माधुरी

नवल कशोर स
े , लखनउ, १९३२ (अ ात काल), स पादक-रामसेवक ि पाठी

सी भाषा और भारत
[सािह याचाय ी च शेखर उपा याय,
याय बी. ए. ( आनस), िवशारद]
(आरा, िबहार, १५-४-१९०५ से १२-७-१९७६ ई.)
शक जाितजाित मि झम िनकाय-क बोज (उ री अफ़गािन तान) यवन = यूनान
ईसा पूव पहली शता दी से ईसवी ३री शता दी तक उ री भारत का ब त सा भाग शक के हाथ म था। पंजाब
पांचव शता दी तक शक के हाथ म रहा िजसे ’ ेत ण’ के नाम से कहा गया था।
बा लीक -(वा तर या ब ख)
शक से ही शाक ीपी ा ण, चौहान, बनाफर, जाट, गुजर जाित बने।
शक भाषाय और सं कृ तत शक के स ब ध से भाषा भी भािवत ई। १८व शता दी के अ त म अं ेज का
यान इधर गया। जमन ा यापक शॅप को इसका ेय है िज ह ने िह दी-युरोपीय-भाषा त व क न व डाली।
सं कृ त-ददािम दा यमानम् दातर्
ीक- ददोिम दोसोमेनोस् दोतेर्
सं कृ त -वाक् , वाचम्, वाचाम्, वागयस्
ीक-वोकान्, वो कस्, वोके म्, वोके स्, वो कवुस्
फ़ारसी सं कृ त क सगी बहन-भतीजी
सी और उसक लाव बहन-सं कृ त क भािगनेयी और भािगनेयी
व तुतः सी भाषा यूरोपीय भाषा के वग क नह है बि क वह सं कृ त-ईरानी भाषा वग से स ब ध रखती
है। १८व शता दी के अ त तक सी भी अपने को यूरोप से अलग समझते थे।
ईरािन और िह दी आय का घिन स पक भाषा के अित र उनक देवावली और पूजा कार से भी िस
होता है।
ाक् िह दीभारत और ईरान के आय और सी तथा यूरोपीय जाित के पूवज एक
दी-यूरोपीय भाषा--िजसे
भाषा
कबीला होने के व बोला करते थे।
शक तथा आय के थानथान- मानव त ववे ा म इस स ब ध म मतभेद है क ाक् िह दी यूरोपीय जाित िसया
क रहने वाली थी या यूरोप क ।
पूव ाक् िह दी-युरोपीय जाित क दो शाखाय-आय और शक (शतवंश या शकाय)
पि मी शाखा के कट पि मी युरोपीय जाितय के वंशज थे।
वारो म क खोज के अनुसार वहां क सं कृ ित िस धु उप यका क सं कृ ित से स ब थी अथात् िस धु
उप यका क जाित और ाक् िह दी युरोपीय जाित क सीमा अराल समु और सीर द रया थी।
स भवतः ाक् िह दी युरोपीय जाित िहमयुग के बाद क िह दी युरोपीय जाित से िनकली थी और उसके
िवचरण थान क सीमा वो गा या एमा नदी रही होगी, जो क ज़ाक तान के पि म है। इसके पूवा ल म पूव
शाखा वाले शकाय रहते थे।
शकाय जाित का सि मिलत वास थान काके शस पवतमाला से पूव रहा होगा, िजसके पूव म आय और पि म
म शक रहते थे।
शक और आय के संघष के कारण आय को अपना मूल थान छोड़ना पड़ा था। एक भाग काि पयन से
पि म काके शस पवत-माला से होते ए ु एिशया (तुक ) और उ री ईरान के तरफ बढ़ते असी रया े स थ

देश क सीमा पर प च
ं ा और दूसरा भाग काि पयन से पूरब क तरफ अराल समु के कनारे होते ए वारे म
क भूिम म प च
ं ा। ईसा पूव ि तीय सह ा दी म वोगज कु ई (अंकारा के पास) म िमत ी आय के अिभलेख म
यह िमलता है। इसी सह ा दी म िह दी युरोपीय ीक ीस देस म गये।
शक से आय के थम अलग होने का काल ईसा पूव ३००० वष के आसपास था।
म य एिशया म आय काि पयन से पामीर तक फै ल गये जो पीछे ’आयानां वेइजा’ (आयानां जः) कहलाया।
ईसा पूव २,५०० के आसपास आय के भाई शक पूरब क ओर बढ़े और धीरे धीरे पूरब म यानशान् और
अ ताई क उप यका

को लेते गोबी और ि नायु पवतमाला तक प च
ं गए। शक के िनवास थान ईसा पूव

१५०० म त रम, इली और चूक समृ

उप यकाएं थ । गोबी से कारपाथीय पवत-माला तक उनका वास- थान

था। ीक इितहासकार ईसा पूव छठी सदी म डे यूब से उ र तथा अराल तट पर शक ( कु थ, िसथ) का होना
बतलाते ह। ईसा पूव २००० से अिलकसु दर के समय तक कारपाथीय पवतमाला से गोबी तक क भूिम शक
क िवचरणभूिम रही। यही महाशक ीप था।
मगेसगेत-् अराल समु के पास मगेसगेत् नामक एक जाित कावणन हेरोदेत ने कया है। ई.पू. २०६ म जब क
ीक बा लीक राजा युिथदेमो ने िसरदया पर चढ़ाई क थी, उस काल भी वहां शक का ही िनवास था। कतने
ही पि मी िव ान का मत है क महाशक ीप म रहने वाली शक जाित व तुतः िभ -िभ भाषाएं बोलनेवाली
अनेक जाितयां थ । पर तु ये भाषाय िभ -िभ बोिलयां ही उ ारण भेद के साथ हो सकती थ । शक का यह
आिधप य ई.पू. १७२ तक था।
मंगोल चिगज-गोबी
से उ र और पूरब मंगोल जाितयां थ िजनम िसन् (चीनी) और ण का नाम इितहास म
चिगज
सबसे पहले आता है। २५० ई.पू. म ’तुमन् सन् यू’ के नेतृ व म ण क बलता के आगे चीन को झुकना पड़ा ।
ये ण िजनके वंशज चिगज खाँ के मंगोल थे-आधुिनक मंगोिलया म रहा करते थे। इ ह से बचने के िलये चीनी
दीवाल बनी।
मा उ युन (तुमन् शन् यू) का पु ण का राजा आ था जो १८३ ई.पू. म मौज़ूद था। इसने चीन को कई बार
हराया और ण का रा य पि म म अ ताई तक और पूव म को रया तक प च
ँ ाया। अ ताई और बलखाश के
पूव के शक ने माउदुन क अधीनता वीकार क । इनके पु ’ची युई’ ने १७२ ई.पू. म शक का उ छेद करना
शु कया। शक दि ण क ओर भागने लगे। पहले भागने वाले ’यू ची’ थे िजसने वा तर (बलख) म ीक
बा लीक रा य को समा कर अपने रा य क थापना क और इस तरह िह दुकुश तक का भूभाग शक के हाथ
म चला गया।
चीन ने शक के िम ण को हराना चाहा। याङ् शाङ् और अ ताई और अलाई पवतमाला के बीच वू सन्
शक (कु षाण) रहा करते थे और १२८ ई.पू. म ण से अपने को वत कर िलया और याङ् काङ् को मुि
िमली। यह पहला या ी था जो फ़गना के रा ते िसर तट पर खोक द नगर म प च
ँ ा। चीन ने १२१ ई.पू. म ण
के िव
एक सेना आधुिनक मंगोिलया पर भेजी और ण को हराया। यूिच ने भी अ त म चीन क अधीनता
वीकार क । शकराजा ने इसी समय चीनी उपािध ’देवपु ’ धारण क ।
ण माउ दुन् के नेतृ वम शक को भगाते गये और सी तान (शक थान) और िबलोिच तान होते ए ११०
ई.पू. म िस ध प ँचे और ई.पू. ८० म त िशला और गा धार के वामी बन गये और एक शता दी से जड़ जमाये
यवन रा य का उ छेद कर दया।’यू ची’ सरदार (शक) ’मोग’ भारत का थम शक राजा था। ११०-८० ई.पू.
तक गुजरात भी शक के हाथ म चला गया। ६० ई.पू. तक मथुरा म भी शक क छ पी कायम हो गयी। मोग
क मृ यु ५८ ई.पू. म ई िजसके बाद शक के िभ -िभ कबील म झगड़ा हो गया और शक के कु षाण कबीले
के यवमू (सरदार) कजुल कद फस्-१ क शि बढ़ी। उसने ब तर और तुषार पर भी अिधकार कर िलया।
कजुल के पु वीम कद फस् ि तीय (७५-७८ ई.) ने सारे उ र भारत को जीता। इसी का पु ’वसीले उस्
वसीले उन् कनेर् कोस’ (राजािधराज किन क) आ िजसने शक संवत् चलाया और ७८-१०३ ई. तक रा य

कया। इसके िस े अराल समु से िबहार तक िमलते ह। वह बौ पहले ही से था य क ईसा पूव २य शता दी
म ही बौ धम यू ची शक क मूल भूिम त रम उप यका म प च
ँ चुका था।
शक के िविभ कबीले (ईसा पूव ि तीय शता दी)
लो ोर के
आसपास
यू ची

इली
उप यका
म वू सुन

इ र स कु ल
झील के तट
पर सङ् वाङ्

त रम उप यका म य िसर िसर द रया के
म (काशगर
द रया तट मुहाने तथा अरालके
यारक द) म
पर शक
पि मी कनारे पर
कस या खस
मसगेत (महाशक)

अराल और
काि पयन तट
पर रहनेवाले
’आलान’

काशगर का मीर ?-काशगर वाले कश नामी शक का ही एक उपिनवेश स भवतः का मीर म था िजससे उसका
यह नाम पड़ा।
ण और चीनचीन ण ने चीन के

