1

नई आज़ादी भाससक (भई 1995)

www.RajivDixit.com

हहिंदस्
ु तान मूननरीवय के कायनाभे : याजीव दीक्षऺत
रीवय ब्रदसस से मूनी रीवय औय मूनी रीवय से हहॊदस्
ु तान मूनी रीवय की रूट खोयी को 75 वषस हो
यहे हैं। अॉग्रेजी शासन के दौयान 1920 भें रीवय ब्रदसस ने बायत भें साफन
ु फेचने का धॊधा शरू

ककमा था। हहॊदस्
ु तान रीवय हभेशा से मह दावा कयता यहा हैं कक बायत भें साफन
ु फनाने की
तकनीकी का ननभासण औय ववकास रीवय घयाने ने ही ककमा हैं। मह दावा एकदभ झूठ हैं क्मोंकक
रीवय ब्रदसस के बायत भें आने से ऩूवस सन ् 1920 के आस-ऩास स्वदे शी साफुन उद्दोग का उत्ऩादन
20,000 टन प्रनतवषस के रगबग था। 1913-14 भें स्वदे शी साफुन का उत्ऩादन रगबग 14,000
टन प्रनतवषस के आस-ऩास था। 1914 से 1920 तक भात्र 6 वषो भें स्वदे शी साफन
ु उद्दोग का
उत्ऩादन 6000 टन फढ़ा। मह सॊबव हुआ स्वदे शी तकनीक के ववकास के कायण। स्वदे शी साफन

उद्दोग के इनतहास से ऩता चरता हैं कक 1897 भें भेयठ भें ऩहरी आधनु नक साफुन पैक्री रगी,
जजसका नाभ था ‘नाथस-वेस्ट सोऩ कॊऩनी’ इसी के कुछ हदनों के फाद कानऩुय भें दस
ू यी पैक्री
रगी ‘केसय सोऩ कॊऩनी’ के नाभ से। 1897 के ऩहरे बी दे श भें साफुन का उत्ऩादन असॊगहठत
रूऩ से जगह-जगह होता था। सन ् 1920 के आते-आते गोदये ज सोऩ कॊऩनी, टाटा ऑइर मभर,
स्वाजस्तक ऑइर मभर आहद अनेक स्वदे शी कॊऩननमाॊ साफन
ु उत्ऩादन के कामस भें रग चक
ु ी थी।
1920 भें दे श भें साफुन की कुर खऩत 40,000 टन प्रनतवषस की थी। जजसभे से 20,000 टन
साफुन उत्ऩादन सॊगहठत ऺेत्र भें होता था। इसका अथस है कक 1920 तक बायत साफुन उत्ऩादन
भें आत्भननबसय था। तो कपय रीवय ब्रदसस का बायतीम फाजाय भें प्रवेश कैसे हुआ? ऩहरे ववश्व
मद्ध
ु की सभाजतत के फाद से ही मन
ू ी रीवय (रीवय ब्रदसस) बायत भें साफन
ु फेचने की कोमशश कय
यहा था रेककन बायतीम फाज़ाय भें ववदे शी साफुन बफकता ही नहीॊ था क्मोंकक उन हदनों ऩूये दे श भें
स्वयाज आॊदोरन चर यहा था। ऐसी ऩरयजस्थनत भें मुनीरीवय ने अॊग्रेज़ सयकाय से अनुयोध ककमा
कक दे श की सफसे फड़ी स्वदे शी साफुन की पैक्री नाथस-वेस्ट-सोऩ कॊऩनी को फॊद कया हदमा जाए
मा कपय मूनीरीवय को इस स्वदे शी कॊऩनी को खयीदने की इजाजत दी जाए। अॉग्रेजी सयकाय ने
फहुत आसानी से मह इजाजत दे दी औय कपय मन
ू ीरीवय ने नाथस वेस्ट सोऩ कॊऩनी (भेयठ) ऩय
कब्जा कय मरमा। मूनीरीवय ने नाथस वेस्ट सोऩ कॊऩनी ऩय कब्जा कयने के फाद उसे ऩूयी तयह
फॊद कय हदमा। इस तयह दे श भें साफुन उत्ऩादन भें कभी आमी औय उस कभी को ऩूया कयने के

