफफेक सोइ यहसन प्रबु हभकह कृ ऩा करय दे हु।।150।।
–*–*–
सुनु भृद ु गूढ़ रुसचय फय यचना। कृ ऩाससॊधु फोरे भृद ु फचना।।

जो कछु रुसच तुम्हे य भन भाहीॊ। भईआ सो दीन्ह सफ सॊसम नाहीॊ।।
भातु वफफेक अरोककक तोयईऄ । कफहुॉ न सभकटकह अनुग्रह भोयईऄ ।
फॊकद चयन भनु कहे उ फहोयी। अवय एक वफनसत प्रबु भोयी।।

सुत वफषइक तव ऩद यसत होऊ। भोकह फड़ भूढ़ कहै ककन कोऊ।।
भसन वफनु पसन ष्जसभ जर वफनु भीना। भभ जीवन सतसभ तुम्हकह अधीना।।
अस फरु भासग चयन गकह यहे ऊ। एवभस्तु करुनासनसध कहे ऊ।।
अफ तुम्ह भभ अनुसासन भानी। फसहु जाइ सुयऩसत यजधानी।।
सो0-तहॉ करय बोग वफसार तात गउॉ कछु कार ऩुसन।
होइहहु अवध बुआर तफ भईआ होफ तुम्हाय सुत।।151।।

इछछाभम नयफेष सॉवायईऄ । होइहउॉ प्रगट सनकेत तुम्हाये ।।
अॊसन्ह सकहत दे ह धरय ताता। करयहउॉ चरयत बगत सुिदाता।।
जे सुसन सादय नय फड़बागी। बव तरयहकहॊ भभता भद त्मागी।।
आकदसवि जेकहॊ जग उऩजामा। सोउ अवतरयकह भोरय मह भामा।।
ऩुयउफ भईआ असबराष तुम्हाया। सत्म सत्म ऩन सत्म हभाया।।
ऩुसन ऩुसन अस ककह कृ ऩासनधाना। अॊतयधान बए बगवाना।।
दॊ ऩसत उय धरय बगत कृ ऩारा। तेकहॊ आश्रभ सनवसे कछु कारा।।
सभम ऩाइ तनु तष्ज अनमासा। जाइ कीन्ह अभयावसत फासा।।
दो0-मह इसतहास ऩुनीत असत उभकह कही फृषकेतु।

59

बयद्वाज सुनु अऩय ऩुसन याभ जनभ कय हे तु।।152।।
भासऩायामण,ऩाॉचवाॉ ववश्राभ
–*–*–
सुनु भुसन कथा ऩुनीत ऩुयानी। जो सगरयजा प्रसत सॊबु फिानी।।
वफस्व वफकदत एक कैकम दे सू। सत्मकेतु तहॉ फसइ नये सू।।
धयभ धुयॊधय नीसत सनधाना। तेज प्रताऩ सीर फरवाना।।
तेकह कईऄ बए जुगर सुत फीया। सफ गुन धाभ भहा यनधीया।।
याज धनी जो जेठ सुत आही। नाभ प्रताऩबानु अस ताही।।
अऩय सुतकह अरयभदा न नाभा। बुजफर अतुर अचर सॊग्राभा।।
बाइकह बाइकह ऩयभ सभीती। सकर दोष छर फयष्जत प्रीती।।
जेठे सुतकह याज नृऩ दीन्हा। हरय कहत आऩु गवन फन कीन्हा।।
दो0-जफ प्रताऩयवफ बमउ नृऩ कपयी दोहाई दे स।
प्रजा ऩार असत फेदवफसध कतहुॉ नहीॊ अघ रेस।।153।।
–*–*–
नृऩ कहतकायक ससचव समाना। नाभ धयभरुसच सुक्र सभाना।।
ससचव समान फॊधु फरफीया। आऩु प्रताऩऩुॊज यनधीया।।
सेन सॊग चतुयॊग अऩाया। असभत सुबट सफ सभय जुझाया।।
सेन वफरोकक याउ हयषाना। अरु फाजे गहगहे सनसाना।।
वफजम हे तु कटकई फनाई। सुकदन सासध नृऩ चरेउ फजाई।।
जॉह तहॉ ऩयीॊ अनेक रयाईं। जीते सकर बूऩ फरयआई।।
सप्त दीऩ बुजफर फस कीन्हे । रै रै दॊ ड छाकड़ नृऩ दीन्हईऄ ।।
सकर अवसन भॊडर तेकह कारा। एक प्रताऩबानु भकहऩारा।।
दो0-स्वफस वफस्व करय फाहुफर सनज ऩुय कीन्ह प्रफेसु।
अयथ धयभ काभाकद सुि सेवइ सभमॉ नये सु।।154।।
–*–*–
बूऩ प्रताऩबानु फर ऩाई। काभधेनु बै बूसभ सुहाई।।

सफ दि
ु फयष्जत प्रजा सुिायी। धयभसीर सुॊदय नय नायी।।

ससचव धयभरुसच हरय ऩद प्रीती। नृऩ कहत हे तु ससिव सनत नीती।।
गुय सुय सॊत वऩतय भकहदे वा। कयइ सदा नृऩ सफ कै सेवा।।
बूऩ धयभ जे फेद फिाने। सकर कयइ सादय सुि भाने।।
कदन प्रसत दे ह वफवफध वफसध दाना। सुनहु सास्त्र फय फेद ऩुयाना।।
नाना फाऩीॊ कूऩ तड़ागा। सुभन फाकटका सुॊदय फागा।।

60

वफप्रबवन सुयबवन सुहाए। सफ तीयथन्ह वफसचत्र फनाए।।
दो0-जॉह रसग कहे ऩुयान श्रुसत एक एक सफ जाग।
फाय सहस्त्र सहस्त्र नृऩ ककए सकहत अनुयाग।।155।।
–*–*–
रृदमॉ न कछु पर अनुसॊधाना। बूऩ वफफेकी ऩयभ सुजाना।।
कयइ जे धयभ कयभ भन फानी। फासुदेव अवऩात नृऩ ग्मानी।।
चकढ़ फय फाष्ज फाय एक याजा। भृगमा कय सफ साष्ज सभाजा।।
वफॊध्माचर गबीय फन गमऊ। भृग ऩुनीत फहु भायत बमऊ।।

कपयत वफवऩन नृऩ दीि फयाहू। जनु फन दयु े उ सससकह ग्रसस याहू।।
फड़ वफधु नकह सभात भुि भाहीॊ। भनहुॉ क्रोधफस उसगरत नाहीॊ।।
कोर कयार दसन छवफ गाई। तनु वफसार ऩीवय असधकाई।।
घुरुघुयात हम आयौ ऩाएॉ। चककत वफरोकत कान उठाएॉ।।
दो0-नीर भहीधय ससिय सभ दे ष्ि वफसार फयाहु।

चऩरय चरेउ हम सुटुकक नृऩ हाॉकक न होइ सनफाहु।।156।।
–*–*–
आवत दे ष्ि असधक यव फाजी। चरेउ फयाह भरुत गसत बाजी।।
तुयत कीन्ह नृऩ सय सॊधाना। भकह सभसर गमउ वफरोकत फाना।।
तकक तकक तीय भहीस चरावा। करय छर सुअय सयीय फचावा।।
प्रगटत दयु त जाइ भृग बागा। रयस फस बूऩ चरेउ सॊग रागा।।
गमउ दरू य घन गहन फयाहू। जहॉ नाकहन गज फाष्ज सनफाहू।।

असत अकेर फन वफऩुर करेसू। तदवऩ न भृग भग तजइ नये सू।।
कोर वफरोकक बूऩ फड़ धीया। बासग ऩैठ सगरयगुहाॉ गबीया।।
अगभ दे ष्ि नृऩ असत ऩसछताई। कपये उ भहाफन ऩये उ बुराई।।
दो0-िेद ष्िन्न छुवद्धत तृवषत याजा फाष्ज सभेत।
िोजत ब्माकुर सरयत सय जर वफनु बमउ अचेत।।157।।
–*–*–
कपयत वफवऩन आश्रभ एक दे िा। तहॉ फस नृऩसत कऩट भुसनफेषा।।
जासु दे स नृऩ रीन्ह छड़ाई। सभय सेन तष्ज गमउ ऩयाई।।
सभम प्रताऩबानु कय जानी। आऩन असत असभम अनुभानी।।
गमउ न गृह भन फहुत गरानी। सभरा न याजकह नृऩ असबभानी।।
रयस उय भारय यॊ क ष्जसभ याजा। वफवऩन फसइ ताऩस कईऄ साजा।।
तासु सभीऩ गवन नृऩ कीन्हा। मह प्रताऩयवफ तेकह तफ चीन्हा।।
याउ तृवषत नकह सो ऩकहचाना। दे ष्ि सुफेष भहाभुसन जाना।।

61

उतरय तुयग तईऄ कीन्ह प्रनाभा। ऩयभ चतुय न कहे उ सनज नाभा।।
दो0 बूऩसत तृवषत वफरोकक तेकहॊ सयफरु दीन्ह दे िाइ।
भज्जन ऩान सभेत हम कीन्ह नृऩसत हयषाइ।।158।।
–*–*–
गै श्रभ सकर सुिी नृऩ बमऊ। सनज आश्रभ ताऩस रै गमऊ।।
आसन दीन्ह अस्त यवफ जानी। ऩुसन ताऩस फोरेउ भृद ु फानी।।
को तुम्ह कस फन कपयहु अकेरईऄ। सुॊदय जुफा जीव ऩयहे रईऄ।।
चक्रफसता के रछछन तोयईऄ । दे ित दमा रासग असत भोयईऄ ।।

नाभ प्रताऩबानु अवनीसा। तासु ससचव भईआ सुनहु भुनीसा।।
कपयत अहे यईऄ ऩये उॉ बुराई। फडे बाग दे िउॉ ऩद आई।।

हभ कहॉ दर
ा दयस तुम्हाया। जानत हं कछु बर होसनहाया।।
ु ब

कह भुसन तात बमउ अॉसधमाया। जोजन सत्तरय नगरु तुम्हाया।।
दो0- सनसा घोय गम्बीय फन ऩॊथ न सुनहु सुजान।

फसहु आजु अस जासन तुम्ह जाएहु होत वफहान।।159(क)।।
तुरसी जसस बवतब्मता तैसी सभरइ सहाइ।

आऩुनु आवइ ताकह ऩकहॊ ताकह तहाॉ रै जाइ।।159(ि)।।
–*–*–
बरेकहॊ नाथ आमसु धरय सीसा। फाॉसध तुयग तरु फैठ भहीसा।।
नृऩ फहु बासत प्रसॊसेउ ताही। चयन फॊकद सनज बाग्म सयाही।।
ऩुसन फोरे भृद ु सगया सुहाई। जासन वऩता प्रबु कयउॉ कढठाई।।

भोकह भुसनस सुत सेवक जानी। नाथ नाभ सनज कहहु फिानी।।

तेकह न जान नृऩ नृऩकह सो जाना। बूऩ सुह्रद सो कऩट समाना।।
फैयी ऩुसन छत्री ऩुसन याजा। छर फर कीन्ह चहइ सनज काजा।।
सभुष्झ याजसुि दष्ु ित अयाती। अवाॉ अनर इव सुरगइ छाती।।
सयर फचन नृऩ के सुसन काना। फमय सॉबारय रृदमॉ हयषाना।।
दो0-कऩट फोरय फानी भृदर
ु फोरेउ जुगुसत सभेत।

नाभ हभाय सबिारय अफ सनधान यकहत सनकेसत।।160।।
–*–*–
कह नृऩ जे वफग्मान सनधाना। तुम्ह सारयिे गसरत असबभाना।।
सदा यहकह अऩनऩौ दयु ाएॉ। सफ वफसध कुसर कुफेष फनाएॉ।।

तेकह तईऄ कहकह सॊत श्रुसत टे यईऄ। ऩयभ अककॊचन वप्रम हरय केयईऄ ।।
तुम्ह सभ अधन सबिारय अगेहा। होत वफयॊ सच ससवकह सॊदेहा।।

62

जोसस सोसस तव चयन नभाभी। भो ऩय कृ ऩा करयअ अफ स्वाभी।।
सहज प्रीसत बूऩसत कै दे िी। आऩु वफषम वफस्वास वफसेषी।।
सफ प्रकाय याजकह अऩनाई। फोरेउ असधक सनेह जनाई।।
सुनु ससतबाउ कहउॉ भकहऩारा। इहाॉ फसत फीते फहु कारा।।
दो0-अफ रसग भोकह न सभरेउ कोउ भईआ न जनावउॉ काहु।

रोकभान्मता अनर सभ कय तऩ कानन दाहु।।161(क)।।
सो0-तुरसी दे ष्ि सुफेषु बूरकहॊ भूढ़ न चतुय नय।

सुॊदय केकककह ऩेिु फचन सुधा सभ असन अकह।।161(ि)
–*–*–
तातईऄ गुऩुत यहउॉ जग भाहीॊ। हरय तष्ज ककभवऩ प्रमोजन नाहीॊ।।
प्रबु जानत सफ वफनकहॊ जनाएॉ। कहहु कवसन सससध रोक रयझाएॉ।।
तुम्ह सुसच सुभसत ऩयभ वप्रम भोयईऄ । प्रीसत प्रतीसत भोकह ऩय तोयईऄ ।।
अफ जं तात दयु ावउॉ तोही। दारुन दोष घटइ असत भोही।।

ष्जसभ ष्जसभ ताऩसु कथइ उदासा। सतसभ सतसभ नृऩकह उऩज वफस्वासा।।
दे िा स्वफस कभा भन फानी। तफ फोरा ताऩस फगध्मानी।।
नाभ हभाय एकतनु बाई। सुसन नृऩ फोरे ऩुसन ससरु नाई।।
कहहु नाभ कय अयथ फिानी। भोकह सेवक असत आऩन जानी।।
दो0-आकदसृवि उऩजी जफकहॊ तफ उतऩसत बै भोरय।

नाभ एकतनु हे तु तेकह दे ह न धयी फहोरय।।162।।
–*–*–
जसन आचरुज कयहु भन भाहीॊ। सुत तऩ तईऄ दर
ा कछु नाहीॊ।।
ु ब
तऩफर तईऄ जग सृजइ वफधाता। तऩफर वफकनु बए ऩरयत्राता।।
तऩफर सॊबु कयकहॊ सॊघाया। तऩ तईऄ अगभ न कछु सॊसाया।।
बमउ नृऩकह सुसन असत अनुयागा। कथा ऩुयातन कहै सो रागा।।
कयभ धयभ इसतहास अनेका। कयइ सनरूऩन वफयसत वफफेका।।
उदबव ऩारन प्ररम कहानी। कहे सस असभत आचयज फिानी।।
सुसन भकहऩ ताऩस फस बमऊ। आऩन नाभ कहत तफ रमऊ।।
कह ताऩस नृऩ जानउॉ तोही। कीन्हे हु कऩट राग बर भोही।।
सो0-सुनु भहीस असस नीसत जहॉ तहॉ नाभ न कहकहॊ नृऩ।

भोकह तोकह ऩय असत प्रीसत सोइ चतुयता वफचारय तव।।163।।
नाभ तुम्हाय प्रताऩ कदनेसा। सत्मकेतु तव वऩता नये सा।।

गुय प्रसाद सफ जासनअ याजा। ककहअ न आऩन जासन अकाजा।।
दे ष्ि तात तव सहज सुधाई। प्रीसत प्रतीसत नीसत सनऩुनाई।।

63

उऩष्ज ऩरय भभता भन भोयईऄ । कहउॉ कथा सनज ऩूछे तोयईऄ ।।
अफ प्रसन्न भईआ सॊसम नाहीॊ। भागु जो बूऩ बाव भन भाहीॊ।।
सुसन सुफचन बूऩसत हयषाना। गकह ऩद वफनम कीष्न्ह वफसध नाना।।
कृ ऩाससॊधु भुसन दयसन तोयईऄ । चारय ऩदायथ कयतर भोयईऄ ।।
प्रबुकह तथावऩ प्रसन्न वफरोकी। भासग अगभ फय होउॉ असोकी।।
दो0-जया भयन दि
ु यकहत तनु सभय ष्जतै जसन कोउ।

एकछत्र रयऩुहीन भकह याज करऩ सत होउ।।164।।
–*–*–
कह ताऩस नृऩ ऐसेइ होऊ। कायन एक ककठन सुनु सोऊ।।
कारउ तुअ ऩद नाइकह सीसा। एक वफप्रकुर छाकड़ भहीसा।।
तऩफर वफप्र सदा फरयआया। सतन्ह के कोऩ न कोउ यिवाया।।
जं वफप्रन्ह सफ कयहु नये सा। तौ तुअ फस वफसध वफकनु भहे सा।।
चर न ब्रह्मकुर सन फरयआई। सत्म कहउॉ दोउ बुजा उठाई।।

वफप्र श्राऩ वफनु सुनु भकहऩारा। तोय नास नकह कवनेहुॉ कारा।।
हयषेउ याउ फचन सुसन तासू। नाथ न होइ भोय अफ नासू।।

तव प्रसाद प्रबु कृ ऩासनधाना। भो कहुॉ सफा कार कल्माना।।
दो0-एवभस्तु ककह कऩटभुसन फोरा कुकटर फहोरय।

सभरफ हभाय बुराफ सनज कहहु त हभकह न िोरय।।165।।
–*–*–
तातईऄ भै तोकह फयजउॉ याजा। कहईऄ कथा तव ऩयभ अकाजा।।
छठईऄ श्रवन मह ऩयत कहानी। नास तुम्हाय सत्म भभ फानी।।
मह प्रगटईऄ अथवा कद्वजश्राऩा। नास तोय सुनु बानुप्रताऩा।।
आन उऩामॉ सनधन तव नाहीॊ। जं हरय हय कोऩकहॊ भन भाहीॊ।।
सत्म नाथ ऩद गकह नृऩ बाषा। कद्वज गुय कोऩ कहहु को यािा।।
यािइ गुय जं कोऩ वफधाता। गुय वफयोध नकहॊ कोउ जग त्राता।।
जं न चरफ हभ कहे तुम्हायईऄ । होउ नास नकहॊ सोच हभायईऄ ।।
एककहॊ डय डयऩत भन भोया। प्रबु भकहदे व श्राऩ असत घोया।।
दो0-होकहॊ वफप्र फस कवन वफसध कहहु कृ ऩा करय सोउ।

तुम्ह तष्ज दीनदमार सनज कहतू न दे िउॉ कोउॉ ।।166।।
–*–*–
सुनु नृऩ वफवफध जतन जग भाहीॊ। किसाध्म ऩुसन होकहॊ कक नाहीॊ।।
अहइ एक असत सुगभ उऩाई। तहाॉ ऩयॊ तु एक ककठनाई।।

64

भभ आधीन जुगुसत नृऩ सोई। भोय जाफ तव नगय न होई।।
आजु रगईऄ अरु जफ तईऄ बमऊॉ। काहू के गृह ग्राभ न गमऊॉ।।
जं न जाउॉ तव होइ अकाजू। फना आइ असभॊजस आजू।।

सुसन भहीस फोरेउ भृद ु फानी। नाथ सनगभ असस नीसत फिानी।।

फड़े सनेह रघुन्ह ऩय कयहीॊ। सगरय सनज ससयसन सदा तृन धयहीॊ।।
जरसध अगाध भौसर फह पेनू। सॊतत धयसन धयत ससय ये नू।।
दो0- अस ककह गहे नये स ऩद स्वाभी होहु कृ ऩार।

भोकह रासग दि
ु सकहअ प्रबु सज्जन दीनदमार।।167।।
–*–*–
जासन नृऩकह आऩन आधीना। फोरा ताऩस कऩट प्रफीना।।
सत्म कहउॉ बूऩसत सुनु तोही। जग नाकहन दर
ा कछु भोही।।
ु ब

अवसस काज भईआ करयहउॉ तोया। भन तन फचन बगत तईआ भोया।।
जोग जुगुसत तऩ भॊत्र प्रबाऊ। परइ तफकहॊ जफ करयअ दयु ाऊ।।
जं नये स भईआ कयं यसोई। तुम्ह ऩरुसहु भोकह जान न कोई।।

अन्न सो जोइ जोइ बोजन कयई। सोइ सोइ तव आमसु अनुसयई।।
ऩुसन सतन्ह के गृह जेवॉइ जोऊ। तव फस होइ बूऩ सुनु सोऊ।।
जाइ उऩाम यचहु नृऩ एहू। सॊफत बरय सॊकरऩ कये हू।।
दो0-सनत नूतन कद्वज सहस सत फये हु सकहत ऩरयवाय।

भईआ तुम्हये सॊकरऩ रसग कदनकहॊûकरयफ जेवनाय।।168।।
–*–*–
एकह वफसध बूऩ कि असत थोयईऄ । होइहकहॊ सकर वफप्र फस तोयईऄ ।।
करयहकहॊ वफप्र होभ भि सेवा। तेकहॊ प्रसॊग सहजेकहॊ फस दे वा।।
औय एक तोकह कहऊॉ रिाऊ। भईआ एकह फेष न आउफ काऊ।।
तुम्हये उऩयोकहत कहुॉ यामा। हरय आनफ भईआ करय सनज भामा।।
तऩफर तेकह करय आऩु सभाना। यष्िहउॉ इहाॉ फयष ऩयवाना।।

भईआ धरय तासु फेषु सुनु याजा। सफ वफसध तोय सॉवायफ काजा।।
गै सनसस फहुत समन अफ कीजे। भोकह तोकह बूऩ बईऄट कदन तीजे।।
भईआ तऩफर तोकह तुयग सभेता। ऩहुॉचेहउॉ सोवतकह सनकेता।।
दो0-भईआ आउफ सोइ फेषु धरय ऩकहचानेहु तफ भोकह।

जफ एकाॊत फोराइ सफ कथा सुनावं तोकह।।169।।
–*–*–
समन कीन्ह नृऩ आमसु भानी। आसन जाइ फैठ छरग्मानी।।
श्रसभत बूऩ सनरा असत आई। सो ककसभ सोव सोच असधकाई।।

65

कारकेतु सनससचय तहॉ आवा। जेकहॊ सूकय होइ नृऩकह बुरावा।।
ऩयभ सभत्र ताऩस नृऩ केया। जानइ सो असत कऩट घनेया।।
तेकह के सत सुत अरु दस बाई। िर असत अजम दे व दि
ु दाई।।
प्रथभकह बूऩ सभय सफ भाये । वफप्र सॊत सुय दे ष्ि दि
ु ाये ।।

तेकहॊ िर ऩासछर फमरु सॉबया। ताऩस नृऩ सभसर भॊत्र वफचाया।।
जेकह रयऩु छम सोइ यचेष्न्ह उऩाऊ। बावी फस न जान कछु याऊ।।
दो0-रयऩु तेजसी अकेर अवऩ रघु करय गसनअ न ताहु।

अजहुॉ दे त दि
ु यवफ सससकह ससय अवसेवषत याहु।।170।।
–*–*–
ताऩस नृऩ सनज सिकह सनहायी। हयवष सभरेउ उकठ बमउ सुिायी।।
सभत्रकह ककह सफ कथा सुनाई। जातुधान फोरा सुि ऩाई।।
अफ साधेउॉ रयऩु सुनहु नये सा। जं तुम्ह कीन्ह भोय उऩदे सा।।

ऩरयहरय सोच यहहु तुम्ह सोई। वफनु औषध वफआसध वफसध िोई।।
कुर सभेत रयऩु भूर फहाई। चौथे कदवस सभरफ भईआ आई।।
ताऩस नृऩकह फहुत ऩरयतोषी। चरा भहाकऩटी असतयोषी।।

बानुप्रताऩकह फाष्ज सभेता। ऩहुॉचाएसस छन भाझ सनकेता।।

नृऩकह नारय ऩकहॊ समन कयाई। हमगृहॉ फाॉधेसस फाष्ज फनाई।।
दो0-याजा के उऩयोकहतकह हरय रै गमउ फहोरय।
रै यािेसस सगरय िोह भहुॉ भामाॉ करय भसत बोरय।।171।।
–*–*–
आऩु वफयसच उऩयोकहत रूऩा। ऩये उ जाइ तेकह सेज अनूऩा।।
जागेउ नृऩ अनबएॉ वफहाना। दे ष्ि बवन असत अचयजु भाना।।
भुसन भकहभा भन भहुॉ अनुभानी। उठे उ गवॉकह जेकह जान न यानी।।
कानन गमउ फाष्ज चकढ़ तेहीॊ। ऩुय नय नारय न जानेउ केहीॊ।।
गएॉ जाभ जुग बूऩसत आवा। घय घय उत्सव फाज फधावा।।
उऩयोकहतकह दे ि जफ याजा। चककत वफरोकक सुसभरय सोइ काजा।।
जुग सभ नृऩकह गए कदन तीनी। कऩटी भुसन ऩद यह भसत रीनी।।
सभम जासन उऩयोकहत आवा। नृऩकह भते सफ ककह सभुझावा।।
दो0-नृऩ हयषेउ ऩकहचासन गुरु र्भ्भ फस यहा न चेत।
फये तुयत सत सहस फय वफप्र कुटु ॊ फ सभेत।।172।।
–*–*–
उऩयोकहत जेवनाय फनाई। छयस चारय वफसध जसस श्रुसत गाई।।
भामाभम तेकहॊ कीन्ह यसोई। वफॊजन फहु गसन सकइ न कोई।।

66

वफवफध भृगन्ह कय आसभष याॉधा। तेकह भहुॉ वफप्र भाॉसु िर साॉधा।।
बोजन कहुॉ सफ वफप्र फोराए। ऩद ऩिारय सादय फैठाए।।

ऩरुसन जफकहॊ राग भकहऩारा। बै अकासफानी तेकह कारा।।
वफप्रफृॊद उकठ उकठ गृह जाहू। है फकड़ हासन अन्न जसन िाहू।।
बमउ यसोईं बूसुय भाॉसू। सफ कद्वज उठे भासन वफस्वासू।।

बूऩ वफकर भसत भोहॉ बुरानी। बावी फस आव भुि फानी।।
दो0-फोरे वफप्र सकोऩ तफ नकहॊ कछु कीन्ह वफचाय।
जाइ सनसाचय होहु नृऩ भूढ़ सकहत ऩरयवाय।।173।।
–*–*–
छत्रफॊधु तईआ वफप्र फोराई। घारै सरए सकहत सभुदाई।।
ईस्वय यािा धयभ हभाया। जैहसस तईआ सभेत ऩरयवाया।।
सॊफत भध्म नास तव होऊ। जरदाता न यकहकह कुर कोऊ।।
नृऩ सुसन श्राऩ वफकर असत त्रासा। बै फहोरय फय सगया अकासा।।
वफप्रहु श्राऩ वफचारय न दीन्हा। नकहॊ अऩयाध बूऩ कछु कीन्हा।।

चककत वफप्र सफ सुसन नबफानी। बूऩ गमउ जहॉ बोजन िानी।।
तहॉ न असन नकहॊ वफप्र सुआया। कपये उ याउ भन सोच अऩाया।।
सफ प्रसॊग भकहसुयन्ह सुनाई। त्रससत ऩये उ अवनीॊ अकुराई।।
दो0-बूऩसत बावी सभटइ नकहॊ जदवऩ न दष
ू न तोय।

ककएॉ अन्मथा होइ नकहॊ वफप्रश्राऩ असत घोय।।174।।
–*–*–
अस ककह सफ भकहदे व ससधाए। सभाचाय ऩुयरोगन्ह ऩाए।।
सोचकहॊ दष
ू न दै वकह दे हीॊ। वफचयत हॊ स काग ककम जेहीॊ।।

उऩयोकहतकह बवन ऩहुॉचाई। असुय ताऩसकह िफरय जनाई।।

तेकहॊ िर जहॉ तहॉ ऩत्र ऩठाए। सष्ज सष्ज सेन बूऩ सफ धाए।।
घेयेष्न्ह नगय सनसान फजाई। वफवफध बाॉसत सनत होई रयाई।।
जूझे सकर सुबट करय कयनी। फॊधु सभेत ऩये उ नृऩ धयनी।।
सत्मकेतु कुर कोउ नकहॊ फाॉचा। वफप्रश्राऩ ककसभ होइ असाॉचा।।
रयऩु ष्जसत सफ नृऩ नगय फसाई। सनज ऩुय गवने जम जसु ऩाई।।
दो0-बयद्वाज सुनु जाकह जफ होइ वफधाता फाभ।
धूरय भेरुसभ जनक जभ ताकह ब्मारसभ दाभ।।।175।।
–*–*–
कार ऩाइ भुसन सुनु सोइ याजा। बमउ सनसाचय सकहत सभाजा।।
दस ससय ताकह फीस बुजदॊ डा। यावन नाभ फीय फरयफॊडा।।

67

बूऩ अनुज अरयभदा न नाभा। बमउ सो कुॊबकयन फरधाभा।।
ससचव जो यहा धयभरुसच जासू। बमउ वफभात्र फॊधु रघु तासू।।
नाभ वफबीषन जेकह जग जाना। वफकनुबगत वफग्मान सनधाना।।
यहे जे सुत सेवक नृऩ केये । बए सनसाचय घोय घनेये।।
काभरूऩ िर ष्जनस अनेका। कुकटर बमॊकय वफगत वफफेका।।
कृ ऩा यकहत कहॊ सक सफ ऩाऩी। फयसन न जाकहॊ वफस्व ऩरयताऩी।।
दो0-उऩजे जदवऩ ऩुरस्त्मकुर ऩावन अभर अनूऩ।
तदवऩ भहीसुय श्राऩ फस बए सकर अघरूऩ।।176।।
–*–*–
कीन्ह वफवफध तऩ तीसनहुॉ बाई। ऩयभ उग्र नकहॊ फयसन सो जाई।।
गमउ सनकट तऩ दे ष्ि वफधाता। भागहु फय प्रसन्न भईआ ताता।।

करय वफनती ऩद गकह दससीसा। फोरेउ फचन सुनहु जगदीसा।।
हभ काहू के भयकहॊ न भायईऄ । फानय भनुज जासत दइ
ु फायईऄ ।।

एवभस्तु तुम्ह फड़ तऩ कीन्हा। भईआ ब्रह्माॉ सभसर तेकह फय दीन्हा।।
ऩुसन प्रबु कुॊबकयन ऩकहॊ गमऊ। तेकह वफरोकक भन वफसभम बमऊ।।
जं एकहॊ िर सनत कयफ अहारू। होइकह सफ उजारय सॊसारू।।
सायद प्रेरय तासु भसत पेयी। भागेसस नीद भास षट केयी।।
दो0-गए वफबीषन ऩास ऩुसन कहे उ ऩुत्र फय भागु।
तेकहॊ भागेउ बगवॊत ऩद कभर अभर अनुयागु।।177।।
–*–*–
सतष्न्ह दे इ फय ब्रह्म ससधाए। हयवषत ते अऩने गृह आए।।
भम तनुजा भॊदोदरय नाभा। ऩयभ सुॊदयी नारय रराभा।।
सोइ भमॉ दीष्न्ह यावनकह आनी। होइकह जातुधानऩसत जानी।।
हयवषत बमउ नारय बसर ऩाई। ऩुसन दोउ फॊधु वफआहे सस जाई।।
सगरय वत्रकूट एक ससॊधु भझायी। वफसध सनसभात दग
ा असत बायी।।
ु भ
सोइ भम दानवॉ फहुरय सॉवाया। कनक यसचत भसनबवन अऩाया।।
बोगावसत जसस अकहकुर फासा। अभयावसत जसस सक्रसनवासा।।

सतन्ह तईऄ असधक यम्म असत फॊका। जग वफख्मात नाभ तेकह रॊका।।
दो0-िाईं ससॊधु गबीय असत चारयहुॉ कदसस कपरय आव।

कनक कोट भसन िसचत दृढ़ फयसन न जाइ फनाव।।178(क)।।
हरयप्रेरयत जेकहॊ करऩ जोइ जातुधानऩसत होइ।
सूय प्रताऩी अतुरफर दर सभेत फस सोइ।।178(ि)।।

68

–*–*–
यहे तहाॉ सनससचय बट बाये । ते सफ सुयन्ह सभय सॊघाये ।।
अफ तहॉ यहकहॊ सक्र के प्रेये। यछछक कोकट जछछऩसत केये ।।
दसभुि कतहुॉ िफरय असस ऩाई। सेन साष्ज गढ़ घेयेसस जाई।।
दे ष्ि वफकट बट फकड़ कटकाई। जछछ जीव रै गए ऩयाई।।

कपरय सफ नगय दसानन दे िा। गमउ सोच सुि बमउ वफसेषा।।
सुॊदय सहज अगभ अनुभानी। कीष्न्ह तहाॉ यावन यजधानी।।
जेकह जस जोग फाॉकट गृह दीन्हे । सुिी सकर यजनीचय कीन्हे ।।
एक फाय कुफेय ऩय धावा। ऩुकऩक जान जीसत रै आवा।।
दो0-कौतुकहीॊ कैरास ऩुसन रीन्हे सस जाइ उठाइ।
भनहुॉ तौसर सनज फाहुफर चरा फहुत सुि ऩाइ।।179।।
–*–*–
सुि सॊऩसत सुत सेन सहाई। जम प्रताऩ फर फुवद्ध फड़ाई।।
सनत नूतन सफ फाढ़त जाई। ष्जसभ प्रसतराब रोब असधकाई।।
असतफर कुॊबकयन अस र्भ्ाता। जेकह कहुॉ नकहॊ प्रसतबट जग जाता।।
कयइ ऩान सोवइ षट भासा। जागत होइ सतहुॉ ऩुय त्रासा।।

जं कदन प्रसत अहाय कय सोई। वफस्व फेसग सफ चौऩट होई।।
सभय धीय नकहॊ जाइ फिाना। तेकह सभ असभत फीय फरवाना।।
फारयदनाद जेठ सुत तासू। बट भहुॉ प्रथभ रीक जग जासू।।

जेकह न होइ यन सनभुि कोई। सुयऩुय सनतकहॊ ऩयावन होई।।
दो0-कुभुि अकॊऩन कुसरसयद धूभकेतु असतकाम।
एक एक जग जीसत सक ऐसे सुबट सनकाम।।180।।
–*–*–
काभरूऩ जानकहॊ सफ भामा। सऩनेहुॉ ष्जन्ह कईऄ धयभ न दामा।।
दसभुि फैठ सबाॉ एक फाया। दे ष्ि असभत आऩन ऩरयवाया।।
सुत सभूह जन ऩरयजन नाती। गे को ऩाय सनसाचय जाती।।
सेन वफरोकक सहज असबभानी। फोरा फचन क्रोध भद सानी।।
सुनहु सकर यजनीचय जूथा। हभये फैयी वफफुध फरूथा।।

ते सनभुि नकहॊ कयही रयाई। दे ष्ि सफर रयऩु जाकहॊ ऩयाई।।
तेन्ह कय भयन एक वफसध होई। कहउॉ फुझाइ सुनहु अफ सोई।।
कद्वजबोजन भि होभ सयाधा।।सफ कै जाइ कयहु तुम्ह फाधा।।
दो0-छुधा छीन फरहीन सुय सहजेकहॊ सभसरहकहॊ आइ।

69

तफ भारयहउॉ कक छाकड़हउॉ बरी बाॉसत अऩनाइ।।181।।
–*–*–
भेघनाद कहुॉ ऩुसन हॉ कयावा। दीन्ही ससि फरु फमरु फढ़ावा।।
जे सुय सभय धीय फरवाना। ष्जन्ह कईऄ ररयफे कय असबभाना।।
सतन्हकह जीसत यन आनेसु फाॉधी। उकठ सुत वऩतु अनुसासन काॉधी।।
एकह वफसध सफही अग्मा दीन्ही। आऩुनु चरेउ गदा कय रीन्ही।।
चरत दसानन डोरसत अवनी। गजात गबा स्त्रवकहॊ सुय यवनी।।
यावन आवत सुनेउ सकोहा। दे वन्ह तके भेरु सगरय िोहा।।
कदगऩारन्ह के रोक सुहाए। सूने सकर दसानन ऩाए।।
ऩुसन ऩुसन ससॊघनाद करय बायी। दे इ दे वतन्ह गारय ऩचायी।।
यन भद भत्त कपयइ जग धावा। प्रसतबट िौजत कतहुॉ न ऩावा।।

यवफ ससस ऩवन फरुन धनधायी। असगसन कार जभ सफ असधकायी।।
ककॊनय ससद्ध भनुज सुय नागा। हकठ सफही के ऩॊथकहॊ रागा।।
ब्रह्मसृवि जहॉ रसग तनुधायी। दसभुि फसफतॉ नय नायी।।
आमसु कयकहॊ सकर बमबीता। नवकहॊ आइ सनत चयन वफनीता।।
दो0-बुजफर वफस्व फस्म करय यािेसस कोउ न सुतॊत्र।
भॊडरीक भसन यावन याज कयइ सनज भॊत्र।।182(ि)।।
दे व जछछ गॊधवा नय ककॊनय नाग कुभारय।
जीसत फयीॊ सनज फाहुफर फहु सुॊदय फय नारय।।182ि।।
–*–*–
इॊ रजीत सन जो कछु कहे ऊ। सो सफ जनु ऩकहरेकहॊ करय यहे ऊ।।
प्रथभकहॊ ष्जन्ह कहुॉ आमसु दीन्हा। सतन्ह कय चरयत सुनहु जो कीन्हा।।
दे ित बीभरूऩ सफ ऩाऩी। सनससचय सनकय दे व ऩरयताऩी।।

कयकह उऩरव असुय सनकामा। नाना रूऩ धयकहॊ करय भामा।।
जेकह वफसध होइ धभा सनभूर
ा ा। सो सफ कयकहॊ फेद प्रसतकूरा।।
जेकहॊ जेकहॊ दे स धेनु कद्वज ऩावकहॊ । नगय गाउॉ ऩुय आसग रगावकहॊ ।।
सुब आचयन कतहुॉ नकहॊ होई। दे व वफप्र गुरू भान न कोई।।

नकहॊ हरयबगसत जग्म तऩ ग्माना। सऩनेहुॉ सुसनअ न फेद ऩुयाना।।
छॊ 0-जऩ जोग वफयागा तऩ भि बागा श्रवन सुनइ दससीसा।
आऩुनु उकठ धावइ यहै न ऩावइ धरय सफ घारइ िीसा।।
अस र्भ्ि अचाया बा सॊसाया धभा सुसनअ नकह काना।

70

तेकह फहुवफसध त्रासइ दे स सनकासइ जो कह फेद ऩुयाना।।
सो0-फयसन न जाइ अनीसत घोय सनसाचय जो कयकहॊ ।

कहॊ सा ऩय असत प्रीसत सतन्ह के ऩाऩकह कवसन सभसत।।183।।
भासऩायामण, छठा ववश्राभ
फाढ़े िर फहु चोय जुआया। जे रॊऩट ऩयधन ऩयदाया।।

भानकहॊ भातु वऩता नकहॊ दे वा। साधुन्ह सन कयवावकहॊ सेवा।।
ष्जन्ह के मह आचयन बवानी। ते जानेहु सनससचय सफ प्रानी।।
असतसम दे ष्ि धभा कै ग्रानी। ऩयभ सबीत धया अकुरानी।।

सगरय सरय ससॊधु बाय नकहॊ भोही। जस भोकह गरुअ एक ऩयरोही।।
सकर धभा दे िइ वफऩयीता। ककह न सकइ यावन बम बीता।।
धेनु रूऩ धरय रृदमॉ वफचायी। गई तहाॉ जहॉ सुय भुसन झायी।।
सनज सॊताऩ सुनाएसस योई। काहू तईऄ कछु काज न होई।।

छॊ 0-सुय भुसन गॊधफाा सभसर करय सफाा गे वफयॊ सच के रोका।
सॉग गोतनुधायी बूसभ वफचायी ऩयभ वफकर बम सोका।।
ब्रह्माॉ सफ जाना भन अनुभाना भोय कछू न फसाई।
जा करय तईआ दासी सो अवफनासी हभये उ तोय सहाई।।
सो0-धयसन धयकह भन धीय कह वफयॊ सच हरयऩद सुसभरु।
जानत जन की ऩीय प्रबु बॊष्जकह दारुन वफऩसत।।184।।
फैठे सुय सफ कयकहॊ वफचाया। कहॉ ऩाइअ प्रबु करयअ ऩुकाया।।
ऩुय फैकुॊठ जान कह कोई। कोउ कह ऩमसनसध फस प्रबु सोई।।
जाके रृदमॉ बगसत जसस प्रीसत। प्रबु तहॉ प्रगट सदा तेकहॊ यीती।।
तेकह सभाज सगरयजा भईआ यहे ऊॉ। अवसय ऩाइ फचन एक कहे ऊॉ।।
हरय ब्माऩक सफात्र सभाना। प्रेभ तईऄ प्रगट होकहॊ भईआ जाना।।
दे स कार कदसस वफकदससहु भाहीॊ। कहहु सो कहाॉ जहाॉ प्रबु नाहीॊ।।

अग जगभम सफ यकहत वफयागी। प्रेभ तईऄ प्रबु प्रगटइ ष्जसभ आगी।।
भोय फचन सफ के भन भाना। साधु साधु करय ब्रह्म फिाना।।
दो0-सुसन वफयॊ सच भन हयष तन ऩुरकक नमन फह नीय।
अस्तुसत कयत जोरय कय सावधान भसतधीय।।185।।
–*–*–
छॊ 0-जम जम सुयनामक जन सुिदामक प्रनतऩार बगवॊता।
गो कद्वज कहतकायी जम असुयायी ससधुॊसुता वप्रम कॊता।।

71

ऩारन सुय धयनी अद्भत
ु कयनी भयभ न जानइ कोई।
जो सहज कृ ऩारा दीनदमारा कयउ अनुग्रह सोई।।

जम जम अवफनासी सफ घट फासी ब्माऩक ऩयभानॊदा।
अवफगत गोतीतॊ चरयत ऩुनीतॊ भामायकहत भुकुॊदा।।
जेकह रासग वफयागी असत अनुयागी वफगतभोह भुसनफृॊदा।
सनसस फासय ध्मावकहॊ गुन गन गावकहॊ जमसत सष्छचदानॊदा।।
जेकहॊ सृवि उऩाई वत्रवफध फनाई सॊग सहाम न दज
ू ा।

सो कयउ अघायी सचॊत हभायी जासनअ बगसत न ऩूजा।।
जो बव बम बॊजन भुसन भन यॊ जन गॊजन वफऩसत फरूथा।
भन फच क्रभ फानी छाकड़ समानी सयन सकर सुय जूथा।।
सायद श्रुसत सेषा रयषम असेषा जा कहुॉ कोउ नकह जाना।
जेकह दीन वऩआये फेद ऩुकाये रवउ सो श्रीबगवाना।।

बव फारयसध भॊदय सफ वफसध सुॊदय गुनभॊकदय सुिऩुॊजा।
भुसन ससद्ध सकर सुय ऩयभ बमातुय नभत नाथ ऩद कॊजा।।
दो0-जासन सबम सुयबूसभ सुसन फचन सभेत सनेह।
गगनसगया गॊबीय बइ हयसन सोक सॊदेह।।186।।
–*–*–
जसन डयऩहु भुसन ससद्ध सुयेसा। तुम्हकह रासग धरयहउॉ नय फेसा।।
अॊसन्ह सकहत भनुज अवताया। रेहउॉ कदनकय फॊस उदाया।।

कस्मऩ अकदसत भहातऩ कीन्हा। सतन्ह कहुॉ भईआ ऩूयफ फय दीन्हा।।
ते दसयथ कौसल्मा रूऩा। कोसरऩुयीॊ प्रगट नयबूऩा।।

सतन्ह के गृह अवतरयहउॉ जाई। यघुकुर सतरक सो चारयउ बाई।।
नायद फचन सत्म सफ करयहउॉ । ऩयभ सवि सभेत अवतरयहउॉ ।।
हरयहउॉ सकर बूसभ गरुआई। सनबाम होहु दे व सभुदाई।।

गगन ब्रह्मफानी सुनी काना। तुयत कपये सुय रृदम जुड़ाना।।
तफ ब्रह्मा धयसनकह सभुझावा। अबम बई बयोस ष्जमॉ आवा।।
दो0-सनज रोककह वफयॊ सच गे दे वन्ह इहइ ससिाइ।
फानय तनु धरय धरय भकह हरय ऩद सेवहु जाइ।।187।।
–*–*–
गए दे व सफ सनज सनज धाभा। बूसभ सकहत भन कहुॉ वफश्राभा ।
जो कछु आमसु ब्रह्माॉ दीन्हा। हयषे दे व वफरॊफ न कीन्हा।।

फनचय दे ह धरय सछसत भाहीॊ। अतुसरत फर प्रताऩ सतन्ह ऩाहीॊ।।
सगरय तरु नि आमुध सफ फीया। हरय भायग सचतवकहॊ भसतधीया।।

72

सगरय कानन जहॉ तहॉ बरय ऩूयी। यहे सनज सनज अनीक यसच रूयी।।
मह सफ रुसचय चरयत भईआ बाषा। अफ सो सुनहु जो फीचकहॊ यािा।।
अवधऩुयीॊ यघुकुरभसन याऊ। फेद वफकदत तेकह दसयथ नाऊॉ।।

धयभ धुयॊधय गुनसनसध ग्मानी। रृदमॉ बगसत भसत सायॉ गऩानी।।
दो0-कौसल्माकद नारय वप्रम सफ आचयन ऩुनीत।
ऩसत अनुकूर प्रेभ दृढ़ हरय ऩद कभर वफनीत।।188।।
–*–*–
एक फाय बूऩसत भन भाहीॊ। बै गरासन भोयईऄ सुत नाहीॊ।।
गुय गृह गमउ तुयत भकहऩारा। चयन रासग करय वफनम वफसारा।।
सनज दि
ु सुि सफ गुयकह सुनामउ। ककह फससष्ठ फहुवफसध सभुझामउ।।
धयहु धीय होइहकहॊ सुत चायी। वत्रबुवन वफकदत बगत बम हायी।।
सृॊगी रयषकह फससष्ठ फोरावा। ऩुत्रकाभ सुब जग्म कयावा।।

बगसत सकहत भुसन आहुसत दीन्हईऄ । प्रगटे असगसन चरू कय रीन्हईऄ ।।
जो फससष्ठ कछु रृदमॉ वफचाया। सकर काजु बा ससद्ध तुम्हाया।।
मह हवफ फाॉकट दे हु नृऩ जाई। जथा जोग जेकह बाग फनाई।।
दो0-तफ अदृस्म बए ऩावक सकर सबकह सभुझाइ।।

ऩयभानॊद भगन नृऩ हयष न रृदमॉ सभाइ।।189।।
–*–*–
तफकहॊ यामॉ वप्रम नारय फोराईं। कौसल्माकद तहाॉ चसर आई।।
अधा बाग कौसल्माकह दीन्हा। उबम बाग आधे कय कीन्हा।।
कैकेई कहॉ नृऩ सो दमऊ। यह्यो सो उबम बाग ऩुसन बमऊ।।
कौसल्मा कैकेई हाथ धरय। दीन्ह सुसभत्रकह भन प्रसन्न करय।।
एकह वफसध गबासकहत सफ नायी। बईं रृदमॉ हयवषत सुि बायी।।
जा कदन तईऄ हरय गबाकहॊ आए। सकर रोक सुि सॊऩसत छाए।।
भॊकदय भहॉ सफ याजकहॊ यानी। सोबा सीर तेज की िानीॊ।।
सुि जुत कछुक कार चसर गमऊ। जेकहॊ प्रबु प्रगट सो अवसय बमऊ।।
दो0-जोग रगन ग्रह फाय सतसथ सकर बए अनुकूर।
चय अरु अचय हषाजुत याभ जनभ सुिभूर।।190।।
–*–*–
नौभी सतसथ भधु भास ऩुनीता। सुकर ऩछछ असबष्जत हरयप्रीता।।
भध्मकदवस असत सीत न घाभा। ऩावन कार रोक वफश्राभा।।
सीतर भॊद सुयसब फह फाऊ। हयवषत सुय सॊतन भन चाऊ।।
फन कुसुसभत सगरयगन भसनआया। स्त्रवकहॊ सकर सरयताऽभृतधाया।।

73

सो अवसय वफयॊ सच जफ जाना। चरे सकर सुय साष्ज वफभाना।।
गगन वफभर सकुर सुय जूथा। गावकहॊ गुन गॊधफा फरूथा।।
फयषकहॊ सुभन सुअॊजसर साजी। गहगकह गगन दॊ द
ु ब
ु ी फाजी।।

अस्तुसत कयकहॊ नाग भुसन दे वा। फहुवफसध रावकहॊ सनज सनज सेवा।।
दो0-सुय सभूह वफनती करय ऩहुॉचे सनज सनज धाभ।

जगसनवास प्रबु प्रगटे अष्िर रोक वफश्राभ।।191।।
–*–*–
छॊ 0-बए प्रगट कृ ऩारा दीनदमारा कौसल्मा कहतकायी।
हयवषत भहतायी भुसन भन हायी अद्भत
ु रूऩ वफचायी।।

रोचन असबयाभा तनु घनस्माभा सनज आमुध बुज चायी।
बूषन फनभारा नमन वफसारा सोबाससॊधु ियायी।।
कह दइ
ु कय जोयी अस्तुसत तोयी केकह वफसध कयं अनॊता।
भामा गुन ग्मानातीत अभाना फेद ऩुयान बनॊता।।

करुना सुि सागय सफ गुन आगय जेकह गावकहॊ श्रुसत सॊता।
सो भभ कहत रागी जन अनुयागी बमउ प्रगट श्रीकॊता।।
ब्रह्माॊड सनकामा सनसभात भामा योभ योभ प्रसत फेद कहै ।
भभ उय सो फासी मह उऩहासी सुनत धीय ऩसत सथय न यहै ।।
उऩजा जफ ग्माना प्रबु भुसकाना चरयत फहुत वफसध कीन्ह चहै ।
ककह कथा सुहाई भातु फुझाई जेकह प्रकाय सुत प्रेभ रहै ।।
भाता ऩुसन फोरी सो भसत डौरी तजहु तात मह रूऩा।

कीजै सससुरीरा असत वप्रमसीरा मह सुि ऩयभ अनूऩा।।
सुसन फचन सुजाना योदन ठाना होइ फारक सुयबूऩा।
मह चरयत जे गावकहॊ हरयऩद ऩावकहॊ ते न ऩयकहॊ बवकूऩा।।
दो0-वफप्र धेनु सुय सॊत कहत रीन्ह भनुज अवताय।
सनज इछछा सनसभात तनु भामा गुन गो ऩाय।।192।।
–*–*–
सुसन सससु रुदन ऩयभ वप्रम फानी। सॊर्भ्भ चसर आई सफ यानी।।
हयवषत जहॉ तहॉ धाईं दासी। आनॉद भगन सकर ऩुयफासी।।
दसयथ ऩुत्रजन्भ सुसन काना। भानहुॉ ब्रह्मानॊद सभाना।।

ऩयभ प्रेभ भन ऩुरक सयीया। चाहत उठत कयत भसत धीया।।
जाकय नाभ सुनत सुब होई। भोयईऄ गृह आवा प्रबु सोई।।
ऩयभानॊद ऩूरय भन याजा। कहा फोराइ फजावहु फाजा।।

गुय फससष्ठ कहॉ गमउ हॉ काया। आए कद्वजन सकहत नृऩद्वाया।।

74

अनुऩभ फारक दे िेष्न्ह जाई। रूऩ यासस गुन ककह न ससयाई।।
दो0-नॊदीभुि सयाध करय जातकयभ सफ कीन्ह।
हाटक धेनु फसन भसन नृऩ वफप्रन्ह कहॉ दीन्ह।।193।।
–*–*–
ध्वज ऩताक तोयन ऩुय छावा। ककह न जाइ जेकह बाॉसत फनावा।।
सुभनफृवि अकास तईऄ होई। ब्रह्मानॊद भगन सफ रोई।।
फृॊद फृॊद सभसर चरीॊ रोगाई। सहज सॊगाय ककएॉ उकठ धाई।।
कनक करस भॊगर धरय थाया। गावत ऩैठकहॊ बूऩ दआ
ु या।।

करय आयसत नेवछावरय कयहीॊ। फाय फाय सससु चयनष्न्ह ऩयहीॊ।।
भागध सूत फॊकदगन गामक। ऩावन गुन गावकहॊ यघुनामक।।
सफास दान दीन्ह सफ काहू। जेकहॊ ऩावा यािा नकहॊ ताहू।।

भृगभद चॊदन कुॊकुभ कीचा। भची सकर फीसथन्ह वफच फीचा।।
दो0-गृह गृह फाज फधाव सुब प्रगटे सुषभा कॊद।
हयषवॊत सफ जहॉ तहॉ नगय नारय नय फृॊद।।194।।
–*–*–
कैकमसुता सुसभत्रा दोऊ। सुॊदय सुत जनभत बईआ ओऊ।।
वह सुि सॊऩसत सभम सभाजा। ककह न सकइ सायद अकहयाजा।।
अवधऩुयी सोहइ एकह बाॉती। प्रबुकह सभरन आई जनु याती।।
दे ष्ि बानू जनु भन सकुचानी। तदवऩ फनी सॊध्मा अनुभानी।।
अगय धूऩ फहु जनु अॉसधआयी। उड़इ अबीय भनहुॉ अरुनायी।।

भॊकदय भसन सभूह जनु ताया। नृऩ गृह करस सो इॊ द ु उदाया।।

बवन फेदधुसन असत भृद ु फानी। जनु िग भूिय सभमॉ जनु सानी।।
कौतुक दे ष्ि ऩतॊग बुराना। एक भास तेइॉ जात न जाना।।
दो0-भास कदवस कय कदवस बा भयभ न जानइ कोइ।
यथ सभेत यवफ थाकेउ सनसा कवन वफसध होइ।।195।।
–*–*–
मह यहस्म काहू नकहॊ जाना। कदन भसन चरे कयत गुनगाना।।

दे ष्ि भहोत्सव सुय भुसन नागा। चरे बवन फयनत सनज बागा।।
औयउ एक कहउॉ सनज चोयी। सुनु सगरयजा असत दृढ़ भसत तोयी।।
काक बुसुॊकड सॊग हभ दोऊ। भनुजरूऩ जानइ नकहॊ कोऊ।।
ऩयभानॊद प्रेभसुि पूरे। फीसथन्ह कपयकहॊ भगन भन बूरे।।
मह सुब चरयत जान ऩै सोई। कृ ऩा याभ कै जाऩय होई।।
तेकह अवसय जो जेकह वफसध आवा। दीन्ह बूऩ जो जेकह भन बावा।।

75

गज यथ तुयग हे भ गो हीया। दीन्हे नृऩ नानावफसध चीया।।
दो0-भन सॊतोषे सफष्न्ह के जहॉ तहॉ दे कह असीस।
सकर तनम सचय जीवहुॉ तुरससदास के ईस।।196।।
–*–*–
कछुक कदवस फीते एकह बाॉती। जात न जासनअ कदन अरु याती।।
नाभकयन कय अवसरु जानी। बूऩ फोसर ऩठए भुसन ग्मानी।।
करय ऩूजा बूऩसत अस बाषा। धरयअ नाभ जो भुसन गुसन यािा।।
इन्ह के नाभ अनेक अनूऩा। भईआ नृऩ कहफ स्वभसत अनुरूऩा।।
जो आनॊद ससॊधु सुियासी। सीकय तईऄ त्रैरोक सुऩासी।।
सो सुि धाभ याभ अस नाभा। अष्िर रोक दामक वफश्राभा।।
वफस्व बयन ऩोषन कय जोई। ताकय नाभ बयत अस होई।।
जाके सुसभयन तईऄ रयऩु नासा। नाभ सत्रुहन फेद प्रकासा।।
दो0-रछछन धाभ याभ वप्रम सकर जगत आधाय।
गुरु फससि तेकह यािा रसछभन नाभ उदाय।।197।।
–*–*–
धये नाभ गुय रृदमॉ वफचायी। फेद तत्व नृऩ तव सुत चायी।।
भुसन धन जन सयफस ससव प्राना। फार केसर तेकहॊ सुि भाना।।
फाये कह ते सनज कहत ऩसत जानी। रसछभन याभ चयन यसत भानी।।
बयत सत्रुहन दन
ू उ बाई। प्रबु सेवक जसस प्रीसत फड़ाई।।

स्माभ गौय सुॊदय दोउ जोयी। सनयिकहॊ छवफ जननीॊ तृन तोयी।।
चारयउ सीर रूऩ गुन धाभा। तदवऩ असधक सुिसागय याभा।।
रृदमॉ अनुग्रह इॊ द ु प्रकासा। सूचत ककयन भनोहय हासा।।

कफहुॉ उछॊ ग कफहुॉ फय ऩरना। भातु दर
ु ायइ ककह वप्रम ररना।।
दो0-ब्माऩक ब्रह्म सनयॊ जन सनगुन
ा वफगत वफनोद।

सो अज प्रेभ बगसत फस कौसल्मा के गोद।।198।।
–*–*–
काभ कोकट छवफ स्माभ सयीया। नीर कॊज फारयद गॊबीया।।
अरुन चयन ऩकॊज नि जोती। कभर दरष्न्ह फैठे जनु भोती।।
ये ि कुसरस धवज अॊकुय सोहे । नूऩुय धुसन सुसन भुसन भन भोहे ।।
ककट ककॊककनी उदय त्रम ये िा। नासब गबीय जान जेकह दे िा।।
बुज वफसार बूषन जुत बूयी। कहमॉ हरय नि असत सोबा रूयी।।
उय भसनहाय ऩकदक की सोबा। वफप्र चयन दे ित भन रोबा।।

76

कॊफु कॊठ असत सचफुक सुहाई। आनन असभत भदन छवफ छाई।।
दइ
ु दइ
ु दसन अधय अरुनाये । नासा सतरक को फयनै ऩाये ।।
सुॊदय श्रवन सुचारु कऩोरा। असत वप्रम भधुय तोतये फोरा।।

सचक्कन कच कुॊसचत गबुआये । फहु प्रकाय यसच भातु सॉवाये ।।

ऩीत झगुसरआ तनु ऩकहयाई। जानु ऩासन वफचयसन भोकह बाई।।
रूऩ सककहॊ नकहॊ ककह श्रुसत सेषा। सो जानइ सऩनेहुॉ जेकह दे िा।।
दो0-सुि सॊदोह भोहऩय ग्मान सगया गोतीत।

दॊ ऩसत ऩयभ प्रेभ फस कय सससुचरयत ऩुनीत।।199।।
–*–*–
एकह वफसध याभ जगत वऩतु भाता। कोसरऩुय फाससन्ह सुिदाता।।
ष्जन्ह यघुनाथ चयन यसत भानी। सतन्ह की मह गसत प्रगट बवानी।।
यघुऩसत वफभुि जतन कय कोयी। कवन सकइ बव फॊधन छोयी।।
जीव चयाचय फस कै यािे। सो भामा प्रबु सं बम बािे।।
बृकुकट वफरास नचावइ ताही। अस प्रबु छाकड़ बष्जअ कहु काही।।
भन क्रभ फचन छाकड़ चतुयाई। बजत कृ ऩा करयहकहॊ यघुयाई।।

एकह वफसध सससुवफनोद प्रबु कीन्हा। सकर नगयफाससन्ह सुि दीन्हा।।
रै उछॊ ग कफहुॉक हरयावै। कफहुॉ ऩारनईऄ घासर झुरावै।।
दो0-प्रेभ भगन कौसल्मा सनसस कदन जात न जान।

सुत सनेह फस भाता फारचरयत कय गान।।200।।
–*–*–
एक फाय जननीॊ अन्हवाए। करय ससॊगाय ऩरनाॉ ऩौढ़ाए।।
सनज कुर इिदे व बगवाना। ऩूजा हे तु कीन्ह अस्नाना।।
करय ऩूजा नैफेय चढ़ावा। आऩु गई जहॉ ऩाक फनावा।।
फहुरय भातु तहवाॉ चसर आई। बोजन कयत दे ि सुत जाई।।

गै जननी सससु ऩकहॊ बमबीता। दे िा फार तहाॉ ऩुसन सूता।।
फहुरय आइ दे िा सुत सोई। रृदमॉ कॊऩ भन धीय न होई।।

इहाॉ उहाॉ दइ
ु फारक दे िा। भसतर्भ्भ भोय कक आन वफसेषा।।

दे ष्ि याभ जननी अकुरानी। प्रबु हॉ सस दीन्ह भधुय भुसुकानी।।
दो0-दे ियावा भातकह सनज अदबुत रुऩ अिॊड।
योभ योभ प्रसत रागे कोकट कोकट ब्रह्मॊड।। 201।।
–*–*–
अगसनत यवफ ससस ससव चतुयानन। फहु सगरय सरयत ससॊधु भकह कानन।।

77

कार कभा गुन ग्मान सुबाऊ। सोउ दे िा जो सुना न काऊ।।
दे िी भामा सफ वफसध गाढ़ी। असत सबीत जोयईऄ कय ठाढ़ी।।
दे िा जीव नचावइ जाही। दे िी बगसत जो छोयइ ताही।।
तन ऩुरककत भुि फचन न आवा। नमन भूकद चयनसन ससरु नावा।।
वफसभमवॊत दे ष्ि भहतायी। बए फहुरय सससुरूऩ ियायी।।

अस्तुसत करय न जाइ बम भाना। जगत वऩता भईआ सुत करय जाना।।
हरय जनसन फहुवफसध सभुझाई। मह जसन कतहुॉ कहसस सुनु भाई।।
दो0-फाय फाय कौसल्मा वफनम कयइ कय जोरय।।

अफ जसन कफहूॉ ब्माऩै प्रबु भोकह भामा तोरय।। 202।।
–*–*–
फारचरयत हरय फहुवफसध कीन्हा। असत अनॊद दासन्ह कहॉ दीन्हा।।
कछुक कार फीतईऄ सफ बाई। फड़े बए ऩरयजन सुिदाई।।

चूड़ाकयन कीन्ह गुरु जाई। वफप्रन्ह ऩुसन दसछना फहु ऩाई।।

ऩयभ भनोहय चरयत अऩाया। कयत कपयत चारयउ सुकुभाया।।
भन क्रभ फचन अगोचय जोई। दसयथ अष्जय वफचय प्रबु सोई।।
बोजन कयत फोर जफ याजा। नकहॊ आवत तष्ज फार सभाजा।।
कौसल्मा जफ फोरन जाई। ठु भकु ठु भकु प्रबु चरकहॊ ऩयाई।।
सनगभ नेसत ससव अॊत न ऩावा। ताकह धयै जननी हकठ धावा।।
धूयस धूरय बयईऄ तनु आए। बूऩसत वफहसस गोद फैठाए।।
दो0-बोजन कयत चऩर सचत इत उत अवसरु ऩाइ।
बाष्ज चरे ककरकत भुि दसध ओदन रऩटाइ।।203।।
–*–*–
फारचरयत असत सयर सुहाए। सायद सेष सॊबु श्रुसत गाए।।
ष्जन कय भन इन्ह सन नकहॊ याता। ते जन फॊसचत ककए वफधाता।।
बए कुभाय जफकहॊ सफ र्भ्ाता। दीन्ह जनेऊ गुरु वऩतु भाता।।
गुयगृहॉ गए ऩढ़न यघुयाई। अरऩ कार वफया सफ आई।।
जाकी सहज स्वास श्रुसत चायी। सो हरय ऩढ़ मह कौतुक बायी।।
वफया वफनम सनऩुन गुन सीरा। िेरकहॊ िेर सकर नृऩरीरा।।
कयतर फान धनुष असत सोहा। दे ित रूऩ चयाचय भोहा।।
ष्जन्ह फीसथन्ह वफहयकहॊ सफ बाई। थककत होकहॊ सफ रोग रुगाई।।
दो0- कोसरऩुय फासी नय नारय फृद्ध अरु फार।

प्रानहु ते वप्रम रागत सफ कहुॉ याभ कृ ऩार।।204।।
–*–*–

78

फॊधु सिा सॊग रेकहॊ फोराई। फन भृगमा सनत िेरकहॊ जाई।।
ऩावन भृग भायकहॊ ष्जमॉ जानी। कदन प्रसत नृऩकह दे िावकहॊ आनी।।
जे भृग याभ फान के भाये । ते तनु तष्ज सुयरोक ससधाये ।।
अनुज सिा सॉग बोजन कयहीॊ। भातु वऩता अग्मा अनुसयहीॊ।।
जेकह वफसध सुिी होकहॊ ऩुय रोगा। कयकहॊ कृ ऩासनसध सोइ सॊजोगा।।
फेद ऩुयान सुनकहॊ भन राई। आऩु कहकहॊ अनुजन्ह सभुझाई।।
प्रातकार उकठ कै यघुनाथा। भातु वऩता गुरु नावकहॊ भाथा।।
आमसु भासग कयकहॊ ऩुय काजा। दे ष्ि चरयत हयषइ भन याजा।।
दो0-ब्माऩक अकर अनीह अज सनगुन
ा नाभ न रूऩ।
बगत हे तु नाना वफसध कयत चरयत्र अनूऩ।।205।।
–*–*–
मह सफ चरयत कहा भईआ गाई। आसगसर कथा सुनहु भन राई।।

वफस्वासभत्र भहाभुसन ग्मानी। फसकह वफवऩन सुब आश्रभ जानी।।
जहॉ जऩ जग्म भुसन कयही। असत भायीच सुफाहुकह डयहीॊ।।

दे ित जग्म सनसाचय धावकह। कयकह उऩरव भुसन दि
ु ऩावकहॊ ।।

गासधतनम भन सचॊता ब्माऩी। हरय वफनु भयकह न सनससचय ऩाऩी।।
तफ भुसनवय भन कीन्ह वफचाया। प्रबु अवतये उ हयन भकह बाया।।
एहुॉ सभस दे िं ऩद जाई। करय वफनती आनौ दोउ बाई।।

ग्मान वफयाग सकर गुन अमना। सो प्रबु भै दे िफ बरय नमना।।
दो0-फहुवफसध कयत भनोयथ जात रासग नकहॊ फाय।

करय भज्जन सयऊ जर गए बूऩ दयफाय।।206।।
–*–*–
भुसन आगभन सुना जफ याजा। सभरन गमऊ रै वफप्र सभाजा।।
करय दॊ डवत भुसनकह सनभानी। सनज आसन फैठाये ष्न्ह आनी।।
चयन ऩिारय कीष्न्ह असत ऩूजा। भो सभ आजु धन्म नकहॊ दज
ू ा।।
वफवफध बाॉसत बोजन कयवावा। भुसनवय रृदमॉ हयष असत ऩावा।।
ऩुसन चयनसन भेरे सुत चायी। याभ दे ष्ि भुसन दे ह वफसायी।।
बए भगन दे ित भुि सोबा। जनु चकोय ऩूयन ससस रोबा।।
तफ भन हयवष फचन कह याऊ। भुसन अस कृ ऩा न कीष्न्हहु काऊ।।
केकह कायन आगभन तुम्हाया। कहहु सो कयत न रावउॉ फाया।।
असुय सभूह सतावकहॊ भोही। भै जाचन आमउॉ नृऩ तोही।।

अनुज सभेत दे हु यघुनाथा। सनससचय फध भईआ होफ सनाथा।।
दो0-दे हु बूऩ भन हयवषत तजहु भोह अग्मान।

79

धभा सुजस प्रबु तुम्ह कं इन्ह कहॉ असत कल्मान।।207।।
–*–*–
सुसन याजा असत अवप्रम फानी। रृदम कॊऩ भुि दसु त कुभुरानी।।
चौथईऄऩन ऩामउॉ सुत चायी। वफप्र फचन नकहॊ कहे हु वफचायी।।
भागहु बूसभ धेनु धन कोसा। सफास दे उॉ आजु सहयोसा।।

दे ह प्रान तईऄ वप्रम कछु नाही। सोउ भुसन दे उॉ सनसभष एक भाही।।
सफ सुत वप्रम भोकह प्रान कक नाईं। याभ दे त नकहॊ फनइ गोसाई।।
कहॉ सनससचय असत घोय कठोया। कहॉ सुॊदय सुत ऩयभ ककसोया।।
सुसन नृऩ सगया प्रेभ यस सानी। रृदमॉ हयष भाना भुसन ग्मानी।।
तफ फससि फहु सनसध सभुझावा। नृऩ सॊदेह नास कहॉ ऩावा।।

असत आदय दोउ तनम फोराए। रृदमॉ राइ फहु बाॉसत ससिाए।।
भेये प्रान नाथ सुत दोऊ। तुम्ह भुसन वऩता आन नकहॊ कोऊ।।
दो0-संऩे बूऩ रयवषकह सुत फहु वफसध दे इ असीस।

जननी बवन गए प्रबु चरे नाइ ऩद सीस।।208(क)।।
सो0-ऩुरुषससॊह दोउ फीय हयवष चरे भुसन बम हयन।।
कृ ऩाससॊधु भसतधीय अष्िर वफस्व कायन कयन।।208(ि)
–*–*–
अरुन नमन उय फाहु वफसारा। नीर जरज तनु स्माभ तभारा।।
ककट ऩट ऩीत कसईऄ फय बाथा। रुसचय चाऩ सामक दह
ु ुॉ हाथा।।
स्माभ गौय सुॊदय दोउ बाई। वफस्फासभत्र भहासनसध ऩाई।।

प्रबु ब्रह्मन्मदे व भै जाना। भोकह सनसत वऩता तजेहु बगवाना।।

चरे जात भुसन दीष्न्ह कदिाई। सुसन ताड़का क्रोध करय धाई।।
एककहॊ फान प्रान हरय रीन्हा। दीन जासन तेकह सनज ऩद दीन्हा।।
तफ रयवष सनज नाथकह ष्जमॉ चीन्ही। वफयासनसध कहुॉ वफया दीन्ही।।
जाते राग न छुधा वऩऩासा। अतुसरत फर तनु तेज प्रकासा।।
दो0-आमुष सफ सभवऩा कै प्रबु सनज आश्रभ आसन।
कॊद भूर पर बोजन दीन्ह बगसत कहत जासन।।209।।
–*–*–
प्रात कहा भुसन सन यघुयाई। सनबाम जग्म कयहु तुम्ह जाई।।
होभ कयन रागे भुसन झायी। आऩु यहे भि कीॊ यिवायी।।
सुसन भायीच सनसाचय क्रोही। रै सहाम धावा भुसनरोही।।
वफनु पय फान याभ तेकह भाया। सत जोजन गा सागय ऩाया।।
ऩावक सय सुफाहु ऩुसन भाया। अनुज सनसाचय कटकु सॉघाया।।

80

भारय असुय कद्वज सनभामकायी। अस्तुसत कयकहॊ दे व भुसन झायी।।
तहॉ ऩुसन कछुक कदवस यघुयामा। यहे कीष्न्ह वफप्रन्ह ऩय दामा।।
बगसत हे तु फहु कथा ऩुयाना। कहे वफप्र जयवऩ प्रबु जाना।।

तफ भुसन सादय कहा फुझाई। चरयत एक प्रबु दे ष्िअ जाई।।
धनुषजग्म भुसन यघुकुर नाथा। हयवष चरे भुसनफय के साथा।।
आश्रभ एक दीि भग भाहीॊ। िग भृग जीव जॊतु तहॉ नाहीॊ।।
ऩूछा भुसनकह ससरा प्रबु दे िी। सकर कथा भुसन कहा वफसेषी।।
दो0-गौतभ नारय श्राऩ फस उऩर दे ह धरय धीय।
चयन कभर यज चाहसत कृ ऩा कयहु यघुफीय।।210।।
–*–*–
छॊ 0-ऩयसत ऩद ऩावन सोक नसावन प्रगट बई तऩऩुॊज सही।
दे ित यघुनामक जन सुि दामक सनभुि होइ कय जोरय यही।।
असत प्रेभ अधीया ऩुरक सयीया भुि नकहॊ आवइ फचन कही।
असतसम फड़बागी चयनष्न्ह रागी जुगर नमन जरधाय फही।।
धीयजु भन कीन्हा प्रबु कहुॉ चीन्हा यघुऩसत कृ ऩाॉ बगसत ऩाई।
असत सनभार फानीॊ अस्तुसत ठानी ग्मानगम्म जम यघुयाई।।
भै नारय अऩावन प्रबु जग ऩावन यावन रयऩु जन सुिदाई।
याजीव वफरोचन बव बम भोचन ऩाकह ऩाकह सयनकहॊ आई।।
भुसन श्राऩ जो दीन्हा असत बर कीन्हा ऩयभ अनुग्रह भईआ भाना।
दे िेउॉ बरय रोचन हरय बवभोचन इहइ राब सॊकय जाना।।
वफनती प्रबु भोयी भईआ भसत बोयी नाथ न भागउॉ फय आना।
ऩद कभर ऩयागा यस अनुयागा भभ भन भधुऩ कयै ऩाना।।
जेकहॊ ऩद सुयसरयता ऩयभ ऩुनीता प्रगट बई ससव सीस धयी।
सोइ ऩद ऩॊकज जेकह ऩूजत अज भभ ससय धये उ कृ ऩार हयी।।
एकह बाॉसत ससधायी गौतभ नायी फाय फाय हरय चयन ऩयी।
जो असत भन बावा सो फरु ऩावा गै ऩसतरोक अनॊद बयी।।
दो0-अस प्रबु दीनफॊधु हरय कायन यकहत दमार।
तुरससदास सठ तेकह बजु छाकड़ कऩट जॊजार।।211।।
भासऩायामण, सातवाॉ ववश्राभ
–*–*–
चरे याभ रसछभन भुसन सॊगा। गए जहाॉ जग ऩावसन गॊगा।।
गासधसूनु सफ कथा सुनाई। जेकह प्रकाय सुयसरय भकह आई।।

तफ प्रबु रयवषन्ह सभेत नहाए। वफवफध दान भकहदे वष्न्ह ऩाए।।

81

हयवष चरे भुसन फृॊद सहामा। फेसग वफदे ह नगय सनअयामा।।
ऩुय यम्मता याभ जफ दे िी। हयषे अनुज सभेत वफसेषी।।
फाऩीॊ कूऩ सरयत सय नाना। ससरर सुधासभ भसन सोऩाना।।
गुॊजत भॊजु भत्त यस बृॊगा। कूजत कर फहुफयन वफहॊ गा।।

