केतू खाना न0: 1

1. टांग , नानका घर , हवा - ऐ - बद , धु नी से नीचे
2. के ह सा म बमार यां ।

3. केतू घर जब पहले आवे , ज म मुसा फर (प) खाने पावे
4.

जधर - जधर वह कदम धरे गा , िम ट उडती साथ

5. बाव बगुला तुफानी बने वह , मारे गा घर छह सात
6. पापी

ह तीन िगने , केतू भी बदनाम

7. जो मारे न जान से , िम ट गद - ओ - आम
8. न इधर मारा , न उधर मारा
9. हो अगर मारा , जनम

थान ह मारा

--------------------------------------------10. (प) ज

मकान के इलावा , नानके - दा के, सफर , मुसा फर वगैराह

---------------------------------------------

11. जस घर म ज म िलया वह मकान न होगा । जस
12. र तेदार के यहां पैदा हआ
, वह खानदान न रहा ।

13. फर भी रहा तो मामू खानदान ह न बाक रहा ।
14. अगर रहा तो

ी सुख व औलाद ताअ लुक भी हलका

15. रहा । मगर सुरज बैठा होने वाले घर का असर

सफा न0: 193
Contributed by Sh. Sumit Bansal of Chandigarh, An AstroStudent. Free to Astrology Students
groups.yahoo.com/group/astrostudents

केतू खाना न0: 1
1. और खुद सुरज का ताअ लुक हर से नेक रहा ।

2. बेशक सुरज कसी भी घर और कसी भी हालत
3. म हो बैठा रहा । जब बाप क

क मत म द हो

4. तो एसा लडका क मत म ज र मदद दे गा । और

5. बाप को ज़ र तार दे गा । हालां क सुरज - केतू बाहम
6. द ु मन ह । केतू कु ा अगर ह काया भी होवे
7. तो भी अपने मािलक - बाप - वली या सर
8. ज़ र ह छोड दे गा ।

त को

सफा न0: 194
Contributed by Sh. Sumit Bansal of Chandigarh, An AstroStudent. Free to Astrology Students
groups.yahoo.com/group/astrostudents

Sign up to vote on this title
UsefulNot useful