संि पिरचय .........................................................................................................................................

5
अनुसूिचयाँ................................................................................................................................................ 6
इितहास.................................................................................................................................................... 7
भारतीय संिवधान की ूकृ ित .................................................................................................................... 7
आधारभूत िवशेषताएं ................................................................................................................................ 7
भारतीय संिवधान मे कुछ िवभेदकारी िवशेषताए भी है .............................................................................. 8
संिवधान की ूःतावना ........................................................................................................................... 10
संिवधान के तीन भाग............................................................................................................................
10
भाग
संिवधान भाग ५ नीित िनद,शक त-व .................................................................................................... 13
भाग 4 क मूल कत/0य ........................................................................................................................... 13
भाग 5 संघ ............................................................................................................................................ 14
पाठ 1 संघीय काय/पािलका ..................................................................................................................... 14
रा3पित .................................................................................................................................................. 14
उपरा3पित .............................................................................................................................................. 14
मंिऽपिरषद.............................................................................................................................................. 14
पिरषद का गठन .................................................................................................................................... 15
मंिऽय6 की ौेिणयाँ ................................................................................................................................. 15
मंिऽमंडल ................................................................................................................................................ 16
भारत का महा:यायवादी ......................................................................................................................... 16
ूधानमंऽी ............................................................................................................................................... 16
काय/कारी सरकार .................................................................................................................................... 17
सुःथािपत परं पराए ................................................................................................................................. 18
भाग पाँच, अ<याय2 , संसद .................................................................................................................... 19
रा=य सभा ............................................................................................................................................. 19
रा=यसभा की िवशेष शि>याँ .................................................................................................................. 19
रा=य सभा का संघीय ःव?प ................................................................................................................. 20
रा=य सभा के गैर संघीय त-व .............................................................................................................. 20
रा=य सभा का मअ-व ............................................................................................................................ 20
रा=य सभा के पदािधकारी उनका िनवा/चन ,शि>
शि> ,काय/
काय/, उAरदािय-व तथा पदBयुित................................
21

लोकसभा ................................................................................................................................................ 21
लोकसभा की िवशेष शि>याँ ................................................................................................................... 22
लोकसभा के पदािधकारी ......................................................................................................................... 22
ःपीकर ................................................................................................................................................... 22
ःपीकर ूोटेम] काय/वाहक[
ाहक[..................................................................................................................... 22
उपःपीकर ............................................................................................................................................... 23

िवधाियका]
23
िवधाियका]संसद रा=य िवधाियका
िवधाियका [मे
[मे बहु मत के ूकार........................................................................
ूकार
लोकसभा के सऽ .................................................................................................................................... 24
िवधाियका संबंधी काय/वाही ..................................................................................................................... 25
धन िबल ................................................................................................................................................ 26
संिवधान संशोधन िवधेयक......................................................................................................................
26

िवधेयक पािरत करने मे आया गितरोध .................................................................................................. 27
अ<यादे श जारी करना ............................................................................................................................. 27
संसद मे रा3पित का अिभभाषण ............................................................................................................ 28
संिचत िनिध ........................................................................................................................................... 28
भारत की लोक िनिध ............................................................................................................................. 29
भारत की आपातकाल िनिध ................................................................................................................... 29
भािरत 0यय ........................................................................................................................................... 29
िवA 0यवःथा पर संसद का िनयंऽण ...................................................................................................... 30
बजट ...................................................................................................................................................... 30
कटौती ूःताव........................................................................................................................................ 30
लेखानुदान) वोट ओन अकाउं ट(
ट( .............................................................................................................. 31
संसद मे लाये जाने वाले ूःताव ............................................................................................................ 32
अिवNास ूःताव .................................................................................................................................... 32
संघीय :यायपािलका ............................................................................................................................... 32
सवOBच :यायालय के :यायधीश6 की िनयुि> ......................................................................................... 32
:यायपािलका के :यायधीश6 की पदBयुित ............................................................................................... 33
अिभलेख :यायालय ................................................................................................................................ 34
सवOBच :यायालय की खंडपीठ ............................................................................................................... 34
सवOBच :यायालय का ेऽािधकार...........................................................................................................
35
ािधकार
जनिहत यािचकाएँ .................................................................................................................................. 35
:याियक सिबयता .................................................................................................................................. 36
संिवधान िवकास मे सुूीम कोट/ की भूिमका........................................................................................... 36
संिवधान भाग6 ..................................................................................................................................... 37
पाठ 1 रा=य काय/पािलका....................................................................................................................... 37
रा=यपाल................................................................................................................................................ 37
रा=य िवधाियका ................................................................................................................................... 38
रा=य :यायपािलका ................................................................................................................................ 38
अधीनःथ :यायालय ............................................................................................................................... 39
जRमू कँमीर की िवशेष िःथित ............................................................................................................. 40
के:ि रा=य संबंध ................................................................................................................................... 41

िवधाियका ःतर पर सRब:ध .................................................................................................................. 41
के:ि रा=य ूशासिनक संबंध ................................................................................................................. 41
िनवा/
िनवा/चन आयोग की काय/ूणाली/
णाली/काय/ ................................................................................................... 42
भारत मे िनवा/चन सुधार ........................................................................................................................ 43
ऽुिटयां .................................................................................................................................................... 43
फेडरे शन तथा कनफेडरे शन का भेद ........................................................................................................ 44
फेडरे शन ................................................................................................................................................. 44
कनफेडरे शन............................................................................................................................................ 44
शि> पृथWकरण का िसXांत ................................................................................................................... 44

भारतीय संिवधान
भारत, संसदीय ूणाली की सरकार वाला एक ूभुसAासRप:न, समाजवादी धम/िनरपे, लोकतंऽा-मक
गणरा=य है । यह गणरा=य भारत के संिवधान के अनुसार शािसत है । भारत का संिवधान संिवधान सभा
Zारा

26नवRबर,

1949को पािरत हुआ तथा

26जनवरी,

1950से ूभावी हुआ।

26जनवरी का िदन

भारत म[ गणत:ऽ िदवस के ?प म[ मनाया जाता है ।

संि पिरचय
भारत का संिवधान दिु नया का सबसे बडा िलिखत संिवधान है । इसम[ ३९५ अनुBछे द तथा १२ अनुसूिचयां
ह` । संिवधान म[ सरकार के संसदीय ःव?प की 0यवःथा की गई है िजसकी संरचना कुछ अपवाद6 के
अितिर> संघीय है । के:िीय काय/पािलका का सांिवधािनक ूमुख राषशपित
है । भारत के संिवधान की धारा

79के अनुसार, केनिीय
संसद की पिरषd म[ रांशपित तथा दो सदन है िज:ह[ रा=य6 की पिरषd

राजयसभा
तथा लोग6 का सदन लोकसभा के नाम से जाना जाता है । संिवधान की धारा

(1) 74म[ यह

0यवःथा की गई है िक रांशपित की सहायता करने तथा उसे सलाह दे ने के िलए एक मंिऽपिरषd होगी
िजसका ूमुख ूधान मंऽी होगा, राषशपित
इस मंिऽपिरषd की सलाह के अनुसार अपने कायf का

िनंपादन करे गा। इस ूकार वाःतिवक काय/कारी शि> मंिऽपिरषd म[ िनिहत है िजसका ूमुख ूधानमंऽी
है जो वत/मान म[ मनमोहन िसंह ह` ।
मंिऽपिरषd सामूिहक ?प से लोग6 के सदन )लोक सभा (के ूित उAरदायी है । ू-येक रा=य म[ एक
िवधान सभा है । जRमू कँमीर, उAर ूदे श, िबहार, महारा3, कना/टक और आंीूदे श म[ एक ऊपरी सदन है
िजसे िवधान पिरषd कहा जाता है । राजयपाल
रा=य का ूमुख है । ू-येक रा=य का एक रा=यपाल होगा

तथा रा=य की काय/कारी शि> उसम[ िविहत होगी। मंिऽपिरषd, िजसका ूमुख मुखय
को
् मंऽी है , राजयपाल

उसके काय/कारी कायf के िनंपादन म[ सलाह दे ती है । रा=य की मंिऽपिरषd सामूिहक ?प से रा=य की
िवधान सभा के ूित उAरदायी है ।
संिवधान की सातवीं अनुसूची म[ संसद तथा रा=य िवधाियकाओं के बीच िवधायी शि>य6 का िवतरण
िकया गया है । अविशंट शि>याँ संसद म[ िविहत ह` । के:िीय ूशािसत भू भाग6 को संघरा=य ेऽ कहा
जाता है । सदःयः अंकुर आन:द िमौ।

अनुसूिचयाँ
1पहली अनुसूची ) अनुBछे द 1तथा

(4रा=य तथा संघ रा=य ेऽ का वण/न ।

.2दस
ू री अनुसूची ] अनुBछे द (3)59, (3)65, (6)75,97, 125,(3)148,(3)158 ,(5)164, 186तथा

[221मुlय

पदािधकािरय6 के वेतनभAे भागकरा3पित और रा=यपाल के वेतनभAे, भागख लोकसभा तथा िवधानसभा
के अ<य तथा उपा<य, रा=यसभा तथा िवधान पिरषd के सभापित तथा उपसभापित के वेतनभAे,भागग
उBचतम :यायालय के :यायाधीश6 के वेतनभAे, भागघ भारत के िनयंऽकमहालेखा परीकके वेतनभAे।
.3तीसरी अनुसूची ] अनुBछे द (4)75,99, (6)124,(2)148, (3)164, 188और

[2190यवःथािपका के

सदःय, मंऽी, रा3पित, उपरा3पित, :यायाधीश6 आिद के िलए शपथ िलए जानेवाले ूितmान के ूा?प िदए
ह` ।
.4चौथी अनुसूची ] अनुBछे द (1)4,

[(2)80रा=यसभा म[ ःथान6 का आबंटन रा=य6 तथा संघ रा=य 

ेऽ6 से।
.5पाँचवी अनुसूची ] अनुBछे द

[(1)244अनुसूिचत ेऽ6 और अनुसूिचत जनजाितय6 के ूशासन और

िनयंऽण से संबंिधत उपबंध।
.6छठी अनुसूची ] अनुBछे द (2)244,

[(1)275असम, मेघालय, िऽपुरा और िमजोरम रा=य6 के जनजाित 

ेऽ6 के ूशासन के िवषय मे उपबंध।
.7सातवीं अनुसूची ] अनुBछे द

[246िवषय6 के िवतरण से संबंिधत सूची 1संघ सूची, सूची 2रा=य सूची,

सूची 3समवतo सूची।
.8आठवीं अनुसूची ] अनुBछे द (1)344,
.9नवीं अनुसूची ] अनुBछे द 31ख
.10दसवीं अनुसूची ] अनुBछे द (2)102,

[351भाषाएँ 22 भाषाओं का उpलेख।

[कुछ भुिम सुधार संबंधी अिधिनयम6 का िविधमा:य करण।
[(2)191दल पिरवत/न संबंधी उपबंध तथा पिरवत/न के आधार

पर अ
११ qयारवी अनुसूची प:चायती राज से सRबि:धत
१२ बारrवी अनुसूची

यह अनुसूची संिवधान मे ७४ वे संवेधािनक संश6धन Zारा जोिड गई।

इितहास
िZतीय िवNयुX की समाि के बाद जुलाई १९४५ म[ िॄटे न ने भारत संब:धी अपनी नई नीित की घोषणा
की तथा भारत की संिवधान सभा के िनमा/ण के िलए एक कैिबनेट िमशन भारत भेजा िजसम[ ३ मंऽी थे।
१५ अगःत, १९४७ को भारत के आज़ाद हो जाने के बाद संिवधान सभा की घोषणा हुई और इसने अपना
काय/ ९ िदसRबर १९४६ से आरRभ कर िदया। संिवधान सभा के सदःय भारत के रा=य6 की सभाओं के
िनवा/िचत सदःय6 के Zारा चुने गए थे। जवाहरलाल नेह?, डॉ राजे:ि ूसाद, सरदार वpलभ भाई पटे ल,
ँयामा ूसाद मुखजo, मौलाना अबुल कलाम आजाद आिद इस सभा के ूमुख सदःय थे। इस संिवधान
सभा ने २ वष/, ११ माह, १८ िदन मे कुल १६६ िदन बैठक की। इसकी बैठक6 म[ ूेस और जनता को भाग
लेने की ःवत:ऽता थी। भारत के संिवधान के िनमा/ण म[ डॉ भीमराव अंबेदकर ने मह-वपूण/ भूिमका
िनभाई, इसिलए उ:ह6ने संिवधान का िनमा/ता कहा जाता है ।

भारतीय संिवधान की ूकृ ित
संिवधान ूा?प सिमित तथा सवOBच :यायालय ने इस को संघा-मक संिवधान माना है , पर:तु िवZान6 म[
मतभेद है । अमेरीकी िवZान इस को छदमसंघा-मकसंिवधान कहते ह` , हालांिक पूवo संिवधानवेAा कहते है
िक अमेिरकी संिवधान ही एकमाऽ संघा-मक संिवधान नहीं हो सकता । संिवधान का संघा-मक होना
उसम[ िनिहत संघा-मक लण6 पर िनभ/र करता है , िक:तु माननीय सवOBच :यायालय )िप क:नादासन
वाद (ने इसे पूण/ संघा-मक माना है ।

आधारभूत िवशेषताएं
१ शि> िवभाजन यह भारतीय संिवधान का सवा/िधक मह-वपूण/ लण है , रा=य की शि>यां क[िीय तथा
रा=य सरकार6 मे िवभािजत होती है शि> िवभाजन के चलते Zे ध सAा [के:िरा=य सAा

होती है दोन6

सAाएँ एकदस
ू रे के अधीन नही होती है , वे संिवधान से उ-प:न तथा िनयंिऽत होती है दोन6 की सAा अपने
अपने ेऽो मे पूण/ होती है
२ संिवधान की सवOचता

संिवधान के उपबंध संघ तथा रा=य सरकार6 पर समान ?प से बा<यकारी होते

है के:ि तथा रा=य शि> िवभािजत करने वाले अनुBछे द

1 अनुBछे द 54,55,73,162,241

2 भाग 5 सवOBच :यायालय उBच :यायालय रा=य तथा के:ि के म<य वैधािनक संबंध
3 अनुBछे द 7 के अंतग/त कोई भी सूची
4 रा=यो का संसद मे ूितिनिध-व
5 संिवधान मे संशोधन की शि> अनु 368इन सभी अनुBछे दो मे संसद अकेले संशोधन नही ला सकती है
उसे रा=यो की सहमित भी चािहए
अ:य अनुBछे द शि> िवभाजन से सRबि:धत नही है
3 िलिखत सिव:धान अिनवाय/ ?प से िलिखत ?प मे होगा Wय6िक उसमे शि> िवभाजन का ःपषट वण/न
आवँयक है । अतः संघ मे िलिखत संिवधान अवँय होगा
4 सिव:धान की कठोरता इसका अथ/ है सिव:धान संशोधन मे रा=य के:ि दोनो भाग ल[गे

5 :यायालयो की अिधकािरता इसका अथ/ है िक के:िरा=य कानून की 0याlया हे तु एक िनंप तथा
ःवतंऽ सAा पर िनभ/र कर[ गे

