नही चाहहए ऩाऱने कि डोऱ ना दे ना िस तेरे आॊचऱ िी छाॊव िस तेरी गोदी िा सख ु यही हैं मेरी भख ू एि िार िस एि िार नरम

बिछौना

गऱे ऱगा िर तुझे ऩिारु माॉ ु मझे अऩनी बिहिया िन ु इस धरती ऩर आने दो न माॉ

िहो न मेरे ऩऺ मे िछ ु दो न मेरा साथ एि िार सिसे ऱड़ िर

मझे आने दो अऩने ऩास ु जैसे िेिा वैसी ही िेिी िह दो सिसे नही िरोगी भेदभाव

िह दो मैं भी अॊश तम्हारी ु

नही छीनोगी मेरे जीने िा अधीिार मााँ तू हैं ना मेरे साथ ? सना है अऩने अधधिारो ि लऱए िभी ऱड़ी नही े ु

ऩर अन्दर हहम्मत िी िमी नही चऩचाऩ सि िी सनती आयी ु ु

ऩर आवाज िी खनि जजन्दा हैं अि भी एि ऩऱ अऩने उस जीवन िी खनि मझसे भी िाॊिो न माॉ ु आज अऩनी उस हहम्मत से मेरा साथ ननभा दो माॉ उसी माॉ िी िेिी िन आ जाने दो न माॉ एि िार िस इस िार जाने कितनी सहदयों से भिि रही कि ही

वाऩस भेज रहे है ऱोग

हर िार तेरी िोख मे आते तझसे अऱग हो रही मैं ु जैसे िी इन्सान नही, हूॉ मैं िोई रोग एि औरत हो मझ ु

ऩर

यह सि

तू

तेरी चीखों तेरी आॊसओ िी जहाॉ िदर नही ु ऐसे समाज िी रीत इस िार िदऱ ि दे ख न माॉ े एि िार अऩनी सन िर ु मझे ऩास िऱा ऱे माॉ ु ु मैं तेरी बिहिया, तेरी ऩरछाई हूॉ एि िार अऩनी इस रचना िो खखऱने दे ना माॉ

क्यों

सह ऱेती

है

माॉ

एि िार अऩनी आवाज िर िऱन्द ु अऩने होने िा िरा अहसास िन्द दरवाजो िो खोऱ आॊखों में आॉखे डाऱ िर िोऱ िोझ नही हूॉ मैं वादा िर मझसे कि तू ु अि बिगऱ िजाएगी ु

मझे दे हदऱासा कि धरती ऩर ु

हर उस औरत, जजसे तेरी ज़रुरत हो उसिा साथ ननभाएगी दे अऩनी सखखयों िा साथ माॊग न अऩना हि

लमऱा िर उनसे हाथ उठ िर एि िार िस एि िार

मझे आने दे न माॉ ु न मैं ?

मााँ , ओ मााँ, आ रही हूाँ

-सोमक्रित्य (सोमा मखर्जी) ु

Sign up to vote on this title
UsefulNot useful