फयन फयन वफकसे फन जाता। वत्रवफध सभीय सदा सुिदाता।।
दो0-सुभन फाकटका फाग फन वफऩुर वफहॊ ग सनवास।
पूरत परत सुऩल्रवत सोहत ऩुय चहुॉ ऩास।।212।।
–*–*–
फनइ न फयनत नगय सनकाई। जहाॉ जाइ भन तहॉ इॉ रोबाई।।
चारु फजारु वफसचत्र अॉफायी। भसनभम वफसध जनु स्वकय सॉवायी।।
धसनक फसनक फय धनद सभाना। फैठ सकर फस्तु रै नाना।।
चौहट सुॊदय गरीॊ सुहाई। सॊतत यहकहॊ सुगॊध ससॊचाई।।
भॊगरभम भॊकदय सफ केयईऄ । सचवत्रत जनु यसतनाथ सचतेयईऄ।।
ऩुय नय नारय सुबग सुसच सॊता। धयभसीर ग्मानी गुनवॊता।।
असत अनूऩ जहॉ जनक सनवासू। वफथककहॊ वफफुध वफरोकक वफरासू।।
होत चककत सचत कोट वफरोकी। सकर बुवन सोबा जनु योकी।।
दो0-धवर धाभ भसन ऩुयट ऩट सुघकटत नाना बाॉसत।
ससम सनवास सुॊदय सदन सोबा ककसभ ककह जासत।।213।।
–*–*–
सुबग द्वाय सफ कुसरस कऩाटा। बूऩ बीय नट भागध बाटा।।
फनी वफसार फाष्ज गज सारा। हम गम यथ सॊकुर सफ कारा।।
सूय ससचव सेनऩ फहुतेये। नृऩगृह सरयस सदन सफ केये ।।

ऩुय फाहे य सय सारयत सभीऩा। उतये जहॉ तहॉ वफऩुर भहीऩा।।
दे ष्ि अनूऩ एक अॉवयाई। सफ सुऩास सफ बाॉसत सुहाई।।
कौससक कहे उ भोय भनु भाना। इहाॉ यकहअ यघुफीय सुजाना।।
बरेकहॊ नाथ ककह कृ ऩासनकेता। उतये तहॉ भुसनफृॊद सभेता।।
वफस्वासभत्र भहाभुसन आए। सभाचाय सभसथराऩसत ऩाए।।
दो0-सॊग ससचव सुसच बूरय बट बूसुय फय गुय ग्मासत।
चरे सभरन भुसननामककह भुकदत याउ एकह बाॉसत।।214।।
–*–*–
कीन्ह प्रनाभु चयन धरय भाथा। दीष्न्ह असीस भुकदत भुसननाथा।।
वफप्रफृॊद सफ सादय फॊदे। जासन बाग्म फड़ याउ अनॊदे।।
कुसर प्रस्न ककह फायकहॊ फाया। वफस्वासभत्र नृऩकह फैठाया।।

82

तेकह अवसय आए दोउ बाई। गए यहे दे िन पुरवाई।।
स्माभ गौय भृद ु फमस ककसोया। रोचन सुिद वफस्व सचत चोया।।
उठे सकर जफ यघुऩसत आए। वफस्वासभत्र सनकट फैठाए।।

बए सफ सुिी दे ष्ि दोउ र्भ्ाता। फारय वफरोचन ऩुरककत गाता।।
भूयसत भधुय भनोहय दे िी। बमउ वफदे हु वफदे हु वफसेषी।।
दो0-प्रेभ भगन भनु जासन नृऩु करय वफफेकु धरय धीय।

फोरेउ भुसन ऩद नाइ ससरु गदगद सगया गबीय।।215।।
–*–*–
कहहु नाथ सुॊदय दोउ फारक। भुसनकुर सतरक कक नृऩकुर ऩारक।।
ब्रह्म जो सनगभ नेसत ककह गावा। उबम फेष धरय की सोइ आवा।।
सहज वफयागरुऩ भनु भोया। थककत होत ष्जसभ चॊद चकोया।।
ताते प्रबु ऩूछउॉ ससतबाऊ। कहहु नाथ जसन कयहु दयु ाऊ।।

इन्हकह वफरोकत असत अनुयागा। फयफस ब्रह्मसुिकह भन त्मागा।।
कह भुसन वफहसस कहे हु नृऩ नीका। फचन तुम्हाय न होइ अरीका।।
ए वप्रम सफकह जहाॉ रसग प्रानी। भन भुसुकाकहॊ याभु सुसन फानी।।
यघुकुर भसन दसयथ के जाए। भभ कहत रासग नये स ऩठाए।।
दो0-याभु रिनु दोउ फॊधुफय रूऩ सीर फर धाभ।
भि यािेउ सफु साष्ि जगु ष्जते असुय सॊग्राभ।।216।।
–*–*–
भुसन तव चयन दे ष्ि कह याऊ। ककह न सकउॉ सनज ऩुन्म प्राबाऊ।।
सुॊदय स्माभ गौय दोउ र्भ्ाता। आनॉदहू के आनॉद दाता।।

इन्ह कै प्रीसत ऩयसऩय ऩावसन। ककह न जाइ भन बाव सुहावसन।।
सुनहु नाथ कह भुकदत वफदे हू। ब्रह्म जीव इव सहज सनेहू।।

ऩुसन ऩुसन प्रबुकह सचतव नयनाहू। ऩुरक गात उय असधक उछाहू।।
म्रुसनकह प्रसॊसस नाइ ऩद सीसू। चरेउ रवाइ नगय अवनीसू।।
सुॊदय सदनु सुिद सफ कारा। तहाॉ फासु रै दीन्ह बुआरा।।
करय ऩूजा सफ वफसध सेवकाई। गमउ याउ गृह वफदा कयाई।।
दो0-रयषम सॊग यघुफॊस भसन करय बोजनु वफश्राभु।
फैठे प्रबु र्भ्ाता सकहत कदवसु यहा बरय जाभु।।217।।
–*–*–
रिन रृदमॉ रारसा वफसेषी। जाइ जनकऩुय आइअ दे िी।।
प्रबु बम फहुरय भुसनकह सकुचाहीॊ। प्रगट न कहकहॊ भनकहॊ भुसुकाहीॊ।।

83

याभ अनुज भन की गसत जानी। बगत फछरता कहॊ मॉ हुरसानी।।
ऩयभ वफनीत सकुसच भुसुकाई। फोरे गुय अनुसासन ऩाई।।

नाथ रिनु ऩुरु दे िन चहहीॊ। प्रबु सकोच डय प्रगट न कहहीॊ।।
जं याउय आमसु भईआ ऩावं। नगय दे िाइ तुयत रै आवौ।।
सुसन भुनीसु कह फचन सप्रीती। कस न याभ तुम्ह यािहु नीती।।
धयभ सेतु ऩारक तुम्ह ताता। प्रेभ वफफस सेवक सुिदाता।।
दो0-जाइ दे िी आवहु नगरु सुि सनधान दोउ बाइ।

कयहु सुपर सफ के नमन सुॊदय फदन दे िाइ।।218।।
भासऩायामण, आठवाॉ ववश्राभ

नवान्हऩायामण, दस
ू या ववश्राभ
–*–*–
भुसन ऩद कभर फॊकद दोउ र्भ्ाता। चरे रोक रोचन सुि दाता।।
फारक फृॊकद दे ष्ि असत सोबा। रगे सॊग रोचन भनु रोबा।।
ऩीत फसन ऩरयकय ककट बाथा। चारु चाऩ सय सोहत हाथा।।
तन अनुहयत सुचॊदन िोयी। स्माभर गौय भनोहय जोयी।।
केहरय कॊधय फाहु वफसारा। उय असत रुसचय नागभसन भारा।।
सुबग सोन सयसीरुह रोचन। फदन भमॊक ताऩत्रम भोचन।।

कानष्न्ह कनक पूर छवफ दे हीॊ। सचतवत सचतकह चोरय जनु रेहीॊ।।
सचतवसन चारु बृकुकट फय फाॉकी। सतरक ये िा सोबा जनु चाॉकी।।
दो0-रुसचय चौतनीॊ सुबग ससय भेचक कुॊसचत केस।
नि ससि सुॊदय फॊधु दोउ सोबा सकर सुदेस।।219।।
–*–*–
दे िन नगरु बूऩसुत आए। सभाचाय ऩुयफाससन्ह ऩाए।।
धाए धाभ काभ सफ त्मागी। भनहु यॊ क सनसध रूटन रागी।।

सनयष्ि सहज सुॊदय दोउ बाई। होकहॊ सुिी रोचन पर ऩाई।।
जुफतीॊ बवन झयोिष्न्ह रागीॊ। सनयिकहॊ याभ रूऩ अनुयागीॊ।।
कहकहॊ ऩयसऩय फचन सप्रीती। सष्ि इन्ह कोकट काभ छवफ जीती।।
सुय नय असुय नाग भुसन भाहीॊ। सोबा असस कहुॉ सुसनअसत नाहीॊ।।
वफकनु चारय बुज वफसघ भुि चायी। वफकट फेष भुि ऩॊच ऩुयायी।।
अऩय दे उ अस कोउ न आही। मह छवफ सष्ि ऩटतरयअ जाही।।
दो0-फम ककसोय सुषभा सदन स्माभ गौय सुि घाभ ।
अॊग अॊग ऩय वारयअकहॊ कोकट कोकट सत काभ।।220।।
–*–*–

84

कहहु सिी अस को तनुधायी। जो न भोह मह रूऩ सनहायी।।

कोउ सप्रेभ फोरी भृद ु फानी। जो भईआ सुना सो सुनहु समानी।।
ए दोऊ दसयथ के ढोटा। फार भयारष्न्ह के कर जोटा।।

भुसन कौससक भि के यिवाये । ष्जन्ह यन अष्जय सनसाचय भाये ।।
स्माभ गात कर कॊज वफरोचन। जो भायीच सुबुज भद ु भोचन।।
कौसल्मा सुत सो सुि िानी। नाभु याभु धनु सामक ऩानी।।
गौय ककसोय फेषु फय काछईऄ । कय सय चाऩ याभ के ऩाछईऄ ।।
रसछभनु नाभु याभ रघु र्भ्ाता। सुनु सष्ि तासु सुसभत्रा भाता।।
दो0-वफप्रकाजु करय फॊधु दोउ भग भुसनफधू उधारय।
आए दे िन चाऩभि सुसन हयषीॊ सफ नारय।।221।।
–*–*–
दे ष्ि याभ छवफ कोउ एक कहई। जोगु जानकककह मह फरु अहई।।
जौ सष्ि इन्हकह दे ि नयनाहू। ऩन ऩरयहरय हकठ कयइ वफफाहू।।
कोउ कह ए बूऩसत ऩकहचाने। भुसन सभेत सादय सनभाने।।

सष्ि ऩयॊ तु ऩनु याउ न तजई। वफसध फस हकठ अवफफेककह बजई।।
कोउ कह जं बर अहइ वफधाता। सफ कहॉ सुसनअ उसचत परदाता।।
तौ जानकककह सभसरकह फरु एहू। नाकहन आसर इहाॉ सॊदेहू।।

जौ वफसध फस अस फनै सॉजोगू। तौ कृ तकृ त्म होइ सफ रोगू।।
सष्ि हभयईऄ आयसत असत तातईऄ। कफहुॉक ए आवकहॊ एकह नातईऄ।।
दो0-नाकहॊ त हभ कहुॉ सुनहु सष्ि इन्ह कय दयसनु दरू य।

मह सॊघटु तफ होइ जफ ऩुन्म ऩुयाकृ त बूरय।।222।।
–*–*–
फोरी अऩय कहे हु सष्ि नीका। एकहॊ वफआह असत कहत सफहीॊ का।।
कोउ कह सॊकय चाऩ कठोया। ए स्माभर भृदग
ु ात ककसोया।।

सफु असभॊजस अहइ समानी। मह सुसन अऩय कहइ भृद ु फानी।।

सष्ि इन्ह कहॉ कोउ कोउ अस कहहीॊ। फड़ प्रबाउ दे ित रघु अहहीॊ।।
ऩयसस जासु ऩद ऩॊकज धूयी। तयी अहल्मा कृ त अघ बूयी।।
सो कक यकहकह वफनु ससवधनु तोयईऄ । मह प्रतीसत ऩरयहरयअ न बोयईऄ ।।
जेकहॊ वफयॊ सच यसच सीम सॉवायी। तेकहॊ स्माभर फरु यचेउ वफचायी।।
तासु फचन सुसन सफ हयषानीॊ। ऐसेइ होउ कहकहॊ भुद ु फानी।।
दो0-कहमॉ हयषकहॊ फयषकहॊ सुभन सुभुष्ि सुरोचसन फृॊद।
जाकहॊ जहाॉ जहॉ फॊधु दोउ तहॉ तहॉ ऩयभानॊद।।223।।
–*–*–

85

ऩुय ऩूयफ कदसस गे दोउ बाई। जहॉ धनुभि कहत बूसभ फनाई।।
असत वफस्ताय चारु गच ढायी। वफभर फेकदका रुसचय सॉवायी।।
चहुॉ कदसस कॊचन भॊच वफसारा। यचे जहाॉ फेठकहॊ भकहऩारा।।
तेकह ऩाछईऄ सभीऩ चहुॉ ऩासा। अऩय भॊच भॊडरी वफरासा।।

कछुक ऊॉसच सफ बाॉसत सुहाई। फैठकहॊ नगय रोग जहॉ जाई।।
सतन्ह के सनकट वफसार सुहाए। धवर धाभ फहुफयन फनाए।।
जहॉ फईआठईआ दे िकहॊ सफ नायी। जथा जोगु सनज कुर अनुहायी।।

ऩुय फारक ककह ककह भृद ु फचना। सादय प्रबुकह दे िावकहॊ यचना।।
दो0-सफ सससु एकह सभस प्रेभफस ऩयसस भनोहय गात।

तन ऩुरककहॊ असत हयषु कहमॉ दे ष्ि दे ष्ि दोउ र्भ्ात।।224।।
–*–*–
सससु सफ याभ प्रेभफस जाने। प्रीसत सभेत सनकेत फिाने।।
सनज सनज रुसच सफ रईऄकहॊ फोराई। सकहत सनेह जाकहॊ दोउ बाई।।
याभ दे िावकहॊ अनुजकह यचना। ककह भृद ु भधुय भनोहय फचना।।
रव सनभेष भहॉ बुवन सनकामा। यचइ जासु अनुसासन भामा।।

बगसत हे तु सोइ दीनदमारा। सचतवत चककत धनुष भिसारा।।
कौतुक दे ष्ि चरे गुरु ऩाहीॊ। जासन वफरॊफु त्रास भन भाहीॊ।।
जासु त्रास डय कहुॉ डय होई। बजन प्रबाउ दे िावत सोई।।
ककह फातईऄ भृद ु भधुय सुहाईं। ककए वफदा फारक फरयआई।।
दो0-सबम सप्रेभ वफनीत असत सकुच सकहत दोउ बाइ।

गुय ऩद ऩॊकज नाइ ससय फैठे आमसु ऩाइ।।225।।
–*–*–
सनसस प्रफेस भुसन आमसु दीन्हा। सफहीॊ सॊध्माफॊदनु कीन्हा।।
कहत कथा इसतहास ऩुयानी। रुसचय यजसन जुग जाभ ससयानी।।
भुसनफय समन कीष्न्ह तफ जाई। रगे चयन चाऩन दोउ बाई।।
ष्जन्ह के चयन सयोरुह रागी। कयत वफवफध जऩ जोग वफयागी।।
तेइ दोउ फॊधु प्रेभ जनु जीते। गुय ऩद कभर ऩरोटत प्रीते।।
फायफाय भुसन अग्मा दीन्ही। यघुफय जाइ समन तफ कीन्ही।।
चाऩत चयन रिनु उय राएॉ। सबम सप्रेभ ऩयभ सचु ऩाएॉ।।
ऩुसन ऩुसन प्रबु कह सोवहु ताता। ऩौढ़े धरय उय ऩद जरजाता।।
दो0-उठे रिन सनसस वफगत सुसन अरुनससिा धुसन कान।।
गुय तईऄ ऩकहरेकहॊ जगतऩसत जागे याभु सुजान।।226।।
–*–*–

86

सकर सौच करय जाइ नहाए। सनत्म सनफाकह भुसनकह ससय नाए।।
सभम जासन गुय आमसु ऩाई। रेन प्रसून चरे दोउ बाई।।
बूऩ फागु फय दे िेउ जाई। जहॉ फसॊत रयतु यही रोबाई।।
रागे वफटऩ भनोहय नाना। फयन फयन फय फेसर वफताना।।
नव ऩल्रव पर सुभान सुहाए। सनज सॊऩसत सुय रूि रजाए।।
चातक कोककर कीय चकोया। कूजत वफहग नटत कर भोया।।
भध्म फाग सरु सोह सुहावा। भसन सोऩान वफसचत्र फनावा।।
वफभर ससररु सयससज फहुयॊगा। जरिग कूजत गुॊजत बृॊगा।।
दो0-फागु तड़ागु वफरोकक प्रबु हयषे फॊधु सभेत।

ऩयभ यम्म आयाभु महु जो याभकह सुि दे त।।227।।
–*–*–
चहुॉ कदसस सचतइ ऩूॉसछ भासरगन। रगे रेन दर पूर भुकदत भन।।
तेकह अवसय सीता तहॉ आई। सगरयजा ऩूजन जनसन ऩठाई।।
सॊग सिीॊ सफ सुबग समानी। गावकहॊ गीत भनोहय फानी।।
सय सभीऩ सगरयजा गृह सोहा। फयसन न जाइ दे ष्ि भनु भोहा।।
भज्जनु करय सय सष्िन्ह सभेता। गई भुकदत भन गौरय सनकेता।।
ऩूजा कीष्न्ह असधक अनुयागा। सनज अनुरूऩ सुबग फरु भागा।।
एक सिी ससम सॊगु वफहाई। गई यही दे िन पुरवाई।।
तेकह दोउ फॊधु वफरोके जाई। प्रेभ वफफस सीता ऩकहॊ आई।।
दो0-तासु दसा दे ष्ि सष्िन्ह ऩुरक गात जरु नैन।
कहु कायनु सनज हयष कय ऩूछकह सफ भृद ु फैन।।228।।
–*–*–
दे िन फागु कुअॉय दइ
ु आए। फम ककसोय सफ बाॉसत सुहाए।।

स्माभ गौय ककसभ कहं फिानी। सगया अनमन नमन वफनु फानी।।
सुसन हयषीँ सफ सिीॊ समानी। ससम कहमॉ असत उतकॊठा जानी।।
एक कहइ नृऩसुत तेइ आरी। सुने जे भुसन सॉग आए कारी।।
ष्जन्ह सनज रूऩ भोहनी डायी। कीन्ह स्वफस नगय नय नायी।।
फयनत छवफ जहॉ तहॉ सफ रोगू। अवसस दे ष्िअकहॊ दे िन जोगू।।
तासु वचन असत ससमकह सुहाने। दयस रासग रोचन अकुराने।।
चरी अग्र करय वप्रम सष्ि सोई। प्रीसत ऩुयातन रिइ न कोई।।
दो0-सुसभरय सीम नायद फचन उऩजी प्रीसत ऩुनीत।।

चककत वफरोकसत सकर कदसस जनु सससु भृगी सबीत।।229।।
–*–*–

87

कॊकन ककॊककसन नूऩुय धुसन सुसन। कहत रिन सन याभु रृदमॉ गुसन।।
भानहुॉ भदन दॊ द
ु ब
ु ी दीन्ही।।भनसा वफस्व वफजम कहॉ कीन्ही।।

अस ककह कपरय सचतए तेकह ओया। ससम भुि ससस बए नमन चकोया।।
बए वफरोचन चारु अचॊचर। भनहुॉ सकुसच सनसभ तजे कदगॊचर।।
दे ष्ि सीम सोबा सुिु ऩावा। रृदमॉ सयाहत फचनु न आवा।।

जनु वफयॊ सच सफ सनज सनऩुनाई। वफयसच वफस्व कहॉ प्रगकट दे िाई।।
सुॊदयता कहुॉ सुॊदय कयई। छवफगृहॉ दीऩससिा जनु फयई।।

सफ उऩभा कवफ यहे जुठायी। केकहॊ ऩटतयं वफदे हकुभायी।।
दो0-ससम सोबा कहमॉ फयसन प्रबु आऩसन दसा वफचारय।
फोरे सुसच भन अनुज सन फचन सभम अनुहारय।।230।।
–*–*–
तात जनकतनमा मह सोई। धनुषजग्म जेकह कायन होई।।
ऩूजन गौरय सिीॊ रै आई। कयत प्रकासु कपयइ पुरवाई।।
जासु वफरोकक अरोककक सोबा। सहज ऩुनीत भोय भनु छोबा।।
सो सफु कायन जान वफधाता। पयककहॊ सुबद अॊग सुनु र्भ्ाता।।
यघुफॊससन्ह कय सहज सुबाऊ। भनु कुऩॊथ ऩगु धयइ न काऊ।।
भोकह असतसम प्रतीसत भन केयी। जेकहॊ सऩनेहुॉ ऩयनारय न हे यी।।

ष्जन्ह कै रहकहॊ न रयऩु यन ऩीठी। नकहॊ ऩावकहॊ ऩयसतम भनु डीठी।।
भॊगन रहकह न ष्जन्ह कै नाहीॊ। ते नयफय थोये जग भाहीॊ।।
दो0-कयत फतककह अनुज सन भन ससम रूऩ रोबान।
भुि सयोज भकयॊ द छवफ कयइ भधुऩ इव ऩान।।231।।
–*–*–
सचतवकह चककत चहूॉ कदसस सीता। कहॉ गए नृऩककसोय भनु सचॊता।।
जहॉ वफरोक भृग सावक नैनी। जनु तहॉ फरयस कभर ससत श्रेनी।।
रता ओट तफ सष्िन्ह रिाए। स्माभर गौय ककसोय सुहाए।।
दे ष्ि रूऩ रोचन ररचाने। हयषे जनु सनज सनसध ऩकहचाने।।
थके नमन यघुऩसत छवफ दे िईऄ। ऩरकष्न्हहूॉ ऩरयहयीॊ सनभेषईऄ।।

असधक सनेहॉ दे ह बै बोयी। सयद सससकह जनु सचतव चकोयी।।
रोचन भग याभकह उय आनी। दीन्हे ऩरक कऩाट समानी।।
जफ ससम सष्िन्ह प्रेभफस जानी। ककह न सककहॊ कछु भन सकुचानी।।
दो0-रताबवन तईऄ प्रगट बे तेकह अवसय दोउ बाइ।

सनकसे जनु जुग वफभर वफधु जरद ऩटर वफरगाइ।।232।।
–*–*–

88

सोबा सीवॉ सुबग दोउ फीया। नीर ऩीत जरजाब सयीया।।
भोयऩॊि ससय सोहत नीके। गुछछ फीच वफच कुसुभ करी के।।
बार सतरक श्रभवफॊद ु सुहाए। श्रवन सुबग बूषन छवफ छाए।।
वफकट बृकुकट कच घूघयवाये । नव सयोज रोचन यतनाये ।।

चारु सचफुक नाससका कऩोरा। हास वफरास रेत भनु भोरा।।
भुिछवफ ककह न जाइ भोकह ऩाहीॊ। जो वफरोकक फहु काभ रजाहीॊ।।
उय भसन भार कॊफु कर गीवा। काभ करब कय बुज फरसीॊवा।।
सुभन सभेत फाभ कय दोना। सावॉय कुअॉय सिी सुकठ रोना।।
दो0-केहरय ककट ऩट ऩीत धय सुषभा सीर सनधान।
दे ष्ि बानुकुरबूषनकह वफसया सष्िन्ह अऩान।।233।।
–*–*–
धरय धीयजु एक आसर समानी। सीता सन फोरी गकह ऩानी।।
फहुरय गौरय कय ध्मान कये हू। बूऩककसोय दे ष्ि ककन रेहू।।

सकुसच सीमॉ तफ नमन उघाये । सनभुि दोउ यघुससॊघ सनहाये ।।
नि ससि दे ष्ि याभ कै सोबा। सुसभरय वऩता ऩनु भनु असत छोबा।।
ऩयफस सष्िन्ह रिी जफ सीता। बमउ गहरु सफ कहकह सबीता।।
ऩुसन आउफ एकह फेरयआॉ कारी। अस ककह भन वफहसी एक आरी।।
गूढ़ सगया सुसन ससम सकुचानी। बमउ वफरॊफु भातु बम भानी।।
धरय फकड़ धीय याभु उय आने। कपरय अऩनऩउ वऩतुफस जाने।।
दो0-दे िन सभस भृग वफहग तरु कपयइ फहोरय फहोरय।
सनयष्ि सनयष्ि यघुफीय छवफ फाढ़इ प्रीसत न थोरय।। 234।।
–*–*–
जासन ककठन ससवचाऩ वफसूयसत। चरी याष्ि उय स्माभर भूयसत।।
प्रबु जफ जात जानकी जानी। सुि सनेह सोबा गुन िानी।।
ऩयभ प्रेभभम भृद ु भसस कीन्ही। चारु सचत बीतीॊ सरि रीन्ही।।
गई बवानी बवन फहोयी। फॊकद चयन फोरी कय जोयी।।

जम जम सगरयफययाज ककसोयी। जम भहे स भुि चॊद चकोयी।।
जम गज फदन षड़ानन भाता। जगत जनसन दासभसन दसु त गाता।।
नकहॊ तव आकद भध्म अवसाना। असभत प्रबाउ फेद ु नकहॊ जाना।।

बव बव वफबव ऩयाबव कारयसन। वफस्व वफभोहसन स्वफस वफहारयसन।।
दो0-ऩसतदे वता सुतीम भहुॉ भातु प्रथभ तव ये ि।

भकहभा असभत न सककहॊ ककह सहस सायदा सेष।।235।।
–*–*–

89

सेवत तोकह सुरब पर चायी। फयदामनी ऩुयारय वऩआयी।।
दे वफ ऩूष्ज ऩद कभर तुम्हाये । सुय नय भुसन सफ होकहॊ सुिाये ।।
भोय भनोयथु जानहु नीकईऄ। फसहु सदा उय ऩुय सफही कईऄ।।

कीन्हे उॉ प्रगट न कायन तेहीॊ। अस ककह चयन गहे फैदेहीॊ।।
वफनम प्रेभ फस बई बवानी। िसी भार भूयसत भुसुकानी।।
सादय ससमॉ प्रसाद ु ससय धये ऊ। फोरी गौरय हयषु कहमॉ बये ऊ।।

सुनु ससम सत्म असीस हभायी। ऩूष्जकह भन काभना तुम्हायी।।
नायद फचन सदा सुसच साचा। सो फरु सभसरकह जाकहॊ भनु याचा।।
छॊ 0-भनु जाकहॊ याचेउ सभसरकह सो फरु सहज सुॊदय साॉवयो।
करुना सनधान सुजान सीरु सनेहु जानत यावयो।।

एकह बाॉसत गौरय असीस सुसन ससम सकहत कहमॉ हयषीॊ अरी।
तुरसी बवासनकह ऩूष्ज ऩुसन ऩुसन भुकदत भन भॊकदय चरी।।
सो0-जासन गौरय अनुकूर ससम कहम हयषु न जाइ ककह।
भॊजुर भॊगर भूर फाभ अॊग पयकन रगे।।236।।
रृदमॉ सयाहत सीम रोनाई। गुय सभीऩ गवने दोउ बाई।।
याभ कहा सफु कौससक ऩाहीॊ। सयर सुबाउ छुअत छर नाहीॊ।।
सुभन ऩाइ भुसन ऩूजा कीन्ही। ऩुसन असीस दह
ु ु बाइन्ह दीन्ही।।
सुपर भनोयथ होहुॉ तुम्हाये । याभु रिनु सुसन बए सुिाये ।।

करय बोजनु भुसनफय वफग्मानी। रगे कहन कछु कथा ऩुयानी।।
वफगत कदवसु गुरु आमसु ऩाई। सॊध्मा कयन चरे दोउ बाई।।
प्राची कदसस ससस उमउ सुहावा। ससम भुि सरयस दे ष्ि सुिु ऩावा।।
फहुरय वफचारु कीन्ह भन भाहीॊ। सीम फदन सभ कहभकय नाहीॊ।।
दो0-जनभु ससॊधु ऩुसन फॊधु वफषु कदन भरीन सकरॊक।

ससम भुि सभता ऩाव ककसभ चॊद ु फाऩुयो यॊ क।।237।।
–*–*–
घटइ फढ़इ वफयहसन दि
ु दाई। ग्रसइ याहु सनज सॊसधकहॊ ऩाई।।
कोक ससकप्रद ऩॊकज रोही। अवगुन फहुत चॊरभा तोही।।

फैदेही भुि ऩटतय दीन्हे । होइ दोष फड़ अनुसचत कीन्हे ।।
ससम भुि छवफ वफधु ब्माज फिानी। गुरु ऩकहॊ चरे सनसा फकड़ जानी।।
करय भुसन चयन सयोज प्रनाभा। आमसु ऩाइ कीन्ह वफश्राभा।।
वफगत सनसा यघुनामक जागे। फॊधु वफरोकक कहन अस रागे।।
उदउ अरुन अवरोकहु ताता। ऩॊकज कोक रोक सुिदाता।।

90

फोरे रिनु जोरय जुग ऩानी। प्रबु प्रबाउ सूचक भृद ु फानी।।
दो0-अरुनोदमॉ सकुचे कुभुद उडगन जोसत भरीन।

ष्जसभ तुम्हाय आगभन सुसन बए नृऩसत फरहीन।।238।।
–*–*–
नृऩ सफ नित कयकहॊ उष्जआयी। टारय न सककहॊ चाऩ तभ बायी।।
कभर कोक भधुकय िग नाना। हयषे सकर सनसा अवसाना।।
ऐसेकहॊ प्रबु सफ बगत तुम्हाये । होइहकहॊ टू टईऄ धनुष सुिाये ।।
उमउ बानु वफनु श्रभ तभ नासा। दयु े नित जग तेजु प्रकासा।।

यवफ सनज उदम ब्माज यघुयामा। प्रबु प्रताऩु सफ नृऩन्ह कदिामा।।
तव बुज फर भकहभा उदघाटी। प्रगटी धनु वफघटन ऩरयऩाटी।।
फॊधु फचन सुसन प्रबु भुसुकाने। होइ सुसच सहज ऩुनीत नहाने।।
सनत्मकक्रमा करय गुरु ऩकहॊ आए। चयन सयोज सुबग ससय नाए।।
सतानॊद ु तफ जनक फोराए। कौससक भुसन ऩकहॊ तुयत ऩठाए।।

जनक वफनम सतन्ह आइ सुनाई। हयषे फोसर सरए दोउ बाई।।
दो0-सतानॊदûऩद फॊकद प्रबु फैठे गुय ऩकहॊ जाइ।
चरहु तात भुसन कहे उ तफ ऩठवा जनक फोराइ।।239।।
–*–*–
सीम स्वमॊफरु दे ष्िअ जाई। ईसु काकह धं दे इ फड़ाई।।
रिन कहा जस बाजनु सोई। नाथ कृ ऩा तव जाऩय होई।।
हयषे भुसन सफ सुसन फय फानी। दीष्न्ह असीस सफकहॊ सुिु भानी।।
ऩुसन भुसनफृॊद सभेत कृ ऩारा। दे िन चरे धनुषभि सारा।।
यॊ गबूसभ आए दोउ बाई। असस सुसध सफ ऩुयफाससन्ह ऩाई।।
चरे सकर गृह काज वफसायी। फार जुफान जयठ नय नायी।।
दे िी जनक बीय बै बायी। सुसच सेवक सफ सरए हॉ कायी।।
तुयत सकर रोगन्ह ऩकहॊ जाहू। आसन उसचत दे हू सफ काहू।।
दो0-ककह भृद ु फचन वफनीत सतन्ह फैठाये नय नारय।

उत्तभ भध्मभ नीच रघु सनज सनज थर अनुहारय।।240।।
–*–*–
याजकुअॉय तेकह अवसय आए। भनहुॉ भनोहयता तन छाए।।
गुन सागय नागय फय फीया। सुॊदय स्माभर गौय सयीया।।

याज सभाज वफयाजत रूये । उडगन भहुॉ जनु जुग वफधु ऩूये।।
ष्जन्ह कईऄ यही बावना जैसी। प्रबु भूयसत सतन्ह दे िी तैसी।।
दे िकहॊ रूऩ भहा यनधीया। भनहुॉ फीय यसु धयईऄ सयीया।।

91

डये कुकटर नृऩ प्रबुकह सनहायी। भनहुॉ बमानक भूयसत बायी।।

यहे असुय छर छोसनऩ फेषा। सतन्ह प्रबु प्रगट कारसभ दे िा।।
ऩुयफाससन्ह दे िे दोउ बाई। नयबूषन रोचन सुिदाई।।
दो0-नारय वफरोककहॊ हयवष कहमॉ सनज सनज रुसच अनुरूऩ।
जनु सोहत ससॊगाय धरय भूयसत ऩयभ अनूऩ।।241।।
–*–*–
वफदष
ु न्ह प्रबु वफयाटभम दीसा। फहु भुि कय ऩग रोचन सीसा।।
जनक जासत अवरोककहॊ कैसईआ। सजन सगे वप्रम रागकहॊ जैसईऄ।।

सकहत वफदे ह वफरोककहॊ यानी। सससु सभ प्रीसत न जासत फिानी।।
जोसगन्ह ऩयभ तत्वभम बासा। साॊत सुद्ध सभ सहज प्रकासा।।
हरयबगतन्ह दे िे दोउ र्भ्ाता। इिदे व इव सफ सुि दाता।।
याभकह सचतव बामॉ जेकह सीमा। सो सनेहु सुिु नकहॊ कथनीमा।।

उय अनुबवसत न ककह सक सोऊ। कवन प्रकाय कहै कवफ कोऊ।।
एकह वफसध यहा जाकह जस बाऊ। तेकहॊ तस दे िेउ कोसरयाऊ।।
दो0-याजत याज सभाज भहुॉ कोसरयाज ककसोय।

सुॊदय स्माभर गौय तन वफस्व वफरोचन चोय।।242।।
–*–*–
सहज भनोहय भूयसत दोऊ। कोकट काभ उऩभा रघु सोऊ।।
सयद चॊद सनॊदक भुि नीके। नीयज नमन बावते जी के।।
सचतवत चारु भाय भनु हयनी। बावसत रृदम जासत नहीॊ फयनी।।
कर कऩोर श्रुसत कुॊडर रोरा। सचफुक अधय सुॊदय भृद ु फोरा।।
कुभुदफॊधु कय सनॊदक हाॉसा। बृकुटी वफकट भनोहय नासा।।

बार वफसार सतरक झरकाहीॊ। कच वफरोकक असर अवसर रजाहीॊ।।
ऩीत चौतनीॊ ससयष्न्ह सुहाई। कुसुभ करीॊ वफच फीच फनाईं।।
ये िईऄ रुसचय कॊफु कर गीवाॉ। जनु वत्रबुवन सुषभा की सीवाॉ।।
दो0-कुॊजय भसन कॊठा कसरत उयष्न्ह तुरससका भार।
फृषब कॊध केहरय ठवसन फर सनसध फाहु वफसार।।243।।
–*–*–
ककट तूनीय ऩीत ऩट फाॉधे। कय सय धनुष फाभ फय काॉधे।।
ऩीत जग्म उऩफीत सुहाए। नि ससि भॊजु भहाछवफ छाए।।
दे ष्ि रोग सफ बए सुिाये । एकटक रोचन चरत न ताये ।।
हयषे जनकु दे ष्ि दोउ बाई। भुसन ऩद कभर गहे तफ जाई।।
करय वफनती सनज कथा सुनाई। यॊ ग अवसन सफ भुसनकह दे िाई।।

92

जहॉ जहॉ जाकह कुअॉय फय दोऊ। तहॉ तहॉ चककत सचतव सफु कोऊ।।
सनज सनज रुि याभकह सफु दे िा। कोउ न जान कछु भयभु वफसेषा।।
बसर यचना भुसन नृऩ सन कहे ऊ। याजाॉ भुकदत भहासुि रहे ऊ।।
दो0-सफ भॊचन्ह ते भॊचु एक सुॊदय वफसद वफसार।
भुसन सभेत दोउ फॊधु तहॉ फैठाये भकहऩार।।244।।
–*–*–
प्रबुकह दे ष्ि सफ नृऩ कहॉ मॉ हाये । जनु याकेस उदम बएॉ ताये ।।
असस प्रतीसत सफ के भन भाहीॊ। याभ चाऩ तोयफ सक नाहीॊ।।
वफनु बॊजेहुॉ बव धनुषु वफसारा। भेसरकह सीम याभ उय भारा।।
अस वफचारय गवनहु घय बाई। जसु प्रताऩु फरु तेजु गवाॉई।।
वफहसे अऩय बूऩ सुसन फानी। जे अवफफेक अॊध असबभानी।।

तोये हुॉ धनुषु ब्माहु अवगाहा। वफनु तोयईऄ को कुअॉरय वफआहा।।

एक फाय कारउ ककन होऊ। ससम कहत सभय ष्जतफ हभ सोऊ।।
मह सुसन अवय भकहऩ भुसकाने। धयभसीर हरयबगत समाने।।
सो0-सीम वफआहवफ याभ गयफ दरू य करय नृऩन्ह के।।
जीसत को सक सॊग्राभ दसयथ के यन फाॉकुये ।।245।।

ब्मथा भयहु जसन गार फजाई। भन भोदकष्न्ह कक बूि फुताई।।
ससि हभारय सुसन ऩयभ ऩुनीता। जगदॊ फा जानहु ष्जमॉ सीता।।

जगत वऩता यघुऩसतकह वफचायी। बरय रोचन छवफ रेहु सनहायी।।
सुॊदय सुिद सकर गुन यासी। ए दोउ फॊधु सॊबु उय फासी।।

सुधा सभुर सभीऩ वफहाई। भृगजरु सनयष्ि भयहु कत धाई।।

कयहु जाइ जा कहुॉ जोई बावा। हभ तौ आजु जनभ परु ऩावा।।
अस ककह बरे बूऩ अनुयागे। रूऩ अनूऩ वफरोकन रागे।।

दे िकहॊ सुय नब चढ़े वफभाना। फयषकहॊ सुभन कयकहॊ कर गाना।।
दो0-जासन सुअवसरु सीम तफ ऩठई जनक फोराई।
चतुय सिीॊ सुॊदय सकर सादय चरीॊ रवाईं।।246।।
–*–*–
ससम सोबा नकहॊ जाइ फिानी। जगदॊ वफका रूऩ गुन िानी।।
उऩभा सकर भोकह रघु रागीॊ। प्राकृ त नारय अॊग अनुयागीॊ।।
ससम फयसनअ तेइ उऩभा दे ई। कुकवफ कहाइ अजसु को रेई।।
जौ ऩटतरयअ तीम सभ सीमा। जग असस जुफसत कहाॉ कभनीमा।।

सगया भुिय तन अयध बवानी। यसत असत दष्ु ित अतनु ऩसत जानी।।
वफष फारुनी फॊधु वप्रम जेही। ककहअ यभासभ ककसभ फैदेही।।

93

जौ छवफ सुधा ऩमोसनसध होई। ऩयभ रूऩभम कछछऩ सोई।।
सोबा यजु भॊदरु ससॊगारू। भथै ऩासन ऩॊकज सनज भारू।।
दो0-एकह वफसध उऩजै रष्छछ जफ सुॊदयता सुि भूर।
तदवऩ सकोच सभेत कवफ कहकहॊ सीम सभतूर।।247।।
–*–*–
चसरॊ सॊग रै सिीॊ समानी। गावत गीत भनोहय फानी।।
सोह नवर तनु सुॊदय सायी। जगत जनसन अतुसरत छवफ बायी।।
बूषन सकर सुदेस सुहाए। अॊग अॊग यसच सष्िन्ह फनाए।।
यॊ गबूसभ जफ ससम ऩगु धायी। दे ष्ि रूऩ भोहे नय नायी।।
हयवष सुयन्ह दॊ द
ु ब
ु ीॊ फजाई। फयवष प्रसून अऩछया गाई।।

ऩासन सयोज सोह जमभारा। अवचट सचतए सकर बुआरा।।
सीम चककत सचत याभकह चाहा। बए भोहफस सफ नयनाहा।।
भुसन सभीऩ दे िे दोउ बाई। रगे ररकक रोचन सनसध ऩाई।।
दो0-गुयजन राज सभाजु फड़ दे ष्ि सीम सकुचासन।।
रासग वफरोकन सष्िन्ह तन यघुफीयकह उय आसन।।248।।
–*–*–
याभ रूऩु अरु ससम छवफ दे िईऄ। नय नारयन्ह ऩरयहयीॊ सनभेषईऄ।।
सोचकहॊ सकर कहत सकुचाहीॊ। वफसध सन वफनम कयकहॊ भन भाहीॊ।।
हरु वफसध फेसग जनक जड़ताई। भसत हभारय असस दे कह सुहाई।।
वफनु वफचाय ऩनु तष्ज नयनाहु। सीम याभ कय कयै वफफाहू।।

जग बर कहकह बाव सफ काहू। हठ कीन्हे अॊतहुॉ उय दाहू।।
एकहॊ रारसाॉ भगन सफ रोगू। फरु साॉवयो जानकी जोगू।।

तफ फॊदीजन जनक फौराए। वफरयदावरी कहत चसर आए।।
कह नृऩ जाइ कहहु ऩन भोया। चरे बाट कहमॉ हयषु न थोया।।
दो0-फोरे फॊदी फचन फय सुनहु सकर भकहऩार।

ऩन वफदे ह कय कहकहॊ हभ बुजा उठाइ वफसार।।249।।
–*–*–
नृऩ बुजफर वफधु ससवधनु याहू। गरुअ कठोय वफकदत सफ काहू।।
यावनु फानु भहाबट बाये । दे ष्ि सयासन गवॉकहॊ ससधाये ।।

सोइ ऩुयारय कोदॊ डु कठोया। याज सभाज आजु जोइ तोया।।
वत्रबुवन जम सभेत फैदेही।।वफनकहॊ वफचाय फयइ हकठ तेही।।
सुसन ऩन सकर बूऩ असबराषे। बटभानी असतसम भन भािे।।
ऩरयकय फाॉसध उठे अकुराई। चरे इिदे वन्ह ससय नाई।।

94

तभकक ताकक तकक ससवधनु धयहीॊ। उठइ न कोकट बाॉसत फरु कयहीॊ।।
ष्जन्ह के कछु वफचारु भन भाहीॊ। चाऩ सभीऩ भहीऩ न जाहीॊ।।
दो0-तभकक धयकहॊ धनु भूढ़ नृऩ उठइ न चरकहॊ रजाइ।
भनहुॉ ऩाइ बट फाहुफरु असधकु असधकु गरुआइ।।250।।
–*–*–
बूऩ सहस दस एककह फाया। रगे उठावन टयइ न टाया।।
डगइ न सॊबु सयासन कैसईऄ। काभी फचन सती भनु जैसईऄ।।
सफ नृऩ बए जोगु उऩहासी। जैसईऄ वफनु वफयाग सॊन्मासी।।
कीयसत वफजम फीयता बायी। चरे चाऩ कय फयफस हायी।।
श्रीहत बए हारय कहमॉ याजा। फैठे सनज सनज जाइ सभाजा।।
नृऩन्ह वफरोकक जनकु अकुराने। फोरे फचन योष जनु साने।।
दीऩ दीऩ के बूऩसत नाना। आए सुसन हभ जो ऩनु ठाना।।
दे व दनुज धरय भनुज सयीया। वफऩुर फीय आए यनधीया।।
दो0-कुअॉरय भनोहय वफजम फकड़ कीयसत असत कभनीम।
ऩावसनहाय वफयॊ सच जनु यचेउ न धनु दभनीम।।251।।
–*–*–
कहहु काकह महु राबु न बावा। काहुॉ न सॊकय चाऩ चढ़ावा।।
यहउ चढ़ाउफ तोयफ बाई। सतरु बरय बूसभ न सके छड़ाई।।

अफ जसन कोउ भािै बट भानी। फीय वफहीन भही भईआ जानी।।
तजहु आस सनज सनज गृह जाहू। सरिा न वफसध फैदेकह वफफाहू।।
सुकृत जाइ जं ऩनु ऩरयहयऊॉ। कुअॉरय कुआरय यहउ का कयऊॉ।।

जो जनतेउॉ वफनु बट बुवफ बाई। तौ ऩनु करय होतेउॉ न हॉ साई।।
जनक फचन सुसन सफ नय नायी। दे ष्ि जानकककह बए दि
ु ायी।।
भािे रिनु कुकटर बइॉ बंहईऄ । यदऩट पयकत नमन रयसंहईऄ ।।
दो0-ककह न सकत यघुफीय डय रगे फचन जनु फान।
नाइ याभ ऩद कभर ससरु फोरे सगया प्रभान।।252।।
–*–*–
यघुफॊससन्ह भहुॉ जहॉ कोउ होई। तेकहॊ सभाज अस कहइ न कोई।।

कही जनक जसस अनुसचत फानी। वफयभान यघुकुर भसन जानी।।
सुनहु बानुकुर ऩॊकज बानू। कहउॉ सुबाउ न कछु असबभानू।।
जौ तुम्हारय अनुसासन ऩावं। कॊदक
ु इव ब्रह्माॊड उठावं।।

काचे घट ष्जसभ डायं पोयी। सकउॉ भेरु भूरक ष्जसभ तोयी।।
तव प्रताऩ भकहभा बगवाना। को फाऩुयो वऩनाक ऩुयाना।।

95

नाथ जासन अस आमसु होऊ। कौतुकु कयं वफरोककअ सोऊ।।
कभर नार ष्जसभ चाप चढ़ावं। जोजन सत प्रभान रै धावं।।
दो0-तोयं छत्रक दॊ ड ष्जसभ तव प्रताऩ फर नाथ।
जं न कयं प्रबु ऩद सऩथ कय न धयं धनु बाथ।।253।।
–*–*–
रिन सकोऩ फचन जे फोरे। डगभगासन भकह कदग्गज डोरे।।
सकर रोक सफ बूऩ डे याने। ससम कहमॉ हयषु जनकु सकुचाने।।
गुय यघुऩसत सफ भुसन भन भाहीॊ। भुकदत बए ऩुसन ऩुसन ऩुरकाहीॊ।।
समनकहॊ यघुऩसत रिनु नेवाये । प्रेभ सभेत सनकट फैठाये ।।
वफस्वासभत्र सभम सुब जानी। फोरे असत सनेहभम फानी।।
उठहु याभ बॊजहु बवचाऩा। भेटहु तात जनक ऩरयताऩा।।

सुसन गुरु फचन चयन ससरु नावा। हयषु वफषाद ु न कछु उय आवा।।
ठाढ़े बए उकठ सहज सुबाएॉ। ठवसन जुफा भृगयाजु रजाएॉ।।
दो0-उकदत उदमसगरय भॊच ऩय यघुफय फारऩतॊग।
वफकसे सॊत सयोज सफ हयषे रोचन बृॊग।।254।।
–*–*–
नृऩन्ह केरय आसा सनसस नासी। फचन नित अवरी न प्रकासी।।
भानी भकहऩ कुभुद सकुचाने। कऩटी बूऩ उरूक रुकाने।।
बए वफसोक कोक भुसन दे वा। फरयसकहॊ सुभन जनावकहॊ सेवा।।
गुय ऩद फॊकद सकहत अनुयागा। याभ भुसनन्ह सन आमसु भागा।।
सहजकहॊ चरे सकर जग स्वाभी। भत्त भॊजु फय कुॊजय गाभी।।
चरत याभ सफ ऩुय नय नायी। ऩुरक ऩूरय तन बए सुिायी।।
फॊकद वऩतय सुय सुकृत सॉबाये । जं कछु ऩुन्म प्रबाउ हभाये ।।
तौ ससवधनु भृनार की नाईं। तोयहुॉ याभ गनेस गोसाईं।।
दो0-याभकह प्रेभ सभेत रष्ि सष्िन्ह सभीऩ फोराइ।

सीता भातु सनेह फस फचन कहइ वफरिाइ।।255।।
–*–*–
सष्ि सफ कौतुक दे िसनहाये । जेठ कहावत कहतू हभाये ।।
कोउ न फुझाइ कहइ गुय ऩाहीॊ। ए फारक असस हठ बसर नाहीॊ।।
यावन फान छुआ नकहॊ चाऩा। हाये सकर बूऩ करय दाऩा।।
सो धनु याजकुअॉय कय दे हीॊ। फार भयार कक भॊदय रेहीॊ।।
बूऩ समानऩ सकर ससयानी। सष्ि वफसध गसत कछु जासत न जानी।।
फोरी चतुय सिी भृद ु फानी। तेजवॊत रघु गसनअ न यानी।।

96

कहॉ कुॊबज कहॉ ससॊधु अऩाया। सोषेउ सुजसु सकर सॊसाया।।
यवफ भॊडर दे ित रघु रागा। उदमॉ तासु सतबुवन तभ बागा।।
दो0-भॊत्र ऩयभ रघु जासु फस वफसध हरय हय सुय सफा।
भहाभत्त गजयाज कहुॉ फस कय अॊकुस िफा।।256।।
–*–*–
काभ कुसुभ धनु सामक रीन्हे । सकर बुवन अऩने फस कीन्हे ।।
दे वफ तष्जअ सॊसउ अस जानी। बॊजफ धनुष याभु सुनु यानी।।
सिी फचन सुसन बै ऩयतीती। सभटा वफषाद ु फढ़ी असत प्रीती।।
तफ याभकह वफरोकक फैदेही। सबम रृदमॉ वफनवसत जेकह तेही।।
भनहीॊ भन भनाव अकुरानी। होहु प्रसन्न भहे स बवानी।।

कयहु सपर आऩसन सेवकाई। करय कहतु हयहु चाऩ गरुआई।।
गननामक फयदामक दे वा। आजु रगईऄ कीष्न्हउॉ तुअ सेवा।।

फाय फाय वफनती सुसन भोयी। कयहु चाऩ गुरुता असत थोयी।।
दो0-दे ष्ि दे ष्ि यघुफीय तन सुय भनाव धरय धीय।।

बये वफरोचन प्रेभ जर ऩुरकावरी सयीय।।257।।
–*–*–
नीकईऄ सनयष्ि नमन बरय सोबा। वऩतु ऩनु सुसभरय फहुरय भनु छोबा।।
अहह तात दारुसन हठ ठानी। सभुझत नकहॊ कछु राबु न हानी।।

ससचव सबम ससि दे इ न कोई। फुध सभाज फड़ अनुसचत होई।।
कहॉ धनु कुसरसहु चाकह कठोया। कहॉ स्माभर भृदग
ु ात ककसोया।।

वफसध केकह बाॉसत धयं उय धीया। ससयस सुभन कन फेसधअ हीया।।
सकर सबा कै भसत बै बोयी। अफ भोकह सॊबुचाऩ गसत तोयी।।
सनज जड़ता रोगन्ह ऩय डायी। होकह हरुअ यघुऩसतकह सनहायी।।
असत ऩरयताऩ सीम भन भाही। रव सनभेष जुग सफ सम जाहीॊ।।
दो0-प्रबुकह सचतइ ऩुसन सचतव भकह याजत रोचन रोर।
िेरत भनससज भीन जुग जनु वफधु भॊडर डोर।।258।।
–*–*–
सगया असरसन भुि ऩॊकज योकी। प्रगट न राज सनसा अवरोकी।।
रोचन जरु यह रोचन कोना। जैसे ऩयभ कृ ऩन कय सोना।।
सकुची ब्माकुरता फकड़ जानी। धरय धीयजु प्रतीसत उय आनी।।
तन भन फचन भोय ऩनु साचा। यघुऩसत ऩद सयोज सचतु याचा।।
तौ बगवानु सकर उय फासी। करयकहॊ भोकह यघुफय कै दासी।।
जेकह कईऄ जेकह ऩय सत्म सनेहू। सो तेकह सभरइ न कछु सॊहेहू।।

97

प्रबु तन सचतइ प्रेभ तन ठाना। कृ ऩासनधान याभ सफु जाना।।
ससमकह वफरोकक तकेउ धनु कैसे। सचतव गरुरु रघु ब्मारकह जैसे।।
दो0-रिन रिेउ यघुफॊसभसन ताकेउ हय कोदॊ डु।
ऩुरकक गात फोरे फचन चयन चावऩ ब्रह्माॊडु।।259।।
–*–*–
कदसकुॊजयहु कभठ अकह कोरा। धयहु धयसन धरय धीय न डोरा।।
याभु चहकहॊ सॊकय धनु तोया। होहु सजग सुसन आमसु भोया।।
चाऩ सऩीऩ याभु जफ आए। नय नारयन्ह सुय सुकृत भनाए।।
सफ कय सॊसउ अरु अग्मानू। भॊद भहीऩन्ह कय असबभानू।।
बृगुऩसत केरय गयफ गरुआई। सुय भुसनफयन्ह केरय कदयाई।।
ससम कय सोचु जनक ऩसछतावा। यासनन्ह कय दारुन दि
ु दावा।।
सॊबुचाऩ फड फोकहतु ऩाई। चढे जाइ सफ सॊगु फनाई।।

याभ फाहुफर ससॊधु अऩारू। चहत ऩारु नकह कोउ कड़हारू।।
दो0-याभ वफरोके रोग सफ सचत्र सरिे से दे ष्ि।

सचतई सीम कृ ऩामतन जानी वफकर वफसेवष।।260।।
–*–*–
दे िी वफऩुर वफकर फैदेही। सनसभष वफहात करऩ सभ तेही।।
तृवषत फारय वफनु जो तनु त्मागा। भुएॉ कयइ का सुधा तड़ागा।।
का फयषा सफ कृ षी सुिानईऄ। सभम चुकईऄ ऩुसन का ऩसछतानईऄ।।
अस ष्जमॉ जासन जानकी दे िी। प्रबु ऩुरके रष्ि प्रीसत वफसेषी।।
गुयकह प्रनाभु भनकह भन कीन्हा। असत राघवॉ उठाइ धनु रीन्हा।।
दभकेउ दासभसन ष्जसभ जफ रमऊ। ऩुसन नब धनु भॊडर सभ बमऊ।।
रेत चढ़ावत िईआचत गाढ़ईऄ । काहुॉ न रिा दे ि सफु ठाढ़ईऄ ।।

तेकह छन याभ भध्म धनु तोया। बये बुवन धुसन घोय कठोया।।
छॊ 0-बये बुवन घोय कठोय यव यवफ फाष्ज तष्ज भायगु चरे।
सचक्कयकहॊ कदग्गज डोर भकह अकह कोर कूरुभ करभरे।।
सुय असुय भुसन कय कान दीन्हईऄ सकर वफकर वफचायहीॊ।
कोदॊ ड िॊडेउ याभ तुरसी जमसत फचन उचायही।।
सो0-सॊकय चाऩु जहाजु सागरु यघुफय फाहुफरु।

फूड़ सो सकर सभाजु चढ़ा जो प्रथभकहॊ भोह फस।।261।।
प्रबु दोउ चाऩिॊड भकह डाये । दे ष्ि रोग सफ बए सुिाये ।।

98

कोससकरुऩ ऩमोसनसध ऩावन। प्रेभ फारय अवगाहु सुहावन।।
याभरूऩ याकेसु सनहायी। फढ़त फीसच ऩुरकावसर बायी।।

फाजे नब गहगहे सनसाना। दे वफधू नाचकहॊ करय गाना।।
ब्रह्माकदक सुय ससद्ध भुनीसा। प्रबुकह प्रसॊसकह दे कहॊ असीसा।।
फरयसकहॊ सुभन यॊ ग फहु भारा। गावकहॊ ककॊनय गीत यसारा।।

यही बुवन बरय जम जम फानी। धनुषबॊग धुसन जात न जानी।।
भुकदत कहकहॊ जहॉ तहॉ नय नायी। बॊजेउ याभ सॊबुधनु बायी।।
दो0-फॊदी भागध सूतगन वफरुद फदकहॊ भसतधीय।
कयकहॊ सनछावरय रोग सफ हम गम धन भसन चीय।।262।।
–*–*–
झाॉष्झ भृदॊग सॊि सहनाई। बेरय ढोर दॊ द
ु ब
ु ी सुहाई।।
फाजकहॊ फहु फाजने सुहाए। जहॉ तहॉ जुफसतन्ह भॊगर गाए।।

सष्िन्ह सकहत हयषी असत यानी। सूित धान ऩया जनु ऩानी।।
जनक रहे उ सुिु सोचु वफहाई। ऩैयत थकईऄ थाह जनु ऩाई।।
श्रीहत बए बूऩ धनु टू टे । जैसईऄ कदवस दीऩ छवफ छूटे ।।
सीम सुिकह फयसनअ केकह बाॉती। जनु चातकी ऩाइ जरु स्वाती।।
याभकह रिनु वफरोकत कैसईऄ। सससकह चकोय ककसोयकु जैसईऄ।।
सतानॊद तफ आमसु दीन्हा। सीताॉ गभनु याभ ऩकहॊ कीन्हा।।
दो0-सॊग सिीॊ सुदॊय चतुय गावकहॊ भॊगरचाय।
गवनी फार भयार गसत सुषभा अॊग अऩाय।।263।।
–*–*–
सष्िन्ह भध्म ससम सोहसत कैसे। छवफगन भध्म भहाछवफ जैसईऄ।।
कय सयोज जमभार सुहाई। वफस्व वफजम सोबा जेकहॊ छाई।।
तन सकोचु भन ऩयभ उछाहू। गूढ़ प्रेभु रष्ि ऩयइ न काहू।।

जाइ सभीऩ याभ छवफ दे िी। यकह जनु कुॉअरय सचत्र अवये िी।।
चतुय सिीॊ रष्ि कहा फुझाई। ऩकहयावहु जमभार सुहाई।।

सुनत जुगर कय भार उठाई। प्रेभ वफफस ऩकहयाइ न जाई।।
सोहत जनु जुग जरज सनारा। सससकह सबीत दे त जमभारा।।
गावकहॊ छवफ अवरोकक सहे री। ससमॉ जमभार याभ उय भेरी।।
सो0-यघुफय उय जमभार दे ष्ि दे व फरयसकहॊ सुभन।
सकुचे सकर बुआर जनु वफरोकक यवफ कुभुदगन।।264।।

ऩुय अरु ब्मोभ फाजने फाजे। िर बए भसरन साधु सफ याजे।।
सुय ककॊनय नय नाग भुनीसा। जम जम जम ककह दे कहॊ असीसा।।

99

नाचकहॊ गावकहॊ वफफुध फधूटीॊ। फाय फाय कुसुभाॊजसर छूटीॊ।।
जहॉ तहॉ वफप्र फेदधुसन कयहीॊ। फॊदी वफयदावसर उछचयहीॊ।।
भकह ऩातार नाक जसु ब्माऩा। याभ फयी ससम बॊजेउ चाऩा।।
कयकहॊ आयती ऩुय नय नायी। दे कहॊ सनछावरय वफत्त वफसायी।।
सोहसत सीम याभ कै जौयी। छवफ ससॊगारु भनहुॉ एक ठोयी।।

सिीॊ कहकहॊ प्रबुऩद गहु सीता। कयसत न चयन ऩयस असत बीता।।
दो0-गौतभ सतम गसत सुयसत करय नकहॊ ऩयससत ऩग ऩासन।
भन वफहसे यघुफॊसभसन प्रीसत अरौककक जासन।।265।।
–*–*–
तफ ससम दे ष्ि बूऩ असबराषे। कूय कऩूत भूढ़ भन भािे।।
उकठ उकठ ऩकहरय सनाह अबागे। जहॉ तहॉ गार फजावन रागे।।
रेहु छड़ाइ सीम कह कोऊ। धरय फाॉधहु नृऩ फारक दोऊ।।

तोयईऄ धनुषु चाड़ नकहॊ सयई। जीवत हभकह कुअॉरय को फयई।।
जं वफदे हु कछु कयै सहाई। जीतहु सभय सकहत दोउ बाई।।
साधु बूऩ फोरे सुसन फानी। याजसभाजकह राज रजानी।।
फरु प्रताऩु फीयता फड़ाई। नाक वऩनाककह सॊग ससधाई।।
सोइ सूयता कक अफ कहुॉ ऩाई। असस फुसध तौ वफसध भुहॉ भसस राई।।
दो0-दे िहु याभकह नमन बरय तष्ज इरयषा भद ु कोहु।

रिन योषु ऩावकु प्रफर जासन सरब जसन होहु।।266।।
–*–*–
फैनतेम फसर ष्जसभ चह कागू। ष्जसभ ससु चहै नाग अरय बागू।।
ष्जसभ चह कुसर अकायन कोही। सफ सॊऩदा चहै ससवरोही।।
रोबी रोरुऩ कर कीयसत चहई। अकरॊकता कक काभी रहई।।
हरय ऩद वफभुि ऩयभ गसत चाहा। तस तुम्हाय रारचु नयनाहा।।
कोराहरु सुसन सीम सकानी। सिीॊ रवाइ गईं जहॉ यानी।।
याभु सुबामॉ चरे गुरु ऩाहीॊ। ससम सनेहु फयनत भन भाहीॊ।।

यासनन्ह सकहत सोचफस सीमा। अफ धं वफसधकह काह कयनीमा।।
बूऩ फचन सुसन इत उत तकहीॊ। रिनु याभ डय फोसर न सकहीॊ।।
दो0-अरुन नमन बृकुटी कुकटर सचतवत नृऩन्ह सकोऩ।
भनहुॉ भत्त गजगन सनयष्ि ससॊघककसोयकह चोऩ।।267।।
–*–*–
ियबरु दे ष्ि वफकर ऩुय नायीॊ। सफ सभसर दे कहॊ भहीऩन्ह गायीॊ।।
तेकहॊ अवसय सुसन ससव धनु बॊगा। आमसु बृगुकुर कभर ऩतॊगा।।

100

दे ष्ि भहीऩ सकर सकुचाने। फाज झऩट जनु रवा रुकाने।।
गौरय सयीय बूसत बर र्भ्ाजा। बार वफसार वत्रऩुॊड वफयाजा।।
सीस जटा सससफदनु सुहावा। रयसफस कछुक अरुन होइ आवा।।
बृकुटी कुकटर नमन रयस याते। सहजहुॉ सचतवत भनहुॉ रयसाते।।
फृषब कॊध उय फाहु वफसारा। चारु जनेउ भार भृगछारा।।

ककट भुसन फसन तून दइ
ु फाॉधईऄ। धनु सय कय कुठारु कर काॉधईऄ।।
दो0-साॊत फेषु कयनी ककठन फयसन न जाइ सरुऩ।

धरय भुसनतनु जनु फीय यसु आमउ जहॉ सफ बूऩ।।268।।
–*–*–
दे ित बृगुऩसत फेषु कयारा। उठे सकर बम वफकर बुआरा।।
वऩतु सभेत ककह ककह सनज नाभा। रगे कयन सफ दॊ ड प्रनाभा।।
जेकह सुबामॉ सचतवकहॊ कहतु जानी। सो जानइ जनु आइ िुटानी।।
जनक फहोरय आइ ससरु नावा। सीम फोराइ प्रनाभु कयावा।।
आससष दीष्न्ह सिीॊ हयषानीॊ। सनज सभाज रै गई समानीॊ।।
वफस्वासभत्रु सभरे ऩुसन आई। ऩद सयोज भेरे दोउ बाई।।
याभु रिनु दसयथ के ढोटा। दीष्न्ह असीस दे ष्ि बर जोटा।।
याभकह सचतइ यहे थकक रोचन। रूऩ अऩाय भाय भद भोचन।।
दो0-फहुरय वफरोकक वफदे ह सन कहहु काह असत बीय।।

ऩूछत जासन अजान ष्जसभ ब्माऩेउ कोऩु सयीय।।269।।
–*–*–
सभाचाय ककह जनक सुनाए। जेकह कायन भहीऩ सफ आए।।
सुनत फचन कपरय अनत सनहाये । दे िे चाऩिॊड भकह डाये ।।
असत रयस फोरे फचन कठोया। कहु जड़ जनक धनुष कै तोया।।

फेसग दे िाउ भूढ़ न त आजू। उरटउॉ भकह जहॉ रकह तव याजू।।
असत डरु उतरु दे त नृऩु नाहीॊ। कुकटर बूऩ हयषे भन भाहीॊ।।
सुय भुसन नाग नगय नय नायी।।सोचकहॊ सकर त्रास उय बायी।।
भन ऩसछतासत सीम भहतायी। वफसध अफ सॉवयी फात वफगायी।।

बृगुऩसत कय सुबाउ सुसन सीता। अयध सनभेष करऩ सभ फीता।।
दो0-सबम वफरोके रोग सफ जासन जानकी बीरु।
रृदमॉ न हयषु वफषाद ु कछु फोरे श्रीयघुफीरु।।270।।

भासऩायामण, नवाॉ ववश्राभ
–*–*–
नाथ सॊबुधनु बॊजसनहाया। होइकह केउ एक दास तुम्हाया।।

101

आमसु काह ककहअ ककन भोही। सुसन रयसाइ फोरे भुसन कोही।।
सेवकु सो जो कयै सेवकाई। अरय कयनी करय करयअ रयाई।।
सुनहु याभ जेकहॊ ससवधनु तोया। सहसफाहु सभ सो रयऩु भोया।।
सो वफरगाउ वफहाइ सभाजा। न त भाये जैहकहॊ सफ याजा।।

सुसन भुसन फचन रिन भुसुकाने। फोरे ऩयसुधयकह अऩभाने।।
फहु धनुहीॊ तोयीॊ ररयकाईं। कफहुॉ न असस रयस कीष्न्ह गोसाईं।।
एकह धनु ऩय भभता केकह हे तू। सुसन रयसाइ कह बृगुकुरकेतू।।
दो0-ये नृऩ फारक कारफस फोरत तोकह न सॉभाय।।
धनुही सभ सतऩुयारय धनु वफकदत सकर सॊसाय।।271।।
–*–*–
रिन कहा हॉ सस हभयईऄ जाना। सुनहु दे व सफ धनुष सभाना।।
का छसत राबु जून धनु तौयईऄ । दे िा याभ नमन के बोयईऄ ।।

छुअत टू ट यघुऩसतहु न दोसू। भुसन वफनु काज करयअ कत योसू ।
फोरे सचतइ ऩयसु की ओया। ये सठ सुनेकह सुबाउ न भोया।।

फारकु फोसर फधउॉ नकहॊ तोही। केवर भुसन जड़ जानकह भोही।।
फार ब्रह्मचायी असत कोही। वफस्व वफकदत छवत्रमकुर रोही।।
बुजफर बूसभ बूऩ वफनु कीन्ही। वफऩुर फाय भकहदे वन्ह दीन्ही।।
सहसफाहु बुज छे दसनहाया। ऩयसु वफरोकु भहीऩकुभाया।।
दो0-भातु वऩतकह जसन सोचफस कयसस भहीसककसोय।

गबान्ह के अबाक दरन ऩयसु भोय असत घोय।।272।।
–*–*–
वफहसस रिनु फोरे भृद ु फानी। अहो भुनीसु भहा बटभानी।।
ऩुसन ऩुसन भोकह दे िाव कुठारू। चहत उड़ावन पूॉकक ऩहारू।।

इहाॉ कुम्हड़फसतमा कोउ नाहीॊ। जे तयजनी दे ष्ि भरय जाहीॊ।।
दे ष्ि कुठारु सयासन फाना। भईआ कछु कहा सकहत असबभाना।।
बृगुसुत सभुष्झ जनेउ वफरोकी। जो कछु कहहु सहउॉ रयस योकी।।
सुय भकहसुय हरयजन अरु गाई। हभयईऄ कुर इन्ह ऩय न सुयाई।।
फधईऄ ऩाऩु अऩकीयसत हायईऄ । भायतहूॉ ऩा ऩरयअ तुम्हायईऄ ।।

कोकट कुसरस सभ फचनु तुम्हाया। ब्मथा धयहु धनु फान कुठाया।।
दो0-जो वफरोकक अनुसचत कहे उॉ छभहु भहाभुसन धीय।

सुसन सयोष बृगुफॊसभसन फोरे सगया गबीय।।273।।
–*–*–
कौससक सुनहु भॊद महु फारकु। कुकटर कारफस सनज कुर घारकु।।

102

बानु फॊस याकेस करॊकू। सनऩट सनयॊ कुस अफुध असॊकू।।
कार कवरु होइकह छन भाहीॊ। कहउॉ ऩुकारय िोरय भोकह नाहीॊ।।
तुम्ह हटकउ जं चहहु उफाया। ककह प्रताऩु फरु योषु हभाया।।

रिन कहे उ भुसन सुजस तुम्हाया। तुम्हकह अछत को फयनै ऩाया।।
अऩने भुॉह तुम्ह आऩसन कयनी। फाय अनेक बाॉसत फहु फयनी।।

नकहॊ सॊतोषु त ऩुसन कछु कहहू। जसन रयस योकक दस
ु ह दि
ु सहहू।।
फीयब्रती तुम्ह धीय अछोबा। गायी दे त न ऩावहु सोबा।।
दो0-सूय सभय कयनी कयकहॊ ककह न जनावकहॊ आऩु।

वफयभान यन ऩाइ रयऩु कामय कथकहॊ प्रताऩु।।274।।
–*–*–
तुम्ह तौ कारु हाॉक जनु रावा। फाय फाय भोकह रासग फोरावा।।
सुनत रिन के फचन कठोया। ऩयसु सुधारय धये उ कय घोया।।
अफ जसन दे इ दोसु भोकह रोगू। कटु फादी फारकु फधजोगू।।
फार वफरोकक फहुत भईआ फाॉचा। अफ महु भयसनहाय बा साॉचा।।

कौससक कहा छसभअ अऩयाधू। फार दोष गुन गनकहॊ न साधू।।
िय कुठाय भईआ अकरुन कोही। आगईऄ अऩयाधी गुरुरोही।।
उतय दे त छोड़उॉ वफनु भायईऄ । केवर कौससक सीर तुम्हायईऄ ।।
न त एकह काकट कुठाय कठोयईऄ । गुयकह उरयन होतेउॉ श्रभ थोयईऄ ।।
दो0-गासधसूनु कह रृदमॉ हॉ सस भुसनकह हरयअयइ सूझ।
अमभम िाॉड न ऊिभम अजहुॉ न फूझ अफूझ।।275।।
–*–*–
कहे उ रिन भुसन सीरु तुम्हाया। को नकह जान वफकदत सॊसाया।।
भाता वऩतकह उरयन बए नीकईऄ। गुय रयनु यहा सोचु फड़ जीकईऄ।।
सो जनु हभये कह भाथे काढ़ा। कदन चसर गए ब्माज फड़ फाढ़ा।।
अफ आसनअ ब्मवहरयआ फोरी। तुयत दे उॉ भईआ थैरी िोरी।।
सुसन कटु फचन कुठाय सुधाया। हाम हाम सफ सबा ऩुकाया।।
बृगुफय ऩयसु दे िावहु भोही। वफप्र वफचारय फचउॉ नृऩरोही।।

सभरे न कफहुॉ सुबट यन गाढ़े । कद्वज दे वता घयकह के फाढ़े ।।

अनुसचत ककह सफ रोग ऩुकाये । यघुऩसत समनकहॊ रिनु नेवाये ।।
दो0-रिन उतय आहुसत सरयस बृगुफय कोऩु कृ सानु।

फढ़त दे ष्ि जर सभ फचन फोरे यघुकुरबानु।।276।।
–*–*–
नाथ कयहु फारक ऩय छोहू। सूध दध
ू भुि करयअ न कोहू।।

103

जं ऩै प्रबु प्रबाउ कछु जाना। तौ कक फयाफरय कयत अमाना।।
जं ररयका कछु अचगरय कयहीॊ। गुय वऩतु भातु भोद भन बयहीॊ।।
करयअ कृ ऩा सससु सेवक जानी। तुम्ह सभ सीर धीय भुसन ग्मानी।।
याभ फचन सुसन कछुक जुड़ाने। ककह कछु रिनु फहुरय भुसकाने।।
हॉ सत दे ष्ि नि ससि रयस ब्माऩी। याभ तोय र्भ्ाता फड़ ऩाऩी।।
गौय सयीय स्माभ भन भाहीॊ। कारकूटभुि ऩमभुि नाहीॊ।।
सहज टे ढ़ अनुहयइ न तोही। नीचु भीचु सभ दे ि न भौहीॊ।।
दो0-रिन कहे उ हॉ सस सुनहु भुसन क्रोधु ऩाऩ कय भूर।

जेकह फस जन अनुसचत कयकहॊ चयकहॊ वफस्व प्रसतकूर।।277।।
–*–*–
भईआ तुम्हाय अनुचय भुसनयामा। ऩरयहरय कोऩु करयअ अफ दामा।।
टू ट चाऩ नकहॊ जुयकह रयसाने। फैकठअ होइकहॊ ऩाम वऩयाने।।
जौ असत वप्रम तौ करयअ उऩाई। जोरयअ कोउ फड़ गुनी फोराई।।
फोरत रिनकहॊ जनकु डे याहीॊ। भि कयहु अनुसचत बर नाहीॊ।।
थय थय काऩकहॊ ऩुय नय नायी। छोट कुभाय िोट फड़ बायी।।

बृगुऩसत सुसन सुसन सनयबम फानी। रयस तन जयइ होइ फर हानी।।
फोरे याभकह दे इ सनहोया। फचउॉ वफचारय फॊधु रघु तोया।।
भनु भरीन तनु सुॊदय कैसईऄ। वफष यस बया कनक घटु जैसईआ।।
दो0- सुसन रसछभन वफहसे फहुरय नमन तये ये याभ।

गुय सभीऩ गवने सकुसच ऩरयहरय फानी फाभ।।278।।
–*–*–
असत वफनीत भृद ु सीतर फानी। फोरे याभु जोरय जुग ऩानी।।

