Our Web Site: www.gurutvajyotish.

com

Font Help >> http://gurutvajyotish.blogspot.com

गुरुत्व कामाारम द्राया प्रस्तुत भाससक ई-ऩत्रिका

NON PROFIT PUBLICATION

ससतम्फय- 2013

FREE
E CIRCULAR

गुरुत्व ज्मोसतष ऩत्रिका
ससतम्फय 2013
सॊऩादक

सिॊतन जोशी
सॊऩका
गुरुत्व ज्मोसतष त्रवबाग

गुरुत्व कामाारम

92/3. BANK COLONY,
BRAHMESHWAR PATNA,
BHUBNESWAR-751018,
(ORISSA) INDIA

ई- जन्भ ऩत्रिका
अत्माधुसनक ज्मोसतष ऩद्धसत द्राया
उत्कृ द्श बत्रवष्मवाणी के साथ
१००+ ऩेज भं प्रस्तुत

पोन

91+9338213418,
91+9238328785,
ईभेर

gurutva.karyalay@gmail.com,
gurutva_karyalay@yahoo.in,

वेफ

www.gurutvakaryalay.com
http://gk.yolasite.com/
www.gurutvakaryalay.blogspot.com/

ऩत्रिका प्रस्तुसत

सिॊतन जोशी,

स्वस्स्तक.ऎन.जोशी
पोटो ग्राफपक्स

सिॊतन जोशी, स्वस्स्तक आटा
हभाये भुख्म सहमोगी

स्वस्स्तक.ऎन.जोशी (स्वस्स्तक
सोफ्टे क इस्न्डमा सर)

E HOROSCOPE
Create By Advanced
Astrology
Excellent Prediction
100+ Pages
>> Order Now | Call Now | Email US

फहॊ दी/ English भं भूल्म भाि 750/GURUTVA KARYALAY
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) INDIA
Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in,
gurutva.karyalay@gmail.com

अनुक्रभ
फहन्द ू दे वताओॊ भं सवाप्रथभ ऩूजनीम श्री गणेशजी
गणेश ऩूजन हे तु शुब भुहूता (9 ससतॊफय 2013)

7

गणेशजी को दव
ु ाा-दर िढ़ाने का भॊि

41

11

भनोवाॊसित परो फक प्रासद्ऱ हे तु ससत्रद्ध प्रद गणऩसत स्तोि

42

फकसी बी शुबकामा भं गणेशजी की ऩूजा सवाप्रथभ क्मं

12

ऩन्ना गणेश से से हो सकता हं वास्तु दोष का सनवायण

43

श्री गणेश ऩूजन की सयर त्रवसध

13

गणेश वाहन भूषक केसे फना

48

फकस पूर से कयं गणेश ऩूजन

19

ससत्रद्ध त्रवनामक व्रत त्रवधान

49

गणेश ऩूजन भं सनत्रषद्ध हं तुरसी?

20

49

काभनाऩूसता हे तु िभत्कायी गणेश भॊि

सॊकद्शहय ितुथॉ व्रत का प्रायॊ ब कैसे हुवा?

22

गणेश के कल्माणकायी भॊि
गणेश ऩूजन से हो सकती हं ग्रह ऩीड़ा दयू ?
जफ गणेशजी फन गमे ज्मोसतषी

वषा की त्रवसबन्न ितुथॉ व्रत का भहत्व

22
25
26

त्रवसबन्न ऩदाथा भं सनसभात गणेश प्रसतभा के राब

30
31

ससॊह, भमूय औय भूषक हं गणेशजी के वाहन

32

अनॊत ितुदाशी व्रत त्रवशेष परदामी हं ।

40

गणेश ितुथॉ ऩय िॊद्र दशान से क्मं रगता हं करॊक?

50

ऋण भुत्रि हे तु श्री गणेश की भॊि साधना

53

जफ गणेशजी ने िूय फकम कुफेय का अहॊ काय

56

एकदॊ त कथा गणेश

57

वक्रतुण्ड कथा

59

गणेश ऩुयाण फक भफहभा

63

काभनाऩूसता हे तु तीन दर
ा गणेश साधना
ु ब

68

हभाये उत्ऩाद
भॊि ससद्ध स्पफटक श्री मॊि

10

ससत्रद्ध त्रवनामक कवि

18

त्रवसबन्न दे वता एवॊ काभना ऩूसता मॊि सूसि

79

द्रादश भहा मॊि

23

त्रवसबन्न दे वी एवॊ रक्ष्भी मॊि सूसि

80

भॊि ससद्ध रूद्राऺ

82

अद्श त्रवनामक कवि

वाहन दघ
ा ना नाशक भारुसत मॊि | श्री हनुभान मॊि
ु ट

78

धन वृत्रद्ध फडब्फी

24
26

सवा कामा ससत्रद्ध कवि

28

याभ यऺा मॊि

83
84

श्री गणेश मॊि

37

जैन धभाके त्रवसशद्श मॊि

85

बाग्म रक्ष्भी फदब्फी

46

घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध भहामॊि

86

भॊि ससद्ध दर
ा साभग्री | भॊि ससद्ध भारा
ु ब

46

अभोद्य भहाभृत्मुॊजम कवि | याशी यत्न एवॊ उऩयत्न

त्रवद्या प्रासद्ऱ हे तु सयस्वती कवि औय मॊि
हभाये त्रवशेष मॊि

67
71

सवाससत्रद्धदामक भुफद्रका | 100 से असधक जैन मॊि

श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि / कवि

भॊि ससद्ध साभग्री

87
97-99

सवा योगनाशक मॊि/

104

72

भॊि ससद्ध कवि

106

क्मा आऩके फच्िे कुसॊगसत का सशकाय हं ?

73

YANTRA LIST

107

ऩुरुषाकाय शसन मॊि एवॊ शसन तैसतसा मॊि

76

GEM STONE

109

नवयत्न जफड़त श्री मॊि

77

PHONE/ CHAT CONSULTATION

110

स्थामी औय अन्म रेख
सॊऩादकीम

4

दै सनक शुब एवॊ अशुब सभम ऻान तासरका

100

ससतम्फय 2013 भाससक यासश पर

88

फदन-यात के िौघफडमे

101

ससतम्फय 2013 भाससक ऩॊिाॊग

92

फदन-यात फक होया - सूमोदम से सूमाास्त तक

102

ससतम्फय 2013 भाससक व्रत-ऩवा-त्मौहाय

94

ग्रह िरन ससतम्फय 2013

103

ससतम्फय 2013-त्रवशेष मोग

100

हभाया उद्दे श्म

111

त्रप्रम आस्त्भम
फॊध/ु फफहन
जम गुरुदे व

वक्रतुॊड भहाकाम सूमक
ा ोफट सभप्रब:

सनत्रवाघ्नॊ कुरु भे दे व: सवाकामेषु सवादा
हे रॊफे शयीय औय हाथी सभान भुॊख वारे गणेशजी, आऩ कयोड़ं सूमा के सभान िभकीरे हं । कृ ऩा कय भेये साये
काभं भं आने वारी फाधाओॊ त्रवघ्नो को आऩ सदा दयू कयते यहं ।

गणऩसत शब्द का अथा हं ।
गण(सभूह)+ऩसत (स्वाभी) = सभूह के स्वाभी को सेनाऩसत अथाात गणऩसत कहते हं । भानव शयीय भं
ऩाॉि ऻानेस्न्द्रमाॉ, ऩाॉि कभेस्न्द्रमाॉ औय िाय अन्त्कयण होते हं । एवॊ इस शत्रिओॊ को जो शत्रिमाॊ सॊिासरत
कयती हं उन्हीॊ को िौदह दे वता कहते हं । इन सबी दे वताओॊ के भूर प्रेयक बगवान श्रीगणेश हं ।
बायतीम सॊस्कृ सत भं प्रत्मेक शुबकामा शुबायॊ ब से ऩूवा बगवान श्री गणेश जी की ऩूजा-अिाना की जाती
हं । इस सरमे मे फकसी बी कामा का शुबायॊ ब कयने से ऩूवा उस कामा का "श्री गणेश कयना" कहाॊ जाता हं ।
प्रत्मक शुब कामा मा अनुद्षान कयने के ऩूवा ‘‘श्री गणेशाम नभ्” भॊि का उच्िायण फकमा जाता हं । बगवान
गणेश को सभस्त ससत्रद्धमं के दाता भाना गमा है । क्मोफक सायी ससत्रद्धमाॉ बगवान श्री गणेश भं वास कयती हं ।

बगवान श्री गणेश सभस्त त्रवघ्नं को टारने वारे हं , दमा एवॊ कृ ऩा के असत सुॊदय भहासागय हं , तीनो रोक
के कल्माण हे तु बगवान गणऩसत सफ प्रकाय से मोग्म हं ।
धासभाक भान्मता के अनुशाय बगवान श्री गणेशजी के ऩूजन-अिान से व्मत्रि को फुत्रद्ध, त्रवद्या, त्रववेक योग, व्मासध
एवॊ सभस्त त्रवध्न-फाधाओॊ का स्वत् नाश होता है , बगवान श्री गणेशजी की कृ ऩा प्राद्ऱ होने से व्मत्रि के भुस्श्कर से
भुस्श्कर कामा बी सयरता से ऩूणा हो जाते हं ।

शास्त्रोि विन से इस कल्मुग भं तीव्र पर प्रदान कयने वारे बगवान गणेश औय भाता कारी हं । इस सरमे कहाॊ गमा
हं ।

करा िण्डीत्रवनामकौ

अथाात ्: करमुग भं िण्डी औय त्रवनामक की आयाधना ससत्रद्धदामक औय परदामी होता है ।
धभा शास्त्रोभं ऩॊिदे वं की उऩासना कयने का त्रवधान हं ।
आफदत्मॊ गणनाथॊ ि दे वीॊ रूद्रॊ ि केशवभ ्।

ऩॊिदै वतसभत्मुिॊ सवाकभासु ऩूजमेत ्।। (शब्दकल्ऩद्रभ
ु )

बावाथा: - ऩॊिदे वं फक उऩासना का ब्रह्माॊड के ऩॊिबूतं के साथ सॊफॊध है । ऩॊिबूत ऩृथ्वी, जर, तेज, वामु औय
आकाश से फनते हं । औय ऩॊिबूत के आसधऩत्म के कायण से आफदत्म, गणनाथ(गणेश), दे वी, रूद्र औय केशव मे
ऩॊिदे व बी ऩूजनीम हं । हय एक तत्त्व का हय एक दे वता स्वाभी हं ।

जो भनुष्म अऩने जीवन भं सबी प्रकाय की रयत्रद्ध-ससत्रद्ध, सुख, सभृत्रद्ध औय ऐद्वमा को प्राद्ऱ कयने की काभना
कयता हं , अऩने जीवन भं सबी प्रकाय की सबी आध्मास्त्भक-बौसतक इच्िाओॊ को ऩूणा कयने की इच्िा यखता
हं , त्रवद्रानं के भतानुशाय उसे गणेश जी फक ऩूजा-अिाना एवॊ आयाधना अवश्म कयनी िाफहमे...
फहन्द ू ऩयॊ ऩया भं गणेशजी का ऩूजन अनाफदकार से िरा आ यहा हं ,

इसके असतरयि ज्मोसतष शास्त्रं के अनुशाय बी अशुब ग्रह ऩीडा को दयू कयने हे तु बगवान गणेश फक ऩूजा-

अिाना कयने से सभस्त ग्रहो के अशुब प्रबावं को दयू होकय, शुब परं फक प्रासद्ऱ होती हं । इस सरमे फहन्द ू
सॊस्कृ सत भं बगवान श्री गणेशजी की ऩूजा का अत्मासधक भहत्व फतामा गमा हं ।

फहन्द ू ऩॊिाॊग के अनुशाय वैसे तो प्रत्मेक भास की ितुथॉ को बगवान गणेशजी का व्रत फकमा जात है । रेफकन
बाद्रऩद की ितुसथा व्रत का त्रवशेष भहत्व फहन्द ू धभा शास्त्रं भं फतामा गमा है ।

ऎसी भान्मता हं की बाद्रऩद की ितुसथा के फदन जो श्रधारु व्रत, उऩवास औय दान आफद शुब कामा कताा है ,
बगवान श्रीगणेश की कृ ऩा से उसे सौ गुना पर प्राद्ऱ हो जाता हं । व्मत्रि को श्री त्रवनामक ितुथॉ कयने से
भनोवाॊसित पर प्राद्ऱ होता है ।
शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से श्री गणेशजी का ऩूजन व व्रत कयना अत्मॊत राबप्रद होता हं ।
गणेश ितुथॉ ऩय िॊद्र दशान सनषेध होने फक ऩौयास्णक भान्मता हं । शास्त्रंि विन के अनुशाय जो व्मत्रि

इस

फदन िॊद्रभा को जाने-अन्जाने दे ख रेता हं उसे सभथ्मा करॊक रगता हं । उस ऩय झूठा आयोऩ रगता हं ।
त्रवद्रानं के भतानुशाय मफद जाने -अॊजाने िॊद्र दशान कयरेता हं तो उसे, करॊक से फिने के सरए साधक को
बगवान श्री गणेश से अऩनी गरती के ऩरयहाय के सरए बगवान श्री गणेश का ऩूजन वॊदन कयके ऺभा मािना
कयनी िाफहए।

इस अॊक भं प्रकासशत गणेश ितुथॉ त्रवशेष से सॊफसॊ धत जानकायीमं के त्रवषम भं साधक एवॊ त्रवद्रान

ऩाठको से अनुयोध हं , मफद दशाामे गए भॊि, श्रोक, मॊि, साधना एवॊ उऩामं के राब, प्रबाव इत्मादी के

सॊकरन, प्रभाण ऩढ़ने, सॊऩादन भं, फडजाईन भं, टाईऩीॊग भं, त्रप्रॊफटॊ ग भं, प्रकाशन भं कोई िुफट यह गई
हो, तो उसे स्वमॊ सुधाय रं मा फकसी मोग्म ज्मोसतषी, गुरु मा त्रवद्रान से सराह त्रवभशा कय रे ।

क्मोफक त्रवद्रान ज्मोसतषी, गुरुजनो एवॊ साधको के सनजी अनुबव त्रवसबन्न भॊि, द्ऴोक, मॊि, साधना,
उऩाम के प्रबावं का वणान कयने भं बेद होने ऩय गणेश जी की, ऩूजन त्रवसध एवॊ उसके प्रबावं भं
सबन्नता सॊबव हं ।

गणेश ितुथॉ के शुब अवसय ऩय आऩ अऩने जीवन भं फदन प्रसतफदन अऩने
उद्दे श्म फक ऩूसता हे तु अग्रस्णम होते यहे आऩकी सकर भनोकाभनाएॊ ऩूणा हो
एवॊ आऩके सबी शुब कामा बगवान श्री गणेश के आसशवााद से त्रफना फकसी
सॊकट के ऩूणा होते यहे हभायी मफह भॊगर काभना हं ......
सिॊतन जोशी

6

ससतम्फय 2013

***** गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत सूिना *****
 ऩत्रिका भं प्रकासशत गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक भं बगवान श्री गणेश जी रेख गुरुत्व कामाारम के असधकायं के
साथ ही आयस्ऺत हं ।

 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक भं वस्णात रेखं को नास्स्तक/अत्रवद्वासु व्मत्रि भाि ऩठन साभग्री सभझ सकते
हं ।

 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक का त्रवषम आध्मात्भ से सॊफॊसधत होने के कायण इसे बायसतम धभा शास्त्रं से
प्रेरयत होकय प्रस्तुत फकमा हं ।

 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत त्रवषमो फक सत्मता अथवा प्राभास्णकता ऩय फकसी बी प्रकाय की
स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक फक नहीॊ हं ।
 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत सबी जानकायीकी प्राभास्णकता एवॊ प्रबाव की स्जन्भेदायी कामाारम
मा सॊऩादक की नहीॊ हं औय ना हीॊ प्राभास्णकता एवॊ प्रबाव की स्जन्भेदायी के फाये भं जानकायी दे ने हे तु
कामाारम मा सॊऩादक फकसी बी प्रकाय से फाध्म हं ।
 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत रेखो भं ऩाठक का अऩना त्रवद्वास होना आवश्मक हं । फकसी बी
व्मत्रि त्रवशेष को फकसी बी प्रकाय से इन त्रवषमो भं त्रवद्वास कयने ना कयने का अॊसतभ सनणाम स्वमॊ का
होगा।
 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत फकसी बी प्रकाय की आऩत्ती स्वीकामा नहीॊ होगी।
 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत रेख हभाये वषो के अनुबव एवॊ अनुशध
ॊ ान के आधाय ऩय फदए गमे
हं । हभ फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष द्राया प्रमोग फकमे जाने वारे, भॊि- मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोकी
स्जन्भेदायी नफहॊ रेते हं । मह स्जन्भेदायी भॊि-मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोको कयने वारे व्मत्रि फक
स्वमॊ फक होगी।
 क्मोफक इन त्रवषमो भं नैसतक भानदॊ डं, साभास्जक, कानूनी सनमभं के स्खराप कोई व्मत्रि मफद नीजी
स्वाथा ऩूसता हे तु प्रमोग कताा हं अथवा प्रमोग के कयने भे िुफट होने ऩय प्रसतकूर ऩरयणाभ सॊबव हं ।
 गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत जानकायी को भाननने से प्राद्ऱ होने वारे राब, राब की हानी मा
हानी की स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक की नहीॊ हं ।
 हभाये द्राया ऩोस्ट फकमे गमे सबी गणेश ितुथॉ त्रवशेषाॊक की जानकायी एवॊ भॊि-मॊि मा उऩाम हभने

सैकडोफाय स्वमॊ ऩय एवॊ अन्म हभाये फॊधग
ु ण ऩय प्रमोग फकमे हं स्जस्से हभे हय प्रमोग मा कवि, भॊिमॊि मा उऩामो द्राया सनस्द्ळत सपरता प्राद्ऱ हुई हं ।

असधक जानकायी हे तु आऩ कामाारम भं सॊऩका कय सकते हं ।
(सबी त्रववादो केसरमे केवर बुवनेद्वय न्मामारम ही भान्म होगा।)

ससतम्फय 2013

7

फहन्द ू दे वताओॊ भं सवाप्रथभ ऩूजनीम श्री गणेशजी

 सिॊतन जोशी
बायतीम सॊस्कृ सत भं प्रत्मेक शुबकामा कयने के ऩूवा
बगवान श्री गणेश जी की ऩूजा की जाती हं इसी सरमे मे
फकसी बी कामा का शुबायॊ ब कयने से ऩूवा कामा का "श्री

सवाप्रथभ कौन ऩूजनीम हो?
कथा इस प्रकाय हं : तीनो रोक भं सवाप्रथभ कौन ऩूजनीम
हो?, इस फात को रेकय सभस्त दे वताओॊ भं त्रववाद खडा हो

गणेश कयना" कहा जाता हं । एवॊ प्रत्मक शुब कामा मा

गमा। जफ इस त्रववादने फडा रुऩ धायण कय सरमे तफ

फकमा जाता हं । गणेश को सभस्त ससत्रद्धमं को दे ने वारा

प्रस्तुत कयने रगे। कोई ऩयीणाभ नहीॊ आता दे ख सफ

अनुद्षान कयने के ऩूवा ‘‘श्री गणेशाम नभ्” का उच्िायण

सबी दे वता अऩने-अऩने फर फुत्रद्धअ के फर ऩय दावे
दे वताओॊ ने सनणाम सरमा फक िरकय

भाना गमा है । सायी ससत्रद्धमाॉ गणेश भं

बगवान श्री त्रवष्णु को सनणाामक

वास कयती हं ।
इसके

फना

ऩीिे

श्री

सभस्त

त्रवघ्नं

कृ ऩा

त्रवष्णु

को

उऩस्स्थत
भुद्दे

सुॊदय भहासागय हं , एवॊ

त्रवनामक हं । गणेशजी त्रवद्या-फुत्रद्ध के अथाह सागय एवॊ
त्रवधाता हं ।
बगवान गणेश को सवा प्रथभ ऩूजे जाने के त्रवषम
भं कुि त्रवशेष रोक कथा प्रिसरत हं । इन त्रवशेष एवॊ
रोकत्रप्रम कथाओॊ का वणान महा कय यहं हं ।
इस के सॊदबा भं एक कथा है फक भहत्रषा वेद व्मास ने
भहाबायत को से फोरकय सरखवामा था, स्जसे स्वमॊ गणेशजी
ने सरखा था। अन्म कोई बी इस ग्रॊथ को तीव्रता से सरखने भं
सभथा नहीॊ था।

भे

हो

गमे,

को

गॊबीय

होते

दे ख श्री त्रवष्णु ने सबी
दे वताओॊ

तीनो रोक के कल्माण हे तु
हं । सभस्त त्रवघ्न फाधाओॊ को दयू कयने वारे गणेश

रोक

बगवान त्रवष्णु ने इस

के असत

बगवान गणऩसत सफ प्रकाय से मोग्म

पैसरा

सबी दे व गण

गणेश

टारने वारे हं , दमा
एवॊ

उनसे

कयवामा जाम।

भुख्म कायण हं की
बगवान

कय

रेकय
सशवजी

ने

को

सशवरोक
कहा

इसका

भं

अऩने

साथ

ऩहुि

गमे।

सही

सनदान

सृत्रद्शकताा ब्रह्माजी फह फताएॊगे। सशवजी श्री त्रवष्णु एवॊ अन्म
दे वताओॊ के साथ सभरकय ब्रह्मरोक ऩहुिं औय ब्रह्माजी को
सायी फाते त्रवस्ताय से फताकय उनसे पैसरा कयने का
अनुयोध फकमा। ब्रह्माजी ने कहा प्रथभ ऩूजनीम वहीॊ होगा
जो जो ऩूये ब्रह्माण्ड के तीन िक्कय रगाकय सवाप्रथभ रौटे गा।
सभस्त दे वता ब्रह्माण्ड का िक्कय रगाने के सरए अऩने
अऩने वाहनं ऩय सवाय होकय सनकर ऩड़े । रेफकन, गणेशजी
का वाहन भूषक था। बरा भूषक ऩय सवाय हो गणेश कैसे

ब्रह्माण्ड के तीन िक्कय रगाकय सवाप्रथभ रौटकय सपर
होते। रेफकन गणऩसत ऩयभ त्रवद्या-फुत्रद्धभान एवॊ ितुय थे।

ससतम्फय 2013

8

गणऩसत ने अऩने वाहन भूषक ऩय सवाय हो कय अऩने

ऩूजा कयं गे, फकन्तु तुम्हायी ऩूजा नहीॊ कयं गे, उन्हं तुभ

भाता-त्रऩत फक तीन प्रदस्ऺणा ऩूयी की औय जा ऩहुॉिे सनणाामक

त्रवघ्नं द्राया फाधा ऩहुॉिाओगे।

ब्रह्माजी के ऩास। ब्रह्माजी ने जफ ऩूिा फक वे क्मं नहीॊ गए

जन्भ की कथा बी फड़ी योिक है ।

ब्रह्माण्ड के िक्कय ऩूये कयने, तो गजाननजी ने जवाफ फदमा फक

गणेशजी की ऩौयास्णक कथा

भाता-त्रऩत भं तीनं रोक, सभस्त ब्रह्माण्ड, सभस्त तीथा,

बगवान

सभस्त दे व औय सभस्त ऩुण्म त्रवद्यभान

होना िाफहमे, जो ऩयभ शुब, कामाकुशर

की ऩरयक्रभा ऩूयी कय री, तो इसका

तथा उनकी आऻा का सतत ऩारन

तात्ऩमा है फक भंने ऩूये ब्रह्माण्ड की

कयने भं कबी त्रविसरत न हो। इस

प्रदस्ऺणा ऩूयी कय री। उनकी मह

प्रकाय सोिकय भाता ऩावाती नं अऩने

तकासॊगत मुत्रि स्वीकाय कय री गई औय

सरॊगऩुयाण के अनुसाय (105।
15-27) – एक फाय असुयं से िस्त
दे वतागणं द्राया की गई प्राथाना से
बगवान

सशव

ने

सुय-सभुदाम

को

असबद्श वय दे कय आद्वस्त फकमा। कुि

ही सभम के ऩद्ळात तीनो रोक के
दे वासधदे व भहादे व बगवान सशव का
भाता ऩावाती के सम्भुख ऩयब्रह्म स्वरूऩ
गणेश जी का प्राकट्म हुआ।

सवात्रवघ्नेश भोदक त्रप्रम गणऩसतजी का
जातकभााफद सॊस्काय के ऩद्ळात ् बगवान
सशव ने अऩने ऩुि को उसका कताव्म

सभझाते हुए आशीवााद फदमा फक जो
तुम्हायी ऩूजा फकमे त्रफना ऩूजा ऩाठ,
अनुद्षान

इत्माफद

शुब

कभं

का

अनुद्षान

कये गा, उसका

भॊगर

बी

अभॊगर भं ऩरयणत हो जामेगा। जो
रोग पर की काभना से ब्रह्मा, त्रवष्णु,
इन्द्र अथवा अन्म दे वताओॊ की बी

अन

फकमा फक उनका स्वमॊ का एक सेवक

अत् जफ भंने अऩने भाता-त्रऩत

'सवाप्रथभ ऩूज्म' भाने गए।

फक

उऩस्स्थसत भं भाता ऩावाती ने त्रविाय

होते हं ।

इस तयह वे सबी रोक भं सवाभान्म

सशव

भॊगरभम ऩावनतभ शयीय के भैर से

भॊि ससद्ध ऩन्ना गणेश
बगवान श्री गणेश फुत्रद्ध औय सशऺा के

अऩनी भामा शत्रि से फार गणेश को
उत्ऩन्न फकमा।
एक सभम जफ भाता ऩावाती

कायक ग्रह फुध के असधऩसत दे वता

भानसयोवय भं स्नान कय यही थी तफ

प्रबाव को फठाता हं एवॊ नकायात्भक

सके इस हे तु अऩनी भामा से गणेश को

गणेश के प्रबाव से व्माऩाय औय धन

के सरए सनमुि कय फदमा।

हं । ऩन्ना गणेश फुध के सकायात्भक

उन्हंने स्नान स्थर ऩय कोई आ न

प्रबाव को कभ

कयता हं ।. ऩन्न

जन्भ दे कय 'फार गणेश' को ऩहया दे ने

भं वृत्रद्ध भं वृत्रद्ध होती हं । फच्िो फक

इसी दौयान बगवान सशव उधय

ऩढाई हे तु बी त्रवशेष पर प्रद हं

ऩन्ना गणेश इस के प्रबाव से फच्िे
फक

फुत्रद्ध

कूशाग्र

होकय

उसके

आत्भत्रवद्वास भं बी त्रवशेष वृत्रद्ध होती

हं । भानससक अशाॊसत को कभ कयने भं

भदद कयता हं , व्मत्रि द्राया अवशोत्रषत

आ जाते हं । गणेशजी सशवजी को योक
कय कहते हं फक आऩ उधय नहीॊ जा
सकते हं । मह सुनकय बगवान सशव
क्रोसधत हो जाते हं औय गणेश जी को
यास्ते से हटने का कहते हं फकॊतु गणेश

हयी त्रवफकयण शाॊती प्रदान कयती हं ,

जी अड़े यहते हं तफ दोनं भं मुद्ध हो

कयती

पेपड़े , जीब,

सशवजी फार गणेश का ससय धड़ से

भं सहामक होते हं । कीभती ऩत्थय

का जफ ऩावाती को ऩता िरता है तो वे

व्मत्रि के शायीय के तॊि को सनमॊत्रित

जाता है । मुद्ध के दौयान क्रोसधत होकय

भस्स्तष्क औय तॊत्रिका तॊि इत्माफद योग

अरग कय दे ते हं । सशव के इस कृ त्म

भयगज के फने होते हं ।

त्रवराऩ औय क्रोध से प्ररम का सृजन

हं ।

स्जगय,

Rs.550 से Rs.8200 तक

कयते हुए कहती है फक तुभने भेये ऩुि
को भाय डारा।

ससतम्फय 2013

9

ऩावातीजी के द्ु ख को दे खकय सशवजी ने उऩस्स्थत
गणको आदे श दे ते हुवे कहा सफसे ऩहरा जीव सभरे, उसका

इस ऩय बगवान ् त्रवष्णु ने श्रेद्षतभ उऩहायं से
बगवान गजानन फक ऩूजा फक औय वयदान फदमा फक

ससय काटकय इस फारक के धड़ ऩय रगा दो, तो मह फारक

सवााग्रे तव ऩूजा ि भमा दत्ता सुयोत्तभ।

जीत्रवत हो उठे गा। सेवको को सफसे ऩहरे हाथी का एक फच्िा

सवाऩूज्मद्ळ मोगीन्द्रो बव वत्सेत्मुवाि तभ ्।।

सभरा। उन्हंने उसका ससय राकय फारक के धड़ ऩय रगा फदमा,
फारक जीत्रवत हो उठा।
उस अवसय ऩय तीनो दे वताओॊ ने उन्हं सबी रोक

(गणऩसतखॊ. 13। 2)
बावाथा: ‘सुयश्रेद्ष! भंने सफसे ऩहरे तुम्हायी ऩूजा फक है ,

भं अग्रऩूज्मता का वय प्रदान फकमा औय उन्हं सवा अध्मऺ

अत् वत्स! तुभ सवाऩूज्म तथा मोगीन्द्र हो जाओ।’

ऩद ऩय त्रवयाजभान फकमा।

ब्रह्मवैवता ऩुयाण भं ही एक अन्म प्रसॊगान्तगात ऩुिवत्सरा

स्कॊद ऩुयाण ब्रह्मवैवताऩुयाण के अनुसाय (गणऩसतखण्ड) –

ऩावाती ने गणेश भफहभा का फखान कयते हुए ऩयशुयाभ से

सशव-ऩावाती के त्रववाह होने के फाद उनकी कोई
सॊतान नहीॊ हुई, तो सशवजी ने ऩावातीजी से बगवान
त्रवष्णु के शुबपरप्रद ‘ऩुण्मक’ व्रत कयने को कहा ऩावाती
के ‘ऩुण्मक’ व्रत से बगवान त्रवष्णु ने प्रसन्न हो कय
ऩावातीजी को ऩुि प्रासद्ऱ का वयदान फदमा। ‘ऩुण्मक’ व्रत के
प्रबाव से ऩावातीजी को एक ऩुि उत्ऩन्न हुवा।
ऩुि जन्भ फक फात सुन कय सबी दे व, ऋत्रष,
गॊधवा आफद सफ गण फारक के दशान हे तु ऩधाये । इन दे व
गणो भं शसन भहायाज बी उऩस्स्थत हुवे। फकन्तु शसनदे व
ने ऩत्नी द्राया फदमे गमे शाऩ के कायण फारक का दशान
नहीॊ फकमा। ऩयन्तु भाता ऩावाती के फाय-फाय कहने ऩय

कहा –

त्वफद्रधॊ रऺकोफटॊ ि हन्तुॊ शिो गणेद्वय्।
स्जतेस्न्द्रमाणाॊ प्रवयो नफह हस्न्त ि भस्ऺकाभ ्।।
तेजसा कृ ष्णतुल्मोऽमॊ कृ ष्णाॊद्ळ गणेद्वय्।
दे वाद्ळान्मे कृ ष्णकरा् ऩूजास्म ऩुयतस्तत्।।
(ब्रह्मवैवताऩु., गणऩसतख., 44। 26-27)
बावाथा: स्जतेस्न्द्रम ऩुरूषं भं श्रेद्ष गणेश तुभभं जैसे
राखं-कयोड़ं जन्तुओॊ को भाय डारने की शत्रि है ; ऩयन्तु
तुभने भक्खी ऩय बी हाथ नहीॊ उठामा। श्रीकृ ष्ण के अॊश
से उत्ऩन्न हुआ वह गणेश तेज भं श्रीकृ ष्ण के ही सभान
है । अन्म दे वता श्रीकृ ष्ण की कराएॉ हं । इसीसे इसकी

शसनदे व नं जेसे फह अऩनी द्रत्रद्श सशशु फारके उऩय ऩडी,

अग्रऩूजा होती है ।

उसी ऺण

शास्त्रीम भतसे

फारक गणेश का गदा न धड़ से अरग हो

गमा। भाता ऩावाती के त्रवरऩ कयने ऩय बगवान ् त्रवष्णु

शास्त्रोभं ऩॊिदे वं की उऩासना कयने का त्रवधान हं ।

ऩुष्ऩबद्रा नदी के अयण्म से एक गजसशशु का भस्तक

आफदत्मॊ गणनाथॊ ि दे वीॊ रूद्रॊ ि केशवभ ्।

काटकय रामे औय गणेशजी के भस्तक ऩय रगा फदमा।

ऩॊिदै वतसभत्मुिॊ सवाकभासु ऩूजमेत ्।। (शब्दकल्ऩद्रभ
ु )

गजभुख रगे होने के कायण कोई गणेश फक उऩेऺा न

बावाथा: - ऩॊिदे वं फक उऩासना का ब्रह्माॊड के ऩॊिबूतं के

कये इस सरमे बगवान त्रवष्णु अन्म दे वताओॊ के साथ भं

साथ सॊफॊध है । ऩॊिबूत ऩृथ्वी, जर, तेज, वामु औय आकाश

तम फकम फक गणेश सबी भाॊगरीक कामो भं अग्रणीम
ऩूजे जामंगे एवॊ उनके ऩूजन के त्रफना कोई बी दे वता ऩूजा
ग्रहण नहीॊ कयं गे।

से फनते हं । औय ऩॊिबूत के आसधऩत्म के कायण से

आफदत्म, गणनाथ(गणेश), दे वी, रूद्र औय केशव मे ऩॊिदे व
बी ऩूजनीम हं । हय एक तत्त्व का हय एक दे वता स्वाभी हं -

ससतम्फय 2013

10

आकाशस्मासधऩो त्रवष्णुयग्नेद्ळैव भहे द्वयी।

बगवती दे वी के अस्ग्न तत्त्व का असधऩसत होने के कायण

वामो् सूम्ा स्ऺतेयीशो जीवनस्म गणासधऩ्।।

उनका अस्ग्नकुण्ड भं हवनाफद के द्राया ऩूजा कयने का

बावाथा:- क्रभ इस प्रकाय हं भहाबूत असधऩसत

त्रवधान हं । श्रीगणेश के जरतत्त्व के असधऩसत होने के

1. स्ऺसत (ऩृथ्वी) सशव

कायण उनकी सवाप्रथभ ऩूजा कयने का त्रवधान हं , क्मंफक

2. अऩ ् (जर) गणेश

ब्रह्माॊद भं सवाप्रथभ उत्ऩन्न होने वारे जीव तत्त्व ‘जर’ का

3. तेज (अस्ग्न) शत्रि (भहे द्वयी)

असधऩसत होने के कायण गणेशजी ही प्रथभ ऩूज्म के

4. भरूत ् (वामु) सूमा (अस्ग्न)

असधकायी होते हं ।

5. व्मोभ (आकाश) त्रवष्णु

आिामा भनु का कथन है -

कायण उनकी सशवसरॊग के रुऩ भं ऩासथाव-ऩूजा का त्रवधान

बावाथा:

हं । बगवान ् त्रवष्णु के आकाश तत्त्व के असधऩसत होने के

इस प्रभाण से सृत्रद्श के आफद भं एकभाि वताभान जर का

बगवान ् श्रीसशव ऩृथ्वी तत्त्व के असधऩसत होने के

कायण उनकी शब्दं द्राया स्तुसत कयने का त्रवधान हं ।

“अऩ एि ससजाादौ तासु फीजभवासृजत ्।” (भनुस्भृसत 1)

असधऩसत गणेश हं ।

भॊि ससद्ध स्पफटक श्री मॊि
"श्री मॊि" सफसे भहत्वऩूणा एवॊ शत्रिशारी मॊि है । "श्री मॊि" को मॊि याज कहा जाता है क्मोफक मह अत्मन्त

शुब फ़रदमी मॊि है । जो न केवर दस
ू ये मन्िो से असधक से असधक राब दे ने भे सभथा है एवॊ सॊसाय के हय व्मत्रि
के सरए पामदे भॊद सात्रफत होता है । ऩूणा प्राण-प्रसतत्रद्षत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि "श्री मॊि" स्जस व्मत्रि के घय भे

होता है उसके सरमे "श्री मॊि" अत्मन्त फ़रदामी ससद्ध होता है उसके दशान भाि से अन-सगनत राब एवॊ सुख की
प्रासद्ऱ होसत है । "श्री मॊि" भे सभाई अफद्रतीम एवॊ अद्रश्म शत्रि भनुष्म की सभस्त शुब इच्िाओॊ को ऩूया कयने भे
सभथा होसत है । स्जस्से उसका जीवन से हताशा औय सनयाशा दयू होकय वह भनुष्म असफ़रता से सफ़रता फक

औय सनयन्तय गसत कयने रगता है एवॊ उसे जीवन भे सभस्त बौसतक सुखो फक प्रासद्ऱ होसत है । "श्री मॊि" भनुष्म
जीवन भं उत्ऩन्न होने वारी सभस्मा-फाधा एवॊ नकायात्भक उजाा को दयू कय सकायत्भक उजाा का सनभााण

कयने भे सभथा है । "श्री मॊि" की स्थाऩन से घय मा व्माऩाय के स्थान ऩय स्थात्रऩत कयने से वास्तु दोष म वास्तु
से सम्फस्न्धत ऩये शासन भे न्मुनता आसत है व सुख-सभृत्रद्ध, शाॊसत एवॊ ऐद्वमा फक प्रसद्ऱ होती है ।

गुरुत्व कामाारम भे "श्री मॊि" 12 ग्राभ से 2250 Gram (2.25Kg) तक फक साइज भे उप्रब्ध है

.

भूल्म:- प्रसत ग्राभ Rs. 10.50 से Rs.28.00 >>Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA,
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

11

ससतम्फय 2013

गणेश ऩूजन हे तु शुब भुहूता (9 ससतॊफय 2013)

 सिॊतन जोशी
वैऻासनक ऩद्धसत के अनुसाय ब्रह्माॊड भं सभम व अनॊत आकाश के असतरयि सभस्त वस्तुएॊ भमाादा मुि हं ।
स्जस प्रकाय सभम का न ही कोई प्रायॊ ब है न ही कोई अॊत है । अनॊत आकाश की बी सभम की तयह कोई भमाादा
नहीॊ है । इसका कहीॊ बी प्रायॊ ब मा अॊत नहीॊहोता। आधुसनक भानव ने इन दोनं तत्वं को हभेशा सभझने का व
अऩने अनुसाय इनभं भ्रभण कयने का प्रमास फकमा हं ऩयन्तु उसे सपरता प्राद्ऱ नहीॊ हुई है ।

साभान्मत् भुहूता का अथा है फकसी बी कामा को कयने के सरए सफसे शुब सभम व सतसथ िमन कयना।

कामा ऩूणत
ा ् परदामक हो इसके सर, सभस्त ग्रहं व अन्म ज्मोसतष तत्वं का तेज इस प्रकाय केस्न्द्रत फकमा जाता
है फक वे दष्ु प्रबावं को त्रवपर कय दे ते हं । वे भनुष्म की जन्भ कुण्डरी की सभस्त फाधाओॊ को हटाने भं व दम
ु ोगो
को दफाने मा घटाने भं सहामक होते हं ।

शुब भुहूता ग्रहो का ऎसा अनूठा सॊगभ है फक वह कामा कयने वारे व्मत्रि को ऩूणत
ा ् सपरता की ओय

अग्रस्त कय दे ता है ।

फहन्द ू धभा भं शुब कामा केवर शुब भुहूता दे खकय फकए जाने का त्रवधान हं । इसी त्रवधान के अनुसाय

श्रीगणेश ितुथॉ के फदन बगवान श्रीगणेश की स्थाऩना के श्रेद्ष भुहूता आऩकी अनुकूरता हे तु दशााने का प्रमास फकमा
जा यहा हं । फहन्द ू धभा ग्रॊथं के अनुसाय शुब भुहूता दे खकय फकए गए कामा सनस्द्ळत शुब व सपरता दे ने वारे होते
हं ।

श्रीगणेश ितुथॉ के सरमे (9 ससतॊफय 2013 सोभवाय)
प्रात् 06: 07 से 7:37 तक अभृत
सुफह 09:07 से 10:37 तक शुब

दोऩहय 01:37 से 03:07 तक िर

दोऩहय 03.07 से 04.11 तक राब (दोऩहय 04.11 फजे ऩद्ळात ऩॊिभी सतसथ)
अन्म शुब सभम

वृस्द्ळक रग्न भं (फदन 11:16:56 से दोऩहय 01:35:32 तक ) बगवान श्रीगणेश प्रसतभा की स्थाऩना
की जा सकती हं ।

त्रवशेष: त्रवद्रानं के भतानुशाय फदन के 11:16:56 से दोऩहय 01:35:32 तक का भुहूता गणेश ऩूजन हे तु सवा श्रेद्ष
हं । जानकायं का भानना हं की गणेश ितुथॉ दोऩहय भं होने के कायण इसे भहागणऩसत ितुथॉ बी कहाॊ जामेगा।
त्रवद्रानं के भतानुशाय "गणेश ितुथॉ" एक अफूझ भुहूता होने के कायण बद्रामोग को प्रबाव हीन भाना जामेगा।
(त्रवध्नकायक बद्रा मोग प्रात् 04:23 से दोऩहय 03:59 फजे तक)

क्मंफक ज्मोसतष के अनुशाय वृस्द्ळक स्स्थय रग्न हं । स्स्थय रग्न भं फकमा गमा कोई बी शुब कामा स्थाई होता हं ।

 त्रवद्रानो के भतानुशाय शुब प्रायॊ ब मासन आधा कामा स्वत् ऩूण।ा

ससतम्फय 2013

12

फकसी बी शुबकामा भं गणेशजी की ऩूजा सवाप्रथभ क्मं होती हं ?

 सिॊतन जोशी
गणऩसत शब्द का अथा हं ।
गण(सभूह)+ऩसत (स्वाभी) = सभूह के स्वाभी को सेनाऩसत अथाात गणऩसत कहते हं । भानव शयीय भं ऩाॉि
ऻानेस्न्द्रमाॉ, ऩाॉि कभेस्न्द्रमाॉ औय िाय अन्त्कयण होते हं । एवॊ इस शत्रिओॊ को जो शत्रिमाॊ सॊिासरत कयती हं उन्हीॊ को
िौदह दे वता कहते हं । इन सबी दे वताओॊ के भूर प्रेयक हं बगवान श्रीगणेश।
बगवान गणऩसत शब्दब्रह्म अथाात ् ओॊकाय के प्रतीक हं , इनकी भहत्व का मह हीॊ भुख्म कायण हं ।
श्रीगणऩत्मथवाशीषा भं वस्णात हं ओॊकाय का ही व्मि स्वरूऩ गणऩसत दे वता हं । इसी कायण सबी प्रकाय के शुब
भाॊगसरक कामं औय दे वता-प्रसतद्षाऩनाओॊ भं बगवान गणऩसत फक प्रथभ ऩूजा फक जाती हं । स्जस प्रकाय से प्रत्मेक भॊि
फक शत्रि को फढाने के सरमे भॊि के आगं ॐ (ओभ ्)

आवश्मक रगा होता हं । उसी प्रकाय प्रत्मेक शुब भाॊगसरक कामं

के सरमे ऩय बगवान ् गणऩसत की ऩूजा एवॊ स्भयण असनवामा भानी गई हं । इस सबी शास्त्र एवॊ वैफदक धभा, सम्प्रदामं ने
इस प्रािीन ऩयम्ऩया को एक भत से स्वीकाय फकमा हं इसका सदीमं से बगवान गणे श जी क प्रथभ ऩूजन कयने फक
ऩयॊ ऩया का अनुसयण कयते िरे आयहे हं ।
गणेश जी की ही ऩूजा सफसे ऩहरे क्मं होती है , इसकी ऩौयास्णक कथा इस प्रकाय है ऩद्मऩुयाण के अनुसाय (सृत्रद्शखण्ड 61। 1 से 63। 11) –
एक फदन व्मासजी के सशष्म ने अऩने गुरूदे व को प्रणाभ
कयके प्रद्ल फकमा फक गुरूदे व! आऩ भुझे दे वताओॊ के ऩूजन का सुसनस्द्ळत क्रभ फतराइमे। प्रसतफदन फक ऩूजा भं सफसे
ऩहरे फकसका ऩूजन कयना िाफहमे ?
तफ व्मासजी ने कहा:

त्रवघ्नं को दयू कयने के सरमे सवाप्रथभ गणेशजी की ऩूजा कयनी िाफहमे। ऩूवक
ा ार भं

ऩावाती दे वी को दे वताओॊ ने अभृत से तैमाय फकमा हुआ एक फदव्म भोदक फदमा। भोदक दे खकय दोनं फारक (स्कन्द
तथा गणेश) भाता से भाॉगने रगे। तफ भाता ने भोदक के प्रबावं का वणान कयते हुए कहा फक तुभ दोनो भं से जो
धभााियण के द्राया श्रेद्षता प्राद्ऱ कयके आमेगा, उसी को भं मह भोदक दॉ ग
ू ी। भाता की ऐसी फात सुनकय स्कन्द भमूय ऩय

आरूढ़ हो कय अल्ऩ भुहूतब
ा य भं सफ तीथं की स्न्नान कय सरमा। इधय रम्फोदयधायी गणेशजी भाता-त्रऩता की ऩरयक्रभा
कयके त्रऩताजी के सम्भुख खड़े हो गमे। तफ ऩावातीजी ने कहा- सभस्त तीथं भं फकमा हुआ स्न्नान, सम्ऩूणा दे वताओॊ को
फकमा हुआ नभस्काय, सफ मऻं का अनुद्षान तथा सफ प्रकाय के व्रत, भन्ि, मोग औय सॊमभ का ऩारन- मे सबी साधन
भाता-त्रऩता के ऩूजन के सोरहवं अॊश के फयाफय बी नहीॊ हो सकते।

इससरमे मह गणेश सैकड़ं ऩुिं औय सैकड़ं गणं से बी फढ़कय श्रेद्ष है । अत् दे वताओॊ का फनामा हुआ मह भोदक भं
गणेश को ही अऩाण कयती हूॉ। भाता-त्रऩता की बत्रि के कायण ही गणेश जी की प्रत्मेक शुब भॊगर भं सफसे ऩहरे ऩूजा
होगी। तत्ऩद्ळात ् भहादे वजी फोरे- इस गणेश के ही अग्रऩूजन से सम्ऩूणा दे वता प्रसन्न हंजाते हं । इस सरमे तुभहं

सवाप्रथभ गणेशजी की ऩूजा कयनी िाफहमे।

ससतम्फय 2013

13

श्री गणेश ऩूजन की सयर त्रवसध

 त्रवजम ठाकुय
श्री गणेशजी की ऩूजा से व्मत्रि को फुत्रद्ध, त्रवद्या,

ऩत्रवि कयण:

त्रववेक योग, व्मासध एवॊ सभस्त त्रवध्न-फाधाओॊ का स्वत्

सफसे ऩहरे ऩूजन साभग्री व गणेश प्रसतभा सिि ऩत्रवि

नाश होता है

कयण कयं

श्री गणेशजी की कृ ऩा प्राद्ऱ होने से व्मत्रि के
भुस्श्कर से भुस्श्कर कामा बी आसान हो जाते हं ।
स्जन

रोगो

को

व्मवसाम-नौकयी

भं

त्रवऩयीत

ऩरयणाभ प्राद्ऱ हो यहे हं, ऩारयवारयक तनाव, आसथाक तॊगी,
योगं से ऩीड़ा हो यही हो एवॊ व्मत्रि को अथक भेहनत
कयने के उऩयाॊत बी नाकाभमाफी, द:ु ख, सनयाशा प्राद्ऱ हो

अऩत्रवि् ऩत्रविो वा सवाावस्थाॊ गतो त्रऩ वा।

म् स्भये त ् ऩुण्डयीकाऺॊ स फाह्याभ्मन्तय् शुसि्॥

इस भॊि से शयीय औय ऩूजन साभग्री ऩय जर िीटं इसे
अॊदय फाहय औय फहाय दोनं शुद्ध हो जाता है
आिभन:

ॐ केशवाम नभ:

यही हो, तो एसे व्मत्रिमो की सभस्मा के सनवायण हे तु

ॐ नायामण नभ:

ितुथॉ के फदन मा फुधवाय के फदन श्री गणेशजी की

ॐ भध्वामे नभ:

त्रवशेष ऩूजा-अिाना कयने का त्रवधान शास्त्रं भं फतामा हं ।

हस्तो प्रऺल्म हसशाकेशम नभ :

स्जसके पर से व्मत्रि की फकस्भत फदर जाती हं
औय उसे जीवन भं सुख, सभृत्रद्ध एवॊ ऎद्वमा की प्रासद्ऱ होती
हं । श्री गणेश जी का ऩूजन अरग-अरग उद्दे श्म एवॊ
काभनाऩूसता हे तु अरग-अरग भॊि व त्रवसध-त्रवधान से
फकमा जाता हं , इस सरमे महाॊ दशााई गई ऩूजन त्रवसध भं
अॊतय होना साभान्म हं ।
सबी ऩाठको के भागादशान हे तु श्री गणेश जी का
ऩूजन त्रवधान फदमा जा यहा हं ।

त्व ि धायम भा दे त्रव ऩत्रवि कुरू ि आसनभ॥्

यऺा भॊि:

'अऩक्राभन्तु बूतासन त्रऩशािा् सवातो फदशा।

अऩसऩान्तु ते बूता् मे बूता् बूसभसॊस्स्थता्।
मे बूता त्रवनकताायस्ते नद्शन्तु सशवाऻमा।'

इस भॊि से दशं फदशाओॊ भं त्रऩरा सयसं सिटके स्जसेस

ऩूजन साभग्री :
कुॊकुॊभ, केसय, ससॊदयू , अवीय-गुरार, ऩुष्ऩ औय भारा,
ऩान,

ॐ ऩृथ्वी त्वमा धृता रोका दे त्रव त्व त्रवद्गणुनाधृता्।

सवेषाभवयोधेन ब्रह्मकभा सभायबे।

गणेश ऩूजा:

िारव,

आसान सुत्रद्ध:

सुऩायी,

ऩॊिाभृत,

ऩॊिभेवा,

गॊगाजर,

त्रफरऩि, धूऩ-दीऩ, नैवैद्य भं रड्डू )रड्डू 3 ,5,7, 11त्रवषभ
सॊख्मा भं (मा गूड अथवा सभश्री का प्रसाद रगाएॊ। रंग,
इरामिी, नायीमर, करश,
इि, जनेऊ, त्रऩरी सयसं,

1सभटय रार कऩडा, फयक,
इत्माफद आवश्मक साभग्रीमाॊ।

सभस्त बूत प्रेत फाधाओॊ का सनवायण होता है
स्वस्ती वािन:

स्वस्स्त न इन्द्रो वृद्धश्रवा :स्वस्स्त न :ऩूषा त्रवद्ववेदा:।

स्वस्स्तनस्ता यऺो अरयद्शनेसभ :स्वस्स्त नो फृहस्ऩसतादधात॥
इस के फाद श्री गणेश जी के भॊगर ऩाठ कयना िाफहए
जो की इस प्रकाय है

ससतम्फय 2013

14

रॊफोदयद्ळ त्रवकटो त्रवघ्ननाशो त्रवनामक्।

गणेश जी का भॊगर ऩाठ:

सुभुखद्ळैकदन्तद्ळ कत्रऩरो गजकणाक:।

धुम्रकेतुय ् गणाध्मऺो बारिॊद्रो गजानन॥

रम्फोदयद्ळ त्रवकटो त्रवघ्रनाशो त्रवनामक:॥

द्रादशैतासन नाभासन म् ऩठे च्िृणु मादऽत्रऩ॥

द्राद्रशैतासन नाभासन म :ऩठे च्िे णुमादत्रऩ॥

सॊग्राभे सॊकटे िैव त्रवघ्नस्तस्म न जामते॥

सॊग्राभे सॊकटे िैव त्रवघ्रस्तस्म न जामते॥

प्रसन्न वदनॊ ध्मामेत ् सवा त्रवघ्नोऩशाॊतमे॥

धूम्रकेतुगण
ा ाध्मऺो बारिन्द्रो गजानन:।

त्रवद्यायॊ बे त्रववाहे ि प्रवेशे सनगाभे तथा।

त्रवद्यायम्बे त्रववाहे ि प्रवेशे सनगाभे तथा।

शुक्राॊफय धयॊ दे वॊ शसशवणं ितुबज
ुा भ ्।

जऩेद् गणऩसत स्तोिॊ षस्ड्बभाासे परॊ रबेत ्।

एकाग्रसिन होकय गणेश का ध्मान कयना िाफहए

सॊवॊत्सये ण ससत्रद्धॊ ि रबते नाि सॊशम्॥

श्री गणेश का ध्मान कयं :
गजाननॊ

बूतगणाफद

सेत्रवतभ ्

कत्रऩत्थ

वक्रतुॊड भहाकाम सूमक
ा ोफट सभ प्रब।

जम्फूपर

िारुबऺणभ।् उभासुतभ ् शोक त्रवनाश कायकभ ् नभासभ
त्रवघ्नेद्वय ऩाद ऩॊकजभ॥् ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम
नभ् गणेशॊ ध्मामासभ भॊि का उच्िायण कयं ।

सनत्रवघ्ा नॊ कुरु भे दे व सवा कामेषु सवादा॥

असबस्प्सताथा ससद्धध्मथं ऩूस्जतो म् सुयासुयै्।
सवा त्रवघ्न हयस्तस्भै गणासधऩतमे नभ्॥

त्रवघ्नेद्वयाम वयदाम सुयत्रप्रमाम रॊफोदयाम सकराम

जगस्त्धताम। नागाननाम श्रुसतमऻ त्रवबुत्रषताम गौयीसुताम

आह्वानॊ:
इस भॊि से श्री गणेश का आहवान कये मा भन ही भन
भं श्री गणेश जी को ऩधायने के सरमे त्रवनसत कयं । हाथभं

गणनाथ नभो नभस्ते॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् गणेशॊ स्भयासभ
भॊि का उच्िायण कयके ऩुष्ऩ अत्रऩत
ा कयं

अऺत रेकय आहवान कयं ।

आगच्ि बगवन्दे व स्थाने िाि स्स्थयो बव

मावत्ऩूजाॊ करयष्मासभ तावत्वॊ सस्न्नधौ बव।।
ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ्

षोडशोऩिाय गणऩतीऩूजन:

अस्मै प्राण् प्रसतद्षन्तु अस्मै प्राणा् ऺयन्तु ि।
अस्मै दे वतभिीमा भाभहे सत ि कद्ळन॥

गणेशॊ ध्मामासभ भॊि का उच्िायण कयके अऺते डारदं .....
इस भॊि से श्री गणेश की भूसता मा प्रसतभा ऩय हल्दी मा
कुभकुभ से यॊ गे िारव डारं। मफद प्रसतभा के प्रहरे से
प्राण-प्रसतद्षा हो गई हं तो आवश्मिा नहीॊ हं तफ केवर
सुऩायी ऩय ही िारव डारं।

आसनॊ:
आसन सभत्रऩात कयं । मफद ऩहरे से वस्त्र त्रफिामा हुवा हं
तो उस स्थान ऩय हल्दी मा कुभकुभ से यॊ गे अऺत
डारकय ऩुष्ऩ अत्रऩत
ा कयं ।

यम्मॊ सुशोबनॊ फदव्मॊ सवा सौख्म कयॊ शुबभ ्।
आसनॊ ि भमादत्तॊ गृहाण ऩयभेद्वय॥

स्भयण:

हाथभं ऩुष्ऩ रेकय श्री गणेशजी का स्भयण कयं ।
नभस्तस्भै गणेशाम सवा त्रवध्न त्रवनासशने॥
कामाायॊबेषु सवेषु ऩूस्जतो म् सुयैयत्रऩ।

सुभुखद्ळैक दॊ तद्ळ कत्रऩरो गजकणाक्॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् आसनॊ
सभऩामासभ॥

मफद द्ऴोक ऩढने भं कफठनाई हो तो आसन सभऩाासभ श्री
गॊ गणेशाम नभ् का उच्िायण कयते हुवे गणेश जी के
ियण धोमे।

ससतम्फय 2013

15

ऩाद्यॊ:

उष्णोदकॊ सनभारॊ ि सवा सौगन्ध सॊमुतभ ्।
ऩाद प्रऺारनाथााम दत्तॊ ते प्रसतगृह्यताभ ्॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् ऩाद्यॊ सभऩामासभ॥

इस के स्थान ऩय ऩम् स्नानभ ् सभऩामासभ गॊ गणेशाम

नभ् का उच्िायण कये तथा ऩम् के स्थान ऩय दध
ू कहं ,
दहीॊ कहं , धृतभ ् कहं , भधु कहं , शकाया कहं के स्नान
कयामे।

ऩमसस्तु सभुद्भूतॊ भधुयाम्रॊ शसशप्रबभ ् ।

दध्मानीतॊ भमा दे व स्नानाथं प्रसतगृह्यताभ ् ॥

अघ्मं:

नवनीतसभुत्ऩन्नॊ सवासॊतोषकायकभ ् ।

आिभनीभं जर, पूर, पर, िॊदन, अऺत, दस्ऺणा

घृतॊ तुभ्मॊ प्रदास्मासभ स्नानाथं प्रसतगृह्यताभ ् ॥

इत्माफद हाथ भं यख कय सनम्न भॊि का उच्िायण कयं ...