िविध Zारा ःथािपत 1.1 :यायालय ही संघरा=य शि>यो के िवभाजन का पय/वेण कर[ गे
1.2 :यायालय सिव:धान के अंितम 0याlयाकता/ ह6गे भारत मे यह सAा सवOBच :यायालय के पास है ये
पांच शत, िकसी सिव:धान को संघा-मक बनाने हे तु अिनवाय/ है
भारत मे ये पांच6 लण सिव:धान मे मौजूद है अत ्ः यह संघा-मक है परं तु

भारतीय संिवधान मे कुछ िवभेदकारी िवशेषताए भी है
1 यह संघ रा=य6 के परःपर समझौते से नहीं बना है
2 रा=य अपना पृथक संिवधान नही रख सकते है , केवल एक ही संिवधान के:ि तथा रा=य दोनोपर लागू
होता है
3 भारत मे Zै ध नागिरकता नही है । केवल भारतीय नागिरकता है
4 भारतीय संिवधान मे आपातकाल लागू करने के उपब:ध है [352 अनुBछे द] के लागू होने पर
रा=यके:ि शि> पृथWकरण समा हो जायेगा तथा वह एका-मक संिवधान बन जायेगा। इस िःथित मे
के:िरा=य6 पर पूण/ सRूभु हो जाता है
5 रा=य6 का नाम, ेऽ तथा सीमा के:ि कभी भी पिरवित/त कर सकता है [िबना रा=य6 की सहमित से]
[अनुBछे द 3] अत: रा=य भारतीय संघ के अिनवाय/ घटक नही ह` । के:ि संघ को पुनि/ निम/त कर सकती
है
6संिवधान की 7वीं अनुसूची मे तीन सूिचयाँ ह` संघीय, रा=य, तथा समवतo। इनके िवषय6 का िवतरण
के:ि के प मे है
6.1 संघीय सूची मे सवा/िधक मह-वपूण/ िवषय ह`

6.2 इस सूची पर केवल संसद का अिधकार है
6.3 रा=य सूची के िवषय कम मह-वपूण/ ह` , 5 िवशेष पिरिःथितय6 मे रा=य सूची पर संसद िविध िनमा/ण
कर सकती है िकंतु िकसी एक भी पिरिःथित मे रा=य के:ि हे तु िविध िनमा/ण नहीं कर सकते
क1 अनु 249—रा=य सभा यह ूःताव पािरत कर दे िक रा3 िहत हे तु यह आवँयक है [2\3 बहुमत से]
िकंतु यह ब:धन माऽ 1 वष/ हे तु लागू होता है
क2 अनु 250— रा3 आपातकाल लागू होने पर संसद को रा=य सूची के िवषय6 पर िविध िनमा/ण का
अिधकार ःवत: िमल जाता है
क3 अनु 252—दो या अिधक रा=य6 की िवधाियका ूःताव पास कर रा=य सभा को यह अिधकार दे
सकती है [केवल संबंिधत रा=य6 पर]
क4 अनु253 अंतरा3ीय समझौते के अनुपालन के िलए संसद रा=य सूची िवषय पर िविध िनमा/ण कर
सकती है
क5 अनु 356—जब िकसी रा=य मे रा3पित शासन लागू होता है , उस िःथित मे संसद उस रा=य हे तु
िविध िनमा/ण कर सकती है
7 अनुBछे द 155 – रा=यपाल6 की िनयुि> पूणत
/ : के:ि की इBछा से होती है इस ूकार के:ि रा=य6 पर
िनयंऽण रख सकता है
8 अनु 360 – िवAीय आपातकाल की दशा मे रा=य6 के िवA पर भी के:ि का िनयंऽण हो जाता है । इस
दशा मे के:ि रा=य6 को धन 0यय करने हे तु िनद,श दे सकता है
9 ूशासिनक िनद,श [अनु 256257] के:ि रा=य6 को रा=य6 की संचार 0यवःथा िकस ूकार लागू की
जाये, के बारे मे िनद,श दे सकता है , ये िनद,श िकसी भी समय िदये जा सकते है , रा=य इनका पालन करने
हे तु बा<य है । यिद रा=य इन िनद,श6 का पालन न करे तो रा=य मे संवैधािनक तंऽ असफल होने का
अनुमान लगाया जा सकता है
10 अनु 312 मे अिखल भारतीय सेवाओं का ूावधान है ये सेवक िनयुि>, ूिशण, अनुशासना-मक ेऽ6
मे पूणत
/ : के:ि के अधीन है जबिक ये सेवा रा=य6 मे दे ते है रा=य सरकार6 का इन पर कोई िनयंऽण
नहीं है
11 एकीकृ त :यायपािलका
12 रा=य6 की काय/पािलक शि>यां संघीय काय/पािलक शि>य6 पर ूभावी नही हो सकती है ।

संिवधान की ूःतावना
संिवधान के उ†े ँय6 को ूकट करने हे तु ूाय: उनसे पहले एक ूःतावना ूःतुत की जाती है । भारतीय संिवधान की
ूःतावना अमेिरकी संिवधान से ूभािवत तथा िवN मे सव/ौे‡ मानी जाती है। ूःतावना के मा<यम से भारतीय
संिवधान का सार, अपेाएँ, उ†े ँय उसका लआय तथा दश/न ूकट होता है। ूःतावना यह घोषणा करती है िक
संिवधान अपनी शि> सीधे जनता से ूा करता है इसी कारण यह ‘हम भारत के लोग’ इस वाWय से ूारRभ
होती है। केहर िसंह बनाम भारत संघ के वाद मे कहा गया था िक संिवधान सभा भारतीय जनता का सीधा
ूितिनिध-व नही करती अत: संिवधान िविध की िवशेष अनुकृपा ूा नही कर सकता, परं तु :यायालय ने इसे
खािरज करते हुए संिवधान को सवOपिर माना है िजस पर कोई ू‰ नही उठाया जा सकता है।

संिवधान की ूःतावना:
ूःतावना:
" हम भारत के लोग, भारत को एक सRपूण/ ूभु-व सRप:न, समाजवादी, पंथिनरपे,
लोकतंऽा-मक गणरा=य बनाने के िलए तथा उसके समःत नागिरक6 को : सामािजक, आिथ/क और राजनीितक
:याय, िवचार, अिभ0यि>, िवNास, धम/ और उपासना की ःवतंऽता, ूित‡ा और अवसर की समता ूा करने
के िलए तथा उन सबम[ 0यि> की गिरमा और रा3 की एकता और अख‹डता सुिनिŒत करनेवाली बंधत
ु ा बढाने के
िलए Žढ संकpप होकर अपनी इस संिवधान सभा म[ आज तारीख 26 नवंबर, 1949 ई0 (िमित माग/ शीष/ शुWल
समी, सRवत ् दो हजार छह िवबमी) को एतद Zारा इस संिवधान को अंगीकृत, अिधिनयिमत और आ-मािप/त
करते ह` ।"

संिवधान के तीन भाग
संिवधान के तीन ूमुख भाग ह`। भाग एक म[ संघ तथा उसका रा=येऽ6 के िवषय म[ िटपणीं की गई है तथा यह
बताया गया है िक रा=य Wया ह` और उनके अिधकार Wया ह`। दस
ू रे भाग म[ नागिरकता के िवषय म[ बताया गया है
िक भारतीय नागिरक कहलाने का अिधकार िकन लोग6 के पास है और िकन लोग6 के पास नहीं है। िवदे श म[ रहने
वाले कौन लोग भारतीय नागिरक के अिधकार ूा कर सकते ह` और कौन नहीं कर सकते। तीसरे भाग म[ भारतीय
संिवधान Zारा ूदA मौिलक अिधकार6 के िवषय म[ िवःतार से बताया गया है । • संिवधान की ूःतावना बाहर सेट
मुlय उ†े ँय है जो संिवधान सभा को ूा करने का इरादा है . • 'उ†े ँय' संकpप पंिडत नेह? Zारा ूःतािवत है
और संिवधान सभा Zारा पािरत, अंततः भारत के संिवधान की ूःतावना बन गया. • जैसा िक सुूीम कोट/ ने
मनाया है, ूःतावना संिवधान के िनमा/ताओं के मन को जानने की कुंजी है . • यह भी भारत के लोग6 के आदशf
और आकांाओं का ूतीक है . • संिवधान (42 वां संशोधन) अिधिनयम, 1976 ूःतावना म[ संशोधन और शद
समाजवादी, धम/िनरपे और ूःतावना के िलए वफ़ादारी जोड़ी. • ूःतावना ूकृित म[ गैर :यायोिचत है, रा=य
के नीित theDirective िसXांत6 की तरह और कानून की एक अदालत म[ लागू नहीं िकया जा सकता है . यह न
तो रा=य के तीन अंग6 को मूल शि> (िनिŒत और वाःतिवक शि>) ूदान कर सकते ह`, और न ही संिवधान के
ूावधान6 के तहत अपनी शि>य6 की सीमा. • संिवधान की ूःतावना िविश“ ूावधान नहीं ओवरराइड कर सकते
ह` . दोन6 के बीच िकसी भी संघष/ के मामले म[, बाद अिभभावी होगी. तो •, यह एक बहुत ही सीिमत भूिमका

िनभानी है . • सुूीम कोट/ ने मनाया ूःतावना संिवधान के ूावधान6 के आसपास अःप“ता को दरू करने म[ एक
मह-वपूण/ भूिमका िनभाता है .

ूःतावना के ूयोजन
ूःतावना वाणी है िक यह भारत के लोग6 को जो अिधिनयिमत था अपनाया और खुद को संिवधान िदया है . इस
ूकार, संूभुता लोग6 के साथ अंत म[ िनिहत है . यह भी लोग6 की ज?रत है िक ूा िकया जा करने के आदशf
और आकांाओं को वाणी है . आदशf आकांाओं से अलग कर रहे ह` . जबिक पूव/ हे परमेNर के ?प म[ भारत के
संिवधान की घोषणा के साथ हािसल िकया गया है, समाजवादी, धम/िनरपे, लोकतांिऽक गणरा=य, बाद :याय,
ःवतंऽता, समानता और भाईचारे , जो अभी तक ूा िकया जा शािमल है . आदशf आकांाओं को ूा करने का
मतलब ह` .

ूःतावना
हम, भारत के लोग6, स-यिन‡ा से एक संूभु समाजवादी धम/िनरपे लोकतांिऽक गणरा=य म[ भारत का गठन
करने के िलए और अपने सभी नागिरक6 को सुरित हल होने: :याय, सामािजक, आिथ/क और राजनैितक;
सोचा, अिभ0यि>, िवNास, िवNास और पूजा की ःवतंऽता; िःथित के और अवसर की समानता, और उन सब
के बीच बढ़ावा दे ने 0यि> और रा3 की एकता और अखंडता की गिरमा आNःत िबरादरी; हमारी संिवधान सभा
नवRबर, 1949 के इस बीस छठे िदन म[, एत•Zारा, अपनाने करते अिधिनयिमत और अपने आप को इस
संिवधान दे .
ूभु 'संूभु' शद पर जोर िदया िक भारत के बाहर कोई अिधकार नहीं है िजस पर दे श के िकसी भी िनभ/र राःते
म[ है .
समाजवादी 'समाजवादी' शद करके, संिवधान लोकतांिऽक साधन6 के मा<यम से समाज के समाजवादी पैटन/ की
उपलिध का मतलब है .
लौिकक • है िक भारत एक 'सेकुलर रा=य' है का मतलब है िक भारत के गैर

धािम/क या अधािम/क, या

िवरोधी धािम/क नहीं करता, लेिकन बस है िक रा=य म[ ही धािम/क और नहीं है "सव/ धम/ Samabhava" ूाचीन
भारतीय िसXांत िनRनानुसार है . • यह भी मतलब है िक रा=य के नागिरक6 के िखलाफ िकसी भी तरह से धम/ के
आधार पर भेदभाव नहीं करे गा. • रा=य का संबध
ं धम/ िवNास करने के िलए सही है या नहीं एक धम/ म[ िवNास
सिहत एक 0यि> का िनजी मामला हो सकता है . हालांिक, भारत अथ/ है पिŒमी दे श6 म[ धम/िनरपे नहीं है,
अपनी िविश“ सामािजक

सांःकृितक वातावरण के कारण.

यह संिवधान का एक िहःसा है? • Kesavananda केरल मामले (1971) की भारती बनाम रा=य म[ सुूीम कोट/
के 1960 के पहले िनण/य खािरज (Berubari मामले) और यह ःप“ है िक यह संिवधान का एक िहःसा है और
संसद के संशोधन के ?प म[ सAा के अधीन है संिवधान के िकसी अ:य ूावधान, संिवधान के मूल ढांचे ूदान के
?प म[ ूःतावना म[ पाया न“ नहीं है . हालांिक, यह संिवधान का एक अिनवाय/ िहःसा नहीं है . • नवीनतम S.R.