हार से जजर होकर उनक अधीनता वीकार क । इस पर ण म मतभेद हो

गया। वत तावादी ण (उ री) पि म क ओर भागने लगे और शक को हराकर उनक जगह लेने लगे;
पर तु िसर द रया के दि खन उ ह ने हाथ नह बढ़ाया। ३७० ई. म अराल और काि पयन तट पर रहने वाले
आलान का उ ह ने वंस कया। ३७५ ई. म वालामेर के नेतृ व म दोन तट पर प च
ं े और माओ य गते (जार)
को िछ -िभ कया। फर दािनए पर प च
ं गाय का वंस कया। अि ला ( ण सरदार) के समय तक (४५३
ई. म मृ यु) म य दुनाह तक ण रा य थािपत आ। पौने पांच सौ साल के ण के इस भयंकर तूफ़ान ने शक
को बड़ी हािन प च
ं ाई और वो गा से गोबी तक के शक ीप को शक से खाली करवा दया। सबसे अ त म
भागनेवाले शक हेफताल थे िज ह गलती से भारत म ण और पि म म ेत ण कहा जाता है।
३६० ई. म ण के एक कबीले अवार ( वेन-् वेन्) ने शि -स प हो पि म क ओर बढ़ना शु कर दया ।
हे ताल भागे और ४२५ ई. । इ ह ने सारे म य एिशया के (िसर द रया से िह दुकुश तक) अपने पूववत कु षाण
रा य का उ छेद कया। कदार उनका महान नेता था िजसके नाम से ही हेफताल ’ कदारीय ण’ कहलाये।
कदार का पु ४५५ ई. म ेत ण का राजा था और स भवतः इसी का पु तोरमाण था िजसने वािलयर
और सागर दमोह तक को जीत िलया था। इसका पु िमिहरकु ल ५०२ ई. म राजा बना। िमिहर िम का
फ़ारसी प है। पीछे शक ीिपय के यास से िमिहर भी शु सं कृ त हो गया।
कु ल णी श द गुल या युल का अप श
ं है-कु ल णी श द गुल या युल का अप श
ं है िजसका अथ राजकु मार
या दास होता है।
सूय मि दर-तोरमाण
ने वािलअर म सूयमि दर बनवाया था। यह उसके िशलालेख से पता चलता है।
दर
िमिहरकु ल ने मगध पर आ मण कया था पर तु मगध राजा बाला द य ने उसे बुरी तरह हराया। मालवा के
िवजयी राजा यशोधमा िव मा द य ने िमिहरकु ल को हराकर उसे क मीर क ओर खदेड़ दया। ण नाम से
िस क तु व तुतः शक िमिहरकु ल अि तम शक राजा था। हेफ़ताल क राजधानी बुखारा के पास वर शम
थी जहाँ हाल क खुदाई म भारतीय शैली पर बने कतने ही िभि िच िमले ह।
शक का िव तार
ईसा पूव ि तीय

यू-ची म य एिशया

यू-ची क ही एक

तोरमाण और

शता दी के

तुषार, सी तान,

शाखा कु षाण

िमिहरकु ल के

आर भ म गोबी

िस ध, काबुल,

किन क के प

से कारपाथीय

त िशला, मथुरा,

म अराल समु

पवतमाला तक

उ ैन तक

से िबहार तक

पम

ेत ण

नामधारी शक
मगध तक फै ले

सूय- शक के सबसे बल जातीय देवता सूय थे।
शक ीप-गोबी
से वो गा और पि म कारपािथया तक फै ला शक का मु य िनवास था। दि ण क ओर भारत
ीप
तक भागकर आने वाले शक पूव य शक ीप के थे।
सूय देवता-शक
ीपी धानता वाले इलाक म अिधकांश सूय मू यां ि भुज िमलती ह। इनके क धे के ऊपर
ता
सूयमुखी के फू ल असाधारण से मालूम होते ह, जो भारतीय पर परा के

ितकू ल ह। सूय के पैर म बूट होते ह।

बूटधारी िह दु देवता कोई नह । वही बूट हम मथुरा से िमली किन क ितमा के पैर म दखाई पड़ता है। आज
भी सी लोग जाड़ म उसी तरह के घुटने तक के बूट को पहनते ह जो किन क और सूय ितमा के पैर म
दखते ह।
ण ने शक को शक ीप से हटा दया था। उनके ही वंशज तुक, उइगुर, और मंगोल थे। ५५७ ई. के लगभग
तुक से म यएिशया तक न शक का नाम रहा न आयवंशीय लोग (थोड़े से तािजक को छोड़कर) का।
वो गा से पि म रहनेवाले शक
४थी और ५व सदी म म य दािनये पर
और िमया म शक के ब त से
पुराने नगर- वंस िमलते ह।
पि म म शक के कबीले
वे द् (वेनत
े ्)
अत
लाव
सरमान् (पीछे सभी लाव कहलाये)
शक का भाव लाव और स पर भी तब तक रहा जबतक पि मी स यता से वे भािवत नह ए। गोखु
वाले सोने के कु डल और हंसिनयां तो आज के भारत म भी देखी सुनी जाती ह।
ण से शक भागकर पेचेनगा अथवा वो गा तट पर वोलाग काके शस के पास खातार (काजार) आ द नाम से
िस

ए। शक या ि कक नम भी इितहास से लु हो गया और बाद म ’अ त’, ’वे द’ नमवाले कबील को पाते

ह।
इसलाम-अरब
के
इसलाम

भाव से जैसे ८व सदी प च
ँ ते-प ँचते सारा ईरान और म यएिशया मुसलमान हो गया।

इसी तरह खजार, वु गार आ द ण जाित

ने भी इसलाम वीकार कया। आजकल वु गार चुवाश के नाम से

पुकारे जाते ह। वु गा रया देश से कोई स ब ध नह । वु गा रया वाले लाव ह और वो गा वाले वु गार ण
वंशज।
स म सूय पूजा-इसाई
होने से पहले

स वाले भी सूय क पूजा करते और घी म पके लाल चीले खाते थे,

जैसे यहाँ छठ म ठे कुआ चढ़ाते ह। आज भी उस खास पव के दन मीठे चीले खातेह। एक अरबी पयटक ने वो गा
के कनारे खरीद िब के िलये आये िस म मृता मा को प ी के साथ जलाने का उ लेख कया है।
लाव और

व-उपिनषद्
काल के

नाम अब भी ह। मोलोतोव का नाम

पूव

ािच लाव है।
लाव

लाव

दि णी
वुलगर सव

वा त नाम का लाव श द से सा य है। वेती लाव,

पि मी लाव
उ री

ोआत ( ोत)

पोल

सी उ इनी बेलो सी

चेक

लोवाक

ािच लाव आ द

दि णी लाव म पोल चेक भाषा का

सी से अवधी बंगला जैसा तथा

सी उ इनी भाषाय भोजपुरी

मैिथली क तरह ह। लाव ने पहले पहल ीक के स पक म आकर इसाई धम वीकार कया। पीछे पोल, चेक,
लोवाक तथा ोवात् रोमन चच ारा इसाई बनाये गये और रोमन िलिप उ ह ने वीकार क । ीक चच ारा
इसाई बनाये गये बाक लाव ने ीक िलिप वीकार क ।
९८८ म िवजि तन् ने सामूिहक प से इसाई धम वीकार कया और सारी राजधानी एक दन म इसाई बन
गयी। हजार वष से चले आए धम और देवता को छोड़ने म कतने ही जगह िव ोह भी ए। कएफ़ के स
ने अपनी ाचीन सं कृ ित क ब त सी िनिध को खो डाला। देवता और पूजा कार के साथ-साथ उनके
हजार श द भी लु हो गये। अपनी भाषा के िलये नयी िलिप, ीक सािह य एवं ीक कला सीखने का रा ता
खुल गया।
१०१४ म ला दमीर के मरने के बाद कएफ़ स रा य िछ -िभ हो गया। १३व सदी के म य म छङ् िगस्
खान के मंगोल उसके पु बानू खान के नेतृ व म प च
ँ े और ायः १५० वष तक िसर उठाने का मौका नह
िमला। तैमूर ने द ली लूटने (१३९८ ई.) से तीन साल पहले जब १३९५ म मा को के पास तक का धावा
कया।
इस कार शक ही

स म और भारत म भी गये और

सी उ ह के वंशज ह। भारत म भी शक ीपी ा ण,

कतने ही राजपूत, गूजर और जाट आ द शक के वंशज ह। सं कृ त और

सी भाषा

म जो घिन स ब ध

मालूम होता है वह इसी पुराने स ब ध के कारण।
लाव और िलथुआनी भाषाभाषा िलथुआनी भाषा सं कृ त के ब त समीप है। रामान द और कबीर के समय तक
िलथुआनी लोग इसाई नह ए थे। उनके देवता वै दक देवता म से थे। उनक भाषा का िवकास भी ब त म द
गित से आ था।
शतम् और के तम् (१००)-िह दी और यूरोपीय भाषा के ’शतम्’ और ’के तम्’ दोन भाषा के समुदाय म
ह। लाव भाषाएं सं कृ त और ईरानी के साथ शतम् वंश क ह। िलथुआनी क समीपता ’के तम्’ से है।
िलथुआनी ाचीन लाव
सी
सं कृ त
के तु र
चेतुरे
चेितरे
चतुर
के ि वतम्
चे वरे ते
चे वेत
चतुथ
ोतेरेिलस्
ाते
ात्
ातृ
मोते
माित
मात्
मातृ
गुवस्
िझवे
िझव्
जीव
सी भाषा लाव भाषा वंश क पूव शाखा क एक भाषा है। पूव

लाव भाषाएं ह- सी, वोलगरी, और सेव ।

उ इनी और बेलो सी भाषाएं य िप वत सािहि यक भाषाएं ह क तु वह
पूव लाव
पि मी लाव
ाचीन लाव
सी
वोलगरी सेव
लोवानी चेक पोली
बेल (था)

िबल

िबल्

दम (धूम)

दम्

दम्

दन् ( दन)

देन

िबयेल बेल

बेल

इयलु

was

सी के अ य त समीप ह।

दम्

दम्

दूम्

दूम्

Dim

दन

दन

देन्

िजएम

Day, Diem

सोन,िसन सन्

सन

सत

सेन्

सेन्

Son

लेको (दूध)

मोलोको

लाकु

िमलेको लेको

लेको लेको

लवा (गल)

गोलोवा

लवा

लवा

लव लोवा

सून (सूनु)

देन

लव

Milk

ाचीन लाव
मत् (मृ यु)
लन (पूण)
पत् (प )
रउका (कर)