अध्मा गृहाण दे वेश गॊध ऩुष्ऩऺतै् सह।

तरु ऩुष्ऩ सभुत्ऩन्नॊ सुस्वादु भधुयॊ भधु ।

करुणा कुरु भं दे व गृहाणाध्मै् नभोस्तुते॥

तेज् ऩुत्रद्शकयॊ फदव्मॊ स्नानाथं प्रसतगृह्यताभ ् ॥

भॊि का उच्िायण कयके अध्मा की साभग्रीमा अत्रऩात कयदं ।

भराऩहारयकाॊ फदव्मॊ स्नानाथं प्रसतगृह्यताभ ् ॥

इऺुसायसभुद्भूताॊ शकायाॊ ऩुत्रद्शदाॊ शुबाभ ् ।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् अघ्मं सभऩामासभ

ऩमो दसध धृत िैव भधु ि शकायामुतभ ्।

आिभन:

सवा तीथा सभामुिॊ सुगॊसध सनभार जरभ ्।
आिम्मताॊ भमा दत्तॊ गृहीत्वा ऩयभेद्वयॊ ॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् आिभनॊ
सभऩामासभ॥

स्नानॊ:

गॊगा ि मभुना ये वा तुॊगबद्रा सयस्वसत।

कावेयी सफहता नद्य् सद्य् स्नाथाभत्रऩत
ा ा॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् स्नानॊ सभऩामासभ
भॊि का उच्िायण कयते हुवे स्नान कयामे।

ऩॊिाभृत भमानीतॊ सनानाथा प्रसतघृहमताभ॥
वस्त्रॊ:
ऩॊिाभृत स्नान के फाद स्वच्ि कय के वस्त्र ऩहनामे मा
सभत्रऩात कयं ।

सवा बूषाफदके सौम्मे रोकरज्जा सनवायणे ।
भमोऩऩाफदते तुभ्मॊ वाससी प्रसतगृहीताभ ् ॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् वस्त्रोऩवस्त्रे
सभऩामासभ॥

मऻोऩवीत

ततऩद्ळमात सनम्न भॊि से मऻोऩवीत ऩहनामे

ऩॊिाभृत स्नान :

नवसभस्तॊतुसबमुि त्रिगुणॊ दे वताभमॊ।

तत ऩद्ळमात ऩॊिाभृत से क्रभश् दध
ू , दही, घी, शहद,

शक्कय से स्नान कया कय शुद्धजर मा गॊगाजर से उि
भॊि से ऩुन् स्वच्ि कयरे।

सऩफीतॊ भमा दत्तॊ गृहाण ऩयभेद्वयभ ्॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् मऻोऩत्रवतॊ
सभऩामासभ॥

तत ऩद्ळमात शुद्ध वस्त्र से ऩोि कय प्रसतत्रद्षत कयं ।
दध
ू स्नान :

काभधेनु सभुत्ऩनॊ सवेषाॊ जीवन ऩयभ ्।

ऩावनॊ मऻ हे तुद्ळ ऩम :स्नानाथाभत्रऩत
ा भ ्॥

िॊदन:

ततऩद्ळमात रार िॊदन िढामे।

श्रीखण्ड िन्दन फदव्मॊ केशयाफद सुभनीहयभ ्।

त्रवरेऩनॊ सुश्रद्ष िन्दनॊ प्रसतगृहमतभ ्॥ ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत
श्री गणेशाम नभ् कुॊकुभॊ सभऩामासभ॥

ससतम्फय 2013

16

कुॊकुॊभ:

ततऩद्ळमात कुॊकुॊभ अवीय-गुरार िढामे।

आबूषण :

ततऩद्ळमात आबूषण िढामे।

कुॊकुॊभ काभना फदव्मॊ काभना काभ सॊबवभ ्।

अरॊकायान्भहाफदव्मान्नानायतन त्रवसनसभातान।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् कुॊकुभॊ

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् आबूषण

कुॊकुॊभ नासिातो दे व गृहाण ऩयभेद्वयभ ्॥

गृहाण दे व-दे वेश प्रसीद ऩयभेद्वय॥

सभऩामासभ॥

ससॊदयू :

ततऩद्ळमात ससॊदयू िढामे।

सभऩामासभ॥

इि:

ततऩद्ळमात इि अथाात ् सुगॊसधत तेर िढामे।

ससॊदयू ॊ शोबनॊ यिॊ सौबाग्मॊ सुखवधानभ ्।
शुबदॊ काभदॊ िैव ससॊदयू ॊ प्रसतगृहमताभ।

िम्ऩकाशो वकुरॊ भारती भोगयाफदसब्।

वाससतॊ स्स्नग्ध तासेरु तैरॊ िारु प्रगृहमातभ ्॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् ससॊदयू ॊ सभऩामासभ॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् तैरभ ् सभऩामासभ॥

अऺत:

धूऩ :

ततऩद्ळमात हल्दी मा कुॊकुॊभ से यॊ गे अऺत िढामे।
अऺताद्ळ सुयश्रेद्ष कुॊकुभािा् सुशोसबता्।

भमा सनवेफदता बक्त्मा गृहाण ऩयभेद्वरय॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् अऺतान ्
सभऩामासभ॥

ऩुष्ऩ :

ततऩद्ळमात ऩुष्ऩ भारा आफद िढामे।

भाल्मादीसन सुगन्धीसन भारत्मादीसन वै प्रबो।
भमा नीतासन ऩुष्ऩास्ण गृहाण ऩयभेद्वय॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् ऩुष्ऩास्ण
सभऩामासभ॥

दव
ू ाा:

ततऩद्ळमात दव
ू ाा िढामे।

दव
ु ाा कयान्सह रयतान भृतन्भॊगर प्रदान।
आनी ताॊस्तव ऩूजाथा गृहाण ऩयभेद्वय॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् दव
ू ांकुयान
सभऩामासभ॥

ततऩद्ळमात धूऩ आफद जरामे।

वनस्ऩसत यसोद्भूतो गॊधाढ्मो गॊध उत्तभ्।

आध्नम सवा दे वानाॊ धूऩोमॊ प्रसतगृह्यताभ ्॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् धूऩॊ सभऩामासभ॥
दीऩ:

ततऩद्ळमात दीऩ आफद जरामे।

आज्मेन वसताना मुिॊ वफाना ि प्रमोस्जतभ ् भमा।
दीऩॊ गृहाण दे वेश िेरोक्म सतसभयाऩह॥।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् दीऩॊ दशामासभ॥
नैवेद्य :

ततऩद्ळमात नैवेद्य अत्रऩत
ा कयं ।

शकाया खॊडखाद्यासन दसधऺीय घृतासन ि।

आहायॊ बक्ष्मॊ बोज्मॊ ि गृहाण गणनामक।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् नैवेद्यॊ सनवेदमासभ॥
ततऩद्ळमात नैवेद्य ऩय जर सिडके।
गॊ गणऩतमे नभ्

ससतम्फय 2013

17

ततऩद्ळमात इस भॊि का उच्िायण कयते हुवे ऩाॊि फाय
बोजन कयामे.....

ॐ प्राणाम नभ्।

ॐ अऩानाम नभ्।

प्रदस्ऺणा:

ततऩद्ळमात प्रदस्ऺणा कयं ।

मासन कासन ि ऩाऩासन जन्भान्तय कृ तासन ि।

ॐ सभानाम नभ्।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् प्रदस्ऺणाॊ कयोसभ।

ततऩद्ळमात इस भॊि का उच्िायण कयते हुवे जर अत्रऩात

भध्मे ऩानीमॊ सभऩामासभ।

फपय से उि भॊि का ऩाॊि फाय उच्िायण कयते हुवे ऩाॊि
फाय बोजन कयामे....

तासन सवाास्ण नश्मन्तु प्रदस्ऺणा ऩदे ऩदे ।

आयती:

नीयाजन-आयती प्रगट कय उसभं िॊदन-ऩुष्ऩ रगामे कऩुय
प्रज्वसरत कयं ।

िॊद्राफदत्मौ ि धयस्ण त्रवद्युदस्ग्न त्वभेव ि।

त्वभेव सवा ज्मोसतत्रष आतॉक्मॊ प्रसतगृह्यताभ ्॥

ततऩद्ळमात इस भॊि का उच्िायण कयते हुवे तीन फाय
जर अत्रऩात कयं ....

ॐ गणेशाम नभ् उत्तय ऩोषणॊ सभऩामासभ।

ॐ गणेशाम नभ् हस्त प्रऺारनॊ सभऩामासभ।
ॐ गणेशाम नभ् भुख प्रऺारनॊ सभऩामासभ।

हाथ से बोजन की गॊध दयू कयने हे तु िॊदनमुि ऩानी
अत्रऩत
ा कयं ।

ॐ गणेशाम नभ् कयोद्रतानाथे गॊधॊ सभऩामासभ.

भुख शुत्रद्ध हे तु ऩान-सुऩायी इरामिी औय रवॊग अत्रऩत

कयं ।

सभऩामासभ।

ॐ व्मानाम नभ्।

ॐ उदानाम नभ्।

कयं ।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् दस्ऺणाॊ

कऩुया ऩूयेण भनोहये ण सुवणा ऩािान्तय सॊस्स्थतेन।
प्रफदद्ऱबासा सहगतेन नीयाजनॊ ते ऩरयत कयोसभ।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् नीयाजनॊ
सभऩामासभ।

॥श्री गणेश आयसत॥
जम गणेश जम गणेश जम गणेश दे वा
जम गणेश जम गणेश जम गणेश दे वा.
भाता जाकी ऩायवती त्रऩता भहादे वा॥ जम गणेश.....
एकदन्त दमावन्त िायबुजाधायी
भाथे ऩय सतरक सोहे भूसे की सवायी॥ जम गणेश.....
ऩान िढ़े पर िढ़े औय िढ़े भेवा

एरारवंग सॊमुिॊ ऩुगीपरॊ सभस्न्वतभ ्,

रड्डु अन का बोग रगे सन्त कयं सेवा॥ जम गणेश.....

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् भुखवासॊ

फाॉझन को ऩुि दे त सनधान को भामा॥ जम गणेश.....

ताॊफुरॊ ि भमा दत्तॊ गृहाण गणनामक.
सभऩामासभ।

दस्ऺणा:

ततऩद्ळमात दस्ऺणा अत्रऩत
ा कयं ।

फहयण्म गबा गबास्थॊ हे भफीजॊ त्रवबावसो।

अनॊत ऩूण्म परदभत् शाॊसतॊ प्रमच्ि भे॥।

अॊधे को आॉख दे त कोफढ़न को कामा
' सूय' श्माभ शयण आए सपर कीजे सेवा
जम गणेश जम गणेश जम गणेश दे वा॥ जम गणेश.....
आयती के िायो औय जर घुभामे फपय गणेशजी को
आयती फदखामे खुद आयती रेकय हाथ धोरे।
फपय दोनो हाथकी अॊजसरभं ऩुष्ऩ रेकय ऩुष्ऩाॊजसर दं ।

ससतम्फय 2013

18

नाना सुगॊधी ऩुष्ऩास्ण ऋतुकारोद्भवासन ि।
ऩुष्ऩाॊजसर प्रदानेन प्रसीद गणनामक।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् ऩुष्ऩाॊजसर
सभऩामासभ।

त्रवशेष अध्मा:
आिभनी भं जर, िावर, पूर, पर, िॊदन दस्ऺणा आफद
अध्मा भं रे

यऺ यऺ गणाध्मऺ यऺ िेरोक्म यऺक।

प्राथाना:

बिनाभ बमॊकताा िाता बवबवाणावात ्॥

त्रवघ्नेद्वयाम वयदाम सुयत्रप्रमाम रॊफोदयाम सकराम
जगत्रद्धताम। नागाननाम श्रुसतमऻ त्रवबुत्रषताम गौयीसुताम
गणनाथ नभो नभस्ते। बिासतानाशन ऩयाम गणेद्वयाम
सवेद्वयाम शुबदाम सुयेद्वयाम। त्रवद्याधयाम त्रवकटाम ि
वाभनाम बत्रि प्रसन्न वयदाम नभो नभस्ते।
नभस्काय:

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् त्रवशेषाघ्मं
सभऩामासभ।

ऺभाऩन:

ऩूजाॊ िैव न जानासभ ऺभस्व गणनामक॥

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् नभस्कायान ्
सभऩामासभ।

परास्मघ्मं प्रदानेन ऩूणाा सन्तु भनोयथा्॥

आह्वानॊ न जानासभ न जानासभ त्रवसजानभ ्।

रॊफोदय नभस्तुभ्मॊ सतत भोदक त्रप्रम।

सनत्रवघ्ा नॊ कुरु भे दे व सवा कामेषु सवादा।

परेन पसरतॊ तोमॊ परेन पसरतॊ धनभ ्।

ॐ ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेशाम नभ् ऺभाऩनॊ
सभऩामासभ॥

अनमा ऩूज्मा ससत्रद्धफुत्रद्ध सफहत श्री गणेश् त्रप्रमताभ ्॥

***

ससत्रद्ध त्रवनामक कवि

Siddhi Vinayak Ganapati Kawac h, Si ddhi Vinayak Ganesh Kavach

ससत्रद्ध त्रवनामक कवि को बगवान श्री गणेश को प्रसन्न कयने के सरए धायण फकमा जाता हं । ससत्रद्ध त्रवनामक कवि
को त्रवशेष शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से तैमाय फकमा जाता हं , स्जससे ससत्रद्ध त्रवनामक कवि के प्रबाव से धायण कताा के
सबी प्रकाय के त्रवघ्न-फाधाओॊ का नाश हो जामे। ससत्रद्ध त्रवनामक कवि के प्रबाव से धायण कताा व्मत्रि को इस्च्ित
कामं भं शीध्र सपरता की प्रासद्ऱ हो सके। ससत्रद्ध त्रवनामक कवि को धायण कयने से श्री गणेशजी के आसशवााद से

धायण कताा को सबी शुब कामं भं सयरता से ससत्रद्ध प्राद्ऱ हो सकती हं औय धायण कताा को सबी प्रकाय से सुख
प्राद्ऱ हो जाते हं । गणेशजी की कृ ऩा से धायण कताा को त्रवद्या-फुत्रद्ध की प्रासद्ऱ होती हं । शास्त्रं भं बगवान श्री गणेश
को सभस्त ससत्रद्धमं को दे ने वारा भाना गमा हं । इस सरए सबी ससत्रद्धमाॉ बगवान गणेश भं वास कयती हं । बगवान
श्री गणेश अऩने बिो के सभस्त त्रवघ्न फाधाओॊ को दयू कयने वारे त्रवनामक हं । ससत्रद्ध त्रवनामक कवि को
श्रीगणेशजी की कृ ऩा प्रासद्ऱ हे तु धायण कयना अत्मॊत राबप्रद भाना गमा हं ।

भूल्म: Rs.1900 >>Order Now

GURUTVA KARYALAY

Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

ससतम्फय 2013

19

फकस पूर से कयं गणेश ऩूजन

 सिॊतन जोशी
गणेश जी को दव
ू ाा सवाासधक त्रप्रम है । इस सरमे सपेद मा हयी दव
ू ाा िढ़ानी
िाफहए। दव
ू ाा की तीन मा ऩाॉि ऩत्ती होनी िाफहए।

गणेश जी को तुरसी िोड़कय सबी ऩि औय ऩुष्ऩ त्रप्रम हं ।
गणेशजी ऩय तुरसी िढाना सनषेध हं ।

न तुरस्मा गणासधऩभ‌् (ऩद्मऩुयाण)
बावाथा :तुरसी से गणेशजी की ऩूजा कबी नहीॊ कयनी
िाफहमे।

'गणेश तुरसी ऩि दग
ु ाा नैव तु दव
ू ाामा' (कासताक भाहात्म्म)
बावाथा :गणेशजी की तुरसी ऩि से एवॊ दग
ु ााजी की दव
ू ाा ऩूजा नहीॊ

कयनी िाफहमे।

गणेशजी की ऩूजा भं भन्दाय के रार पूर िढ़ाने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ
होता हं । रार ऩुष्ऩ के असतरयि ऩूजा भं द्वेत,ऩीरे पूर बी िढ़ाए जाते हं ।

सॊकटनाशन गणेशस्तोिभ ्

सॊकटनाशन गणेश स्तोिभ ् का प्रसत फदन ऩाठ कयने से सभस्त प्रकाय के सॊकटोका नाश होता है , श्री गणेशजी फक कृ ऩा एवॊ सुख
सभृत्रद्ध फक प्राद्ऱ होती है ।

वक्रतुड
ॊ भहाकाम सूमक
ा ोफट सभप्रब । सनत्रवाघ्नभ ् कुरु भं दे व सवा कामेषु सवादा ॥ त्रवघ्नेद्वयाम वयदाम सूयत्रप्रमाम रम्फोदयाम सकराम
जगफद्रताम । नागाननाम श्रुसतमऻ त्रवबूत्रषताम गौयीसुताम गणनाथ नभोनभस्ते ॥
स्तोि:

प्रणम्म सशयसा दे वॊ गौयीऩुॊि त्रवनामकभ ् बिावासॊ स्भये सनत्मॊ आमुकाभाथाससद्धमे ॥ १ ॥
प्रथभॊ वक्रतुॊडॊ ि एकदॊ तॊ फद्रसतमकभ ् तृतीमॊ कृ ष्णत्रऩॊगाऺॊ गजवकिॊ ितुथक
ा भ् ॥ २ ॥

रॊफोदयॊ ऩॊिभॊ ि षद्शभॊ त्रवकटभेव ि सद्ऱभॊ त्रवघ्नयाजॊ ि धूम्रवणं तथाअद्शकभ ् ॥ ३ ॥
नवॊ बारिॊद्रॊ ि दशभॊ तु त्रवनामकभ ् एकादशॊ गणऩसतॊ द्रादशॊ तु गजाननभ ् ॥ ४ ॥

द्रादशैतासन नाभासन त्रिसॊध्मॊ म: ऩठे न्नय: न ि त्रवघ्नबमॊ तस्म सवा ससत्रद्ध कयॊ प्रबो ॥ ५ ॥
त्रवद्यासथा रबते त्रवद्याॊ धनासथा रबते धनभ ् ऩुिासथा रबते ऩुिाॊभोऺासथा रबते गसतभ ् ॥ ६ ॥
जऩेत्गणऩसतस्तोिॊ षडसबभासै: परॊ रबेत सॊवतसये णससत्रद्धॊ ि रबते नािसॊशम् ॥ ७ ॥

अद्शभ्मोब्राह्मणोभ्मस्म सरस्खत्वा म: सभऩामेत ् तस्म त्रवद्या बवेत्सवाा गणेशस्म प्रसादत् ॥ ८ ॥
॥ इसतश्री नायदऩुयाणे ‘सॊकटनाशन गणेशस्तोिभ ्’ सॊऩूणभ
ा ्॥

ससतम्फय 2013

20

गणेश ऩूजन भं सनत्रषद्ध हं तुरसी?

 सिॊतन जोशी
तुरसी सभस्त ऩौधं भं श्रेद्ष भानी जाती हं । फहॊ द ू धभा भं सभस्त ऩूजन कभो भं तुरसी को

प्रभुखता दी जाती हं । प्राम् सबी फहॊ द ू भॊफदयं भं ियणाभृत भं बी तुरसी का प्रमोग होता
हं । इसके ऩीिे ऎसी काभना होती है फक तुरसी ग्रहण कयने से तुरसी अकार भृत्मु को
हयने वारी तथा सवा व्मासधमं का नाश कयने वारी हं ।
ऩयन्तु मही ऩूज्म तुरसी को बगवान श्री गणेश की ऩूजा भं सनत्रषद्ध भानी गई हं ।

शास्त्रं भं उल्रेख हं :

तुरसीॊ वजासमत्वा सवााण्मत्रऩ ऩिऩुष्ऩास्ण गणऩसतत्रप्रमास्ण। (आिायबूषण)

गणेशजी को तुरसी िोड़कय सबी ऩि-ऩुष्ऩ त्रप्रम हं ! गणऩसतजी को दव
ू ाा असधक
त्रप्रम है ।
इनसे सम्फद्ध ब्रह्मकल्ऩ भं एक कथा सभरती हं
एक सभम नवमौवन सम्ऩन्न तुरसी दे वी नायामण ऩयामण होकय तऩस्मा के सनसभत्त से तीथो भं भ्रभण कयती हुई गॊगा तट ऩय

ऩहुॉिीॊ। वहाॉ ऩय उन्हंने गणेश को दे खा, जो फक तरूण मुवा रग यहे थे। गणेशजी अत्मन्त सुन्दय, शुद्ध औय ऩीताम्फय धायण फकए
हुए आबूषणं से त्रवबूत्रषत थे, गणेश काभनायफहत, स्जतेस्न्द्रमं भं सवाश्रद्ष
े , मोसगमं के मोगी थे गणेशजी वहाॊ श्रीकृ ष्ण की

दस्ऺणावसता शॊख
आकाय रॊफाई भं
1" to 1.5" ईंि

सुऩय पाईन स्ऩेशर
आकाय रॊफाई भं
180
230
280 4" to 4.5" ईंि
280
370
460 5" to 5.5" ईंि

2" to 2.5" ईंि

370

460

3" to 3.5" ईंि

460

550

0.5" ईंि

पाईन

पाईन

640 6" to 6.5" ईंि
820 7" to 7.5" ईंि

सुऩय पाईन स्ऩेशर
730
910
1050
1050

1250

1450

1250

1450

1900

1550

1850

2100

हभाये महाॊ फड़े आकाय के फकभती व भहॊ गे शॊख जो आधा रीटय ऩानी औय 1 रीटय ऩानी सभाने
की ऺभता वारे होते हं । आऩके अनुरुध ऩय उऩरब्ध कयाएॊ जा सकते हं ।

>> Order Now

 स्ऩेशर गुणवत्ता वारा दस्ऺणावसता शॊख ऩूयी तयह से सपेद यॊ ग का होता हं ।
 सुऩय पाईन गुणवत्ता वारा दस्ऺणावसता शॊख पीके सपेद यॊ ग का होता हं ।

पाईन गुणवत्ता वारा दस्ऺणावसता शॊख दं यॊ ग का होता हं ।

GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

21

ससतम्फय 2013

आयाधना भं घ्मानयत थे। गणेशजी को दे खते ही तुरसी का भन उनकी ओय आकत्रषात हो गमा। तफ तुरसी उनका उऩहास उडाने
रगीॊ। घ्मानबॊग होने ऩय गणेश जी ने उनसे उनका ऩरयिम ऩूिा औय उनके वहाॊ आगभन का कायण जानना िाहा। गणेश जी ने
कहा भाता! तऩस्स्वमं का घ्मान बॊग कयना सदा ऩाऩजनक औय अभॊगरकायी होता हं ।
शुबे! बगवान श्रीकृ ष्ण आऩका कल्माण कयं , भेये घ्मान बॊग से उत्ऩन्न दोष आऩके सरए अभॊगरकायक न हो।
इस ऩय तुरसी ने कहा—प्रबो! भं धभाात्भज की कन्मा हूॊ औय तऩस्मा भं सॊरग्न हूॊ। भेयी मह तऩस्मा ऩसत प्रासद्ऱ के सरए हं । अत:

आऩ भुझसे त्रववाह कय रीस्जए। तुरसी की मह फात सुनकय फुत्रद्ध श्रेद्ष गणेश जी ने उत्तय फदमा हे भाता! त्रववाह कयना फडा बमॊकय
होता हं , भं ब्रम्हिायी हूॊ। त्रववाह तऩस्मा के सरए नाशक, भोऺद्राय के यास्ता फॊद कयने वारा, बव फॊधन से फॊधे, सॊशमं का उद्गभ
स्थान हं । अत: आऩ भेयी ओय से अऩना घ्मान हटा रं औय फकसी अन्म को ऩसत के रूऩ भं तराश कयं । तफ कुत्रऩत होकय तुरसी ने
बगवान गणेश को शाऩ दे ते हुए कहा फक आऩका त्रववाह अवश्म होगा। मह सुनकय सशव ऩुि गणेश ने बी तुरसी को शाऩ फदमा
दे वी, तुभ बी सनस्द्ळत रूऩ से असुयं द्राया ग्रस्त होकय वृऺ फन जाओगी।

इस शाऩ को सुनकय तुरसी ने व्मसथत होकय बगवान श्री गणेश की वॊदना की। तफ प्रसन्न होकय गणेश जी ने तुरसी से
कहा हे भनोयभे! तुभ ऩौधं की सायबूता फनोगी औय सभमाॊतय से बगवान नायामण फक त्रप्रमा फनोगी। सबी दे वता आऩसे स्नेह
यखंगे ऩयन्तु श्रीकृ ष्ण के सरए आऩ त्रवशेष त्रप्रम यहं गी। आऩकी ऩूजा भनुष्मं के सरए भुत्रि दासमनी होगी तथा भेये ऩूजन भं आऩ
सदै व त्माज्म यहं गी। ऎसा कहकय गणेश जी ऩुन: तऩ कयने िरे गए। इधय तुरसी दे वी द:ु स्खत ह्वदम से ऩुष्कय भं जा ऩहुॊिी औय
सनयाहाय यहकय तऩस्मा भं सॊरग्न हो गई। तत्ऩद्ळात गणेश के शाऩ से वह सियकार तक शॊखिूड की त्रप्रम ऩत्नी फनी यहीॊ। जफ
शॊखिूड शॊकय जी के त्रिशूर से भृत्मु को प्राद्ऱ हुआ तो नायामण त्रप्रमा तुरसी का वृऺ रूऩ भं प्रादब
ु ााव हुआ।

 क्मा आऩके फच्िे कुसॊगती के सशकाय हं ?
 क्मा आऩके फच्िे आऩका कहना नहीॊ भान यहे हं ?
 क्मा आऩके फच्िे घय भं अशाॊसत ऩैदा कय यहे हं ?
घय ऩरयवाय भं शाॊसत एवॊ फच्िे को कुसॊगती से िुडाने हे तु फच्िे के नाभ से गुरुत्व कामाारत द्राया
शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रद्षत ऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊ एस.एन.फडब्फी
फनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं स्थात्रऩत कय अल्ऩ ऩूजा, त्रवसध-त्रवधान से आऩ त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय
सकते हं । मफद आऩ तो आऩ भॊि ससद्ध वशीकयण कवि एवॊ एस.एन.फडब्फी फनवाना िाहते हं , तो सॊऩका
इस कय सकते हं ।

GURUTVA KARYALAY
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA),
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

ससतम्फय 2013

22

काभनाऩूसता हे तु िभत्कायी गणेश भॊि

 सिॊतन जोशी
ॐ गॊ गणऩतमे नभ् ।
एसा शास्त्रोि विन हं फक गणेश जी का मह भॊि िभत्कारयक औय तत्कार पर दे ने वारा भॊि हं । इस भॊि का ऩूणा
बत्रिऩूवक
ा जाऩ कयने से सभस्त फाधाएॊ दयू होती हं । षडाऺय का जऩ आसथाक प्रगसत व सभृस्ध्ददामक है ।

ॐ वक्रतुॊडाम हुभ ् ।
फकसी के द्राया फक गई ताॊत्रिक फक्रमा को नद्श

कयने के सरए, त्रवत्रवध काभनाओॊ फक शीघ्र ऩूसता
के सरए उस्च्िद्श गणऩसत फक साधना फकजाती
हं । उस्च्िद्श गणऩसत के भॊि का जाऩ अऺम
बॊडाय प्रदान कयने वारा हं ।
ॐ हस्स्त त्रऩशासि सरखे स्वाहा ।
आरस्म, सनयाशा, करह, त्रवघ्न दयू कयने के सरए
त्रवघ्नयाज रूऩ की आयाधना का मह भॊि जऩे।

ॐ गॊ स्ऺप्रप्रसादनाम नभ:।

गणेश के कल्माणकायी भॊि
गणेश भॊि फक प्रसत फदन एक भारा भॊिजाऩ अवश्म कये ।
फदमे गमे भॊिो भे से कोई बी एक भॊिका जाऩ कये ।
(०१) गॊ ।

(०२) ग्रॊ ।

(०३) ग्रं ।

(०४) श्री गणेशाम नभ् ।
(०५) ॐ वयदाम नभ् ।

भॊि जाऩ से कभा फॊधन, योगसनवायण, कुफुत्रद्ध,

(०६) ॐ सुभॊगराम नभ् ।

त्रवघ्न दयू होकय धन, आध्मास्त्भक िेतना के

(०८) ॐ वक्रतुॊडाम हुभ ् ।

गणऩसत का भॊि जऩे।

(१०) ॐ गॊ गणऩतमे नभ् ।

कुसॊगत्रत्त, दब
ू ााग्म, से भुत्रि होती हं । सभस्त

(०७) ॐ सिॊताभणमे नभ् ।

त्रवकास एवॊ आत्भफर की प्रासद्ऱ के सरए हे यम्फॊ

(०९) ॐ नभो बगवते गजाननाम ।

ॐ गूॊ नभ:।
योजगाय की प्रासद्ऱ व आसथाक सभृस्ध्द प्राद्ऱ होकय
सुख सौबाग्म प्राद्ऱ होता हं ।

ॐ श्रीॊ ह्रीॊ क्रीॊ ग्रं गॊ गण्ऩत्मे वय वयदे नभ्

(११) ॐ ॐ श्री गणेशाम नभ् ।

मह भॊि के जऩ से व्मत्रि को जीवन भं फकसी बी प्रकाय

का कद्श नहीॊ ये हता है ।

आसथाक स्स्थसत भे सुधाय होता है ।

एवॊ सवा प्रकायकी रयत्रद्ध-ससत्रद्ध प्राद्ऱ होती है ।

ॐ तत्ऩुरुषाम त्रवद्महे वक्रतुण्डाम धीभफह तन्नो
दस्न्त् प्रिोदमात।

रक्ष्भी प्रासद्ऱ एवॊ व्मवसाम फाधाएॊ दयू कयने हे तु उत्तभ भानगमा हं ।

ॐ गी् गूॊ गणऩतमे नभ् स्वाहा।
इस भॊि के जाऩ से सभस्त प्रकाय के त्रवघ्नो एवॊ सॊकटो का का नाश होता हं ।

ससतम्फय 2013

23

ॐ श्री गॊ सौबाग्म गणऩत्मे वय वयद सवाजनॊ भं

वशभानम स्वाहा।

त्रववाह भं आने वारे दोषो को दयू कयने वारं को िैरोक्म

भोहन गणेश भॊि का जऩ कयने से शीघ्र त्रववाह व अनुकूर
जीवनसाथी की प्रासद्ऱ होती है ।

गॊ

गणऩतमे

सवात्रवघ्न

रम्फोदयाम ह्रीॊ गॊ नभ्।

हयाम

सवााम

सवागुयवे

वाद-त्रववाद, कोटा किहयी भं त्रवजम प्रासद्ऱ, शिु बम से
िुटकाया ऩाने हे तु उत्तभ।

ॐ वक्रतुण्डे क द्रद्शाम क्रीॊहीॊ श्रीॊ गॊ गणऩतमे वय वयद

ॐ नभ् ससत्रद्धत्रवनामकाम सवाकामाकिे सवात्रवघ्न प्रशभनाम

इस भॊिं के असतरयि गणऩसत अथवाशीषा, सॊकटनाशक, गणेश

श्री ॐ स्वाहा।

स्त्रोत भमूयेश स्त्रोत, गणेश िारीसा का ऩाठ कयने से गणेश

फकमा जाता हं ।

सवाजनॊ भॊ दशभानम स्वाहा ।

सवा याज्म वश्म कायनाम सवाजन सवा स्त्री ऩुरुषाकषाणाम

स्त्रोत, गणेशकवि, सॊतान गणऩसत स्त्रोत, ऋणहताा गणऩसत

इस भॊि के जाऩ को मािा भं सपरता प्रासद्ऱ हे तु प्रमोग

जी की शीघ्र कृ ऩा प्राद्ऱ होती है ।

ॐ वय वयदाम त्रवजम गणऩतमे नभ्।

इस भॊि के जाऩ से भुकदभे भं सपरता प्राद्ऱ होती हं ।

ॐ हुॊ गॊ ग्रं हरयद्रा गणऩत्मे वयद वयद सवाजन रृदमे
स्तम्बम स्वाहा।
मह हरयद्रा गणेश साधना का िभत्कायी भॊि हं ।

द्रादश भहा मॊि
मॊि को असत प्रासिन एवॊ दर
ा मॊिो के सॊकरन से हभाये वषो के अनुसॊधान द्राया फनामा गमा हं ।
ु ब

 ऩयभ दर
ा वशीकयण मॊि,
ु ब

 सहस्त्राऺी रक्ष्भी आफद्ध मॊि

 बाग्मोदम मॊि

 आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि

 भनोवाॊसित कामा ससत्रद्ध मॊि

 ऩूणा ऩौरुष प्रासद्ऱ काभदे व मॊि

 याज्म फाधा सनवृत्रत्त मॊि

 योग सनवृत्रत्त मॊि

 गृहस्थ सुख मॊि

 साधना ससत्रद्ध मॊि

 शीघ्र त्रववाह सॊऩन्न गौयी अनॊग मॊि

 शिु दभन मॊि

उऩयोि सबी मॊिो को द्रादश भहा मॊि के रुऩ भं शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध ऩूणा प्राणप्रसतत्रद्षत एवॊ
िैतन्म मुि फकमे जाते हं । स्जसे स्थाऩीत कय त्रफना फकसी ऩूजा अिाना-त्रवसध त्रवधान त्रवशेष राब
प्राद्ऱ कय सकते हं ।

भूल्म: Rs.2350 से Rs.10900 >>Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com www.gurutvajyotish.com and gurutvakaryalay.blogspot.in

ससतम्फय 2013

24

ॐ ग्रं गॊ गणऩतमे नभ्।

ॐ श्री गणेश ऋण सिस्न्ध वये ण्म हुॊ नभ् पट ।

गृह करेश सनवायण एवॊ घय भं सुखशास्न्त फक प्रासद्ऱ हे तु।

मह ऋण हताा भॊि हं । इस भॊि का सनमसभत जाऩ कयना
िाफहए। इससे गणेश जी प्रसन्न होते है औय साधक का ऋण

ॐ गॊ रक्ष्म्मौ आगच्ि आगच्ि पट्।

िुकता होता है । कहा जाता है फक स्जसके घय भं एक फाय बी

इस भॊि के जाऩ से दरयद्रता का नाश होकय, धन प्रासद्ऱ

इस भॊि का उच्िायण हो जाता है है उसके घय भं कबी बी

के प्रफर मोग फनने रगते हं ।

ऋण मा दरयद्रता नहीॊ आ सकती।

ॐ गणेश भहारक्ष्म्मै नभ्।

व्माऩाय से सम्फस्न्धत फाधाएॊ एवॊ ऩये शासनमाॊ सनवायण एवॊ
व्माऩय भं सनयॊ तय उन्नसत हे तु।

जऩ त्रवसध:
प्रात: स्नानाफद शुद्ध होकय कुश मा ऊन के आसन ऩय ऩूवा
फक औय भुख होकय फैठं। साभने गणॆशजी का सिि, मॊि

ॐ गॊ योग भुिमे पट्।

मा भूसता स्थासद्ऱ कयं

बमानक असाध्म योगं से ऩये शानी होने ऩय, उसित ईराज
कयाने ऩय बी राब प्राद्ऱ नहीॊ होयहा हो, तो ऩूणा त्रवद्वास
सं भॊि का जाऩ कयने से मा जानकाय व्मत्रि से जाऩ

फपय षोडशोऩिाय मा ऩॊिोऩिाय से

बगवान गजानन का ऩूजन कय प्रथभ फदन सॊकल्ऩ कयं ।
इसके फाद बगवान ग्णेशका एकाग्रसित्त से ध्मान कयं ।
नैवेद्य भं मफद सॊबव होतो फूॊफद मा फेसन के रड्डू का

कयवाने से धीये -धीये योगी को योग से िुटकाया सभरता हं ।

बोग रगामे नहीॊ तो गुड का बोग रगामे। साधक को

ॐ अन्तरयऺाम स्वाहा।

जराए।

इस भॊि के जाऩ से भनोकाभना ऩूसता के अवसय प्राद्ऱ होने
रगते हं ।

गणेशजी के सिि मा भूसता के सम्भुख शुद्ध घी का दीऩक
योज १०८ भारा का जाऩ कय ने से शीघ्र पर

फक प्रासद्ऱ होती हं । मफद एक फदन भं १०८ भारा सॊबव न
हो तो ५४, २७,१८ मा ९ भाराओॊ का बी जाऩ फकमा जा
सकता हं ।

गॊ गणऩत्मे ऩुि वयदाम नभ्।

इस भॊि के जाऩ से उत्तभ सॊतान फक प्रासद्ऱ होती हं ।

ॐ वय वयदाम त्रवजम गणऩतमे नभ्।

भॊि जाऩ कयने भं मफद आऩ असभथा हो, तो

फकसी ब्राह्मण को उसित दस्ऺणा दे कय उनसे जाऩ

इस भॊि के जाऩ से भुकदभे भं सपरता प्राद्ऱ होती हं ।

कयवामा जा सकता हं ।

अद्श त्रवनामक कवि
भूॊगा गणेश को त्रवध्नेद्वय औय ससत्रद्ध त्रवनामक के रूऩ भं जाना जाता हं । इस के ऩूजन से जीवन भं सुख सौबाग्म भं वृत्रद्ध होती
Asht Vinayak Kawac h, As htavi nayak Kavach, Ashta Vi nayak

हं ।यि सॊिाय को सॊतुसरत कयता हं । भस्स्तष्क को तीव्रता प्रदान कय व्मत्रि को ितुय फनाता हं । फाय-फाय होने वारे गबाऩात से
फिाव होता हं । भूॊगा गणेश से फुखाय, नऩुॊसकता , सस्न्नऩात औय िेिक जेसे योग भं राब प्राद्ऱ होता हं ।

भूल्म Rs: 1900 >>Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

ससतम्फय 2013

25

गणेश ऩूजन से हो सकती हं ग्रह ऩीड़ा दयू ?
गणऩसत सभस्त रोकंभं सवा प्रथभ ऩूजेजाने वारे
एकभाि दे वाता हं । गणेश सभस्त गण के गणाध्मऺक
होने के कायणा गणऩसत नाभ से बी जाने जाते हं ।
एवॊ

सुखो

फक

प्रासद्ऱ

एवॊ

अऩनी

व्मत्रि भं नेतत्ृ व कयने फक त्रवरऺण शत्रि का त्रवकास होता हं ।
बाई के सुख भं वृत्रद्ध होती हं ।
गणेशजी फुत्रद्ध औय त्रववेक के असधऩसत स्वासभ

भनुष्म को जीवन भं सभस्त प्रकाय फक रयत्रद्धससत्रद्ध

 सिॊतन जोशी

फुध ग्रह के असधऩसत दे व हं । अत: त्रवद्या-फुत्रद्ध प्रासद्ऱ के

सम्स्त

सरए गणेश जी की आयाधना अत्मॊत परदामी ससद्धो होती

आध्मास्त्भक-बौसतक इच्िाओॊ फक ऩूसता हे तु गणेश जी फक

हं । गणेशजी के ऩूजन से वाकशत्रि औय तकाशत्रि भं वृत्रद्ध

ऩूजा-अिाना एवॊ आयाधना अवश्म कयनी िाफहमे।

होती हं । फहन के सुख भं वृत्रद्ध होती हं ।

गणेशजी का ऩूजन अनाफदकार से िरा आ यहा हं ,

बगवान गणेश फृहस्ऩसत(गुरु) के सभान उदाय,

इसके असतरयि ज्मोसतष शास्त्रं के अनुशाय ग्रह

ऻानी एवॊ फुत्रद्ध कौशर भं सनऩूणा हं । गणेशजी का ऩूजन-

ऩीडा दयू कयने हे तु बगवान गणेश फक ऩूजा-अिाना कयने

अिान कयने से फृहस्ऩसत(गुरु) से सॊफॊसधत ऩीडा दयू होती

पर

व्मत्रि के धन औय सॊऩत्रत्त भं वृत्रद्ध होती हं । ऩसत के सुख

से

सभस्त ग्रहो के अशुब प्रबाव दयू होते हं एवॊ शुब
फक

प्रासद्ऱ

होती हं ।

इस

सरमे

गणेश

ऩूजाका

अत्मासधक भहत्व हं ।

वक्रतुण्ड भहाकाम सूमक
ा ोफट सभप्रब्।

सनत्रवघ्ा नॊ कुरू भे दे व सवा कामेषु सवादा।।

बगवान गणेश सूमा तेज के सभान तेजस्वी हं ।
गणेशजी का ऩूजन-अिान कयने से सूमा के प्रसतकूर प्रबाव का
शभन होकय व्मत्रि के तेज-भान-सम्भान भं वृत्रद्ध होती हं ,
उसका मश िायं औय फढता हं । त्रऩता के सुख भं वृत्रद्ध होकय
व्मत्रि का आध्मास्त्भक ऻान फढता हं ।
बगवान गणेश िॊद्र के सभान शाॊसत एवॊ शीतरता के
प्रसतक हं । गणेशजी का ऩूजन-अिान कयने से िॊद्र के प्रसतकूर
प्रबाव का नाश होकय व्मत्रि को भानससक शाॊसत प्राद्ऱ होती हं ।
िॊद्र भाता का कायक ग्रह हं इस सरमे गणेशजी के ऩूजन से
भातृसुख भं वृत्रद्ध होती हं ।
बगवान गणेश भॊगर के सभान सशत्रिशारी एवॊ
फरशारी हं । गणेशजी का ऩूजन-अिान कयने से भॊगर के
अशुब प्रबाव दयू होते हं औय व्मत्रि फक फर-शत्रि भं वृत्रद्ध
होती हं । गणेशजी के ऩूजन से ऋण भुत्रि सभरती हं । व्मत्रि
के साहस, फर, ऩद औय प्रसतद्षा भं वृत्रद्ध होती हं स्जस कायण

हं औय व्मत्रि कं आध्मास्त्भक ऻान का त्रवकास होता हं ।
भं वृत्रद्ध होती हं । बगवान गणेश धन, ऐद्वमा एवॊ सॊतान
प्रदान कयने वारे शुक्र के असधऩसत हं । गणेशजी का ऩूजन
कयने से शुक्र के अशुब प्रबाव का शभन होता हं । व्मत्रि
को सभस्त बौसतक सुख साधन भं वृत्रद्ध होकय व्मत्रि के
सौन्दमा भं वृत्रद्ध होती हं । ऩसत के सुख भं वृत्रद्ध होती हं ।

बगवान गणेश सशव के ऩुि हं । बगवान सशव शसन
के गुरु हं । गणेशजी का ऩूजन कयने से शसन से सॊफॊसधत
ऩीडा दयू होती हं । बगवान गणेश हाथी के भुख एवॊ ऩुरुष
शयीय मुि होने से याहू व केतू के बी असधऩसत दे व हं ।

गणेशजी का ऩूजन कयने से याहू व केतू से सॊफॊसधत ऩीडा
दयू होती हं । इससरमे नवग्रह फक शाॊसत भाि बगवान
गणेश के स्भयण से ही हो जाती हं । इसभं कोई सॊदेह

नहीॊ हं । बगवान गणेश भं ऩूणा श्रद्धा एवॊ त्रवद्वास फक
आवश्मिा हं । बगवान गणेश का ऩूजन अिान कयने से
भनुष्म का जीवन सभस्त सुखो से बय जाता है । जन्भ
कुॊडरी भं िाहं होई बी ग्रह अस्त हो मा नीि हो अथवा
ऩीफडत हो तो बगवान गणेश फक आयाधना से सबी ग्रहो
के अशुब प्रबाव दयू होता हं एवॊ शुब परो फक प्रासद्ऱ
होती हं ।

ससतम्फय 2013

26

जफ गणेशजी फन गमे ज्मोसतषी।

 सिॊतन जोशी
फहन्द ु धभा भं सवाप्रथन ऩूजनीम बगवान गणेश ने

के नाभ से प्रससद्ध हुए। रयऩुञ्जम ने काशी को अऩनी

बगवान गणेश के त्रवसबन्न रुऩं से ऩरयसित हं , रेफकन

नाभो-सनशान नहीॊ था। असुय बी भनुष्म के वेश भं आकय

उनके ज्मोसतषीम रुऩ से कभ ही रोग ऩरयसित हंगे!

याजा की सेवा भं उऩस्स्थत हो जाते थे। सवाि धभा की

त्रवद्रानं का कथन हं की बगवान गणेश ज्मोसतषी रुऩ

प्रधानता थी।

एक फाय ज्मोसतषी का रुऩ धायण कय सरमा। हराॊफक हभ

ब्रह्मा जी की सृत्रद्श सॊिारन भं सहामता हे तु धायण फकमा
था।

ऩौयास्णक कथा के अनुशाय एकफाय एक फाय याजा
रयऩुञ्जम ने कफठन साधना से भन तथा इस्न्द्रमं को

याजधानी फनामा। उनके शासन भं अऩयाध का कहीॊ

िूटने

दस
ु यी तयप दे वरोक भं, ऩृथ्वी ऩय अऩना आवास
के

कायण

सभस्त

दे वता

औय

बगवान

सशव

अत्मसधक द्ु खी थे। सबी इसी उरझन भे थे की फकसी

तयह याजा रयऩुञ्जम के याज भं कभी ढू ॉ ढ़कय उन्हं बूरोक

अऩने वश भं कय सरमा। याजा रयऩुञ्जम की साधना से

के याज से हटामा जाम। इसी प्रमास भं दे वताओॊ ने

सन्तुद्श होकय ब्रह्मा जी ने उन्हं सम्ऩूणा बूरोक ऩय

रयऩुञ्जम के याजकाज भं कई प्रकाय के त्रवघ्न उऩस्स्थत

प्रजाऩारन औय नागयाज वासुफक की कन्मा के साथ

फकए, रेफकन कोई बी त्रवध्न-फाधा रयऩुञ्जम के साभने

त्रववाह का आसशवााद फदमा।

फटक नहीॊ ऩामी। रयऩुञ्जम को ऩथभ्रद्श कयने के सरए

ब्रह्मा जी की आऻा को सुनकय रयऩुञ्जम ने कहा,

बगवान सशव ने क्रभश: ६४ मोसगसनमं, सूम,ा ब्रह्मा, सशव

भं आऩका मह आसशवााद स्वीकाय कयता हूॉ, रेफकन भेयी

गण आफद को काशी बेजा। इस प्रकाय क्रभश् कई दे वता

एक शता है फक जफ तक ऩृथ्वी ऩय भेया शासन यहे गा,

ऩृथ्वी ऩय आते गए औय एक-एक कय सबी महीॊ सनवास

तफ तक सबी दे वता केवर स्वगा रोक भं ही सनवास

कयने रगे।

कयं गे। वे ऩृथ्वी ऩय नहीॊ आएॉगे।

ब्रह्मा जी ने तथास्तु

तफ बगवान सशव ने अऩने ऩुि श्रीगणेश को काशी

कहा। अस्ग्न, सूम,ा इन्द्र इत्माफद सबी दे वता ऩृथ्वी से

जाने के सरमे आदे श फदमा। बगवान श्रीगणेश ने काशी भं

अॊतध्माान हो गमे तो रयऩुञ्जम ने प्रजा के कल्माण हुते

आऩना आवास एक भस्न्दय भं फनामा तथा वे स्वमॊ एक

रयऩुञ्जम को दे वताओॊ का रुऩ धायण फकमे हुवे

भं धीये -धीये रोग बगवान श्रीगणेश के ऩास अऩना

के सभस्त ऩृथ्वी ऩय शासन कयने के कायण वह फदवोदास

तथा प्रससत्रद्ध याजा रयऩुञ्जम तक ऩहूॉिी तो उन्हंने वृद्ध

उन सफ दे वताओॊ का रूऩ धायण कय सरमा।

दे खकय सबी दे वता फहुत क्रोसधत हो गमे। याजा रयऩुञ्जम

वृद्ध ब्राह्मण का वेश धायण कय काशी भं यहने रगे। काशी
बत्रवष्म जानने के सरमे आने रगे। धीये -धीये उनकी कीसता

धन वृत्रद्ध फडब्फी
धन वृत्रद्ध फडब्फी को अऩनी अरभायी, कैश फोक्स, ऩूजा स्थान भं यखने से धन वृत्रद्ध होती हं स्जसभं कारी हल्दी,
रार- ऩीरा-सपेद रक्ष्भी कायक हकीक (अकीक), रक्ष्भी कायक स्पफटक यत्न, 3 ऩीरी कौडी, 3 सपेद कौडी, गोभती
िक्र, सपेद गुॊजा, यि गुॊजा, कारी गुॊजा, इॊ द्र जार, भामा जार, इत्मादी दर
ा वस्तुओॊ को शुब भहुता भं तेजस्वी
ु ब
भॊि द्राया असबभॊत्रित फकम जाता हं ।

भूल्म भाि Rs-730

ससतम्फय 2013

27

ज्मोसतषी को अऩने महाॉ आभॊत्रित फकमा।
वृद्ध ज्मोसतषी के आने ऩय रयऩुञ्जम ने उनका

उऩदे श सुना। ऩुण्मकीता ने फहन्द ू धभा का खॊडन कयके
फौद्ध धभा का भॊडन फकमा। प्रजा सफहत याजा रयऩुञ्जम

त्रवशेष आदय सत्काय फकमा औय सनवेदन फकमा फक, इस

फौद्ध धभा का ऩारन कयके अऩने धभा से ऩथभ्रद्श हो गमा।

सभम भेया भन बौसतक ऩदाथं एवॊ सबी कभं से दयू हो

ऩुण्मकीता ने याजा रयऩुञ्जम से कहा फक सात फदन उऩयाॊत

यहा है । इससरए आऩ अच्िी तयह गणना कय भेये बत्रवष्म

उसे सशवरोक िरे जाना िाफहए। उससे ऩूवा सशवसरॊग की

का वणान कीस्जए। तफ उन वृद्ध ज्मोसतषी ने रयऩुञ्जम से

स्थाऩना बी आवश्मक है । श्रद्धारु याजा ने उसके कथन

कहा फक, “आज से १८वं फदन उत्तय फदशा की ओय से एक

अनुसाय फदवोदासेद्वय सरॊग की स्थाऩना एवॊ त्रवसध-ऩूवक

तेजस्वी ब्राह्मण का आगभन होगा औय वे ही तुम्हं उऩदे श

ऩूजा-अिाना कयवाई। गरुड़ त्रवष्णु जी के सॊदेशस्वरूऩ

बगवान गणेश ने सम्ऩूणा काशी नगयी को अऩने

गमे। तदऩ
ु याॊत रयऩुञ्जम ने सशवरोक प्राद्ऱ फकमा तथा

दे कय तुम्हाया बत्रवष्म सनस्द्ळत कयं गे।

वश भं कय सरमा। याजा रयऩुञ्जम से दयू यहकय बी

सभस्त घटना का त्रवस्तृत वणान कयने सशव के सम्भुख
दे वतागण काशी भं अॊश रूऩ से यहने के ऩुन: असधकायी

बगवान गणेश ने उनके सित्त को याज-काज से त्रवयि कय

फन गमे। त्रवद्रानं का कथन हं की गणेश जी के ज्मोसतषी

फदमा। १८वं फदन बगवान त्रवष्णु ने ब्राह्मण का वेश धायण

रुऩ धायण कयने से ऩूवा सबी दे वताओॊ के प्रमास सनष्पर

कयके अऩना नाभ ऩुण्मकीता, गरुड़ का नाभ त्रवनमकीता

हुवे थे। इस सरए मह गणेशजी के ज्मोसतषी रुऩ का ही

तथा रक्ष्भी का नाभ गोभोऺ प्रससद्ध फकमा। वे स्वमॊ गुरु

िभत्काय था की याजा रयऩुञ्जम ने गणेश जी की फात

रूऩ भं तथा उन दोनं को िेरं के रूऩ भं रेकय काशी

ऩय त्रवद्वास कय ब्राह्मण रुऩ धायी त्रवष्णु जी की फात ऩय

ऩहुॊिे।

त्रवद्वास फकमा औय उनके कहे अनुशाय कामा सॊऩन्न फकमा।
रयऩुञ्जम को सभािाय सभरा तो गणेश जी की

***

फात को स्भयण कयके उसने ऩुण्मकीता का स्वागत कयके

भॊि ससद्ध ऩन्ना गणेश
बगवान श्री गणेश फुत्रद्ध औय सशऺा के कायक ग्रह फुध के असधऩसत
दे वता हं । ऩन्ना गणेश फुध के सकायात्भक प्रबाव को फठाता हं एवॊ

वास्तु उऩाम
हे तु सवाश्रद्ष

नकायात्भक प्रबाव को कभ कयता हं ।. ऩन्न गणेश के प्रबाव से व्माऩाय औय धन भं वृत्रद्ध
भं वृत्रद्ध होती हं । फच्िो फक ऩढाई हे तु बी त्रवशेष पर प्रद हं ऩन्ना गणेश इस के प्रबाव
से फच्िे फक फुत्रद्ध कूशाग्र होकय उसके आत्भत्रवद्वास भं बी त्रवशेष वृत्रद्ध होती हं । भानससक
अशाॊसत को कभ कयने भं भदद कयता हं , व्मत्रि द्राया अवशोत्रषत हयी त्रवफकयण शाॊती प्रदान
कयती हं , व्मत्रि के शायीय के तॊि को सनमॊत्रित कयती हं । स्जगय, पेपड़े , जीब, भस्स्तष्क औय तॊत्रिका तॊि इत्माफद
योग भं सहामक होते हं । कीभती ऩत्थय भयगज के फने होते हं ।

Rs.550 से Rs.8200 तक >> Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785,
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

28

ससतम्फय 2013

सवा कामा ससत्रद्ध कवि
स्जस व्मत्रि को राख प्रमत्न औय ऩरयश्रभ कयने के फादबी उसे भनोवाॊसित सपरतामे एवॊ

फकमे गमे कामा भं ससत्रद्ध (राब)
धायण कयना िाफहमे।

प्राद्ऱ नहीॊ होती, उस व्मत्रि को सवा कामा ससत्रद्ध कवि अवश्म

कवि के प्रभुख राब: सवा कामा ससत्रद्ध कवि के द्राया सुख सभृत्रद्ध औय नव ग्रहं के

नकायात्भक प्रबाव को शाॊत कय धायण कयता व्मत्रि के जीवन से सवा प्रकाय के द:ु ख-दारयद्र का
नाश हो कय सुख-सौबाग्म एवॊ उन्नसत प्रासद्ऱ होकय जीवन भे ससब प्रकाय के शुब कामा ससद्ध होते

हं । स्जसे धायण कयने से व्मत्रि मफद व्मवसाम कयता होतो कायोफाय भे वृत्रद्ध होसत हं औय मफद
नौकयी कयता होतो उसभे उन्नसत होती हं ।

 सवा कामा ससत्रद्ध कवि के साथ भं सवाजन वशीकयण कवि के सभरे होने की वजह से धायण
कताा की फात का दस
ू ये व्मत्रिओ ऩय प्रबाव फना यहता हं ।

 सवा कामा ससत्रद्ध कवि के साथ भं अद्श रक्ष्भी कवि के सभरे होने की वजह से व्मत्रि ऩय सदा

भाॊ भहा रक्ष्भी की कृ ऩा एवॊ आशीवााद फना यहता हं । स्जस्से भाॊ रक्ष्भी के अद्श रुऩ (१)आफद रक्ष्भी, (२)-धान्म रक्ष्भी, (३)- धैमा रक्ष्भी, (४)-गज रक्ष्भी, (५)-सॊतान रक्ष्भी, (६)त्रवजम रक्ष्भी, (७)-त्रवद्या रक्ष्भी औय (८)-धन रक्ष्भी इन सबी रुऩो का अशीवााद प्राद्ऱ होता हं ।

 सवा कामा ससत्रद्ध कवि के साथ भं तॊि यऺा कवि के सभरे होने की वजह से ताॊत्रिक फाधाए दयू
होती हं , साथ ही नकायात्भक शत्रिमो का कोइ कुप्रबाव धायण कताा व्मत्रि ऩय नहीॊ होता। इस
कवि के प्रबाव से इषाा-द्रे ष यखने वारे व्मत्रिओ द्राया होने वारे दद्श
ु प्रबावो से यऺा होती हं ।

 सवा कामा ससत्रद्ध कवि के साथ भं शिु त्रवजम कवि के सभरे होने की वजह से शिु से सॊफॊसधत

सभस्त ऩये शासनओ से स्वत् ही िुटकाया सभर जाता हं । कवि के प्रबाव से शिु धायण कताा
व्मत्रि का िाहकय कुि नही त्रफगाड़ सकते।

अन्म कवि के फाये भे असधक जानकायी के सरमे कामाारम भं सॊऩका कये :
फकसी व्मत्रि त्रवशेष को सवा कामा ससत्रद्ध कवि दे ने नही दे ना का अॊसतभ सनणाम हभाये ऩास सुयस्ऺत हं ।

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us - 9338213418, 9238328785
Website: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
(ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)

29

ससतम्फय 2013

॥गणेशबुजॊगभ ्॥
यणत्ऺुद्रघण्टासननादासबयाभॊ िरत्ताण्डवोद्दण्डवत्ऩद्मतारभ ् ।

रसत्तुस्न्दराङ्गोऩरयव्मारहायॊ गणाधीशभीशानसूनुॊ तभीडे ॥ १ ॥
ध्वसनध्वॊसवीणारमोल्राससवक्िॊ स्पुयच्िुण्डदण्डोल्रसद्बीजऩूयभ ् ।
गरद्दऩासौगन्ध्मरोरासरभारॊ गणाधीशभीशानसूनुॊ तभीडे ॥ २ ॥
प्रकाशज्जऩायियन्तप्रसून- प्रवारप्रबातारुणज्मोसतये कभ ् ।

प्ररम्फोदयॊ वक्रतुण्डै कदन्तॊ गणाधीशभीशानसूनुॊ तभीडे ॥ ३ ॥
त्रवसििस्पुयद्रत्नभाराफकयीटॊ फकयीटोल्रसच्िन्द्रये खात्रवबूषभ ् ।