सुनहु नाथ तुम्ह सहज सुजाना। फारक फचनु करयअ नकहॊ काना।।
फययै फारक एकु सुबाऊ। इन्हकह न सॊत वफदष
ू कहॊ काऊ।।

तेकहॊ नाहीॊ कछु काज वफगाया। अऩयाधी भईऄ नाथ तुम्हाया।।
कृ ऩा कोऩु फधु फॉधफ गोसाईं। भो ऩय करयअ दास की नाई।।
ककहअ फेसग जेकह वफसध रयस जाई। भुसननामक सोइ कयं उऩाई।।
कह भुसन याभ जाइ रयस कैसईऄ। अजहुॉ अनुज तव सचतव अनैसईऄ।।
एकह के कॊठ कुठारु न दीन्हा। तौ भईआ काह कोऩु करय कीन्हा।।
दो0-गबा स्त्रवकहॊ अवसनऩ यवसन सुसन कुठाय गसत घोय।
ऩयसु अछत दे िउॉ ष्जअत फैयी बूऩककसोय।।279।।
–*–*–
फहइ न हाथु दहइ रयस छाती। बा कुठारु कुॊकठत नृऩघाती।।

104

बमउ फाभ वफसध कपये उ सुबाऊ। भोये रृदमॉ कृ ऩा कसस काऊ।।
आजु दमा दि
ु ु दस
ु ह सहावा। सुसन सौसभत्र वफहसस ससरु नावा।।
फाउ कृ ऩा भूयसत अनुकूरा। फोरत फचन झयत जनु पूरा।।

जं ऩै कृ ऩाॉ जरयकहॊ भुसन गाता। क्रोध बएॉ तनु याि वफधाता।।
दे िु जनक हकठ फारक एहू। कीन्ह चहत जड़ जभऩुय गेहू।।

फेसग कयहु ककन आॉष्िन्ह ओटा। दे ित छोट िोट नृऩ ढोटा।।
वफहसे रिनु कहा भन भाहीॊ। भूदईऄ आॉष्ि कतहुॉ कोउ नाहीॊ।।
दो0-ऩयसुयाभु तफ याभ प्रसत फोरे उय असत क्रोधु।

सॊबु सयासनु तोरय सठ कयसस हभाय प्रफोधु।।280।।
–*–*–
फॊधु कहइ कटु सॊभत तोयईऄ । तू छर वफनम कयसस कय जोयईऄ ।।
करु ऩरयतोषु भोय सॊग्राभा। नाकहॊ त छाड़ कहाउफ याभा।।
छरु तष्ज कयकह सभरु ससवरोही। फॊधु सकहत न त भायउॉ तोही।।
बृगुऩसत फककहॊ कुठाय उठाएॉ। भन भुसकाकहॊ याभु ससय नाएॉ।।
गुनह रिन कय हभ ऩय योषू। कतहुॉ सुधाइहु ते फड़ दोषू।।
टे ढ़ जासन सफ फॊदइ काहू। फक्र चॊरभकह ग्रसइ न याहू।।

याभ कहे उ रयस तष्जअ भुनीसा। कय कुठारु आगईऄ मह सीसा।।
जईऄकहॊ रयस जाइ करयअ सोइ स्वाभी। भोकह जासन आऩन अनुगाभी।।
दो0-प्रबुकह सेवककह सभरु कस तजहु वफप्रफय योसु।

फेषु वफरोकईऄ कहे सस कछु फारकहू नकहॊ दोसु।।281।।
–*–*–
दे ष्ि कुठाय फान धनु धायी। बै ररयककह रयस फीरु वफचायी।।
नाभु जान ऩै तुम्हकह न चीन्हा। फॊस सुबामॉ उतरु तईऄकहॊ दीन्हा।।
जं तुम्ह औतेहु भुसन की नाईं। ऩद यज ससय सससु धयत गोसाईं।।
छभहु चूक अनजानत केयी। चकहअ वफप्र उय कृ ऩा घनेयी।।

हभकह तुम्हकह सरयफरय कसस नाथा।।कहहु न कहाॉ चयन कहॉ भाथा।।
याभ भात्र रघु नाभ हभाया। ऩयसु सकहत फड़ नाभ तोहाया।।
दे व एकु गुनु धनुष हभायईऄ । नव गुन ऩयभ ऩुनीत तुम्हायईऄ ।।
सफ प्रकाय हभ तुम्ह सन हाये । छभहु वफप्र अऩयाध हभाये ।।
दो0-फाय फाय भुसन वफप्रफय कहा याभ सन याभ।

फोरे बृगुऩसत सरुष हसस तहूॉ फॊधु सभ फाभ।।282।।
–*–*–
सनऩटकहॊ कद्वज करय जानकह भोही। भईआ जस वफप्र सुनावउॉ तोही।।

105

चाऩ स्त्रुवा सय आहुसत जानू। कोऩ भोय असत घोय कृ सानु।।
ससभसध सेन चतुयॊग सुहाई। भहा भहीऩ बए ऩसु आई।।

भै एकह ऩयसु काकट फसर दीन्हे । सभय जग्म जऩ कोकटन्ह कीन्हे ।।
भोय प्रबाउ वफकदत नकहॊ तोयईऄ । फोरसस सनदरय वफप्र के बोयईऄ ।।
बॊजेउ चाऩु दाऩु फड़ फाढ़ा। अहसभसत भनहुॉ जीसत जगु ठाढ़ा।।

याभ कहा भुसन कहहु वफचायी। रयस असत फकड़ रघु चूक हभायी।।
छुअतकहॊ टू ट वऩनाक ऩुयाना। भईआ ककह हे तु कयं असबभाना।।
दो0-जं हभ सनदयकहॊ वफप्र फकद सत्म सुनहु बृगुनाथ।

तौ अस को जग सुबटु जेकह बम फस नावकहॊ भाथ।।283।।
–*–*–
दे व दनुज बूऩसत बट नाना। सभफर असधक होउ फरवाना।।
जं यन हभकह ऩचायै कोऊ। रयकहॊ सुिेन कारु ककन होऊ।।
छवत्रम तनु धरय सभय सकाना। कुर करॊकु तेकहॊ ऩावॉय आना।।
कहउॉ सुबाउ न कुरकह प्रसॊसी। कारहु डयकहॊ न यन यघुफॊसी।।
वफप्रफॊस कै असस प्रबुताई। अबम होइ जो तुम्हकह डे याई।।

सुनु भृद ु गूढ़ फचन यघुऩसत के। उघये ऩटर ऩयसुधय भसत के।।
याभ यभाऩसत कय धनु रेहू। िईआचहु सभटै भोय सॊदेहू।।

दे त चाऩु आऩुकहॊ चसर गमऊ। ऩयसुयाभ भन वफसभम बमऊ।।
दो0-जाना याभ प्रबाउ तफ ऩुरक प्रपुष्ल्रत गात।
जोरय ऩासन फोरे फचन ह्दमॉ न प्रेभु अभात।।284।।
–*–*–
जम यघुफॊस फनज फन बानू। गहन दनुज कुर दहन कृ सानु।।
जम सुय वफप्र धेनु कहतकायी। जम भद भोह कोह र्भ्भ हायी।।
वफनम सीर करुना गुन सागय। जमसत फचन यचना असत नागय।।
सेवक सुिद सुबग सफ अॊगा। जम सयीय छवफ कोकट अनॊगा।।
कयं काह भुि एक प्रसॊसा। जम भहे स भन भानस हॊ सा।।
अनुसचत फहुत कहे उॉ अग्माता। छभहु छभाभॊकदय दोउ र्भ्ाता।।

ककह जम जम जम यघुकुरकेतू। बृगुऩसत गए फनकह तऩ हे तू।।
अऩबमॉ कुकटर भहीऩ डे याने। जहॉ तहॉ कामय गवॉकहॊ ऩयाने।।
दो0-दे वन्ह दीन्हीॊ दॊ द
ु ब
ु ीॊ प्रबु ऩय फयषकहॊ पूर।

हयषे ऩुय नय नारय सफ सभटी भोहभम सूर।।285।।
–*–*–
असत गहगहे फाजने फाजे। सफकहॊ भनोहय भॊगर साजे।।

106

जूथ जूथ सभसर सुभुि सुनमनीॊ। कयकहॊ गान कर कोककरफमनी।।
सुिु वफदे ह कय फयसन न जाई। जन्भदरयर भनहुॉ सनसध ऩाई।।
गत त्रास बइ सीम सुिायी। जनु वफधु उदमॉ चकोयकुभायी।।

जनक कीन्ह कौससककह प्रनाभा। प्रबु प्रसाद धनु बॊजेउ याभा।।
भोकह कृ तकृ त्म कीन्ह दह
ु ुॉ बाईं। अफ जो उसचत सो ककहअ गोसाई।।
कह भुसन सुनु नयनाथ प्रफीना। यहा वफफाहु चाऩ आधीना।।

टू टतहीॊ धनु बमउ वफफाहू। सुय नय नाग वफकदत सफ काहु।।
दो0-तदवऩ जाइ तुम्ह कयहु अफ जथा फॊस ब्मवहारु।

फूष्झ वफप्र कुरफृद्ध गुय फेद वफकदत आचारु।।286।।
–*–*–
दत
ू अवधऩुय ऩठवहु जाई। आनकहॊ नृऩ दसयथकह फोराई।।

भुकदत याउ ककह बरेकहॊ कृ ऩारा। ऩठए दत
ू फोसर तेकह कारा।।
फहुरय भहाजन सकर फोराए। आइ सफष्न्ह सादय ससय नाए।।
हाट फाट भॊकदय सुयफासा। नगरु सॉवायहु चारयहुॉ ऩासा।।

हयवष चरे सनज सनज गृह आए। ऩुसन ऩरयचायक फोसर ऩठाए।।
यचहु वफसचत्र वफतान फनाई। ससय धरय फचन चरे सचु ऩाई।।

ऩठए फोसर गुनी सतन्ह नाना। जे वफतान वफसध कुसर सुजाना।।
वफसधकह फॊकद सतन्ह कीन्ह अयॊ बा। वफयचे कनक कदसर के िॊबा।।
दो0-हरयत भसनन्ह के ऩत्र पर ऩदभ
ु याग के पूर।

यचना दे ष्ि वफसचत्र असत भनु वफयॊ सच कय बूर।।287।।
–*–*–
फेसन हरयत भसनभम सफ कीन्हे । सयर सऩयफ ऩयकहॊ नकहॊ चीन्हे ।।
कनक कसरत अकहफेर फनाई। रष्ि नकह ऩयइ सऩयन सुहाई।।
तेकह के यसच ऩसच फॊध फनाए। वफच वफच भुकता दाभ सुहाए।।
भासनक भयकत कुसरस वऩयोजा। चीरय कोरय ऩसच यचे सयोजा।।
ककए बृॊग फहुयॊग वफहॊ गा। गुॊजकहॊ कूजकहॊ ऩवन प्रसॊगा।।

सुय प्रसतभा िॊबन गढ़ी काढ़ी। भॊगर रब्म सरएॉ सफ ठाढ़ी।।
चंकईऄ बाॉसत अनेक ऩुयाईं। ससॊधुय भसनभम सहज सुहाई।।
दो0-सौयब ऩल्रव सुबग सुकठ ककए नीरभसन कोरय।।
हे भ फौय भयकत घवरय रसत ऩाटभम डोरय।।288।।
–*–*–
यचे रुसचय फय फॊदसनफाये । भनहुॉ भनोबवॉ पॊद सॉवाये ।।

भॊगर करस अनेक फनाए। ध्वज ऩताक ऩट चभय सुहाए।।

107

दीऩ भनोहय भसनभम नाना। जाइ न फयसन वफसचत्र वफताना।।
जेकहॊ भॊडऩ दर
ु कहसन फैदेही। सो फयनै असस भसत कवफ केही।।
दर
ू हु याभु रूऩ गुन सागय। सो वफतानु सतहुॉ रोक उजागय।।

जनक बवन कै सौबा जैसी। गृह गृह प्रसत ऩुय दे ष्िअ तैसी।।
जेकहॊ तेयहुसत तेकह सभम सनहायी। तेकह रघु रगकहॊ बुवन दस चायी।।
जो सॊऩदा नीच गृह सोहा। सो वफरोकक सुयनामक भोहा।।
दो0-फसइ नगय जेकह रछछ करय कऩट नारय फय फेषु।।
तेकह ऩुय कै सोबा कहत सकुचकहॊ सायद सेषु।।289।।
–*–*–
ऩहुॉचे दत
ू याभ ऩुय ऩावन। हयषे नगय वफरोकक सुहावन।।

बूऩ द्वाय सतन्ह िफरय जनाई। दसयथ नृऩ सुसन सरए फोराई।।
करय प्रनाभु सतन्ह ऩाती दीन्ही। भुकदत भहीऩ आऩु उकठ रीन्ही।।
फारय वफरोचन फाचत ऩाॉती। ऩुरक गात आई बरय छाती।।
याभु रिनु उय कय फय चीठी। यकह गए कहत न िाटी भीठी।।
ऩुसन धरय धीय ऩवत्रका फाॉची। हयषी सबा फात सुसन साॉची।।
िेरत यहे तहाॉ सुसध ऩाई। आए बयतु सकहत कहत बाई।।
ऩूछत असत सनेहॉ सकुचाई। तात कहाॉ तईऄ ऩाती आई।।
दो0-कुसर प्रानवप्रम फॊधु दोउ अहकहॊ कहहु केकहॊ दे स।

सुसन सनेह साने फचन फाची फहुरय नये स।।290।।
–*–*–
सुसन ऩाती ऩुरके दोउ र्भ्ाता। असधक सनेहु सभात न गाता।।
प्रीसत ऩुनीत बयत कै दे िी। सकर सबाॉ सुिु रहे उ वफसेषी।।
तफ नृऩ दत
ू सनकट फैठाये । भधुय भनोहय फचन उचाये ।।

बैमा कहहु कुसर दोउ फाये । तुम्ह नीकईऄ सनज नमन सनहाये ।।

स्माभर गौय धयईऄ धनु बाथा। फम ककसोय कौससक भुसन साथा।।
ऩकहचानहु तुम्ह कहहु सुबाऊ। प्रेभ वफफस ऩुसन ऩुसन कह याऊ।।
जा कदन तईऄ भुसन गए रवाई। तफ तईऄ आजु साॉसच सुसध ऩाई।।

कहहु वफदे ह कवन वफसध जाने। सुसन वप्रम फचन दत
ू भुसकाने।।
दो0-सुनहु भहीऩसत भुकुट भसन तुम्ह सभ धन्म न कोउ।

याभु रिनु ष्जन्ह के तनम वफस्व वफबूषन दोउ।।291।।
–*–*–
ऩूछन जोगु न तनम तुम्हाये । ऩुरुषससॊघ सतहु ऩुय उष्जआये ।।

ष्जन्ह के जस प्रताऩ कईऄ आगे। ससस भरीन यवफ सीतर रागे।।

108

सतन्ह कहॉ ककहअ नाथ ककसभ चीन्हे । दे ष्िअ यवफ कक दीऩ कय रीन्हे ।।
सीम स्वमॊफय बूऩ अनेका। ससभटे सुबट एक तईऄ एका।।
सॊबु सयासनु काहुॉ न टाया। हाये सकर फीय फरयआया।।

तीसन रोक भहॉ जे बटभानी। सब कै सकसत सॊबु धनु बानी।।
सकइ उठाइ सयासुय भेरू। सोउ कहमॉ हारय गमउ करय पेरू।।
जेकह कौतुक ससवसैरु उठावा। सोउ तेकह सबाॉ ऩयाबउ ऩावा।।
दो0-तहाॉ याभ यघुफॊस भसन सुसनअ भहा भकहऩार।
बॊजेउ चाऩ प्रमास वफनु ष्जसभ गज ऩॊकज नार।।292।।
–*–*–
सुसन सयोष बृगुनामकु आए। फहुत बाॉसत सतन्ह आॉष्ि दे िाए।।

दे ष्ि याभ फरु सनज धनु दीन्हा। करय फहु वफनम गवनु फन कीन्हा।।
याजन याभु अतुरफर जैसईऄ। तेज सनधान रिनु ऩुसन तैसईऄ।।

कॊऩकह बूऩ वफरोकत जाकईऄ। ष्जसभ गज हरय ककसोय के ताकईऄ।।
दे व दे ष्ि तव फारक दोऊ। अफ न आॉष्ि तय आवत कोऊ।।
दत
ू फचन यचना वप्रम रागी। प्रेभ प्रताऩ फीय यस ऩागी।।
सबा सभेत याउ अनुयागे। दत
ू न्ह दे न सनछावरय रागे।।

ककह अनीसत ते भूदकहॊ काना। धयभु वफचारय सफकहॊ सुि भाना।।
दो0-तफ उकठ बूऩ फससष्ठ कहुॉ दीष्न्ह ऩवत्रका जाइ।

कथा सुनाई गुयकह सफ सादय दत
ू फोराइ।।293।।
–*–*–
सुसन फोरे गुय असत सुिु ऩाई। ऩुन्म ऩुरुष कहुॉ भकह सुि छाई।।
ष्जसभ सरयता सागय भहुॉ जाहीॊ। जयवऩ ताकह काभना नाहीॊ।।

सतसभ सुि सॊऩसत वफनकहॊ फोराएॉ। धयभसीर ऩकहॊ जाकहॊ सुबाएॉ।।
तुम्ह गुय वफप्र धेनु सुय सेफी। तसस ऩुनीत कौसल्मा दे फी।।
सुकृती तुम्ह सभान जग भाहीॊ। बमउ न है कोउ होनेउ नाहीॊ।।
तुम्ह ते असधक ऩुन्म फड़ काकईऄ। याजन याभ सरयस सुत जाकईऄ।।
फीय वफनीत धयभ ब्रत धायी। गुन सागय फय फारक चायी।।
तुम्ह कहुॉ सफा कार कल्माना। सजहु फयात फजाइ सनसाना।।
दो0-चरहु फेसग सुसन गुय फचन बरेकहॊ नाथ ससरु नाइ।

बूऩसत गवने बवन तफ दत
ू न्ह फासु दे वाइ।।294।।
–*–*–
याजा सफु यसनवास फोराई। जनक ऩवत्रका फासच सुनाई।।
सुसन सॊदेसु सकर हयषानीॊ। अऩय कथा सफ बूऩ फिानीॊ।।

109

प्रेभ प्रपुष्ल्रत याजकहॊ यानी। भनहुॉ ससष्िसन सुसन फारयद फनी।।
भुकदत असीस दे कहॊ गुरु नायीॊ। असत आनॊद भगन भहतायीॊ।।

रेकहॊ ऩयस्ऩय असत वप्रम ऩाती। रृदमॉ रगाइ जुड़ावकहॊ छाती।।
याभ रिन कै कीयसत कयनी। फायकहॊ फाय बूऩफय फयनी।।
भुसन प्रसाद ु ककह द्वाय ससधाए। यासनन्ह तफ भकहदे व फोराए।।
कदए दान आनॊद सभेता। चरे वफप्रफय आससष दे ता।।

सो0-जाचक सरए हॉ कारय दीष्न्ह सनछावरय कोकट वफसध।
सचरु जीवहुॉ सुत चारय चक्रफसता दसयत्थ के।।295।।

कहत चरे ऩकहयईऄ ऩट नाना। हयवष हने गहगहे सनसाना।।
सभाचाय सफ रोगन्ह ऩाए। रागे घय घय होने फधाए।।
बुवन चारय दस बया उछाहू। जनकसुता यघुफीय वफआहू।।

सुसन सुब कथा रोग अनुयागे। भग गृह गरीॊ सॉवायन रागे।।
जयवऩ अवध सदै व सुहावसन। याभ ऩुयी भॊगरभम ऩावसन।।
तदवऩ प्रीसत कै प्रीसत सुहाई। भॊगर यचना यची फनाई।।
ध्वज ऩताक ऩट चाभय चारु। छावा ऩयभ वफसचत्र फजारू।।
कनक करस तोयन भसन जारा। हयद दफ
ू दसध अछछत भारा।।
दो0-भॊगरभम सनज सनज बवन रोगन्ह यचे फनाइ।

फीथीॊ सीचीॊ चतुयसभ चौकईऄ चारु ऩुयाइ।।296।।
–*–*–
जहॉ तहॉ जूथ जूथ सभसर बासभसन। सष्ज नव सप्त सकर दसु त दासभसन।।
वफधुफदनीॊ भृग सावक रोचसन। सनज सरुऩ यसत भानु वफभोचसन।।
गावकहॊ भॊगर भॊजुर फानीॊ। सुसनकर यव करकॊकठ रजानीॊ।।
बूऩ बवन ककसभ जाइ फिाना। वफस्व वफभोहन यचेउ वफताना।।
भॊगर रब्म भनोहय नाना। याजत फाजत वफऩुर सनसाना।।
कतहुॉ वफरयद फॊदी उछचयहीॊ। कतहुॉ फेद धुसन बूसुय कयहीॊ।।
गावकहॊ सुॊदरय भॊगर गीता। रै रै नाभु याभु अरु सीता।।

फहुत उछाहु बवनु असत थोया। भानहुॉ उभसग चरा चहु ओया।।
दो0-सोबा दसयथ बवन कइ को कवफ फयनै ऩाय।

जहाॉ सकर सुय सीस भसन याभ रीन्ह अवताय।।297।।
–*–*–
बूऩ बयत ऩुसन सरए फोराई। हम गम स्मॊदन साजहु जाई।।
चरहु फेसग यघुफीय फयाता। सुनत ऩुरक ऩूये दोउ र्भ्ाता।।

बयत सकर साहनी फोराए। आमसु दीन्ह भुकदत उकठ धाए।।

110

यसच रुसच जीन तुयग सतन्ह साजे। फयन फयन फय फाष्ज वफयाजे।।
सुबग सकर सुकठ चॊचर कयनी। अम इव जयत धयत ऩग धयनी।।
नाना जासत न जाकहॊ फिाने। सनदरय ऩवनु जनु चहत उड़ाने।।
सतन्ह सफ छमर बए असवाया। बयत सरयस फम याजकुभाया।।
सफ सुॊदय सफ बूषनधायी। कय सय चाऩ तून ककट बायी।।
दो0- छये छफीरे छमर सफ सूय सुजान नफीन।
जुग ऩदचय असवाय प्रसत जे अससकरा प्रफीन।।298।।
–*–*–
फाॉधे वफयद फीय यन गाढ़े । सनकसस बए ऩुय फाहे य ठाढ़े ।।
पेयकहॊ चतुय तुयग गसत नाना। हयषकहॊ सुसन सुसन ऩवन सनसाना।।
यथ सायसथन्ह वफसचत्र फनाए। ध्वज ऩताक भसन बूषन राए।।
चवॉय चारु ककॊककन धुसन कयही। बानु जान सोबा अऩहयहीॊ।।
सावॉकयन अगसनत हम होते। ते सतन्ह यथन्ह सायसथन्ह जोते।।
सुॊदय सकर अरॊकृत सोहे । ष्जन्हकह वफरोकत भुसन भन भोहे ।।
जे जर चरकहॊ थरकह की नाई। टाऩ न फूड़ फेग असधकाई।।
अस्त्र सस्त्र सफु साजु फनाई। यथी सायसथन्ह सरए फोराई।।
दो0-चकढ़ चकढ़ यथ फाहे य नगय रागी जुयन फयात।
होत सगुन सुन्दय सफकह जो जेकह कायज जात।।299।।
–*–*–
कसरत करयफयष्न्ह ऩयीॊ अॉफायीॊ। ककह न जाकहॊ जेकह बाॉसत सॉवायीॊ।।
चरे भत्तगज घॊट वफयाजी। भनहुॉ सुबग सावन घन याजी।।

फाहन अऩय अनेक वफधाना। ससवफका सुबग सुिासन जाना।।
सतन्ह चकढ़ चरे वफप्रफय फृन्दा। जनु तनु धयईऄ सकर श्रुसत छॊ दा।।
भागध सूत फॊकद गुनगामक। चरे जान चकढ़ जो जेकह रामक।।
फेसय ऊॉट फृषब फहु जाती। चरे फस्तु बरय अगसनत बाॉती।।
कोकटन्ह काॉवरय चरे कहाया। वफवफध फस्तु को फयनै ऩाया।।

चरे सकर सेवक सभुदाई। सनज सनज साजु सभाजु फनाई।।
दो0-सफ कईऄ उय सनबाय हयषु ऩूरयत ऩुरक सयीय।
कफकहॊ दे ष्िफे नमन बरय याभु रिनू दोउ फीय।।300।।
–*–*–
गयजकहॊ गज घॊटा धुसन घोया। यथ यव फाष्ज कहॊ स चहु ओया।।

सनदरय घनकह घुम्भायकहॊ सनसाना। सनज ऩयाइ कछु सुसनअ न काना।।
भहा बीय बूऩसत के द्वायईऄ । यज होइ जाइ ऩषान ऩफायईऄ ।।

111

चढ़ी अटारयन्ह दे िकहॊ नायीॊ। सरॉएॉ आयती भॊगर थायी।।
गावकहॊ गीत भनोहय नाना। असत आनॊद ु न जाइ फिाना।।

तफ सुभॊत्र दइ
ु स्ऩॊदन साजी। जोते यवफ हम सनॊदक फाजी।।

दोउ यथ रुसचय बूऩ ऩकहॊ आने। नकहॊ सायद ऩकहॊ जाकहॊ फिाने।।
याज सभाजु एक यथ साजा। दस
ू य तेज ऩुॊज असत र्भ्ाजा।।
दो0-तेकहॊ यथ रुसचय फससष्ठ कहुॉ हयवष चढ़ाइ नये सु।

आऩु चढ़े उ स्ऩॊदन सुसभरय हय गुय गौरय गनेसु।।301।।
–*–*–
सकहत फससष्ठ सोह नृऩ कैसईऄ। सुय गुय सॊग ऩुयॊदय जैसईऄ।।
करय कुर यीसत फेद वफसध याऊ। दे ष्ि सफकह सफ बाॉसत फनाऊ।।
सुसभरय याभु गुय आमसु ऩाई। चरे भहीऩसत सॊि फजाई।।
हयषे वफफुध वफरोकक फयाता। फयषकहॊ सुभन सुभॊगर दाता।।
बमउ कोराहर हम गम गाजे। ब्मोभ फयात फाजने फाजे।।
सुय नय नारय सुभॊगर गाई। सयस याग फाजकहॊ सहनाई।।
घॊट घॊकट धुसन फयसन न जाहीॊ। सयव कयकहॊ ऩाइक पहयाहीॊ।।
कयकहॊ वफदष
ू क कौतुक नाना। हास कुसर कर गान सुजाना ।
दो0-तुयग नचावकहॊ कुॉअय फय अकसन भृदॊग सनसान।।

नागय नट सचतवकहॊ चककत डगकहॊ न तार फॉधान।।302।।
–*–*–
फनइ न फयनत फनी फयाता। होकहॊ सगुन सुॊदय सुबदाता।।
चाया चाषु फाभ कदसस रेई। भनहुॉ सकर भॊगर ककह दे ई।।
दाकहन काग सुिेत सुहावा। नकुर दयसु सफ काहूॉ ऩावा।।

सानुकूर फह वत्रवफध फमायी। सघट सवार आव फय नायी।।
रोवा कपरय कपरय दयसु दे िावा। सुयबी सनभुि सससुकह वऩआवा।।
भृगभारा कपरय दाकहसन आई। भॊगर गन जनु दीष्न्ह दे िाई।।
छे भकयी कह छे भ वफसेषी। स्माभा फाभ सुतरु ऩय दे िी।।
सनभुि आमउ दसध अरु भीना। कय ऩुस्तक दइ
ु वफप्र प्रफीना।।
दो0-भॊगरभम कल्मानभम असबभत पर दाताय।

जनु सफ साचे होन कहत बए सगुन एक फाय।।303।।
–*–*–
भॊगर सगुन सुगभ सफ ताकईऄ। सगुन ब्रह्म सुॊदय सुत जाकईऄ।।
याभ सरयस फरु दर
ु कहसन सीता। सभधी दसयथु जनकु ऩुनीता।।

सुसन अस ब्माहु सगुन सफ नाचे। अफ कीन्हे वफयॊ सच हभ साॉचे।।

112

एकह वफसध कीन्ह फयात ऩमाना। हम गम गाजकहॊ हने सनसाना।।
आवत जासन बानुकुर केतू। सरयतष्न्ह जनक फॉधाए सेतू।।
फीच फीच फय फास फनाए। सुयऩुय सरयस सॊऩदा छाए।।
असन समन फय फसन सुहाए। ऩावकहॊ सफ सनज सनज भन बाए।।
सनत नूतन सुि रष्ि अनुकूरे। सकर फयासतन्ह भॊकदय बूरे।।
दो0-आवत जासन फयात फय सुसन गहगहे सनसान।
सष्ज गज यथ ऩदचय तुयग रेन चरे अगवान।।304।।
भासऩायामण,दसवाॉ ववश्राभ
–*–*–
कनक करस बरय कोऩय थाया। बाजन रसरत अनेक प्रकाया।।
बये सुधासभ सफ ऩकवाने। नाना बाॉसत न जाकहॊ फिाने।।
पर अनेक फय फस्तु सुहाईं। हयवष बईऄट कहत बूऩ ऩठाईं।।
बूषन फसन भहाभसन नाना। िग भृग हम गम फहुवफसध जाना।।
भॊगर सगुन सुगॊध सुहाए। फहुत बाॉसत भकहऩार ऩठाए।।

दसध सचउया उऩहाय अऩाया। बरय बरय काॉवरय चरे कहाया।।
अगवानन्ह जफ दीष्ि फयाता।उय आनॊद ु ऩुरक बय गाता।।

दे ष्ि फनाव सकहत अगवाना। भुकदत फयासतन्ह हने सनसाना।।
दो0-हयवष ऩयसऩय सभरन कहत कछुक चरे फगभेर।
जनु आनॊद सभुर दइ
ु सभरत वफहाइ सुफेर।।305।।
–*–*–
फयवष सुभन सुय सुॊदरय गावकहॊ । भुकदत दे व दॊ द
ु ब
ु ीॊ फजावकहॊ ।।

फस्तु सकर यािीॊ नृऩ आगईऄ। वफनम कीन्ह सतन्ह असत अनुयागईऄ।।
प्रेभ सभेत यामॉ सफु रीन्हा। बै फकसीस जाचकष्न्ह दीन्हा।।
करय ऩूजा भान्मता फड़ाई। जनवासे कहुॉ चरे रवाई।।

फसन वफसचत्र ऩाॉवड़े ऩयहीॊ। दे ष्ि धनहु धन भद ु ऩरयहयहीॊ।।

असत सुॊदय दीन्हे उ जनवासा। जहॉ सफ कहुॉ सफ बाॉसत सुऩासा।।
जानी ससमॉ फयात ऩुय आई। कछु सनज भकहभा प्रगकट जनाई।।
रृदमॉ सुसभरय सफ ससवद्ध फोराई। बूऩ ऩहुनई कयन ऩठाई।।
दो0-सससध सफ ससम आमसु अकसन गईं जहाॉ जनवास।

सरएॉ सॊऩदा सकर सुि सुयऩुय बोग वफरास।।306।।
–*–*–
सनज सनज फास वफरोकक फयाती। सुय सुि सकर सुरब सफ बाॉती।।
वफबव बेद कछु कोउ न जाना। सकर जनक कय कयकहॊ फिाना।।

113

ससम भकहभा यघुनामक जानी। हयषे रृदमॉ हे तु ऩकहचानी।।
वऩतु आगभनु सुनत दोउ बाई। रृदमॉ न असत आनॊद ु अभाई।।

सकुचन्ह ककह न सकत गुरु ऩाहीॊ। वऩतु दयसन रारचु भन भाहीॊ।।
वफस्वासभत्र वफनम फकड़ दे िी। उऩजा उय सॊतोषु वफसेषी।।
हयवष फॊधु दोउ रृदमॉ रगाए। ऩुरक अॊग अॊफक जर छाए।।
चरे जहाॉ दसयथु जनवासे। भनहुॉ सयोफय तकेउ वऩआसे।।
दो0- बूऩ वफरोके जफकहॊ भुसन आवत सुतन्ह सभेत।

उठे हयवष सुिससॊधु भहुॉ चरे थाह सी रेत।।307।।
–*–*–
भुसनकह दॊ डवत कीन्ह भहीसा। फाय फाय ऩद यज धरय सीसा।।
कौससक याउ सरमे उय राई। ककह असीस ऩूछी कुसराई।।
ऩुसन दॊ डवत कयत दोउ बाई। दे ष्ि नृऩसत उय सुिु न सभाई।।
सुत कहमॉ राइ दस
ु ह दि
ु भेटे। भृतक सयीय प्रान जनु बईऄटे।।

ऩुसन फससष्ठ ऩद ससय सतन्ह नाए। प्रेभ भुकदत भुसनफय उय राए।।
वफप्र फृॊद फॊदे दह
ु ुॉ बाईं। भन बावती असीसईऄ ऩाईं।।

बयत सहानुज कीन्ह प्रनाभा। सरए उठाइ राइ उय याभा।।
हयषे रिन दे ष्ि दोउ र्भ्ाता। सभरे प्रेभ ऩरयऩूरयत गाता।।
दो0-ऩुयजन ऩरयजन जासतजन जाचक भॊत्री भीत।
सभरे जथावफसध सफकह प्रबु ऩयभ कृ ऩार वफनीत।।308।।
–*–*–
याभकह दे ष्ि फयात जुड़ानी। प्रीसत कक यीसत न जासत फिानी।।
नृऩ सभीऩ सोहकहॊ सुत चायी। जनु धन धयभाकदक तनुधायी।।
सुतन्ह सभेत दसयथकह दे िी। भुकदत नगय नय नारय वफसेषी।।
सुभन फरयसस सुय हनकहॊ सनसाना। नाकनटीॊ नाचकहॊ करय गाना।।
सतानॊद अरु वफप्र ससचव गन। भागध सूत वफदष
ु फॊदीजन।।
सकहत फयात याउ सनभाना। आमसु भासग कपये अगवाना।।
प्रथभ फयात रगन तईऄ आई। तातईऄ ऩुय प्रभोद ु असधकाई।।

ब्रह्मानॊद ु रोग सफ रहहीॊ। फढ़हुॉ कदवस सनसस वफसध सन कहहीॊ।।
दो0-याभु सीम सोबा अवसध सुकृत अवसध दोउ याज।

जहॉ जहॉ ऩुयजन कहकहॊ अस सभसर नय नारय सभाज।।।309।।
–*–*–
जनक सुकृत भूयसत फैदेही। दसयथ सुकृत याभु धयईऄ दे ही।।
इन्ह सभ काॉहु न ससव अवयाधे। काकहॉ न इन्ह सभान पर राधे।।

114

इन्ह सभ कोउ न बमउ जग भाहीॊ। है नकहॊ कतहूॉ होनेउ नाहीॊ।।

हभ सफ सकर सुकृत कै यासी। बए जग जनसभ जनकऩुय फासी।।
ष्जन्ह जानकी याभ छवफ दे िी। को सुकृती हभ सरयस वफसेषी।।
ऩुसन दे िफ यघुफीय वफआहू। रेफ बरी वफसध रोचन राहू।।

कहकहॊ ऩयसऩय कोककरफमनीॊ। एकह वफआहॉ फड़ राबु सुनमनीॊ।।
फड़ईऄ बाग वफसध फात फनाई। नमन असतसथ होइहकहॊ दोउ बाई।।
दो0-फायकहॊ फाय सनेह फस जनक फोराउफ सीम।
रेन आइहकहॊ फॊधु दोउ कोकट काभ कभनीम।।310।।
–*–*–
वफवफध बाॉसत होइकह ऩहुनाई। वप्रम न काकह अस सासुय भाई।।

तफ तफ याभ रिनकह सनहायी। होइहकहॊ सफ ऩुय रोग सुिायी।।
सष्ि जस याभ रिनकय जोटा। तैसेइ बूऩ सॊग दइ
ु ढोटा।।
स्माभ गौय सफ अॊग सुहाए। ते सफ कहकहॊ दे ष्ि जे आए।।
कहा एक भईआ आजु सनहाये । जनु वफयॊ सच सनज हाथ सॉवाये ।।
बयतु याभही की अनुहायी। सहसा रष्ि न सककहॊ नय नायी।।
रिनु सत्रुसूदनु एकरूऩा। नि ससि ते सफ अॊग अनूऩा।।
भन बावकहॊ भुि फयसन न जाहीॊ। उऩभा कहुॉ वत्रबुवन कोउ नाहीॊ।।
छॊ 0-उऩभा न कोउ कह दास तुरसी कतहुॉ कवफ कोवफद कहईआ ।
फर वफनम वफया सीर सोबा ससॊधु इन्ह से एइ अहईआ ।।

ऩुय नारय सकर ऩसारय अॊचर वफसधकह फचन सुनावहीॊ।।
ब्माकहअहुॉ चारयउ बाइ एकहॊ ऩुय हभ सुभॊगर गावहीॊ।।
सो0-कहकहॊ ऩयस्ऩय नारय फारय वफरोचन ऩुरक तन।

सष्ि सफु कयफ ऩुयारय ऩुन्म ऩमोसनसध बूऩ दोउ।।311।।
एकह वफसध सकर भनोयथ कयहीॊ। आनॉद उभसग उभसग उय बयहीॊ।।
जे नृऩ सीम स्वमॊफय आए। दे ष्ि फॊधु सफ सतन्ह सुि ऩाए।।
कहत याभ जसु वफसद वफसारा। सनज सनज बवन गए भकहऩारा।।
गए फीसत कुछ कदन एकह बाॉती। प्रभुकदत ऩुयजन सकर फयाती।।
भॊगर भूर रगन कदनु आवा। कहभ रयतु अगहनु भासु सुहावा।।
ग्रह सतसथ नितु जोगु फय फारू। रगन सोसध वफसध कीन्ह वफचारू।।
ऩठै दीष्न्ह नायद सन सोई। गनी जनक के गनकन्ह जोई।।
सुनी सकर रोगन्ह मह फाता। कहकहॊ जोसतषी आकहॊ वफधाता।।
दो0-धेनुधूरय फेरा वफभर सकर सुभॊगर भूर।

115

वफप्रन्ह कहे उ वफदे ह सन जासन सगुन अनुकुर।।312।।
–*–*–
उऩयोकहतकह कहे उ नयनाहा। अफ वफरॊफ कय कायनु काहा।।
सतानॊद तफ ससचव फोराए। भॊगर सकर साष्ज सफ ल्माए।।
सॊि सनसान ऩनव फहु फाजे। भॊगर करस सगुन सुब साजे।।

सुबग सुआसससन गावकहॊ गीता। कयकहॊ फेद धुसन वफप्र ऩुनीता।।
रेन चरे सादय एकह बाॉती। गए जहाॉ जनवास फयाती।।

कोसरऩसत कय दे ष्ि सभाजू। असत रघु राग सतन्हकह सुययाजू।।
बमउ सभउ अफ धारयअ ऩाऊ। मह सुसन ऩया सनसानकहॊ घाऊ।।
गुयकह ऩूसछ करय कुर वफसध याजा। चरे सॊग भुसन साधु सभाजा।।
दो0-बाग्म वफबव अवधेस कय दे ष्ि दे व ब्रह्माकद।
रगे सयाहन सहस भुि जासन जनभ सनज फाकद।।313।।
–*–*–
सुयन्ह सुभॊगर अवसरु जाना। फयषकहॊ सुभन फजाइ सनसाना।।
ससव ब्रह्माकदक वफफुध फरूथा। चढ़े वफभानष्न्ह नाना जूथा।।
प्रेभ ऩुरक तन रृदमॉ उछाहू। चरे वफरोकन याभ वफआहू।।

दे ष्ि जनकऩुरु सुय अनुयागे। सनज सनज रोक सफकहॊ रघु रागे।।
सचतवकहॊ चककत वफसचत्र वफताना। यचना सकर अरौककक नाना।।
नगय नारय नय रूऩ सनधाना। सुघय सुधयभ सुसीर सुजाना।।
सतन्हकह दे ष्ि सफ सुय सुयनायीॊ। बए नित जनु वफधु उष्जआयीॊ।।
वफसधकह बमह आचयजु वफसेषी। सनज कयनी कछु कतहुॉ न दे िी।।
दो0-ससवॉ सभुझाए दे व सफ जसन आचयज बुराहु।

रृदमॉ वफचायहु धीय धरय ससम यघुफीय वफआहु।।314।।
–*–*–
ष्जन्ह कय नाभु रेत जग भाहीॊ। सकर अभॊगर भूर नसाहीॊ।।
कयतर होकहॊ ऩदायथ चायी। तेइ ससम याभु कहे उ काभायी।।
एकह वफसध सॊबु सुयन्ह सभुझावा। ऩुसन आगईऄ फय फसह चरावा।।
दे वन्ह दे िे दसयथु जाता। भहाभोद भन ऩुरककत गाता।।
साधु सभाज सॊग भकहदे वा। जनु तनु धयईऄ कयकहॊ सुि सेवा।।
सोहत साथ सुबग सुत चायी। जनु अऩफयग सकर तनुधायी।।
भयकत कनक फयन फय जोयी। दे ष्ि सुयन्ह बै प्रीसत न थोयी।।
ऩुसन याभकह वफरोकक कहमॉ हयषे। नृऩकह सयाकह सुभन सतन्ह फयषे।।
दो0-याभ रूऩु नि ससि सुबग फायकहॊ फाय सनहारय।

116

ऩुरक गात रोचन सजर उभा सभेत ऩुयारय।।315।।
–*–*–
केकक कॊठ दसु त स्माभर अॊगा। तकड़त वफसनॊदक फसन सुयॊगा।।
ब्माह वफबूषन वफवफध फनाए। भॊगर सफ सफ बाॉसत सुहाए।।

सयद वफभर वफधु फदनु सुहावन। नमन नवर याजीव रजावन।।
सकर अरौककक सुॊदयताई। ककह न जाइ भनहीॊ भन बाई।।
फॊधु भनोहय सोहकहॊ सॊगा। जात नचावत चऩर तुयॊगा।।
याजकुअॉय फय फाष्ज दे िावकहॊ । फॊस प्रसॊसक वफरयद सुनावकहॊ ।।
जेकह तुयॊग ऩय याभु वफयाजे। गसत वफरोकक िगनामकु राजे।।
ककह न जाइ सफ बाॉसत सुहावा। फाष्ज फेषु जनु काभ फनावा।।
छॊ 0-जनु फाष्ज फेषु फनाइ भनससजु याभ कहत असत सोहई।
आऩनईऄ फम फर रूऩ गुन गसत सकर बुवन वफभोहई।।
जगभगत जीनु जयाव जोसत सुभोसत भसन भासनक रगे।
ककॊककसन रराभ रगाभु रसरत वफरोकक सुय नय भुसन ठगे।।
दो0-प्रबु भनसकहॊ रमरीन भनु चरत फाष्ज छवफ ऩाव।
बूवषत उड़गन तकड़त घनु जनु फय फयकह नचाव।।316।।
–*–*–
जेकहॊ फय फाष्ज याभु असवाया। तेकह सायदउ न फयनै ऩाया।।
सॊकरु याभ रूऩ अनुयागे। नमन ऩॊचदस असत वप्रम रागे।।
हरय कहत सकहत याभु जफ जोहे । यभा सभेत यभाऩसत भोहे ।।
सनयष्ि याभ छवफ वफसध हयषाने। आठइ नमन जासन ऩसछताने।।
सुय सेनऩ उय फहुत उछाहू। वफसध ते डे वढ़ रोचन राहू।।

याभकह सचतव सुयेस सुजाना। गौतभ श्राऩु ऩयभ कहत भाना।।
दे व सकर सुयऩसतकह ससहाहीॊ। आजु ऩुयॊदय सभ कोउ नाहीॊ।।
भुकदत दे वगन याभकह दे िी। नृऩसभाज दह
ु ुॉ हयषु वफसेषी।।
छॊ 0-असत हयषु याजसभाज दह
ु ु कदसस दॊ द
ु ब
ु ीॊ फाजकहॊ घनी।

फयषकहॊ सुभन सुय हयवष ककह जम जमसत जम यघुकुरभनी।।
एकह बाॉसत जासन फयात आवत फाजने फहु फाजहीॊ।

यासन सुआसससन फोसर ऩरयछसन हे तु भॊगर साजहीॊ।।
दो0-सष्ज आयती अनेक वफसध भॊगर सकर सॉवारय।
चरीॊ भुकदत ऩरयछसन कयन गजगासभसन फय नारय।।317।।
–*–*–
वफधुफदनीॊ सफ सफ भृगरोचसन। सफ सनज तन छवफ यसत भद ु भोचसन।।

117

ऩकहयईऄ फयन फयन फय चीया। सकर वफबूषन सजईऄ सयीया।।
सकर सुभॊगर अॊग फनाएॉ। कयकहॊ गान करकॊकठ रजाएॉ।।
कॊकन ककॊककसन नूऩुय फाजकहॊ । चासर वफरोकक काभ गज राजकहॊ ।।
फाजकहॊ फाजने वफवफध प्रकाया। नब अरु नगय सुभॊगरचाया।।
सची सायदा यभा बवानी। जे सुयसतम सुसच सहज समानी।।
कऩट नारय फय फेष फनाई। सभरीॊ सकर यसनवासकहॊ जाई।।
कयकहॊ गान कर भॊगर फानीॊ। हयष वफफस सफ काहुॉ न जानी।।
छॊ 0-को जान केकह आनॊद फस सफ ब्रह्मु फय ऩरयछन चरी।
कर गान भधुय सनसान फयषकहॊ सुभन सुय सोबा बरी।।
आनॊदकॊद ु वफरोकक दर
ू हु सकर कहमॉ हयवषत बई।।
अॊबोज अॊफक अॊफु उभसग सुअॊग ऩुरकावसर छई।।

दो0-जो सुि बा ससम भातु भन दे ष्ि याभ फय फेषु।
सो न सककहॊ ककह करऩ सत सहस सायदा सेषु।।318।।
–*–*–
नमन नीरु हकट भॊगर जानी। ऩरयछसन कयकहॊ भुकदत भन यानी।।
फेद वफकहत अरु कुर आचारू। कीन्ह बरी वफसध सफ ब्मवहारू।।
ऩॊच सफद धुसन भॊगर गाना। ऩट ऩाॉवड़े ऩयकहॊ वफसध नाना।।
करय आयती अयघु सतन्ह दीन्हा। याभ गभनु भॊडऩ तफ कीन्हा।।
दसयथु सकहत सभाज वफयाजे। वफबव वफरोकक रोकऩसत राजे।।

सभमॉ सभमॉ सुय फयषकहॊ पूरा। साॊसत ऩढ़कहॊ भकहसुय अनुकूरा।।
नब अरु नगय कोराहर होई। आऩसन ऩय कछु सुनइ न कोई।।
एकह वफसध याभु भॊडऩकहॊ आए। अयघु दे इ आसन फैठाए।।
छॊ 0-फैठारय आसन आयती करय सनयष्ि फरु सुिु ऩावहीॊ।।
भसन फसन बूषन बूरय वायकहॊ नारय भॊगर गावहीॊ।।
ब्रह्माकद सुयफय वफप्र फेष फनाइ कौतुक दे िहीॊ।
अवरोकक यघुकुर कभर यवफ छवफ सुपर जीवन रेिहीॊ।।
दो0-नाऊ फायी बाट नट याभ सनछावरय ऩाइ।
भुकदत असीसकहॊ नाइ ससय हयषु न रृदमॉ सभाइ।।319।।
–*–*–
सभरे जनकु दसयथु असत प्रीतीॊ। करय फैकदक रौककक सफ यीतीॊ।।
सभरत भहा दोउ याज वफयाजे। उऩभा िोष्ज िोष्ज कवफ राजे।।
रही न कतहुॉ हारय कहमॉ भानी। इन्ह सभ एइ उऩभा उय आनी।।

118

साभध दे ष्ि दे व अनुयागे। सुभन फयवष जसु गावन रागे।।
जगु वफयॊ सच उऩजावा जफ तईऄ। दे िे सुने ब्माह फहु तफ तईऄ।।

सकर बाॉसत सभ साजु सभाजू। सभ सभधी दे िे हभ आजू।।
दे व सगया सुसन सुॊदय साॉची। प्रीसत अरौककक दह
ु ु कदसस भाची।।
दे त ऩाॉवड़े अयघु सुहाए। सादय जनकु भॊडऩकहॊ ल्माए।।

छॊ 0-भॊडऩु वफरोकक वफचीत्र यचनाॉ रुसचयताॉ भुसन भन हये ।।
सनज ऩासन जनक सुजान सफ कहुॉ आसन ससॊघासन धये ।।
कुर इि सरयस फससि ऩूजे वफनम करय आससष रही।

कौससककह ऩूजत ऩयभ प्रीसत कक यीसत तौ न ऩयै कही।।
दो0-फाभदे व आकदक रयषम ऩूजे भुकदत भहीस।
कदए कदब्म आसन सफकह सफ सन रही असीस।।320।।
–*–*–
फहुरय कीन्ह कोसरऩसत ऩूजा। जासन ईस सभ बाउ न दज
ू ा।।

कीन्ह जोरय कय वफनम फड़ाई। ककह सनज बाग्म वफबव फहुताई।।
ऩूजे बूऩसत सकर फयाती। सभसध सभ सादय सफ बाॉती।।

आसन उसचत कदए सफ काहू। कहं काह भूि एक उछाहू।।

सकर फयात जनक सनभानी। दान भान वफनती फय फानी।।
वफसध हरय हरु कदससऩसत कदनयाऊ। जे जानकहॊ यघुफीय प्रबाऊ।।
कऩट वफप्र फय फेष फनाएॉ। कौतुक दे िकहॊ असत सचु ऩाएॉ।।
ऩूजे जनक दे व सभ जानईऄ। कदए सुआसन वफनु ऩकहचानईऄ।।
छॊ 0-ऩकहचान को केकह जान सफकहॊ अऩान सुसध बोयी बई।
आनॊद कॊद ु वफरोकक दर
ू हु उबम कदसस आनॉद भई।।
सुय रिे याभ सुजान ऩूजे भानससक आसन दए।

अवरोकक सीरु सुबाउ प्रबु को वफफुध भन प्रभुकदत बए।।
दो0-याभचॊर भुि चॊर छवफ रोचन चारु चकोय।
कयत ऩान सादय सकर प्रेभु प्रभोद ु न थोय।।321।।
–*–*–
सभउ वफरोकक फससष्ठ फोराए। सादय सतानॊद ु सुसन आए।।

फेसग कुअॉरय अफ आनहु जाई। चरे भुकदत भुसन आमसु ऩाई।।
यानी सुसन उऩयोकहत फानी। प्रभुकदत सष्िन्ह सभेत समानी।।
वफप्र फधू कुरफृद्ध फोराईं। करय कुर यीसत सुभॊगर गाईं।।

नारय फेष जे सुय फय फाभा। सकर सुबामॉ सुॊदयी स्माभा।।
सतन्हकह दे ष्ि सुिु ऩावकहॊ नायीॊ। वफनु ऩकहचासन प्रानहु ते प्मायीॊ।।

119

फाय फाय सनभानकहॊ यानी। उभा यभा सायद सभ जानी।।
सीम सॉवारय सभाजु फनाई। भुकदत भॊडऩकहॊ चरीॊ रवाई।।
छॊ 0-चसर ल्माइ सीतकह सिीॊ सादय सष्ज सुभॊगर बासभनीॊ।
नवसप्त साजईऄ सुॊदयी सफ भत्त कुॊजय गासभनीॊ।।
कर गान सुसन भुसन ध्मान त्मागकहॊ काभ कोककर राजहीॊ।
भॊजीय नूऩुय कसरत कॊकन तार गती फय फाजहीॊ।।
दो0-सोहसत फसनता फृॊद भहुॉ सहज सुहावसन सीम।

छवफ ररना गन भध्म जनु सुषभा सतम कभनीम।।322।।
–*–*–
ससम सुॊदयता फयसन न जाई। रघु भसत फहुत भनोहयताई।।

आवत दीष्ि फयासतन्ह सीता।।रूऩ यासस सफ बाॉसत ऩुनीता।।
सफकह भनकहॊ भन ककए प्रनाभा। दे ष्ि याभ बए ऩूयनकाभा।।
हयषे दसयथ सुतन्ह सभेता। ककह न जाइ उय आनॉद ु जेता।।

सुय प्रनाभु करय फयसकहॊ पूरा। भुसन असीस धुसन भॊगर भूरा।।
गान सनसान कोराहरु बायी। प्रेभ प्रभोद भगन नय नायी।।
एकह वफसध सीम भॊडऩकहॊ आई। प्रभुकदत साॊसत ऩढ़कहॊ भुसनयाई।।
तेकह अवसय कय वफसध ब्मवहारू। दह
ु ुॉ कुरगुय सफ कीन्ह अचारू।।
छॊ 0-आचारु करय गुय गौरय गनऩसत भुकदत वफप्र ऩुजावहीॊ।
सुय प्रगकट ऩूजा रेकहॊ दे कहॊ असीस असत सुिु ऩावहीॊ।।
भधुऩका भॊगर रब्म जो जेकह सभम भुसन भन भहुॉ चहईआ ।

बये कनक कोऩय करस सो सफ सरएकहॊ ऩरयचायक यहईआ ।।1।।
कुर यीसत प्रीसत सभेत यवफ ककह दे त सफु सादय ककमो।
एकह बाॉसत दे व ऩुजाइ सीतकह सुबग ससॊघासनु कदमो।।
ससम याभ अवरोकसन ऩयसऩय प्रेभ काहु न रष्ि ऩयै ।।
भन फुवद्ध फय फानी अगोचय प्रगट कवफ कैसईऄ कयै ।।2।।
दो0-होभ सभम तनु धरय अनरु असत सुि आहुसत रेकहॊ ।

वफप्र फेष धरय फेद सफ ककह वफफाह वफसध दे कहॊ ।।323।।
–*–*–
जनक ऩाटभकहषी जग जानी। सीम भातु ककसभ जाइ फिानी।।
सुजसु सुकृत सुि सुदॊयताई। सफ सभेकट वफसध यची फनाई।।

120

सभउ जासन भुसनफयन्ह फोराई। सुनत सुआसससन सादय ल्माई।।
जनक फाभ कदसस सोह सुनमना। कहभसगरय सॊग फसन जनु भमना।।
कनक करस भसन कोऩय रूये । सुसच सुॊगध भॊगर जर ऩूये।।
सनज कय भुकदत यामॉ अरु यानी। धये याभ के आगईऄ आनी।।
ऩढ़कहॊ फेद भुसन भॊगर फानी। गगन सुभन झरय अवसरु जानी।।
फरु वफरोकक दॊ ऩसत अनुयागे। ऩाम ऩुनीत ऩिायन रागे।।
छॊ 0-रागे ऩिायन ऩाम ऩॊकज प्रेभ तन ऩुरकावरी।
नब नगय गान सनसान जम धुसन उभसग जनु चहुॉ कदसस चरी।।
जे ऩद सयोज भनोज अरय उय सय सदै व वफयाजहीॊ।

जे सकृ त सुसभयत वफभरता भन सकर कसर भर बाजहीॊ।।1।।
जे ऩयसस भुसनफसनता रही गसत यही जो ऩातकभई।
भकयॊ द ु ष्जन्ह को सॊबु ससय सुसचता अवसध सुय फयनई।।

करय भधुऩ भन भुसन जोसगजन जे सेइ असबभत गसत रहईआ ।
ते ऩद ऩिायत बाग्मबाजनु जनकु जम जम सफ कहै ।।2।।
फय कुअॉरय कयतर जोरय सािोचारु दोउ कुरगुय कयईआ ।
बमो ऩासनगहनु वफरोकक वफसध सुय भनुज भुसन आॉनद बयईआ ।।
सुिभूर दर
ू हु दे ष्ि दॊ ऩसत ऩुरक तन हुरस्मो कहमो।

करय रोक फेद वफधानु कन्मादानु नृऩबूषन ककमो।।3।।
कहभवॊत ष्जसभ सगरयजा भहे सकह हरयकह श्री सागय दई।
सतसभ जनक याभकह ससम सभयऩी वफस्व कर कीयसत नई।।
क्मं कयै वफनम वफदे हु ककमो वफदे हु भूयसत सावॉयी।

करय होभ वफसधवत गाॉकठ जोयी होन रागी बावॉयी।।4।।
दो0-जम धुसन फॊदी फेद धुसन भॊगर गान सनसान।
सुसन हयषकहॊ फयषकहॊ वफफुध सुयतरु सुभन सुजान।।324।।
–*–*–
कुअॉरु कुअॉरय कर बावॉरय दे हीॊ।।नमन राबु सफ सादय रेहीॊ।।
जाइ न फयसन भनोहय जोयी। जो उऩभा कछु कहं सो थोयी।।
याभ सीम सुॊदय प्रसतछाहीॊ। जगभगात भसन िॊबन भाहीॊ ।
भनहुॉ भदन यसत धरय फहु रूऩा। दे ित याभ वफआहु अनूऩा।।
दयस रारसा सकुच न थोयी। प्रगटत दयु त फहोरय फहोयी।।
बए भगन सफ दे िसनहाये । जनक सभान अऩान वफसाये ।।

प्रभुकदत भुसनन्ह बावॉयी पेयी। नेगसकहत सफ यीसत सनफेयीॊ।।

121

याभ सीम ससय सईऄदयु दे हीॊ। सोबा ककह न जासत वफसध केहीॊ।।

अरुन ऩयाग जरजु बरय नीकईऄ। सससकह बूष अकह रोब अभी कईऄ।।
फहुरय फससष्ठ दीन्ह अनुसासन। फरु दर
ु कहसन फैठे एक आसन।।
छॊ 0-फैठे फयासन याभु जानकक भुकदत भन दसयथु बए।

तनु ऩुरक ऩुसन ऩुसन दे ष्ि अऩनईऄ सुकृत सुयतरु पर नए।।
बरय बुवन यहा उछाहु याभ वफफाहु बा सफहीॊ कहा।

केकह बाॉसत फयसन ससयात यसना एक महु भॊगरु भहा।।1।।
तफ जनक ऩाइ फससष्ठ आमसु ब्माह साज सॉवारय कै।
भाॉडवी श्रुसतकीयसत उयसभरा कुअॉरय रईं हॉ कारय के।।
कुसकेतु कन्मा प्रथभ जो गुन सीर सुि सोबाभई।
सफ यीसत प्रीसत सभेत करय सो ब्माकह नृऩ बयतकह दई।।2।।
जानकी रघु बसगनी सकर सुॊदरय ससयोभसन जासन कै।
सो तनम दीन्ही ब्माकह रिनकह सकर वफसध सनभासन कै।।
जेकह नाभु श्रुतकीयसत सुरोचसन सुभुष्ि सफ गुन आगयी।
सो दई रयऩुसूदनकह बूऩसत रूऩ सीर उजागयी।।3।।
अनुरुऩ फय दर
ु कहसन ऩयस्ऩय रष्ि सकुच कहमॉ हयषहीॊ।
सफ भुकदत सुॊदयता सयाहकहॊ सुभन सुय गन फयषहीॊ।।
सुॊदयी सुॊदय फयन्ह सह सफ एक भॊडऩ याजहीॊ।
जनु जीव उय चारयउ अवस्था वफभुन सकहत वफयाजहीॊ।।4।।
दो0-भुकदत अवधऩसत सकर सुत फधुन्ह सभेत सनहारय।
जनु ऩाय भकहऩार भसन कक्रमन्ह सकहत पर चारय।।325।।
–*–*–
जसस यघुफीय ब्माह वफसध फयनी। सकर कुअॉय ब्माहे तेकहॊ कयनी।।
ककह न जाइ कछु दाइज बूयी। यहा कनक भसन भॊडऩु ऩूयी।।
कॊफर फसन वफसचत्र ऩटोये । बाॉसत बाॉसत फहु भोर न थोये ।।

गज यथ तुयग दास अरु दासी। धेनु अरॊकृत काभदह
ु ा सी।।

फस्तु अनेक करयअ ककसभ रेिा। ककह न जाइ जानकहॊ ष्जन्ह दे िा।।
रोकऩार अवरोकक ससहाने। रीन्ह अवधऩसत सफु सुिु भाने।।
दीन्ह जाचकष्न्ह जो जेकह बावा। उफया सो जनवासेकहॊ आवा।।
तफ कय जोरय जनकु भृद ु फानी। फोरे सफ फयात सनभानी।।
छॊ 0-सनभासन सकर फयात आदय दान वफनम फड़ाइ कै।
प्रभुकदत भहा भुसन फृॊद फॊदे ऩूष्ज प्रेभ रड़ाइ कै।।

122

ससरु नाइ दे व भनाइ सफ सन कहत कय सॊऩुट ककएॉ।
सुय साधु चाहत बाउ ससॊधु कक तोष जर अॊजसर कदएॉ।।1।।
कय जोरय जनकु फहोरय फॊधु सभेत कोसरयाम सं।
फोरे भनोहय फमन सासन सनेह सीर सुबाम सं।।
सॊफॊध याजन यावयईऄ हभ फड़े अफ सफ वफसध बए।
एकह याज साज सभेत सेवक जासनफे वफनु गथ रए।।2।।
ए दारयका ऩरयचारयका करय ऩासरफीॊ करुना नई।
अऩयाधु छसभफो फोसर ऩठए फहुत हं ढीट्मो कई।।

ऩुसन बानुकुरबूषन सकर सनभान सनसध सभधी ककए।
ककह जासत नकहॊ वफनती ऩयस्ऩय प्रेभ ऩरयऩूयन कहए।।3।।
फृॊदायका गन सुभन फरयसकहॊ याउ जनवासेकह चरे।
दॊ द
ु ब
ु ी जम धुसन फेद धुसन नब नगय कौतूहर बरे।।
तफ सिीॊ भॊगर गान कयत भुनीस आमसु ऩाइ कै।

दर
ू ह दर
ु कहसनन्ह सकहत सुॊदरय चरीॊ कोहफय ल्माइ कै।।4।।
दो0-ऩुसन ऩुसन याभकह सचतव ससम सकुचसत भनु सकुचै न।
हयत भनोहय भीन छवफ प्रेभ वऩआसे नैन।।326।।
भासऩायामण, ग्मायहवाॉ ववश्राभ
–*–*–
स्माभ सयीरु सुबामॉ सुहावन। सोबा कोकट भनोज रजावन।।
जावक जुत ऩद कभर सुहाए। भुसन भन भधुऩ यहत ष्जन्ह छाए।।
ऩीत ऩुनीत भनोहय धोती। हयसत फार यवफ दासभसन जोती।।
कर ककॊककसन ककट सूत्र भनोहय। फाहु वफसार वफबूषन सुॊदय।।
ऩीत जनेउ भहाछवफ दे ई। कय भुकरका चोरय सचतु रेई।।

सोहत ब्माह साज सफ साजे। उय आमत उयबूषन याजे।।
वऩअय उऩयना कािासोती। दह
ु ुॉ आॉचयष्न्ह रगे भसन भोती।।

नमन कभर कर कुॊडर काना। फदनु सकर संदजा सनधाना।।
सुॊदय बृकुकट भनोहय नासा। बार सतरकु रुसचयता सनवासा।।
सोहत भौरु भनोहय भाथे। भॊगरभम भुकुता भसन गाथे।।
छॊ 0-गाथे भहाभसन भौय भॊजुर अॊग सफ सचत चोयहीॊ।
ऩुय नारय सुय सुॊदयीॊ फयकह वफरोकक सफ सतन तोयहीॊ।।
भसन फसन बूषन वारय आयसत कयकहॊ भॊगर गावकहॊ ।
सुय सुभन फरयसकहॊ सूत भागध फॊकद सुजसु सुनावहीॊ।।1।।

123

कोहफयकहॊ आने कुॉअय कुॉअरय सुआसससनन्ह सुि ऩाइ कै।
असत प्रीसत रौककक यीसत रागीॊ कयन भॊगर गाइ कै।।
रहकौरय गौरय ससिाव याभकह सीम सन सायद कहईआ ।
यसनवासु हास वफरास यस फस जन्भ को परु सफ रहईआ ।।2।।
सनज ऩासन भसन भहुॉ दे ष्िअसत भूयसत सुरूऩसनधान की।

चारसत न बुजफल्री वफरोकसन वफयह बम फस जानकी।।
कौतुक वफनोद प्रभोद ु प्रेभु न जाइ ककह जानकहॊ अरीॊ।

फय कुअॉरय सुॊदय सकर सिीॊ रवाइ जनवासेकह चरीॊ।।3।।
तेकह सभम सुसनअ असीस जहॉ तहॉ नगय नब आनॉद ु भहा।
सचरु ष्जअहुॉ जोयीॊ चारु चायमो भुकदत भन सफहीॊ कहा।।
जोगीन्र ससद्ध भुनीस दे व वफरोकक प्रबु दॊ द
ु सु ब हनी।

चरे हयवष फयवष प्रसून सनज सनज रोक जम जम जम बनी।।4।।
दो0-सकहत फधूकटन्ह कुअॉय सफ तफ आए वऩतु ऩास।
सोबा भॊगर भोद बरय उभगेउ जनु जनवास।।327।।
–*–*–
ऩुसन जेवनाय बई फहु बाॉती। ऩठए जनक फोराइ फयाती।।

ऩयत ऩाॉवड़े फसन अनूऩा। सुतन्ह सभेत गवन ककमो बूऩा।।
सादय सफके ऩाम ऩिाये । जथाजोगु ऩीढ़न्ह फैठाये ।।
धोए जनक अवधऩसत चयना। सीरु सनेहु जाइ नकहॊ फयना।।
फहुरय याभ ऩद ऩॊकज धोए। जे हय रृदम कभर भहुॉ गोए।।

तीसनउ बाई याभ सभ जानी। धोए चयन जनक सनज ऩानी।।
आसन उसचत सफकह नृऩ दीन्हे । फोसर सूऩकायी सफ रीन्हे ।।
सादय रगे ऩयन ऩनवाये । कनक कीर भसन ऩान सॉवाये ।।
दो0-सूऩोदन सुयबी सयवऩ सुॊदय स्वाद ु ऩुनीत।

छन भहुॉ सफ कईऄ ऩरुसस गे चतुय सुआय वफनीत।।328।।
–*–*–
ऩॊच कवर करय जेवन रअगे। गारय गान सुसन असत अनुयागे।।
बाॉसत अनेक ऩये ऩकवाने। सुधा सरयस नकहॊ जाकहॊ फिाने।।
ऩरुसन रगे सुआय सुजाना। वफॊजन वफवफध नाभ को जाना।।
चारय बाॉसत बोजन वफसध गाई। एक एक वफसध फयसन न जाई।।
छयस रुसचय वफॊजन फहु जाती। एक एक यस अगसनत बाॉती।।
जेवॉत दे कहॊ भधुय धुसन गायी। रै रै नाभ ऩुरुष अरु नायी।।

सभम सुहावसन गारय वफयाजा। हॉ सत याउ सुसन सकहत सभाजा।।

124

एकह वफसध सफहीॊ बौजनु कीन्हा। आदय सकहत आचभनु दीन्हा।।
दो0-दे इ ऩान ऩूजे जनक दसयथु सकहत सभाज।
जनवासेकह गवने भुकदत सकर बूऩ ससयताज।।329।।
–*–*–
सनत नूतन भॊगर ऩुय भाहीॊ। सनसभष सरयस कदन जासभसन जाहीॊ।।
फड़े बोय बूऩसतभसन जागे। जाचक गुन गन गावन रागे।।
दे ष्ि कुअॉय फय फधुन्ह सभेता। ककसभ ककह जात भोद ु भन जेता।।
प्रातकक्रमा करय गे गुरु ऩाहीॊ। भहाप्रभोद ु प्रेभु भन भाहीॊ।।

करय प्रनाभ ऩूजा कय जोयी। फोरे सगया असभअॉ जनु फोयी।।
तुम्हयी कृ ऩाॉ सुनहु भुसनयाजा। बमउॉ आजु भईआ ऩूयनकाजा।।

अफ सफ वफप्र फोराइ गोसाईं। दे हु धेनु सफ बाॉसत फनाई।।

सुसन गुय करय भकहऩार फड़ाई। ऩुसन ऩठए भुसन फृॊद फोराई।।
दो0-फाभदे उ अरु दे वरयवष फारभीकक जाफासर।
आए भुसनफय सनकय तफ कौससकाकद तऩसासर।।330।।
–*–*–
दॊ ड प्रनाभ सफकह नृऩ कीन्हे । ऩूष्ज सप्रेभ फयासन दीन्हे ।।
चारय रछछ फय धेनु भगाई। काभसुयसब सभ सीर सुहाई।।
सफ वफसध सकर अरॊकृत कीन्हीॊ। भुकदत भकहऩ भकहदे वन्ह दीन्हीॊ।।
कयत वफनम फहु वफसध नयनाहू। रहे उॉ आजु जग जीवन राहू।।
ऩाइ असीस भहीसु अनॊदा। सरए फोसर ऩुसन जाचक फृॊदा।।

कनक फसन भसन हम गम स्मॊदन। कदए फूष्झ रुसच यवफकुरनॊदन।।
चरे ऩढ़त गावत गुन गाथा। जम जम जम कदनकय कुर नाथा।।
एकह वफसध याभ वफआह उछाहू। सकइ न फयसन सहस भुि जाहू।।
दो0-फाय फाय कौससक चयन सीसु नाइ कह याउ।

मह सफु सुिु भुसनयाज तव कृ ऩा कटाछछ ऩसाउ।।331।।
–*–*–
जनक सनेहु सीरु कयतूती। नृऩु सफ बाॉसत सयाह वफबूती।।

कदन उकठ वफदा अवधऩसत भागा। यािकहॊ जनकु सकहत अनुयागा।।
सनत नूतन आदरु असधकाई। कदन प्रसत सहस बाॉसत ऩहुनाई।।
सनत नव नगय अनॊद उछाहू। दसयथ गवनु सोहाइ न काहू।।
फहुत कदवस फीते एकह बाॉती। जनु सनेह यजु फॉधे फयाती।।
कौससक सतानॊद तफ जाई। कहा वफदे ह नृऩकह सभुझाई।।

अफ दसयथ कहॉ आमसु दे हू। जयवऩ छाकड़ न सकहु सनेहू।।

125

बरेकहॊ नाथ ककह ससचव फोराए। ककह जम जीव सीस सतन्ह नाए।।
दो0-अवधनाथु चाहत चरन बीतय कयहु जनाउ।

बए प्रेभफस ससचव सुसन वफप्र सबासद याउ।।332।।
–*–*–
ऩुयफासी सुसन चसरकह फयाता। फूझत वफकर ऩयस्ऩय फाता।।
सत्म गवनु सुसन सफ वफरिाने। भनहुॉ साॉझ सयससज सकुचाने।।
जहॉ जहॉ आवत फसे फयाती। तहॉ तहॉ ससद्ध चरा फहु बाॉती।।

वफवफध बाॉसत भेवा ऩकवाना। बोजन साजु न जाइ फिाना।।
बरय बरय फसहॉ अऩाय कहाया। ऩठई जनक अनेक सुसाया।।

तुयग राि यथ सहस ऩचीसा। सकर सॉवाये नि अरु सीसा।।
भत्त सहस दस ससॊधुय साजे। ष्जन्हकह दे ष्ि कदससकुॊजय राजे।।
कनक फसन भसन बरय बरय जाना। भकहषीॊ धेनु फस्तु वफसध नाना।।
दो0-दाइज असभत न सककअ ककह दीन्ह वफदे हॉ फहोरय।
जो अवरोकत रोकऩसत रोक सॊऩदा थोरय।।333।।
–*–*–
सफु सभाजु एकह बाॉसत फनाई। जनक अवधऩुय दीन्ह ऩठाई।।
चसरकह फयात सुनत सफ यानीॊ। वफकर भीनगन जनु रघु ऩानीॊ।।
ऩुसन ऩुसन सीम गोद करय रेहीॊ। दे इ असीस ससिावनु दे हीॊ।।
होएहु सॊतत वऩमकह वऩआयी। सचरु अकहफात असीस हभायी।।

सासु ससुय गुय सेवा कये हू। ऩसत रुि रष्ि आमसु अनुसये हू।।

असत सनेह फस सिीॊ समानी। नारय धयभ ससिवकहॊ भृद ु फानी।।
सादय सकर कुअॉरय सभुझाई। यासनन्ह फाय फाय उय राई।।

फहुरय फहुरय बेटकहॊ भहतायीॊ। कहकहॊ वफयॊ सच यचीॊ कत नायीॊ।।
दो0-तेकह अवसय बाइन्ह सकहत याभु बानु कुर केतु।

चरे जनक भॊकदय भुकदत वफदा कयावन हे तु।।334।।
–*–*–
चारयअ बाइ सुबामॉ सुहाए। नगय नारय नय दे िन धाए।।
कोउ कह चरन चहत हकहॊ आजू। कीन्ह वफदे ह वफदा कय साजू।।
रेहु नमन बरय रूऩ सनहायी। वप्रम ऩाहुने बूऩ सुत चायी।।

को जानै केकह सुकृत समानी। नमन असतसथ कीन्हे वफसध आनी।।
भयनसीरु ष्जसभ ऩाव वऩऊषा। सुयतरु रहै जनभ कय बूिा।।
ऩाव नायकी हरयऩद ु जैसईऄ। इन्ह कय दयसनु हभ कहॉ तैसे।।

सनयष्ि याभ सोबा उय धयहू। सनज भन पसन भूयसत भसन कयहू।।

126

एकह वफसध सफकह नमन परु दे ता। गए कुअॉय सफ याज सनकेता।।
दो0-रूऩ ससॊधु सफ फॊधु रष्ि हयवष उठा यसनवासु।
कयकह सनछावरय आयती भहा भुकदत भन सासु।।335।।
–*–*–
दे ष्ि याभ छवफ असत अनुयागीॊ। प्रेभवफफस ऩुसन ऩुसन ऩद रागीॊ।।
यही न राज प्रीसत उय छाई। सहज सनेहु फयसन ककसभ जाई।।