2

मरए मूनीरीवय ने इॊग्रैंड से आमानतत साफुन को बायतीम फाज़ाय भें फेचना शुरू ककमा। नाथस
वेस्ट सोऩ कॊऩनी के फॊद हो जाने के फाद स्वदे शी साफुन का उत्ऩादन घट कय रगबग आधा यह
गमा। इस साजजश के सपर हो जाने ऩय मूनीरीवय ने बायतीम फाजाय भें ऩैय जभाना शुरू ककमा।
उल्रेखनीम हैं कक मूनीरीवय ने नाथस वेस्ट सोऩ कॊऩनी के भामरकों को ककसी बी तयह का कोई
भआ
ु वजा नहीॊ हदमा।
सन ् 1920 से रेकय 1930 तक बायतीम फाज़ाय भें मूनीरीवय का एकाधधकाय स्थावऩत कयने के
मरए अॉग्रेजी सयकाय द्वाया तयह-तयह की कोमशशें की गई। उदाहयण के मरए दे श भें फनाने वारे
स्वदे शी साफन
ु ऩय टै क्स फढ़ाना औय फाहय से आमात होने वारे साफन
ु ऩय नाभभात्र का कय
रगाना। इसके चरते स्वदे शी साफुन भहॊ गा औय ववदे शी साफुन सस्ता होता था। अॉग्रेजी सयकाय
की इसी नीनत का पामदा उठाते हुए 1931 भें जभसनी औय जाऩान की कुछ कॊऩननमों ने बी
बायतीम फाज़ाय भें साफुन फेचना शुरू कय हदमा। क्मोंकक फाहय से आमानतत साफुन ऩय न्मूनतभ
कय रगता था। इसमरए जभसन औय जाऩानी साफन
ु मन
ू ीरीवय के साफन
ु को कड़ी चन
ु ौती दे ने
रगे। 1931 के सभातत होते-होते मन
ू ीरीवय के साफन
ु की बफक्री भें कापी कभी आई क्मोंकक
जभसनी औय जाऩान का साफुन मूनीरीवय के साफुन की तुरना भें सस्ता औय अच्छा होता था।
ऐसी ऩरयजस्थनत भें मूनीरीवय के अधधकारयमों की भाचस 1931 भें अॉग्रेजी सयकाय के अधधकारयमों
के साथ फैठक हुई। इस फैठक भें इस फात ऩय गॊबीय चचास हुई कक ककस तयह जभसन औय जाऩानी
साफन
ु को बायतीम फाज़ाय भें प्रवेश कयने से योका जाम। अॉग्रेजी सयकाय के अधधकारयमों ने फैठक
के तयु ॊ त फाद ही एक नई नीनत की घोषणा की जजसके अनस
ु ाय फाहय से आने वारे आमानतत
साफुन ऩय 25% सीभा शुल्क (टै रयप) फढ़ा हदमा गमा। इस नीनत की घोषणा के फाद मूनीरीवय
के अधधकारयमों ने पैसरा ककमा कक अफ फाहय से साफुन आमात कयना घाटे का सौदा हैं, इसमरए
बायतीम जभीन ऩय ही उत्ऩादन का कामस शुरू ककमा जाए ताकक फढ़े हुए सीभा शुल्क की भाय से
फचा जा सके। इसी के तहत 1933 भें फम्फई औय करकत्ता भें मन
ू ीरीवय ने साफन
ु उत्ऩादन के
मरए दो कायखाने खोरे। करकत्ता वारे कायखाने भें मन
ू ीरीवय ने 25000 रु. की ऩॊज
ू ी रगाई
औय फम्फई वारे कयखाने भें 1,50,000 रु. की ऩूॊजी रगामी। इससे स्ऩष्ट होता है कक मूनीरीवय
ने जभसन औय जाऩानी कॊऩननमों के दफाव भें आकय ही बायत भें उत्ऩादन केंद्र खोरने का ननणसम
मरमा।

