P. 1
General Information - World Health Organization's Compulsion (Rashtriya Sahara-15 July 2010)

General Information - World Health Organization's Compulsion (Rashtriya Sahara-15 July 2010)

|Views: 7|Likes:

More info:

Copyright:Attribution Non-commercial

Availability:

Read on Scribd mobile: iPhone, iPad and Android.
download as PDF, TXT or read online from Scribd
See more
See less

11/15/2010

pdf

text

original

Newspaper Clipping Service

National Documentation Centre (NDC)
विशि सिास्य संगठन

विशि सिास्य संगठन की मजब

री (Rashtriya Sahara-15 July 2010)

विशि सिास्म संगठन को दानदाता दे शो औय संसथाओ ऩय ननबभ य यहना ऩड यहा है । मह ससथनत इस
विशि संसथा की गरयभा के अन



र नही है । विशि की सिास्म सेिाओ के लरए जो दे श मा सिमंसेिी
संसथाएं सहमोग कय यही है , उनही की क

ऩा को धमान भे यखकय सिास्म सेिाओ को चराना ऩड यहा है ।
हार भे गरोफर एराइंस पॉय िैकसीन मानी गवि ने उलरेख ककमा है कक गेटस पाउं डे शन ने 1999 से
2009 के फीच विशि सिास्म संगठन को 1.14 अयफ डॉरय दान ददमा। मह अभेरयकी सयकाय दिाया ददमे
गए दान से अधधक था। जफकक अभेरयका ने इसी सभमािधध भे 56 कयोड 69 राख डॉरय की सहामता
यालश सिास्म संगठन को दी। शामद इसीलरए गेट पाउं डे शन का गवि ऩय फडा पबाि है । औय उसके
कामभ कभ- पोगाभ पॉय ऐपोवऩये ट इन हे लथ (ऩीएटीएच) ऩय बी है । इस पकाय गेट पाउं डे शन का दान लसपभ
विशि सिास्म संगठन को ही नही जाता, उसने अनम कई

सिमंसेिी संसथाओ को बी अरग से दान ददमा है , जो सिासथ संगठन को ऩयोऺ औय अऩयोऺ रऩ से
अन

संधानो दिाया सहामता कय यहे है - जैसे जॉन हॉऩककं स विशिविदमारम, सजसने रगबग चारीस राख
तीस हजाय डॉरय का सहमोग डबलम

एचओ को ददमा। इसने ही 2009 भे गेट पाउं डे शन से अससी राख
अससी हजाय डॉरय की सहामता पापत की। इसी पकाय अं तययाषरीम विकास अन

संधान के द ने तीस राख
सततय हजाय डॉरय विशि सिास्म संगठन को ददए। इसको बी गेट पाउं डे शन ने 2009 भे िकारत औय
रोक नीनतमो के लरए चाय कयोड डॉरय की सहामता दी। इस पसंग ऩय जोय दे ने का भकसद मही है कक
अके रे गेट पाउं डे शन का फडा बायी पबाि विशि सिास्म संगठन ऩय है । इसे द

सया फडा सहमोग फडी दिा
कं ऩननमो से लभरता है । दजभ नो दिा कं ऩननमो ने लभरकय विशि सिास्म संगठन को 12 कयोड डॉरय की
सहमोग यालश दी। इसी तयह कई उदमोगो ने बी राखो डॉरय की सहामता सिास्म संगठन औय अनम
संगठन जैसे - विशि भध

भेह संसथान, विशि पे पडे संसथान को दी है । मह बी विशि सिास्म संगठन को
सहमोग कयते है । विलबनन पकाय के सिंमसेिी सहमोग एकसरा फजरी पं ड (ईफीएप) जो तीन अयफ तीस
राख की यालश है , मह विशि सिस्म संगठन के 2008-2009 के सिीक

त फजट का 77 पनतशत है । ऩ

या
सिीक

त फजट चाय अयफ फीस राख डॉरय का था। मह ससथनत फताती है कक ककस तयह विशि सिास्म
संगठन दानदाताओ ऩय आधित है औय इनके अन

साय ही उसे अऩना फजट खचभ कयना होता है । इस
कायण मह सितंत संसथा का रऩ खोता जा यहा है । मह बी ऩता चरा है कक सिास्म संगठन का
ननमलभत फजट पं ड जो कयीफ 23 पनतशत की यालश है , सिीक

त किटभ य फजट से कभ है । जफकक फजट को
विशि सिास्म सबा औय विशि सिास्म संगठन की ऺेतीम सबाओ दिाया आिंदटत ककमा जाना चादहए।
रेककन आरोचको का कहना है कक वमािहारयक तौय ऩय सिास्म कामभ कभो को पाथलभकता फडे
दानदाताओ औय शसकतशारी दे शो के सदसमो की भजी से ही दी जाती है । इस कायण विशि सिास्म
संगठन का सितंत अससतति खतये भे है । ऐसी नाज

क ससथनत का सफसे जमादा पामदा विशि की फडी दिा
कं ऩननमां उठा यही है । िह अऩने उतऩाद फाजाय भे फेचने के लरए तयह-तयह के हथकं डे अऩना यही है औय
अऩने नेटिकभ से विशिबय के धचककतसको को फेशकीभती उऩहाय दे कय भहं गी दिाएं फाजाय भे उताय यही
है । जो गयीफ उनहे खयीदने की साभथम नही यखते उनहे बी भजफ

यी भे उनहे खयीदना ही ऩडती है । मह
गोयखधं धा विशि के तभाभ दे शो भे चर यहा है । इस नजरयए से दे खे तो सभझा जा सकता है कक
विकलसत दे शो से बायत की ओय भेडडकर ट

रयजभ का जो रझान फढ यहा है , उसके ऩीछे इनही भहं गी
दिाओं का कायोफाय है । विकलसत दे शो भे डॉकटयो की पीस इतनी भहं गी है सजसे िहां के आभ नागरयक
िहन नही कय सकते। इसके एिज भे िह इराज के लरए विकासशीर दे शो का यासता ऩकड रेते है । हभाये
दे श भे विकलसत दे शो की त

रना भे धचककतसा सेिाएं ससती है । हार ही भे ऐसा ऩमभ टन स

रखभ मो भे है ।
इसभे अऩने ऩडोसी दे श बी शालभर है । बरे ही ऩाककसतान हय िकत द

शभनी का भाहौर फनामे यखता है ,
ऩय भेडडकर स

विधामे पपत कयने के लरमे िहां का आभ नागरयक महां आने की ज

गाड भे यहता है ।
ऩाककसतान से आमे हजायो फचचो को बायतीम डॉकटयो ने जीिन दान ददमा है । बम है कक कही फडी-फडी
दिा कं ऩननमो की भजी के अन

साय हभाये दे श भे बी इराज विकलसत दे शो की तयह भहं गा न हो जाए।
बायत भे जीिन यऺक दिाओ के अनतरयकत शलम धचककतसा को आभ आदभी तक ऩह

ं चाने का उऩकभ
होना चादहए। कमोकक आज बी राखो भयीज दिा औय धचककतसा के अबाि भे भय यहे है ।







You're Reading a Free Preview

Download
scribd
/*********** DO NOT ALTER ANYTHING BELOW THIS LINE ! ************/ var s_code=s.t();if(s_code)document.write(s_code)//-->