बोRमई मामले म[, 1993 म[ तीन सांसद, राजःथान और िहमाचल ूदे श म[ भाजपा सरकार6 की बखा/ःतगी के बारे
म[, जिःटस रामाःवामी ने कहा, "संिवधान की ूःतावना संिवधान का एक अिभ:न िहःसा है सरकार, संघीय
ढांचे की एकता और अखंडता के लोकतांिऽक ?प. रा3, धम/िनरपेता, समाजवाद, सामािजक :याय और :याियक
समीा संिवधान के बुिनयादी सुिवधाओं कर रहे ह` ". • ू‰ ूःतावना जब यह एक बुिनयादी सुिवधा है संशोधन
िकया गया था Wय6 के ?प म[ उठता है . 42 संशोधन करके, ूःतावना 'समाजवादी', 'धम/िनरपे' और
'अखंडता' को शािमल करने के िलए संशोधन िकया गया था के ?प म[ यह मान िलया था िक इन संशोधन6 को
ःप“ कर रहे ह` और ूकृित म[ योqयता. वे पहले से ही ूःतावना म[ िनिहत ह`
लोकतंऽीय • शद का अथ/ है 'डे मोबेिटक िक लोग6 Zारा चुने गए शासक6 केवल सरकार चलाने का अिधकार है . •
भारत 'ूितिनिध लोकतंऽ' की एक ूणाली है, जहां सांसद6 और िवधायक6 को सीधे लोग6 Zारा चुने गए ह`
िनRनानुसार है . पंचायत6 और नगर पािलकाओं (73 और 74 व[ संिवधान संशोधन अिधिनयम, 1992) के मा<यम
से जमीनी ःतर पर लोकतंऽ ले • ूयास िकए जा रहे ह` . हालांिक, ूःतावना न केवल राजनीितक, लेिकन यह भी
लोकतंऽ सामािजक और आिथ/क लोकतंऽ6 की पिरकpपना की गई है .
गणतंऽ 'गणतंऽ' शद का मतलब है िक वहाँ भारत म[ कोई वंशानुगत शासक और रा=य के सभी ूािधकारी ह`
ू-य या परो ?प से लोग6 Zारा चुने गए मौजूद है .
ूःतावना रा=य6 है िक ू-येक नागिरक उ†े ँय6 के िलए सुरित कर रहे ह` 1. :यायमूित/: सामािजक, आिथ/क और
राजनीितक • :याय के बारे म[, एक बात ःप“ है िक भारतीय संिवधान के राजनीितक :याय के िलए रा=य और
अिधक से अिधक कpयाण ूकृित म[ उ:मुख बनाने के Zारा सामािजक और आिथ/क :याय ूा करने का मतलब हो
जाने की उRमीद है . • भारत म[ राजनीितक :याय साव/भौिमक वयःक मतािधकार Zारा योqयता के िकसी भी ूकार
के िबना गारं टी है . • जबिक सामािजक :याय सRमान की ablishingjmy Jitle (18 Art.) Zारा सुिनिŒत
िकया जाता है और अःपृँयता (17 Art.), िनद, शक िसXांत6 के मा<यम से मुlय ?प से आिथ/क :याय की
गारं टी है .
2. िलबट–: सोचा, अिभ0यि>, िवNास, िवNास और पूजा की • िलबट– एक मु> समाज का एक अिनवाय/
िवशेषता है िक एक 0यि> के बौिXक, मानिसक और आ<याि-मक संकाय6 के पूण/ िवकास म[ मदद करता है . •
भारतीय संिवधान छह आट/ के तहत 0यि>य6 को लोकतांिऽक ःवतंऽता की गारं टी दे ता है . 19 और धम/ की कला के
तहत ःवतंऽता का अिधकार. 2528.
3. की िःथित, अवसर: समानता • ःवतंऽता का फल पूरी तरह से जब तक वहाँ िःथित और अवसर की समानता
है महसूस नहीं िकया जा सकता है . • हमारा संिवधान यह गैरकानूनी बना दे ता है, धम/, जाित, िलंग, या सभी
के िलए खुला साव/जिनक ःथान6 अःपृँयता (17 Art.) को ख-म करने, फ[कने Zारा और ज:म ःथान (15
Art.) के आधार पर ही रा=य Zारा िकसी भेदभाव सRमान के ख-म शीष/क (ArtJ8). • हालांिक, रा3ीय
मुlयधारा म[ समाज के अब तक उपेित वगf को लाने के िलए, संसद अनुसूिचत जाितय6, अनुसूिचत
जनजाितय6, अ:य िपछड़े वगf (सुरा भेदभाव) के िलए कुछ कानून पािरत कर िदया गया है .
4. िबरादरी भाईचारे के ?प म[ संिवधान म[ िनिहत भाईचारे की भावना लोग6 के सभी वगf के बीच ूचिलत मतलब
है . यह रा=य धम/िनरपे बनाने, समान ?प से सभी वगf के लोग6 को मौिलक और अ:य अिधकार6 की गारं टी,

और उनके िहत6 की रा के Zारा ूा िकया जा मांग की है . हालांिक, िबरादरी एक उभरती ूिबया है और 42
संशोधन Zारा 'अखंडता' शद जोड़ा गया था, इस ूकार यह एक 0यापक अथ/ दे .

के.एम. मुंशी 'राजनीितक कुंडली' के ?प म[ करार िदया. बयाना बाक/र यह संिवधान की कुंजी कहता है . ठाकुरदास
भाग/व 'संिवधान की आ-मा' के ?प म[ मा:यता दी. शद 'समाज के सोशिलिःटक पैटन/' अवादी सऽ म[ 1955
म[ कांमस
े Zारा भारतीय रा=य का एक लआय के ?प म[ अपनाया गया था.

संिवधान भाग ५ नीित िनद, शक त-व
भाग 3 तथा 4 िमल कर संिवधान की आ-मा तथा चेतना कहलाते है Wय6 िक िकसी भी ःवतंऽ रा3 के िलए
मौिलक अिधकार तथा िनित िनद, श दे श के िनमा/ण म[ मह-वपूण/ भूिमका िनभाते ह` । नीित िनद, शक त-व जनतांिऽक
संवध
ै ािनक िवकास के नवीनतम त-व ह` सव/ूथम ये आयरल`ड के संिवधान मे लागू िकये गये थे। ये वे त-व है जो
संिवधान के िवकास के साथ ही िवकिसत हुए है । इन त-वॉ का काय/ एक जनकpयाणकारी रा=य की ःथापना करना
है । भारतीय संिवधान के इस भाग म[ नीित िनद,शक त-व6 का ?पाकार िनिŒत िकया गया है, मौिलक अिधकार
तथा नीित िनद, शक त-व मे भेद बताया गया है और नीित िनदे शक त-व6 के मह-व को समझाया गया है।

भाग 4 क मूल कत/0य
मूल कत/0य मूल सिवधान म[ नहीं थे, इ:हे ४२ व[ संिवधान संशोधन Zवारा जोड़ा गया है। ये ?स से ूेिरत होकर
जोड़े गये तथा संिवधान के भाग ४ (क) के अनुBछे द ५१ अ मे रखे गये ह` । ये कुल ११ है ।
51 क. मूल कत/0य भारत के ू-येक नागिरक का यह कत/0य होगा िक वह
(क) संिवधान का पालन करे और उस के आदशf, संःथाओं, रा3 <वज और रा3गान का आदर करे ; (ख)
ःवतंऽता के िलए हमारे रा3ीय आंदोलन को ूेिरत करने वाले उBच आदशf को ˜दय म[ संजोए रखे और उन का
पालन करे ; (ग) भारत की ूभुता, एकता और अखंडता की रा करे और उसे अु‹ण रखे; (घ) दे श की रा करे
और आrान करने िकए जाने पर रा3 की सेवा करे ; (ङ) भारत के सभी लोग6 म[ समरसता और समान ॅातृ-व की
भावना का िनमा/ण करे जो धम/, भाषा और ूदे श या वग/ पर आधािरत सभी भेदभाव से परे हो, ऐसी ूथाओं का
-याग करे जो िœय6 के सRमान के िवX है; (च) हमारी सामािसक संःकृित की गौरवशाली परं परा का मह-व
समझे और उस का पिररण करे ; (छ) ूाकृितक पया/वरण की, िजस के अंतग/त वन, झील नदी और व:य जीव
ह` , रा करे और उस का संवध/न करे तथा ूािण माऽ के ूित दयाभाव रखे; (ज) वैmािनक Žि“कोण, मानववाद
और mानाज/न तथा सुधार की भावना का िवकास करे ; (झ) साव/जिनक संपिA को सुरित रखे और िहं सा से दरू
रहे ; (ञ) 0यि>गत और सामूिहक गितिविधय6 के सभी ेऽ6 म[ उ-कष/ की ओर बढ़ने का सतत ूयास करे िजस
से रा3 िनरं तर बढ़ते हुए ूयŸ और उपलिध की नई ऊंचाइय6 को छू ले; (ट) यिद मातािपता या संरक है, छह
वष/ से चौदह वष/ तक की आयु वाले अपने, यथािःथित, बालक या ूितपाpय के िलए िशा का अवसर ूदान
करे ।

भाग 5 संघ
पाठ 1 संघीय काय/पािलका
संघीय काय/पािलका मे रा3पित ,उपरा3पित,मंिऽपिरषद तथा महा:यायवादी आते है । रामजवाया
कपूर बनाम पंजाब रा=य वाद मे सुूीम कोट/ ने काय/पािलका शि> को िनRन ूकार से
पिरभािषत िकया है

1 िवधाियका :यायपािलका के कायॉ/ को पृथक करने के पŒात सरकार का बचा काय/ ही
काय/पािलका है ।

2 काय/पािलका मॅदे श का ूशासन, िविधयॉ का पालन सरकारी नीित का िनधा/रण
,िवधेयकॉ की तैयारी करना ,कानून 0य0ःथा बनाये रखना सामािजक आिथ/क कpयाण
को बढावा दे ना िवदे श नीित िनधा/िरत करना आिद आता है ।

रा3पित
संघ का काय/पालक अ<य है संघ के सभी काय/पालक काय/ उस के नाम से िकये जाते है अनु
53 के अनुसार संघ की काय/पालक शि> उसमॅिनिहत है इन शि>यॉ/कायf का ूयोग
िबयांव¡न रा3पित सिव:धान के अनु?प ही सीधे अथवा अधीनःथ अिधकािरयॉ के मा<यम से
करे गा। वह सशœ सेनाओं का सवOBच सेनानायक भी होता है ,सभी ूकार के आपातकाल लगाने
व हटाने वाला युX शांित की घोषणा करने वाला होता है वह दे श का ूथम नागिरक है तथा
रा=य Zारा जारी वरीयता बम मे उसका सदै व ूथम ःथान होता है । भारतीय रा3पित का
भारतीय नागिरक होना आवँयक है तथा उसकी आयु कम से कम ३५ वष/ होनी चािहए।
रा3पित का चुनाव, उस पर महािभयोग की अवःथाएँ, उसकी शि>याँ, संिवधान के अ:तग/त
रा3पित की िःथित, रा3पित की संसदीय शि> तथा रा3पित की िववेकाधीन शि>य6 का वण/न
इस अ<याय म[ िकया गया है ।

उपरा3पित
मंिऽपिरषद
संसदीय लोकतंऽ के मअ-वपूण/ िसXांत 1. रा=य ूमुख, सरकार ूमुख न होकर माऽ संवध
ै ािनक ूमुख ही
होता है

2. वाःतिवक काय/पािलका शि>, मंिऽपिरषद जो िक सामूिहक ?प से संसद के िनचले सदन के सामने उAरदायी
होगा के पास होगी
3 मंिऽपिरषद के स•ःय संसद के स•ःय6 से िलए जाय[गे

पिरषद का गठन
1. ूधानमंऽी के पद पे आते ही यह पिरषद गिठत हो जाती है यह आवँयक नही है िक उसके साथ कुछ अ:य
मंऽी भी शपथ ले केवल ूधानमंऽी ही मंिऽपिरषद होगा
2 मंिऽपिरषद की स•ःय संlया पर मौिलक संिवधान मे कोई रोक नही थी िकंतु 91 वे संशोधन के Zारा मंिऽपिरषद
की संlया
लोकसभा के स•ःय संlया के 15% तक सीिमत कर दी गयी वही रा=य6 मेभी मंऽीपिरषद की
संlया िवधानसभा के 15% से अिधक नही होगी पंरंतु :यूनतम 12 मंऽी ह6गे

मंिऽय6 की ौेिणयाँ
संिवधान मंिऽय6 की ौेणी िनधा/िरत नही करता यह िनधा/रण अंमेजी ूथा के आधार पर िकया
गया है
कुल तीन ूकार के मंऽी माने गये है

1. कैिबनेट मंऽी—सवा/
िधक विर‡ मंऽी है उनसे ही कैिबनेट का गठन होता है मंऽालय

िमलने पर वे उसके अ<य होते है उनकी सहायता हे तु रा=य मंऽी तथा उपमंऽी होते है
उ:ह[ कैिबनेट बैठक मे बैठने का अिधकार होता है अनु 352 उ:ह[ मा:यता दे ता है

कृ या सभी कैिबनेट मंऽालय6 ,रा=य मंऽालय की सूची पृथक से जोड दे

2. रा=य मंऽी िZतीय ःतर के मंऽी होते है सामा:यत उनहे मंऽालय का ःवतंऽ ूभार
नही िमलता िकंतु ूधानमंऽी चाहे तो यह कर सकता है उ:ह[ कैिबनेट बैठक मे आने का
अिधकार नही होता।

3. उपमंऽी किन‡तम मंऽी है उनका पद सृजन कैिबनेट या रा=य मंऽी को सहायता दे ने
हे तु िकया जाता है वे मंऽालय या िवभाग का ःवतंऽ ूभार भी नही लेते है ।

4. संसदीय सिचव सAा?ढ दल के संसद स•ःय होते है इस पद पे िनयु> होने के पŒात
वे मंऽी गण की संसद तथा इसकी सिमितयॉ मे काय/ करने मे सहायता दे ते है वे ूधान
मंऽी की इBछा से पद महण करते है वे पद गोपनीयता की शपथ भी ूधानमंऽी के Zारा
महण करते है वाःतव मे वे मंऽी पिरषद के स•ःय नही होते है केवल मंऽी का दजा/ ूा
होता है ।

मंिऽमंडल
मंिऽ पिरषद एक संयु> िनकाय है िजसमॆ ं 1,2,या 3 ूकार के मंऽी होते है यह बहुत कम िमलता
है चचा/ करता है या िनण/य लेता है वहीं मंिऽमंडल मे माऽ कैिबनेट ूकार के मंऽी होते है यह
समय समय पर िमलती है तथा समःत मह-वपूण/ िनण/य लेती है इस के Zारा ःवीकृ त िनण/य
अपने आप पिरषद Zारा ःवीकृ त िनण/य मान िलये जाते है यही दे श का सवा/िधक मअ-वपूण/
िनण/य लेने वाला िनकाय है

सिRमिलत उAरदािय-व अनु 75[3] के अनुसार मंिऽपिरषद संसद के सामने सिRमिलत
?प से उAरदायी है इसका लआय मंिऽपिरषद मे संगित लाना है तािक उसमे आंतिरक ?प
से िववाद पैदा ना हो।

0यि>गत उAरदािय-व अनु 75[2] के अनुसार मंऽी 0यि>गत ?प से रा3पित के सामने
उAरदायी होते है िकंतु यिद ूधानमंऽी की सलाह ना हो तो रा3पित मंऽी को प•Bयुत
नही कर सकता है ।

भारत का महा:यायवादी
भारत का महा:यायवादी संसद के िकसी भी सदन का सदःय न रहते हुए भी संसद की कार/वाई
म[ भाग ले सकता है ।

ूधानमंऽी
ूधानमंऽी की दशा समान6 मे ूधान की तरह है वह कैिबनेट का मुlय ःतंभ है मंऽी पिरषद का
मुlय स•ःय भी वही है अनु 74 ःप“ ?प से मंिऽपिरषद की अ<यता तथा संचालन हे तु
ूधानमऽ्ं ी की उपिःतिथ आवँयक मानता है उसकी मृ-यु या -यागपऽ की •शा मे समःत
पिरषद को पद छोडना पडता है वह अकेले ही मंऽी पिरषद का गठन करता है रा3पित मंऽी गण
की िनयुि> उस की सलाह से ही करता है मंऽी गण के िवभाग का िनधा/रण भी वही करता है
कैिबनेट के काय/ का िनधा/रण भी वही करता है दे श के ूशासन को िनद, श भी वही दे ता है सभी
नीितगत िनण/य वही लेता है रा3पित तथा मंऽी पिरषद के म<य संपक/ सूऽ भी वही है पिरषद
का ूधान ूव>ा भी वही है पिरषद के नाम से लडी जाने वाली संसदीय बहसॉ का नेत-ृ व करता
है संसद मे पिरषद के प मे लडी जा रही िकसी भी बहस मे वह भाग ले सकता है म:ऽी गण
के म<य सम:वय भी वही करता है वह िकसी भी मंऽालय से कोई भी सूचना मंगवा सकता है