3

आजादी मभरने के फाद कुटीय उद्दोग औय छोटे उद्दोग के ववकास ऩय अधधक ध्मान दे ना शुरू
ककमा गमा। 1953 भें खादी औय ग्राभोद्दोग आमोग की स्थाऩना हुई औय 1954 भें रघु उद्दोग
आमोग की स्थाऩना हुई। इसके अरावा केन्द्र सयकाय द्वाया मह नीनत फनाई गई कक जजन
वस्तओॊ का उत्ऩादन कुटीय उद्दोग अथवा रघु उद्दोगों भें हो सकता हैं, उनका उत्ऩादन फड़े औय
सॊगहठत उद्दोग नहीॊ कयॊ गे। इन सबी का नतीजा कुर मभराकय मह हुआ कक 1953 भें जहाॊ
सॊगहठत उद्दोग ऺेत्र भें साफुन का उत्ऩादन 1 राख टन था तो वहीॊ असॊगहठत उद्दोग ऺेत्र भें 1
राख 20 हजाय टन था। सॊगहठत उद्दोग ऺेत्र के एक राख टन के उत्ऩादन भें मूनीरीवय का
हहस्सा 60 हजाय टन का था जफकक फाकी 40 हजाय टन भें टाटा ऑइर, भैसूय सोऩ पैक्री,
गोदये ज आहद कॊऩननमों की हहस्सेदायी थी। 1957 के आस-ऩास सयकायी आकड़ों के अनुसाय दे श
भें 63 स्वदे शी उत्ऩादन इकाइमाॊ साफन
ु का उत्ऩादन कय यही थी। इन इकाइमों की उत्ऩादन
ऺभता 1 हजाय टन से रेकय 50 हजाय प्रनतवषस की थी। इस दौय भें मूनीरीवय की भात्र 2
इकाइमाॉ ही उत्ऩादन भें रगी हुई थी। 1947 भें मूनीरीवय का साफुन उत्ऩादन 21,625 टन था
जो 1955 भें फढ़कय 60 हजाय टन हो गमा। मह कैसे सॊबव हुआ? 1947 भें मूनीरीवय ने अऩने
साफुन के दाभ घटाने शुरू ककए क्मोंकक 1947 से ऩहरे मूनीरीवय को जो अॉग्रेजी सयकाय का ऩूया
सॊयऺण औय सभथसन मभरा हुआ था, वह 1947 के फाद खत्भ हो गमा। अत: फाजाय भें हटके
यहने के मरए जरूयी था कक मूनीरीवय अऩने साफुन का दाभ घटाएॉ, बरे ही भुनापा कभ हो मा
कुछ हदनों तक घाटा ही होता यहे । दस
ू ये , मूनीरीवय ने अऩने साफुन की क्वामरटी को बी कापी
धगया हदमा औय ववऻाऩनफाजी ऩय अधधक ऩैसा खचस कयना शुरू ककमा।
1960 भें अचानक केंद्र सयकाय की ववदे शी कॊऩननमों से सॊफजन्धत नीनतमो भें कुछ ऩरयवतसन हुए,
1960 के ऩहरे जजन ववदे शी कॊऩननमों को अछूत भाना जाता था, उनके प्रनत केन्द्र सयकाय ने
सद् बाव हदखाना शुरू ककमा। केन्द्र सयकाय का कहना था कक दे श भें ववदे शी कॊऩननमों को कुछ
रयमामते दे नी होंगी जजससे कक वे कॊऩननमाॉ ववदे शी भद्र
ु ा कभा कय बायत भें रा सकें। तदनरू
ु ऩ
केन्द्र सयकाय की नीनतमों भें सॊशोधन ककए गए।
केन्द्र सयकाय के इस पैसरे से मूनीरीवय को कापी राब हुआ। क्मोंकक कई तयह की रयमामतें
मन
ू ीरीवय को दी गमी। उदाहयण के मरमे मन
ू ीरीवय को एक वषस भें 33000 टन साफन
ु उत्ऩादन
का राइसेंस हदमा गमा था रेककन मूनीरीवय रगबग 60 हजाय टन साफुन उत्ऩादन कय यही थी।
केन्द्र सयकाय की ववदे शी कॊऩननमों को रयमामत दे ने की नीनत 1966 तक चरी।

