You are on page 1of 24

सु नद र काण ड

शीजानकीवललभो िवजयते
शीरामचिरतमानस
~~~~~~~~
पञचम सोपान
सुनदरकाणड
शोक
शानतं शाशतमपमेयमनघं िनवाण
ा शािनतपदं
बहाशमभुफणीनदसेवयमिनशं वेदानतवेदं िवभुम ् ।
रामाखयं जगदीशरं सुरगुरं मायामनुषयं हिरं
वनदे ऽहं करणाकरं रघुवरं भूपालचूडामिणम।्।1।।
नानया सपह
ृ ा रघुपते हदयेऽसमदीये
सतयं वदािम च भवानििलानतरातमा।
भििं पयचछ रघुपुङगव िनभराां मे
कामािददोषरिहतं कुर मानसं च।।2।।
अतुिलतबलधामं हे मशैलाभदे हं
दनुजवनकृ शानुं जािननामगगणयम।्
सकलगुणिनधानं वानराणामधीशं
रघुपितिपयभिं वातजातं नमािम।।3।।
जामवंत के बचन सुहाए। सुिन हनुमंत हदय अित भाए।।
तब लिग मोिह पिरिेहु तुमह भाई। सिह दि
ु कंद मूल फल िाई।।
जब लिग आवौ सीतिह दे िी। होइिह काजु मोिह हरष िबसेषी।।
यह किह नाइ सबिनह कहुँ माथा। चलेउ हरिष िहयँ धिर रघुनाथा।।
िसंधु तीर एक भूधर सुंदर। कौतुक कूिद चढे उ ता ऊपर।।
बार बार रघुबीर सँभारी। तरकेउ पवनतनय बल भारी।।
जेिहं िगिर चरन दे इ हनुमंता। चलेउ सो गा पाताल तुरंता।।
िजिम अमोघ रघुपित कर बाना। एही भाँित चलेउ हनुमाना।।
जलिनिध रघुपित दत
ू िबचारी। तै मैनाक होिह शमहारी।।
दो0- हनूमान तेिह परसा कर पुिन कीनह पनाम।
राम काजु कीनहे िबनु मोिह कहाँ िबशाम।।1।।
–*–*–
जात पवनसुत दे वनह दे िा। जानै कहुँ बल बुिि िबसेषा।।
सुरसा नाम अिहनह कै माता। पठइिनह आइ कही तेिहं बाता।।
आजु सुरनह मोिह दीनह अहारा। सुनत बचन कह पवनकुमारा।।
राम काजु किर िफिर मै आवौ। सीता कइ सुिध पभुिह सुनावौ।।
तब तव बदन पैिठहउँ आई। सतय कहउँ मोिह जान दे माई।।
कबनेहुँ जतन दे इ निहं जाना। गसिस न मोिह कहे उ हनुमाना।।
जोजन भिर तेिहं बदनु पसारा। किप तनु कीनह दग
ु ुन िबसतारा।।
सोरह जोजन मुि तेिहं ठयऊ। तुरत पवनसुत बििस भयऊ।।
जस जस सुरसा बदनु बढावा। तासु दन
ू किप रप दे िावा।।
सत जोजन तेिहं आनन कीनहा। अित लघु रप पवनसुत लीनहा।।
बदन पइिठ पुिन बाहे र आवा। मागा िबदा तािह िसर नावा।।
मोिह सुरनह जेिह लािग पठावा। बुिध बल मरमु तोर मै पावा।।
दो0-राम काजु सबु किरहहु तुमह बल बुिि िनधान।
आिसष दे ह गई सो हरिष चलेउ हनुमान।।2।।
–*–*–
िनिसचिर एक िसंधु महुँ रहई। किर माया नभु के िग गहई।।
जीव जंतु जे गगन उडाहीं। जल िबलोिक ितनह कै पिरछाहीं।।
गहइ छाहँ सक सो न उडाई। एिह िबिध सदा गगनचर िाई।।
सोइ छल हनूमान कहँ कीनहा। तासु कपटु किप तुरतिहं चीनहा।।
तािह मािर मारतसुत बीरा। बािरिध पार गयउ मितधीरा।।
तहाँ जाइ दे िी बन सोभा। गुंजत चंचरीक मधु लोभा।।
नाना तर फल फूल सुहाए। िग मग
ृ बंद
ृ दे िि मन भाए।।
सैल िबसाल दे िि एक आगे। ता पर धाइ चढे उ भय तयागे।।
उमा न कछु किप कै अिधकाई। पभु पताप जो कालिह िाई।।
िगिर पर चिढ लंका तेिहं दे िी। किह न जाइ अित दग
ु ा िबसेषी।।
अित उतंग जलिनिध चहु पासा। कनक कोट कर परम पकासा।।
छं =कनक कोट िबिचत मिन कृ त सुंदरायतना घना।
चउहटट हटट सुबटट बीथीं चार पुर बहु िबिध बना।।
गज बािज िचचर िनकर पदचर रथ बरिथनह को गनै।।
बहुरप िनिसचर जूथ अितबल सेन बरनत निहं बनै।।1।।
बन बाग उपबन बािटका सर कूप बापीं सोहहीं।
नर नाग सुर गंधबा कनया रप मुिन मन मोहहीं।।
कहुँ माल दे ह िबसाल सैल समान अितबल गजह
ा ीं।
नाना अिारे नह िभरिहं बहु िबिध एक एकनह तजह
ा ीं।।2।।
किर जतन भट कोिटनह िबकट तन नगर चहुँ िदिस रचछहीं।
कहुँ मिहष मानषु धेनु िर अज िल िनसाचर भचछहीं।।
एिह लािग तुलसीदास इनह की कथा कछु एक है कही।
रघुबीर सर तीरथ सरीरिनह तयािग गित पैहिहं सही।।3।।
दो0-पुर रिवारे दे िि बहु किप मन कीनह िबचार।
अित लघु रप धरौ िनिस नगर करौ पइसार।।3।।
–*–*–
मसक समान रप किप धरी। लंकिह चलेउ सुिमिर नरहरी।।
नाम लंिकनी एक िनिसचरी। सो कह चलेिस मोिह िनंदरी।।
जानेिह नहीं मरमु सठ मोरा। मोर अहार जहाँ लिग चोरा।।
मुिठका एक महा किप हनी। रिधर बमत धरनीं ढनमनी।।
पुिन संभािर उिठ सो लंका। जोिर पािन कर िबनय संसका।।
जब रावनिह बह बर दीनहा। चलत िबरं िच कहा मोिह चीनहा।।
िबकल होिस तै किप के मारे । तब जानेसु िनिसचर संघारे ।।
तात मोर अित पुनय बहूता। दे िेउँ नयन राम कर दत
ू ा।।
दो0-तात सवगा अपबगा सुि धिरअ तुला एक अंग।
तूल न तािह सकल िमिल जो सुि लव सतसंग।।4।।
–*–*–
पिबिस नगर कीजे सब काजा। हदयँ रािि कौसलपुर राजा।।
गरल सुधा िरपु करिहं िमताई। गोपद िसंधु अनल िसतलाई।।
गरड सुमेर रे नू सम ताही। राम कृ पा किर िचतवा जाही।।
अित लघु रप धरे उ हनुमाना। पैठा नगर सुिमिर भगवाना।।
मंिदर मंिदर पित किर सोधा। दे िे जहँ तहँ अगिनत जोधा।।
गयउ दसानन मंिदर माहीं। अित िबिचत किह जात सो नाहीं।।
सयन िकए दे िा किप तेही। मंिदर महुँ न दीिि बैदेही।।
भवन एक पुिन दीि सुहावा। हिर मंिदर तहँ िभनन बनावा।।
दो0-रामायुध अंिकत गह
ृ सोभा बरिन न जाइ।
नव तुलिसका बंद
ृ तहँ दे िि हरिष किपराइ।।5।।
–*–*–
लंका िनिसचर िनकर िनवासा। इहाँ कहाँ सजजन कर बासा।।
मन महुँ तरक करै किप लागा। तेहीं समय िबभीषनु जागा।।
राम राम तेिहं सुिमरन कीनहा। हदयँ हरष किप सजजन चीनहा।।
एिह सन हिठ किरहउँ पिहचानी। साधु ते होइ न कारज हानी।।
िबप रप धिर बचन सुनाए। सुनत िबभीषण उिठ तहँ आए।।
किर पनाम पूँछी कुसलाई। िबप कहहु िनज कथा बुझाई।।