बाइन्ह सकहत उफकट अन्हवाए। छयस असन असत हे तु जेवाॉए।।
फोरे याभु सुअवसरु जानी। सीर सनेह सकुचभम फानी।।
याउ अवधऩुय चहत ससधाए। वफदा होन हभ इहाॉ ऩठाए।।
भातु भुकदत भन आमसु दे हू। फारक जासन कयफ सनत नेहू।।

सुनत फचन वफरिेउ यसनवासू। फोसर न सककहॊ प्रेभफस सासू।।
रृदमॉ रगाइ कुअॉरय सफ रीन्ही। ऩसतन्ह संवऩ वफनती असत कीन्ही।।
छॊ 0-करय वफनम ससम याभकह सभयऩी जोरय कय ऩुसन ऩुसन कहै ।
फसर जाॉउ तात सुजान तुम्ह कहुॉ वफकदत गसत सफ की अहै ।।
ऩरयवाय ऩुयजन भोकह याजकह प्रानवप्रम ससम जासनफी।

तुरसीस सीरु सनेहु रष्ि सनज ककॊकयी करय भासनफी।।
सो0-तुम्ह ऩरयऩूयन काभ जान ससयोभसन बाववप्रम।

जन गुन गाहक याभ दोष दरन करुनामतन।।336।।
अस ककह यही चयन गकह यानी। प्रेभ ऩॊक जनु सगया सभानी।।
सुसन सनेहसानी फय फानी। फहुवफसध याभ सासु सनभानी।।
याभ वफदा भागत कय जोयी। कीन्ह प्रनाभु फहोरय फहोयी।।

ऩाइ असीस फहुरय ससरु नाई। बाइन्ह सकहत चरे यघुयाई।।

भॊजु भधुय भूयसत उय आनी। बई सनेह सससथर सफ यानी।।
ऩुसन धीयजु धरय कुअॉरय हॉ कायी। फाय फाय बेटकहॊ भहतायीॊ।।
ऩहुॉचावकहॊ कपरय सभरकहॊ फहोयी। फढ़ी ऩयस्ऩय प्रीसत न थोयी।।

ऩुसन ऩुसन सभरत सष्िन्ह वफरगाई। फार फछछ ष्जसभ धेनु रवाई।।
दो0-प्रेभवफफस नय नारय सफ सष्िन्ह सकहत यसनवासु।
भानहुॉ कीन्ह वफदे हऩुय करुनाॉ वफयहॉ सनवासु।।337।।
–*–*–
सुक सारयका जानकी ज्माए। कनक वऩॊजयष्न्ह याष्ि ऩढ़ाए।।
ब्माकुर कहकहॊ कहाॉ फैदेही। सुसन धीयजु ऩरयहयइ न केही।।

बए वफकर िग भृग एकह बाॉसत। भनुज दसा कैसईऄ ककह जाती।।
फॊधु सभेत जनकु तफ आए। प्रेभ उभसग रोचन जर छाए।।

127

सीम वफरोकक धीयता बागी। यहे कहावत ऩयभ वफयागी।।
रीष्न्ह याॉम उय राइ जानकी। सभटी भहाभयजाद ग्मान की।।
सभुझावत सफ ससचव समाने। कीन्ह वफचारु न अवसय जाने।।
फायकहॊ फाय सुता उय राई। सष्ज सुॊदय ऩारकीॊ भगाई।।
दो0-प्रेभवफफस ऩरयवारु सफु जासन सुरगन नये स।
कुॉअरय चढ़ाई ऩारककन्ह सुसभये ससवद्ध गनेस।।338।।
–*–*–
फहुवफसध बूऩ सुता सभुझाई। नारयधयभु कुरयीसत ससिाई।।
दासीॊ दास कदए फहुतेये। सुसच सेवक जे वप्रम ससम केये ।।

सीम चरत ब्माकुर ऩुयफासी। होकहॊ सगुन सुब भॊगर यासी।।
बूसुय ससचव सभेत सभाजा। सॊग चरे ऩहुॉचावन याजा।।

सभम वफरोकक फाजने फाजे। यथ गज फाष्ज फयासतन्ह साजे।।
दसयथ वफप्र फोसर सफ रीन्हे । दान भान ऩरयऩूयन कीन्हे ।।
चयन सयोज धूरय धरय सीसा। भुकदत भहीऩसत ऩाइ असीसा।।
सुसभरय गजाननु कीन्ह ऩमाना। भॊगरभूर सगुन बए नाना।।
दो0-सुय प्रसून फयषकह हयवष कयकहॊ अऩछया गान।
चरे अवधऩसत अवधऩुय भुकदत फजाइ सनसान।।339।।
–*–*–
नृऩ करय वफनम भहाजन पेये । सादय सकर भागने टे ये।।
बूषन फसन फाष्ज गज दीन्हे । प्रेभ ऩोवष ठाढ़े सफ कीन्हे ।।
फाय फाय वफरयदावसर बाषी। कपये सकर याभकह उय यािी।।
फहुरय फहुरय कोसरऩसत कहहीॊ। जनकु प्रेभफस कपयै न चहहीॊ।।

ऩुसन कह बूऩसत फचन सुहाए। कपरयअ भहीस दरू य फकड़ आए।।
याउ फहोरय उतरय बए ठाढ़े । प्रेभ प्रफाह वफरोचन फाढ़े ।।

तफ वफदे ह फोरे कय जोयी। फचन सनेह सुधाॉ जनु फोयी।।
कयौ कवन वफसध वफनम फनाई। भहायाज भोकह दीष्न्ह फड़ाई।।
दो0-कोसरऩसत सभधी सजन सनभाने सफ बाॉसत।
सभरसन ऩयसऩय वफनम असत प्रीसत न रृदमॉ सभासत।।340।।
–*–*–
भुसन भॊडसरकह जनक ससरु नावा। आससयफाद ु सफकह सन ऩावा।।
सादय ऩुसन बईऄटे जाभाता। रूऩ सीर गुन सनसध सफ र्भ्ाता।।
जोरय ऩॊकरुह ऩासन सुहाए। फोरे फचन प्रेभ जनु जाए।।
याभ कयौ केकह बाॉसत प्रसॊसा। भुसन भहे स भन भानस हॊ सा।।

128

कयकहॊ जोग जोगी जेकह रागी। कोहु भोहु भभता भद ु त्मागी।।
ब्माऩकु ब्रह्मु अरिु अवफनासी। सचदानॊद ु सनयगुन गुनयासी।।

भन सभेत जेकह जान न फानी। तयकक न सककहॊ सकर अनुभानी।।
भकहभा सनगभु नेसत ककह कहई। जो सतहुॉ कार एकयस यहई।।
दो0-नमन वफषम भो कहुॉ बमउ सो सभस्त सुि भूर।

सफइ राबु जग जीव कहॉ बएॉ ईसु अनुकुर।।341।।
–*–*–
सफकह बाॉसत भोकह दीष्न्ह फड़ाई। सनज जन जासन रीन्ह अऩनाई।।
होकहॊ सहस दस सायद सेषा। कयकहॊ करऩ कोकटक बरय रेिा।।
भोय बाग्म याउय गुन गाथा। ककह न ससयाकहॊ सुनहु यघुनाथा।।
भै कछु कहउॉ एक फर भोयईऄ । तुम्ह यीझहु सनेह सुकठ थोयईऄ ।।
फाय फाय भागउॉ कय जोयईऄ । भनु ऩरयहयै चयन जसन बोयईऄ ।।
सुसन फय फचन प्रेभ जनु ऩोषे। ऩूयनकाभ याभु ऩरयतोषे।।
करय फय वफनम ससुय सनभाने। वऩतु कौससक फससष्ठ सभ जाने।।
वफनती फहुरय बयत सन कीन्ही। सभसर सप्रेभु ऩुसन आससष दीन्ही।।
दो0-सभरे रिन रयऩुसूदनकह दीष्न्ह असीस भहीस।

बए ऩयस्ऩय प्रेभफस कपरय कपरय नावकहॊ सीस।।342।।
–*–*–
फाय फाय करय वफनम फड़ाई। यघुऩसत चरे सॊग सफ बाई।।
जनक गहे कौससक ऩद जाई। चयन ये नु ससय नमनन्ह राई।।
सुनु भुनीस फय दयसन तोयईऄ । अगभु न कछु प्रतीसत भन भोयईऄ ।।
जो सुिु सुजसु रोकऩसत चहहीॊ। कयत भनोयथ सकुचत अहहीॊ।।
सो सुिु सुजसु सुरब भोकह स्वाभी। सफ सससध तव दयसन अनुगाभी।।
कीष्न्ह वफनम ऩुसन ऩुसन ससरु नाई। कपये भहीसु आससषा ऩाई।।
चरी फयात सनसान फजाई। भुकदत छोट फड़ सफ सभुदाई।।
याभकह सनयष्ि ग्राभ नय नायी। ऩाइ नमन परु होकहॊ सुिायी।।
दो0-फीच फीच फय फास करय भग रोगन्ह सुि दे त।
अवध सभीऩ ऩुनीत कदन ऩहुॉची आइ जनेत।।343।।û
–*–*–
हने सनसान ऩनव फय फाजे। बेरय सॊि धुसन हम गम गाजे।।
झाॉष्झ वफयव कडॊ डभीॊ सुहाई। सयस याग फाजकहॊ सहनाई।।
ऩुय जन आवत अकसन फयाता। भुकदत सकर ऩुरकावसर गाता।।
सनज सनज सुॊदय सदन सॉवाये । हाट फाट चौहट ऩुय द्वाये ।।

129

गरीॊ सकर अयगजाॉ ससॊचाई। जहॉ तहॉ चौकईऄ चारु ऩुयाई।।
फना फजारु न जाइ फिाना। तोयन केतु ऩताक वफताना।।
सपर ऩूगपर कदसर यसारा। योऩे फकुर कदॊ फ तभारा।।
रगे सुबग तरु ऩयसत धयनी। भसनभम आरफार कर कयनी।।
दो0-वफवफध बाॉसत भॊगर करस गृह गृह यचे सॉवारय।
सुय ब्रह्माकद ससहाकहॊ सफ यघुफय ऩुयी सनहारय।।344।।
–*–*–
बूऩ बवन तेकह अवसय सोहा। यचना दे ष्ि भदन भनु भोहा।।
भॊगर सगुन भनोहयताई। रयसध सससध सुि सॊऩदा सुहाई।।
जनु उछाह सफ सहज सुहाए। तनु धरय धरय दसयथ दसयथ गृहॉ छाए।।
दे िन हे तु याभ फैदेही। कहहु रारसा होकह न केही।।

जुथ जूथ सभसर चरीॊ सुआसससन। सनज छवफ सनदयकहॊ भदन वफराससन।।
सकर सुभॊगर सजईऄ आयती। गावकहॊ जनु फहु फेष बायती।।

बूऩसत बवन कोराहरु होई। जाइ न फयसन सभउ सुिु सोई।।
कौसल्माकद याभ भहतायीॊ। प्रेभ वफफस तन दसा वफसायीॊ।।
दो0-कदए दान वफप्रन्ह वफऩुर ऩूष्ज गनेस ऩुयायी।
प्रभुकदत ऩयभ दरयर जनु ऩाइ ऩदायथ चारय।।345।।
–*–*–
भोद प्रभोद वफफस सफ भाता। चरकहॊ न चयन सससथर बए गाता।।
याभ दयस कहत असत अनुयागीॊ। ऩरयछसन साजु सजन सफ रागीॊ।।
वफवफध वफधान फाजने फाजे। भॊगर भुकदत सुसभत्राॉ साजे।।
हयद दफ
ू दसध ऩल्रव पूरा। ऩान ऩूगपर भॊगर भूरा।।

अछछत अॊकुय रोचन राजा। भॊजुर भॊजरय तुरसस वफयाजा।।
छुहे ऩुयट घट सहज सुहाए। भदन सकुन जनु नीड़ फनाए।।
सगुन सुॊगध न जाकहॊ फिानी। भॊगर सकर सजकहॊ सफ यानी।।
यचीॊ आयतीॊ फहुत वफधाना। भुकदत कयकहॊ कर भॊगर गाना।।
दो0-कनक थाय बरय भॊगरष्न्ह कभर कयष्न्ह सरएॉ भात।

चरीॊ भुकदत ऩरयछसन कयन ऩुरक ऩल्रववत गात।।346।।
–*–*–
धूऩ धूभ नबु भेचक बमऊ। सावन घन घभॊडु जनु ठमऊ।।
सुयतरु सुभन भार सुय फयषकहॊ । भनहुॉ फराक अवसर भनु कयषकहॊ ।।
भॊजुर भसनभम फॊदसनवाये । भनहुॉ ऩाकरयऩु चाऩ सॉवाये ।।

प्रगटकहॊ दयु कहॊ अटन्ह ऩय बासभसन। चारु चऩर जनु दभककहॊ दासभसन।।

130

दॊ द
ु सु ब धुसन घन गयजसन घोया। जाचक चातक दादयु भोया।।

सुय सुगन्ध सुसच फयषकहॊ फायी। सुिी सकर ससस ऩुय नय नायी।।
सभउ जानी गुय आमसु दीन्हा। ऩुय प्रफेसु यघुकुरभसन कीन्हा।।
सुसभरय सॊबु सगयजा गनयाजा। भुकदत भहीऩसत सकहत सभाजा।।
दो0-होकहॊ सगुन फयषकहॊ सुभन सुय दॊ द
ु ब
ु ीॊ फजाइ।

वफफुध फधू नाचकहॊ भुकदत भॊजुर भॊगर गाइ।।347।।
–*–*–
भागध सूत फॊकद नट नागय। गावकहॊ जसु सतहु रोक उजागय।।

जम धुसन वफभर फेद फय फानी। दस कदसस सुसनअ सुभॊगर सानी।।
वफऩुर फाजने फाजन रागे। नब सुय नगय रोग अनुयागे।।
फने फयाती फयसन न जाहीॊ। भहा भुकदत भन सुि न सभाहीॊ।।
ऩुयफाससन्ह तफ याम जोहाये । दे ित याभकह बए सुिाये ।।
कयकहॊ सनछावरय भसनगन चीया। फारय वफरोचन ऩुरक सयीया।।
आयसत कयकहॊ भुकदत ऩुय नायी। हयषकहॊ सनयष्ि कुॉअय फय चायी।।
ससवफका सुबग ओहाय उघायी। दे ष्ि दर
ु कहसनन्ह होकहॊ सुिायी।।
दो0-एकह वफसध सफही दे त सुिु आए याजदआ
ु य।

भुकदत भातु ऩरुछसन कयकहॊ फधुन्ह सभेत कुभाय।।348।।
–*–*–
कयकहॊ आयती फायकहॊ फाया। प्रेभु प्रभोद ु कहै को ऩाया।।

बूषन भसन ऩट नाना जाती।।कयही सनछावरय अगसनत बाॉती।।
फधुन्ह सभेत दे ष्ि सुत चायी। ऩयभानॊद भगन भहतायी।।
ऩुसन ऩुसन सीम याभ छवफ दे िी।।भुकदत सपर जग जीवन रेिी।।
सिीॊ सीम भुि ऩुसन ऩुसन चाही। गान कयकहॊ सनज सुकृत सयाही।।
फयषकहॊ सुभन छनकहॊ छन दे वा। नाचकहॊ गावकहॊ रावकहॊ सेवा।।
दे ष्ि भनोहय चारयउ जोयीॊ। सायद उऩभा सकर ढॉ ढोयीॊ।।
दे त न फनकहॊ सनऩट रघु रागी। एकटक यहीॊ रूऩ अनुयागीॊ।।
दो0-सनगभ नीसत कुर यीसत करय अयघ ऩाॉवड़े दे त।
फधुन्ह सकहत सुत ऩरयसछ सफ चरीॊ रवाइ सनकेत।।349।।
–*–*–
चारय ससॊघासन सहज सुहाए। जनु भनोज सनज हाथ फनाए।।
सतन्ह ऩय कुअॉरय कुअॉय फैठाये । सादय ऩाम ऩुसनत ऩिाये ।।
धूऩ दीऩ नैफेद फेद वफसध। ऩूजे फय दर
ु कहसन भॊगरसनसध।।

फायकहॊ फाय आयती कयहीॊ। ब्मजन चारु चाभय ससय ढयहीॊ।।

131

फस्तु अनेक सनछावय होहीॊ। बयीॊ प्रभोद भातु सफ सोहीॊ।।
ऩावा ऩयभ तत्व जनु जोगीॊ। अभृत रहे उ जनु सॊतत योगीॊ।।
जनभ यॊ क जनु ऩायस ऩावा। अॊधकह रोचन राबु सुहावा।।
भूक फदन जनु सायद छाई। भानहुॉ सभय सूय जम ऩाई।।
दो0-एकह सुि ते सत कोकट गुन ऩावकहॊ भातु अनॊद।ु ।

बाइन्ह सकहत वफआकह घय आए यघुकुरचॊद।ु ।350(क)।।
रोक यीत जननी कयकहॊ फय दर
ु कहसन सकुचाकहॊ ।

भोद ु वफनोद ु वफरोकक फड़ याभु भनकहॊ भुसकाकहॊ ।।350(ि)।।
–*–*–
दे व वऩतय ऩूजे वफसध नीकी। ऩूजीॊ सकर फासना जी की।।
सफकहॊ फॊकद भागकहॊ फयदाना। बाइन्ह सकहत याभ कल्माना।।
अॊतयकहत सुय आससष दे हीॊ। भुकदत भातु अॊचर बरय रईऄहीॊ।।
बूऩसत फोसर फयाती रीन्हे । जान फसन भसन बूषन दीन्हे ।।
आमसु ऩाइ याष्ि उय याभकह। भुकदत गए सफ सनज सनज धाभकह।।
ऩुय नय नारय सकर ऩकहयाए। घय घय फाजन रगे फधाए।।
जाचक जन जाचकह जोइ जोई। प्रभुकदत याउ दे कहॊ सोइ सोई।।
सेवक सकर फजसनआ नाना। ऩूयन ककए दान सनभाना।।
दो0-दईऄ कहॊ असीस जोहारय सफ गावकहॊ गुन गन गाथ।
तफ गुय बूसुय सकहत गृहॉ गवनु कीन्ह नयनाथ।।351।।
–*–*–
जो फससष्ठ अनुसासन दीन्ही। रोक फेद वफसध सादय कीन्ही।।
बूसुय बीय दे ष्ि सफ यानी। सादय उठीॊ बाग्म फड़ जानी।।
ऩाम ऩिारय सकर अन्हवाए। ऩूष्ज बरी वफसध बूऩ जेवाॉए।।
आदय दान प्रेभ ऩरयऩोषे। दे त असीस चरे भन तोषे।।
फहु वफसध कीष्न्ह गासधसुत ऩूजा। नाथ भोकह सभ धन्म न दज
ू ा।।
कीष्न्ह प्रसॊसा बूऩसत बूयी। यासनन्ह सकहत रीष्न्ह ऩग धूयी।।

बीतय बवन दीन्ह फय फासु। भन जोगवत यह नृऩ यसनवासू।।
ऩूजे गुय ऩद कभर फहोयी। कीष्न्ह वफनम उय प्रीसत न थोयी।।
दो0-फधुन्ह सभेत कुभाय सफ यासनन्ह सकहत भहीसु।
ऩुसन ऩुसन फॊदत गुय चयन दे त असीस भुनीसु।।352।।
–*–*–
वफनम कीष्न्ह उय असत अनुयागईऄ। सुत सॊऩदा याष्ि सफ आगईऄ।।
नेगु भासग भुसननामक रीन्हा। आससयफाद ु फहुत वफसध दीन्हा।।

132

उय धरय याभकह सीम सभेता। हयवष कीन्ह गुय गवनु सनकेता।।
वफप्रफधू सफ बूऩ फोराई। चैर चारु बूषन ऩकहयाई।।
फहुरय फोराइ सुआसससन रीन्हीॊ। रुसच वफचारय ऩकहयावसन दीन्हीॊ।।
नेगी नेग जोग सफ रेहीॊ। रुसच अनुरुऩ बूऩभसन दे हीॊ।।

वप्रम ऩाहुने ऩूज्म जे जाने। बूऩसत बरी बाॉसत सनभाने।।
दे व दे ष्ि यघुफीय वफफाहू। फयवष प्रसून प्रसॊसस उछाहू।।

दो0-चरे सनसान फजाइ सुय सनज सनज ऩुय सुि ऩाइ।
कहत ऩयसऩय याभ जसु प्रेभ न रृदमॉ सभाइ।।353।।
–*–*–
सफ वफसध सफकह सभकद नयनाहू। यहा रृदमॉ बरय ऩूरय उछाहू।।
जहॉ यसनवासु तहाॉ ऩगु धाये । सकहत फहूकटन्ह कुअॉय सनहाये ।।

सरए गोद करय भोद सभेता। को ककह सकइ बमउ सुिु जेता।।
फधू सप्रेभ गोद फैठायीॊ। फाय फाय कहमॉ हयवष दर
ु ायीॊ।।

दे ष्ि सभाजु भुकदत यसनवासू। सफ कईऄ उय अनॊद ककमो फासू।।
कहे उ बूऩ ष्जसभ बमउ वफफाहू। सुसन हयषु होत सफ काहू।।
जनक याज गुन सीरु फड़ाई। प्रीसत यीसत सॊऩदा सुहाई।।

फहुवफसध बूऩ बाट ष्जसभ फयनी। यानीॊ सफ प्रभुकदत सुसन कयनी।।
दो0-सुतन्ह सभेत नहाइ नृऩ फोसर वफप्र गुय ग्मासत।

बोजन कीन्ह अनेक वफसध घयी ऩॊच गइ यासत।।354।।
–*–*–
भॊगरगान कयकहॊ फय बासभसन। बै सुिभूर भनोहय जासभसन।।
अॉचइ ऩान सफ काहूॉ ऩाए। स्त्रग सुगॊध बूवषत छवफ छाए।।

याभकह दे ष्ि यजामसु ऩाई। सनज सनज बवन चरे ससय नाई।।
प्रेभ प्रभोद वफनोद ु फढ़ाई। सभउ सभाजु भनोहयताई।।

ककह न सककह सत सायद सेसू। फेद वफयॊ सच भहे स गनेसू।।
सो भै कहं कवन वफसध फयनी। बूसभनागु ससय धयइ कक धयनी।।
नृऩ सफ बाॉसत सफकह सनभानी। ककह भृद ु फचन फोराई यानी।।
फधू ररयकनीॊ ऩय घय आईं। यािेहु नमन ऩरक की नाई।।
दो0-ररयका श्रसभत उनीद फस समन कयावहु जाइ।

अस ककह गे वफश्राभगृहॉ याभ चयन सचतु राइ।।355।।
–*–*–
बूऩ फचन सुसन सहज सुहाए। जरयत कनक भसन ऩरॉग डसाए।।
सुबग सुयसब ऩम पेन सभाना। कोभर कसरत सुऩेतीॊ नाना।।

133

उऩफयहन फय फयसन न जाहीॊ। स्त्रग सुगॊध भसनभॊकदय भाहीॊ।।
यतनदीऩ सुकठ चारु चॉदोवा। कहत न फनइ जान जेकहॊ जोवा।।
सेज रुसचय यसच याभु उठाए। प्रेभ सभेत ऩरॉग ऩौढ़ाए।।
अग्मा ऩुसन ऩुसन बाइन्ह दीन्ही। सनज सनज सेज समन सतन्ह कीन्ही।।
दे ष्ि स्माभ भृद ु भॊजुर गाता। कहकहॊ सप्रेभ फचन सफ भाता।।
भायग जात बमावसन बायी। केकह वफसध तात ताड़का भायी।।
दो0-घोय सनसाचय वफकट बट सभय गनकहॊ नकहॊ काहु।।

भाये सकहत सहाम ककसभ िर भायीच सुफाहु।।356।।
–*–*–
भुसन प्रसाद फसर तात तुम्हायी। ईस अनेक कयवयईऄ टायी।।
भि यिवायी करय दह
ु ुॉ बाई। गुरु प्रसाद सफ वफया ऩाई।।

भुसनतम तयी रगत ऩग धूयी। कीयसत यही बुवन बरय ऩूयी।।
कभठ ऩीकठ ऩवफ कूट कठोया। नृऩ सभाज भहुॉ ससव धनु तोया।।
वफस्व वफजम जसु जानकक ऩाई। आए बवन ब्माकह सफ बाई।।
सकर अभानुष कयभ तुम्हाये । केवर कौससक कृ ऩाॉ सुधाये ।।
आजु सुपर जग जनभु हभाया। दे ष्ि तात वफधुफदन तुम्हाया।।
जे कदन गए तुम्हकह वफनु दे िईऄ। ते वफयॊ सच जसन ऩायकहॊ रेिईऄ।।
दो0-याभ प्रतोषीॊ भातु सफ ककह वफनीत फय फैन।
सुसभरय सॊबु गुय वफप्र ऩद ककए नीदफस नैन।।357।।
–*–*–
नीदउॉ फदन सोह सुकठ रोना। भनहुॉ साॉझ सयसीरुह सोना।।
घय घय कयकहॊ जागयन नायीॊ। दे कहॊ ऩयसऩय भॊगर गायीॊ।।

ऩुयी वफयाजसत याजसत यजनी। यानीॊ कहकहॊ वफरोकहु सजनी।।

सुॊदय फधुन्ह सासु रै सोई। पसनकन्ह जनु ससयभसन उय गोई।।
प्रात ऩुनीत कार प्रबु जागे। अरुनचूड़ फय फोरन रागे।।
फॊकद भागधष्न्ह गुनगन गाए। ऩुयजन द्वाय जोहायन आए।।
फॊकद वफप्र सुय गुय वऩतु भाता। ऩाइ असीस भुकदत सफ र्भ्ाता।।
जनसनन्ह सादय फदन सनहाये । बूऩसत सॊग द्वाय ऩगु धाये ।।
दो0-कीन्ह सौच सफ सहज सुसच सरयत ऩुनीत नहाइ।
प्रातकक्रमा करय तात ऩकहॊ आए चारयउ बाइ।।358।।
नवान्हऩायामण,तीसया ववश्राभ
–*–*–
बूऩ वफरोकक सरए उय राई। फैठै हयवष यजामसु ऩाई।।

134

दे ष्ि याभु सफ सबा जुड़ानी। रोचन राब अवसध अनुभानी।।
ऩुसन फससिु भुसन कौससक आए। सुबग आसनष्न्ह भुसन फैठाए।।
सुतन्ह सभेत ऩूष्ज ऩद रागे। सनयष्ि याभु दोउ गुय अनुयागे।।
कहकहॊ फससिु धयभ इसतहासा। सुनकहॊ भहीसु सकहत यसनवासा।।
भुसन भन अगभ गासधसुत कयनी। भुकदत फससि वफऩुर वफसध फयनी।।
फोरे फाभदे उ सफ साॉची। कीयसत कसरत रोक सतहुॉ भाची।।

सुसन आनॊद ु बमउ सफ काहू। याभ रिन उय असधक उछाहू।।
दो0-भॊगर भोद उछाह सनत जाकहॊ कदवस एकह बाॉसत।

उभगी अवध अनॊद बरय असधक असधक असधकासत।।359।।
–*–*–
सुकदन सोसध कर कॊकन छौये । भॊगर भोद वफनोद न थोये ।।
सनत नव सुिु सुय दे ष्ि ससहाहीॊ। अवध जन्भ जाचकहॊ वफसध ऩाहीॊ।।
वफस्वासभत्रु चरन सनत चहहीॊ। याभ सप्रेभ वफनम फस यहहीॊ।।
कदन कदन समगुन बूऩसत बाऊ। दे ष्ि सयाह भहाभुसनयाऊ।।
भागत वफदा याउ अनुयागे। सुतन्ह सभेत ठाढ़ बे आगे।।
नाथ सकर सॊऩदा तुम्हायी। भईआ सेवकु सभेत सुत नायी।।
कयफ सदा ररयकन् ऩय छोहू। दयसन दे त यहफ भुसन भोहू।।

अस ककह याउ सकहत सुत यानी। ऩये उ चयन भुि आव न फानी।।
दीन्ह असीस वफप्र फहु बाॉती। चरे न प्रीसत यीसत ककह जाती।।
याभु सप्रेभ सॊग सफ बाई। आमसु ऩाइ कपये ऩहुॉचाई।।
दो0-याभ रूऩु बूऩसत बगसत ब्माहु उछाहु अनॊद।ु

जात सयाहत भनकहॊ भन भुकदत गासधकुरचॊद।ु ।360।।
–*–*–
फाभदे व यघुकुर गुय ग्मानी। फहुरय गासधसुत कथा फिानी।।

सुसन भुसन सुजसु भनकहॊ भन याऊ। फयनत आऩन ऩुन्म प्रबाऊ।।
फहुये रोग यजामसु बमऊ। सुतन्ह सभेत नृऩसत गृहॉ गमऊ।।

जहॉ तहॉ याभ ब्माहु सफु गावा। सुजसु ऩुनीत रोक सतहुॉ छावा।।
आए ब्माकह याभु घय जफ तईऄ। फसइ अनॊद अवध सफ तफ तईऄ।।

प्रबु वफफाहॉ जस बमउ उछाहू। सककहॊ न फयसन सगया अकहनाहू।।
कवफकुर जीवनु ऩावन जानी।।याभ सीम जसु भॊगर िानी।।

तेकह ते भईआ कछु कहा फिानी। कयन ऩुनीत हे तु सनज फानी।।
छॊ 0-सनज सगया ऩावसन कयन कायन याभ जसु तुरसी कह्यो।
यघुफीय चरयत अऩाय फारयसध ऩारु कवफ कौनईऄ रह्यो।।

135

उऩफीत ब्माह उछाह भॊगर सुसन जे सादय गावहीॊ।
फैदेकह याभ प्रसाद ते जन सफादा सुिु ऩावहीॊ।।
सो0-ससम यघुफीय वफफाहु जे सप्रेभ गावकहॊ सुनकहॊ ।

सतन्ह कहुॉ सदा उछाहु भॊगरामतन याभ जसु।।361।।
भासऩायामण, फायहवाॉ ववश्राभ

इसत श्रीभराभचरयतभानसे सकरकसरकरुषवफध्वॊसने
प्रथभ् सोऩान् सभाप्त्।
(फारकाण्ड सभाप्त)
———–*–*–

136

AYODHYA KAND

अमोध्मा काण्ड
श्रीगणेशामनभ्
श्रीजानकीवल्रबो ववजमते
श्रीयाभचरयतभानस
कद्वतीम सोऩान
अमोध्मा-काण्ड
श्लोक
मस्माङ्के च ववबासत बूधयसुता दे वाऩगा भस्तके
बारे फारववधुगर
ा े च गयरॊ मस्मोयसस व्मारयाट्।
सोऽमॊ बूसतववबूषण् सुयवय् सवाासधऩ् सवादा
शवा् सवागत् सशव् शसशसनब् श्रीशङ्कय् ऩातु भाभ ्।।1।।

प्रसन्नताॊ मा न गतासबषेकतस्तथा न भम्रे वनवासद्ु ित्।

भुिाम्फुजश्री यघुनन्दनस्म भे सदास्तु सा भञ्जुरभॊगरप्रदा।।2।।
नीराम्फुजश्माभरकोभराङ्गॊ सीतासभायोवऩतवाभबागभ ्।

ऩाणौ भहासामकचारुचाऩॊ नभासभ याभॊ यघुवॊशनाथभ ्।।3।।
दो0-श्रीगुरु चयन सयोज यज सनज भनु भुकुरु सुधारय।
फयनउॉ यघुफय वफभर जसु जो दामकु पर चारय।।
जफ तईऄ याभु ब्माकह घय आए। सनत नव भॊगर भोद फधाए।।
बुवन चारयदस बूधय बायी। सुकृत भेघ फयषकह सुि फायी।।
रयसध सससध सॊऩसत नदीॊ सुहाई। उभसग अवध अॊफुसध कहुॉ आई।।
भसनगन ऩुय नय नारय सुजाती। सुसच अभोर सुॊदय सफ बाॉती।।

ककह न जाइ कछु नगय वफबूती। जनु एतसनअ वफयॊ सच कयतूती।।
सफ वफसध सफ ऩुय रोग सुिायी। याभचॊद भुि चॊद ु सनहायी।।

भुकदत भातु सफ सिीॊ सहे री। पसरत वफरोकक भनोयथ फेरी।।
याभ रूऩु गुनसीरु सुबाऊ। प्रभुकदत होइ दे ष्ि सुसन याऊ।।
दो0-सफ कईऄ उय असबराषु अस कहकहॊ भनाइ भहे सु।
आऩ अछत जुफयाज ऩद याभकह दे उ नये सु।।1।।
–*–*–
एक सभम सफ सकहत सभाजा। याजसबाॉ यघुयाजु वफयाजा।।
सकर सुकृत भूयसत नयनाहू। याभ सुजसु सुसन असतकह उछाहू।।

137

नृऩ सफ यहकहॊ कृ ऩा असबराषईऄ। रोकऩ कयकहॊ प्रीसत रुि यािईऄ।।
सतबुवन तीसन कार जग भाहीॊ। बूरय बाग दसयथ सभ नाहीॊ।।
भॊगरभूर याभु सुत जासू। जो कछु ककहज थोय सफु तासू।।
यामॉ सुबामॉ भुकुरु कय रीन्हा। फदनु वफरोकक भुकुट सभ कीन्हा।।
श्रवन सभीऩ बए ससत केसा। भनहुॉ जयठऩनु अस उऩदे सा।।
नृऩ जुफयाज याभ कहुॉ दे हू। जीवन जनभ राहु ककन रेहू।।
दो0-मह वफचारु उय आसन नृऩ सुकदनु सुअवसरु ऩाइ।

प्रेभ ऩुरकक तन भुकदत भन गुयकह सुनामउ जाइ।।2।।
–*–*–
कहइ बुआरु सुसनअ भुसननामक। बए याभ सफ वफसध सफ रामक।।
सेवक ससचव सकर ऩुयफासी। जे हभाये अरय सभत्र उदासी।।
सफकह याभु वप्रम जेकह वफसध भोही। प्रबु असीस जनु तनु धरय सोही।।
वफप्र सकहत ऩरयवाय गोसाईं। कयकहॊ छोहु सफ यौरयकह नाई।।

जे गुय चयन ये नु ससय धयहीॊ। ते जनु सकर वफबव फस कयहीॊ।।
भोकह सभ महु अनुबमउ न दज
ू ईऄ। सफु ऩामउॉ यज ऩावसन ऩूजईऄ।।
अफ असबराषु एकु भन भोयईऄ । ऩूजकह नाथ अनुग्रह तोयईऄ ।।

भुसन प्रसन्न रष्ि सहज सनेहू। कहे उ नये स यजामसु दे हू।।
दो0-याजन याउय नाभु जसु सफ असबभत दाताय।

पर अनुगाभी भकहऩ भसन भन असबराषु तुम्हाय।।3।।
–*–*–
सफ वफसध गुरु प्रसन्न ष्जमॉ जानी। फोरेउ याउ यहॉ सस भृद ु फानी।।
नाथ याभु करयअकहॊ जुफयाजू। ककहअ कृ ऩा करय करयअ सभाजू।।
भोकह अछत महु होइ उछाहू। रहकहॊ रोग सफ रोचन राहू।।

प्रबु प्रसाद ससव सफइ सनफाहीॊ। मह रारसा एक भन भाहीॊ।।
ऩुसन न सोच तनु यहउ कक जाऊ। जेकहॊ न होइ ऩाछईऄ ऩसछताऊ।।
सुसन भुसन दसयथ फचन सुहाए। भॊगर भोद भूर भन बाए।।
सुनु नृऩ जासु वफभुि ऩसछताहीॊ। जासु बजन वफनु जयसन न जाहीॊ।।
बमउ तुम्हाय तनम सोइ स्वाभी। याभु ऩुनीत प्रेभ अनुगाभी।।
दो0-फेसग वफरॊफु न करयअ नृऩ साष्जअ सफुइ सभाजु।
सुकदन सुभॊगरु तफकहॊ जफ याभु होकहॊ जुफयाजु।।4।।
–*–*–
भुकदत भकहऩसत भॊकदय आए। सेवक ससचव सुभॊत्रु फोराए।।
ककह जमजीव सीस सतन्ह नाए। बूऩ सुभॊगर फचन सुनाए।।

138

जं ऩाॉचकह भत रागै नीका। कयहु हयवष कहमॉ याभकह टीका।।

भॊत्री भुकदत सुनत वप्रम फानी। असबभत वफयवॉ ऩये उ जनु ऩानी।।
वफनती ससचव कयकह कय जोयी। ष्जअहु जगतऩसत फरयस कयोयी।।
जग भॊगर बर काजु वफचाया। फेसगअ नाथ न राइअ फाया।।

नृऩकह भोद ु सुसन ससचव सुबाषा। फढ़त फंड़ जनु रही सुसािा।।
दो0-कहे उ बूऩ भुसनयाज कय जोइ जोइ आमसु होइ।

याभ याज असबषेक कहत फेसग कयहु सोइ सोइ।।5।।
–*–*–
हयवष भुनीस कहे उ भृद ु फानी। आनहु सकर सुतीयथ ऩानी।।
औषध भूर पूर पर ऩाना। कहे नाभ गसन भॊगर नाना।।

चाभय चयभ फसन फहु बाॉती। योभ ऩाट ऩट अगसनत जाती।।
भसनगन भॊगर फस्तु अनेका। जो जग जोगु बूऩ असबषेका।।

फेद वफकदत ककह सकर वफधाना। कहे उ यचहु ऩुय वफवफध वफताना।।
सपर यसार ऩूगपर केया। योऩहु फीसथन्ह ऩुय चहुॉ पेया।।
यचहु भॊजु भसन चौकईऄ चारू। कहहु फनावन फेसग फजारू।।

ऩूजहु गनऩसत गुय कुरदे वा। सफ वफसध कयहु बूसभसुय सेवा।।
दो0-ध्वज ऩताक तोयन करस सजहु तुयग यथ नाग।

ससय धरय भुसनफय फचन सफु सनज सनज काजकहॊ राग।।6।।
–*–*–
जो भुनीस जेकह आमसु दीन्हा। सो तेकहॊ काजु प्रथभ जनु कीन्हा।।
वफप्र साधु सुय ऩूजत याजा। कयत याभ कहत भॊगर काजा।।
सुनत याभ असबषेक सुहावा। फाज गहागह अवध फधावा।।
याभ सीम तन सगुन जनाए। पयककहॊ भॊगर अॊग सुहाए।।
ऩुरकक सप्रेभ ऩयसऩय कहहीॊ। बयत आगभनु सूचक अहहीॊ।।
बए फहुत कदन असत अवसेयी। सगुन प्रतीसत बईऄट वप्रम केयी।।

बयत सरयस वप्रम को जग भाहीॊ। इहइ सगुन परु दस
ू य नाहीॊ।।
याभकह फॊधु सोच कदन याती। अॊडष्न्ह कभठ ह्रदउ जेकह बाॉती।।
दो0-एकह अवसय भॊगरु ऩयभ सुसन यहॉ सेउ यसनवासु।
सोबत रष्ि वफधु फढ़त जनु फारयसध फीसच वफरासु।।7।।
–*–*–
प्रथभ जाइ ष्जन्ह फचन सुनाए। बूषन फसन बूरय सतन्ह ऩाए।।
प्रेभ ऩुरकक तन भन अनुयागीॊ। भॊगर करस सजन सफ रागीॊ।।
चौकईऄ चारु सुसभत्राॉ ऩुयी। भसनभम वफवफध बाॉसत असत रुयी।।

139

आनॉद भगन याभ भहतायी। कदए दान फहु वफप्र हॉ कायी।।
ऩूजीॊ ग्राभदे वफ सुय नागा। कहे उ फहोरय दे न फसरबागा।।

जेकह वफसध होइ याभ कल्मानू। दे हु दमा करय सो फयदानू।।
गावकहॊ भॊगर कोककरफमनीॊ। वफधुफदनीॊ भृगसावकनमनीॊ।।
दो0-याभ याज असबषेकु सुसन कहमॉ हयषे नय नारय।
रगे सुभॊगर सजन सफ वफसध अनुकूर वफचारय।।8।।
–*–*–
तफ नयनाहॉ फससष्ठु फोराए। याभधाभ ससि दे न ऩठाए।।
गुय आगभनु सुनत यघुनाथा। द्वाय आइ ऩद नामउ भाथा।।
सादय अयघ दे इ घय आने। सोयह बाॉसत ऩूष्ज सनभाने।।
गहे चयन ससम सकहत फहोयी। फोरे याभु कभर कय जोयी।।
सेवक सदन स्वासभ आगभनू। भॊगर भूर अभॊगर दभनू।।
तदवऩ उसचत जनु फोसर सप्रीती। ऩठइअ काज नाथ असस नीती।।
प्रबुता तष्ज प्रबु कीन्ह सनेहू। बमउ ऩुनीत आजु महु गेहू।।
आमसु होइ सो कयं गोसाई। सेवक रहइ स्वासभ सेवकाई।।
दो0-सुसन सनेह साने फचन भुसन यघुफयकह प्रसॊस।
याभ कस न तुम्ह कहहु अस हॊ स फॊस अवतॊस।।9।।
–*–*–
फयसन याभ गुन सीरु सुबाऊ। फोरे प्रेभ ऩुरकक भुसनयाऊ।।
बूऩ सजेउ असबषेक सभाजू। चाहत दे न तुम्हकह जुफयाजू।।
याभ कयहु सफ सॊजभ आजू। जं वफसध कुसर सनफाहै काजू।।

गुरु ससि दे इ याम ऩकहॊ गमउ। याभ रृदमॉ अस वफसभउ बमऊ।।
जनभे एक सॊग सफ बाई। बोजन समन केसर ररयकाई।।
कयनफेध उऩफीत वफआहा। सॊग सॊग सफ बए उछाहा।।
वफभर फॊस महु अनुसचत एकू। फॊधु वफहाइ फड़े कह असबषेकू।।
प्रबु सप्रेभ ऩसछतासन सुहाई। हयउ बगत भन कै कुकटराई।।
दो0-तेकह अवसय आए रिन भगन प्रेभ आनॊद।
सनभाने वप्रम फचन ककह यघुकुर कैयव चॊद।।10।।
–*–*–
फाजकहॊ फाजने वफवफध वफधाना। ऩुय प्रभोद ु नकहॊ जाइ फिाना।।

बयत आगभनु सकर भनावकहॊ । आवहुॉ फेसग नमन परु ऩावकहॊ ।।
हाट फाट घय गरीॊ अथाई। कहकहॊ ऩयसऩय रोग रोगाई।।

कासर रगन बसर केसतक फाया। ऩूष्जकह वफसध असबराषु हभाया।।

140

कनक ससॊघासन सीम सभेता। फैठकहॊ याभु होइ सचत चेता।।
सकर कहकहॊ कफ होइकह कारी। वफघन भनावकहॊ दे व कुचारी।।
सतन्हकह सोहाइ न अवध फधावा। चोयकह चॊकदसन यासत न बावा।।
सायद फोसर वफनम सुय कयहीॊ। फायकहॊ फाय ऩाम रै ऩयहीॊ।।
दो0-वफऩसत हभारय वफरोकक फकड़ भातु करयअ सोइ आजु।
याभु जाकहॊ फन याजु तष्ज होइ सकर सुयकाजु।।11।।
–*–*–
सुसन सुय वफनम ठाकढ़ ऩसछताती। बइउॉ सयोज वफवऩन कहभयाती।।
दे ष्ि दे व ऩुसन कहकहॊ सनहोयी। भातु तोकह नकहॊ थोरयउ िोयी।।
वफसभम हयष यकहत यघुयाऊ। तुम्ह जानहु सफ याभ प्रबाऊ।।

जीव कयभ फस सुि दि
ु बागी। जाइअ अवध दे व कहत रागी।।
फाय फाय गकह चयन सॉकोचौ। चरी वफचारय वफफुध भसत ऩोची।।
ऊॉच सनवासु नीसच कयतूती। दे ष्ि न सककहॊ ऩयाइ वफबूती।।
आसगर काजु वफचारय फहोयी। कयहकहॊ चाह कुसर कवफ भोयी।।
हयवष रृदमॉ दसयथ ऩुय आई। जनु ग्रह दसा दस
ु ह दि
ु दाई।।
दो0-नाभु भॊथया भॊदभसत चेयी कैकेइ केरय।

अजस ऩेटायी ताकह करय गई सगया भसत पेरय।।12।।
–*–*–
दीि भॊथया नगरु फनावा। भॊजुर भॊगर फाज फधावा।।
ऩूछेसस रोगन्ह काह उछाहू। याभ सतरकु सुसन बा उय दाहू।।

कयइ वफचारु कुफुवद्ध कुजाती। होइ अकाजु कवसन वफसध याती।।
दे ष्ि रासग भधु कुकटर ककयाती। ष्जसभ गवॉ तकइ रेउॉ केकह बाॉती।।
बयत भातु ऩकहॊ गइ वफरिानी। का अनभसन हसस कह हॉ सस यानी।।
ऊतरु दे इ न रेइ उसासू। नारय चरयत करय ढायइ आॉसू।।
हॉ सस कह यासन गारु फड़ तोयईऄ । दीन्ह रिन ससि अस भन भोयईऄ ।।
तफहुॉ न फोर चेरय फकड़ ऩावऩसन। छाड़इ स्वास कारय जनु साॉवऩसन।।
दो0-सबम यासन कह कहसस ककन कुसर याभु भकहऩारु।

रिनु बयतु रयऩुदभनु सुसन बा कुफयी उय सारु।।13।।
–*–*–
कत ससि दे इ हभकह कोउ भाई। गारु कयफ केकह कय फरु ऩाई।।
याभकह छाकड़ कुसर केकह आजू। जेकह जनेसु दे इ जुफयाजू।।
बमउ कौससरकह वफसध असत दाकहन। दे ित गयफ यहत उय नाकहन।।
दे िेहु कस न जाइ सफ सोबा। जो अवरोकक भोय भनु छोबा।।

141

ऩूतु वफदे स न सोचु तुम्हायईऄ । जानसत हहु फस नाहु हभायईऄ ।।

नीद फहुत वप्रम सेज तुयाई। रिहु न बूऩ कऩट चतुयाई।।

सुसन वप्रम फचन भसरन भनु जानी। झुकी यासन अफ यहु अयगानी।।
ऩुसन अस कफहुॉ कहसस घयपोयी। तफ धरय जीब कढ़ावउॉ तोयी।।
दो0-काने िोये कूफये कुकटर कुचारी जासन।

सतम वफसेवष ऩुसन चेरय ककह बयतभातु भुसुकासन।।14।।
–*–*–
वप्रमफाकदसन ससि दीष्न्हउॉ तोही। सऩनेहुॉ तो ऩय कोऩु न भोही।।
सुकदनु सुभॊगर दामकु सोई। तोय कहा पुय जेकह कदन होई।।

जेठ स्वासभ सेवक रघु बाई। मह कदनकय कुर यीसत सुहाई।।
याभ सतरकु जं साॉचेहुॉ कारी। दे उॉ भागु भन बावत आरी।।
कौसल्मा सभ सफ भहतायी। याभकह सहज सुबामॉ वऩआयी।।
भो ऩय कयकहॊ सनेहु वफसेषी। भईआ करय प्रीसत ऩयीछा दे िी।।

जं वफसध जनभु दे इ करय छोहू। होहुॉ याभ ससम ऩूत ऩुतोहू।।

प्रान तईऄ असधक याभु वप्रम भोयईऄ । सतन्ह कईऄ सतरक छोबु कस तोयईऄ ।।
दो0-बयत सऩथ तोकह सत्म कहु ऩरयहरय कऩट दयु ाउ।

हयष सभम वफसभउ कयसस कायन भोकह सुनाउ।।15।।
–*–*–
एककहॊ फाय आस सफ ऩूजी। अफ कछु कहफ जीब करय दज
ू ी।।
पोयै जोगु कऩारु अबागा। बरेउ कहत दि
ु यउये कह रागा।।

कहकहॊ झूकठ पुरय फात फनाई। ते वप्रम तुम्हकह करुइ भईआ भाई।।
हभहुॉ कहवफ अफ ठकुयसोहाती। नाकहॊ त भौन यहफ कदनु याती।।

करय कुरूऩ वफसध ऩयफस कीन्हा। फवा सो रुसनअ रकहअ जो दीन्हा।।
कोउ नृऩ होउ हभकह का हानी। चेरय छाकड़ अफ होफ कक यानी।।
जायै जोगु सुबाउ हभाया। अनबर दे ष्ि न जाइ तुम्हाया।।
तातईऄ कछुक फात अनुसायी। छसभअ दे वफ फकड़ चूक हभायी।।
दो0-गूढ़ कऩट वप्रम फचन सुसन तीम अधयफुसध यासन।
सुयभामा फस फैरयसनकह सुह्द जासन ऩसतआसन।।16।।
–*–*–
सादय ऩुसन ऩुसन ऩूॉछसत ओही। सफयी गान भृगी जनु भोही।।
तसस भसत कपयी अहइ जसस बाफी। यहसी चेरय घात जनु पाफी।।
तुम्ह ऩूॉछहु भईआ कहत डे याऊॉ। धये उ भोय घयपोयी नाऊॉ।।

सष्ज प्रतीसत फहुवफसध गकढ़ छोरी। अवध साढ़साती तफ फोरी।।

142

वप्रम ससम याभु कहा तुम्ह यानी। याभकह तुम्ह वप्रम सो पुरय फानी।।
यहा प्रथभ अफ ते कदन फीते। सभउ कपयईऄ रयऩु होकहॊ वऩॊयीते।।
बानु कभर कुर ऩोषसनहाया। वफनु जर जारय कयइ सोइ छाया।।
जरय तुम्हारय चह सवसत उिायी। रूॉधहु करय उऩाउ फय फायी।।
दो0-तुम्हकह न सोचु सोहाग फर सनज फस जानहु याउ।

भन भरीन भुह भीठ नृऩ याउय सयर सुबाउ।।17।।
–*–*–
चतुय गॉबीय याभ भहतायी। फीचु ऩाइ सनज फात सॉवायी।।
ऩठए बयतु बूऩ नसनअउयईऄ । याभ भातु भत जानव यउयईऄ ।।
सेवकहॊ सकर सवसत भोकह नीकईऄ। गयवफत बयत भातु फर ऩी कईऄ।।
सारु तुम्हाय कौससरकह भाई। कऩट चतुय नकहॊ होइ जनाई।।
याजकह तुम्ह ऩय प्रेभु वफसेषी। सवसत सुबाउ सकइ नकहॊ दे िी।।
यची प्रॊऩचु बूऩकह अऩनाई। याभ सतरक कहत रगन धयाई।।
मह कुर उसचत याभ कहुॉ टीका। सफकह सोहाइ भोकह सुकठ नीका।।
आसगसर फात सभुष्झ डरु भोही। दे उ दै उ कपरय सो परु ओही।।
दो0-यसच ऩसच कोकटक कुकटरऩन कीन्हे सस कऩट प्रफोधु।।
ककहसस कथा सत सवसत कै जेकह वफसध फाढ़ वफयोधु।।18।।
–*–*–
बावी फस प्रतीसत उय आई। ऩूॉछ यासन ऩुसन सऩथ दे वाई।।
का ऩूछहुॉ तुम्ह अफहुॉ न जाना। सनज कहत अनकहत ऩसु ऩकहचाना।।
बमउ ऩािु कदन सजत सभाजू। तुम्ह ऩाई सुसध भोकह सन आजू।।
िाइअ ऩकहरयअ याज तुम्हायईऄ । सत्म कहईऄ नकहॊ दोषु हभायईऄ ।।
जं असत्म कछु कहफ फनाई। तौ वफसध दे इकह हभकह सजाई।।
याभकह सतरक कासर जं बमऊ।þ तुम्ह कहुॉ वफऩसत फीजु वफसध फमऊ।।
ये ि िॉचाइ कहउॉ फरु बाषी। बासभसन बइहु दध
ू कइ भािी।।
जं सुत सकहत कयहु सेवकाई। तौ घय यहहु न आन उऩाई।।
दो0-करॉ ू वफनतकह दीन्ह दि
ु ु तुम्हकह कौससराॉ दे फ।

बयतु फॊकदगृह सेइहकहॊ रिनु याभ के नेफ।।19।।
–*–*–
कैकमसुता सुनत कटु फानी। ककह न सकइ कछु सहसभ सुिानी।।
तन ऩसेउ कदरी ष्जसभ काॉऩी। कुफयीॊ दसन जीब तफ चाॉऩी।।
ककह ककह कोकटक कऩट कहानी। धीयजु धयहु प्रफोसधसस यानी।।

कपया कयभु वप्रम रासग कुचारी। फकककह सयाहइ भासन भयारी।।

143

सुनु भॊथया फात पुरय तोयी। दकहसन आॉष्ि सनत पयकइ भोयी।।
कदन प्रसत दे िउॉ यासत कुसऩने। कहउॉ न तोकह भोह फस अऩने।।
काह कयौ सष्ि सूध सुबाऊ। दाकहन फाभ न जानउॉ काऊ।।
दो0-अऩने चरत न आजु रसग अनबर काहुक कीन्ह।

केकहॊ अघ एककह फाय भोकह दै अॉ दस
ु ह दि
ु ु दीन्ह।।20।।
–*–*–
नैहय जनभु बयफ फरु जाइ। ष्जअत न कयवफ सवसत सेवकाई।।
अरय फस दै उ ष्जआवत जाही। भयनु नीक तेकह जीवन चाही।।
दीन फचन कह फहुवफसध यानी। सुसन कुफयीॊ सतमभामा ठानी।।

अस कस कहहु भासन भन ऊना। सुिु सोहागु तुम्ह कहुॉ कदन दन
ू ा।।
जेकहॊ याउय असत अनबर ताका। सोइ ऩाइकह महु परु ऩरयऩाका।।

जफ तईऄ कुभत सुना भईआ स्वासभसन। बूि न फासय नीॊद न जासभसन।।
ऩूॉछेउ गुसनन्ह ये ि सतन्ह िाॉची। बयत बुआर होकहॊ मह साॉची।।
बासभसन कयहु त कहं उऩाऊ। है तुम्हयीॊ सेवा फस याऊ।।
दो0-ऩयउॉ कूऩ तुअ फचन ऩय सकउॉ ऩूत ऩसत त्मासग।

कहसस भोय दि
ु ु दे ष्ि फड़ कस न कयफ कहत रासग।।21।।
–*–*–
कुफयीॊ करय कफुरी कैकेई। कऩट छुयी उय ऩाहन टे ई।।
रिइ न यासन सनकट दि
ु ु कईआसे। चयइ हरयत सतन फसरऩसु जैसईऄ।।
सुनत फात भृद ु अॊत कठोयी। दे सत भनहुॉ भधु भाहुय घोयी।।

कहइ चेरय सुसध अहइ कक नाही। स्वासभसन ककहहु कथा भोकह ऩाहीॊ।।
दइ
ु फयदान बूऩ सन थाती। भागहु आजु जुड़ावहु छाती।।

सुतकह याजु याभकह फनवासू। दे हु रेहु सफ सवसत हुरासु।।

बूऩसत याभ सऩथ जफ कयई। तफ भागेहु जेकहॊ फचनु न टयई।।
होइ अकाजु आजु सनसस फीतईऄ। फचनु भोय वप्रम भानेहु जी तईऄ।।
दो0-फड़ कुघातु करय ऩातककसन कहे सस कोऩगृहॉ जाहु।

काजु सॉवाये हु सजग सफु सहसा जसन ऩसतआहु।।22।।
–*–*–
कुफरयकह यासन प्रानवप्रम जानी। फाय फाय फकड़ फुवद्ध फिानी।।
तोकह सभ कहत न भोय सॊसाया। फहे जात कइ बइसस अधाया।।
जं वफसध ऩुयफ भनोयथु कारी। कयं तोकह चि ऩूतरय आरी।।
फहुवफसध चेरयकह आदरु दे ई। कोऩबवन गवसन कैकेई।।

वफऩसत फीजु फयषा रयतु चेयी। बुइॉ बइ कुभसत कैकेई केयी।।

144

ऩाइ कऩट जरु अॊकुय जाभा। फय दोउ दर दि
ु पर ऩरयनाभा।।
कोऩ सभाजु साष्ज सफु सोई। याजु कयत सनज कुभसत वफगोई।।
याउय नगय कोराहरु होई। मह कुचासर कछु जान न कोई।।
दो0-प्रभुकदत ऩुय नय नारय। सफ सजकहॊ सुभॊगरचाय।
एक प्रवफसकहॊ एक सनगाभकहॊ बीय बूऩ दयफाय।।23।।
–*–*–
फार सिा सुन कहमॉ हयषाहीॊ। सभसर दस ऩाॉच याभ ऩकहॊ जाहीॊ।।
प्रबु आदयकहॊ प्रेभु ऩकहचानी। ऩूॉछकहॊ कुसर िेभ भृद ु फानी।।
कपयकहॊ बवन वप्रम आमसु ऩाई। कयत ऩयसऩय याभ फड़ाई।।
को यघुफीय सरयस सॊसाया। सीरु सनेह सनफाहसनहाया।
जईऄकह जईऄकह जोसन कयभ फस र्भ्भहीॊ। तहॉ तहॉ ईसु दे उ मह हभहीॊ।।
सेवक हभ स्वाभी ससमनाहू। होउ नात मह ओय सनफाहू।।

अस असबराषु नगय सफ काहू। कैकमसुता ह्दमॉ असत दाहू।।
को न कुसॊगसत ऩाइ नसाई। यहइ न नीच भतईऄ चतुयाई।।
दो0-साॉस सभम सानॊद नृऩु गमउ कैकेई गेहॉ।
गवनु सनठु यता सनकट ककम जनु धरय दे ह सनेहॉ।।24।।
–*–*–
कोऩबवन सुसन सकुचेउ याउ। बम फस अगहुड़ ऩयइ न ऩाऊ।।

सुयऩसत फसइ फाहॉ फर जाके। नयऩसत सकर यहकहॊ रुि ताकईऄ।।
सो सुसन सतम रयस गमउ सुिाई। दे िहु काभ प्रताऩ फड़ाई।।

सूर कुसरस असस अॉगवसनहाये । ते यसतनाथ सुभन सय भाये ।।
सबम नये सु वप्रमा ऩकहॊ गमऊ। दे ष्ि दसा दि
ु ु दारुन बमऊ।।
बूसभ समन ऩटु भोट ऩुयाना। कदए डारय तन बूषण नाना।।

कुभसतकह कसस कुफेषता पाफी। अन अकहवातु सूच जनु बाफी।।
जाइ सनकट नृऩु कह भृद ु फानी। प्रानवप्रमा केकह हे तु रयसानी।।
छॊ 0-केकह हे तु यासन रयसासन ऩयसत ऩासन ऩसतकह नेवायई।
भानहुॉ सयोष बुअॊग बासभसन वफषभ बाॉसत सनहायई।।
दोउ फासना यसना दसन फय भयभ ठाहरु दे िई।

तुरसी नृऩसत बवतब्मता फस काभ कौतुक रेिई।।
सो0-फाय फाय कह याउ सुभुष्ि सुरोसचसन वऩकफचसन।
कायन भोकह सुनाउ गजगासभसन सनज कोऩ कय।।25।।

अनकहत तोय वप्रमा केइॉ कीन्हा। केकह दइ
ु ससय केकह जभु चह रीन्हा।।
कहु केकह यॊ ककह कयौ नये सू। कहु केकह नृऩकह सनकासं दे सू।।

145

सकउॉ तोय अरय अभयउ भायी। काह कीट फऩुये नय नायी।।
जानसस भोय सुबाउ फयोरू। भनु तव आनन चॊद चकोरू।।
वप्रमा प्रान सुत सयफसु भोयईऄ । ऩरयजन प्रजा सकर फस तोयईऄ ।।
जं कछु कहौ कऩटु करय तोही। बासभसन याभ सऩथ सत भोही।।
वफहसस भागु भनबावसत फाता। बूषन सजकह भनोहय गाता।।
घयी कुघयी सभुष्झ ष्जमॉ दे िू। फेसग वप्रमा ऩरयहयकह कुफेषू।।
दो0-मह सुसन भन गुसन सऩथ फकड़ वफहसस उठी भसतभॊद।
बूषन सजसत वफरोकक भृगु भनहुॉ ककयासतसन पॊद।।26।।
–*–*–
ऩुसन कह याउ सुह्रद ष्जमॉ जानी। प्रेभ ऩुरकक भृद ु भॊजुर फानी।।
बासभसन बमउ तोय भनबावा। घय घय नगय अनॊद फधावा।।
याभकह दे उॉ कासर जुफयाजू। सजकह सुरोचसन भॊगर साजू।।
दरकक उठे उ सुसन ह्रदउ कठोरू। जनु छुइ गमउ ऩाक फयतोरू।।
ऐससउ ऩीय वफहसस तेकह गोई। चोय नारय ष्जसभ प्रगकट न योई।।
रिकहॊ न बूऩ कऩट चतुयाई। कोकट कुकटर भसन गुरू ऩढ़ाई।।
जयवऩ नीसत सनऩुन नयनाहू। नारयचरयत जरसनसध अवगाहू।।
कऩट सनेहु फढ़ाइ फहोयी। फोरी वफहसस नमन भुहु भोयी।।
दो0-भागु भागु ऩै कहहु वऩम कफहुॉ न दे हु न रेहु।

दे न कहे हु फयदान दइ
ु तेउ ऩावत सॊदेहु।।27।।
–*–*–
जानेउॉ भयभु याउ हॉ सस कहई। तुम्हकह कोहाफ ऩयभ वप्रम अहई।।
थासत याष्ि न भासगहु काऊ। वफसरय गमउ भोकह बोय सुबाऊ।।
झूठेहुॉ हभकह दोषु जसन दे हू। दइ
ु कै चारय भासग भकु रेहू।।

यघुकुर यीसत सदा चसर आई। प्रान जाहुॉ फरु फचनु न जाई।।

नकहॊ असत्म सभ ऩातक ऩुॊजा। सगरय सभ होकहॊ कक कोकटक गुॊजा।।
सत्मभूर सफ सुकृत सुहाए। फेद ऩुयान वफकदत भनु गाए।।
तेकह ऩय याभ सऩथ करय आई। सुकृत सनेह अवसध यघुयाई।।
फात दृढ़ाइ कुभसत हॉ सस फोरी। कुभत कुवफहग कुरह जनु िोरी।।
दो0-बूऩ भनोयथ सुबग फनु सुि सुवफहॊ ग सभाजु।
सबल्रसन ष्जसभ छाड़न चहसत फचनु बमॊकरु फाजु।।28।।
भासऩायामण, तेयहवाॉ ववश्राभ
–*–*–
सुनहु प्रानवप्रम बावत जी का। दे हु एक फय बयतकह टीका।।

146

भागउॉ दस
ू य फय कय जोयी। ऩुयवहु नाथ भनोयथ भोयी।।

ताऩस फेष वफसेवष उदासी। चौदह फरयस याभु फनफासी।।
सुसन भृद ु फचन बूऩ कहमॉ सोकू। ससस कय छुअत वफकर ष्जसभ कोकू।।
गमउ सहसभ नकहॊ कछु ककह आवा। जनु सचान फन झऩटे उ रावा।।
वफफयन बमउ सनऩट नयऩारू। दासभसन हनेउ भनहुॉ तरु तारू।।

भाथे हाथ भूकद दोउ रोचन। तनु धरय सोचु राग जनु सोचन।।
भोय भनोयथु सुयतरु पूरा। पयत करयसन ष्जसभ हतेउ सभूरा।।
अवध उजारय कीष्न्ह कैकेईं। दीन्हसस अचर वफऩसत कै नेईं।।
दो0-कवनईऄ अवसय का बमउ गमउॉ नारय वफस्वास।
जोग ससवद्ध पर सभम ष्जसभ जसतकह अवफया नास।।29।।
–*–*–
एकह वफसध याउ भनकहॊ भन झाॉिा। दे ष्ि कुबाॉसत कुभसत भन भािा।।
बयतु कक याउय ऩूत न होहीॊ। आनेहु भोर फेसाकह कक भोही।।

जो सुसन सरु अस राग तुम्हायईऄ । काहे न फोरहु फचनु सॉबाये ।।
दे हु उतरु अनु कयहु कक नाहीॊ। सत्मसॊध तुम्ह यघुकुर भाहीॊ।।

दे न कहे हु अफ जसन फरु दे हू। तजहुॉ सत्म जग अऩजसु रेहू।।
सत्म सयाकह कहे हु फरु दे ना। जानेहु रेइकह भासग चफेना।।

ससवफ दधीसच फसर जो कछु बाषा। तनु धनु तजेउ फचन ऩनु यािा।।
असत कटु फचन कहसत कैकेई। भानहुॉ रोन जये ऩय दे ई।।
दो0-धयभ धुयॊधय धीय धरय नमन उघाये यामॉ।

ससरु धुसन रीष्न्ह उसास असस भाये सस भोकह कुठामॉ।।30।।
–*–*–
आगईऄ दीष्ि जयत रयस बायी। भनहुॉ योष तयवारय उघायी।।
भूकठ कुफुवद्ध धाय सनठु याई। धयी कूफयीॊ सान फनाई।।

रिी भहीऩ कयार कठोया। सत्म कक जीवनु रेइकह भोया।।
फोरे याउ ककठन करय छाती। फानी सवफनम तासु सोहाती।।
वप्रमा फचन कस कहसस कुबाॉती। बीय प्रतीसत प्रीसत करय हाॉती।।
भोयईऄ बयतु याभु दइ
ु आॉिी। सत्म कहउॉ करय सॊकरू सािी।।
अवसस दत
ू ु भईआ ऩठइफ प्राता। ऐहकहॊ फेसग सुनत दोउ र्भ्ाता।।

सुकदन सोसध सफु साजु सजाई। दे उॉ बयत कहुॉ याजु फजाई।।
दो0- रोबु न याभकह याजु कय फहुत बयत ऩय प्रीसत।

भईआ फड़ छोट वफचारय ष्जमॉ कयत यहे उॉ नृऩनीसत।।31।।
–*–*–

147

याभ सऩथ सत कहुउॉ सुबाऊ। याभभातु कछु कहे उ न काऊ।।
भईआ सफु कीन्ह तोकह वफनु ऩूॉछईऄ। तेकह तईऄ ऩये उ भनोयथु छूछईऄ ।।

रयस ऩरयहरू अफ भॊगर साजू। कछु कदन गएॉ बयत जुफयाजू।।
एककह फात भोकह दि
ु ु रागा। फय दस
ू य असभॊजस भागा।।

अजहुॉ रृदम जयत तेकह आॉचा। रयस ऩरयहास कक साॉचेहुॉ साॉचा।।
कहु तष्ज योषु याभ अऩयाधू। सफु कोउ कहइ याभु सुकठ साधू।।
तुहूॉ सयाहसस कयसस सनेहू। अफ सुसन भोकह बमउ सॊदेहू।।

जासु सुबाउ अरयकह अनुकूरा। सो ककसभ करयकह भातु प्रसतकूरा।।
दो0- वप्रमा हास रयस ऩरयहयकह भागु वफचारय वफफेकु।
जेकहॊ दे िाॉ अफ नमन बरय बयत याज असबषेकु।।32।।
–*–*–
ष्जऐ भीन फरू फारय वफहीना। भसन वफनु पसनकु ष्जऐ दि
ु दीना।।
कहउॉ सुबाउ न छरु भन भाहीॊ। जीवनु भोय याभ वफनु नाहीॊ।।
सभुष्झ दे िु ष्जमॉ वप्रमा प्रफीना। जीवनु याभ दयस आधीना।।
सुसन म्रद ु फचन कुभसत असत जयई। भनहुॉ अनर आहुसत घृत ऩयई।।
कहइ कयहु ककन कोकट उऩामा। इहाॉ न रासगकह याउरय भामा।।
दे हु कक रेहु अजसु करय नाहीॊ। भोकह न फहुत प्रऩॊच सोहाहीॊ।
याभु साधु तुम्ह साधु समाने। याभभातु बसर सफ ऩकहचाने।।

जस कौससराॉ भोय बर ताका। तस परु उन्हकह दे उॉ करय साका।।
दो0-होत प्रात भुसनफेष धरय जं न याभु फन जाकहॊ ।
भोय भयनु याउय अजस नृऩ सभुष्झअ भन भाकहॊ ।।33।।
–*–*–
अस ककह कुकटर बई उकठ ठाढ़ी। भानहुॉ योष तयॊ सगसन फाढ़ी।।
ऩाऩ ऩहाय प्रगट बइ सोई। बयी क्रोध जर जाइ न जोई।।

दोउ फय कूर ककठन हठ धाया। बवॉय कूफयी फचन प्रचाया।।
ढाहत बूऩरूऩ तरु भूरा। चरी वफऩसत फारयसध अनुकूरा।।
रिी नये स फात पुरय साॉची। सतम सभस भीचु सीस ऩय नाची।।
गकह ऩद वफनम कीन्ह फैठायी। जसन कदनकय कुर होसस कुठायी।।
भागु भाथ अफहीॊ दे उॉ तोही। याभ वफयहॉ जसन भायसस भोही।।
यािु याभ कहुॉ जेकह तेकह बाॉती। नाकहॊ त जरयकह जनभ बरय छाती।।
दो0-दे िी ब्मासध असाध नृऩु ऩये उ धयसन धुसन भाथ।
कहत ऩयभ आयत फचन याभ याभ यघुनाथ।।34।।
–*–*–

148

ब्माकुर याउ सससथर सफ गाता। करयसन करऩतरु भनहुॉ सनऩाता।।
कॊठु सूि भुि आव न फानी। जनु ऩाठीनु दीन वफनु ऩानी।।
ऩुसन कह कटु कठोय कैकेई। भनहुॉ घाम भहुॉ भाहुय दे ई।।

जं अॊतहुॉ अस कयतफु यहे ऊ। भागु भागु तुम्ह केकहॊ फर कहे ऊ।।
दइ
ु कक होइ एक सभम बुआरा। हॉ सफ ठठाइ पुराउफ गारा।।
दासन कहाउफ अरु कृ ऩनाई। होइ कक िेभ कुसर यौताई।।

छाड़हु फचनु कक धीयजु धयहू। जसन अफरा ष्जसभ करुना कयहू।।

तनु सतम तनम धाभु धनु धयनी। सत्मसॊध कहुॉ तृन सभ फयनी।।
दो0-भयभ फचन सुसन याउ कह कहु कछु दोषु न तोय।

रागेउ तोकह वऩसाच ष्जसभ कारु कहावत भोय।।35।।û
–*–*–
चहत न बयत बूऩतकह बोयईऄ । वफसध फस कुभसत फसी ष्जम तोयईऄ ।।
सो सफु भोय ऩाऩ ऩरयनाभू। बमउ कुठाहय जेकहॊ वफसध फाभू।।
सुफस फससकह कपरय अवध सुहाई। सफ गुन धाभ याभ प्रबुताई।।
करयहकहॊ बाइ सकर सेवकाई। होइकह सतहुॉ ऩुय याभ फड़ाई।।

तोय करॊकु भोय ऩसछताऊ। भुएहुॉ न सभटकह न जाइकह काऊ।।
अफ तोकह नीक राग करु सोई। रोचन ओट फैठु भुहु गोई।।

जफ रसग ष्जऔ ॊ कहउॉ कय जोयी। तफ रसग जसन कछु कहसस फहोयी।।
कपरय ऩसछतैहसस अॊत अबागी। भायसस गाइ नहारु रागी।।
दो0-ऩये उ याउ ककह कोकट वफसध काहे कयसस सनदानु।
कऩट समासन न कहसत कछु जागसत भनहुॉ भसानु।।36।।
–*–*–
याभ याभ यट वफकर बुआरू। जनु वफनु ऩॊि वफहॊ ग फेहारू।।
रृदमॉ भनाव बोरु जसन होई। याभकह जाइ कहै जसन कोई।।
उदउ कयहु जसन यवफ यघुकुर गुय। अवध वफरोकक सूर होइकह उय।।
बूऩ प्रीसत कैकइ ककठनाई। उबम अवसध वफसध यची फनाई।।

वफरऩत नृऩकह बमउ सबनुसाया। फीना फेनु सॊि धुसन द्वाया।।
ऩढ़कहॊ बाट गुन गावकहॊ गामक। सुनत नृऩकह जनु रागकहॊ सामक।।
भॊगर सकर सोहाकहॊ न कैसईऄ। सहगासभसनकह वफबूषन जैसईऄ।।
तेकहॊ सनसस नीद ऩयी नकह काहू। याभ दयस रारसा उछाहू।।
दो0-द्वाय बीय सेवक ससचव कहकहॊ उकदत यवफ दे ष्ि।

जागेउ अजहुॉ न अवधऩसत कायनु कवनु वफसेवष।।37।।
–*–*–

149

ऩसछरे ऩहय बूऩु सनत जागा। आजु हभकह फड़ अचयजु रागा।।
जाहु सुभॊत्र जगावहु जाई। कीष्जअ काजु यजामसु ऩाई।।
गए सुभॊत्रु तफ याउय भाही। दे ष्ि बमावन जात डे याहीॊ।।

धाइ िाइ जनु जाइ न हे या। भानहुॉ वफऩसत वफषाद फसेया।।
ऩूछईऄ कोउ न ऊतरु दे ई। गए जईऄकहॊ बवन बूऩ कैकैई।।

ककह जमजीव फैठ ससरु नाई। दै ष्ि बूऩ गसत गमउ सुिाई।।
सोच वफकर वफफयन भकह ऩये ऊ। भानहुॉ कभर भूरु ऩरयहये ऊ।।

ससचउ सबीत सकइ नकहॊ ऩूॉछी। फोरी असुब बयी सुब छूछी।।
दो0-ऩयी न याजकह नीद सनसस हे तु जान जगदीसु।
याभु याभु यकट बोरु ककम कहइ न भयभु भहीसु।।38।।
–*–*–
आनहु याभकह फेसग फोराई। सभाचाय तफ ऩूॉछेहु आई।।

चरेउ सुभॊत्र याम रूि जानी। रिी कुचासर कीष्न्ह कछु यानी।।
सोच वफकर भग ऩयइ न ऩाऊ। याभकह फोसर ककहकह का याऊ।।
उय धरय धीयजु गमउ दआ
ु यईऄ । ऩूछॉकहॊ सकर दे ष्ि भनु भायईऄ ।।