सी वोलगरी सेव
मेत्

ेत्

पो न लन्
यत् पेत्
का रका

मेझ् रा (म य) मेझा मेझदा

लोवानी चेक

त्

पोली

त्

त् ि मएरे

न् पो म
पेत् पेत्
का रोका

लुन् पेलनु
पेत् िपथे स
का रोका

मेह

मेजे

मेया

Mort

िझएउना Middle, midst

जे यु ( या) जे या जे या जे ला जे या जेमे िजएिमए
सी भाषा म ’ओ’ ’अ’ के समान उ रत है। व दीघ उ ारण ऐि छक है।
सी श दकोष (सं कृ त से स ब ध)
अ - अ (िनषेधाथ)
अज़त-आ वाल-ताप
आ-आह
बेग-वेग (दौड़)
बेगत्-वेजित (दौड़ना)
बेगले -वेगक (धावक)
बे व-वेगक व (तेजी)
बेजात्-वेजित -भागना( जित)
बेज़-िवना (िबना)
बेज-वोज़िनक-िवभगक (अनी रवादी)
बेज-् बे ेिझइ-िववातीय (िबना वायु का)
बेज-् बेलोिसई-िवबाल (िबना बाल का)
बेज-् लिवई-िवगल (िसर िबना)
बेज-् दोि दए-िवदुह (वषा िबना)
बेज-् दि इ-िवधूम (धूम रिहत)
बेज-िग नेिवइ-िबना जीवन
बेज नोिसइ-िवनास (िबना नाक का)
बेनो-िव (िवना)
बेज रोिगई-िवशृ ग (िबना स ग का)
भेर दोजा-भुज (वृ )
बेस-िव (िवना)
बेस-ि -मोि -िव िम ण (िबना िमलावट)
बेस-् सेदच्-नो त्=िव दय व ( दयहीनता,

ाहीनता) बेस-् लािवये=िव वी (क

हीन)

बेस-् लावेि इ=िव वणक (वाणी हीन)
बेस-् ेि नइ=िव ेही ( दयहीन)
बेस-् सोि तना=िव व ता (िन ाहीनता)
िवर् युक =वृक (भेिड़या)

बेस- मे नये=िवम यक (अमर व)
बेस-् सो- नातेल-िनइ=िवसं ा (चेतनाहीन)
बेस-् ए ाि इ=िव त ( ासहीनता)
िबस् =ि स् ( फर से)

िबत्=िभद् (तोड़ना, ताड़ना)

िबत्- या=िभद् (ताड़ना, िभड़ना)

लागो=भग (अ छा, आशीः)

लागोदान (भगदाित (आशीदान)

लागोदेतेल=
् भगदात् (उपकारक)

लागो देयािनये-भगदान (आशीदान)

लागोइ-भग (अ छा, सुरती, उपयोगी)
लागोरो इ=भगरो ु (सुजात)
लागो वोरीतेल=
् भग व र (उपकारक)
बोगातेइ=भगत (धनी पु ष)
वोगाच्=भगक (धना )

लागोि याि इ=भगि य ु (ि य)
लागो लोवैिनये=भग वण (मंगल सुनना, आशीवचन)
बोग =भग (भगवान्)
बोगात् वो=भग व (धना ता)
बोगीिनय=भिगनी (भगवती)

बोगोमातेर्=भगमातर् (भगवान् क माँ, म रयम) बोगोपोची=भगपूजा
बोगोरो द सा=भगरोिहणी (म रयम)

बोगो लािवये=भग वण(भगवान् क भि , धमशा )

बोगो ुज़ेिनये=भग ूषणा (भगवान् क पूजा)
बोजे वो=भग व (भगवत् त व)

बोजे मोइ=भग मे (मेरे भगवान्)
बोक् प =व शरीर (पा )

बोकोवाइ-प त=शरीर पा

से

वोकोस्=प ेण (शरीर पा )

बोले=भू र (ब त, अिधक)

वोलेये=भू र (ब त, अिधक)

बो लात्=बो लित (बोलना)
बोि तइ=बो ल त (बकवादी)
बो शे=भू रशः (ब त सा)
बोि शइ=भू रश (अिधकतर)
बोि श वो=भू र व ब मत

बो लो या=बो लित (बोलना)
बो तून् =बो ल त (बकवादी)
बो शेिवक=भू रक (ब मितक)
बोल-शे=भू रश (अिधकतर)
बोलशोइ=भू रशः (ब तर)

बोयाजन=भयान् (भय, आतंक)

ान्= ातृ

तािनये= ातृ व (भाई बनाना)

ा वा= ातृक (भाईचारा)

ाि कइ= ातृक य (भाईचारा)

ात् =भरित, हरित (ले जाना)

ात् या=भरित, हरित (ले जाना)

े या = भर (भार)

ोिव ू = भ (Brow)

बो दत =वधित (उठाना, हटाना)

ोसत्, ोिस या= श
ं ित (फकना, फकवाना)

बुदिु च=भूित (होना)

बुदिु इ=भिव यित (होनेवाला)
िववात्= भवत् (हो जाना)
िबली (भूतः)-भइल (भोजपुरी)
वाम्=वां (तुमको)

बुद ् = भूितः (हो सकना)
िवक् = वृष (बैल)
िवत् = भूितः (होना)
वािम = वां (तु हारे ारा)

वस् = वः (तुम, तु हारा)

वश्= वः (तुम, तु हारा)

वे वेगात्=िववेजित (भीतर भाग जा)

व् वेदोिनये=िववेदना (िनवेदना, भूिमका)

ब वेि म = िविवशित (भीतर लाना)
व्- लुव =िवगभ ( दय म)
व्-दोये=ि (दो बार)
दो वो =िवधवा व

व्- जगात्=िववेधित (भीतर बोधना)
व-दलेके = िवदीघ (दूर)
दोवो =िवधवा
वेदत् =वेि (जानना)

वेदेिनये=वेदना (जानना, िव ा)
वेली कइ=वरक (बड़का)
वेतत्
ु =वतयित (लौटाना)
वेतु का=वतुक (ल टू )
वे ा=वस त वेस् = वे (सारे )
वेतेरोक =वातक (हवा)

वेलीकान्=वरक (बड़का)
वेलीचाइिशइ=वरे य (सबसे बड़ा)
वेतत् =वतयित (घुमाना)
वेसेि ह=वासि तक
वेतेर =वात (हवा)
वज्-वेगोत्=िववेजित (दौड़ जाना)

वेशात् =िवशित (लटकाना)

वयात्=वयित (फूं क लगाना, फटकना)

िववात्=भवित (होता है)

िवद्=िव द (देखना, कट होना)

िवदेिनये=वेदना (दशन)

वीदेत्=वेि (देखना)

िवदनेत् या= वेदते ( दखाई देना)

वलेतात् =िवडयित (उड़ना) Fly

व्- युिवत्=िवलोयित ( म
े म पड़ना) =Beloved
व्- युव योनो त=िवलोिय व ( ेम-परायणता)=Belovedness

व्- यु

यत्= म
े करना=Love

व्-माजत्=िवमाषित (िचपकाना)
व्-मेिशवात्=िविम ित (िमलाना)
व्-नीजु=नीचैस् (नीची जगह)

व्- यपत्- या=िविलपित (िचपकाना)
व्-मेशातेल्=िविम ियतर (सोच म पड़नेवाला)
व्-नीज=िवनीचैः (नीचे)

व्-िनकात् (िनकाह=िन कात्, पैसे से) =िववाह करना(वै दक-ववाता)
व्-नोबे=िवनव (नया) New

व्-नोिसत्=िवनेहित (भीतर लाना)

व्-नुि =अ तरीय (भीतर म)

वोदा=उद् (पानी)=ओदा, Water

वोदापाद्=उदपात
वोज्=वाह (गाड़ी का बोझ)

वोदिनक =उदिनक (जलकाल)

वोज्- दत्, वोज्- जदात =िवतेधित (जानना, तेज करना, बढ़ाना)
वोज्-वेदेिनये=िवबोधना (यशोगान करना)

वोज्- ात्=वतित (लौटाना)

वोज्-िविसत् =िविवशित (उठाना)

वोिजत्=वहित, वोिहतः (ले जाना)

वो का=वाहक (गाड़ी ढोना) Vehicle

वोजोक=वाहक (ढोनेवाला)

वोजोिपत=िवलपित (पुकारना)

वोज्-रादोवान्- या=िवराधित (आन दमान)

वोल्=वोढा (भार ढोनेवाला), बलीवद (बैल)

वो क=वृक (भेिड़या)

वोलोस=बाल (के श)

वोलचोनोक=वृकशावक (भेिड़ये का ब ा)

वो ोस=िव

(

)

वो ोिसत्, वो ोसात्=िवपृ छित (पूछना)

वोर=हार (चोर), वोसेम =वसु ( योितष म ८ का सूचक, ८ वसु ह)
वोसेम् न दे यत=दश िन वसु (अ ादश)=१८

वोसेम दे यत=दश वसु=८०

वोस्-पोि नत्=िवपूणयित (अ दर भरना) Filling
वोस्-सेदात् =िवसीदित (बैठना)
वोस् वलेिनये=िव वरित ( शंसा करना)
व्-पदात्=िवपतित (िगरना)

वोस्-सावत्=िव थाित (िव ोह म उठना)
वोत्=वत् (यहाँ ही)
व्-िपवत्=िपबित (पीना)

व्- लाव=िव लाव (तैरना) Flow, Fly
व्-ि लवात्=िव लवित (भीतर तैरना)
ात्=भ(ह) रित=लेटना

व्-पो ने=िवपूण (पूणतया)

व् रे जत् =िवरे जित-रे जीदन (फ़ारसी) Eraze, Razor
व् रे जक=िवरेजक (काटना, भीतरी काट)
व् सादिनक=िवसादिनक् (घोड़े पर बैठनेवाला)
स चात्=िव ोशित (िच लाना)
व् लू या=िव ष
ू दः (सुनना)
स्-पोि त=िव

व् सदीत्=िवशालयित (भीतर करना)
व् यो= वे (सारे )
व् लुख् =िव ू (जोर से बोलना)
व् स् ि ल(वा)त्=िव लवित (उतरना)

ुित (सोचना, मरण करना)

व्- तवािनये = थापना (उठाना)
व् त यात् = िव थापयित (भीतर डालना)
ि तकात् = िवटीकित ( टकाना, भीतर डालना)

व् ताव् का=िव थापका (अ दर रखना)
स ािखवात् = िव ासयित (िहलाना)
व् िशवात् = िवसी ित (सीना)

िववः =वः (तुम)
िविववात्=िवभवित (मार िगराना)
िववोइ=िववर (चुनाव)
िव ािसवात्=िव श
ं यित (फक देना)
िववा रवात् = िवबालित (उबालना)
िववेिजत्, िववोिजत्=िववहित (बाहर ले जाना)

िववेगात्, िववेजात् = िववेजित (दौड़ना)
िविवरात् =िववरित (चुनना)
िववोरका=िववरका (चुनना)
िव ोिसत्=िव श
ं ित फक देना ( ास =फरसा)
िववे दवात् = िविवदित (पा जाना)
िव जात =िवभ धित (बा धना, गूंथना)

िवइ ात्=िव डित (जोतना, खेलना)

िवगोवा रवात् =िवगवित (बोलना)

िवदिवत्=िवदावित (दाबना)
िविजतात्=िविछ तित (काटना)
िवकजात् = िवकाशयित (िखलाना)
िवि लकात्=िवक कित(िच लाना)