की तुमह हिर दासनह महँ कोई। मोरे हदय पीित अित होई।।
की तुमह रामु दीन अनुरागी। आयहु मोिह करन बडभागी।।
दो0-तब हनुमंत कही सब राम कथा िनज नाम।
सुनत जुगल तन पुलक मन मगन सुिमिर गुन गाम।।6।।
–*–*–
सुनहु पवनसुत रहिन हमारी। िजिम दसनिनह महुँ जीभ िबचारी।।
तात कबहुँ मोिह जािन अनाथा। किरहिहं कृ पा भानुकुल नाथा।।
तामस तनु कछु साधन नाहीं। पीित न पद सरोज मन माहीं।।
अब मोिह भा भरोस हनुमंता। िबनु हिरकृ पा िमलिहं निहं संता।।
जौ रघुबीर अनुगह कीनहा। तौ तुमह मोिह दरसु हिठ दीनहा।।
सुनहु िबभीषन पभु कै रीती। करिहं सदा सेवक पर पीती।।
कहहु कवन मै परम कुलीना। किप चंचल सबहीं िबिध हीना।।
पात लेइ जो नाम हमारा। तेिह िदन तािह न िमलै अहारा।।
दो0-अस मै अधम सिा सुनु मोहू पर रघुबीर।
कीनही कृ पा सुिमिर गुन भरे िबलोचन नीर।।7।।
–*–*–
जानतहूँ अस सवािम िबसारी। िफरिहं ते काहे न होिहं दि
ु ारी।।
एिह िबिध कहत राम गुन गामा। पावा अिनबाच
ा य िबशामा।।
पुिन सब कथा िबभीषन कही। जेिह िबिध जनकसुता तहँ रही।।
तब हनुमंत कहा सुनु भाता। दे िी चहउँ जानकी माता।।
जुगिु त िबभीषन सकल सुनाई। चलेउ पवनसुत िबदा कराई।।
किर सोइ रप गयउ पुिन तहवाँ। बन असोक सीता रह जहवाँ।।
दे िि मनिह महुँ कीनह पनामा। बैठेिहं बीित जात िनिस जामा।।
कृ स तन सीस जटा एक बेनी। जपित हदयँ रघुपित गुन शन
े ी।।
दो0-िनज पद नयन िदएँ मन राम पद कमल लीन।
परम दिु ी भा पवनसुत दे िि जानकी दीन।।8।।
–*–*–
तर पललव महुँ रहा लुकाई। करइ िबचार करौ का भाई।।
तेिह अवसर रावनु तहँ आवा। संग नािर बहु िकएँ बनावा।।
बहु िबिध िल सीतिह समुझावा। साम दान भय भेद दे िावा।।
कह रावनु सुनु सुमुिि सयानी। मंदोदरी आिद सब रानी।।
तव अनुचरीं करउँ पन मोरा। एक बार िबलोकु मम ओरा।।
तन
ृ धिर ओट कहित बैदेही। सुिमिर अवधपित परम सनेही।।
सुनु दसमुि िदोत पकासा। कबहुँ िक निलनी करइ िबकासा।।
अस मन समुझु कहित जानकी। िल सुिध निहं रघुबीर बान की।।
सठ सूने हिर आनेिह मोिह। अधम िनलजज लाज निहं तोही।।
दो0- आपुिह सुिन िदोत सम रामिह भानु समान।
परष बचन सुिन कािढ अिस बोला अित िििसआन।।9।।
–*–*–
सीता तै मम कृ त अपमाना। किटहउँ तव िसर किठन कृ पाना।।
नािहं त सपिद मानु मम बानी। सुमुिि होित न त जीवन हानी।।
सयाम सरोज दाम सम सुंदर। पभु भुज किर कर सम दसकंधर।।
सो भुज कंठ िक तव अिस घोरा। सुनु सठ अस पवान पन मोरा।।
चंदहास हर मम पिरतापं। रघुपित िबरह अनल संजातं।।
सीतल िनिसत बहिस बर धारा। कह सीता हर मम दि
ु भारा।।
सुनत बचन पुिन मारन धावा। मयतनयाँ किह नीित बुझावा।।
कहे िस सकल िनिसचिरनह बोलाई। सीतिह बहु िबिध तासहु जाई।।
मास िदवस महुँ कहा न माना। तौ मै मारिब कािढ कृ पाना।।
दो0-भवन गयउ दसकंधर इहाँ िपसािचिन बंद
ृ ।
सीतिह तास दे िाविह धरिहं रप बहु मंद।।10।।
–*–*–
ितजटा नाम राचछसी एका। राम चरन रित िनपुन िबबेका।।
सबनहौ बोिल सुनाएिस सपना। सीतिह सेइ करहु िहत अपना।।
सपने बानर लंका जारी। जातुधान सेना सब मारी।।
िर आरढ नगन दससीसा। मुंिडत िसर िंिडत भुज बीसा।।
एिह िबिध सो दिचछन िदिस जाई। लंका मनहुँ िबभीषन पाई।।
नगर िफरी रघुबीर दोहाई। तब पभु सीता बोिल पठाई।।
यह सपना मे कहउँ पुकारी। होइिह सतय गएँ िदन चारी।।
तासु बचन सुिन ते सब डरीं। जनकसुता के चरनिनह परीं।।
दो0-जहँ तहँ गई सकल तब सीता कर मन सोच।
मास िदवस बीते मोिह मािरिह िनिसचर पोच।।11।।
–*–*–
ितजटा सन बोली कर जोरी। मातु िबपित संिगिन तै मोरी।।
तजौ दे ह कर बेिग उपाई। दस
ु हु िबरहु अब निहं सिह जाई।।
आिन काठ रचु िचता बनाई। मातु अनल पुिन दे िह लगाई।।
सतय करिह मम पीित सयानी। सुनै को शवन सूल सम बानी।।
सुनत बचन पद गिह समुझाएिस। पभु पताप बल सुजसु सुनाएिस।।
िनिस न अनल िमल सुनु सुकुमारी। अस किह सो िनज भवन िसधारी।।
कह सीता िबिध भा पितकूला। िमलिह न पावक िमिटिह न सूला।।
दे ििअत पगट गगन अंगारा। अविन न आवत एकउ तारा।।
पावकमय सिस सवत न आगी। मानहुँ मोिह जािन हतभागी।।
सुनिह िबनय मम िबटप असोका। सतय नाम कर हर मम सोका।।
नूतन िकसलय अनल समाना। दे िह अिगिन जिन करिह िनदाना।।
दे िि परम िबरहाकुल सीता। सो छन किपिह कलप सम बीता।।
सो0-किप किर हदयँ िबचार दीिनह मुिदका डारी तब।
जनु असोक अंगार दीिनह हरिष उिठ कर गहे उ।।12।।
तब दे िी मुिदका मनोहर। राम नाम अंिकत अित सुंदर।।
चिकत िचतव मुदरी पिहचानी। हरष िबषाद हदयँ अकुलानी।।
जीित को सकइ अजय रघुराई। माया ते अिस रिच निहं जाई।।
सीता मन िबचार कर नाना। मधुर बचन बोलेउ हनुमाना।।
रामचंद गुन बरनै लागा। सुनतिहं सीता कर दि
ु भागा।।
लागीं सुनै शवन मन लाई। आिदहु ते सब कथा सुनाई।।
शवनामत
ृ जेिहं कथा सुहाई। किह सो पगट होित िकन भाई।।
तब हनुमंत िनकट चिल गयऊ। िफिर बैठीं मन िबसमय भयऊ।।
राम दत
ू मै मातु जानकी। सतय सपथ करनािनधान की।।
यह मुिदका मातु मै आनी। दीिनह राम तुमह कहँ सिहदानी।।
नर बानरिह संग कहु कैसे। किह कथा भइ संगित जैसे।।
दो0-किप के बचन सपेम सुिन उपजा मन िबसवास।।
जाना मन कम बचन यह कृ पािसंधु कर दास।।13।।
–*–*–
हिरजन जािन पीित अित गाढी। सजल नयन पुलकाविल बाढी।।
बूडत िबरह जलिध हनुमाना। भयउ तात मो कहुँ जलजाना।।