इन सब कारणॉ के चलते ूधानमऽ्ं ी को दे श का सबसे मअ-वपूण/ राजनैितक 0यि>-व माना
जाता है
ूधानमंऽी सरकार के ूकार
ूधानमंऽी सरकार संसदीय सरकार का ही ूकार है िजसमे ूधानमंऽी मंिऽ पिरषद का नेत-ृ व
करता है वह कैिबनेट की िनण/य लेने की मता को ूभािवत करता है वह कैिबनेट से अिधक
शि>शाली है उसके िनण/य ही कैिबनेट के िनण/य है दे श की सामा:य नीितयाँ कैिबनेट Zारा
िनधा/िरत नहीं होती है यह काय/ ूधानमंऽी अपने िनकट सहयोगी चाहे वो मंिऽ पिरषद के स•ःय
ना हो की सहायता से करता है जैसे िक इं िदरा गाँधी अपने िकचन कैिबनेट की सहायता से
करती थी
ूधानमंऽी सरकार के लाभ

1 तीो तथा कठोर िनण/य ले सकती है

2 दे श को राजनैितक ःथाई-व िमलता है

इससे कुछ हािन भी है

1 कैिबनेट ऐसे िनण/य लेती है जो सAा ?ढ दल के िहत मे हो न िक दे श के िहत मे

2 इस के Zारा गैर संवैधािनक शि> के:ि6 का ज:म होता है

कैिबनेट सरकार
संसदीय सरकार का ही ूकार है इस मे नीित गत िनण/य सामूिहक ?प से कैिबनेट [मंिऽ मंडल
] लेता है इस मे ूधानमंऽी कैिबनेट पे छा नही जाता है इस के िनण/य सामा:यत संतुिलत होते
है लेिकन कभी कभी वे इस तरह के होते है जो अःप“ तथा साहिसक नही होते है । 1989 के
बाद दे श मे ूधानमंऽी ूकार का नही बिpक कैिबनेट ूकार का शासन रहा है ।
ूधानम:ऽी के काय/
१ म:ऽीपिरषद के गठन का काय/ २ ूमुख शासक ३ नीित िनमा/ता ४ ससद का नेता ५ िवदे श
िनती का िनधा/रक

काय/कारी सरकार

बहुमत समा हो जाने के बाद जब मंिऽ पिरषद -यागपऽ दे दे ती है तब काय/कारी सरकार
अिःत-व मे आती है अथवा ूधानमंऽी की मृ-यु/ -यागपऽ की दशा मे यह िःथित आती है ।
यह सरकार अंतिरम ूकृ ित की होती है यह तब तक ःथािपत रहती है जब तक नयी मंिऽपिरषद
शपथ ना ले ले यह इसिलए काम करती है तािक अनु 74 के अनु?प एक मंिऽपिरषद रा3पित
की सहायता हे तु रहे । वी.एन.राव बनाम भारत संघ वाद मे सुूीमकोट/ ने माना था िक मंिऽ
पिरषद सदै व मौजूद रहनी चािहए यिद यह अनुपिःथत हुई तो रा3पित अपने काम ःवंय करने
लगेगा िजस से सरकार का ?प बदल कर रा3पित हो जायेगा जो िक संिवधान के मूल ढाँचे के
िखलाफ होगा। यह काय/कारी सरकार कोई भी िवAीय/नीितगत िनण/य नही ले सकती है Wय6िक
उस समय लोक सभा मौजूद नही रहती है वह केवल दे श का दै िनक ूशासन चलाती है । इस
ूकार की सरकार के सामने सबसे िवकट िःथित तब आ गयी थी जब अटल िबहारी वाजपेयी
की सरकार को 1999 मे कारिगल युX का संचालन करना पडा था। िकंतु िवकट दशा मे इस
ूकार की सरकार भी कोई भी नीित िनण/य ले सकती है । =गोप ्[qप ्[४0व ्[Wग ्[

सुःथािपत परं पराए
एक संसदीय सरकार म[ ये पंरपराए ऐसी ूथाएँ मानी जाती है जो सरकार के सभी अंग6 पर
वैधािनक ?प
से लागू मानी जाती है उनका वण/न करने के िलये कोई िवधान नहीं होता है ना ही संिवधान मे
िकसी दे श के शासन के बारे मे पूण/ वण/न िकया जा सकता है संिवधान िनमा/ता भिवंय मे होने
वाले िवकास तथा दे श के शासन पर उनके ूभाव का अनुमान नहीं लगा सकते अतः वे उनके
संबंध मे संिवधान म[ ूावधान भी नहीं कर सकते है
इस तरह संिवधान एक जीिवत शरीर तो है परं तु पूण/ वण/न नही है इस वण/न मे िबना संशोधन
लाये पिरवत/न भी नहीं हो सकता है वही पंरपराए संिवधान के ूावधानॉ की तरह वैधािनक नहीं
होती वे सरकार के संचालन म[ ःनेहक का काय/ करते है तथा सरकार का ूभावी संचालन करने
मे सहायक है
पंरपराए इस िलए पािलत की जाती है Wय6िक उनके अभाव मे राजनैितक किठनाइया आ सकती
है इसी कारण उ:ह[ संिवधान का पूरक माना जाता है िॄटे न मे हम इनका सबसे िवकिसत तथा
ूभावशाली ?प दे ख सकते है
इनके दो ूकार है ूथम वे जो संसद तथा मंिऽपिरषद के म<य संयोजन का काय/ करती है यथा
अिवNास ूःताव पािरत होने पर पिरषद का -यागपऽ दे दे ना
िZतीय वे जो िवधाियका की काय/वािहय़6 से संबंिधत है जैसे िकसी िबल का तीन बार वाचन
संसद के तीन सऽ रा3पित Zारा धन िबल को ःवीकृ ित दे ना उपःपीकर का चुनाव िवप से

करना जब ःपीकर सAा प से चुना गया हो आिद
सरकार के संसदीय तथा रा3पित ूकार
संसदीय शासन के समथ/न मे तक/
1. रा3पतीय शासन मे रा3पित वाःतिवक काय/ पािलका होता है जो जनता Zारा िनिŒत समय
के िलये चुना जाता है वह िवधाियका के ूित उAरदायी भी नेही होता है उसके मंऽी भी
िवधाियका के सदःय नही होते है तथा उसी के ूित उAतदायी ह6गे न िक िवधाियका के ूित
वही संसदीय शासन मे शि> मंिऽ पिरषद के पास होती है जो िवधाियका के ूित उAरदायी होती
है
2. भारत की िविवधता को दे खते हुए संसदीय शासन =यादा उपयोगी है इस मे दे श के सभी
वगf के लोग मंिऽ पिरषद मे िलये जा सकते है
3. इस ् शासन मे संघष/ होने [िवधाियका तथा मंिऽ पिरषद के म<य] की संभावना कम रहती है
Wयॉिक मंऽी िवधाियका के सदःय भी होते है
4 भारत जैसे िविवधता पूण/ दे श मे सव/मा:य ?प से रा3पित का चुनाव करना लगभग असंभव
है
5 िमंटे माल, सुधार 1909 के समय से ही संसदीय शासन से भारत के लोग पिरचय रखते है

भाग पाँच, अ<याय 2, संसद
रा=य सभा
रा=य6 को संघीय ःतर पर ूितिनिध-व दे ने वाली सभा है िजसका काय/ संघीय ःतर पर रा=य
िहतॉ का संरण करना है । इसे संसद का दस
ू रा सदन कअते है इसके सदःय दो ूकार से
िनवा/िचत होते है रा=यॉ से 238 को िनवा/िचत करते है तथा रा3पित Zारा 12 को मनोनीत करते
है । वत/मान मे यह संlया बमश 233 ,12 है ये स•ःय 6 वष/ हे तु चुने जाते है इनका चयन
आनुपाितक ूितिनिध-व ूणाली के Zारा होता है मत एकल संबमणीय ूणाली से डाले जाते है ।
मत खुले डाले जाते है .स•ःय जो िनवा/Bत होना चाहते है दे श के िकसी भी संसदीय ेऽ से एक
िनवा/चक के ?प मे पंजीकृ त होने चािहए।

रा=यसभा की िवशेष शि>याँ
रा=यसभा के पास तीन िवशेष शि>या होती है
1. अनु. 249 के अंतग/त रा=य सूची के िवषय पर 1 वष/ का िबल बनाने का हक

2. अनु. 312 के अंतग/त नवीन अिखल भारतीय सेवा का गठन 2/3 बहुमत से करना
3. अनु. 67 ब उपरा3पित को हटाने वाला ूःताव रा=यसभा मे ही लाया जा सकेगा

रा=य सभा का संघीय ःव?प
1. रा=य सभा का गठन ही रा=य पिरषद के ?प मे संिवधान के संघीय ःव?प का
ूितिनिध-व दे ने के िलये हुआ था
2. रा=य सभा के स•ःय मंिऽ पिरषद के सदःय बन सकते है िजससे संघीय ःतर पर
िनण/य लेने मे रा=य का ूितिनिध-व होगा
3. रा3पित के िनवा/चन तथा महािभयोग तथा उपरा3पित के िनवा/चन मे समान ?प से भाग
लेती है
4. अनु 249,312 भी रा=य सभा के संघीय ःव?प तथा रा=यॉ के संरक ?प मे उभारते है
5. सभी संिवधान संशोधन िबल भी इस के Zारा पृथक सभा कर तथा 2/3 बहुमत से पास
ह6गे
6. संसद की ःवीकृ ित चाहने वाले सभी ूःताव जो िक आपातकाल से जुडे हो भी रा=यसभा
Zारा पािरत ह6गे

रा=य सभा के गैर संघीय त-व
1. संघीय ेऽॉ को भी रा=य सभा मे ूितिनिध-व िमलता है िजससे इसका ःव?प गैर
संघीय हो जाता है
2. रा=यॉ का ूितिनिध-व रा=यॉ की समानता के आधार पे नही है जैसा िक अमेिरका मे है
वहाँ ू-येक रा=य को
सीनेट मे दो ःथान िमलते है िकंतु भारत मे ःथानॉ का आवंटन आबादी के आधार पे
िकया गया है
3. रा=य सभा मे मनोनीत स•ःय6 का ूावधान है

रा=य सभा का मअ-व
1. िकसी भी संघीय शासन मे संघीय िवधाियका का ऊपरी भाग संवैधािनक बा<यता के
चलते रा=य िहतॉ की संघीय
ःतर पर रा करने वाला बनाया जाता है इसी िसXांत के चलते रा=य सभा का गठन
हुआ है ,इसी कारण रा=य सभा को सदनॉ

की समानता के ?प मे दे खा जाता है िजसका गठन ही संसद के िZतीय सदन के ?प मे
हुआ है
2. यह जनतंऽ की मांग है िक जहाँ लोकसभा सीधे जनता Zारा चुनी जाती है िवशेष शि>यॉ
का उपभोग करती है
,लोकतंऽ के िसXांत के अनु?प मंिऽपिरषद भी लोकसभा के ूित उAरदायी होने के िलये
बा<य करते है िकंतु ये दो कारण िकसी भी ूकार
से रा=यसभा का मअ-व कम नही करते है
3. रा=यसभा का गठन एक पुनरीण सदन के ?प मे हुआ है जो लोकसभा Zारा पास िकये
गये ूःतावॉ की पुनरीा करे
यह मंिऽपिरषद मे िवशेषm6 की कमी भी पूरी कर सकती है Wय6िक कम से कम 12
िवशेषm तो इस मे मनोनीत होते ही है
4. आपातकाल लगाने वाले सभी ूःताव जो रा3पित के सामने जाते है रा=य सभा Zारा भी
पास होने चािहये
5. रा=य सभा का मह-व यह है िक जहाँ लोकसभा सदै व सरकार से सहमत होती है जबिक
रा=यसभा सरकार की नीितय़6 का िनंप मूpयाँकन कर सकती है
6. माऽ नैितक ूभाव सरकार पे डालती है िकंतु यह लोकःभा के ूभाव की तुलना मे =यादा
होता है

रा=य सभा के पदािधकारी उनका िनवा/चन ,शि>
शि> ,काय/
काय/, उAरदािय-व तथा पदBयुित
लोकसभा
यह संसद का लोकिूय सदन है िजसमे िनवा/िचत मनोनीत स•ःय होते है संिवधान के अनुसार
लोकसभा का िवःतार रा=यॉ से चुने गये 530, संघ ेऽ से चुने गये 20 और रा3पित Zारा
मनोनीत 2 आंqल भारतीय सदःयॉ तक होगा वत/मान मे रा=यॉ से 530 ,संघ ेऽॉ
से 13 तथा 2 आंqल भारतीय स•ःयॉ से सदन का गठन िकया गया है
कुछ ःथान अनुसूिचत जाित/अनुसूिचत जनजाित हे तु आरित है
ू-येक रा=य को उसकी आबादी के आधार पर स•ःय िमलते है अगली बार लोकसभा के
सदःयॉ की संlया वष/ 2026 मे िनधा/िरत िकया जायेगा वत/मान मे यह 1971 की जनसंlया पे
आधािरत है इससे पहले ू-येक दशक की जनगणना के आधार पर सदःय ःथान िनधा/िरत होते
थे यह काय/ बकायदा 84 वे संिवधान संशोधन से िकया गया था तािक रा=य अपनी आबादी के

आधार पर =यादा से =यादा ःथान ूा करने का ूयास नही करे
लोकसभा की काया/विध 5 वष/ है परं त
् ु इसे समय से पूव/ भंग िकया जा सकता है

लोकसभा की िवशेष शि>याँ
1. मंऽी पिरषद केवल लोकःभा के ूित उAरदायी है अिवNास ूःताव सरकार के िव?X
केवल यही लाया जा सकता है
2. धन िबल पािरत करने मे यह िनणा/यक सदन है
3. रा3ीय आपातकाल को जारी रखने वाला ूःताव केवल लोकःभा मे लाया और पास िकया
जायेगा

लोकसभा के पदािधकारी
ःपीकर
लोकसभा का अ<य होता है इसका चुनाव लोकसभा सदःय अपने म<य मे से करते है इसके
दो काय/ है
1. लोकसभा की अ<यता करना उस मे अनुसाशन गिरमा तथा ूित“ा बनाये रखना इस काय/
हे तु वह िकसी :यायालय के सामने उAरदायी नही होता है
2. वह लोकसभा से संलqन सिचवालय का ूशासिनक अ<य होता है िकंतु इस भूिमका के ?प
मे वह :यायालय के सम उAरदायी होगा
उसकी िवशेष शि>याँ
1. दोनो सदनॉ का सिRमिलत सऽ बुलाने पर ःपीकर ही उसका अ<य होगा उसके अनुउपिःथत
होने पर उपःपीकर तथा उसके भी न होने पर रा=यसभा का उपसभापित अथवा सऽ Zारा
नांमािकत कोई भी सदःय सऽ का अ<य होता है
2. धन िबल का िनधा/रण ःपीकर करता है यिद धन िबल पे ःपीकर साआयांिकत नही करता तो
वह धन िबल ही नही माना जायेगा उसका िनधा/रण अंितम तथा बा<यकारी होगा
3. सभी संसदीय सिमितयाँ उसकी अधीनता मे काम करती है उसके िकसी सिमित का सदःय
चुने जाने पर वह उसका पदे न अ<य होगा
4. लोकसभा के िवघटन होने पर भी उसका ूितिनिध-व करने के िलये ःपीकर पद पर काय/
करता रहता है नवीन लोकसभा चुने जाने पर वह अपना पद छोड दे ता है

