You are on page 1of 18

NLRLNP

J=

आयु
वद
http: / / hi. wikipedia. org/ s/ 720

मु ानकोष िविकपीिडया से
आयु
व द दिु
नया क ाचीनतम िचिक सा णा लय म से
एक है
। यह अथववे
द का िव तार है
। यह िव ान, कला और दशन का िम ण है

‘आयु
वद’ नाम का अथ है
, ‘जीवन का ान’ - और यही संे
प म आयु
वद का सार है
। यह िचिक सा णाली के
वल रोगोपचार केनु
खे
ही
उपल ध नह कराती, ब क रोग क रोकथाम केउपाय केिवषय म भी िव तार से
चचा करती है

आयव
िव ान दोन ही िचिक साशा ह, परं
त ुयवहार म िचिक साशा के ाचीन भारतीय ढं
ग को आयु
वद कहते
ह और
ुद और आयु
ऐलोपै
थक णाली (जनता क भाषा म "डा टरी') को आयिु
व ान का नाम िदया जाता है

ऐसी मा यता है
िक आरं
िभक यू
नानी और अरबी िचिक सा णा लय ने
कु
छ िवचार आयु
वद से
ले
कर आ मसात िकए। आयु
वद केइन िवचार
से
आरं
िभक पा चा य िचिक सा णाली भी भािवत हई थी य िक ग डका (िवषाद भाव शू
यता और िप अथवा यकृ
त ज य रोग) क
सं
क पनाएँ
त कालीन ले
ख म विणत ह। िविभ कारण से
िनरोग शरीर िव ान सं
बं
धी उपागम का थान 'रोग को कम करने
के यास' ने
ले
लया और इससे
संथािपत पा चा य िचिक सा िव ान का ज म हआ। भारत म, एक केबाद एक, मु
गल और अं
ज केआ मण से

आयु
वद
को पृभू
िम म डाल िदया गया। जै
से
–जै
से
उ ोगीकरण और शहरीकरण म वृ
ि हई और भौितक सु
ख हमारे
जीवन पर हावी होते
गए, हम
आयु
वद केस ां
त से
(जो मू
लतः कृ
ित केअनु
कू
ल और स त अनु
शासन से
यु थे
) िवमु
ख हो गए। इस कार रोगी क ओर उ मु

िनरोग शरीर िव ान का थान, रोग-िनदान आधा रत रोगो मु
खी अनु
शीलन ने
लेलया।
आयव
। इस िचिक सा िव ान ने
अपनी सचाई पर हए आ मण पर िवजय ा क है
और
ुद समय क कसौटी पर खरा स हआ है
राजीनीित झं
झावात से
बचते
हए दे
श म फला-फू
ला है

अनुम
1 इितहास
2उ े

2.1 व थ यि य के वा य क र ा करना
2.2 रोगी यि य केिवकार को दरूकर उ ह व थ बनाना
3 आयु
4 शरीर
5 इं
ि य
6 मन
7 आ मा
8 रोग और वा य
9 रोग केहे
तु
या कारण (इिटयॉलोजी)
10 हे
तु
ओं
का शरीर पर भाव
11 रोग जानकारी केसाधन
ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL

NLNU

3.6 िचिक साशा केइितहास का सं थान (इंट ट ऑव िह टरी ऑव मे िड सन) ू 21 सं धानीय श य िव ान ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL OLNU .1 कायिचिक सा (General Medicine) 18.1 अं त :प रमाजन (औष धय का आ यं तर 16.2 शा यतं(Surgery and Midwifery) 18.3 श कम 17 मानस रोग (मटल िडज़ीज़े ज़) 18 अ ां ग वैक : आयु वद केआठ िवभाग 18.िश ण केिवषय 20 आयु वद सं बं धी शोध 20.1 स वावजय (साइकोलॉ जकल) 16. Science of Aphrodisiac and Sexology) 19 वतमान समय म आयु वद का िश ण.3 अनु मान 12.5 वाङमय अनु सं धान इकाई ( लटरे री रसच यू िनट) 20.6 भू त िव ा (Psycho-therapy) 18.3.4 िम त भे षज अनु सं धन योजना (कं पोिज़ट डग रसच क म) 20.2 क ीय अनु सं धान सं थान (सटल रसच इंट 20.3 शाला यतं(Opthamology including ENT and Dentistry) 18.5 अगदतं 18.4 कौमारभृ य (Pediatrics) 18.1 आ ोपदे श 12.8 वाजीकरण (Virilification.NLRLNP J= 12 रोगी क परी ा 12.2 य 12.3.7 रसायनतं(Rejuvenation and Geriatrics) 18.3 यु ि यपा य (मे िड सनल अथात्स टिमक टीटमट) 16.2 बिह:प रमाजन (ए योग) टनल मे िडके शन) 16.2 दै व यपा य (िडवाइन) 16.4 यु ि 13 परी ण िवषय 14 औषध 15 भे ष यक पना 16 िचिक सा (टीटमट) 16.3 ेीय अनु सं धान सं थान (रीजनल रसच इंट ट) ू ट) ू 20.1 भारतीय िचिक साप ित एवं हो योपै थी क क ीय अनु सं धान प रषद ् 20.

चरक मत केअनु सार मृ यु लोक म आयु वद केअवतरण केसाथ.००० से ५०. अहं कार आिद से बचना. दे श और काल के भाव से उ प महामा रय (जनपदो वं सनीय या धय . काल आिद प र थितय केअनु सार अपने अपने शरीर आिद क शि और अशि का िवचार कर कोई काय करना. आहार आिद का से वन करना और दस रत ूर को भी इसकेलए े करना.००० वष पू व तक का माना है । इस सं िहता म भी आयु वद केअितमह व केस ा त य -त िवक ण है । चरक. व छ और िवशो धत जल. येवा यर ा केसाधन ह। ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL PLNU . उनसे अ वनीकु मार य तथा उनसे इ ने आयु वद का अ ययन िकया । चरक सं िहता तथा सुु त सं िहता म विणत इितहास एवं आयु वद केअवतरण के म म मा य है । चरक मतानु स ार. जागरण आिद गृ ह थ जीवन केलए उपयोगी शा ो िदनचया. समयसमय पर शरीर म सं िचत दोष को िनकालने केलए वमन. एिपडे िमक िडज़ीज़े ज़) म िव िचिक सक के उपदे श का समु िचत प से पालन करना. शयन. ई या. भे ल.अि वे श तंका. मल.अि वे श ुद केऐितहा सक ान केसं का नामो े ख है । सव थम ा सेजापित ने . ये क काय िववे कपू वक करना. नान. सं कटमय काय ं से बचना.००० वष पहले यािन सृ ि क उ प केआस-पास या साथ का ही है । आयव दभ म सव थम ान का उ े ख. सुु त . मूआिद केउप थत वे ग को न रोकना. का यप आिद मा य थ आयु वद को अथववे द का उपवे द मानते ह। इससे आयु वद क ाचीनता स होती है । अतः हम कह सकते ह िक आयु वद क रचनाकाल ईसा पू व ३.ध व त र स दाय । ा से मशः आ े य स दाय तथा ध व त र स दाय ही उ े य आयु वद केदो उ े य होते ह: व थ यि य के वा य क र ा करना इसकेलए अपने शरीर और कृ ित केअनु कू ल दे श. यायाम. सदाचार का पालन करना और दिू षत वाय. पाराशर. राि चया एवं ऋतु चया का पालन करना. िवरे चन आिद के योग से शरीर क शु ि करना. काल आिद का िवचार करना िनयिमत आहार-िवहार. जो आयु वद का आधार तं भ है । सुु त केअनु सार काशीराज िदवोदास के प म अवत रत भगवान ध व त र केपास अ य महिषय ं केसाथ सुु त जब आयु वद का अ ययन करने हे तु गये और उनसे आवे दन िकया । उस समय भगवान ध व त र ने उन लोग को उपदे श करते हए कहा िक सव थम वयं ा ने सृ ि उ पादन पू व ही अथववे द केउपवे द आयु वद को एक सह अ याय. जसका ितसं कार बाद म चरक ने िकया और उसका नाम चरक सं िहता पड़ा. जापित से अ वनी कु मार ने . दे श. मन और इं ि य को िनयं ि त रखना. लोभ. उनसे इ ने और इ से भार ाज ने आयु वद का अ ययन िकया । ऋिष का कयकाल िभ अ वनी कु मार का स कालै न माना गया है ।आयु वद केिवकास मे ऋिष का अितमह वपु न् यो दान है िफर भार ाज ने आयव द क े भाव से दीघ सु ख ी और आरो य जीवन ा कर अ य ऋिषय म उसका चार िकया । तदन तर पु न वसु ु आ े य ने अि वे श.ुजल. जतू . वायु . शौच.००० से ५०. हारीत और ारपािण नामक छः िश य को आयु वद का उपदे श िदया । इन छः िश य म सबसे अ धक बु ि मान अि वे श ने सव थम एक सं िहता का िनमाण िकया. े ष.शत सह लोक म कािशत िकया और पु नः मनु य को अ पमे धावी समझकर इसे आठ अं ग म िवभ कर िदया । इस कार ध व त र ने भी आयु वद का काशन ब दे व ारा ही ितपािदत िकया हआ माना है । पु नः भगवान ध व त र ने कहा िक द जापित.आ े य स दाय । सुु त मतानु स ार.NLRLNP J= 22 आयु वद के मु ख ं थ 23 इ ह भी दे ख 24 बाहरी किड़याँ इितहास पु रात ववेाओं केअनु सार सं चार क ाचीनतम् तक ऋ वे द है । िविभ िव ान ने इसका िनमाण काल ईसा के३. चेा.