अब कहु कुसल जाउँ बिलहारी। अनुज सिहत सुि भवन िरारी।।
कोमलिचत कृ पाल रघुराई। किप केिह हे तु धरी िनठु राई।।
सहज बािन सेवक सुि दायक। कबहुँक सुरित करत रघुनायक।।
कबहुँ नयन मम सीतल ताता। होइहिह िनरिि सयाम मद
ृ ु गाता।।
बचनु न आव नयन भरे बारी। अहह नाथ हौ िनपट िबसारी।।
दे िि परम िबरहाकुल सीता। बोला किप मद
ृ ु बचन िबनीता।।
मातु कुसल पभु अनुज समेता। तव दि
ु दि
ु ी सुकृपा िनकेता।।
जिन जननी मानहु िजयँ ऊना। तुमह ते पेमु राम के दन
ू ा।।
दो0-रघुपित कर संदेसु अब सुनु जननी धिर धीर।
अस किह किप गद गद भयउ भरे िबलोचन नीर।।14।।
–*–*–
कहे उ राम िबयोग तव सीता। मो कहुँ सकल भए िबपरीता।।
नव तर िकसलय मनहुँ कृ सानू। कालिनसा सम िनिस सिस भानू।।
कुबलय िबिपन कुंत बन सिरसा। बािरद तपत तेल जनु बिरसा।।
जे िहत रहे करत तेइ पीरा। उरग सवास सम ितिबध समीरा।।
कहे हू ते कछु दि
ु घिट होई। कािह कहौ यह जान न कोई।।
ततव पेम कर मम अर तोरा। जानत िपया एकु मनु मोरा।।
सो मनु सदा रहत तोिह पाहीं। जानु पीित रसु एतेनिह माहीं।।
पभु संदेसु सुनत बैदेही। मगन पेम तन सुिध निहं तेही।।
कह किप हदयँ धीर धर माता। सुिमर राम सेवक सुिदाता।।
उर आनहु रघुपित पभुताई। सुिन मम बचन तजहु कदराई।।
दो0-िनिसचर िनकर पतंग सम रघुपित बान कृ सानु।
जननी हदयँ धीर धर जरे िनसाचर जानु।।15।।
–*–*–
जौ रघुबीर होित सुिध पाई। करते निहं िबलंबु रघुराई।।
रामबान रिब उएँ जानकी। तम बरथ कहँ जातुधान की।।
अबिहं मातु मै जाउँ लवाई। पभु आयसु निहं राम दोहाई।।
कछुक िदवस जननी धर धीरा। किपनह सिहत अइहिहं रघुबीरा।।
िनिसचर मािर तोिह लै जैहिहं । ितहुँ पुर नारदािद जसु गैहिहं ।।
है सुत किप सब तुमहिह समाना। जातुधान अित भट बलवाना।।
मोरे हदय परम संदेहा। सुिन किप पगट कीनह िनज दे हा।।
कनक भूधराकार सरीरा। समर भयंकर अितबल बीरा।।
सीता मन भरोस तब भयऊ। पुिन लघु रप पवनसुत लयऊ।।
दो0-सुनु माता सािामग
ृ निहं बल बुिि िबसाल।
पभु पताप ते गरडिह िाइ परम लघु बयाल।।16।।
–*–*–
मन संतोष सुनत किप बानी। भगित पताप तेज बल सानी।।
आिसष दीिनह रामिपय जाना। होहु तात बल सील िनधाना।।
अजर अमर गुनिनिध सुत होहू। करहुँ बहुत रघुनायक छोहू।।
करहुँ कृ पा पभु अस सुिन काना। िनभरा पेम मगन हनुमाना।।
बार बार नाएिस पद सीसा। बोला बचन जोिर कर कीसा।।
अब कृ तकृ तय भयउँ मै माता। आिसष तव अमोघ िबखयाता।।
सुनहु मातु मोिह अितसय भूिा। लािग दे िि सुंदर फल रिा।।
सुनु सुत करिहं िबिपन रिवारी। परम सुभट रजनीचर भारी।।
ितनह कर भय माता मोिह नाहीं। जौ तुमह सुि मानहु मन माहीं।।
दो0-दे िि बुिि बल िनपुन किप कहे उ जानकीं जाहु।
रघुपित चरन हदयँ धिर तात मधुर फल िाहु।।17।।
–*–*–
चलेउ नाइ िसर पैठेउ बागा। फल िाएिस तर तोरै लागा।।
रहे तहाँ बहु भट रिवारे । कछु मारे िस कछु जाइ पुकारे ।।
नाथ एक आवा किप भारी। तेिहं असोक बािटका उजारी।।
िाएिस फल अर िबटप उपारे । रचछक मिदा मिदा मिह डारे ।।
सुिन रावन पठए भट नाना। ितनहिह दे िि गजउ
े हनुमाना।।
सब रजनीचर किप संघारे । गए पुकारत कछु अधमारे ।।
पुिन पठयउ तेिहं अचछकुमारा। चला संग लै सुभट अपारा।।
आवत दे िि िबटप गिह तजा।ा तािह िनपाित महाधुिन गजा।ा।
दो0-कछु मारे िस कछु मदे िस कछु िमलएिस धिर धूिर।
कछु पुिन जाइ पुकारे पभु मकाट बल भूिर।।18।।
–*–*–
सुिन सुत बध लंकेस िरसाना। पठएिस मेघनाद बलवाना।।
मारिस जिन सुत बांधेसु ताही। दे ििअ किपिह कहाँ कर आही।।
चला इं दिजत अतुिलत जोधा। बंधु िनधन सुिन उपजा कोधा।।
किप दे िा दारन भट आवा। कटकटाइ गजाा अर धावा।।
अित िबसाल तर एक उपारा। िबरथ कीनह लंकेस कुमारा।।
रहे महाभट ताके संगा। गिह गिह किप मदाइ िनज अंगा।।
ितनहिह िनपाित तािह सन बाजा। िभरे जुगल मानहुँ गजराजा।
मुिठका मािर चढा तर जाई। तािह एक छन मुरछा आई।।
उिठ बहोिर कीिनहिस बहु माया। जीित न जाइ पभंजन जाया।।
दो0-बह अस तेिहं साँधा किप मन कीनह िबचार।
जौ न बहसर मानउँ मिहमा िमटइ अपार।।19।।
–*–*–
बहबान किप कहुँ तेिह मारा। परितहुँ बार कटकु संघारा।।
तेिह दे िा किप मुरिछत भयऊ। नागपास बाँधेिस लै गयऊ।।
जासु नाम जिप सुनहु भवानी। भव बंधन काटिहं नर गयानी।।
तासु दत
ू िक बंध तर आवा। पभु कारज लिग किपिहं बँधावा।।
किप बंधन सुिन िनिसचर धाए। कौतुक लािग सभाँ सब आए।।
दसमुि सभा दीिि किप जाई। किह न जाइ कछु अित पभुताई।।
कर जोरे सुर िदिसप िबनीता। भक
ृ ु िट िबलोकत सकल सभीता।।
दे िि पताप न किप मन संका। िजिम अिहगन महुँ गरड असंका।।
दो0-किपिह िबलोिक दसानन िबहसा किह दब
ु ाद
ा ।
सुत बध सुरित कीिनह पुिन उपजा हदयँ िबषाद।।20।।
–*–*–
कह लंकेस कवन तै कीसा। केिहं के बल घालेिह बन िीसा।।
की धौ शवन सुनिे ह निहं मोही। दे िउँ अित असंक सठ तोही।।
मारे िनिसचर केिहं अपराधा। कहु सठ तोिह न पान कइ बाधा।।
सुन रावन बहांड िनकाया। पाइ जासु बल िबरिचत माया।।
जाके बल िबरं िच हिर ईसा। पालत सज
ृ त हरत दससीसा।
जा बल सीस धरत सहसानन। अंडकोस समेत िगिर कानन।।
धरइ जो िबिबध दे ह सुरताता। तुमह ते सठनह िसिावनु दाता।
हर कोदं ड किठन जेिह भंजा। तेिह समेत नप
ृ दल मद गंजा।।
िर दष
ू न ितिसरा अर बाली। बधे सकल अतुिलत बलसाली।।
दो0-जाके बल लवलेस ते िजतेहु चराचर झािर।