सभाधानु करय सो सफही का। गमउ जहाॉ कदनकय कुर टीका।।
याभु सुभॊत्रकह आवत दे िा। आदरु कीन्ह वऩता सभ रेिा।।
सनयष्ि फदनु ककह बूऩ यजाई। यघुकुरदीऩकह चरेउ रेवाई।।
याभु कुबाॉसत ससचव सॉग जाहीॊ। दे ष्ि रोग जहॉ तहॉ वफरिाहीॊ।।
दो0-जाइ दीि यघुफॊसभसन नयऩसत सनऩट कुसाजु।।
सहसभ ऩये उ रष्ि ससॊसघसनकह भनहुॉ फृद्ध गजयाजु।।39।।
–*–*–
सूिकहॊ अधय जयइ सफु अॊगू। भनहुॉ दीन भसनहीन बुअॊगू।।
सरुष सभीऩ दीष्ि कैकेई। भानहुॉ भीचु घयी गसन रेई।।

करुनाभम भृद ु याभ सुबाऊ। प्रथभ दीि दि
ु ु सुना न काऊ।।
तदवऩ धीय धरय सभउ वफचायी। ऩूॉछी भधुय फचन भहतायी।।

भोकह कहु भातु तात दि
ु कायन। करयअ जतन जेकहॊ होइ सनवायन।।
सुनहु याभ सफु कायन एहू। याजकह तुभ ऩय फहुत सनेहू।।

दे न कहे ष्न्ह भोकह दइ
ु फयदाना। भागेउॉ जो कछु भोकह सोहाना।

सो सुसन बमउ बूऩ उय सोचू। छाकड़ न सककहॊ तुम्हाय सॉकोचू।।
दो0-सुत सनेह इत फचनु उत सॊकट ऩये उ नये सु।

सकहु न आमसु धयहु ससय भेटहु ककठन करेसु।।40।।
–*–*–

150

सनधयक फैकठ कहइ कटु फानी। सुनत ककठनता असत अकुरानी।।
जीब कभान फचन सय नाना। भनहुॉ भकहऩ भृद ु रछछ सभाना।।
जनु कठोयऩनु धयईऄ सयीरू। ससिइ धनुषवफया फय फीरू।।

सफ प्रसॊगु यघुऩसतकह सुनाई। फैकठ भनहुॉ तनु धरय सनठु याई।।
भन भुसकाइ बानुकुर बानु। याभु सहज आनॊद सनधानू।।

फोरे फचन वफगत सफ दष
ू न। भृद ु भॊजुर जनु फाग वफबूषन।।

सुनु जननी सोइ सुतु फड़बागी। जो वऩतु भातु फचन अनुयागी।।
तनम भातु वऩतु तोषसनहाया। दर
ा जनसन सकर सॊसाया।।
ु ब
दो0-भुसनगन सभरनु वफसेवष फन सफकह बाॉसत कहत भोय।

तेकह भहॉ वऩतु आमसु फहुरय सॊभत जननी तोय।।41।।
–*–*–
बयत प्रानवप्रम ऩावकहॊ याजू। वफसध सफ वफसध भोकह सनभुि आजु।
जं न जाउॉ फन ऐसेहु काजा। प्रथभ गसनअ भोकह भूढ़ सभाजा।।
सेवकहॊ अयॉ डु करऩतरु त्मागी। ऩरयहरय अभृत रेकहॊ वफषु भागी।।
तेउ न ऩाइ अस सभउ चुकाहीॊ। दे िु वफचारय भातु भन भाहीॊ।।
अॊफ एक दि
ु ु भोकह वफसेषी। सनऩट वफकर नयनामकु दे िी।।

थोरयकहॊ फात वऩतकह दि
ु बायी। होसत प्रतीसत न भोकह भहतायी।।
याउ धीय गुन उदसध अगाधू। बा भोकह ते कछु फड़ अऩयाधू।।

जातईऄ भोकह न कहत कछु याऊ। भोरय सऩथ तोकह कहु ससतबाऊ।।
दो0-सहज सयर यघुफय फचन कुभसत कुकटर करय जान।
चरइ जंक जर फक्रगसत जयवऩ ससररु सभान।।42।।
–*–*–
यहसी यासन याभ रुि ऩाई। फोरी कऩट सनेहु जनाई।।

सऩथ तुम्हाय बयत कै आना। हे तु न दस
ू य भै कछु जाना।।

तुम्ह अऩयाध जोगु नकहॊ ताता। जननी जनक फॊधु सुिदाता।।
याभ सत्म सफु जो कछु कहहू। तुम्ह वऩतु भातु फचन यत अहहू।।
वऩतकह फुझाइ कहहु फसर सोई। चौथईऄऩन जेकहॊ अजसु न होई।।

तुम्ह सभ सुअन सुकृत जेकहॊ दीन्हे । उसचत न तासु सनयादरु कीन्हे ।।
रागकहॊ कुभुि फचन सुब कैसे। भगहॉ गमाकदक तीयथ जैसे।।
याभकह भातु फचन सफ बाए। ष्जसभ सुयसरय गत ससरर सुहाए।।
दो0-गइ भुरुछा याभकह सुसभरय नृऩ कपरय कयवट रीन्ह।

ससचव याभ आगभन ककह वफनम सभम सभ कीन्ह।।43।।
–*–*–

151

अवसनऩ अकसन याभु ऩगु धाये । धरय धीयजु तफ नमन उघाये ।।
ससचवॉ सॉबारय याउ फैठाये । चयन ऩयत नृऩ याभु सनहाये ।।
सरए सनेह वफकर उय राई। गै भसन भनहुॉ पसनक कपरय ऩाई।।
याभकह सचतइ यहे उ नयनाहू। चरा वफरोचन फारय प्रफाहू।।

सोक वफफस कछु कहै न ऩाया। रृदमॉ रगावत फायकहॊ फाया।।
वफसधकह भनाव याउ भन भाहीॊ। जेकहॊ यघुनाथ न कानन जाहीॊ।।
सुसभरय भहे सकह कहइ सनहोयी। वफनती सुनहु सदाससव भोयी।।
आसुतोष तुम्ह अवढय दानी। आयसत हयहु दीन जनु जानी।।
दो0-तुम्ह प्रेयक सफ के रृदमॉ सो भसत याभकह दे हु।

फचनु भोय तष्ज यहकह घय ऩरयहरय सीरु सनेहु।।44।।
–*–*–
अजसु होउ जग सुजसु नसाऊ। नयक ऩयौ फरु सुयऩुरु जाऊ।।
सफ दि
ु दस
ु ह सहावहु भोही। रोचन ओट याभु जसन हंही।।

अस भन गुनइ याउ नकहॊ फोरा। ऩीऩय ऩात सरयस भनु डोरा।।
यघुऩसत वऩतकह प्रेभफस जानी। ऩुसन कछु ककहकह भातु अनुभानी।।
दे स कार अवसय अनुसायी। फोरे फचन वफनीत वफचायी।।
तात कहउॉ कछु कयउॉ कढठाई। अनुसचतु छभफ जासन ररयकाई।।
असत रघु फात रासग दि
ु ु ऩावा। काहुॉ न भोकह ककह प्रथभ जनावा।।
दे ष्ि गोसाइॉ कह ऩूॉसछउॉ भाता। सुसन प्रसॊगु बए सीतर गाता।।
दो0-भॊगर सभम सनेह फस सोच ऩरयहरयअ तात।
आमसु दे इअ हयवष कहमॉ ककह ऩुरके प्रबु गात।।45।।
–*–*–
धन्म जनभु जगतीतर तासू। वऩतकह प्रभोद ु चरयत सुसन जासू।।
चारय ऩदायथ कयतर ताकईऄ। वप्रम वऩतु भातु प्रान सभ जाकईऄ।।
आमसु ऩासर जनभ परु ऩाई। ऐहउॉ फेसगकहॊ होउ यजाई।।
वफदा भातु सन आवउॉ भागी। चसरहउॉ फनकह फहुरय ऩग रागी।।

अस ककह याभ गवनु तफ कीन्हा। बूऩ सोक फसु उतरु न दीन्हा।।
नगय ब्मावऩ गइ फात सुतीछी। छुअत चढ़ी जनु सफ तन फीछी।।
सुसन बए वफकर सकर नय नायी। फेसर वफटऩ ष्जसभ दे ष्ि दवायी।।
जो जहॉ सुनइ धुनइ ससरु सोई। फड़ वफषाद ु नकहॊ धीयजु होई।।
दो0-भुि सुिाकहॊ रोचन स्त्रवकह सोकु न रृदमॉ सभाइ।
भनहुॉ ०करुन यस कटकई उतयी अवध फजाइ।।46।।
–*–*–

152

सभरेकह भाझ वफसध फात फेगायी। जहॉ तहॉ दे कहॊ कैकेइकह गायी।।
एकह ऩावऩसनकह फूष्झ का ऩये ऊ। छाइ बवन ऩय ऩावकु धये ऊ।।
सनज कय नमन काकढ़ चह दीिा। डारय सुधा वफषु चाहत चीिा।।
कुकटर कठोय कुफुवद्ध अबागी। बइ यघुफॊस फेनु फन आगी।।
ऩारव फैकठ ऩेड़ु एकहॊ काटा। सुि भहुॉ सोक ठाटु धरय ठाटा।।
सदा याभु एकह प्रान सभाना। कायन कवन कुकटरऩनु ठाना।।

सत्म कहकहॊ कवफ नारय सुबाऊ। सफ वफसध अगहु अगाध दयु ाऊ।।
सनज प्रसतवफॊफु फरुकु गकह जाई। जासन न जाइ नारय गसत बाई।।
दो0-काह न ऩावकु जारय सक का न सभुर सभाइ।
का न कयै अफरा प्रफर केकह जग कारु न िाइ।।47।।
–*–*–
का सुनाइ वफसध काह सुनावा। का दे िाइ चह काह दे िावा।।
एक कहकहॊ बर बूऩ न कीन्हा। फरु वफचारय नकहॊ कुभसतकह दीन्हा।।
जो हकठ बमउ सकर दि
ु बाजनु। अफरा वफफस ग्मानु गुनु गा जनु।।
एक धयभ ऩयसभसत ऩकहचाने। नृऩकह दोसु नकहॊ दे कहॊ समाने।।

ससवफ दधीसच हरयचॊद कहानी। एक एक सन कहकहॊ फिानी।।
एक बयत कय सॊभत कहहीॊ। एक उदास बामॉ सुसन यहहीॊ।।
कान भूकद कय यद गकह जीहा। एक कहकहॊ मह फात अरीहा।।
सुकृत जाकहॊ अस कहत तुम्हाये । याभु बयत कहुॉ प्रानवऩआये ।।
दो0-चॊद ु चवै फरु अनर कन सुधा होइ वफषतूर।

सऩनेहुॉ कफहुॉ न कयकहॊ ककछु बयतु याभ प्रसतकूर।।48।।
–*–*–
एक वफधातकहॊ दष
ू नु दईऄ हीॊ। सुधा दे िाइ दीन्ह वफषु जेहीॊ।।

ियबरु नगय सोचु सफ काहू। दस
ु ह दाहु उय सभटा उछाहू।।
वफप्रफधू कुरभान्म जठे यी। जे वप्रम ऩयभ कैकेई केयी।।

रगीॊ दे न ससि सीरु सयाही। फचन फानसभ रागकहॊ ताही।।
बयतु न भोकह वप्रम याभ सभाना। सदा कहहु महु सफु जगु जाना।।
कयहु याभ ऩय सहज सनेहू। केकहॊ अऩयाध आजु फनु दे हू।।

कफहुॉ न ककमहु सवसत आये सू। प्रीसत प्रतीसत जान सफु दे सू।।

कौसल्माॉ अफ काह वफगाया। तुम्ह जेकह रासग फज्र ऩुय ऩाया।।
दो0-सीम कक वऩम सॉगु ऩरयहरयकह रिनु कक यकहहकहॊ धाभ।
याजु कक बूॉजफ बयत ऩुय नृऩु कक ष्जइकह वफनु याभ।।49।।
–*–*–

153

अस वफचारय उय छाड़हु कोहू। सोक करॊक कोकठ जसन होहू।।
बयतकह अवसस दे हु जुफयाजू। कानन काह याभ कय काजू।।
नाकहन याभु याज के बूिे। धयभ धुयीन वफषम यस रूिे।।

गुय गृह फसहुॉ याभु तष्ज गेहू। नृऩ सन अस फरु दस
ू य रेहू।।

जं नकहॊ रसगहहु कहईऄ हभाये । नकहॊ रासगकह कछु हाथ तुम्हाये ।।
जं ऩरयहास कीष्न्ह कछु होई। तौ ककह प्रगट जनावहु सोई।।

याभ सरयस सुत कानन जोगू। काह ककहकह सुसन तुम्ह कहुॉ रोगू।।
उठहु फेसग सोइ कयहु उऩाई। जेकह वफसध सोकु करॊकु नसाई।।
छॊ 0-जेकह बाॉसत सोकु करॊकु जाइ उऩाम करय कुर ऩारही।
हकठ पेरु याभकह जात फन जसन फात दस
ू रय चारही।।

ष्जसभ बानु वफनु कदनु प्रान वफनु तनु चॊद वफनु ष्जसभ जासभनी।
सतसभ अवध तुरसीदास प्रबु वफनु सभुष्झ धं ष्जमॉ बासभनी।।
सो0-सष्िन्ह ससिावनु दीन्ह सुनत भधुय ऩरयनाभ कहत।
तेइॉ कछु कान न कीन्ह कुकटर प्रफोधी कूफयी।।50।।
उतरु न दे इ दस
ु ह रयस रूिी। भृसगन्ह सचतव जनु फासघसन बूिी।।

ब्मासध असासध जासन सतन्ह त्मागी। चरीॊ कहत भसतभॊद अबागी।।
याजु कयत मह दै अॉ वफगोई। कीन्हे सस अस जस कयइ न कोई।।
एकह वफसध वफरऩकहॊ ऩुय नय नायीॊ। दे कहॊ कुचासरकह कोकटक गायीॊ।।
जयकहॊ वफषभ जय रेकहॊ उसासा। कवसन याभ वफनु जीवन आसा।।
वफऩुर वफमोग प्रजा अकुरानी। जनु जरचय गन सूित ऩानी।।
असत वफषाद फस रोग रोगाई। गए भातु ऩकहॊ याभु गोसाई।।
भुि प्रसन्न सचत चौगुन चाऊ। सभटा सोचु जसन यािै याऊ।।
दो-नव गमॊद ु यघुफीय भनु याजु अरान सभान।

छूट जासन फन गवनु सुसन उय अनॊद ु असधकान।।51।।

यघुकुरसतरक जोरय दोउ हाथा। भुकदत भातु ऩद नामउ भाथा।।
दीष्न्ह असीस राइ उय रीन्हे । बूषन फसन सनछावरय कीन्हे ।।
फाय फाय भुि चुॊफसत भाता। नमन नेह जरु ऩुरककत गाता।।
गोद याष्ि ऩुसन रृदमॉ रगाए। स्त्रवत प्रेनयस ऩमद सुहाए।।
प्रेभु प्रभोद ु न कछु ककह जाई। यॊ क धनद ऩदफी जनु ऩाई।।
सादय सुॊदय फदनु सनहायी। फोरी भधुय फचन भहतायी।।

कहहु तात जननी फसरहायी। कफकहॊ रगन भुद भॊगरकायी।।

सुकृत सीर सुि सीवॉ सुहाई। जनभ राब कइ अवसध अघाई।।

154

दो0- जेकह चाहत नय नारय सफ असत आयत एकह बाॉसत।
ष्जसभ चातक चातकक तृवषत फृवि सयद रयतु स्वासत।।52।।
–*–*–
तात जाउॉ फसर फेसग नहाहू। जो भन बाव भधुय कछु िाहू।।

वऩतु सभीऩ तफ जाएहु बैआ। बइ फकड़ फाय जाइ फसर भैआ।।

भातु फचन सुसन असत अनुकूरा। जनु सनेह सुयतरु के पूरा।।
सुि भकयॊ द बये सश्रमभूरा। सनयष्ि याभ भनु बवरुॉ न बूरा।।
धयभ धुयीन धयभ गसत जानी। कहे उ भातु सन असत भृद ु फानी।।
वऩताॉ दीन्ह भोकह कानन याजू। जहॉ सफ बाॉसत भोय फड़ काजू।।

आमसु दे कह भुकदत भन भाता। जेकहॊ भुद भॊगर कानन जाता।।
जसन सनेह फस डयऩसस बोयईऄ । आनॉद ु अॊफ अनुग्रह तोयईऄ ।।
दो0-फयष चारयदस वफवऩन फसस करय वऩतु फचन प्रभान।

आइ ऩाम ऩुसन दे ष्िहउॉ भनु जसन कयसस भरान।।53।।
–*–*–
फचन वफनीत भधुय यघुफय के। सय सभ रगे भातु उय कयके।।
सहसभ सूष्ि सुसन सीतसर फानी। ष्जसभ जवास ऩयईऄ ऩावस ऩानी।।
ककह न जाइ कछु रृदम वफषाद।ू भनहुॉ भृगी सुसन केहरय नाद।ू ।

नमन सजर तन थय थय काॉऩी। भाजकह िाइ भीन जनु भाऩी।।
धरय धीयजु सुत फदनु सनहायी। गदगद फचन कहसत भहतायी।।
तात वऩतकह तुम्ह प्रानवऩआये । दे ष्ि भुकदत सनत चरयत तुम्हाये ।।
याजु दे न कहुॉ सुब कदन साधा। कहे उ जान फन केकहॊ अऩयाधा।।
तात सुनावहु भोकह सनदानू। को कदनकय कुर बमउ कृ सानू।।
दो0-सनयष्ि याभ रुि ससचवसुत कायनु कहे उ फुझाइ।

सुसन प्रसॊगु यकह भूक ष्जसभ दसा फयसन नकहॊ जाइ।।54।।
–*–*–
याष्ि न सकइ न ककह सक जाहू। दह
ु ूॉ बाॉसत उय दारुन दाहू।।

सरित सुधाकय गा सरष्ि याहू। वफसध गसत फाभ सदा सफ काहू।।
धयभ सनेह उबमॉ भसत घेयी। बइ गसत साॉऩ छुछुॊदरय केयी।।
यािउॉ सुतकह कयउॉ अनुयोधू। धयभु जाइ अरु फॊधु वफयोधू।।
कहउॉ जान फन तौ फकड़ हानी। सॊकट सोच वफफस बइ यानी।।
फहुरय सभुष्झ सतम धयभु समानी। याभु बयतु दोउ सुत सभ जानी।।
सयर सुबाउ याभ भहतायी। फोरी फचन धीय धरय बायी।।

तात जाउॉ फसर कीन्हे हु नीका। वऩतु आमसु सफ धयभक टीका।।

155

दो0-याजु दे न ककह दीन्ह फनु भोकह न सो दि
ु रेसु।

तुम्ह वफनु बयतकह बूऩसतकह प्रजकह प्रचॊड करेसु।।55।।
–*–*–
जं केवर वऩतु आमसु ताता। तौ जसन जाहु जासन फकड़ भाता।।

जं वऩतु भातु कहे उ फन जाना। तं कानन सत अवध सभाना।।
वऩतु फनदे व भातु फनदे वी। िग भृग चयन सयोरुह सेवी।।
अॊतहुॉ उसचत नृऩकह फनफासू। फम वफरोकक कहमॉ होइ हयाॉसू।।

फड़बागी फनु अवध अबागी। जो यघुफॊससतरक तुम्ह त्मागी।।
जं सुत कहौ सॊग भोकह रेहू। तुम्हये रृदमॉ होइ सॊदेहू।।

ऩूत ऩयभ वप्रम तुम्ह सफही के। प्रान प्रान के जीवन जी के।।
ते तुम्ह कहहु भातु फन जाऊॉ। भईआ सुसन फचन फैकठ ऩसछताऊॉ।।
दो0-मह वफचारय नकहॊ कयउॉ हठ झूठ सनेहु फढ़ाइ।

भासन भातु कय नात फसर सुयसत वफसरय जसन जाइ।।56।।
–*–*–
दे व वऩतय सफ तुन्हकह गोसाई। यािहुॉ ऩरक नमन की नाई।।

अवसध अॊफु वप्रम ऩरयजन भीना। तुम्ह करुनाकय धयभ धुयीना।।
अस वफचारय सोइ कयहु उऩाई। सफकह ष्जअत जेकहॊ बईऄटेहु आई।।

जाहु सुिेन फनकह फसर जाऊॉ। करय अनाथ जन ऩरयजन गाऊॉ।।
सफ कय आजु सुकृत पर फीता। बमउ कयार कारु वफऩयीता।।

फहुवफसध वफरवऩ चयन रऩटानी। ऩयभ अबासगसन आऩुकह जानी।।
दारुन दस
ु ह दाहु उय ब्माऩा। फयसन न जाकहॊ वफराऩ कराऩा।।
याभ उठाइ भातु उय राई। ककह भृद ु फचन फहुरय सभुझाई।।
दो0-सभाचाय तेकह सभम सुसन सीम उठी अकुराइ।

जाइ सासु ऩद कभर जुग फॊकद फैकठ ससरु नाइ।।57।।
–*–*–
दीष्न्ह असीस सासु भृद ु फानी। असत सुकुभारय दे ष्ि अकुरानी।।
फैकठ नसभतभुि सोचसत सीता। रूऩ यासस ऩसत प्रेभ ऩुनीता।।

चरन चहत फन जीवननाथू। केकह सुकृती सन होइकह साथू।।
की तनु प्रान कक केवर प्राना। वफसध कयतफु कछु जाइ न जाना।।
चारु चयन नि रेिसत धयनी। नूऩुय भुिय भधुय कवफ फयनी।।
भनहुॉ प्रेभ फस वफनती कयहीॊ। हभकह सीम ऩद जसन ऩरयहयहीॊ।।
भॊजु वफरोचन भोचसत फायी। फोरी दे ष्ि याभ भहतायी।।

तात सुनहु ससम असत सुकुभायी। सासु ससुय ऩरयजनकह वऩआयी।।

156

दो0-वऩता जनक बूऩार भसन ससुय बानुकुर बानु।
ऩसत यवफकुर कैयव वफवऩन वफधु गुन रूऩ सनधानु।।58।।
–*–*–
भईआ ऩुसन ऩुत्रफधू वप्रम ऩाई। रूऩ यासस गुन सीर सुहाई।।
नमन ऩुतरय करय प्रीसत फढ़ाई। यािेउॉ प्रान जासनकककहॊ राई।।
करऩफेसर ष्जसभ फहुवफसध रारी। सीॊसच सनेह ससरर प्रसतऩारी।।
पूरत परत बमउ वफसध फाभा। जासन न जाइ काह ऩरयनाभा।।

ऩरॉग ऩीठ तष्ज गोद कहॊ ड़ोया। ससमॉ न दीन्ह ऩगु अवसन कठोया।।
ष्जअनभूरय ष्जसभ जोगवत यहऊॉ। दीऩ फासत नकहॊ टायन कहऊॉ।।
सोइ ससम चरन चहसत फन साथा। आमसु काह होइ यघुनाथा।
चॊद ककयन यस यससक चकोयी। यवफ रुि नमन सकइ ककसभ जोयी।।
दो0-करय केहरय सनससचय चयकहॊ दि
ु जॊतु फन बूरय।

वफष फाकटकाॉ कक सोह सुत सुबग सजीवसन भूरय।।59।।
–*–*–
फन कहत कोर ककयात ककसोयी। यचीॊ वफयॊ सच वफषम सुि बोयी।।
ऩाइन कृ सभ ष्जसभ ककठन सुबाऊ। सतन्हकह करेसु न कानन काऊ।।
कै ताऩस सतम कानन जोगू। ष्जन्ह तऩ हे तु तजा सफ बोगू।।
ससम फन फससकह तात केकह बाॉती। सचत्रसरष्ित कवऩ दे ष्ि डे याती।।
सुयसय सुबग फनज फन चायी। डाफय जोगु कक हॊ सकुभायी।।
अस वफचारय जस आमसु होई। भईआ ससि दे उॉ जानकककह सोई।।
जं ससम बवन यहै कह अॊफा। भोकह कहॉ होइ फहुत अवरॊफा।।
सुसन यघुफीय भातु वप्रम फानी। सीर सनेह सुधाॉ जनु सानी।।
दो0-ककह वप्रम फचन वफफेकभम कीष्न्ह भातु ऩरयतोष।
रगे प्रफोधन जानकककह प्रगकट वफवऩन गुन दोष।।60।।
भासऩायामण, चौदहवाॉ ववश्राभ
–*–*–
भातु सभीऩ कहत सकुचाहीॊ। फोरे सभउ सभुष्झ भन भाहीॊ।।
याजकुभारय ससिावन सुनहू। आन बाॉसत ष्जमॉ जसन कछु गुनहू।।
आऩन भोय नीक जं चहहू। फचनु हभाय भासन गृह यहहू।।

आमसु भोय सासु सेवकाई। सफ वफसध बासभसन बवन बराई।।
एकह ते असधक धयभु नकहॊ दज
ू ा। सादय सासु ससुय ऩद ऩूजा।।

जफ जफ भातु करयकह सुसध भोयी। होइकह प्रेभ वफकर भसत बोयी।।
तफ तफ तुम्ह ककह कथा ऩुयानी। सुॊदरय सभुझाएहु भृद ु फानी।।

157

कहउॉ सुबामॉ सऩथ सत भोही। सुभुष्ि भातु कहत यािउॉ तोही।।
दो0-गुय श्रुसत सॊभत धयभ परु ऩाइअ वफनकहॊ करेस।
हठ फस सफ सॊकट सहे गारव नहुष नये स।।61।।
–*–*–
भईआ ऩुसन करय प्रवान वऩतु फानी। फेसग कपयफ सुनु सुभुष्ि समानी।।
कदवस जात नकहॊ रासगकह फाया। सुॊदरय ससिवनु सुनहु हभाया।।
जौ हठ कयहु प्रेभ फस फाभा। तौ तुम्ह दि
ु ु ऩाउफ ऩरयनाभा।।
काननु ककठन बमॊकरु बायी। घोय घाभु कहभ फारय फमायी।।

कुस कॊटक भग काॉकय नाना। चरफ ऩमादे कहॊ वफनु ऩदत्राना।।
चयन कभर भुद ु भॊजु तुम्हाये । भायग अगभ बूसभधय बाये ।।
कॊदय िोह नदीॊ नद नाये । अगभ अगाध न जाकहॊ सनहाये ।।

बारु फाघ फृक केहरय नागा। कयकहॊ नाद सुसन धीयजु बागा।।
दो0-बूसभ समन फरकर फसन असनु कॊद पर भूर।
ते कक सदा सफ कदन सभसरकहॊ सफुइ सभम अनुकूर।।62।।
–*–*–
नय अहाय यजनीचय चयहीॊ। कऩट फेष वफसध कोकटक कयहीॊ।।
रागइ असत ऩहाय कय ऩानी। वफवऩन वफऩसत नकहॊ जाइ फिानी।।
ब्मार कयार वफहग फन घोया। सनससचय सनकय नारय नय चोया।।
डयऩकहॊ धीय गहन सुसध आएॉ। भृगरोचसन तुम्ह बीरु सुबाएॉ।।
हॊ सगवसन तुम्ह नकहॊ फन जोगू। सुसन अऩजसु भोकह दे इकह रोगू।।
भानस ससरर सुधाॉ प्रसतऩारी। ष्जअइ कक रवन ऩमोसध भयारी।।
नव यसार फन वफहयनसीरा। सोह कक कोककर वफवऩन कयीरा।।
यहहु बवन अस रृदमॉ वफचायी। चॊदफदसन दि
ु ु कानन बायी।।
दो0-सहज सुह्द गुय स्वासभ ससि जो न कयइ ससय भासन।।

सो ऩसछताइ अघाइ उय अवसस होइ कहत हासन।।63।।
–*–*–
सुसन भृद ु फचन भनोहय वऩम के। रोचन रसरत बये जर ससम के।।
सीतर ससि दाहक बइ कईआसईऄ। चकइकह सयद चॊद सनसस जईआसईऄ।।

उतरु न आव वफकर फैदेही। तजन चहत सुसच स्वासभ सनेही।।
फयफस योकक वफरोचन फायी। धरय धीयजु उय अवसनकुभायी।।
रासग सासु ऩग कह कय जोयी। छभवफ दे वफ फकड़ अवफनम भोयी।।
दीष्न्ह प्रानऩसत भोकह ससि सोई। जेकह वफसध भोय ऩयभ कहत होई।।
भईआ ऩुसन सभुष्झ दीष्ि भन भाहीॊ। वऩम वफमोग सभ दि
ु ु जग नाहीॊ।।

158

दो0- प्राननाथ करुनामतन सुॊदय सुिद सुजान।
तुम्ह वफनु यघुकुर कुभुद वफधु सुयऩुय नयक सभान।।64।।
–*–*–
भातु वऩता बसगनी वप्रम बाई। वप्रम ऩरयवारु सुह्रद सभुदाई।।
सासु ससुय गुय सजन सहाई। सुत सुॊदय सुसीर सुिदाई।।
जहॉ रसग नाथ नेह अरु नाते। वऩम वफनु सतमकह तयसनहु ते ताते।।
तनु धनु धाभु धयसन ऩुय याजू। ऩसत वफहीन सफु सोक सभाजू।।
बोग योगसभ बूषन बारू। जभ जातना सरयस सॊसारू।।
प्राननाथ तुम्ह वफनु जग भाहीॊ। भो कहुॉ सुिद कतहुॉ कछु नाहीॊ।।
ष्जम वफनु दे ह नदी वफनु फायी। तैससअ नाथ ऩुरुष वफनु नायी।।

नाथ सकर सुि साथ तुम्हायईऄ । सयद वफभर वफधु फदनु सनहायईऄ ।।
दो0-िग भृग ऩरयजन नगरु फनु फरकर वफभर दक
ु ू र।
नाथ साथ सुयसदन सभ ऩयनसार सुि भूर।।65।।
–*–*–
फनदे वीॊ फनदे व उदाया। करयहकहॊ सासु ससुय सभ साया।।

कुस ककसरम साथयी सुहाई। प्रबु सॉग भॊजु भनोज तुयाई।।
कॊद भूर पर असभअ अहारू। अवध सौध सत सरयस ऩहारू।।
सछनु सछनु प्रबु ऩद कभर वफरोकक। यकहहउॉ भुकदत कदवस ष्जसभ कोकी।।
फन दि
ु नाथ कहे फहुतेये। बम वफषाद ऩरयताऩ घनेये।।

प्रबु वफमोग रवरेस सभाना। सफ सभसर होकहॊ न कृ ऩासनधाना।।
अस ष्जमॉ जासन सुजान ससयोभसन। रेइअ सॊग भोकह छाकड़अ जसन।।
वफनती फहुत कयं का स्वाभी। करुनाभम उय अॊतयजाभी।।

दो0-याष्िअ अवध जो अवसध रसग यहत न जसनअकहॊ प्रान।
दीनफॊधु सॊदय सुिद सीर सनेह सनधान।।66।।
–*–*–
भोकह भग चरत न होइकह हायी। सछनु सछनु चयन सयोज सनहायी।।
सफकह बाॉसत वऩम सेवा करयहं। भायग जसनत सकर श्रभ हरयहं।।
ऩाम ऩिायी फैकठ तरु छाहीॊ। करयहउॉ फाउ भुकदत भन भाहीॊ।।
श्रभ कन सकहत स्माभ तनु दे िईऄ। कहॉ दि
ु सभउ प्रानऩसत ऩेिईऄ।।

सभ भकह तृन तरुऩल्रव डासी। ऩाग ऩरोकटकह सफ सनसस दासी।।
फायफाय भृद ु भूयसत जोही। रागकह तात फमारय न भोही।

को प्रबु सॉग भोकह सचतवसनहाया। ससॊघफधुकह ष्जसभ ससक ससआया।।
भईआ सुकुभारय नाथ फन जोगू। तुम्हकह उसचत तऩ भो कहुॉ बोगू।।

159

दो0-ऐसेउ फचन कठोय सुसन जं न ह्रदउ वफरगान।
तौ प्रबु वफषभ वफमोग दि
ु सकहहकहॊ ऩावॉय प्रान।।67।।
–*–*–
अस ककह सीम वफकर बइ बायी। फचन वफमोगु न सकी सॉबायी।।
दे ष्ि दसा यघुऩसत ष्जमॉ जाना। हकठ यािईऄ नकहॊ याष्िकह प्राना।।
कहे उ कृ ऩार बानुकुरनाथा। ऩरयहरय सोचु चरहु फन साथा।।

नकहॊ वफषाद कय अवसरु आजू। फेसग कयहु फन गवन सभाजू।।
ककह वप्रम फचन वप्रमा सभुझाई। रगे भातु ऩद आससष ऩाई।।
फेसग प्रजा दि
ु भेटफ आई। जननी सनठु य वफसरय जसन जाई।।

कपयकह दसा वफसध फहुरय कक भोयी। दे ष्िहउॉ नमन भनोहय जोयी।।

सुकदन सुघयी तात कफ होइकह। जननी ष्जअत फदन वफधु जोइकह।।
दो0-फहुरय फछछ ककह रारु ककह यघुऩसत यघुफय तात।

कफकहॊ फोराइ रगाइ कहमॉ हयवष सनयष्िहउॉ गात।।68।।
–*–*–
रष्ि सनेह कातरय भहतायी। फचनु न आव वफकर बइ बायी।।
याभ प्रफोधु कीन्ह वफसध नाना। सभउ सनेहु न जाइ फिाना।।

तफ जानकी सासु ऩग रागी। सुसनअ भाम भईआ ऩयभ अबागी।।
सेवा सभम दै अॉ फनु दीन्हा। भोय भनोयथु सपर न कीन्हा।।
तजफ छोबु जसन छाकड़अ छोहू। कयभु ककठन कछु दोसु न भोहू।।

सुसन ससम फचन सासु अकुरानी। दसा कवसन वफसध कहं फिानी।।
फायकह फाय राइ उय रीन्ही। धरय धीयजु ससि आससष दीन्ही।।
अचर होउ अकहवातु तुम्हाया। जफ रसग गॊग जभुन जर धाया।।
दो0-सीतकह सासु असीस ससि दीष्न्ह अनेक प्रकाय।
चरी नाइ ऩद ऩदभ
ु ससरु असत कहत फायकहॊ फाय।।69।।
–*–*–
सभाचाय जफ रसछभन ऩाए। ब्माकुर वफरि फदन उकठ धाए।।
कॊऩ ऩुरक तन नमन सनीया। गहे चयन असत प्रेभ अधीया।।
ककह न सकत कछु सचतवत ठाढ़े । भीनु दीन जनु जर तईऄ काढ़े ।।
सोचु रृदमॉ वफसध का होसनहाया। सफु सुिु सुकृत ससयान हभाया।।
भो कहुॉ काह कहफ यघुनाथा। यष्िहकहॊ बवन कक रेहकहॊ साथा।।
याभ वफरोकक फॊधु कय जोयईऄ । दे ह गेह सफ सन तृनु तोयईऄ ।।

फोरे फचनु याभ नम नागय। सीर सनेह सयर सुि सागय।।

160

तात प्रेभ फस जसन कदयाहू। सभुष्झ रृदमॉ ऩरयनाभ उछाहू।।
दो0-भातु वऩता गुरु स्वासभ ससि ससय धरय कयकह सुबामॉ।

रहे उ राबु सतन्ह जनभ कय नतरु जनभु जग जामॉ।।70।।
–*–*–
अस ष्जमॉ जासन सुनहु ससि बाई। कयहु भातु वऩतु ऩद सेवकाई।।
बवन बयतु रयऩुसूदन नाहीॊ। याउ फृद्ध भभ दि
ु ु भन भाहीॊ।।

भईआ फन जाउॉ तुम्हकह रेइ साथा। होइ सफकह वफसध अवध अनाथा।।
गुरु वऩतु भातु प्रजा ऩरयवारू। सफ कहुॉ ऩयइ दस
ु ह दि
ु बारू।।
यहहु कयहु सफ कय ऩरयतोषू। नतरु तात होइकह फड़ दोषू।।

जासु याज वप्रम प्रजा दि
ु ायी। सो नृऩु अवसस नयक असधकायी।।

यहहु तात असस नीसत वफचायी। सुनत रिनु बए ब्माकुर बायी।।
ससअयईऄ फचन सूष्ि गए कईआसईऄ। ऩयसत तुकहन ताभयसु जैसईऄ।।
दो0-उतरु न आवत प्रेभ फस गहे चयन अकुराइ।
नाथ दासु भईआ स्वासभ तुम्ह तजहु त काह फसाइ।।71।।
–*–*–
दीष्न्ह भोकह ससि नीकक गोसाईं। रासग अगभ अऩनी कदयाईं।।
नयफय धीय धयभ धुय धायी। सनगभ नीसत कहुॉ ते असधकायी।।
भईआ सससु प्रबु सनेहॉ प्रसतऩारा। भॊदरु भेरु कक रेकहॊ भयारा।।

गुय वऩतु भातु न जानउॉ काहू। कहउॉ सुबाउ नाथ ऩसतआहू।।

जहॉ रसग जगत सनेह सगाई। प्रीसत प्रतीसत सनगभ सनजु गाई।।
भोयईऄ सफइ एक तुम्ह स्वाभी। दीनफॊधु उय अॊतयजाभी।।
धयभ नीसत उऩदे ससअ ताही। कीयसत बूसत सुगसत वप्रम जाही।।
भन क्रभ फचन चयन यत होई। कृ ऩाससॊधु ऩरयहरयअ कक सोई।।
दो0-करुनाससॊधु सुफॊध के सुसन भृद ु फचन वफनीत।

सभुझाए उय राइ प्रबु जासन सनेहॉ सबीत।।72।।
–*–*–
भागहु वफदा भातु सन जाई। आवहु फेसग चरहु फन बाई।।

भुकदत बए सुसन यघुफय फानी। बमउ राब फड़ गइ फकड़ हानी।।
हयवषत ह्दमॉ भातु ऩकहॊ आए। भनहुॉ अॊध कपरय रोचन ऩाए।

जाइ जनसन ऩग नामउ भाथा। भनु यघुनॊदन जानकक साथा।।
ऩूॉछे भातु भसरन भन दे िी। रिन कही सफ कथा वफसेषी।।
गई सहसभ सुसन फचन कठोया। भृगी दे ष्ि दव जनु चहु ओया।।
रिन रिेउ बा अनयथ आजू। एकहॊ सनेह फस कयफ अकाजू।।

161

भागत वफदा सबम सकुचाहीॊ। जाइ सॊग वफसध ककहकह कक नाही।।
दो0-सभुष्झ सुसभत्राॉ याभ ससम रूऩ सुसीरु सुबाउ।
नृऩ सनेहु रष्ि धुनेउ ससरु ऩावऩसन दीन्ह कुदाउ।।73।।
–*–*–
धीयजु धये उ कुअवसय जानी। सहज सुह्द फोरी भृद ु फानी।।
तात तुम्हारय भातु फैदेही। वऩता याभु सफ बाॉसत सनेही।।

अवध तहाॉ जहॉ याभ सनवासू। तहॉ इॉ कदवसु जहॉ बानु प्रकासू।।
जौ ऩै सीम याभु फन जाहीॊ। अवध तुम्हाय काजु कछु नाकहॊ ।।
गुय वऩतु भातु फॊधु सुय साई। सेइअकहॊ सकर प्रान की नाईं।।
याभु प्रानवप्रम जीवन जी के। स्वायथ यकहत सिा सफही कै।।
ऩूजनीम वप्रम ऩयभ जहाॉ तईऄ। सफ भासनअकहॊ याभ के नातईऄ।।
अस ष्जमॉ जासन सॊग फन जाहू। रेहु तात जग जीवन राहू।।
दो0-बूरय बाग बाजनु बमहु भोकह सभेत फसर जाउॉ ।

जौभ तुम्हयईऄ भन छाकड़ छरु कीन्ह याभ ऩद ठाउॉ ।।74।।
–*–*–
ऩुत्रवती जुफती जग सोई। यघुऩसत बगतु जासु सुतु होई।।
नतरु फाॉझ बसर फाकद वफआनी। याभ वफभुि सुत तईऄ कहत जानी।।
तुम्हये कहॊ बाग याभु फन जाहीॊ। दस
ू य हे तु तात कछु नाहीॊ।।

सकर सुकृत कय फड़ परु एहू। याभ सीम ऩद सहज सनेहू।।
याग योषु इरयषा भद ु भोहू। जसन सऩनेहुॉ इन्ह के फस होहू।।

सकर प्रकाय वफकाय वफहाई। भन क्रभ फचन कये हु सेवकाई।।

तुम्ह कहुॉ फन सफ बाॉसत सुऩासू। सॉग वऩतु भातु याभु ससम जासू।।
जेकहॊ न याभु फन रहकहॊ करेसू। सुत सोइ कये हु इहइ उऩदे सू।।
छॊ 0-उऩदे सु महु जेकहॊ तात तुम्हये याभ ससम सुि ऩावहीॊ।
वऩतु भातु वप्रम ऩरयवाय ऩुय सुि सुयसत फन वफसयावहीॊ।
तुरसी प्रबुकह ससि दे इ आमसु दीन्ह ऩुसन आससष दई।
यसत होउ अवफयर अभर ससम यघुफीय ऩद सनत सनत नई।।
सो0-भातु चयन ससरु नाइ चरे तुयत सॊककत रृदमॉ।
फागुय वफषभ तोयाइ भनहुॉ बाग भृगु बाग फस।।75।।

गए रिनु जहॉ जानककनाथू। बे भन भुकदत ऩाइ वप्रम साथू।।
फॊकद याभ ससम चयन सुहाए। चरे सॊग नृऩभॊकदय आए।।

कहकहॊ ऩयसऩय ऩुय नय नायी। बसर फनाइ वफसध फात वफगायी।।
तन कृ स दि
ु ु फदन भरीने। वफकर भनहुॉ भािी भधु छीने।।

162

कय भीजकहॊ ससरु धुसन ऩसछताहीॊ। जनु वफन ऩॊि वफहग अकुराहीॊ।।
बइ फकड़ बीय बूऩ दयफाया। फयसन न जाइ वफषाद ु अऩाया।।
ससचवॉ उठाइ याउ फैठाये । ककह वप्रम फचन याभु ऩगु धाये ।।

ससम सभेत दोउ तनम सनहायी। ब्माकुर बमउ बूसभऩसत बायी।।
दो0-सीम सकहत सुत सुबग दोउ दे ष्ि दे ष्ि अकुराइ।
फायकहॊ फाय सनेह फस याउ रेइ उय राइ।।76।।
–*–*–
सकइ न फोसर वफकर नयनाहू। सोक जसनत उय दारुन दाहू।।
नाइ सीसु ऩद असत अनुयागा। उकठ यघुफीय वफदा तफ भागा।।

वऩतु असीस आमसु भोकह दीजै। हयष सभम वफसभउ कत कीजै।।
तात ककएॉ वप्रम प्रेभ प्रभाद।ू जसु जग जाइ होइ अऩफाद।ू ।
सुसन सनेह फस उकठ नयनाहाॉ। फैठाये यघुऩसत गकह फाहाॉ।।

सुनहु तात तुम्ह कहुॉ भुसन कहहीॊ। याभु चयाचय नामक अहहीॊ।।
सुब अरु असुब कयभ अनुहायी। ईस दे इ परु ह्दमॉ वफचायी।।

कयइ जो कयभ ऩाव पर सोई। सनगभ नीसत असस कह सफु कोई।।
दो0–औरु कयै अऩयाधु कोउ औय ऩाव पर बोगु।
असत वफसचत्र बगवॊत गसत को जग जानै जोगु।।77।।
–*–*–
यामॉ याभ यािन कहत रागी। फहुत उऩाम ककए छरु त्मागी।।
रिी याभ रुि यहत न जाने। धयभ धुयॊधय धीय समाने।।

तफ नृऩ सीम राइ उय रीन्ही। असत कहत फहुत बाॉसत ससि दीन्ही।।
ककह फन के दि
ु दस
ु ह सुनाए। सासु ससुय वऩतु सुि सभुझाए।।

ससम भनु याभ चयन अनुयागा। घरु न सुगभु फनु वफषभु न रागा।।
औयउ सफकहॊ सीम सभुझाई। ककह ककह वफवऩन वफऩसत असधकाई।।
ससचव नारय गुय नारय समानी। सकहत सनेह कहकहॊ भृद ु फानी।।

तुम्ह कहुॉ तौ न दीन्ह फनफासू। कयहु जो कहकहॊ ससुय गुय सासू।।
दो0–ससि सीतसर कहत भधुय भृद ु सुसन सीतकह न सोहासन।

सयद चॊद चॊदसन रगत जनु चकई अकुरासन।।78।।
–*–*–
सीम सकुच फस उतरु न दे ई। सो सुसन तभकक उठी कैकेई।।
भुसन ऩट बूषन बाजन आनी। आगईऄ धरय फोरी भृद ु फानी।।

नृऩकह प्रान वप्रम तुम्ह यघुफीया। सीर सनेह न छाकड़कह बीया।।
सुकृत सुजसु ऩयरोकु नसाऊ। तुम्हकह जान फन ककहकह न काऊ।।

163

अस वफचारय सोइ कयहु जो बावा। याभ जनसन ससि सुसन सुिु ऩावा।।
बूऩकह फचन फानसभ रागे। कयकहॊ न प्रान ऩमान अबागे।।

रोग वफकर भुरुसछत नयनाहू। काह करयअ कछु सूझ न काहू।।
याभु तुयत भुसन फेषु फनाई। चरे जनक जनसनकह ससरु नाई।।
दो0-सष्ज फन साजु सभाजु सफु फसनता फॊधु सभेत।
फॊकद वफप्र गुय चयन प्रबु चरे करय सफकह अचेत।।79।।
–*–*–
सनकसस फससष्ठ द्वाय बए ठाढ़े । दे िे रोग वफयह दव दाढ़े ।।
ककह वप्रम फचन सकर सभुझाए। वफप्र फृॊद यघुफीय फोराए।।
गुय सन ककह फयषासन दीन्हे । आदय दान वफनम फस कीन्हे ।।
जाचक दान भान सॊतोषे। भीत ऩुनीत प्रेभ ऩरयतोषे।।
दासीॊ दास फोराइ फहोयी। गुयकह संवऩ फोरे कय जोयी।।
सफ कै साय सॉबाय गोसाईं। कयवफ जनक जननी की नाई।।
फायकहॊ फाय जोरय जुग ऩानी। कहत याभु सफ सन भृद ु फानी।।
सोइ सफ बाॉसत भोय कहतकायी। जेकह तईऄ यहै बुआर सुिायी।।
दो0-भातु सकर भोये वफयहॉ जेकहॊ न होकहॊ दि
ु दीन।

सोइ उऩाउ तुम्ह कये हु सफ ऩुय जन ऩयभ प्रफीन।।80।।
–*–*–
एकह वफसध याभ सफकह सभुझावा। गुय ऩद ऩदभ
ु हयवष ससरु नावा।
गनऩती गौरय सगयीसु भनाई। चरे असीस ऩाइ यघुयाई।।

याभ चरत असत बमउ वफषाद।ू सुसन न जाइ ऩुय आयत नाद।ू ।

कुसगुन रॊक अवध असत सोकू। हहयष वफषाद वफफस सुयरोकू।।
गइ भुरुछा तफ बूऩसत जागे। फोसर सुभॊत्रु कहन अस रागे।।
याभु चरे फन प्रान न जाहीॊ। केकह सुि रासग यहत तन भाहीॊ।
एकह तईऄ कवन ब्मथा फरवाना। जो दि
ु ु ऩाइ तजकहॊ तनु प्राना।।
ऩुसन धरय धीय कहइ नयनाहू। रै यथु सॊग सिा तुम्ह जाहू।।
दो0–सुकठ सुकुभाय कुभाय दोउ जनकसुता सुकुभारय।

यथ चढ़ाइ दे ियाइ फनु कपये हु गएॉ कदन चारय।।81।।
–*–*–
जौ नकहॊ कपयकहॊ धीय दोउ बाई। सत्मसॊध दृढ़ब्रत यघुयाई।।
तौ तुम्ह वफनम कये हु कय जोयी। पेरयअ प्रबु सभसथरेसककसोयी।।
जफ ससम कानन दे ष्ि डे याई। कहे हु भोरय ससि अवसरु ऩाई।।
सासु ससुय अस कहे उ सॉदेसू। ऩुवत्र कपरयअ फन फहुत करेसू।।

164

वऩतृगह
ृ कफहुॉ कफहुॉ ससुयायी। यहे हु जहाॉ रुसच होइ तुम्हायी।।

एकह वफसध कये हु उऩाम कदॊ फा। कपयइ त होइ प्रान अवरॊफा।।

नाकहॊ त भोय भयनु ऩरयनाभा। कछु न फसाइ बएॉ वफसध फाभा।।
अस ककह भुरुसछ ऩया भकह याऊ। याभु रिनु ससम आसन दे िाऊ।।
दो0–ऩाइ यजामसु नाइ ससरु यथु असत फेग फनाइ।
गमउ जहाॉ फाहे य नगय सीम सकहत दोउ बाइ।।82।।
–*–*–
तफ सुभॊत्र नृऩ फचन सुनाए। करय वफनती यथ याभु चढ़ाए।।
चकढ़ यथ सीम सकहत दोउ बाई। चरे रृदमॉ अवधकह ससरु नाई।।
चरत याभु रष्ि अवध अनाथा। वफकर रोग सफ रागे साथा।।
कृ ऩाससॊधु फहुवफसध सभुझावकहॊ । कपयकहॊ प्रेभ फस ऩुसन कपरय आवकहॊ ।।
रागसत अवध बमावसन बायी। भानहुॉ कारयासत अॉसधआयी।।
घोय जॊतु सभ ऩुय नय नायी। डयऩकहॊ एककह एक सनहायी।।

घय भसान ऩरयजन जनु बूता। सुत कहत भीत भनहुॉ जभदत
ू ा।।
फागन्ह वफटऩ फेसर कुष्म्हराहीॊ। सरयत सयोवय दे ष्ि न जाहीॊ।।
दो0-हम गम कोकटन्ह केसरभृग ऩुयऩसु चातक भोय।
वऩक यथाॊग सुक सारयका सायस हॊ स चकोय।।83।।
–*–*–
याभ वफमोग वफकर सफ ठाढ़े । जहॉ तहॉ भनहुॉ सचत्र सरष्ि काढ़े ।।

नगरु सपर फनु गहफय बायी। िग भृग वफऩुर सकर नय नायी।।
वफसध कैकेई ककयासतसन कीन्ही। जईऄकह दव दस
ु ह दसहुॉ कदसस दीन्ही।।
सकह न सके यघुफय वफयहागी। चरे रोग सफ ब्माकुर बागी।।

सफकहॊ वफचाय कीन्ह भन भाहीॊ। याभ रिन ससम वफनु सुिु नाहीॊ।।
जहाॉ याभु तहॉ सफुइ सभाजू। वफनु यघुफीय अवध नकहॊ काजू।।
चरे साथ अस भॊत्रु दृढ़ाई। सुय दर
ा सुि सदन वफहाई।।
ु ब

याभ चयन ऩॊकज वप्रम ष्जन्हही। वफषम बोग फस कयकहॊ कक सतन्हही।।
दो0-फारक फृद्ध वफहाइ गृॉह रगे रोग सफ साथ।
तभसा तीय सनवासु ककम प्रथभ कदवस यघुनाथ।।84।।
–*–*–
यघुऩसत प्रजा प्रेभफस दे िी। सदम रृदमॉ दि
ु ु बमउ वफसेषी।।
करुनाभम यघुनाथ गोसाॉई। फेसग ऩाइअकहॊ ऩीय ऩयाई।।

ककह सप्रेभ भृद ु फचन सुहाए। फहुवफसध याभ रोग सभुझाए।।
ककए धयभ उऩदे स घनेये। रोग प्रेभ फस कपयकहॊ न पेये ।।

165

सीरु सनेहु छाकड़ नकहॊ जाई। असभॊजस फस बे यघुयाई।।

रोग सोग श्रभ फस गए सोई। कछुक दे वभामाॉ भसत भोई।।
जफकहॊ जाभ जुग जासभसन फीती। याभ ससचव सन कहे उ सप्रीती।।
िोज भारय यथु हाॉकहु ताता। आन उऩामॉ फसनकह नकहॊ फाता।।
दो0-याभ रिन सुम जान चकढ़ सॊबु चयन ससरु नाइ।।

ससचवॉ चरामउ तुयत यथु इत उत िोज दयु ाइ।।85।।
–*–*–
जागे सकर रोग बएॉ बोरू। गे यघुनाथ बमउ असत सोरू।।
यथ कय िोज कतहहुॉ नकहॊ ऩावकहॊ । याभ याभ ककह चहु कदसस धावकहॊ ।।
भनहुॉ फारयसनसध फूड़ जहाजू। बमउ वफकर फड़ फसनक सभाजू।।
एककह एक दईऄ कहॊ उऩदे सू। तजे याभ हभ जासन करेसू।।

सनॊदकहॊ आऩु सयाहकहॊ भीना। सधग जीवनु यघुफीय वफहीना।।
जं ऩै वप्रम वफमोगु वफसध कीन्हा। तौ कस भयनु न भागईऄ दीन्हा।।
एकह वफसध कयत प्रराऩ कराऩा। आए अवध बये ऩरयताऩा।।
वफषभ वफमोगु न जाइ फिाना। अवसध आस सफ यािकहॊ प्राना।।
दो0-याभ दयस कहत नेभ ब्रत रगे कयन नय नारय।
भनहुॉ कोक कोकी कभर दीन वफहीन तभारय।।86।।
–*–*–
सीता ससचव सकहत दोउ बाई। सृॊगफेयऩुय ऩहुॉचे जाई।।
उतये याभ दे वसरय दे िी। कीन्ह दॊ डवत हयषु वफसेषी।।

रिन ससचवॉ ससमॉ ककए प्रनाभा। सफकह सकहत सुिु ऩामउ याभा।।
गॊग सकर भुद भॊगर भूरा। सफ सुि कयसन हयसन सफ सूरा।।
ककह ककह कोकटक कथा प्रसॊगा। याभु वफरोककहॊ गॊग तयॊ गा।।
ससचवकह अनुजकह वप्रमकह सुनाई। वफफुध नदी भकहभा असधकाई।।
भज्जनु कीन्ह ऩॊथ श्रभ गमऊ। सुसच जरु वऩअत भुकदत भन बमऊ।।
सुसभयत जाकह सभटइ श्रभ बारू। तेकह श्रभ मह रौककक ब्मवहारू।।
दो0-सुध्द ससचदानॊदभम कॊद बानुकुर केतु।
चरयत कयत नय अनुहयत सॊससृ त सागय सेतु।।87।।
–*–*–
मह सुसध गुहॉ सनषाद जफ ऩाई। भुकदत सरए वप्रम फॊधु फोराई।।
सरए पर भूर बईऄट बरय बाया। सभरन चरेउ कहॉ मॉ हयषु अऩाया।।
करय दॊ डवत बईऄट धरय आगईऄ। प्रबुकह वफरोकत असत अनुयागईऄ।।
सहज सनेह वफफस यघुयाई। ऩूॉछी कुसर सनकट फैठाई।।

166

नाथ कुसर ऩद ऩॊकज दे िईऄ। बमउॉ बागबाजन जन रेिईऄ।।
दे व धयसन धनु धाभु तुम्हाया। भईआ जनु नीचु सकहत ऩरयवाया।।
कृ ऩा करयअ ऩुय धारयअ ऩाऊ। थावऩम जनु सफु रोगु ससहाऊ।।
कहे हु सत्म सफु सिा सुजाना। भोकह दीन्ह वऩतु आमसु आना।।
दो0-फयष चारयदस फासु फन भुसन ब्रत फेषु अहारु।

ग्राभ फासु नकहॊ उसचत सुसन गुहकह बमउ दि
ु ु बारु।।88।।
–*–*–
याभ रिन ससम रूऩ सनहायी। कहकहॊ सप्रेभ ग्राभ नय नायी।।
ते वऩतु भातु कहहु सष्ि कैसे। ष्जन्ह ऩठए फन फारक ऐसे।।

एक कहकहॊ बर बूऩसत कीन्हा। रोमन राहु हभकह वफसध दीन्हा।।
तफ सनषादऩसत उय अनुभाना। तरु ससॊसुऩा भनोहय जाना।।
रै यघुनाथकह ठाउॉ दे िावा। कहे उ याभ सफ बाॉसत सुहावा।।
ऩुयजन करय जोहारु घय आए। यघुफय सॊध्मा कयन ससधाए।।
गुहॉ सॉवारय साॉथयी डसाई। कुस ककसरमभम भृदर
ु सुहाई।।

सुसच पर भूर भधुय भृद ु जानी। दोना बरय बरय यािेसस ऩानी।।
दो0-ससम सुभॊत्र र्भ्ाता सकहत कॊद भूर पर िाइ।

समन कीन्ह यघुफॊसभसन ऩाम ऩरोटत बाइ।।89।।
–*–*–
उठे रिनु प्रबु सोवत जानी। ककह ससचवकह सोवन भृद ु फानी।।
कछुक दयू सष्ज फान सयासन। जागन रगे फैकठ फीयासन।।
गुॉह फोराइ ऩाहरू प्रतीती। ठावॉ ठाॉव यािे असत प्रीती।।

आऩु रिन ऩकहॊ फैठेउ जाई। ककट बाथी सय चाऩ चढ़ाई।।
सोवत प्रबुकह सनहारय सनषाद।ू बमउ प्रेभ फस ह्दमॉ वफषाद।ू ।

तनु ऩुरककत जरु रोचन फहई। फचन सप्रेभ रिन सन कहई।।
बूऩसत बवन सुबामॉ सुहावा। सुयऩसत सदनु न ऩटतय ऩावा।।
भसनभम यसचत चारु चौफाये । जनु यसतऩसत सनज हाथ सॉवाये ।।
दो0-सुसच सुवफसचत्र सुबोगभम सुभन सुगॊध सुफास।
ऩरॉग भॊजु भसनदीऩ जहॉ सफ वफसध सकर सुऩास।।90।।
–*–*–
वफवफध फसन उऩधान तुयाई। छीय पेन भृद ु वफसद सुहाई।।

तहॉ ससम याभु समन सनसस कयहीॊ। सनज छवफ यसत भनोज भद ु हयहीॊ।।
ते ससम याभु साथयीॊ सोए। श्रसभत फसन वफनु जाकहॊ न जोए।।
भातु वऩता ऩरयजन ऩुयफासी। सिा सुसीर दास अरु दासी।।

167

जोगवकहॊ ष्जन्हकह प्रान की नाई। भकह सोवत तेइ याभ गोसाईं।।
वऩता जनक जग वफकदत प्रबाऊ। ससुय सुयेस सिा यघुयाऊ।।
याभचॊद ु ऩसत सो फैदेही। सोवत भकह वफसध फाभ न केही।।

ससम यघुफीय कक कानन जोगू। कयभ प्रधान सत्म कह रोगू।।
दो0-कैकमनॊकदसन भॊदभसत ककठन कुकटरऩनु कीन्ह।
जेहीॊ यघुनॊदन जानकककह सुि अवसय दि
ु ु दीन्ह।।91।।
–*–*–
बइ कदनकय कुर वफटऩ कुठायी। कुभसत कीन्ह सफ वफस्व दि
ु ायी।।
बमउ वफषाद ु सनषादकह बायी। याभ सीम भकह समन सनहायी।।

फोरे रिन भधुय भृद ु फानी। ग्मान वफयाग बगसत यस सानी।।

काहु न कोउ सुि दि
ु कय दाता। सनज कृ त कयभ बोग सफु र्भ्ाता।।
जोग वफमोग बोग बर भॊदा। कहत अनकहत भध्मभ र्भ्भ पॊदा।।

जनभु भयनु जहॉ रसग जग जारू। सॊऩती वफऩसत कयभु अरु कारू।।
धयसन धाभु धनु ऩुय ऩरयवारू। सयगु नयकु जहॉ रसग ब्मवहारू।।
दे ष्िअ सुसनअ गुसनअ भन भाहीॊ। भोह भूर ऩयभायथु नाहीॊ।।
दो0-सऩनईऄ होइ सबिारय नृऩ यॊ कु नाकऩसत होइ।
जागईऄ राबु न हासन कछु सतसभ प्रऩॊच ष्जमॉ जोइ।।92।।
–*–*–
अस वफचारय नकहॊ कीजअ योसू। काहुकह फाकद न दे इअ दोसू।।
भोह सनसाॉ सफु सोवसनहाया। दे ष्िअ सऩन अनेक प्रकाया।।

एकहॊ जग जासभसन जागकहॊ जोगी। ऩयभायथी प्रऩॊच वफमोगी।।
जासनअ तफकहॊ जीव जग जागा। जफ जफ वफषम वफरास वफयागा।।
होइ वफफेकु भोह र्भ्भ बागा। तफ यघुनाथ चयन अनुयागा।।
सिा ऩयभ ऩयभायथु एहू। भन क्रभ फचन याभ ऩद नेहू।।

याभ ब्रह्म ऩयभायथ रूऩा। अवफगत अरि अनाकद अनूऩा।।
सकर वफकाय यकहत गतबेदा। ककह सनत नेसत सनरूऩकहॊ फेदा।
दो0-बगत बूसभ बूसुय सुयसब सुय कहत रासग कृ ऩार।
कयत चरयत धरय भनुज तनु सुनत सभटकह जग जार।।93।।
भासऩायामण, ऩॊरहवा ववश्राभ
–*–*–
सिा सभुष्झ अस ऩरयहरय भोहु। ससम यघुफीय चयन यत होहू।।
कहत याभ गुन बा सबनुसाया। जागे जग भॊगर सुिदाया।।

सकर सोच करय याभ नहावा। सुसच सुजान फट छीय भगावा।।

168

अनुज सकहत ससय जटा फनाए। दे ष्ि सुभॊत्र नमन जर छाए।।
रृदमॉ दाहु असत फदन भरीना। कह कय जोरय फचन असत दीना।।
नाथ कहे उ अस कोसरनाथा। रै यथु जाहु याभ कईऄ साथा।।

फनु दे िाइ सुयसरय अन्हवाई। आनेहु पेरय फेसग दोउ बाई।।

रिनु याभु ससम आनेहु पेयी। सॊसम सकर सॉकोच सनफेयी।।
दो0-नृऩ अस कहे उ गोसाईँ जस कहइ कयं फसर सोइ।

करय वफनती ऩामन्ह ऩये उ दीन्ह फार ष्जसभ योइ।।94।।
–*–*–
तात कृ ऩा करय कीष्जअ सोई। जातईऄ अवध अनाथ न होई।।
भॊत्रकह याभ उठाइ प्रफोधा। तात धयभ भतु तुम्ह सफु सोधा।।
ससवफ दधीसच हरयचॊद नये सा। सहे धयभ कहत कोकट करेसा।।
यॊ सतदे व फसर बूऩ सुजाना। धयभु धये उ सकह सॊकट नाना।।
धयभु न दस
ू य सत्म सभाना। आगभ सनगभ ऩुयान फिाना।।

भईआ सोइ धयभु सुरब करय ऩावा। तजईऄ सतहूॉ ऩुय अऩजसु छावा।।
सॊबाववत कहुॉ अऩजस राहू। भयन कोकट सभ दारुन दाहू।।

तुम्ह सन तात फहुत का कहऊॉ। कदएॉ उतरु कपरय ऩातकु रहऊॉ।।
दो0-वऩतु ऩद गकह ककह कोकट नसत वफनम कयफ कय जोरय।

सचॊता कवसनहु फात कै तात करयअ जसन भोरय।।95।।
–*–*–
तुम्ह ऩुसन वऩतु सभ असत कहत भोयईऄ । वफनती कयउॉ तात कय जोयईऄ ।।
सफ वफसध सोइ कयतब्म तुम्हायईऄ । दि
ु न ऩाव वऩतु सोच हभायईऄ ।।
सुसन यघुनाथ ससचव सॊफाद।ू बमउ सऩरयजन वफकर सनषाद।ू ।

ऩुसन कछु रिन कही कटु फानी। प्रबु फयजे फड़ अनुसचत जानी।।
सकुसच याभ सनज सऩथ दे वाई। रिन सॉदेसु ककहअ जसन जाई।।
कह सुभॊत्रु ऩुसन बूऩ सॉदेसू। सकह न सकककह ससम वफवऩन करेसू।।
जेकह वफसध अवध आव कपरय सीमा। सोइ यघुफयकह तुम्हकह कयनीमा।।
नतरु सनऩट अवरॊफ वफहीना। भईआ न ष्जअफ ष्जसभ जर वफनु भीना।।
दो0-भइकईऄ ससयईऄ सकर सुि जफकहॊ जहाॉ भनु भान।।
तॉह तफ यकहकह सुिेन ससम जफ रसग वफऩसत वफहान।।96।।
–*–*–
वफनती बूऩ कीन्ह जेकह बाॉती। आयसत प्रीसत न सो ककह जाती।।
वऩतु सॉदेसु सुसन कृ ऩासनधाना। ससमकह दीन्ह ससि कोकट वफधाना।।
सासु ससुय गुय वप्रम ऩरयवारू। कपयतु त सफ कय सभटै िबारू।।

169

सुसन ऩसत फचन कहसत फैदेही। सुनहु प्रानऩसत ऩयभ सनेही।।

प्रबु करुनाभम ऩयभ वफफेकी। तनु तष्ज यहसत छाॉह ककसभ छईऄ की।।
प्रबा जाइ कहॉ बानु वफहाई। कहॉ चॊकरका चॊद ु तष्ज जाई।।

ऩसतकह प्रेभभम वफनम सुनाई। कहसत ससचव सन सगया सुहाई।।
तुम्ह वऩतु ससुय सरयस कहतकायी। उतरु दे उॉ कपरय अनुसचत बायी।।
दो0-आयसत फस सनभुि बइउॉ वफरगु न भानफ तात।
आयजसुत ऩद कभर वफनु फाकद जहाॉ रसग नात।।97।।
–*–*–
वऩतु फैबव वफरास भईआ डीठा। नृऩ भसन भुकुट सभसरत ऩद ऩीठा।।
सुिसनधान अस वऩतु गृह भोयईऄ । वऩम वफहीन भन बाव न बोयईऄ ।।
ससुय चक्कवइ कोसरयाऊ। बुवन चारयदस प्रगट प्रबाऊ।।
आगईऄ होइ जेकह सुयऩसत रेई। अयध ससॊघासन आसनु दे ई।।
ससुरु एतादृस अवध सनवासू। वप्रम ऩरयवारु भातु सभ सासू।।
वफनु यघुऩसत ऩद ऩदभ
ु ऩयागा। भोकह केउ सऩनेहुॉ सुिद न रागा।।
अगभ ऩॊथ फनबूसभ ऩहाया। करय केहरय सय सरयत अऩाया।।

कोर ककयात कुयॊ ग वफहॊ गा। भोकह सफ सुिद प्रानऩसत सॊगा।।
दो0-सासु ससुय सन भोरय हुॉसत वफनम कयवफ ऩरय ऩामॉ।।
भोय सोचु जसन करयअ कछु भईआ फन सुिी सुबामॉ।।98।।
–*–*–
प्राननाथ वप्रम दे वय साथा। फीय धुयीन धयईऄ धनु बाथा।।

नकहॊ भग श्रभु र्भ्भु दि
ु भन भोयईऄ । भोकह रसग सोचु करयअ जसन बोयईऄ ।।
सुसन सुभॊत्रु ससम सीतसर फानी। बमउ वफकर जनु पसन भसन हानी।।

नमन सूझ नकहॊ सुनइ न काना। ककह न सकइ कछु असत अकुराना।।
याभ प्रफोधु कीन्ह फहु बाॉसत। तदवऩ होसत नकहॊ सीतसर छाती।।
जतन अनेक साथ कहत कीन्हे । उसचत उतय यघुनॊदन दीन्हे ।।

भेकट जाइ नकहॊ याभ यजाई। ककठन कयभ गसत कछु न फसाई।।
याभ रिन ससम ऩद ससरु नाई। कपये उ फसनक ष्जसभ भूय गवाॉई।।
दो0–यथ हाॉकेउ हम याभ तन हे रय हे रय कहकहनाकहॊ ।
दे ष्ि सनषाद वफषादफस धुनकहॊ सीस ऩसछताकहॊ ।।99।।
–*–*–
जासु वफमोग वफकर ऩसु ऐसे। प्रजा भातु वऩतु ष्जइहकहॊ कैसईऄ।।
फयफस याभ सुभॊत्रु ऩठाए। सुयसरय तीय आऩु तफ आए।।
भागी नाव न केवटु आना। कहइ तुम्हाय भयभु भईआ जाना।।

170

चयन कभर यज कहुॉ सफु कहई। भानुष कयसन भूरय कछु अहई।।
छुअत ससरा बइ नारय सुहाई। ऩाहन तईऄ न काठ ककठनाई।।

तयसनउ भुसन घरयसन होइ जाई। फाट ऩयइ भोरय नाव उड़ाई।।
एकहॊ प्रसतऩारउॉ सफु ऩरयवारू। नकहॊ जानउॉ कछु अउय कफारू।।
जौ प्रबु ऩाय अवसस गा चहहू। भोकह ऩद ऩदभ
ु ऩिायन कहहू।।
छॊ 0-ऩद कभर धोइ चढ़ाइ नाव न नाथ उतयाई चहं।

भोकह याभ याउरय आन दसयथ सऩथ सफ साची कहं।।
फरु तीय भायहुॉ रिनु ऩै जफ रसग न ऩाम ऩिारयहं।
तफ रसग न तुरसीदास नाथ कृ ऩार ऩारु उतारयहं।।
सो0-सुसन केफट के फैन प्रेभ रऩेटे अटऩटे ।
वफहसे करुनाऐन सचतइ जानकी रिन तन।।100।।
कृ ऩाससॊधु फोरे भुसुकाई। सोइ करु जईऄकह तव नाव न जाई।।
वेसग आनु जर ऩाम ऩिारू। होत वफरॊफु उतायकह ऩारू।।
जासु नाभ सुभयत एक फाया। उतयकहॊ नय बवससॊधु अऩाया।।
सोइ कृ ऩारु केवटकह सनहोया। जेकहॊ जगु ककम सतहु ऩगहु ते थोया।।

ऩद नि सनयष्ि दे वसरय हयषी। सुसन प्रबु फचन भोहॉ भसत कयषी।।
केवट याभ यजामसु ऩावा। ऩासन कठवता बरय रेइ आवा।।
असत आनॊद उभसग अनुयागा। चयन सयोज ऩिायन रागा।।
फयवष सुभन सुय सकर ससहाहीॊ। एकह सभ ऩुन्मऩुॊज कोउ नाहीॊ।।
दो0-ऩद ऩिारय जरु ऩान करय आऩु सकहत ऩरयवाय।
वऩतय ऩारु करय प्रबुकह ऩुसन भुकदत गमउ रेइ ऩाय।।101।।
–*–*–
उतरय ठाड़ बए सुयसरय ये ता। सीमयाभ गुह रिन सभेता।।
केवट उतरय दॊ डवत कीन्हा। प्रबुकह सकुच एकह नकहॊ कछु दीन्हा।।
वऩम कहम की ससम जानसनहायी। भसन भुदयी भन भुकदत उतायी।।
कहे उ कृ ऩार रेकह उतयाई। केवट चयन गहे अकुराई।।
नाथ आजु भईआ काह न ऩावा। सभटे दोष दि
ु दारयद दावा।।

फहुत कार भईआ कीष्न्ह भजूयी। आजु दीन्ह वफसध फसन बसर बूयी।।
अफ कछु नाथ न चाकहअ भोयईऄ । दीनदमार अनुग्रह तोयईऄ ।।

कपयती फाय भोकह जे दे फा। सो प्रसाद ु भईआ ससय धरय रेफा।।
दो0- फहुत कीन्ह प्रबु रिन ससमॉ नकहॊ कछु केवटु रेइ।
वफदा कीन्ह करुनामतन बगसत वफभर फरु दे इ।।102।।
–*–*–

171

तफ भज्जनु करय यघुकुरनाथा। ऩूष्ज ऩायसथव नामउ भाथा।।
ससमॉ सुयसरयकह कहे उ कय जोयी। भातु भनोयथ ऩुयउवफ भोयी।।
ऩसत दे वय सॊग कुसर फहोयी। आइ कयं जेकहॊ ऩूजा तोयी।।
सुसन ससम वफनम प्रेभ यस सानी। बइ तफ वफभर फारय फय फानी।।
सुनु यघुफीय वप्रमा फैदेही। तव प्रबाउ जग वफकदत न केही।।
रोकऩ होकहॊ वफरोकत तोयईऄ । तोकह सेवकहॊ सफ सससध कय जोयईऄ ।।
तुम्ह जो हभकह फकड़ वफनम सुनाई। कृ ऩा कीष्न्ह भोकह दीष्न्ह फड़ाई।।
तदवऩ दे वफ भईआ दे वफ असीसा। सपर होऩन कहत सनज फागीसा।।
दो0-प्राननाथ दे वय सकहत कुसर कोसरा आइ।
ऩूजकह सफ भनकाभना सुजसु यकहकह जग छाइ।।103।।
–*–*–
गॊग फचन सुसन भॊगर भूरा। भुकदत सीम सुयसरय अनुकुरा।।
तफ प्रबु गुहकह कहे उ घय जाहू। सुनत सूि भुिु बा उय दाहू।।

दीन फचन गुह कह कय जोयी। वफनम सुनहु यघुकुरभसन भोयी।।
नाथ साथ यकह ऩॊथु दे िाई। करय कदन चारय चयन सेवकाई।।
जेकहॊ फन जाइ यहफ यघुयाई। ऩयनकुटी भईआ कयवफ सुहाई।।
तफ भोकह कहॉ जसस दे फ यजाई। सोइ करयहउॉ यघुफीय दोहाई।।
सहज सनेह याभ रष्ि तासु। सॊग रीन्ह गुह रृदम हुरासू।।