ःपीकर ूोटे म [काय/वाहक]
ाहक]

जब कोई नवीन लोकसभा चुनी जाती है तब रा3पित उस सदःय को काय/वाहक ःपीकर िनयु>
करता है िजसको संसद मे सदःय होने का सबसे लंबा अनुभव होता है वह रा3पित Zारा शपथ
महण करता है
उसके दो काय/ होते है
1. संसद सदःयॉ को शपथ िदलवाना
2. नवीन ःपीकर चुनाव ूिबया का अ<य भी वही बनता है

उपःपीकर
िवधाियका[
िवधाियका[संसद रा=य िवधाियका]
िवधाियका] मे बहु मत के ूकार
1. सामा:य बहु मत – उपिःथत सदःयॉ तथा मतदान करने वालॉ के 50% से अिधक सदःय ही
सामा:य बहुमत है इस बहुमत का सदन की कुल सदःय संlया से कोई संबंध नही होता है
भारतीय संिवधान के अनुसार अिवNास ूःताव, िवNास ूःताव, कामरोको ूःताव, सभापित
,उपसभापित तथा अ<यॉ के चुनाव हे तु सदन के यिद संिवधान संशोधन का ूःताव रा=य
िवधाियकाओं को भेजना हो ,सामा:य िबल , धन िबल, रा3पित शासन ,िवAीय आपातकाल
लगाने हे तु सामा:य बहुमत को मा:यता ूा है यिद बहुमत के ूकार का िनद, श न होने पर उसे
सदै व सामा:य बहुमत समझा जाता है
2. पूण/ बहु मत – सदन के 50% से अिधक सदःयॉ का बहुमत [खाली सीटे भी िगनी जाती है ]
लोकसभा मे 273, रा=यसभा मे 123 सदःयॉ का समथ/न . इसका राजनैितक मअ-व है न िक
वैधािनक मह-व
3. ूभावी बहुमत मतदान के समय उपिःथत सदन के 50% से अिधक सदःयॉ [खाली सीटॉ को
छोडकर] यह तब ूयोग आती है जब लोक सभा अ<य उपा<य या रा=यसभा के उपसभापित
को पद से हटाना हो या जब रा=यसभा उपरा3पित को पद से हटाने हे तु मतदान करे
4.िवशे
िवशेष बहुमत – ूथम तीनो ूकार के बहुमतॉ से िभ:न होता है इसके तीन ूकार है
[क] अनु 249 के अनुसार उपिःथत तथा मतदान दे ने वालॉ के 2/3 संlया को िवशेष बहुमत
कहा गया है
[ख] अनु 368 के अनुसार – संशोधन िबल सदन के उपिःथत तथा सदन मे मत दे ने वालो के
2/3 संlया जो िक सदन के कुल सदःय संlया का भी बहुमत हो [लोकसभा मे 273
सदःय]इस बहुमत से संिवधान संशोधन ,:यायधीशॉ को पद से हटाना तथा रा3ीय आपातकाल
लगाना ,रा=य िवधान सभा Zारा िवधान पिरषद की ःथापना अथवा िवBछे दन की मां◌ंग के
ूःताव पािरत िकये जाते है

[ग] अनु 61 के अनुसार – केवल रा3पित के महािभयोग हे तु सदन के कुल संlया का कम से
कम 2/3 [लोकसभा मे 364 सदःय होने पर]

लोकसभा के सऽ
– अनु 85 के अनुसार संसद सदै व इस तरह से आयोिजत की जाती रहे गी िक संसद के दो सऽॉ
के म<य 6 मास
से अिधक अंतर ना हो पंरपरानुसार संसद के तीन िनयिमत सऽॉ तथा िवशेष सऽ6 मे आयोिजत
की जाती है
सऽॉ का आयोजन रा3पित की िवmि से होता है
1. बजट सऽ वष/ का पहला सऽ होता है सामा:यत फरवरी मई के म<य चलता है यह सबसे
लंबा तथा मह-वपूण/ सऽ माना जाता है इसी सऽ मे बजट ूःतािवत तथा पािरत होता है सऽ के
ूांरभ मे रा3पित का अिभभाषण होता है
2. मानसून सऽ जुलाई अगःत के म<य होता है
3. शरद सऽ नवRबर िदसRबर के म<य होता है सबसे कम समयाविध का सऽ होता है
िवशेष सऽ – इस के दो भेद है 1. संसद के िवशेष सऽ.
2. लोकसभा के िवशेष सऽ
संसद के िवशेष सऽ – मंिऽ पिरषद की सलाह पर रा3पित इनका आयोजन करता है ये िकसी
िनयिमत सऽ के म<य अथवा उससे पृथक आयोिजत िकये जाते है
एक िवशेष सऽ मे कोई िवशेष काय/ चिच/त तथा पािरत िकया जाता है यिद सदन चाहे भी तो
अ:य काय/ नही कर सकता है
लोकसभा का िवशेष सऽ – अनु 352 मे इसका वण/न है िकंतु इसे 44 व[ संशोधन 1978 से
ःथािपत िकया गया है यिद
लोकसभा के कम से कम 1/10 स•ःय एक ूःताव लाते है िजसमे रा3ीय आपातकाल को जारी
न रखने
की बात कही गयी है तो नोिटस दे ने के 14 िदन के भीतर सऽ बुलाया जायेगा
सऽावसान – मंिऽपिरषद की सलाह पे सदनॉ का सऽावसान रा3पित करता है इसमे संसद का एक
सऽ समा
हो जाता है तथा संसद दब
ु ारा तभी सऽ कर सकती है जब रा3पित सऽांरभ का सRमन जारी कर
दे सऽावसान की दशा मे संसद के
सम लिRबत काय/ समा नही हो जाते है
ःथगन – िकसी सदन के सभापित Zारा सऽ के म<य एक लघुविध का अ:तराल लाया जाता है

इस से
सऽ समा नही हो जाता ना उसके सम लिRबत काय/ समा हो जाते है यह दो ूकार का
होता है
1. अिनिŒत कालीन 2. जब अगली मीिटग का समय दे िदया जाता है
लोकसभा का िवघटन—
िवघटन रा3पित Zारा मंिऽ पिरंद की सलाह पर िकया है इससे लोकसभा का
जीवन समा हो जाता है इसके बाद आमचुनाव ही होते है िवघटन के बाद सभी लंिबत काय/ जो
लोकसभा के सम होते है समा हो जाते है िकंतु िबल जो रा=यसभा मे लाये गये हो और वही
लंिबत होते है समा :ही होते या या िबल जो रा3पित के सामने िवचाराधीन हो वे भी समापत
नही होते है या रा3पित संसद के दोनॉ सदनॉ की लोकसभा िवघटन से पूव/ संयु> बैठक बुला ले

िवधाियका संबंधी काय/वाही
ूिबयािबल/िवधेयक के ूकार कुल 4 ूकार होते है

सामा:य िबल
इसकी 6 िवशेषताएँ है
1. पिरभािषत हो
2. रा3पित की अनुमित हो
3. िबल कहाँ ूःतािवत हो
4. सदन की िवशेष शि>यॉ मे आता हो
5.िकतना बहुमत चािहए
6. गितवरोध पैदा होना
यह वह िवधेयक होता है जो संिवधान संशोधन धन या िवA िवधेयक नही है यह संसद के िकसी
भी सदन मे लाया जा सकता है यिद अनुBछे द 3 से जुडा ना हो तो इसको रा3ि की अनुंशसा
भी नही चािहए
इस िबल को पािरत करने मे दोनो सदनॉ की िवधायी शि>य़ाँ बराबर होती है इसे पािरत करने
मे सामा:य बहुमत
चािहए एक सदन Zारा अःवीकृ त कर दे ने पे यिद गितवरोध पैदा हो जाये तो रा3पित दोनो स§ॉ
की संयु> बैठक मंिऽ पिरषद की
सलाह पर बुला लेता है
रा3पित के सम यह िवधेयक आने पर वह इस को संसद को वापस भेज सकता है या ःवीकृ ित
दे सकता है या अिनिःचत काल हे तु रोक सकता है

धन िबल
िवधेयक जो पूणत
/ ः एक या अिधक मामलॉ िजनका वण/न अनुBछे द 110 मे िकया गया हो से
जुडा हो धन िबल कहलाता है ये मामल[ है
1. िकसी कर को लगाना,हटाना, िनयमन
2. धन उधार लेना या कोई िवAेय िजRमेदारी जो भारत सरकार ले
3. भारत की आपात/संिचत िनिध से धन की िनकासी/जमा करना
4.संिचत िनिध की धन माऽा का िनधा/रण
5. ऐसे 0यय िज:ह[ भारत की संिचत िनिध पे भािरत घोिषत करना हो
6. संिचत िनिध मे धन िनकालने की ःवीकृ ित लेना
7. ऐसा कोई मामला लेना जो इस सबसे िभ:न हो
धन िबल केवल लोकसभा मे ूःतािवत िकए जा सकते है इसे लाने से पूव/ रा3पित की ःवीकृ ित
आवश¡क है इ:ह[ पास करने के िलये सदन का सामा:य बहुमत आवँयक होता है
धन िबल मे ना तो रा=य सभा संशोधन कर सकती है न अःवीकार
जब कोई धन िबल लोकसभा पािरत करती है तो ःपीकर के ूमाणन के साथ यह िबल
रा=यसभा मे ले जाया जाता है रा=यसभा इस
िबल को पािरत कर सकती है या 14 िदन के िलये रोक सकती है िकंतु उस के बाद यह िबल
दोनॉ
सदनॉ Zारा पािरत माना जायेगा रा=य सभा Zारा सुझाया कोई भी संशोधन लोक सभा की इBछा
पे िनभ/र करे गा िक वो ःवीकार करे
या ना करे जब इस िबल को रा3पित के पास भेजा जायेगा तो वह सदै व इसे ःवीकृ ित दे दे गा
फायनेिसयल िबल वह िवधेयक जो एक या अिधक मनीिबल ूावधानॉ से पृथक हो तथा गैर मनी
मामलॉ से भी संबिधत हो एक फाइन[स िवधेयक मे धन ूावधानॉ के साथ साथ सामा:य
िवधायन से जुडे मामले भी होते है इस ूकार के िवधेयक को पािरत करने की शि> दोनो सदनॉ
मे समान होती

संिवधान संशोधन िवधेयक
अनु 368 के अंतग/त ूःतािवत िबल जो िक संिवधान के एक या अिधक ूःतावॉ को संशोिधत
करना चाहता है संशोधन िबल कहलाता है यह िकसी भी संसद सदन मे िबना रा3पित की
ःवीकृ ित के लाया जा सकता है इस िवधेयक को सदन Zारा कुल उपिःथत सदःयॉ की 2/3
संlया तथा सदन के कुल बहुमत Zारा ही पास िकया जायेगा दस
ू रा सदन भी इसे इसी ूकार

पािरत करे गा िकंतु इस िवधेयक को सदनॉ के पृथक सRमेलन मे पािरत िकया जायेगा गितरोध
आने की दशा मे जैसा िक सामा:य िवधेयक की िःथित मे होता है सदनॉ की संयु> बैठक नही
बुलायी जायेगी 24 वे संिवधान संशोधन 1971 के बाद से यह अिनवाय/ कर िदया गया है िक
रा3पित इस िबल को अपनी ःवीकृ ित दे ही दे

िवधेयक पािरत करने मे आया गितरोध
जब संसद के दोनॉ सदनॉ के म<य िबल को पास करने से संबंिधत िववाद हो या जब एक सदन
Zारा पािरत िबल को दस
ू रा अःवीकृ त कर दे या इस तरह के संशोधन कर दे िजसे मूल सदन
अःवीकर कर दे या इसे 6 मास तक रोके रखे तब सदनॉ के म<य गितवरोध की िःथित ज:म
लेती है अनु 108 के अनुसार रा3पित इस दशा मे दोनॉ सदनॉ की संयु> बैठक बुला लेगा
िजसमे सामा:य बहुमत से फैसला हो जायेगा अब तक माऽ तीन अवसरॉ पे इस ूकार की बैठक
बुलायी गयी है
1. दहे ज िनषेध एWट 1961
2.ब`िकग सेवा िनयोजन संशोधन एWट 1978
3.पोटा एWट 2002
संशोधन के िव?X सुरा उपाय 1. :याियक पुनरीा का पाऽ है
2.संिवधान के मूल ढांचे के िव?X न हो
3. संसद की संशोधन शि> के भीतर आता हो
4. संिवधान की सवOBचता, िविध का शासन तीनॉ अंगो का संतुलन बना रहे
5. संघ के ढाँचे से जुडा होने पर आधे रा=यॉ की िवधाियका से ःवीकृ ित िमले
6. गठबंधन राजनीित भी संिवधान संशोधन के िव?X ूभावी सुरा उपाय दे ती है Wय6िक
एकदलीय पूण/ बहुमत के िदन समा हो चुके

अ<यादे श जारी करना
अनु 123 रा3पित को अ<यादे श जारी करने की शि> दे ता है यह तब जारी होगा जब रा3पित
संतु“ हो जाये िक पिरिःथितयाँ ऐसी हो िक तुरंत काय/वाही करने की ज?रत है तथा संसद का 1
या दोनॉ सदन सऽ मे नही है तो वह अ<यादे श जारी कर सकता है यह अ<यादे श संसद के
पुनसऽ के 6 साह के भीतर अपना ूभाव खो दे गा यधिप दोनो सदनॉ Zारा ःवीकृ ित दे ने पर
यह जारी रहे गा यह शि> भी :यायालय Zारा पुनरीण की पाऽ है िकंतु शि> के गलत ूयोग
या दभ
ु ा/वना को िसX करने का काय/ उस 0यि> पे होगा जो इसे चुनौती दे अ<यादे श जारी करने
हे तु संसद का सऽावसान करना भी उिचत हो सकता है Wयॉिक अ<यादे श की ज?रत तुरंत हो

सकती है जबिक संसद कोई भी अिधिनयम पािरत करने मे समय लेती है अ<यादे श को हम
अःथाई िविध मान सकते है यह रा3पित की िवधाियका शि> के अ:दर आता है न िक
काय/पािलका वैसे ये काय/ भी वह मंिऽपिरषद की सलाह से करता है यिद कभी संसद िकसी
अ<यादे श को अःवीकार दे तो वह न“ भले ही हो जाये िकंतु उसके अंतग/त िकये गये काय/
अवैधािनक नही हो जाते है रा3पित की अ<यादे श जारी करने की शि> पे िनयंऽण
1. ू-येक जारी िकया हुआ अ<यादे श संसद के दोनो सदनो Zारा उनके सऽ शु होने के 6 ह¨ते
के भीतर ःवीकृ त करवाना होगा इस ूकार कोई अ<यादे श संसद की ःवीकृ ित के िबना 6 मास +
6 साह से अिधक नही चल सकता है
2. लोकसभा एक अ<यादे श को अःवीकृ त करने वाला ूःताव 6 साह की अविध समा होने से
पूव/ पास कर सकती है
3. रा3पित का अ<यादे श :याियक समीा का िवषय़ हो सकता है