दं भ. और आयु केवे द को आयु वद (नॉले ज ऑव साय स ऑव लाइफ़) कहते ह। अथात्जस शा म आयु के व प. ले ग). सु ख और दीघ आयु क ाि केसाधन का तथा इनकेबाधक िवषय केिनराकरण केउपाय का िववचे न हो उसे आयु वद कहते ह। िकं तु आजकल आयु वद " ाचीन भारतीय िचिक साप ित' इस सं कु िचत अथ म यु होता है । शरीर सम त चेाओं . आयु केलए िहतकारक और अ माण तथा उनके ान के साधन का एवं आयु केउपादानभू त शरीर. गो जि का (एपी लॉिटस). वृ षण (टे टीज़). ज ा (जीभ). कण (कान). अिहत. संाि (पै थोजे िन सस) तथा उपशयानु पशय ( थरा यु िटकटे स) औषध का ान परमाव यक है । ये तीन आयव द के'ि कं ध' (तीन धान शाखाएं ) कहलाती ह। इसका िव तृ त िववे चन आयव द ं थ म िकया गया है । यहाँ के वल सं ि ु ु प रचय मा िदया जाएगा। िकं तु इसकेपू व आयु के ये क सं घटक का सं ि प रचय आव यक है . ना सका. नािभ. अि गोलक (आइबॉल). अिहं सा. िकं तु संे प म भावभे द से इसे चार कार का माना गया है : (१) सु ख ायु : िकसी कार केशीरी रक या मान सक िवकास से रिहत होते हए. लाभ. जै से पू व प. अि कू ट (ऑिबट). सृकणी (मु ख केकोने ). ÜáKï áमिणबं âáéÉÇá~K ÖLï áâáL ह त (हथे ली). ऊ (जां घ). कालर). दं त वे(मसू ड़े ). जं घा (टां ग. ाि और ान केसाधन. टपु स). गं ड (गाल).NLRLNP J= रोगी यि य केिवकार को दू र कर उ ह इसकेलए व थ बनाना ये क रोग के हे तु (कारण). दो हाथ. ज ु (हं सु ली. म यायु और अ पायु . भु ज. कु ि (कोख). शां ित. दरु ाचार. िश न या भग. प रजन आिद साधन से समृ यि को "सु खायु ' कहते ह। (२) द ु ख ायु : इसकेिवपरीत सम त साधन से यु होते हए भी. जानु (घु टना).रोगप रचायक िवषय. अं गु लयां और अं गु. कं धरा (कं धा). मन. आयु केिविवध भे द. तालु . आयु केये चार भे द ह। इसी कार काल माण केअनु सार भी दीघायु . और आ मा. वाथ.-मू धा (हे ड). गु दा. परोपकार आिद आिद गु ण से यु होते ह और समाज तथा लोक केक याण म िनरत रहते ह उ ह िहतायु कहते ह। (४) अिहतायु : इसकेिवपरीत जो यि अिववे क. टां स स. QLNU . व स (पलक). पृ(पीठ). पौ ष. िव ान. व (थोरेस). गलशु िडका (यु ं वु ला). िचबु क (ठुी). धçê(कलाई). बाहिपं िडका या अर न (फ़ोरआम). गित. स य. इं ि य. ू . उदारता. गु फ (टखना). इं ि य . श कु ली और पाली (िप एं ड लोब ऑव इयस). ब तिशर ( ॉयन). प म (ब नी). ये अथ होते ह. दो पै र. शं ख (माथे केपा व. ओ (ह ठ). ीवा (गरदन). पा व (बगल). ान. सदाचार. उदर (बे ली). िशर और ीवा एक तथा अं त रा ध (म यशरीर) एक। इन अं ग केअवयव को यं ग कहते ह. संे पम ये तीन भे द होते ह। वै से इन तीन म भी अने क भे द क क पना क जा सकती है । "वे द' श द केभी स ा. पद (फु ट). ललाट. ू रता. किट (कमर). िवचार. लं ग . अ याचार आिद दगु ण से ु यु और समाज तथा लोक के लए अिभशाप होते ह उ ह अिहतायु कहते ह। इस कार िहत. मन ओर आ मा केआधारभू त पां चभौितक िपं ड क शरीर कहते ह। मानव शरीर के थू ल प म छह अं ग ह. प (साइं स एं ड सं ट स). मन तथा आ मा केसं योग' को आयु कहा है । अथात् जब तक इन चार सं प (सा गु य) या िवप (वै गु य) केअनु सार आयु केअने क भे द होते ह. तन. धनृ धा य. इनम सभी या िकसी एक केिवकास केसाथ िहत. कू पर (के हनी). सु शीलता. सु ख और द:ु ख. इं ि य. अवटु का (लै रं ज़). बल. ोिण (पेवस). य िक सं घटक के ान केिबना उनम होने वाले िवकार को जानना सं भव न होगा। आयु आयव क या या और इसम आए हए 'आयु ' और 'वे द' इन दो श द केअथ ं केअनु सार बहत यापक है । आयु वद ुद का अथ ाचीन आचाय ं केआचाय ं ने 'शरीर. कणपु क (टै गस). यश. शरी रक या मान सक रोग से पीिड़त अथवा िनरोग होते हए भी साधनहीन या वा य और साधन दोन से हीन यि को "द:ु खाय'ु कहते ह। (३) िहतायु : वा य और साधन से सं प होते हए या उनम कु छ कमी होने पर भी जो यि िववे क. क ा (ए सला). िनतं ब.