िव दरात् =िवदारयित (फाड़ना)
िवजीव =िवहिव (पुकारना)
िवकापवात् =िवकि प (खोदना)
िविमरािनये=िवमरण (मरना)

िवनु दत =िवनोदयित (जोर डालना) Node

िवपाद्=िवपात् (भीतर डालना, घुसाना)

िवपदेिनये=िवपताना (िगरना)
िवरे ि नये=िवराजना - काशन
िव गात् =

िविपिलवािनये=िवपूणता (पूरना)

( रगाना, िचढ़ाना), िबराना (भाषा)=गाली देना

िव लुशात्=िव ूषित (खूब सुनाना)
िव ुपात्=िव ोित (बोलना)
िविसपात् या=िव विपित (खूब सोना)

िव तवका =िव थापका ( दशन)
िवसुिशवात् =िवशु यित (सुखाना)
िविसखात् =िवशु यित (सुखाना)

िवितरात् =िवितरित(झाड़ना, प छना)

िव योिचपात् =िवत ित (आकार काटना)

िवतोिपत = िवतपित (गम करना)
िवि खात् = िव-तृषा ( यास)
िव यनु या =िवतनोित (फै लाना)
िवउचात्=िव-वाचित (िशि त)
िव ुवात् = िवछु वित (छू ना)

िव यसात् =िव ासयित (िहला देना)
िवत् =िभद् (काट िगराना)
िव वेिनक=िव ाविनक (तैराना)
िविचतात् =िविच तयित (पढ़ना)
ज का =ब धका (बोझ बा धना)

गदािनये (गद=कहना)-भा य कहना

गलेरा, गलेरका=गली, गिलयारा

गर = वर (जलना)

गल्- तुक्=गल थपक (गला बा धने वाला) Tie

दे =कु

(कहाँ)

िगर् या= (िग र, गु ) =भार

गेइ =हे (अगे) Gee
लवा =गल (िसर)

लवाख़=गलक (सरदार)
लो का =गल (क ठ)

लोलात् =िगलित (िनगलना)
लुिवना =गभ णा (गहराई)

लुवो कइ=गभीरक (गहरा)

गोवोर(गवार्)=गवित (बोलना), (गीर्=वाणी)

गो ा दना, ग ा दना=ग ादनीय (गो=गाय, अद=खाना)=गोमांस
गोलोवा (गलवा)=गल् (िशर)

गोलोस्=गलक ( वर)

गोिलइ=न (नंगा)

गोरा (गरा) िग र, पहाड़

गोरे का वाक् = वालक, Burner

गोरे िनये, गरे िनये = वरणा (जलना)

गोर् लो (गर् लो)= गल (क ठ)

गोर कइ (गक )= वर, जलनवाला, कड़वा

गोरयुिचये,गरयुिचये= वरक (जारक, इ धन)

गोरयािचइ(गरयाची) वलक (गम)

ोज् = ाप(ह)क =लूटनेवाला Grabber

वीतेल् =गृभी(ही)तर=लु ठक

ेत= वलन (तपाना) Grate

गीवा= ीवा (गदन)

ोिजत् = ु यित (ढमकाना) Grudge

गुवा=िज वा (ओठ)

गुिवत्= यित (न करना)

दवात् = दाित (देना)

दिवलो =दावल (भार, दबाव)

दिवत्=दावत् (दबाव)

दालेये =दूर

दा यो कइ=दीघक (दूर का)

दालेको=दीघक (दूर का)

दाल, दालिन=दीघ (दूर)

दा नो िवदेिनये=दीघ वेदना(दूरदशक)

दा का, दामा=राजा, सद् राजा

दि इ=दान(भट दया)
दर्=दान
दरोवािनये=दान

दात्=दान (भट)
दरे िनये दान=दान देना
दरोवोइ दान=भट

दात्, दाित=देन
दयािनये=देन
सत्= ा वशित (बीस, २०)

े ा,

सत्= ादश (१२)

रे = ार
ि गात्=वेगित (चलना)
ोइत्=ि तपित=दुगन
ु ा करना

दावा= दान
ा, ौ=दो (२)
ािजद्, ि =दो बार
रे नोइ= ारीय ( ार)
े त्=ि शत् (२००)
ोये= ौ (२)
ोइका=ि क (जोड़ा)

ोर= ार(आंगन)

ोरे स = ारक (महल, दरबार)

ोरयािन= ारीय(राजा बाबू, दरबारी)

ोचु-रोद् िनइ=ि रोधनीय(चचेरा भाई)

देवेर =देवर

देवा=देवी (कु मारी)

देिव सा, ए का=देिवका (क या)

देवो मातेर्=देवमातर्(कु मारी म रयम)

देवो का=देिवका (ब ी)

देव वेिभक् =देवि वक (

दे चेका, देवु का, देवचाता=देिवका(कु मारी)

देद=
् दादा, िपतामह

देद ् े= िपतामह(परदादा)

देद ु का=दादा, िपतामह

चारी)

देद ु का े= िपतामह
देलत्=दारयित (करना)

देकाद् िनक् =दश दनक
देिलत=दरित (िवभािजत करना)

देलो=दर, धर, धम (काम)

देन् = दन

देरेवा=दा (वृ )

देरेव सो=दा व स (छोटा वृ )

दोझावा=दंहित (शि , दृढ़)

देरझािनये=दंहना (रोकना, थामना)

देरझानेत्=दि हता (थामने वाला)
दे यत्=दश (१०)

देरझात् =दंहित (थामना)
दे याितइ =दशम

दे य का=दशक

दे(क)त्=धाित (रखना)

देयानेल्=धातर्(कम , चाकर)

द् िल ा=दीघ (ल बाई)

द् िलि ह=दीघ (ल बा)

द् नेि क =दैिनक Diary

दो=तावत (तक)
दोवािवत्=तावत् भवित(जोड़ना), =ि अवित=Two add
दो बु दत=तावत् बु यित (जागना)

दोगोबोर=दगवार (समझौता)

दोदात्=ददाित(जोड़ना, बढ़ाना)

दोएदात्=तावत् अि (खा डालना)

दोएिनये=दुहित (दुहना)
दो द=दुहित (बरसना)
दोिझ(बा)त्=तावत् जीवित (तबतक जीना)
दो वोिन या=तावद् वनित= ार पर विन करना
दो न(वा) या=तावत् जानाित (जानना, चाहना)
दोइत=दुहित(दुहना)
दो ज़ाता=तावत् काशित= काश करना
दोि गइ=दीघ
दोिलना, दिलना = ोणी, उप यका (दून)
दोम =दम (घर)
दो का=दुिहता (पु ी)
दात्=दरित (चीरना)
ोवा=दा (इ धन, लकड़ी)
दुनत्=दुन ित (कु प होना)
दम=धूम (धुंआ)
या या=दादा (चाचा, मामा)
एदोक् , एदक् =आदक=भ क

दोइिनक=दुहिनक=दुहनी बतन
दोकु दा=कु तावत्(कहाँ तक)
दोलेये= ाघीय (दीघतर)
दो शे= घीयस (दूरतर)
दो ा=धूमक (भ ा)
ाि नत् = ासयित(डराना)
ात् या=दरित (लड़ना)
दुनुत=
् धुनोित(फूं कना, हवा देना)
दुन इ=दुर् (बुरा)
दरा=दरी (िछ चीर)
एदा=अद्=भोजन
एझेगोहिनक=एकवा षक (वष प )

एझेदेकाद् नो=एकै कदश दन= ित दश दन
एझेनेदल
े िनक= एकै क स ाह= ित स ाह

ए त=अि =खाना (eat, is)

ए म=अि म = am ( )ँ

ए =अ ोित=खाता है

ए मे वो=अि म व= वभाव,

ए त् =अि =खाना

एखात्=एषित (हटाना, चढ़ना, जाना)

झार= वल=जलन, तपन

झारा= वाला=तपन, गम
झरे िनये= वलन, भूँजना, तलना, (charr, jarring) ार
झरे ि इ= विलत (जली, तली)

झार कइ= वालक (गरम, मु तैद)

झे=िह ( क तु, और)

झेवािनये=चवण (चबाना)

झयोलतेि कइ=ह र क=पीला सा
झेना=जिन ( ी)
झेिन वा=जिनत ( याह)

झेलतेत्=ह रतायित (पीला करना)
झेिनत=जनीयित( याह करना)
झेिनक् =जिनक (वर)

झेयो का=जिनका, वधू
झेि किय=जिनका-मेह रया

झेनो युिविवइ=जिनलोभी= ी म
े ी
झेन् ि ना=जिन= ी

झेर् वा= वल व=य

झेच्=द , ध , दाग=जलाना

िझन्=जीव=जीना, िज दा

िझिवतेल् िनइ=जीवियतर=जीना

िझवोइ=जीव=सजीव

िझवोत् ये=जीव त( ाणी, पशु)

िझविचक=जीवक=जीना

िझजन=जीवन (िज दगी)

िझिल स=जीव थ=िनवास थान (िजला)

िझलोइ=जीवन=वसन, वास

िझतेल्=जीिवतर्=रहने वाला

िझितये =जीवन=जीवन च र

िझबु=जीवित=जीिवत रहना

जा=प ात्, आ, ता (बाद, आगे)

ज़ा िवरात् =आभरित=ले जाना
ज़ा िसवात्=आ श
ं ित (फकना)
ज़ा वोसत्=आ श
ं ित=फकना
ज़ा वर् नोइ=आवा रत =उबाला
ज़ा वेतत्( या)=आव ित (घूमना फरना)

ज़ा बो तात्=आबो लित=ब त बोलना
ज़ा ा या=आभरित=ले जाना
ज़ा िववात्= आभवित=भूलना
ज़ा वेदन
े ये=आवेदना=उ िश णालय
ज़ा िवदेत्=आिवदित-देखना

ज़ावािजत्=आवहित=ले जाना, ख च ले जाना
ज़ा

का=आब धन(ब धन)

ज़ा ािज़वात्=आब धित(बा धना)

ज़ागार=आ वल=धूप म जला

ज़ा वािलये=जा व यमान्=उपािध, पदवी

ज़ागोरािनये=आ वालन=आतप-त , भूरा

ज़ागोरे ि इ=आ वल=धूप म जला

ज़ा दाचा=आदान-सम या

ज़ादोतोक् =आद , आधत-रखना, िनिध

ज़ा ात्=आदरित-चीर कर खाना(भेिड़या क तरह)
ज़ा एदात्=प ात् अि =पीछे खाना
ज़ा िझवािनये=प ात् जीवन=घाव भरना
ज़ा िझवो=यावत् जीवन=जीवन भर
ज़ा िझगा का=आ वलक-िसगरे ट जलावक (लाइटर)
ज़ा काज्= या काय =आ ा
ज़ाकोनोदातेल=धातर्, दाता, दातर्=िवधाता, दाता, क ा
ज़ाल्=शाल=हाल
ज़ािलजा=आिलहित-चाटना