संसद मे रा3पित का अिभभाषण
यह सदै व मंिऽपिरषद तैयार करती है यह िसवाय सरकारी नीितयॉ की घोषणा के कुछ नही होता
है सऽ के अंत मे इस पर ध:यवाद ूःताव पािरत िकया जाता है यिद लोकसभा मे यह ूःताव
पािरत नही हो पाता है तो यह सरकार की नीितगत पराजय मानी जाती है तथा सरकार को
तुरंत अपना बहुमत िसX करना पडता है संसद के ू-येक वष/ के ूथम सऽ मे तथा लोकसभा
चुनाव के तुरंत पŒात दोनॉ सदनॉ की सिRमिलत बैठक को रा3पित संबोिधत करता है यह
संबोधन वष/ के ूथम सऽ का पिरचायक है इन सयुं> बैठकॉ का सभापित खुद रा3पित होता है
अिभभाषण मे सरकार की उपलिधयॉ तथा नीितयॉ का वण/न तथा समीा होती है [जो िपछले
वष/ मे हुई थी] आतंिरक समःयाओं से जुडी नीितयाँ भी इसी मे घोिषत होती है ूःतािवत
िवधाियका काय/वािहया जो िक संसद के सामने उस वष/ के सऽॉ मे लानी हो का वण/न भी
अिभभाषण मे होता है अिभभाषण के बाद दोनो स§ पृथक बैठक करके उस पर चचा/ करते है
िजसे पया/पत समय िदया जाता है

संिचत िनिध
संिवधान के अनु 266 के तहत ःथािपत है यह ऐसी िनिध है िजस मे समःत एकऽ कर/राजःव
जमा,िलये गये ऋण जमा िकये जाते है यह भारत की सवा/िधक बडी िनिध है जो िक संसद के
अधीन रखी गयी है कोई भी धन इसमे िबना संसद की पूव/ ःवीकृ ित के िनकाला/जमा या

भािरत नहीं िकया जा सकता है अनु 266 ू-येक रा=य की समेिकत िनिध का वण/न भी करता
है

भारत की लोक िनिध
अनु 266 इसका वण/न भी करता है वह धन िजसे भारत सरकार कर एकऽीकरण ूा आय
उगाहे गये ऋण के अलावा एकऽ करे भारत की लोकिनिध कहलाती है कम/चारी भिवंय़ िनिध
को भारत की लोकिनिध मे जमा िकया गया है यह काय/पािलका के अधीन िनिध है इससे 0यय
धन महालेखािनयंऽक Zारा जाँचा जाता है अनु 266 रा=यॉ की लोकिनिध का भी वण/न करता है

भारत की आपातकाल िनिध
अनु 267 संसद को िनिध जो िक आपातकाल मे ूयोग की जा सकती हो ःथािपत करने का
अिधकार दे ता है यह िनिध रा3पित के अधीन है इससे खच/ धन रा3पित की ःवीकृ ित से होता है
परं तु संसद के सम इसकी ःवीकृ ित ली जाती है यिद संसद ःवीकृ ित दे दे ती है तो 0यय धन
के बराबर धन भारत की संिचत िनिध से िनकाल कर इसमे डाल िदया जाता है अनु 267 रा=यॉ
को अपनी अपनी आपातकाल िनिध ःथािपत करने का अिधकार भी दे ता है

भािरत 0यय
वे 0यय जो िक भारत की संिचत िनिध पर िबना संसदीय ःवीकृ ित के भािरत होते है ये 0यय या
तो संिवधान Zारा ःवीकृ त होते है या संसद िविध बना कर डाल दे ती है कुछ संवैधािनक पदॉ की
ःवतंऽता बनाये रखने के िलये यह 0यय ूयोग लाये गये है अनु 112[3] मे कुछ भािरत 0ययॉ
की सूची है
1. रा3पित के वेतन,भAे,काया/लय से जुडा 0यय है
2. रा=यसभा लोकसभा के सभापितयॉ उपसभापितयॉ के वेतन भAे
3.ऋण भार िजनके िलये भारत सरकार उAरदायी है [याज सिहत]
4.सवOBच :यायालय के :यायधीश6 के वेतन भAे प[शन तथा उBच :यायालय की प[शने इस पर
भािरत है
5. महालेखािनयंऽक तथा परीक [केग] के वेतन भAे
6. िकसी :याियक अवाड//िडबी/िनण/य के िलये आवशयक धन जो :यायालय/िश:यूल Zारा
पािरत हो

7. संसद Zारा िविध बना कर िकसी भी 0यय को भािरत 0यय कहा जा सकता है
अभी तक संसद ने िनवा/चन आयु>ॉ के वेतन भAे प[शन ,के:िीय सत/कता आयोग सदःयॉ के
वेतन भAे प[शन भी इस पर भािरत िकये है

िवA 0यवःथा पर संसद का िनयंऽण
अनु 265 के अनुसार कोई भी कर काय/पािलका Zारा िबना िविध के अिधकार के न तो आरोिपत
िकया जायेगा और न ही वसूला जायेगा अनु 266 के अनुसार भारत की समेिकत िनिध से कोई
धन 0यय /जमा भािरत करने से पूव/ संसद की ःवीकृ ित ज?री है
अनु 112 के अनुसार रा3पित भारत सरकार के वािष/क िवAीय लेखा को संसद के सामने रखेगा
यह िवAीय लेखा ही बजट है <br /

बजट
1. अनुमािनत आय 0यय जो िक भारत सरकार ने भावी वष/ मे करना हो
2. यह भावी वष/ के 0यय के िलये राजःव उगाहने का वण/न करता है
3. बजट मे िपछले वष/ के वाःतिवक आय 0यय का िववरण होता है
बजट सामा:यत िवAमंऽी Zारा सामा:यतः फरवरी के आखरी िदन लोकसभा मे ूःतुत िकया
जाता है उसी समय रा=यसभा मे भी बजट के कागजात रखे जाते है यह एक धन िबल है

कटौती ूःताव
—बजट ूिबया का ही भाग है केवल लोकसभा मे ूःतुत िकया जाता है ये वे उपकरण है जो
लोकसभा सदःय काय/पािलका पे िनयंऽण हे तु उपयोग लाते है ये अनुदानॉ मे कटौती कर सकते
है इसके तीन ूकार है
1.नीित
नीित सबंधी कटौती इस ूःताव का pआय लेखानुदान संबंिधत नीित की अःवीकृ ित है यह इस
?प मे होती है ‘‘ मांग को कम कर माऽ 1 पया िकया जाता है यिद इस ूःताव को पािरत कर
िदया जाये तो यह सरकार की नीित संबंधी पराजय मानी जाती है उसे तुरंत अपना िवNास िसX
करना होता है
2. िकफायती कटौती भारत सरकार के 0यय को उससीमा तक कम कर दे ती है जो संसद के
मतानुसार िकफायती होगी यह कटौती सरकार की नीितगत पराजय नहीं मानी जाती है

3. सांकेितक कटौती इन कटौतीय6 का pआय संसद सदःयॉ की िवशेष िशकायत[ जो भारत
सरकार से संबंिधत है को िनपटाने हे तु ूयोग होती है िजसके अंतग/त मांगे गये धन से माऽ
100  की कटौती की जाती है यह कटौती भी नीितगत पराजय नही मानी जाती है

लेखानुदान (वोट ओन अकाउं ट)
ट)
अनु 116 इस ूावधान का वण/न करता है इसके अनुसार लोकसभा वोट ओन अकाउं ट नामक
ता-कािलक उपाय ूयोग लाती है इस उपाय Zारा वह भारत सरकार को भावी िवAीय वष/ मे भी
तब तक 0यय करने की छूट दे ती है जब तक बजट पािरत नही हो जाता है यह सामा:यत बजट
का अंग होता है िकंतु यिद मंिऽपिरषद इसे ही पािरत करवाना चाहे तो यही अंतिरम बजट बन
जाता है जैसा िक 2004 मे एन.डी.ए. सरकार के अंितम बजट के समय हुआ था िफर बजट
नयी यू.पी.ए सरकार ने पेश िकया था
वोट ओन बेिडट [ू-यानुदान] लोकसभा िकसी ऐसे 0यय के िलये धन दे सकती है िजसका
वण/न िकसी पैमाने या िकसी सेवा मद मे रखा जा सWना संभव ना हो मसलन अचानक युX हो
जाने पे उस पर 0यय होता है उसे िकस शीष/क के अंतग/त रखे?यह लोकसभा Zारा पािरत खाली
चैक माना जा सकता है आज तक इसे ूयोग नही िकया जा सका है
िजलेटीन ूयोग—समयाभाव
के चलते लोकसभा सभी मंऽालय6 के 0ययानुदानॉ को एक मुँत

पास कर दे ती है उस पर कोई चचा/ नही करती है यही िजलेटीन ूयोग है यह संसद के िवAीय
िनयंऽण की दब
/ ता िदखाता है
ु ल

संसद मे लाये जाने वाले ूःताव
अिवNास ूःताव
लोकसभा के िबयांवयन िनयमॉ मे इस ूःताव का वण/न है िवप यह ूःताव लोकसभा मे
मंिऽपिरषद के िव?X लाता है इसे लाने हे तु लोकसभा के 50 स•ःयॉ का समथ/न ज?री है यह
सरकार के िव?X लगाये जाने वाले आरोपॉ का वण/न नही करता है केवल यह बताता है िक
सदन मंिऽपिरषद मे िवNास नही करता है एक बार ूःतुत करने पर यह ूःताव ् िसवाय
ध:यवाद ूःताव के सभी अ:य ूःतावॉ पर ूभावी हो जाता है इस ूःताव हे तु पया/ समय
िदया जाता है इस पर ् चचा/ करते समय समःत सरकारी कृ -यॉ नीितयॉ की चचा/ हो सकती है
लोकसभा Zारा ूःताव पािरत कर िदये जाने पर मंिऽपिरषद रा3पित को -याग पऽ स«प दे ती है
संसद

के

एक

सऽ

मे

एक

से

अिधक

अिवNास

ूःताव

नही

लाये

जा

सकते

है

िवNास ूःताव लोकसभा िनयमॉ मे इस ूःताव का कोई वण/न नही है यह आवँय>ानुसार
उ-प:न हुआ है तािक मंिऽपिरषद अपनी सAा िसX कर सके यह सदै व मंिऽपिरषद लाती है इसके
िगरजाने पर उसे -याग पऽ दे ना पडता है िनंदा ूःताव लोकसभा मे िवप यह ूःताव लाकर
सरकार की िकसी िवशेष नीित का िवरोध/िनंदा करता है इसे लाने हे तु कोई पूवा/नुमित ज?री
नही है यिद लोकसभा मे पािरत हो जाये तो मंिऽपिरषद िनधा/िरत समय मे िवNास ूःताव
लाकर अपने ःथािय-व का पिरचय दे ती है है उसके िलये यह अिनवाय/ है कामरोको ूःताव
लोकसभा मे िवप यह ूःताव लाता है यह एक अिZतीय ूःताव है िजसमे सदन की समःत
काय/वाही रोक कर ता-कालीन जन मअ-व के िकसी एक मु†े को उठाया जाता है ूःताव पािरत
होने पर सरकार पे िनंदा ूःताव के समान ूभाव छोडता है

संघीय :यायपािलका
सवOBच :यायालय के :यायधीश6 की िनयुि>
29 जज तथा 1 मुlय :यायाधीश की िनयुि> के ूावधान का वण/न संिवधान मे है अनु 124[2]
के अनुसार ् मुlय :यायाधीश की िनयुि> करते समय इBछानुसार रा3पित अपनी इBछानुसार
सवOBच :यायालय उBच :यायालय के :यायाधीशॉ की सलाह लेगा वही अ:य जजॉ की िनयुि>
के समय उसे अिनवाय/ ?प से मुlय :यायाधीश की सलाह माननी पडे गी
सुूीम कोट/ एडवोके¬स आन िरकाड/ एसो बनाम भारत संघ वाद 1993 मे िदये गये िनण/य के
अनुसार सवOBच :यायालय ,उBच :यायालय के जजॉ की िनयुि> तथा उBच :यायालय के जजॉ

के तबादले इस ूकार की ूिबया है जो सवा/िधक योqय उपpध 0यि>यॉ की िनयुि> की जा
सके सी.जे.आई. का मत ूाथिमकता पायेगा वह एक माऽ अिधकारी होगा उBच :यायपािलका मे
कोई िनयुि> िबना उस की सहमित के नही होती है संवैधािनक सAाओं के संघष/ के समय सी.जे
आई. :यायपािलका का ूितिनिध-व करे गा रा3पित सी.जे.आई. को अपने मत पर िफर से िवचार
करने को तभी कहे गा जब इस हे तु कोई तािक/क कारण मौजूद होगा पुनःिवचार के बाद उसका
मत रा3पित पे बा<यकारी होगा यधिप अपना मत ूकट करते समय वह सुूीम कोट/ के दो
विर“म :यायधीश6 का मत ज?र लेगा पुनःिवचार की दशा मे िफर से उसे दो विर“म :यायधीशॉ
की राय लेनी होगी वह चाहे तो उBच :यायालय/सवOBच :यायालय के अ:य जजॉ की राय भी
ले सकता है लेिकन सभी राय सदै व िलिखत मे होगी
बाद मे अपना मत बदpते हुए :यायालय ने कम से कम 4 जजॉ के साथ सलाह करना अिनवाय/
कर िदया था वह कोई भी सलाह रा3पित को अमेिषत नही करे गा यिद दो या =यादा जजो की
सलाह इःके िव?X हो िकंतु 4 जजॉ की ःलाह उसे अ:य जजॉ िजनसे वो चाहे सलाह लेने से
नही रोकेगी

:यायपािलका के :यायधीश6 की पदBयुित
—इस कोिट के जजॉ के रा3पित तब पदBयुत करे गा जब संसद के दोणो सदनॉ के कम से कम
2/3 उपिःथत तथा मत दे ने वाले तथा सदन के कुल बहुमत Zारा पािरत ूःताव जो िक िसX
कदाचार या अमता के आधार पे लाया गया हो के Zारा उसे अिधकार िदया गया हो ये आदे श
उसी संसद सऽ मे लाया जायेगा िजस सऽ मे ये ूःताव संसद ने पािरत िकया हो अनु 124[5]
मे वह ूिबया विण/त है िजस से जज प•Bयुत होते है इस ूिबया के आधार पर संसद ने
:यायधीश अमता अिधिनयम 1968 पािरत िकया था इसके अंतग/त
1. संसद के िकसी भी सदन मे ूःताव लाया जा सकता है लोकःभा मे 100 रा=यसभा मे 50
स•ःयॉ का समथ/न अिनवाय/ है
2. ूःताव िमलने पे सदन का सभापित एक 3 स•ःय सिमित बनायेगा जो आरोप6 की जाँच
करे गी सिमित का अ<य सूीम कोट/ का काय/कारी जज होगा दस
ू रा सदःय िकसी हाई कोट/ का
मुlय काय/कारी जज होगा तीसरा सदःय माना हुआ िविधवेAा होगा इस की जाँच िरपोट/ सदन
के सामने आयेगी यिद इस मे जज को दोषी बताया हो तब भी सदन ूःताव पािरत करने को
बा<य नही होता िकंतु यिद सिमित आरोप6 को खािरज कर दे तो सदन ूःताव पािरत नही कर
सकता है
अभी तक िसफ/ एक बार िकसी जज के िव?X जांच की गयी है जज रामाःवामी दोषी िसX हो

