You are on page 1of 15

EDUCATION PROGRAM

EASTERN U.P INITIAITIVE
Implemented by
Peoples’ Vigilance Committee on Human
Rights/Jan Mitra Nyas
With support from
TATA Trusts
मदरस ों में गुणवत्तापूणण दुनियाबी तालीम
 मदरस ों की लचर व्यवस्था, अप्रशिशित टीचर, सहायक शििण
सामाशिय ों का अभाव व बच्च के साथ सही िैिशणक प्रशिया न
चलाने के पररणामस्वरूप दु शनयावी शििा सुदृढ़ एवों गुणवत्तापूणण
नहीों ह पाती है । ज्यादातर मदरसे आशथणक सोंसाधन ों से
अभाविस्त है
 PVCHR/JMN ने TATA Trusts के सहय ग से मदरस ों में
आधु शनक शििा कायणिम की िुरुआत 2009 से शकया ज अभी
भी जारी है | इनके समि शवकास के शलये मदरस ों में गुणवत्तापूणण
दु शनयावी तालीम पर ज र दे ते हुए एक ऐसी शििा प्रणाली
शवकशसत करने का प्रयास शकया
मदरस ों में गुणवत्तापूणण दुनियाबी तालीम

 इस कायणिम की िुरुआत 2009 में वाराणसी के
बज़रडीहा से िुरू हुयी थी|
 सन 2013 - 2016 से जौनपु र शजले के 15 मदरस ों
और बज़रडीहा के 5 मदरस ों में कायण कर चुकी है |
 इस शििा कायण िम से अभी तक लगभग 10 हज़ार
बच्चे लाभान्वित हुए है
मदरस ों में गु णवत्तापूणण दुनियाबी तालीम (बज़रडीहा एक मॉडल के रूप में)
 वाराणसी के मुन्विम बाहुल्य िेत्र बज़रडीहा की आबादी लगभग 2
से 2.5 लाख है और यहााँ मात्र एक सरकारी प्राथशमक शवद्यालय है
और एक भी माध्यशमक शवद्यालय नहीों है ।

 इन बस्ती के बच्च ों क प्राथशमक शििा हे तु शसर्ण मदरसे ही शवकल्प
के रूप में शमलते हैं और ज्यादातर मदरसे दु शनयावी तालीम की
बजाय दीनी तालीम क ज्यादा महत्व दे ते हैं ।

 2016 – 2017 में बज़रडीहा के 20 मदरस ों (15 मदरस ों में दु शनयाबी
तालीम और 5 मदरस ों में ITE) कायण कर रही है

 वतणमान सत्र (2016-17) में 3981 बच्चे इस कायणिम से जु ड़े हुए है |
 शवज्ञान में बच्च की रूशच बढ़ने हे तु साईोंस शकट तैयार शकया गया
शजसके माध्यम से व्यावहाररक प्रय ग से इन शसद्ाों त क बच्चे स्वयों
प्रय ग करके आसानी से समझ पाते है |
 शजससे मानक पाठ्यिम के अनुसार पाठ्य पुस्तकें, कुिल
प्रशिशित शििक, बाल केन्वित शििण पद्शत, सहज मूल्याों कन
प्रशिया, गशतशवशध आधाररत सीखने-शसखाने की प्रशिया इस तरह से
शकया गया शजसमें बच्च ों का रुझान बढ़ाए रूशचकर पूणण शििा हे तु
शवशभन्न प्रकार के TLM का शनमाणण कराया गयाए शजससे बच्च ों की
शवषयगत दिता, व स्तरानुसार िमताओ एवों दिताओों में वृन्वद् ह
सकी |
 बच्च के अन्दर पढाई क लेकर रूशच बढाने और गररमा के साथ
शनयशमत स्कूल से जुड़े रहने के शलए आशथणक रूप से कमज र 1000
बच्च क बैग शवतररत शकया गया |
 Education for Education पहल के अोंतगणत आशथणक रूप से कमज र
20 बन्वच्चय ों क उच्च शििा के शलए छात्रवृ शत्त दी गयी |व अपने आस-
पास के अन्य आशथणक रूप से कमज र पररवार ों के अन्य बच्च क
पढाई में मदद करते हुए उन्हें र ज 1 से 2 घोंटा मुफ्त में पढ़ाएों गी |
 आज उन्ही स्कालरशिप प्राप्त बन्वच्चय ों में से कुछ बन्वच्चयाों मदरस ों में अध्यापक
के रूप में शनयुक्त है |
 बाल पुस्तकालय हे तु प्रशत मदरस ों में लगभग 156 प्रकार की शकताब
का शवतरण शकया गया व लाईब्रेरी सोंचाशलत शकया जा रहा है |
INTEGRATED APPROACH TO TECHNOLOGY IN EDUCATION (ITE)

 2013 में बज़रडीहा के 4 मदरस ों में ITE की िुरुआत हुई है
शजसमे बच्चे और शििक तकनीक के इस्तेमाल से र् ट िार्ी,
शवशडय िार्ी व पाठ्यिम के अनुरूप प्र जेक्ट तैयार करने के साथ
ही शवशभन्न सामाशजक मुद् ों पर भी प्र जेक्ट बनाये|
 शपछले तीन साल में लगभग 300 बच्चे ITE से जुड़कर शििा में
तकनीकी का इस्तेमाल करते हुए गुणवत्तापूणण तालीम हाशसल करते
हुए आगे की शििा जारी रखे है |
 वतणमान में ITE से कुल 150 बच्चे जुड़े है |
 परन्तु तकनीकी सों साधन के अभाव में बहुत बच्च क इसका लाभ
नहीों शमल पा रहा है |
शैक्षनणक गनतनवनिय ों के साथ साथ बलानिकार सोंरक्षण हे तु नवनिन्न
मदरस में बाल पोंचायत सशक्तिकरण और अन्य गनतनवनिया :