ज़ाला=शाला
ज़ािनयात्=आजानाित-पढ़ना

ज़ामेन=आमरण-मृत, मरा

ज़ामो रन्=आमरित-भूखे मरना

ज़ा ओ लाि नइ=आ-अ क=बादल से परे

ज़ा पद=प ात् पद=पि म

ज़ा िपस्=आिपश्-अिभलेख

ज़ापोवेद=आ वेद-आ ा, िविध

ज़ा ास्=आपृ छ-पूछना
ज़ादेज्(इवा)त् = आ रहित, आरे वित-हनन करना
ज़ारे का या=आरे चित- यागना
ज़ा स का=आसीदना-बैठाना, बीज बोना
ज़ा सुखा=आशु क-सूखा, जल-अकाल

ज़ा सवात्=आस मित-कु ठार से गढ़ना
ज़ा वेितत्=आ ेतित- काश करना
ज़ासुशे तेइ=आशु का त-सुखाना, सूख गया

ज़ा िसखात्=आशोषयित-सूख जाना
ज़ा ते मेिनये=आतपना-अ धकार करना

ज़ा ति वात्=आतपित-आग जलाना
ज़ा ितखात्=आतु यित-शा त होना

ज़ा तोिपत्=तोपना(भोजपुरी)=ढंकना, जहाज डु बाना
ज़ा नुमािनत् या=आधूमित=अ धेरा होना
ज़ा िशयेत्=आशयते-िससकारना

ज़ा तुखािनये=आतोषयित-बुझाना
वािनइ= वनीय-पुकारा गया

वेनेत, वोिनत= वनित-घ टी बजाना

वोनोक= वनक-घ टी

जेबात्=ज भित-ज हाई लेना

ज़े नेत्=ह रतायित-ह रत होना

जेले ोइ, जे योिनइ=िहर य-हरा

जेलेन=ह रत-ज़द,हरा

जे लेदेिनये=भूिम ान-भूगोल

जे या= या, भूिम

जे याक= याक् -देशभाई
जे यािनका, जे या का= मािलका- Strawberry
जे ोवोदिनइ= मोदक य-जल थल का जीव
जे ोइ= मानीय=भूमीय
िज़मा=िहमा-जाड़ा ऋतु
िजमोवािनये, िजमो का=िहमावना-जाड़ा िबताना
िजमोई=िहमीय-जाड़ा, हेम त

लातो=ह रत-सोना

ि लत=हेित-िसहराना, िचढ़ना

नाक वात्=जानाित-जानना

नाक= ानक-िच न

नाकोिपत्-जनापेत-े पि म करना

नाकोम्

नाको या=जानक-पि म

यो=जानक व-पि म, ान

नामेिननो त- ाित - िसि

नामेनोवात्-जानापेित- दखलाना, िस

नात् िनइ= ात, िस

नात् नो त-जातीय व, कु लीनता, साम तता

नातोक् = ाता-जज, िवशेष

नात्=जानाित-जानना

नाचेिनय-जनाना (मह व अथ)

नािचनेल= ातर-जानने वाला

नािचतेलनो त्= ातृ व(मह व)

नािचत्-जानाित-जानना, अथ लेना

ज़ोव् हव=बहवः, आवाहय- कार, िनम ण
ज़ोलोना-ह रत, ज़द(फ़ारसी)-सोना (Gold)
ज़ोलोतोइ=ह रतीय-( वण मु ा)-Zloti, Guilder-currencies
जुब=
् िज वा-जबान, दांत
यात्=दायाद-दायाद

जुबोक् =िजअक् -छोटा दांत
इ=च,अ, और अिप

इवो=इव-जैस,े िलए

इगो=युग-जुआ

इि त=एि -आना, जाना

इज़्=अत्,अज् (से)

इज ािनये= आवरण-चुनाव
इज ात्=आ-वरित=चुनना
इज़ दवात्-आ ुित= काशन
इज़ दािनये=आदान-सं करण
इकात्=िह ित-िहच कचाना
इस् पोल् नेिनये=आपूणना-पूरा करना
इस् पोल् िनतेल=आपूणािपतः=पूरा कराने वाला

करना

इस् ाझेिनये=अपरा जपना-दोष, खाली करना
इस् ािशवात्=आपृ छित-मांगना, पूछना
इस् यकात् = आिस ित = सकना, सुखा देना
इस् तोिपन= त ध-तोपना (भोजपुरी) -Estoppel
इतक, इितक=ऐसे-तैस,े और

इि =एित-जाना, चलना

इख़=इसका

क=को-से, िलए, ित

कजात् या=का यते- कािशत होना, दखाई पड़ना
काक् =कथं-िभ िवचार होना

कनोव=क दन- लाई

करात्=खरयित-द ड देना, सांसत देना (कराट=हाथी, कर लेने वाला)
कोये=कहाँ, कही ँ पर

के मु=के न- कसके ारा
कोझा=कोण=चमड़ा

कोई=कः-कौन

कोमु (कमु)-कम्- कसको

कोलेसो-च -चखा, पिहया

कपािनये=कांपना, खोदना

कोिपत=गोपयित-र ा, िछपाना

कोरोचे= ु -ख़द (जरा)

कोचान्=गु छ-गोभी फू ल

िसत्=कृ षित-अलंकार करना, सजाना, िचि त करना।
े ्=कृ णोित=लाल करना

चात्= ोशित-िच लाना

ा= सित-चुराना
ोव्=
- िधर

ोइका=कृ तत-काट डालना

ु ग्=च (चख-फ़ारसी), गोल

ु िझत् या=च यते=च र काटना
त्=कृ ती-ढांकना

ु झोक् =च क-वृ
ो=कतर(कौन)

कु वोक् =कु भक. कु पक- याला, लास।

कु विशइ=कू िपका-लोटा

कु दा=कदा-कहाँ

कु का=कु ा

कु सात्=कु स-काटना

कु चा=गु छ-समूह, ढेर

कु का=गु छक-छोटी ढेरी
लािज़त्=लंघित-लांघना
योग कइ=लघुक (हलका, आसान), यक्

कु शात= सित=खाना
यय

लेग् को=लघुक (हलका, आसान),

ले चे=लघीयस- यादा आसान

लेझात्=लेटना
योत्=उयित=उड़ना
लेवो=ऋतु- ी म
िलजात्-िल ात्-चाटना

ले यियका=लेटक-आलसी
लेतात्=उयित-उड़ना
िलजािनये=लेहनीय-चाटना

िलप् कइ=लेपक -लगाना, िचपकाना, उलझाना।
िलपनुत=
् िलपित-लगाना, िचपकाना
लेिबजात्= लेपित-चूमना

लेबजािनये=लेपित-चूमना

लोिवत् (लिवज्)=लोभित, लु धक=फं साना, िशकार करना।
लोबु का=लोभका=जाल, फं साव।

लोबिचइ=लोिभक, लु धक-िशकारी

लो का=रोधक=नाव

लो द=

लोिझत् या=लोटत्=लोटना, िगरना।

लो या=लोपत्=लोप, तोड़ना, फोड़ना

लुच=रोिचः= करण(Look)

(लदभेसर्, आलसी)

लुच् शे=रोचीय=बेहतर

युिबतेल=लेिभतर=कु ा िशकारी।

युिवत्=लोभित= यार करना

युवोव्=लोभ, लभ= यार (Love)

युवोि क् =लोिभक-ि य, ेमी

यु ि इ=लोभीय= ेमी।

युद=
् रोध= याग देना

माज़व (मा वुत्)=माषत्=माखना, मांजना।

म लो=म का=म खन

मा का=मातृका=माता,

मातु का=मातृका=माता

मात्=माता

मख़ात्=मंहित,िमहित=म खन िहलाना

योद्=मधुर=शहद

योद् वेद=
् म वद=भालू

मे क् =ता बे का (मधु रं ग)

मेदोि क् =मा वीक=अमृतीय, मधुर

म दोक=मधूक=अमृत, म दरा।

मेद=
् मधु=ता बा

मेझ=म य=बीच म
मेरेत्=मरित=मरना
मे य स=मास=चा

मे दा=मे=मुझे
योद् ि विम=मृत=मरा
मास।

मेितत=मित=िच न करना, ल य करना

मेशात्=िम यित=िम ण करना।

िमगािनये=मलकाना

मीलो त=मेल-कृ पा, अनुक पा।

मीलो का=िमलक=मेली, ि य।

मीितइ=मै ी, िमताई।

े=मे-मुझे।

ेिनये=मनन-िवचार,मनन।

ि त्=मनुते=सोचना

ोगो=महा=ब त बड़ा।

ोइ,

मोगूवे त=मह व, मंिह -शि ।

ोवु=मया-मेरे ारा।

मोगूिचइ=महान् सि शाली

मोयो, मोई=मे=मेरा।
मोइक, मोइत=मोिचत=धोना (मोइन-भोजपुरी)
मोलिनया, मलिनया=मािलनी-िव ुत,् मेघ क ।
मो त्=मदित-पीसना
मो रत=मरत-भूखे मरना
मोिचत्=मेहित= भगोना, नम करना।

मोलो वा=मदन-दबाना
मोचा=मु -पेशाब
मूझ=मनु य, पित

मुराय=मेर्-मूर (फ़ारसी)-च टी भ क ।

मुवा=म ी-म ल(फ़ारसी)-म खी

मु का=म स-म खी

मी=मे-हम, We

िमत्=मोइत्-धोना ।

िम का,िमश=मूषक-चूहा, mice.