त्रवबूषैकबूशॊ बवध्वॊसहे तुॊ गणाधीशभीशानसूनुॊ तभीडे ॥ ४ ॥
उदञ्िद्भज
ु ावल्रयीदृश्मभूरो- च्िरद्धभ्रूरतात्रवभ्रभभ्राजदऺभ ् ।

भरुत्सुन्दयीिाभयै ् सेव्मभानॊ गणाधीशभीशानसूनुॊ तभीडे ॥ ५ ॥
स्पुयस्न्नद्षु यारोरत्रऩङ्गास्ऺतायॊ कृ ऩाकोभरोदायरीरावतायभ ् ।

करात्रफन्दग
ु ॊ गीमते मोसगवमै- गाणाधीशभीशानसूनुॊ तभीडे ॥ ६ ॥
मभेकाऺयॊ सनभारॊ सनत्रवाकल्ऩॊ गुणातीतभानन्दभाकायशून्मभ ् ।

ऩयॊ ऩयभंकायभान्भामगबं । वदस्न्त प्रगल्बॊ ऩुयाणॊ तभीडे ॥ ७ ॥
सिदानन्दसान्द्राम शान्ताम तुभ्मॊ नभो त्रवद्वकिे ि हिे ि तुभ्मभ ् ।
नभोऽनन्तरीराम कैवल्मबासे नभो त्रवद्वफीज प्रसीदे शसूनो ॥ ८ ॥

इभॊ सुस्तवॊ प्रातरुत्थाम बक्त्मा ऩठे द्यस्तु भत्मो रबेत्सवाकाभान ् ।

गणेशप्रसादे न ससध्मस्न्त वािो गणेशे त्रवबौ दर
ा ॊ फकॊप्रसन्ने ॥ ९ ॥
ु ब

जन्भ कुॊडरी भं िाहं होई बी ग्रह अस्त हो मा नीि हो अथवा ऩीफडत हो

तो बगवान गणेश फक आयाधना से सबी ग्रहो के अशुब प्रबाव दयू होता हं एवॊ शुब परो फक प्रासद्ऱ होती हं ।

भॊगर मॊि:

(त्रिकोण) भॊगर मॊि को जभीन-जामदाद के त्रववादो को हर कयने के काभ भं राब दे ता हं ,

इस के असतरयि व्मत्रि को ऋण भुत्रि हे तु भॊगर साधना से असत शीध्र राब प्राद्ऱ होता हं । त्रववाह आफद भं
भॊगरी जातकं के कल्माण के सरए भॊगर मॊि की ऩूजा कयने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं ।

भूल्म भाि Rs-730 >>Order Now

GURUTVA KARYALAY : Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

ससतम्फय 2013

30

वषा की त्रवसबन्न ितुथॉ व्रत का भहत्व

 सिॊतन जोशी
श्रावण कृ ष्ण ितुथॉ

श्रावण शुक्र ितुथॉ

सॊकद्शितुथॉ व्रत

दव
ू ाा गणऩसत व्रत

ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मोत्तय के अनुशाय सॊकद्शितुथॉ
व्रत प्रत्मेक भासकी कृ ष्ण ितुथॉ को फकमा जाता है । मफद
ितुथॉ दो फदन िन्द्रोदमव्मात्रऩनी हो मा दोनं फदन न हो
तो भातृत्रवद्धा प्रशस्मते के अनुसाय ऩहरे फदन व्रत कयना
िाफहमे।
व्रतधायी को िाफहमे फक वह प्रात्स्त्रानाफदके ऩद्ळात ्
व्रत कयनेका सॊकल्ऩ कयके फदनबय मथा सॊबव भौन यहे
औय सामॊकारभं ऩुन्स्त्रान कयके रार वस्त्र धायणकय

ऩौयास्णक ग्रॊथ सौयऩुयाण के अनुशाय मह व्रत
श्रावण शुक्र ितुथॉ को फकमा जाता है । गणेश जी के
ऩूजन हे तु इसभं भध्मााव्मात्रऩनी ितुथॉ री जाती है ।
मफद ितुथॉ दो फदन हो मा दोनं फदन न हो तो भातृत्रवद्धा
प्रशस्मते के अनुसाय ऩूवत्रा वद्धा व्रत कयना िाफहमे।
ितुथॉ फदन प्रात्स्त्रानाफद कयके सुवणाके गणेशजी
फनवावे

जो

एकदन्त,

ितुबज
ूा ,

गजानन

औय

स्वणा

ससॊहासन ऩय त्रवयाजभान हं।
इसके असतरयि सोनेकी दव
ू ाा बी फनवावे। फपय

ऋतुकार भं उऩरब्ध गन्ध ऩुष्ऩाफद से गणेशजीका ऩूजन

सवातोबद्र फनाकय भण्डरऩय करश की स्थाऩन कयके

कये ,(शास्रोि भत से गणेश ऩूजन भं तुरसी ऩि वस्जात हं )

उसभं स्वणाभम दव
ू ाा रगाकय उसऩय उि गणेशजीका

उसके फाद िन्द्रोदम होने ऩय िन्द्रभा का ऩूजन
कये औय अघ्मा से ऩूजन कय स्वमॊ बोजन कये तो
व्रतधायी को सुख, सौबाग्म औय सम्ऩत्रत्तकी प्रासद्ऱ होती है ।

स्थाऩन कये ।

गणेश जी को यिवस्त्राफदसे त्रवबूत्रषत कये औय
अनेक प्रकायके सुगास्न्धत ऩि, ऩुष्ऩाफद अऩाण कय के
ऩूजन कये । फेरऩि, अऩाभागा, शभीऩि, दफ
ू आदी अऩाण
कयं । (शास्रोि भत से गणेश ऩूजन भं तुरसी ऩि वस्जात हं )।

सॊकद्शितुथॉ की व्रत कथा:

स्तोि,

ऩौयास्णक कथा के अनुशाय सत्ममुग भं याजा
मुवनाद्व के ऩास सम्ऩूणा शास्त्रं के ऻाता ब्रह्मशभाा नाभक
ब्राह्मण थे, स्जनके सात ऩुि औय सात ऩुिवधुएॉ थीॊ।
ब्रह्मशभाा जफ वृद्ध हुए, तफ फड़ी ि् फहुओॊकी अऩेऺा िोटी
फहूने द्वशुयकी असधक सेवा की। तफ उन्हंने सॊतद्श
ु होकय
ऩुिवधु

से

ितुथॉका

व्रत

कयवामा,

स्तवन

आफद

का

त्रवसधवत

उच्िायण कय के गणेश जी की ऩरयक्रभा कय अऩयाधं के
सरए गणेद्वय गणाध्मऺ गौयीऩुि गजानन। व्रतॊ सम्ऩूणााताॊ
मातु त्वत्प्रसादाफदबानन ॥ का उच्िायण कयते हुवे ऺभामािना प्राथाना कयं । इस प्रकाय तीन मा ऩाॉि वषा तक
व्रत ऩारन से सभस्त भनोकाभनाएॉ ऩूयी होती हं ।
इस

व्रत

को

कयने

वारे

भनुष्म

की

सॊऩूणा

स्जसके

काभनाएॉ ऩूयी होती हं औय अन्त भं उसे गणेशजी का ऩद

प्रबावसे वह भयणऩमान्त सफ प्रकायके सुख साधनंसे

प्राद्ऱ हो जाता है । त्रवद्रानो का कथ हं की िैरोक्म भं

सॊमुि यही।

सॊकद्शहय

आयती,

इसके सभान अन्म कोई व्रत नहीॊ है ।

ससतम्फय 2013

31

असधक भास की गणेश ितुथॉ
व्मासजी के कथनानुशाय असधक भास भं ितुथॉ
की गणेद्वयके नाभ से ऩूजा कयनी िाफहए। ऩूजन हे तु
षोडशोऩिाय की त्रवसध उत्तभ होती है ।

ितुथॉ व्रत के राब:

बाद्रऩद शुक्र ितुथॉ
सशवाितुथॉव्रत:
ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मऩुयाण के अनुशाय बाद्रऩद
शुक्र ितुथॉकी 'सशवा' सॊऻा है । इसभं स्नान, दान, जऩ

हय भहीने गणेश जी की प्रसन्नता के सनसभत्त व्रत

औय उऩवास कयनेसे सौगुना प्राद्ऱ पर होता है । स्स्त्रमाॉ

कयं । इसके प्रबाव से त्रवद्याथॉ को त्रवद्या, धनाथॉ को धन

मफद इस फदन गुड़, घी, रवण औय अऩूऩाफदसे अऩने सास

प्रासद्ऱ एवॊ कुभायी कन्मा को सुशीर वय की प्रासद्ऱ होती है

द्वशुय मा भाॉ आफदको तृद्ऱ कये तो उनके सौबाग्मकी वृत्रद्ध

औय वह सौबाग्मवती यहकय दीघाकार तक ऩसत का

होती है ।

सुखबोग कयती है । त्रवधवा द्राया व्रत कयने ऩय अगरे
जन्भ भं वह सधवा होती हं एवॊ ऐद्वमा-शासरनी फन कय
ऩुि-ऩौिाफद का सुख बोगती हुई अॊत भं भोऺ ऩाती है ।

ऩुिेच्िुको ऩुि राब होता एवॊ योगी का योग सनवायण होता
है । बमबीत व्मत्रि बम यफहत होता एवॊ फॊधन भं ऩड़ा
हुआ फॊधन भुि हो जाता है ।

श्री गणेश की प्राकट्म सतसथ होने के कायण
बाद्रऩद शुक्र ितुथॉ बगवान गुणेश की वयदामक सतसथ
अत्मासधक प्रख्मात हुई। उस फदन भध्माा कार भं

बगवान गणेश की प्रसतभा का श्रद्धा-बत्रिऩूणा ऩूजन कय
गणेश जी के स्भयण, सिॊतन एवॊ नाभ-जऩ का अद्धद्भत

भाहात्म्म है । शास्त्रं भं उल्रेख हं की गणेश ितुथॉ का

त्रवसबन्न ऩदाथा भं सनसभात गणेश प्रसतभा के राब
 भयगि, प्रवार, ऩद्मयागभस्ण, इन्द्रनीरभस्ण, नीरकान्तभस्ण इत्माफद यत्नं से फनी गणेश प्रसतभा का ऩूजन कयने
से धन-सम्ऩत्रत्त, स्त्री-सॊतान, भान-सम्भान औय मश की प्रासद्ऱ होती हं ।

 ताम्र की गणेश प्रसतभा का ऩूजन कयने से क्राॊसत प्राद्ऱ होती हं ।
 सुवणा की गणेश प्रसतभा का ऩूजन कयने से शिु नाश होता हं ।
 यजत की गणेश प्रसतभा का ऩूजन कयने से साधक का कल्माण होता हं ।
 स्पफटक की गणेश प्रसतभा का ऩूजन कयने से साधक को सबी असबद्श कामं भं सपरता प्राद्ऱ होती हं ।
स्पफटक यत्न ऩय उत्कीणा की गई गणेश प्रसतभा को दर
ा भाना जाता हं । क्मंकी स्पफटक सबी द्रव्मं से
ु ब

असतशीघ्र पर प्रदान कयने वारा यत्न है । स्पफटक की गणेश प्रसतभा भनुष्म की सबी बौसतक एवॊ आध्मास्त्भक
इच्िाओॊ को ऩूणा कयने भं सभथा हं । मफद फकसी साधक को सौबाग्म से स्पफटक गणेश प्रसतभा प्राद्ऱ हो जाए
तो फकसी त्रवद्रान से उसको असबभॊत्रित कयवारे। स्पफटक गणेश प्रसतभा यॊ क को बी याजा फनाने भं सभथा हं ।
त्रवद्रानं का अनुबव यहा हं की स्जस बवन भं स्पफटक श्री मॊि के साथ स्पफटक गणेश का ऩूजन हो यहा हं
उस बवन भं सनवास कताा को धन की कबी कभी नहीॊ यहती।

 ऩायद की गणेश प्रसतभा शास्त्रं भं ऩायद धातु को बगवान सशव का वीमा कहा गमा है । शुद्ध ऩायद से सनसभात
ऩायद गणेश प्रसतभा असत दर
ा तथा प्रबावशारी है । धन प्रासद्ऱ हे तु ऩायद गणेश-रक्ष्भी का ऩूजन उत्तभ भाना
ु ब
जाता हं ।

ससतम्फय 2013

32

ऩुण्मभम एवॊ अत्मॊत परप्रदासमनी है । स्वमॊ ब्रह्मा जी ने

स्जस प्रकाय भाॊ की तयह गो-भाता अऩना दध

अऩने भुखायत्रवन्द से इस सतसथ का भाहत्म फढाते हुवे

त्रऩराकय हभ सफको ऩारती है , इस सरए हभं अत:भन भं

कहा है फक इस ितुथॉ व्रत का सनरूऩण एवॊ भाहात्म्म की

उनके प्रसत कृ तऻता का बाव यखकय ही मह व्रत कयना

सॊऩूणा भफहभा वखानना शक्म नहीॊ।

िाफहए। मह व्रत सॊतान सुख का दे नेवारा तथा ऐद्वमा को
फढाने वारा है ।
ऩायॊ ऩरयक रूऩ से इस फदन व्रत को कयने वारी

बाद्रऩद कृ ष्ण ितुथॉ

स्त्रीमाॊ इस ऩवा के फदन गाम का दध
ू एवॊ उससे सनसभात

फहुरा ितुथॉ व्रत

कोई ऩदाथा नहीॊ खाती हं । क्मोकी, इस सतसथ भं गाम के

बाद्रऩद भास के कृ ष्णऩऺ की ितुथॉ फहुरा िौथ

मा ितुथॉ फहुरा के नाभ से बी प्रससद्ध है ।

दध
ू ऩय केवर उसके फिडे का असधकाय भाना जाता है ।
फदन बय उऩवास यखने के फाद सामॊकार फिडे

फहन्द ु भान्मताओॊ के अनुशाय बाद्रऩद भास की

सफहत गौ की ऩूजा की जाती हं । कुल्हड भं खाने की जो

कुशरता एवॊ भॊगरकाभना के सनसभत्त फहुरा व्रत यखती

भं स्त्रीमाॊ उसी को प्रसाद के रूऩ भं ग्रहण कयती है । कई

भामनं भं गो-भाता की ऩूजा एवॊ विन ऩारन की प्रेयणा

रगाकय खामा जाता है ।

कृ ष्ण ितुथॉ के फदन ऩुिवती स्स्त्रमाॊ अऩने ऩुिं की

हं । रेफकन कुि त्रवद्रानो का भत हं की फहुरा ितुथॉ सही

साभग्री को यखकय गाम को बोग रगामा जाता है , फाद
जगम इस फदन जौ के सत्तू तथा गुड का बोग बी

दे ने वारा ऩवा है ।

ससॊह, भमूय औय भूषक हं गणेशजी के वाहन
बायतीम धभा शास्त्रं औय ऩुयाणं भं गणेश जी के वाहन ससॊह, भमूय औय भूषक फतामे गमे है ।
गणेश ऩुयाण भं क्रीडाखण्ड १ भं वस्णात है

 सत मुग भं बगवान गणेशजी का वाहन ससॊह फतामा गमा हं । स्जसभं गणेशजी का नाभ त्रवनामक औय
स्वरुऩ तेजस्वी दस बुजा मुक्ि सभस्त जीवं को वय प्रदान कयने वारे हं ।

 िेता मुग भं उनका वाहन भमूय फतामा गमा हं । स्जसभं गणेशजी का नाभ भमूयेद्वय स्वरुऩ द्वेत वणान
औय ि: बुजाओॊ मुि हं ।

 द्राऩय मुग भं उनका वाहन भूषक फतामा गमा हं । स्जसभं गणेशजी का नाभ गजानन स्वरुऩ रार वणान
औय िाय बुजाओॊ मुि हं ।

 कसर मुग भं उनका वाहन धूम्रवणा है । स्जसभं गणेशजी का नाभ धूम्रकेतु स्वरुऩ घोड़े ऩय आरूढ़ औय दो
बुजाओॊ मुि हं ।
बगवान गणेश के वाहनं भं सफसे प्रससद्ध वाहन भूषक भाना जाता हं , ऩौयास्णक कथा के अनुशाय एक फाय
गजभुखासुय नाभक दै त्म से बगवान गणेश का मुद्ध हुआ था स्जसभं उनका एक दाॉत टू ट गमा था।

गणेश जी

नं इसी दाॉत से गजभुखासुय ऩय ऐसा तीव्र प्रहाय फकमा की वह भूषक फनकय बागने रगा। बागते भूषक को
गणेश जी ने ऩकड़ सरमा भाना जाता हं तफ से भूषक गणेशजी का वाहन फन गमा।

ससतम्फय 2013

33

फहुराितुथॉ के व्रत से मह प्रेयणा सभरती है हभं

द्राया षोडशोऩिाय ऩूजन कयके बत्रिऩूवक
ा ऩूजा का त्रवशेष

हभंशा सत्म के साथ-साथ अऩने कताव्म एवॊ विनं का

भाहात्म्म है ।

सदा ऩारन होना िाफहए।

भागाशीषा शुक्र ितुथॉ

त्रवद्रानो के भतानुशाय बाद्रऩद कृ ष्ण ितुथॉ को
फहुरासफहत गणेश की गॊध, ऩुष्ऩ, भारा औय दव
ू ाा आफद
के द्राया त्रवसध-त्रवधान से ऩूजा कय ऩरयक्रभा कयनी िाफहए।
साभथ्मा के अनुसाय दान-ऩुण्म कयं । दान कयने की स्स्थसत
न हो तो फहुरा गो भाता फक प्रसतभा को प्रणाभ कय

उसका त्रवसजान कय दं । इस प्रकाय ऩाॉि, दस मा सोरह
वषं तक इस व्रत का ऩारन कयके उद्याऩन कयं । उस
सभम दध
ू दे ने वारी स्वस्थ गाम का दान कयना िाफहए।

आस्द्वन कृ ष्ण ितुथॉ
आस्द्वन कृ ष्ण ितुथॉको व्रत हो औय उसी फदन

भाता - त्रऩता आफदका श्राद्ध बी कयना हो तो त्रवद्रानो के
भतानुशाय फदनभं श्राद्ध कयके ब्राह्मणंको बोजन कया दे

औय अऩने फहस्सेके बोजनको सूॉघकय गौ को स्खरा दे ।
यात्रिभं िन्द्रोदमके फाद स्वमॊ बोजन कये ।

व्रत कथा:
ऩौयास्णक कथा के अनुशाय एक फाय फाणासुयकी
ऩुिी ऊषाको स्वप्न भं कृ ष्ण ऩौि असनरुद्धका दशान हुआ।

कृ च्र ितुथॉ व्रत:

भागाशीषा शुक्र ितुथॉ की कृ च्र ितुथॉ कहा जाता है ।
ऩौयास्णक ग्रॊथ स्कन्दऩुयाण भं उल्रेख हं की
कृ च्रितुथॉ व्रत भागाशीषा शुक्र ितुथॉसे आयम्ब होकय
प्रत्मेक ितुथॉको वषाऩमान्त कयके फपय दस
ू ये , तीसये औय
िौथे वषा भं कयनेसे िाय वषाभं ऩूणा होता है ।

कृ च्रितुथॉ व्रत की त्रवसध मह है फक ऩहरे वषाभं
(भागाशीषा शुक्र ितुथॉ को) प्रात्स्त्रानके ऩद्ळात ् व्रतका
सनमभ ग्रहण कयके गणेशजीका मथात्रवसध ऩूजन कये ।

नैवेद्यभं रड्डू सतरकुटा, जौका भॉडका औय सुहारी अऩाण
कयके इस भॊि का उच्िायण कयं ..

त्वत्प्रसादे न दे वेश व्रतॊ वषाितुद्शमभ ्।

सनत्रवघ्र
ा ेन तु भे मातु प्रभाणॊ भूषकध्वज ॥
सॊसायाणावदस्
ु तायॊ सवात्रवघ्रसभाकुरभ ्।

तस्भाद् दीनॊ जगन्नाथ िाफह भाॊ गणनामक ॥
प्राथाना कयके एक फाय ऩरयसभत बोजन कये । इस
प्रकाय प्रत्मेक ितुथॉको कयता यहकय दस
ू ये वषा उसी

भागाशीषा शुक्र ितुथॉको ऩुन् मथाऩूवा सनमभ ग्रहण, व्रत

ऊषाको उनके प्रत्मऺ दशानकी असबराषा हुई औय उसने

औय ऩूजा कयके पि ( यात्रिभं एक फाय ) बोजन कये ।

सििरेखाके द्राया असनरुद्धको अऩने घय फुरा सरमा। इससे

इसी प्रकाय प्रत्मेक ितुथॉको वषाऩमान्त कयके तीसये वषा

असनरुद्धकी भाताको फड़ा कद्श हुआ। इस सॊकटको टारनेके

फपय भागाशीषा शुक्र ितुथॉको व्रत सनमभ औय ऩूजा

महाॉ सिऩे हुए असनरुद्धका ऩता रग गमा औय ऊषा तथा

सभरे उसीका एक फाय ) बोजन कये ।

सरमे भाताने व्रत फकमा, तफ इस व्रतके प्रबावसे ऊषाके
असनरुद्ध द्रायका आ गमे।

कयके अमासित ( अथाात त्रफना भाॉगे जो कुि स्जतना
इस प्रकाय एक वषा तक प्रत्मेक ितुथॉको व्रत
कयके िौथे वषाभं उसी भागाशीषा शुक्र ितुथॉको सनमभ

आस्द्वन शुक्र ितुथॉ
आस्द्वन शुक्र ितुथॉ नवयाि भं ऩड़ने के कायण
भाॊ बगवती के ऩूजन के साथ यािी जागयण कयने का
त्रवशेष भहत्व हं एवॊ इस फदन गणेश जी का ऩुरुषसूि

ग्रहण, व्रत सॊकल्ऩ औय ऩूजनाफद कयके सनयाहाय उऩवास
कये । इस प्रकाय वषाऩमान्त प्रत्मेक ितुथॉको व्रत कयके
िौथा वषा सभाद्ऱ होनेऩय सपेद कभरऩय ताॉफेका करश
स्थाऩन कयके सुवणाके गणेशजीका ऩूजन कये । सवत्सा
गौका दान कये , हवन कये औय िौफीस सऩत्नीक ब्राह्मणंको

ससतम्फय 2013

34

बोजन कयवाकय वस्त्राबूषणाफद दे कय स्वमॊ बोजन कये तो

की स्थाऩना कय उसका त्रवसध-वत ऩूजन कयने का त्रवधान

इस व्रतके कयनेसे सफ प्रकायके त्रवघ्न दयू हो जाते हं औय

हं । नैवेद्य भं भोदक का बोग रगामे।

व्रती को सफ प्रकायकी सम्ऩत्रत्त प्राद्ऱ होती है ।

वयितुथॉ व्रत:
ऩौयास्णक ग्रॊथ स्कन्दऩुयाण भं उल्रेख हं की मह
व्रत कृ च्रितुथोके सभान मह व्रत बी भागाशीषा शुक्र
ितुथॉसे आयम्ब होकय िाय वषाभं ऩूणा होता है ।

प्रथभ वषाभं प्रत्मेक ितुथॉको फदनाद्धा के सभम एक

फाय अरोन ( त्रफना नभक का ) बोजन, दस
ू ये वषाभं नि
( यात्रि ) बोजन, तीसये भं अमासित बोजन औय िौथेभं

उऩवास कयके मथाऩूवा सभाद्ऱ कये । मह व्रत सफ प्रकायकी
अथाससत्रद्ध दे ने वारा है ।
ऩरयसभत बोजनके त्रवषमभं कहीॊ ऩय 32 ग्रास औय
फकसीने 29 ग्रास फतरामे हं ।
स्भृत्मन्तय भं उल्रेख हं

अद्शौ ग्रासा भुनेबक्ष्
ा मा् षोडशायण्मवाससन्।
द्रात्रिश
ॊ द् गृहस्थमा ऩरयसभतॊ ब्रह्मिारयण् ॥

अथाात: भुसनको आठ, वनवाससमंको सोरह, गृहस्थंको
फत्तीस औय ब्रह्मिारयमंको अऩरयसभत ( मथारुसि ) ग्रास
बोजन कयनेको कहा गमा है ।
ग्रासका प्रभाण है एक आॉवरेके फयाफय अथवा
स्जतना सुगभतासे भुह
ॉ भं जा सके, उतना एक ग्रास होता
है । न्मून बोजनके सरमे ( माऻवल्क्मने ) तीन ग्रास
सनमत फकमे हं ।

भागाशीषा कृ ष्ण ितुथॉ
सिॊताभणी ितुथॉ व्रत:
भागाशीषा कृ ष्ण ितुथॉ को सिॊताभणी ितुथॉ के
नाभ से जाना जाता हं । त्रवद्रानो के कथनानुशाय इस फदन
ऩूया फदन केवर ऩानी त्रऩकय उऩवास फकमा जाता हं । यािी
के सभम िन्द्रोदम के फाद करश ऩय श्रीसिॊताभणी गणेश

ऩौष कृ ष्ण ितुथॉ
सॊकद्शितुथॉ व्रत:
ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मोत्तय के अनुशाय ऩौष कृ ष्ण
ितुथॉ को गणऩसत स्भयणऩूवक
ा प्रात्स्त्रानाफद सनत्मकभा
कयनेके ऩद्ळात ् सॊकल्ऩ कयके फदनबय भौन यहे । यात्रिभं

ऩुन् स्त्रान कयके गणऩसत - ऩूजनके ऩद्ळात ् िन्द्रोदमके
फाद िन्द्रभाका ऩूजन कयके अघ्मा दे , फपय बोजन कयने
का त्रवधान फतामा गमा हं ।

ऩौष शुक्र ितुथॉ
ऩौष शुक्र व्रत त्रवसध ऩूवक
ा कयने वारे भनुष्म को
धन-सॊऩत्रत्त का अबाव नहीॊ यहता। उसी सबी प्रकाय के
सुख सौबाग्म की प्रासद्ऱ होती हं ।

भाघ शुक्र ितुथॉ
शास्न्तितुथॉ व्रत:
ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मऩुयाण के अनुशाय भाघ
शुक्र ितुथॉको गणेशजीका ऩूजन कयके घीभं सने हुए
गुड़के ऩूआ औय रवणके ऩदाथा अऩाण कये औय गुरुदे वकी

ऩूजा कयके उनको गुड़, रवण औय घी दे तो इस व्रतसे
सफ प्रकायकी स्स्थय शास्न्त प्राद्ऱ होती है ।

अॊगायकितुथॉ व्रत:
ऩौयास्णक ग्रॊथ भत्स्मऩुयाण के अनुशाय मफद भाघ
शुक्र ितुथॉको भॊगरवाय हो तो उस फदन प्रात्स्त्रानके
ऩहरे शयीयभं सभट्टी रगाकय शुद्ध स्त्रान कये , रार धोती
ऩहने, वस्त्राअबूषण आफद से सुसस्ज्जत धायण कये औय
उत्तयासबभुख फैठकय 'अस्ग्नभूद्धाा' भन्त्नका जऩ कये । फपय
बूसभको गोफयसे रीऩकय अङ्गयकाम बौभाम नभ् का जऩ
कये । फपय उसऩय रार िन्दनका अद्शदर फनामे तथा
उसकी ऩूवााफद िायं फदशाओॊभं बक्ष्म बोजन औय िावरंसे

ससतम्फय 2013

35

बये हुए िाय कयवे यख कय गन्धाऺताफदसे ऩूजन कयके।
दान भं कत्रऩरा गौ औय रार यॊ गका अतीव सौम्म धुयॊधय

फैर दे ना औय साथभं शय्मा दे ना सहस्त्रगुण पर दे ने
वारा होता है ।

पाल्गुन शुक्र ितुथॉ
ढु स्ण्ढयाज व्रत:
पाल्गुन भास की ितुथॉ को भॊगरदामक ढु स्ण्ढयाज
व्रत फकमा जाता है । ितुथॉ के फदन व्रत-उऩवास के साथ

सुखितुथॉ व्रत:

गणेशजी की सोने की भूसता फनवाकय उसकी श्रद्धा-

ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मऩुयाण के अनुशाय

बत्रिऩूवक
ा ऩूजा की जासत हं । गणेशजी को प्रसन्न कयने

ितुथॉ तु ितुथॉ तु मदाङ्गायकसॊमुता।

के सरए उस फदन सतर से ही दान, होभ, ऩूजन आफद

भाघ शुक्र ितुथॉको मफद भॊगरवाय हो तो रार वणाके

बोजन कयाकय व्रती स्वमॊ बी बोजन कयते हं । इस व्रत

ितुथ्मां तु ितुथ्मां तु त्रवधानॊ श्रृणु मादृशभ ् ॥

फकमे जाते हं । उस फदन सतर के ऩीठे से ब्राह्मणं को

गन्ध, अऺत औय ऩुष्ऩ, नैवेद्यसे गणेशजीका ऩूजन कयके

के प्रबाव से सभस्त सम्ऩदाओॊ की वृत्रद्ध होती है औय

उऩवास कये । इस प्रकाय िाय-िाय ितुथॉ ( भाघ, वैशाख,
बाद्रऩद औय ऩौष ) का एक वषा व्रत कये तो सफ प्रकायके
सुख प्राद्ऱ होते हं । प्रत्मेक ितुथॉको बौभवाय होना
आवश्मक है ।

ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मऩुयाण के अनुशाय भाघ
शुक्र ऩूवत्रा वद्धा ितुथॉको प्रात् स्त्रानाफद कयके सॊकल्ऩ
कयके वेदीऩय रार वस्त्र त्रफिामे। रार अऺतंका अद्शदर
फनाकय उसऩय ससन्दयू िसिात गणेशजीको स्थात्रऩत कये ।
स्वमॊ रार धोती ऩहनकय रार वणाके पर ऩुष्ऩाफदसे

षोडशोऩिाय ऩूजन कये । नैवेद्यभं (सबगोकय िीरी हुई )

हल्दी, गुड़, शक्कय औय घी इनको सभराकय बोग रगामे
औय निव्रत (यात्रिभं एक फाय बोजन कये तो सम्ऩूणा
अबीद्श ससद्ध होते हं ।

भनोयथ ितुथॉ कहते हं । ऩूजनोऩयान्त निव्रत का त्रवधान
है । इस प्रकाय फायहं भहीने की प्रत्मेक शुक्र ितुथॉ को
कयने से भनोयथ ससद्ध होते हं । अस्ग्नऩुयाण भं इसको
अत्रवघ्ना ितुथॉ कहाॊ गमा है ।

पाल्गुन कृ ष्ण ितुथॉ
पाल्गुन भास की कृ ष्ण ितुथॉ को सतर ितुथॉ बी कहाॊ
जाता हं

िैि कृ ष्ण ितुथॉ
िैि भास की ितुथॉ को वासुदेवस्वरूऩ बगवान
श्रीगणेश का त्रवसधऩूवक
ा ऩूजन कय ब्राह्मण को दस्ऺणा के
रुऩ भं सुवणा दे ने ऩय भनुष्म को सॊऩूणा दे वताओॊ से वॊफदत
हो जाता हं औय वह श्री त्रवष्णु रोक को प्राद्ऱ कयता है ।

भाघ कृ ष्ण ितुथॉ

कथा:

वक्रतुण्डितुथॉ
के अनुशाय भाघ कृ ष्ण

िन्द्रोदमव्मात्रऩनी ितुथॉको वक्रतुण्डितुथॉ कहते हं । इस
व्रतका आयम्ब सॊकल्ऩ कयके कये । सामॊकारभं गणेशजीका
औय िन्द्रोदमके सभम िन्द्रका ऩूजन कयके अघ्मा दे । इस
व्रतको भाघसे आयम्ब कयके हय भहीनेभं कये तो सॊकटका
नाश हो जाता है ।

भत्स्मऩुयाण के अनुसाय पाल्गुन शुक्र ितुथॉ को

व्रत कयते हुए वषाबय के फाद उस स्वणाभूसता का दान

गणेशव्रत

ऩौयास्णक ग्रॊथ बत्रवष्मोत्तय

भनुष्म गणेशजी की कृ ऩा से ही ससत्रद्ध प्राद्ऱ कय रेता है ।

ऩौयास्णक कथा के अनुशाय प्रािीन कारभं भमूयध्वज नाभका

याजा फड़ा प्रबावशारी औय धभाऻ था। एक फाय उसका ऩुि

कहीॊ खो गमा औय फहुत अनुसॊधान कयनेऩय बी न सभरा।

तफ भस्न्िऩुिकी धभावती स्त्रीके अनुयोधसे याजाके सम्ऩूणा
ऩरयवाने िैि कृ ष्ण ितुथॉका फड़े सभायोहसे मथात्रवसध व्रत

फकमा। तफ बगवान गणेशजीकी कृ ऩासे याजऩुि आ गमा
औय उसने भमूयध्वजकी आजीवन सेवा की।

ससतम्फय 2013

36

वैशाख कृ ष्ण ितुथॉ

आषाढ़ ितुथॉ

वैशाख भास की ितुथॉ को सॊकद्शी गणेश का ऩूजा

आषाढ़ भास की ितुथॉ को असनरुद्धस्वरूऩ गणेश

कय ब्राह्मणं को शॊख का दान कयना िाफहए। इसके प्रबाव

का त्रवसधऩूवक
ा ऩूजन कयके सॊन्माससमं को तूॊफी का ऩाि

से भनुष्म सभस्त रोक भं कल्ऩं तक सुख प्राद्ऱ कयता है ।

दान कयना िाफहए। इस व्रत को कयने वारा भनुष्म को

वैशाख शुक्र ितुथॉ

भनोवाॊसित पर प्राद्ऱ होते है ।

वैशाख भास की कृ ष्ण ितुथॉ को श्रीकृ ष्णत्रऩॊगाऺ
गणऩसत का ऩूजन फकमा जाता हं ।

गणेश का त्रवसधवत ऩूजन कय एसा उराब पर प्राद्ऱ कय
रेता है , जो दे व सभुदाम के सरए बी अप्राप्त्म है ।

ज्मेद्ष कृ ष्ण ितुथॉ

नोट: आऩकी अनुकूरता हे तु गणेश ऩूजन की सयर त्रवसध
इस अॊक भं उऩरब्ध कयवाई गई हं । कृ प्मा उस त्रवसध से

सॊकद्शितुथॉव्रत:
ऩौयाणुक ग्रॊथ बत्रवष्मोत्तय के अनुशाय ज्मेद्ष भास
के कृ ष्ण ऩऺ की ितुथॉको, प्रात्स्त्रानाफद सनत्मकभा कयके
व्रतके सॊकल्ऩसे फदनबय भौन यहे । सामॊकारभं ऩुन् स्त्रान
कयके गणेशजीका औय िन्द्रोदम होने ऩय िन्द्रभा का
ऩूजन कये

ितुथॉ के फदन भनुष्म श्रद्धा-बत्रिऩूवक
ा भॊगरभूसता

तथा शॊखभं दध
ू , दव
ू ाा, सुऩायी आफद से

त्रवसधवत ऩूजन कयं । वामन दान कयके बोजन कये ।

ऩूजन कयने से ऩूवा फकसी जानकाय गुरु मा त्रवद्रान से सराह

त्रवभशा अवश्म कयरं। क्मोफक प्राॊसतम व ऺेत्रिम ऩूजन ऩद्धसत
भं सबन्नता होने के कायण ऩूजन त्रवसध भं सबन्नता सॊबव
हं । उऩरब्ध कयवाई गई ऩूजन ऩद्धसत को सयर से सयर

फनाकय केवर आऩके भगादशान के उद्दे श्म से प्रदान की गई
हं ।

त्रवशेष सुझाव: जो रोग सुवणा भूसता फनवाने मा दान कयने

ज्मेद्ष शुक्र ितुथॉ

की ऺभता न हो तो वणाक (अथाात हल्दी िूण)ा से ही

ज्मेद्ष भास की शुक्र ऩऺ की ितुथॉ को प्रद्मरूऩी
गणेश की ऩूजा कय ब्राह्मणं को पर-भूर का दान कयने

गणऩसत की प्रसतभा फना कय ऩूजन कय सकते हं मा दान
कय सकते हं ।

से व्रतधायी को स्वगारोक प्राद्ऱ होते हं ।

श्री मॊि

गुरुत्व कामाारम भं ऩूणा प्राण-प्रसतत्रद्षत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि "श्री मॊि" 500 ग्राभ, 750 ग्राभ, 1000 ग्राभ
औय 1250 ग्राभ, 2250 ग्राभ साईज़ भं केवर सरसभटे ड स्टॉक उऩरब्ध हं । श्री मॊि के सॊफॊध भं असधक
जानकायी के सरए कामाारम भं सॊऩका कयं ।

>> Order Now

"श्री मॊि" 12 ग्राभ से 1250 ग्राभ तक फक साइज भे उप्रब्ध है ।
GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785,
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.in

37

ससतम्फय 2013

श्री गणेश मॊि
गणेश मॊि सवा प्रकाय की ऋत्रद्ध-ससत्रद्ध प्रदाता एवॊ सबी प्रकाय की उऩरस्ब्धमं दे ने भं सभथा है , क्मोकी श्री गणेश मॊि के
ऩूजन का पर बी बगवान गणऩसत के ऩूजन के सभान भाना जाता हं । हय भनुष्म को को जीवन भं सुख-सभृत्रद्ध की
प्रासद्ऱ एवॊ सनमसभत जीवन भं प्राद्ऱ होने वारे त्रवसबन्न कद्श, फाधा-त्रवघ्नं को नास के सरए श्री गणेश मॊि को अऩने ऩूजा
स्थान भं अवश्म स्थात्रऩत कयना िाफहए। श्रीगणऩत्मथवाशीषा भं वस्णात हं ॐकाय का ही व्मि स्वरूऩ श्री गणेश हं । इसी
सरए सबी प्रकाय के शुब भाॊगसरक कामं औय दे वता-प्रसतद्षाऩनाओॊ भं बगवान गणऩसत का प्रथभ ऩूजन फकमा जाता हं ।
स्जस प्रकाय से प्रत्मेक भॊि फक शत्रि को फढाने के सरमे भॊि के आगं ॐ (ओभ ्)

आवश्म रगा होता हं । उसी प्रकाय

प्रत्मेक शुब भाॊगसरक कामं के सरमे बगवान ् गणऩसत की ऩूजा एवॊ स्भयण असनवामा भाना गमा हं । इस ऩौयास्णक भत
को सबी शास्त्र एवॊ वैफदक धभा, सम्प्रदामं ने गणेश जी के ऩूजन हे तु इस प्रािीन ऩयम्ऩया को एक भत से स्वीकाय
फकमा हं ।
श्री गणेश मॊि के ऩूजन से व्मत्रि को फुत्रद्ध, त्रवद्या, त्रववेक का त्रवकास होता हं औय योग, व्मासध एवॊ सभस्त त्रवध्नफाधाओॊ का स्वत् नाश होता है । श्री गणेशजी की कृ ऩा प्राद्ऱ होने से व्मत्रि के भुस्श्कर से भुस्श्कर कामा बी आसान
हो जाते हं ।
स्जन रोगो को व्मवसाम-नौकयी भं त्रवऩयीत ऩरयणाभ प्राद्ऱ हो यहे हं, ऩारयवारयक तनाव, आसथाक तॊगी, योगं से ऩीड़ा
हो यही हो एवॊ व्मत्रि को अथक भेहनत कयने के उऩयाॊत बी नाकाभमाफी, द:ु ख, सनयाशा प्राद्ऱ हो यही हो, तो एसे
व्मत्रिमो की सभस्मा के सनवायण हे तु ितुथॉ के फदन मा फुधवाय के फदन श्री गणेशजी की त्रवशेष ऩूजा-अिाना कयने
का त्रवधान शास्त्रं भं फतामा हं ।
स्जसके पर से व्मत्रि की फकस्भत फदर जाती हं औय उसे जीवन भं सुख, सभृत्रद्ध एवॊ ऐद्वमा की प्रासद्ऱ होती हं ।
स्जस प्रकाय श्री गणेश जी का ऩूजन अरग-अरग उद्दे श्म एवॊ काभनाऩूसता हे तु फकमा जाता हं , उसी प्रकाय श्री गणेश
मॊि का ऩूजन बी अरग-अरग उद्दे श्म एवॊ काभनाऩूसता हे तु अरग-अरग फकमा जाता सकता हं ।
श्री गणेश मॊि के सनमसभत ऩूजन से भनुष्म को जीवन भं सबी प्रकाय की ऋत्रद्ध-ससत्रद्ध व धन-सम्ऩत्रत्त की प्रासद्ऱ हे तु
श्री गणेश मॊि अत्मॊत राबदामक हं । श्री गणेश मॊि के ऩूजन से व्मत्रि की साभास्जक ऩद-प्रसतद्षा औय कीसता िायं
औय पैरने रगती हं ।

 त्रवद्रानं का अनुबव हं की फकसी बी शुब कामा को प्रायॊ ऩ कयने से ऩूवा मा शुबकामा हे तु घय से फाहय जाने से ऩूवा
गणऩसत मॊि का ऩूजन एवॊ दशान कयना शुब परदामक यहता हं । जीवन से सभस्त त्रवघ्न दयू होकय धन,
आध्मास्त्भक िेतना के त्रवकास एवॊ आत्भफर की प्रासद्ऱ के सरए भनुष्म को गणेश मॊि का ऩूजन कयना िाफहए।

गणऩसत मॊि को फकसी बी भाह की गणेश ितुथॉ मा फुधवाय को प्रात: कार अऩने घय, ओफपस, व्मवसामीक स्थर
ऩय ऩूजा स्थर ऩय स्थात्रऩत कयना शुब यहता हं ।
गुरुत्व कामाारम भं उऩरब्ध अन्म : रक्ष्भी गणेश मॊि | गणेश मॊि | गणेश मॊि (सॊऩण
ू ा फीज भॊि सफहत) | गणेश ससद्ध मॊि |
एकाऺय गणऩसत मॊि | हरयद्रा गणेश मॊि बी उऩरब्ध हं । असधक जानकायी आऩ हभायी वेफ साइट ऩय प्राद्ऱ कय सकते हं ।

GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/

ससतम्फय 2013

38

॥ सॊकद्शहयणॊ गणेशाद्शकभ ् ॥

॥गणेश ऩॊच्ियत्नभ ्॥

ॐ अस्म श्री सॊकद्शहयणस्तोिभन्िस्म श्रीभहागणऩसतदे वता, सॊकद्शहयणाथा भुदा कयात्तभोदकभ ् सदा त्रवभुत्रिसाधकभ ्
जऩे त्रवसनमोग्।

कायरूऩभ ् त्र्महसभसत

कराधयावतम्सकभ ् त्रवराससरोकयऺकभ ्।

ि

ऩयभ ् मत्स्वरूऩभ ् तुयीमभ ् अनामकैक नामकभ ् त्रवनासशतेबदै त्मकभ ्
िैगुण्मातीतनीरॊ
करमसत
भनसस्तेज-ससन्दयू -भूसताभ।् नताशुबाशुनाशकभ ् नभासभ तभ ् त्रवनामकभ ् ॥१॥
मोगीन्द्रै ब्रह्म
ा यन्ध्रै् सकर-गुणभमॊ श्रीहये न्द्रे णसॊगॊ गॊ गॊ गॊ गॊ गणेशॊ
गजभुखभसबतो व्माऩकॊ सिन्तमस्न्त ॥१॥ वॊ वॊ वॊ त्रवघ्नयाजॊ बजसत नतेतयासतबीकयभ ् नवोफदताकाबास्वयभ ्
सनजबुजे

दस्ऺणे

न्मस्तशुण्डॊ

क्रॊ

क्रॊ

क्रॊ

क्रोधभुद्रा-दसरत-रयऩुफरॊ नभत्सुयारयसनजायभ ् नतासधकाऩदद्र
ु यभ ्।

कल्ऩवृऺस्म भूरे। दॊ दॊ दॊ दन्तभेकॊ दधसत भुसनभुखॊ काभधेन्वा सनषेव्मभ ् धॊ सुयेद्वयभ ् सनधीद्वयभ ् गजेद्वयभ ् गणेद्वयभ ्

धॊ धॊ धायमन्तॊ धनदभसतसघमॊ ससत्रद्ध-फुत्रद्ध-फद्रतीमभ ् ॥२॥ तुॊ तुॊ तुॊ तुग
ॊ रूऩॊ भहे द्वयभ ् तभाश्रमे ऩयात्ऩयभ ् सनयन्तयभ ् ॥२॥
गगनऩसथ

गतॊ

व्माप्नुवन्तॊ

फदगन्तान ् क्रीॊ

क्रीॊ

क्रीॊकायनाथॊ

गसरतभदसभरल्रोर-भत्तासरभारभ।् ह्रीॊ ह्रीॊ ह्रीॊकायत्रऩॊगॊ सकरभुसनवय- सभस्तरोकशङ्कयभ ् सनयस्तदै त्मकुञ्जयभ ्
ध्मेमभुण्डॊ ि शुण्डॊ श्रीॊ श्रीॊ श्रीॊ श्रीॊ श्रमन्तॊ सनस्खर-सनसधकुरॊ नौसभ दये तयोदयभ ् वयभ ् वये बवक्िभऺयभ ्।

हे यम्फत्रफम्फभ ् ॥३॥ रं रं रंकायभाद्यॊ प्रणवसभव ऩदॊ भन्िभुिावरीनाभ ् कृ ऩाकयभ ् ऺभाकयभ ् भुदाकयभ ् मशस्कयभ ्
शुद्धॊ

त्रवघ्नेशफीजॊ

शसशकयसदृशॊ

मोसगनाॊ

ध्मानगम्मभ।् भनस्कयभ ् नभस्कृ ताॊ नभस्कयोसभ बास्वयभ ् ॥३॥

डॊ डॊ डॊ डाभरूऩॊ दसरतबवबमॊ सूमक
ा ोफटप्रकाशभ ् मॊ मॊ मॊ मऻनाथॊ जऩसत
भुसनवयो फाह्यभभ्मन्तयॊ ि ॥४॥ हुॊ हुॊ हुॊ हे भवणं श्रुसत-गस्णतगुणॊ शूऩक
ा णॊ
कृ ऩारुॊ ध्मेमॊ सूमस्
ा म त्रफम्फॊ ह्युयसस ि त्रवरसत ् सऩामऻोऩवीतभ।्

अफकञ्िनासताभाजानॊ सियन्तनोत्रि बाजनभ ्
ऩुयारयऩूवन
ा न्दनभ ् सुयारयगवािवाणभ ्।

भन्िाणाॊ प्रऩञ्िनाशबीषणभ ् धनञ्जमाफद बूषणभ ्
कऩोरदानवायणभ ् बजे ऩुयाणवायणभ ् ॥४॥
सद्ऱकोफट-प्रगुस्णत-भफहभाधायभोशॊ प्रऩद्ये ॥५॥ ऩूवं ऩीठॊ त्रिकोणॊ तदऩ
ु रय
स्वाहाहुॊपट्
रुसियॊ

नभोन्तैद्ष-ठठठ-सफहतै्

षट्कऩिॊ

ऩत्रविभ ्

स्वतेजद्ळतुस्रभ।्

मस्मोध्वं

ऩल्रवै्

सेव्मभानभ ्

शुद्धये खा

वसुदरकभरॊ

वो

भध्मे हुॊकायफीजॊ तदनु बगवत्

स्वाॊगषट्कॊ षडस्रे अद्शौ शिीद्ळ ससद्धीफाहुरगणऩसतत्रवाद्शयद्ळाद्शकॊ ि ॥६॥

सनतान्तकान्त दन्तकास्न्त भन्तकान्तकात्भजभ ्
असिन्त्मरूऩ भन्तहीन भन्तयाम कृ न्तनभ ्।

धभााद्यद्शौ प्रससद्धा दशफदसश त्रवफदता वा ध्वजाल्म् कऩारॊ तस्म ऺेिाफदनाथॊ रृदन्तये सनयन्तयभ ् वसन्तभेव मोसगनाभ ्
भुसनकुरभस्खरॊ भन्िभुद्राभहे शभ।् एवॊ मो बत्रिमुिो जऩसत गणऩसतॊ ऩुष्ऩ- तभेकदन्तभेव तभ ् त्रवसिन्तमासभ सन्ततभ ् ॥५॥
धूऩा-ऺताद्यैनैवेद्यैभोदकानाॊ

स्तुसतमुत-त्रवरसद्-गीतवाफदि-नादै ्

॥७॥

याजानस्तस्म बृत्मा इव मुवसतकुरॊ दासवतसवा
् दास्ते रक्ष्भी् सवांगमुिा
श्रमसत ि सदनॊ फकॊकया् सवारोका्। ऩुिा् ऩुत्र्म् ऩत्रविा यणबूत्रव त्रवजमी

भहागणेश ऩॊच्ियत्नभादये ण मोन्वहभ ्
प्रजल्ऩसत प्रबातके रृफदस्भयन्गणेद्वयभ ्।

द्यूतवादे त्रऩ वीयो मस्मेशो त्रवघ्नयाजो सनवससत रृदमे बत्रिबाग्मस्म रुद्र् अयोगताभदोषताॊ सुसाफहतीॊ सुऩुिताॊ
सभाफहतामुयद्शबूसतभभ्मुऩैसत सोसियात ् ॥६॥
॥८॥ ॥ इसत श्री सॊकद्शहयणॊ गणेशाद्शकॊ सम्ऩूणभ
ा ्॥
॥इसत श्री गणेश ऩॊच्ियत्नभ ् सम्ऩुण॥

ससतम्फय 2013

39

एकदन्त शयणागसत स्तोिभ ्

सॊस्थे

एकदन्तभ ् शयणभ ् व्रजाभ:

ददस्न्त वै कभापरासन सनत्मभ ्। मदाऻमा शैरगणा: स्स्थया वै

दे वषाम ऊिु:
सदात्भरूऩॊ

सकराफदबूतभभासमनॊ

अनाफदभध्मान्तत्रवहीनभेकॊ

शयणॊ

व्रजाभ:॥

अनन्तसिद्रऩ
ू भमॊ गणेशभबेदबेदाफदत्रवहीनभाद्यभ ्। रृफद प्रकाशस्म
धयॊ स्वधीस्थॊ तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ सभासधसॊस्थॊ रृफद
मोसगनाॊ

मॊ

प्रकाशरूऩेण

त्रवबातभेतभ ्।

सदा

सनयारम्फसभासधगम्मॊ तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ स्वत्रफम्फबावेन
त्रवरासमुिाॊ प्रत्मऺभामाॊ त्रवत्रवधस्वरूऩाभ ्। स्ववीमाकॊ ति ददासत
मो

वै

तभेकदन्तॊ

शयणॊ

व्रजाभ:॥

त्वदीमवीमेण

सभथाबत
ू स्वभाममा सॊयसितॊ ि त्रवद्वभ ्। तुयीमकॊ ह्यात्भप्रतीसतसॊऻॊ
तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ त्वदीमसत्ताधयभेकदन्तॊ गुणेद्वयॊ मॊ

गुणफोसधतायभ ्। बजन्तभत्मन्तभजॊ त्रिसॊस्थॊ तभेकदन्तॊ शयणॊ
व्रजाभ:॥ ततस्त्वमा प्रेरयतनादकेन सुषसु द्ऱसॊऻॊ यसितॊ जगद् वै।

सभानरूऩॊ ह्युबमिसॊस्थॊ तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ तदे व त्रवद्वॊ
कृ ऩमा प्रबूतॊ फद्रबावभादौ तभसा त्रवबान्तभ ्। अनेकरूऩॊ ि
तथैकबूतॊ तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ ततस्त्वमा प्रेरयतकेन सृद्शॊ
फबूव

सूक्ष्भॊ

जगदे कसॊस्थभ ्। सुसात्रत्तवक
् ॊ

स्वऩन्भनन्तभाद्यॊ

तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ तदे व स्वऩन ् तऩसा गणेश सुससद्धरूऩॊ
त्रवत्रवधॊ फबूव। सदै करूऩॊ कृ ऩमा ि तेऽद्य तभेकदन्तॊ शयणॊ
व्रजाभ:॥

त्वदाऻमा

जगदॊ शरूऩभ ्।

व्रजाभ:॥ तदे व

तेन

त्वमा

रृफदस्थॊ

त्रवसबन्नजाग्रन्भमभप्रभेमॊ
जाग्रद्रजसा

त्रवबातॊ

तथा

तभेकदन्तॊ

त्रवरोफकतॊ

सुसद्श
ृ ॊ
शयणॊ

त्वत्कृ ऩमा

स्भृतेन। फबूव सबन्न ि सदै करूऩॊ तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥

सदे व सृत्रद्शप्रकृ सतस्वबावात्तदन्तये त्वॊ ि त्रवबासस सनत्मभ ्। सधम:
प्रदाता गणनाथ

एकस्तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ त्वदाऻमा

बास्न्त ग्रहाद्ळ सवे प्रकाशरूऩास्ण त्रवबास्न्त खे वै। भ्रभस्न्त
सनत्मॊ

सृत्रद्शकयो

स्वत्रवहायकामाास्तभेकदन्तॊ
त्रवधाता

त्वदाऻमा

शयणॊ

ऩारक

प्रवहस्न्त

नद्य:।

स्वतीथासस्
ॊ थद्ळ

कृ त:

सभुद्रस्तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ मदाऻमा दे वगणा फदत्रवस्था

सोऽहभसिन्त्मफोधभ ्।

तभेकदन्तॊ

मदाऻमाऩ:

व्रजाभ:॥ त्वदाऻमा

एकत्रवष्णु:। त्वदाऻमा

तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:। मदाऻमा दे वगणा फदत्रवस्था ददस्न्त वै
कभापरासन सनत्मभ ्। मदाऻमा शैरगणा: स्स्थया वै तभेकदन्तॊ
शयणॊ व्रजाभ:॥ मदाऻमा शेषधयाधयो वै मदाऻमा भोहप्रदद्ळ

काभ:। मदाऻमा कारधयोऽमाभा ि तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥
मदाऻमा

वासत

त्रवबासत

वामुमद
ा ाऻमासगन्जाठयाफदसॊस्थ:।

मदाऻमेदॊ सियाियॊ ि तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ मदन्तये

सॊस्स्थतभेकदन्तस्तदाऻमा सवासभदॊ त्रवबासत। अनन्तरूऩॊ रृफद

फोधकॊ मस्तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ सुमोसगनो मोगफरेन साध्मॊ

प्रकुवाते क: स्तवनेन स्तौसत। अत: प्रणाभेन सुससत्रद्धदोऽस्तु
तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥
गृत्सभद उवाि

एवॊ स्तुत्वा गणेशानॊ दे वा: सभुनम: प्रबुभ ्। तृष्णीॊ बावॊ प्रऩद्यैव
ननृतह
ु ा षस
ा म
ॊ त
ु ा:॥ स तानुवाि प्रीतात्भा दे वषॉणाॊ स्तवेन वै।
एकदन्तो भहाबागो दे वषॉन ् बिवत्सर:॥
एकदन्त उवाि

स्तोिेणाहॊ प्रसन्नोऽस्स्भ सुया: सत्रषागणा: फकर। वयदोऽहॊ वृणुत
वो

दास्मासभ

भनसीस्प्सतभ ्॥ बवत्कृ तॊ

भदीमॊ

मत ् स्तोिॊ

प्रीसतप्रदॊ ि तत ्। बत्रवष्मसत न सॊदेह: सवाससत्रद्धप्रदामकभ ्॥ मॊ

मसभच्िसत तॊ तॊ वै दास्मासभ स्तोिऩाठत:। ऩुिऩौिाफदकॊ सवा
करिॊ धनधान्मकभ ्॥ गजाद्वाफदकभत्मन्तॊ याज्मबोगाफदकॊ ध्रुवभ ्।
बुत्रिॊ

भुत्रिॊ

ि

मोगॊ

वै

रबते

शास्न्तदामकभ ्॥

भायणोच्िाटनादीसन याजफन्धाफदकॊ ि मत ्। ऩठताॊ श्रृण्वताॊ नृणाॊ
बवेच्ि फन्धहीनता॥ एकत्रवश
ॊ सतवायॊ

म: द्ऴोकानेवक
ै त्रवश
ॊ तीन ्।

ऩठे च्ि रृफद भाॊ स्भृत्वा फदनासन त्वेकत्रवॊशसतभ ्॥ न तस्म दर
ा ॊ
ु ब
फकञ्ित ् त्रिषु रोकेषु वै बवेत ्। असाध्मॊ साध्मेन्भत्मा: सवाि
त्रवजमी बवेत ्॥ सनत्मॊ म: ऩठसत स्तोिॊ ब्रह्मबूत: स वै नय:।
तस्म दशानत: सवे दे वा: ऩूता बवस्न्त ि॥

सॊहयको हयोऽत्रऩ तभेकदन्तॊ शयणॊ व्रजाभ:॥ मदाऻमा बूसभजरेऽि

प्रसतफदन इस इक्कीस द्ऴोकं का इक्कीस फदनं तक प्रसतफदन इक्कीस फाय ऩाठ कयता हं उसे सवाि त्रवजम प्राद्ऱ होती
हं ।

इस स्तोि के ऩाठ से व्मत्रि को सवा इच्िीत वस्तु फक प्रासद्ऱ होती हं । ऩुि-ऩौि आफद, करि, धन-धान्म, उत्तभ वाहन
एवॊ सभस्त बौसतक सुख साधनो एवॊ शाॊसत फक प्रासद्ऱ होती हं ।

अन्म द्राया फकमे जाने वारे भायण, उच्िाटन औय भोहन आफद प्रमोग से व्मत्रि फक यऺा होती हं ।

ससतम्फय 2013

40

अनॊत ितुदाशी व्रत त्रवशेष परदामी हं ।

 सिॊतन जोशी
अनॊत ितुदाशी का व्रत बाद्रऩद शुक्र ऩऺ की
ितुदाशी को फकमा जाता हं । इस फदन बगवान नायामण