 बच्च क सों युक्त राष्ट्र महासभा में पाररत बाल अशधकार घ षण पत्र
1989 की मूल भावना की जानकारी दे कर उनके बाल अशधकार
क सुशनशित करने हे तु बाल पोंचायत का गठन 16 मदरस ों में शकया
गया |
 बाल पोंचायत के गठन के बाद माहवार मीशटों ग करके, शवशभन्न
सामाशजक मुद् ों जैसे समाज में र्ैले कुरीशतय के उपर प्रश्न खड़ा
करना और उनक र कने के प्रयास शकया जाता है |
 राष्ट्रीय पवण (स्वतोंत्रता शदवस, गणतन्त्र शदवस, अशहों सा शदवस,
शििक शदवस, बाल शदवस इत्याशद) पर शनबोंद प्रशतय शगता और
साों स्कृशतक कायणिम ों का आय जन शकया जाता है
 मानवाशधकार के मु द् ों क बच्चे समझ पाए और मानवीय मूल्य ों
क अपने जीवन में उतार सके इसके शलए शवशभन्न मदरस ों में
HRE (ह्यूमन राईट् स एजुकेिन) भी एक शवषय के रूप में
हफ्ते वार चलाया जाता है |
 मदरस ों में बाल पोंचायत में सार् सर्ाई व पौधार पण क लेकर
चली प्रशिया के र्लस्वरूप बच्चे आज अपने मदरस ों में स्वच्छता
क महत्त्व दे ना प्रारम्भ शकये है और क इ भी सामान या पैकेट
इधर उधर नहीों र्ेकते बन्वि डस्टशबन में र्ेकने की िुरुआत
शकये है | इस डस्टशबन क लगाने में मदरसा मैनेजमें ट, अध्यापक
और प्रधानाचायण ने सहय ग शकया है | बच्चे अपनी चप्पल क भी
सलीके से रखना िुरू शकये है |
प्रकािन और सोंचार सामिी

 सोंस्था द्वारा तीन प्रशििण मैनुअल का प्रकािन शकया गया
| शजसमे ITE मै नुअल, पररप्रेक्ष्य शनमाण ण प्रशििण मैनुअल
और शकि रावस्था : स्वास्थ्य, प षण व शििा एक
सामाशजक पररदृश्य प्रशििण मैनुअल है |
 बच्च द्वारा स्वयों से सम्पादकीय और ले ख द्वारा “बच्च की
दु शनया” नामक पशत्रका का प्रकािन प्रशतवषण शकया जाता है
| शजससे नीशत शनमाण ताओ और शवशमन्न आय ग ों क प्रेशषत
शकया गया है
अशभवावक और समुदाय के साथ पहल

 बच्च ों की गुणवत्ता पूणण शििा के शलए अशभभावक क
लगातार प्रयास कर उन्हें बैठक ों के माध्यम से मदरस ों
में ज ड़ने का प्रयास शकया गया
 इसके साथ ही मदरस ों पर ह ने वाले बच्च से जु ड़े
कायणिम ों में भी अशभभावक बढ़ चढ़ कर शहस्सा लेते है
और अपना पूणण य गदान दे ते है |
नशक्षा कायणक्रम के अोंतगणत सोंचानलत मुख्य गनतनवनिय का प्रिाव

 बेस लाइन सवे में बच्च की उपन्वस्थशत 70% से 73% थी वही इों ड
लाइन सवे में बच्च की उपन्वस्थशत 80% से 84% हुई है | साथ ही
लशनिंग ि थ जहा लगभग 70% थी वही इों ड लाइन में 80% से ऊपर
हुई है |
 20 मदरस में शनयुक्त अन्य कुल 143 शििक में से 105 शििक
का पररप्रेक्ष्य शनमाण ण व शवषयगत प्रशििण के उपरान्त वे सभी
शििक गशतशवशध आधाररत िैशिक पद्शत का प्रय ग कर रहे है
शजससे बच्च की रूशच और ठहराव में बृन्वद् हुई है |
 ITE पर मदरसा शििक का प्रशििण कर अन्य शवषय के शििक
क शवषयगत लेसन प्लान बनाने के शलए ज ड़ा गया
 मदरस ों में 78 शवशभन्न प्रकार के TLM के प्रय ग से िै िशणक
गशतशवशधयााँ चलाई जाती है |
 बज़रडीहा के चयशनत सभी 20 मदरस ों में “भारत का सोंशवधान” बड़े
बच्च एवों अध्यापक क पढ़ने हे तु लाईब्रेरी के शलए उपलब्ध
करवाया गया है शजससे बच्चे सोंशवधान के मूल अवधारणा व अपने
मूलभूत अशधकार ों क जान सके और इसका उपय ग व्यावहाररक
रूप से अपने जीवन में कर सके |
 बाल पोंचायत के गठन और शवशभन्न गशतशवशधय ों के चलाये जाने से
बच्च के अन्दर नेतृत्व िमता में बृन्वद् हुयी है और अन्य बच्च से
ताल मेल स्थाशपत हुआ है |