4

अप्रैर 1967 भें केन्द्र सयकाय द्वाया ववदे शी कॊऩननमों के प्रनत नीनतमों भें कपय ऩरयवतसन ककमा
गमा, जजसके तहत साफुन उत्ऩादन का कामस छोटे उद्दोगों के मरमे आयक्षऺत कय हदमा गमा।
इसका तत्कार असय महा हुआ कक दे श भें साफुन उत्ऩादन की इकाइमों की सॊख्मा फढ़कय 2148
तक ऩहुॉच गई औय 1973-74 तक तो मह सॊख्मा फढ़कय 3,725 हो गई। 1969 भें एकाधधकाय
एवॊ प्रनतफॊधात्भक व्माऩाय कानन
ू (एभ.आय.टी.ऩी.) सॊसद से ऩारयत हुआ औय कपय 1970 भें
राइसेंस नीनतमों को बी ऩूयी तयह फदर हदमा गमा। मह दौय दे श भें सावसजननक ऺेत्र के उद्दोगों
को भहत्व औय सॊयऺण दे ने का था। फीस कयोड़ रु से अधधक ऩूॊजी वारे उद्दोगों को ऐसी वस्तुओॊ
का उत्ऩादन कयने से योक हदमा गमा जो छोटे एवॊ कुटीय उद्दोगों भें फन सकती थी। ऐसी 126
वस्तुओॊ की सूची फनाई गई जजनका उत्ऩादन मसपस कुटीय एवॊ रघु उद्दोगों भें ही आयक्षऺत कय
हदमा गमा। 1974 भें ववदे शी भद्र
ु ा ववननभम कानून (पेया) फना।
इस दौय की इन सबी नीनतमों की भाय मूनीरीवय कॊऩनी ऩय व्माऩक रूऩ से ऩड़ी औय कपय इस
भाय से फचने के मरमे मन
ू ीरीवय ने अऩनी यणनीनत भें कई ऩरयवतसन ककए। इसी दौय भें
मन
ू ीरीवय का नाभ फदर कय हहॊदस्
ु तान रीवय ककमा गमा। एभ.आय.टी.ऩी. औय राइसेंमसॊग के
नए कानून फन जाने के फाद हहॊदस्
ु तान रीवय कॊऩनी साफुन उत्ऩादन का काभ नहीॊ कय सकती
थी, क्मोंकक मह काभ छोटे उद्दोगों के मरमे आयक्षऺत कय हदमा गमा था। ऐसी जस्थनत भें
हहॊदस्
ु तान रीवय ने साफन
ु का काभ ठे के ऩय कयना शुरू ककमा औय अऩने ब्राण्ड नाभों से उसे
फाज़ाय भें फेचना शरू
ु कय हदमा। अफ हहॊदस्
ु तान रीवय के मरमे साफन
ु उत्ऩादन का काभ दे श के
स्वदे शी रघु उद्दोगों भें होने रगा।
हहिंदस्
ु तान रीवय की बायतीम प्रशासन भें घुसऩैठ

हहिंदस्
ु तान रीवय ने दे श की याजनीनत औय नौकयशाही भें जफयदस्त घुसऩैठ कय
यखी हैं। दे श के प्रधानभिंत्री को ववऻान औय तकनीकी के भाभरों भें सराह दे ने

वारी काउिं ससर भें वऩछरे कई वषो से हहिंदस्
ु तान रीवय के अधधकारयमों को
शासभर ककमा जाता यहा हैं। स्व. याजीव गािंधी के सभम भें तो इस काउिं ससर का
अध्मऺ, हहिंदस्
ु तान रीवय के भुख्म कामयकायी अधधकायी को ही फनामा गमा था।

1959 भें हहिंदस्
ु तान रीवय को डडटजेंट ऩाउडय फनाने की अनुभनत दी गई थी।
उसी सार भें जफ टाटा ऑइर सभर किंऩनी ने डडटे जट
ें ऩाउडय फनाने के

राइसेन्स के सरए आवेदन ककमा तो साप भना कय हदमा गमा औय मह
हहिंदस्
ु तान रीवय के इशाये ऩय हुआ। 1960 के फाद डडटजेंट ऩाउडय के उत्ऩादन

5

को उस सभम की तात्कासरक सीभा से फढ़ाने ऩय योक रगा दी गई, रेककन
1963 भें जफ हहिंदस्
ु तान रीवय ने अऩनी राइसेन्स ऺभता से 8000 टन अधधक
डडटजेंट का उत्ऩादन ककमा तो सयकाय ने अऩनी घोवषत नीनत को वाऩस रे

सरमा। इस फात की सशकामत स्वस्स्तक ऑइर सभर द्वाया की गई तो सयकायी
अधधकारयमों ने इस ऩय कोई कामयवाही नहीिं की औय तो औय इस भाभरे को
दफा बी हदमा गमा। 1972 भें एभ.आय.टी.ऩी. कभीशन द्वाया हहिंदस्
ु तान रीवय
ऩय एक जािंच आमोग फैठामा गमा। आमोग द्वाया हहिंदस्
ु तान रीवय की