ऩुसन गुहॉ ग्मासत फोसर सफ रीन्हे । करय ऩरयतोषु वफदा तफ कीन्हे ।।
दो0- तफ गनऩसत ससव सुसभरय प्रबु नाइ सुयसरयकह भाथ। ì
सिा अनुज ससमा सकहत फन गवनु कीन्ह यधुनाथ।।104।।
–*–*–
तेकह कदन बमउ वफटऩ तय फासू। रिन सिाॉ सफ कीन्ह सुऩासू।।
प्रात प्रातकृ त करय यधुसाई। तीयथयाजु दीि प्रबु जाई।।
ससचव सत्म श्रध्दा वप्रम नायी। भाधव सरयस भीतु कहतकायी।।
चारय ऩदायथ बया बॉडारु। ऩुन्म प्रदे स दे स असत चारु।।
छे त्र अगभ गढ़ु गाढ़ सुहावा। सऩनेहुॉ नकहॊ प्रसतऩष्छछन्ह ऩावा।।
सेन सकर तीयथ फय फीया। करुष अनीक दरन यनधीया।।

सॊगभु ससॊहासनु सुकठ सोहा। छत्रु अिमफटु भुसन भनु भोहा।।
चवॉय जभुन अरु गॊग तयॊ गा। दे ष्ि होकहॊ दि
ु दारयद बॊगा।।
दो0- सेवकहॊ सुकृसत साधु सुसच ऩावकहॊ सफ भनकाभ।
फॊदी फेद ऩुयान गन कहकहॊ वफभर गुन ग्राभ।।105।।
–*–*–

172

को ककह सकइ प्रमाग प्रबाऊ। करुष ऩुॊज कुॊजय भृगयाऊ।।
अस तीयथऩसत दे ष्ि सुहावा। सुि सागय यघुफय सुिु ऩावा।।
ककह ससम रिनकह सिकह सुनाई। श्रीभुि तीयथयाज फड़ाई।।
करय प्रनाभु दे ित फन फागा। कहत भहातभ असत अनुयागा।।
एकह वफसध आइ वफरोकी फेनी। सुसभयत सकर सुभॊगर दे नी।।
भुकदत नहाइ कीष्न्ह ससव सेवा। ऩुष्ज जथावफसध तीयथ दे वा।।
तफ प्रबु बयद्वाज ऩकहॊ आए। कयत दॊ डवत भुसन उय राए।।
भुसन भन भोद न कछु ककह जाइ। ब्रह्मानॊद यासस जनु ऩाई।।
दो0- दीष्न्ह असीस भुनीस उय असत अनॊद ु अस जासन।

रोचन गोचय सुकृत पर भनहुॉ ककए वफसध आसन।।106।।
–*–*–
कुसर प्रस्न करय आसन दीन्हे । ऩूष्ज प्रेभ ऩरयऩूयन कीन्हे ।।
कॊद भूर पर अॊकुय नीके। कदए आसन भुसन भनहुॉ अभी के।।

सीम रिन जन सकहत सुहाए। असत रुसच याभ भूर पर िाए।।
बए वफगतश्रभ याभु सुिाये । बयव्दाज भृद ु फचन उचाये ।।

आजु सुपर तऩु तीयथ त्मागू। आजु सुपर जऩ जोग वफयागू।।
सपर सकर सुब साधन साजू। याभ तुम्हकह अवरोकत आजू।।
राब अवसध सुि अवसध न दज
ू ी। तुम्हायईऄ दयस आस सफ ऩूजी।।
अफ करय कृ ऩा दे हु फय एहू। सनज ऩद सयससज सहज सनेहू।।
दो0-कयभ फचन भन छाकड़ छरु जफ रसग जनु न तुम्हाय।

तफ रसग सुिु सऩनेहुॉ नहीॊ ककएॉ कोकट उऩचाय।।
–*–*–
सुसन भुसन फचन याभु सकुचाने। बाव बगसत आनॊद अघाने।।
तफ यघुफय भुसन सुजसु सुहावा। कोकट बाॉसत ककह सफकह सुनावा।।
सो फड सो सफ गुन गन गेहू। जेकह भुनीस तुम्ह आदय दे हू।।
भुसन यघुफीय ऩयसऩय नवहीॊ। फचन अगोचय सुिु अनुबवहीॊ।।

मह सुसध ऩाइ प्रमाग सनवासी। फटु ताऩस भुसन ससद्ध उदासी।।
बयद्वाज आश्रभ सफ आए। दे िन दसयथ सुअन सुहाए।।
याभ प्रनाभ कीन्ह सफ काहू। भुकदत बए रकह रोमन राहू।।
दे कहॊ असीस ऩयभ सुिु ऩाई। कपये सयाहत सुॊदयताई।।
दो0-याभ कीन्ह वफश्राभ सनसस प्रात प्रमाग नहाइ।

चरे सकहत ससम रिन जन भुदकदत भुसनकह ससरु नाइ।।108।।
–*–*–

173

याभ सप्रेभ कहे उ भुसन ऩाहीॊ। नाथ ककहअ हभ केकह भग जाहीॊ।।
भुसन भन वफहसस याभ सन कहहीॊ। सुगभ सकर भग तुम्ह कहुॉ अहहीॊ।।
साथ रासग भुसन ससकम फोराए। सुसन भन भुकदत ऩचासक आए।।
सफष्न्ह याभ ऩय प्रेभ अऩाया। सकर कहकह भगु दीि हभाया।।
भुसन फटु चारय सॊग तफ दीन्हे । ष्जन्ह फहु जनभ सुकृत सफ कीन्हे ।।
करय प्रनाभु रयवष आमसु ऩाई। प्रभुकदत रृदमॉ चरे यघुयाई।।

ग्राभ सनकट जफ सनकसकह जाई। दे िकह दयसु नारय नय धाई।।
होकह सनाथ जनभ परु ऩाई। कपयकह दष्ु ित भनु सॊग ऩठाई।।
दो0-वफदा ककए फटु वफनम करय कपये ऩाइ भन काभ।

उतरय नहाए जभुन जर जो सयीय सभ स्माभ।।109।।
–*–*–
सुनत तीयवासी नय नायी। धाए सनज सनज काज वफसायी।।
रिन याभ ससम सुन्दयताई। दे ष्ि कयकहॊ सनज बाग्म फड़ाई।।
असत रारसा फसकहॊ भन भाहीॊ। नाउॉ गाउॉ फूझत सकुचाहीॊ।।
जे सतन्ह भहुॉ फमवफरयध समाने। सतन्ह करय जुगुसत याभु ऩकहचाने।।
सकर कथा सतन्ह सफकह सुनाई। फनकह चरे वऩतु आमसु ऩाई।।
सुसन सवफषाद सकर ऩसछताहीॊ। यानी यामॉ कीन्ह बर नाहीॊ।।
तेकह अवसय एक ताऩसु आवा। तेजऩुॊज रघुफमस सुहावा।।
कवव अरष्ित गसत फेषु वफयागी। भन क्रभ फचन याभ अनुयागी।।
दो0-सजर नमन तन ऩुरकक सनज इिदे उ ऩकहचासन।
ऩये उ दॊ ड ष्जसभ धयसनतर दसा न जाइ फिासन।।110।।
–*–*–
याभ सप्रेभ ऩुरकक उय रावा। ऩयभ यॊ क जनु ऩायसु ऩावा।।
भनहुॉ प्रेभु ऩयभायथु दोऊ। सभरत धये तन कह सफु कोऊ।।

फहुरय रिन ऩामन्ह सोइ रागा। रीन्ह उठाइ उभसग अनुयागा।।

ऩुसन ससम चयन धूरय धरय सीसा। जनसन जासन सससु दीष्न्ह असीसा।।
कीन्ह सनषाद दॊ डवत तेही। सभरेउ भुकदत रष्ि याभ सनेही।।
वऩअत नमन ऩुट रूऩु वऩमूषा। भुकदत सुअसनु ऩाइ ष्जसभ बूिा।।
ते वऩतु भातु कहहु सष्ि कैसे। ष्जन्ह ऩठए फन फारक ऐसे।।
याभ रिन ससम रूऩु सनहायी। होकहॊ सनेह वफकर नय नायी।।
दो0-तफ यघुफीय अनेक वफसध सिकह ससिावनु दीन्ह।

याभ यजामसु सीस धरय बवन गवनु तईःइॉ कीन्ह।।111।।
–*–*–

174

ऩुसन ससमॉ याभ रिन कय जोयी। जभुनकह कीन्ह प्रनाभु फहोयी।।
चरे ससीम भुकदत दोउ बाई। यवफतनुजा कइ कयत फड़ाई।।
ऩसथक अनेक सभरकहॊ भग जाता। कहकहॊ सप्रेभ दे ष्ि दोउ र्भ्ाता।।
याज रिन सफ अॊग तुम्हायईऄ । दे ष्ि सोचु असत रृदम हभायईऄ ।।
भायग चरहु ऩमादे कह ऩाएॉ। ज्मोसतषु झूठ हभायईऄ बाएॉ।।

अगभु ऩॊथ सगरय कानन बायी। तेकह भहॉ साथ नारय सुकुभायी।।
करय केहरय फन जाइ न जोई। हभ सॉग चरकह जो आमसु होई।।
जाफ जहाॉ रसग तहॉ ऩहुॉचाई। कपयफ फहोरय तुम्हकह ससरु नाई।।
दो0-एकह वफसध ऩूॉछकहॊ प्रेभ फस ऩुरक गात जरु नैन।

कृ ऩाससॊधु पेयकह सतन्हकह ककह वफनीत भृद ु फैन।।112।।
–*–*–
जे ऩुय गाॉव फसकहॊ भग भाहीॊ। सतन्हकह नाग सुय नगय ससहाहीॊ।।
केकह सुकृतीॊ केकह घयीॊ फसाए। धन्म ऩुन्मभम ऩयभ सुहाए।।
जहॉ जहॉ याभ चयन चसर जाहीॊ। सतन्ह सभान अभयावसत नाहीॊ।।
ऩुन्मऩुॊज भग सनकट सनवासी। सतन्हकह सयाहकहॊ सुयऩुयफासी।।
जे बरय नमन वफरोककहॊ याभकह। सीता रिन सकहत घनस्माभकह।।
जे सय सरयत याभ अवगाहकहॊ । सतन्हकह दे व सय सरयत सयाहकहॊ ।।
जेकह तरु तय प्रबु फैठकहॊ जाई। कयकहॊ करऩतरु तासु फड़ाई।।
ऩयसस याभ ऩद ऩदभ
ु ऩयागा। भानसत बूसभ बूरय सनज बागा।।
दो0-छाॉह कयकह घन वफफुधगन फयषकह सुभन ससहाकहॊ ।

दे ित सगरय फन वफहग भृग याभु चरे भग जाकहॊ ।।113।।
–*–*–
सीता रिन सकहत यघुयाई। गाॉव सनकट जफ सनकसकहॊ जाई।।
सुसन सफ फार फृद्ध नय नायी। चरकहॊ तुयत गृहकाजु वफसायी।।
याभ रिन ससम रूऩ सनहायी। ऩाइ नमनपरु होकहॊ सुिायी।।
सजर वफरोचन ऩुरक सयीया। सफ बए भगन दे ष्ि दोउ फीया।।
फयसन न जाइ दसा सतन्ह केयी। रकह जनु यॊ कन्ह सुयभसन ढे यी।।
एकन्ह एक फोसर ससि दे हीॊ। रोचन राहु रेहु छन एहीॊ।।

याभकह दे ष्ि एक अनुयागे। सचतवत चरे जाकहॊ सॉग रागे।।
एक नमन भग छवफ उय आनी। होकहॊ सससथर तन भन फय फानी।।
दो0-एक दे ष्िॊ फट छाॉह बसर डासस भृदर
ु तृन ऩात।

कहकहॊ गवाॉइअ सछनुकु श्रभु गवनफ अफकहॊ कक प्रात।।114।।
–*–*–

175

एक करस बरय आनकहॊ ऩानी। अॉचइअ नाथ कहकहॊ भृद ु फानी।।

सुसन वप्रम फचन प्रीसत असत दे िी। याभ कृ ऩार सुसीर वफसेषी।।
जानी श्रसभत सीम भन भाहीॊ। घरयक वफरॊफु कीन्ह फट छाहीॊ।।
भुकदत नारय नय दे िकहॊ सोबा। रूऩ अनूऩ नमन भनु रोबा।।
एकटक सफ सोहकहॊ चहुॉ ओया। याभचॊर भुि चॊद चकोया।।

तरुन तभार फयन तनु सोहा। दे ित कोकट भदन भनु भोहा।।
दासभसन फयन रिन सुकठ नीके। नि ससि सुबग बावते जी के।।
भुसनऩट ककटन्ह कसईऄ तूनीया। सोहकहॊ कय कभसरसन धनु तीया।।
दो0-जटा भुकुट सीससन सुबग उय बुज नमन वफसार।
सयद ऩयफ वफधु फदन फय रसत स्वेद कन जार।।115।।
–*–*–
फयसन न जाइ भनोहय जोयी। सोबा फहुत थोरय भसत भोयी।।

याभ रिन ससम सुॊदयताई। सफ सचतवकहॊ सचत भन भसत राई।।
थके नारय नय प्रेभ वऩआसे। भनहुॉ भृगी भृग दे ष्ि कदआ से।।
सीम सभीऩ ग्राभसतम जाहीॊ। ऩूॉछत असत सनेहॉ सकुचाहीॊ।।

फाय फाय सफ रागकहॊ ऩाएॉ। कहकहॊ फचन भृद ु सयर सुबाएॉ।।

याजकुभारय वफनम हभ कयहीॊ। सतम सुबामॉ कछु ऩूॉछत डयहीॊ।
स्वासभसन अवफनम छभवफ हभायी। वफरगु न भानफ जासन गवाॉयी।।
याजकुअॉय दोउ सहज सरोने। इन्ह तईऄ रही दसु त भयकत सोने।।
दो0-स्माभर गौय ककसोय फय सुॊदय सुषभा ऐन।
सयद सफायीनाथ भुिु सयद सयोरुह नैन।।116।।
भासऩायामण, सोरहवाॉ ववश्राभ
नवान्हऩायामण, चौथा ववश्राभ
–*–*–
कोकट भनोज रजावसनहाये । सुभुष्ि कहहु को आकहॊ तुम्हाये ।।

सुसन सनेहभम भॊजुर फानी। सकुची ससम भन भहुॉ भुसुकानी।।

सतन्हकह वफरोकक वफरोकसत धयनी। दह
ु ुॉ सकोच सकुसचत फयफयनी।।
सकुसच सप्रेभ फार भृग नमनी। फोरी भधुय फचन वऩकफमनी।।
सहज सुबाम सुबग तन गोये । नाभु रिनु रघु दे वय भोये ।।
फहुरय फदनु वफधु अॊचर ढाॉकी। वऩम तन सचतइ बंह करय फाॉकी।।

िॊजन भॊजु सतयीछे नमनसन। सनज ऩसत कहे उ सतन्हकह ससमॉ समनसन।।
बइ भुकदत सफ ग्राभफधूटीॊ। यॊ कन्ह याम यासस जनु रूटीॊ।।
दो0-असत सप्रेभ ससम ऩामॉ ऩरय फहुवफसध दे कहॊ असीस।

176

सदा सोहासगसन होहु तुम्ह जफ रसग भकह अकह सीस।।117।।
–*–*–
ऩायफती सभ ऩसतवप्रम होहू। दे वफ न हभ ऩय छाड़फ छोहू।।

ऩुसन ऩुसन वफनम करयअ कय जोयी। जं एकह भायग कपरयअ फहोयी।।
दयसनु दे फ जासन सनज दासी। रिीॊ सीमॉ सफ प्रेभ वऩआसी।।
भधुय फचन ककह ककह ऩरयतोषीॊ। जनु कुभुकदनीॊ कौभुदीॊ ऩोषीॊ।।
तफकहॊ रिन यघुफय रुि जानी। ऩूॉछेउ भगु रोगष्न्ह भृद ु फानी।।
सुनत नारय नय बए दि
ु ायी। ऩुरककत गात वफरोचन फायी।।

सभटा भोद ु भन बए भरीने। वफसध सनसध दीन्ह रेत जनु छीने।।

सभुष्झ कयभ गसत धीयजु कीन्हा। सोसध सुगभ भगु सतन्ह ककह दीन्हा।।
दो0-रिन जानकी सकहत तफ गवनु कीन्ह यघुनाथ।
पेये सफ वप्रम फचन ककह सरए राइ भन साथ।।118।।ý
–*–*–
कपयत नारय नय असत ऩसछताहीॊ। दे अकह दोषु दे कहॊ भन भाहीॊ।।
सकहत वफषाद ऩयसऩय कहहीॊ। वफसध कयतफ उरटे सफ अहहीॊ।।
सनऩट सनयॊ कुस सनठु य सनसॊकू। जेकहॊ ससस कीन्ह सरुज सकरॊकू।।
रूि करऩतरु सागरु िाया। तेकहॊ ऩठए फन याजकुभाया।।
जं ऩे इन्हकह दीन्ह फनफासू। कीन्ह फाकद वफसध बोग वफरासू।।
ए वफचयकहॊ भग वफनु ऩदत्राना। यचे फाकद वफसध फाहन नाना।।
ए भकह ऩयकहॊ डासस कुस ऩाता। सुबग सेज कत सृजत वफधाता।।
तरुफय फास इन्हकह वफसध दीन्हा। धवर धाभ यसच यसच श्रभु कीन्हा।।
दो0-जं ए भुसन ऩट धय जकटर सुॊदय सुकठ सुकुभाय।
वफवफध बाॉसत बूषन फसन फाकद ककए कयताय।।119।।
–*–*–
जं ए कॊद भूर पर िाहीॊ। फाकद सुधाकद असन जग भाहीॊ।।
एक कहकहॊ ए सहज सुहाए। आऩु प्रगट बए वफसध न फनाए।।
जहॉ रसग फेद कही वफसध कयनी। श्रवन नमन भन गोचय फयनी।।
दे िहु िोष्ज बुअन दस चायी। कहॉ अस ऩुरुष कहाॉ असस नायी।।
इन्हकह दे ष्ि वफसध भनु अनुयागा। ऩटतय जोग फनावै रागा।।

कीन्ह फहुत श्रभ ऐक न आए। तेकहॊ इरयषा फन आसन दयु ाए।।

एक कहकहॊ हभ फहुत न जानकहॊ । आऩुकह ऩयभ धन्म करय भानकहॊ ।।
ते ऩुसन ऩुन्मऩुॊज हभ रेिे। जे दे िकहॊ दे ष्िहकहॊ ष्जन्ह दे िे।।
दो0-एकह वफसध ककह ककह फचन वप्रम रेकहॊ नमन बरय नीय।

177

ककसभ चसरहकह भायग अगभ सुकठ सुकुभाय सयीय।।120।।
–*–*–
नारय सनेह वफकर फस होहीॊ। चकई साॉझ सभम जनु सोहीॊ।।
भृद ु ऩद कभर ककठन भगु जानी। गहफरय रृदमॉ कहकहॊ फय फानी।।
ऩयसत भृदर
ु चयन अरुनाये । सकुचसत भकह ष्जसभ रृदम हभाये ।।

जं जगदीस इन्हकह फनु दीन्हा। कस न सुभनभम भायगु कीन्हा।।
जं भागा ऩाइअ वफसध ऩाहीॊ। ए यष्िअकहॊ सष्ि आॉष्िन्ह भाहीॊ।।
जे नय नारय न अवसय आए। सतन्ह ससम याभु न दे िन ऩाए।।
सुसन सुरुऩ फूझकहॊ अकुराई। अफ रसग गए कहाॉ रसग बाई।।
सभयथ धाइ वफरोककहॊ जाई। प्रभुकदत कपयकहॊ जनभपरु ऩाई।।
दो0-अफरा फारक फृद्ध जन कय भीजकहॊ ऩसछताकहॊ ।।
होकहॊ प्रेभफस रोग इसभ याभु जहाॉ जहॉ जाकहॊ ।।121।।
–*–*–
गाॉव गाॉव अस होइ अनॊद।ू दे ष्ि बानुकुर कैयव चॊद।ू ।

जे कछु सभाचाय सुसन ऩावकहॊ । ते नृऩ यासनकह दोसु रगावकहॊ ।।
कहकहॊ एक असत बर नयनाहू। दीन्ह हभकह जोइ रोचन राहू।।
कहकहॊ ऩयस्ऩय रोग रोगाईं। फातईऄ सयर सनेह सुहाईं।।

ते वऩतु भातु धन्म ष्जन्ह जाए। धन्म सो नगरु जहाॉ तईऄ आए।।
धन्म सो दे सु सैरु फन गाऊॉ। जहॉ जहॉ जाकहॊ धन्म सोइ ठाऊॉ।।
सुि ऩामउ वफयॊ सच यसच तेही। ए जेकह के सफ बाॉसत सनेही।।
याभ रिन ऩसथ कथा सुहाई। यही सकर भग कानन छाई।।
दो0-एकह वफसध यघुकुर कभर यवफ भग रोगन्ह सुि दे त।
जाकहॊ चरे दे ित वफवऩन ससम सौसभवत्र सभेत।।122।।
–*–*–
आगे याभु रिनु फने ऩाछईऄ । ताऩस फेष वफयाजत काछईऄ ।।
उबम फीच ससम सोहसत कैसे। ब्रह्म जीव वफच भामा जैसे।।
फहुरय कहउॉ छवफ जसस भन फसई। जनु भधु भदन भध्म यसत रसई।।
उऩभा फहुरय कहउॉ ष्जमॉ जोही। जनु फुध वफधु वफच योकहसन सोही।।
प्रबु ऩद ये ि फीच वफच सीता। धयसत चयन भग चरसत सबीता।।
सीम याभ ऩद अॊक फयाएॉ। रिन चरकहॊ भगु दाकहन राएॉ।।
याभ रिन ससम प्रीसत सुहाई। फचन अगोचय ककसभ ककह जाई।।
िग भृग भगन दे ष्ि छवफ होहीॊ। सरए चोरय सचत याभ फटोहीॊ।।
दो0-ष्जन्ह ष्जन्ह दे िे ऩसथक वप्रम ससम सभेत दोउ बाइ।

178

बव भगु अगभु अनॊद ु तेइ वफनु श्रभ यहे ससयाइ।।123।।
–*–*–
अजहुॉ जासु उय सऩनेहुॉ काऊ। फसहुॉ रिनु ससम याभु फटाऊ।।
याभ धाभ ऩथ ऩाइकह सोई। जो ऩथ ऩाव कफहुॉ भुसन कोई।।

तफ यघुफीय श्रसभत ससम जानी। दे ष्ि सनकट फटु सीतर ऩानी।।
तहॉ फसस कॊद भूर पर िाई। प्रात नहाइ चरे यघुयाई।।
दे ित फन सय सैर सुहाए। फारभीकक आश्रभ प्रबु आए।।
याभ दीि भुसन फासु सुहावन। सुॊदय सगरय काननु जरु ऩावन।।
सयसन सयोज वफटऩ फन पूरे। गुॊजत भॊजु भधुऩ यस बूरे।।
िग भृग वफऩुर कोराहर कयहीॊ। वफयकहत फैय भुकदत भन चयहीॊ।।
दो0-सुसच सुॊदय आश्रभु सनयष्ि हयषे याष्जवनेन।
सुसन यघुफय आगभनु भुसन आगईऄ आमउ रेन।।124।।
–*–*–
भुसन कहुॉ याभ दॊ डवत कीन्हा। आससयफाद ु वफप्रफय दीन्हा।।

दे ष्ि याभ छवफ नमन जुड़ाने। करय सनभानु आश्रभकहॊ आने।।
भुसनफय असतसथ प्रानवप्रम ऩाए। कॊद भूर पर भधुय भगाए।।
ससम सौसभवत्र याभ पर िाए। तफ भुसन आश्रभ कदए सुहाए।।
फारभीकक भन आनॉद ु बायी। भॊगर भूयसत नमन सनहायी।।
तफ कय कभर जोरय यघुयाई। फोरे फचन श्रवन सुिदाई।।

तुम्ह वत्रकार दयसी भुसननाथा। वफस्व फदय ष्जसभ तुम्हयईऄ हाथा।।
अस ककह प्रबु सफ कथा फिानी। जेकह जेकह बाॉसत दीन्ह फनु यानी।।
दो0-तात फचन ऩुसन भातु कहत बाइ बयत अस याउ।
भो कहुॉ दयस तुम्हाय प्रबु सफु भभ ऩुन्म प्रबाउ।।125।।
–*–*–
दे ष्ि ऩाम भुसनयाम तुम्हाये । बए सुकृत सफ सुपर हभाये ।।
अफ जहॉ याउय आमसु होई। भुसन उदफेगु न ऩावै कोई।।
भुसन ताऩस ष्जन्ह तईऄ दि
ु ु रहहीॊ। ते नये स वफनु ऩावक दहहीॊ।।
भॊगर भूर वफप्र ऩरयतोषू। दहइ कोकट कुर बूसुय योषू।।

अस ष्जमॉ जासन ककहअ सोइ ठाऊॉ। ससम सौसभवत्र सकहत जहॉ जाऊॉ।।
तहॉ यसच रुसचय ऩयन तृन सारा। फासु कयौ कछु कार कृ ऩारा।।
सहज सयर सुसन यघुफय फानी। साधु साधु फोरे भुसन ग्मानी।।
कस न कहहु अस यघुकुरकेतू। तुम्ह ऩारक सॊतत श्रुसत सेतू।।
छॊ 0-श्रुसत सेतु ऩारक याभ तुम्ह जगदीस भामा जानकी।

179

जो सृजसत जगु ऩारसत हयसत रूि ऩाइ कृ ऩासनधान की।।
जो सहससीसु अहीसु भकहधरु रिनु सचयाचय धनी।
सुय काज धरय नययाज तनु चरे दरन िर सनससचय अनी।।
सो0-याभ सरुऩ तुम्हाय फचन अगोचय फुवद्धऩय।
अवफगत अकथ अऩाय नेसत सनत सनगभ कह।।126।।
जगु ऩेिन तुम्ह दे िसनहाये । वफसध हरय सॊबु नचावसनहाये ।।
तेउ न जानकहॊ भयभु तुम्हाया। औरु तुम्हकह को जानसनहाया।।
सोइ जानइ जेकह दे हु जनाई। जानत तुम्हकह तुम्हइ होइ जाई।।

तुम्हरयकह कृ ऩाॉ तुम्हकह यघुनॊदन। जानकहॊ बगत बगत उय चॊदन।।
सचदानॊदभम दे ह तुम्हायी। वफगत वफकाय जान असधकायी।।
नय तनु धये हु सॊत सुय काजा। कहहु कयहु जस प्राकृ त याजा।।

याभ दे ष्ि सुसन चरयत तुम्हाये । जड़ भोहकहॊ फुध होकहॊ सुिाये ।।

तुम्ह जो कहहु कयहु सफु साॉचा। जस कासछअ तस चाकहअ नाचा।।
दो0-ऩूॉछेहु भोकह कक यहं कहॉ भईआ ऩूॉछत सकुचाउॉ ।

जहॉ न होहु तहॉ दे हु ककह तुम्हकह दे िावं ठाउॉ ।।127।।
–*–*–
सुसन भुसन फचन प्रेभ यस साने। सकुसच याभ भन भहुॉ भुसुकाने।।
फारभीकक हॉ सस कहकहॊ फहोयी। फानी भधुय असभअ यस फोयी।।

सुनहु याभ अफ कहउॉ सनकेता। जहाॉ फसहु ससम रिन सभेता।।

ष्जन्ह के श्रवन सभुर सभाना। कथा तुम्हारय सुबग सरय नाना।।
बयकहॊ सनयॊ तय होकहॊ न ऩूये। सतन्ह के कहम तुम्ह कहुॉ गृह रूये ।।

रोचन चातक ष्जन्ह करय यािे। यहकहॊ दयस जरधय असबराषे।।
सनदयकहॊ सरयत ससॊधु सय बायी। रूऩ वफॊद ु जर होकहॊ सुिायी।।

सतन्ह के रृदम सदन सुिदामक। फसहु फॊधु ससम सह यघुनामक।।
दो0-जसु तुम्हाय भानस वफभर हॊ सससन जीहा जासु।

भुकुताहर गुन गन चुनइ याभ फसहु कहमॉ तासु।।128।।
–*–*–
प्रबु प्रसाद सुसच सुबग सुफासा। सादय जासु रहइ सनत नासा।।
तुम्हकह सनफेकदत बोजन कयहीॊ। प्रबु प्रसाद ऩट बूषन धयहीॊ।।
सीस नवकहॊ सुय गुरु कद्वज दे िी। प्रीसत सकहत करय वफनम वफसेषी।।
कय सनत कयकहॊ याभ ऩद ऩूजा। याभ बयोस रृदमॉ नकह दज
ू ा।।

चयन याभ तीयथ चसर जाहीॊ। याभ फसहु सतन्ह के भन भाहीॊ।।
भॊत्रयाजु सनत जऩकहॊ तुम्हाया। ऩूजकहॊ तुम्हकह सकहत ऩरयवाया।।

180

तयऩन होभ कयकहॊ वफसध नाना। वफप्र जेवाॉइ दे कहॊ फहु दाना।।

तुम्ह तईऄ असधक गुयकह ष्जमॉ जानी। सकर बामॉ सेवकहॊ सनभानी।।
दो0-सफु करय भागकहॊ एक परु याभ चयन यसत होउ।
सतन्ह कईऄ भन भॊकदय फसहु ससम यघुनॊदन दोउ।।129।।
–*–*–
काभ कोह भद भान न भोहा। रोब न छोब न याग न रोहा।।
ष्जन्ह कईऄ कऩट दॊ ब नकहॊ भामा। सतन्ह कईऄ रृदम फसहु यघुयामा।।
सफ के वप्रम सफ के कहतकायी। दि
ु सुि सरयस प्रसॊसा गायी।।

कहकहॊ सत्म वप्रम फचन वफचायी। जागत सोवत सयन तुम्हायी।।
तुम्हकह छाकड़ गसत दस
ू रय नाहीॊ। याभ फसहु सतन्ह के भन भाहीॊ।।
जननी सभ जानकहॊ ऩयनायी। धनु ऩयाव वफष तईऄ वफष बायी।।

जे हयषकहॊ ऩय सॊऩसत दे िी। दष्ु ित होकहॊ ऩय वफऩसत वफसेषी।।

ष्जन्हकह याभ तुम्ह प्रानवऩआये । सतन्ह के भन सुब सदन तुम्हाये ।।
दो0-स्वासभ सिा वऩतु भातु गुय ष्जन्ह के सफ तुम्ह तात।
भन भॊकदय सतन्ह कईऄ फसहु सीम सकहत दोउ र्भ्ात।।130।।
–*–*–
अवगुन तष्ज सफ के गुन गहहीॊ। वफप्र धेनु कहत सॊकट सहहीॊ।।
नीसत सनऩुन ष्जन्ह कइ जग रीका। घय तुम्हाय सतन्ह कय भनु नीका।।
गुन तुम्हाय सभुझइ सनज दोसा। जेकह सफ बाॉसत तुम्हाय बयोसा।।
याभ बगत वप्रम रागकहॊ जेही। तेकह उय फसहु सकहत फैदेही।।
जासत ऩाॉसत धनु धयभ फड़ाई। वप्रम ऩरयवाय सदन सुिदाई।।

सफ तष्ज तुम्हकह यहइ उय राई। तेकह के रृदमॉ यहहु यघुयाई।।
सयगु नयकु अऩफयगु सभाना। जहॉ तहॉ दे ि धयईऄ धनु फाना।।
कयभ फचन भन याउय चेया। याभ कयहु तेकह कईऄ उय डे या।।
दो0-जाकह न चाकहअ कफहुॉ कछु तुम्ह सन सहज सनेहु।

फसहु सनयॊ तय तासु भन सो याउय सनज गेहु।।131।।
–*–*–
एकह वफसध भुसनफय बवन दे िाए। फचन सप्रेभ याभ भन बाए।।
कह भुसन सुनहु बानुकुरनामक। आश्रभ कहउॉ सभम सुिदामक।।
सचत्रकूट सगरय कयहु सनवासू। तहॉ तुम्हाय सफ बाॉसत सुऩासू।।
सैरु सुहावन कानन चारू। करय केहरय भृग वफहग वफहारू।।
नदी ऩुनीत ऩुयान फिानी। अवत्रवप्रमा सनज तऩफर आनी।।
सुयसरय धाय नाउॉ भॊदाककसन। जो सफ ऩातक ऩोतक डाककसन।।

181

अवत्र आकद भुसनफय फहु फसहीॊ। कयकहॊ जोग जऩ तऩ तन कसहीॊ।।
चरहु सपर श्रभ सफ कय कयहू। याभ दे हु गौयव सगरयफयहू।।
दो0-सचत्रकूट भकहभा असभत कहीॊ भहाभुसन गाइ।

आए नहाए सरयत फय ससम सभेत दोउ बाइ।।132।।
–*–*–
यघुफय कहे उ रिन बर घाटू । कयहु कतहुॉ अफ ठाहय ठाटू ।।

रिन दीि ऩम उतय कयाया। चहुॉ कदसस कपये उ धनुष ष्जसभ नाया।।
नदी ऩनच सय सभ दभ दाना। सकर करुष कसर साउज नाना।।
सचत्रकूट जनु अचर अहे यी। चुकइ न घात भाय भुठबेयी।।
अस ककह रिन ठाउॉ दे ियावा। थरु वफरोकक यघुफय सुिु ऩावा।।
यभेउ याभ भनु दे वन्ह जाना। चरे सकहत सुय थऩसत प्रधाना।।
कोर ककयात फेष सफ आए। यचे ऩयन तृन सदन सुहाए।।
फयसन न जाकह भॊजु दइ
ु सारा। एक रसरत रघु एक वफसारा।।
दो0-रिन जानकी सकहत प्रबु याजत रुसचय सनकेत।

सोह भदनु भुसन फेष जनु यसत रयतुयाज सभेत।।133।।
भासऩायामण, सत्रहॉ वा ववश्राभ
–*–*–
अभय नाग ककॊनय कदससऩारा। सचत्रकूट आए तेकह कारा।।
याभ प्रनाभु कीन्ह सफ काहू। भुकदत दे व रकह रोचन राहू।।
फयवष सुभन कह दे व सभाजू। नाथ सनाथ बए हभ आजू।।

करय वफनती दि
ु दस
ु ह सुनाए। हयवषत सनज सनज सदन ससधाए।।
सचत्रकूट यघुनॊदनु छाए। सभाचाय सुसन सुसन भुसन आए।।

आवत दे ष्ि भुकदत भुसनफृॊदा। कीन्ह दॊ डवत यघुकुर चॊदा।।
भुसन यघुफयकह राइ उय रेहीॊ। सुपर होन कहत आससष दे हीॊ।।
ससम सौसभत्र याभ छवफ दे िकहॊ । साधन सकर सपर करय रेिकहॊ ।।
दो0-जथाजोग सनभासन प्रबु वफदा ककए भुसनफृॊद।
कयकह जोग जऩ जाग तऩ सनज आश्रभष्न्ह सुछॊद।।134।।
–*–*–
मह सुसध कोर ककयातन्ह ऩाई। हयषे जनु नव सनसध घय आई।।
कॊद भूर पर बरय बरय दोना। चरे यॊ क जनु रूटन सोना।।
सतन्ह भहॉ ष्जन्ह दे िे दोउ र्भ्ाता। अऩय सतन्हकह ऩूॉछकह भगु जाता।।
कहत सुनत यघुफीय सनकाई। आइ सफष्न्ह दे िे यघुयाई।।
कयकहॊ जोहारु बईऄट धरय आगे। प्रबुकह वफरोककहॊ असत अनुयागे।।

182

सचत्र सरिे जनु जहॉ तहॉ ठाढ़े । ऩुरक सयीय नमन जर फाढ़े ।।
याभ सनेह भगन सफ जाने। ककह वप्रम फचन सकर सनभाने।।
प्रबुकह जोहारय फहोरय फहोयी। फचन वफनीत कहकहॊ कय जोयी।।
दो0-अफ हभ नाथ सनाथ सफ बए दे ष्ि प्रबु ऩाम।
बाग हभाये आगभनु याउय कोसरयाम।।135।।
–*–*–
धन्म बूसभ फन ऩॊथ ऩहाया। जहॉ जहॉ नाथ ऩाउ तुम्ह धाया।।
धन्म वफहग भृग काननचायी। सपर जनभ बए तुम्हकह सनहायी।।
हभ सफ धन्म सकहत ऩरयवाया। दीि दयसु बरय नमन तुम्हाया।।
कीन्ह फासु बर ठाउॉ वफचायी। इहाॉ सकर रयतु यहफ सुिायी।।
हभ सफ बाॉसत कयफ सेवकाई। करय केहरय अकह फाघ फयाई।।
फन फेहड़ सगरय कॊदय िोहा। सफ हभाय प्रबु ऩग ऩग जोहा।।
तहॉ तहॉ तुम्हकह अहे य िेराउफ। सय सनयझय जरठाउॉ दे िाउफ।।
हभ सेवक ऩरयवाय सभेता। नाथ न सकुचफ आमसु दे ता।।
दो0-फेद फचन भुसन भन अगभ ते प्रबु करुना ऐन।
फचन ककयातन्ह के सुनत ष्जसभ वऩतु फारक फैन।।136।।
–*–*–
याभकह केवर प्रेभु वऩआया। जासन रेउ जो जानसनहाया।।
याभ सकर फनचय तफ तोषे। ककह भृद ु फचन प्रेभ ऩरयऩोषे।।

वफदा ककए ससय नाइ ससधाए। प्रबु गुन कहत सुनत घय आए।।
एकह वफसध ससम सभेत दोउ बाई। फसकहॊ वफवऩन सुय भुसन सुिदाई।।
जफ ते आइ यहे यघुनामकु। तफ तईऄ बमउ फनु भॊगरदामकु।।
पूरकहॊ परकहॊ वफटऩ वफसध नाना।।भॊजु फसरत फय फेसर वफताना।।
सुयतरु सरयस सुबामॉ सुहाए। भनहुॉ वफफुध फन ऩरयहरय आए।।
गॊज भॊजुतय भधुकय श्रेनी। वत्रवफध फमारय फहइ सुि दे नी।।
दो0-नीरकॊठ करकॊठ सुक चातक चक्क चकोय।
बाॉसत बाॉसत फोरकहॊ वफहग श्रवन सुिद सचत चोय।।137।।
–*–*–
केरय केहरय कवऩ कोर कुयॊ गा। वफगतफैय वफचयकहॊ सफ सॊगा।।
कपयत अहे य याभ छवफ दे िी। होकहॊ भुकदत भृगफॊद वफसेषी।।
वफफुध वफवऩन जहॉ रसग जग भाहीॊ। दे ष्ि याभ फनु सकर ससहाहीॊ।।
सुयसरय सयसइ कदनकय कन्मा। भेकरसुता गोदावरय धन्मा।।
सफ सय ससॊधु नदी नद नाना। भॊदाककसन कय कयकहॊ फिाना।।

183

उदम अस्त सगरय अरु कैरासू। भॊदय भेरु सकर सुयफासू।।
सैर कहभाचर आकदक जेते। सचत्रकूट जसु गावकहॊ तेते।।
वफॊसध भुकदत भन सुिु न सभाई। श्रभ वफनु वफऩुर फड़ाई ऩाई।।
दो0-सचत्रकूट के वफहग भृग फेसर वफटऩ तृन जासत।
ऩुन्म ऩुॊज सफ धन्म अस कहकहॊ दे व कदन यासत।।138।।
–*–*–
नमनवॊत यघुफयकह वफरोकी। ऩाइ जनभ पर होकहॊ वफसोकी।।
ऩयसस चयन यज अचय सुिायी। बए ऩयभ ऩद के असधकायी।।
सो फनु सैरु सुबामॉ सुहावन। भॊगरभम असत ऩावन ऩावन।।
भकहभा ककहअ कवसन वफसध तासू। सुिसागय जहॉ कीन्ह सनवासू।।
ऩम ऩमोसध तष्ज अवध वफहाई। जहॉ ससम रिनु याभु यहे आई।।
ककह न सककहॊ सुषभा जसस कानन। जं सत सहस हंकहॊ सहसानन।।
सो भईआ फयसन कहं वफसध केहीॊ। डाफय कभठ कक भॊदय रेहीॊ।।
सेवकहॊ रिनु कयभ भन फानी। जाइ न सीरु सनेहु फिानी।।
दो0–सछनु सछनु रष्ि ससम याभ ऩद जासन आऩु ऩय नेहु।

कयत न सऩनेहुॉ रिनु सचतु फॊधु भातु वऩतु गेहु।।139।।
–*–*–
याभ सॊग ससम यहसत सुिायी। ऩुय ऩरयजन गृह सुयसत वफसायी।।
सछनु सछनु वऩम वफधु फदनु सनहायी। प्रभुकदत भनहुॉ चकोयकुभायी।।
नाह नेहु सनत फढ़त वफरोकी। हयवषत यहसत कदवस ष्जसभ कोकी।।

ससम भनु याभ चयन अनुयागा। अवध सहस सभ फनु वप्रम रागा।।
ऩयनकुटी वप्रम वप्रमतभ सॊगा। वप्रम ऩरयवारु कुयॊ ग वफहॊ गा।।
सासु ससुय सभ भुसनसतम भुसनफय। असनु असभअ सभ कॊद भूर पय।।
नाथ साथ साॉथयी सुहाई। भमन समन सम सभ सुिदाई।।
रोकऩ होकहॊ वफरोकत जासू। तेकह कक भोकह सक वफषम वफरासू।।
दो0–सुसभयत याभकह तजकहॊ जन तृन सभ वफषम वफरासु।
याभवप्रमा जग जनसन ससम कछु न आचयजु तासु।।140।।
–*–*–
सीम रिन जेकह वफसध सुिु रहहीॊ। सोइ यघुनाथ कयकह सोइ कहहीॊ।।
कहकहॊ ऩुयातन कथा कहानी। सुनकहॊ रिनु ससम असत सुिु भानी।
जफ जफ याभु अवध सुसध कयहीॊ। तफ तफ फारय वफरोचन बयहीॊ।।
सुसभरय भातु वऩतु ऩरयजन बाई। बयत सनेहु सीरु सेवकाई।।
कृ ऩाससॊधु प्रबु होकहॊ दि
ु ायी। धीयजु धयकहॊ कुसभउ वफचायी।।

184

रष्ि ससम रिनु वफकर होइ जाहीॊ। ष्जसभ ऩुरुषकह अनुसय ऩरयछाहीॊ।।
वप्रमा फॊधु गसत रष्ि यघुनॊदनु। धीय कृ ऩार बगत उय चॊदनु।।
रगे कहन कछु कथा ऩुनीता। सुसन सुिु रहकहॊ रिनु अरु सीता।।
दो0-याभु रिन सीता सकहत सोहत ऩयन सनकेत।
ष्जसभ फासव फस अभयऩुय सची जमॊत सभेत।।141।।
–*–*–
जोगवकहॊ प्रबु ससम रिनकहॊ कैसईऄ। ऩरक वफरोचन गोरक जैसईऄ।।
सेवकहॊ रिनु सीम यघुफीयकह। ष्जसभ अवफफेकी ऩुरुष सयीयकह।।
एकह वफसध प्रबु फन फसकहॊ सुिायी। िग भृग सुय ताऩस कहतकायी।।
कहे उॉ याभ फन गवनु सुहावा। सुनहु सुभॊत्र अवध ष्जसभ आवा।।
कपये उ सनषाद ु प्रबुकह ऩहुॉचाई। ससचव सकहत यथ दे िेसस आई।।

भॊत्री वफकर वफरोकक सनषाद।ू ककह न जाइ जस बमउ वफषाद।ू ।
याभ याभ ससम रिन ऩुकायी। ऩये उ धयसनतर ब्माकुर बायी।।

दे ष्ि दष्िन कदसस हम कहकहनाहीॊ। जनु वफनु ऩॊि वफहग अकुराहीॊ।।
दो0-नकहॊ तृन चयकहॊ वऩअकहॊ जरु भोचकहॊ रोचन फारय।
ब्माकुर बए सनषाद सफ यघुफय फाष्ज सनहारय।।142।।
–*–*–
धरय धीयज तफ कहइ सनषाद।ू अफ सुभॊत्र ऩरयहयहु वफषाद।ू ।

तुम्ह ऩॊकडत ऩयभायथ ग्माता। धयहु धीय रष्ि वफभुि वफधाता

वफवफध कथा ककह ककह भृद ु फानी। यथ फैठाये उ फयफस आनी।।

सोक सससथर यथ सकइ न हाॉकी। यघुफय वफयह ऩीय उय फाॉकी।।
चयपयाकहॉ भग चरकहॊ न घोये । फन भृग भनहुॉ आसन यथ जोये ।।

अढ़ु कक ऩयकहॊ कपरय हे यकहॊ ऩीछईऄ । याभ वफमोसग वफकर दि
ु तीछईऄ ।।
जो कह याभु रिनु फैदेही। कहॊ करय कहॊ करय कहत हे यकहॊ तेही।।

फाष्ज वफयह गसत ककह ककसभ जाती। वफनु भसन पसनक वफकर जेकह बाॉती।।
दो0-बमउ सनषाद वफषादफस दे ित ससचव तुयॊग।
फोसर सुसेवक चारय तफ कदए सायथी सॊग।।143।।
–*–*–
गुह सायसथकह कपये उ ऩहुॉचाई। वफयहु वफषाद ु फयसन नकहॊ जाई।।

चरे अवध रेइ यथकह सनषादा। होकह छनकहॊ छन भगन वफषादा।।
सोच सुभॊत्र वफकर दि
ु दीना। सधग जीवन यघुफीय वफहीना।।

यकहकह न अॊतहुॉ अधभ सयीरू। जसु न रहे उ वफछुयत यघुफीरू।।
बए अजस अघ बाजन प्राना। कवन हे तु नकहॊ कयत ऩमाना।।

185

अहह भॊद भनु अवसय चूका। अजहुॉ न रृदम होत दइ
ु टू का।।

भीष्ज हाथ ससरु धुसन ऩसछताई। भनहॉ कृ ऩन धन यासस गवाॉई।।
वफरयद फाॉसध फय फीरु कहाई। चरेउ सभय जनु सुबट ऩयाई।।
दो0-वफप्र वफफेकी फेदवफद सॊभत साधु सुजासत।
ष्जसभ धोिईऄ भदऩान कय ससचव सोच तेकह बाॉसत।।144।।
–*–*–
ष्जसभ कुरीन सतम साधु समानी। ऩसतदे वता कयभ भन फानी।।
यहै कयभ फस ऩरयहरय नाहू। ससचव रृदमॉ सतसभ दारुन दाहु।।

रोचन सजर डीकठ बइ थोयी। सुनइ न श्रवन वफकर भसत बोयी।।
सूिकहॊ अधय रासग भुहॉ राटी। ष्जउ न जाइ उय अवसध कऩाटी।।
वफफयन बमउ न जाइ सनहायी। भाये सस भनहुॉ वऩता भहतायी।।

हासन गरासन वफऩुर भन ब्माऩी। जभऩुय ऩॊथ सोच ष्जसभ ऩाऩी।।
फचनु न आव रृदमॉ ऩसछताई। अवध काह भईआ दे िफ जाई।।
याभ यकहत यथ दे ष्िकह जोई। सकुसचकह भोकह वफरोकत सोई।।
दो0–धाइ ऩूॉसछहकहॊ भोकह जफ वफकर नगय नय नारय।
उतरु दे फ भईआ सफकह तफ रृदमॉ फज्रु फैठारय।।145।।
–*–*–
ऩुसछहकहॊ दीन दष्ु ित सफ भाता। कहफ काह भईआ सतन्हकह वफधाता।।
ऩूसछकह जफकहॊ रिन भहतायी। ककहहउॉ कवन सॉदेस सुिायी।।

याभ जनसन जफ आइकह धाई। सुसभरय फछछु ष्जसभ धेनु रवाई।।
ऩूॉछत उतरु दे फ भईआ तेही। गे फनु याभ रिनु फैदेही।।
जोइ ऩूॉसछकह तेकह ऊतरु दे फा।जाइ अवध अफ महु सुिु रेफा।।
ऩूॉसछकह जफकहॊ याउ दि
ु दीना। ष्जवनु जासु यघुनाथ अधीना।।
दे हउॉ उतरु कौनु भुहु राई। आमउॉ कुसर कुअॉय ऩहुॉचाई।।

सुनत रिन ससम याभ सॉदेसू। तृन ष्जसभ तनु ऩरयहरयकह नये सू।।
दो0–ह्रदउ न वफदये उ ऩॊक ष्जसभ वफछुयत प्रीतभु नीरु।।
जानत हं भोकह दीन्ह वफसध महु जातना सयीरु।।146।।
–*–*–
एकह वफसध कयत ऩॊथ ऩसछतावा। तभसा तीय तुयत यथु आवा।।
वफदा ककए करय वफनम सनषादा। कपये ऩामॉ ऩरय वफकर वफषादा।।
ऩैठत नगय ससचव सकुचाई। जनु भाये सस गुय फाॉबन गाई।।
फैकठ वफटऩ तय कदवसु गवाॉवा। साॉझ सभम तफ अवसरु ऩावा।।
अवध प्रफेसु कीन्ह अॉसधआयईऄ । ऩैठ बवन यथु याष्ि दआ
ु यईऄ ।।

186

ष्जन्ह ष्जन्ह सभाचाय सुसन ऩाए। बूऩ द्वाय यथु दे िन आए।।
यथु ऩकहचासन वफकर रष्ि घोये । गयकहॊ गात ष्जसभ आतऩ ओये ।।
नगय नारय नय ब्माकुर कईआसईऄ। सनघटत नीय भीनगन जईआसईऄ।।
दो0–ससचव आगभनु सुनत सफु वफकर बमउ यसनवासु।
बवन बमॊकरु राग तेकह भानहुॉ प्रेत सनवासु।।147।।
–*–*–
असत आयसत सफ ऩूॉछकहॊ यानी। उतरु न आव वफकर बइ फानी।।
सुनइ न श्रवन नमन नकहॊ सूझा। कहहु कहाॉ नृऩ तेकह तेकह फूझा।।
दाससन्ह दीि ससचव वफकराई। कौसल्मा गृहॉ गईं रवाई।।

जाइ सुभॊत्र दीि कस याजा। असभअ यकहत जनु चॊद ु वफयाजा।।
आसन समन वफबूषन हीना। ऩये उ बूसभतर सनऩट भरीना।।

रेइ उसासु सोच एकह बाॉती। सुयऩुय तईऄ जनु िॉसेउ जजाती।।
रेत सोच बरय सछनु सछनु छाती। जनु जरय ऩॊि ऩये उ सॊऩाती।।
याभ याभ कह याभ सनेही। ऩुसन कह याभ रिन फैदेही।।
दो0-दे ष्ि ससचवॉ जम जीव ककह कीन्हे उ दॊ ड प्रनाभु।
सुनत उठे उ ब्माकुर नृऩसत कहु सुभॊत्र कहॉ याभु।।148।।
–*–*–
बूऩ सुभॊत्रु रीन्ह उय राई। फूड़त कछु अधाय जनु ऩाई।।
सकहत सनेह सनकट फैठायी। ऩूॉछत याउ नमन बरय फायी।।
याभ कुसर कहु सिा सनेही। कहॉ यघुनाथु रिनु फैदेही।।

आने पेरय कक फनकह ससधाए। सुनत ससचव रोचन जर छाए।।
सोक वफकर ऩुसन ऩूॉछ नये सू। कहु ससम याभ रिन सॊदेसू।।

याभ रूऩ गुन सीर सुबाऊ। सुसभरय सुसभरय उय सोचत याऊ।।
याउ सुनाइ दीन्ह फनफासू। सुसन भन बमउ न हयषु हयाॉसू।।
सो सुत वफछुयत गए न प्राना। को ऩाऩी फड़ भोकह सभाना।।
दो0-सिा याभु ससम रिनु जहॉ तहाॉ भोकह ऩहुॉचाउ।

नाकहॊ त चाहत चरन अफ प्रान कहउॉ ससतबाउ।।149।।
–*–*–
ऩुसन ऩुसन ऩूॉछत भॊत्रकह याऊ। वप्रमतभ सुअन सॉदेस सुनाऊ।।
कयकह सिा सोइ फेसग उऩाऊ। याभु रिनु ससम नमन दे िाऊ।।
ससचव धीय धरय कह भुद ु फानी। भहायाज तुम्ह ऩॊकडत ग्मानी।।
फीय सुधीय धुयॊधय दे वा। साधु सभाजु सदा तुम्ह सेवा।।

जनभ भयन सफ दि
ु बोगा। हासन राब वप्रम सभरन वफमोगा।।

187

कार कयभ फस हौकहॊ गोसाईं। फयफस यासत कदवस की नाईं।।
सुि हयषकहॊ जड़ दि
ु वफरिाहीॊ। दोउ सभ धीय धयकहॊ भन भाहीॊ।।
धीयज धयहु वफफेकु वफचायी। छाकड़अ सोच सकर कहतकायी।।
दो0-प्रथभ फासु तभसा बमउ दस
ू य सुयसरय तीय।

न्हाई यहे जरऩानु करय ससम सभेत दोउ फीय।।150।।
–*–*–
केवट कीष्न्ह फहुत सेवकाई। सो जासभसन ससॊगयौय गवाॉई।।

होत प्रात फट छीरु भगावा। जटा भुकुट सनज सीस फनावा।।
याभ सिाॉ तफ नाव भगाई। वप्रमा चढ़ाइ चढ़े यघुयाई।।
रिन फान धनु धये फनाई। आऩु चढ़े प्रबु आमसु ऩाई।।
वफकर वफरोकक भोकह यघुफीया। फोरे भधुय फचन धरय धीया।।
तात प्रनाभु तात सन कहे हु। फाय फाय ऩद ऩॊकज गहे हू।।

कयवफ ऩामॉ ऩरय वफनम फहोयी। तात करयअ जसन सचॊता भोयी।।
फन भग भॊगर कुसर हभायईऄ । कृ ऩा अनुग्रह ऩुन्म तुम्हायईऄ ।।
छॊ 0- तुम्हये अनुग्रह तात कानन जात सफ सुिु ऩाइहं।
प्रसतऩासर आमसु कुसर दे िन ऩाम ऩुसन कपरय आइहं।।
जननीॊ सकर ऩरयतोवष ऩरय ऩरय ऩामॉ करय वफनती घनी।
तुरसी कये हु सोइ जतनु जेकहॊ कुसरी यहकहॊ कोसर धनी।।
सो0-गुय सन कहफ सॉदेसु फाय फाय ऩद ऩदभ
ु गकह।

कयफ सोइ उऩदे सु जेकहॊ न सोच भोकह अवधऩसत।।151।।
ऩुयजन ऩरयजन सकर सनहोयी। तात सुनाएहु वफनती भोयी।।
सोइ सफ बाॉसत भोय कहतकायी। जातईऄ यह नयनाहु सुिायी।।

कहफ सॉदेसु बयत के आएॉ। नीसत न तष्जअ याजऩद ु ऩाएॉ।।

ऩारेहु प्रजकह कयभ भन फानी। सेएहु भातु सकर सभ जानी।।
ओय सनफाहे हु बामऩ बाई। करय वऩतु भातु सुजन सेवकाई।।

तात बाॉसत तेकह यािफ याऊ। सोच भोय जेकहॊ कयै न काऊ।।
रिन कहे कछु फचन कठोया। फयष्ज याभ ऩुसन भोकह सनहोया।।
फाय फाय सनज सऩथ दे वाई। कहवफ न तात रिन ररयकाई।।
दो0-ककह प्रनाभ कछु कहन सरम ससम बइ सससथर सनेह।
थककत फचन रोचन सजर ऩुरक ऩल्रववत दे ह।।152।।
–*–*–
तेकह अवसय यघुफय रूि ऩाई। केवट ऩायकह नाव चराई।।
यघुकुरसतरक चरे एकह बाॉती। दे िउॉ ठाढ़ कुसरस धरय छाती।।

188

भईआ आऩन ककसभ कहं करेसू। ष्जअत कपये उॉ रेइ याभ सॉदेसू।।
अस ककह ससचव फचन यकह गमऊ। हासन गरासन सोच फस बमऊ।।
सुत फचन सुनतकहॊ नयनाहू। ऩये उ धयसन उय दारुन दाहू।।

तरपत वफषभ भोह भन भाऩा। भाजा भनहुॉ भीन कहुॉ ब्माऩा।।

करय वफराऩ सफ योवकहॊ यानी। भहा वफऩसत ककसभ जाइ फिानी।।
सुसन वफराऩ दि
ु हू दि
ु ु रागा। धीयजहू कय धीयजु बागा।।
दो0-बमउ कोराहरु अवध असत सुसन नृऩ याउय सोरु।

वफऩुर वफहग फन ऩये उ सनसस भानहुॉ कुसरस कठोरु।।153।।
–*–*–
प्रान कॊठगत बमउ बुआरू। भसन वफहीन जनु ब्माकुर ब्मारू।।
इरीॊ सकर वफकर बइॉ बायी। जनु सय सयससज फनु वफनु फायी।।
कौसल्माॉ नृऩु दीि भराना। यवफकुर यवफ अॉथमउ ष्जमॉ जाना।
उय धरय धीय याभ भहतायी। फोरी फचन सभम अनुसायी।।
नाथ सभुष्झ भन करयअ वफचारू। याभ वफमोग ऩमोसध अऩारू।।
कयनधाय तुम्ह अवध जहाजू। चढ़े उ सकर वप्रम ऩसथक सभाजू।।
धीयजु धरयअ त ऩाइअ ऩारू। नाकहॊ त फूकड़कह सफु ऩरयवारू।।
जं ष्जमॉ धरयअ वफनम वऩम भोयी। याभु रिनु ससम सभरकहॊ फहोयी।।
दो0–वप्रमा फचन भृद ु सुनत नृऩु सचतमउ आॉष्ि उघारय।

तरपत भीन भरीन जनु सीॊचत सीतर फारय।।154।।
–*–*–
धरय धीयजु उठी फैठ बुआरू। कहु सुभॊत्र कहॉ याभ कृ ऩारू।।
कहाॉ रिनु कहॉ याभु सनेही। कहॉ वप्रम ऩुत्रफधू फैदेही।।

वफरऩत याउ वफकर फहु बाॉती। बइ जुग सरयस ससयासत न याती।।
ताऩस अॊध साऩ सुसध आई। कौसल्मकह सफ कथा सुनाई।।

बमउ वफकर फयनत इसतहासा। याभ यकहत सधग जीवन आसा।।
सो तनु याष्ि कयफ भईआ काहा। जईऄकह न प्रेभ ऩनु भोय सनफाहा।।
हा यघुनॊदन प्रान वऩयीते। तुम्ह वफनु ष्जअत फहुत कदन फीते।।

हा जानकी रिन हा यघुफय। हा वऩतु कहत सचत चातक जरधय।
दो0-याभ याभ ककह याभ ककह याभ याभ ककह याभ।
तनु ऩरयहरय यघुफय वफयहॉ याउ गमउ सुयधाभ।।155।।
–*–*–
ष्जअन भयन परु दसयथ ऩावा। अॊड अनेक अभर जसु छावा।।
ष्जअत याभ वफधु फदनु सनहाया। याभ वफयह करय भयनु सॉवाया।।

189

सोक वफकर सफ योवकहॊ यानी। रूऩु सीर फरु तेजु फिानी।।
कयकहॊ वफराऩ अनेक प्रकाया। ऩयहीॊ बूसभतर फायकहॊ फाया।।
वफरऩकहॊ वफकर दास अरु दासी। घय घय रुदनु कयकहॊ ऩुयफासी।।
अॉथमउ आजु बानुकुर बानू। धयभ अवसध गुन रूऩ सनधानू।।
गायीॊ सकर कैकइकह दे हीॊ। नमन वफहीन कीन्ह जग जेहीॊ।।
एकह वफसध वफरऩत यै सन वफहानी। आए सकर भहाभुसन ग्मानी।।
दो0-तफ फससष्ठ भुसन सभम सभ ककह अनेक इसतहास।
सोक नेवाये उ सफकह कय सनज वफग्मान प्रकास।।156।।
–*–*–
तेर नाॉव बरय नृऩ तनु यािा। दत
ू फोराइ फहुरय अस बाषा।।

धावहु फेसग बयत ऩकहॊ जाहू। नृऩ सुसध कतहुॉ कहहु जसन काहू।।
एतनेइ कहे हु बयत सन जाई। गुय फोराई ऩठमउ दोउ बाई।।
सुसन भुसन आमसु धावन धाए। चरे फेग फय फाष्ज रजाए।।

अनयथु अवध अयॊ बेउ जफ तईऄ। कुसगुन होकहॊ बयत कहुॉ तफ तईऄ।।

दे िकहॊ यासत बमानक सऩना। जासग कयकहॊ कटु कोकट करऩना।।
वफप्र जेवाॉइ दे कहॊ कदन दाना। ससव असबषेक कयकहॊ वफसध नाना।।
भागकहॊ रृदमॉ भहे स भनाई। कुसर भातु वऩतु ऩरयजन बाई।।
दो0-एकह वफसध सोचत बयत भन धावन ऩहुॉचे आइ।

गुय अनुसासन श्रवन सुसन चरे गनेसु भनाइ।।157।।
–*–*–
चरे सभीय फेग हम हाॉके। नाघत सरयत सैर फन फाॉके।।
रृदमॉ सोचु फड़ कछु न सोहाई। अस जानकहॊ ष्जमॉ जाउॉ उड़ाई।।
एक सनभेष फयस सभ जाई। एकह वफसध बयत नगय सनअयाई।।
असगुन होकहॊ नगय ऩैठाया। यटकहॊ कुबाॉसत कुिेत कयाया।।
िय ससआय फोरकहॊ प्रसतकूरा। सुसन सुसन होइ बयत भन सूरा।।
श्रीहत सय सरयता फन फागा। नगरु वफसेवष बमावनु रागा।।
िग भृग हम गम जाकहॊ न जोए। याभ वफमोग कुयोग वफगोए।।
नगय नारय नय सनऩट दि
ु ायी। भनहुॉ सफष्न्ह सफ सॊऩसत हायी।।
दो0-ऩुयजन सभसरकहॊ न कहकहॊ कछु गवॉकहॊ जोहायकहॊ जाकहॊ ।

बयत कुसर ऩूॉसछ न सककहॊ बम वफषाद भन भाकहॊ ।।158।।
–*–*–
हाट फाट नकहॊ जाइ सनहायी। जनु ऩुय दहॉ कदसस रासग दवायी।।
आवत सुत सुसन कैकमनॊकदसन। हयषी यवफकुर जररुह चॊकदसन।।

190

सष्ज आयती भुकदत उकठ धाई। द्वाये कहॊ बईऄकट बवन रेइ आई।।
बयत दष्ु ित ऩरयवारु सनहाया। भानहुॉ तुकहन फनज फनु भाया।।
कैकेई हयवषत एकह बाॉसत। भनहुॉ भुकदत दव राइ ककयाती।।
सुतकह ससोच दे ष्ि भनु भायईऄ । ऩूॉछसत नैहय कुसर हभायईऄ ।।

सकर कुसर ककह बयत सुनाई। ऩूॉछी सनज कुर कुसर बराई।।
कहु कहॉ तात कहाॉ सफ भाता। कहॉ ससम याभ रिन वप्रम र्भ्ाता।।
दो0-सुसन सुत फचन सनेहभम कऩट नीय बरय नैन।

बयत श्रवन भन सूर सभ ऩावऩसन फोरी फैन।।159।।
–*–*–
तात फात भईआ सकर सॉवायी। बै भॊथया सहाम वफचायी।।
कछुक काज वफसध फीच वफगाये उ। बूऩसत सुयऩसत ऩुय ऩगु धाये उ।।
सुनत बयतु बए वफफस वफषादा। जनु सहभेउ करय केहरय नादा।।
तात तात हा तात ऩुकायी। ऩये बूसभतर ब्माकुर बायी।।
चरत न दे िन ऩामउॉ तोही। तात न याभकह संऩेहु भोही।।

फहुरय धीय धरय उठे सॉबायी। कहु वऩतु भयन हे तु भहतायी।।

सुसन सुत फचन कहसत कैकेई। भयभु ऩाॉसछ जनु भाहुय दे ई।।

आकदहु तईऄ सफ आऩसन कयनी। कुकटर कठोय भुकदत भन फयनी।।
दो0-बयतकह वफसये उ वऩतु भयन सुनत याभ फन गौनु।

हे तु अऩनऩउ जासन ष्जमॉ थककत यहे धरय भौनु।।160।।
–*–*–
वफकर वफरोकक सुतकह सभुझावसत। भनहुॉ जये ऩय रोनु रगावसत।।
तात याउ नकहॊ सोचे जोगू। वफढ़इ सुकृत जसु कीन्हे उ बोगू।।

जीवत सकर जनभ पर ऩाए। अॊत अभयऩसत सदन ससधाए।।
अस अनुभासन सोच ऩरयहयहू। सकहत सभाज याज ऩुय कयहू।।
सुसन सुकठ सहभेउ याजकुभारू। ऩाकईऄ छत जनु राग अॉगारू।।

धीयज धरय बरय रेकहॊ उसासा। ऩाऩसन सफकह बाॉसत कुर नासा।।
जं ऩै कुरुसच यही असत तोही। जनभत काहे न भाये भोही।।
ऩेड़ काकट तईआ ऩारउ सीॊचा। भीन ष्जअन सनसत फारय उरीचा।।
दो0-हॊ सफॊसु दसयथु जनकु याभ रिन से बाइ।
जननी तूॉ जननी बई वफसध सन कछु न फसाइ।।161।।
–*–*–
जफ तईआ कुभसत कुभत ष्जमॉ ठमऊ। िॊड िॊड होइ ह्रदउ न गमऊ।।
फय भागत भन बइ नकहॊ ऩीया। गरय न जीह भुहॉ ऩये उ न कीया।।

191

बूऩॉ प्रतीत तोरय ककसभ कीन्ही। भयन कार वफसध भसत हरय रीन्ही।।
वफसधहुॉ न नारय रृदम गसत जानी। सकर कऩट अघ अवगुन िानी।।
सयर सुसीर धयभ यत याऊ। सो ककसभ जानै तीम सुबाऊ।।

अस को जीव जॊतु जग भाहीॊ। जेकह यघुनाथ प्रानवप्रम नाहीॊ।।
बे असत अकहत याभु तेउ तोही। को तू अहसस सत्म कहु भोही।।

जो हसस सो हसस भुहॉ भसस राई। आॉष्ि ओट उकठ फैठकहॊ जाई।।
दो0-याभ वफयोधी रृदम तईऄ प्रगट कीन्ह वफसध भोकह।
भो सभान को ऩातकी फाकद कहउॉ कछु तोकह।।162।।
–*–*–
सुसन सत्रुघुन भातु कुकटराई। जयकहॊ गात रयस कछु न फसाई।।
तेकह अवसय कुफयी तहॉ आई। फसन वफबूषन वफवफध फनाई।।
रष्ि रयस बये उ रिन रघु बाई। फयत अनर घृत आहुसत ऩाई।।
हुभसग रात तकक कूफय भाया। ऩरय भुह बय भकह कयत ऩुकाया।।
कूफय टू टे उ पूट कऩारू। दसरत दसन भुि रुसधय प्रचारू।।

आह दइअ भईआ काह नसावा। कयत नीक परु अनइस ऩावा।।
सुसन रयऩुहन रष्ि नि ससि िोटी। रगे घसीटन धरय धरय झंटी।।
बयत दमासनसध दीष्न्ह छड़ाई। कौसल्मा ऩकहॊ गे दोउ बाई।।
दो0-भसरन फसन वफफयन वफकर कृ स सयीय दि
ु बाय।

कनक करऩ फय फेसर फन भानहुॉ हनी तुसाय।।163।।
–*–*–
बयतकह दे ष्ि भातु उकठ धाई। भुरुसछत अवसन ऩयी झइॉ आई।।
दे ित बयतु वफकर बए बायी। ऩये चयन तन दसा वफसायी।।
भातु तात कहॉ दे कह दे िाई। कहॉ ससम याभु रिनु दोउ बाई।।
कैकइ कत जनभी जग भाझा। जं जनसभ त बइ काहे न फाॉझा।।
कुर करॊकु जेकहॊ जनभेउ भोही। अऩजस बाजन वप्रमजन रोही।।
को सतबुवन भोकह सरयस अबागी। गसत असस तोरय भातु जेकह रागी।।
वऩतु सुयऩुय फन यघुफय केतू। भईआ केवर सफ अनयथ हे तु।।
सधग भोकह बमउॉ फेनु फन आगी। दस
ु ह दाह दि
ु दष
ू न बागी।।
दो0-भातु बयत के फचन भृद ु सुसन सुसन उठी सॉबारय।।

सरए उठाइ रगाइ उय रोचन भोचसत फारय।।164।।
–*–*–
सयर सुबाम भामॉ कहमॉ राए। असत कहत भनहुॉ याभ कपरय आए।।
बईऄटेउ फहुरय रिन रघु बाई। सोकु सनेहु न रृदमॉ सभाई।।

192

दे ष्ि सुबाउ कहत सफु कोई। याभ भातु अस काहे न होई।।
भाताॉ बयतु गोद फैठाये । आॉसु ऩंसछ भृद ु फचन उचाये ।।

अजहुॉ फछछ फसर धीयज धयहू। कुसभउ सभुष्झ सोक ऩरयहयहू।।

जसन भानहु कहमॉ हासन गरानी। कार कयभ गसत अघकटत जासन।।
काहुकह दोसु दे हु जसन ताता। बा भोकह सफ वफसध फाभ वफधाता।।
जो एतेहुॉ दि
ु भोकह ष्जआवा। अजहुॉ को जानइ का तेकह बावा।।
दो0-वऩतु आमस बूषन फसन तात तजे यघुफीय।

वफसभउ हयषु न रृदमॉ कछु ऩकहये फरकर चीय। 165।।
–*–*–
भुि प्रसन्न भन यॊ ग न योषू। सफ कय सफ वफसध करय ऩरयतोषू।।
चरे वफवऩन सुसन ससम सॉग रागी। यहइ न याभ चयन अनुयागी।।
सुनतकहॊ रिनु चरे उकठ साथा। यहकहॊ न जतन ककए यघुनाथा।।
तफ यघुऩसत सफही ससरु नाई। चरे सॊग ससम अरु रघु बाई।।
याभु रिनु ससम फनकह ससधाए। गइउॉ न सॊग न प्रान ऩठाए।।
महु सफु बा इन्ह आॉष्िन्ह आगईऄ। तउ न तजा तनु जीव अबागईऄ।।
भोकह न राज सनज नेहु सनहायी। याभ सरयस सुत भईआ भहतायी।।
ष्जऐ भयै बर बूऩसत जाना। भोय रृदम सत कुसरस सभाना।।
दो0- कौसल्मा के फचन सुसन बयत सकहत यसनवास।
ब्माकुर वफरऩत याजगृह भानहुॉ सोक नेवासु।।166।।
–*–*–
वफरऩकहॊ वफकर बयत दोउ बाई। कौसल्माॉ सरए रृदमॉ रगाई।।
बाॉसत अनेक बयतु सभुझाए। ककह वफफेकभम फचन सुनाए।।
बयतहुॉ भातु सकर सभुझाईं। ककह ऩुयान श्रुसत कथा सुहाईं।।

छर वफहीन सुसच सयर सुफानी। फोरे बयत जोरय जुग ऩानी।।
जे अघ भातु वऩता सुत भायईऄ । गाइ गोठ भकहसुय ऩुय जायईऄ ।।
जे अघ सतम फारक फध कीन्हईऄ । भीत भहीऩसत भाहुय दीन्हईऄ ।।

जे ऩातक उऩऩातक अहहीॊ। कयभ फचन भन बव कवफ कहहीॊ।।
ते ऩातक भोकह होहुॉ वफधाता। जं महु होइ भोय भत भाता।।
दो0-जे ऩरयहरय हरय हय चयन बजकहॊ बूतगन घोय।

तेकह कइ गसत भोकह दे उ वफसध जं जननी भत भोय।।167।।
–*–*–
फेचकहॊ फेद ु धयभु दकु ह रेहीॊ। वऩसुन ऩयाम ऩाऩ ककह दे हीॊ।।

कऩटी कुकटर करहवप्रम क्रोधी। फेद वफदष
ू क वफस्व वफयोधी।।

193

रोबी रॊऩट रोरुऩचाया। जे ताककहॊ ऩयधनु ऩयदाया।।
ऩावं भईआ सतन्ह के गसत घोया। जं जननी महु सॊभत भोया।।
जे नकहॊ साधुसॊग अनुयागे। ऩयभायथ ऩथ वफभुि अबागे।।

जे न बजकहॊ हरय नयतनु ऩाई। ष्जन्हकह न हरय हय सुजसु सोहाई।।
तष्ज श्रुसतऩॊथु फाभ ऩथ चरहीॊ। फॊचक वफयसच फेष जगु छरहीॊ।।
सतन्ह कै गसत भोकह सॊकय दे ऊ। जननी जं महु जानं बेऊ।।
दो0-भातु बयत के फचन सुसन साॉचे सयर सुबामॉ।

कहसत याभ वप्रम तात तुम्ह सदा फचन भन कामॉ।।168।।
–*–*–
याभ प्रानहु तईऄ प्रान तुम्हाये । तुम्ह यघुऩसतकह प्रानहु तईऄ प्माये ।।
वफधु वफष चवै स्त्रवै कहभु आगी। होइ फारयचय फारय वफयागी।।

बएॉ ग्मानु फरु सभटै न भोहू। तुम्ह याभकह प्रसतकूर न होहू।।

भत तुम्हाय महु जो जग कहहीॊ। सो सऩनेहुॉ सुि सुगसत न रहहीॊ।।

अस ककह भातु बयतु कहमॉ राए। थन ऩम स्त्रवकहॊ नमन जर छाए।।
कयत वफराऩ फहुत मकह बाॉती। फैठेकहॊ फीसत गइ सफ याती।।
फाभदे उ फससष्ठ तफ आए। ससचव भहाजन सकर फोराए।।