नवीन अनॊत को धायण कय ऩुयाने का त्माग सनम्न भॊि
से कयं -

न्मूनासतरयिासन ऩरयस्पुटासन मानीह कभाास्ण भमा कृ तासन।

की कथा की जाती है । इस फदन अनन्त बगवान की ऩूजा
कयके बिगण वेद-ग्रॊथं का ऩाठ कयके सॊकटं से यऺा
कयने वारा अनन्तसूिफाॊधा जाता हं ।

सवाास्ण िैतासन भभ ऺभस्व प्रमाफह तुद्श् ऩुनयागभाम॥

(बोग) भं सनवेफदत ऩकवान दे कय स्वमॊ सऩरयवाय

अनॊत ितुदाशी का व्रत की ऩूजा दोऩहय भं की जाती हं ।
व्रत-ऩूजन त्रवधान:

अनॊत ितुदाशी का व्रत वारे फदन व्रती को प्रात्
स्नान कयके सनम्न भॊि से सॊकल्ऩ कयना िाफहमे।

भभास्खरऩाऩऺमऩूवक
ा शुबपरवृद्धमे

श्रीभदनॊतप्रीसतकाभनमा अनॊतव्रतभहॊ करयष्मे।

शास्त्रं भं मद्यत्रऩ व्रत का सॊकल्ऩ एवॊ ऩूजन फकसी
ऩत्रवि नदी मा सयोवय के तट ऩय कयने का त्रवधान है ,
मफद महॊ सॊबव न हो, तो घय भं ऩूजागृह की स्वच्ि
बूसभ को सुशोसबत कयके करश स्थात्रऩत कयं ।

करश ऩय अद्शदर कभर के सभान फने फतान ऩय
शेषनाग की शैय्माऩय रेटे बगवान त्रवष्णु की भूसता
अथवा सिि को यखं।

भूसता के सम्भुख कुभकुभ, केसय मा हल्दी से यॊ गा
िौदह गाॉठं वारा 'अनॊत' अथाात सूि मा घागा बी
यखं।

इसके फाद ॐ अनन्तामनभ: भॊि से बगवान त्रवष्णु
तथा अनॊतसूिकी षोडशोऩिाय-त्रवसधसे ऩूजा कयं ।

ऩूजनोऩयाॊत अनन्तसूिको भॊि ऩढकय ऩुरुष अऩने
दाफहने हाथ औय स्त्री फाएॊ हाथ भं फाॊध रं:

अनॊन्तसागयभहासभुद्रेभग्नान्सभभ्मुद्धयवासुदेव।

अनॊतरूऩेत्रवसनमोस्जतात्भाह्यनन्तरूऩामनभोनभस्ते॥

अनॊतसूिफाॊध रेने के ऩद्ळात फकसी ब्राह्मण को नैवेद्य
प्रसाद ग्रहण कयं ।

ऩूजा के फाद व्रत-कथा को ऩढं मा सुनं।

अनॊत व्रत बगवान त्रवष्णु को प्रसन्न कयने वारा तथा
अनॊत परदामक भाना गमा है ।

अनॊत व्रत भं बगवान त्रवष्णु से धन-ऩुिाफद की
काभना से फकमा जाता है ।

त्रवद्रानो के भत से अनॊत की िौदह गाॊठं िौदह रोकं
की प्रतीक हं , स्जनभं अनॊत बगवान त्रवद्यभान हं ।

अनॊत ितुदाशी व्रतकथा
ऩोयास्णक

कथाके

अनुशाय

एक

फाय

भहायाज

मुसधत्रद्षय ने याजसूममऻ फकमा। मऻभॊडऩ का सनभााण असत
सुॊदय था ही, अद्भत
ु बी था। उसभं जर भं स्थर तथा
स्थर भं जर की भ्राॊसत उत्ऩन्न होती थी। ऩूयी सावधानी

के फाद बी फहुत से असतसथ उस अद्भत
ु भॊडऩ भं धोखा

खा िुके थे। दम
ु ोधन बी उस मऻभॊडऩ भं घूभते हुए
स्थर के भ्रभ भं एक ताराफ भं सगय गए।

तफ बीभसेन तथा द्रौऩदी ने 'अॊधं की सॊतान
अॊधी' कहकय दम
ु ोधन का भजाक उड़ामा। इससे दम
ु ोधन

सिढ़ गमा। उसके भन भं द्रे ष ऩैदा हो गमा औय भस्स्तक
भं उस अऩभान का फदरा रेने के त्रविाय उऩजने रगे।
कापी फदनं तक वह इसी उल्झन भं यहा फक आस्खय
ऩाॉडवं से अऩने अऩभान का फदरा फकस प्रकाय सरमा
जाए। तबी उसके भस्स्तष्क भं द्यूत क्रीड़ा भं ऩाॉडवं को
हयाकय उस अऩभान का फदरा रेने की मुत्रि आई। उसने

ससतम्फय 2013

41

ऩाॉडवं को जुए के सरए न केवर आभॊत्रित ही फकमा

कंफडन्म ऋत्रष ने सुशीरा से डोये के फाये भं ऩूिा तो

फस्ल्क उन्हं जुए भं ऩयास्जत बी कय फदमा।

उसने सायी फात स्ऩद्श कय दी। ऩयॊ तु ऐद्वमा के भद भं

ऩयास्जत होकय ऩाॉडवं को फायह वषा के सरए

अॊधे हो िुके कंफडन्म ऋत्रष को इससे कोई प्रसन्नता नहीॊ

वनवास बोगना ऩड़ा। वन भं यहते हुए ऩाॉडव अनेक कद्श

हुई, फस्ल्क क्रोध भं आकय उन्हंने उसके हाथ भं फॊधे डोये

से अऩना द्ु ख कहा तथा उसको दयू कयने का उऩाम

मह अनॊतजी का घोय अऩभान था। उनके इस

सहते यहे । एक फदन वन भं मुसधत्रद्षय ने बगवान श्रीकृ ष्ण

ऩूिा। तफ श्रीकृ ष्ण ने कहा- हे मुसधत्रद्षय! तुभ त्रवसधऩूवक

अनॊत बगवान का व्रत कयो। इससे तुम्हाये साये सॊकट दयू

हो जाएगा। तुम्हं हाया हुआ याज्म बी वाऩस सभर
जाएगा।

मुसधत्रद्षय के आग्रह ऩय इस सॊदबा भं श्रीकृ ष्ण एक
कथा सुनाते हुए फोरे- प्रािीन कार भं सुभन्तु ब्राह्मण की
ऩयभ सुॊदयी तथा धभाऩयामण सुशीरा नाभक कन्मा थी।

को तोड़कय आग भं जरा फदमा।

दष्ु कभा का ऩरयणाभ बी शीघ्र ही साभने आ गमा।
कंफडन्म भुसन द्ु खी यहने रगे।

उनकी सायी सम्ऩत्रत्त नद्श हो गई। इस दरयद्रता का

कायण ऩूिने ऩय सुशीरा ने डोये जराने की फात दोहयाई।
तफ ऩद्ळाताऩ कयते हुए ऋत्रष 'अनॊत' की प्रासद्ऱ के सरए वन
भं सनकर गए।

जफ वे बटकते-बटकते सनयाश होकय सगय ऩड़े तो

त्रववाह मोग्म होने ऩय ब्राह्मण ने उसका त्रववाह कंफडन्म

बगवान अनॊत प्रकट होकय फोरे- 'हे

ऋत्रष से कय फदमा। कंफडन्म ऋत्रष सुशीरा को रेकय

सतयस्काय के कायण ही तुभ द्ु खी हुए हो रेफकन तुभने

अऩने आश्रभ की ओय िरे तो यास्ते भं ही यात हो गई।
वे एक नदी के तट ऩय सॊध्मा कयने रगे।

कंफडन्म! भेये

ऩद्ळाताऩ फकमा है , अत् भं प्रसन्न हूॉ। ऩय घय जाकय
त्रवसधऩूवक
ा अनॊत व्रत कयो। िौदह वषा ऩमान्त व्रत कयने

सुशीरा ने दे खा- वहाॉ ऩय फहुत-सी स्स्त्रमाॉ सुॊदय-

से तुम्हाया साया द्ु ख दयू हो जाएगा। तुम्हं अनॊत सम्ऩत्रत्त

उत्सुकतावश सुशीरा ने उनसे उस ऩूजन के त्रवषम भं

कंफडन्म ऋत्रष ने वैसा ही फकमा। उन्हं साये क्रेशं

ऩूिा तो उन्हंने त्रवसधऩूवक
ा अनॊत व्रत की भहत्ता फता दी।

से भुत्रि सभर गई। श्रीकृ ष्ण की आऻा से मुसधत्रद्षय ने बी

सुशीरा ने वहीॊ उस व्रत का अनुद्षान कयके िौदह गाॊठं

बगवान अनॊत का व्रत फकमा स्जसके प्रबाव से ऩाॉडव

वारा डोया हाथ भं फाॉधा औय अऩने ऩसत के ऩास आ

भहाबायत के मुद्ध भं त्रवजमी हुए तथा सियकार तक

सुॊदय वस्त्र धायण कयके फकसी दे वता की ऩूजा कय यही हं ।

गई।

सभरेगी।

सनष्कॊटक याज्म कयते यहे ।

गणेशजी को दव
ु ाा-दर िढ़ाने का भॊि

गणेशजी को 21 दव
ु ाादर िढ़ाई जाती है । दो दव
ु ाादर नीिे सरखे नाभभॊिं के साथ िढ़ाएॊ।

ॐ ईशऩुिाम नभ:।

ॐ गणासधऩाम नभ:।

ॐ एकदन्ताम नभ:।

ॐ उभाऩुिाम नभ:।

ॐ त्रवघ्ननाशनाम नभ:।
ॐ त्रवनामकाम नभ:।

ॐ सवाससद्धप्रदाम नभ:।
ॐ इबवक्िाम नभ:।

ॐ भूषकवाहनाम नभ:।
ॐ कुभायगुयवे नभ:।

ससतम्फय 2013

42

भनोवाॊसित परो फक प्रासद्ऱ हे तु ससत्रद्ध प्रद गणऩसत स्तोि

 सिॊतन जोशी
प्रसतफदन इस स्तोि का ऩाठ कयने से
भनोवाॊसित पर शीघ्र प्राद्ऱ होते हं ।
भनोवाॊसित पर प्राद्ऱ कयने हे तु गणेशजी
के सिि मा भूसता

के साभने भॊि जाऩ कय सकते

हं । ऩूणा श्रद्धा एवॊ ऩूणा त्रवद्वास के साथ भनोवाॊसित
पर प्रदान कयने वारे इस स्तोि का प्रसतफदन
कभ से कभ 21 फाय ऩाठ अवश्म कयं ।

असधकस्म असधकॊ परभ ्।

जऩ स्जतना असधक हो सके उतना अच्िा है । मफद भॊि
असधक फाय जाऩ कय सकं तो श्रेद्ष।
प्रात् एवॊ सामॊकार दोनं सभम कयं , पर
शीघ्र प्राद्ऱ होता है ।
काभना ऩूणा होने के ऩद्ळमात बी सनमसभत स्त्रोत रा ऩाठ कयते यहना िाफहए। कुि एक त्रवशेष ऩरयस्स्थसत भं ऩूवा
जन्भ के सॊसित कभा स्वरूऩ प्रायब्ध की प्रफरता के कायण भनोवाॊसित पर की प्रासद्ऱ मा तो दे यी सॊबव हं !
भनोवाॊसित पर की प्रासद्ऱ के अबाव भं मोग्म त्रवद्रान की सराह रेकय भागादशान प्राद्ऱ कयना उसित होगा।
अत्रवद्वास व कुशॊका कयके आयाध्म के प्रसत अश्रद्धा व्मि कयने से व्मत्रि को प्रसतकूर प्ररयणाभ फह प्राद्ऱ होते हं ।
शास्त्रोि विन हं फक बगवान (इद्श) फक आयाधना कबी व्मथा नहीॊ जाती।

भॊि:-

गणऩसतत्रवघ्ा नयाजो रम्फतुण्डो गजानन्। द्रै भातुयद्ळ हे यम्फ एकदन्तो गणासधऩ्॥
त्रवनामकद्ळारुकणा् ऩशुऩारो बवात्भज्। द्रादशैतासन नाभासन प्रातरुत्थाम म् ऩठे त॥्

त्रवद्वॊ तस्म बवेद्रश्मॊ न ि त्रवघ्नॊ बवेत ् क्वसित।् (ऩद्म ऩु. ऩृ. 61।31-33)

बावाथा: गणऩसत, त्रवघ्नयाज, रम्फतुण्ड, गजानन, द्रै भातुय, हे यम्फ, एकदन्त, गणासधऩ, त्रवनामक, िारुकणा, ऩशुऩार औय
बवात्भज- गणेशजी के मह फायह

नाभ हं । जो व्मत्रि प्रात्कार उठकय इनका सनमसभत ऩाठ कयता हं , सॊऩूणा त्रवद्व

उनके वश भं हो जाता हं , तथा उसे जीवन भं कबी त्रवघ्न का साभना नहीॊ कयना ऩड़ता।

गणेश रक्ष्भी मॊि
प्राण-प्रसतत्रद्षत गणेश रक्ष्भी मॊि को अऩने घय-दक
ु ान-ओफपस-पैक्टयी भं ऩूजन स्थान, गल्रा मा अरभायी भं स्थात्रऩत

कयने व्माऩाय भं त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । मॊि के प्रबाव से बाग्म भं उन्नसत, भान-प्रसतद्षा एवॊ

व्माऩाय भं वृत्रद्ध होती

हं एवॊ आसथाक स्स्थभं सुधाय होता हं । गणेश रक्ष्भी मॊि को स्थात्रऩत कयने से बगवान गणेश औय दे वी रक्ष्भी का
सॊमुि आशीवााद प्राद्ऱ होता हं ।

Rs.730 से Rs.10900 तक >> Order Now

43

ससतम्फय 2013

भॊि ससद्ध ऩन्ना गणेश से से हो सकता हं वास्तु दोष का सनवायण

 सिॊतन जोशी
फहॊ द ू सॊस्कृ सत भं बगवान गणेश सवा त्रवघ्न त्रवनाशक

भाना हं । इसी कायण गणऩसत जी का ऩूजन फकसी बी व्रत
अनुद्षान भं सवा प्रथभ फकमा जाता हं । बवन भं वास्तु ऩूजन
कयते सभम बी गणऩसत जी को प्रथभऩूजा जाता हं । स्जस घय

भं सनमसभत गणऩसत जी का त्रवसध त्रवधान से ऩूजन होता हं ,
वहाॊ सुख-सभृत्रद्ध एवॊ रयत्रद्ध-ससत्रद्ध का सनवास होता हं ।
गणेश प्रसतभा (भूसता) की स्थाऩना बवन के भुख्म द्राय
के ऊऩय अॊदय-फहाय दोनो औय रगाने से असधक राब प्राद्ऱ
होता हं ।
गणेश प्रसतभा (भूसता) की ऩूजा घयभं स्थाऩना कयने
ऩय उन्हं ससॊदयू िढाने से शुब पर फक प्रासद्ऱ होती हं ।
बवन भं द्रायवेध हो, अथाात बवन के भुख्म द्राय के
साभने वृऺ, भॊफदय, स्तॊब आफद द्राय भं प्रवेश
कयने वारी उजाा हे तु फाधक होने ऩय वास्तु भं उसे
द्रायवेध भाना जाता हं । द्रायवेध होने ऩय वहाॊ यहने वारं भं उच्िाटन होता हं । ऐसे भं बवन के भुख्म द्राय ऩय गणोशजी
की फैठी हुई प्रसतभा (भूसता) रगाने से द्रायवेध का सनवायण होता हं ।

* भूसता का आकाय 11 अॊगुर से असधक नहीॊ होना िाफहए।
वास्तु दोष के सनवायण एवॊ घय की सुख शाॊसत के सरए ऩन्ना गणेश की प्रसतभा त्रवशेष परदामी हं ।

ऩूजा स्थानभं ऩूजन के सरए गणेश जी की एक से असधक प्रसतभा (भूसता) यखना वस्जात हं ।

भॊि ससद्ध दर
ा साभग्री
ु ब
हत्था जोडी- Rs- 5500

घोडे की नार- Rs.351

भामा जार- Rs- 251

त्रफल्री नार- Rs- 370

भोसत शॊख- Rs- 550

धन वृत्रद्ध हकीक सेट Rs-251

ससमाय ससॊगी- Rs- 730

दस्ऺणावतॉ शॊख- Rs- 550

GURUTVA KARYALAY

इन्द्र जार- Rs- 251

>> Order Now

Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785,
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com

44

ससतम्फय 2013

।।गणऩसत अथवाशीषा।।
ॐ नभस्ते गणऩतमे। त्वभेव प्रत्मऺॊ तत्वभसस । त्वभेव केवरॊ कताा सस। त्वभेव केवरॊ धताासस। त्वभेव केवरॊ
हताासस । त्वभेव सवं खस्ल्वदॊ ब्रह्मासस। त्व साऺादात्भासस सनत्मभ ्। ऋतॊ वस्च्भ। सत्मॊ वस्च्भ। अव त्व भाॊभ ्। अव
विायभ ्। अव श्रोतायभ ्। अव दातायभ ्। अव धातायभ ्। अवा नूिानभव सशष्मभ ्।अव ऩद्ळातात ्।अव ऩुयस्तात ्। अवोत्तयात्तात ्।
अव दस्ऺणात्तात ्।
अव िोध्वाात्तात ्। अवाधयात्तात ्। सवातो भाॉ ऩाफह-ऩाफह सभॊतात ्। त्वॊ वाङ्भम स्त्वॊ सिन्भम्। त्वभानॊदभसमस्त्वॊ
ब्रह्मभम्। त्वॊ सस्च्िदानॊदात ् फद्रतीमोसस। त्वॊ प्रत्मऺॊ ब्रह्मासस। त्वॊ ऻानभमो त्रवऻानभमोसस। सवं जगफददॊ त्वत्तो जामते।
सवं जगफददॊ त्वत्त स्स्तद्षसत। सवं जगफददॊ त्वसम वमभेष्मसत। सवं जगफददॊ त्वसम प्रत्मेसत। त्वॊ बूसभयाऩोनरो सनरो नब्।
त्वॊ ित्वारय वाकूऩदासन। त्वॊ गुणिमातीत: त्वभवस्थािमातीत्। त्वॊ दे हिमातीत्। त्वॊ कारिमातीत्। त्वॊ भूराधाय
स्स्थतोसस सनत्मॊ। त्वॊ शत्रि िमात्भक्। त्वाॊ मोसगनो ध्मामॊसत सनत्मॊ। त्वॊ ब्रह्मा त्वॊ त्रवष्णुस्त्वॊ रूद्रस्त्वॊ इॊ द्रस्त्वॊ अस्ग्नस्त्वॊ
वामुस्त्वॊ सूमस्
ा त्वॊ िॊद्रभास्त्वॊ ब्रह्मबूबव
ुा :स्वयोभ ्।
गणाफद ऩूवभ
ा ुच्िामा वणााफदॊ तदनॊतयभ ्। अनुस्वाय: ऩयतय्। अधेन्दर
ु ससतभ ्। ताये ण ऋद्धॊ । एतत्तव भनुस्व रूऩभ ्।
गकाय: ऩूवरू
ा ऩभ ्। अकायो भध्मभरूऩभ ्। अनुस्वायद्ळान्त्मरूऩभ ्। त्रफन्दरू
ु त्तयरूऩभ ्। नाद: सॊधानभ ्। सॉ फहतासॊसध: सैषा गणेश
त्रवद्या। गणकऋत्रष: सनिृद्गामिीच्िॊ द्। गणऩसतदे वता। ॐ गॊ गणऩतमे नभ्।एकदॊ ताम त्रवद्धभहे । वक्रतुण्डाम धीभफह। तन्नो
दॊ ती प्रिोदमात ्। एकदॊ तॊ ितुहास्तॊ ऩाशभॊकुश धारयणभ ्। यदॊ ि वयदॊ हस्तै त्रवाभ्राणॊ भूषकध्वजभ ्। यिॊ रॊफोदयॊ शूऩा कणाकॊ
यिवाससभ ्। यिगॊधानु सरद्ऱाॊगॊ यिऩुष्ऩै: सुऩुस्जतभ ्। बिानुकॊत्रऩनॊ दे वॊ जगत्कायण भच्मुतभ ्। आत्रवबूत
ा ॊ ि सृद्शमादौ प्रकृ ते
ऩुरुषात्ऩयभ ्। एवॊ ध्मामसत मो सनत्मॊ स मोगी मोसगनाॊ वय्।
नभो व्रातऩतमे। नभो गणऩतमे। नभ: प्रभथऩतमे। नभस्ते अस्तु रॊफोदयामै एकदॊ ताम। त्रवघ्ननासशने सशवसुताम।
श्रीवयदभूतम
ा े नभो नभ्। एतदथवा शीषा मोधीते। स ब्रह्म बूमाम कल्ऩते। स सवा त्रवघ्नैनफ
ा ाध्मते। स सवात: सुखभेधते। स
ऩच्िभहाऩाऩात्प्रभुच्मते। सामभधीमानो फदवसकृ तॊ ऩाऩॊ नाशमसत। प्रातयधीमानो यात्रिकृ तॊ ऩाऩॊ नाशमसत। सामॊ प्रात:
प्रमुॊजानो अऩाऩो बवसत। सवािाधीमानो ड ऩत्रवघ्नो बवसत। धभााथक
ा ाभभोऺॊ ि त्रवॊदसत। इदभथवाशीषाभसशष्माम न दे मभ ्।
मो मफद भोहात ् दास्मसत स ऩाऩीमान ् बवसत। सहस्रावतानात ् मॊ मॊ काभभधीते तॊतभनेन साधमेत ्। अनेन गणऩसत
भसबत्रषॊिसत स वाग्भी बवसत । ितुथ्मााभनश्र्नन जऩसत स त्रवद्यावान बवसत। इत्मथवाण वाक्मभ ्। ब्रह्माद्यावयणॊ त्रवद्यात ् न
त्रफबेसत कदािनेसत। मो दव
ा सत स वैश्रवणोऩभो बवसत। मो राजैमज
ा सत स मशोवान बवसत स भेधावान बवसत। मो
ू ांकुयं मज
भोदक सहस्रेण मजसत स वाॊसित पर भवाप्रोसत। म: साज्मससभत्रद्भ माजसत स सवं रबते स सवं रबते। अद्शौ ब्राह्मणान ्
सम्मग्ग्राहसमत्वा सूमा विास्वी बवसत। सूमग्र
ा हे भहानद्याॊ प्रसतभा सॊसनधौ वा जप्त्वा ससद्धभॊिं बवसत। भहात्रवघ्नात ् प्रभुच्मते।
भहादोषात ् प्रभुच्मते। भहाऩाऩात ् प्रभुच्मते। स सवात्रवद् बवसत से सवात्रवद् बवसत । म एवॊ वेद इत्मुऩसनषद्ध।
॥इसत श्री गणऩसत अथवाशीषा सम्ऩुणा ॥

ससतम्फय 2013

45

गणेश स्तवन
श्री आफद कत्रव वाल्भीफक उवाि
ितु:षत्रद्शकोटमाख्मत्रवद्याप्रदॊ त्वाॊ सुयािामात्रवद्याप्रदानाऩदानभ ्। कठाबीद्शत्रवद्याऩाकॊ दन्तमुग्भॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
स्वनाथॊ प्रधानॊ भहात्रवघन्नाथॊ सनजेच्िात्रवसृद्शाण्डवृन्दे शनाथभ ्। प्रबुॊ दस्ऺणास्मस्म त्रवद्याप्रदॊ त्वाॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
त्रवबो व्माससशष्माफदत्रवद्यात्रवसशद्शत्रप्रमानेकत्रवद्याप्रदातायभाद्यभ ्। भहाशािदीऺागुरुॊ श्रेद्षदॊ त्वाॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
त्रवधािे िमीभुख्मवेदाॊद्ळ मोगॊ भहात्रवष्णवे िागभाज शॊकयाम। फदशन्तॊ ि सूमााम त्रवद्यायहस्मॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
भहाफुत्रद्धऩुिाम िैकॊ ऩुयाणॊ फदशन्तॊ गजास्मस्म भाहात्म्ममुिभ ्। सनजऻानशक्त्मा सभेतॊ ऩुयाणॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
िमीशीषासायॊ रुिानेकभायॊ यभाफुत्रद्धदायॊ ऩयॊ ब्रह्मऩायभ ्। सुयस्तोभकामॊ गणौघासधनाथॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
सिदानन्दरूऩॊ भुसनध्मेमरूऩॊ गुणातीतभीशॊ सुयेशॊ गणेशभ ्। धयानन्दरोकाफदवासत्रप्रमॊ त्वाॊ कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
अनेकप्रतायॊ सुयिाब्जहायॊ ऩयॊ सनगुण
ा ॊ त्रवद्वसद्धब्रह्मरूऩभ ्। भहावाक्मसॊदोहतात्ऩमाभसू ता कत्रवॊ फुत्रद्धनाथॊ कवीनाॊ नभासभ॥
इदॊ मे तु कव्मद्शकॊ बत्रिमुिास्स्त्रसॊध्मॊ ऩठन्ते गजास्मॊ स्भयन्त:। कत्रवत्वॊ सुवाक्माथाभत्मद्भत
ु ॊ ते रबन्ते प्रसादाद् गणेशस्म भुत्रिभ ्॥

॥इसत श्री वाल्भीफक कृ त श्रीगणेश स्तोि सॊऩूणभ
ा ्॥
पर: जो व्मत्रि श्रद्धा बाव से तीनोकार सुफह सॊध्मा एवॊ यािी के सभम वाल्भीफक कृ त श्रीगणेश का स्तवन कयते उन्हे
सबी बौसतक सुखो फक प्रासद्ऱ होकय उसे भोऺ को प्राद्ऱ कय रेता हं , एसा शास्रोि विन हं ।

श्री नायामण उवाि

त्रवष्णुकृतॊ गणेशस्तोिभ ्

अथ त्रवष्णु: सबाभध्मे सम्ऩूज्म तॊ गणेद्वयभ ्। तृद्शाव ऩयमा बक्त्मा सवात्रवघस्न्वनाशकभ ्॥
श्री त्रवष्णु उवाि

ईश त्वाॊ स्तोतुसभच्िासभ ब्रह्मज्मोसत: सनातनभ ्। सनरूत्रऩतुभशिोऽहभनुरूऩभनीहकभ ्॥1॥ प्रवयॊ सवादेवानाॊ ससद्धानाॊ मोसगनाॊ
गुरुभ ्। सवास्वरूऩॊ सवेशॊ ऻानयासशस्वरूत्रऩणभ ्॥2॥ अव्मिभऺयॊ सनत्मॊ सत्मभात्भस्वरूत्रऩणभ ्। वामुतुल्मासतसनसराद्ऱॊ िाऺतॊ
सवासास्ऺणभ ्॥3॥ सॊसायाणावऩाये

ि भामाऩोते सुदर
ा े। कणाधायस्वरूऩॊ
ु ब

ि बिानुग्रहकायकभ ्॥4॥ वयॊ

वये ण्मॊ वयदॊ

वयदानाभऩीद्वयभ ्। ससद्धॊ ससत्रद्धस्वरूऩॊ ि ससत्रद्धदॊ ससत्रद्धसाधनभ ्॥5॥ ध्मानासतरयिॊ ध्मेमॊ ि ध्मानासाध्मॊ ि धासभाकभ ्।
धभास्वरूऩॊ धभाऻॊ धभााधभापरप्रदभ ्॥6॥ फीजॊ सॊसायवृऺाणाभङ्कुयॊ ि तदाश्रमभ ्। स्त्रीऩुन्नऩुॊसकानाॊ ि रूऩभेतदतीस्न्द्रमभ ्॥7॥

सवााद्यभग्रऩूज्मॊ ि सवाऩूज्मॊ गुणाणावभ ्। स्वेच्िमा सगुणॊ ब्रह्म सनगुण
ा ॊ िात्रऩ स्वेच्िमा॥8॥ स्व्मॊ प्रकृ सतरूऩॊ ि प्राकृ तॊ प्रकृ ते:

ऩयभ ्। त्वाॊ स्तोतुभऺभोऽनन्त: सहस्त्रवदनेन ि॥9॥ न ऺभ: ऩञ्िवक्िद्ळ न ऺभद्ळतुयानन्। सयस्वती न शिा ि न
शिोऽहॊ तव स्तुतौ॥10॥ न शिाद्ळ ितुवद
े ा: के वा ते वेदवाफदन्॥11॥ इत्मेवॊ स्तवनॊ कृ त्वा सुयेशॊ सुयसॊसफद। सुयेशद्ळ सुयै:

साद्र्ध त्रवययाभ यभाऩसत्॥12॥ इदॊ त्रवष्णुकृतॊ स्तोिॊ गणेशस्म ि म: ऩठे त ्। सामॊप्रातद्ळ भध्मााे बत्रिमुि: सभाफहत्॥13॥
तफद्रघस्न्नघन ् कुरुते त्रवघनेद्व्सततॊ भुने। वधाते सवाकल्माणॊ कल्माणजनक: सदा॥14॥ मािाकारे ऩफठत्वा तु मो मासत
बत्रिऩूवक
ा भ ्। तस्म सवााबीद्शससत्रद्धबावत्मेव न सॊशम्॥15॥ तेन दृद्शॊ ि द:ु स्वऩन ् सुस्वऩन्भुऩजामते। कदात्रऩ न बवेत्तस्म

ग्रहऩीडा ि दारुणा॥16॥ बवेद् त्रवनाश: शिूणाॊ फन्धूनाॊ ि त्रववधानभ ्। शद्वफद्रघस्न्वनाशद्ळ शद्वत ् सम्ऩफद्रवधानभ ्॥17॥ स्स्थया
बवेद् गृहे रक्ष्भी: ऩुिऩौित्रववसधानी। सवैद्वमासभह प्राप्म ह्यन्ते त्रवष्णुऩदॊ रबेत ्॥18॥ परॊ िात्रऩ ि तीथाानाॊ मऻानाॊ मद्
बवेद् ध्रुवभ ्। भहताॊ सवादानानाॊ श्री गणेशप्रसादत्॥19॥

ससतम्फय 2013

46

बाग्म रक्ष्भी फदब्फी
सुख-शास्न्त-सभृत्रद्ध की प्रासद्ऱ के सरमे बाग्म रक्ष्भी फदब्फी :- स्जस्से धन प्रसद्ऱ, त्रववाह मोग, व्माऩाय वृत्रद्ध,
वशीकयण, कोटा किेयी के कामा, बूतप्रेत फाधा, भायण, सम्भोहन, तास्न्िक फाधा, शिु बम, िोय बम जेसी
अनेक ऩये शासनमो से यऺा होसत है औय घय भे सुख सभृत्रद्ध फक प्रासद्ऱ होसत है , बाग्म रक्ष्भी फदब्फी भे

रघु श्री फ़र, हस्तजोडी (हाथा जोडी), ससमाय ससन्गी, त्रफस्ल्र नार, शॊख, कारी-सफ़ेद-रार गुॊजा, इन्द्र
जार, भाम जार, ऩातार तुभडी जेसी अनेक दर
ा साभग्री होती है ।
ु ब

भूल्म:- Rs. 1450, 1900, 2800, 5500, 7300, 10900 भं उप्रब्द्ध >> Order Now .

भॊि ससद्ध दर
ा साभग्री
ु ब

भॊि ससद्ध भारा

हत्था जोडी- Rs- 370, 550, 730, 1250, 1450

स्पफटक भारा- Rs- 190, 280, 460, 730, DC 1050, 1250

ससमाय ससॊगी- Rs- 370, 550, 730, 1250, 1450

सपेद िॊदन भारा - Rs- 280, 460, 640

त्रफल्री नार- Rs- 370, 550, 730, 1250, 1450

यि (रार) िॊदन - Rs- 100, 190, 280

कारी हल्दी:- 370, 550, 750, 1250, 1450,

भोती भारा- Rs- 280, 460, 730, 1250, 1450 & Above

दस्ऺणावतॉ शॊख- Rs- 550, 750, 1250, 1900

त्रवधुत भारा - Rs- 100, 190

भोसत शॊख- Rs- 550, 750, 1250, 1900

ऩुि जीवा भारा - Rs- 280, 460

भामा जार- Rs- 251, 551, 751

कभर गट्टे की भारा - Rs- 210, 280

इन्द्र जार- Rs- 251, 551, 751

हल्दी भारा - Rs- 150, 280

धन वृत्रद्ध हकीक सेट Rs-251(कारी हल्दी के साथ Rs-550)

तुरसी भारा - Rs- 100, 190, 280, 370

घोडे की नार- Rs.351, 551, 751

नवयत्न भारा- Rs- 1050, 1900, 2800, 3700 & Above

ऩीरी कौफड़माॊ: 11 नॊग-Rs-111, 21 नॊग Rs-181

नवयॊ गी हकीक भारा Rs- 190 280, 460, 730

हकीक: 11 नॊग-Rs-111, 21 नॊग Rs-181

हकीक भारा (सात यॊ ग) Rs- 190 280, 460, 730

रघु श्रीपर: 1 नॊग-Rs-111, 11 नॊग-Rs-1111

भूॊगे की भारा Rs- 190, 280, Real -1050, 1900 & Above

नाग केशय: 11 ग्राभ, Rs-111

ऩायद भारा Rs- 730, 1050, 1900, 2800 & Above

कारी हल्दी:- 370, 550, 750, 1250, 1450,

वैजमॊती भारा Rs- 100,190

गोभती िक्र Small & Medium 11 नॊग-75, 101, 151, 201,

रुद्राऺ भारा: 100, 190, 280, 460, 730, 1050, 1450

गोभती िक्र Very Rare Big Size : 1 नॊग- 51 से 550

भूल्म भं अॊतय िोटे से फड़े आकाय के कायण हं ।

(असत दर
ा फड़े आकाय भं 5 ग्राभ से 11 ग्राभ भं उऩरब्ध)
ु ब

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA),

Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785,
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

ससतम्फय 2013

47

सुवणावणासुन्दयॊ

गणऩसतस्तोिभ ्

ससतैकदन्तफन्धुयॊ

प्रपुल्रवारयजासनॊ

बजासभ

गृहीतऩाशकाङ्कुशॊ वयप्रदाबमप्रदभ ्। ितुबुज
ा ॊ

ससन्धुयाननभ ्॥

प्रशोसबतास्ङ्घमत्रद्शकभ ्।

ऩयाम्फमा।

गृहप्रदे न्दस
ु ुन्दयॊ

सनयन्तयॊ

सुयासुयै:

भदौघरुब्धिञ्िरासरभञ्जुगुस्ञ्जतायवॊ
नभासभ

प्रिण्डयत्नकङ्कणॊ

कवीन्द्रसित्तयञ्जकॊ

भहात्रवऩत्रत्तबञ्जकॊ

सनत्मभादये ण

सयत्नहे भनूऩुयप्रशोसबतास्ङ्घ्रऩङ्कजभ ्॥

मुगऺणप्रभोफदतभ ्।

बजे गजेन्द्ररूत्रऩणभ ्॥ त्रवरयञ्ित्रवष्णुवस्न्दतॊ
सऩुिवाभरोिनै:

बुजङ्गभोऩवीसतनॊ

प्रदीद्ऱफाहुबूषणॊ

प्रबातसूमस
ा ुन्दयाम्फयद्रमप्रधारयणॊ

सुवणादण्डभस्ण्डतप्रिण्डिारुिाभयॊ
षडऺयस्वरूत्रऩणॊ

फकयीटहायकुण्डरॊ

त्रिरोिनॊ

त्रवरूऩरोिनस्तुतॊ

भहाभखेद्शकभासु

सगयीशदशानेच्िमा

स्भृतॊ

बजासभ

प्रफुद्धसित्तयञ्जकॊ प्रभोदकणािारकभ ्। अनन्मबत्रिभानवॊ

वक्रतुण्डनामकभ ्॥

दारयद्रमत्रवद्रावणभाशु

काभदॊ

स्तोिॊ

करिस्वजनेषु भैिी ऩुभान ् बवेदेकवयप्रसादात ्॥

सभत्रऩातॊ
तुस्न्दरभ ्॥

प्रिण्डभुत्रिदामॊ

ऩठे दे तदजस्त्रभादयात ्।

ऩुिी

इस स्तोिा का प्रसतफदन ऩाठ कयने से गणेशजी की कृ ऩा से उसे सॊतान राब, स्त्री प्रसत, सभि एवॊ
स्वजनो से एवॊ ऩरयवाय भं प्रेभ बाव फढता हं ।
त्रवनामको

त्रवघ्नयाजो

अस्ग्नगवास्च्िद
सवाात्भक्
द्रै भािेमो

॥श्री त्रवघ्नेद्वयाद्शोत्तय शतनाभस्तोिभ ् ॥

गौयीऩुिो

इन्द्रश्रीप्रद्

सृत्रद्शकताा

फीजऩूयपरासिो
श्रीदोज
शान्त्

त्रवदत्त
ु भ्

गुणातीतो
श्रीऩसत्

कान्त्

स्थूरकॊठ्

स्वमॊकताा

रृद्शस्तुद्श्
तुद्शाव

शॊकय्

दव
ू ाादरैत्रफाल्वऩिै्
.

ऩुिॊ

ऩुष्ऩैवाा

िॊदनाऺतै्

सवाससत्रद्धप्रदश्शवातनो
त्रप्रमश्शाॊतो

ग्रहऩसत्

ब्रह्मिायी


शवायीत्रप्रम्

गजानन्

काभी

सोभसूमाास्ग्नरोिन्

जफटर्

िक्रीऺुिाऩधृत ्

कसरकल्भषनाशन्

असश्रतश्रीकयस्सौम्मो

बिवाॊसितदामक्

ब्रह्मद्रे षत्रववस्जात्

१०

वीतबमो

दमामुतो

गदी

दाॊतो

याभासिातोत्रवसधनाागयाजमऻोऩवीतक्

सभस्तजगदाधायो
अद्शोत्तयशतेनैवॊ

म्

ऩदाम्फुज्

धीयो

ऩूजमेदनेनैव

भामी
नाम्नाॊ
बक्त्मा

सवाान्काभानवाप्नोसत

११

वागीशस्स्सत्रद्धदामक्

शैरेन्द्रतनुजोत्सङ्गखेरनोत्सुकभानस्

स्थूरतुण्डोऽग्रणी

ऻानी

फद्रजत्रप्रम्

कुराफद्रबेत्ता

हॊ तुभुत्मत्

दऺोऽध्मऺो

अकल्भषस्स्वमॊससद्धस्स्सद्धासिात्

ऩय्

ऩूतो

एकदन्तश्ितुफााहुश्ितुयश्शत्रिसॊमुत्

फद्रजत्रप्रमो

त्रवग्रह्

सवाससत्रद्धप्रदामक्
त्रिऩुयॊ


स्जतभन्भथत्रवग्रह्

प्रसन्नात्भा

कारो

त्रवफुधेद्वय्

दव
ू ाात्रफल्वत्रप्रमोऽव्मिभूसतायद्भत
ु भूसताभान ्
स्वरावण्मसुधासायो

शुद्धफुत्रद्ध

सभाफहत्

साभघोषत्रप्रम्

अव्मम्

स्तुसतहत्रषात्

ऩाऩहायी

श्रीकॊथो

कृ सत्

कैवल्मसुखदस्सस्च्िदानन्द

प्रभत्तदै त्मबमद्

सनयञ्जन्

वयदश्शाद्वत्

उत्ऩरकय्

िन्द्रिूडाभस्ण्

वाणीप्रदोअ्

बित्रवघ्नत्रवनाशन्

हयब्राह्म

ऩाशाङ्कुशधयद्ळण्डो

स्कॊदाग्रजोव्मम्

दे वोनेकासिातस्श्शव्

भुसनस्तुत्मो

रम्फोदयश्शूऩक
ा णो

गणेद्वय्।

भूषकवाहन्
त्रवघ्नेद्वयॊ

त्रवबुॊ

ससत्रद्धत्रवनामकभ ्
सवात्रवघ्नै्


१२

१३

१४

१५

१६

प्रभुच्मते

ससतम्फय 2013

48

गणेश वाहन भूषक केसे फना
सभेरू ऩवात ऩय सौभरय ऋत्रष का आश्रभ था। उनकी अत्मॊत रूऩवान तथा ऩसतव्रता ऩत्नी का नाभ भनोभमी था।

एक फदन ऋत्रषवय रकड़ी रेने के सरए वन भं िरे गए। उनके जाने के ऩद्ळमात भनोभमी गृहकामा भं व्मस्त हो गईं।

उसी सभम एक दद्श
ु कंि नाभक गॊधवा वहाॊ आमा। जफ कंि ने रावव्मभमी भनोभमी को दे खा, तो उसके बीतय काभ

जागृत होगमा एवॊ वह व्माकुर हो गमा। कंि ने भनोभमी का हाथ ऩकड़ सरमा। योती व काॊऩती हुई भनोभमी उससे
दमा की बीख भाॊगने रगी। उसी सभम वहा सौबरय ऋत्रष आ गए।
भूषक

उन्हं गॊधवा को श्राऩ दे ते हुए कहा, तुभने िोय की बाॊसत भेयी सहधसभानी का हाथ ऩकड़ा हं , इस कायण तुभ अफसे
होकय

धयती

के

नीिे

औय

िोयी

कयके

अऩना

ऩेट

बयोगे।’

ऋत्रष का श्राऩ सुनकय गॊधवा ने ऋत्रष से प्राथाना की- हे ऋत्रषवय, अत्रववेक के कायण भंने आऩकी ऩत्नी के हाथ का स्ऩशा
फकमा। भुझे ऺभा कय दं ।
ऋत्रष फोरे: कंि! भेया श्राऩ व्मथा नहीॊ होगा। तथात्रऩ द्राऩय भं भहत्रषा ऩयाशय के महाॊ गणऩसत दे व गजरूऩ भं प्रकट हंगे।
तफ तुभ उनका वाहन फन जाओगे। इसके ऩद्ळमात तुम्हाया कल्माण होगा तथा दे वगण बी तुम्हाया सम्भान कयं गे।

श्री हनुभान मॊि
शास्त्रं भं उल्रेख हं की श्री हनुभान जी को बगवान सूमद
ा े व ने ब्रह्मा जी के आदे श ऩय हनुभान जी को

अऩने तेज का सौवाॉ बाग प्रदान कयते हुए आशीवााद प्रदान फकमा था, फक भं हनुभान को सबी शास्त्र
का ऩूणा ऻान दॉ ग
ू ा। स्जससे मह तीनोरोक भं सवा श्रेद्ष विा हंगे तथा शास्त्र त्रवद्या भं इन्हं भहायत

हाससर होगी औय इनके सभन फरशारी औय कोई नहीॊ होगा। जानकायो ने भतानुशाय हनुभान मॊि की

आयाधना से ऩुरुषं की त्रवसबन्न फीभारयमं दयू होती हं , इस मॊि भं अद्भत
ु शत्रि सभाफहत होने के कायण

व्मत्रि की स्वप्न दोष, धातु योग, यि दोष, वीमा दोष, भूिाा, नऩुॊसकता इत्माफद अनेक प्रकाय के दोषो को
दयू कयने भं अत्मन्त राबकायी हं । अथाात मह मॊि ऩौरुष को ऩुद्श कयता हं । श्री हनुभान मॊि व्मत्रि को
सॊकट, वाद-त्रववाद, बूत-प्रेत, द्यूत फक्रमा, त्रवषबम, िोय बम, याज्म बम, भायण, सम्भोहन स्तॊबन इत्माफद
से सॊकटो से यऺा कयता हं औय ससत्रद्ध प्रदान कयने भं सऺभ हं ।

श्री हनुभान मॊि के त्रवषम भं असधक जानकायी के सरमे गुरुत्व कामाारम भं सॊऩका कयं ।
भूल्म Rs- 730 से 10900 तक >> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.in

49

ससतम्फय 2013

ससत्रद्ध त्रवनामक व्रत त्रवधान

 सिॊतन जोशी
ससत्रद्ध त्रवनामक व्रत बाद्रऩद शुक्र ऩऺ की ितुथॉ को ही फकमा जाता है । शास्त्रोि भान्मता के अनुशाय फदन दोऩहय भं
गणेशजी का जन्भ हुआ था। इसीसरए इस ितुथॉ को त्रवनामक ितुथॉ, ससत्रद्धत्रवनामक ितुथॉ औय श्रीगणेश ितुथॉ के
नाभ से जाना जाता है । इस सरमे ऩौयास्णक कार से ही इस सतसथ को गणेशोत्सव मा गणेश जन्भोत्सव के रूऩ भं
भनामा जाता हं ।
वैसे तो प्रत्मेक भास की ितुथॉ को गणेशजी का व्रत होता है । रेफकन बाद्रऩद के ितुसथा व्रत का त्रवशेष भाहात्म्म है ।

ऎसी भान्मता हं की इस फदन जो श्रधारु व्रत, उऩवास औय दान आफद शुब कामा फकमा जाता है , श्रीगणेश की कृ ऩा से
सौ गुना पर प्राद्ऱ हो जाता हं । व्मत्रि को श्री त्रवनामक ितुथॉ कयने से भनोवाॊसित पर प्राद्ऱ होता है ।
शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से श्री गणेशजी का ऩूजन व व्रत इस प्रकाय कयना अत्मॊत राबप्रद होता हं ।

त्रवसध

प्रात्कार स्नानआफद सनत्मकभा से शीघ्र सनवृत्त हो कय। अऩने साभथाम के अनुसाय ऩूणा बत्रि बाव से

बगवान गणेश की सोने, िाॊदी, ताॊफे, ऩीतर मा सभट्टी से फनी प्रसतभा स्थात्रऩत कयं । भूसता को षोड़शोऩिाय ऩूजनआयती आफद से त्रवसध-वत ऩूजन कयं ।


गणेशजी की भूसता ऩय ससॊदयू िढ़ाएॊ।

गणेशजी का भॊि फोरते हुए 21 दव
ु ाा दर िढ़ाएॊ।

श्री गणेशजी को रड्डु ओॊ का बोग रगाएॊ।

ब्राह्मण बोजन कयाएॊ औय ब्राह्मणं को दस्ऺणा प्रदान कयने के ऩद्ळात ् सॊध्मा के सभम स्वमॊ बोजन ग्रहण कयं ।

इस तयह ऩूजन कयने से बगवान श्रीगणेश असत प्रसन्न होते हं औय अऩने बिं की सकर इच्िाओॊ की ऩूसता कयते
हं ।

सॊकद्शहय ितुथॉ व्रत का प्रायॊ ब कैसे हुवा?

सॊकद्शहय ितुदशॉ कथा् बायद्राज भुसन औय ऩृथ्वी के ऩुि भॊगर की कफठन तऩस्मा से प्रसन्न होकय भाघ भास के

कृ ष्ण ऩऺ भं ितुथॉ सतसथ को गणऩसत ने उनको दशान फदमे थे।

गजानन के वयदान के परस्वरूऩ भॊगर कुभाय को इस फदन भॊगर ग्रह के रूऩ भं सौय भण्डर भं स्थान प्राद्ऱ हुवाथा।

भॊगर कुभाय को गजानन से मह बी वयदान सभरा फक भाघ कृ ष्ण ऩऺ की ितुदशॉ स्जसे सॊकद्शहय ितुथॉ के नाभ से जाना
जाता हं उस फदन जो बी व्मत्रि गणऩसतजी का व्रत यखेगा उसके सबी प्रकाय के कद्श एवॊ त्रवघ्न सभाद्ऱ हो जाएॊगे।

एक अन्म कथा के अनुसाय बगवान शॊकय ने गणऩसतजी से प्रसन्न होकय उन्हं वयदान फदमा था फक भाघ कृ ष्ण ऩऺ की ितुथॉ
सतसथ को िन्द्रभा भेये ससय से उतयकय गणेश के ससय ऩय शोबामभान होगा। इस फदन गणेश जी की उऩासना औय व्रत त्रि-ताऩ
(तीनो प्रकाय के ताऩ) का हयण कयने वारा होगा। इस सतसथ को जो व्मत्रि श्रद्धा बत्रि से मुि होकय त्रवसध-त्रवधान से गणेश
जी की ऩूजा कये गा उसे भनोवाॊसित पर फक प्रासद्ऱ होगी।

50

ससतम्फय 2013

गणेश ितुथॉ ऩय िॊद्र दशान से क्मं रगता हं करॊक?

 सिॊतन जोशी
गणेश ितुथॉ ऩय िॊद्र दशान सनषेध होने फक ऩौयास्णक भान्मता हं ।
शास्त्रंि विन के अनुशाय जो व्मत्रि

इस फदन िॊद्रभा को जाने-

अन्जाने दे ख रेता हं उसे सभथ्मा करॊक रगता हं । उस ऩय झूठा
आयोऩ रगता हं ।

कथा

एक फाय जयासन्ध के बम से बगवान कृ ष्ण

सभुद्र के फीि नगय फनाकय वहाॊ यहने रगे। बगवान
कृ ष्ण ने स्जस नगय भं सनवास फकमा था वह स्थान आज
द्रारयका के नाभ से जाना जाता हं ।
उस सभम द्रारयका ऩुयी के सनवासी से प्रसन्न

होकय सूमा बगवान ने सिजीत मादव नाभक व्मत्रि
अऩनी स्मभन्तक भस्ण वारी भारा अऩने गरे से उतायकय
दे दी।
मह भस्ण प्रसतफदन आठ सेय सोना प्रदान कयती थी। भस्ण ऩातेही
सिजीत मादव सभृद्ध हो गमा। बगवान श्री कृ ष्ण को जफ मह फात
ऩता िरी तो उन्हंने सिजीत
से स्मभन्तक भस्ण ऩाने

की इच्िा व्मि की। रेफकन सिजीत ने भस्ण श्री कृ ष्ण को न दे कय अऩने बाई

प्रसेनजीत को दे दी। एक फदन प्रसेनजीत सशकाय ऩय गमा जहाॊ एक शेय ने प्रसेनजीत को भायकय भस्ण रे री। मही
यीिं के याजा औय याभामण कार के जाभवॊत ने शेय को भायकय भस्ण ऩय कब्जा कय सरमा था।
कई फदनं तक प्रसेनजीत सशकाय से घय न रौटा तो सिजीत को सिॊता हुई औय उसने सोिा फक श्रीकृ ष्ण ने ही

भस्ण ऩाने के सरए प्रसेनजीत की हत्मा कय दी। इस प्रकाय सिजीत ने ऩुख्ता सफूत जुटाए त्रफना ही सभथ्मा प्रिाय कय
फदमा फक श्री कृ ष्ण ने प्रसेनजीत की हत्मा कयवा दी हं । इस रोकसनॊदा से आहत होकय औय इसके सनवायण के सरए
श्रीकृ ष्ण कई फदनं तक एक वन से दस
ू ये वन बटक कय प्रसेनजीत को खोजते यहे औय वहाॊ उन्हं शेय द्राया प्रसेनजीत
को भाय डारने औय यीि द्राया भस्ण रे जाने के सिा सभर गए। इन्हीॊ सिां के आधाय ऩय श्री कृ ष्ण जाभवॊत की गुपा

भं जा ऩहुॊिे जहाॊ जाभवॊत की ऩुिी भस्ण से खेर यही थी। उधय जाभवॊत श्री कृ ष्ण से भस्ण नहीॊ दे ने हे तु मुद्ध के सरए

तैमाय हो गमा। सात फदन तक जफ श्री कृ ष्ण गुपा से फाहय नहीॊ आए तो उनके सॊगी साथी उन्हं भया हुआ जानकाय
त्रवराऩ कयते हुए द्रारयका रौट गए। २१ फदनं तक गुपा भं मुद्ध िरता यहा औय कोई बी झुकने को तैमाय नहीॊ था। तफ

जाभवॊत को बान हुआ फक कहीॊ मे वह अवताय तो नहीॊ स्जनके दशान के सरए भुझे श्री याभिॊद्र जी से वयदान सभरा था।

तफ जाभवॊत ने अऩनी ऩुिी का त्रववाह श्री कृ ष्ण के साथ कय फदमा औय भस्ण दहे ज भं श्री कृ ष्ण को दे दी। उधय कृ ष्ण
जफ भस्ण रेकय रौटे तो उन्हंने सिजीत को भस्ण वाऩस कय दी। सिजीत अऩने फकए ऩय रस्ज्जत हुआ औय अऩनी
ऩुिी सत्मबाभा का त्रववाह श्री कृ ष्ण के साथ कय फदमा।

51

ससतम्फय 2013

कुि ही सभम फाद अक्रूय के कहने ऩय ऋतु वभाा ने सिजीत को भायकय भस्ण िीन री। श्री कृ ष्ण अऩने फड़े
बाई फरयाभ के साथ उनसे मुद्ध कयने ऩहुॊिे। मुद्ध भं जीत हाससर होने वारी थी फक ऋतु वभाा ने भस्ण अक्रूय को दे दी

औय बाग सनकरा। श्री कृ ष्ण ने मुद्ध तो जीत सरमा रेफकन भस्ण हाससर नहीॊ कय सके। जफ फरयाभ ने उनसे भस्ण के
फाये भं ऩूिा तो उन्हंने कहा फक भस्ण उनके ऩास नहीॊ। ऐसे भं फरयाभ स्खन्न होकय द्रारयका जाने की फजाम इॊ द्रप्रस्थ
रौट गए। उधय द्रारयका भं फपय ििाा पैर गई फक श्री कृ ष्ण ने भस्ण के भोह भं बाई का बी सतयस्काय कय फदमा। भस्ण
के िरते झूठे राॊिनं से दख
ु ी होकय श्री कृ ष्ण सोिने रगे फक ऐसा क्मं हो यहा है । तफ नायद जी आए औय उन्हंने
कहा फक हे कृ ष्ण तुभने बाद्रऩद भं शुक्र ितुथॉ की यात को िॊद्रभा के दशान फकमेथे औय इसी कायण आऩको सभथ्मा
करॊक झेरना ऩड़ यहा हं ।
श्रीकृ ष्ण िॊद्रभा के दशान फक फात त्रवस्ताय ऩूिने ऩय नायदजी ने श्रीकृ ष्ण को करॊक वारी मह कथा फताई थी।
एक फाय बगवान श्रीगणेश ब्रह्मरोक से होते हुए रौट यहे थे फक िॊद्रभा को गणेशजी का स्थूर शयीय औय गजभुख
दे खकय हॊ सी आ गई। गणेश जी को मह अऩभान सहन नहीॊ हुआ। उन्हंने िॊद्रभा को शाऩ दे ते हुए कहा, 'ऩाऩी तूने भेया

भजाक उड़ामा हं । आज भं तुझे शाऩ दे ता हूॊ फक जो बी तेया भुख दे खेगा, वह करॊफकत हो जामेगा।
गणेशजी शाऩ सुनकय िॊद्रभा फहुत दख
ु ी हुए। गणेशजी शाऩ के शाऩ वारी फाज िॊद्रभा ने सभस्त दे वताओॊ को सोनाई
तो सबी दे वताओॊ को सिॊता हुई। औय त्रविाय त्रवभशा कयने रगे फक िॊद्रभा ही यािी कार भं ऩृथ्वी का आबूषण हं औय

इसे दे खे त्रफना ऩृथ्वी ऩय यािी का कोई काभ ऩूया नहीॊ हो सकता। िॊद्रभा को साथ रेकय सबी दे वता ब्रह्माजी के ऩास
ऩहुिं। दे वताओॊ ने ब्रह्माजी को सायी घटना त्रवस्ताय से सुनाई उनकी फातं सुनकय ब्रह्माजी फोरे, िॊद्रभा तुभने सबी गणं
के अयाध्म दे व सशव-ऩावाती के ऩुि गणेश का अऩभान फकमा हं । मफद तुभ गणेश के शाऩ से भुि होना िाहते हो तो

श्रीगणेशजी का व्रत यखो। वे दमारु हं , तुम्हं भाप कय दं गे। िॊद्रभा गणेशजी को प्रशन्न कयने के सरमे कठोय व्रततऩस्मा कयने रगे। बगवान गणेश िॊद्रभा की कठोय तऩस्मा से प्रसन्न हुए औय कहा वषाबय भं केवर एक फदन बाद्रऩद
भं शुक्र ितुथॉ की यात को जो तुम्हं दे खेगा, उसे ही कोई सभथ्मा करॊक रगेगा। फाकी फदन कुि नहीॊ होगा। ’ केवर
एक ही फदन करॊक रगने की फात सुनकय िॊद्रभा सभेत सबी दे वताओॊ ने याहत की साॊस री। तफ से बाद्रऩद भं शुक्र
ितुथॉ की यात को िॊद्रभा के दशान का सनषेध हं ।

सशऺा से सॊफॊसधत सभस्मा
क्मा आऩके रडके-रडकी की ऩढाई भं अनावश्मक रूऩ से फाधा-त्रवघ्न मा रुकावटे हो यही हं ? फच्िो को
अऩने ऩूणा ऩरयश्रभ एवॊ भेहनत का उसित पर नहीॊ सभर यहा? अऩने रडके-रडकी की कॊु डरी का

त्रवस्तृत अध्ममन अवश्म कयवारे औय उनके त्रवद्या अध्ममन भं आनेवारी रुकावट एवॊ दोषो के कायण
एवॊ उन दोषं के सनवायण के उऩामो के फाय भं त्रवस्ताय से जनकायी प्राद्ऱ कयं ।