ने . थू लां(लाज इं टेटन). लफ़ै िट स ऐं ड न ज़) ७००. अिपतु भौितक मानता है । इन इं ि य क अपने काय ं मन क े रणा से ही वृ होती है । मन से सं पक न होने पर ये िन य रहती है । ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL RLNU . पै र से चलना. गभ पोषण ा करता है । यह गभ दक म िनम रहकर उप ने हन ारा भी पोषण ा करता है तथा थम मास म कलल (जे ली) और ि तीय म घन होता है ? तीसरे मास म अं ग यं ग का िवकास आरं भ होता है । चौथे मास म उसम अ धक थरता आ जाती है तथा गभ केल ण माता म प प से िदखाई पड़ने लगते ह। इस कार यह माता क कु ि म उ रो र िवक सत होता हआ जब सं पू ण अं ग. धमिनयां ( े िनयल न ज़) २४ और उनक शाखाएं २००. कान और नेआिद के ारा बाहर आने वाले मल. यं ग और अवयव से यु हो जाता है . ये सात धातु एं ुद केअनु ह। िन य ित वाभावत: िविवध काय ं म उपयोग होने से इनका य भी होता रहता है . अ थ. ज ा और ना सका ये अवयव इं ि या य अवयव (िवशे ष इं ि य केअं ग) कहलाते ह और इनम थत िविश शि सं प सूम व तु को इं ि य कहते ह। ये मश: पाँ च ह. पादां गु ल. पद (फु ट). ह त (हथे ली). अथात् ये क अवयव के ारा िविश काय ं क सि होती है . लीहा ( लीन). प केलए च ु इं ि य म ते ज. भू त ाि और िविभ धा विन य ारा प रप व होकर अने क प रवतन केबाद पू व धातु ओं के प म प रणत होकर इन धातु ओं का पोषण करता है । इस पाचनि या म आहार का जो सार भाग होता है उससे रस धातु का पोषण होता है और जो िक भाग बचता है उससे मल (िव ा) और मूबनता है । यह रस दय से होता हआ िशराओंारा सारे शरीर म पहँ चकर ये क धातु और अं ग को पोषण दान करता है । धा वि य से पाचन होने पर रस आिद धातु केसार भाग से र आिद धातु ओं एवं शरीर का भी पोषण होता है तथा िक भाग से मल क उ प होती है .। इनकेअित र दय. िकं तु भोजन और पान के प म हम जो िविवध पदाथ ले ते रहते ह उनसे न के वल इस ित क पू ित होती है . जल. जै से गमन केलए पै र. रसना और ◌्ा◌ाण। इन सूम अवयव म पं चमहाभू त म से उस महाभू त क िवशे षता रहती हैजसके श द ( विन) आिद िविश गु ण ह. तब ाय: नव मास म कु ि से बाहर आकर नवीन ाणी के प म ज म हण करता है । इं ि य शरीर म ये क अं ग या िकसी भी अवयव का िनमाण उ े यिवशे ष से ही होता है . र िप . वचा. उ र और अधरगु द (रेटम). वचा और उसकेछह या सात तर (परत). अ थ से के श तथा लोम ( सर केऔर दाढ़ी. मे द सेनायु ( लं गाम स). मु ख से खाना.ो . पु रीषाधार. मू छ आिद केबाल) और म जा से ं आं ख का क चड़ मल प म बनते ह। शु म कोई मल नह होता. वक् . गु फ (टखना). िप ाशय (गाल लै डर). अं गुऔर पादतल (तलवा). मां स से वसा ू. वायु और आकाश इन पां च महाभू त केसं यु होने से बनते ह। इनकेअनु पात म भे द होने से ही उनकेिभ -िभ प होते ह। इसी कार शरीर केसम त धातु . अं गु लयां और अं गु. अ थ से दां त . बोलने केलए ज ा (गो ज ा). वरन् धातु ओं क पु ि भी होती रहती है । आहार प म लया हआ पदाथ पाचकाि . मल याग केलए गु दा और मूयाग तथा सं त ानो पादन केलए िश न ( य म भग)। आयु वद दाशिनक क भाँ ित इं ि य को आहं का रक नह .म-भे द केकारण दो सौ छह (२०६) मानते ह तथा ुद केअनु सं धयाँ ( वाइंस) २००. पश.च ु . म जा से के श और शु से ओज नामक उपधातु ओं क उ प होती है । ये धातु एं और उपधातु एं िविभ अवयव म िविभ प म थत होकर शरीर क िविभ ि याओं म उपयोगी होती ह। जब तक ये उिचत प रमाण और व प म रहती ह और इनक ि या वाभािवक रहती है तब तक शरीर व थ रहता है और जब येयू न या अ धक मा ा म तथा िवकृ त व प म होती ह तो शरीर म रोग क उ प होती है । ाचीन दाशिनक संां त केअनु सार सं सार केसभी थू ल पदाथ पृ वी. यकृ त ( लवर). रस केलए रसनि य म जल और गं ध केलए ाणि य म पृ वी त व। इन पां च इं ि य को ानि य कहते ह। इनकेअित र िविश कायसं पादन केलए पां च कमि यां भी होती ह. जो नािभ से लगी रहती है . मां स से नाक. रस और गं ध इन बा िवषय का ान ा करने केलए मानु सार कान. नायु ( लं गाम स) ९००. म जा (बोन मै रो) और शु (सीमे न). फुफु स (लं स). जै से हाथ से पकड़ना. जै से रस से कफ. जं घा (टां ग.NLRLNP J= मिणबं ध (कलाई). िशराएं ( लड वे से स. उसकेसारे भाग से ओज (बल) क उ प होती है । इ ह रसािद धातु ओं से अने क उपधातु ओं क भी उ प होती है . जानु (घु टना). ये को ां ग ह और सर म सभी इं ि य और ाण केक का आ य म त क ( े न)है । आयव सार सारे शरीर म ३०० अ थयां ह. र . मां स. मे द (फ़ै ट). वपावहन (मे सटे री). ऊ (जां घ). यथा रस से दध कं डराएं (टडं स) और िशराएँ . ुां त ( मॉल इं टेटन). मे द सेवे द (पसीना). प. उपधातु और मल पां चभौितक ह। प रणामत: शरीर केसम त अवयव और अतत: सारा शरीर पां चभौितक है । ये सभी अचे त न ह। जब इनम आ मा का सं योग होता है तब उसक चे त नता म इनम भी चे त ना आती है । उिचत प र थित म शुरज और शुवीय का सं योग होने और उसम आ मा का सं चार होने से माता केगभाशय म शरीर का आरं भ होता है । इसे ही गभ कहते ह। माता केआहारजिनत र से अपरा ( लै सटा) और गभनाड़ी के ारा. दां त से चबाना आिद। कु छ अवयव ऐसे भी ह जनसे कई काय होते ह और कु छ ऐसे ह जनसे एक िवशे ष काय ही होता है । जनसे कायिवशे ष ही होता है उनम उस काय केलए शि सं प एक िविश सूम रचना होती है । इसी को इं ि य कहते ह। श द.९५६ ह। आयव सार शरीर म रस (बाइल ऐं ड ला मा). र से (फ़ै ट). ले ग). िकडनी). ते ज. जै से श द केलए ो इं ि य म आकाश. ज ह आजकल के वल गणना. हण केलए हाथ. वृक (गु दा. पश केलए वक्इं ि य म वायु . आमाशय ( टमक). व त (यू रनरी लै डर). पे िशयां (मस स) ५०० ( य म २० अ धक) तथा सूम ोत ३०.

मन केराग. मधु ं र फल को दे खकर मु ह म पानी आना). यथा राग. रज और तम. य िक मन ही उसका करण (इं टमट) है । इसी लए मन का सं पक जस इं ि य केसाथ होता है उसी के ारा ान होता है . आ मारिहत मृ त शरीर म नह होते । अत: ये आ मा केल ण कहे जाते ह. िकं तु उसकेिबना शरीर अचे त न होने केकारण िन चेपड़ा रहता है और मृ त कहलता है तथा उसकेसं पक से ही उसम चे त ना आती है तब उसे जीिवत कहा जाता है और उसम अने क वाभािवक ि याएं होने लगती ह. दस के ारा नह । य िक मन एक ओर सूम होता है . स व या ाकृ ितक माना जाता है और रज तथा तम उसकेदोष कहे गए ह। आ मा से चे त नता ा कर ाकृ ितक या सदोष मन अपने गु ण केअनु सार इं ि य को अपने -अपने िवषय म वृ करता है और उसी केअनुप शारी रक काय होते ह। आ मा मन के ारा ही इं ि य और शरीरावयव को वृ करता है . सु ख. े ष. द:ु ख. जससे हम यही ात होता है िक सभी केसाथ उसका सं पक है और सब काय एक साथ हो रहे ह. जस कार के मन और इं ि य तथा िवषय केसं पक म आती है वै से ही काय होते ह। उ रो र अशु भ काय ं केकरने से उ रो र अधोगित होती है तथा शु भ कम ं के ारा उ रो र उ ित होने से . इं ि य और मन के ाकृ ितक ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL SLNU . िवषय का हण और धारण करना. ये तीन ाकृ ितक गु ण होते हए भी इनम से िकसी एक क सामा यत: बलता रहती है और उसी केअनु सार यि सा वक. िनिवकार और यापक होते हए भी पू वकृ त शु भ या अशु भ कम केप रणाम व प जै सी योिन म या शरीर म. पलक का खु लना और बं द होना. अि सम हो. बु ि .NLRLNP J= मन ये क ाणी केशरीर म अ यं त सूम और के वल एक मन होता है । यह अ यं त ु त गित वाला और ये क इं ि य का िनयं क होता है । िकं तु यह वयं भी आ मा केसं पक केिबना अचे त न होने से िन य रहता है । ये क यि केमन म स व. चे त नावान् . इं ि य और शरीर म चे त ना का सं चार होता है और वे सचेहोते ह। आ मा म प. मन क गित. दीघसू ता एवं िन यता आिद यु मन तामस होता है । इसी लए सा वक मन को शु. मरण शि . रागयु. िकं तु भीषण. जीवन केल ण. इं ि य और शरीर म िवकृ ित हो सकती है और इन तीन केपर पर सापेय होने केकारण एक का िवकार दस को भािवत कर सकता है । अत: इ ह कृ ित थ रखना या िवकृ त होने पर कृ ित म लाना या ूरे व थ करना परमाव यक है । इससे दीघ सु ख और िहतायु क ाि होती है . िकं तु मन. िविभ इं ँ ि य और अवयव को िवभ काय ं म वृ करना. धातु . िनिवकार और िन य है तथा सा ी व प है .े ष-हीन होने पर. अहं कार आिद शरीर म आ मा केहोने पर ही होते ह. िकं तु समयसमय पर आहार. आकृ ित आिद कोई िच नह है . एक इं ि य से हए ान का दस ि य ूरी इं पर भाव होना (जै से आँ ख से िकसी सु दर. आचार एवं प र थितय के भाव से दसरे गु ण का भी ाब य हो जाता है । इसका ान वृय केल ण ारा होता है . व न म एक थान से दस चना. छोटे से बड़ा होना और कटे हए घाव भरना आिद. धै य. िकं तु वा तव म ऐसा नह होता। आ मा आ मा पं चमहाभू त और मन से िभ . मल और उनक ि याएं भी सम (उिचत प म) ह तथा जसक आ मा. इं ि य और मन स (शु) ह उसेव थ समझना चािहए। इसकेिवपरीत ल ण ह तो अ व थ समझना चािहए। रोग को िवकृ ित या िवकार भी कहते ह। अत: शरीर. य िक वयं िनिवकार तथा िन यश् है । इसकेसं पक से सि य िकं तु अचे त न मन. अथात् आ मा का पू व ल ण से अनु मान मा िकया जा सकता है । मान सक क पना केअित र िकसी दस ि य से उसका य करना सं भव नह है । ूरी इं यह आ मा िन य. ज म मृ यु और भवबं धन प रोग से मु ि पाने म सहायता िमलती है .े ष-शू य यथाथ ा मन सा वक. मो क ाि होती है । इस िववरण सेप हो जाता है िक आ मा तो िनिवकार है . रं ग. एक आँ ख से दे खी व तु का दस ख से भी ूरेथान तक पहँ ूरी आँ अनु भव करना। इ छा. य न. जै सेवासो छ् वास. जससे मश: आ मा को भी उसकेएकमा . िप और कफ इन तीन दोष का सम मा ा (उिचत माण) म होना ही आरो य और इनम िवषमता होना ही रोग है ।" सुु त नेव थ यि का ल ण िव तार से िदया है - " जससे सभी दोष सम मा ा म ह . सचेऔर चं चल मन राजस और आल य. अत: एक साथ ूरे उसका अने क इं ि य केसाथ सं पक सभव नह है । िफर भी उसक गित इतनी ी◌ा है िक वह एक केबाद दस ि य केसं पक म ूरी इं ी◌ाता से प रवितत होता है . राजस या तामस होता है . जो आयु वद म नै ित क िचिक सा कही गई है । रोग और वा य चरक ने संे प म रोग और आरो य का ल ण यह लखा है "वात.