यासो=मांस

यत्=मथित-मथना

ने,िन=प र=ऊपर, ार ।

ने वेग=िनवेग-दौड़ना, आ मण

न वेलो=न अिवल=प रशु , साफ़ (न अिलया-ओिड़या)
न वोद्=िनवार-एक करना ।

ने वेश,् न िवशास्-िनवेशयित-टांगना

ने वेिजत्=िनवहित-ले जाना।

नािगशोम्, नगेइ=न , नंगा ।

ज्(इव)आत्=िनब धित-बा धना

नगोलो, न लाल-नंगा-Naked

नगोवत्=िन वलित-जलना ।

नरे गो=िनिग र-िग रवर

न वीत=िनगृभीित-लूट लेना,Engrabb

नाद्=प र, उप र-ऊपर

नादो गो=िनदीघ-िचर काल से ।

ना एखात-िनएषित-आना

न िझनात्=िनिछनित-फ़सल काटना ।

न काज=िनकाश=शासन-त , आ ा

न लगात्=िनलगत=ऊपर रखना, लागू करना।

न लेगात्=िनलगत=आि त होना

न लेिपत=िनिल पित=िचपकाना, लेपना ।

नािम=नः=हमारे ारा ।

न पदेिनये=िनपातना=आ मण।

न पेकात्=िनपचित-पकाना, भूनना

न िपवा या=िनिपवित=पीना ।
निपतोक=िनपीतक=पान ।
न पोलनेिनये=िनपूणता-पूरा करना ।

न िपरात्=िनपीडयित=दबाना
न पोकाज=िन काश- दखाने के िलए

न पो लेदोक् , न प लेदक् =िनप ातन=पीछे, अ त म।
न रोद्=िनरोध=जनता ।

नोस्, नस्=नािसका, Nose

नसा दत्, न दात्=िनसादयित=रोपना।

न से का=िनषीदका=बैठक

न सेदािनये=िनषीदका य=ब त लोग का बैठका ।
न ि ल का=िन ूषका=सुनना ।
न यखा या=िन यपित=हंसना
न ािवत्=िन थापयित=रखना ।
नासुख=िनःशु क=सूखा
नश्=नः=हमारा ।
ने=न=नह
ने लागो ि यि इ = न भगि य तु =अशुभ, अननुकूल ।
न वेदेिनये=न वेदना=अिव ा, अ ान ।

ने वीदल=न िवत=न देखा, अ भुत्

ने दान्अकु =कह नह ।

नेपोच् तेिनए=न पूजन=अस मान

ने ि यातेल=न ि यतर=अिम , श ु ।

ने ि य =न ि य=अि य

ने ोव क् =न बोधक=िव ुत् कु चालक ।

ने ोशेि इ=न

नेसवेदिु इ=न वेदनीय=अ ।

ने सो नातेल=न सं ातर=अचेतन, अनिभ

नेि त=नेषित=ले जाना, ढोना।

नेत,् ने ो=नेित=नह

िन दे=न कु =कह नह ।

िनझैिशइ=नीचीयस=ब त छोटा, ब त नीच

िनझे=नीचैस=
् नीचे ।
िनज कइ= नीच= नीचे

िनझ् =नीच= सबसे नीचे
िझिनिनइ=नीचीय=नीचे का

िनज़ात = न हित = बा धना ।

िनज़ीनो=नीचीय=िन

िनज़ कइ= नीचक=नीचा, छोटा।

िनजो त= नीच व= नीचता

ीय=िबना पूछा

थान, नीचे

िनकोक् =न कथं= कस् तरह नह ।
िनस्=िनस्=नह ।
नो =नु= क तु ।

िनक् कोई=नकः= कोई नह
िनस् पदात्= िनपतित= िगरना
नोनेइिशइ= नवीयस= नवीनतम

नोवो(नवो)=नव=आधुिनक

नोवो त्=नव व=समाचार News

नोगोत्=नख, नर

नोस्=नस्=नासा (नाक)

नोिजक=नािसका=नाक

नोिसतेल=ने र=ले जानेवाला

नोिसत्=नेषित=ले जाना, ढोना ।

नोसोरोग =नासाशृ ग=गै डा

नीचे का=िनशीिथका=रात को रहना ।

नोच् = िनशा = रात

नु (नु)=सचमुच, हाँ, य ?

नुतेरा=अ तर= अ दर, भीतर

ओ=अ = िनषेध ।
ओवा= उभौ= दोनो (अिभः)
ओव् िव िततेल= अिभिवनेतर = आरोप लगाने वाला (वादी)
ओव िवनत्= अिभिवनेित = दोषारोपण करनेवाला (वादी)
ओव् िवसात्= अिभिवशित= लटकाना ।
ओवे= उभे = दोन
ओव् एद्= अिभ अद्= भोजन ।
ओव् िझगािनये=अिभजागरण=जगाना
ओबलक=अ क =अ (फ़ारसी)=बादल ।
ओबोरोना= र ाथ यु ।
ओबोरो यत् = अिभ जित = फटकारना, रगाना, गाली देना।
ओब गात्=अिभ जित = रगाना
ओब सािसवात्= अिभचूषित= वर के साथ पीना।
ओब लुिझवात्=अिभ ूषित= सेवा करना।

ओवेन्=अिव=मेष, भड़

ओव िचिय=अिवशावक =भड़ का ब ा ।
ओ े =अि = आग
ओ े लुझेिनये=अि ूषण=अि पूजा ।
ओगो = अहो ।
ओ दन = आ द = एक।

ओ का =अिवका=भड़ी
ओ ेिवद् िनइ=अि िवध=आग जैसा
ओ े तुिशतेल=अि तो र=आग बुझानेवाला
ओगो येक=अि क = काश
ओदनो=आ द=एक बार

ओिझवान्=आजीवित= फर िजलाना।

ओझोर्=आ वर=अंजोर, जलाना

ओको=अि =आंख, Ocule

ओलेन=ह रण

ओन (एषत्), ओना (एषा), ओनो (एनत्) = वह ।
ओिपवा या=आपीयते=पी पी कर अपने को मारना ।
ओ यत्=अिभिपवत्= पीया।
ओप पामैिनये=आपीवना=शराब पीना।
ओसोदा= आसाद=दुगब करना ।
ओ वेितत्=आ ेितत= काश करना
ओ लुशािनये=अव ूषणा= आ ा न मानना ।
ओि लशा या = अव ूषित = ठीक न सुनना ।
ओ मेिनवात्=आ मयत् =प रहास करना।
ओस्= अ =धुरा
ओि मनोग= अ नख = (अठपैरा)
ओत्= आत् = से
अत् वेचत्= उद् वचित= उ र देना ।
ओत् जात्=उद् ब धित=ब धन खोलना
ओत् दािनये=उद् दान= ितदान ।
ओत् िझवात् = अ-जीवित= मर जाना ।

ओ योिसवात्= आत ित = गढ़ना, प थर काटना
ओत् कज़ात् = ितकथयित=इ कार करना

ओत् कु रा= अत कु रा=कहाँ से ?

ओत् िमरािनये=उत् मरण=मर जाना

ओतो =आत् = से
ओत् पदात्= आपतित = िगर जाना
ओत् रझात् = आराजते= ितिबि बत करना ।
ओत् तोिचत्=उत् ती णित= तेज करना ।
ओत् तुदर् = ततः= वहाँ से
ओख = अहा
ओखोता=आखेट=िशकार
ओचरोवािनये =आ य वान्=जादू या चम कार से होना ।
ओिच= अि =आंख
पा=पाद = पग
पदात् = पतित= िगरना
पदेिनये =पतना=िगरावट
पाई=पाद =भाग ( पया का भाग)
पल् का=फलक=ड डा
पाद =वा प =भाप ।

परे िनये= परायणा= पलाना, भागना

पा तुख=पातुक=मेषपाल
पख़ात्= कषात् =जुती भूिम ।

पतेर= िपतर= िपता
पेना= फे न

पेर िवइ=पूव य = पूव, पहला।

पेरे िवरा ( ा)त्=प रभ(ह)रित=हटाना

पेरेवोिजत= प रवहित=ढोना
पेरेि जोत्=प र सित= काट डालना ।
पेरे एदात्= अि = ब त खाना ।

पेरे का=प रब ध=घेरा
पेरेदेल्=प रदलन=पुनः िवभाजन
पेरे िजवािनये=प र जीवना= अनुभव

पेरे झोग्= जाग्= ब त गमाना, दीप जलाना ।
पेरे लेजात्= लपते=उप थापना ।
पेरे ि लवात्=प र लवित=तैर जाना ।
पेरे त् ये= पथ=चौरा ता।

पेरे पइवात्= िपवित=पीकर म होना
पेरे पोइत= िपवित=पीकर म होना
पेरेरो दत्= रोहित=पुनः जीिवत करना

पेरे बात्= लु यित=काटना, मारना ।
पेरे प

पेरे सीदेत्= सीदित=बैठ जाना

=पर, पंख=लेखनी ।

पेचे िन (न्) ये= पाचन = पकाना

पे दा=पाचक=चू हा ।
िपवनया=िपविनया=म

पेच् =पच्= भूनना, तलना, झुलसना
शाला ।

पीवा=िप = हलक शराब

पीला (प पूल लवनपवनयोः-धातुपाठ १०/३०६) =आरा।

पीिलत=चीरना Peel

िपसािनये=िपश (वेद,े दी ौ-धातु पाठ ६/१४६), िपिज (भासाथः भाषाथ वा १०/२२३)= िलखना।
िपसातेल =ऊपर के धातु अथ म िपशातृ =लेखक।
िपत्=पीित=पीना ।
लाव्(िव)त्= लवित=तैरना, Float

िपसात्=िपशित =िलखना
लवािनये= लवन =तैराक
लावे स= लावक=तैराक, Flotilla

लोद= पृ पालन पूरणयोः(धातुपाठ ३/४), फल िन प ौ (१/३५७)=स तान
पो= , प र= ारा, ऊपर, भीतर को।

पोवेग = वेग =भागना

पोवेझात्= वेजित =भागना ।

पोब्(िब)रात्= भ(ह)रत्=ले जाना

पोबु दतेल= बोिधतर्=भड़कानेवाला ।

पोबुदीज्= बोधित =भड़काना, उ ेिजत करना

पो वेदेिनये= वेदना= वृि =चाल ढाल।

पो वेिसत्= िवशित=घुसना

पो ो तवािनये= वतना=घुमाना ।

पोवो का= वहका=प रवहन, यान

पो

जका= -ब धक =िसर ब द।

ोगोलोि इ= -गोल-नय=सरदार

पोद्=पद=अ तर, नीचे ।

पोदवात्, पोदतीत्= दाित, देना, भट देना

पोदारोक= दारक=भट

पोदात्= दाित=कर देना

पोदाचा= दाक=देना, सेवा ।

पोद् वो या=पद उदीय=उ पद

पोद्

का=पद ब धक (मोजा)।

पो दरात्= दरित=चीरना, फाड़ना ।

ोद् झा रत= जा रत=तलना।
पो तिचवात्= ती णित=तेज करना, धार लगाना

पोदुनत्= दुनित=कु प होना ।
ो एज् दत्= एित=चलना, फरना।
पो िझरात्= जीयित=खा डालना ।
पो झे = िह=न करना ।
पोइ त=िपवित=पीना ।
पोकाज़्= काश= दखलाना ।
पोकु शात्= कु णाित=कोिशस करना ।
पोल् नो=पून=पूणतया भरा ।