गये थे िकंतु संसद मे आवँयक बहुमत के अभाव के चलते ूःताव पािरत नहीं िकया जा सका
था

अिभलेख :यायालय
अनु 129 सुूीम कोट/ को तथा अनु 215 उBच :यायालय को अिभलेख :यायालय घोिषत करता
है यह संकpपना इं िqलश िविध से ली गयी है अिभलेख :यायालय का अथ/ अनु 129 सुूीम कोट/
को तथा अनु 215 उBच :यायालय को अिभलेख :यायालय घोिषत करता है यह संकpपना
इं िqलश िविध से ली गयी है अिभलेख :यायालय का अथ/
1. :यायालय की काय/वाही तथा िनण/य को दस
ू रे :यायालय मे साआय के ?प मे ूःतुत िकया
जा सकेगा
2. :यायालय को अिधकार है िक वो अवमानना करने वाले 0यि> को द‹ड दे सके यह शि>
अधीनःथ :यायालय को ूा नही है इस शि> को िनयिमत करने हे तु संसद ने :यायालय
अवमानना अिधिनयम 1971 पािरत िकया है अवमानना के दो भेद है िसिवल और आपरािधक
जब कोई 0यि> आदे श िनद, श का पालन न करे या उpलंघ न करे तो यह िसिवल अवमानना है
परं त
् ु यिद कोई 0यि> :यायालय को बदनाम करे जज6 को बदनाम तथा िववािदत बताने का
ूयास करे तो यह आपरािधक अवमानना होगी िजसके िलये कारावास/जुमा/ना दोनो दे ना पडे गा
वही िसिवल अवमानना मे कारावास संबव नही है यह शि> भारत मे काफी कुlयात तथा
िववादःपद है

सवOBच :यायालय की खंडपीठ
अनु 130 के अनुसार सवOBच :यायालय िदpली मे होगा परं त
् ु यह भारत मे और कही भी मुlय
:यायाधीश ् के िनण/य के अनुसार रा3पित की ःवीकृ ित से सुनवाई कर सकेगा 
ेऽीय खंडपीठ6 का ू‰ िविध आयोग अपनी िरपोट/ के मा<यम से ेऽीय खंडपीठ6 के गठन की
अनुसंशा कर चुका है :यायालय के वकीलॉ ने भी ूाथना/ की है िक वह अपनी ेऽीय खंडपीठ6
का गठन करे तािक दे श के िविभ:न भागॉ मे िनवास करने वाले वािदयॉ के धन तथा समय
दोनॉ की बचत हो सके,िकंतु :यायालय ने इस ू‰ पे िवचार करने के बाद िनण/य िदया है िक
पीठॉ के गठन से
1. ये पीठे ेऽ के राज नैितक दबाव मे आ जायेगी
2. इनके Zारा सुूीम कोट/ के एका-मक चिरऽ तथा संगठन को हािन पहुँच सकती है
िकंतु इसके िवरोध मे भी तक/ िदये गये है

सवOBच :यायालय का ेऽािधकार
जनिहत यािचकाएँ
– इस ूकार की यािचकाओँ का िवचार अमेिरका ए ज:मा वहाँ इसे सामािजक काय/वाही यािचका
कअते है यह :यायपािलका का आिवंकार तथा :यायधीश िनिम/त िविध है
जनिहत यािचका भारत मे पी.एन.भगवती ने ूारं भ की थी ये यािचकाँए जनिहत को सुरित
तथा बढाना चाहती है ये लोकिहत भावना पे काय/ करती है
ये ऐसे :याियक उपकरण है िजनका लआय जनिहत ूा करना है इनका pआय तीो तथा सःता
:याय एक आम आदमी को िदलवाना तथा काय/पािलका िवधाियका को उनके संवैधािनक काय/
करवाने हे तु िकया जाता है
ये समूह िहत मे काम आती है ना िक 0यि> िहत मे यिद इनका द?
ु पयोग िकया जाये तो
यािचकाकता/ पे जुमा/ना तक िकया जा सकता है इनको ःवीकारना या ना ःवीकारना :यायालय पे
िनभ/र करता है
इनकी ःवीकृ ित हे तु सुूीम कोट/ ने कुछ िनयम बनाये है
1. लोकिहत से ूेिरत कोई भी 0यि>,संगठन इ:हे ला सकता है
2. कोट/ को िदया गया पोःटकाड/ भी िरट यािचका मान कर ये जारी की जा सकती है
3. कोट/ को अिधकार होगा िक वह इस यािचका हे तु सामा:य :यायालय शुpक भी माफ कर दे
4. ये रा=य के साथ ही िनजी संःथान के िव?X भी लायी जा सकती है
इसके लाभ
1. इस यािचका से जनता मे ःवयं के अिधकार6 तथा :यायपािलका की भूिमका के बारे मे चेतना
बढती है यह मौिलक अिधकार6 के ेऽ को वृहद बनाती है इसमे 0यि> को कई नये अिधकार
िमल जाते है
2. यह काय/पािलका िवधाियका को उनके संवैधािनक कत/0य करने के िलये बािधत करती है
,साथ ही यह ॅ“ाचार मु> ूशासन की सुिनिशचतता करती है
आलोचनाएं 1. ये सामा:य :याियक संचालन मे बाधा डालती है
2. इनके द?
ु पयोग की ूवृित परवान पे है
इसके चलते सुूीम कोट/ ने खुद कुछ ब:धन इनके ूयोग पे लगाये है

:याियक सिबयता
:याियक सिबयता का अथ/ :यायपािलका Zारा िनभायी जाने वाली वह सिबय भूिमका है िजसमे
रा=य के अ:य अंग6 को उनके संवैधािनक कृ -य करने को बाधय करे यिद वे अंग अपने कृ -य
संपािदत करने मे सफल रहे तो जनतंऽ तथा िविध शासन के िलये :यायपािलका उनकी शि>य6
भूिमका का िनवा/ह सीिमत समय के िलये करे गी यह सिबयता जनतंऽ की शि> तथा जन
िवNास को पुनः
/ थािपत करती है
इस तरह यह सिबयता :यायपािलका पर एक असंवेदनशील/गैर िजRमेदार शासन के कृ -य6 के
कारण लादा गया बोझ है यह सिबयता :याियक ूयास है जो मजबूरी मे िकया गया है यह
शि> उBच :यायालय तथा सुूीम कोट/ के पास ही है ये उनकी पुनरीा तथा िरट ेऽािधकार मे
आती है जनिहत यािचका को हम :याियक सिबयता का मुlय माधयम मान सकते है
इसका समथ/न एक सीिमत सीमा तक ही िकया जा सकता है इसके िवरोध के ःवर भी आप
काय/ पािलका तथा िवधाियका मे सुन सकते है इसके चलते ही हाल ही मे सुूीम कोट/ ने खुद
संयम बरतने की बात सवीकारी है तथा कई मामल6 मे हःतेप करने से मना कर िदया है

संिवधान िवकास मे सुूीम कोट/ की भूिमका
एक तरफ यह संिवधान का संरआक अंितम 0याlयाकता/ ,मौिलक अिधकार6 का रक ,के:ि
रा=य िववाद6 मे एक माऽ म<यःथ है वही यह संिवधान के िवकास मे भी भूिमका िनभाता रहा
है इसने माना है िक िनरं तर संवैधािनक िवकास होना चािहए तािक समाज के िहत संविध/त हो
,:याियक पुनरीण शि> के कारण यह संवैधािनक िवकास मे सहायता करता है सवा/िधक
मह®वपूण/ िवकास यह है िक भारत मे संिवधान सवOBच है इसने संिवधान के मूल ढाँचे का
अदभुत िसXांत िदया है िजसके चलते संिवधान काफी सुरित हो गया है इसे मनमाने ढं ग से
बदला नही जा सकता ह
इसने मौिल अिधकार6 का िवःतार भी िकया है इसने अनु 356 के द?
ु पयोग को भी रोका है
सुूीम कोट/ इस उि> का पालन करता है िक संिवधान खुद नहीं बोलता है यह अपनी वाणी
:यायपािलका के माधयम से बोलता है

संिवधान भाग 6
पाठ 1 रा=य काय/पािलका

रा=यपाल
रा=यपाल ् काय/पािलका का ूमुख होता है वह रा=य मे के:ि का ूितिनिध होता है तथा रा3पित के ूसाद पय¯त ही
पद पे बना रहता है वह कभी भी पद से हटाया जा सकता है
उसका पद तथा भूिमका भारतीय राजनीित मे दीघ/ काल से िववाद का कारण रही है िजसके चलते काफी िववाद हुए
है सरकािरया आयोग ने अपनी िरपोट/ मे इस तरह की िसफािरश दी थी
.1एक रा=य के रा=यपाल की िनयुि> रा=य के मुlयमंऽी की सलाह के बाद ही रा3पित करे
.2वह जीवन के िकसी ेऽ का मह-वपूण/ 0यि>-व हो
.3वह रा=य के बाहर का रहने वाला हो
.4वह राजनैितक ?प से कम से कम िपछले 5 वशO से रा3ीय ?प से सिबय ना रहा होतथा िनयुि> वाले रा=य मे
कभी भी सिबय ना रहा हो
.5उसे सामा:यत अपने पाँच वष/ का काय/काल पूरा करने िदया जाये तािक वह िनंप ?प से काम कर सके
.6के:ि पर सAा?ढ राजनैितक गठब:धन का स•ःय ऐसे रा=य का रा=यपाल नही बनाया जाये जोिवप Zारा
शािसत हो
.7रा=यपाल Zारा पािक िरपोट/ भेजने की ूथा जारी रहनी चािहए
.8यिद रा=यपाल रा3पित कोअनु 356 के अधीन रा3पित शासन लगाने की अनुशंसा करे तोउसे उन कारणॉ
,िःथितय6 का वण/न िरकाड/ मे रखना चािहए िजनके आधार पे वह इस िनंक़ष/ पे पहुँचा हो

इसके अलावा रा=यपाल एक संवैधािनक ूमुख है जो अपने कत/0य मंिऽपिरषद की सलाह
सहायता से करता है परं तु उसकी संवैधािनक िःथित उसकी मंिऽपिरषद की तुलना मे बहुत
सुरित है वह रा3पित के समान असहाय नहीं है रा3पित के पास माऽ िववेकाधीन शि> ही है
िजसके अलावा वह सदै व ूभाव का ही ूयोग करता है िकंतु संिवधान राजयपाल को ूभाव तथा
शि> दोन6 दे ता है उसका पद उतना ही शोभा-मक है उतना ही काया/तमक भी है
रा=यपाल उन सभी िववेकाधीन शि>य6 का ूयोग भी करता है जो रा3पित को िमलती है इसके
अलावा वो इन अितिर> शि>य6 का ूयोग भी करता है
अनु 166[2] के अंतग
/ त यिद कोई ूशन उठता है िक राजयपाल की शि> िववेकाधीन है या नहीं
तो उसी का िनण/य अंितम माना जाता है
अनु 166[3] रा=यपाल इन शि>य6 का ूयोग उन िनयम6 के िनमा/ण हे तु कर सकता है िजनसे
रा=यकायf को सुगमता पूवक
/ संचालन हो साथ ही वह मंिऽय6 मे काय/ िवभाजन भी कर सकता

है
अनु 200 के अधीन रा=यपाल अपनी िववेक शि> का ूयोग रा=य िवधाियका Zारा पािरत िबल
को रा3पित की ःवीकृ ित हे तु सुरित रख सकने मे कर सकता है
अनु 356 के अधीन रा=यपाल रा3पित को राज के ूशासन को अिधमिहत करने हे तु िनमंऽण दे
सकता है यिद यह संिवधान के ूावधान6 के अनु?प नहीं चल सकता हो
िवशेष िववेकाधीन शि>
पंरपरा के अनुसार रा=यपाल रा3पित को भेजी जाने वाली पािक िरपोट/ के सRब:ध मे िनण/य
ले सकता है कुछ रा=य6 के रा=यपाल6 को िवशेष उAरदािय-व6 का िनवा/ह करना होता है िवशेष
उAरदािय-व का अथ/ है िक रा=यपाल मंिऽपिरषद से सलाह तो ले िकंतु इसे मानने हे तु वह
बा<य ना हो और ना ही उसे सलाह लेने की ज?रत पडती हो

रा=य िवधाियका
संिवधान मे 6 रा=य6 हे तु िZसदनीय िवधाियका का ूावधान िकया गया है
उपरी सदन ःथापना तथा उ:मूलन अनु 169 के अनुसार यह शि> केवल संसद को है
ऊपरी सदन का मह-व –यह सदन ूथम ौेणी का नही होता यह िवधान सभा Zारा पािरत िबल
को अःवीकृ त संशोिधत नहीं कर सकता है केवल िकसी िबल को =यादा से =यादा 4 मास के
िलये रोक सकता है इसके अलावा मंिऽपिरषद मे िवशेषm6 की िनयुि> हे तु इसका ूयोग हो
सकता है Wय6िक यहाँ मनोनीत सदःय6 की सुिवधा भी है
िवधाियका की ूिबयाएँ तीन ूकार के िबल धन ,फाइन[स तथा सामा:य होते है ,धन िबल संसद
की तरह ही पास होते है ,फाइन[स िबल केवल िनचले सदन मे ही पेश होते है , सामा:य िबल जो
ऊपरी सदन मे पेश ह6गे व पािरत हो यिद बाद मे िनचले सदन मे अःवीकृ त हो जाये तो समा
हो जाते है
िनचले सदन Zारा पािरत िबल को ऊपरी सदन केवल 3 मास के िलये रोक सकता है उसके बाद
वे पािरत माने जाते है

रा=य :यायपािलका
रा=य :यायपािलका मे तीन ूकार की पीठ[ होती है एकल िजसके िनण/य को उBच :यायालय की
िडवीजनल/खंडपीठ/सवOBच :यायालय मे चुनौती दी जा सकती है
िडवीजन ब[च 2 या 3 जज6 के मेल से बनी होती है िजसके िनण/य केवल सुूीम कोट/ मे चुनौती
पा सकते है

संवैधािनक/फुल ब[च सभी संवैधािनक 0याlया से संबिधत वाद इस ूकार की पीठ सुनती है
इसमे कम से कम 5 जज होते है