(२) सं िनकृ कारण (इ मीिडएट कॉज़). जो शरीर म रोगिवशे षक उ प केअनु कू ल प रवतन कर दे त ा है . शीत आिद ऋतु ओं तथा बा य. िप और कफ इन वग ं ं् म िवभ िकया है । पं चमहाभू त एवं ि दोष का अलग से िववे चन ही उिचत है . वषा. िम या और अितयोग का भाव िवशे ष प से हािनकर होता है । पू व कारण के कारां त र से अ य भे द भी होते ह. अित दरूम थत तथा भयानक. यु वा और वृाव थाओं का भी शरीर आिद पर भाव पड़ता ही है . इं ि य और मन पर िकसी न िकसी कार का ुाव िदखलाऍ तब उसे िन चत भाव डालती ह और अनु िचत या ितकू ल भाव से इनम िवकार उ प कर रोग का कारण होती ह। इन सबका िव तृ त िववे चन किठन है . िकं तु इनके ुग भी कहते हीन. ते ज और जल) सब कार केप रवतन या िवकार उ प करने म समथ होते ह। अत: तीन क चु रता केआधार पर. िकं तु संे प म यह समझना चािहए िक सं सारश् केजतने भी मू त (मै िटरयल) पदाथ ह वे सब आकाश. सं क ण.अने क कारण से शरीर केउपादानभू त आकाश आिद पां च त व म से िकसी एक या अने क म प रवतन होकर उनके वाभािवक अनु पात म अं त र आ जाना अिनवाय है । इसी को यान म रखकर आयु वदाचाय श ने इन िवकार को वात. हीन. (२) यं जक (ए साइिटं ग). िम या और अित) सं योग इं ि य .ुते ज. िम या और अित योग भी कहते ह। (२) असा यि याथसं य ोग : च ु आिद इं ि य का अपने -अपने प आिद िवषय केसाथ असा य ( ितकू ल. वािचक और मान सक चेाएं ) का हीन. िप और कफ क संा दी गई है । सामा य प से ये तीन धातु एं शरीर क पोषक होने केकारण िवकृ त होने पर अ य धातु ओं को भी दिू षत करती ह। अत: दोष तथा मल प होने से मल कहलाती ह। रोग म िकसी भी कारण से इ ह तीन क यू नता या ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL TLNU . शरीर और मन केिवकार का कारण होता है . जल और पृ वी इन पां च त व से बने ह। ये पृवी आिद वे ही नह है जो हम िन य ित थू ल जगत् म दे खने को िमलते ह। ये िपछले सब तो पू व पां च त व केसं योग से उप पां चभौितक ह। व तु ओं म जन त व क बहलता होती है वे उ ह नाम से विणत क जाती ह। उसी कार हमारे शरीर क धातु ओं म या उनकेसं घटक म जस त व क बहलता रहती है वे उसी े णी केिगने जाते ह। इन पां च म आकाश तो िनिवकार है तथा पृ वी सबसेथू ल और सभी का आ य है । जो कु छ भी िवकास या प रवतन होते ह उनका भाव इसी पर प प से पड़ता है । शे ष तीन (वायु .NLRLNP ( वाभािवक) J= प या ि या म िवकृ ित होना रोग है । रोग केहे तु या कारण (इिटयॉलोजी) से ितकत यताको रोगो पादक हे तू िनदानम । रोग केकारण को िनदान यह पयायी श द आया ह । जब िकसी आहार या िवहार से शरीर पर रोग ादभ िनदान कहते ह । सं सार क सभी व तु एँ सा ात् या परं परा से शरीर. जो शरीर म दोष का सं चय करता रहता है और अनु कू ल समय पर रोग को उ प करता है . िविभ धातु ओं एवं उनके सं घटक को वात. यथा आँ ख से िबलकु ल न दे खना (अयोग). जो रोग का ता का लक कारण होता है . अत: संे प म इ ह तीन वग ं म बाँ ट िदया गया है : (१) ापराध : अिववे क (धी ं श). बीभ स. अित ते ज वी व तु ओं का दे खना और बहत अ धक दे खना (अितयोग) तथा अितसूम. जो पहले से रोगानु कू ल शरीर म त काल िवकार को य करता है । हे तु ओं का शरीर पर भाव शरीर पर इन सभी कारण केतीन कार के भाव होते ह: (१) दोष कोप. जै से िविभ थावर और जां त व िवष। कारां त र से इनकेअ य दो भे द होते ह(१) उ पादक ( ीिड पोिज़ं ग). अधीरता (धृ ित ं श) तथा पू व अनु भव और वा तिवकता क उपेा ( मृ ित ं श) केकारण लाभ हािन का िवचार िकए िबना ही िकसी िवषय का से वन या जानते हए भी अनु िचत व तु का से वन करना। इसी को दस और प श द म कम ूरे (शारी रक. (३) यिभचारी कारण (अबॉिटव कॉज़) जो प र थितवश रोग को उ प करता है और नह भी करता तथा (४) ाधािनक कारण ( पे सिफ़क कॉज़). यथा (१) िव कृ कारण ( रमोट कॉज़). एवं िवकृ त प व तु ओं को दे खना (िम यारोग)। ये च ु रं ि य और उसकेआ य ने केसाथ मन और शरीर म भी िवकार उ प करते ह। इसी को दस श द म अथ का ूरे दय ह। ी म. जो त काल िकसी धातु या अवयविवशे ष पर भाव डालकर िन चत ल ण वाले िवकार को उ प करता है . वाय.