GURUTVA KARYALAY
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

52

ससतम्फय 2013

गणेश कविभ ्
सॊसायभोहनस्मास्म कविस्म प्रजाऩसत्। ऋत्रषश्िन्दद्ळ फृहती दे वो रम्फोदय: स्वमभ ्॥
धभााथक
ा ाभभोऺेषु त्रवसनमोग: प्रकीसतात्। सवेषाॊ कविानाॊ ि सायबूतसभदॊ भुने॥
ॐ गॊ हुॊ श्रीगणेशाम स्वाहा भे ऩातु भस्तकभ ्। द्रात्रिॊशदऺयो भन्िो रराटॊ भे सदावतु॥
ॐ ह्रीॊ क्रीॊ श्रीॊ गसभसत ि सॊततॊ ऩातु रोिनभ ्। तारुकॊ ऩातु त्रवघनेश: सॊततॊ धयणीतरे॥
ॐ ह्रीॊ श्रीॊ क्रीसभसत ि सॊततॊ ऩातु नाससकाभ ्। ॐ गं गॊ शूऩक
ा णााम स्वाहा ऩात्वधयॊ भभ॥
दन्तासन तारुकाॊ स्जह्वाॊ ऩातु भे षोडशाऺय्॥
ॐ रॊ श्रीॊ रम्फोदयामेसत स्वाहा गण्डॊ सदावतु। ॐ क्रीॊ ह्रीॊ त्रवघन्नाशाम स्वाहा कणा सदावतु॥
ॐ श्रीॊ गॊ गजाननामेसत स्वाहा स्कन्धॊ सदावतु। ॐ ह्रीॊ त्रवनामकामेसत स्वाहा ऩृद्षॊ सदावतु॥
ॐ क्रीॊ ह्रीसभसत कङ्कारॊ ऩातु वऺ:स्थरॊ ि गभ ्। कयौ ऩादौ सदा ऩातु सवााङ्गॊ त्रवघस्न्नघन्कृ त ्॥
प्राच्माॊ रम्फोदय: ऩातु आगनेय्माॊ त्रवघन्नामक्। दस्ऺणे ऩातु त्रवघनेशो नैऋात्माॊ तु गजानन्॥
ऩस्द्ळभे ऩावातीऩुिो वामव्माॊ शॊकयात्भज्॥ कृ ष्णस्माॊशद्ळोत्तये ि ऩरयऩूणत
ा भस्म ि॥
ऐशान्माभेकदन्तद्ळ हे यम्फ: ऩातु िोध्वात्। अधो गणासधऩ: ऩातु सवाऩूज्मद्ळ सवात्॥
स्वप्ने जागयणे िैव ऩातु भाॊ मोसगनाॊ गुरु्।
इसत ते कसथतॊ वत्स सवाभन्िौघत्रवग्रहभ ्। सॊसायभोहनॊ नाभ कविॊ ऩयभाद्भत
ु भ ्॥
श्रीकृ ष्णेन ऩुया दत्तॊ गोरोके यासभण्डरे। वृन्दावने त्रवनीताम भह्यॊ फदनकयात्भज्॥
भमा दत्तॊ ि तुभ्मॊ ि मस्भै कस्भै न दास्मसस। ऩयॊ वयॊ सवाऩूज्मॊ सवासङ्कटतायणभ ्॥
गुरुभभ्मच्मा त्रवसधवत ् कविॊ धायमेत्तु म्। कण्ठे वा दस्ऺणे फाहौ सोऽत्रऩ त्रवष्णुना सॊशम्॥
अद्वभेधसहस्त्रास्ण वाजऩेमशतासन ि। ग्रहे न्द्रकविस्मास्म कराॊ नाहा स्न्त षोडशीभ ्॥
इदॊ कविभऻात्वा मो बजेच्िॊ कयात्भजभ ्। शतरऺप्रजद्ऱोऽत्रऩ न भन्ि: ससत्रद्धदामक्॥
॥ इसत श्री गणेश कवि सॊऩूणभ
ा ्॥

॥गणेशद्रादशनाभस्तोिभ ्।।
शुक्राॊम्फयधयभ ् दे वभ ् शसशवणं ितुबज
ुा भ ् । प्रसन्नवदनभ ् ध्मामेत्सवात्रवघ्नोऩशाॊतमे ।।१।।
अबीस्प्सताथाससद्धध्मथं ऩूजेतो म: सुयासुयै्। सवात्रवघ्नहयस्तस्भै गणासधऩतमे नभ्।।२।।

गणानाभसधऩद्ळण्डो गजवक्िस्स्त्ररोिन्। प्रसन्न बव भे सनत्मभ ् वयदातत्रवानामक ।।३।।
सुभुखद्ळैकदन्तद्ळ कत्रऩरो गजकणाक: रम्फोदयद्ळ त्रवकटो त्रवघ्ननाशो त्रवनामक्।।४।।

धूम्रकेतुगण
ा ाध्मऺो बारिॊद्रो गजानन्। द्रादशैतासन नाभासन गणेशस्म म: ऩठे त ् ।। ५ ।।

त्रवद्याथॉ रबते त्रवद्याभ ् धनाथॉ त्रवऩुरभ ् धनभ ् । इद्शकाभभ ् तु काभाथॉ धभााथॉ भोऺभऺमभ ् ।। ६ ।।
त्रवद्यायभ्भे त्रववाहे ि प्रवेशे सनगाभे तथा सॊग्राभे सॊकटे द्ळैव त्रवघ्नस्तस्म न जामते ।। ७ ।।
॥इसत श्री गणेशद्रादशनाभ स्तोिभ ् सम्ऩुण॥

53

ससतम्फय 2013

ऋण भुत्रि हे तु श्री गणेश की भॊि साधना

 त्रवजम ठाकुय
त्रवसनमोग्- ॐ अस्म श्रीऋण हयण कतृा गणऩसत भन्िस्म सदा

जानु-जॊघे गणासधऩ्।

सशव ऋत्रष्, अनुद्शुऩ िन्द्, श्रीऋण हताा गणऩसत दे वता, ग्रं

हरयद्रा् सवादा ऩातु, सवांगे गण-नामक्॥

फीजॊ, गॊ शत्रि्, गं कीरकॊ, भभ सकर ऋण नाशाथे जऩे

॥स्तोि-ऩाठ॥

त्रवसनमोग्।

सृष्ट्मादौ ब्रह्मणा सम्मक् , ऩूस्जत् पर-ससद्धमे। सदै व ऩावाती-

ऋष्माफद न्मास्- सदा सशव ऋषमे नभ् सशयसस, अनुद्शुऩ िन्दसे

ऩुि्, ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥१॥

नभ् भुखे, श्रीऋण हताा गणऩसत दे वतामै नभ् रृफद, ग्रं

त्रिऩुयस्म वधात ् ऩूव-ं शम्बुना सम्मगसिात्। फहयण्म-

फीजाम नभ् गुह्य,े गॊ शिमे नभ् ऩादमो, गं कीरकाम नभ्
नाबौ, भभ सकर ऋण नाशाथे जऩे त्रवसनमोगाम नभ्
अच्जरौ।
कय न्मास्- ॐ गणेश अॊगद्ष
ु ाभ्माॊ नभ्, ऋण सिस्न्ध तजानीभ्माॊ
नभ्, वये ण्मॊ भध्मभाभ्माॊ नभ्, हुॊ अनासभकाभ्माॊ नभ्, नभ्
कसनत्रद्षकाभ्माॊ नभ्, पट् कय तर कय ऩृद्षाभ्माॊ नभ्।
षडॊ ग न्मास्- ॐ गणेश रृदमाम नभ्, ऋण सिस्न्ध सशयसे
स्वाहा, वये ण्मॊ सशखामै वषट्, हुॊ कविाम हुभ ्, नभ् नेि िमाम
वौषट्, पट् अस्त्राम पट्।
ध्मान्ॐ ससन्दयू -वणं फद्र-बुजॊ गणेश,ॊ रम्फोदयॊ ऩद्म-दरे सनत्रवद्शभ ्।
ब्रह्माफद-दे व्ै ऩरय-सेव्मभानॊ, ससद्धै मत
ुा ॊ तॊ प्रणभासभ दे वभ ्।।
आवाहन इत्माफद कय ऩञ्िोऩिायं मा भानससक ऩूजन कये ।
॥कवि-ऩाठ॥

ॐ आभोदद्ळ सशय् ऩातु, प्रभोदद्ळ सशखोऩरय, सम्भोदो भ्रू-मुगे
ऩातु, भ्रू-भध्मे ि गणाधीऩ्।
गण-क्रीडद्ळऺुमग
ुा ,ॊ नासामाॊ गण-नामक्, स्जह्वामाॊ सुभख
ु ् ऩातु,
ग्रीवामाॊ दम्
ा ्॥
ु भुख
त्रवघ्नेशो रृदमे ऩातु, फाहु-मुग्भे सदा भभ, त्रवघ्न-कत्ताा ि उदये ,

कश्मप्वादीनाॊ, वधाथे त्रवष्णुनासिात्॥२॥
भफहषस्म वधे दे व्मा, गण-नाथ् प्रऩूस्जत्। तायकस्म वधात ् ऩूव,ं
कुभाये ण प्रऩुस्जत्॥३॥
बास्कये ण गणेशो फह, ऩूस्जतश्ित्रव-ससद्धमे। शसशना कास्न्तवृद्धमथं, ऩूस्जतो गण-नामक्।
ऩारनाम ि तऩसाॊ, त्रवद्वासभिेण ऩूस्जत्॥४॥
॥पर-श्रुसत॥
इदॊ त्वृण-हय-स्तोिॊ, तीव्र-दारयद्र्म-नाशनभ ्, एक-वायॊ ऩठे स्न्नत्मॊ,
वषाभेकॊ सभाफहत्।
दारयद्र्मॊ दारुणॊ त्मक्त्वा, कुफेय-सभताॊ व्रजेत ्।।
उि त्रवधान सॊऩन्न होने ऩय इस भॊि का १ भार मा कभ-सेकभ २१ फाय जऩ कये ।

भन्ि्- ॐ गणेश ऋणॊ सिस्न्ध वये ण्मॊ हुॊ नभ् पट्

वषा बय कवि औय भॊि का ऩाठ कयने से भनुष्म के दारयद्र्म
का नाश होता है तथा रक्ष्भी प्राद्ऱ होती है ।

नोट: बगवान श्री गणेश की मह धन दामी साधना प्रमोग हं ।

साधना का प्रमोग ऩीरे यॊ ग के आसन ऩय ऩीरे वस्त्र धायण कय
ऩीरे यॊ ग की भारा मा ऩीरे सूत भं फनी स्पफटक की भारा से

कयना अत्मॊत राबप्राद होता हं । साधना कार भं गणेशजी को

त्रवघ्न-हत्ताा ि सरॊगके।

ऩूजा भं दव
ू ाा िढ़ाए।

गज-वक्िो कफट-दे श,े एक-दन्तो सनतम्फके, रम्फोदय् सदा ऩातु,

भॊिोच्िायण भं क्रभश् त्रवसनमोग, न्मास, ध्मान कय आवाहन

गुह्य-दे शे भभारुण्॥
व्मार-मऻोऩवीती भाॊ, ऩातु ऩाद-मुगे सदा, जाऩक् सवादा ऩातु,

औय ऩूजन कये । ऩूजन के ऩद्ळात ् कवि- ऩाठ कयने के फाद
स्तोि का ऩाठ कये । स्तोि की सभासद्ऱ ऩय भॊि का जऩ कयं ।

ससतम्फय 2013

54

श्रीऋण हयण कतृा गणऩसत स्तोि
ध्मान
ॐ ससन्दयू -वणं फद्र-बुजॊ गणेशॊ रम्फोदयॊ ऩद्म-दरे सनत्रवद्शभ ्।
ब्रह्माफद-दे वै् ऩरय-सेव्मभानॊ ससद्धै मुत
ा ॊ तॊ प्रणासभ दे वभ ्॥
॥भूर-ऩाठ॥
सृष्ट्मादौ ब्रह्मणा सम्मक् ऩूस्जत् पर-ससद्धमे।
सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥१॥
त्रिऩुयस्म वधात ् ऩूवं शम्बुना सम्मगसिात्।
सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥२॥
फहयण्म-कश्मप्वादीनाॊ वधाथे त्रवष्णुनासिात्।

ऋणभोिक भॊगर स्तोि
श्रीगणेशाम नभ्
भङ्गरो बूसभऩुिद्ळ ऋणहताा धनप्रद्।
स्स्थयासनो भहाकम् सवाकभात्रवयोधक् ॥१॥
रोफहतो रोफहताऺद्ळ साभगानाॊ कृ ऩाकय्।
धयात्भज् कुजो बौभो बूसतदो बूसभनन्दन्॥२॥
अङ्गायको मभद्ळैव सवायोगाऩहायक्।
व्रुद्शे् कतााऽऩहताा ि सवाकाभपरप्रद्॥३॥
एतासन कुजनाभसन सनत्मॊ म् श्रद्धमा ऩठे त ्।

ऋणॊ न जामते तस्म धनॊ शीघ्रभवाप्नुमात ्॥४॥
धयणीगबासम्बूतॊ त्रवद्युत्कास्न्तसभप्रबभ ्।

कुभायॊ शत्रिहस्तॊ ि भङ्गरॊ प्रणभाम्महभ ्॥५॥

सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥३॥

स्तोिभङ्गायकस्मैतत्ऩठनीमॊ सदा नृसब्।

भफहषस्म वधे दे व्मा गण-नाथ् प्रऩुस्जत्।

न तेषाॊ बौभजा ऩीडा स्वल्ऩाऽत्रऩ बवसत क्वसित ्॥६॥

सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥४॥

अङ्गायक भहाबाग बगवन्बिवत्सर।

तायकस्म वधात ् ऩूवं कुभाये ण प्रऩूस्जत्।
सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥५॥
बास्कये ण गणेशो फह ऩूस्जतश्ित्रव-ससद्धमे।
सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥६॥
शसशना कास्न्त-वृद्धमथं ऩूस्जतो गण-नामक्।
सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥७॥
ऩारनाम ि तऩसाॊ त्रवद्वासभिेण ऩूस्जत्।
सदै व ऩावाती-ऩुि् ऋण-नाशॊ कयोतु भे॥८॥
इदॊ त्वृण-हय-स्तोिॊ तीव्र-दारयद्र्म-नाशनॊ,
एक-वायॊ ऩठे स्न्नत्मॊ वषाभेकॊ साभफहत्।
दारयद्र्मॊ दारुणॊ त्मक्त्वा कुफेय-सभताॊ व्रजेत ्॥९॥

त्वाॊ नभासभ भभाशेषभृणभाशु त्रवनाशम॥७॥
ऋणयोगाफददारयद्रमॊ मे िान्मे ह्यऩभृत्मव्।
बमक्रेशभनस्ताऩा नश्मन्तु भभ सवादा॥८॥
असतवक्ि दयु ायाध्मा बोगभुि स्जतात्भन्।

तुद्शो ददासस साम्राज्मॊ रुश्टो हयसस तत्ख्शणात ्॥९॥
त्रवरयॊ सिशक्रत्रवष्णूनाॊ भनुष्माणाॊ तु का कथा।
तेन त्वॊ सवासत्त्वेन ग्रहयाजो भहाफर्॥१०॥
ऩुिान्दे फह धनॊ दे फह त्वाभस्स्भ शयणॊ गत्।
ऋणदारयद्रमद्ु खेन शिूणाॊ ि बमात्तत्॥११॥
एसबद्राादशसब् द्ऴोकैमा् स्तौसत ि धयासुतभ ्।

भहसतॊ सश्रमभाप्नोसत ह्यऩयो धनदो मुवा॥१२॥
॥इसत श्री ऋणभोिक भङ्गरस्तोिभ ् सम्ऩूनभ
ा ्॥

55

ससतम्फय 2013

ऋण भोिन भहा गणऩसत स्तोि

 त्रवजम ठाकुय
त्रवसनमोग्- ॐ अस्म श्रीऋण भोिन भहा गणऩसत स्तोि भन्िस्म बगवान ् शुक्रािामा ऋत्रष्, ऋण-भोिन-गणऩसत् दे वता,
भभ-ऋण-भोिनाथं जऩे त्रवसनमोग्।
ऋष्माफद-न्मास्- बगवान ् शुक्रािामा ऋषमे नभ् सशयसस, ऋण-भोिन-गणऩसत दे वतामै नभ् रृफद, भभ-ऋण-भोिनाथे जऩे
त्रवसनमोगाम नभ् अञ्जरौ।
॥भूर-स्तोि॥
ॐ स्भयासभ दे व-दे वेश

!वक्र-तुणडॊ भहा-फरभ ्। षडऺयॊ कृ ऩा-ससन्धु, नभासभ ऋण-भुिमे॥१॥

भहा-गणऩसतॊ दे वॊ, भहा-सत्त्वॊ भहा-फरभ ्। भहा-त्रवघ्न-हयॊ सौम्मॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥२॥
एकाऺयॊ एक-दन्तॊ, एक-ब्रह्म सनातनभ ्। एकभेवाफद्रतीमॊ ि, नभासभ ऋण-भुिमे॥३॥
शुक्राम्फयॊ शुक्र-वणं, शुक्र-गन्धानुरेऩनभ ्। सवा-शुक्र-भमॊ दे वॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥४॥
यिाम्फयॊ यि-वणं, यि-गन्धानुरेऩनभ ्। यि-ऩुष्ऩै ऩूज्मभानॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥५॥
कृ ष्णाम्फयॊ कृ ष्ण-वणं, कृ ष्ण-गन्धानुरेऩनभ ्। कृ ष्ण-ऩुष्ऩै ऩूज्मभानॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥६॥
ऩीताम्फयॊ ऩीत-वणं, ऩीत-गन्धानुरेऩनभ ्। ऩीत-ऩुष्ऩै ऩूज्मभानॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥७॥
नीराम्फयॊ नीर-वणं, नीर-गन्धानुरेऩनभ ्। नीर-ऩुष्ऩै ऩूज्मभानॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥८॥
धूम्राम्फयॊ धूम्र-वणं, धूम्र-गन्धानुरेऩनभ ्। धूम्र-ऩुष्ऩै ऩूज्मभानॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥९॥
सवााम्फयॊ सवा-वणं, सवा-गन्धानुरेऩनभ ्। सवा-ऩुष्ऩै ऩूज्मभानॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥१०॥
बद्र-जातॊ ि रुऩॊ ि, ऩाशाॊकुश-धयॊ शुबभ ्। सवा-त्रवघ्न-हयॊ दे वॊ, नभासभ ऋण-भुिमे॥११॥
॥पर-श्रुसत॥ म् ऩठे त ् ऋण-हयॊ -स्तोिॊ, प्रात्-कारे सुधी नय्। षण्भासाभ्मन्तये िैव, ऋणच्िे दो बत्रवष्मसत॥
बावाथा: जो व्मत्रि उि ऋण भोिन स्तोि का त्रवसध-त्रवधान व ऩूणा सनद्षा से सनमसभत प्रात् कार ऩाठ कयता हं उसके
सभस्त प्रकाय के ऋणं से भुत्रि सभर जाती हं ।

गणेशजी को त्रप्रम हं ससॊदयू : गणेश ऩूजन भं ससॊदयू का उऩमोग अत्मॊत शुब एवॊ राबकायी होता हं । क्मोफकॊ

बगवान गणेशजीको ससॊदयू अत्मासधक त्रप्रम हं । गणेश जी को शुद्ध घी भं ससॊदयू सभराकय रेऩ िढाने से सुख औय

सौबाग्म फक प्रासद्ऱ होती हं । ससॊदयू ी यॊ ग के उऩमोग से व्मत्रि के फुत्रद्ध, आयोग्म, त्माग भं वृत्रद्ध होती हं । इसी सरमे
प्राम् ज्मादातय साधु-सॊत के वस्त्र का यॊ ग ससॊदयू ी फह होता हं ।

गणेशजी फक सूॊड फकस ओय हो?: भॊफदय औय घय भं स्थात्रऩत फकजाने वारी बगवान गणेश प्रसतभा भं सूॊड
फकसी प्रसतभा भं

दाईं तो फकसी प्रसतभा भं

फाईं ओय दे खने को सभरती हं । घय भं फाईं ओय सूॊडवारे गणेशही

स्थात्रऩत कयना शुब परप्रद भानागमा हं । क्मोफकॊ जहाॊ फाईं सूॊड वारे गणॆश सौम्म स्वरूऩ के प्रसतक हं , वहीॊ दाईं
ओय तयप सूॊड वारे गणॆशजी अस्ग्न (उग्र) स्वरुऩ के भाने जाते हं ।

ससतम्फय 2013

56

जफ गणेशजी ने िूय फकम कुफेय का अहॊ काय

 स्वस्स्तक.ऎन.जोशी
एक ऩौयास्णक कथा के अनुशाय हं । कुफेय तीनं रोकं भं सफसे धनी थे। एक फदन उन्हंने सोिा फक हभाये ऩास
इतनी सॊऩत्रत्त हं , रेफकन कभ ही रोगं को इसकी जानकायी हं । इससरए उन्हंने अऩनी सॊऩत्रत्त का प्रदशान कयने के सरए
एक बव्म बोज का आमोजन कयने की फात सोिी। उस भं तीनं रोकं के सबी दे वताओॊ को आभॊत्रित फकमा गमा।
बगवान सशव कुफेयके इद्श दे वता थे, इससरए उनका आशीवााद रेने वह कैराश ऩहुॊिे औय कहा, प्रबो! आज भं

तीनं रोकं भं सफसे धनवान हूॊ, मह सफ आऩ की कृ ऩा का पर हं । अऩने सनवास ऩय एक बोज का आमोजन कयने जा
यहा हूॉ, कृ ऩमा आऩ ऩरयवाय सफहत बोज भं ऩधायने की कृ ऩा कये ।

बगवान सशव कुफेय के भन का अहॊ काय ताड़ गए, फोरे, वत्स! भं फूढ़ा हो िरा हूॉ, इस सरमे कहीॊ फाहय नहीॊ

जाता। इस सरमे तुम्हायं बोज भं नहीॊ आसकता। सशवजी फक फात ऩय कुफेय सगड़-सगड़ाने रगे, बगवन! आऩके फगैय तो
भेया साया आमोजन फेकाय िरा जाएगा। तफ सशव जी ने कहा, एक उऩाम हं । भं अऩने िोटे फेटे गणऩसत को तुम्हाये
बोज भं जाने को कह दॊ ग
ू ा। कुफेय सॊतुद्श होकय रौट आए। सनमत सभम ऩय कुफेय ने बव्म बोज का आमोजन फकमा।

तीनं रोकं के दे वता ऩहुॊि िुके थे। अॊत भं गणऩसत आए औय आते ही कहा, भुझको फहुत तेज बूख रगी हं ।

बोजन कहाॊ है । कुफेय उन्हं रे गए बोजन से सजे कभये भं। गणऩसत को सोने की थारी भं बोजन ऩयोसा गमा। ऺण
बय भं ही ऩयोसा गमा साया बोजन खत्भ हो गमा। दोफाया खाना ऩयोसा गमा, उसे बी खा गए। फाय-फाय खाना ऩयोसा
जाता औय ऺण बय भं गणेश जी उसे िट कय जाते। थोड़ी ही दे य भं हजायं रोगं के सरए फना बोजन खत्भ हो गमा,
रेफकन गणऩसत का ऩेट नहीॊ बया। गणऩसत यसोईघय भं ऩहुॊिे औय वहाॊ यखा साया कच्िा साभान बी खा गए, तफ बी
बूख नहीॊ सभटी। जफ सफ कुि खत्भ हो गमा तो गणऩसत ने कुफेय से कहा, जफ तुम्हाये ऩास भुझे स्खराने के सरए कुि
था ही नहीॊ तो तुभने भुझे न्मोता क्मं फदमा था? गणऩसत जी फक मह फात सुनकय कुफेय का अहॊ काय िूय-िूय हो गमा।

शसन ऩीड़ा सनवायक

सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रद्षत 22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत ऩौरुषाकाय शसन मॊि
ऩुरुषाकाय शसन मॊि (स्टीर भं) को तीव्र प्रबावशारी फनाने हे तु शसन की कायक धातु शुद्ध स्टीर(रोहे ) भं फनामा गमा
हं । स्जस के प्रबाव से साधक को तत्कार राब प्राद्ऱ होता हं । मफद जन्भ कुॊडरी भं शसन प्रसतकूर होने ऩय व्मत्रि को
अनेक कामं भं असपरता प्राद्ऱ होती है , कबी व्मवसाम भं घटा, नौकयी भं ऩये शानी, वाहन दघ
ा ना, गृह क्रेश आफद
ु ट

ऩये शानीमाॊ फढ़ती जाती है ऐसी स्स्थसतमं भं प्राणप्रसतत्रद्षत ग्रह ऩीड़ा सनवायक शसन मॊि की अऩने को व्मऩाय स्थान मा
घय भं स्थाऩना कयने से अनेक राब सभरते हं । मफद शसन की ढै ़मा मा साढ़े साती का सभम हो तो इसे अवश्म ऩूजना
िाफहए। शसनमॊि के ऩूजन भाि से व्मत्रि को भृत्मु, कजा, कोटा केश, जोडो का ददा , फात योग तथा रम्फे सभम के सबी
प्रकाय के योग से ऩये शान व्मत्रि के सरमे शसन मॊि असधक राबकायी होगा। नौकयी ऩेशा आफद के रोगं को ऩदौन्नसत
बी शसन द्राया ही सभरती है अत् मह मॊि असत उऩमोगी मॊि है स्जसके द्राया शीघ्र ही राब ऩामा जा सकता है ।

भूल्म: 1050 से 8200 >> Order Now

57

ससतम्फय 2013

एकदॊ त कथा गणेश

 स्वस्स्तक.ऎन.जोशी
एकदॊ त कैसे कहराए गणेशजी
भहाबायत त्रवद्व का सफसे फड़ा भहाकाव्म एवॊ ग्रॊथ हं । स्जसकी यिना भं एक राख से ज्मादा द्ऴोको का प्रमोग हुवा हं ।
एसी रोकभान्मता हं फक ब्रह्माजी ने स्वप्न भं ऋत्रष ऩयाशय एवॊ सत्मवती के ऩुि भहत्रषा व्मास को भहाबायत सरखने की प्रेयणा दी
थी।
भहाबायत के यिनाकाय अरौफकक शत्रि से सम्ऩन्न भहत्रषा व्मास त्रिकार द्रष ्टा थे। इस सरमे भहत्रषा व्मास

ने

भहाबायत सरखने का मह काभ स्वीकाय कय सरमा, रेफकन भहत्रषा व्मास के भस्स्तष्क भं स्जस तीव्रतासे भहाबायत के भॊि
आ यहे थे इस कायण उन भॊिो को उसी तीव्रता से को कोई सरखने वारा मोग्म व्मत्रि न सभरा। वे ऐसे फकसी व्मत्रि की खोज
भं रग गए जो भहाबायत सरख सके। भहाबायत के प्रथभ अध्माम भं उल्रेख हं फक वेद व्मास ने गणेशजी को भहाबायत सरखने का
प्रस्ताव फदमा तो गणेशजी ने भहाबायत सरख का प्रस्ताव स्वीकाय कय सरमा।
गणेशजी ने भहाबायत सरखने के ऩहरे शता यखी फक भहत्रषा कथा सरखवाते सभम एक ऩर के सरए बी नहीॊ रुकंगे।
इस शता को भानते हुए भहत्रषा ने बी एक शता यख दी फक गणेशजी बी एक-एक वाक्म को त्रफना सभझे नहीॊ सरखंगे।
भहाबायत सरखते सभम इस शता के कायणा गणेशजी के सभझने के दौयान भहत्रषा को सोिने का अवसय सभर जाता था।
भहाबायत सरखने गणेशजी ने अऩना एक दाॉत तोडकय उसफक रेखनी फानई। इस सरमे उन्हं एकदॊ त कहा जाता हं ।
भाना जाता है फक त्रफना रुके सरखने की शीघ्रता भं मह दाॉत टू टा था।
एक दाॊत टू ट ने फक औय एक कहानी हं
ब्रह्मावैवता ऩुयाण के अनुशाय ऩयशुयाभ शीवजी को सभल्ने कैरश गमे। कैरश के प्रवेश द्राय ऩय ही गणेश ने ऩयशुयाभ को योक सरमी
फकन्तु ऩयशुयाभ रुके नहीॊ औय फरऩूवक
ा प्रवेश कयने का प्रमास फकमा। तफ गणेशजी नं ऩयशुयाभ से मुद्ध कय उनको स्तस्म्बत
कय अऩनी सूॉड भं रऩेटकय सभस्त रोकं भं भ्रभण कयाते हुए गौरोक भं बगवान श्रीकृ ष्ण का दशान कयाते हुए बूतर
ऩय ऩटक फदमा। ऩयशुयाभ ने क्रोध भं पयसे(ऩयशु) से गणेशजी के एक दाॊत को काट डारा। तसबसे गणेश को एकदॊ त कहा जाता हं ।

एकदन्त कथा
एकदन्तावतायौ वै दे फहनाॊ ब्रह्मधायक्।
भदासुयस्म हन्ता स आखुवाहनग् स्भृत्।।
बावाथा: बगवान ् गणेश का ‘एक दन्तावताय’ दे फह-ब्रह्मधायक है , वह भदासुयका वध कयनेवारा है ; उसका वाहन भूषक
फतामा गमा है ।
वह भहत्रषा च्मवन का ऩुि भदासुय एक फरवान ् ऩयाक्रभी दै त्म था। एक फाय वह अऩने त्रऩता से आऻा प्राद्ऱ कय
दै त्मगुरु शुक्रािामा के ऩास गमा।

58

ससतम्फय 2013

उसने शुक्रािामा से अनुयोध फकम फक आऩ भुझे कृ प्मा अऩना सशष्म फना रं, भं सभग्र ब्रह्माण्ड का स्वाभी फनना
िाहता हूॉ। कृ प्मा आऩ भेयी इच्िा ऩूयी कयने के सरमे भेया उसित भागादशान कयं । शुक्रािामा ने सन्तुद्श होकय उसे अऩना
सशष्म फना सरमा। सवाऻ आिामा ने उसे "ह्रीॊ" (एकाऺयी) शत्रि भन्ि प्रदान फकमा। भदासुय अऩने गुरुदे व शुक्रािामा से
आऻा ऩाकय के उनके ियणं भं प्रणाभ कय आशीवााद रेकय जॊगर भं तऩ कयने के सरमे िरा गमा। उसने जगदम्फा का
ध्मान कयते हुए एक हजाय वषं तक कठोय तऩ फकमा। तऩ कयते हुवे उसका शयीय दीभकं की फाॉफी से ढॊ क गमा। उसके
िायं तयप वृऺ उग गमे औय रताएॉ पैर गमीॊ। उसके कठोय तऩसे प्रसन्न होकय भाॊ बगवती प्रकट हुईं। बगवती ने उसे
नीयोग यहने तथा सनष्कॊटक सम्ऩूणा ब्रह्माण्ड का याज्म प्राद्ऱ होने का वयदान फदमा।
भदासुयने ऩहरे सम्ऩूणा धयती ऩय अऩना साम्राज्म स्थात्रऩत फकमा। फपय स्वगा ऩय साम्राज्म स्थात्रऩत कयने केसरमे
िढ़ाई की। इन्द्र इत्माफद दे वाताओॊ को ऩयाजीत कय उसने स्वगा का बी साम्राज्म स्थात्रऩत फकमा। उसने प्रभदासुय की
कन्मा सारसा से त्रववाह फकमा। सारसासे उसे तीन ऩुि हुए। उसने बगवान ् सशव को ऩयास्जत कय फदमा। सवाि असुयं
का क्रूयतभ शासन िरने रगा। ऩृथ्वीऩय सभस्त धभा-कभा रुद्ऱ होने रगा। सवाि हाहाकाय भि गमा। दे वतागण एवॊ
भुसनगण द्ु खीत होने रगे।
सिस्न्तत दे वता सनत्कुभाय के ऩास गमे, तथा उनसे असुयो के त्रवनाश एवॊ ऩून् धभा-स्थाऩना का उऩाम ऩूिा्
सनत्कुभाय ने कहा दे वगण आऩ रोग श्रद्धाऩूवक

बगवान ् एकदन्त की उऩासना कयं । वे सन्तुद्श होकय अवश्म ही
आऩरोगं का भनोयथ ऩूणा कयं गे। भहत्रषा के उऩदे श अनुसाय दे वगण एकदन्त की उऩासना कयन रगे। तऩस्मा के सौ वषा
ऩूये होने ऩय बगवान ् एकदन्त प्रकट हुए तथा वय भाॉगने के सरमे कहा। दे वताओॊ ने सनवेदन फकमा प्रबु

भदासुय के

शासन भं दे वताओॊ का स्थानभ्रद्श औय भुसनगण कभाभ्रद्श हो गमे हं । आऩ हभं इस कद्श से भुत्रि फदराकाय अऩनी बत्रि
प्रदान कयं ।
उधय दे वत्रषाने भदासुय को सूिना दी फक बगवान ् एकदन्त ने दे वताओॊ को वयदान फदमा हं । अफ वे तुम्हाया प्राणहयण कयने के सरमे तुभसे मुद्ध कयना िाहते हं । भदासुय अत्मन्त कुत्रऩत होकय अऩनी त्रवशार सेना के साथ एकदन्त से
मुद्ध कयने िरा गमा। बगवान ् एकदन्त यास्ते भं ही प्रकट हो गमे। याऺसं ने दे खा फक बगवान ् एकदन्त भूषक ऩय
सवाय होकय साभने से िरे आ यहे हं । उनकी आकृ सत अत्मन्त बमानक हं । उनके हाथंभं ऩयशु, ऩाश आफद आमुध हं ।
उन्हंने असुयं से कहा फक तुभ अऩने स्वाभी से कह दो मफद वह जीत्रवत यहना िाहता हं तो दे वताओॊ से द्रे ष िोड़ दे ।
उनका याज्म उन्हं वाऩस कय दे । अगय वह ऐसा नहीॊ कयता हं तो भं सनस्द्ळत ही उसका वध करूॉगा। भहाक्रूय भदासुय मुद्ध
के सरमे तैमाय हो गमा जैसे ही उसने अऩने धनुष ऩय फाण िढ़ाना िाहा फक बगवान ् एकदन्त का तीव्र ऩयशु उसे रगा
औय वह फेहोश होकय सगय गमा।
फेहोशी टू टने ऩय भदायसुय सभझ गमा फक मह सवा सभथा ऩयभात्भा ही हं । उसने हाथ जोड़कय स्तुसत कयते हुए
कहा फक प्रबु

आऩ भुझे ऺभा कय अऩनी दृढ़ बत्रि प्रदान कयं । एकदन्त ने प्रसन्न होकय कहा फक जहाॉ भेयी ऩूजा

आयाधना हो, वहाॉ तुभ कदात्रऩ भत जाना। आजसे तुभ ऩातार भं यहोगे। दे वता बी प्रसन्न होकय एकदन्त की स्तुसत
कयके स्वगा रोक िरे गमे।

ससतम्फय 2013

59

वक्रतुण्ड कथा

 स्वस्स्तक.ऎन.जोशी
बगवान ् सशव से उसका घोय मुद्ध हुआ। ऩयन्तु,

त्रिऩुयारय बगवान ् सशव बी जीत नहीॊ सके। उसने उन्हं बी

वक्रतुण्डावतायद्ळ दे हानाॊ ब्रह्मधायक्।

कठोय ऩाश भं फाॉध सरमा औय कैराश का स्वाभी फनकय

भत्सयासुयहन्ता स ससॊहवाहनग् स्भृत्।।

बगवान ् श्रीगणेश का ‘वक्रतुण्डावताय’ ब्रह्मरूऩ से

सम्ऩूणा शयीयं को धायण कयनेवारा, भत्सयासुय का वध

वहीॊ यहने रगा। िायं तयप दै त्मं का अत्मािाय होने रगा।

द्ु खी दे वताओॊ के साभने भत्सयासुय के त्रवनाश का

कयनेवारा तथा ससॊहवाहन ऩय िरनेवारा हं ।

कोई भागा नहीॊ फिा। वे अत्मन्त सिस्न्तत औय दफ
ा हो यहे
ु र

अवताय हं , स्जनभं आठ अवताय प्रभुख हं । ऩहरा अवताय

दे वताओॊ को वक्रतुण्ड के गॊ(एकाऺयी भन्ि) का उऩदे श

प्रभाद

दै त्मगुरु

एकाऺयी भन्ि का जऩ कयने रगे। उनकी आयाधना से

भन्ि) की दीऺा प्राद्ऱ कय बगवान ् शॊकय की कठोय तऩस्मा

दे वताओॊसे कहा आऩ रोग सनस्द्ळन्त हो जामॉ। भं भत्सयासुय

वयदान फदमा। वयदान प्राद्ऱ कय जफ भत्सयासुय घय रौटा तफ

बगवान ् वक्रतुण्ड ने अऩने असॊख्म गणं के साथ

भुद्गर ऩुयाण के अनुसाय बगवान ् गणेश के अनेकं

थे। उसी सभम वहाॉ बगवान दत्तािेम आ ऩहुॉिे। उन्हंन

बगवान ् वक्रतुण्ड का है । ऐसी कथा है फक दे वयाज इन्द्र के

फकमा। सभस्त दे वता बगवान ् वक्रतुण्ड के ध्मान के साथ

से

भत्सयासुय

का

शुक्रािामा से बगवान ् सशवके

जन्भ

हुआ
् ।

उसने

ॐ नभ् सशवाम

(ऩञ्िाऺयी

सन्तुद्श होकय तत्कार परदाता वक्रतुण्ड प्रकट हुए। उन्हंने

की बगवान ् शॊकय ने प्रसन्न होकय उसे अबम होने का

के गवा को िूय-िूय कय दॉ ग
ू ा।

शुक्रािामा ने उसे दै त्मं का याजा फना फदमा। दै त्मभस्न्िमं ने

भत्सयासुय के नगयं को िायं तयप से घेय सरमा। बमॊकय

दी। शत्रि औय ऩद के भद से िूय भत्सयासुय ने अऩनी

भत्सयासुय के सुन्दयत्रप्रम एवॊ त्रवषमत्रप्रम नाभक दो ऩुि थे

फदमा। कोई बी याजा असुय के साभने फटक नहीॊ सका। कुि

भत्सयासुय यणबूसभ भं उऩस्स्थत हुआ। वहाॉ से उसने बगवान ्

गमे। इस प्रकाय सम्ऩूणा ऩृथ्वी ऩय भत्सयासुय का शासन हो

स्वय भं कहा मफद तुझे प्राणत्रप्रम हं तो शस्त्र यखकय तु भेयी

ऩृथ्वी साम्राज्म प्राद्ऱ कय उस दै त्म ने क्रभश् ऩातार

वक्रतुण्ड के बमानक रूऩ को दे खकय भत्सयासुय

शत्रिशारी भत्सय को त्रवद्व ऩय त्रवजम प्राद्ऱ कयने की सराह

मुद्ध सिड़ गमा। ऩाॉि फदनं तक रगाताय मुद्ध िरता यहा।

त्रवशार सेना के साथ ऩृथ्वी के याजाओॊ ऩय आक्रभण कय

वक्रतुण्ड के गणं ने उन्हं भाय डारा। ऩुि वध से व्माकुर

ऩयास्जत हो गमे औय कुठ प्राण फिाकय कन्दयाओॊ भं सिऩ

वक्रतुण्ड को अऩशब्द कहे । बगवान ् वक्रतुण्ड ने प्रबावशारी

गमा।

शयण भं आ जा नहीॊ तो सनस्द्ळत भाया जामगा।

औय स्वगा ऩय बी िढ़ाई कय दी। शेष ने त्रवनमऩूवक
ा उसके

अत्मन्त व्माकुर हो गमा। उसकी सायी शत्रि ऺीण हो गमी।

इन्द्र इत्माफद दे वता उससे ऩयास्जत होकय बाग गमे।

स्तुसत कयने रगा। उसकी प्राथाना से सन्तुद्श होकय दमाभम

असुयं से द्ु खी होकय दे वतागण ब्रह्मा औय त्रवष्णु को

वयदान फकमा तथा सुख शाॊसत से जीवन त्रफताने के सरमे

को दै त्मं के अत्मािाय वृताॊत सुनामा। बगवान ् शॊकयने

होकय दे वगण वक्रतुण्ड की स्तुसत कयने रगे। दे वताओॊ को

सुनकय भत्सयासुय ने कैरास ऩय बी आक्रभण कय फदमा।

की।

अधीन यहकय उसे कय ऩातार रोक दे ना स्वीकाय कय सरमा।

बमके भाये वह काॉऩने रगा तथा त्रवनमऩूवक
ा वक्रतुण्ड की

भत्सयासुय स्वगा का बी सम्राट हो गमा।

वक्रतुण्ड ने उसे अबम प्रदान कयते हुए अऩनी बत्रि का

साथ रेकय सशवजी के कैरास ऩहुॉिे। उन्हंने बगवान ् शॊकय

ऩातार रोक जाने का आदे श फदमा। भत्सयासुय से सनस्द्ळन्त

भत्सयासुय के इस दष्ु कभा की घोय सनन्दा की। मह सभािाय

स्वतन्ि कय प्रबु वक्रतुण्ड ने उन्हं बी अऩनी बत्रि प्रदान

ससतम्फय 2013

60

॥ त्रवनामकस्तोि ॥
भूत्रषकवाहन भोदकहस्त िाभयकणा त्रवरस्म्फतसूि । वाभनरूऩ भहे द्वयऩुि त्रवघ्नत्रवनामक ऩाद नभस्ते ॥
दे वदे वसुतॊ

दे वॊ

एकदन्तॊ

प्ररम्फोद्षॊ

वाभनॊ

जफटरॊ

जगफद्रघ्नत्रवनामकभ ्

कान्तॊ

ह्रस्वग्रीवॊ

हस्स्तरूऩॊ

भहोदयभ ् ।

नागमऻोऩवीसतनभ ् ।

त्र्मऺॊ

भहाकामॊ

धूम्रससन्दयू मुद्गण्डॊ
गजभुखॊ

कृ ष्णॊ

सूमक
ा ोफटसभप्रबभ ्

त्रवकटॊ

सुकृतॊ

प्रकटोत्कटभ ् ॥

यिवाससभ ् ॥

दन्तऩास्णॊ ि वयदॊ ब्रह्मण्मॊ ब्रह्मिारयणभ ् । ऩुण्मॊ गणऩसतॊ फदव्मॊ त्रवघ्नयाजॊ नभाम्महभ ् ॥ ४ ॥

दे वॊ गणऩसतॊ नाथॊ त्रवद्वस्माग्रे तु गासभनभ ् । दे वानाभसधकॊ श्रेद्षॊ नामकॊ सुत्रवनामकभ ् ॥ ५ ॥
नभासभ बगवॊ दे वॊ अद्भत
ु ॊ गणनामकभ ् ।

वक्रतुण्ड प्रिण्डाम उग्रतुण्डाम ते नभ्

िण्डाम गुरुिण्डाम िण्डिण्डाम ते नभ्

। भत्तोन्भत्तप्रभत्ताम सनत्मभत्ताम ते नभ्

॥ ७ ॥

उभासुतॊ नभस्मासभ गङ्गाऩुिाम ते नभ् । ओङ्कायाम वषट्काय स्वाहाकायाम ते नभ् ॥ ८ ॥
भन्िभूते भहामोसगन ् जातवेदे नभो नभ् । ऩयशुऩाशकहस्ताम गजहस्ताम ते नभ्
भेघाम भेघवणााम भेघेद्वय नभो नभ् ।
ऩुयाणऩूवऩ
ा ज्
ू माम

ऩुरुषाम

नभो

नभ्

घोयाम घोयरूऩाम घोयघोयाम ते नभ्

भदोत्कट

नभस्तेऽस्तु

नभस्ते

िण्डत्रवक्रभ

त्रवनामक नभस्तेऽस्तु नभस्ते बिवत्सर । बित्रप्रमाम शान्ताम भहातेजस्स्वने नभ्

॥ ९ ॥
१०

११

॥ १२ ॥

मऻाम मऻहोिे ि मऻेशाम नभो नभ् । नभस्ते शुक्रबस्भाङ्ग शुक्रभाराधयाम ि ॥ १३ ॥
भदस्क्रन्नकऩोराम गणासधऩतमे नभ् ।

यिऩुष्ऩ त्रप्रमाम ि यििन्दन बूत्रषत

अस्ग्नहोिाम शान्ताम अऩयाजय्म ते नभ् । आखुवाहन दे वश

एकदन्ताम ते नभ्
शूऩक
ा णााम शूयाम दीघादन्ताम ते नभ् ।

त्रवघ्नॊ हयतु दे वश

सशवऩुिो त्रवनामक्

परश्रुसत

जऩादस्मैव होभाच्ि सन्ध्मोऩासनसस्तथा ।

१४

१६

॥ १५ ॥

त्रवप्रो बवसत वेदाढ्म् ऺत्रिमो त्रवजमी बवेत ्

वैश्मो धनसभृद्ध् स्मात ् शूद्र् ऩाऩै् प्रभुच्मते । गसबाणी जनमेत्ऩुिॊ कन्मा बताायभाप्नुमात ्

सवाभङ्गरभाङ्गल्मॊ

प्रवासी
.

रबते

स्थानॊ

फद्धो

फन्धात ् प्रभुच्मते

सवाऩाऩप्रणाशनभ ्

इद्शससत्रद्धभवाप्नोसत

सवाकाभप्रदॊ

ऩुॊसाॊ

ऩुनात्मासत्तभॊ

ऩठताॊ

॥ इसत श्रीब्रह्माण्डऩुयाणे स्कन्दप्रोि त्रवनामकस्तोिॊ सम्ऩूणभ
ा ् ॥

कुरॊ

श्रुणुताभत्रऩ

यत्न-उऩयत्न एवॊ रुद्राऺ
हभाये महाॊ सबी प्रकाय के यत्न-उऩयत्न एवॊ रुद्राऺ

व्माऩायी भूल्म ऩय उऩरब्ध हं । ज्मोसतष कामा से

जुडे़ फधु/फहन व यत्न व्मवसाम से जुडे रोगो के सरमे त्रवशेष भूल्म ऩय यत्न व अन्म साभग्रीमा व
अन्म सुत्रवधाएॊ उऩरब्ध हं । गुरुत्व कामाारम सॊऩका:91+ 9338213418, 91+ 9238328785,

ससतम्फय 2013

61

॥ श्री ससत्रद्धत्रवनामक स्तोिभ ् ॥
जमोऽस्तु ते गणऩते दे फह भे त्रवऩुराॊ भसतभ ्।

नभनॊ शॊबुतनमॊ नभनॊ करुणारमॊ।

स्तवनभ ् ते सदा कतुं स्पूसता मच्िभभासनशभ ् ॥ १॥

नभस्तेऽस्तु गणेशाम स्वासभने ि नभोऽस्तु ते ॥ १२॥

प्रबुॊ भॊगरभूसतं त्वाॊ िन्द्रे न्द्रावत्रऩ ध्मामत्।

नभोऽस्तु दे वयाजाम वन्दे गौयीसुतॊ ऩुन्।

मजतस्त्वाॊ त्रवष्णुसशवौ ध्मामतद्ळाव्ममॊ सदा ॥ २॥

नभासभ ियणौ बक्त्मा बारिन्द्रगणेशमो् ॥ १३॥

त्रवनामकॊ ि प्राहुस्त्वाॊ गजास्मॊ शुबदामकॊ।

नैवास्त्माशा ि भस्च्ित्ते त्वद्भिेस्तवनस्मि।

त्वन्नाम्ना त्रवरमॊ मास्न्त दोषा् कसरभरान्तक ॥ ३॥

बवेत्मेव तु भस्च्ित्ते ह्याशा ि तव दशाने ॥ १४॥

त्वत्ऩदाब्जाॊफकतद्ळाहॊ नभासभ ियणौ तव।

अऻानद्ळैव भूढोऽहॊ ध्मामासभ ियणौ तव।

दे वेशस्त्वॊ िैकदन्तो भफद्रऻसद्ऱॊ शृणु प्रबो ॥ ४॥

दशानॊ दे फह भे शीघ्रॊ जगदीश कृ ऩाॊ कुरु ॥ १५॥

कुरु त्वॊ भसम वात्सल्मॊ यऺ भाॊ सकरासनव।

फारकद्ळाहभल्ऩऻ् सवेषाभसस िेद्वय्।

त्रवघ्नेभ्मो यऺ भाॊ सनत्मॊ कुरु भे िास्खरा् फक्रमा् ॥ ५॥

ऩारक् सवाबिानाॊ बवसस त्वॊ गजानन ॥ १६॥

गौरयसुतस्त्वॊ गणेश् शॄणु त्रवऻाऩनॊ भभ।

दरयद्रोऽहॊ बाग्महीन् भस्च्ित्तॊ तेऽस्तु ऩादमो्।

त्वत्ऩादमोयनन्माथॉ मािे सवााथा यऺणभ ् ॥ ६॥

शयण्मॊ भाभनन्मॊ ते कृ ऩारो दे फह दशानभ ् ॥ १७॥

त्वभेव भाता ि त्रऩता दे वस्त्वॊ ि भभाव्मम्।

इदॊ गणऩतेस्तोिॊ म् ऩठे त्सुसभाफहत्।

अनाथनाथस्त्वॊ दे फह त्रवबो भे वाॊसितॊ परभ ् ॥ ७॥

गणेशकृ ऩमा ऻानससस्ध्धॊ स रबते धनॊ ॥ १८॥

रॊफोदयस्वभ ् गजास्मो त्रवबु् ससत्रद्धत्रवनामक्।

ऩठे द्य् ससत्रद्धदॊ स्तोिॊ दे वॊ सॊऩूज्म बत्रिभान ्।

हे यॊफ् सशवऩुिस्त्वॊ त्रवघ्नेशोऽनाथफाॊधव् ॥ ८॥

कदात्रऩ फाध्मते बूतप्रेतादीनाॊ न ऩीडमा ॥ १९॥

नागाननो बिऩारो वयदस्त्वॊ दमाॊ कुरु।

ऩफठत्वा स्तौसत म् स्तोिसभदॊ ससत्रद्धत्रवनामकॊ।

ससॊदयू वणा् ऩयशुहस्तस्त्वॊ त्रवघ्ननाशक् ॥ ९॥

षण्भासै् ससत्रद्धभाप्नोसत न बवेदनृतॊ वि्

त्रवद्वास्मॊ भॊगराधीशॊ त्रवघ्नेशॊ ऩयशूधयॊ ।

गणेशियणौ नत्वा ब्रूते बिो फदवाकय् ॥ २०॥

दरु यतारयॊ दीनफन्धूॊ सवेशॊ त्वाॊ जना जगु् ॥ १०॥
नभासभ त्रवघ्नहताायॊ वन्दे श्रीप्रभथासधऩॊ।
नभासभ एकदन्तॊ ि दीनफन्धू नभाम्महभ ् ॥ ११॥

॥ इसत श्री ससत्रद्धत्रवनामक स्तोिभ ् सम्ऩूणभ
ा ्॥
***

62

सशवशत्रिकृ तॊ गणाधीशस्तोिभ
श्रीशत्रिसशवावूितु:
नभस्ते गणनाथाम गणानाॊ ऩतमे नभ:।
बत्रित्रप्रमाम दे वेश बिेभ्म: सुखदामक॥
स्वानन्दवाससने तुभ्मॊ ससत्रद्धफुत्रद्धवयाम ि।
नासबशेषाम दे वाम ढु स्ण्ढयाजाम ते नभ:॥
वयदाबमहस्ताम नभ: ऩयशुधारयणे।

नभस्ते सृस्णहस्ताम नासबशेषाम ते नभ:॥
अनाभमाम सवााम सवाऩूज्माम ते नभ:।
सगुणाम नभस्तुभ्मॊ ब्रह्मणे सनगुण
ा ाम ि॥
ब्रह्मभ्मो ब्रह्मदािे ि गजानन नभोस्तु ते।
आफदऩूज्माम ज्मेद्षाम ज्मेद्षयाजाम ते नभ:॥
भािे त्रऩिे ि सवेषाॊ हे यम्फाम नभो नभ:।
अनादमे ि त्रवघ्नेश त्रवघन्किरे नभो नभ:॥
त्रवघन्हिरे स्वबिानाॊ रम्फोदय नभोस्तु ते।
त्वदीमबत्रिमोगेन मोगीशा: शास्न्तभागता:॥
फकॊ स्तुवो मोगरूऩॊ तॊ प्रणभावद्ळ त्रवघन्ऩभ ्।

तेन तुद्शो बव स्वासभस्न्नत्मुक्त्वा तॊ प्रणेभतु:॥
तावुत्थाप्म गणाधीश उवाि तौ भहे द्वयौ॥
श्रीगणेश उवाि
बवत्कृ तसभदॊ स्तोिॊ भभ बत्रित्रववधानभ ्।
बत्रवष्मसत

ि

सौख्मस्म

ऩठते

श्रृण्वते

बुत्रिभुत्रिप्रदॊ िैव ऩुिऩौिाफदकॊतथा॥

प्रदभ ्।

धनधान्माफदकॊ सवा रबते तेन सनस्द्ळतभ ्॥

जो व्मत्रि इस स्तोि का सनमसभत रुऩ से

त्रवसधवत श्रद्धा बत्रि से ऩठन औय श्रवण कयता हं ।

उसे सबी प्रकाय के सुख प्राद्ऱ होते हं । इसके

असतरयि स्तोि का ऩाठ कयने से व्मत्रि को बोग-

भोऺ तथा ऩुि औय ऩौि आफद का राब होता हं । स्तोि के

द्राया व्मत्रि को धन-धान्म इत्माफद सबी वस्तुएॉ सनस्द्ळतरूऩ
से प्राद्ऱ होती हं ।

ससतम्फय 2013

ससतम्फय 2013

63

गणेश ऩुयाण फक भफहभा

 सिॊतन जोशी
गणेश ऩुयाण

सेवा भं रगी यहती थी। उसका नाभ सुधभाा था। जैसे वह

शौनक जी ने ऩूिा हे प्रबो! गणेश ऩुयाण का

ऩसतव्रता थी, वैसे ही याजा बी एक ऩत्नी व्रत का ऩारन

आयम्ब फकस प्रकाय हुआ? मह आऩ भुझे फताने की कृ ऩा

कयने वारा था। उसका हे भकान्त नाभक एक सुन्दय ऩुि

इस ऩय सूत जी फोरे हे शौनक! मद्यत्रऩ गणेश ऩुयाण असत

औय अस्त्र-शस्त्राफद के अभ्मास भं सनऩुण हो गमा था। इन

कयं ।

था। ऩुि बी सोभकान्त फक तयह सबी त्रवद्याओॊ का ऻाता

प्रािीन हं , क्मंफक बगवान गणेश तो आफद हं , न जाने

सबी श्रेद्ष सम्ऩन्न, सद्गण
ु ी रऺणं से याजा अऩनी प्रजाजनं

यहे हं । गणेशजी के तो अनन्त िरयि हं , स्जनका सॊग्रह

इस प्रकाय याजा सोभकान्त स्त्री, ऩुि, ऩशु, वाहन,

कफ से गणेश जी अऩने उऩासकं ऩय कृ ऩा कयते िरे आ
एक भहाऩुयाण का रूऩ रे सकता हं ।
गणेश ऩुयाण को एक फाय बगवान त्रवष्णु ने नायद
जी को औय बगवान शॊकय ने भाता ऩावाती जी को
सुनामा था। फाद भं वही ऩुयाण सॊऺेऩ रूऩ भं ब्रह्माजी ने
ऩुि भहत्रषा वेदव्मास को सुनामा औय फपय व्मास जी से
भहत्रषा बृगु ने सुना। बृगु ने कृ ऩा कयके सौयाद्स के याजा
सोभकान्त को सुनामा था। तफ से वह ऩुयाण अनेक
कथाओॊ भं त्रवस्तृत होता औय अनेक कथाओॊ से यफहत

के फहतं का अत्मन्त ऩोषक था।

याज्म एवॊ प्रसतद्षा इत्माफद से सफ प्रकायसुखी था। उसे
फकसी प्रकाय का द:ु ख तो था ही नहीॊ। सबी प्रजाजन
उसका

सम्भान कयते थे, स्जस कायण उसकी श्रेद्ष कीसता

बी सॊसायव्माऩी थी। ऩयन्तु मुवावस्था के अन्त भं
सोभकान्त को घृस्णत कुद्ष योग हो गमा। उसके अनेक
उऩािाय फकमे गमे, फकन्तु कोई राब नहीॊ हुआ।

योग

शीघ्रता से फढऩे रगा औय उसके कीड़े ऩड़ गमे। जफ योग
की असधक वृत्रद्ध होने रगी औय उसका कोई उऩाम न हो

होता हुआ अनेक रूऩ भं प्रिसरत हं । शौनक जी ने ऩूिा

सका तो याजा ने अभात्मं को फुराकय कहा-सुब्रतो! जाने

सोभकान्त कौन था? उसने भहत्रषा से गणेश ऩुयाण का

मह भेयं फकसी ऩूवा जन्भ के ऩाऩ का पर होगा। इससरए

बगवान ्!

