You are on page 1of 1

Newspaper Clipping Service

National Documentation Centre (NDC)

गर्भ निरोधक

गर्भ निरोधक - वाकई िीम है हकीम (Dainik Jagran-19 July 2010)

ओंकाय उऩाध्माम, वायाणसी आमुवेद भें नीभ के गुणों का फखान है । इसकी ऩत्ती, तना, पूर औय पर सबी
स्वास््म के लरए हहतकय हैं। इनहहं गुणों भें एक औय गुण खोजा है काशी हहंद ू ववश्वववद्मारम के
वैज्ञाननकों ने। उनहोंने ऩामा है कक नीभ की ऩत्ती शानदाय गबभ ननयोधक का काभ कयती है । मह सीधे
भादा के अंडों को हह ननष्कि् यम कय दे ती है । जफ अंडे ननष्कि् यम हो जाएंगे तो शुक्राणु के साथ ननषेचन
नहहं होगा। ऩरयणाभ गबभ की आशंका खत्भ। जंतु ववज्ञान ववबाग के प्रो. एसके चौफे के ननदे शन भें हुए
इस अनूठे शोध भें इसकी ऩषत्तमों भें मह अलबनव गुण ऩामा गमा है । प्रो. चौफे फताते हैं कक नीभ गुणों
की खान है । इसके गुणों को औय ननखायने की ररक के साथ मह दे खा गमा कक नीभ की ऩषत्तमां भादा
के अंडों ऩय ककस तयह से काभ कयती हैं। मह ऩामा गमा कक मह सीधे अंडों को हह ननष्कि् यम कय यहह हैं।
इसकी प्रकक्रमा के फाफत प्रो. चौफे का कहना था कक ऩहरे नीभ की ऩषत्तमों को ऩीस कय ऩेस्ट फनामा
गमा। कपय इसे डडषस्टल्ड वाटय भें घोरकय इसके तैरहम तत्वों को ननकार हदमा गमा। तत्ऩश्चात जो-जो
तत्व ऩानी भें फचे यह गए उनका ऩाउडय फनामा गमा। प्रमोगशारा भें इस ऩाउडय का प्रमोग सीधे भादा
चह
ू ों के अंडों ऩय ककमा गमा तो ऩरयणाभ आश्चमभजनक लभरे। मे अंडे ननष्कि् यम होते गए। ऩरयणाभ मह
लभरा कक रगबग 60 से 70 प्रनतशत अंडे भय गए। शेष अंडे बी धीये -धीये ननष्कि् यम होते गए। इसके फाद
मह जांचने की कोलशश की गमी कक नीभ की ऩषत्तमों का मह ऩाउडय बोजन के साथ दे ने ऩय बी कक्रमा
कय यहा है कक नहहं। इसे चह
ू ों के बोजन के साथ लभराकय हदमा गमा। कपय चह
ू ों भें अंडों की जांच की
गमी तो ऩामा गमा कक मह सीधे अंडों ऩय हह आक्रभण कय यहा है जफकक अनम सेर को प्रबाववत नहहं
कय यहा। इसके ऩरयणाभों से उत्साहहत प्रो. चौफे कहते हैं कक उनका मह प्रमोग हफभर गबभ ननयोधक (कांट्रा
सेषटटव) फनाने की हदशा भें सपर हो सकता है । खास फात मह है कक इसका कोई साइड इपेक्ट नहहं
लभरा है । फतामा कक इसके गुणों को औय ननखायने ऩय अनुंसंधान का क्रभ जायह है । प्रो. चौफे कहते हैं
उनका मह शोध अभेरयकन सोसाइटह ऑप रयप्रोडषक्टव भेडडसीन के अंतया्ट्रहम जनभर पहटभ लरटह स्टे रयलरटह
भें प्रकालशत है । इस अनुसंधान भें अननभा त्रिऩाठी, केवी प्रेभकुभाय, आशुतोष नायामण ऩांडम
े व ऩंचयत्न
उऩाध्माम आहद ने बागीदायह की है ।