वे कारण और उनसे उ प रोग आगं तु क कहलाते ह। रोग जानकारी केसाधन इ हे 'िनदान पचक' कहा है । शरीर मे रोग क उ प केशुवात से भे द ह : पू व प.कु छ पदाथ या कारण ऐसे होते ह जो िकसी िविश धातु या अवयव म ही िवकार करते ह। इनका भाव सारे शरीर पर नह होता। इ ह धातुदषू क कहते ह। (३) उभयहे तु . कारण क िभ ता और बलता से . संाि और उपशय। पू व प. िकतने अं श म और िकतनी ूरे मा ा म कु िपत होकर. जसे दोष कोप कहते ह। (२) धातु दू ष ण.वे पदाथ जो सारे शरीर म वात आिद दोष को कु िपत करते हए भी िकसी धातु या अं ग िवशे ष म ही िवशे ष िवकार उ प करते ह. उभयहे तु कहलाते ह। िकं तु इन तीन म जो प रवतन होते ह वे वात.चोट लगना. िकस धातु या िकस अं ग म. प. जै से . इसकेिनधारण को संाि कहते ह। िचिक सा म इसी क मह वपू ण उपयोिगता है । व तु त : इन प रवतन से ही वरािद प म रोग उ प होते ह. अत: इ ह ही वा तव म रोग भी कहा जा सकता है और इ ह प रवतन को यान म रखकर क गई िचिक सा भी सफल होती है । उपशय और अनु प शय (थे रा यू िटक टेट) . कास आिद ल ण उ प होते ह और इन ल ण केसमू ह को ही रोग कहते ह। इस कार जन पदाथ ं के भाव से वात आिद दोष म िवकृ ितयां होती ह तथा वे वातािद दोष.NLRLNP J= अ धकता होती है . दोन केिवपरीत आहार िवहार और औषध का योग करना। ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL ULNU . दोन ही हे तु (कारण) या िनदान (आिदकारण) कहलाते ह। अं त त: इनकेदो अ य मह वपू ण भे द का िवचार अपे ि त है : (१) िनज (इिडयोपै थक). वे दना या ल ण केिवपरीत आहार िवहार या औषध का योग करना। वयं ऐलोपै थी क थापना इसी प ित पर हई थी (ऐलोज़ (िवपरीत)अपै थोज़ (वे दना) उ ऐलोपै थी)। (३) हे तु और या ध. िवकार उ प होते ह तो उनको िनज हे तु या िनज रोग कहते ह। (२) आगं तु क (ऐ सडटल).जन ल ण से रोग या िवकृ ित का प प रचय िमलता है उह प कहते ह। संाि (पै थोजे ने सस) : िकस कारण से कौन सा दोष वतं प म या परतं प म. िव ुभाव. िकस-िकस व पश् का िवकार उ प करता है . तब उस सं दहेकेिनराकरण केलए सं भािवत दोष या िवकार म से िकसी एक केिवकार से उपयु आहार-िवहार और औषध का योग करने पर जससे लाभ होता है उसे उपचय केिववे चन म आयु वदाचाय ने छह कार से आहार-िवहार और औषध के योग का सूबतलाते हए उपशय के१८ भे द का वणन िकया है । ये सूइतने मह व केह िक इनम से एक-एक केआधार पर एक-एक िचिक साप ित का उदय हो गया है . जो शारी रक धातु ओं को िवकृ त करते ह. िप या कफ इन तीन म से िकसी एक. सां प आिद िवषै ले जीव केकाटने या िवष योग से जब एकाएक िवकार उ प होते ह तो उनम भी वातािद दोष का िवकार होते हए भी. आग से जलना.जब पू व कारण से मश: शरीरगत वातािद दोष म. य िक इनके वाभािवक अनु पात म प रवतन होने से शरीर क धातु ओं आिद म भी िवकृ ित होती है । रचना म िवकार होने से ि या म भी िवकार होना वाभािवक है । इस अ वाभािवक रचना और ि या के प रणाम व प अितसार. अके ले या दस केसाथ. और उनके ारा धातु ओं म.जब अ पता या सं क णता आिद केकारण रोग केवा तिवक कारण या व प का िनणय करने म सं दहेहोता है . (१) हे तु केिवपरीत आहार िवहार या औषध का योग करना। (२) या ध. दो या तीन म ही िवकार उ प करते ह। अत: ये ही तीन दोष धान शरीरगत कारण होते ह.िकसी रोग केय होने केपू व शरीर केभीतर हई अ य प या आरं िभक िवकृ ित केकारण जो ल ण उ प होकर िकसी रोगिवशे ष क उ प क सं भावना कट करते ह उ ह पू व प ( ोडामे टा) कहते ह। प (साइं स एं ड सं ट स) .

NLRLNP J= (४) हे तु िवपरीताथकारी. . इस दोष के कु िपत होने और इस धातु केदिू षत होने तथा इस अं ग म आ त होने से . अनु मान और यु ि से क जाती है । य मनोयोगपू वक इं ि य ारा िवषय का अनु भव ा करने को य कहते ह। इसके ारा रोगी केशरीर केअं ग यं ग म होने वाले िविभ श द ( विनय ) क परी ा कर उनके वाभािवक या अ वाभािवक होने का ान ो ि य ारा करना चािहए। वण. अमु क ल ण वाला अमु क रोग उ प होता है . लं ग और औषध ान म वृ होती है । शा वचन केअनु सार ही ल ण क परी ा य . आकृ ित. य दे खकर उनके व प का अनु मान िकया जा सकता है । अनु म ान यिु पू वक तक (ऊहापाह) के ारा ा ान अनु मान (इनफ़रस) है । जन िवषय का य नह हो सकता या य होने पर भी उनके सं बं ध म सं दहेहोता है वहाँ अनु मान ारा परी ा करनी चािहए. अनु सं धानशील. पू य आिद म च टी लगना या न लगना. अ िच तथा यास एवं भय. शोक. यायाम क शि केआधार पर शारी रक बल का. र .े ष-शू य बु ि से असं िद ध और यथाथ प से जानते और कहते ह। ऐसे िव ान् . इ छा. े ष आिद मान सक भाव के ारा िविभ शारी रक और मान सक िवषय का अनु मान करना चािहए। पू व उपशयानु पशय भी अनु मान का ही िवषय है । ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL VLNU . अथात् कारण और वे दना दोन केसमान तीत होते हए भी दोन केिवपरीत काय करने वाले आहार िवहार और औषध का योग। उपशय और अनु पशय से भी रोग क पहचान म सहायता िमलती है । अत: इनको भी ाचीन ने " लं ग' म ही िगना है । हे तु और लं ग के ारा रोग का ान ा करने पर ही उसक उिचत और सफल िचिक सा (औषध) सं भव है । हे तु और लं ग से रोग क परी ा होती है . चौड़ाई आिद माण तथा छाया आिद का ान ने ारा. न ध एवं नाड़ी आिद के पं दन आिद भाव का ान पशिंय ारा ा करना चािहए। रोगी केशरीरगत रस क परी ा वयं अपनी जीभ से करना उिचत न होने केकारण. पाचनशि केआधार पर अि बल का. िकं तु इनके समु िचत ान केलए रोगी क परी ा करनी चािहए। रोगी क परी ा रोगी परी ा केसाधन चार ह . गं ध का ान ◌्ा◌ाणि य तथा शीत. आग से जलने पर सकने या गरम व तु ओं का ले प करने से उस थान पर र सं चार बढ़कर दोष का थानां त रण होता है तथा र का जमना कने . अथात् रोग केकारण केसमान होते हए भी उस कारण केिवपरीत काय करने वाले आहार आिद का योग. अनु मान और यु ि । आ ोपदे श यो य अ धकारी. तप और ान से सं प होने केकारण. उसकेशरीर या उससे िनकलेवे द. यथा. उसम अमु कअमु क प रवतन होते ह तथा उसक िचिक सा केलए इन आहार िवहार और अमु क औष धय केइस कार उपयोग करने से तथा िचिक सा करने से शां ित होती है । इस लए थम यो य और अनु भवी गुजन से शा का अ ययन करने पर रोग केहे तु . कौए या कुे आिद ारा खाना या न खाना. पाक के कने पर शां ित िमलती है । (५) या धिवपरीताथकारी. अथात् रोग या वे दना को बढ़ाने वाला तीत होते हए भी या ध केिवपरीत काय करने वाले आहार आिद का योग ( होिमयापै थी से तु लना कर : होिमयो (समान) अपै थोज़ (वे दना = होिमयोपै थी)। (६) उभयिवरीताथकारी. अपने िवषय को हण करने या न करने से इं ि य क कृ ित या िवकृ ित का तथा इसी कार भोजन म िच. उ ण. शा त व को राग.आ ोपदे श. प पातहीन और यथाथ व ा महापुष को आ (अथॉ रटी) और उनकेवचन या ले ख को आ ोपदे श कहते ह। आ जन ने पू ण परी ा केबाद शा का िनमाण कर उनम एक-एक केसं बं ध म लखा है िक अमु क कारण से . मू. अनु भवी. ोध. लं बाई. य . जै से . म खय का आना और न आना.