कायगुजारयमों ऩय कई आऩस्त्त दजय कयाई गई रेककन केंद्र सयकाय ने उस ऩय

कोई कामयवाही नहीिं की। अबी हार भें एभ.आय.टी.ऩी. कभीशन भें हहिंदस्
ु तान
रीवय द्वाया टाटा ऑइर सभर औय गोदये ज सोऩ किंऩनी ऩय कब्जा कयने के
खखराप एक भक
ु दभा चरामा गमा। इस भुकदभे भें हहिंदस्
ु तान रीवय के ट्रे ड

मूननमन बी हहिंदस्
ु तान रीवय के खखराप थी, इसके फावजूद हहिंदस्
ु तान रीवय की

भुकदभे भें जीत हुई औय शेमय फाज़ाय भें उसकी स्स्थनत औय बी भजफूत हो
गई।

हहॊदस्
ु तान रीवय ने उस साफन
ु की ऩैककॊग कयके फाज़ाय भें फेचने का धन्धा शरू
ु कय हदमा। इस
नए बायतीम कानूनों भें बी सेंध रगाने का काभ हहॊदस्
ु तान रीवय ने चारू कय हदमा। 70 के
दशक भें ऩुणे, औयॊ गाफाद औय फॊगरौय भें तीन ऐसे कायखाने थे, जो हहॊदस्
ु तान रीवय के मरमे
बफना ककसी राइसेंस के साफुन उत्ऩादन का कामस कयते थे। इन तीनों कायखानो भें काभ कयने
वारे भजदयू ो को एक हदन भें न्मूनतभ 7 रु से रेकय अधधकतभ 13 रू. तक की भजदयू ी दी
जाती थी जफकक श्रभ कानन
ू के अनस
ु ाय औद्दोधगक इकाई भें न्मन
ू तभ भजदयू ी की दय 24 रू.
थी।

6

हहिंदस्
ु तान रीवय की 1993-94 की रयऩोटय के कुछ तथ्म
कुर बफक्री

-

राब

2436 कयोड़ रुऩमे

-

240

-----/-----

ननमासत की आम

-

255

-----/-----

आमात ऩय खचास

-

262

-----/-----

ववऻाऩन ऩय खचस

-

100

-----/-----

1977 भें केंद्र सयकाय के फदरने के फाद ववदे शी कॊऩननमों के प्रनत औय अधधक सख्त यवैमा
अऩनामा गमा। 807 वस्तओॊ को रघु उद्दोगों के मरए ऩूयी तयह से आयक्षऺत कय हदमा जफकक
1977 से ऩहरे इन आयक्षऺत वस्तुओॊ की सॊख्मा भात्र 126 थी। इसी दौय भें कोका-कोरा,
आई.वी.एभ. औय आई.सी.एर. जैसी फड़ी फहुयाष्रीम कॊऩननमों को दे श से फाहय ननकारा गमा।
1980 भें कपय से केन्द्र सयकाय भें ऩरयवतसन हुआ औय इस सयकाय ने रघु उद्दोगों के मरए
आयक्षऺत सूची को फढ़ाकय 834 कय हदमा।
1980 के शुरू भें ही दे श का आधथसक तॊत्र डगभगाने रगा। ऩहरी फाय 1980-81 भें केंद्र सयकाय
की कुर याजस्व आम से अधधक खचों का दौय शुरू हुआ। 1980-81 भें केंद्र सयकाय की कुर
याजस्व आम 12829 कयोड़ रु. थी जफकक खचास 14543 कयोड़ रुऩमे का था। आभदनी से अधधक
खचस कयने की मह प्रवनृ त 1980 के फाद फढ़ती ही गई। 1984 भें कुर याजस्व आभदनी से खचास
20% अधधक हुआ तो दे श की अथसव्मवस्था को सॊबारने के मरए अॊतयासष्रीम भद्र
ु ाकोष से 5.6
अयफ डॉरय का कजस रेना ऩड़ा। जैसे ही अॊतयासष्रीम भुद्राकोष का कजस आमा तो उसके साथ ही
फहुत सी शते आमी औय इन शतो के तहत दे श की अथसव्मवस्था का दयवाजा ववदे शी कॊऩननमों के
मरए खोरना शुरू ककमा गमा। तयह-तयह की छूट इन कॊऩननमों को मभरने रगी, धीये -धीये
ऩाफजन्दमाॉ कभ होने रगी। 1991 भें तो नई आधथसक नीनत के नाभ ऩय फहुयाष्रीम कॊऩननमों के
ऊऩय से साये प्रनतफॊध हटा मरए गए। एभ.आय.टी.ऩी., पेया तथा राबाॊश को दे श से फाहय रे जाने
के सॊफॊध आहद से सॊफजन्धत कानूनों को सभातत कय हदमा गमा औय शुरू ककमा गमा एक जॊगर
याज , जहाॉ फहुयाष्रीम कॊऩननमों के मरए न तो कोई कानून है औय न ही कोई प्रनतफॊध। रूट की