तासु दत
ू मै जा किर हिर आनेहु िपय नािर।।21।।
–*–*–
जानउँ मै तुमहािर पभुताई। सहसबाहु सन परी लराई।।
समर बािल सन किर जसु पावा। सुिन किप बचन िबहिस िबहरावा।।
िायउँ फल पभु लागी भूि
ँ ा। किप सुभाव ते तोरे उँ रिा।।
सब के दे ह परम िपय सवामी। मारिहं मोिह कुमारग गामी।।
िजनह मोिह मारा ते मै मारे । तेिह पर बाँधेउ तनयँ तुमहारे ।।
मोिह न कछु बाँधे कइ लाजा। कीनह चहउँ िनज पभु कर काजा।।
िबनती करउँ जोिर कर रावन। सुनहु मान तिज मोर िसिावन।।
दे िहु तुमह िनज कुलिह िबचारी। भम तिज भजहु भगत भय हारी।।
जाके डर अित काल डे राई। जो सुर असुर चराचर िाई।।
तासो बयर कबहुँ निहं कीजै। मोरे कहे जानकी दीजै।।
दो0-पनतपाल रघुनायक करना िसंधु िरािर।
गएँ सरन पभु राििहै तव अपराध िबसािर।।22।।
–*–*–
राम चरन पंकज उर धरहू। लंका अचल राज तुमह करहू।।
िरिष पुिलसत जसु िबमल मंयका। तेिह सिस महुँ जिन होहु कलंका।।
राम नाम िबनु िगरा न सोहा। दे िु िबचािर तयािग मद मोहा।।
बसन हीन निहं सोह सुरारी। सब भूषण भूिषत बर नारी।।
राम िबमुि संपित पभुताई। जाइ रही पाई िबनु पाई।।
सजल मूल िजनह सिरतनह नाहीं। बरिष गए पुिन तबिहं सुिाहीं।।
सुनु दसकंठ कहउँ पन रोपी। िबमुि राम ताता निहं कोपी।।
संकर सहस िबषनु अज तोही। सकिहं न रािि राम कर दोही।।
दो0-मोहमूल बहु सूल पद तयागहु तम अिभमान।
भजहु राम रघुनायक कृ पा िसंधु भगवान।।23।।
–*–*–
जदिप किह किप अित िहत बानी। भगित िबबेक िबरित नय सानी।।
बोला िबहिस महा अिभमानी। िमला हमिह किप गुर बड गयानी।।
मतृयु िनकट आई िल तोही। लागेिस अधम िसिावन मोही।।
उलटा होइिह कह हनुमाना। मितभम तोर पगट मै जाना।।
सुिन किप बचन बहुत िििसआना। बेिग न हरहुँ मूढ कर पाना।।
सुनत िनसाचर मारन धाए। सिचवनह सिहत िबभीषनु आए।
नाइ सीस किर िबनय बहूता। नीित िबरोध न मािरअ दत
ू ा।।
आन दं ड कछु किरअ गोसाँई। सबहीं कहा मंत भल भाई।।
सुनत िबहिस बोला दसकंधर। अंग भंग किर पठइअ बंदर।।
दो-किप के ममता पूँछ पर सबिह कहउँ समुझाइ।
तेल बोिर पट बाँिध पुिन पावक दे हु लगाइ।।24।।
पूँछहीन बानर तहँ जाइिह। तब सठ िनज नाथिह लइ आइिह।।
िजनह कै कीनहिस बहुत बडाई। दे िेउँû मै ितनह कै पभुताई।।
बचन सुनत किप मन मुसुकाना। भइ सहाय सारद मै जाना।।
जातुधान सुिन रावन बचना। लागे रचै मूढ सोइ रचना।।
रहा न नगर बसन घत
ृ तेला। बाढी पूँछ कीनह किप िेला।।
कौतुक कहँ आए पुरबासी। मारिहं चरन करिहं बहु हाँसी।।
बाजिहं ढोल दे िहं सब तारी। नगर फेिर पुिन पूँछ पजारी।।
पावक जरत दे िि हनुमंता। भयउ परम लघु रप तुरंता।।
िनबुिक चढे उ किप कनक अटारीं। भई सभीत िनसाचर नारीं।।
दो0-हिर पेिरत तेिह अवसर चले मरत उनचास।
अटटहास किर गजा éाा किप बिढ लाग अकास।।25।।
–*–*–
दे ह िबसाल परम हरआई। मंिदर ते मंिदर चढ धाई।।
जरइ नगर भा लोग िबहाला। झपट लपट बहु कोिट कराला।।
तात मातु हा सुिनअ पुकारा। एिह अवसर को हमिह उबारा।।
हम जो कहा यह किप निहं होई। बानर रप धरे सुर कोई।।
साधु अवगया कर फलु ऐसा। जरइ नगर अनाथ कर जैसा।।
जारा नगर िनिमष एक माहीं। एक िबभीषन कर गह
ृ नाहीं।।
ता कर दत
ू अनल जेिहं िसिरजा। जरा न सो तेिह कारन िगिरजा।।
उलिट पलिट लंका सब जारी। कूिद परा पुिन िसंधु मझारी।।
दो0-पूँछ बुझाइ िोइ शम धिर लघु रप बहोिर।
जनकसुता के आगे ठाढ भयउ कर जोिर।।26।।
–*–*–
मातु मोिह दीजे कछु चीनहा। जैसे रघुनायक मोिह दीनहा।।
चूडामिन उतािर तब दयऊ। हरष समेत पवनसुत लयऊ।।
कहे हु तात अस मोर पनामा। सब पकार पभु पूरनकामा।।
दीन दयाल िबिरद ु संभारी। हरहु नाथ मम संकट भारी।।
तात सकसुत कथा सुनाएहु। बान पताप पभुिह समुझाएहु।।
मास िदवस महुँ नाथु न आवा। तौ पुिन मोिह िजअत निहं पावा।।
कहु किप केिह िबिध रािौ पाना। तुमहहू तात कहत अब जाना।।
तोिह दे िि सीतिल भइ छाती। पुिन मो कहुँ सोइ िदनु सो राती।।
दो0-जनकसुतिह समुझाइ किर बहु िबिध धीरजु दीनह।
चरन कमल िसर नाइ किप गवनु राम पिहं कीनह।।27।।
–*–*–
चलत महाधुिन गजिेस भारी। गभा सविहं सुिन िनिसचर नारी।।
नािघ िसंधु एिह पारिह आवा। सबद िकलिकला किपनह सुनावा।।
हरषे सब िबलोिक हनुमाना। नूतन जनम किपनह तब जाना।।
मुि पसनन तन तेज िबराजा। कीनहे िस रामचनद कर काजा।।
िमले सकल अित भए सुिारी। तलफत मीन पाव िजिम बारी।।
चले हरिष रघुनायक पासा। पूँछत कहत नवल इितहासा।।
तब मधुबन भीतर सब आए। अंगद संमत मधु फल िाए।।
रिवारे जब बरजन लागे। मुिि पहार हनत सब भागे।।
दो0-जाइ पुकारे ते सब बन उजार जुबराज।
सुिन सुगीव हरष किप किर आए पभु काज।।28।।
–*–*–
जौ न होित सीता सुिध पाई। मधुबन के फल सकिहं िक िाई।।
एिह िबिध मन िबचार कर राजा। आइ गए किप सिहत समाजा।।
आइ सबिनह नावा पद सीसा। िमलेउ सबिनह अित पेम कपीसा।।
पूँछी कुसल कुसल पद दे िी। राम कृ पाँ भा काजु िबसेषी।।
नाथ काजु कीनहे उ हनुमाना। रािे सकल किपनह के पाना।।
सुिन सुगीव बहुिर तेिह िमलेऊ। किपनह सिहत रघुपित पिहं चलेऊ।
राम किपनह जब आवत दे िा। िकएँ काजु मन हरष िबसेषा।।
फिटक िसला बैठे दौ भाई। परे सकल किप चरनिनह जाई।।
दो0-पीित सिहत सब भेटे रघुपित करना पुंज।
पूँछी कुसल नाथ अब कुसल दे िि पद कंज।।29।।
–*–*–
जामवंत कह सुनु रघुराया। जा पर नाथ करहु तुमह दाया।।