लघु त ा. इनकेभी वे ही सं घटक होते ह जो शरीर केह। अत: सं सार म कोई भी य ऐसा नह है जसका िकसी न िकसी प म िकसी न िकसी रोग केिकसी न िकसी अव थािवशे ष म औषध प म योग न िकया जा सके । िकं तु इनके योग केपू व इनके वाभािवक गु णधम. बीज और ऋतु केसं योग से ही पौधा उगता है । धु एं का आग केसाथ सदै व सं बं ध रहता है . आकृ ित. तां बा. िप . लािन. हरताल. वपाक (मे टाबो लक चजे ज़). नेऔर आकृ ित क सावधानी से परी ा करनी चािहए। आयु वद म नाड़ी क परी ा अित मह व का िवषय है । के वल नाड़ीपरी ा से दोष एवं दू य केसाथ रोग के व प आिद का ान अनु भवी वै ा कर ले त ा है । औषध जन साधन के ारा रोग केकारणभू त दोष एवं शारी रक िवकृ ितय का शमन िकया जाता है उ ह औषध कहते ह। येधानत: दो कार क होती है : अप यभू त और यभू त। अ यभू त औषध वह हैजसम िकसी बा या आ यं त र योग ह: य का उपयोग नह होता. रोगी को दे खने को बु लाने केलए आए दत और रोगी केघर म ूतथा रा ते वे श केसमय केशकु न और अपशकु न. पश. रोग और उसकेपू व प आिद का माण. श द ( विन). ू. गुता. वीय (िफिज़ओलॉ जकल ऐ शन). िव ाम. गुता. पु रीष. जै से उपवास. फल आिद (३) पा थव (खिनज. लघु त ा. लोम आिद. ित छाया. दध ठा. जै से मधु . मां स. त व (िडसपोिज़शन). जु त ाई. ज ा. नमक आिद। शरीर क भां ित ये सभी य भी पां चभौितक होते ह. म जा. संकारज य गु णधम. सोना. नख. दही. ो . वर. मै न सल. चू ना. शु. अ थ. ृ ग. जल. पू व प. शै च. बल. जै से सोना. कु छ दोष और धातु को दिू षत करते ह और कु छ व वृ त म. िमनरल ड स). जागना. च ु . गे. (२) औि द (हबल ड स) : मू ल (जड़). ाण. हयोग आिद सभी िवषय का कृ ित ( वाभािवकता) तथा िवकृ ित (अ वाभािवकता) क ि से िवचार करते हए परी ा करनी चािहए। िवशे षत: नाड़ी. म खन. शील. यायाम आिद। ारा शरीर म जन बा (१) जां ग म (ऐिनमल ड स). प. छाया (ल टर). आरं भ (चेा). तंा. अथात् जहाँ धु आँ होगा वहाँ आग भी होगी। इसी को याि ान भी कहते ह और इसी केआधार पर तक कर अनु मान िकया जाता है । इस कार िनदान. शीतलता. न धता आिद गु ण. अ क. खिड़या. चौड़ाई. भि ( िच). सा य (अ यास आिद. आहारशि . स व. इनक उपयोिगता केसमु िचत ान केलए य केपां चभौितक सं घटक म तारत य केअनु सार व प (कं पोिज़शन). पाचन और मा ा. टहलना. उ णता. मू . कािठ य आिद गु (कांलके शं स). मू . मल. मृ दत ण. रस (टेट एं ड लोकल ऐ शन). है िब स). तदनु कू ल िवचार से जो क पना क जाती है उसे यिु कहते ह। जै से खे त . घी. गं ध. भार आिद). योगिव ध तथा योगमाग का ान आव यक है । इनम कु छ य दोष का शमन करते ह. मृ ित. संाि और उपशय इन सभी केसामु दाियक िवचार से रोग का िनणय यु ि यु होता है । योजना का दस ूरी ि से भी रोगी क परी ा म योग कर सकते ह। जै से िकसी इं ि य म यिद कोई िवषय सरलता सेा न हो तो अ य यं ािद उपकरण क सहायता से उस िवषय का हण करना भी यु ि म ही अं त भू त है । परी ण िवषय पू व लं ग के ान केलए तथा रोगिनणय केसाथ सा यता या असा यता केभी ान केलए आ ोपदे श केअनु सार य आिद परी ाओंारा रोगी केसार. रस और पश ये िवषय. व न (डी स). मठ् र . वसा. रसन और पशि य. रां गा. सं खया. सीसा. उपाय (साधन). माण (शरीर और अं ग यं ग क लं बाई.यु ि इसका अथ है योजना। अने क कारण केसामु दाियक भाव से िकसी िविश काय क उ प को दे खकर. जो िविभ य (ड स) का योग होता है वे यभू त औषध ह। ये य संे प म तीन कार केहोते ािणय केशरीर सेा होते ह. लोहा. उप व ुा. सहनन (उपचय). चम. ता. खु ं र. अं जन (एं टीमनी). आचार. अथात् धातु सा य को थर रखने म उपयोगी होते ह. यायामशि तथा आयु केअित र वण. चां दी. आहार केगु ण. भाव ( पे सिफ़क ऐ शन) तथा मा ा (डोज़) का ान आव यक होता है । .

कृ ित आिद केअनु सार उपयु कत औषध क उिचत मा ा. मं . ात. संा थापक. अमु क मा ा से . उसकेवमन. वाथ (िडकॉ शन). वय: थापक. स व. तै ल. व प. आसव तथा अ र (िटंचस). र थापक. इस-इस अव था म तथा अमु क कार केरोगी को इतनी मा ा म दे ने पर अमु क दोष को िनकाले गी या शां त करे गी। इसके भाव म इसी केसमान गु णवाली अमु क औष ध का योग िकया जा सकता है । इसम यह यह उप व हो ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NNLNU . प रचायक. िविभ भौितक एवं रासायिनक संकार ारा जो उपाय िकए जाते ह उ ह "क पना' (फ़ामसी या फ़ामा यिु टकल ोसे स) कहते ह। जै से . शीत शामक. अनु वासन और उ रव त (एिनमै टा तथा कै थे टस का योग). मे दनीय. अव था. अितसारहर ( तं भक). उ ीपक.वरस (जू स). वे दनाहर. स वपातन आिद। िचिक सा (ट ीटम ट) िचिक सक. शीत वाथ (इन यू ज़न). इस रोग क . man ko hmesha acche karyo me busy rakhkar he ham man ko galat kamo se bcha sakte hai. व त (िन हण). ब य. अवले ह आिद तथा खिनज य केशोधन. जारण.NLRLNP J= भे ष यक पना सभी य सदै व अपनेाकृ ितक प म शरीर म उपयोगी नह होते । रोग और रोगी क आव यकता केिवचार से शरीर क धातु ओं केलए उपयोगी एवं सा यकरण केअनु कू ल बनाने केलए. पाठ. जै सेवरनाशक. वा य. शुजनक. (२) सं त पण या शमन या बृ हण ( खलाना)। शारी रक दोष को बाहर ं िनकालने केउपाय को शोधन कहते ह. ये चार िमलकर शारी रक धातु ओं क समता केउ े य से जो कु छ भी उपाय या काय करते ह उसे िचिक सा कहते ह। यह दो कार क होती है : (१) िनरोधक (ि विटव) तथा (२) ितषे धक ( योरे िटव). अमु क कार सु रि त रहकर. अनु कू ल क पना (बनाने क रीित) आिद का िवचार कर यु करना। इसकेभी मुयत: तीन कार ह : अं त :प रमाजन. िवष न. यं . मू ल. मारण. जीवनीय. इस उ े य से क गई िचिक सा िनरोधक है तथा जन ि याओं या उपचार से िवषम हई शरी रक धातु ओं म समता उ प क जाती है उ ह ितषे धक िचिक सा कहते ह। पु न: िचिक सा तीन कार क होती है : स वावजय (साइकोलॉ जकल) इसम मन को अिहत िवषय से रोकना तथा हषण. . घृ त . ले ं खनीय. छिद न (वमन रोकने वाला). जप. वे दल. पाचक. क क या चू ण (पेट या पाउडर). त यजनक. कासहर. दाह शामक. िवरे चन (पगिटव). मू िवशोधक. िशरोिवरे चन ( न स आिद) तथा र ामो णश् (वे िनसेशन या लड ले िटं ग). अमृ त ीकरण. कु न. हवन. अमु क गु णवाली होने से . ये पां च उपाय ह। शमन-ला िणक िचिक सा ( सं टोमै िटक टीटमट) : िविभ ल ण केअनु सार दोष और िवकार केशमनाथ िवशे ष गु णवाली औष ध का योग. नहे नीय आिद य का आव यकतानु सार उिचत क पना और मा ा म योग करना। इन औष धय का योग करते समय िन न ल खत बात का यान रखना चािहए : ""यह औष ध इस वभाव क होने केकारण तथा अमु क त व क धानता केकारण. णीय. 'viraj shastri दै व यपा य (िडवाइन) इसम ह आिद दोष केशमनाथ तथा पू वकृ त अशु भ कम के ाय च र न और औष ध आिद का धारण. पू जा. शुिवशोधक. आ वासन आिद उपाय ह. यु ि यपा य (मे िड सनल अथात्स टिमक टीटमट) रोग और रोगी केबल. वासहर. ये उपाय होते ह। व प दे वाराधन. औषध और रोगी. बिह:प रमाजन और श कम। अं त :प रमाजन (औष धय का आ यं तर योग) इसकेभी दो मुय कार ह : (१) अपतपण या शोधन या लं घन. इन य के वाभािवक व प और गु ण म प रवतन केलए. जै से शरीर के कृ ित थ दोष और धातु ओं म वै ष य (िवकार) न हो तथा सा य क परं परा िनरं त र बनी रहे . अमु क कार केदे श म उ प और अमु क ऋतु म सं ह कर. बृ हणीय. अमु क क पना से . तथा मिण.