भुसन फहु बाॉसत बयत उऩदे से। ककह ऩयभायथ फचन सुदेसे।।
दो0-तात रृदमॉ धीयजु धयहु कयहु जो अवसय आजु।

उठे बयत गुय फचन सुसन कयन कहे उ सफु साजु।।169।।
–*–*–
नृऩतनु फेद वफकदत अन्हवावा। ऩयभ वफसचत्र वफभानु फनावा।।
गकह ऩद बयत भातु सफ यािी। यहीॊ यासन दयसन असबराषी।।
चॊदन अगय बाय फहु आए। असभत अनेक सुगॊध सुहाए।।

सयजु तीय यसच सचता फनाई। जनु सुयऩुय सोऩान सुहाई।।

एकह वफसध दाह कक्रमा सफ कीन्ही। वफसधवत न्हाइ सतराॊजुसर दीन्ही।।
सोसध सुभसृ त सफ फेद ऩुयाना। कीन्ह बयत दसगात वफधाना।।
जहॉ जस भुसनफय आमसु दीन्हा। तहॉ तस सहस बाॉसत सफु कीन्हा।।
बए वफसुद्ध कदए सफ दाना। धेनु फाष्ज गज फाहन नाना।।
दो0-ससॊघासन बूषन फसन अन्न धयसन धन धाभ।
कदए बयत रकह बूसभसुय बे ऩरयऩूयन काभ।।170।।
–*–*–
वऩतु कहत बयत कीष्न्ह जसस कयनी। सो भुि राि जाइ नकहॊ फयनी।।
सुकदनु सोसध भुसनफय तफ आए। ससचव भहाजन सकर फोराए।।

194

फैठे याजसबाॉ सफ जाई। ऩठए फोसर बयत दोउ बाई।।
बयतु फससष्ठ सनकट फैठाये । नीसत धयभभम फचन उचाये ।।
प्रथभ कथा सफ भुसनफय फयनी। कैकइ कुकटर कीष्न्ह जसस कयनी।।
बूऩ धयभब्रतु सत्म सयाहा। जेकहॊ तनु ऩरयहरय प्रेभु सनफाहा।।
कहत याभ गुन सीर सुबाऊ। सजर नमन ऩुरकेउ भुसनयाऊ।।
फहुरय रिन ससम प्रीसत फिानी। सोक सनेह भगन भुसन ग्मानी।।
दो0-सुनहु बयत बावी प्रफर वफरष्ि कहे उ भुसननाथ।

हासन राबु जीवन भयनु जसु अऩजसु वफसध हाथ।।171।।
–*–*–
अस वफचारय केकह दे इअ दोसू। ब्मयथ काकह ऩय कीष्जअ योसू।।
तात वफचारु केकह कयहु भन भाहीॊ। सोच जोगु दसयथु नृऩु नाहीॊ।।

सोसचअ वफप्र जो फेद वफहीना। तष्ज सनज धयभु वफषम रमरीना।।
सोसचअ नृऩसत जो नीसत न जाना। जेकह न प्रजा वप्रम प्रान सभाना।।
सोसचअ फमसु कृ ऩन धनवानू। जो न असतसथ ससव बगसत सुजानू।।
सोसचअ सूर ु वफप्र अवभानी। भुिय भानवप्रम ग्मान गुभानी।।

सोसचअ ऩुसन ऩसत फॊचक नायी। कुकटर करहवप्रम इछछाचायी।।
सोसचअ फटु सनज ब्रतु ऩरयहयई। जो नकहॊ गुय आमसु अनुसयई।।
दो0-सोसचअ गृही जो भोह फस कयइ कयभ ऩथ त्माग।
सोसचअ जसत प्रॊऩच यत वफगत वफफेक वफयाग।।172।।
–*–*–
फैिानस सोइ सोचै जोगु। तऩु वफहाइ जेकह बावइ बोगू।।
सोसचअ वऩसुन अकायन क्रोधी। जनसन जनक गुय फॊधु वफयोधी।।
सफ वफसध सोसचअ ऩय अऩकायी। सनज तनु ऩोषक सनयदम बायी।।
सोचनीम सफकह वफसध सोई। जो न छाकड़ छरु हरय जन होई।।
सोचनीम नकहॊ कोसरयाऊ। बुवन चारयदस प्रगट प्रबाऊ।।
बमउ न अहइ न अफ होसनहाया। बूऩ बयत जस वऩता तुम्हाया।।
वफसध हरय हरु सुयऩसत कदससनाथा। फयनकहॊ सफ दसयथ गुन गाथा।।
दो0-कहहु तात केकह बाॉसत कोउ करयकह फड़ाई तासु।

याभ रिन तुम्ह सत्रुहन सरयस सुअन सुसच जासु।।173।।
–*–*–
सफ प्रकाय बूऩसत फड़बागी। फाकद वफषाद ु करयअ तेकह रागी।।

महु सुसन सभुष्झ सोचु ऩरयहयहू। ससय धरय याज यजामसु कयहू।।

याॉम याजऩद ु तुम्ह कहुॉ दीन्हा। वऩता फचनु पुय चाकहअ कीन्हा।।

195

तजे याभु जेकहॊ फचनकह रागी। तनु ऩरयहये उ याभ वफयहागी।।
नृऩकह फचन वप्रम नकहॊ वप्रम प्राना। कयहु तात वऩतु फचन प्रवाना।।
कयहु सीस धरय बूऩ यजाई। हइ तुम्ह कहॉ सफ बाॉसत बराई।।
ऩयसुयाभ वऩतु अग्मा यािी। भायी भातु रोक सफ सािी।।

तनम जजासतकह जौफनु दमऊ। वऩतु अग्माॉ अघ अजसु न बमऊ।।
दो0-अनुसचत उसचत वफचारु तष्ज जे ऩारकहॊ वऩतु फैन।
ते बाजन सुि सुजस के फसकहॊ अभयऩसत ऐन।।174।।
–*–*–
अवसस नये स फचन पुय कयहू। ऩारहु प्रजा सोकु ऩरयहयहू।।

सुयऩुय नृऩ ऩाइकह ऩरयतोषू। तुम्ह कहुॉ सुकृत सुजसु नकहॊ दोषू।।
फेद वफकदत सॊभत सफही का। जेकह वऩतु दे इ सो ऩावइ टीका।।
कयहु याजु ऩरयहयहु गरानी। भानहु भोय फचन कहत जानी।।

सुसन सुिु रहफ याभ फैदेहीॊ। अनुसचत कहफ न ऩॊकडत केहीॊ।।
कौसल्माकद सकर भहतायीॊ। तेउ प्रजा सुि होकहॊ सुिायीॊ।।
ऩयभ तुम्हाय याभ कय जासनकह। सो सफ वफसध तुम्ह सन बर भासनकह।।
संऩेहु याजु याभ कै आएॉ। सेवा कये हु सनेह सुहाएॉ।।

दो0-कीष्जअ गुय आमसु अवसस कहकहॊ ससचव कय जोरय।
यघुऩसत आएॉ उसचत जस तस तफ कयफ फहोरय।।175।।
–*–*–
कौसल्मा धरय धीयजु कहई। ऩूत ऩथ्म गुय आमसु अहई।।
सो आदरयअ करयअ कहत भानी। तष्जअ वफषाद ु कार गसत जानी।।
फन यघुऩसत सुयऩसत नयनाहू। तुम्ह एकह बाॉसत तात कदयाहू।।

ऩरयजन प्रजा ससचव सफ अॊफा। तुम्हही सुत सफ कहॉ अवरॊफा।।
रष्ि वफसध फाभ कारु ककठनाई। धीयजु धयहु भातु फसर जाई।।
ससय धरय गुय आमसु अनुसयहू। प्रजा ऩासर ऩरयजन दि
ु ु हयहू।।

गुय के फचन ससचव असबनॊदनु। सुने बयत कहम कहत जनु चॊदनु।।
सुनी फहोरय भातु भृद ु फानी। सीर सनेह सयर यस सानी।।
छॊ 0-सानी सयर यस भातु फानी सुसन बयत ब्माकुर बए।
रोचन सयोरुह स्त्रवत सीॊचत वफयह उय अॊकुय नए।।
सो दसा दे ित सभम तेकह वफसयी सफकह सुसध दे ह की।
तुरसी सयाहत सकर सादय सीवॉ सहज सनेह की।।
सो0-बयतु कभर कय जोरय धीय धुयॊधय धीय धरय।

फचन असभअॉ जनु फोरय दे त उसचत उत्तय सफकह।।176।।

196

भासऩायामण, अठायहवाॉ ववश्राभ
भोकह उऩदे सु दीन्ह गुय नीका। प्रजा ससचव सॊभत सफही का।।
भातु उसचत धरय आमसु दीन्हा। अवसस सीस धरय चाहउॉ कीन्हा।।
गुय वऩतु भातु स्वासभ कहत फानी। सुसन भन भुकदत करयअ बसर जानी।।
उसचत कक अनुसचत ककएॉ वफचारू। धयभु जाइ ससय ऩातक बारू।।
तुम्ह तौ दे हु सयर ससि सोई। जो आचयत भोय बर होई।।

जयवऩ मह सभुझत हउॉ नीकईऄ। तदवऩ होत ऩरयतोषु न जी कईऄ।।
अफ तुम्ह वफनम भोरय सुसन रेहू। भोकह अनुहयत ससिावनु दे हू।।
ऊतरु दे उॉ छभफ अऩयाधू। दष्ु ित दोष गुन गनकहॊ न साधू।।
दो0-वऩतु सुयऩुय ससम याभु फन कयन कहहु भोकह याजु।

एकह तईऄ जानहु भोय कहत कै आऩन फड़ काजु।।177।।
–*–*–
कहत हभाय ससमऩसत सेवकाई। सो हरय रीन्ह भातु कुकटराई।।
भईआ अनुभासन दीि भन भाहीॊ। आन उऩामॉ भोय कहत नाहीॊ।।
सोक सभाजु याजु केकह रेिईऄ। रिन याभ ससम वफनु ऩद दे िईऄ।।
फाकद फसन वफनु बूषन बारू। फाकद वफयसत वफनु ब्रह्म वफचारू।।
सरुज सयीय फाकद फहु बोगा। वफनु हरयबगसत जामॉ जऩ जोगा।।
जामॉ जीव वफनु दे ह सुहाई। फाकद भोय सफु वफनु यघुयाई।।
जाउॉ याभ ऩकहॊ आमसु दे हू। एककहॊ आॉक भोय कहत एहू।।

भोकह नृऩ करय बर आऩन चहहू। सोउ सनेह जड़ता फस कहहू।।
दो0-कैकेई सुअ कुकटरभसत याभ वफभुि गतराज।

तुम्ह चाहत सुिु भोहफस भोकह से अधभ कईऄ याज।।178।।
–*–*–
कहउॉ साॉचु सफ सुसन ऩसतआहू। चाकहअ धयभसीर नयनाहू।।
भोकह याजु हकठ दे इहहु जफहीॊ। यसा यसातर जाइकह तफहीॊ।।

भोकह सभान को ऩाऩ सनवासू। जेकह रसग सीम याभ फनफासू।।
यामॉ याभ कहुॉ काननु दीन्हा। वफछुयत गभनु अभयऩुय कीन्हा।।
भईआ सठु सफ अनयथ कय हे तू। फैठ फात सफ सुनउॉ सचेतू।।

वफनु यघुफीय वफरोकक अफासू। यहे प्रान सकह जग उऩहासू।।
याभ ऩुनीत वफषम यस रूिे। रोरुऩ बूसभ बोग के बूिे।।
कहॉ रसग कहं रृदम ककठनाई। सनदरय कुसरसु जेकहॊ रही फड़ाई।।
दो0-कायन तईऄ कायजु ककठन होइ दोसु नकह भोय।

कुसरस अष्स्थ तईऄ उऩर तईऄ रोह कयार कठोय।।179।।

197

–*–*–
कैकेई बव तनु अनुयागे। ऩाॉवय प्रान अघाइ अबागे।।
जं वप्रम वफयहॉ प्रान वप्रम रागे। दे िफ सुनफ फहुत अफ आगे।।

रिन याभ ससम कहुॉ फनु दीन्हा। ऩठइ अभयऩुय ऩसत कहत कीन्हा।।
रीन्ह वफधवऩन अऩजसु आऩू। दीन्हे उ प्रजकह सोकु सॊताऩू।।

भोकह दीन्ह सुिु सुजसु सुयाजू। कीन्ह कैकेईं सफ कय काजू।।
एकह तईऄ भोय काह अफ नीका। तेकह ऩय दे न कहहु तुम्ह टीका।।

कैकई जठय जनसभ जग भाहीॊ। मह भोकह कहॉ कछु अनुसचत नाहीॊ।।
भोरय फात सफ वफसधकहॊ फनाई। प्रजा ऩाॉच कत कयहु सहाई।।
दो0-ग्रह ग्रहीत ऩुसन फात फस तेकह ऩुसन फीछी भाय।

तेकह वऩआइअ फारुनी कहहु काह उऩचाय।।180।।
–*–*–
कैकइ सुअन जोगु जग जोई। चतुय वफयॊ सच दीन्ह भोकह सोई।।
दसयथ तनम याभ रघु बाई। दीष्न्ह भोकह वफसध फाकद फड़ाई।।
तुम्ह सफ कहहु कढ़ावन टीका। याम यजामसु सफ कहॉ नीका।।

उतरु दे उॉ केकह वफसध केकह केही। कहहु सुिेन जथा रुसच जेही।।
भोकह कुभातु सभेत वफहाई। कहहु ककहकह के कीन्ह बराई।।

भो वफनु को सचयाचय भाहीॊ। जेकह ससम याभु प्रानवप्रम नाहीॊ।।
ऩयभ हासन सफ कहॉ फड़ राहू। अकदनु भोय नकह दष
ू न काहू।।

सॊसम सीर प्रेभ फस अहहू। सफुइ उसचत सफ जो कछु कहहू।।
दो0-याभ भातु सुकठ सयरसचत भो ऩय प्रेभु वफसेवष।

कहइ सुबाम सनेह फस भोरय दीनता दे ष्ि।।181।
–*–*–
गुय वफफेक सागय जगु जाना। ष्जन्हकह वफस्व कय फदय सभाना।।
भो कहॉ सतरक साज सज सोऊ। बएॉ वफसध वफभुि वफभुि सफु कोऊ।।
ऩरयहरय याभु सीम जग भाहीॊ। कोउ न ककहकह भोय भत नाहीॊ।।
सो भईआ सुनफ सहफ सुिु भानी। अॊतहुॉ कीच तहाॉ जहॉ ऩानी।।

डरु न भोकह जग ककहकह कक ऩोचू। ऩयरोकहु कय नाकहन सोचू।।
एकइ उय फस दस
ु ह दवायी। भोकह रसग बे ससम याभु दि
ु ायी।।

जीवन राहु रिन बर ऩावा। सफु तष्ज याभ चयन भनु रावा।।
भोय जनभ यघुफय फन रागी। झूठ काह ऩसछताउॉ अबागी।।
दो0-आऩसन दारुन दीनता कहउॉ सफकह ससरु नाइ।
दे िईऄ वफनु यघुनाथ ऩद ष्जम कै जयसन न जाइ।।182।।

198

–*–*–
आन उऩाउ भोकह नकह सूझा। को ष्जम कै यघुफय वफनु फूझा।।
एककहॊ आॉक इहइ भन भाहीॊ। प्रातकार चसरहउॉ प्रबु ऩाहीॊ।।
जयवऩ भईआ अनबर अऩयाधी। बै भोकह कायन सकर उऩाधी।।
तदवऩ सयन सनभुि भोकह दे िी। छसभ सफ करयहकहॊ कृ ऩा वफसेषी।।
सीर सकुच सुकठ सयर सुबाऊ। कृ ऩा सनेह सदन यघुयाऊ।।
अरयहुक अनबर कीन्ह न याभा। भईआ सससु सेवक जयवऩ फाभा।।
तुम्ह ऩै ऩाॉच भोय बर भानी। आमसु आससष दे हु सुफानी।।

जेकहॊ सुसन वफनम भोकह जनु जानी। आवकहॊ फहुरय याभु यजधानी।।
दो0-जयवऩ जनभु कुभातु तईऄ भईआ सठु सदा सदोस।

आऩन जासन न त्मासगहकहॊ भोकह यघुफीय बयोस।।183।।
–*–*–
बयत फचन सफ कहॉ वप्रम रागे। याभ सनेह सुधाॉ जनु ऩागे।।
रोग वफमोग वफषभ वफष दागे। भॊत्र सफीज सुनत जनु जागे।।
भातु ससचव गुय ऩुय नय नायी। सकर सनेहॉ वफकर बए बायी।।
बयतकह कहकह सयाकह सयाही। याभ प्रेभ भूयसत तनु आही।।
तात बयत अस काहे न कहहू। प्रान सभान याभ वप्रम अहहू।।
जो ऩावॉरु अऩनी जड़ताई। तुम्हकह सुगाइ भातु कुकटराई।।

सो सठु कोकटक ऩुरुष सभेता। फससकह करऩ सत नयक सनकेता।।
अकह अघ अवगुन नकह भसन गहई। हयइ गयर दि
ु दारयद दहई।।
दो0-अवसस चसरअ फन याभु जहॉ बयत भॊत्रु बर कीन्ह।

सोक ससॊधु फूड़त सफकह तुम्ह अवरॊफनु दीन्ह।।184।।
–*–*–
बा सफ कईऄ भन भोद ु न थोया। जनु घन धुसन सुसन चातक भोया।।
चरत प्रात रष्ि सनयनउ नीके। बयतु प्रानवप्रम बे सफही के।।
भुसनकह फॊकद बयतकह ससरु नाई। चरे सकर घय वफदा कयाई।।
धन्म बयत जीवनु जग भाहीॊ। सीरु सनेहु सयाहत जाहीॊ।।

कहकह ऩयसऩय बा फड़ काजू। सकर चरै कय साजकहॊ साजू।।
जेकह यािकहॊ यहु घय यिवायी। सो जानइ जनु गयदसन भायी।।

कोउ कह यहन ककहअ नकहॊ काहू। को न चहइ जग जीवन राहू।।
दो0-जयउ सो सॊऩसत सदन सुिु सुहद भातु वऩतु बाइ।
सनभुि होत जो याभ ऩद कयै न सहस सहाइ।।185।।
–*–*–

199

घय घय साजकहॊ फाहन नाना। हयषु रृदमॉ ऩयबात ऩमाना।।
बयत जाइ घय कीन्ह वफचारू। नगरु फाष्ज गज बवन बॉडारू।।
सॊऩसत सफ यघुऩसत कै आही। जौ वफनु जतन चरं तष्ज ताही।।
तौ ऩरयनाभ न भोरय बराई। ऩाऩ ससयोभसन साइॉ दोहाई।।
कयइ स्वासभ कहत सेवकु सोई। दष
ू न कोकट दे इ ककन कोई।।

अस वफचारय सुसच सेवक फोरे। जे सऩनेहुॉ सनज धयभ न डोरे।।

ककह सफु भयभु धयभु बर बाषा। जो जेकह रामक सो तेकहॊ यािा।।
करय सफु जतनु याष्ि यिवाये । याभ भातु ऩकहॊ बयतु ससधाये ।।
दो0-आयत जननी जासन सफ बयत सनेह सुजान।
कहे उ फनावन ऩारकीॊ सजन सुिासन जान।।186।।
–*–*–
चक्क चष्क्क ष्जसभ ऩुय नय नायी। चहत प्रात उय आयत बायी।।
जागत सफ सनसस बमउ वफहाना। बयत फोराए ससचव सुजाना।।
कहे उ रेहु सफु सतरक सभाजू। फनकहॊ दे फ भुसन याभकहॊ याजू।।

फेसग चरहु सुसन ससचव जोहाये । तुयत तुयग यथ नाग सॉवाये ।।

अरुॊ धती अरु असगसन सभाऊ। यथ चकढ़ चरे प्रथभ भुसनयाऊ।।
वफप्र फृॊद चकढ़ फाहन नाना। चरे सकर तऩ तेज सनधाना।।
नगय रोग सफ सष्ज सष्ज जाना। सचत्रकूट कहॉ कीन्ह ऩमाना।।
ससवफका सुबग न जाकहॊ फिानी। चकढ़ चकढ़ चरत बई सफ यानी।।
दो0-संवऩ नगय सुसच सेवकसन सादय सकर चराइ।
सुसभरय याभ ससम चयन तफ चरे बयत दोउ बाइ।।187।।
–*–*–
याभ दयस फस सफ नय नायी। जनु करय करयसन चरे तकक फायी।।
फन ससम याभु सभुष्झ भन भाहीॊ। सानुज बयत ऩमादे कहॊ जाहीॊ।।
दे ष्ि सनेहु रोग अनुयागे। उतरय चरे हम गम यथ त्मागे।।
जाइ सभीऩ याष्ि सनज डोरी। याभ भातु भृद ु फानी फोरी।।

तात चढ़हु यथ फसर भहतायी। होइकह वप्रम ऩरयवारु दि
ु ायी।।

तुम्हयईऄ चरत चसरकह सफु रोगू। सकर सोक कृ स नकहॊ भग जोगू।।
ससय धरय फचन चयन ससरु नाई। यथ चकढ़ चरत बए दोउ बाई।।
तभसा प्रथभ कदवस करय फासू। दस
ू य गोभसत तीय सनवासू।।
दो0-ऩम अहाय पर असन एक सनसस बोजन एक रोग।
कयत याभ कहत नेभ ब्रत ऩरयहरय बूषन बोग।।188।।
–*–*–

200

सई तीय फसस चरे वफहाने। सृॊगफेयऩुय सफ सनअयाने।।
सभाचाय सफ सुने सनषादा। रृदमॉ वफचाय कयइ सवफषादा।।
कायन कवन बयतु फन जाहीॊ। है कछु कऩट बाउ भन भाहीॊ।।
जं ऩै ष्जमॉ न होसत कुकटराई। तौ कत रीन्ह सॊग कटकाई।।
जानकहॊ सानुज याभकह भायी। कयउॉ अकॊटक याजु सुिायी।।
बयत न याजनीसत उय आनी। तफ करॊकु अफ जीवन हानी।।
सकर सुयासुय जुयकहॊ जुझाया। याभकह सभय न जीतसनहाया।।
का आचयजु बयतु अस कयहीॊ। नकहॊ वफष फेसर असभअ पर पयहीॊ।।
दो0-अस वफचारय गुहॉ ग्मासत सन कहे उ सजग सफ होहु।
हथवाॉसहु फोयहु तयसन कीष्जअ घाटायोहु।।189।।
–*–*–
होहु सॉजोइर योकहु घाटा। ठाटहु सकर भयै के ठाटा।।

सनभुि रोह बयत सन रेऊॉ। ष्जअत न सुयसरय उतयन दे ऊॉ।।
सभय भयनु ऩुसन सुयसरय तीया। याभ काजु छनबॊगु सयीया।।
बयत बाइ नृऩु भै जन नीचू। फड़ईऄ बाग असस ऩाइअ भीचू।।
स्वासभ काज करयहउॉ यन यायी। जस धवसरहउॉ बुवन दस चायी।।
तजउॉ प्रान यघुनाथ सनहोयईऄ । दह
ु ूॉ हाथ भुद भोदक भोयईऄ ।।

साधु सभाज न जाकय रेिा। याभ बगत भहुॉ जासु न ये िा।।

जामॉ ष्जअत जग सो भकह बारू। जननी जौफन वफटऩ कुठारू।।
दो0-वफगत वफषाद सनषादऩसत सफकह फढ़ाइ उछाहु।

सुसभरय याभ भागेउ तुयत तयकस धनुष सनाहु।।190।।
–*–*–
फेगहु बाइहु सजहु सॉजोऊ। सुसन यजाइ कदयाइ न कोऊ।।

बरेकहॊ नाथ सफ कहकहॊ सहयषा। एककहॊ एक फढ़ावइ कयषा।।
चरे सनषाद जोहारय जोहायी। सूय सकर यन रूचइ यायी।।
सुसभरय याभ ऩद ऩॊकज ऩनहीॊ। बाथीॊ फाॉसध चढ़ाइष्न्ह धनहीॊ।।
अॉगयी ऩकहरय कूॉकड़ ससय धयहीॊ। पयसा फाॉस सेर सभ कयहीॊ।।
एक कुसर असत ओड़न िाॉड़े। कूदकह गगन भनहुॉ सछसत छाॉड़े।।
सनज सनज साजु सभाजु फनाई। गुह याउतकह जोहाये जाई।।

दे ष्ि सुबट सफ रामक जाने। रै रै नाभ सकर सनभाने।।
दो0-बाइहु रावहु धोि जसन आजु काज फड़ भोकह।
सुसन सयोष फोरे सुबट फीय अधीय न होकह।।191।।
–*–*–

201

याभ प्रताऩ नाथ फर तोये । कयकहॊ कटकु वफनु बट वफनु घोये ।।
जीवत ऩाउ न ऩाछईऄ धयहीॊ। रुॊ ड भुॊडभम भेकदसन कयहीॊ।।
दीि सनषादनाथ बर टोरू। कहे उ फजाउ जुझाऊ ढोरू।।
एतना कहत छीॊक बइ फाॉए। कहे उ सगुसनअन्ह िेत सुहाए।।

फूढ़ु एकु कह सगुन वफचायी। बयतकह सभसरअ न होइकह यायी।।
याभकह बयतु भनावन जाहीॊ। सगुन कहइ अस वफग्रहु नाहीॊ।।

सुसन गुह कहइ नीक कह फूढ़ा। सहसा करय ऩसछताकहॊ वफभूढ़ा।।
बयत सुबाउ सीरु वफनु फूझईऄ। फकड़ कहत हासन जासन वफनु जूझईऄ।।
दो0-गहहु घाट बट ससभकट सफ रेउॉ भयभ सभसर जाइ।

फूष्झ सभत्र अरय भध्म गसत तस तफ करयहउॉ आइ।।192।।
–*–*–
रिन सनेहु सुबामॉ सुहाएॉ। फैरु प्रीसत नकहॊ दयु इॉ दयु ाएॉ।।

अस ककह बईऄट सॉजोवन रागे। कॊद भूर पर िग भृग भागे।।
भीन ऩीन ऩाठीन ऩुयाने। बरय बरय बाय कहायन्ह आने।।
सभरन साजु सष्ज सभरन ससधाए। भॊगर भूर सगुन सुब ऩाए।।
दे ष्ि दरू य तईऄ ककह सनज नाभू। कीन्ह भुनीसकह दॊ ड प्रनाभू।।

जासन याभवप्रम दीष्न्ह असीसा। बयतकह कहे उ फुझाइ भुनीसा।।
याभ सिा सुसन सॊदनु त्मागा। चरे उतरय उभगत अनुयागा।।
गाउॉ जासत गुहॉ नाउॉ सुनाई। कीन्ह जोहारु भाथ भकह राई।।
दो0-कयत दॊ डवत दे ष्ि तेकह बयत रीन्ह उय राइ।
भनहुॉ रिन सन बईऄट बइ प्रेभ न रृदमॉ सभाइ।।193।।
–*–*–
बईऄटत बयतु ताकह असत प्रीती। रोग ससहाकहॊ प्रेभ कै यीती।।
धन्म धन्म धुसन भॊगर भूरा। सुय सयाकह तेकह फरयसकहॊ पूरा।।
रोक फेद सफ बाॉसतकहॊ नीचा। जासु छाॉह छुइ रेइअ सीॊचा।।
तेकह बरय अॊक याभ रघु र्भ्ाता। सभरत ऩुरक ऩरयऩूरयत गाता।।
याभ याभ ककह जे जभुहाहीॊ। सतन्हकह न ऩाऩ ऩुॊज सभुहाहीॊ।।
मह तौ याभ राइ उय रीन्हा। कुर सभेत जगु ऩावन कीन्हा।।
कयभनास जरु सुयसरय ऩयई। तेकह को कहहु सीस नकहॊ धयई।।
उरटा नाभु जऩत जगु जाना। फारभीकक बए ब्रह्म सभाना।।
दो0-स्वऩच सफय िस जभन जड़ ऩावॉय कोर ककयात।
याभु कहत ऩावन ऩयभ होत बुवन वफख्मात।।194।।
–*–*–

202

नकहॊ असचयजु जुग जुग चसर आई। केकह न दीष्न्ह यघुफीय फड़ाई।।
याभ नाभ भकहभा सुय कहहीॊ। सुसन सुसन अवधरोग सुिु रहहीॊ।।
याभसिकह सभसर बयत सप्रेभा। ऩूॉछी कुसर सुभॊगर िेभा।।
दे ष्ि बयत कय सीर सनेहू। बा सनषाद तेकह सभम वफदे हू।।

सकुच सनेहु भोद ु भन फाढ़ा। बयतकह सचतवत एकटक ठाढ़ा।।
धरय धीयजु ऩद फॊकद फहोयी। वफनम सप्रेभ कयत कय जोयी।।

कुसर भूर ऩद ऩॊकज ऩेिी। भईआ सतहुॉ कार कुसर सनज रेिी।।
अफ प्रबु ऩयभ अनुग्रह तोयईऄ । सकहत कोकट कुर भॊगर भोयईऄ ।।
दो0-सभुष्झ भोरय कयतूसत कुरु प्रबु भकहभा ष्जमॉ जोइ।
जो न बजइ यघुफीय ऩद जग वफसध फॊसचत सोइ।।195।।
–*–*–
कऩटी कामय कुभसत कुजाती। रोक फेद फाहे य सफ बाॉती।।
याभ कीन्ह आऩन जफही तईऄ। बमउॉ बुवन बूषन तफही तईऄ।।
दे ष्ि प्रीसत सुसन वफनम सुहाई। सभरेउ फहोरय बयत रघु बाई।।
ककह सनषाद सनज नाभ सुफानीॊ। सादय सकर जोहायीॊ यानीॊ।।
जासन रिन सभ दे कहॊ असीसा। ष्जअहु सुिी सम राि फयीसा।।
सनयष्ि सनषाद ु नगय नय नायी। बए सुिी जनु रिनु सनहायी।।
कहकहॊ रहे उ एकहॊ जीवन राहू। बईऄटेउ याभबर बरय फाहू।।

सुसन सनषाद ु सनज बाग फड़ाई। प्रभुकदत भन रइ चरेउ रेवाई।।
दो0-सनकाये सेवक सकर चरे स्वासभ रुि ऩाइ।

घय तरु तय सय फाग फन फास फनाएष्न्ह जाइ।।196।।
–*–*–
सृॊगफेयऩुय बयत दीि जफ। बे सनेहॉ सफ अॊग सससथर तफ।।
सोहत कदएॉ सनषादकह रागू। जनु तनु धयईऄ वफनम अनुयागू।।
एकह वफसध बयत सेनु सफु सॊगा। दीष्ि जाइ जग ऩावसन गॊगा।।
याभघाट कहॉ कीन्ह प्रनाभू। बा भनु भगनु सभरे जनु याभू।।
कयकहॊ प्रनाभ नगय नय नायी। भुकदत ब्रह्मभम फारय सनहायी।।
करय भज्जनु भागकहॊ कय जोयी। याभचॊर ऩद प्रीसत न थोयी।।
बयत कहे उ सुयसरय तव ये नू। सकर सुिद सेवक सुयधेनू।।
जोरय ऩासन फय भागउॉ एहू। सीम याभ ऩद सहज सनेहू।।
दो0-एकह वफसध भज्जनु बयतु करय गुय अनुसासन ऩाइ।
भातु नहानीॊ जासन सफ डे या चरे रवाइ।।197।।
–*–*–

203

जहॉ तहॉ रोगन्ह डे या कीन्हा। बयत सोधु सफही कय रीन्हा।।
सुय सेवा करय आमसु ऩाई। याभ भातु ऩकहॊ गे दोउ बाई।।
चयन चाॉवऩ ककह ककह भृद ु फानी। जननीॊ सकर बयत सनभानी।।
बाइकह संवऩ भातु सेवकाई। आऩु सनषादकह रीन्ह फोराई।।

चरे सिा कय सं कय जोयईऄ । सससथर सयीय सनेह न थोयईऄ ।।
ऩूॉछत सिकह सो ठाउॉ दे िाऊ। नेकु नमन भन जयसन जुड़ाऊ।।
जहॉ ससम याभु रिनु सनसस सोए। कहत बये जर रोचन कोए।।
बयत फचन सुसन बमउ वफषाद।ू तुयत तहाॉ रइ गमउ सनषाद।ू ।
दो0-जहॉ ससॊसुऩा ऩुनीत तय यघुफय ककम वफश्राभु।

असत सनेहॉ सादय बयत कीन्हे उ दॊ ड प्रनाभु।।198।।
–*–*–
कुस साॉथयीíसनहारय सुहाई। कीन्ह प्रनाभु प्रदष्छछन जाई।।
चयन ये ि यज आॉष्िन्ह राई। फनइ न कहत प्रीसत असधकाई।।
कनक वफॊद ु दइ
ु चारयक दे िे। यािे सीस सीम सभ रेिे।।

सजर वफरोचन रृदमॉ गरानी। कहत सिा सन फचन सुफानी।।
श्रीहत सीम वफयहॉ दसु तहीना। जथा अवध नय नारय वफरीना।।

वऩता जनक दे उॉ ऩटतय केही। कयतर बोगु जोगु जग जेही।।
ससुय बानुकुर बानु बुआरू। जेकह ससहात अभयावसतऩारू।।
प्राननाथु यघुनाथ गोसाई। जो फड़ होत सो याभ फड़ाई।।
दो0-ऩसत दे वता सुतीम भसन सीम साॉथयी दे ष्ि।
वफहयत ह्रदउ न हहरय हय ऩवफ तईऄ ककठन वफसेवष।।199।।
–*–*–
रारन जोगु रिन रघु रोने। बे न बाइ अस अहकहॊ न होने।।
ऩुयजन वप्रम वऩतु भातु दर
ु ाये । ससम यघुफयकह प्रानवऩआये ।।

भृद ु भूयसत सुकुभाय सुबाऊ। तात फाउ तन राग न काऊ।।

ते फन सहकहॊ वफऩसत सफ बाॉती। सनदये कोकट कुसरस एकहॊ छाती।।
याभ जनसभ जगु कीन्ह उजागय। रूऩ सीर सुि सफ गुन सागय।।
ऩुयजन ऩरयजन गुय वऩतु भाता। याभ सुबाउ सफकह सुिदाता।।
फैरयउ याभ फड़ाई कयहीॊ। फोरसन सभरसन वफनम भन हयहीॊ।।
सायद कोकट कोकट सत सेषा। करय न सककहॊ प्रबु गुन गन रेिा।।
दो0-सुिस्वरुऩ यघुफॊसभसन भॊगर भोद सनधान।

ते सोवत कुस डासस भकह वफसध गसत असत फरवान।।200।।
–*–*–

204

याभ सुना दि
ु ु कान न काऊ। जीवनतरु ष्जसभ जोगवइ याऊ।।

ऩरक नमन पसन भसन जेकह बाॉती। जोगवकहॊ जनसन सकर कदन याती।।
ते अफ कपयत वफवऩन ऩदचायी। कॊद भूर पर पूर अहायी।।
सधग कैकेई अभॊगर भूरा। बइसस प्रान वप्रमतभ प्रसतकूरा।।
भईआ सधग सधग अघ उदसध अबागी। सफु उतऩातु बमउ जेकह रागी।।
कुर करॊकु करय सृजेउ वफधाताॉ। साइॉ दोह भोकह कीन्ह कुभाताॉ।।
सुसन सप्रेभ सभुझाव सनषाद।ू नाथ करयअ कत फाकद वफषाद।ू ।

याभ तुम्हकह वप्रम तुम्ह वप्रम याभकह। मह सनयजोसु दोसु वफसध फाभकह।।
छॊ 0-वफसध फाभ की कयनी ककठन जईऄकहॊ भातु कीन्ही फावयी।
तेकह यासत ऩुसन ऩुसन कयकहॊ प्रबु सादय सयहना यावयी।।
तुरसी न तुम्ह सो याभ प्रीतभु कहतु हं सौहईऄ ककएॉ।
ऩरयनाभ भॊगर जासन अऩने आसनए धीयजु कहएॉ।।
सो0-अॊतयजाभी याभु सकुच सप्रेभ कृ ऩामतन।
चसरअ करयअ वफश्राभु मह वफचारय दृढ़ आसन भन।।201।।
सिा फचन सुसन उय धरय धीया। फास चरे सुसभयत यघुफीया।।
मह सुसध ऩाइ नगय नय नायी। चरे वफरोकन आयत बायी।।
ऩयदष्िना करय कयकहॊ प्रनाभा। दे कहॊ कैकइकह िोरय सनकाभा।।
बयी बरय फारय वफरोचन रईऄहीॊ। फाभ वफधाताकह दष
ू न दे हीॊ।।
एक सयाहकहॊ बयत सनेहू। कोउ कह नृऩसत सनफाहे उ नेहू।।

सनॊदकहॊ आऩु सयाकह सनषादकह। को ककह सकइ वफभोह वफषादकह।।
एकह वफसध यासत रोगु सफु जागा। बा सबनुसाय गुदाया रागा।।
गुयकह सुनावॉ चढ़ाइ सुहाईं। नईं नाव सफ भातु चढ़ाईं।।
दॊ ड चारय भहॉ बा सफु ऩाया। उतरय बयत तफ सफकह सॉबाया।।
दो0-प्रातकक्रमा करय भातु ऩद फॊकद गुयकह ससरु नाइ।
आगईऄ ककए सनषाद गन दीन्हे उ कटकु चराइ।।202।।
–*–*–
ककमउ सनषादनाथु अगुआईं। भातु ऩारकीॊ सकर चराईं।।
साथ फोराइ बाइ रघु दीन्हा। वफप्रन्ह सकहत गवनु गुय कीन्हा।।
आऩु सुयसरयकह कीन्ह प्रनाभू। सुसभये रिन सकहत ससम याभू।।
गवने बयत ऩमोदे कहॊ ऩाए। कोतर सॊग जाकहॊ डोरयआए।।
कहकहॊ सुसेवक फायकहॊ फाया। होइअ नाथ अस्व असवाया।।
याभु ऩमोदे कह ऩामॉ ससधाए। हभ कहॉ यथ गज फाष्ज फनाए।।

205

ससय बय जाउॉ उसचत अस भोया। सफ तईऄ सेवक धयभु कठोया।।
दे ष्ि बयत गसत सुसन भृद ु फानी। सफ सेवक गन गयकहॊ गरानी।।
दो0-बयत तीसये ऩहय कहॉ कीन्ह प्रफेसु प्रमाग।

कहत याभ ससम याभ ससम उभसग उभसग अनुयाग।।203।।
–*–*–
झरका झरकत ऩामन्ह कईआसईऄ। ऩॊकज कोस ओस कन जैसईऄ।।
बयत ऩमादे कहॊ आए आजू। बमउ दष्ु ित सुसन सकर सभाजू।।
िफरय रीन्ह सफ रोग नहाए। कीन्ह प्रनाभु वत्रफेसनकहॊ आए।।
सवफसध ससताससत नीय नहाने। कदए दान भकहसुय सनभाने।।
दे ित स्माभर धवर हरोये । ऩुरकक सयीय बयत कय जोये ।।
सकर काभ प्रद तीयथयाऊ। फेद वफकदत जग प्रगट प्रबाऊ।।
भागउॉ बीि त्मासग सनज धयभू। आयत काह न कयइ कुकयभू।।
अस ष्जमॉ जासन सुजान सुदानी। सपर कयकहॊ जग जाचक फानी।।
दो0-अयथ न धयभ न काभ रुसच गसत न चहउॉ सनयफान।
जनभ जनभ यसत याभ ऩद मह फयदानु न आन।।204।।
–*–*–
जानहुॉ याभु कुकटर करय भोही। रोग कहउ गुय साकहफ रोही।।
सीता याभ चयन यसत भोयईऄ । अनुकदन फढ़उ अनुग्रह तोयईऄ ।।

जरद ु जनभ बरय सुयसत वफसायउ। जाचत जरु ऩवफ ऩाहन डायउ।।
चातकु यटसन घटईऄ घकट जाई। फढ़े प्रेभु सफ बाॉसत बराई।।

कनककहॊ फान चढ़इ ष्जसभ दाहईऄ । सतसभ वप्रमतभ ऩद नेभ सनफाहईऄ ।।
बयत फचन सुसन भाझ वत्रफेनी। बइ भृद ु फासन सुभॊगर दे नी।।

तात बयत तुम्ह सफ वफसध साधू। याभ चयन अनुयाग अगाधू।।

फाद गरासन कयहु भन भाहीॊ। तुम्ह सभ याभकह कोउ वप्रम नाहीॊ।।
दो0-तनु ऩुरकेउ कहमॉ हयषु सुसन फेसन फचन अनुकूर।

बयत धन्म ककह धन्म सुय हयवषत फयषकहॊ पूर।।205।।
–*–*–
प्रभुकदत तीयथयाज सनवासी। फैिानस फटु गृही उदासी।।
कहकहॊ ऩयसऩय सभसर दस ऩाॉचा। बयत सनेह सीरु सुसच साॉचा।।
सुनत याभ गुन ग्राभ सुहाए। बयद्वाज भुसनफय ऩकहॊ आए।।
दॊ ड प्रनाभु कयत भुसन दे िे। भूयसतभॊत बाग्म सनज रेिे।।
धाइ उठाइ राइ उय रीन्हे । दीष्न्ह असीस कृ तायथ कीन्हे ।।
आसनु दीन्ह नाइ ससरु फैठे। चहत सकुच गृहॉ जनु बष्ज ऩैठे।।

206

भुसन ऩूॉछफ कछु मह फड़ सोचू। फोरे रयवष रष्ि सीरु सॉकोचू।।
सुनहु बयत हभ सफ सुसध ऩाई। वफसध कयतफ ऩय ककछु न फसाई।।
दो0-तुम्ह गरासन ष्जमॉ जसन कयहु सभुझी भातु कयतूसत।

तात कैकइकह दोसु नकहॊ गई सगया भसत धूसत।।206।।
–*–*–
महउ कहत बर ककहकह न कोऊ। रोकु फेद फुध सॊभत दोऊ।।
तात तुम्हाय वफभर जसु गाई। ऩाइकह रोकउ फेद ु फड़ाई।।

रोक फेद सॊभत सफु कहई। जेकह वऩतु दे इ याजु सो रहई।।
याउ सत्मब्रत तुम्हकह फोराई। दे त याजु सुिु धयभु फड़ाई।।
याभ गवनु फन अनयथ भूरा। जो सुसन सकर वफस्व बइ सूरा।।
सो बावी फस यासन अमानी। करय कुचासर अॊतहुॉ ऩसछतानी।।

तहॉ उॉ तुम्हाय अरऩ अऩयाधू। कहै सो अधभ अमान असाधू।।
कयतेहु याजु त तुम्हकह न दोषू। याभकह होत सुनत सॊतोषू।।
दो0-अफ असत कीन्हे हु बयत बर तुम्हकह उसचत भत एहु।

सकर सुभॊगर भूर जग यघुफय चयन सनेहु।।207।।
–*–*–
सो तुम्हाय धनु जीवनु प्राना। बूरयबाग को तुम्हकह सभाना।।
मह तम्हाय आचयजु न ताता। दसयथ सुअन याभ वप्रम र्भ्ाता।।
सुनहु बयत यघुफय भन भाहीॊ। ऩेभ ऩात्रु तुम्ह सभ कोउ नाहीॊ।।

रिन याभ सीतकह असत प्रीती। सनसस सफ तुम्हकह सयाहत फीती।।
जाना भयभु नहात प्रमागा। भगन होकहॊ तुम्हयईऄ अनुयागा।।
तुम्ह ऩय अस सनेहु यघुफय कईऄ। सुि जीवन जग जस जड़ नय कईऄ।।
मह न असधक यघुफीय फड़ाई। प्रनत कुटु ॊ फ ऩार यघुयाई।।
तुम्ह तौ बयत भोय भत एहू। धयईऄ दे ह जनु याभ सनेहू।।
दो0-तुम्ह कहॉ बयत करॊक मह हभ सफ कहॉ उऩदे सु।

याभ बगसत यस ससवद्ध कहत बा मह सभउ गनेसु।।208।।
–*–*–
नव वफधु वफभर तात जसु तोया। यघुफय ककॊकय कुभुद चकोया।।
उकदत सदा अॉथइकह कफहूॉ ना। घकटकह न जग नब कदन कदन दन
ू ा।।

कोक सतरोक प्रीसत असत करयही। प्रबु प्रताऩ यवफ छवफकह न हरयही।।
सनसस कदन सुिद सदा सफ काहू। ग्रससकह न कैकइ कयतफु याहू।।
ऩूयन याभ सुऩेभ वऩमूषा। गुय अवभान दोष नकहॊ दष
ू ा।।

याभ बगत अफ असभअॉ अघाहूॉ। कीन्हे हु सुरब सुधा फसुधाहूॉ।।

207

बूऩ बगीयथ सुयसरय आनी। सुसभयत सकर सुॊभगर िानी।।
दसयथ गुन गन फयसन न जाहीॊ। असधकु कहा जेकह सभ जग नाहीॊ।।
दो0-जासु सनेह सकोच फस याभ प्रगट बए आइ।।
जे हय कहम नमनसन कफहुॉ सनयिे नहीॊ अघाइ।।209।।
–*–*–
कीयसत वफधु तुम्ह कीन्ह अनूऩा। जहॉ फस याभ ऩेभ भृगरूऩा।।
तात गरासन कयहु ष्जमॉ जाएॉ। डयहु दरयरकह ऩायसु ऩाएॉ।।।।

सुनहु बयत हभ झूठ न कहहीॊ। उदासीन ताऩस फन यहहीॊ।।

सफ साधन कय सुपर सुहावा। रिन याभ ससम दयसनु ऩावा।।
तेकह पर कय परु दयस तुम्हाया। सकहत ऩमाग सुबाग हभाया।।
बयत धन्म तुम्ह जसु जगु जमऊ। ककह अस ऩेभ भगन ऩुसन बमऊ।।
सुसन भुसन फचन सबासद हयषे। साधु सयाकह सुभन सुय फयषे।।
धन्म धन्म धुसन गगन ऩमागा। सुसन सुसन बयतु भगन अनुयागा।।
दो0-ऩुरक गात कहमॉ याभु ससम सजर सयोरुह नैन।
करय प्रनाभु भुसन भॊडसरकह फोरे गदगद फैन।।210।।
–*–*–
भुसन सभाजु अरु तीयथयाजू। साॉसचहुॉ सऩथ अघाइ अकाजू।।

एकहॊ थर जं ककछु ककहअ फनाई। एकह सभ असधक न अघ अधभाई।।
तुम्ह सफाग्म कहउॉ ससतबाऊ। उय अॊतयजाभी यघुयाऊ।।
भोकह न भातु कयतफ कय सोचू। नकहॊ दि
ु ु ष्जमॉ जगु जासनकह ऩोचू।।
नाकहन डरु वफगरयकह ऩयरोकू। वऩतहु भयन कय भोकह न सोकू।।

सुकृत सुजस बरय बुअन सुहाए। रसछभन याभ सरयस सुत ऩाए।।
याभ वफयहॉ तष्ज तनु छनबॊगू। बूऩ सोच कय कवन प्रसॊगू।।
याभ रिन ससम वफनु ऩग ऩनहीॊ। करय भुसन फेष कपयकहॊ फन फनही।।
दो0-अष्जन फसन पर असन भकह समन डासस कुस ऩात।
फसस तरु तय सनत सहत कहभ आतऩ फयषा फात।।211।।
–*–*–
एकह दि
ु दाहॉ दहइ कदन छाती। बूि न फासय नीद न याती।।

एकह कुयोग कय औषधु नाहीॊ। सोधेउॉ सकर वफस्व भन भाहीॊ।।
भातु कुभत फढ़ई अघ भूरा। तेकहॊ हभाय कहत कीन्ह फॉसूरा।।
कसर कुकाठ कय कीन्ह कुजॊत्रू। गाकड़ अवसध ऩकढ़ ककठन कुभॊत्रु।।
भोकह रसग महु कुठाटु तेकहॊ ठाटा। घारेसस सफ जगु फायहफाटा।।
सभटइ कुजोगु याभ कपरय आएॉ। फसइ अवध नकहॊ आन उऩाएॉ।।

208

बयत फचन सुसन भुसन सुिु ऩाई। सफकहॊ कीन्ह फहु बाॉसत फड़ाई।।
तात कयहु जसन सोचु वफसेषी। सफ दि
ु ु सभटकह याभ ऩग दे िी।।
दो0-करय प्रफोध भुसनफय कहे उ असतसथ ऩेभवप्रम होहु।

कॊद भूर पर पूर हभ दे कहॊ रेहु करय छोहु।।212।।
–*–*–
सुसन भुसन फचन बयत कहॉ म सोचू। बमउ कुअवसय ककठन सॉकोचू।।
जासन गरुइ गुय सगया फहोयी। चयन फॊकद फोरे कय जोयी।।
ससय धरय आमसु करयअ तुम्हाया। ऩयभ धयभ महु नाथ हभाया।।

बयत फचन भुसनफय भन बाए। सुसच सेवक ससष सनकट फोराए।।
चाकहए कीन्ह बयत ऩहुनाई। कॊद भूर पर आनहु जाई।।

बरेहीॊ नाथ ककह सतन्ह ससय नाए। प्रभुकदत सनज सनज काज ससधाए।।
भुसनकह सोच ऩाहुन फड़ नेवता। तसस ऩूजा चाकहअ जस दे वता।।

सुसन रयसध सससध असनभाकदक आई। आमसु होइ सो कयकहॊ गोसाई।।
दो0-याभ वफयह ब्माकुर बयतु सानुज सकहत सभाज।
ऩहुनाई करय हयहु श्रभ कहा भुकदत भुसनयाज।।213।।
–*–*–
रयसध सससध ससय धरय भुसनफय फानी। फड़बासगसन आऩुकह अनुभानी।।
कहकहॊ ऩयसऩय सससध सभुदाई। अतुसरत असतसथ याभ रघु बाई।।
भुसन ऩद फॊकद करयअ सोइ आजू। होइ सुिी सफ याज सभाजू।।
अस ककह यचेउ रुसचय गृह नाना। जेकह वफरोकक वफरिाकहॊ वफभाना।।
बोग वफबूसत बूरय बरय यािे। दे ित ष्जन्हकह अभय असबराषे।।
दासीॊ दास साजु सफ रीन्हईऄ । जोगवत यहकहॊ भनकह भनु दीन्हईऄ ।।
सफ सभाजु सष्ज सससध ऩर भाहीॊ। जे सुि सुयऩुय सऩनेहुॉ नाहीॊ।।
प्रथभकहॊ फास कदए सफ केही। सुॊदय सुिद जथा रुसच जेही।।
दो0-फहुरय सऩरयजन बयत कहुॉ रयवष अस आमसु दीन्ह।

वफसध वफसभम दामकु वफबव भुसनफय तऩफर कीन्ह।।214।।
–*–*–
भुसन प्रबाउ जफ बयत वफरोका। सफ रघु रगे रोकऩसत रोका।।
सुि सभाजु नकहॊ जाइ फिानी। दे ित वफयसत वफसायहीॊ ग्मानी।।
आसन समन सुफसन वफताना। फन फाकटका वफहग भृग नाना।।
सुयसब पूर पर असभअ सभाना। वफभर जरासम वफवफध वफधाना।
असन ऩान सुच असभअ अभी से। दे ष्ि रोग सकुचात जभी से।।
सुय सुयबी सुयतरु सफही कईऄ। रष्ि असबराषु सुयेस सची कईऄ।।

209

रयतु फसॊत फह वत्रवफध फमायी। सफ कहॉ सुरब ऩदायथ चायी।।
स्त्रक चॊदन फसनताकदक बोगा। दे ष्ि हयष वफसभम फस रोगा।।
दो0-सॊऩत चकई बयतु चक भुसन आमस िेरवाय।।
तेकह सनसस आश्रभ वऩॊजयाॉ यािे बा सबनुसाय।।215।।
भासऩायामण, उन्नीसवाॉ ववश्राभ
–*–*–
कीन्ह सनभज्जनु तीयथयाजा। नाइ भुसनकह ससरु सकहत सभाजा।।
रयवष आमसु असीस ससय यािी। करय दॊ डवत वफनम फहु बाषी।।
ऩथ गसत कुसर साथ सफ रीन्हे । चरे सचत्रकूटकहॊ सचतु दीन्हईऄ ।।
याभसिा कय दीन्हईऄ रागू। चरत दे ह धरय जनु अनुयागू।।
नकहॊ ऩद त्रान सीस नकहॊ छामा। ऩेभु नेभु ब्रतु धयभु अभामा।।
रिन याभ ससम ऩॊथ कहानी। ऩूॉछत सिकह कहत भृद ु फानी।।
याभ फास थर वफटऩ वफरोकईऄ। उय अनुयाग यहत नकहॊ योकईआ।।

दै ष्ि दसा सुय फरयसकहॊ पूरा। बइ भृद ु भकह भगु भॊगर भूरा।।
दो0-ककएॉ जाकहॊ छामा जरद सुिद फहइ फय फात।

तस भगु बमउ न याभ कहॉ जस बा बयतकह जात।।216।।
–*–*–
जड़ चेतन भग जीव घनेये। जे सचतए प्रबु ष्जन्ह प्रबु हे ये।।
ते सफ बए ऩयभ ऩद जोगू। बयत दयस भेटा बव योगू।।
मह फकड़ फात बयत कइ नाहीॊ। सुसभयत ष्जनकह याभु भन भाहीॊ।।
फायक याभ कहत जग जेऊ। होत तयन तायन नय तेऊ।।
बयतु याभ वप्रम ऩुसन रघु र्भ्ाता। कस न होइ भगु भॊगरदाता।।
ससद्ध साधु भुसनफय अस कहहीॊ। बयतकह सनयष्ि हयषु कहमॉ रहहीॊ।।
दे ष्ि प्रबाउ सुयेसकह सोचू। जगु बर बरेकह ऩोच कहुॉ ऩोचू।।

गुय सन कहे उ करयअ प्रबु सोई। याभकह बयतकह बईऄट न होई।।
दो0-याभु सॉकोची प्रेभ फस बयत सऩेभ ऩमोसध।
फनी फात फेगयन चहसत करयअ जतनु छरु सोसध।।217।।
–*–*–
फचन सुनत सुयगुरु भुसकाने। सहसनमन वफनु रोचन जाने।।
भामाऩसत सेवक सन भामा। कयइ त उरकट ऩयइ सुययामा।।
तफ ककछु कीन्ह याभ रुि जानी। अफ कुचासर करय होइकह हानी।।
सुनु सुयेस यघुनाथ सुबाऊ। सनज अऩयाध रयसाकहॊ न काऊ।।
जो अऩयाधु बगत कय कयई। याभ योष ऩावक सो जयई।।

210

रोकहुॉ फेद वफकदत इसतहासा। मह भकहभा जानकहॊ दयु फासा।।

बयत सरयस को याभ सनेही। जगु जऩ याभ याभु जऩ जेही।।
दो0-भनहुॉ न आसनअ अभयऩसत यघुफय बगत अकाजु।

अजसु रोक ऩयरोक दि
ु कदन कदन सोक सभाजु।।218।।
–*–*–
सुनु सुयेस उऩदे सु हभाया। याभकह सेवकु ऩयभ वऩआया।।
भानत सुिु सेवक सेवकाई। सेवक फैय फैरु असधकाई।।
जयवऩ सभ नकहॊ याग न योषू। गहकहॊ न ऩाऩ ऩूनु गुन दोषू।।
कयभ प्रधान वफस्व करय यािा। जो जस कयइ सो तस परु चािा।।
तदवऩ कयकहॊ सभ वफषभ वफहाया। बगत अबगत रृदम अनुसाया।।
अगुन अरेऩ अभान एकयस। याभु सगुन बए बगत ऩेभ फस।।
याभ सदा सेवक रुसच यािी। फेद ऩुयान साधु सुय सािी।।
अस ष्जमॉ जासन तजहु कुकटराई। कयहु बयत ऩद प्रीसत सुहाई।।
दो0-याभ बगत ऩयकहत सनयत ऩय दि
ु दि
ु ी दमार।

बगत ससयोभसन बयत तईऄ जसन डयऩहु सुयऩार।।219।।
–*–*–
सत्मसॊध प्रबु सुय कहतकायी। बयत याभ आमस अनुसायी।।
स्वायथ वफफस वफकर तुम्ह होहू। बयत दोसु नकहॊ याउय भोहू।।
सुसन सुयफय सुयगुय फय फानी। बा प्रभोद ु भन सभटी गरानी।।
फयवष प्रसून हयवष सुययाऊ। रगे सयाहन बयत सुबाऊ।।

एकह वफसध बयत चरे भग जाहीॊ। दसा दे ष्ि भुसन ससद्ध ससहाहीॊ।।
जफकहॊ याभु ककह रेकहॊ उसासा। उभगत ऩेभु भनहॉ चहु ऩासा।।

रवकहॊ फचन सुसन कुसरस ऩषाना। ऩुयजन ऩेभु न जाइ फिाना।।
फीच फास करय जभुनकहॊ आए। सनयष्ि नीरु रोचन जर छाए।।
दो0-यघुफय फयन वफरोकक फय फारय सभेत सभाज।
होत भगन फारयसध वफयह चढ़े वफफेक जहाज।।220।।
–*–*–
जभुन तीय तेकह कदन करय फासू। बमउ सभम सभ सफकह सुऩासू।।
यातकहॊ घाट घाट की तयनी। आईं अगसनत जाकहॊ न फयनी।।
प्रात ऩाय बए एककह िईऄवाॉ। तोषे याभसिा की सेवाॉ।।
चरे नहाइ नकदकह ससय नाई। साथ सनषादनाथ दोउ बाई।।
आगईऄ भुसनफय फाहन आछईऄ । याजसभाज जाइ सफु ऩाछईऄ ।।
तेकहॊ ऩाछईऄ दोउ फॊधु ऩमादईऄ । बूषन फसन फेष सुकठ सादईऄ ।।

211

सेवक सुह्रद ससचवसुत साथा। सुसभयत रिनु सीम यघुनाथा।।
जहॉ जहॉ याभ फास वफश्राभा। तहॉ तहॉ कयकहॊ सप्रेभ प्रनाभा।।
दो0-भगफासी नय नारय सुसन धाभ काभ तष्ज धाइ।
दे ष्ि सरूऩ सनेह सफ भुकदत जनभ परु ऩाइ।।221।।
–*–*–
कहकहॊ सऩेभ एक एक ऩाहीॊ। याभु रिनु सष्ि होकहॊ कक नाहीॊ।।
फम फऩु फयन रूऩ सोइ आरी। सीरु सनेहु सरयस सभ चारी।।
फेषु न सो सष्ि सीम न सॊगा। आगईऄ अनी चरी चतुयॊगा।।

नकहॊ प्रसन्न भुि भानस िेदा। सष्ि सॊदेहु होइ एकहॊ बेदा।।

तासु तयक सतमगन भन भानी। कहकहॊ सकर तेकह सभ न समानी।।
तेकह सयाकह फानी पुरय ऩूजी। फोरी भधुय फचन सतम दज
ू ी।।

ककह सऩेभ सफ कथाप्रसॊगू। जेकह वफसध याभ याज यस बॊगू।।
बयतकह फहुरय सयाहन रागी। सीर सनेह सुबाम सुबागी।।
दो0-चरत ऩमादईऄ िात पर वऩता दीन्ह तष्ज याजु।

जात भनावन यघुफयकह बयत सरयस को आजु।।222।।
–*–*–
बामऩ बगसत बयत आचयनू। कहत सुनत दि
ु दष
ू न हयनू।।

जो कछु कहफ थोय सष्ि सोई। याभ फॊधु अस काहे न होई।।
हभ सफ सानुज बयतकह दे िईऄ। बइन्ह धन्म जुफती जन रेिईऄ।।
सुसन गुन दे ष्ि दसा ऩसछताहीॊ। कैकइ जनसन जोगु सुतु नाहीॊ।।
कोउ कह दष
ू नु यासनकह नाकहन। वफसध सफु कीन्ह हभकह जो दाकहन।।
कहॉ हभ रोक फेद वफसध हीनी। रघु सतम कुर कयतूसत भरीनी।।
फसकहॊ कुदे स कुगाॉव कुफाभा। कहॉ मह दयसु ऩुन्म ऩरयनाभा।।
अस अनॊद ु असचरयजु प्रसत ग्राभा। जनु भरुबूसभ करऩतरु जाभा।।
दो0-बयत दयसु दे ित िुरेउ भग रोगन्ह कय बागु।

जनु ससॊघरफाससन्ह बमउ वफसध फस सुरब प्रमागु।।223।।
–*–*–
सनज गुन सकहत याभ गुन गाथा। सुनत जाकहॊ सुसभयत यघुनाथा।।
तीयथ भुसन आश्रभ सुयधाभा। सनयष्ि सनभज्जकहॊ कयकहॊ प्रनाभा।।
भनहीॊ भन भागकहॊ फरु एहू। सीम याभ ऩद ऩदभ
ु सनेहू।।

सभरकहॊ ककयात कोर फनफासी। फैिानस फटु जती उदासी।।
करय प्रनाभु ऩूॉछकहॊ जेकहॊ तेही। केकह फन रिनु याभु फैदेही।।
ते प्रबु सभाचाय सफ कहहीॊ। बयतकह दे ष्ि जनभ परु रहहीॊ।।

212

जे जन कहकहॊ कुसर हभ दे िे। ते वप्रम याभ रिन सभ रेिे।।
एकह वफसध फूझत सफकह सुफानी। सुनत याभ फनफास कहानी।।
दो0-तेकह फासय फसस प्रातहीॊ चरे सुसभरय यघुनाथ।
याभ दयस की रारसा बयत सरयस सफ साथ।।224।।
–*–*–
भॊगर सगुन होकहॊ सफ काहू। पयककहॊ सुिद वफरोचन फाहू।।

बयतकह सकहत सभाज उछाहू। सभसरहकहॊ याभु सभटकह दि
ु दाहू।।
कयत भनोयथ जस ष्जमॉ जाके। जाकहॊ सनेह सुयाॉ सफ छाके।।

सससथर अॊग ऩग भग डसग डोरकहॊ । वफहफर फचन ऩेभ फस फोरकहॊ ।।
याभसिाॉ तेकह सभम दे िावा। सैर ससयोभसन सहज सुहावा।।
जासु सभीऩ सरयत ऩम तीया। सीम सभेत फसकहॊ दोउ फीया।।
दे ष्ि कयकहॊ सफ दॊ ड प्रनाभा। ककह जम जानकक जीवन याभा।।
प्रेभ भगन अस याज सभाजू। जनु कपरय अवध चरे यघुयाजू।।
दो0-बयत प्रेभु तेकह सभम जस तस ककह सकइ न सेषु।
कवफकहॊ अगभ ष्जसभ ब्रह्मसुिु अह भभ भसरन जनेषु।।225।
–*–*–
सकर सनेह सससथर यघुफय कईऄ। गए कोस दइ
ु कदनकय ढयकईऄ।।
जरु थरु दे ष्ि फसे सनसस फीतईऄ। कीन्ह गवन यघुनाथ वऩयीतईऄ।।
उहाॉ याभु यजनी अवसेषा। जागे सीमॉ सऩन अस दे िा।।
सकहत सभाज बयत जनु आए। नाथ वफमोग ताऩ तन ताए।।
सकर भसरन भन दीन दि
ु ायी। दे िीॊ सासु आन अनुहायी।।

सुसन ससम सऩन बये जर रोचन। बए सोचफस सोच वफभोचन।।
रिन सऩन मह नीक न होई। ककठन कुचाह सुनाइकह कोई।।
अस ककह फॊधु सभेत नहाने। ऩूष्ज ऩुयारय साधु सनभाने।।
छॊ 0-सनभासन सुय भुसन फॊकद फैठे उत्तय कदसस दे ित बए।
नब धूरय िग भृग बूरय बागे वफकर प्रबु आश्रभ गए।।
तुरसी उठे अवरोकक कायनु काह सचत सचककत यहे ।
सफ सभाचाय ककयात कोरष्न्ह आइ तेकह अवसय कहे ।।
दो0-सुनत सुभॊगर फैन भन प्रभोद तन ऩुरक बय।
सयद सयोरुह नैन तुरसी बये सनेह जर।।226।।
–*–*–
फहुरय सोचफस बे ससमयवनू। कायन कवन बयत आगवनू।।
एक आइ अस कहा फहोयी। सेन सॊग चतुयॊग न थोयी।।

213

सो सुसन याभकह बा असत सोचू। इत वऩतु फच इत फॊधु सकोचू।।
बयत सुबाउ सभुष्झ भन भाहीॊ। प्रबु सचत कहत सथसत ऩावत नाही।।
सभाधान तफ बा मह जाने। बयतु कहे भहुॉ साधु समाने।।

रिन रिेउ प्रबु रृदमॉ िबारू। कहत सभम सभ नीसत वफचारू।।
वफनु ऩूॉछ कछु कहउॉ गोसाईं। सेवकु सभमॉ न ढीठ कढठाई।।
तुम्ह सफाग्म ससयोभसन स्वाभी। आऩसन सभुष्झ कहउॉ अनुगाभी।।
दो0-नाथ सुह्रद सुकठ सयर सचत सीर सनेह सनधान।।
सफ ऩय प्रीसत प्रतीसत ष्जमॉ जासनअ आऩु सभान।।227।।
–*–*–
वफषई जीव ऩाइ प्रबुताई। भूढ़ भोह फस होकहॊ जनाई।।
बयतु नीसत यत साधु सुजाना। प्रबु ऩद प्रेभ सकर जगु जाना।।
तेऊ आजु याभ ऩद ु ऩाई। चरे धयभ भयजाद भेटाई।।

कुकटर कुफॊध कुअवसरु ताकी। जासन याभ फनवास एकाकी।।
करय कुभॊत्रु भन साष्ज सभाजू। आए कयै अकॊटक याजू।।
कोकट प्रकाय करवऩ कुटराई। आए दर फटोरय दोउ बाई।।
जं ष्जमॉ होसत न कऩट कुचारी। केकह सोहासत यथ फाष्ज गजारी।।
बयतकह दोसु दे इ को जाएॉ। जग फौयाइ याज ऩद ु ऩाएॉ।।
दो0-ससस गुय सतम गाभी नघुषु चढ़े उ बूसभसुय जान।

रोक फेद तईऄ वफभुि बा अधभ न फेन सभान।।228।।
–*–*–
सहसफाहु सुयनाथु वत्रसॊकू। केकह न याजभद दीन्ह करॊकू।।

बयत कीन्ह मह उसचत उऩाऊ। रयऩु रयन यॊ च न यािफ काऊ।।
एक कीष्न्ह नकहॊ बयत बराई। सनदये याभु जासन असहाई।।
सभुष्झ ऩरयकह सोउ आजु वफसेषी। सभय सयोष याभ भुिु ऩेिी।।
एतना कहत नीसत यस बूरा। यन यस वफटऩु ऩुरक सभस पूरा।।
प्रबु ऩद फॊकद सीस यज यािी। फोरे सत्म सहज फरु बाषी।।
अनुसचत नाथ न भानफ भोया। बयत हभकह उऩचाय न थोया।।
कहॉ रसग सकहअ यकहअ भनु भायईऄ । नाथ साथ धनु हाथ हभायईऄ ।।
दो0-छवत्र जासत यघुकुर जनभु याभ अनुग जगु जान।
रातहुॉ भायईऄ चढ़सत ससय नीच को धूरय सभान।।229।।
–*–*–
उकठ कय जोरय यजामसु भागा। भनहुॉ फीय यस सोवत जागा।।

फाॉसध जटा ससय कसस ककट बाथा। साष्ज सयासनु सामकु हाथा।।

214

आजु याभ सेवक जसु रेऊॉ। बयतकह सभय ससिावन दे ऊॉ।।
याभ सनयादय कय परु ऩाई। सोवहुॉ सभय सेज दोउ बाई।।

आइ फना बर सकर सभाजू। प्रगट कयउॉ रयस ऩासछर आजू।।
ष्जसभ करय सनकय दरइ भृगयाजू। रेइ रऩेकट रवा ष्जसभ फाजू।।
तैसेकहॊ बयतकह सेन सभेता। सानुज सनदरय सनऩातउॉ िेता।।
जं सहाम कय सॊकरु आई। तौ भायउॉ यन याभ दोहाई।।
दो0-असत सयोष भािे रिनु रष्ि सुसन सऩथ प्रवान।
सबम रोक सफ रोकऩसत चाहत बबरय बगान।।230।।
–*–*–
जगु बम भगन गगन बइ फानी। रिन फाहुफरु वफऩुर फिानी।।
तात प्रताऩ प्रबाउ तुम्हाया। को ककह सकइ को जानसनहाया।।

अनुसचत उसचत काजु ककछु होऊ। सभुष्झ करयअ बर कह सफु कोऊ।।
सहसा करय ऩाछईआ ऩसछताहीॊ। कहकहॊ फेद फुध ते फुध नाहीॊ।।
सुसन सुय फचन रिन सकुचाने। याभ सीमॉ सादय सनभाने।।
कही तात तुम्ह नीसत सुहाई। सफ तईऄ ककठन याजभद ु बाई।।
जो अचवॉत नृऩ भातकहॊ तेई। नाकहन साधुसबा जेकहॊ सेई।।

सुनहु रिन बर बयत सयीसा। वफसध प्रऩॊच भहॉ सुना न दीसा।।
दो0-बयतकह होइ न याजभद ु वफसध हरय हय ऩद ऩाइ।।

कफहुॉ कक काॉजी सीकयसन छीयससॊधु वफनसाइ।।231।।
–*–*–
सतसभरु तरुन तयसनकह भकु सगरई। गगनु भगन भकु भेघकहॊ सभरई।।
गोऩद जर फूड़कहॊ घटजोनी। सहज छभा फरु छाड़ै छोनी।।
भसक पूॉक भकु भेरु उड़ाई। होइ न नृऩभद ु बयतकह बाई।।

रिन तुम्हाय सऩथ वऩतु आना। सुसच सुफॊधु नकहॊ बयत सभाना।।
सगुन िीरु अवगुन जरु ताता। सभरइ यचइ ऩयऩॊचु वफधाता।।
बयतु हॊ स यवफफॊस तड़ागा। जनसभ कीन्ह गुन दोष वफबागा।।
गकह गुन ऩम तष्ज अवगुन फायी। सनज जस जगत कीष्न्ह उष्जआयी।।
कहत बयत गुन सीरु सुबाऊ। ऩेभ ऩमोसध भगन यघुयाऊ।।
दो0-सुसन यघुफय फानी वफफुध दे ष्ि बयत ऩय हे तु।
सकर सयाहत याभ सो प्रबु को कृ ऩासनकेतु।।232।।
–*–*–
जं न होत जग जनभ बयत को। सकर धयभ धुय धयसन धयत को।।
कवफ कुर अगभ बयत गुन गाथा। को जानइ तुम्ह वफनु यघुनाथा।।

215

रिन याभ ससमॉ सुसन सुय फानी। असत सुिु रहे उ न जाइ फिानी।।
इहाॉ बयतु सफ सकहत सहाए। भॊदाककनीॊ ऩुनीत नहाए।।
सरयत सभीऩ याष्ि सफ रोगा। भासग भातु गुय ससचव सनमोगा।।
चरे बयतु जहॉ ससम यघुयाई। साथ सनषादनाथु रघु बाई।।
सभुष्झ भातु कयतफ सकुचाहीॊ। कयत कुतयक कोकट भन भाहीॊ।।
याभु रिनु ससम सुसन भभ नाऊॉ। उकठ जसन अनत जाकहॊ तष्ज ठाऊॉ।।
दो0-भातु भते भहुॉ भासन भोकह जो कछु कयकहॊ सो थोय।

अघ अवगुन छसभ आदयकहॊ सभुष्झ आऩनी ओय।।233।।
–*–*–
जं ऩरयहयकहॊ भसरन भनु जानी। जौ सनभानकहॊ सेवकु भानी।।
भोयईऄ सयन याभकह की ऩनही। याभ सुस्वासभ दोसु सफ जनही।।
जग जस बाजन चातक भीना। नेभ ऩेभ सनज सनऩुन नफीना।।
अस भन गुनत चरे भग जाता। सकुच सनेहॉ सससथर सफ गाता।।
पेयत भनहुॉ भातु कृ त िोयी। चरत बगसत फर धीयज धोयी।।
जफ सभुझत यघुनाथ सुबाऊ। तफ ऩथ ऩयत उताइर ऩाऊ।।

बयत दसा तेकह अवसय कैसी। जर प्रफाहॉ जर असर गसत जैसी।।
दे ष्ि बयत कय सोचु सनेहू। बा सनषाद तेकह सभमॉ वफदे हू।।
दो0-रगे होन भॊगर सगुन सुसन गुसन कहत सनषाद।ु

सभकटकह सोचु होइकह हयषु ऩुसन ऩरयनाभ वफषाद।ु ।234।।
–*–*–
सेवक फचन सत्म सफ जाने। आश्रभ सनकट जाइ सनअयाने।।
बयत दीि फन सैर सभाजू। भुकदत छुसधत जनु ऩाइ सुनाजू।।
ईसत बीसत जनु प्रजा दि
ु ायी। वत्रवफध ताऩ ऩीकड़त ग्रह भायी।।
जाइ सुयाज सुदेस सुिायी। होकहॊ बयत गसत तेकह अनुहायी।।
याभ फास फन सॊऩसत र्भ्ाजा। सुिी प्रजा जनु ऩाइ सुयाजा।।
ससचव वफयागु वफफेकु नये सू। वफवऩन सुहावन ऩावन दे सू।।
बट जभ सनमभ सैर यजधानी। साॊसत सुभसत सुसच सुॊदय यानी।।
सकर अॊग सॊऩन्न सुयाऊ। याभ चयन आसश्रत सचत चाऊ।।
दो0-जीसत भोह भकहऩारु दर सकहत वफफेक बुआरु।
कयत अकॊटक याजु ऩुयॉ सुि सॊऩदा सुकारु।।235।।
–*–*–
फन प्रदे स भुसन फास घनेये। जनु ऩुय नगय गाउॉ गन िेये।।
वफऩुर वफसचत्र वफहग भृग नाना। प्रजा सभाजु न जाइ फिाना।।