तािह सदा सुभ कुसल िनरं तर। सुर नर मुिन पसनन ता ऊपर।।
सोइ िबजई िबनई गुन सागर। तासु सुजसु तेलोक उजागर।।
पभु कीं कृ पा भयउ सबु काजू। जनम हमार सुफल भा आजू।।
नाथ पवनसुत कीिनह जो करनी। सहसहुँ मुि न जाइ सो बरनी।।
पवनतनय के चिरत सुहाए। जामवंत रघुपितिह सुनाए।।
सुनत कृ पािनिध मन अित भाए। पुिन हनुमान हरिष िहयँ लाए।।
कहहु तात केिह भाँित जानकी। रहित करित रचछा सवपान की।।
दो0-नाम पाहर िदवस िनिस धयान तुमहार कपाट।
लोचन िनज पद जंितत जािहं पान केिहं बाट।।30।।
–*–*–
चलत मोिह चूडामिन दीनही। रघुपित हदयँ लाइ सोइ लीनही।।
नाथ जुगल लोचन भिर बारी। बचन कहे कछु जनककुमारी।।
अनुज समेत गहे हु पभु चरना। दीन बंधु पनतारित हरना।।
मन कम बचन चरन अनुरागी। केिह अपराध नाथ हौ तयागी।।
अवगुन एक मोर मै माना। िबछुरत पान न कीनह पयाना।।
नाथ सो नयनिनह को अपराधा। िनसरत पान किरिहं हिठ बाधा।।
िबरह अिगिन तनु तूल समीरा। सवास जरइ छन मािहं सरीरा।।
नयन सविह जलु िनज िहत लागी। जरै न पाव दे ह िबरहागी।
सीता के अित िबपित िबसाला। िबनिहं कहे भिल दीनदयाला।।
दो0-िनिमष िनिमष करनािनिध जािहं कलप सम बीित।
बेिग चिलय पभु आिनअ भुज बल िल दल जीित।।31।।
–*–*–
सुिन सीता दि
ु पभु सुि अयना। भिर आए जल रािजव नयना।।
बचन काँय मन मम गित जाही। सपनेहुँ बूिझअ िबपित िक ताही।।
कह हनुमंत िबपित पभु सोई। जब तव सुिमरन भजन न होई।।
केितक बात पभु जातुधान की। िरपुिह जीित आिनबी जानकी।।
सुनु किप तोिह समान उपकारी। निहं कोउ सुर नर मुिन तनुधारी।।
पित उपकार करौ का तोरा। सनमुि होइ न सकत मन मोरा।।
सुनु सुत उिरन मै नाहीं। दे िेउँ किर िबचार मन माहीं।।
पुिन पुिन किपिह िचतव सुरताता। लोचन नीर पुलक अित गाता।।
दो0-सुिन पभु बचन िबलोिक मुि गात हरिष हनुमंत।
चरन परे उ पेमाकुल तािह तािह भगवंत।।32।।
–*–*–
बार बार पभु चहइ उठावा। पेम मगन तेिह उठब न भावा।।
पभु कर पंकज किप के सीसा। सुिमिर सो दसा मगन गौरीसा।।
सावधान मन किर पुिन संकर। लागे कहन कथा अित सुंदर।।
किप उठाइ पभु हदयँ लगावा। कर गिह परम िनकट बैठावा।।
कहु किप रावन पािलत लंका। केिह िबिध दहे उ दग
ु ा अित बंका।।
पभु पसनन जाना हनुमाना। बोला बचन िबगत अिभमाना।।
सािामग
ृ के बिड मनुसाई। सािा ते सािा पर जाई।।
नािघ िसंधु हाटकपुर जारा। िनिसचर गन िबिध िबिपन उजारा।
सो सब तव पताप रघुराई। नाथ न कछू मोिर पभुताई।।
दो0- ता कहुँ पभु कछु अगम निहं जा पर तुमह अनुकुल।
तब पभावँ बडवानलिहं जािर सकइ िलु तूल।।33।।
–*–*–
नाथ भगित अित सुिदायनी। दे हु कृ पा किर अनपायनी।।
सुिन पभु परम सरल किप बानी। एवमसतु तब कहे उ भवानी।।
उमा राम सुभाउ जेिहं जाना। तािह भजनु तिज भाव न आना।।
यह संवाद जासु उर आवा। रघुपित चरन भगित सोइ पावा।।
सुिन पभु बचन कहिहं किपबंद
ृ ा। जय जय जय कृ पाल सुिकंदा।।
तब रघुपित किपपितिह बोलावा। कहा चलै कर करहु बनावा।।
अब िबलंबु केिह कारन कीजे। तुरत किपनह कहुँ आयसु दीजे।।
कौतुक दे िि सुमन बहु बरषी। नभ ते भवन चले सुर हरषी।।
दो0-किपपित बेिग बोलाए आए जूथप जूथ।
नाना बरन अतुल बल बानर भालु बरथ।।34।।
–*–*–
पभु पद पंकज नाविहं सीसा। गरजिहं भालु महाबल कीसा।।
दे िी राम सकल किप सेना। िचतइ कृ पा किर रािजव नैना।।
राम कृ पा बल पाइ किपंदा। भए पचछजुत मनहुँ िगिरं दा।।
हरिष राम तब कीनह पयाना। सगुन भए सुंदर सुभ नाना।।
जासु सकल मंगलमय कीती। तासु पयान सगुन यह नीती।।
पभु पयान जाना बैदेहीं। फरिक बाम अँग जनु किह दे हीं।।
जोइ जोइ सगुन जानिकिह होई। असगुन भयउ रावनिह सोई।।
चला कटकु को बरनै पारा। गजिाह बानर भालु अपारा।।
नि आयुध िगिर पादपधारी। चले गगन मिह इचछाचारी।।
केहिरनाद भालु किप करहीं। डगमगािहं िदगगज िचककरहीं।।
छं 0-िचककरिहं िदगगज डोल मिह िगिर लोल सागर िरभरे ।
मन हरष सभ गंधबा सुर मुिन नाग िकननर दि
ु टरे ।।
कटकटिहं मकाट िबकट भट बहु कोिट कोिटनह धावहीं।
जय राम पबल पताप कोसलनाथ गुन गन गावहीं।।1।।
सिह सक न भार उदार अिहपित बार बारिहं मोहई।
गह दसन पुिन पुिन कमठ पि
ृ कठोर सो िकिम सोहई।।
रघुबीर रिचर पयान पिसथित जािन परम सुहावनी।
जनु कमठ िपरा सपरााज सो िलित अिबचल पावनी।।2।।
दो0-एिह िबिध जाइ कृ पािनिध उतरे सागर तीर।
जहँ तहँ लागे िान फल भालु िबपुल किप बीर।।35।।
–*–*–
उहाँ िनसाचर रहिहं ससंका। जब ते जािर गयउ किप लंका।।
िनज िनज गह
ृ ँ सब करिहं िबचारा। निहं िनिसचर कुल केर उबारा।।
जासु दत
ू बल बरिन न जाई। तेिह आएँ पुर कवन भलाई।।
दत
ू िनह सन सुिन पुरजन बानी। मंदोदरी अिधक अकुलानी।।
रहिस जोिर कर पित पग लागी। बोली बचन नीित रस पागी।।
कंत करष हिर सन पिरहरहू। मोर कहा अित िहत िहयँ धरहु।।
समुझत जासु दत
ू कइ करनी। सवहीं गभा रजनीचर धरनी।।
तासु नािर िनज सिचव बोलाई। पठवहु कंत जो चहहु भलाई।।
तब कुल कमल िबिपन दि
ु दाई। सीता सीत िनसा सम आई।।
सुनहु नाथ सीता िबनु दीनहे । िहत न तुमहार संभु अज कीनहे ।।
दो0–राम बान अिह गन सिरस िनकर िनसाचर भेक।
जब लिग गसत न तब लिग जतनु करहु तिज टे क।।36।।
–*–*–
शवन सुनी सठ ता किर बानी। िबहसा जगत िबिदत अिभमानी।।
सभय सुभाउ नािर कर साचा। मंगल महुँ भय मन अित काचा।।
जौ आवइ मकाट कटकाई। िजअिहं िबचारे िनिसचर िाई।।