आऩ

मह

फताने

का

कद्श

कयं

फक

याजा

श्रवण फकस जगह फकमा था? एवॊ उस ऩुयाण के श्रवण से

फकस कायण मह योग भुझे ऩीस़्डत कय यहा हं । अवश्म ही
भं अफ अऩना सभस्त याज-ऩाट िोड़कय वन भं यहूॉगा।

उसे क्मा-क्मा उऩरस्ब्धमाॉ हुई? हे नाथ! भुझे श्री गणेद्वय

अत् आऩ भेये ऩुि हे भकान्त को भेये सभान भानकय

फोरे-'हे शौनक! सौयाद्स के दे वनगय नाभ की एक प्रससद्ध

कहकय याजा ने शुब फदन फदखवाकय अऩने ऩुि हे भकान्त

की कथा के प्रसत उत्कण्ठा फढ़ती ही जा यही हं । सूतजी
याजधानी थी। वहाॉ का याजा सोभकान्त था। याजा अऩनी
प्रजा का ऩारन ऩुि के सभान कयता था। वह वेदऻान
सम्ऩन्न, शस्त्र-त्रवद्या भं ऩायॊ गत एवॊ प्रफर प्रताऩी याजा
सभस्त याजाओॊ भं भान्म तथा अत्मन्त वैबवशारी था।
उसका ऐद्वमा कुफेय के बी ऐद्वमा को रस्ज्जत कयता था।
उसने अऩने ऩयाक्रभ से अनेकं दे श जीत सरमे थे। उसकी
ऩत्नी अत्मन्त रूऩवती, गुणवती, धभाऻा एवॊ ऩसतव्रता धभा
का ऩारन कयने वारी थी। वह सदै व अऩने प्राणनाथ फक

याज्म शासन का धभाऩूवक

सॊिारन कयाते यहं । मह
को याज्मऩद ऩय असबत्रषि फकमा औय अऩनी ऩत्नी सुधभाा
के साथ सनजान वन की ओय िर फदमा। प्रजाऩारक याजा
के त्रवमोग भं सभस्त प्रजाजन अश्रु फहाते हुए उनके साथ

िरे। याज्म की सीभा ऩय ऩहुॉिकय याजा ने अऩने ऩुि,
अभात्मगण औय प्रजाजनं को सभझामा-आऩ सफ रोग
धभा के जानने वारे, श्रेद्ष आियण भं तत्ऩय एवॊ सरृदम हं ।
मह सॊसाय तो वैसे बी ऩरयवतानशीर है । जो आज है , वह
कर नहीॊ था औय आने वारे कर बी नहीॊ यहे गा।

64

ससतम्फय 2013

इससरए भेये जाने से द:ु ख का कोई कायण नहीॊ हं । भेये

उनकी आऻा हुई हं फक आऩ सफ भेये साथ आश्रभ भं

सफ उसके अनुशासन भं यहते हुए उसे सदै व सम्भसत दे ते

त्रविाय फकमा जामेगा। ऩूवज
ा न्भ का वृत्तान्त जानने के सरमे

यहं । फपय ऩुि से कहा-'ऩुि! मह स्स्थसत सबी के सभऺ

याजा अऩनी ऩस्त्न औय अभात्मं के सफहत च्मवन के

आती यही हं । हभाये ऩूवा ऩुरूष बी ऩयम्ऩयागत रूऩ से

साथ-साथ बृगु आश्रभ भं जा ऩहुॉिा औय उन्हं प्रणाभ कय

स्थान ऩय भेया ऩुि सबी कामं को कये गा, इससरए आऩ

वृद्धावस्था आने ऩय वन भं जाते यहे हं । भं कुि सभम
ऩफहरे ही वन भं जा यहा हूॉ तो कुि ऩफहरे मा ऩीिे जाने
भं कोई अन्तय नहीॊ ऩड़ता। मफद कुि वषा फाद जाऊॉ तफ

बी भोह का त्माग कयना ही होगा। इससरए, हे वत्स! तुभ

िरकय उनसे बंट कयं तबी आऩके योग के त्रवषम भं बी

फोरा हे बगवान ् हे भहत्रषा! भं आऩकी शयण हूॉ, आऩ भुझ
कुद्षी ऩय कृ ऩा कीस्जए। भहत्रषा फोरे याजन ्! मह तुम्हाये

फकसी ऩूवज
ा न्भ के ऩाऩ कभा का ही उदम हो गमा हं ।
इसका उऩाम भं त्रविाय कय फताऊॉगा। आज तो आऩ सफ

द:ु स्खत भत होओ औय भेयी आऻा भानकय याज्म-शासन

स्नानाफद से सनवृत्त होकय यात्रि-त्रवश्राभ कयो। भहत्रषा की

को ठीक प्रकाय िराओ। ध्मान यखना ऺत्रिम धभा का

आऻानुसाय सफने स्नान, बोजन आफद उऩयान्त यात्रि

कबी त्माग न कयना औय प्रजा को सदा सुखी यखना। इस

व्मतीत की औय प्रात: स्नानाफद सनत्मकभं से सनवृत्त

प्रकाय याजा सोभकान्त ने सबी को सभझा फुझाकय वहाॉ

होकय भहत्रषा की सेवा भं उऩस्स्थत हुए।

से वाऩस रौटामा औय स्वमॊ अऩनी ऩसतव्रता ऩस्त्न के साथ

भहत्रषा ने कहा-'याजन ्! भंने तुम्हाये ऩूवज
ा न्भ का

वन भं प्रवेश फकमा। ऩुि हे भकान्त के आग्रह से उसने

वृत्तान्त जान सरमा हं औय मह बी ऻात कय सरमा हं फक

सुफर औय ऻानगम्म नाभक दो अभात्मं को बी साथ रे

फकस ऩाऩ के पर से तुम्हं इस घृस्णत योग की प्रासद्ऱ हुई

सरमा। उन सफने एक सभतर एवॊ सुन्दय स्थान दे खकय
वहाॉ त्रवश्राभ फकमा। तबी उन्हं एक भुसनकुभाय फदखाई
फदमा। याजा ने उससे ऩूिा-'तुभ कौनहो? कहाॉ यहते हो?
मफद उसित सभझो तो भुझे फताओ। भुसन फारक ने

हं । मफद तुभ िाहो तो उसे सुना दॉ ।ू याजा ने हाथ जोड़कय

सनवेदन फकमा फड़ी कृ ऩा होगी भुसननाथ! भं उसे सुनने के
सरए उत्कस्ण्ठत हूॉ। भहत्रषा ने कहा तुभ ऩूवा जन्भ भं एक
धनवान वैश्म के राड़रे ऩुि थे। वह वैश्म त्रवॊध्मािर के

कोभर वाणी भं कहा-'भं भहत्रषा बृगु का ऩुि हूॉ, भेया नाभ

सनकट कौल्हाय नाभक ग्राभ भं सनवास कयता था। उसकी

च्मवन है । हभाया आश्रभ सनकट भं ही है । अफ आऩ बी

ऩत्नी का नाभ सुरोिना था। तुभ उसी वैश्म-दम्ऩत्रत्त के

अऩना ऩरयिम दीस्जए। याजा ने कहा-'भुसनकुभाय! आऩका

ऩि हुए। तुम्हाया नाभ 'काभद था। तुम्हाया रारन-ऩारन

ऩरयिम ऩाकय भुझे फड़ी प्रसन्नता हुई। भं सौयाद्स के

फड़े

राड़-िाव से हुआ। उन्हंने तुम्हाया त्रववाह एक

दे वनगय याज्म का असधऩसत यहा हूॉ। अफ अऩने ऩुि को

अत्मन्त सुन्दयी वैश्म कन्मा से कय फदमा था, स्जसका

याज्म दे कय भंने अयण्म की शयण री हं । भुझे कुद्ष योग

नाभ कुटु स्म्फनी था। मद्यत्रऩ तुम्हायी बामाा सुशीरा थी औय

अत्मन्त ऩीस़्डत फकमे हुए हं , इसकी सनवृत्रत्त का कोई

तुम्हं सदै व धभा भं सनयत दे खना िाहती थी, फकन्तु

उऩाम कयने वारा हो तो कृ ऩमा कय भुझे फताइमे।

तुम्हाया स्वबाव वासनान्ध होने के कायण फदन प्रसतफदन

भुसनकुभाय ने कहा-'भं अऩने त्रऩताजी से आऩका वृतान्त

त्रवकृ त होता जा यहा था। फकन्तु भाता-त्रऩता बी धासभाक

कहता हूॉ, फपय वे जैसा कहं गे, आऩको फताऊॉगा। मह कहकय

थे, इससरए उनके साभने तुम्हायी त्रवकृ सत दफी यही। ऩयन्तु

भुसन फारक िरा गमा औय कुि दे य भं ही आकय फोरा-

भाता-त्रऩता की भृत्मु के फाद तुभ सनयॊ कुश हो गमे औय

'याजन ्! भंने आऩका वृत्तान्त अऩने त्रऩताजी को फतामा।

अऩनी ऩत्नी की फात बी नहीॊ भानते थे।

ससतम्फय 2013

65

तुम्हाये अनािाय भं प्रवृत्त दे खकय उसे द:ु ख होता था, तो

प्रसत बत्रि-बाव जाग्रत हुआ। तुभ सनयाहाय यहकय उनकी

ियभ सीभा ऩय थी। अऩनं से बी द्रे ष औय क्रूयता का

बी कभ हुआ।

बी उसका कुि वश न िरता था। तुम्हायी उन्भुिाता
व्मवहाय फकमा कयते थे। हत्मा आफद कया दे ना तुम्हाये
सरमे साभान्म फात हो गई। ऩीस़्डत व्मत्रिमं ने तुम्हाये

त्रवरूद्ध याजा से ऩुकाय की। असबमोग िरा औय तुम्हं याज्म

उऩासना कयने रगे। उससे तुम्हं सफ कुि सभरा औय योग
याजन ्! तुभने अऩने सासथमं की दृत्रद्श फिाकय

फहुत-सा धन एक स्थान ऩय गाढ़ फदमा था। अफ तुभने
उस धन को उसे दे वारम के जीणोद्धाय भं रगाने का

की सीभा से बी फाहय िरे जाने का आदे श हुआ। तफ

सनद्ळम फकमा। सशल्ऩी फुराकय उस भस्न्दय को सुन्दय औय

सभम तुम्हाया कामा रोगं को रूटना औय हत्मा कयना ही

सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रद्षत

तुभ घय िोड़कय फकसी सनजान वन भं यहने रगे। उस
यह गमा। एक फदन भध्माा कार था। गुणवधाक नाभक

एक त्रवद्रान ् ब्राह्मण उधय से सनकरा। फेिाया अऩनी ऩत्नी

को सरवाने के सरए ससुयार जा यहा था। तुभने उस
ब्राह्मण मुवक को ऩकड़ कय रूट सरमा। प्रसतयोध कयने ऩय
उसे भायने रगे तो वह िीत्काय कयने रगा-भुझे भत भाय,
भत भाय। दे ख, भेया दस
ू या त्रववाह हुआ है , भं ऩत्नी को रेने

22 गेज शुद्ध स्टीर भं
सनसभात अखॊफडत

शसन

के सरमे जा यहा हूॉ। फकन्तु तुभ तो क्रोधावेश भं ऐसे रीन
हो यहे थे फक तुभने उसकी फात सुनकय बी नहीॊ सुनी।

जफ उसे भायने रगे तो उसने शाऩ दे फदमा-'अये हत्माये !
भेयी हत्मा के ऩाऩ से तू सहस्र कल्ऩ तक घोय नयक
बोगेगा। तुभने उसकी कोई सिन्ता न की औय ससय काट
सरमा। याजन ्! तुभने ऐसी-ऐसी एक नहीॊ फस्ल्क अनेक

सनयीह हत्माएॉ की थीॊ, स्जनकी गणना कयना बी ऩाऩ है ।
इस प्रकाय इस जन्भ भं तुभने घोय ऩाऩ कभा फकमे थे,
फकन्तु फुढ़ाऩा आने ऩय जफ अशि हो गमे तफ तुम्हाये
साथ क्रूयकभाा थे वे बी फकनाया कय गमे। उन्हंने सोि
सरमा फक अफ तो इसे स्खराना बी ऩड़े गा, इससरए भयने
दो महीॊ। गणऩसत-उऩासना का अभाॊघ प्रबाव याजन ्! अफ

तैसतसा मॊि

शसनग्रह

से

सॊफॊसधत

ऩीडा

के

सनवायण हे तु त्रवशेष राबकायी मॊि।
भूल्म: 550 से 10900 >> Order Now

तुभ सनयारम्फ थे, िर-फपय तो सकते ही नहीॊ थे, बूख से

ऩीस़्डत यहने के कायण योगं ने बी घेय सरमा। उधय से जो

GURUTVA KARYALAY

कोई सनकरता, तुम्हं घृणा की दृत्रद्श से दे खता हुआ िरा

92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR
PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com,
gurutva_karyalay@yahoo.in,
Our Website:- http://gk.yolasite.com/ and
http://gurutvakaryalay.blogspot.com/

जाता। तफ तुभ आहाय की खोज भं फड़ी कफठनाई से
िरते हुए एक जीणाशीणा दे वारम भं जा ऩहुॉिे। उसभं
बगवान ् गणेद्वय की प्रसतभा त्रवद्यभान थी। तफ न जाने
फकस ऩुण्म के उदम होने से तुम्हाये भन भं गणेशजी के

ससतम्फय 2013

66

बव्म फनवा फदमा। इस कायण कुख्मासत सुख्मासत भं
फदरने रगी। फपय मथा सभम तुम्हायी भृत्मु हुई।

हुआ है , अतएव तुभ श्रद्धा-बत्रि ऩूवक
ा उसी को सुनने भं

सित्त रगाओ। याजा ने प्राथाना की-'भहाभुने! भंने गणेश

मभदत
ू ं ने ऩकड़कय तुम्हं मभयाज के सभऺ उऩस्स्थत

ऩुयाण का नाभ बी आज तक नहीॊ सुना तो उनके सुनने

फकमा। मभयाज तुभसे फोरे-'जीव! तुभने ऩाऩ औय ऩुण्म

का सौबाग्म कैसे प्राद्ऱ कय सकूॉगा। हे नाथ! आऩसे असधक

दोनं ही फकमे हं औय दोनं का ही बोग तुम्हं बोगना है ।

ऻानी औय प्रकाण्ड त्रवद्रान ् औय कौन हो सकता है ? आऩ

फकन्तु ऩहरे ऩाऩ का पर बोगना िाहते हो मा ऩुण्म का?

ही भुझ ऩय कृ ऩा कीस्जए। भहत्रषा ने याजा की दीनता

इसके उत्तय भं तुभने प्रथभ ऩुण्मकभं के बोग की इच्िा

दे खकय उसके शयीय ऩय अऩने कभण्डर का भन्िऩूत जर

प्रकट की औय इसीसरए उन्हंने तुम्हं याजकुर भं जन्भ

सिड़का। तबी याजा को एक िीॊक आई औय नाससका से

गणाध्मऺ का सुन्दय एवॊ बव्म भस्न्दय फनवामा था,

आमा। दे खते-दे खते वह फढ़ गमा। उसके बमॊकय रूऩ को

इससरए तुम्हं सुन्दय दे ह की प्रासद्ऱ हुई है । मह कहकय

दे खकय

भहत्रषा बृगु कुि रूके, क्मंफक उन्हंने दे खा फक याजा को

आश्रभवासी वहाॉ से बाग गमे। वह ऩुरूष भहत्रषा के सभऺ

इस वृत्तान्त ऩय शॊङ्का हो यही है । तबी भहत्रषा के शयीय

हाथ जोड़कय खड़ा हो गमा। बृगु ने उसकी ओय दे खा औय

से असॊख्म त्रवकयार ऩऺी उत्ऩन्न होकय याजा की ओय

कुि उच्ि स्वय भं फोरे -'तू कौन है ? क्मा िाहता है ? वह

झऩटे । उनकी िंि फड़ी तीक्ष्ण थी, स्जनसे वे याजा के

फोरा-'भं साऺात ् ऩाऩ हूॉ, सभस्त ऩात्रऩमं के शयीय भं भेया

रेने के सरए बेज फदमा। ऩूवा जन्भ भं तुभने बगवान ्

शयीय को नोि-नोि कय खाने रगे। उसके कायण उत्ऩन्न

एक अत्मन्त िोटा कारे वणा का ऩुरूष फाहय सनकर
याजा

कुि

बमबीत

हुआ,

फकन्तु

सभस्त

सनवास है । आऩके भन्िऩूत जर के स्ऩशा से भुझे त्रववश

असह्य ऩीड़ा से व्माकुर हुए याजा ने भहत्रषा के सभऺ हाथ

होकय याजा के शयीय से फाहय सनकरना ऩड़ा है । अफ भुझे

दोष, द्रे ष आफद से ऩये है औय महाॉ भं आऩकी शयण भं

फोरे-'तु उस आभ के अवकाश स्थान भं सनवास कय औय

जोड़कय सनवेदन फकमा-'प्रबो! आऩका आश्रभ तो सभस्त

फड़ी बूख रगी है , फताइमे क्मा खाऊॉ औय कहाॉ यहूॉ? भहत्रषा

फैठा हूॉ तफ मह ऩऺी भुझे अकायण ही क्मं ऩीस़्डत कय

उसी वृऺ के ऩत्ते खाकय जीवन-सनवााह कय। मह सुनते ही

भहत्रषा ने याजा के आत्र्तविन सुनकय सान्त्वना

भाि से वह वृऺ जरकय बस्भ हो गमा। फपय जफ ऩाऩ

यहे हं ? हे भुसननाथ! इनसे भेयी यऺा कीस्जए।

वह ऩुरूष आभ के वृऺ के ऩास ऩहुॉिा, फकन्तु उसके स्ऩशा

दे ते हुए कहा-'याजन ्! तुभने भेये विनं भं शॊका की थी

ऩुरूष को यहने के सरए कोई स्थान फदखाई न फदमा तो

औय जो भुझ सत्मवादी के कथन भं शॊका कयता है , उसे

वह बी अन्तफहा त हो गमा।

खाने के सरए भेये शयीय से इसी प्रकाय ऩऺी प्रकट हो

हत्रषा फोरे-'याजन ्? कारान्तय भं मह वृऺ ऩुन: अऩना

जाते हं , जो फक भये हुॊकाय कयने ऩय बस्भ हो जामा कयते

ऩूवरू
ा ऩ धायण कये गा। जफ तक मह ऩुन: उत्ऩन्न न हो

हं । मह कहकय भहत्रषा ने हुॊङ्काय की ओय तबी वे सभस्त

तफ तक भं तुम्हं गणेश ऩुयाण का श्रवण कयाता यहूॉगा।

अश्रुऩात कयता हुआ फोरा-'प्रबो! अफ उस ऩाऩ से भुि

ऩूजन कयो, तफ भं गणेश ऩुयाण की कथा का आयम्ब

होने के उऩाम कीस्जए। भहत्रषा ने कुि त्रविाय कय कहा-

करूॉगा। भुसनयाज के आदे शानुसाय याजा ने ऩुयाण-श्रवण का

'याजन ्! तुभ ऩय बगवान ् गणेद्वय की कृ ऩा सहज रूऩ से है

सॊकल्ऩ फकमा। उसी सभम याजा ने अनुबव फकमा फक

हं । इससरए तुभ उनके ऩाऩ-नाशक िरयिं को श्रवण कयो।

योग का अफ कहीॊ सिन्ह बी शेष नहीॊ यह गमा था। अऩने

ऩऺी बस्भ हो गमे। याजा श्रद्धावनत होकय उनके सभऺ

तुभ ऩुयाण श्रवण के सॊकल्ऩऩूवक
ा आफद दे व गणेशजी का

औय वे ही प्रबु तुम्हाये ऩाऩं को बी दयू कयने भं सभथा

उसकी सभस्त ऩीड़ा दयू हो गई है । दृत्रद्श डारी तो कुद्ष

गणेश ऩुयाण भं उनके प्रभुख िरयिं का बरे प्रकाय वणान

को ऩूणरू
ा ऩ से योग यफहत एवॊ ऩूवव
ा त ् सुन्दय हुआ दे खकय

67

याजा के आद्ळमा की सीभा न यही औय उसने भहत्रषा के

ससतम्फय 2013

ऩाऩ दयू कयने का कोई साधन होना िाफहए। इस त्रविाय

ियण ऩकड़ सरए औय सनवेदन फकमा फक प्रबो! भुझे गणेश

से भहत्रषा वेदव्मास ने भुझे सुनामा था। उन्हीॊ की कृ ऩा से

ऩुयाण का त्रवस्तायऩूवक

श्रवण कयाइमे। भहत्रषा ने कहा-

भं बगवान गणाध्मऺ के भहान िरयिं को सुनने का

'याजन ्! मह गणेश ऩुयाण सभस्त ऩाऩं औय सॊकटं को

सौबाग्म प्राद्ऱ कय सका था। भहायाज! बगवान गजानन

दयू कयने वारा है , तुभ इसे ध्मानऩूवक
ा सुनो। इसका श्रवण

अऩने सयर स्वबाव वारे बिं को सफ कुि प्रदान कयने

केवर गणऩसत-बिं को ही कयना-कयाना िाफहए अन्म

भं सभथा हं । सनयसबभान प्रास्णमं ऩय वे सदै व अनुग्रह

फकसी को नहीॊ। कसरमुग भं ऩाऩं की असधक वृत्रद्ध होगी,

कयते हं फकन्तु सभथ्मासबभानी फकसी को बी नहीॊ यहने

औय रागे कद्श-सहन भं असभथा एवॊ अल्ऩामु हंगे। उनके

दे ते।

***
त्रवद्या प्रासद्ऱ हे तु सयस्वती कवि औय मॊि
आज के आधुसनक मुग भं सशऺा प्रासद्ऱ जीवन की भहत्वऩूणा आवश्मकताओॊ भं से एक है । फहन्द ू धभा भं त्रवद्या
की असधद्षािी दे वी सयस्वती को भाना जाता हं । इस सरए दे वी सयस्वती की ऩूजा-अिाना से कृ ऩा प्राद्ऱ कयने से
फुत्रद्ध कुशाग्र एवॊ तीव्र होती है ।
आज के सुत्रवकससत सभाज भं िायं ओय फदरते ऩरयवेश एवॊ आधुसनकता की दौड भं नमे-नमे खोज एवॊ
सॊशोधन के आधायो ऩय फच्िो के फौसधक स्तय ऩय अच्िे त्रवकास हे तु त्रवसबन्न ऩयीऺा, प्रसतमोसगता एवॊ
प्रसतस्ऩधााएॊ होती यहती हं , स्जस भं फच्िे का फुत्रद्धभान होना असत आवश्मक हो जाता हं । अन्मथा फच्िा
ऩयीऺा, प्रसतमोसगता एवॊ प्रसतस्ऩधाा भं ऩीिड जाता हं , स्जससे आजके ऩढे सरखे आधुसनक फुत्रद्ध से सुसॊऩन्न रोग
फच्िे को भूखा अथवा फुत्रद्धहीन मा अल्ऩफुत्रद्ध सभझते हं । एसे फच्िो को हीन बावना से दे खने रोगो को हभने
दे खा हं , आऩने बी कई सैकडो फाय अवश्म दे खा होगा?
ऐसे फच्िो की फुत्रद्ध को कुशाग्र एवॊ तीव्र हो, फच्िो की फौत्रद्धक ऺभता औय स्भयण शत्रि का त्रवकास हो इस सरए
सयस्वती कवि अत्मॊत राबदामक हो सकता हं ।
सयस्वती कवि को दे वी सयस्वती के ऩयॊ भ दर
ा तेजस्वी भॊिो द्राया ऩूणा भॊिससद्ध औय ऩूणा िैतन्ममुि फकमा
ू ब
जाता हं । स्जस्से जो फच्िे भॊि जऩ अथवा ऩूजा-अिाना नहीॊ कय सकते वह त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सके औय जो
फच्िे ऩूजा-अिाना कयते हं , उन्हं दे वी सयस्वती की कृ ऩा शीघ्र प्राद्ऱ हो इस सरमे सयस्वती कवि अत्मॊत
राबदामक होता हं ।
सयस्वती कवि औय मॊि के त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩका कयं ।

सयस्वती कवि : भूल्म: 550 औय 460

>> Order Now

सयस्वती मॊि :भूल्म : 370 से 1450 तक

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us - 9338213418, 9238328785

Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com
.

ससतम्फय 2013

68

काभनाऩूसता हे तु तीन दर
ा गणेश साधना
ु ब

 ऩॊ.श्री बगवानदास त्रिवेदी जी,
हरयद्रा गणऩसत मन्ि साधना
साधना हे तु साभग्री:- श्री हरयद्रा गणेश मन्ि (हरयद्रा गणऩसत मन्ि), एवॊ श्री
गणेश जी की प्रसतभा(हल्दी की सभरजामे तो असत उत्तभ), हल्दी, घी का दीऩ,
धूऩफत्ती, अऺत
भारा: भूॊगे मा हल्दी की
सभम: प्रात्कार
फदशा: ऩूवा
आसन: रार
वस्त्र: ऩीरा
फदन: कृ ष्ण ऩऺ की ितुथॉ से शुक्र ऩऺ की ितुथॉ तक
जऩ सॊख्मा: िाय राख
प्रदाद : गुड़

भॊि:–

ॐ हुॊ गॊ ग्रं हरयद्रागणऩत्मे वयद सवाजन रृदम स्तॊबम स्तॊबम स्वाहा ||

Om Hum Gan Gloun Haridraganapatye Varad Sarvajan Hruday Stambhay
Stambhay Swaha

त्रवसध: प्रात्कार स्नानइत्माफद से सनवृत्त होकय स्वच्ि वस्त्र धायण कय रार आसन ऩय
फैठ जामे। श्री हरयद्रा गणेश मन्ि एवॊ गणेशजी के त्रवग्रह को एक रकड़ी की िौकी ऩय ऩीरा वस्त्र त्रफिा कय स्थात्रऩत
कयदे । गणेशजी को हल्दी, रार मा ऩीरे पूर गणेशजी को अत्रऩत
ा कयं । प्रसाद भं गुड़ िढा़ए। धूऩ-दीऩ इत्माफद से
त्रवसधवत ऩूजन कयं , साधन कार भं धूऩ-दीऩ िारु यखं। भन्ि जऩ प्रायॊ ब कयने से ऩूवा जऩ का त्रवसनमोग अवश्म कयरं।
जऩ की सभासद्ऱ ऩय हल्दी सभसश्रत अऺत से दशाॊश हवन कयके ब्राह्मण बोजन कयामे।
भन्ि जऩ से ऩूवा गणेशजी का इस भॊि से ध्मान कयं ।
ध्मान भन्ि :

ऩाशाॊक शौभोदकभेक दन्तॊ कयै दाधानॊ कनकासनस्थभ ् हारयद्राखन्ड प्रसतभॊ त्रिनेिॊ ऩीताॊशुकॊयात्रि गणेश भीडे ॥
Paashank Shoumodakamek Dantam Karairdadhanam Kanakasanastham Haridrakhand Pratimam Trinetram
Peetanshukanratri Ganesha Meede.
शुक्र ऩऺ की ितुथॉ को हल्दी का रेऩ शयीय ऩय रगाकय स्नान कयं । गणेशजी का ऩूजन कये औय ८००० भन्ि
से तऩाण कयके, घी से १०१ फाय हवन कये । कुॊवायी कन्मा को बोजन कयामे औय मथाशत्रि दस्ऺणा दे कय प्रसन्न कयं ।
मन्ि एवॊ प्रसतभा को अऩने ऩूजा स्थान भं स्थात्रऩत कयदे ।
प्रभुख प्रमोजन: १. शिु भुख फॊध कयने हे तु। २. जर, अस्ग्न, िोय एवॊ फहॊ सक जीवं से यऺा हे तु। ३. वॊध्मा स्त्री को
सॊतान प्रासद्ऱ हे तु।

69

ससतम्फय 2013

त्रवजम गणऩसत मन्ि साधना
साधना हे तु साभग्री:- श्री गणेश मन्ि (सॊऩूणा फीज भॊि सफहत), एवॊ स्पफटक की गणेश की प्रसतभा, रार िॊदन,
केसय घी का दीऩ, धूऩफत्ती, अऺत, जर ऩाि,

कनेय के पूर

भारा: भूॊगे मा यि िॊदन की
सभम: फदन भं फकसी बी सभम (प्रात्कार उत्तभ होता हं )
फदशा: ऩूवा
आसन: रार
वस्त्र: रार
फदन: ऩाॊि फदन भं (फकसी बी फुधवाय से साधना प्रायॊ ब कयं )
जऩ सॊख्मा: सवा राख
प्रदाद : गुड़

भॊि:–

ॐ वय वयदाम त्रवजम गणऩतमे नभ्।
Om Var Varaday Vijay Ganapatye Namah |

त्रवसध:–
प्रात्कार स्नानइत्माफद से सनवृत्त होकय स्वच्ि वस्त्र धायण कय रार आसन
ऩय फैठ जामे।
श्री गणेश मन्ि एवॊ गणेशजी के त्रवग्रह को एक रकड़ी की िौकी ऩय
रार वस्त्र त्रफिा कय स्थात्रऩत कयदे । गणेशजी को केसय व यि िॊदन का
सतरक कये , प्रसाद भं गुड़ िढा़ए। धूऩ-दीऩ इत्माफद से त्रवसधवत ऩूजन कयं ,
साधन कार भं धूऩ-दीऩ िारु यखं।

२१ कनेय के पूर(कनेय अप्राद्ऱ हो तो रार गुराफ मा कोइ बी रार पूर) गणेशजी

को अत्रऩत
ा कयं । गणेश जी को हय ऩुष्ऩ अत्रऩत
ा कयते सभम स्जस कामा भं त्रवजम प्राद्ऱ कयनी हो उस कामा की ऩूसता हे तु
गणेश जी से श्रद्धा बाव से प्राथना कयं ।

फपय भन्ि जऩ प्रायॊ ब कयं । ऩाॊि फदन भं सवा राख जऩ ऩूणा हो जाने ऩय, िठ्ठे फदन ऩाॊि कुवारयकाओॊ को

बोजन कयामे औय मथाशत्रि दस्ऺणा दे कय प्रसन्न कयं । एसा कयने से साधक की काभनाएॊ ऩूणा होती हं । मन्ि एवॊ भूसता
को अऩने ऩूजा स्थान भं स्थात्रऩत कयदं , स्जस कामा उद्दे श्म के सरमे प्रमोग फकमा हो उस कामा हे तु जफ आवश्मक हो तो
मन्ि को सॊफॊसधत कामा के सभम साथ रेकय जामे। कामा उद्दे श्म भं त्रवजमश्री की प्रासद्ऱ के ऩद्ळमात मन्ि को फहते ऩानी
भं त्रवसस्जात कयदे । गणेश प्रसतभा का सनमसभत ऩूजन कय सकते हं ।
प्रभुख प्रमोजन:
१. कोटा -केश आफद त्रववादं भं सपरता हे तु।
२. शिु का प्रबाव फढ़ गमा हो तो उस ऩय त्रवजम प्राद्ऱ कयने हे तु।
३. मफद फकसी कामा उद्दे श्म भं सपरता प्राद्ऱ कयने हे तु ।

70

ससतम्फय 2013

कल्माणकायी गणऩसत मन्ि साधना
साधना हे तु साभग्री:- श्री गणेश ससद्ध मन्ि एवॊ स्पफटक की गणेश की प्रसतभा, रार िॊदन, केसय घी का दीऩ,
धूऩफत्ती, अऺत, कनेय के पूर
भारा: भूॊगे मा यि िॊदन की
सभम: फदन भं फकसी बी सभम (प्रात्कार उत्तभ होता हं )
फदशा: ऩूवा
आसन: रार
वस्त्र: रार
फदन: ऩाॊि फदन, ग्मायाफदन मा इस्क्कस फदन भं (फकसी बी फुधवाय से साधना
प्रायॊ ब कयं )
जऩ सॊख्मा: सवा राख
प्रदाद : गुड़

भॊि:–

गॊ गणऩतमे नभ्।
Gan Ganapatye Namah |

त्रवसध:–
फकसी बी फुधवाय को प्रात्कार स्नानइत्माफद से सनवृत्त होकय स्वच्ि वस्त्र
धायण कय रार आसन ऩय फैठ जामे।
श्री गणेश ससद्ध मन्ि एवॊ गणेशजी के त्रवग्रह को एक रकड़ी की िौकी ऩय रार
वस्त्र त्रफिा कय स्थात्रऩत कयदे । गणेशजी को केसय व यि िॊदन का सतरक कये ,
प्रसाद भं गुड़ िढा़ए। धूऩ-दीऩ इत्माफद से त्रवसधवत ऩूजन कयं , साधन कार भं
धूऩ-दीऩ िारु यखं। सॊबव हो तो गणेशजी को ऩुष्ऩ अत्रऩत
ा कयं ।
स्जतने फदनं भं साधना सॊऩन्न कयनी हो उसी के अनुरुऩ सॊकल्ऩ कयके भन्ि जऩ प्रायॊ ब कयं । सनमसभत उसी सभम भं
भन्ि जऩ कये ।

साधना सम्ऩन्न होने ऩय फकसी ब्राह्मण मा कुभारयका कं बोजन कयामे औय मथाशत्रि दस्ऺणा वस्त्र आफद दे कय प्रसन्न
कयं ।
मन्ि औय गणेश प्रसतभा को अऩने ऩूजा स्थान भं स्थात्रऩत कयदं , औय सनमसभत उि भन्ि की एक भारा जऩ कयं । उि
साधना से साधक का बत्रवष्म भं ससद्ध होने वारे कामा त्रफना फकसी ऩये शानी से सनत्रवाध्न सॊऩन्न हो जामे गा।
प्रभुख प्रमोजन:
१. सबी कामा सनत्रवाघ्न सॊऩन्न कयने हे तु।
२. भहत्वऩूणा कामं भं आने वारी फाधा एवॊ त्रवध्नं के नाश हे तु।
३. ऩरयवाय की सुख-सभृत्रद्ध हे तु।

ससतम्फय 2013

71

हभाये त्रवशेष मॊि
व्माऩाय वृत्रद्ध मॊि: हभाये अनुबवं के अनुशाय मह मॊि व्माऩाय वृत्रद्ध एवॊ ऩरयवाय भं सुख सभृत्रद्ध हे तु त्रवशेष प्रबावशारी हं ।

बूसभराब मॊि: बूसभ, बवन, खेती से सॊफॊसधत व्मवसाम से जुड़े रोगं के सरए बूसभराब मॊि त्रवशेष राबकायी ससद्ध
हुवा हं ।

तॊि यऺा मॊि: फकसी शिु द्राया फकमे गमे भॊि-तॊि आफद के प्रबाव को दयू कयने एवॊ बूत, प्रेत नज़य आफद फुयी शत्रिमं
से यऺा हे तु त्रवशेष प्रबावशारी हं ।

आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि: अऩने नाभ के अनुशाय ही भनुष्म को आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ हे तु परप्रद हं इस मॊि के
ऩूजन से साधक को अप्रत्मासशत धन राब प्राद्ऱ होता हं । िाहे वह धन राब व्मवसाम से हो, नौकयी से हो, धन-सॊऩत्रत्त
इत्माफद फकसी बी भाध्मभ से मह राब प्राद्ऱ हो सकता हं । हभाये वषं के अनुसॊधान एवॊ अनुबवं से हभने आकस्स्भक
धन प्रासद्ऱ मॊि से शेमय ट्रे फडॊ ग, सोने-िाॊदी के व्माऩाय इत्माफद सॊफॊसधत ऺेि से जुडे रोगो को त्रवशेष रुऩ से आकस्स्भक
धन राब प्राद्ऱ होते दे खा हं । आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि से त्रवसबन्न स्रोत से धनराब बी सभर सकता हं ।

ऩदौन्नसत मॊि: ऩदौन्नसत मॊि नौकयी ऩैसा रोगो के सरए राबप्रद हं । स्जन रोगं को अत्मासधक ऩरयश्रभ एवॊ श्रेद्ष कामा
कयने ऩय बी नौकयी भं उन्नसत अथाात प्रभोशन नहीॊ सभर यहा हो उनके सरए मह त्रवशेष राबप्रद हो सकता हं ।

यत्नेद्वयी मॊि: यत्नेद्वयी मॊि हीये -जवाहयात, यत्न ऩत्थय, सोना-िाॊदी, ज्वैरयी से सॊफॊसधत व्मवसाम से जुडे रोगं के सरए
असधक प्रबावी हं । शेय फाजाय भं सोने-िाॊदी जैसी फहुभूल्म धातुओॊ भं सनवेश कयने वारे रोगं के सरए बी त्रवशेष
राबदाम हं ।

बूसभ प्रासद्ऱ मॊि: जो रोग खेती, व्मवसाम मा सनवास स्थान हे तु उत्तभ बूसभ आफद प्राद्ऱ कयना िाहते हं , रेफकन उस
कामा भं कोई ना कोई अड़िन मा फाधा-त्रवघ्न आते यहते हो स्जस कायण कामा ऩूणा नहीॊ हो यहा हो, तो उनके सरए
बूसभ प्रासद्ऱ मॊि उत्तभ परप्रद हो सकता हं ।

गृह प्रासद्ऱ मॊि: जो रोग स्वमॊ का घय, दक
ु ान, ओफपस, पैक्टयी आफद के सरए बवन प्राद्ऱ कयना िाहते हं । मथाथा
प्रमासो के उऩयाॊत बी उनकी असबराषा ऩूणा नहीॊ हो ऩायही हो उनके सरए गृह प्रासद्ऱ मॊि त्रवशेष उऩमोगी ससद्ध हो सकता हं ।

कैरास धन यऺा मॊि: कैरास धन यऺा मॊि धन वृत्रद्ध एवॊ सुख सभृत्रद्ध हे तु त्रवशेष परदाम हं ।
आसथाक राब एवॊ सुख सभृत्रद्ध हे तु 19 दर
ा रक्ष्भी मॊि
ु ब

>> Order Now

त्रवसबन्न रक्ष्भी मॊि

श्री मॊि (रक्ष्भी मॊि)

भहारक्ष्भमै फीज मॊि

कनक धाया मॊि

श्री मॊि (भॊि यफहत)

भहारक्ष्भी फीसा मॊि

वैबव रक्ष्भी मॊि

श्री मॊि (सॊऩूणा भॊि सफहत)

रक्ष्भी दामक ससद्ध फीसा मॊि

श्री श्री मॊि

श्री मॊि (फीसा मॊि)

रक्ष्भी दाता फीसा मॊि

अॊकात्भक फीसा मॊि

श्री मॊि श्री सूि मॊि

रक्ष्भी फीसा मॊि

ज्मेद्षा रक्ष्भी भॊि ऩूजन मॊि

श्री मॊि (कुभा ऩृद्षीम)

रक्ष्भी गणेश मॊि

धनदा मॊि

(भहान ससत्रद्ध दामक श्री भहारक्ष्भी मॊि)

(रसरता भहात्रिऩुय सुन्दमै श्री भहारक्ष्भमं श्री भहामॊि )

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY :Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785

ससतम्फय 2013

72

सवाससत्रद्धदामक भुफद्रका
इस भुफद्रका भं भूॊगे को शुब भुहूता भं त्रिधातु (सुवणा+यजत+ताॊफ)ं भं जड़वा कय उसे शास्त्रोि त्रवसधत्रवधान से त्रवसशद्श तेजस्वी भॊिो द्राया सवाससत्रद्धदामक फनाने हे तु प्राण-प्रसतत्रद्षत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि फकमा
जाता हं । इस भुफद्रका को फकसी बी वगा के व्मत्रि हाथ की फकसी बी उॊ गरी भं धायण कय सकते हं ।

महॊ भुफद्रका कबी फकसी बी स्स्थती भं अऩत्रवि नहीॊ होती। इस सरए कबी भुफद्रका को उतायने की

आवश्मिा नहीॊ हं । इसे धायण कयने से व्मत्रि की सभस्माओॊ का सभाधान होने रगता हं । धायणकताा
को जीवन भं सपरता प्रासद्ऱ एवॊ उन्नसत के नमे भागा प्रसस्त होते यहते हं औय जीवन भं सबी प्रकाय
की ससत्रद्धमाॊ बी शीध्र प्राद्ऱ होती हं ।

भूल्म भाि- 6400/- >> Order Now

(नोट: इस भुफद्रका को धायण कयने से भॊगर ग्रह का कोई फुया प्रबाव साधक ऩय नहीॊ होता हं ।)

सवाससत्रद्धदामक भुफद्रका के त्रवषम भं असधक जानकायी के सरमे हे तु सम्ऩका कयं ।

ऩसत-ऩत्नी भं करह सनवायण हे तु
मफद ऩरयवायं भं सुख-सुत्रवधा के सभस्त साधान होते हुए बी िोटी-िोटी फातो भं ऩसत-ऩत्नी के त्रफि भे करह होता यहता हं ,

तो घय के स्जतने सदस्म हो उन सफके नाभ से गुरुत्व कामाारत द्राया शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रद्षत
ऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊ गृह करह नाशक फडब्फी फनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं त्रफना फकसी ऩूजा, त्रवसधत्रवधान से आऩ त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं । मफद आऩ भॊि ससद्ध ऩसत वशीकयण मा ऩत्नी वशीकयण एवॊ गृह करह
नाशक फडब्फी फनवाना िाहते हं , तो सॊऩका आऩ कय सकते हं ।

100 से असधक जैन मॊि
हभाये महाॊ जैन धभा के सबी प्रभुख, दर
ा एवॊ शीघ्र प्रबावशारी मॊि ताम्र ऩि,
ु ब
ससरवय (िाॊदी) ओय गोल्ड (सोने) भे उऩरब्ध हं ।

हभाये महाॊ सबी प्रकाय के मॊि कोऩय ताम्र ऩि, ससरवय (िाॊदी) ओय गोल्ड (सोने) भे फनवाए जाते है । इसके

अरावा आऩकी आवश्मकता अनुशाय आऩके द्राया प्राद्ऱ (सिि, मॊि, फड़ज़ाईन) के अनुरुऩ मॊि बी फनवाए

जाते है . गुरुत्व कामाारम द्राया उऩरब्ध कयामे गमे सबी मॊि अखॊफडत एवॊ 22 गेज शुद्ध कोऩय(ताम्र
ऩि)- 99.99 टि शुद्ध ससरवय (िाॊदी) एवॊ 22 केये ट गोल्ड (सोने) भे फनवाए जाते है । मॊि के त्रवषम भे
असधक जानकायी के सरमे हे तु सम्ऩका कयं ।

GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

73

ससतम्फय 2013

द्रादश भहा मॊि
मॊि को असत प्रासिन एवॊ दर
ा मॊिो के सॊकरन से हभाये वषो के अनुसॊधान
ु ब
द्राया फनामा गमा हं ।

 ऩयभ दर
ा वशीकयण मॊि,
ु ब

 सहस्त्राऺी रक्ष्भी आफद्ध मॊि

 भनोवाॊसित कामा ससत्रद्ध मॊि

 ऩूणा ऩौरुष प्रासद्ऱ काभदे व मॊि

 बाग्मोदम मॊि

 याज्म फाधा सनवृत्रत्त मॊि
 गृहस्थ सुख मॊि

 शीघ्र त्रववाह सॊऩन्न गौयी अनॊग मॊि

 आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि
 योग सनवृत्रत्त मॊि

 साधना ससत्रद्ध मॊि
 शिु दभन मॊि

उऩयोि सबी मॊिो को द्रादश भहा मॊि के रुऩ भं शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध ऩूणा
प्राणप्रसतत्रद्षत एवॊ िैतन्म मुि फकमे जाते हं । स्जसे स्थाऩीत कय त्रफना फकसी ऩूजा अिानात्रवसध त्रवधान त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं ।

>> Order Now

 क्मा आऩके फच्िे कुसॊगती के सशकाय हं ?
 क्मा आऩके फच्िे आऩका कहना नहीॊ भान यहे हं ?
 क्मा आऩके फच्िे घय भं अशाॊसत ऩैदा कय यहे हं ?
घय ऩरयवाय भं शाॊसत एवॊ फच्िे को कुसॊगती से िुडाने हे तु फच्िे के नाभ से गुरुत्व कामाारत
द्राया शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रद्षत ऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊ
एस.एन.फडब्फी फनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं स्थात्रऩत कय अल्ऩ ऩूजा, त्रवसध-त्रवधान से आऩ
त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं । मफद आऩ तो आऩ भॊि ससद्ध वशीकयण कवि एवॊ एस.एन.फडब्फी
फनवाना िाहते हं , तो सॊऩका इस कय सकते हं ।

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA,
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

74

ससतम्फय 2013

Buy and View Product Online
Visit. www.gurutvakaryalay.com

75

ससतम्फय 2013

Buy and View Product Online
Visit. www.gurutvakaryalay.com

ससतम्फय 2013

76

सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रद्षत 22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत

ऩुरुषाकाय शसन मॊि

ऩुरुषाकाय शसन मॊि (स्टीर भं) को तीव्र प्रबावशारी फनाने हे तु शसन की कायक धातु शुद्ध स्टीर(रोहे )
भं फनामा गमा हं । स्जस के प्रबाव से साधक को तत्कार राब प्राद्ऱ होता हं । मफद जन्भ कॊु डरी भं

शसन प्रसतकूर होने ऩय व्मत्रि को अनेक कामं भं असपरता प्राद्ऱ होती है , कबी व्मवसाम भं घटा,
नौकयी भं ऩये शानी, वाहन दघ
ा ना, गृह क्रेश आफद ऩये शानीमाॊ फढ़ती जाती है ऐसी स्स्थसतमं भं
ु ट

प्राणप्रसतत्रद्षत ग्रह ऩीड़ा सनवायक शसन मॊि की अऩने को व्मऩाय स्थान मा घय भं स्थाऩना कयने से
अनेक राब सभरते हं । मफद शसन की ढै ़मा मा साढ़े साती का सभम हो तो इसे अवश्म ऩूजना िाफहए।
शसनमॊि के ऩूजन भाि से व्मत्रि को भृत्मु, कजा, कोटा केश, जोडो का ददा , फात योग तथा रम्फे सभम

के सबी प्रकाय के योग से ऩये शान व्मत्रि के सरमे शसन मॊि असधक राबकायी होगा। नौकयी ऩेशा आफद

के रोगं को ऩदौन्नसत बी शसन द्राया ही सभरती है अत् मह मॊि असत उऩमोगी मॊि है स्जसके द्राया
शीघ्र ही राब ऩामा जा सकता है ।

भूल्म: 1050 से 8200 >> Order Now

सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रद्षत
22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत

शसन तैसतसा मॊि

शसनग्रह से सॊफॊसधत ऩीडा के सनवायण हे तु त्रवशेष राबकायी मॊि।
भूल्म: 550 से 8200 >> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

77

ससतम्फय 2013

नवयत्न जफड़त श्री मॊि

शास्त्र विन के अनुसाय शुद्ध सुवणा मा यजत
भं सनसभात श्री मॊि के िायं औय मफद नवयत्न
जड़वा ने ऩय मह नवयत्न जफड़त श्री मॊि
कहराता हं । सबी यत्नो को उसके सनस्द्ळत
स्थान ऩय जड़ कय रॉकेट के रूऩ भं धायण
कयने से व्मत्रि को अनॊत एद्वमा एवॊ रक्ष्भी
की प्रासद्ऱ होती हं । व्मत्रि को एसा आबास
होता हं जैसे भाॊ रक्ष्भी उसके साथ हं ।
नवग्रह को श्री मॊि के साथ रगाने से ग्रहं
की अशुब दशा का धायणकयने वारे व्मत्रि
ऩय प्रबाव नहीॊ होता हं ।

गरे भं होने के कायण मॊि ऩत्रवि यहता हं एवॊ स्नान कयते सभम इस मॊि ऩय स्ऩशा कय जो
जर त्रफॊद ु शयीय को रगते हं , वह गॊगा जर के सभान ऩत्रवि होता हं । इस सरमे इसे सफसे

तेजस्वी एवॊ परदासम कहजाता हं । जैसे अभृत से उत्तभ कोई औषसध नहीॊ, उसी प्रकाय रक्ष्भी
प्रासद्ऱ के सरमे श्री मॊि से उत्तभ कोई मॊि सॊसाय भं नहीॊ हं एसा शास्त्रोि विन हं । इस प्रकाय के
नवयत्न जफड़त श्री मॊि गुरूत्व कामाारम द्राया शुब भुहूता भं प्राण प्रसतत्रद्षत कयके फनावाए जाते
हं । Rs: 2350, 2800, 3250, 3700, 4600, 5500 से 10,900 तक

>> Order Now

असधक जानकायी हे तु सॊऩका कयं ।

GURUTVA KARYALAY
92/3BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)

Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

78

ससतम्फय 2013

भॊि ससद्ध वाहन दघ
ा ना नाशक भारुसत मॊि
ु ट

ऩौयास्णक ग्रॊथो भं उल्रेख हं की भहाबायत के मुद्ध के सभम अजुन
ा के यथ के अग्रबाग ऩय भारुसत ध्वज एवॊ
भारुसत मन्ि रगा हुआ था। इसी मॊि के प्रबाव के कायण सॊऩूणा मुद्ध के दौयान हज़ायं-राखं प्रकाय के आग्नेम अस्त्र-

शस्त्रं का प्रहाय होने के फाद बी अजुन
ा का यथ जया बी ऺसतग्रस्त नहीॊ हुआ। बगवान श्री कृ ष्ण भारुसत मॊि के इस
अद्भत
ा नाग्रस्त कैसे हो
ु यहस्म को जानते थे फक स्जस यथ मा वाहन की यऺा स्वमॊ श्री भारुसत नॊदन कयते हं, वह दघ
ु ट
सकता हं । वह यथ मा वाहन तो वामुवेग से, सनफाासधत रुऩ से अऩने रक्ष्म ऩय त्रवजम ऩतका रहयाता हुआ ऩहुॊिेगा।
इसी सरमे श्री कृ ष्ण नं अजुन
ा के यथ ऩय श्री भारुसत मॊि को अॊफकत कयवामा था।

स्जन रोगं के स्कूटय, काय, फस, ट्रक इत्माफद वाहन फाय-फाय दघ
ा ना ग्रस्त हो यहे हो!, अनावश्मक वाहन को
ु ट

नुऺान हो यहा हं! उन्हं हानी एवॊ दघ
ा ना से यऺा के उद्दे श्म से अऩने वाहन ऩय भॊि ससद्ध श्री भारुसत मॊि अवश्म
ु ट

रगाना िाफहए। जो रोग ट्रान्स्ऩोफटं ग (ऩरयवहन) के व्मवसाम से जुडे हं उनको श्रीभारुसत मॊि को अऩने वाहन भं अवश्म
स्थात्रऩत कयना िाफहए, क्मोफक, इसी व्मवसाम से जुडे सैकडं रोगं का अनुबव यहा हं की श्री भारुसत मॊि को स्थात्रऩत
कयने से उनके वाहन असधक फदन तक अनावश्मक खिो से एवॊ दघ
ा नाओॊ से सुयस्ऺत यहे हं । हभाया स्वमॊका एवॊ अन्म
ु ट
त्रवद्रानो का अनुबव यहा हं , की स्जन रोगं ने श्री भारुसत मॊि अऩने वाहन ऩय रगामा हं , उन रोगं के वाहन फडी से

फडी दघ
ा नाओॊ से सुयस्ऺत यहते हं । उनके वाहनो को कोई त्रवशेष नुक्शान इत्माफद नहीॊ होता हं औय नाहीॊ अनावश्मक
ु ट
रुऩ से उसभं खयाफी आसत हं ।

वास्तु प्रमोग भं भारुसत मॊि: मह भारुसत नॊदन श्री हनुभान जी का मॊि है । मफद कोई जभीन त्रफक नहीॊ यही हो, मा उस
ऩय कोई वाद-त्रववाद हो, तो इच्िा के अनुरूऩ वहॉ जभीन उसित भूल्म ऩय त्रफक जामे इस सरमे इस भारुसत मॊि का
प्रमोग फकमा जा सकता हं । इस भारुसत मॊि के प्रमोग से जभीन शीघ्र त्रफक जाएगी मा त्रववादभुि हो जाएगी। इस सरमे
मह मॊि दोहयी शत्रि से मुि है ।

भारुसत मॊि के त्रवषम भं असधक जानकायी के सरमे गुरुत्व कामाारम भं सॊऩका कयं । भूल्म Rs- 255 से 10900 तक

श्री हनुभान मॊि

शास्त्रं भं उल्रेख हं की श्री हनुभान जी को बगवान सूमद
ा े व ने ब्रह्मा जी के आदे श ऩय हनुभान

जी को अऩने तेज का सौवाॉ बाग प्रदान कयते हुए आशीवााद प्रदान फकमा था, फक भं हनुभान को सबी शास्त्र का ऩूणा

ऻान दॉ ग
ू ा। स्जससे मह तीनोरोक भं सवा श्रेद्ष विा हंगे तथा शास्त्र त्रवद्या भं इन्हं भहायत हाससर होगी औय इनके
सभन फरशारी औय कोई नहीॊ होगा। जानकायो ने भतानुशाय हनुभान मॊि की आयाधना से ऩुरुषं की त्रवसबन्न फीभारयमं

दयू होती हं , इस मॊि भं अद्भत
ु शत्रि सभाफहत होने के कायण व्मत्रि की स्वप्न दोष, धातु योग, यि दोष, वीमा दोष, भूिाा,

नऩुॊसकता इत्माफद अनेक प्रकाय के दोषो को दयू कयने भं अत्मन्त राबकायी हं । अथाात मह मॊि ऩौरुष को ऩुद्श कयता
हं । श्री हनुभान मॊि व्मत्रि को सॊकट, वाद-त्रववाद, बूत-प्रेत, द्यूत फक्रमा, त्रवषबम, िोय बम, याज्म बम, भायण, सम्भोहन
स्तॊबन इत्माफद से सॊकटो से यऺा कयता हं औय ससत्रद्ध प्रदान कयने भं सऺभ हं ।
श्री हनुभान मॊि के त्रवषम भं असधक जानकायी के सरमे गुरुत्व कामाारम भं सॊऩका कयं । भूल्म Rs- 730 से 10900 तक

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA,
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, >> Order Now

ससतम्फय 2013

79

त्रवसबन्न दे वताओॊ के मॊि
गणेश मॊि

भहाभृत्मुज
ॊ म मॊि

याभ यऺा मॊि याज

गणेश मॊि (सॊऩण
ू ा फीज भॊि सफहत)

भहाभृत्मुज
ॊ म कवि मॊि

याभ मॊि

गणेश ससद्ध मॊि

भहाभृत्मुज
ॊ म ऩूजन मॊि

द्रादशाऺय त्रवष्णु भॊि ऩूजन मॊि

एकाऺय गणऩसत मॊि

भहाभृत्मुॊजम मुि सशव खप्ऩय भाहा सशव मॊि

त्रवष्णु फीसा मॊि

हरयद्रा गणेश मॊि

सशव ऩॊिाऺयी मॊि

गरुड ऩूजन मॊि

कुफेय मॊि

सशव मॊि

सिॊताभणी मॊि याज

श्री द्रादशाऺयी रुद्र ऩूजन मॊि

अफद्रतीम सवाकाम्म ससत्रद्ध सशव मॊि

सिॊताभणी मॊि

दत्तािम मॊि

नृससॊह ऩूजन मॊि

स्वणााकषाणा बैयव मॊि

दत्त मॊि

ऩॊिदे व मॊि

हनुभान ऩूजन मॊि

आऩदद्ध
ु ायण फटु क बैयव मॊि

सॊतान गोऩार मॊि

हनुभान मॊि

फटु क मॊि

श्री कृ ष्ण अद्शाऺयी भॊि ऩूजन मॊि

सॊकट भोिन मॊि

व्मॊकटे श मॊि

कृ ष्ण फीसा मॊि

वीय साधन ऩूजन मॊि

कातावीमााजन
ुा ऩूजन मॊि

सवा काभ प्रद बैयव मॊि

दस्ऺणाभूसता ध्मानभ ् मॊि

भनोकाभना ऩूसता एवॊ कद्श सनवायण हे तु त्रवशेष मॊि
व्माऩाय वृत्रद्ध कायक मॊि

अभृत तत्व सॊजीवनी कामा कल्ऩ मॊि

िम ताऩंसे भुत्रि दाता फीसा मॊि

व्माऩाय वृत्रद्ध मॊि

त्रवजमयाज ऩॊिदशी मॊि

भधुभेह सनवायक मॊि

व्माऩाय वधाक मॊि

त्रवद्यामश त्रवबूसत याज सम्भान प्रद ससद्ध फीसा मॊि

ज्वय सनवायण मॊि

व्माऩायोन्नसत कायी ससद्ध मॊि

सम्भान दामक मॊि

योग कद्श दरयद्रता नाशक मॊि

बाग्म वधाक मॊि

सुख शाॊसत दामक मॊि

योग सनवायक मॊि

स्वस्स्तक मॊि

फारा मॊि

तनाव भुि फीसा मॊि

सवा कामा फीसा मॊि

फारा यऺा मॊि

त्रवद्युत भानस मॊि

कामा ससत्रद्ध मॊि

गबा स्तम्बन मॊि

गृह करह नाशक मॊि

सुख सभृत्रद्ध मॊि

ऩुि प्रासद्ऱ मॊि

करेश हयण फत्रत्तसा मॊि

सवा रयत्रद्ध ससत्रद्ध प्रद मॊि

प्रसूता बम नाशक मॊि

वशीकयण मॊि

सवा सुख दामक ऩंसफठमा मॊि

प्रसव-कद्शनाशक ऩॊिदशी मॊि

भोफहसन वशीकयण मॊि

ऋत्रद्ध ससत्रद्ध दाता मॊि

शाॊसत गोऩार मॊि

कणा त्रऩशािनी वशीकयण मॊि

सवा ससत्रद्ध मॊि

त्रिशूर फीशा मॊि

वाताारी स्तम्बन मॊि

साफय ससत्रद्ध मॊि

ऩॊिदशी मॊि (फीसा मॊि मुि िायं प्रकायके)

वास्तु मॊि

शाफयी मॊि

फेकायी सनवायण मॊि

श्री भत्स्म मॊि

ससद्धाश्रभ मॊि

षोडशी मॊि

ज्मोसतष तॊि ऻान त्रवऻान प्रद ससद्ध फीसा मॊि

अडसफठमा मॊि

वाहन दघ
ा ना नाशक मॊि
ु ट

ब्रह्माण्ड साफय ससत्रद्ध मॊि

अस्सीमा मॊि

बूतादी व्मासधहयण मॊि

कुण्डसरनी ससत्रद्ध मॊि

ऋत्रद्ध कायक मॊि

कद्श सनवायक ससत्रद्ध फीसा मॊि

क्रास्न्त औय श्रीवधाक िंतीसा मॊि

भन वाॊसित कन्मा प्रासद्ऱ मॊि

बम नाशक मॊि

श्री ऺेभ कल्माणी ससत्रद्ध भहा मॊि

त्रववाहकय मॊि

स्वप्न बम सनवायक मॊि

प्रेत-फाधा नाशक मॊि

ससतम्फय 2013

80

ऻान दाता भहा मॊि

रग्न त्रवघ्न सनवायक मॊि

कुदृत्रद्श नाशक मॊि

कामा कल्ऩ मॊि

रग्न मोग मॊि

श्री शिु ऩयाबव मॊि

दीधाामु अभृत तत्व सॊजीवनी मॊि

दरयद्रता त्रवनाशक मॊि

शिु दभनाणाव ऩूजन मॊि

भॊि ससद्ध त्रवशेष दै वी मॊि सूसि
आद्य शत्रि दग
ु ाा फीसा मॊि (अॊफाजी फीसा मॊि)

सयस्वती मॊि

भहान शत्रि दग
ु ाा मॊि (अॊफाजी मॊि)

सद्ऱसती भहामॊि(सॊऩण
ू ा फीज भॊि सफहत)

नव दग
ु ाा मॊि

कारी मॊि

नवाणा मॊि (िाभुड
ॊ ा मॊि)

श्भशान कारी ऩूजन मॊि

नवाणा फीसा मॊि

दस्ऺण कारी ऩूजन मॊि

िाभुड
ॊ ा फीसा मॊि ( नवग्रह मुि)

सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध मॊि

त्रिशूर फीसा मॊि

खोफडमाय मॊि

फगरा भुखी मॊि

खोफडमाय फीसा मॊि

फगरा भुखी ऩूजन मॊि

अन्नऩूणाा ऩूजा मॊि

याज याजेद्वयी वाॊिा कल्ऩरता मॊि

एकाॊऺी श्रीपर मॊि

भॊि ससद्ध त्रवशेष रक्ष्भी मॊि सूसि
श्री मॊि (रक्ष्भी मॊि)

भहारक्ष्भमै फीज मॊि

श्री मॊि (भॊि यफहत)

भहारक्ष्भी फीसा मॊि

श्री मॊि (सॊऩण
ू ा भॊि सफहत)

रक्ष्भी दामक ससद्ध फीसा मॊि

श्री मॊि (फीसा मॊि)

रक्ष्भी दाता फीसा मॊि

श्री मॊि श्री सूि मॊि

रक्ष्भी गणेश मॊि

श्री मॊि (कुभा ऩृद्षीम)

ज्मेद्षा रक्ष्भी भॊि ऩूजन मॊि

रक्ष्भी फीसा मॊि

कनक धाया मॊि

श्री श्री मॊि (श्रीश्री रसरता भहात्रिऩुय सुन्दमै श्री भहारक्ष्भमं श्री भहामॊि)

वैबव रक्ष्भी मॊि (भहान ससत्रद्ध दामक श्री भहारक्ष्भी मॊि)

अॊकात्भक फीसा मॊि
ताम्र ऩि ऩय सुवणा ऩोरीस
(Gold Plated)
साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

ताम्र ऩि ऩय यजत ऩोरीस
(Silver Plated)

भूल्म
460
820
1650
2350
3600
6400
10800

साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

भूल्म
370
640
1090
1650
2800
5100
8200

ताम्र ऩि ऩय
(Copper)

साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

मॊि के त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩका कयं ।

भूल्म
255
460
730
1090
1900
3250
6400

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

ससतम्फय 2013

81

यासश यत्न
भेष यासश:

भूग
ॊ ा

वृषब यासश:

हीया

Red Coral

Diamond
(Special)

(Special)
5.25" Rs. 1050
6.25" Rs. 1250
7.25" Rs. 1450
8.25" Rs. 1800
9.25" Rs. 2100
10.25" Rs. 2800

10 cent
20 cent
30 cent
40 cent
50 cent

Rs. 4100
Rs. 8200
Rs. 12500
Rs. 18500
Rs. 23500

सभथुन यासश:

कका यासश:

ससॊह यासश:

कन्मा यासश:

Green Emerald

Naturel Pearl
(Special)

Ruby
(Old Berma)
(Special)

Green Emerald

ऩन्ना

(Special)
5.25" Rs. 9100
6.25" Rs. 12500
7.25" Rs. 14500
8.25" Rs. 19000
9.25" Rs. 23000
10.25" Rs. 28000

भोती

5.25"
6.25"
7.25"
8.25"
9.25"
10.25"

Rs. 910
Rs. 1250
Rs. 1450
Rs. 1900
Rs. 2300
Rs. 2800

भाणेक

2.25"
3.25"
4.25"
5.25"
6.25"

Rs.
Rs.
Rs.
Rs.
Rs.