पो ए द = एत्= ेन
पोझारिनइ=

पो यो िववात्= ज भित=ज भाई लेना।
पो न(वा) िनये= ानवान्
पोइित= एित=जाना
पोकजािनये= य जाननेवाला=गवाही
पोल् नेत=
् पूणित=भरना, पूरा करना
पोल् नोवोद् िनइ=पूण दनी =गहरी नदी

पोल् नो यु, पोल् नोता=पूण व ।
पोमाजोक = माजक = झाड़ श।
पोनीझे= नीचैः=कु छ नीचे ।

वारिनक=आग बुझाने वाला

पोमजात्= माजित=तेल लगाना
पोमे य नो = ित मास
पो पदािनये= पतना=िगराना

पो लवाक् = लावक=ितरानेवाला, काग (Cork)
पो पोइत् = पायित=घोड़ को िपलाना।
पो ोिसत्= पृ छित=पूछना ।

पोपोइका= पाियका= पा नौका (पाल)
पोराझेिनये, पोरझात्=पराजय

पो रे ज= रह =रे ज-काटना, घायल करना।
पो रोदा= रोह=स तान, ज म, िधर (Produce, blood)
पो रोझदात्= रोहित=ज म लेना।
पोसीदेत=
् सीदित=थोड़ा बैठना।
पो लेद ् िनइ=प ात् नय = िपछला।
पो लुशािनये=

पो सा दत= सादयित=बैठाना
पो ले =प ात्=पस् (फ़ारसी)
पो लेदोवातेल=प ात् धािवतर्=अनुगामी

ूषणा= आ ाका रता, तप या ।

पो मेनिनइ=प ात् मरण=अ य परी ा (Post mortem)
पो मेिशत्= यपत्=हंसाना । पो यात्= विपित=थोड़ा सोना
पो तािवत= तावयित=रखना, उपि थत करना,

ताव देना।

पोसुखु= शु क, खु क़ (फ़ारसी)=सूखा।
पो तुखािनये ( तोषण), पो तुिशनत् ( तुषित)=बुझाना ।
पोिचतात् = पूजित=स मान करना।
पोच् तोि इ=पूजनीय-माननीय ।
= =महा

पोिचिनत्= िचनोित=मर मत करना
पोिश का= सी क=िसलाई
ो िवलो= भूत= बल

िवतेल= बिवतर=शासक ।

ािवतेल्

वो= भिवतृ व =रा य, सरकार।

ावो= भु=कानून, अिधकार ।

ावोवेद= भुवेद=कानूनदाँ

देअद, देद ु का=परदादा

मातेर्= मातर्=जग माता

रो दतेल= रोिधतर=पु खा, वंशिपता। ेदातेल= ितघातर्=देश ोही, िव ासघाती
ेद(् वे)िवदेिनये= ा वेदना= पहले जानना, भिव य द शता।
ेद् गोरये= ितिग र=पहाड़ का मूल ।
ेद् सेदातेल=
् सी दतर्= सीद त, ेिसडे ट, President
ेद् कजािनये= ाक् कथन=भिव यवाणी।
ेझ् दे= ाग् दा=पूवतः।

े ् गदात्= ाक् गदित=दूरद शता

ि =

ि िवगात्= वेजित-ले जाना, करने वाला।

ि वेझात्= वेजित=दौड़ना

ि वोज़= वह=जाना ।

ि नाक् =

ि

ि काज्= कथ=आ ा

नािनये= जानना= वीकार करना।

क=िच न, सूचना।

ि नु दत्= नुदित= वीकार करना।

ि नाितये= नीित= वीकार, वागत

ि रोपादोक= पातक=आ मण ।

ि रोद् = रोह= कृ ित।

ि रो त= रोत=उगना, बढ़ना।

ि

ि सो का= चू(शो)षक=चूसनेवाला ।
ि यनुत्= तनोित=तानना।
ि यातेल=
् ि यातर=िम ।

चात्= रोचित=पालतू बनाना।
ि िसतात्= ेषयित=भेजता है।
ि िचतािनये= िचतना= शोक करना
ि याि इ=ि य ु=ि य

ो= =िलये, के ।

ोवेग = वेग=दौड़ना

ो लोक् =

ोबु दत्= बु यित=जागना, उठाना

ाज= काश ।

ोवोज्= वह=शकट, भारढोने क गाड़ी।

ोदपात्= दापयित=बेचना

ोदाझ= दाक=बेची, िव य ।

ोदाि इ= द =िबका ।

ो दरात्= दरित=िचराना ।

ो ोवेदिनक=

ोिसत्=पृ छित=पूछना, मांगना ।

ोितव् = तीप=िव

ोिचनात्= िच तयित=पढ़ना

ोच्= ाच्=दूर दूर जाना(Ap-proach =िनकट आना)

ो-िश(वा)त् = सी ित=सीना
ि क=पिथक=या ी (Sputnic)
तेशेि सये=पिथक व=या ा
पुन् यािन सा=पानका=मदम ा
िपशात्= पशित= काशना
यात् ना

वेदिनक=उपदेशक

सत्=प दश=प ह (१५)

यातया=प तय=पांचवा

ो- ोये=प ा=िपछला
योका=पथीियका=या ा
त्=पथ=माग, सड़क
यािन वो=पानक व=म ता
यातोक् =पंचक=पांच
यातो, यत्=प =पांच
यत् दे यत्=प -दशाः=पचास (५०)

राब्=रवित (सदा काय करने वाला)=दास।

रवोता=रौता= म से जीिवका, मजदूर

राद्, राध्= ाद, लाद= स

रादोवात्= लादित=ह षत होना

रादो त= ला द व=खुशी

राझ=राग = ोध

राज़, रास्= ित, िवर्, िबना, दुर् (उपसग)

रज् वेग्= वेग=दौड़ना

रज् बोर्=वर चुनना, बांटना
रज् वेदका=वेदका=खोजना
रइ=रै = वग

रज्

दत=बु यित=जागना

रज् वेद ् िचक् =वेदक=ढू ंढ़नेवाला, Scout
रन्=रण=घाव

रि त=रोहित=उगना, बढ़ना

रत् िनक् =राित=यो ा

रत्= ात्=सेना

र् देिनये=रोहणता=लालपना, रोब

रे

र् दोव्=रव=शेर का गजन

ोनक=ऋभुक्=लड़का

रे वेत्=रवित=शोर करना

रे ज़िनक=रे तक, रहक=कसाई

रे का=रे खा, लेखा=नदी

रे च=ऋक् =भाषण

रसो का=लेख, रे ख,=रे खांकन

रोग्=रोध्=प रवार, वंश

रो दना=रोिधनी, रोिहणी=ज मभूिम।

रो दतेिल=रो दतर=मातािपता

रो दत्=रोहित=पैदा करना, ज म देना (फ़ारसी-रोइदम्)
रोझात्, रोझ् दात्, रो द या= रोधित= सव करना
रोझ् देिनये=रोहणा=ज म ।
रो त्=रोह=वृि ।

रोझोक् = शृ गक=छोटी स ग
का= भका=काटना

गात्= रगाना,गाली देना, िचढना, शाप देना ।
िसइ=ऋिष= पगल,

ेत।

रिझइ=रोह, लोह=लाल ।

रदात्=रोहित=रोना, िससकना
रचात्=ऋचित=शोर करना, िच लाना

स्, स=सम् उपसग (सह, िलये, से, ऊपर)

सद्=सद्=उ ान

स दत् या, सझात्=सीदित=बैठना

साम्= वयं

सामो-वार्= वयं वाल=समावर, चू हा।

सामो लेत= वयं उयन=िवमान

सािनइ= वयं

साखर=शकरा

स् वेगात्=सवेगित=दौड़ जाना
स् वेदेिनये= स वेदना= ात, सूचना
ोकोर्= सुर-ससुर
स् वेख= वग=ऊपर

स् बोर=संवर, स भर=सभा
स् वेदेि इ=सि व स=िव ान्, िनपुण
वे ोिव=

ू=सास

वेत=
् ेत=सफ़े द, संसार, काश

वेतत्, वेितत्= ेतित= काशना ।

वेत् लो= ेतल= काशमान

वेतोच्= ेतक मशाल, दीपक

स् िवदािनय=संिवदना=िमलना

स् िवदेतेल्=स वेतर्=गवाह।
वोइ
स्

वो= वीय व=गुण, अपनापन ।
का=स वधक=म ा

सेव,े से ा= वीये=अपने िलए
सेदेत\् ेतित=बाल सफ़े द होना

वेयो,

ोइ= वीय=अपना

वोयाक् = वीयक=बहनोई
स ज्=स ब ध=ब धना
सेगो या= वक् दन=आज
सेइ, िसया, िसयो=स=वह

सेिपसोितइ=स शती= सात सौ

सेम-् ना- सत्=स दश (सात ऊपर दस) १७

सेम=
् स =सात, ७

सेम् दे यत्=स दशत्=स ासी ८७

सेम् सोत्=स सत= सात सौ ७००

सेर् दे से= द् त्= दय

से ा= वसर=बहन

स स्=सीदित=बैठता है=Sits

िसदेन्=सीदना=बैठना
कज्=संकथा=कहानी
स् क का=सकथका= कहानी

सीला=शील=बल
कजात्=संकथयित=कहना
स् कु चात्=संकुचित=उदास होना

लवा= व=यस

लािवत= वित=यश बखानना, ोक करना

लाविनइ= वणीय=यश वी
लुगा= ूषक=सेवक

ले का= संलघुक=ह का
लुझान् का= ूषिणका=सेिवका

लुझ् बा= ूषणा=सेवा करना, काम करना।

लुिझत्= ूषित=सेवा, काम-काज

लुख= ूषा=सुनना, कान

लुशािनये= ूषणा=सुनना

लु(ि ल)शात्= ष
ू ित=सुनना
स् मेत्=सं म = मृ यु

स् मेझा(िझ)त्=सं मेचित=आंख म चना
स् मेल्=सं िमश्=िम ण करना

मेख्=ि मत=हंसना

मेपा या= मपित=हंसना, मुसकाना

ेग्= ेह=िहम, बफ़-(Snow)
ोखा= ुषा=नोह, पु वधू
सोवाका= क् =कु ा

ोवा=संजव=नया, ताजा
सो=सम= स (उपसग)
सो िवरिनये=संहरण=सभा एक होना।

सोवेत्=संवत
े =सभा, म णा-Soviet

सोिवरात्=संहरित=एक करना

सोवेि क=संवेतक= परामश दाता, सभासद, Counciller
सोव् पद स पतित=स पि , एक साथ पड़ना
सो नाितये=संजनना=चेतना, ान, वीकार
सो नातेल=सं ातर=जाननेवाला।
सोल् से= सूय
सोन्= व
सोराि क् =सं आराितक=सहयो ा