कंपिहं लोकप जाकी तासा। तासु नािर सभीत बिड हासा।।
अस किह िबहिस तािह उर लाई। चलेउ सभाँ ममता अिधकाई।।
मंदोदरी हदयँ कर िचंता। भयउ कंत पर िबिध िबपरीता।।
बैठेउ सभाँ िबिर अिस पाई। िसंधु पार सेना सब आई।।
बूझेिस सिचव उिचत मत कहहू। ते सब हँ से मि किर रहहू।।
िजतेहु सुरासुर तब शम नाहीं। नर बानर केिह लेिे माही।।
दो0-सिचव बैद गुर तीिन जौ िपय बोलिहं भय आस।
राज धमा तन तीिन कर होइ बेिगहीं नास।।37।।
–*–*–
सोइ रावन कहुँ बिन सहाई। असतुित करिहं सुनाइ सुनाई।।
अवसर जािन िबभीषनु आवा। भाता चरन सीसु तेिहं नावा।।
पुिन िसर नाइ बैठ िनज आसन। बोला बचन पाइ अनुसासन।।
जौ कृ पाल पूिँ छहु मोिह बाता। मित अनुरप कहउँ िहत ताता।।
जो आपन चाहै कलयाना। सुजसु सुमित सुभ गित सुि नाना।।
सो परनािर िललार गोसाई। तजउ चउिथ के चंद िक नाई।।
चौदह भुवन एक पित होई। भूतदोह ितिइ निहं सोई।।
गुन सागर नागर नर जोऊ। अलप लोभ भल कहइ न कोऊ।।
दो0- काम कोध मद लोभ सब नाथ नरक के पंथ।
सब पिरहिर रघुबीरिह भजहु भजिहं जेिह संत।।38।।
–*–*–
तात राम निहं नर भूपाला। भुवनेसवर कालहु कर काला।।
बह अनामय अज भगवंता। बयापक अिजत अनािद अनंता।।
गो िदज धेनु दे व िहतकारी। कृ पािसंधु मानुष तनुधारी।।
जन रं जन भंजन िल बाता। बेद धमा रचछक सुनु भाता।।
तािह बयर तिज नाइअ माथा। पनतारित भंजन रघुनाथा।।
दे हु नाथ पभु कहुँ बैदेही। भजहु राम िबनु हे तु सनेही।।
सरन गएँ पभु ताहु न तयागा। िबसव दोह कृ त अघ जेिह लागा।।
जासु नाम तय ताप नसावन। सोइ पभु पगट समुझु िजयँ रावन।।
दो0-बार बार पद लागउँ िबनय करउँ दससीस।
पिरहिर मान मोह मद भजहु कोसलाधीस।।39(क)।।
मुिन पुलिसत िनज िसषय सन किह पठई यह बात।
तुरत सो मै पभु सन कही पाइ सुअवसर तात।।39(ि)।।
–*–*–
मालयवंत अित सिचव सयाना। तासु बचन सुिन अित सुि माना।।
तात अनुज तव नीित िबभूषन। सो उर धरहु जो कहत िबभीषन।।
िरपु उतकरष कहत सठ दोऊ। दिूर न करहु इहाँ हइ कोऊ।।
मालयवंत गहृ गयउ बहोरी। कहइ िबभीषनु पुिन कर जोरी।।
सुमित कुमित सब के उर रहहीं। नाथ पुरान िनगम अस कहहीं।।
जहाँ सुमित तहँ संपित नाना। जहाँ कुमित तहँ िबपित िनदाना।।
तव उर कुमित बसी िबपरीता। िहत अनिहत मानहु िरपु पीता।।
कालराित िनिसचर कुल केरी। तेिह सीता पर पीित घनेरी।।
दो0-तात चरन गिह मागउँ रािहु मोर दल
ु ार।
सीत दे हु राम कहुँ अिहत न होइ तुमहार।।40।।
–*–*–
बुध पुरान शिुत संमत बानी। कही िबभीषन नीित बिानी।।
सुनत दसानन उठा िरसाई। िल तोिह िनकट मुतयु अब आई।।
िजअिस सदा सठ मोर िजआवा। िरपु कर पचछ मूढ तोिह भावा।।
कहिस न िल अस को जग माहीं। भुज बल जािह िजता मै नाही।।
मम पुर बिस तपिसनह पर पीती। सठ िमलु जाइ ितनहिह कहु नीती।।
अस किह कीनहे िस चरन पहारा। अनुज गहे पद बारिहं बारा।।
उमा संत कइ इहइ बडाई। मंद करत जो करइ भलाई।।
तुमह िपतु सिरस भलेिहं मोिह मारा। रामु भजे िहत नाथ तुमहारा।।
सिचव संग लै नभ पथ गयऊ। सबिह सुनाइ कहत अस भयऊ।।
दो0=रामु सतयसंकलप पभु सभा कालबस तोिर।
मै रघुबीर सरन अब जाउँ दे हु जिन िोिर।।41।।
–*–*–
अस किह चला िबभीषनु जबहीं। आयूहीन भए सब तबहीं।।
साधु अवगया तुरत भवानी। कर कलयान अििल कै हानी।।
रावन जबिहं िबभीषन तयागा। भयउ िबभव िबनु तबिहं अभागा।।
चलेउ हरिष रघुनायक पाहीं। करत मनोरथ बहु मन माहीं।।
दे ििहउँ जाइ चरन जलजाता। अरन मद
ृ ल
ु सेवक सुिदाता।।
जे पद परिस तरी िरिषनारी। दं डक कानन पावनकारी।।
जे पद जनकसुताँ उर लाए। कपट कुरं ग संग धर धाए।।
हर उर सर सरोज पद जेई। अहोभागय मै दे ििहउँ तेई।।
दो0= िजनह पायनह के पादक
ु िनह भरतु रहे मन लाइ।
ते पद आजु िबलोिकहउँ इनह नयनिनह अब जाइ।।42।।
–*–*–
एिह िबिध करत सपेम िबचारा। आयउ सपिद िसंधु एिहं पारा।।
किपनह िबभीषनु आवत दे िा। जाना कोउ िरपु दत
ू िबसेषा।।
तािह रािि कपीस पिहं आए। समाचार सब तािह सुनाए।।
कह सुगीव सुनहु रघुराई। आवा िमलन दसानन भाई।।
कह पभु सिा बूिझऐ काहा। कहइ कपीस सुनहु नरनाहा।।
जािन न जाइ िनसाचर माया। कामरप केिह कारन आया।।
भेद हमार लेन सठ आवा। राििअ बाँिध मोिह अस भावा।।
सिा नीित तुमह नीिक िबचारी। मम पन सरनागत भयहारी।।
सुिन पभु बचन हरष हनुमाना। सरनागत बचछल भगवाना।।
दो0=सरनागत कहुँ जे तजिहं िनज अनिहत अनुमािन।
ते नर पावँर पापमय ितनहिह िबलोकत हािन।।43।।
–*–*–
कोिट िबप बध लागिहं जाहू। आएँ सरन तजउँ निहं ताहू।।
सनमुि होइ जीव मोिह जबहीं। जनम कोिट अघ नासिहं तबहीं।।
पापवंत कर सहज सुभाऊ। भजनु मोर तेिह भाव न काऊ।।
जौ पै दि
ु हदय सोइ होई। मोरे सनमुि आव िक सोई।।
िनमल
ा मन जन सो मोिह पावा। मोिह कपट छल िछद न भावा।।
भेद लेन पठवा दससीसा। तबहुँ न कछु भय हािन कपीसा।।
जग महुँ सिा िनसाचर जेते। लिछमनु हनइ िनिमष महुँ तेते।।
जौ सभीत आवा सरनाई। रििहउँ तािह पान की नाई।।
दो0=उभय भाँित तेिह आनहु हँ िस कह कृ पािनकेत।
जय कृ पाल किह चले अंगद हनू समेत।।44।।
–*–*–
सादर तेिह आगे किर बानर। चले जहाँ रघुपित करनाकर।।
दिूरिह ते दे िे दौ भाता। नयनानंद दान के दाता।।
बहुिर राम छिबधाम िबलोकी। रहे उ ठटु िक एकटक पल रोकी।।
भुज पलंब कंजारन लोचन। सयामल गात पनत भय मोचन।।
िसंघ कंध आयत उर सोहा। आनन अिमत मदन मन मोहा।।