12500
15500
28000
46000
82000

ऩन्ना

(Special)
5.25" Rs. 9100
6.25" Rs. 12500
7.25" Rs. 14500
8.25" Rs. 19000
9.25" Rs. 23000
10.25" Rs. 28000

** All Weight In Rati

All Diamond are Full
White Colour.

** All Weight In Rati

** All Weight In Rati

** All Weight In Rati

** All Weight In Rati

तुरा यासश:

वृस्द्ळक यासश:

धनु यासश:

कॊु ब यासश:

भीन यासश:

हीया

भूग
ॊ ा

ऩुखयाज

भकय यासश:

नीरभ

नीरभ

Diamond
(Special)

Red Coral

Y.Sapphire

B.Sapphire

B.Sapphire

Y.Sapphire

(Special)

(Special)

(Special)

(Special)

(Special)

10 cent
20 cent
30 cent
40 cent
50 cent

Rs. 4100
Rs. 8200
Rs. 12500
Rs. 18500
Rs. 23500

All Diamond are Full
White Colour.

5.25" Rs. 1050
6.25" Rs. 1250
7.25" Rs. 1450
8.25" Rs. 1800
9.25" Rs. 2100
10.25" Rs. 2800
** All Weight In Rati

ऩुखयाज

5.25" Rs. 30000
6.25" Rs. 37000
7.25" Rs. 55000
8.25" Rs. 73000
9.25" Rs. 91000
10.25" Rs.108000

5.25" Rs. 30000
6.25" Rs. 37000
7.25" Rs. 55000
8.25" Rs. 73000
9.25" Rs. 91000
10.25" Rs.108000

5.25" Rs. 30000
6.25" Rs. 37000
7.25" Rs. 55000
8.25" Rs. 73000
9.25" Rs. 91000
10.25" Rs.108000

5.25" Rs. 30000
6.25" Rs. 37000
7.25" Rs. 55000
8.25" Rs. 73000
9.25" Rs. 91000
10.25" Rs.108000

** All Weight In Rati

** All Weight In Rati

** All Weight In Rati

** All Weight In Rati

* उऩमोि वजन औय भूल्म से असधक औय कभ वजन औय भूल्म के यत्न एवॊ उऩयत्न बी हभाये महा व्माऩायी भूल्म ऩय उप्रब्ध
हं ।

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

ससतम्फय 2013

82

भॊि ससद्ध रूद्राऺ
Rudraksh List
एकभुखी रूद्राऺ (नेऩार)

Rate In
Indian Rupee

Rudraksh List

750 to 1900 नौ भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

Rate In
Indian Rupee
1550 to 2800

दो भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

55 to 280 दस भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

1550 to 2800

तीन भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

55 to 280 ग्मायह भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

2100 to 3250

िाय भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

25 to 190 फायह भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

3250 to 4600

ऩॊि भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

25 to 190 तेयह भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

5500 to 7300

िह भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

25 to 190 िौदह भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

सात भुखी रूद्राऺ (नेऩार)
आठ भुखी रूद्राऺ (नेऩार)

150 to 450 गौयीशॊकय रूद्राऺ (नेऩार)
1250 to 2350 गणेश रुद्राऺ (नेऩार)

14500 to 19000
3700 to 14500
450 to 1450

* भूल्म भं अॊतय रुद्राऺ के आकाय औय गुणवत्ता के अनुशाय अरग-अरग होते हं । उऩयोि भूल्म िोटे से फड़े आकाय
के अनुरुऩ दशाामे गमे हं । कबी-कबी सॊबात्रवत हं की िोटे आकाय के उत्तभ गुणवत्ता वारे रुद्राऺ असधक भूल्म भं प्राद्ऱ
हो सकते हं ।
त्रवशेष सूिना: फाजाय की स्स्थसत के अनुसाय, रूद्राऺ भूल्म, फदन-फ-फदन फदरते यहते है , स्जस कायण हभायी भूल्म
सूिी भं बी

फाजाय की स्स्थसत के अनुसाय ऩरयवतान होते यहते हं , कृ प्मा रुद्राऺ के सरए अऩना बुगतान बेजने से

ऩहरे रुद्राऺ के नमी भूल्म सूिी हे तु हभ से सॊऩका कयं ।

रुद्राऺ के त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩका कयं ।

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY,
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA),
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

भॊि ससद्ध दर
ा साभग्री
ु ब
हत्था जोडी- Rs- 370

घोडे की नार- Rs.351

भामा जार- Rs- 251

त्रफल्री नार- Rs- 370

भोसत शॊख- Rs- 550

धन वृत्रद्ध हकीक सेट Rs-251

ससमाय ससॊगी- Rs- 370

दस्ऺणावतॉ शॊख- Rs- 550

इन्द्र जार- Rs- 251

GURUTVA KARYALAY
Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785,
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com >> Order Now

ससतम्फय 2013

83

श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि
फकसी बी व्मत्रि का जीवन तफ आसान फन जाता हं जफ उसके िायं औय का भाहोर उसके अनुरुऩ उसके वश
भं हं। जफ कोई व्मत्रि का आकषाण दस
ु यो के उऩय एक िुम्फकीम प्रबाव डारता हं , तफ

रोग उसकी सहामता एवॊ

सेवा हे तु तत्ऩय होते है औय उसके प्राम् सबी कामा त्रफना असधक कद्श व ऩये शानी से सॊऩन्न हो जाते हं । आज के
बौसतकता वाफद मुग भं हय व्मत्रि के सरमे दस
ॊ कत्व को कामभ
ू यो को अऩनी औय खीिने हे तु एक प्रबावशासर िुफ

यखना असत आवश्मक हो जाता हं । आऩका आकषाण औय व्मत्रित्व आऩके िायो ओय से रोगं को आकत्रषात कये इस
सरमे सयर उऩाम हं , श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि। क्मोफक बगवान श्री कृ ष्ण एक अरौफकव एवॊ फदवम िुॊफकीम व्मत्रित्व के
धनी थे। इसी कायण से श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि के ऩूजन एवॊ दशान से आकषाक व्मत्रित्व प्राद्ऱ होता हं ।
श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि के साथ व्मत्रिको दृढ़ इच्िा शत्रि एवॊ उजाा प्राद्ऱ
होती हं , स्जस्से व्मत्रि हभेशा एक बीड भं हभेशा आकषाण का कंद्र यहता हं ।
मफद फकसी व्मत्रि को अऩनी प्रसतबा व आत्भत्रवद्वास के स्तय भं वृत्रद्ध,
अऩने सभिो व ऩरयवायजनो के त्रफि भं रयश्तो भं सुधाय कयने की ईच्िा होती
हं उनके सरमे श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि का ऩूजन एक सयर व सुरब भाध्मभ
सात्रफत हो सकता हं ।
श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि ऩय अॊफकत शत्रिशारी त्रवशेष ये खाएॊ, फीज भॊि एवॊ

श्रीकृ ष्ण फीसा कवि
श्रीकृ ष्ण

फीसा

कवि

को

केवर

त्रवशेष शुब भुहुता भं सनभााण फकमा
जाता हं । कवि को त्रवद्रान कभाकाॊडी

ब्राहभणं द्राया शुब भुहुता भं शास्त्रोि

अॊको से व्मत्रि को अद्धद्भत
ु आॊतरयक शत्रिमाॊ प्राद्ऱ होती हं जो व्मत्रि को

त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशद्श तेजस्वी भॊिो

श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि के ऩूजन व सनमसभत दशान के भाध्मभ से बगवान

मुि कयके सनभााण फकमा जाता हं ।

सफसे आगे एवॊ सबी ऺेिो भं अग्रस्णम फनाने भं सहामक ससद्ध होती हं ।

श्रीकृ ष्ण का आशीवााद प्राद्ऱ कय सभाज भं स्वमॊ का अफद्रतीम स्थान स्थात्रऩत कयं ।
श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि अरौफकक ब्रह्माॊडीम उजाा का सॊिाय कयता हं , जो
एक प्राकृ त्रत्त भाध्मभ से व्मत्रि के बीतय सद्दबावना, सभृत्रद्ध, सपरता, उत्तभ
स्वास्थ्म, मोग औय ध्मान के सरमे एक शत्रिशारी भाध्मभ हं !

श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि के ऩूजन से व्मत्रि के साभास्जक भान-सम्भान व

स्जस के पर स्वरुऩ धायण कयता
व्मत्रि को शीघ्र ऩूणा राब प्राद्ऱ होता
हं । कवि को गरे भं धायण कयने
से वहॊ अत्मॊत प्रबाव शारी होता
हं । गरे भं धायण कयने से कवि

ऩद-प्रसतद्षा भं वृत्रद्ध होती हं ।

हभेशा रृदम के ऩास यहता हं स्जस्से

कंफद्रत कयने से व्मत्रि फक िेतना शत्रि जाग्रत होकय शीघ्र उच्ि स्तय

एवॊ शीघ्र ऻात होने रगता हं ।

त्रवद्रानो के भतानुशाय श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि के भध्मबाग ऩय ध्मान मोग
को प्राद्ऱहोती हं ।

द्राया ससद्ध प्राण-प्रसतत्रद्षत ऩूणा िैतन्म

व्मत्रि ऩय उसका राब असत तीव्र
भूरम भाि: 1900 >>Order Now

जो ऩुरुषं औय भफहरा अऩने साथी ऩय अऩना प्रबाव डारना िाहते हं औय उन्हं अऩनी औय आकत्रषात कयना
िाहते हं । उनके सरमे श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि उत्तभ उऩाम ससद्ध हो सकता हं ।

ऩसत-ऩत्नी भं आऩसी प्रभ की वृत्रद्ध औय सुखी दाम्ऩत्म जीवन के सरमे श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि राबदामी होता हं ।

भूल्म:- Rs. 730 से Rs. 10900 तक उप्रब्द्ध >> Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com

ससतम्फय 2013

84

याभ यऺा मॊि
याभ यऺा मॊि सबी बम, फाधाओॊ से भुत्रि व कामो भं सपरता प्रासद्ऱ हे तु उत्तभ मॊि हं । स्जसके प्रमोग
से धन राब होता हं व व्मत्रि का सवांगी त्रवकाय होकय उसे सुख-सभृत्रद्ध, भानसम्भान की प्रासद्ऱ होती
हं । याभ यऺा मॊि सबी प्रकाय के अशुब प्रबाव को दयू कय व्मत्रि को जीवन की सबी प्रकाय की
कफठनाइमं से यऺा कयता हं । त्रवद्रानो के भत से जो व्मत्रि बगवान याभ के बि हं मा श्री
हनुभानजी के बि हं उन्हं अऩने सनवास स्थान, व्मवसामीक स्थान ऩय याभ यऺा मॊि को अवश्म
स्थाऩीत कयना िाफहमे स्जससे आने वारे सॊकटो से यऺा हो उनका जीवन सुखभम व्मतीत हो सके
एवॊ उनकी सभस्त आफद बौसतक व आध्मास्त्भक भनोकाभनाएॊ ऩूणा हो सके।

>> Order Now

ताम्र ऩि ऩय सुवणा ऩोरीस

ताम्र ऩि ऩय यजत ऩोरीस

ताम्र ऩि ऩय

(Gold Plated)

(Silver Plated)

(Copper)

साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

भूल्म
460
820
1650
2350
3600
6400
10800

साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

भूल्म
370
640
1090
1650
2800
5100
8200

साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

भूल्म
255
460
730
1090
1900
3250
6400

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

85

ससतम्फय 2013

जैन धभाके त्रवसशद्श मॊिो की सूिी
श्री िौफीस तीथंकयका भहान प्रबात्रवत िभत्कायी मॊि

श्री एकाऺी नारयमेय मॊि

श्री िोफीस तीथंकय मॊि

सवातो बद्र मॊि

कल्ऩवृऺ मॊि

सवा सॊऩत्रत्तकय मॊि

सिॊताभणी ऩाद्वानाथ मॊि

सवाकामा-सवा भनोकाभना ससत्रद्धअ मॊि (१३० सवातोबद्र मॊि)

सिॊताभणी मॊि (ऩंसफठमा मॊि)

ऋत्रष भॊडर मॊि

सिॊताभणी िक्र मॊि

जगदवल्रब कय मॊि

श्री िक्रेद्वयी मॊि

ऋत्रद्ध ससत्रद्ध भनोकाभना भान सम्भान प्रासद्ऱ मॊि

श्री घॊटाकणा भहावीय मॊि

ऋत्रद्ध ससत्रद्ध सभृत्रद्ध दामक श्री भहारक्ष्भी मॊि

श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध भहामॊि

त्रवषभ त्रवष सनग्रह कय मॊि

श्री ऩद्मावती मॊि

ऺुद्रो ऩद्रव सननााशन मॊि

श्री ऩद्मावती फीसा मॊि

फृहच्िक्र मॊि

श्री ऩाद्वाऩद्मावती ह्रंकाय मॊि

वॊध्मा शब्दाऩह मॊि

ऩद्मावती व्माऩाय वृत्रद्ध मॊि

भृतवत्सा दोष सनवायण मॊि

श्री धयणेन्द्र ऩद्मावती मॊि

काॊक वॊध्मादोष सनवायण मॊि

श्री ऩाद्वानाथ ध्मान मॊि

फारग्रह ऩीडा सनवायण मॊि

श्री ऩाद्वानाथ प्रबुका मॊि

रधुदेव कुर मॊि

बिाभय मॊि (गाथा नॊफय १ से ४४ तक)

नवगाथात्भक उवसग्गहयॊ स्तोिका त्रवसशद्श मॊि

भस्णबद्र मॊि

उवसग्गहयॊ मॊि

श्री मॊि

श्री ऩॊि भॊगर भहाश्रृत स्कॊध मॊि

श्री रक्ष्भी प्रासद्ऱ औय व्माऩाय वधाक मॊि

ह्रीॊकाय भम फीज भॊि

श्री रक्ष्भीकय मॊि

वधाभान त्रवद्या ऩट्ट मॊि

रक्ष्भी प्रासद्ऱ मॊि

त्रवद्या मॊि

भहात्रवजम मॊि

सौबाग्मकय मॊि

त्रवजमयाज मॊि

डाफकनी, शाफकनी, बम सनवायक मॊि

त्रवजम ऩतका मॊि

बूताफद सनग्रह कय मॊि

त्रवजम मॊि

ज्वय सनग्रह कय मॊि

ससद्धिक्र भहामॊि

शाफकनी सनग्रह कय मॊि

दस्ऺण भुखाम शॊख मॊि

आऩत्रत्त सनवायण मॊि

दस्ऺण भुखाम मॊि

शिुभख
ु स्तॊबन मॊि

(अनुबव ससद्ध सॊऩण
ू ा श्री घॊटाकणा भहावीय ऩतका मॊि)

मॊि के त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩका कयं ।

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

86

ससतम्फय 2013

घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध भहामॊि को स्थाऩीत

कयने से साधक की सवा भनोकाभनाएॊ ऩूणा होती हं । सवा
प्रकाय के योग बूत-प्रेत आफद उऩद्रव से यऺण होता हं ।
जहयीरे औय फहॊ सक प्राणीॊ से सॊफसॊ धत बम दयू होते हं ।
अस्ग्न बम, िोयबम आफद दयू होते हं ।

दद्श
ु व असुयी शत्रिमं से उत्ऩन्न होने वारे बम

से मॊि के प्रबाव से दयू हो जाते हं ।

मॊि के ऩूजन से साधक को धन, सुख, सभृत्रद्ध,

ऎद्वमा, सॊतत्रत्त-सॊऩत्रत्त आफद की प्रासद्ऱ होती हं । साधक की
सबी प्रकाय की सास्त्वक इच्िाओॊ की ऩूसता होती हं ।

मफद फकसी ऩरयवाय मा ऩरयवाय के सदस्मो ऩय

वशीकयण, भायण,

उच्िाटन इत्माफद जाद-ू टोने वारे

प्रमोग फकमे गमं होतो इस मॊि के प्रबाव से स्वत् नद्श
हो जाते हं औय बत्रवष्म भं मफद कोई प्रमोग कयता हं तो
यऺण होता हं ।

कुि जानकायो के श्री घॊटाकणा भहावीय ऩतका

मॊि से जुडे अद्धद्भत
ु अनुबव यहे हं । मफद घय भं श्री

घॊटाकणा भहावीय ऩतका मॊि स्थात्रऩत फकमा हं औय मफद

कोई इषाा, रोब, भोह मा शिुतावश मफद अनुसित कभा

कयके फकसी बी उद्दे श्म से साधक को ऩये शान कयने का प्रमास कयता हं तो मॊि के प्रबाव से सॊऩण
ू ा
ऩरयवाय का यऺण तो होता ही हं , कबी-कबी शिु के द्राया फकमा गमा अनुसित कभा शिु ऩय ही उऩय
उरट वाय होते दे खा हं ।

भूल्म:- Rs. 1650 से Rs. 10900 तक उप्रब्द्ध >> Order Now

सॊऩका कयं । GURUTVA KARYALAY
Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com

Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

ससतम्फय 2013

87

अभोघ भहाभृत्मुॊजम कवि
अभोद्य् भहाभृत्मुज
ॊ म कवि व उल्रेस्खत अन्म साभग्रीमं को शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवद्रान
ब्राह्मणो द्राया सवा राख भहाभृत्मुॊजम भॊि जऩ एवॊ दशाॊश हवन द्राया सनसभात फकमा जाता हं इस
सरए कवि अत्मॊत प्रबावशारी होता हं ।

अभोद्य् भहाभृत्मुॊजम कवि
कवि फनवाने हे तु:
अऩना नाभ, त्रऩता-भाता का नाभ,
गोि, एक नमा पोटो बेजे

>> Order Now

अभोद्य् भहाभृत्मुॊजम
कवि
दस्ऺणा भाि: 10900

याशी यत्न एवॊ उऩयत्न
त्रवशेष मॊि
हभायं महाॊ सबी प्रकाय के मॊि सोने-िाॊफदताम्फे भं आऩकी आवश्मिा के अनुशाय

फकसी बी बाषा/धभा के मॊिो को आऩकी
आवश्मक फडजाईन के अनुशाय २२ गेज
सबी साईज एवॊ भूल्म व क्वासरफट के

असरी नवयत्न एवॊ उऩयत्न बी उऩरब्ध हं ।

शुद्ध ताम्फे भं अखॊफडत फनाने की त्रवशेष
सुत्रवधाएॊ उऩरब्ध हं ।

हभाये महाॊ सबी प्रकाय के यत्न एवॊ उऩयत्न व्माऩायी भूल्म ऩय उऩरब्ध हं । ज्मोसतष कामा से जुडे़
फधु/फहन व यत्न व्मवसाम से जुडे रोगो के सरमे त्रवशेष भूल्म ऩय यत्न व अन्म साभग्रीमा व अन्म
सुत्रवधाएॊ उऩरब्ध हं ।

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

88

ससतम्फय 2013

भाससक यासश पर

 सिॊतन जोशी
भेष: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : कामाऺेि भं मह सभम आऩके सरए भध्म यहे गा। एकासधक स्त्रोत से आसथाक राब प्राद्ऱ
हो सकता हं । इस दौयान आऩका झुकाफ धासभाक काभं के प्रसत असधक यहे गा। बूसभबवन-वाहन की प्राद्ऱी हो सकती हं । ऩरयजनं का ऩूणा प्रेभ एवॊ सहमोग प्राद्ऱ होगा। शिु
ऩऺ से सावधान यहं आऩ ऩय झूठे आयोऩ रग सकते हं । प्रकृ सत भं फदराव से आऩका
स्वास्थ्म नयभ यह सकता हं ।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : आऩके द्राया फकम गमे कामं का आऩको ऩूणा राब प्राद्ऱ
होगा। आऩकी आसथाक स्स्थसत भं सुधाय होगा। ऩूॊस्ज सनवेश के नई मोजनाएॊ फना सकते
हं । इद्शसभिं एवॊ ऩरयजनं से सॊफॊध भधुय हंगे। त्रवसबन्न उऩहाये एवॊ शुब सभािाय की
प्रासद्ऱ सॊबव हं । भानससक सिन्ताओॊ भं कभी आमेगी। स्वास्थ्म के प्रसत सिेत यहने का
प्रमास कये स्वास्थ्म सुख प्राद्ऱ हो सकता हं ।

वृषब: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : नौकयी, व्मवसाम भं आऩ अऩने कामा का अच्िा
प्रदशान कयने भं सभथा हंगे। आत्भ त्रवद्वास से आगे फढते यहने का प्रमास कयं । आऩकी
भानससक अस्स्थताय भहत्वऩूणा सनणाम भं त्रवरॊफ से धन हानी सॊबव हं । भहत्वऩूणा कामो
के सरए आवश्मकता से असधक खिा कयना ऩड सकता हं । अऩने खाने - ऩीने का ध्मान
यखे अन्मथा आऩका का स्वास्थ्म नयभ हो सकता हं ।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : नौकयी व्मवसाम भं उच्ि असधकायी एवॊ सहकभॉ के ऩूवा से
िर यफह ऩूयानी सभस्माओॊ का अॊत सॊबव हं । आसथाक भाभरं भं सभम उताय-िढ़ाव वारा
हो सकता हं । ऩरयवाय भं खुसशमो का भाहोर यहे गा। आऩको शुब सभािाय प्राद्ऱ हो सकमे
हं । सभाज भं अऩना नाभ औय प्रसतद्षा फनाए यखने के सरमे त्रवशेष ध्मान यखना िाफहमे। आऩकी भहत्व ऩूणा
व्मवसासमक मािा स्थसगत हो सकती।

सभथुन: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : िोटी-िोटी सभस्माए आने के उऩयाॊत बी काभमाफी
प्राद्ऱ होगी। खिा आवश्मिा से असधक हो सकता हं खिा ऩय सनमॊिण कयने का प्रमास
कयं । अऩनी वाणी एवॊ क्रोध ऩय सनमॊिण यखे अन्मथा आऩके फने फनामे कामा त्रफगड
सकते हं । ऩरयवाय भं फकसी सदस्म के स्वबाव के कायण आऩके ऩरयवाय भं भानससक
अशाॊसत का भाहोर हो सकता हं ।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : नौकयी/व्मवसाम के भहत्व ऩूणा कामो भं आऩको असतरयि
सावधानी यखनी िाफहमे अन्मथा कुि कामो भं नुक्शान सॊबव हं । धन सॊफध
ॊ ी भाभरं भं
अनजान सभस्माओॊ का साभना कयना ऩड सकता हं । भानससक सिन्तामे फढ सकती हं ।

ऩरयवाय औय रयश्तेदायं से आस्त्भमता के अनुबव भं कभी यह सकती हं । आऩके इद्श सभि एवॊ साथी के कायण व्मम फढ
सकते हं ।

89

ससतम्फय 2013

कका: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : कामाऺेि भं आऩकी राऩयवाही आऩको रॊफे सभम का नुक्शान कय सकती हं ।
अत्मसधक ऩरयश्रभ औय भेहनत से आऩ सपरता प्राद्ऱ कय सकते हं । आसथाक रेन -दे न
के त्रवषम भं असधक रुझान यख सकते हं । बूसभ-बवन से सॊफॊसधत भाभरो भं सिॊता यह
सकती हं । सभाज भं अऩना नाभ औय प्रसतद्षा फनाए यखने के सरमे त्रवशेष ध्मान यखना
िाफहमे। ऩरयवाय औय रयश्तेदायं से आस्त्भमता के अनुबव भं कभी यह सकती हं ।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : व्माऩाय उद्योग से जुडे़ रोगो को नमे अवसय प्राद्ऱ हंगे। कामा
की असधकता औय व्मस्तता से भानससक शाॊसत भं कभी यहे गी। इस अवसध के दौयान
अऩने स्वबाव भं सिड़सिड़ा ऩन आसकता हं । अऩने क्रोध ऩय सनमॊिण यखे। िर-अिर
सॊऩत्रत्त मा फकसी घये रू भाभरं भं फदराव हो सकता हं ।भनोनुकूर जीवन साथी की प्रासद्ऱ हे तु सभम उसित नहीॊ हं ।

ससॊह: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : आसथाक भाभरं भं सभम उताय-िढ़ाव वारा हो सकता हं । कफठन ऩरयश्रभ व
आत्भत्रवद्वास से धन प्रासद्ऱ होगी। भहत्व ऩूणा कामो को स्स्थगीत कयना मा फकसी औय
को दे ना नुक्शान दे ह हो सकता हं । इद्श सभिो के साथा सॊफन्धं के सरमे प्रसतकूर सभम
हं । ऩरयवाय के सदस्मं का स्वास्थ्म आऩको सिॊसतत कय सकता हं ।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : नौकयी-व्मवसाम भं फदराव का त्रविाय कय सकते हं । ऩूणा
ऩरयश्रभ एवॊ कड़ी भेहनत से फकमे गमे कामो भं सपरता प्राद्ऱ कय सकते हं । भहत्व के
कामो के सरमे आऩको कजा रेना ऩड सकता हं जो राब प्रद ससद्ध हो सकता हं । कामा
की व्मस्तता के कायण त्रवश्राभ का अबाव यहे गा। जीवन साथी से सहमोग प्राद्ऱ होगा।

कन्मा: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : नई नौकयी प्राद्ऱ हो सकती हं , व्मवसाम भं हं तो
उन्नती की भागा प्राद्ऱ हंगे। इद्श सभिं से व्मवसामीक साझेदायी का सनणाम कय यहे हं ।
आऩके आमके स्रोत त्रवस्तायीत हंगे। जो आऩके सरए आसथाक राबप्रद हो सकता हं ।
आऩके रुके हुए भहत्वऩूणा कामा ऩूये हो सकते हं । अऩनी वाणी ऩय सनमॊिण यखं
अन्मथा त्रप्रमजनो से वाद-त्रववास सॊबव हं ।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : नौकयी-व्मवसाम से जुडे कामा त्रवशेष धनराब प्रदान कयने
वारे हंगे। जीवनसाथी का स्वास्थ्म थोडा नयभ यह सकता हं । आऩके त्रवयोधी एवॊ शिु
ऩऺ ऩयास्त हंगे। सभाज भं आऩके भान-सम्भान भं वृत्रद्ध होगी। तो उस ऩय ऩुन् त्रविाय कयरं स्जससे आऩके रयश्ते
खयाफ न हं। जीवन साथी से सहमोग प्राद्ऱ होगा।

90

ससतम्फय 2013

तुरा: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : अऩने कामाऺेि भं आत्भत्रवद्वास के फर ऩय अऩनी आम भं वृत्रद्ध कय सकते हं । गुद्ऱ
त्रवयोधी-शिुओॊ के कायण धन हासन हो सकती हं । वाणी ऩय सनमॊिण यखं अन्मथा रयश्तं
भं खटास आसकती हं । अऩने खाने- ऩीने का ध्मान यखे अन्मथा आऩका का स्वास्थ्म
नयभ हो सकता हं । प्रेभ सॊफॊसधत भाभरं भं सपरता प्राद्ऱ होने के अच्िे सॊकेत हं ।
आऩकी
16 से 30 ससतम्फय 2013 : कामाऺेि भं आऩके जोश एवॊ उत्साह भं सनयॊ तय वृत्रद्ध होगी।
आम से व्मम फढ सकता हं । नौकयी-व्मवसाम का तेजी से त्रवस्ताय हो सकता हं । अऩनी
असधक खिा कयने की प्रवृत्रत्त ऩय सनमॊिण कयने का प्रमास कयं । कोटा -किहयी के कामो
भं असतरयि सावधानी फयते। प्रेभ सॊफॊसधत भाभरो भं बी सपरता प्राद्ऱ कय सकते हं । दाॊऩत्म जीवन सुखभम यहे गा।

वृस्द्ळक: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : नौकयी-व्मवसाम भं आऩको इच्िा से असधक प्रगसत प्राद्ऱ
होगी। आऩके भहत्व ऩूणा कामो भं असतरयि सावधानी यखनी िाफहमे अन्मथा कुि कामो भं
नुक्शान हो सकता हं । ग्रहं के प्रबाव से अत्मसधक व्मम होने के मोग फन यहे हं । स्वास्थ्म सुख
भं वृत्रद्ध होगी फपय बी खाने- ऩीने का त्रवशेष ध्मान यखना फहतकायी यहे गा। जीवन साथी से ऩूणा
सहमोग प्राद्ऱ होगा।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : नौकयी-व्मवसाम भं फदराव का त्रविाय कय सकते हं । आऩको
कभाऺेि भं त्रवशेष ऩद प्रासद्ऱ के मोग व धन वृत्रद्ध के मोग फन यहे हं । बूसभ-बवन के क्रम त्रवक्रम से
धन राब होगा। भहत्व के कामो के सरमे आऩको कजा रेना ऩड सकता हं जो राब प्रद ससद्ध हो सकता हं । ऩरयवाय औय सभिं का
सहमोग प्राद्ऱ होगा। दाॊऩत्म सुख भं वृत्रद्ध होगी।

धनु: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : नई नौकयी-व्मवसाम के सरए सभम उत्तभ सात्रफत हो सकता हं । रुके हुए कामो से धन प्रासद्ऱ के
मोग अच्िे हं । धन सॊफॊसधत भाभरं भं असतरयि सावधानी फयते। गुद्ऱ त्रवयोधी-शिु ऩयास्त हंगे,
उन ऩय आऩका दफदफा फना यहे गा। अहॊ काय के बाव अऩने सबतय न आने दे , नहीॊ तो आऩके इद्श
सभि-ऩारयवारयक सदस्म आऩसे दयू ी फना सकते हं । प्रेभ सॊफॊधं भं सुधाय होगे।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : नमा व्मवसाम मा नौकयी प्राद्ऱ हो सकती हं मा आऩके कामा ऺेि भं
नमे फदराव हो सकते हं । ऩुयाने ऋण को िुकाने भं आऩ ऩूणरु
ा ऩ से सभथा हंगे। इस अवसध भं
आऩको कुि अनजान सभस्माओॊ का साभना कयना ऩड सकता हं । सॊतान से सॊफॊसधत भाभरो
भं थोडी सिॊता हो सकती हं । ऩुयाने योग से कद्श हो सकता हं ।

91

ससतम्फय 2013

भकय: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : आऩके उच्िासधकायी एवॊ सहकभॉमं से सॊफॊध प्रसतकूर होने के सॊकेत हं । शिु ऩऺ से सावधान यहं
आऩ ऩय झूठे आयोऩ रग सकते हं । अऩने इद्श सभिं मा ऩरयवाय के फकसी सदस्मके साथ भं
भतबेद सॊबव हं । अत् व्मवहय कूशर यहे । खाने- ऩीने का ध्मान यखे नहीॊ तो स्वास्थ्म नयभ हो
सकता हं । जीवन साथी से सहमोग प्राद्ऱ होगा।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : अऩने कामाऺेि से आऩ त्रवशेष धनराब प्राद्ऱ कयने भं सपर यहं गे।
मफद आऩ नौकयी भं हं तो ऩदौन्नसत हो सकती हं । मफद आऩ अत्रववाफहत हं तो त्रववाह के फॊधन भं
जल्द ही फॊध सकते हं । कोटा -किहयी के कामो भं असतरयि सावधानी फयते। ऩरयवाय के फकसी
सदस्म का स्वास्थ्म कभजोय हो सकता हं । जीवन साथी के ऩूणा सहमोग से दाॊऩत्म जीवन भं
भधुयता आएगी।

कॊु ब: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : व्मवसाम से सॊफॊसधत का कामं से कफठन ऩरयश्रभ के उऩयाॊत
सपता प्रासद्ऱ के सॊकेत हं । बूसभ-बवन सॊफॊसधत कामा एवॊ सनणामं को थोडे सभम के सरए स्थसगत
कयना ऩड सकता हं । खाने- ऩीने का ध्मान यखे नहीॊ तो स्वास्थ्म नयभ हो सकता हं । प्रेभ
सॊफॊसधत भाभरो भं बी सपरता प्राद्ऱ कय सकते हं । जीवन साथी का ऩूणा सहमोग प्राद्ऱ होगा।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : मफद आऩ नौकयी भं हं तो ऩदौन्नसत हो सकती हं । अऩने सॊसित धन
से ऩूॊस्ज सनवेश कयने हे तु सभम प्रसतकूर सात्रफत हो सकता हं । व्मवसासमक मािा राबदामक
ससद्ध होगी। अऩने त्रप्रमजनो से वाद-त्रववाद भं उरझने से फिने का प्रमास कये । धासभाक कामो भं
त्रवशेष रुसि यख सकते हं । ऩरयवाय के फकसी सदस्म का स्वास्थ्म आऩकी सिॊता का त्रवषम हो सकता हं ।

भीन: 1 से 15 ससतम्फय 2013 : आऩको एकासधक स्त्रोत से धनराब प्राद्ऱ हो सकता हं । प्राम् आऩके सबी कामा सुिारु रुऩ से ऩूणा
हंगे। ऋण के रेन-दे ने से फिने का प्रमास कयं अन्मथा धन की ऩुन् प्रासद्ऱ-बुगतान भं त्रवरॊफ हो
सकता हं । प्रकृ सत भं फदराव से आऩका स्वास्थ्म नयभ यह सकता हं । ऩरयवाय की सुख-शास्न्त को
फनामे यखने का प्रमास कयं । थोडी से सावधाने से स्वास्थ्म सुख भं वृत्रद्ध होगी।
16 से 30 ससतम्फय 2013 : ऩुयाने बुगतान की ऩुन् प्रासद्ऱ से आसथाक ऩऺ सुधये गा। नए
व्मवसामीक रयश्तं के सरए उत्तभ मोग हं । बूसभ-बवन सं सॊफॊसधत कामो भं त्रवशेष रुसि यहे गी। इस
सभम अवसध भं अत्मसधक भ्रभणशीर हो सकते हं । शिु एवॊ त्रवयोधी ऩऺ से आऩको ऩये शानी
सॊबव हं । दयू स्थ स्थानो की धासभाक मािाएॊ सपर हो सकती हं । दाॊऩत्म जीवन भं थोडा तनाव सॊबव हं ।

ससतम्फय 2013

92

ससतम्फय 2013 भाससक ऩॊिाॊग
फद

वाय

भाह

ऩऺ

सतसथ

सभासद्ऱ

नऺि

सभासद्ऱ

मोग

सभासद्ऱ

कयण

सभासद्ऱ

िॊद्र

यासश

सभासद्ऱ

1

यत्रव

बाद्रऩद

कृ ष्ण एकादशी

11:26:17

ऩुनवासु

24:17:51

व्मसतऩात

20:24:25

फारव

11:26:17

सभथुन

17:38:00

2

सोभ

बाद्रऩद

कृ ष्ण द्रादशी

13:31:28

ऩुष्म

26:44:36

वरयमान

20:56:47

तैसतर

13:31:28

कका

-

3

भॊगर बाद्रऩद

कृ ष्ण िमोदशी

15:10:25

आद्ऴेषा

28:46:58

ऩरयग्रह

21:10:25

वस्णज 15:10:25 कका

28:46:00

4

फुध

बाद्रऩद

कृ ष्ण ितुदाशी

16:22:09

भघा

30:20:17

सशव

21:02:28

शकुसन 16:22:09 ससॊह

-

5

गुरु

बाद्रऩद

कृ ष्ण अभावस्मा 17:06:43 भघा

06:20:47

ससद्ध

20:32:58

नाग

17:06:43

ससॊह

-

6

शुक्र

बाद्रऩद

शुक्र प्रसतऩदा

17:24:05

ऩूवाापाल्गुनी

07:27:50

साध्म

19:41:54

फव

17:24:05

ससॊह

13:41:00

7

शसन

बाद्रऩद

शुक्र फद्रतीमा

17:17:05

उत्तयापाल्गुनी

08:10:31

शुब

18:32:05

कौरव

17:17:05

कन्मा

-

8

यत्रव

बाद्रऩद

शुक्र तृतीमा

16:49:27

हस्त

08:31:38

शुक्र

17:05:23

गय

16:49:27

कन्मा

20:34:00

9

सोभ

बाद्रऩद

शुक्र ितुथॉ

16:00:15

सििा

08:31:11

ब्रह्म

15:21:49

त्रवत्रद्श

16:00:15

तुरा

-

10 भॊगर बाद्रऩद

शुक्र ऩॊिभी

14:52:18

स्वाती

08:11:59

इन्द्र

13:23:14

फारव

14:52:18

तुरा

25:45:00

11 फुध

बाद्रऩद

शुक्र षद्षी

13:24:40

त्रवशाखा

07:33:06

वैधसृ त

11:08:44

तैसतर

13:24:40

वृस्द्ळक

-

12 गुरु

बाद्रऩद

शुक्र सद्ऱभी

11:38:17

अनुयाधा

06:36:24

त्रवषकुॊब

08:39:13

वस्णज 11:38:17 वृस्द्ळक

29:22:00

13 शुक्र

बाद्रऩद

शुक्र अद्शभी

09:35:01

भूर

27:52:50

आमुष्भान

26:58:27

फव

09:35:01

धनु

-

14 शसन

बाद्रऩद

शुक्र नवभी

07:16:45

ऩूवााषाढ़

26:10:12

सौबाग्म

23:52:23

कौरव

07:16:45

धनु

-

15 यत्रव

बाद्रऩद

शुक्र एकादशी

26:09:45

उत्तयाषाढ़

24:19:07

शोबन

20:38:48

वस्णज 15:29:26 धनु

07:42:00

16 सोभ

बाद्रऩद

शुक्र द्रादशी

23:30:51

श्रवण

22:27:06

असतगॊड

17:21:29

फव

12:49:36

भकय

-

17 भॊगर बाद्रऩद

शुक्र िमोदशी

20:58:32

धसनद्षा

20:40:43

सुकभाा

14:08:51

कौरव

10:13:32

भकय

09:33:00

18 फुध

बाद्रऩद

शुक्र ितुदाशी

18:40:16

शतसबषा

19:06:31

धृसत

11:04:39

गय

07:46:50

कुॊब

-

19 गुरु

बाद्रऩद

शुक्र ऩूस्णाभा

16:43:35

ऩूवााबाद्रऩद

17:56:42

शूर

08:16:23

फव

16:43:35

कुॊब

12:11:00

20 शुक्र

आस्द्वन

कृ ष्ण प्रसतऩदा

15:15:57

उत्तयाबाद्रऩद

17:15:00

वृत्रद्ध

27:49:42

कौरव

15:15:57

भीन

-

ससतम्फय 2013

93

21 शसन

आस्द्वन

कृ ष्ण फद्रतीमा

14:25:49

ये वसत

17:10:49

ध्रुव

26:21:07

गय

14:25:49

भीन

17:10:00

22 यत्रव

आस्द्वन

कृ ष्ण तृतीमा

14:16:00

अस्द्वनी

17:46:00

व्माघात

25:27:15

त्रवत्रद्श

14:16:00

भेष

-

23 सोभ

आस्द्वन

कृ ष्ण ितुथॉ

14:50:14

बयणी

19:04:18

हषाण

25:05:14

फारव

14:50:14

भेष

25:30:00

24 भॊगर आस्द्वन

कृ ष्ण ऩॊिभी

16:05:44

कृ सतका

21:01:59

वज्र

25:14:11

तैसतर

16:05:44

वृष

-

25 फुध

आस्द्वन

कृ ष्ण षद्षी

17:55:56

योफहस्ण

23:31:33

ससत्रद्ध

25:47:30

वस्णज 17:55:56 वृष

-

26 गुरु

आस्द्वन

कृ ष्ण सद्ऱभी

20:13:19

भृगसशया

26:21:45

व्मसतऩात

26:36:45

त्रवत्रद्श

07:03:00

वृष

12:55:00

27 शुक्र

आस्द्वन

कृ ष्ण अद्शभी

22:40:04

आद्रा

29:20:23

वरयमान

27:31:38

फारव

09:25:04

सभथुन

-

28 शसन

आस्द्वन

कृ ष्ण नवभी

25:04:58

ऩुनवासु

32:12:28

ऩरयग्रह

28:21:50

तैसतर

11:53:43

सभथुन

25:31:00

29 यत्रव

आस्द्वन

कृ ष्ण दशभी

27:12:59

ऩुनवासु

08:12:59

सशव

28:59:51

वस्णज 14:12:02 कका

-

30 सोभ

आस्द्वन

कृ ष्ण एकादशी

28:55:41

ऩुष्म

10:47:15

ससद्ध

29:17:15

फव

-

16:08:49

कका

शसन ऩीड़ा सनवायक
सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रद्षत 22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत ऩौरुषाकाय शसन मॊि
ऩुरुषाकाय शसन मॊि (स्टीर भं) को तीव्र प्रबावशारी फनाने हे तु शसन की कायक धातु शुद्ध स्टीर(रोहे ) भं फनामा गमा
हं । स्जस के प्रबाव से साधक को तत्कार राब प्राद्ऱ होता हं । मफद जन्भ कुॊडरी भं शसन प्रसतकूर होने ऩय व्मत्रि को
अनेक कामं भं असपरता प्राद्ऱ होती है , कबी व्मवसाम भं घटा, नौकयी भं ऩये शानी, वाहन दघ
ा ना, गृह क्रेश आफद
ु ट

ऩये शानीमाॊ फढ़ती जाती है ऐसी स्स्थसतमं भं प्राणप्रसतत्रद्षत ग्रह ऩीड़ा सनवायक शसन मॊि की अऩने को व्मऩाय स्थान मा
घय भं स्थाऩना कयने से अनेक राब सभरते हं । मफद शसन की ढै ़मा मा साढ़े साती का सभम हो तो इसे अवश्म ऩूजना
िाफहए। शसनमॊि के ऩूजन भाि से व्मत्रि को भृत्मु, कजा, कोटा केश, जोडो का ददा , फात योग तथा रम्फे सभम के सबी

प्रकाय के योग से ऩये शान व्मत्रि के सरमे शसन मॊि असधक राबकायी होगा। नौकयी ऩेशा आफद के रोगं को ऩदौन्नसत
बी शसन द्राया ही सभरती है अत् मह मॊि असत उऩमोगी मॊि है स्जसके द्राया शीघ्र ही राब ऩामा जा सकता है ।

भूल्म: 1050 से 8200 >> Order Now

GURUTVA KARYALAY
BHUBNESWAR-751018, (ORISSA),
Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

ससतम्फय 2013

94

ससतम्फय-2013 भाससक व्रत-ऩवा-त्मौहाय
फद

वाय

भाह

ऩऺ

सतसथ

सभासद्ऱ

1

यत्रव

बाद्रऩद

कृ ष्ण

एकादशी

11:26:17

2

सोभ

बाद्रऩद

कृ ष्ण

द्रादशी

13:31:28

3

भॊगर

बाद्रऩद

कृ ष्ण

िमोदशी

15:10:25

4

फुध

बाद्रऩद

कृ ष्ण

ितुदाशी

16:22:09

प्रभुख व्रत-त्मोहाय
अजा (जमा) एकादशी व्रत,
सोभ प्रदोष व्रत, गोवत्स द्रादशी (गौ-फिड़ा) व्रत, कसरमुगाफद, द्वेताॊफय
जैन ऩमुष
ा ण ऩवा प्रायॊ ब (ितुथॉ ऩऺ)
भाससक सशवयात्रि व्रत, अघोय ितुद
ा शी, जैन ऩमुष
ा ण ऩवा प्रायॊ ब (ऩॊिभी
ऩऺ)
त्रऩठोयी अभावस्मा, दादाबाई नौयोजी जमॊती,
स्नान-दान-श्राद्ध

5

गुरु

बाद्रऩद

कृ ष्ण

अभावस्मा

हे तु

उत्तभ

बाद्रऩदी

अभावस्मा,

कुशोत्ऩाटनी

(कुशग्रहणी) अभावस, भौनव्रत प्रायॊ ब, कल्ऩसूि वाॊिन प्रायॊ ब (द्वेताॊफय
17:06:43

जैन), रस्ब्धत्रवधान व्रत 5 फदन (फदगॊफय जैन), सशऺक फदवस, भदय
टे येसा स्भृसतफदवस,

6

शुक्र

बाद्रऩद

शुक्र

प्रसतऩदा

17:24:05

निव्रत ऩूण,ा वीय जन्भोत्सव, भहावीय जन्भवाॊिन (द्वेताॊफय जैन)
नवीन िन्द्र-दशान, श्रीयाभदे वऩीय जमन्ती नवयाि प्रायॊ ब (याजस्थान),

7

शसन

बाद्रऩद

शुक्र

फद्रतीमा

17:17:05

तेराधय तऩ (जैन), शॊकयदे व सतसथ (असभ), साभवेदी उऩाकभा, वैधसृ त
भहाऩात फदन 2:25 से सामॊ 7:55 फजे तक
हरयतासरका तीज (फड़ी तीज) व्रत, वायाहावताय जमॊती, गौयीतृतीमा व्रत,

8

यत्रव

बाद्रऩद

शुक्र

तृतीमा

16:49:27

गौयी तीज (ओड़ीसा), केवड़ा तीज, त्रिरोक तीज (फदगॊफय जैन),
साऺयता फदवस
ससत्रद्धत्रवनामक ितुथॉ व्रत, वयदत्रवनामक ितुथॉ व्रत, श्रीगणेशोत्सव
प्रायॊ ब, श्रीकृ ष्ण करॊकनी ितुथॉ, शास्त्रंि भतानुशाय िन्द्र दशान

9

सोभ

बाद्रऩद

शुक्र

ितुथॉ

सनत्रषद्ध क्मंफक आज िन्द्रभा के दशान से करॊक रगता हं , ऩत्थय
16:00:15

(ढे रा) िौथ, िौठ िन्द्र (सभसथराॊिर), सौबाग्म ितुथॉ (ऩ.फॊगार),
सशवा ितुथॉ, सयस्वती-ऩूजा (ओड़ीसा), जैन सॊवत्सयी (ितुथॉ ऩऺ),
दशरऺण व्रत 10 फदन एवॊ ऩुष्ऩाॊजसर व्रत 5 फदन (फदगॊफय जैन)

95

ससतम्फय 2013

ऋत्रष ऩॊिभी भध्माा भं सद्ऱत्रषा ऩूजन, यऺा ऩॊिभी (ऩ.फॊगार), गुरु
10

भॊगर

बाद्रऩद

शुक्र

ऩॊिभी

14:52:18

ऩॊिभी (ओड़ीसा), स्कन्दषद्षी व्रत, आकाश ऩॊिभी (जैन), जैन सॊवत्सयी
(ऩॊिभी ऩऺ), गगा जमॊती, अॊसगया ऋत्रष जमॊती,
सूमष
ा द्षी व्रत, रोराका षद्षी, हरषद्षी व्रत, िॊदन षद्षी (फदगॊफय जैन),

11

फुध

बाद्रऩद

शुक्र

षद्षी

13:24:40

रसरता षद्षी, भॊथन षद्षी, सोभनाथ व्रत (ओड़ीसा), भुिाबयण
सद्ऱभी व्रत, सन्तान सद्ऱभी व्रत, त्रवनोफा बावे जमॊती,

12

गुरु

बाद्रऩद

शुक्र

सद्ऱभी

रसरता सद्ऱभी, भहारक्ष्भी व्रत अनुद्षान प्रायॊ ब (िन्द्रोदमकारीन
11:38:17

अद्शभी सतसथ भं), सनदोष सद्ऱभी (फदगॊफय जैन)
श्रीयाधाद्शभी व्रतोत्सव (वैष्णव), श्रीदग
ु ााद्शभी व्रत, श्रीअन्नऩूणााद्शभी

13

शुक्र

बाद्रऩद

शुक्र

अद्शभी

09:35:01

व्रत, दधीसि जमॊती, श्रीभद्भागवत सद्ऱाह प्रायॊ ब, सन:शल्म अद्शभी
(फदगॊफय जैन),

14

शसन

बाद्रऩद

15

यत्रव

बाद्रऩद

नन्दा नवभी, अदख
नवभी, श्रीिन्द्र जमॊती, तरनवभी, तेजा

शुक्र

नवभी

07:16:45

शुक्र

एकादशी

26:09:45

दशभी, फहन्दी फदवस, दशावताय व्रत, सुगन्ध दशभी (जैन),
ऩद्मा एकादशी व्रत, ऩाद्वा ऩरयवतानी एकादशी, जरझूरनी एकादशी,
धभाा-कभाा एकादशी, दोर ग्मायस (भ.प्रदे श), भहायत्रववाय व्रत
एकादशी व्रत, श्रवण नऺिमुता द्रादशी व्रत, श्रीवाभन अवताय

16

सोभ

बाद्रऩद

शुक्र

द्रादशी

जमॊती, बुवनेद्वयी भहात्रवद्या जमॊती, श्माभफाफा द्रादशी, इन्द्रऩूजा
23:30:51

प्रायॊ ब, हरयवासय प्रात: 7:41 से फदन 3:04 फजे तक, ओणभ
(द.बायत), सूमा की कन्मा सॊक्रास्न्त यात्रि 12:02 फजे,
सॊक्रास्न्त के स्नान-दान का त्रवशेष ऩुण्मकार प्रात: 6:26 फजे

17

भॊगर

बाद्रऩद

शुक्र

िमोदशी

20:58:32

तक, बौभ प्रदोष व्रत, गोत्रियाि व्रत प्रायॊ ब, त्रवद्वकभाा ऩूजा, यत्निम
व्रत 3 फदन (फदगॊफय जैन)
अनन्त ितुदाशी, 10 फदन का श्रीगणेशोत्सव ऩूण,ा ऩासथाव गणेश

18

फुध

बाद्रऩद

शुक्र

ितुदाशी

18:40:16

प्रसतभा त्रवसजान (भहायाद्स), इन्द्र गोत्रवन्द ऩूजा (ओड़ीसा), ऩूस्णाभा
व्रत, श्रीसत्मनायामण ऩूजा कथा, रोकऩार ऩूजा ऩूस्णाभा, सशव

ससतम्फय 2013

96

ऩरयवतानोत्सव
स्नान-दान
19

गुरु

बाद्रऩद

शुक्र

ऩूस्णाभा

हे तु

उत्तभ

बाद्रऩदी

ऩूस्णाभा,

गोत्रियाि

व्रत

ऩूणा,

सॊन्माससमंका िातुभाास ऩूण,ा श्रीभद्भागवत सद्ऱाह ऩूण,ा भहारम
16:43:35

आयॊ ब ऩूस्णाभा का श्राद्ध, अम्फाजी का भेरा, व्मसतऩात भहाऩात
फदन 11:48 से सामॊ 4:55 फजे तक तक,
िातुभाास के व्रती के सरए शास्त्रोि भत से आस्द्वन भास भं दध

20

शुक्र

आस्द्वन

कृ ष्ण

प्रसतऩदा

15:15:57

वस्जात, त्रऩतृऩऺ का तऩाण प्रायॊ ब, प्रसतऩदा का श्राद्ध फदन 03:15
फजे तक, अशून्म शमन व्रत, ऺभावाणी ऩवा (फदगॊफय जैन)

21

शसन

आस्द्वन

कृ ष्ण

फद्रतीमा

14:25:49

फद्रतीमा (दज
ू ) का श्राद्ध फदन 2:24 तक,
तृतीमा (तीज) का श्राद्ध फदन 2:15 फजे तक, सॊकद्शी श्रीगणेश

22

यत्रव

आस्द्वन

कृ ष्ण

तृतीमा

14:16:00

ितुथॉ व्रत, सूमा सामन तुरा भं दे य यात 2:15 फजे, शयद सम्ऩात ्
सूमा दस्ऺणी गोराद्र्ध भं

23

सोभ

आस्द्वन

कृ ष्ण

ितुथॉ

14:50:14

24

भॊगर

आस्द्वन

कृ ष्ण

ऩॊिभी

16:05:44

25

फुध

आस्द्वन

कृ ष्ण

षद्षी

17:55:56

ितुथॉ (िौथ) का श्राद्ध फदन 2:49 तक, बयणी श्राद्ध, त्रवषुव फदन
ऩॊिभी (ऩाॊिभ) का श्राद्ध दोऩहय 04:05 फजे तक, कृ त्रत्तका श्राद्ध,
श्रीिन्द्रषद्षी व्रत
षद्षी (िठ) का श्राद्ध, ऩॊ. दीनदमार जमन्ती, योफहणी व्रत (जैन)
सद्ऱभी (सातभ) का श्राद्ध, भहारक्ष्भी अद्शभी (िन्द्रोदमव्मात्रऩनी),

26

गुरु

आस्द्वन

कृ ष्ण

सद्ऱभी

20:13:19

भहारक्ष्भी व्रत-अनुद्षान ऩूण,ा ताॊत्रिक भतानुसाय कारी जमॊती,
साफहफ सद्ऱभी, ओठगन,

27

शुक्र

आस्द्वन

28

शसन

29
30

अद्शभी

(आठभ)

का

श्राद्ध,

जीत्रवत्ऩुत्रिका

(जीउसतमा)