अधीनःथ :यायालय
इस ःतर पर िसिवल आपरािधक मामल6 की सुनवाई अलग अलग होती है इस ःतर पर िसिवल
तथा सेशन कोट/ अलग अलग होते है इस ःतर के जज सामा:य भतo परीा के आधार पर भतo
होते है उनकी िनयुि> रा=यपाल रा=य मुlय :यायाधीश की सलाह पर करता है
फाःट शे क कोट/ – ये अितिर> सऽ :यायालय है इनक गठन दीघा/विध से लंिबत अपराध तथा
अंडर शायल वाद6 के तीोता से िनपटारे हे तु िकया गया है
ये अितिर> सऽ :यायालय है इनक गठन दीघा/विध से लंिबत अपराध तथा अंडर शायल वाद6 के
तीोता से िनपटारे हे तु िकया गया है
इसके पीछे कारण यह था िक वाद लRबा चलने से :याय की ित होती है तथा :याय की
िनरोधक शि> कम पड जाती है जेल मे भीड बढ जाती है 10 वे िवA आयोग की सलाह पर केि
सरकार ने रा=य सरकार6 को 1 अूेल 2001 से 1734 फाःट शे क कोट/ गिठत करने का आदे श
िदया अितिर> सेशन जज याँ उं चे पद से सेवािनवृत जज इस ूकार के कोटO मे जज होता है
इस ूकार के कोटO मे वाद लंिबत करना संभव नहीं होता है हर वाद को िनधा/िरत ःमय मे
िनपटाना होता है
आलोचना 1. िनधा/िरत संlया मे गठन नहीं हुआ
2. वाद6 का िनण/य संि ढँ ग से होता है िजसम[ अिभयु> को रा करने का पूरा मौका नहीं
िमलता है
3. :यायधीश6 हे तु कोई सेवा िनयम नहीं है
लोक अदालत जनता की अदालत[ है ये िनयिमत कोट/ से अलग होती है पदे न या सेवािनवृत
जज तथा दो सदःय एक सामािजक काय/कता ,एक वकील इसके स•ःय होते है सुनवाई केवल
तभी करती है जब दोन6 प इसकी ःवीकृ ित दे ते हो ये बीमा दाव6 ितपूित/ के ?प वाले वाद6
को िनपता दे ती है
इनके पास वैधािनक दजा/ होता है वकील प नहीं ूःतुत करते ह`
इनके लाभ – 1.:यायालय शुpक नहीं लगते
2. यहाँ ूिबया संिहता/साआय एWट नहीं लागू होते
3. दोन6 प :यायधीश से सीधे बात कर समझौते पर पहुचँ जाते है
4. इनके िनण/य के िखलाफ अपील नहीं ला सकते है

आलोचनाएँ 1. ये िनयिमत अंतराल से काम नहीं करती है
2. जब कभी काम पे आती है तो िबना सुनवाई के बडी माऽा मे मामले िनपटा दे ती है
3. जनता लोक अदालत6 की उपिःथित तथा लाभ6 के ूित जाग?क नहीं है

जRमू कँमीर की िवशेष िःथित
संवैधािनक ूावधान ःवतः जRमू तथा कँमीर पे लागू नहीं होते केवल वहीं ूावधान िजनमे ःप“
?प से कहा जाए िक वे जRमू कँमीर पे लागू होते है उस पर लागू होते है
जRमू कँमीर की िवशेष िःथित का mान इन त±य6 से होता है
1. जRमू कँमीर संिवधान सभा Zारा िनिम/त रा=य संिवधान से वहाँ का काय/ चलता है ये
संिवधान जRमू कँमीर के लोग6 को रा=य की नागिरकता भी दे ता है केवल इस रा=य के
नागिरक ही संपिA खरीद सकते है या चुनाव लड सकते है या सरकारी सेवा ले सकते है
2. संसद जRमू कँमीर से संबंध रखने वाला ऐसा कोई कानून नहीं बना सकती है जो इसकी
रा=य सूची का िवषय हो
3. अवशेष शि> जRमू कँमीर िवधान सभा के पास होती है
4. इस रा=य पर सशœ िविोह की दशा मे या िवAीय संकट की दशा मे आपात काल लागू नहीं
होता है
5. संसद रा=य का नाम ेऽ सीमा िबना रा=य िवधाियका की ःवीकृ ित के नहीं बदलेगीं
6. रा=यपाल की िनयुि> रा3पित रा=य मुlयमंऽी की सलाह के बाद करे गी
7. संसद Zारा पािरत िनवारक िनरोध िनयम रा=य पर अपने आप लागू नहीं होगा
8. रा=य की पृथक दं ड संिहता तथा दं ड ूिबया संिहता है
९।

के:ि रा=य संबंध
िवधाियका ःतर पर सRब:ध
संिवधान की सातंवी अनुसूची िवधाियका के िवषय़ के:ि रा=य के म<य िवभािजत करती है संघ
सूची मे मह-वपूण/ तथा सवा/िधक िवषय़ है
रा=य6 पर के:ि का िवधान संबंधी िनयंऽण
1. अनु 31[1] के अनुसार रा=य िवधाियका को अिधकार दे ता है िक वे िनजी संपिA जनिहत हे तु
िविध बना कर मिहत कर ले परं तु ऐसी कोई िविध असंवैधािनक/र† नहीं की जायेगी यिद यह
अनु 14 व अनु 19 का उpलघंन करे परं तु यह :याियक पुनरीण का पाऽ होगा िकंतु यिद इस
िविध को रा3पित की ःवीकृ ित हे तु रखा गया और उस से ःवीकृ ित िमली भी हो तो वह :याियक
पुनरीा का पाऽ नहीं होगा
2. अनु 31[ब] के Zारा नौवीं अनुसूची भी जोडी गयी है तथा उन सभी अिधिनयम6 को जो रा=य
िवधाियका Zारा पािरत हो तथा अनुसूची के अधीन रख[ गये हो को भी :याियक पुनरीा से छूट
िमल जाती है लेिकन यह काय/ संसद की ःवीकृ ित से होता है
3. अनु 200 रा=य का रा=यपाल धन िबल सिहत िबल िजसे रा=य िवधाियका ने पास िकया हो
को रा3पित की सहमित के िलये आरित कर सकता है
4. अनु 288[2] रा=य िवधाियका को करारोपण की शि> उन के:िीय अिधकरण6 पर नहीं दे ता
जो िक जल संमह, िवधुत उ-पादन, तथा िवधुत उपभोग ,िवतरण ,उपभोग, से संबिं धत हो ऐसा
िबल पहले रा3पित की ःवीकृ ित पायेगा
5. अनु 305[ब] के अनुसार रा=य िवधाियकाको शि> दे ता है िक वो अंतरा=य 0यापार वािणएय
पर युि> िनब/धंन लगाये परं तु रा=य िवधाियका मे लाया गया िबल केवल रा3ि की अनुशस
ं ा से
ही लाया जा सकता है

के:ि रा=य ूशासिनक संबंध
अनु 256 के अनुसार रा=य की काय/पािलका शि>याँ इस तरह ूयोग लायी जाये िक संसद Zारा
पािरत िविधय6 का पालन हो सके । इस तरह संसद की िविध के अधीन िविधंय6 का पालन हो
सके । इस तरह संसद की िविध के अधीन रा=य काय/पािलका शि> आ गयी है । के:ि रा=य
को ऐसे िनद, श दे सकता है जो इस संबंध मे आवँयक हो

अनु 257 कुछ मामल6 मे रा=य पर के:ि िनयंऽण की बात करता है । रा=य काय/पािलका शि>
इस तरह ूयोग ली जाये िक वह संघ काय/पािलका से संघष/ ना करे के:ि अनेक ेऽ6 मे रा=य
को उसकी काय/पािलका शि> कैसे ूयोग करे इस पर िनद, श दे सकता है यिद रा=य िनद, श
पालन मे असफल रहा तो रा=य मे रा3पित शासन तक लाया जा सकता है
अनु 258[
258[2] के अनुसार संसद को रा=य ूशासिनक तंऽ को उस तरह ूयोग लेने की शि>
दे ता है िजनसे संघीय िविध पािलत हो के:ि को अिधकार है िक वह रा=य मे िबना उसकी मजo
के सेना, के:िीय सुरा बल तैनात कर सकता है
अिखल भारतीय सेवाएँ भी के:ि को रा=य ूशासन पे िनयंऽण ूा करने मे सहायता दे ती है
अनु 262 संसद को अिधकार दे ता है िक वह अंतरा=य जल िववाद को सुलझाने हे तु िविध का
िनमा/ण करे संसद ने अंतरा=य जल िववाद तथा बोड/ एWट पािरत िकये थे
अनु 263 रा3ाि को शि> दे ता है िक वह अंतरा=य पिरषद ःथािपत करे तािक रा=य6 के म<य
उ-प:न मत िविभनत
्ं ा सुलझा सके

िनवा/चन आयोग की काय/ूणाली/
णाली/काय/
1 िनवा/चन आयोग के पास यह उAरदािय-व है िक वह िनवा/चनॉ का पय/वेण ,िनद, शन तथा
आयोजन करवाये वह रा3पित उपरा3पित ,संसद,रा=यिवधानसभा के चुनाव करता है
2 िनवा/चक नामावली तैयार करवाता है
3 राजनैितक दलॉ का पंजीकरण करता है
4. राजनैितक दलॉ का रा3ीय ,रा=य ःतर के दलॉ के ?प मे वगoकरण ,मा:यता दे ना,
दलॉिनद/ लीयॉ को चुनाव िच:ह दे ना
5. सांसद/िवधायक की अयोqयता[दल बदल को छोडकर]पर रा3पित/रा=यपाल को सलाह दे ना
6. गलत िनवा/चन उपायॉ का उपयोग करने वाले 0यि>यॉ को िनवा/चन के िलये अयोqय घोिषत
करना
िनवा/चन आयोग की शि>याँ अनु 324[1] िनवा/चन आयोग को िनRन शि>याँ दे ता है
1. सभी िनवा/चनॉ का पय/वेण ,िनयंऽण,आयोजन करवाना
2.सुूीम कोट/ के िनण/यानुसार अनु 324[1] मे िनवा/चन आयोग की शि>याँ काय/पािलका Zारा
िनयंिऽत नहीं हो सकती उसकी शि>यां केवल उन िनवा/चन संबंधी संवैधािनक उपाय6 तथा संसद
िनिम/त िनवा/चन िविध से िनयंिऽत होती है िनवा/चन का पय/वेण ,िनद, शन ,िनयंऽण तथा
आयोजन करवाने की शि> मे दे श मे मु> तथा िनंप चुनाव आयोिजत करवाना भी िनिहत है
जहां कही संसद िविध िनवा/चन के संबंध मे मौन है वहां िनंप चुनाव करवाने के िलये

िनवा/चन आयोग असीिमत शि> रखता है यधिप ूाकृ ितक :याय, िविध का शासन तथा उसके
Zारा शि> का सदप
ु योग होना चािहए
िनवा/चन आयोग िवधाियका िनिम/त िविध का उpलघँन नहीं कर सकता है और न ही ये
ःवेBछापूण/ काय/ कर सकता है उसके िनण/य :याियक पुनरीण के पाऽ होते है
िनवा/चन आयोग की शि>याँ िनवा/चन िविधय6 की पूरक है न िक उन पर ूभावी तथा वैध
ूिबया से बनी िविध के िव?X ूयोग नही की जा सकती है
यह आयोग चुनाव का काय/बम िनधा/िरत कर सकता है चुनाव िच:ह आवंिटत करने तथा िनंप
चुनाव करवाने के िनद, श दे ने की शि> रखता है
सुूीम कोट/ ने भी उसकी शि>य6 की 0याlया करते हुए कहा िक वह एकमाऽ अिधकरण है जो
चुनाव काय/बम िनधा/िरत करे चुनाव करवाना केवल उसी का काय/ है
जनूितिनिध-व एWट 1951 के अनु 14,15 भी रा3पित,रा=यपाल को िनवा/चन अिधसूचना जारी
करने का अिधकार िनवा/चन आयोग की सलाह के अनु?प ही जारी करने का अिधकार दे ते है

भारत
भारत मे िनवा/चन सुधार
जन ूितिनिध-व अिधिनयम संशोधन 1988 से इस ूकार के संशोधन िकये गये ह` .
1. इलैWशािनक मतदान मशीन का ूयोग िकया जा सकेगा. वष/ 2004 के लोकसभा चुनाव मे
इनका सव/ऽ ूयोग हुआ
2. राजनैितक दल6 का िनवा/चन आयोग के पास अिनवाय/ पंजीकरण करवाना होगा यिद वह
चुनाव लडना चाहे तो कोई दल तभी पंजीकृ त होगा जब वह संिवधान के मौिलक िसXांत6 के
पालन करे तथा उनका समावेश अपने दलीय संिवधान मे करे
3. मतदान के:ि पर कजा, जाली मत

ऽुिटयां
परःपर वीरोधी, िमलकत या संपदा का अिधकार मूल अिधकार रहा । कई साल तक िशा का
मूल अिधकार न होकर नीित के िनदे शक के कारण ॅ“ाचार म[ वृिX होती रही ओर गरीब, गरीब
होते रह[ ।

फेडरे शन तथा कनफेडरे शन का भेद
फेडरे शन
1. दो या अिधक संघटको का औपचािरक संगठन
2. सRूभु तथा ःवतंऽ परं तु उसके संघटक सRूभु तथा ःवतंऽ नही होते
3. संघटक संघ से ःवतंऽ होने की शि> नही रखते है
4. संघ तथा उसके िनवािसयो के म<य वैधािनक सRब:ध होता है [नागिरकता] नागिरको के
अिधकार तथा कत/0य होते है

कनफेडरे शन
1. दो या अिधक संघटको का ढीला संघठन [राœ म:डल ]
2. संघटक सRूभु तथा ःवतंऽ होते है परं तु खुद कनफेडरे शन मे ये गुण नही होते है
3. संघटक ःवतंऽ होने की शि> रखते है
4. िनवासी पिरसंघ के नागिरक नही होते बिpक उसके संघ¬को के नागिरक होते है

शि> पृथWकरण का िसXांत
यह िसXांत ृ[च दाश/िनक मा:टे ःकयू ने िदया था उसके अनुसार रा=य की शि> उसके तीन
भागो काय/ , िवधान, तथा :यायपािलकाओ मे बांट दे नी चािहये
ये िसXांत रा=य को सवा/िधकारवादी होने से बचा सकता है तथा 0यि> की ःवतंऽता की रा
करता है
अमेिरकी सिव:धान पहला ऐसा सिव:धान था िजस मे ये िसXांत अपनाया गया था
शि> पृथWकरण
Wकरण का िसXांत भारतीय सिव:धान मे सिव:धान मे इसका साफ वण/न ना होकर
सकेत माऽ है इस हे तु सिव:धान मे तीनो अंगो का पृथक वण/न है संसदीय लोकतंऽ होने के
कारण भारत मे काय/पािलका तथा िवधाियका मे पूरा अलगाव नही हो सका है
काय/पािलका[मंऽीपिरषद] िवधाियका मे से ही चुनी जाती है तथा उसके िनचले सदन के ूित ही
उAरदायी होती है
अनु 51 के अनुसार काय/पािलका तथा :यायपािलका को पृथक होना चािहए इस िलये ही 1973
मे दं ड ूिबया सि:हता पािरत की गयी िजस के Zारा िजला मिजःटृ टो की :याियक शि> लेकर
:याियक मिजःटृ टो को दे दी गयी थी.

References:www.google.com
www.wikipedia.com
Books:Subhash Kashyap,
J.C. Johari
Eastern Book Company

Sign up to vote on this title
UsefulNot useful