सो इित=सं एित=जाना
सो लेिनये=संमनता=स देह
सोि क= व क= योितषी( व का फल कहनेवाला)
सोसािनये=चूषणा=चूसना

सोसेद=
् संसद=साथ रहनेवाला, पड़ोसी (ह सद्-फ़ारसी)
सोसोक् =चूषक= तन का मुख

सो ताव=सं ताव=जोड़ना, गुंफना

सो तोपािनये=सं थापना=ि थित, अव था।

सोसूक्=रोक् =चूषा=चूसना, तन पीना

सोत्=शत=सौ

सोितइ=सतीय=सौवाँ

सोख़नत्=शु णित=सूखना

स् पदािनये=सं पतना=िगरावट, पतन

स् पोहवत्=सं पायपित=मदम होना
पािनयो= वपना=सुलाई, सोना
स् य का= वपका=नी द

पान् या= व ालय=शयनगृह
पात्= विपित=सोना
म=आ यम्(ल ा)-शम-फ़ारसी Shame

ेद=
् द्, द्=म य

ेद् वो=

तािवत= थापयित-रखना ( तािवत)।

व=म यता

तान्= थान=कै प, आकार

तानोिवत्= थानयित=रखना
तािन या= थानका= टेशन
तो=शत=सौ
तोइ= थािह=ठहर

तानोक् = थानक=बे च
स् योिसवात्=संत ित=काटना
तोइत्=ि थित=ठहरना
तो कइ= थायुक य=दृढ़

तोल्= थल थाने (धातुपाठ १/५७७)-टेबुल Stool
तोयािनयो= थािन=खड़ा होना

तोयात्= थायित=खड़ा होना

स् ाख़=सं ास=भय, लड़ाई

स् ािशत्=सं

यित=आतं कत होना

स् शािनये=सं ासना=डराना

सुदार् या=सु-दारा=मिहला

सुदा=सु-दान्=भ पु ष

सुत=
् सत्=स , सार

सोखो=शु क-सूखा

सोखोवेई=शु कवायु=सूखा, सूखी हवा

सुखोपुत् िनइ=शु क पथ= थल माग
सुशा=शु क=सूखी भूिम
सुशेिनये=शोषणा=सुखाई

सुखोसव=शु क व=सुखाव
सुशे=शु क यस्=अिधकतर सूखा
सुिशत्=शु यित=सूखना

सु का=शु का=सूखना

सूप=सूप=मांस रस Soup

स् िचतात्=संिचतित=िगनना

िसन्=सूनु=पु Son

स् युदा=इह, इध=यहाँ

यक् =एताहक् =ऐसा

यम्=त =वहाँ

ता=सा=वह She

तोत्=तत्, एतत्=वह That
तइत्= यित=िछपाना, शाप देना

तो=तद्=वह
तइना=तायना=रह य भेद

ताक् =त त्=ऐसा

ताक् झे=त एक िह=भी ही

वोइ, वोया, वोयो= वदीय=तेरा ।

तेमनेत=
् तम यित=अ धेरा करना

ते ो=तमस्=अ धेरा, अ प

तेप् लेत्=तप(ल)ित=गम होना

तेप् लो=तपल=गम

तेप लोता=तप-लता=फ़ै लती आँच

तेर् जािनये=तजना=सताना, चीरना ।

तेसािनये=त ण=काटना, फोड़ना

तेसात्=त ित=काटना

तेसिनत्=ती णोित=दबाना, गारना

तोितवा=त तुव=धनुष क डोरी
ितिखइ=तुषी=शा त, नीरव

का, यो या=ताती=चाची, बुआ
तो=तद्=वह (व तु)-नपुंसक लग

तो दा=तदा=तब

तो ए त=स अि त=वह है

तोिन का, तोि कइ=तनुका, त वी=पतली
तोिपत्=तपित=तपाना, िपघलाना

तोइका=तपका=लानटेन क ब ी, गमाना

तोत्=स=वह (पु लग)

तोचेिनये=त णा, ती णता=िघसना, तेज करना

तो योिनइ=ती ण=छेनी

तोिच का=त ािलका=िघसने का प थर

तोिच या=त लका=िघसने क च ।
वा=दूवा, तृण=घास, बूटी।
ेितइ, ेत=
् तृतीय=तीसरा
ि अदा=ि धा=तीन कार
ि झं द=ि धा=तीन बार
ि ता=ि सत=तीन सौ
ुिसत्=

यित=भय करना

यिस=

यित=काँपना, डोलना

तोिचत्=त ित=िघसना, तेज करना
ा का=दूवका=प ी, घास
योख्=ि क=तीन
ि द् सत्= शत्=तीस ३०
ि नाद् सत्= योदश=तीन ऊपर दस (१३)
ोइका=ि का=तीन का समूह
यसेिनये= सना=काँपना, डोलना
तुदा=त =वहाँ

तुमान्=धूमन्=भाप, कु हरा, धुआँ- फ़ारसी--इ ान्
तुिषत्=तुषित=बुझाना
मा=तम=अ धकार
यानत्=तनोित=तानना, ख चना ।

ित=ते=तू
फु थू= थीिप=थूकना
उ=उद्=अबक

उबेबात्=उ ज
े ित=भाग जाना

उवे दत्=उ द
े यित=समझाना

उिबत्=उद् िभ दित=मार डालना

उिबतोक् =उद् िभ क= ित, हािन

उव् झात्=उद् भजित=स मान करना । उगोल्=इं गाल्, अंगार=कोयला
उदाल्=उ ार=साहस (उ ालक)
उदार=उद् दार्, िवदार=चोट, आघात, ओदार (भोजपुरी) फ़ारसी=दरीदन्
उदा रत्=उ ारयित=मारना, चोट करना । उझे=उद् िह=पहले ही
उइित=एित=जाता है
उलेतात्=उ यित=उड़ता है

उकाज=उत् कथ=आ ा
उिनझेिनय=अवनीचता=नीचा दखाना

उ त=उ स=मुंह, ओठ

उ त् ये=ओ =ओठ

उख्=उ इ=ओह, आह

उचेिनये=ऊचना=पढ़ाना, िसखाना (वाचन)

उचीतल=ऊिचतर=िश क

उिचत्=ऊचित, वि =सीखना, िसखाना

फु (इ) यू=िधक् करना

वाला= वर, याित= शंसा करना

ख़ोलोद्=शरद्=सद

खुदेिलये= ु णा=पतला होना

खुदोइ= ु =बुरा होना

खु दरका= ु का=पतली, त णी

वेत=
् ेत=रं ग, फू ल

सेलो=सकल=सारा

से =के =Centre

चशा=चष= याला

चशे का=चषक= याली

च का=चषक= याली

चेइ=क य= कसका िजसका

चेरेप्=कप(र)=खोपड़ी Scull

चे वेरो=च वा र=चार
चेितर्=च वा र=चार
चेितरे त=चतुः सत=चार सौ।

चे वेर्=चतुथ=चौथाई
चेितरे द्=चतुधा=चार बार
चेितर् ना द सत=चतुदश=चौदह

िचिनत्=िचनोित=मर मत करना, पैब द लगाना।

िचतातेल=िच तियतर=पाठक
िचख़ािनये=िछ णा=छ कना

िचतात्=िच तयित=पढ़ाना
मोकात्=चु बित=चूमना

तो=कित, क= या, (फ़ारसी-िच)

सकाल्=शृगाल=गीदड़(फ़ारसी-शंगाल)

शेअ ात्=शपित=पुकारना

शेि त- े का=षट् दनक=षडह (६ दन)

शे त=षट् =छः (Six)

एइ=अिप=भी

एता=एता=यह, वह

एतत्=एष=यह (पु लग)

युनो त्=युव व=जवानी (Youth)

युिन=यून=जवान

यािवत्,या यात्=आयाित= दखलाना।
या का=आवक=वतमान

याव् लेिनये=आवना= गट होना

सामािजक िव ष
े ण

भूिम वग

जे या= या=जमीन
गोरा (गरा)=िग र= पवत
कामेन्=अ मन्=प थर
वोदा (वदा)=उद=पानी

त्=पथ=माग
दोिलना(दिलना)= ोणी=दून

ऊदक वग

पेना=फे न
योद्=रोधस्=बफ़,

वो का=उदक=शराब

ेग=
् ेह (न नाशने १०/६२)=बफ (nag=बाधा)
र नदी

ओगोन=अि
उगोले=अंगार
ते ो=तम (अ धेरा) Dim
दम =धूम
वेतेर्=वात (वाद-फ़ारसी)

अि वग
उगार=अंगार
झार, झारा= वाला
तुमान्=धूम=धुआ,ँ कु हरा
वायु वग
नभ वग

वेख= वग
नेवो=नभस्=आकाश
ओ लका=अ =बादल
सो न् से=सूय
मोि नया=मािलनी=िबजली
काल वग
देन= दन
मे य स=मास
वे ता=वस त

नोच=िनशा, न =रात Nox

लेत=ऋतु (वष)
िज़मा=िहम (हेम त)
वृ वग
देरेको=दा क (वृ )
ोवा=दा =इ धन
वेर् योजा=भूज (भोज वृ )
ना=तृण
पशु वग

िझवो ोये=जीव तु, ज तु, ाणी

पेस्=पशु

रोग=शृग

ओलेम्=ह रण
मे द
े =म वद=भालू

सोबाका= क=कु ा
शकाल=शृगाल
िमस=मूष

ओखोता=आखेट

ओवेम, ओ का=अिव=भड़

गो ्- या=गोअदनीय=गोमांस
वोल्=बैल
वो क=वृक=भेिड़या
श बग
पा का=फलक=ड डा
ओस्=अ =धुरा
गो=युग=जुआ
पा वग
कु वोक् =कू पक= याला-Cup
चष=चषक= याला

कु विशइ=कू िपका=लोटा

च का==चषक= याला
आहार वग

एदा=अद=भोजन-Eat
सूप=सूप=मांस रस
ोव=
= िधर
पीवा=पीबा=पेय (हलक शराब)
व वग
कोझा=कोष=कपड़ा-Cloth

एदोक=अता=भ क
यासो=मांस
योद्=मधु=शहद

नगीइ=न =नंगा

नगोला=न लल=न

िशवात्, िशत्=सीवन

ओदेवात् या=अिधवास=पहनना
शरीरांग वग
ि वा= ीवा=गदन
गोलोवा=गाल=िसर

गल=गल
गोल =गल=के श

लवा, लो का=गल =िसर

चरे प=कपर=कपाल

गुब्=गोपायित (बोलना, चमकना)=दांत
ओचे=अि =आंख

पा=पाद=चरण