You are on page 1of 4

तत

ृ ीय ए मट रा य हंद आभासी यायालय


तयो गता -२०१९
3rd Amity National Hindi Moot Court
Competition -2019

आयोजक
ए मट व ध सं थान
आई -२ लॉक ,
ए मट वि व यालय,
से टर १२५ , नॉएडा -२०१३०३ ।

श क सम वयक
ीमान तष
ु ार वेद स सेना
1
वाद सम या

वाद बंद ु क कहानी आयगढ़ नामक शहर पर क त है । ी हर श चं शहर के नामी एवं


रसखू दार जमींदार ह जो क न केवल सबसे बड़े कारखाने के मा लक ह अ पतु ह द ू
राजनै तक संघठन , रा य र ा दल के क दावर नेता भी ह । उनक दो संतान ह िजनका
नाम पा और कुबेर है ।

ी अखलाख - उल - र ज़ाक उ त व णत कारखाने के अभी क एवं मक संघ के मख ु


नेता ह जो कुरै शी प रवार से ता लकु रखते ह और मस ु लमान ह । आयागढ़ एक मिु लम
बाहु य शहर है िजसक कमान कुरै शी समद ु ाय के हाथ म है । कुरै शी प रवार क एक
शस त प ृ भू म एवं राजनै तक वच व तारा -ऐ- ह द नामक राजनै तक संघठन म है ।
अखलाख - उल - र ज़ाक क दो पि नयां थी , िजसमे पहल शाद से अशफ़ाक़ और दस ू र
शाद से पु गल ु -है दर और पु ी ख़द जा संतान क प म ा त हु ।

अशफ़ाक़ और पा एक दस ु रे से ेम करते थे और जब इस बात क सच


ू ना पा क पता
हर श चं को हुई तो वह आग बबल ू ा हो गए । इसी णक ोध क वाला म उ ह ने
अखलाख - उल - र जाक
को काम से न का सत कर दया िजसका कारण उ ह ने यि तगत रखा। अखलाख - उल
- र जाक न सफ एक मिु लम चेहरा था अ पतु मक संघ का मख ु नेता भी था िजसके
प रणाम व प बा क मिु लम कम भी कारखाने से काम छोड़ कर जाने लगे । शहर के
बाहर कराये पे ज़मीन लेकर वह सब साथ मलकर सहकार कृ ष करने लगे।

अशफ़ाक़ - उल - र ज़ाक को काम से नकालने के उपरांत हर श चं ने उसके पु गल ु


है दर को मक संघ का अ य नयु त कर दया और नए क मय क भत हे तु और
उनको लभ ु ाने के लए ३३ तशत क दर पे वेतन बढ़ोतर क घोषणा क ।इससे हुआ ये
क वो जो मिु लम कम समाज संग ठत था वो अब दो भाग म बट गया था िजसम से
एक अशफ़ाक़ - उल - र ज़ाक के साथ और दस ू रा गलु है दर से जड़
ु गया था ।गल
ु है दर तारा
- ऐ - ह द का एक उभरता हुआ भावी यवु ा नेता था िजसको बहुत ज द दल के हाईकमान
क िज मेदार मलने वाल थी ।गल ु है दर क बढ़ती लोक यता को दे खकर हर श चं को

2
लगा य द उसक पु ी पा का ववाह गल ु है दर से होता है तो उसक पकड़ मिु लम समाज
म बढ़ जाएगी जो उसक लए हतकार होगा । इस लए उ ह ने उनक शाद करवा द और
उन सब से अलग कुबेर और ख़द जा ने भी शाद कर ल । पा िजसको रहाना कहा जाने
लगा और लग भग एक साल के अंतराल के बाद गल ु है दर और रहाना के पु का ज म
हुआ िजसका नाम कबीर था ।कबीर का ज म और उसक परव रश परू तरह ह द ू घरबार
और ह द ू मू य के बीच हुई ।

गलु है दर तारा-ऐ - ह द का एक मख ु चेहरा था िजसके कारण उसको चन ु ाव चार एवं


अ य दल स ब धी काम के लए या ा करनी पढ़ती थी ।अशफ़ाक़ और रहाना के बीच
अवैध ेम स ब ध ववाह के उपरांत भी जार था ।एक दन जब गल ु है दर चनु ावी या ा से
लौटकर आया तो उसक बहन ख़द जा ने चग ु ल करने के इरादे से उसको , रहाना और
अशफ़ाक़ के बीच अवैध ेम स ब ध क जानकार द ।यह सन ु कर उसने एक चाकू उठाया
और उस बाग़ म गया जहाँ अशफ़ाक़ और रहाना बैठे थे जाकर अशफ़ाक़ से ज़बानी तू तू
म म करने लगा ।दे खते ह दे खते ये ज़ब ु ा न जंग शार रक हाथापाई म त द ल हो गयी
िजसम ोध से तल मलाए गल ु है दर ने अशफ़ाक़ म चाकू भ क दया। ऐसा दे खकर
रहाना ने गलु है दर को ब दआ
ु एं द और आ चय से कहने लगी ऐसा नमम कृ य कोई
कैसे अपने भाई के साथ के सकता है । गु से म चरू गल ु है दर ने अपनी प नी रहाना को
भी चाकू भ क दया ।

उन दोन को लहूलह ु ान अव था म अ पताल ले जाया गया जहाँ अशफ़ाक़ ने पहुँचते ह


दम तोड़ दया और रहाना का बहुत अ धक खन ू बह चकु ा था । गल
ु है दर को अशफ़ाक़ के
जम ु म दोषी करार कर कारावास भेज दया गया ।
अंग यारोपण सजर क वफलता और व भ न चोट के कारण रहाना भी िज़ दगी क
जंग हार कर मर गयी । खद जा और कुबेर पर अशफ़ाक़ और रहाना क ह या को बढ़ावा
दे ने के लए मक
ु दमा चलाया गया ।
उ त घटना म के प चात ये बल सवाल उठते है क -

न १ - कबीर का संर क कौन होगा : हर श चं या अखलाख - उल - र ज़ाक ?

न २ - या ख़द जा और कुबेर पर ह या को बढ़ावा दे ने का इ ज़ाम उ चत है ? हाँ और


ना दोन ह प रि थ तय म जैसा आप सोचता ह तक दे कर स ध कर ।

3
न ३ - य य प गल
ु है दर ह या का दोषी है , पर या आकि मक भावावेश म आकर
उसके वारा क गई दोन ह याएं एक ढ़ाल है उसके जम ु के लए । हाँ या ना दोन
प रि थ तय म जैसा आपको लगता है तक दे कर प ट कर ।

यान द - म ृ तका के नमाण म उ त सवाल से भ न शोध का पैमाना शंसनीय ह ।