भे द न-चीरना (इं सज़न). ◌्ात. उपवास आिद करना चािहए। इनसे तथा यम िनयम आिद योगा यास ारा मृ ित (त व ान) क उ प होने से कमसं यास ारा मो क ाि होती है । इसे नै ि क िचिक सा कहते ह। य िक सं सार ंमय है . एषण ( ोिबं ग). ३. मन:समा ध. सवण करण. रोमजनन आिद उपाय प चा कम ह। श सा य तथा अ य अने क रोग म ार या अि छान तथा िशरावे ध का योग होता है । योग के ारा भी िचिक सा क जा सकती है ।र िनकालने केलए ज क. स सं गित. ि िकं ग). ८. सीवन-सीना ( यू च रं ग या टिचं ग)। इनकेअित र उ पाटन (उखाड़ना). ले प आिद क तै यारी और शु ि । वा तिवक श कम को धान कम कहते ह। श कम केबाद शोधन. नान. व थापन. तु ं बी. व . मं थन (मथना. ले ख न-खु रचना ( ४. िव ावण-र . िव ान. जहाँ सु ख है वहाँ द:ु ख भी है . रोहण. छे दन-काटकर दो फां क करना या शरीर से अलग करना (ए सज़न). कुन (कु चकु चाना. आ वासन आिद मानस उपचार करना चािहए. अत: आ यं ितक (सतत) सु ख तो ंमु होने पर ही िमलता है और उसी को कहते ह मो । ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NOLNU . दहन (जलाना. वे ध न-नु क ले श े िपं ग या कै रिफ़के शन). ६.NLRLNP J= सकते ह और उसकेशमनाथ ये उपाय करने चािहए। बिह:प रमाजन (ए टनल मे ि डके शन) जै से अ यं ग. आहरण-ख चकर बाहर िनकालना (ए टैशन). वाथ. वे दन आिद। श कम िविभ अव थाओं म िन न ल खत आठ कार केश कम ं म से कोई एक या अने क करने पड़ते ह: १. घृ त . प ी. २. हषण. मन को ोभक आहार िवहार आिद से बचना चािहए तथा मानस-रोग-िवशे ष से उपचार कराना चािहए। इं ि यां . सं यम. धू पन. ५. ७. ले प. से छे दना (पंच रं ग). मानस रोग (म टल िडज़ीज़े ज़) मन भी आयु का उपादान है । मन केपू व रज और तम इन दो दोष से दिू षत होने पर मान सक सं तु लन िबगड़ने का इं ि य और शरीर पर भी भाव पड़ता है । शरीर और इं ि य के व थ होने पर भी मनोदोष से मनु य केजीवन म अ त य तता आने से आयु का ास होता है । उसक िचिक सा केलए मन केशरीरा त होने से शारी रक शु ि आिद केसाथ ान. रोपण. धमशा िचं त न. पू य आिद को चु वाना (डे ने ज). इसके धान उपकरण मन को शुकरने केलए.ये आयु वद म भौितक मानी गई ह। ये शरीरा त तथा मनोिनयं ि त होती ह। अत: शरीर और मन केआधार पर ही इनकेरोग क िचिक सा क जाती है । आ मा को पहले ही िनिवकार बताया गया है । उसकेसाधन (मन और इं ि य ) तथा आधार (शरीर) म िवकार होने पर इन सबक सं चालक आ मा म िवकार का हम आभास मा होता है । िकं तु पू वकृ त अशु भ कम ं प रणाम व प आ मा को भी िविवध योिनय म ज म हण आिद भवबं धन पी रोग से बचाने केलए. यं( लं ट इं टम स). िड लं ग). जै से रोगी का शोधन. श (शाप इंटम स) तथा श कम केसमय एवं बाद म आव यक ई. ते ल. वै रा य. कॉटराइज़े शन) आिद उपश कम भी होते ह। श कम (ऑपरे शन) केपू व क तै यारी को पू वकम कहते ह. स गी. ान.

मृ त ू ण आिद को िनकालना तथा यं एवं श के योग एवंण केिनदान. १।६)। भू त िव ा (Psycho-therapy) इसम दे वा ध ह ारा उ प हए िवकार और उसक िचिक सा का वणन है । भू त िव ानाम दे व ासु र गं ध वय र : िपतृ ि पशाचनाग हमु प सृ ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NPLNU . प थर केटु कड़े .NLRLNP J= अ ां ग वैक : आयु व द केआठ िवभाग िव तृ त िववे चन. र िप . तथा उसक िचिक सा आिद का समावे श श ययंकेअं त गत िकया गया है । श यं न ाम िविवधतृ ण का पाषाणपां शु ल ोहलो थवालनखपू य ा ाव ाणां तगभश यो रणाथ यंश ाराि िणधा ाण िविन चयाथच। (सु . लोहे केखं ड. ने . १।५)। अगदतं इसम िविभ थावर. अप मार. १।१)। शाला यतं(Opthamology including ENT and Dentistry) गले केऊपर केअं ग क िचिक सा म बहधा शलाका स श यं एवं श का योग होने से इसे शाला ययंकहते ह। इसकेअं त गत धानत: मु ख. बाल. ार. शोष. िवशे ष िचिक सा तथा सु गमता आिद केलए आयु वद को आठ भाग (अ ां ग वैक) म िवभ िकया गया है : कायिचिक सा (General Medicine) इसम सामा य प से औष ध योग ारा िचिक सा क जाती है । धानत: वर.सू . जं गम और कृ ि म िवष एवं उनकेल ण तथा िचिक सा का वणन है । अगदतंं नाम सपक टलतामिषकािदद िवष यं ज नाथ िविवधिवषसं य ोगोपशमनाथ च ।। (सु . कण आिद अं ग म उ प या धय क िचिक सा आती है । शाला यं नामऊ वज तु ग तानां वण नयन वदन ाणािद सं तानांयाधीनामु प शमनाथम् । (सु . अशुर .सू . १।२)। कौमारभृ य (Pediatrics) ब च.सू . १।३) शा यतं(Surgery and Midwifery) िविवध कार केश य को िनकालने क िव ध एवं अि . नाखू न. य िवशे षत: गिभणी य और िवशे ष ीरोग केसाथ गभिव ान का वणन इस तंम है । कौमारभृ यं नाम कु मारभरण धा ी ीरदोषश् सं श ोधनाथ द ु त य हसमु थानां च याधीनामु प शमनाथम् ।। (सु . श आिद के योग ारा सं पािदत िचिक सा को श य िचिक सा कहते ह। िकसी ण म से तृ ण केिह से . धू ल.सू . कु. ह ी. पू य. लकड़ी केटु कड़े . श य. ना सका. यं . मे ह. उ माद.सू . अितसार आिद रोग क िचिक सा इसकेअं त गत आती है । शा कार ने इसक प रभाषा इस कार क है कायिचिक सानाम सवागसं तानां याधीनांवरर िप शोषो मादाप मारकुमे ह ाितसारादीनामु प शमनाथम् । (सु .

बल.िश ण केिवषय वतमान म आयव द म िश ण एवंिश ण केिवकास केकारण अब इसे िविश शाखाओं म िवक सत िकया गया है । वे है ःु (1) आयु वद स ां त (फं डामटल ि ं सीप स आफ आयु वद) (2) आयु वद सं िहता (3) रचना शारीर (एनाटमी) (4) ि या शारीर (िफ जयोलॉजी) (5) यगु ण िव ान (मै िट रया मे िडका एं ड फामाकॉलाजी) (6) रस शा (7) भै ष य क पना (फामा यु िटक स) (8) कौमारभृ य (पे िडयािट स) (9) सू ित तं(ऑब टे िट स एं ड गाइने कोलॉजी) (10) व थ वृ त (सो ाल एं ड ीविटव मे िड सन) (11) कायिचिक सा (इं टनल मे िड सन) (12) रोग िनदान (पै थोलॉजी) (13) श य तं(सजरी) ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NQLNU . Science of Aphrodisiac and Sexology) शुधातु क उ प . वृ ि आिद कारण से उ प ल ण क िचिक सा आिद िवषय केसाथ उ म व थ सं त ोनो प सं बं धी ान का वणन इसकेअं त गत आते ह। वाजीकरणतंं नाम अ पद ु ीणिवशु करे त सामा यायन सादोपचय जननिनिम ंहष जननाथच। (सु .wikipedia. पौ ष एवं दीघायु क को दरूकरने केउपाय इस तंम विणत ह। ाि एवं वृाव था केकारण उ प हए िवकार रसायनतं नाम वय: थापनमायु मे ध ावलकरं रोगापहरणसमथ च। (सु .सू . १।७)। यह स पू ण पृया इसकेकु छ िवभाग िह दी केअित र अ य भाषा(ओं ) म भी लखे गए ह। आप इनका अनु वाद (//hi. १।४)। रसायनतं(Rejuvenation and Geriatrics) िचरकाल तक वृाव था केल ण से बचते हए उ म वा य.org/w/index.सू .php? title=%E0%A4%86%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%A6&action=edit) करकेिविकपीिडया क सहायता कर सकते ह। वाजीकरण (Virilification. १।८)। वत मान समय म आयु व द का िश ण.सू .NLRLNP J= चे त सां श ा तकम व लहरणािद होपशमनाथम् । (सु . पुता एवं उसम उ प दोष एवं उसके य.