नयन नीर पुलिकत अित गाता। मन धिर धीर कही मद
ृ ु बाता।।
नाथ दसानन कर मै भाता। िनिसचर बंस जनम सुरताता।।
सहज पापिपय तामस दे हा। जथा उलूकिह तम पर नेहा।।
दो0-शवन सुजसु सुिन आयउँ पभु भंजन भव भीर।
तािह तािह आरित हरन सरन सुिद रघुबीर।।45।।
–*–*–
अस किह करत दं डवत दे िा। तुरत उठे पभु हरष िबसेषा।।
दीन बचन सुिन पभु मन भावा। भुज िबसाल गिह हदयँ लगावा।।
अनुज सिहत िमिल िढग बैठारी। बोले बचन भगत भयहारी।।
कहु लंकेस सिहत पिरवारा। कुसल कुठाहर बास तुमहारा।।
िल मंडलीं बसहु िदनु राती। सिा धरम िनबहइ केिह भाँती।।
मै जानउँ तुमहािर सब रीती। अित नय िनपुन न भाव अनीती।।
बर भल बास नरक कर ताता। दि
ु संग जिन दे इ िबधाता।।
अब पद दे िि कुसल रघुराया। जौ तुमह कीनह जािन जन दाया।।
दो0-तब लिग कुसल न जीव कहुँ सपनेहुँ मन िबशाम।
जब लिग भजत न राम कहुँ सोक धाम तिज काम।।46।।
–*–*–
तब लिग हदयँ बसत िल नाना। लोभ मोह मचछर मद माना।।
जब लिग उर न बसत रघुनाथा। धरे चाप सायक किट भाथा।।
ममता तरन तमी अँिधआरी। राग दे ष उलूक सुिकारी।।
तब लिग बसित जीव मन माहीं। जब लिग पभु पताप रिब नाहीं।।
अब मै कुसल िमटे भय भारे । दे िि राम पद कमल तुमहारे ।।
तुमह कृ पाल जा पर अनुकूला। तािह न बयाप ितिबध भव सूला।।
मै िनिसचर अित अधम सुभाऊ। सुभ आचरनु कीनह निहं काऊ।।
जासु रप मुिन धयान न आवा। तेिहं पभु हरिष हदयँ मोिह लावा।।
दो0–अहोभागय मम अिमत अित राम कृ पा सुि पुंज।
दे िेउँ नयन िबरं िच िसब सेबय जुगल पद कंज।।47।।
–*–*–
सुनहु सिा िनज कहउँ सुभाऊ। जान भुसंिु ड संभु िगिरजाऊ।।
जौ नर होइ चराचर दोही। आवे सभय सरन तिक मोही।।
तिज मद मोह कपट छल नाना। करउँ सद तेिह साधु समाना।।
जननी जनक बंधु सुत दारा। तनु धनु भवन सुहद पिरवारा।।
सब कै ममता ताग बटोरी। मम पद मनिह बाँध बिर डोरी।।
समदरसी इचछा कछु नाहीं। हरष सोक भय निहं मन माहीं।।
अस सजजन मम उर बस कैसे। लोभी हदयँ बसइ धनु जैसे।।
तुमह सािरिे संत िपय मोरे । धरउँ दे ह निहं आन िनहोरे ।।
दो0- सगुन उपासक परिहत िनरत नीित दढ नेम।
ते नर पान समान मम िजनह के िदज पद पेम।।48।।
–*–*–
सुनु लंकेस सकल गुन तोरे । ताते तुमह अितसय िपय मोरे ।।
राम बचन सुिन बानर जूथा। सकल कहिहं जय कृ पा बरथा।।
सुनत िबभीषनु पभु कै बानी। निहं अघात शवनामत
ृ जानी।।
पद अंबुज गिह बारिहं बारा। हदयँ समात न पेमु अपारा।।
सुनहु दे व सचराचर सवामी। पनतपाल उर अंतरजामी।।
उर कछु पथम बासना रही। पभु पद पीित सिरत सो बही।।
अब कृ पाल िनज भगित पावनी। दे हु सदा िसव मन भावनी।।
एवमसतु किह पभु रनधीरा। मागा तुरत िसंधु कर नीरा।।
जदिप सिा तव इचछा नाहीं। मोर दरसु अमोघ जग माहीं।।
अस किह राम ितलक तेिह सारा। सुमन बिृि नभ भई अपारा।।
दो0-रावन कोध अनल िनज सवास समीर पचंड।
जरत िबभीषनु रािेउ दीनहे हु राजु अिंड।।49(क)।।
जो संपित िसव रावनिह दीिनह िदएँ दस माथ।
सोइ संपदा िबभीषनिह सकुिच दीनह रघुनाथ।।49(ि)।।
–*–*–
अस पभु छािड भजिहं जे आना। ते नर पसु िबनु पूँछ िबषाना।।
िनज जन जािन तािह अपनावा। पभु सुभाव किप कुल मन भावा।।
पुिन सबगाय सबा उर बासी। सबर
ा प सब रिहत उदासी।।
बोले बचन नीित पितपालक। कारन मनुज दनुज कुल घालक।।
सुनु कपीस लंकापित बीरा। केिह िबिध तिरअ जलिध गंभीरा।।
संकुल मकर उरग झष जाती। अित अगाध दस
ु तर सब भाँती।।
कह लंकेस सुनहु रघुनायक। कोिट िसंधु सोषक तव सायक।।
जदिप तदिप नीित अिस गाई। िबनय किरअ सागर सन जाई।।
दो0-पभु तुमहार कुलगुर जलिध किहिह उपाय िबचािर।
िबनु पयास सागर तिरिह सकल भालु किप धािर।।50।।
–*–*–
सिा कही तुमह नीिक उपाई। किरअ दै व जौ होइ सहाई।।
मंत न यह लिछमन मन भावा। राम बचन सुिन अित दि
ु पावा।।
नाथ दै व कर कवन भरोसा। सोिषअ िसंधु किरअ मन रोसा।।
कादर मन कहुँ एक अधारा। दै व दै व आलसी पुकारा।।
सुनत िबहिस बोले रघुबीरा। ऐसेिहं करब धरहु मन धीरा।।
अस किह पभु अनुजिह समुझाई। िसंधु समीप गए रघुराई।।
पथम पनाम कीनह िसर नाई। बैठे पुिन तट दभा डसाई।।
जबिहं िबभीषन पभु पिहं आए। पाछे रावन दत
ू पठाए।।
दो0-सकल चिरत ितनह दे िे धरे कपट किप दे ह।
पभु गुन हदयँ सराहिहं सरनागत पर नेह।।51।।
–*–*–
पगट बिानिहं राम सुभाऊ। अित सपेम गा िबसिर दरुाऊ।।
िरपु के दत
ू किपनह तब जाने। सकल बाँिध कपीस पिहं आने।।
कह सुगीव सुनहु सब बानर। अंग भंग किर पठवहु िनिसचर।।
सुिन सुगीव बचन किप धाए। बाँिध कटक चहु पास िफराए।।
बहु पकार मारन किप लागे। दीन पुकारत तदिप न तयागे।।
जो हमार हर नासा काना। तेिह कोसलाधीस कै आना।।
सुिन लिछमन सब िनकट बोलाए। दया लािग हँ िस तुरत छोडाए।।
रावन कर दीजहु यह पाती। लिछमन बचन बाचु कुलघाती।।
दो0-कहे हु मुिागर मूढ सन मम संदेसु उदार।
सीता दे इ िमलेहु न त आवा काल तुमहार।।52।।
–*–*–
तुरत नाइ लिछमन पद माथा। चले दत ू बरनत गुन गाथा।।
कहत राम जसु लंकाँ आए। रावन चरन सीस ितनह नाए।।
िबहिस दसानन पूँछी बाता। कहिस न सुक आपिन कुसलाता।।
पुिन कहु िबिर िबभीषन केरी। जािह मतृयु आई अित नेरी।।
करत राज लंका सठ तयागी। होइिह जब कर कीट अभागी।।
पुिन कहु भालु कीस कटकाई। किठन काल पेिरत चिल आई।।
िजनह के जीवन कर रिवारा। भयउ मद
ृ ल
ु िचत िसंधु िबचारा।।