216

िगहा करय हरय फाघ फयाहा। दे ष्ि भकहष फृष साजु सयाहा।।
फमरु वफहाइ चयकहॊ एक सॊगा। जहॉ तहॉ भनहुॉ सेन चतुयॊगा।।

झयना झयकहॊ भत्त गज गाजकहॊ । भनहुॉ सनसान वफवफसध वफसध फाजकहॊ ।।
चक चकोय चातक सुक वऩक गन। कूजत भॊजु भयार भुकदत भन।।
असरगन गावत नाचत भोया। जनु सुयाज भॊगर चहु ओया।।

फेसर वफटऩ तृन सपर सपूरा। सफ सभाजु भुद भॊगर भूरा।।
दो-याभ सैर सोबा सनयष्ि बयत रृदमॉ असत ऩेभु।
ताऩस तऩ परु ऩाइ ष्जसभ सुिी ससयानईऄ नेभु।।236।।
भासऩायामण, फीसवाॉ ववश्राभ
नवाह्नऩायामण, ऩाॉचवाॉ ववश्राभ
तफ केवट ऊॉचईऄ चकढ़ धाई। कहे उ बयत सन बुजा उठाई।।
नाथ दे ष्िअकहॊ वफटऩ वफसारा। ऩाकरय जॊफु यसार तभारा।।
ष्जन्ह तरुफयन्ह भध्म फटु सोहा। भॊजु वफसार दे ष्ि भनु भोहा।।
नीर सघन ऩल्ल्व पर रारा। अवफयर छाहॉ सुिद सफ कारा।।
भानहुॉ सतसभय अरुनभम यासी। वफयची वफसध सॉकेसर सुषभा सी।।
ए तरु सरयत सभीऩ गोसाॉई। यघुफय ऩयनकुटी जहॉ छाई।।

तुरसी तरुफय वफवफध सुहाए। कहुॉ कहुॉ ससमॉ कहुॉ रिन रगाए।।
फट छामाॉ फेकदका फनाई। ससमॉ सनज ऩासन सयोज सुहाई।।
दो0-जहाॉ फैकठ भुसनगन सकहत सनत ससम याभु सुजान।
सुनकहॊ कथा इसतहास सफ आगभ सनगभ ऩुयान।।237।।
–*–*–
सिा फचन सुसन वफटऩ सनहायी। उभगे बयत वफरोचन फायी।।
कयत प्रनाभ चरे दोउ बाई। कहत प्रीसत सायद सकुचाई।।
हयषकहॊ सनयष्ि याभ ऩद अॊका। भानहुॉ ऩायसु ऩामउ यॊ का।।

यज ससय धरय कहमॉ नमनष्न्ह रावकहॊ । यघुफय सभरन सरयस सुि ऩावकहॊ ।।
दे ष्ि बयत गसत अकथ अतीवा। प्रेभ भगन भृग िग जड़ जीवा।।
सिकह सनेह वफफस भग बूरा। ककह सुऩॊथ सुय फयषकहॊ पूरा।।
सनयष्ि ससद्ध साधक अनुयागे। सहज सनेहु सयाहन रागे।।

होत न बूतर बाउ बयत को। अचय सचय चय अचय कयत को।।
दो0-ऩेभ असभअ भॊदरु वफयहु बयतु ऩमोसध गॉबीय।

भसथ प्रगटे उ सुय साधु कहत कृ ऩाससॊधु यघुफीय।।238।।
–*–*–

217

सिा सभेत भनोहय जोटा। रिेउ न रिन सघन फन ओटा।।
बयत दीि प्रबु आश्रभु ऩावन। सकर सुभॊगर सदनु सुहावन।।
कयत प्रफेस सभटे दि
ु दावा। जनु जोगीॊ ऩयभायथु ऩावा।।
दे िे बयत रिन प्रबु आगे। ऩूॉछे फचन कहत अनुयागे।।

सीस जटा ककट भुसन ऩट फाॉधईऄ। तून कसईऄ कय सरु धनु काॉधईऄ।।
फेदी ऩय भुसन साधु सभाजू। सीम सकहत याजत यघुयाजू।।
फरकर फसन जकटर तनु स्माभा। जनु भुसन फेष कीन्ह यसत काभा।।
कय कभरसन धनु सामकु पेयत। ष्जम की जयसन हयत हॉ सस हे यत।।
दो0-रसत भॊजु भुसन भॊडरी भध्म सीम यघुचॊद।ु

ग्मान सबाॉ जनु तनु धये बगसत सष्छचदानॊद।ु ।239।।
–*–*–
सानुज सिा सभेत भगन भन। वफसये हयष सोक सुि दि
ु गन।।
ऩाकह नाथ ककह ऩाकह गोसाई। बूतर ऩये रकुट की नाई।।

फचन सऩेभ रिन ऩकहचाने। कयत प्रनाभु बयत ष्जमॉ जाने।।
फॊधु सनेह सयस एकह ओया। उत साकहफ सेवा फस जोया।।
सभसर न जाइ नकहॊ गुदयत फनई। सुकवफ रिन भन की गसत बनई।।
यहे याष्ि सेवा ऩय बारू। चढ़ी चॊग जनु िईआच िेरारू।।
कहत सप्रेभ नाइ भकह भाथा। बयत प्रनाभ कयत यघुनाथा।।
उठे याभु सुसन ऩेभ अधीया। कहुॉ ऩट कहुॉ सनषॊग धनु तीया।।
दो0-फयफस सरए उठाइ उय राए कृ ऩासनधान।

बयत याभ की सभरसन रष्ि वफसये सफकह अऩान।।240।।
–*–*–
सभरसन प्रीसत ककसभ जाइ फिानी। कवफकुर अगभ कयभ भन फानी।।
ऩयभ ऩेभ ऩूयन दोउ बाई। भन फुसध सचत अहसभसत वफसयाई।।
कहहु सुऩेभ प्रगट को कयई। केकह छामा कवफ भसत अनुसयई।।

कवफकह अयथ आिय फरु साॉचा। अनुहरय तार गसतकह नटु नाचा।।
अगभ सनेह बयत यघुफय को। जहॉ न जाइ भनु वफसध हरय हय को।।
सो भईआ कुभसत कहं केकह बाॉती। फाज सुयाग कक गाॉडय ताॉती।।
सभरसन वफरोकक बयत यघुफय की। सुयगन सबम धकधकी धयकी।।
सभुझाए सुयगुरु जड़ जागे। फयवष प्रसून प्रसॊसन रागे।।
दो0-सभसर सऩेभ रयऩुसूदनकह केवटु बईऄटेउ याभ।
बूरय बामॉ बईऄटे बयत रसछभन कयत प्रनाभ।।241।।

218

–*–*–
बईऄटेउ रिन ररकक रघु बाई। फहुरय सनषाद ु रीन्ह उय राई।।
ऩुसन भुसनगन दह
ु ुॉ बाइन्ह फॊदे। असबभत आससष ऩाइ अनॊदे।।

सानुज बयत उभसग अनुयागा। धरय ससय ससम ऩद ऩदभ
ु ऩयागा।।
ऩुसन ऩुसन कयत प्रनाभ उठाए। ससय कय कभर ऩयसस फैठाए।।
सीमॉ असीस दीष्न्ह भन भाहीॊ। भगन सनेहॉ दे ह सुसध नाहीॊ।।
सफ वफसध सानुकूर रष्ि सीता। बे सनसोच उय अऩडय फीता।।
कोउ ककछु कहइ न कोउ ककछु ऩूॉछा। प्रेभ बया भन सनज गसत छूॉछा।।
तेकह अवसय केवटु धीयजु धरय। जोरय ऩासन वफनवत प्रनाभु करय।।
दो0-नाथ साथ भुसननाथ के भातु सकर ऩुय रोग।
सेवक सेनऩ ससचव सफ आए वफकर वफमोग।।242।।
–*–*–
सीरससॊधु सुसन गुय आगवनू। ससम सभीऩ यािे रयऩुदवनू।।
चरे सफेग याभु तेकह कारा। धीय धयभ धुय दीनदमारा।।
गुयकह दे ष्ि सानुज अनुयागे। दॊ ड प्रनाभ कयन प्रबु रागे।।
भुसनफय धाइ सरए उय राई। प्रेभ उभसग बईऄटे दोउ बाई।।
प्रेभ ऩुरकक केवट ककह नाभू। कीन्ह दरू य तईऄ दॊ ड प्रनाभू।।

याभसिा रयवष फयफस बईऄटा। जनु भकह रुठत सनेह सभेटा।।
यघुऩसत बगसत सुभॊगर भूरा। नब सयाकह सुय फरयसकहॊ पूरा।।
एकह सभ सनऩट नीच कोउ नाहीॊ। फड़ फससष्ठ सभ को जग भाहीॊ।।
दो0-जेकह रष्ि रिनहु तईऄ असधक सभरे भुकदत भुसनयाउ।

सो सीताऩसत बजन को प्रगट प्रताऩ प्रबाउ।।243।।
–*–*–
आयत रोग याभ सफु जाना। करुनाकय सुजान बगवाना।।
जो जेकह बामॉ यहा असबराषी। तेकह तेकह कै तसस तसस रुि यािी।।
सानुज सभसर ऩर भहु सफ काहू। कीन्ह दरू य दि
ु ु दारुन दाहू।।

मह फकड़ फातॉ याभ कै नाहीॊ। ष्जसभ घट कोकट एक यवफ छाहीॊ।।
सभसर केवकटकह उभसग अनुयागा। ऩुयजन सकर सयाहकहॊ बागा।।
दे िीॊ याभ दष्ु ित भहतायीॊ। जनु सुफेसर अवरीॊ कहभ भायीॊ।।
प्रथभ याभ बईऄटी कैकेई। सयर सुबामॉ बगसत भसत बेई।।

ऩग ऩरय कीन्ह प्रफोधु फहोयी। कार कयभ वफसध ससय धरय िोयी।।
दो0-बेटीॊ यघुफय भातु सफ करय प्रफोधु ऩरयतोषु।।
अॊफ ईस आधीन जगु काहु न दे इअ दोषु।।244।।

219

–*–*–
गुयसतम ऩद फॊदे दह
ु ु बाई। सकहत वफप्रसतम जे सॉग आई।।

गॊग गौरय सभ सफ सनभानीॊ।।दे कहॊ असीस भुकदत भृद ु फानी।।
गकह ऩद रगे सुसभत्रा अॊका। जनु बेटीॊ सॊऩसत असत यॊ का।।

ऩुसन जनसन चयनसन दोउ र्भ्ाता। ऩये ऩेभ ब्माकुर सफ गाता।।
असत अनुयाग अॊफ उय राए। नमन सनेह ससरर अन्हवाए।।
तेकह अवसय कय हयष वफषाद।ू ककसभ कवफ कहै भूक ष्जसभ स्वाद।ू ।
सभसर जननकह सानुज यघुयाऊ। गुय सन कहे उ कक धारयअ ऩाऊ।।
ऩुयजन ऩाइ भुनीस सनमोगू। जर थर तकक तकक उतये उ रोगू।।
दो0-भकहसुय भॊत्री भातु गुय गने रोग सरए साथ।।
ऩावन आश्रभ गवनु ककम बयत रिन यघुनाथ।।245।।
–*–*–
सीम आइ भुसनफय ऩग रागी। उसचत असीस रही भन भागी।।
गुयऩसतसनकह भुसनसतमन्ह सभेता। सभरी ऩेभु ककह जाइ न जेता।।
फॊकद फॊकद ऩग ससम सफही के। आससयफचन रहे वप्रम जी के।।
सासु सकर जफ सीमॉ सनहायीॊ। भूदे नमन सहसभ सुकुभायीॊ।।
ऩयीॊ फसधक फस भनहुॉ भयारीॊ। काह कीन्ह कयताय कुचारीॊ।।

सतन्ह ससम सनयष्ि सनऩट दि
ु ु ऩावा। सो सफु सकहअ जो दै उ सहावा।।
जनकसुता तफ उय धरय धीया। नीर नसरन रोमन बरय नीया।।

सभरी सकर सासुन्ह ससम जाई। तेकह अवसय करुना भकह छाई।।
दो0-रासग रासग ऩग सफसन ससम बईऄटसत असत अनुयाग।।
रृदमॉ असीसकहॊ ऩेभ फस यकहअहु बयी सोहाग।।246।।
–*–*–
वफकर सनेहॉ सीम सफ यानीॊ। फैठन सफकह कहे उ गुय ग्मानीॊ।।
ककह जग गसत भासमक भुसननाथा। कहे कछुक ऩयभायथ गाथा।।
नृऩ कय सुयऩुय गवनु सुनावा। सुसन यघुनाथ दस
ु ह दि
ु ु ऩावा।।
भयन हे तु सनज नेहु वफचायी। बे असत वफकर धीय धुय धायी।।

कुसरस कठोय सुनत कटु फानी। वफरऩत रिन सीम सफ यानी।।
सोक वफकर असत सकर सभाजू। भानहुॉ याजु अकाजेउ आजू।।
भुसनफय फहुरय याभ सभुझाए। सकहत सभाज सुसरयत नहाए।।

ब्रतु सनयॊ फु तेकह कदन प्रबु कीन्हा। भुसनहु कहईऄ जरु काहुॉ न रीन्हा।।
दो0-बोरु बएॉ यघुनॊदनकह जो भुसन आमसु दीन्ह।।

श्रद्धा बगसत सभेत प्रबु सो सफु सादरु कीन्ह।।247।।

220

–*–*–
करय वऩतु कक्रमा फेद जसस फयनी। बे ऩुनीत ऩातक तभ तयनी।।
जासु नाभ ऩावक अघ तूरा। सुसभयत सकर सुभॊगर भूरा।।
सुद्ध सो बमउ साधु सॊभत अस। तीयथ आवाहन सुयसरय जस।।
सुद्ध बएॉ दइ
ु फासय फीते। फोरे गुय सन याभ वऩयीते।।

नाथ रोग सफ सनऩट दि
ु ायी। कॊद भूर पर अॊफु अहायी।।

सानुज बयतु ससचव सफ भाता। दे ष्ि भोकह ऩर ष्जसभ जुग जाता।।
सफ सभेत ऩुय धारयअ ऩाऊ। आऩु इहाॉ अभयावसत याऊ।।
फहुत कहे उॉ सफ ककमउॉ कढठाई। उसचत होइ तस करयअ गोसाॉई।।
दो0-धभा सेतु करुनामतन कस न कहहु अस याभ।

रोग दष्ु ित कदन दइ
ु दयस दे ष्ि रहहुॉ वफश्राभ।।248।।
–*–*–
याभ फचन सुसन सबम सभाजू। जनु जरसनसध भहुॉ वफकर जहाजू।।
सुसन गुय सगया सुभॊगर भूरा। बमउ भनहुॉ भारुत अनुकुरा।।

ऩावन ऩमॉ सतहुॉ कार नहाहीॊ। जो वफरोकक अॊघ ओघ नसाहीॊ।।

भॊगरभूयसत रोचन बरय बरय। सनयिकहॊ हयवष दॊ डवत करय करय।।
याभ सैर फन दे िन जाहीॊ। जहॉ सुि सकर सकर दि
ु नाहीॊ।।
झयना झरयकहॊ सुधासभ फायी। वत्रवफध ताऩहय वत्रवफध फमायी।।

वफटऩ फेसर तृन अगसनत जाती। पर प्रसून ऩल्रव फहु बाॉती।।

सुॊदय ससरा सुिद तरु छाहीॊ। जाइ फयसन फन छवफ केकह ऩाहीॊ।।
दो0-सयसन सयोरुह जर वफहग कूजत गुॊजत बृॊग।
फैय वफगत वफहयत वफवऩन भृग वफहॊ ग फहुयॊग।।249।।
–*–*–
कोर ककयात सबल्र फनफासी। भधु सुसच सुॊदय स्वाद ु सुधा सी।।
बरय बरय ऩयन ऩुटीॊ यसच रुयी। कॊद भूर पर अॊकुय जूयी।।

सफकह दे कहॊ करय वफनम प्रनाभा। ककह ककह स्वाद बेद गुन नाभा।।
दे कहॊ रोग फहु भोर न रेहीॊ। पेयत याभ दोहाई दे हीॊ।।

कहकहॊ सनेह भगन भृद ु फानी। भानत साधु ऩेभ ऩकहचानी।।
तुम्ह सुकृती हभ नीच सनषादा। ऩावा दयसनु याभ प्रसादा।।

हभकह अगभ असत दयसु तुम्हाया। जस भरु धयसन दे वधुसन धाया।।
याभ कृ ऩार सनषाद नेवाजा। ऩरयजन प्रजउ चकहअ जस याजा।।
दो0-मह ष्जॉमॉ जासन सॉकोचु तष्ज करयअ छोहु रष्ि नेहु।
हभकह कृ तायथ कयन रसग पर तृन अॊकुय रेहु।।250।।

221

–*–*–
तुम्ह वप्रम ऩाहुने फन ऩगु धाये । सेवा जोगु न बाग हभाये ।।
दे फ काह हभ तुम्हकह गोसाॉई। ईधनु ऩात ककयात सभताई।।

मह हभारय असत फकड़ सेवकाई। रेकह न फासन फसन चोयाई।।
हभ जड़ जीव जीव गन घाती। कुकटर कुचारी कुभसत कुजाती।।
ऩाऩ कयत सनसस फासय जाहीॊ। नकहॊ ऩट ककट नकह ऩेट अघाहीॊ।।
सऩोनेहुॉ धयभ फुवद्ध कस काऊ। मह यघुनॊदन दयस प्रबाऊ।।

जफ तईऄ प्रबु ऩद ऩदभ
ु सनहाये । सभटे दस
ु ह दि
ु दोष हभाये ।।

फचन सुनत ऩुयजन अनुयागे। सतन्ह के बाग सयाहन रागे।।
छॊ 0-रागे सयाहन बाग सफ अनुयाग फचन सुनावहीॊ।
फोरसन सभरसन ससम याभ चयन सनेहु रष्ि सुिु ऩावहीॊ।।

नय नारय सनदयकहॊ नेहु सनज सुसन कोर सबल्रसन की सगया।
तुरसी कृ ऩा यघुफॊसभसन की रोह रै रौका सतया।।

सो0-वफहयकहॊ फन चहु ओय प्रसतकदन प्रभुकदत रोग सफ।
जर ज्मं दादयु भोय बए ऩीन ऩावस प्रथभ।।251।।

ऩुय जन नारय भगन असत प्रीती। फासय जाकहॊ ऩरक सभ फीती।।
सीम सासु प्रसत फेष फनाई। सादय कयइ सरयस सेवकाई।।
रिा न भयभु याभ वफनु काहूॉ। भामा सफ ससम भामा भाहूॉ।।

सीमॉ सासु सेवा फस कीन्हीॊ। सतन्ह रकह सुि ससि आससष दीन्हीॊ।।
रष्ि ससम सकहत सयर दोउ बाई। कुकटर यासन ऩसछतासन अघाई।।
अवसन जभकह जाचसत कैकेई। भकह न फीचु वफसध भीचु न दे ई।।
रोकहुॉ फेद वफकदत कवफ कहहीॊ। याभ वफभुि थरु नयक न रहहीॊ।।
महु सॊसउ सफ के भन भाहीॊ। याभ गवनु वफसध अवध कक नाहीॊ।।
दो0-सनसस न नीद नकहॊ बूि कदन बयतु वफकर सुसच सोच।

नीच कीच वफच भगन जस भीनकह ससरर सॉकोच।।252।।
–*–*–
कीन्ही भातु सभस कार कुचारी। ईसत बीसत जस ऩाकत सारी।।
केकह वफसध होइ याभ असबषेकू। भोकह अवकरत उऩाउ न एकू।।
अवसस कपयकहॊ गुय आमसु भानी। भुसन ऩुसन कहफ याभ रुसच जानी।।
भातु कहे हुॉ फहुयकहॊ यघुयाऊ। याभ जनसन हठ कयवफ कक काऊ।।

भोकह अनुचय कय केसतक फाता। तेकह भहॉ कुसभउ फाभ वफधाता।।
जं हठ कयउॉ त सनऩट कुकयभू। हयसगरय तईऄ गुरु सेवक धयभू।।
एकउ जुगुसत न भन ठहयानी। सोचत बयतकह यै सन वफहानी।।

222

प्रात नहाइ प्रबुकह ससय नाई। फैठत ऩठए रयषमॉ फोराई।।
दो0-गुय ऩद कभर प्रनाभु करय फैठे आमसु ऩाइ।
वफप्र भहाजन ससचव सफ जुये सबासद आइ।।253।।
–*–*–
फोरे भुसनफरु सभम सभाना। सुनहु सबासद बयत सुजाना।।
धयभ धुयीन बानुकुर बानू। याजा याभु स्वफस बगवानू।।

सत्मसॊध ऩारक श्रुसत सेतू। याभ जनभु जग भॊगर हे तू।।
गुय वऩतु भातु फचन अनुसायी। िर दरु दरन दे व कहतकायी।।
नीसत प्रीसत ऩयभायथ स्वायथु। कोउ न याभ सभ जान जथायथु।।
वफसध हरय हरु ससस यवफ कदससऩारा। भामा जीव कयभ कुसर कारा।।
अकहऩ भकहऩ जहॉ रसग प्रबुताई। जोग ससवद्ध सनगभागभ गाई।।
करय वफचाय ष्जॉमॉ दे िहु नीकईऄ। याभ यजाइ सीस सफही कईऄ।।
दो0-यािईऄ याभ यजाइ रुि हभ सफ कय कहत होइ।

सभुष्झ समाने कयहु अफ सफ सभसर सॊभत सोइ।।254।।
–*–*–
सफ कहुॉ सुिद याभ असबषेकू। भॊगर भोद भूर भग एकू।।

केकह वफसध अवध चरकहॊ यघुयाऊ। कहहु सभुष्झ सोइ करयअ उऩाऊ।।
सफ सादय सुसन भुसनफय फानी। नम ऩयभायथ स्वायथ सानी।।

उतरु न आव रोग बए बोये । तफ ससरु नाइ बयत कय जोये ।।
बानुफॊस बए बूऩ घनेये। असधक एक तईऄ एक फड़े ये।।
जनभु हे तु सफ कहॉ वऩतु भाता। कयभ सुबासुब दे इ वफधाता।।
दसर दि
ु सजइ सकर कल्माना। अस असीस याउरय जगु जाना।।

सो गोसाइॉ वफसध गसत जेकहॊ छईऄ की। सकइ को टारय टे क जो टे की।।
दो0-फूष्झअ भोकह उऩाउ अफ सो सफ भोय अबागु।
सुसन सनेहभम फचन गुय उय उभगा अनुयागु।।255।।
–*–*–
तात फात पुरय याभ कृ ऩाहीॊ। याभ वफभुि सससध सऩनेहुॉ नाहीॊ।।

सकुचउॉ तात कहत एक फाता। अयध तजकहॊ फुध सयफस जाता।।
तुम्ह कानन गवनहु दोउ बाई। पेरयअकहॊ रिन सीम यघुयाई।।
सुसन सुफचन हयषे दोउ र्भ्ाता। बे प्रभोद ऩरयऩूयन गाता।।

भन प्रसन्न तन तेजु वफयाजा। जनु ष्जम याउ याभु बए याजा।।
फहुत राब रोगन्ह रघु हानी। सभ दि
ु सुि सफ योवकहॊ यानी।।

कहकहॊ बयतु भुसन कहा सो कीन्हे । परु जग जीवन्ह असबभत दीन्हे ।।

223

कानन कयउॉ जनभ बरय फासू। एकहॊ तईऄ असधक न भोय सुऩासू।।
दो0-अॉतयजाभी याभु ससम तुम्ह सयफग्म सुजान।
जो पुय कहहु त नाथ सनज कीष्जअ फचनु प्रवान।।256।।
–*–*–
बयत फचन सुसन दे ष्ि सनेहू। सबा सकहत भुसन बए वफदे हू।।

बयत भहा भकहभा जरयासी। भुसन भसत ठाकढ़ तीय अफरा सी।।
गा चह ऩाय जतनु कहमॉ हे या। ऩावसत नाव न फोकहतु फेया।।
औरु करयकह को बयत फड़ाई। सयसी सीवऩ कक ससॊधु सभाई।।
बयतु भुसनकह भन बीतय बाए। सकहत सभाज याभ ऩकहॉ आए।।
प्रबु प्रनाभु करय दीन्ह सुआसनु। फैठे सफ सुसन भुसन अनुसासनु।।
फोरे भुसनफरु फचन वफचायी। दे स कार अवसय अनुहायी।।
सुनहु याभ सयफग्म सुजाना। धयभ नीसत गुन ग्मान सनधाना।।
दो0-सफ के उय अॊतय फसहु जानहु बाउ कुबाउ।

ऩुयजन जननी बयत कहत होइ सो ककहअ उऩाउ।।257।।
–*–*–
आयत कहकहॊ वफचारय न काऊ। सूझ जूआरयकह आऩन दाऊ।।
सुसन भुसन फचन कहत यघुयाऊ। नाथ तुम्हाये कह हाथ उऩाऊ।।
सफ कय कहत रुि याउरय यािईः। आमसु ककएॉ भुकदत पुय बाषईऄ।।
प्रथभ जो आमसु भो कहुॉ होई। भाथईः भासन कयौ ससि सोई।।

ऩुसन जेकह कहॉ जस कहफ गोसाईँ। सो सफ बाॉसत घकटकह सेवकाईँ।।
कह भुसन याभ सत्म तुम्ह बाषा। बयत सनेहॉ वफचारु न यािा।।
तेकह तईऄ कहउॉ फहोरय फहोयी। बयत बगसत फस बइ भसत भोयी।।
भोयईः जान बयत रुसच याष्ि। जो कीष्जअ सो सुब ससव सािी।।
दो0-बयत वफनम सादय सुसनअ करयअ वफचारु फहोरय।
कयफ साधुभत रोकभत नृऩनम सनगभ सनचोरय।।258।।
–*–*–
गुरु अनुयाग बयत ऩय दे िी। याभ ह्दमॉ आनॊद ु वफसेषी।।

बयतकह धयभ धुयॊधय जानी। सनज सेवक तन भानस फानी।।
फोरे गुय आमस अनुकूरा। फचन भॊजु भृद ु भॊगरभूरा।।

नाथ सऩथ वऩतु चयन दोहाई। बमउ न बुअन बयत सभ बाई।।
जे गुय ऩद अॊफुज अनुयागी। ते रोकहुॉ फेदहुॉ फड़बागी।।

याउय जा ऩय अस अनुयागू। को ककह सकइ बयत कय बागू।।
रष्ि रघु फॊधु फुवद्ध सकुचाई। कयत फदन ऩय बयत फड़ाई।।

224

बयतु कहहीॊ सोइ ककएॉ बराई। अस ककह याभ यहे अयगाई।।
दो0-तफ भुसन फोरे बयत सन सफ सॉकोचु तष्ज तात।
कृ ऩाससॊधु वप्रम फॊधु सन कहहु रृदम कै फात।।259।।
–*–*–
सुसन भुसन फचन याभ रुि ऩाई। गुरु साकहफ अनुकूर अघाई।।
रष्ि अऩने ससय सफु छरु बारू। ककह न सककहॊ कछु कयकहॊ वफचारू।।
ऩुरकक सयीय सबाॉ बए ठाढईऄ । नीयज नमन नेह जर फाढ़ईऄ ।।
कहफ भोय भुसननाथ सनफाहा। एकह तईऄ असधक कहं भईआ काहा।
भईआ जानउॉ सनज नाथ सुबाऊ। अऩयासधहु ऩय कोह न काऊ।।
भो ऩय कृ ऩा सनेह वफसेषी। िेरत िुसनस न कफहूॉ दे िी।।

सससुऩन तेभ ऩरयहये उॉ न सॊगू। कफहुॉ न कीन्ह भोय भन बॊगू।।
भईआ प्रबु कृ ऩा यीसत ष्जमॉ जोही। हाये हुॉ िेर ष्जतावकहॊ भोही।।
दो0-भहूॉ सनेह सकोच फस सनभुि कही न फैन।

दयसन तृवऩत न आजु रसग ऩेभ वऩआसे नैन।।260।।
–*–*–
वफसध न सकेउ सकह भोय दर
ु ाया। नीच फीचु जननी सभस ऩाया।

महउ कहत भोकह आजु न सोबा। अऩनीॊ सभुष्झ साधु सुसच को बा।।
भातु भॊकद भईआ साधु सुचारी। उय अस आनत कोकट कुचारी।।
पयइ कक कोदव फासर सुसारी। भुकुता प्रसव कक सॊफुक कारी।।
सऩनेहुॉ दोसक रेसु न काहू। भोय अबाग उदसध अवगाहू।।

वफनु सभुझईऄ सनज अघ ऩरयऩाकू। जारयउॉ जामॉ जनसन ककह काकू।।
रृदमॉ हे रय हाये उॉ सफ ओया। एककह बाॉसत बरेकहॊ बर भोया।।
गुय गोसाइॉ साकहफ ससम याभू। रागत भोकह नीक ऩरयनाभू।।
दो0-साधु सबा गुय प्रबु सनकट कहउॉ सुथर ससत बाउ।
प्रेभ प्रऩॊचु कक झूठ पुय जानकहॊ भुसन यघुयाउ।।261।।
–*–*–
बूऩसत भयन ऩेभ ऩनु यािी। जननी कुभसत जगतु सफु सािी।।
दे ष्ि न जाकह वफकर भहतायी। जयकहॊ दस
ु ह जय ऩुय नय नायी।।

भहीॊ सकर अनयथ कय भूरा। सो सुसन सभुष्झ सकहउॉ सफ सूरा।।
सुसन फन गवनु कीन्ह यघुनाथा। करय भुसन फेष रिन ससम साथा।।
वफनु ऩानकहन्ह ऩमादे कह ऩाएॉ। सॊकरु साष्ि यहे उॉ एकह घाएॉ।।
फहुरय सनहाय सनषाद सनेहू। कुसरस ककठन उय बमउ न फेहू।।

अफ सफु आॉष्िन्ह दे िेउॉ आई। ष्जअत जीव जड़ सफइ सहाई।।

225

ष्जन्हकह सनयष्ि भग साॉवऩसन फीछी। तजकहॊ वफषभ वफषु ताभस तीछी।।
दो0-तेइ यघुनॊदनु रिनु ससम अनकहत रागे जाकह।
तासु तनम तष्ज दस
ु ह दि
ु दै उ सहावइ काकह।।262।।
–*–*–
सुसन असत वफकर बयत फय फानी। आयसत प्रीसत वफनम नम सानी।।
सोक भगन सफ सबाॉ िबारू। भनहुॉ कभर फन ऩये उ तुसारू।।

ककह अनेक वफसध कथा ऩुयानी। बयत प्रफोधु कीन्ह भुसन ग्मानी।।
फोरे उसचत फचन यघुनॊद।ू कदनकय कुर कैयव फन चॊद।ू ।

तात जाॉम ष्जमॉ कयहु गरानी। ईस अधीन जीव गसत जानी।।
तीसन कार सतबुअन भत भोयईऄ । ऩुन्मससरोक तात तय तोये ।।
उय आनत तुम्ह ऩय कुकटराई। जाइ रोकु ऩयरोकु नसाई।।
दोसु दे कहॊ जनसनकह जड़ तेई। ष्जन्ह गुय साधु सबा नकहॊ सेई।।
दो0-सभकटहकहॊ ऩाऩ प्रऩॊच सफ अष्िर अभॊगर बाय।
रोक सुजसु ऩयरोक सुिु सुसभयत नाभु तुम्हाय।।263।।
–*–*–
कहउॉ सुबाउ सत्म ससव सािी। बयत बूसभ यह याउरय यािी।।
तात कुतयक कयहु जसन जाएॉ। फैय ऩेभ नकह दयु इ दयु ाएॉ।।

भुसन गन सनकट वफहग भृग जाहीॊ। फाधक फसधक वफरोकक ऩयाहीॊ।।
कहत अनकहत ऩसु ऩष्छछउ जाना। भानुष तनु गुन ग्मान सनधाना।।
तात तुम्हकह भईआ जानउॉ नीकईऄ। कयं काह असभॊजस जीकईऄ।।
यािेउ यामॉ सत्म भोकह त्मागी। तनु ऩरयहये उ ऩेभ ऩन रागी।।
तासु फचन भेटत भन सोचू। तेकह तईऄ असधक तुम्हाय सॉकोचू।।
ता ऩय गुय भोकह आमसु दीन्हा। अवसस जो कहहु चहउॉ सोइ कीन्हा।।
दो0-भनु प्रसन्न करय सकुच तष्ज कहहु कयं सोइ आजु।

सत्मसॊध यघुफय फचन सुसन बा सुिी सभाजु।।264।।
–*–*–
सुय गन सकहत सबम सुययाजू। सोचकहॊ चाहत होन अकाजू।।
फनत उऩाउ कयत कछु नाहीॊ। याभ सयन सफ गे भन भाहीॊ।।
फहुरय वफचारय ऩयस्ऩय कहहीॊ। यघुऩसत बगत बगसत फस अहहीॊ।
सुसध करय अॊफयीष दयु फासा। बे सुय सुयऩसत सनऩट सनयासा।।
सहे सुयन्ह फहु कार वफषादा। नयहरय ककए प्रगट प्रहरादा।।

रसग रसग कान कहकहॊ धुसन भाथा। अफ सुय काज बयत के हाथा।।
आन उऩाउ न दे ष्िअ दे वा। भानत याभु सुसेवक सेवा।।

226

कहमॉ सऩेभ सुसभयहु सफ बयतकह। सनज गुन सीर याभ फस कयतकह।।
दो0-सुसन सुय भत सुयगुय कहे उ बर तुम्हाय फड़ बागु।

सकर सुभॊगर भूर जग बयत चयन अनुयागु।।265।।
–*–*–
सीताऩसत सेवक सेवकाई। काभधेनु सम सरयस सुहाई।।
बयत बगसत तुम्हयईऄ भन आई। तजहु सोचु वफसध फात फनाई।।
दे िु दे वऩसत बयत प्रबाऊ। सहज सुबामॉ वफफस यघुयाऊ।।

भन सथय कयहु दे व डरु नाहीॊ। बयतकह जासन याभ ऩरयछाहीॊ।।
सुनो सुयगुय सुय सॊभत सोचू। अॊतयजाभी प्रबुकह सकोचू।।

सनज ससय बारु बयत ष्जमॉ जाना। कयत कोकट वफसध उय अनुभाना।।
करय वफचारु भन दीन्ही ठीका। याभ यजामस आऩन नीका।।
सनज ऩन तष्ज यािेउ ऩनु भोया। छोहु सनेहु कीन्ह नकहॊ थोया।।
दो0-कीन्ह अनुग्रह असभत असत सफ वफसध सीतानाथ।

करय प्रनाभु फोरे बयतु जोरय जरज जुग हाथ।।266।।
–*–*–
कहं कहावं का अफ स्वाभी। कृ ऩा अॊफुसनसध अॊतयजाभी।।
गुय प्रसन्न साकहफ अनुकूरा। सभटी भसरन भन करवऩत सूरा।।
अऩडय डये उॉ न सोच सभूरईऄ। यवफकह न दोसु दे व कदसस बूरईऄ।।
भोय अबागु भातु कुकटराई। वफसध गसत वफषभ कार ककठनाई।।
ऩाउ योवऩ सफ सभसर भोकह घारा। प्रनतऩार ऩन आऩन ऩारा।।
मह नइ यीसत न याउरय होई। रोकहुॉ फेद वफकदत नकहॊ गोई।।

जगु अनबर बर एकु गोसाईं। ककहअ होइ बर कासु बराईं।।
दे उ दे वतरु सरयस सुबाऊ। सनभुि वफभुि न काहुकह काऊ।।
दो0-जाइ सनकट ऩकहचासन तरु छाहॉ सभसन सफ सोच।

भागत असबभत ऩाव जग याउ यॊ कु बर ऩोच।।267।।
–*–*–
रष्ि सफ वफसध गुय स्वासभ सनेहू। सभटे उ छोबु नकहॊ भन सॊदेहू।।
अफ करुनाकय कीष्जअ सोई। जन कहत प्रबु सचत छोबु न होई।।
जो सेवकु साकहफकह सॉकोची। सनज कहत चहइ तासु भसत ऩोची।।
सेवक कहत साकहफ सेवकाई। कयै सकर सुि रोब वफहाई।।
स्वायथु नाथ कपयईऄ सफही का। ककएॉ यजाइ कोकट वफसध नीका।।
मह स्वायथ ऩयभायथ सारु। सकर सुकृत पर सुगसत ससॊगारु।।
दे व एक वफनती सुसन भोयी। उसचत होइ तस कयफ फहोयी।।

227

सतरक सभाजु साष्ज सफु आना। करयअ सुपर प्रबु जं भनु भाना।।
दो0-सानुज ऩठइअ भोकह फन कीष्जअ सफकह सनाथ।
नतरु पेरयअकहॊ फॊधु दोउ नाथ चरं भईआ साथ।।268।।
–*–*–
नतरु जाकहॊ फन तीसनउ बाई। फहुरयअ सीम सकहत यघुयाई।।

जेकह वफसध प्रबु प्रसन्न भन होई। करुना सागय कीष्जअ सोई।।
दे वॉ दीन्ह सफु भोकह अबारु। भोयईऄ नीसत न धयभ वफचारु।।
कहउॉ फचन सफ स्वायथ हे तू। यहत न आयत कईऄ सचत चेतू।।
उतरु दे इ सुसन स्वासभ यजाई। सो सेवकु रष्ि राज रजाई।।
अस भईआ अवगुन उदसध अगाधू। स्वासभ सनेहॉ सयाहत साधू।।
अफ कृ ऩार भोकह सो भत बावा। सकुच स्वासभ भन जाइॉ न ऩावा।।
प्रबु ऩद सऩथ कहउॉ ससत बाऊ। जग भॊगर कहत एक उऩाऊ।।
दो0-प्रबु प्रसन्न भन सकुच तष्ज जो जेकह आमसु दे फ।
सो ससय धरय धरय करयकह सफु सभकटकह अनट अवये फ।।269।।
–*–*–
बयत फचन सुसच सुसन सुय हयषे। साधु सयाकह सुभन सुय फयषे।।
असभॊजस फस अवध नेवासी। प्रभुकदत भन ताऩस फनफासी।।
चुऩकहॊ यहे यघुनाथ सॉकोची। प्रबु गसत दे ष्ि सबा सफ सोची।।
जनक दत
ू तेकह अवसय आए। भुसन फससष्ठँ सुसन फेसग फोराए।।
करय प्रनाभ सतन्ह याभु सनहाये । फेषु दे ष्ि बए सनऩट दि
ु ाये ।।
दत
ू न्ह भुसनफय फूझी फाता। कहहु वफदे ह बूऩ कुसराता।।

सुसन सकुचाइ नाइ भकह भाथा। फोरे चय फय जोयईऄ हाथा।।
फूझफ याउय सादय साईं। कुसर हे तु सो बमउ गोसाईं।।
दो0-नाकह त कोसर नाथ कईऄ साथ कुसर गइ नाथ।
सभसथरा अवध वफसेष तईऄ जगु सफ बमउ अनाथ।।270।।
–*–*–
कोसरऩसत गसत सुसन जनकौया। बे सफ रोक सोक फस फौया।।
जेकहॊ दे िे तेकह सभम वफदे हू। नाभु सत्म अस राग न केहू।।

यासन कुचासर सुनत नयऩारकह। सूझ न कछु जस भसन वफनु ब्मारकह।।
बयत याज यघुफय फनफासू। बा सभसथरेसकह रृदमॉ हयाॉसू।।
नृऩ फूझे फुध ससचव सभाजू। कहहु वफचारय उसचत का आजू।।

सभुष्झ अवध असभॊजस दोऊ। चसरअ कक यकहअ न कह कछु कोऊ।।
नृऩकह धीय धरय रृदमॉ वफचायी। ऩठए अवध चतुय चय चायी।।

228

फूष्झ बयत ससत बाउ कुबाऊ। आएहु फेसग न होइ रिाऊ।।
दो0-गए अवध चय बयत गसत फूष्झ दे ष्ि कयतूसत।

चरे सचत्रकूटकह बयतु चाय चरे तेयहूसत।।271।।
–*–*–
दत
ू न्ह आइ बयत कइ कयनी। जनक सभाज जथाभसत फयनी।।

सुसन गुय ऩरयजन ससचव भहीऩसत। बे सफ सोच सनेहॉ वफकर असत।।
धरय धीयजु करय बयत फड़ाई। सरए सुबट साहनी फोराई।।
घय ऩुय दे स याष्ि यिवाये । हम गम यथ फहु जान सॉवाये ।।

दघ
ु यी सासध चरे ततकारा। ककए वफश्राभु न भग भहीऩारा।।
बोयकहॊ आजु नहाइ प्रमागा। चरे जभुन उतयन सफु रागा।।

िफरय रेन हभ ऩठए नाथा। सतन्ह ककह अस भकह नामउ भाथा।।
साथ ककयात छ सातक दीन्हे । भुसनफय तुयत वफदा चय कीन्हे ।।
दो0-सुनत जनक आगवनु सफु हयषेउ अवध सभाजु।
यघुनॊदनकह सकोचु फड़ सोच वफफस सुययाजु।।272।।
–*–*–
गयइ गरासन कुकटर कैकेई। काकह कहै केकह दष
ू नु दे ई।।

अस भन आसन भुकदत नय नायी। बमउ फहोरय यहफ कदन चायी।।
एकह प्रकाय गत फासय सोऊ। प्रात नहान राग सफु कोऊ।।
करय भज्जनु ऩूजकहॊ नय नायी। गनऩ गौरय सतऩुयारय तभायी।।
यभा यभन ऩद फॊकद फहोयी। वफनवकहॊ अॊजुसर अॊचर जोयी।।
याजा याभु जानकी यानी। आनॉद अवसध अवध यजधानी।।
सुफस फसउ कपरय सकहत सभाजा। बयतकह याभु कयहुॉ जुफयाजा।।
एकह सुि सुधाॉ सीॊची सफ काहू। दे व दे हु जग जीवन राहू।।
दो0-गुय सभाज बाइन्ह सकहत याभ याजु ऩुय होउ।

अछत याभ याजा अवध भरयअ भाग सफु कोउ।।273।।
–*–*–
सुसन सनेहभम ऩुयजन फानी। सनॊदकहॊ जोग वफयसत भुसन ग्मानी।।
एकह वफसध सनत्मकयभ करय ऩुयजन। याभकह कयकहॊ प्रनाभ ऩुरकक तन।।
ऊॉच नीच भध्मभ नय नायी। रहकहॊ दयसु सनज सनज अनुहायी।।
सावधान सफही सनभानकहॊ । सकर सयाहत कृ ऩासनधानकहॊ ।।
ररयकाइकह ते यघुफय फानी। ऩारत नीसत प्रीसत ऩकहचानी।।
सीर सकोच ससॊधु यघुयाऊ। सुभुि सुरोचन सयर सुबाऊ।।
कहत याभ गुन गन अनुयागे। सफ सनज बाग सयाहन रागे।।

229

हभ सभ ऩुन्म ऩुॊज जग थोये । ष्जन्हकह याभु जानत करय भोये ।।
दो0-प्रेभ भगन तेकह सभम सफ सुसन आवत सभसथरेसु।
सकहत सबा सॊर्भ्भ उठे उ यवफकुर कभर कदनेसु।।274।।
–*–*–
बाइ ससचव गुय ऩुयजन साथा। आगईऄ गवनु कीन्ह यघुनाथा।।
सगरयफरु दीि जनकऩसत जफहीॊ। करय प्रनाभ यथ त्मागेउ तफहीॊ।।
याभ दयस रारसा उछाहू। ऩथ श्रभ रेसु करेसु न काहू।।

भन तहॉ जहॉ यघुफय फैदेही। वफनु भन तन दि
ु सुि सुसध केही।।
आवत जनकु चरे एकह बाॉती। सकहत सभाज प्रेभ भसत भाती।।
आए सनकट दे ष्ि अनुयागे। सादय सभरन ऩयसऩय रागे।।
रगे जनक भुसनजन ऩद फॊदन। रयवषन्ह प्रनाभु कीन्ह यघुनॊदन।।
बाइन्ह सकहत याभु सभसर याजकह। चरे रवाइ सभेत सभाजकह।।
दो0-आश्रभ सागय साॊत यस ऩूयन ऩावन ऩाथु।
सेन भनहुॉ करुना सरयत सरएॉ जाकहॊ यघुनाथु।।275।।
–*–*–
फोयसत ग्मान वफयाग कयाये । फचन ससोक सभरत नद नाये ।।
सोच उसास सभीय तॊयगा। धीयज तट तरुफय कय बॊगा।।
वफषभ वफषाद तोयावसत धाया। बम र्भ्भ बवॉय अफता अऩाया।।
केवट फुध वफया फकड़ नावा। सककहॊ न िेइ ऐक नकहॊ आवा।।
फनचय कोर ककयात वफचाये । थके वफरोकक ऩसथक कहमॉ हाये ।।
आश्रभ उदसध सभरी जफ जाई। भनहुॉ उठे उ अॊफुसध अकुराई।।

सोक वफकर दोउ याज सभाजा। यहा न ग्मानु न धीयजु राजा।।
बूऩ रूऩ गुन सीर सयाही। योवकहॊ सोक ससॊधु अवगाही।।
छॊ 0-अवगाकह सोक सभुर सोचकहॊ नारय नय ब्माकुर भहा।
दै दोष सकर सयोष फोरकहॊ फाभ वफसध कीन्हो कहा।।
सुय ससद्ध ताऩस जोसगजन भुसन दे ष्ि दसा वफदे ह की।
तुरसी न सभयथु कोउ जो तरय सकै सरयत सनेह की।।
सो0-ककए असभत उऩदे स जहॉ तहॉ रोगन्ह भुसनफयन्ह।
धीयजु धरयअ नये स कहे उ फससष्ठ वफदे ह सन।।276।।
जासु ग्मानु यवफ बव सनसस नासा। फचन ककयन भुसन कभर वफकासा।।
तेकह कक भोह भभता सनअयाई। मह ससम याभ सनेह फड़ाई।।
वफषई साधक ससद्ध समाने। वत्रवफध जीव जग फेद फिाने।।
याभ सनेह सयस भन जासू। साधु सबाॉ फड़ आदय तासू।।

230

सोह न याभ ऩेभ वफनु ग्मानू। कयनधाय वफनु ष्जसभ जरजानू।।
भुसन फहुवफसध वफदे हु सभुझाए। याभघाट सफ रोग नहाए।।

सकर सोक सॊकुर नय नायी। सो फासरु फीतेउ वफनु फायी।।
ऩसु िग भृगन्ह न कीन्ह अहारू। वप्रम ऩरयजन कय कौन वफचारू।।
दो0-दोउ सभाज सनसभयाजु यघुयाजु नहाने प्रात।
फैठे सफ फट वफटऩ तय भन भरीन कृ स गात।।277।।
–*–*–
जे भकहसुय दसयथ ऩुय फासी। जे सभसथराऩसत नगय सनवासी।।
हॊ स फॊस गुय जनक ऩुयोधा। ष्जन्ह जग भगु ऩयभायथु सोधा।।
रगे कहन उऩदे स अनेका। सकहत धयभ नम वफयसत वफफेका।।
कौससक ककह ककह कथा ऩुयानीॊ। सभुझाई सफ सबा सुफानीॊ।।
तफ यघुनाथ कोससककह कहे ऊ। नाथ कासर जर वफनु सफु यहे ऊ।।
भुसन कह उसचत कहत यघुयाई। गमउ फीसत कदन ऩहय अढ़ाई।।
रयवष रुि रष्ि कह तेयहुसतयाजू। इहाॉ उसचत नकहॊ असन अनाजू।।
कहा बूऩ बर सफकह सोहाना। ऩाइ यजामसु चरे नहाना।।
दो0-तेकह अवसय पर पूर दर भूर अनेक प्रकाय।
रइ आए फनचय वफऩुर बरय बरय काॉवरय बाय।।278।।
–*–*–
काभद भे सगरय याभ प्रसादा। अवरोकत अऩहयत वफषादा।।
सय सरयता फन बूसभ वफबागा। जनु उभगत आनॉद अनुयागा।।
फेसर वफटऩ सफ सपर सपूरा। फोरत िग भृग असर अनुकूरा।।
तेकह अवसय फन असधक उछाहू। वत्रवफध सभीय सुिद सफ काहू।।
जाइ न फयसन भनोहयताई। जनु भकह कयसत जनक ऩहुनाई।।
तफ सफ रोग नहाइ नहाई। याभ जनक भुसन आमसु ऩाई।।
दे ष्ि दे ष्ि तरुफय अनुयागे। जहॉ तहॉ ऩुयजन उतयन रागे।।
दर पर भूर कॊद वफसध नाना। ऩावन सुॊदय सुधा सभाना।।
दो0-सादय सफ कहॉ याभगुय ऩठए बरय बरय बाय।
ऩूष्ज वऩतय सुय असतसथ गुय रगे कयन पयहाय।।279।।
–*–*–
एकह वफसध फासय फीते चायी। याभु सनयष्ि नय नारय सुिायी।।
दह
ु ु सभाज असस रुसच भन भाहीॊ। वफनु ससम याभ कपयफ बर नाहीॊ।।
सीता याभ सॊग फनफासू। कोकट अभयऩुय सरयस सुऩासू।।

ऩरयहरय रिन याभु फैदेही। जेकह घरु बाव फाभ वफसध तेही।।

231

दाकहन दइउ होइ जफ सफही। याभ सभीऩ फससअ फन तफही।।
भॊदाककसन भज्जनु सतहु कारा। याभ दयसु भुद भॊगर भारा।।

अटनु याभ सगरय फन ताऩस थर। असनु असभअ सभ कॊद भूर पर।।
सुि सभेत सॊफत दइ
ु साता। ऩर सभ होकहॊ न जसनअकहॊ जाता।।
दो0-एकह सुि जोग न रोग सफ कहकहॊ कहाॉ अस बागु।।

सहज सुबामॉ सभाज दह
ु ु याभ चयन अनुयागु।।280।।
–*–*–
एकह वफसध सकर भनोयथ कयहीॊ। फचन सप्रेभ सुनत भन हयहीॊ।।
सीम भातु तेकह सभम ऩठाईं। दासीॊ दे ष्ि सुअवसरु आईं।।
सावकास सुसन सफ ससम सासू। आमउ जनकयाज यसनवासू।।
कौसल्माॉ सादय सनभानी। आसन कदए सभम सभ आनी।।
सीरु सनेह सकर दह
ु ु ओया। रवकहॊ दे ष्ि सुसन कुसरस कठोया।।

ऩुरक सससथर तन फारय वफरोचन। भकह नि सरिन रगीॊ सफ सोचन।।
सफ ससम याभ प्रीसत कक सस भूयती। जनु करुना फहु फेष वफसूयसत।।
सीम भातु कह वफसध फुसध फाॉकी। जो ऩम पेनु पोय ऩवफ टाॉकी।।
दो0-सुसनअ सुधा दे ष्िअकहॊ गयर सफ कयतूसत कयार।
जहॉ तहॉ काक उरूक फक भानस सकृ त भयार।।281।।
–*–*–
सुसन ससोच कह दे वफ सुसभत्रा। वफसध गसत फकड़ वफऩयीत वफसचत्रा।।
जो सृष्ज ऩारइ हयइ फहोयी। फार केसर सभ वफसध भसत बोयी।।
कौसल्मा कह दोसु न काहू। कयभ वफफस दि
ु सुि छसत राहू।।

ककठन कयभ गसत जान वफधाता। जो सुब असुब सकर पर दाता।।
ईस यजाइ सीस सफही कईऄ। उतऩसत सथसत रम वफषहु अभी कईऄ।।
दे वफ भोह फस सोसचअ फादी। वफसध प्रऩॊचु अस अचर अनादी।।

बूऩसत ष्जअफ भयफ उय आनी। सोसचअ सष्ि रष्ि सनज कहत हानी।।
सीम भातु कह सत्म सुफानी। सुकृती अवसध अवधऩसत यानी।।
दो0-रिनु याभ ससम जाहुॉ फन बर ऩरयनाभ न ऩोचु।

गहफरय कहमॉ कह कौससरा भोकह बयत कय सोचु।।282।।
–*–*–
ईस प्रसाद असीस तुम्हायी। सुत सुतफधू दे वसरय फायी।।
याभ सऩथ भईआ कीन्ह न काऊ। सो करय कहउॉ सिी ससत बाऊ।।
बयत सीर गुन वफनम फड़ाई। बामऩ बगसत बयोस बराई।।
कहत सायदहु कय भसत हीचे। सागय सीऩ कक जाकहॊ उरीचे।।

232

जानउॉ सदा बयत कुरदीऩा। फाय फाय भोकह कहे उ भहीऩा।।
कसईऄ कनकु भसन ऩारयष्ि ऩाएॉ। ऩुरुष ऩरयष्िअकहॊ सभमॉ सुबाएॉ।
अनुसचत आजु कहफ अस भोया। सोक सनेहॉ समानऩ थोया।।
सुसन सुयसरय सभ ऩावसन फानी। बईं सनेह वफकर सफ यानी।।
दो0-कौसल्मा कह धीय धरय सुनहु दे वफ सभसथरेसस।

को वफफेकसनसध फल्रबकह तुम्हकह सकइ उऩदे सस।।283।।
–*–*–
यासन याम सन अवसरु ऩाई। अऩनी बाॉसत कहफ सभुझाई।।
यष्िअकहॊ रिनु बयतु गफनकहॊ फन। जं मह भत भानै भहीऩ भन।।
तौ बर जतनु कयफ सुवफचायी। भोयईऄ सौचु बयत कय बायी।।
गूढ़ सनेह बयत भन भाही। यहईऄ नीक भोकह रागत नाहीॊ।।
रष्ि सुबाउ सुसन सयर सुफानी। सफ बइ भगन करुन यस यानी।।
नब प्रसून झरय धन्म धन्म धुसन। सससथर सनेहॉ ससद्ध जोगी भुसन।।
सफु यसनवासु वफथकक रष्ि यहे ऊ। तफ धरय धीय सुसभत्राॉ कहे ऊ।।
दे वफ दॊ ड जुग जासभसन फीती। याभ भातु सुनी उठी सप्रीती।।
दो0-फेसग ऩाउ धारयअ थरकह कह सनेहॉ ससतबाम।
हभयईऄ तौ अफ ईस गसत के सभसथरेस सहाम।।284।।
–*–*–
रष्ि सनेह सुसन फचन वफनीता। जनकवप्रमा गह ऩाम ऩुनीता।।
दे वफ उसचत असस वफनम तुम्हायी। दसयथ घरयसन याभ भहतायी।।
प्रबु अऩने नीचहु आदयहीॊ। असगसन धूभ सगरय ससय सतनु धयहीॊ।।
सेवकु याउ कयभ भन फानी। सदा सहाम भहे सु बवानी।।

यउये अॊग जोगु जग को है । दीऩ सहाम कक कदनकय सोहै ।।
याभु जाइ फनु करय सुय काजू। अचर अवधऩुय करयहकहॊ याजू।।
अभय नाग नय याभ फाहुफर। सुि फससहकहॊ अऩनईऄ अऩने थर।।

मह सफ जागफसरक ककह यािा। दे वफ न होइ भुधा भुसन बाषा।।
दो0-अस ककह ऩग ऩरय ऩेभ असत ससम कहत वफनम सुनाइ।।
ससम सभेत ससमभातु तफ चरी सुआमसु ऩाइ।।285।।
–*–*–
वप्रम ऩरयजनकह सभरी फैदेही। जो जेकह जोगु बाॉसत तेकह तेही।।
ताऩस फेष जानकी दे िी। बा सफु वफकर वफषाद वफसेषी।।
जनक याभ गुय आमसु ऩाई। चरे थरकह ससम दे िी आई।।
रीष्न्ह राइ उय जनक जानकी। ऩाहुन ऩावन ऩेभ प्रान की।।

233

उय उभगेउ अॊफुसध अनुयागू। बमउ बूऩ भनु भनहुॉ ऩमागू।।

ससम सनेह फटु फाढ़त जोहा। ता ऩय याभ ऩेभ सससु सोहा।।
सचयजीवी भुसन ग्मान वफकर जनु। फूड़त रहे उ फार अवरॊफनु।।
भोह भगन भसत नकहॊ वफदे ह की। भकहभा ससम यघुफय सनेह की।।
दो0-ससम वऩतु भातु सनेह फस वफकर न सकी सॉबारय।
धयसनसुताॉ धीयजु धये उ सभउ सुधयभु वफचारय।।286।।
–*–*–
ताऩस फेष जनक ससम दे िी। बमउ ऩेभु ऩरयतोषु वफसेषी।।
ऩुवत्र ऩववत्र ककए कुर दोऊ। सुजस धवर जगु कह सफु कोऊ।।
ष्जसत सुयसरय कीयसत सरय तोयी। गवनु कीन्ह वफसध अॊड कयोयी।।
गॊग अवसन थर तीसन फड़े ये। एकहॊ ककए साधु सभाज घनेये।।
वऩतु कह सत्म सनेहॉ सुफानी। सीम सकुच भहुॉ भनहुॉ सभानी।।

ऩुसन वऩतु भातु रीन्ह उय राई। ससि आससष कहत दीष्न्ह सुहाई।।
कहसत न सीम सकुसच भन भाहीॊ। इहाॉ फसफ यजनीॊ बर नाहीॊ।।
रष्ि रुि यासन जनामउ याऊ। रृदमॉ सयाहत सीरु सुबाऊ।।
दो0-फाय फाय सभसर बईऄट ससम वफदा कीन्ह सनभासन।
कही सभम ससय बयत गसत यासन सुफासन समासन।।287।।
–*–*–
सुसन बूऩार बयत ब्मवहारू। सोन सुगध
ॊ सुधा ससस सारू।।
भूदे सजर नमन ऩुरके तन। सुजसु सयाहन रगे भुकदत भन।।
सावधान सुनु सुभुष्ि सुरोचसन। बयत कथा बव फॊध वफभोचसन।।
धयभ याजनम ब्रह्मवफचारू। इहाॉ जथाभसत भोय प्रचारू।।
सो भसत भोरय बयत भकहभाही। कहै काह छसर छुअसत न छाॉही।।
वफसध गनऩसत अकहऩसत ससव सायद। कवफ कोवफद फुध फुवद्ध वफसायद।।
बयत चरयत कीयसत कयतूती। धयभ सीर गुन वफभर वफबूती।।
सभुझत सुनत सुिद सफ काहू। सुसच सुयसरय रुसच सनदय सुधाहू।।
दो0-सनयवसध गुन सनरुऩभ ऩुरुषु बयतु बयत सभ जासन।

ककहअ सुभेरु कक सेय सभ कवफकुर भसत सकुचासन।।288।।
–*–*–
अगभ सफकह फयनत फयफयनी। ष्जसभ जरहीन भीन गभु धयनी।।
बयत असभत भकहभा सुनु यानी। जानकहॊ याभु न सककहॊ फिानी।।
फयसन सप्रेभ बयत अनुबाऊ। सतम ष्जम की रुसच रष्ि कह याऊ।।
फहुयकहॊ रिनु बयतु फन जाहीॊ। सफ कय बर सफ के भन भाहीॊ।।

234

दे वफ ऩयॊ तु बयत यघुफय की। प्रीसत प्रतीसत जाइ नकहॊ तयकी।।
बयतु अवसध सनेह भभता की। जयवऩ याभु सीभ सभता की।।
ऩयभायथ स्वायथ सुि साये । बयत न सऩनेहुॉ भनहुॉ सनहाये ।।

साधन ससद्ध याभ ऩग नेहू।।भोकह रष्ि ऩयत बयत भत एहू।।
दो0-बोये हुॉ बयत न ऩेसरहकहॊ भनसहुॉ याभ यजाइ।

करयअ न सोचु सनेह फस कहे उ बूऩ वफरिाइ।।289।।
–*–*–
याभ बयत गुन गनत सप्रीती। सनसस दॊ ऩसतकह ऩरक सभ फीती।।
याज सभाज प्रात जुग जागे। न्हाइ न्हाइ सुय ऩूजन रागे।।
गे नहाइ गुय ऩहीॊ यघुयाई। फॊकद चयन फोरे रुि ऩाई।।
नाथ बयतु ऩुयजन भहतायी। सोक वफकर फनफास दि
ु ायी।।

सकहत सभाज याउ सभसथरेसू। फहुत कदवस बए सहत करेसू।।
उसचत होइ सोइ कीष्जअ नाथा। कहत सफही कय यौयईऄ हाथा।।

अस ककह असत सकुचे यघुयाऊ। भुसन ऩुरके रष्ि सीरु सुबाऊ।।
तुम्ह वफनु याभ सकर सुि साजा। नयक सरयस दह
ु ु याज सभाजा।।
दो0-प्रान प्रान के जीव के ष्जव सुि के सुि याभ।

तुम्ह तष्ज तात सोहात गृह ष्जन्हकह सतन्हकहॊ वफसध फाभ।।290।।
–*–*–
सो सुिु कयभु धयभु जरय जाऊ। जहॉ न याभ ऩद ऩॊकज बाऊ।।
जोगु कुजोगु ग्मानु अग्मानू। जहॉ नकहॊ याभ ऩेभ ऩयधानू।।
तुम्ह वफनु दि
ु ी सुिी तुम्ह तेहीॊ। तुम्ह जानहु ष्जम जो जेकह केहीॊ।।
याउय आमसु ससय सफही कईऄ। वफकदत कृ ऩारकह गसत सफ नीकईऄ।।
आऩु आश्रभकह धारयअ ऩाऊ। बमउ सनेह सससथर भुसनयाऊ।।
करय प्रनाभ तफ याभु ससधाए। रयवष धरय धीय जनक ऩकहॊ आए।।
याभ फचन गुरु नृऩकह सुनाए। सीर सनेह सुबामॉ सुहाए।।
भहायाज अफ कीष्जअ सोई। सफ कय धयभ सकहत कहत होई।
दो0-ग्मान सनधान सुजान सुसच धयभ धीय नयऩार।
तुम्ह वफनु असभॊजस सभन को सभयथ एकह कार।।291।।
–*–*–
सुसन भुसन फचन जनक अनुयागे। रष्ि गसत ग्मानु वफयागु वफयागे।।
सससथर सनेहॉ गुनत भन भाहीॊ। आए इहाॉ कीन्ह बर नाही।।
याभकह यामॉ कहे उ फन जाना। कीन्ह आऩु वप्रम प्रेभ प्रवाना।।
हभ अफ फन तईऄ फनकह ऩठाई। प्रभुकदत कपयफ वफफेक फड़ाई।।

235

ताऩस भुसन भकहसुय सुसन दे िी। बए प्रेभ फस वफकर वफसेषी।।
सभउ सभुष्झ धरय धीयजु याजा। चरे बयत ऩकहॊ सकहत सभाजा।।
बयत आइ आगईऄ बइ रीन्हे । अवसय सरयस सुआसन दीन्हे ।।
तात बयत कह तेयहुसत याऊ। तुम्हकह वफकदत यघुफीय सुबाऊ।।
दो0-याभ सत्मब्रत धयभ यत सफ कय सीरु सनेहु।।

सॊकट सहत सकोच फस ककहअ जो आमसु दे हु।।292।।
–*–*–
सुसन तन ऩुरकक नमन बरय फायी। फोरे बयतु धीय धरय बायी।।
प्रबु वप्रम ऩूज्म वऩता सभ आऩू। कुरगुरु सभ कहत भाम न फाऩू।।
कौससकाकद भुसन ससचव सभाजू। ग्मान अॊफुसनसध आऩुनु आजू।।
सससु सेवक आमसु अनुगाभी। जासन भोकह ससि दे इअ स्वाभी।।
एकहॊ सभाज थर फूझफ याउय। भौन भसरन भईआ फोरफ फाउय।।
छोटे फदन कहउॉ फकड़ फाता। छभफ तात रष्ि फाभ वफधाता।।
आगभ सनगभ प्रससद्ध ऩुयाना। सेवाधयभु ककठन जगु जाना।।
स्वासभ धयभ स्वायथकह वफयोधू। फैरु अॊध प्रेभकह न प्रफोधू।।
दो0-याष्ि याभ रुि धयभु ब्रतु ऩयाधीन भोकह जासन।
सफ कईऄ सॊभत सफा कहत करयअ ऩेभु ऩकहचासन।।293।।
–*–*–
बयत फचन सुसन दे ष्ि सुबाऊ। सकहत सभाज सयाहत याऊ।।
सुगभ अगभ भृद ु भॊजु कठोये । अयथु असभत असत आिय थोये ।।

ज्मौ भुि भुकुय भुकुरु सनज ऩानी। गकह न जाइ अस अदबुत फानी।।
बूऩ बयत भुसन सकहत सभाजू। गे जहॉ वफफुध कुभुद कद्वजयाजू।।
सुसन सुसध सोच वफकर सफ रोगा। भनहुॉ भीनगन नव जर जोगा।।
दे वॉ प्रथभ कुरगुय गसत दे िी। सनयष्ि वफदे ह सनेह वफसेषी।।
याभ बगसतभम बयतु सनहाये । सुय स्वायथी हहरय कहमॉ हाये ।।
सफ कोउ याभ ऩेभभम ऩेिा। बउ अरेि सोच फस रेिा।।
दो0-याभु सनेह सकोच फस कह ससोच सुययाज।
यचहु प्रऩॊचकह ऩॊच सभसर नाकहॊ त बमउ अकाजु।।294।।
–*–*–
सुयन्ह सुसभरय सायदा सयाही। दे वफ दे व सयनागत ऩाही।।
पेरय बयत भसत करय सनज भामा। ऩारु वफफुध कुर करय छर छामा।।
वफफुध वफनम सुसन दे वफ समानी। फोरी सुय स्वायथ जड़ जानी।।
भो सन कहहु बयत भसत पेरू। रोचन सहस न सूझ सुभेरू।।

236

वफसध हरय हय भामा फकड़ बायी। सोउ न बयत भसत सकइ सनहायी।।
सो भसत भोकह कहत करु बोयी। चॊकदसन कय कक चॊडकय चोयी।।
बयत रृदमॉ ससम याभ सनवासू। तहॉ कक सतसभय जहॉ तयसन प्रकासू।।
अस ककह सायद गइ वफसध रोका। वफफुध वफकर सनसस भानहुॉ कोका।।
दो0-सुय स्वायथी भरीन भन कीन्ह कुभॊत्र कुठाटु ।।

यसच प्रऩॊच भामा प्रफर बम र्भ्भ अयसत उचाटु ।।295।।
–*–*–
करय कुचासर सोचत सुययाजू। बयत हाथ सफु काजु अकाजू।।
गए जनकु यघुनाथ सभीऩा। सनभाने सफ यवफकुर दीऩा।।
सभम सभाज धयभ अवफयोधा। फोरे तफ यघुफॊस ऩुयोधा।।
जनक बयत सॊफाद ु सुनाई। बयत कहाउसत कही सुहाई।।

तात याभ जस आमसु दे हू। सो सफु कयै भोय भत एहू।।

सुसन यघुनाथ जोरय जुग ऩानी। फोरे सत्म सयर भृद ु फानी।।
वफयभान आऩुसन सभसथरेसू। भोय कहफ सफ बाॉसत बदे सू।।
याउय याम यजामसु होई। याउरय सऩथ सही ससय सोई।।
दो0-याभ सऩथ सुसन भुसन जनकु सकुचे सबा सभेत।
सकर वफरोकत बयत भुिु फनइ न उतरु दे त।।296।।
–*–*–
सबा सकुच फस बयत सनहायी। याभफॊधु धरय धीयजु बायी।।
कुसभउ दे ष्ि सनेहु सॉबाया। फढ़त वफॊसध ष्जसभ घटज सनवाया।।

सोक कनकरोचन भसत छोनी। हयी वफभर गुन गन जगजोनी।।
बयत वफफेक फयाहॉ वफसारा। अनामास उधयी तेकह कारा।।
करय प्रनाभु सफ कहॉ कय जोये । याभु याउ गुय साधु सनहोये ।।
छभफ आजु असत अनुसचत भोया। कहउॉ फदन भृद ु फचन कठोया।।
कहमॉ सुसभयी सायदा सुहाई। भानस तईऄ भुि ऩॊकज आई।।

वफभर वफफेक धयभ नम सारी। बयत बायती भॊजु भयारी।।
दो0-सनयष्ि वफफेक वफरोचनष्न्ह सससथर सनेहॉ सभाजु।
करय प्रनाभु फोरे बयतु सुसभरय सीम यघुयाजु।।297।।
–*–*–
प्रबु वऩतु भातु सुह्रद गुय स्वाभी। ऩूज्म ऩयभ कहत अतॊयजाभी।।
सयर सुसाकहफु सीर सनधानू। प्रनतऩार सफाग्म सुजानू।।
सभयथ सयनागत कहतकायी। गुनगाहकु अवगुन अघ हायी।।
स्वासभ गोसाॉइकह सरयस गोसाई। भोकह सभान भईआ साइॉ दोहाई।।

237

प्रबु वऩतु फचन भोह फस ऩेरी। आमउॉ इहाॉ सभाजु सकेरी।।
जग बर ऩोच ऊॉच अरु नीचू। असभअ अभयऩद भाहुरु भीचू।।
याभ यजाइ भेट भन भाहीॊ। दे िा सुना कतहुॉ कोउ नाहीॊ।।

सो भईआ सफ वफसध कीष्न्ह कढठाई। प्रबु भानी सनेह सेवकाई।।
दो0-कृ ऩाॉ बराई आऩनी नाथ कीन्ह बर भोय।
दष
ू न बे बूषन सरयस सुजसु चारु चहु ओय।।298।।
–*–*–
याउरय यीसत सुफासन फड़ाई। जगत वफकदत सनगभागभ गाई।।
कूय कुकटर िर कुभसत करॊकी। नीच सनसीर सनयीस सनसॊकी।।
तेउ सुसन सयन साभुहईऄ आए। सकृ त प्रनाभु ककहईऄ अऩनाए।।
दे ष्ि दोष कफहुॉ न उय आने। सुसन गुन साधु सभाज फिाने।।
को साकहफ सेवककह नेवाजी। आऩु सभाज साज सफ साजी।।

सनज कयतूसत न सभुष्झअ सऩनईऄ। सेवक सकुच सोचु उय अऩनईऄ।।
सो गोसाइॉ नकह दस
ू य कोऩी। बुजा उठाइ कहउॉ ऩन योऩी।।

ऩसु नाचत सुक ऩाठ प्रफीना। गुन गसत नट ऩाठक आधीना।।
दो0-मं सुधारय सनभासन जन ककए साधु ससयभोय।
को कृ ऩार वफनु ऩासरहै वफरयदावसर फयजोय।।299।।
–*–*–
सोक सनेहॉ कक फार सुबाएॉ। आमउॉ राइ यजामसु फाएॉ।।
तफहुॉ कृ ऩार हे रय सनज ओया। सफकह बाॉसत बर भानेउ भोया।।
दे िेउॉ ऩाम सुभॊगर भूरा। जानेउॉ स्वासभ सहज अनुकूरा।।
फड़ईऄ सभाज वफरोकेउॉ बागू। फड़ीॊ चूक साकहफ अनुयागू।।
कृ ऩा अनुग्रह अॊगु अघाई। कीष्न्ह कृ ऩासनसध सफ असधकाई।।
यािा भोय दर
ु ाय गोसाईं। अऩनईऄ सीर सुबामॉ बराईं।।

नाथ सनऩट भईआ कीष्न्ह कढठाई। स्वासभ सभाज सकोच वफहाई।।
अवफनम वफनम जथारुसच फानी। छसभकह दे उ असत आयसत जानी।।
दो0-सुह्रद सुजान सुसाकहफकह फहुत कहफ फकड़ िोरय।

आमसु दे इअ दे व अफ सफइ सुधायी भोरय।।300।।
–*–*–
प्रबु ऩद ऩदभ
ु ऩयाग दोहाई। सत्म सुकृत सुि सीवॉ सुहाई।।

सो करय कहउॉ कहए अऩने की। रुसच जागत सोवत सऩने की।।
सहज सनेहॉ स्वासभ सेवकाई। स्वायथ छर पर चारय वफहाई।।
अग्मा सभ न सुसाकहफ सेवा। सो प्रसाद ु जन ऩावै दे वा।।

238

अस ककह प्रेभ वफफस बए बायी। ऩुरक सयीय वफरोचन फायी।।
प्रबु ऩद कभर गहे अकुराई। सभउ सनेहु न सो ककह जाई।।
कृ ऩाससॊधु सनभासन सुफानी। फैठाए सभीऩ गकह ऩानी।।

बयत वफनम सुसन दे ष्ि सुबाऊ। सससथर सनेहॉ सबा यघुयाऊ।।
छॊ 0-यघुयाउ सससथर सनेहॉ साधु सभाज भुसन सभसथरा धनी।
भन भहुॉ सयाहत बयत बामऩ बगसत की भकहभा घनी।।
बयतकह प्रसॊसत वफफुध फयषत सुभन भानस भसरन से।

तुरसी वफकर सफ रोग सुसन सकुचे सनसागभ नसरन से।।
सो0-दे ष्ि दि
ु ायी दीन दह
ु ु सभाज नय नारय सफ।

भघवा भहा भरीन भुए भारय भॊगर चहत।।301।।
कऩट कुचासर सीवॉ सुययाजू। ऩय अकाज वप्रम आऩन काजू।।
काक सभान ऩाकरयऩु यीती। छरी भरीन कतहुॉ न प्रतीती।।

प्रथभ कुभत करय कऩटु सॉकेरा। सो उचाटु सफ कईऄ ससय भेरा।।
सुयभामाॉ सफ रोग वफभोहे । याभ प्रेभ असतसम न वफछोहे ।।
बम उचाट फस भन सथय नाहीॊ। छन फन रुसच छन सदन सोहाहीॊ।।
दवु फध भनोगसत प्रजा दि
ु ायी। सरयत ससॊ