कृ ष्ण

अद्शभी

22:40:04

आस्द्वन

कृ ष्ण

नवभी

25:04:58

नवभी (नौभ) का श्राद्ध, भातृनवभी सुहासगनं का श्राद्ध,

यत्रव

आस्द्वन

कृ ष्ण

दशभी

27:12:59

दशभी (दशभ) का श्राद्ध, ईद्वयिन्द्र त्रवद्यासागय जमन्ती

सोभ

आस्द्वन

कृ ष्ण

एकादशी

28:55:41

एकादशी (ग्मायस) का श्राद्ध, इस्न्दया एकादशी व्रत

काराद्शभी व्रत, गमाभध्माद्शभी, गजगौयीऩूजा, ऩमाटन फदवस,

व्रत,

ससतम्फय 2013

97

गणेश रक्ष्भी मॊि
प्राण-प्रसतत्रद्षत गणेश रक्ष्भी मॊि को अऩने घय-दक
ु ान-ओफपस-पैक्टयी भं ऩूजन स्थान, गल्रा मा अरभायी भं स्थात्रऩत
कयने व्माऩाय भं त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । मॊि के प्रबाव से बाग्म भं उन्नसत, भान-प्रसतद्षा एवॊ

व्माऩाय भं वृत्रद्ध होती

हं एवॊ आसथाक स्स्थभं सुधाय होता हं । गणेश रक्ष्भी मॊि को स्थात्रऩत कयने से बगवान गणेश औय दे वी रक्ष्भी का

Rs.730 से Rs.10900 तक

सॊमुि आशीवााद प्राद्ऱ होता हं ।

भॊगर मॊि से ऋण भुत्रि
भॊगर मॊि को जभीन-जामदाद के त्रववादो को हर कयने के काभ भं राब दे ता हं , इस के असतरयि व्मत्रि को ऋण
भुत्रि हे तु भॊगर साधना से असत शीध्र राब प्राद्ऱ होता हं ।

त्रववाह आफद भं भॊगरी जातकं के कल्माण के सरए भॊगर

मॊि की ऩूजा कयने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । प्राण प्रसतत्रद्षत भॊगर मॊि के ऩूजन से बाग्मोदम, शयीय भं खून की
कभी, गबाऩात से फिाव, फुखाय, िेिक, ऩागरऩन, सूजन औय घाव, मौन शत्रि भं वृत्रद्ध, शिु त्रवजम, तॊि भॊि के दद्श
ु प्रबा,

भूल्म भाि Rs- 730

बूत-प्रेत बम, वाहन दघ
ा नाओॊ, हभरा, िोयी इत्मादी से फिाव होता हं ।
ु ट

कुफेय मॊि
कुफेय मॊि के ऩूजन से स्वणा राब, यत्न राब, ऩैतक
ृ सम्ऩत्ती एवॊ गड़े हुए धन से राब प्रासद्ऱ फक काभना कयने वारे

व्मत्रि के सरमे कुफेय मॊि अत्मन्त सपरता दामक होता हं । एसा शास्त्रोि विन हं । कुफेय मॊि के ऩूजन से एकासधक
स्त्रोि से धन का प्राद्ऱ होकय धन सॊिम होता हं ।

ताम्र ऩि ऩय सुवणा ऩोरीस

ताम्र ऩि ऩय यजत ऩोरीस

ताम्र ऩि ऩय

(Gold Plated)

(Silver Plated)

(Copper)

साईज
1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

भूल्म
460
820
1650
2350
3600
6400
10800

साईज

भूल्म

साईज

भूल्म

1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

370
640
1090
1650
2800
5100
8200

1” X 1”
2” X 2”
3” X 3”
4” X 4”
6” X 6”
9” X 9”
12” X12”

255
460
730
1090
1900
3250
6400

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
>> Order Now

98

ससतम्फय 2013

नवयत्न जफड़त श्री मॊि
शास्त्र विन के अनुसाय शुद्ध सुवणा मा यजत भं सनसभात श्री मॊि के िायं औय मफद नवयत्न जड़वा ने ऩय मह नवयत्न
जफड़त श्री मॊि कहराता हं । सबी यत्नो को उसके सनस्द्ळत स्थान ऩय जड़ कय रॉकेट के रूऩ भं धायण कयने से व्मत्रि को
अनॊत एद्वमा एवॊ रक्ष्भी की प्रासद्ऱ होती हं । व्मत्रि को एसा आबास होता हं जैसे भाॊ रक्ष्भी उसके साथ हं । नवग्रह को
श्री मॊि के साथ रगाने से ग्रहं की अशुब दशा का धायण कयने वारे व्मत्रि ऩय प्रबाव नहीॊ होता हं । गरे भं होने के
कायण मॊि ऩत्रवि यहता हं एवॊ स्नान कयते सभम इस मॊि ऩय स्ऩशा कय जो जर त्रफॊद ु शयीय को रगते हं , वह गॊगा
जर के सभान ऩत्रवि होता हं । इस सरमे इसे सफसे तेजस्वी एवॊ परदासम कहजाता हं । जैसे अभृत से उत्तभ कोई
औषसध नहीॊ, उसी प्रकाय रक्ष्भी प्रासद्ऱ के सरमे श्री मॊि से उत्तभ कोई मॊि सॊसाय भं नहीॊ हं एसा शास्त्रोि विन हं । इस
प्रकाय के नवयत्न जफड़त श्री मॊि गुरूत्व कामाारम द्राया शुब भुहूता भं प्राण प्रसतत्रद्षत कयके फनावाए जाते हं ।

अद्श रक्ष्भी कवि
अद्श रक्ष्भी कवि को धायण कयने से व्मत्रि ऩय सदा भाॊ भहा रक्ष्भी की कृ ऩा एवॊ आशीवााद फना

यहता हं । स्जस्से भाॊ रक्ष्भी के अद्श रुऩ (१)-आफद रक्ष्भी, (२)-धान्म रक्ष्भी, (३)-धैयीम रक्ष्भी, (४)गज रक्ष्भी, (५)-सॊतान रक्ष्भी, (६)-त्रवजम रक्ष्भी, (७)-त्रवद्या रक्ष्भी औय (८)-धन रक्ष्भी इन सबी
रुऩो का स्वत् अशीवााद प्राद्ऱ होता हं ।

भूल्म भाि: Rs-1250

भॊि ससद्ध व्माऩाय वृत्रद्ध कवि
व्माऩाय वृत्रद्ध कवि व्माऩाय भं शीघ्र उन्नसत के सरए उत्तभ हं । िाहं कोई बी व्माऩाय हो अगय उसभं राब के स्थान ऩय
फाय-फाय हासन हो यही हं । फकसी प्रकाय से व्माऩाय भं फाय-फाय फाधाएॊ उत्ऩन्न हो यही हो! तो सॊऩण
ू ा प्राण प्रसतत्रद्षत
भॊि ससद्ध ऩूणा िैतन्म मुि व्माऩाय वृत्रद्ध मॊि को व्मऩाय स्थान मा घय भं स्थात्रऩत कयने से शीघ्र ही व्माऩाय भं वृत्रद्ध

भूल्म भाि: Rs.730 & 1050

एवॊ सनतन्तय राब प्राद्ऱ होता हं ।

भॊगर मॊि
(त्रिकोण) भॊगर मॊि को जभीन-जामदाद के त्रववादो को हर कयने के काभ भं राब दे ता हं , इस के असतरयि व्मत्रि को
ऋण भुत्रि हे तु भॊगर साधना से असत शीध्र राब प्राद्ऱ होता हं । त्रववाह आफद भं भॊगरी जातकं के कल्माण के सरए
भॊगर मॊि की ऩूजा कयने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं ।

भूल्म भाि Rs- 730
>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,

Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com

99

ससतम्फय 2013

त्रववाह सॊफॊसधत सभस्मा
क्मा आऩके रडके-रडकी फक आऩकी शादी भं अनावश्मक रूऩ से त्रवरम्फ हो यहा हं मा उनके वैवाफहक जीवन भं खुसशमाॊ कभ
होती जायही हं औय सभस्मा असधक फढती जायही हं । एसी स्स्थती होने ऩय अऩने रडके-रडकी फक कुॊडरी का अध्ममन
अवश्म कयवारे औय उनके वैवाफहक सुख को कभ कयने वारे दोषं के सनवायण के उऩामो के फाय भं त्रवस्ताय से जनकायी प्राद्ऱ
कयं ।

सशऺा से सॊफॊसधत सभस्मा
क्मा आऩके रडके-रडकी की ऩढाई भं अनावश्मक रूऩ से फाधा-त्रवघ्न मा रुकावटे हो यही हं ? फच्िो को अऩने ऩूणा ऩरयश्रभ
एवॊ भेहनत का उसित पर नहीॊ सभर यहा? अऩने रडके-रडकी की कुॊडरी का त्रवस्तृत अध्ममन अवश्म कयवारे औय
उनके त्रवद्या अध्ममन भं आनेवारी रुकावट एवॊ दोषो के कायण एवॊ उन दोषं के सनवायण के उऩामो के फाय भं त्रवस्ताय से
जनकायी प्राद्ऱ कयं ।

क्मा आऩ फकसी सभस्मा से ग्रस्त हं ?
आऩके ऩास अऩनी सभस्माओॊ से िुटकाया ऩाने हे तु ऩूजा-अिाना, साधना, भॊि जाऩ इत्माफद कयने का सभम नहीॊ हं ?
अफ आऩ अऩनी सभस्माओॊ से फीना फकसी त्रवशेष ऩूजा-अिाना, त्रवसध-त्रवधान के आऩको अऩने कामा भं सपरता प्राद्ऱ
कय सके एवॊ आऩको अऩने जीवन के सभस्त सुखो को प्राद्ऱ कयने का भागा प्राद्ऱ हो सके इस सरमे गुरुत्व कामाारत
द्राया हभाया उद्दे श्म शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशद्श तेजस्वी भॊिो द्राया ससद्ध प्राण-प्रसतत्रद्षत ऩूणा िैतन्म मुि त्रवसबन्न प्रकाय के
मन्ि- कवि एवॊ शुब परदामी ग्रह यत्न एवॊ उऩयत्न आऩके घय तक ऩहोिाने का हं ।

ज्मोसतष सॊफॊसधत त्रवशेष ऩयाभशा
ज्मोसत त्रवऻान, अॊक ज्मोसतष, वास्तु एवॊ आध्मास्त्भक ऻान सं सॊफॊसधत त्रवषमं भं हभाये 30 वषो से असधक वषा के
अनुबवं के साथ ज्मोसतस से जुडे नमे-नमे सॊशोधन के आधाय ऩय आऩ अऩनी हय सभस्मा के सयर सभाधान प्राद्ऱ कय
सकते हं । >> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us - 9338213418, 9238328785
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com

ओनेक्स
जो व्मत्रि ऩन्ना धायण कयने भे असभथा हो उन्हं फुध ग्रह के उऩयत्न ओनेक्स को धायण कयना िाफहए।
उच्ि सशऺा प्रासद्ऱ हे तु औय स्भयण शत्रि के त्रवकास हे तु ओनेक्स यत्न की अॊगूठी को दामं हाथ की सफसे िोटी

उॊ गरी मा रॉकेट फनवा कय गरे भं धायण कयं । ओनेक्स यत्न धायण कयने से त्रवद्या-फुत्रद्ध की प्रासद्ऱ हो होकय स्भयण

शत्रि का त्रवकास होता हं ।

>> Order Now

ससतम्फय 2013

100

ससतम्फय 2013 -त्रवशेष मोग
कामा ससत्रद्ध मोग
1

सूमोदम से फदन 11:46 तक

21/22

यात्रि 3:48 से सूमोदम तक

9

सूमोदम से प्रात: 7:24 तक

23

सूमोदम से फदन-यात

12

यात्रि 9:05 से यातबय

25

फदन 12:32 से यातबय

17

सामॊ 5:40 से यातबय

27

सूमोदम से सामॊ 4:28 तक

18

सूमोदम से फदन-यात

त्रिऩुष्कय (तीनगुना पर) मोग
1

फदन 11:25 से यात्रि 12:17 तक

7

सूमोदम से प्रात: 8:10 तक

त्रवघ्नकायक बद्रा
3

यात्रि 10:28 से 4 जनवयी को प्रात: 10:11 तक

18

सामॊ 4:23 से 19 जनवयी को प्रात: 5:19 तक

7

प्रात: 6:05 से सामॊ 5:01 तक

22

फदन 12:44 से दे ययात 2:07 तक

10

प्रात: 8:01 से सामॊ 6:18 तक

26

प्रात: 8:47 से यात्रि 9:27 तक

15

प्रात: 4:23 से फदन 3:39 तक

29

यात्रि 11:29 से 30 जनवयी को फदन 11:30 तक

मोग पर :
 कामा ससत्रद्ध मोग भे फकमे गमे शुब कामा भे सनस्द्ळत सपरता प्राद्ऱ होती हं , एसा शास्त्रोि विन हं ।
 त्रिऩुष्कय मोग भं फकमे गमे शुब कामो का राब तीन गुना होता हं । एसा शास्त्रोि विन हं ।
 शास्त्रोि भत से त्रवघ्नकायक बद्रा मा बद्रा मोग भं शुब कामा कयना वस्जात हं ।

दै सनक शुब एवॊ अशुब सभम ऻान तासरका
गुसरक कार (शुब)

मभ कार (अशुब)

याहु कार (अशुब)

यत्रववाय

03:00 से 04:30

12:00 से 01:30

04:30 से 06:00

भॊगरवाय

12:00 से 01:30

09:00 से 10:30

03:00 से 04:30

06:00 से 07:30

01:30 से 03:00

01:30 से 03:00

09:00 से 10:30

वाय
सोभवाय
फुधवाय
गुरुवाय

शुक्रवाय

शसनवाय

सभम अवसध

01:30 से 03:00
10:30 से 12:00
09:00 से 10:30
07:30 से 09:00

06:00 से 07:30

सभम अवसध

10:30 से 12:00
07:30 से 09:00
03:00 से 04:30

सभम अवसध

07:30 से 09:00
12:00 से 01:30

10:30 से 12:00

ससतम्फय 2013

101

फदन के िौघफडमे
सभम

यत्रववाय

सोभवाय

भॊगरवाय फुधवाय गुरुवाय

शुक्रवाय

शसनवाय

06:00 से 07:30

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

िर

कार

07:30 से 09:00

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

09:00 से 10:30

राब

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

10:30 से 12:00

अभृत

योग

राब

शुब

िर

कार

उद्रे ग

12:00 से 01:30

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

िर

01:30 से 03:00

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

03:00 से 04:30

योग

राब

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

04:30 से 06:00

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

िर

कार

यात के िौघफडमे
सभम

यत्रववाय

सोभवाय

भॊगरवाय

फुधवाय गुरुवाय

शुक्रवाय

शसनवाय

06:00 से 07:30

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

09:00 से 10:30

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

10:30 से 12:00

योग

राब

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

12:00 से 01:30

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

िर

01:30 से 03:00

राब

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

03:00 से 04:30

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

शुब

िर

कार

04:30 से 06:00

शुब

िर

कार

उद्रे ग

अभृत

योग

राब

07:30 से 09:00

अभृत

योग

राब

शुब

िर

कार

उद्रे ग

शास्त्रोि भत के अनुशाय मफद फकसी बी कामा का प्रायॊ ब शुब भुहूता मा शुब सभम ऩय फकमा जामे तो कामा भं सपरता

प्राद्ऱ होने फक सॊबावना ज्मादा प्रफर हो जाती हं । इस सरमे दै सनक शुब सभम िौघफड़मा दे खकय प्राद्ऱ फकमा जा सकता हं ।

नोट: प्राम् फदन औय यात्रि के िौघफड़मे फक सगनती क्रभश् सूमोदम औय सूमाास्त से फक जाती हं । प्रत्मेक िौघफड़मे फक अवसध 1

घॊटा 30 सभसनट अथाात डे ढ़ घॊटा होती हं । सभम के अनुसाय िौघफड़मे को शुबाशुब तीन बागं भं फाॊटा जाता हं , जो क्रभश् शुब,
भध्मभ औय अशुब हं ।

* हय कामा के सरमे शुब/अभृत/राब का

िौघफडमे के स्वाभी ग्रह

शुब िौघफडमा

भध्मभ िौघफडमा

अशुब िौघफड़मा

िौघफडमा स्वाभी ग्रह

िौघफडमा स्वाभी ग्रह

िौघफडमा

स्वाभी ग्रह

शुब

गुरु

िय

उद्बे ग

सूमा

अभृत

िॊद्रभा

कार

शसन

राब

फुध

योग

भॊगर

शुक्र

िौघफड़मा उत्तभ भाना जाता हं ।

* हय कामा के सरमे िर/कार/योग/उद्रे ग
का िौघफड़मा उसित नहीॊ भाना जाता।

ससतम्फय 2013

102

फदन फक होया - सूमोदम से सूमाास्त तक
वाय

1.घॊ

2.घॊ

3.घॊ

4.घॊ

5.घॊ

6.घॊ

7.घॊ

8.घॊ

9.घॊ

यत्रववाय

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

सोभवाय

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

भॊगरवाय

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

फुधवाय

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु भॊगर सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

गुरुवाय

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

शुक्रवाय

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

शसनवाय

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

िॊद्र

िॊद्र
फुध

10.घॊ 11.घॊ 12.घॊ

यात फक होया – सूमाास्त से सूमोदम तक
यत्रववाय

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

सोभवाय

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

भॊगरवाय

शसन

गुरु

भॊगर

फुधवाय

सूमा

शुक्र

फुध

गुरुवाय

िॊद्र

शसन

गुरु

शुक्रवाय

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

गुरु भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

भॊगर सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शसन

गुरु

भॊगर

सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसनवाय

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु भॊगर सूमा

शुक्र

फुध

िॊद्र

शसन

गुरु

भॊगर

िॊद्र

िॊद्र

होया भुहूता को कामा ससत्रद्ध के सरए ऩूणा परदामक एवॊ अिूक भाना जाता हं , फदन-यात के २४ घॊटं भं शुब-अशुब सभम
को सभम से ऩूवा ऻात कय अऩने कामा ससत्रद्ध के सरए प्रमोग कयना िाफहमे।

त्रवद्रानो के भत से इस्च्ित कामा ससत्रद्ध के सरए ग्रह से सॊफॊसधत होया का िुनाव कयने से त्रवशेष राब
प्राद्ऱ होता हं ।

 सूमा फक होया सयकायी कामो के सरमे उत्तभ होती हं ।
 िॊद्रभा फक होया सबी कामं के सरमे उत्तभ होती हं ।
 भॊगर फक होया कोटा -किेयी के कामं के सरमे उत्तभ होती हं ।
 फुध फक होया त्रवद्या-फुत्रद्ध अथाात ऩढाई के सरमे उत्तभ होती हं ।
 गुरु फक होया धासभाक कामा एवॊ त्रववाह के सरमे उत्तभ होती हं ।
 शुक्र फक होया मािा के सरमे उत्तभ होती हं ।
 शसन फक होया धन-द्रव्म सॊफॊसधत कामा के सरमे उत्तभ होती हं ।

ससतम्फय 2013

103

ग्रह िरन ससतम्फय -2013
Day
1

Sun

Mon

Ma

04:14:40

02:23:58

03:08:27

2

04:15:38

03:05:56

3

04:16:36

4

Me

Jup

Ven

Sat

Rah

Ket

Ua

Nep

Plu

04:21:23

02:19:56

05:24:00

06:13:05

06:15:51

00:15:51

11:17:41

10:09:46

08:15:02

03:09:05

04:23:13

02:20:07

05:25:11

06:13:10

06:15:42

00:15:42

11:17:40

10:09:45

08:15:01

03:18:04

03:09:43

04:25:02

02:20:17

05:26:21

06:13:15

06:15:32

00:15:32

11:17:38

10:09:43

08:15:00

04:17:34

04:00:22

03:10:21

04:26:49

02:20:27

05:27:31

06:13:20

06:15:22

00:15:22

11:17:36

10:09:41

08:15:00

5

04:18:33

04:12:53

03:10:59

04:28:35

02:20:37

05:28:40

06:13:25

06:15:11

00:15:11

11:17:34

10:09:40

08:14:59

6

04:19:31

04:25:37

03:11:37

05:00:20

02:20:47

05:29:50

06:13:30

06:15:02

00:15:02

11:17:32

10:09:38

08:14:59

7

04:20:29

05:08:32

03:12:15

05:02:03

02:20:57

06:01:00

06:13:35

06:14:55

00:14:55

11:17:30

10:09:36

08:14:59

8

04:21:27

05:21:40

03:12:53

05:03:45

02:21:07

06:02:10

06:13:41

06:14:50

00:14:50

11:17:27

10:09:35

08:14:58

9

04:22:26

06:04:58

03:13:31

05:05:27

02:21:16

06:03:19

06:13:46

06:14:47

00:14:47

11:17:25

10:09:33

08:14:58

10

04:23:24

06:18:28

03:14:09

05:07:07

02:21:26

06:04:29

06:13:51

06:14:47

00:14:47

11:17:23

10:09:32

08:14:57

11

04:24:22

07:02:09

03:14:47

05:08:46

02:21:35

06:05:38

06:13:57

06:14:48

00:14:48

11:17:21

10:09:30

08:14:57

12

04:25:21

07:16:01

03:15:24

05:10:23

02:21:44

06:06:48

06:14:02

06:14:49

00:14:49

11:17:19

10:09:28

08:14:57

13

04:26:19

08:00:04

03:16:02

05:12:00

02:21:54

06:07:57

06:14:08

06:14:49

00:14:49

11:17:17

10:09:27

08:14:57

14

04:27:17

08:14:18

03:16:40

05:13:36

02:22:03

06:09:06

06:14:14

06:14:48

00:14:48

11:17:14

10:09:25

08:14:56

15

04:28:16

08:28:40

03:17:17

05:15:10

02:22:11

06:10:15

06:14:19

06:14:45

00:14:45

11:17:12

10:09:24

08:14:56

16

04:29:14

09:13:07

03:17:55

05:16:43

02:22:20

06:11:24

06:14:25

06:14:40

00:14:40

11:17:10

10:09:22

08:14:56

17

05:00:13

09:27:34

03:18:32

05:18:16

02:22:29

06:12:33

06:14:31

06:14:33

00:14:33

11:17:08

10:09:21

08:14:56

18

05:01:11

10:11:56

03:19:10

05:19:47

02:22:38

06:13:42

06:14:37

06:14:26

00:14:26

11:17:05

10:09:19

08:14:56

19

05:02:10

10:26:06

03:19:47

05:21:17

02:22:46

06:14:51

06:14:42

06:14:20

00:14:20

11:17:03

10:09:18

08:14:56

20

05:03:08

11:09:59

03:20:24

05:22:46

02:22:54

06:15:59

06:14:48

06:14:14

00:14:14

11:17:01

10:09:16

08:14:56

21

05:04:07

11:23:32

03:21:02

05:24:14

02:23:02

06:17:08

06:14:54

06:14:11

00:14:11

11:16:58

10:09:15

08:14:56

22

05:05:06

00:06:44

03:21:39

05:25:41

02:23:10

06:18:16

06:15:00

06:14:09

00:14:09

11:16:56

10:09:13

08:14:56

23

05:06:04

00:19:33

03:22:16

05:27:07

02:23:18

06:19:24

06:15:06

06:14:09

00:14:09

11:16:54

10:09:12

08:14:56

24

05:07:03

01:02:03

03:22:53

05:28:32

02:23:26

06:20:32

06:15:13

06:14:10

00:14:10

11:16:51

10:09:11

08:14:56

25

05:08:02

01:14:17

03:23:30

05:29:56

02:23:34

06:21:40

06:15:19

06:14:11

00:14:11

11:16:49

10:09:09

08:14:56

26

05:09:01

01:26:19

03:24:07

06:01:18

02:23:41

06:22:48

06:15:25

06:14:13

00:14:13

11:16:47

10:09:08

08:14:56

27

05:09:59

02:08:13

03:24:44

06:02:40

02:23:49

06:23:56

06:15:31

06:14:14

00:14:14

11:16:44

10:09:06

08:14:56

28

05:10:58

02:20:04

03:25:21

06:04:00

02:23:56

06:25:04

06:15:38

06:14:13

00:14:13

11:16:42

10:09:05

08:14:57

29

05:11:57

03:01:58

03:25:58

06:05:19

02:24:03

06:26:11

06:15:44

06:14:11

00:14:11

11:16:39

10:09:04

08:14:57

30

05:12:56

03:14:00

03:26:35

06:06:36

02:24:10

06:27:19

06:15:50

06:14:08

00:14:08

11:16:37

10:09:02

08:14:57

104

ससतम्फय 2013

सवा योगनाशक मॊि/कवि
भनुष्म अऩने जीवन के त्रवसबन्न सभम ऩय फकसी ना फकसी साध्म मा असाध्म योग से ग्रस्त होता हं ।
उसित उऩिाय से ज्मादातय साध्म योगो से तो भुत्रि सभर जाती हं , रेफकन कबी-कबी साध्म योग होकय बी
असाध्म होजाते हं , मा कोइ असाध्म योग से ग्रससत होजाते हं । हजायो राखो रुऩमे खिा कयने ऩय बी असधक
राब प्राद्ऱ नहीॊ हो ऩाता। डॉक्टय द्राया फदजाने वारी दवाईमा अल्ऩ सभम के सरमे कायगय सात्रफत होती हं , एसी
स्स्थती भं राब प्रासद्ऱ के सरमे व्मत्रि एक डॉक्टय से दस
ू ये डॉक्टय के िक्कय रगाने को फाध्म हो जाता हं ।
बायतीम ऋषीमोने अऩने मोग साधना के प्रताऩ से योग शाॊसत हे तु त्रवसबन्न आमुवये औषधो के असतरयि
मॊि, भॊि एवॊ तॊि का उल्रेख अऩने ग्रॊथो भं कय भानव जीवन को राब प्रदान कयने का साथाक प्रमास हजायो
वषा ऩूवा फकमा था। फुत्रद्धजीवो के भत से जो व्मत्रि जीवनबय अऩनी फदनिमाा ऩय सनमभ, सॊमभ यख कय आहाय
ग्रहण कयता हं , एसे व्मत्रि को त्रवसबन्न योग से ग्रससत होने की सॊबावना कभ होती हं । रेफकन आज के
फदरते मुग भं एसे व्मत्रि बी बमॊकय योग से ग्रस्त होते फदख जाते हं । क्मोफक सभग्र सॊसाय कार के अधीन
हं । एवॊ भृत्मु सनस्द्ळत हं स्जसे त्रवधाता के अरावा औय कोई टार नहीॊ सकता, रेफकन योग होने फक स्स्थती भं
व्मत्रि योग दयू कयने का प्रमास तो अवश्म कय सकता हं । इस सरमे मॊि भॊि एवॊ तॊि के कुशर जानकाय से
मोग्म भागादशान रेकय व्मत्रि योगो से भुत्रि ऩाने का मा उसके प्रबावो को कभ कयने का प्रमास बी अवश्म
कय सकता हं ।
ज्मोसतष त्रवद्या के कुशर जानकय बी कार ऩुरुषकी गणना कय अनेक योगो के अनेको यहस्म को
उजागय कय सकते हं । ज्मोसतष शास्त्र के भाध्मभ से योग के भूरको ऩकडने भे सहमोग सभरता हं , जहा
आधुसनक सिफकत्सा शास्त्र अऺभ होजाता हं वहा ज्मोसतष शास्त्र द्राया योग के भूर(जड़) को ऩकड कय उसका
सनदान कयना राबदामक एवॊ उऩामोगी ससद्ध होता हं ।
हय व्मत्रि भं रार यॊ गकी कोसशकाए ऩाइ जाती हं , स्जसका सनमभीत त्रवकास क्रभ फद्ध तयीके से होता
यहता हं । जफ इन कोसशकाओ के क्रभ भं ऩरयवतान होता है मा त्रवखॊफडन होता हं तफ व्मत्रि के शयीय भं
स्वास्थ्म सॊफॊधी त्रवकायो उत्ऩन्न होते हं । एवॊ इन कोसशकाओ का सॊफॊध नव ग्रहो के साथ होता हं । स्जस्से योगो
के होने के कायण व्मत्रि के जन्भाॊग से दशा-भहादशा एवॊ ग्रहो फक गोिय स्स्थती से प्राद्ऱ होता हं ।
सवा योग सनवायण कवि एवॊ भहाभृत्मुॊजम मॊि के भाध्मभ से व्मत्रि के जन्भाॊग भं स्स्थत कभजोय एवॊ
ऩीफडत ग्रहो के अशुब प्रबाव को कभ कयने का कामा सयरता ऩूवक
ा फकमा जासकता हं । जेसे हय व्मत्रि को
ब्रह्माॊड फक उजाा एवॊ ऩृथ्वी का गुरुत्वाकषाण फर प्रबावीत कताा हं फठक उसी प्रकाय कवि एवॊ मॊि के भाध्मभ
से ब्रह्माॊड फक उजाा के सकायात्भक प्रबाव से व्मत्रि को सकायात्भक उजाा प्राद्ऱ होती हं स्जस्से योग के प्रबाव
को कभ कय योग भुि कयने हे तु सहामता सभरती हं ।
योग सनवायण हे तु भहाभृत्मुॊजम भॊि एवॊ मॊि का फडा भहत्व हं । स्जस्से फहन्द ू सॊस्कृ सत का प्राम् हय
व्मत्रि भहाभृत्मुॊजम भॊि से ऩरयसित हं ।

105

ससतम्फय 2013

कवि के राब :
 एसा शास्त्रोि विन हं स्जस घय भं भहाभृत्मुॊजम मॊि स्थात्रऩत होता हं वहा सनवास कताा हो नाना प्रकाय
फक आसध-व्मासध-उऩासध से यऺा होती हं ।
 ऩूणा प्राण प्रसतत्रद्षत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि सवा योग सनवायण कवि फकसी बी उम्र एवॊ जासत धभा के रोग
िाहे स्त्री हो मा ऩुरुष धायण कय सकते हं ।
 जन्भाॊगभं अनेक प्रकायके खयाफ मोगो औय खयाफ ग्रहो फक प्रसतकूरता से योग उतऩन्न होते हं ।
 कुि योग सॊक्रभण से होते हं एवॊ कुि योग खान-ऩान फक असनमसभतता औय अशुद्धतासे उत्ऩन्न होते हं ।
कवि एवॊ मॊि द्राया एसे अनेक प्रकाय के खयाफ मोगो को नद्श कय, स्वास्थ्म राब औय शायीरयक यऺण प्राद्ऱ
कयने हे तु सवा योगनाशक कवि एवॊ मॊि सवा उऩमोगी होता हं ।

 आज के बौसतकता वादी आधुसनक मुगभे अनेक एसे योग होते हं , स्जसका उऩिाय ओऩये शन औय दवासे बी
कफठन हो जाता हं । कुि योग एसे होते हं स्जसे फताने भं रोग फहिफकिाते हं शयभ अनुबव कयते हं एसे
योगो को योकने हे तु एवॊ उसके उऩिाय हे तु सवा योगनाशक कवि एवॊ मॊि राबादासम ससद्ध होता हं ।
 प्रत्मेक व्मत्रि फक जेसे-जेसे आमु फढती हं वैसे-वसै उसके शयीय फक ऊजाा कभ होती जाती हं । स्जसके साथ
अनेक प्रकाय के त्रवकाय ऩैदा होने रगते हं एसी स्स्थती भं उऩिाय हे तु सवायोगनाशक कवि एवॊ मॊि परप्रद
होता हं ।
 स्जस घय भं त्रऩता-ऩुि, भाता-ऩुि, भाता-ऩुिी, मा दो बाई एक फह नऺिभे जन्भ रेते हं , तफ उसकी भाता
के सरमे असधक कद्शदामक स्स्थती होती हं । उऩिाय हे तु भहाभृत्मुॊजम मॊि परप्रद होता हं ।
 स्जस व्मत्रि का जन्भ ऩरयसध मोगभे होता हं उन्हे होने वारे भृत्मु तुल्म कद्श एवॊ होने वारे योग, सिॊता भं
उऩिाय हे तु सवा योगनाशक कवि एवॊ मॊि शुब परप्रद होता हं ।
नोट:- ऩूणा प्राण प्रसतत्रद्षत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि सवा योग सनवायण कवि एवॊ मॊि के फाये भं असधक
जानकायी हे तु सॊऩका कयं । >> Order Now

Declaration Notice



We do not accept liability for any out of date or incorrect information.
We will not be liable for your any indirect consequential loss, loss of profit,
If you will cancel your order for any article we can not any amount will be refunded or Exchange.
We are keepers of secrets. We honour our clients' rights to privacy and will release no information about our
any other clients' transactions with us.
 Our ability lies in having learned to read the subtle spiritual energy, Yantra, mantra and promptings of the
natural and spiritual world.
 Our skill lies in communicating clearly and honestly with each client.
 Our all kawach, yantra and any other article are prepared on the Principle of Positiv energy, our Article dose
not produce any bad energy.

Our Goal
 Here Our goal has The classical Method-Legislation with Proved by specific with fiery chants prestigious full
consciousness (Puarn Praan Pratisthit) Give miraculous powers & Good effect All types of Yantra, Kavach,
Rudraksh, preciouse and semi preciouse Gems stone deliver on your door step.

ससतम्फय 2013

106

भॊि ससद्ध कवि

भॊि ससद्ध कवि को त्रवशेष प्रमोजन भं उऩमोग के सरए औय शीघ्र प्रबाव शारी फनाने के सरए तेजस्वी भॊिो द्राया शुब भहूता भं शुब
फदन को तैमाय फकमे जाते है । अरग-अरग कवि तैमाय कयने केसरए अरग-अरग तयह के भॊिो का प्रमोग फकमा जाता है ।

 क्मं िुने भॊि ससद्ध कवि?  उऩमोग भं आसान कोई प्रसतफन्ध नहीॊ  कोई त्रवशेष सनसत-सनमभ नहीॊ  कोई फुया प्रबाव नहीॊ

भॊि ससद्ध कवि सूसि
अभोघ भहाभृत्मुॊजम कवि

10900

श्रात्रऩत मोग सनवायण कवि

1900

तॊि यऺा

730

याज याजेद्वयी कवि

11000

* सवा जन वशीकयण

1450

शिु त्रवजम

730

सवा कामा ससत्रद्ध कवि

4600

ससत्रद्ध त्रवनामक कवि

1450

त्रववाह फाधा सनवायण

730

श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्धप्रद कवि

6400

सकर सम्भान प्रासद्ऱ कवि

1450

व्माऩय वृत्रद्ध

730

सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि

6400

आकषाण वृत्रद्ध कवि

1450

सवा योग सनवायण

730

दस भहा त्रवद्या कवि

6400

वशीकयण नाशक कवि

1450

योजगाय वृत्रद्ध

730

नवदग
ु ाा शत्रि कवि

6400

प्रीसत नाशक कवि

1450

भस्स्तष्क ऩृत्रद्श वधाक

640

यसामन ससत्रद्ध कवि

6400

िॊडार मोग सनवायण कवि

1450

काभना ऩूसता

640

ऩॊिदे व शत्रि कवि

6400

ग्रहण मोग सनवायण कवि

1450

त्रवयोध नाशक

640

सुवणा रक्ष्भी कवि

4600

अद्श रक्ष्भी

1250

त्रवघ्न फाधा सनवायण

550

स्वणााकषाण बैयव कवि

4600

भाॊगसरक मोग सनवायण कवि

1250

नज़य यऺा

550

3250

सॊतान प्रासद्ऱ

1250

योजगाय प्रासद्ऱ

550

कारसऩा शाॊसत कवि

2800

स्ऩे- व्माऩय वृत्रद्ध

1050

460

इद्श ससत्रद्ध कवि

2800

कामा ससत्रद्ध

दब
ु ााग्म नाशक

1050

* वशीकयण (2-3 व्मत्रिके सरए)

ऩयदे श गभन औय राब प्रासद्ऱ कवि

2350

आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ

1050

* ऩत्नी वशीकयण

640

श्रीदग
ु ाा फीसा कवि

1900

स्वस्स्तक फीसा कवि

1050

* ऩसत वशीकयण

640

अद्श त्रवनामक कवि

1900

हॊ स फीसा कवि

1050

सयस्वती (कऺा +10 के सरए)

550

त्रवष्णु फीसा कवि

1900

स्वप्न बम सनवायण कवि

1050

सयस्वती (कऺा 10 तकके सरए)

460

याभबद्र फीसा कवि

1900

नवग्रह शाॊसत

910

* वशीकयण ( 1 व्मत्रि के सरए)

640

कुफेय फीसा कवि

1900

बूसभ राब

910

ससद्ध सूमा कवि

550

गरुड फीसा कवि

1900

काभ दे व

910

ससद्ध िॊद्र कवि

550

ससॊह फीसा कवि

1900

ऩदं उन्नसत

910

ससद्ध भॊगर कवि

550

नवााण फीसा कवि

1900

ऋण भुत्रि

910

ससद्ध फुध कवि

550

सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध कवि

1900

सुदशान फीसा कवि

910

ससद्ध गुरु कवि

550

याभ यऺा कवि

1900

भहा सुदशान कवि

910

ससद्ध शुक्र कवि

550

हनुभान कवि

1900

त्रिशूर फीसा कवि

910

ससद्ध शसन कवि

550

बैयव यऺा कवि

1900

धन प्रासद्ऱ

820

ससद्ध याहु कवि

550

*त्रवरऺण सकर याज वशीकयण कवि

शसन साड़े साती औय ढ़ै मा कद्श सनवायण कवि

1900

1050

ससद्ध केतु कवि

550

उऩयोि कवि के अरावा अन्म सभस्मा त्रवशेष के सभाधान हे तु एवॊ उद्दे श्म ऩूसता हे तु कवि का सनभााण फकमा जाता हं । कवि के त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु
सॊऩका कयं । *कवि भाि शुब कामा मा उद्दे श्म के सरमे

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call Us - 9338213418, 9238328785, Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and www.gurutvajyotish.com
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
(ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)

ससतम्फय 2013

107

GURUTVA KARYALAY
YANTRA LIST

EFFECTS

Our Splecial Yantra
1
2
3
4
5
6
7
8
9
10

12 – YANTRA SET
VYAPAR VRUDDHI YANTRA
BHOOMI LABHA YANTRA
TANTRA RAKSHA YANTRA
AAKASMIK DHAN PRAPTI YANTRA
PADOUNNATI YANTRA
RATNE SHWARI YANTRA
BHUMI PRAPTI YANTRA
GRUH PRAPTI YANTRA
KAILASH DHAN RAKSHA YANTRA

For all Family Troubles
For Business Development
For Farming Benefits
For Protection Evil Sprite
For Unexpected Wealth Benefits
For Getting Promotion
For Benefits of Gems & Jewellery
For Land Obtained
For Ready Made House
-

Shastrokt Yantra
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
29
30
31
32
33
34
35
36
37
38
39
40
41
42

AADHYA SHAKTI AMBAJEE(DURGA) YANTRA
BAGALA MUKHI YANTRA (PITTAL)
BAGALA MUKHI POOJAN YANTRA (PITTAL)
BHAGYA VARDHAK YANTRA
BHAY NASHAK YANTRA
CHAMUNDA BISHA YANTRA (Navgraha Yukta)
CHHINNAMASTA POOJAN YANTRA
DARIDRA VINASHAK YANTRA
DHANDA POOJAN YANTRA
DHANDA YAKSHANI YANTRA
GANESH YANTRA (Sampurna Beej Mantra)
GARBHA STAMBHAN YANTRA
GAYATRI BISHA YANTRA
HANUMAN YANTRA
JWAR NIVARAN YANTRA
JYOTISH TANTRA GYAN VIGYAN PRAD SHIDDHA BISHA
YANTRA
KALI YANTRA
KALPVRUKSHA YANTRA
KALSARP YANTRA (NAGPASH YANTRA)
KANAK DHARA YANTRA
KARTVIRYAJUN POOJAN YANTRA
KARYA SHIDDHI YANTRA
 SARVA KARYA SHIDDHI YANTRA
KRISHNA BISHA YANTRA
KUBER YANTRA
LAGNA BADHA NIVARAN YANTRA
LAKSHAMI GANESH YANTRA
MAHA MRUTYUNJAY YANTRA
MAHA MRUTYUNJAY POOJAN YANTRA
MANGAL YANTRA ( TRIKON 21 BEEJ MANTRA)
MANO VANCHHIT KANYA PRAPTI YANTRA
NAVDURGA YANTRA

Blessing of Durga
Win over Enemies
Blessing of Bagala Mukhi
For Good Luck
For Fear Ending
Blessing of Chamunda & Navgraha
Blessing of Chhinnamasta
For Poverty Ending
For Good Wealth
For Good Wealth
Blessing of Lord Ganesh
For Pregnancy Protection
Blessing of Gayatri
Blessing of Lord Hanuman
For Fewer Ending
For Astrology & Spritual Knowlage
Blessing of Kali
For Fullfill your all Ambition
Destroyed negative effect of Kalsarp Yoga
Blessing of Maha Lakshami
For Successes in work
For Successes in all work
Blessing of Lord Krishna
Blessing of Kuber (Good wealth)
For Obstaele Of marriage
Blessing of Lakshami & Ganesh
For Good Health
Blessing of Shiva
For Fullfill your all Ambition
For Marriage with choice able Girl
Blessing of Durga

108

YANTRA LIST

43
44
45
46
47
48
49
50
51
52
53
54
55
56
57
58
59
60
61
62
63
64

ससतम्फय 2013

EFFECTS

NAVGRAHA SHANTI YANTRA
NAVGRAHA YUKTA BISHA YANTRA
 SURYA YANTRA
 CHANDRA YANTRA
 MANGAL YANTRA
 BUDHA YANTRA
 GURU YANTRA (BRUHASPATI YANTRA)
 SUKRA YANTRA
 SHANI YANTRA (COPER & STEEL)
 RAHU YANTRA
 KETU YANTRA
PITRU DOSH NIVARAN YANTRA
PRASAW KASHT NIVARAN YANTRA
RAJ RAJESHWARI VANCHA KALPLATA YANTRA
RAM YANTRA
RIDDHI SHIDDHI DATA YANTRA
ROG-KASHT DARIDRATA NASHAK YANTRA
SANKAT MOCHAN YANTRA
SANTAN GOPAL YANTRA
SANTAN PRAPTI YANTRA
SARASWATI YANTRA
SHIV YANTRA

For good effect of 9 Planets
For good effect of 9 Planets
Good effect of Sun
Good effect of Moon
Good effect of Mars
Good effect of Mercury
Good effect of Jyupiter
Good effect of Venus
Good effect of Saturn
Good effect of Rahu
Good effect of Ketu
For Ancestor Fault Ending
For Pregnancy Pain Ending
For Benefits of State & Central Gov
Blessing of Ram
Blessing of Riddhi-Siddhi
For Disease- Pain- Poverty Ending
For Trouble Ending
Blessing Lorg Krishana For child acquisition
For child acquisition
Blessing of Sawaswati (For Study & Education)
Blessing of Shiv
Blessing of Maa Lakshami for Good Wealth &
65 SHREE YANTRA (SAMPURNA BEEJ MANTRA)
Peace
Blessing of Maa Lakshami for Good Wealth
66 SHREE YANTRA SHREE SUKTA YANTRA
For Bad Dreams Ending
67 SWAPNA BHAY NIVARAN YANTRA
For Vehicle Accident Ending
68 VAHAN DURGHATNA NASHAK YANTRA
VAIBHAV LAKSHMI YANTRA (MAHA SHIDDHI DAYAK SHREE
Blessing of Maa Lakshami for Good Wealth & All
69 MAHALAKSHAMI YANTRA)
Successes
VASTU
YANTRA
For Bulding Defect Ending
70
For Education- Fame- state Award Winning
71 VIDHYA YASH VIBHUTI RAJ SAMMAN PRAD BISHA YANTRA
Blessing of Lord Vishnu (Narayan)
72 VISHNU BISHA YANTRA
Attraction For office Purpose
73 VASI KARAN YANTRA
Attraction For Female
 MOHINI VASI KARAN YANTRA
74
Attraction For Husband
 PATI VASI KARAN YANTRA
75
Attraction For Wife
 PATNI VASI KARAN YANTRA
76
Attraction For Marriage Purpose
 VIVAH VASHI KARAN YANTRA
77
Yantra Available @:- Rs- 255, 370, 460, 550, 640, 730, 820, 910, 1250, 1850, 2300, 2800 and Above…..

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us - 09338213418, 09238328785
Email Us:- chintan_n_joshi@yahoo.co.in, gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com
(ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)

ससतम्फय 2013

109

GURUTVA KARYALAY
NAME OF GEM STONE

GENERAL

Emerald
(ऩन्ना)
Yellow Sapphire
(ऩुखयाज)
Blue Sapphire
(नीरभ)
White Sapphire
(सफ़ेद ऩुखयाज)
Bangkok Black Blue(फंकोक नीरभ)
Ruby
(भास्णक)
Ruby Berma
(फभाा भास्णक)
Speenal
(नयभ भास्णक/रारडी)
Pearl
(भोसत)
Red Coral (4 यसत तक) (रार भूॊगा)
Red Coral (4 यसत से उऩय)( रार भूॊगा)
White Coral
(सफ़ेद भूॊगा)
Cat’s Eye
(रहसुसनमा)
Cat’s Eye Orissa (उफडसा रहसुसनमा)
Gomed
(गोभेद)
Gomed CLN
(ससरोनी गोभेद)
Zarakan
(जयकन)
Aquamarine
(फेरुज)
Lolite
(नीरी)
Turquoise
(फफ़योजा)
Golden Topaz
(सुनहरा)
Real Topaz (उफडसा ऩुखयाज/टोऩज)
Blue Topaz
(नीरा टोऩज)
White Topaz
(सफ़ेद टोऩज)
Amethyst
(कटे रा)
Opal
(उऩर)
Garnet
(गायनेट)
Tourmaline
(तुभर
ा ीन)
Star Ruby
(सुमक
ा ान्त भस्ण)
Black Star
(कारा स्टाय)
Green Onyx
(ओनेक्स)
Real Onyx
(ओनेक्स)
Lapis
(राजवात)
Moon Stone
(िन्द्रकान्त भस्ण)
Rock Crystal
(स्फ़फटक)
Kidney Stone
(दाना फफ़यॊ गी)
Tiger Eye
(टाइगय स्टोन)
Jade
(भयगि)
Sun Stone
(सन ससताया)
Diamond
(.05 to .20 Cent )

(हीया)

MEDIUM FINE

200.00
550.00
550.00
550.00
100.00
100.00
5500.00
300.00
30.00
75.00
120.00
20.00
25.00
460.00
15.00
300.00
350.00
210.00
50.00
15.00
15.00
60.00
60.00
60.00
20.00
30.00
30.00
120.00
45.00
15.00
09.00
60.00
15.00
12.00
09.00
09.00
03.00
12.00
12.00
50.00

500.00
1200.00
1200.00
1200.00
150.00
190.00
6400.00
600.00
60.00
90.00
150.00
28.00
45.00
640.00
27.00
410.00
450.00
320.00
120.00
30.00
30.00
120.00
90.00
90.00
30.00
45.00
45.00
140.00
75.00
30.00
12.00
90.00
25.00
21.00
12.00
11.00
05.00
19.00
19.00
100.00

(Per Cent )

(Per Cent )

FINE

SUPER FINE

1200.00 1900.00
1900.00 2800.00
1900.00 2800.00
1900.00 2800.00
200.00
500.00
370.00
730.00
8200.00 10000.00
1200.00 2100.00
90.00
120.00
12.00
180.00
190.00
280.00
42.00
51.00
90.00
120.00
1050.00 2800.00
60.00
90.00
640.00 1800.00
550.00
640.00
410.00
550.00
230.00
390.00
45.00
60.00
45.00
60.00
280.00
460.00
120.00
280.00
120.00
240.00
45.00
60.00
90.00
120.00
90.00
120.00
190.00
300.00
90.00
120.00
45.00
60.00
15.00
19.00
120.00
190.00
30.00
45.00
30.00
45.00
15.00
30.00
15.00
19.00
10.00
15.00
23.00
27.00
23.00
27.00
200.00
370.00
(PerCent )

(Per Cent)

SPECIAL

2800.00 & above
4600.00 & above
4600.00 & above
4600.00 & above
1000.00 & above
1900.00 & above
21000.00 & above
3200.00 & above
280.00 & above
280.00 & above
550.00 & above
90.00 & above
190.00 & above
5500.00 & above
120.00 & above
2800.00 & above
910.00 & above
730.00 & above
500.00 & above
90.00 & above
90.00 & above
640.00 & above
460.00 & above
410.00& above
120.00 & above
190.00 & above
190.00 & above
730.00 & above
190.00 & above
100.00 & above
25.00 & above
280.00 & above
55.00 & above
100.00 & above
45.00 & above
21.00 & above
21.00 & above
45.00 & above
45.00 & above
460.00 & above
(Per Cent )

>> Order Now

Note : Bangkok (Black) Blue for Shani, not good in looking but mor effective, Blue Topaz not Sapphire This Color of Sky Blue, For Venus

110

ससतम्फय 2013

BOOK PHONE/ CHAT CONSULTATION
We are mostly engaged in spreading the ancient knowledge of Astrology, Numerology, Vastu and Spiritual
Science in the modern context, across the world.
Our research and experiments on the basic principals of various ancient sciences for the use of common man.
exhaustive guide lines exhibited in the original Sanskrit texts

BOOK APPOINTMENT PHONE/ CHAT CONSULTATION
Please book an appointment with Our expert Astrologers for an internet chart . We would require your birth
details and basic area of questions so that our expert can be ready and give you rapid replied. You can indicate the
area of question in the special comments box. In case you want more than one person reading, then please mention
in the special comment box . We shall confirm before we set the appointment. Please choose from :

PHONE/ CHAT CONSULTATION
Consultation 30 Min.:
Consultation 45 Min.:
Consultation 60 Min.:

RS. 1250/-*
RS. 1900/-*
RS. 2500/-*

*While booking the appointment in Addvance

How Does it work Phone/Chat Consultation
This is a unique service of GURUATVA KARYALAY where we offer you the option of having a personalized
discussion with our expert astrologers. There is no limit on the number of question although time is of
consideration.
Once you request for the consultation, with a suggestion as to your convenient time we get back with a
confirmation whether the time is available for consultation or not.
 We send you a Phone Number at the designated time of the appointment
 We send you a Chat URL / ID to visit at the designated time of the appointment
 You would need to refer your Booking number before the chat is initiated
 Please remember it takes about 1-2 minutes before the chat process is initiated.
 Once the chat is initiated you can commence asking your questions and clarifications
 We recommend 25 minutes when you need to consult for one persona Only and usually the time is
sufficient for 3-5 questions depending on the timing questions that are put.
 For more than these questions or one birth charts we would recommend 60/45 minutes Phone/chat
is recommended
 Our expert is assisted by our technician and so chatting & typing is not a bottle neck
In special cases we don't have the time available about your Specific Questions We will taken some time for
properly Analysis your birth chart and we get back with an alternate or ask you for an alternate.
All the time mentioned is Indian Standard Time which is + 5.30 hr ahead of G.M.T.
Many clients prefer the chat so that many questions that come up during a personal discussion can be
answered right away.
BOOKING FOR PHONE/ CHAT CONSULTATION PLEASE CONTECT

>> Order Now

GURUTVA KARYALAY
Call Us:- 91+9338213418, 91+9238328785.
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com, chintan_n_joshi@yahoo.co.in,

111

ससतम्फय 2013

सूिना
 ऩत्रिका भं प्रकासशत सबी रेख ऩत्रिका के असधकायं के साथ ही आयस्ऺत हं ।
 रेख प्रकासशत होना का भतरफ मह कतई नहीॊ फक कामाारम मा सॊऩादक बी इन त्रविायो से सहभत हं।
 नास्स्तक/ अत्रवद्वासु व्मत्रि भाि ऩठन साभग्री सभझ सकते हं ।
 ऩत्रिका भं प्रकासशत फकसी बी नाभ, स्थान मा घटना का उल्रेख महाॊ फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष मा फकसी बी स्थान मा
घटना से कोई सॊफॊध नहीॊ हं ।
 प्रकासशत रेख ज्मोसतष, अॊक ज्मोसतष, वास्तु, भॊि, मॊि, तॊि, आध्मास्त्भक ऻान ऩय आधारयत होने के कायण
मफद फकसी के रेख, फकसी बी नाभ, स्थान मा घटना का फकसी के वास्तत्रवक जीवन से भेर होता हं तो मह भाि
एक सॊमोग हं ।
 प्रकासशत सबी रेख बायसतम आध्मास्त्भक शास्त्रं से प्रेरयत होकय सरमे जाते हं । इस कायण इन त्रवषमो फक
सत्मता अथवा प्राभास्णकता ऩय फकसी बी प्रकाय फक स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक फक नहीॊ हं ।
 अन्म रेखको द्राया प्रदान फकमे गमे रेख/प्रमोग फक प्राभास्णकता एवॊ प्रबाव फक स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक
फक नहीॊ हं । औय नाहीॊ रेखक के ऩते फठकाने के फाये भं जानकायी दे ने हे तु कामाारम मा सॊऩादक फकसी बी
प्रकाय से फाध्म हं ।
 ज्मोसतष, अॊक ज्मोसतष, वास्तु, भॊि, मॊि, तॊि, आध्मास्त्भक ऻान ऩय आधारयत रेखो भं ऩाठक का अऩना
त्रवद्वास होना आवश्मक हं । फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष को फकसी बी प्रकाय से इन त्रवषमो भं त्रवद्वास कयने ना कयने
का अॊसतभ सनणाम स्वमॊ का होगा।
 ऩाठक द्राया फकसी बी प्रकाय फक आऩत्ती स्वीकामा नहीॊ होगी।
 हभाये द्राया ऩोस्ट फकमे गमे सबी रेख हभाये वषो के अनुबव एवॊ अनुशॊधान के आधाय ऩय सरखे होते हं । हभ फकसी बी व्मत्रि
त्रवशेष द्राया प्रमोग फकमे जाने वारे भॊि- मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोकी स्जन्भेदायी नफहॊ रेते हं ।
 मह स्जन्भेदायी भॊि-मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोको कयने वारे व्मत्रि फक स्वमॊ फक होगी। क्मोफक इन त्रवषमो भं नैसतक
भानदॊ डं, साभास्जक, कानूनी सनमभं के स्खराप कोई व्मत्रि मफद नीजी स्वाथा ऩूसता हे तु प्रमोग कताा हं अथवा प्रमोग
के कयने भे िुफट होने ऩय प्रसतकूर ऩरयणाभ सॊबव हं ।
 हभाये द्राया ऩोस्ट फकमे गमे सबी भॊि-मॊि मा उऩाम हभने सैकडोफाय स्वमॊ ऩय एवॊ अन्म हभाये फॊधग
ु ण ऩय प्रमोग फकमे हं
स्जस्से हभे हय प्रमोग मा भॊि-मॊि मा उऩामो द्राया सनस्द्ळत सपरता प्राद्ऱ हुई हं ।
 ऩाठकं फक भाॊग ऩय एक फह रेखका ऩून् प्रकाशन कयने का असधकाय यखता हं । ऩाठकं को एक रेख के ऩून्
प्रकाशन से राब प्राद्ऱ हो सकता हं ।
 असधक जानकायी हे तु आऩ कामाारम भं सॊऩका कय सकते हं ।
(सबी त्रववादो केसरमे केवर बुवनेद्वय न्मामारम ही भान्म होगा।)

112

ससतम्फय 2013

FREE
E CIRCULAR

गुरुत्व ज्मोसतष ऩत्रिका ससतम्फय -2013
सॊऩादक

सिॊतन जोशी
सॊऩका
गुरुत्व ज्मोसतष त्रवबाग

गुरुत्व कामाारम

92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
INDIA
पोन

91+9338213418, 91+9238328785
ईभेर

gurutva.karyalay@gmail.com,
gurutva_karyalay@yahoo.in,
वेफ

www.gurutvakaryalay.com
www.gurutvajyotish.com
http://gk.yolasite.com/
www.gurutvakaryalay.blogspot.com

113

ससतम्फय 2013

हभाया उद्दे श्म
त्रप्रम आस्त्भम
फॊध/ु फफहन
जम गुरुदे व
जहाॉ आधुसनक त्रवऻान सभाद्ऱ हो जाता हं । वहाॊ आध्मास्त्भक ऻान प्रायॊ ब हो जाता हं , बौसतकता का आवयण ओढे व्मत्रि
जीवन भं हताशा औय सनयाशा भं फॊध जाता हं , औय उसे अऩने जीवन भं गसतशीर होने के सरए भागा प्राद्ऱ नहीॊ हो ऩाता क्मोफक
बावनाए फह बवसागय हं , स्जसभे भनुष्म की सपरता औय असपरता सनफहत हं । उसे ऩाने औय सभजने का साथाक प्रमास ही श्रेद्षकय
सपरता हं । सपरता को प्राद्ऱ कयना आऩ का बाग्म ही नहीॊ असधकाय हं । ईसी सरमे हभायी शुब काभना सदै व आऩ के साथ हं । आऩ
अऩने कामा-उद्दे श्म एवॊ अनुकूरता हे तु मॊि, ग्रह यत्न एवॊ उऩयत्न औय दर
ा भॊि शत्रि से ऩूणा प्राण-प्रसतत्रद्षत सिज वस्तु का हभंशा
ु ब
प्रमोग कये जो १००% परदामक हो। ईसी सरमे हभाया उद्दे श्म महीॊ हे की शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशद्श तेजस्वी भॊिो द्राया ससद्ध
प्राण-प्रसतत्रद्षत ऩूणा िैतन्म मुि सबी प्रकाय के मन्ि- कवि एवॊ शुब परदामी ग्रह यत्न एवॊ उऩयत्न आऩके घय तक ऩहोिाने का हं ।

सूमा की फकयणे उस घय भं प्रवेश कयाऩाती हं ।
जीस घय के स्खड़की दयवाजे खुरे हं।

GURUTVA KARYALAY
92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)
Call Us - 9338213418, 9238328785

Visit Us: www.gurutvakaryalay.com | www.gurutvajyotish.com | www.gurutvakaryalay.blogspot.com
Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
(ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)
(ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)

114

SEP
2013

ससतम्फय 2013

Sign up to vote on this title
UsefulNot useful