कहु तपिसनह कै बात बहोरी। िजनह के हदयँ तास अित मोरी।।
दो0–की भइ भेट िक िफिर गए शवन सुजसु सुिन मोर।
कहिस न िरपु दल तेज बल बहुत चिकत िचत तोर।।53।।
–*–*–
नाथ कृ पा किर पूँछेहु जैसे। मानहु कहा कोध तिज तैसे।।
िमला जाइ जब अनुज तुमहारा। जातिहं राम ितलक तेिह सारा।।
रावन दत
ू हमिह सुिन काना। किपनह बाँिध दीनहे दि
ु नाना।।
शवन नािसका काटै लागे। राम सपथ दीनहे हम तयागे।।
पूँिछहु नाथ राम कटकाई। बदन कोिट सत बरिन न जाई।।
नाना बरन भालु किप धारी। िबकटानन िबसाल भयकारी।।
जेिहं पुर दहे उ हतेउ सुत तोरा। सकल किपनह महँ तेिह बलु थोरा।।
अिमत नाम भट किठन कराला। अिमत नाग बल िबपुल िबसाला।।
दो0-िदिबद मयंद नील नल अंगद गद िबकटािस।
दिधमुि केहिर िनसठ सठ जामवंत बलरािस।।54।।
–*–*–
ए किप सब सुगीव समाना। इनह सम कोिटनह गनइ को नाना।।
राम कृ पाँ अतुिलत बल ितनहहीं। तन
ृ समान तेलोकिह गनहीं।।
अस मै सुना शवन दसकंधर। पदम
ु अठारह जूथप बंदर।।
नाथ कटक महँ सो किप नाहीं। जो न तुमहिह जीतै रन माहीं।।
परम कोध मीजिहं सब हाथा। आयसु पै न दे िहं रघुनाथा।।
सोषिहं िसंधु सिहत झष बयाला। पूरहीं न त भिर कुधर िबसाला।।
मिदा गदा िमलविहं दससीसा। ऐसेइ बचन कहिहं सब कीसा।।
गजिाहं तजिाहं सहज असंका। मानहु गसन चहत हिहं लंका।।
दो0–सहज सूर किप भालु सब पुिन िसर पर पभु राम।
रावन काल कोिट कहु जीित सकिहं संगाम।।55।।
–*–*–
राम तेज बल बुिध िबपुलाई। तब भातिह पूँछेउ नय नागर।।
तासु बचन सुिन सागर पाहीं। मागत पंथ कृ पा मन माहीं।।
सुनत बचन िबहसा दससीसा। जौ अिस मित सहाय कृ त कीसा।।
सहज भीर कर बचन दढाई। सागर सन ठानी मचलाई।।
मूढ मष
ृ ा का करिस बडाई। िरपु बल बुिि थाह मै पाई।।
सिचव सभीत िबभीषन जाके। िबजय िबभूित कहाँ जग ताके।।
सुिन िल बचन दत
ू िरस बाढी। समय िबचािर पितका काढी।।
रामानुज दीनही यह पाती। नाथ बचाइ जुडावहु छाती।।
िबहिस बाम कर लीनही रावन। सिचव बोिल सठ लाग बचावन।।
दो0–बातनह मनिह िरझाइ सठ जिन घालिस कुल िीस।
राम िबरोध न उबरिस सरन िबषनु अज ईस।।56(क)।।
की तिज मान अनुज इव पभु पद पंकज भंग
ृ ।
होिह िक राम सरानल िल कुल सिहत पतंग।।56(ि)।।
–*–*–
सुनत सभय मन मुि मुसुकाई। कहत दसानन सबिह सुनाई।।
भूिम परा कर गहत अकासा। लघु तापस कर बाग िबलासा।।
कह सुक नाथ सतय सब बानी। समुझहु छािड पकृ ित अिभमानी।।
सुनहु बचन मम पिरहिर कोधा। नाथ राम सन तजहु िबरोधा।।
अित कोमल रघुबीर सुभाऊ। जदिप अििल लोक कर राऊ।।
िमलत कृ पा तुमह पर पभु किरही। उर अपराध न एकउ धिरही।।
जनकसुता रघुनाथिह दीजे। एतना कहा मोर पभु कीजे।
जब तेिहं कहा दे न बैदेही। चरन पहार कीनह सठ तेही।।
नाइ चरन िसर चला सो तहाँ। कृ पािसंधु रघुनायक जहाँ।।
किर पनामु िनज कथा सुनाई। राम कृ पाँ आपिन गित पाई।।
िरिष अगिसत कीं साप भवानी। राछस भयउ रहा मुिन गयानी।।
बंिद राम पद बारिहं बारा। मुिन िनज आशम कहुँ पगु धारा।।
दो0-िबनय न मानत जलिध जड गए तीन िदन बीित।
बोले राम सकोप तब भय िबनु होइ न पीित।।57।।
–*–*–
लिछमन बान सरासन आनू। सोषौ बािरिध िबिसि कृ सानू।।
सठ सन िबनय कुिटल सन पीती। सहज कृ पन सन सुद
ं र नीती।।
ममता रत सन गयान कहानी। अित लोभी सन िबरित बिानी।।
कोिधिह सम कािमिह हिर कथा। ऊसर बीज बएँ फल जथा।।
अस किह रघुपित चाप चढावा। यह मत लिछमन के मन भावा।।
संघानेउ पभु िबिसि कराला। उठी उदिध उर अंतर जवाला।।
मकर उरग झष गन अकुलाने। जरत जंतु जलिनिध जब जाने।।
कनक थार भिर मिन गन नाना। िबप रप आयउ तिज माना।।
दो0-काटे िहं पइ कदरी फरइ कोिट जतन कोउ सींच।
िबनय न मान िगेस सुनु डाटे िहं पइ नव नीच।।58।।
–*–*–
सभय िसंधु गिह पद पभु केरे । छमहु नाथ सब अवगुन मेरे।।
गगन समीर अनल जल धरनी। इनह कइ नाथ सहज जड करनी।।
तव पेिरत मायाँ उपजाए। सिृि हे तु सब गंथिन गाए।।
पभु आयसु जेिह कहँ जस अहई। सो तेिह भाँित रहे सुि लहई।।
पभु भल कीनही मोिह िसि दीनही। मरजादा पुिन तुमहरी कीनही।।
ढोल गवाँर सूद पसु नारी। सकल ताडना के अिधकारी।।
पभु पताप मै जाब सुिाई। उतिरिह कटकु न मोिर बडाई।।
पभु अगया अपेल शिुत गाई। करौ सो बेिग जौ तुमहिह सोहाई।।
दो0-सुनत िबनीत बचन अित कह कृ पाल मुसुकाइ।
जेिह िबिध उतरै किप कटकु तात सो कहहु उपाइ।।59।।
–*–*–
नाथ नील नल किप दौ भाई। लिरकाई िरिष आिसष पाई।।
ितनह के परस िकएँ िगिर भारे । तिरहिहं जलिध पताप तुमहारे ।।
मै पुिन उर धिर पभुताई। किरहउँ बल अनुमान सहाई।।
एिह िबिध नाथ पयोिध बँधाइअ। जेिहं यह सुजसु लोक ितहुँ गाइअ।।
एिह सर मम उिर तट बासी। हतहु नाथ िल नर अघ रासी।।
सुिन कृ पाल सागर मन पीरा। तुरतिहं हरी राम रनधीरा।।
दे िि राम बल पौरष भारी। हरिष पयोिनिध भयउ सुिारी।।
सकल चिरत किह पभुिह सुनावा। चरन बंिद पाथोिध िसधावा।।
छं 0-िनज भवन गवनेउ िसंधु शीरघुपितिह यह मत भायऊ।
यह चिरत किल मलहर जथामित दास तुलसी गायऊ।।
सुि भवन संसय समन दवन िबषाद रघुपित गुन गना।।
तिज सकल आस भरोस गाविह सुनिह संतत सठ मना।।
दो0-सकल सुमंगल दायक रघुनायक गुन गान।
सादर सुनिहं ते तरिहं भव िसंधु िबना जलजान।।60।।
मासपारायण, चौबीसवाँ िवशाम
~~~~~~~
इित शीमदामचिरतमानसे सकलकिलकलुषिवधवंसने
पञचमः सोपानः समापः ।
(सुनदरकाणड समाप)
–*–*–