7

खर
ु ी छूट मभरी हुई हैं। इसका नतीजा मह हैं कक आज हहॊदस्
ु तान रीवय का दे श के 90% साफुन
फाजाय ऩय कब्जा हो गमा है । चकूॊ क एकाधधकाय अवयोधक व्माऩाय कानून (एभ.आय.टी.ऩी.) उतना
प्रबावशारी नहीॊ यह गमा है इसमरए हहॊदस्
ु तान रीवय ने टाटा ऑइर मभर औय गोदये ज सोऩ
कॊऩनी ऩय बी कब्जा कय मरमा है ।
ववदे शी कॊऩननमाॉ जफ आती हैं तो अऩने साथ बायी भात्रा भें ऩूॊजी रेकय आती हैं, मह फड़ा बायी
धोखा हैं। ऊऩय कहा जा चक
स ाभ: मूनीरीवय मा रीवय
ु ा हैं कक 1920 भें हहॊदस्
ु तान रीवय (ऩूवन
ब्रदसस) ने इॊग्रैंड से साफुन राकय बायतीम फाजाय भें फेचने का धॊधा शुरू ककमा। इस कामस भें
हहॊदस्
ॊू ी ननवेश नहीॊ भाना जा सकता। इस व्माऩाय
ु तान-रीवय ने जो बी ऩैसा रगामा हो उसे ऩज
के शुरू होने के 13 वषों के फाद हहॊदस्
ु तान रीवय ने 1933 भें अऩने दो कायखाने फम्फई औय
करकत्ता भें रगाए। फम्फई वारे कायखाने भें 25 हजाय रुऩमे की ऩॉज
ू ी रगाई। इस तयह
मूनीरीवय का बायत भें ऩॉज
ू ी ननवेश 1.75 राख रुऩमे का यहा। फाद भें मूनीरीवय की इॊग्रैंड
शाखा ने बायत भें मन
ू ीरीवय के 24 राख रुऩमे के शेमय औय खयीदे । इस तयह मन
ू ीरीवय का
बायत भें कुर ऩॉज
ू ी ननवेश भात्र 25.75 राख रुऩमे का है । रेककन आज मन
ू ीरीवय की बायत भें
सॊऩजत्त 500 कयोड़ रुऩमे से बी अधधक की है । तफ सवार मह है की 499.25 कयोड़ रुऩमे की
सॊऩजत्त जो कक मूनीरीवय के कब्जे भें है , वह दे श के रोगों की जेफ से गई है । इससे बी फड़ा
सवार अफ मह होना चाहहए कक अफ तक मूनीरीवय ने जो भुनापा दे श से फाहय बेज हदमा है
वह ककतना है ? मन
ू ीरीवय सहहत तभाभ अन्म फहुयाष्रीम कॊऩननमों के फाये भें मह जानने की
जरूयत है कक मे कॊऩननमाॉ ऩॉज
ू ी ननवेश के नाभ ऩय ककतना रेकय आमी? औय भन
ु ापे के नाभ ऩय
कुर ककतनी ऩॉज
ू ी दे श से फाहय रे गई?
हहॊदस्
ु तान रीवय के दे श बय भें कहाॉ-कहाॉ कायखाने/पेक्टयी है ?
स्थान

शहय प्रदे श

जम्भू

जम्भू-कश्भीय

सुभेयऩुय

उत्तय प्रदे श

डफ ग्राभ

ऩ. फॊगार

करकत्ता

ऩ. फॊगार

हजल्दमा

ऩ. फॊगार

सॊदेशखारी

ऩ. फॊगार

उयई

उत्तय प्रदे श

8

नछॊ दवाड़ा

भध्म प्रदे श

खाभ गाॉव

भहायाष्र

मवतभार

भहायाष्र

तरोजा

भहायाष्र

फम्फई

भहायाष्र

भद्रास

तमभरनाडू

तॊजाऩुय

ऩाॊडडचेयी
फॊगरोय

तमभरनाडू
तमभरनाडू
कनासटक

भॊगरोय

कनासटक

भरुॊ गुय

तमभरनाडू

कन्माकुभायी

तमभरनाडू