िविभ (क ीय प रषद ् के ) म सं ल कायकताओं को िश ण सं बं धी सु िवधाएँदान करना। यि य अथवा संथाओंारा "रोगिनवारण' केदाव का मू याँ कन करना। ४.एवं . योग एवं हो योपै थी) प ित से सं बं धत अनु सं धान को वैािनक ढं ग से तु त करना। (२) रोगिनवारक एवं रोगो पादक हे तु ओं से सं बं धत त य का अनु शीलन एवं त सं बं धी अनु सं धान म सहयोग दान करना. आधु िनक िचिक सािव ान के ि कोण से आयु वदीय स ां त क पु न या या करना। ६. सं व धत तथा िवक सत करना है । इस सं था के धान काय एवं उ े य िन न ल खत ह : (१) भारतीय िचिक सा (आयु वद. यू नानी. िविभ नै दािनक पहलु ओं पर अनु सं धान करना। उपयु संथान केसाथ (१) औषधीय वन पित सव ण इकाइयाँ (सव आफ मे िड सनल लांस यू िन स).टी.एन. योगशालाओं . स ती तथा भावकारी औष धय का पता लगाना। २.ई. िविभ क ३.) (15) मनोरोग (साईिकयाटी) (16) पं चकम आयु व द सं बं ध ी शोध वतंता ाि केबाद भारत सरकार का यान आयु विदक स ां त एवं िचिक सा सं बं धी शोध क ओर आकिषत हआ। फल व प इस िदशा म कु छ मह वपू ण कदम उठाए गए ह और एका धक शोधप रषद एवं सं थान क थापना क गई हैजनम सेमु ख ये है : भारतीय िचिक साप ित एवं हो योपै थ ी क क ीय अनु सं ध ान प रषद् सटल क सल फॉर रसच इन इं िडयन मे िड सन ऐं ड हो योपै थी नामक इस वाय शासी क ीय अनु सं धान प रषद ् क थापना का िबल भारत सरकार ने २२ मई. मं ड लय एवं प रषद केसाथ िवशे षकर पू वाचल दे शीय या धय और खासकर भारत म उ प होने वाली या धय से सं बं धत िविश अ ययन एवं पयवेण सं बं धी िवचार का आदान दान करना। (५) क ीय प रषद ् एवं आयु वदीय वाङमय केउ कष प (६) क ीय प रषद ् केउ े य केउ कष िनिम वीकृ ित दे ना भी इसम स म लत है । आद का मुण. (२) त यिन कासन चल नै दािनक अनु सं धान इकाइयाँ ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NRLNU . आयु िव ान केआधारभू त स ां त एवंायोिगक सम याओं पर बृ हद ्प से शोध कर रहा है । इसके धान उ े य िन न ल खत ह : १. स . रोगिनवारण एवं उ मू लन हे तु अ छी. १९६९ क लोकसभा म पा रत िकया था। इसका मुय उ े य आयु विदक िचिक सा केसैां ितक एवंायोिगक पहलु ओं केिविभ प पर अनु सं धान केसू पात को िनदे िशत. ो त.NLRLNP J= (14) शाला य तं(आई. आयु वदीयिव ान केस ां त का सं वधन करना। ५. सं वधन एवं सामं ज य थािपत करना। (४) क ीय प रषद ् केसमान उ े य रखने वाली अ य सं थाओं . काशन एवंदशन करना। पु र कार दान करना तथा छा वृ वीकृ त करना। छा क ीय अनु सं ध ान संथान (सटल रसच इंट को या ा हे तु धनरािश क ट) ू आतु रालय . ानसं वधन एवं ायोिगक िव ध म वृ ि करना। (३) भारतीय िचिक सा णाली. हो योपै थी तथा योग केिविभ सैां ितक एवंयावहा रक पहलु ओं म वैािनक अनु सं धान का सू पात.

जयपु र. िविभ इकाइय (अनसं धान) म जाँ च हे तु हरे पौध . योग नगर तथा कलक ा म े ीय अनु सं धान क थािपत िकए गए ह। इन सं थान केसाथ भी (१) औषधीय वन पित सव ण इकाइयाँ . (२) त यिन कासन चल नै दािनक अनु सं धान इकाइयाँ तथा (३) नै दािनक अनु सं धान इकाइयाँ सं ब ह। औषधीय वन पित सव ण इकाई केउ े य िन न ल खत ह : १. रासायिनक तथा सं घटना मक अ ययन इसके ेम स म लत िकए गए ह। ि कोण को वाङमय अनु सं ध ान इकाई ( लटरे र ी रसच यू ि नट) आयव एवं न ाय वाङमय को िविभ िनजी एवं सावजिनक पु तकालय केसव ण ारा सं क लत करना इस इकाई का काम है । ुद केिबखरे ाचीन काल म तालप . है दराबाद। हो योपै थी : क ीय अनु सं धान सं थान. आयव िहताओं मउ े ख है ) ेका िव तार एवं प रमाण का अनु मान। ुदीय वन पितय के( जनका िविभ आयव ुदीय सं २. म ास। यू नानी : क ीय अनु सं धान संथान. सं ध ान कम पु निनमाण सं बं धी श यि या है और सं धानक शलयिव ान का आधार तं भ भी। इसकेअं त गत ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NSLNU . ि याशीलता सं बं धी.NLRLNP J= इसकेअित र क ीय सं थान िन न थान पर काय कर रहे ह: आयु वद : क ीय अनु सं धान सं थान. बीज एवं अ य औष धय म यु होने वाले भाग का चु र प रमाण म सं ह करना आिद। ४. इसकेअित र आयव िदक औष ध उ ोग म यु होने वाले य. चेथ थी। क ीय अनु सं धान सं थान. अ य सु दर तथा आकषक पौधे ं . कलक ा। ेीय अनु सं ध ान संथान (रीजनल रसच इंट ट) ू इस सं थान का काय भी ाय: क ीय अनं सधान संथान केसमान ही है । ऐसे सं थान केसाथ २५ श यावाले आतु रालय भी सं ब ह। भु वने वर. िविभ जं गली ु और य केसं बं ध म छानबीन करना। िम त भे ष ज अनु सं ध न योजना (कं पोिज़ट डग रसच य एवं अल य पौध क म) इस योजना केअं त गत कु छ आधु िनक योग म आई नवीन औष धय का अ ययन ाथिमक स से िकया जा रहा है । िविभ ले कर अथात् नै दािनक. भोजप आिद पर लखे आयु वद केअमू य र न का सं कलन एवं सं वधन भी इसके मु खउ े य म से एक ह। िचिक साशा केइितहास का संथान (इंट ट ऑव िह टरी ऑव मे िड सन) ू यह संथान है दराबाद म थत है । इसका मुय उ े य यु गानुप आयु वद केइितहास का ा प तै यार करना है । ागै ितहा सक यु ग से आधु िनक यग पयत आय व द क गित एवं ◌् ास का अ ययन ही इसका काय है । ु ु सं ध ानीय श य िव ान आयव धानीय श य िव ान का िवकास चरम सीमा पर था। सुु त सं िहता म सं धानक श यि या के धानत: दो प विणत ह। थम ुद म सं प का सं धानकम एवं ि तीय को वै कृ ताप म क संा दी गई है । १. िविभ औष धय का सं ह करना। ३. पिटयाला। स : क ीय अनु सं धान सं थान.

NLRLNP J= (क) कणसं धान.अितरं जत ाणव तु को यनवण अथवा वणिवहीन करना। (ए) रोमसं ज नन .सुु त अ ां ग दय -------.वा भ वं गसे न -------. (ख) नासासं धान तथा (ग) ओ सं धान इ यािद श यि याओं का समावे श िकया गया है । २.किठन ाणव तु को मृ दु करना। (ई) दा णकम . प.वणरिहत ाणव तु को वण दान करना। (ऊ) पां डु कम .चरक सुु त सं िहता -------.भाव िम इ ह भी दे ख ध वं तर पं चकम आयु िव ान यू नानी िचिक सा प ित रसतंसार एवंस योग सं ह रसिव ा ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NTLNU .मृ द ुाणव तु को वण दान करना। (उ) कृणकम .वं गसे न माधव िनदान -------.ाणव तु केऊपर उ प अ य धक बाल को न करना। आयु व द के मु ख ं थ चरकसं िहता -------. वै कृ तप म म ाणरोपण सेाकृ ितक लाव य पयत अने क अव थाओं का समावे श िकया गया है । वै कृ ताप म ि या का मुय उ े य ाणव तु ( ाणिच ) को यथासं भव ाकृ ितक अव था (आकार.ाणव तु केऊपर पु न: ाकृ ितक रोम उ प करना। (ऐ) लोपाहरण .मधवाचाय भाव काश -------. कृ ित) म लाना हैजनम िन नां िकत आठ धान कम सं पािदत िकए जाते ह: (अ) उ सादन कम.नीचे दबी हई ाणव तु को ऊपर उठाना। (आ) अवसादनकम .ऊपर उठी हई ाणव तु को नीचे लाना। (इ) मृ दु क म .

com/2008/09/blog-post_08.php?title=आयु वद&oldid=1978357" सेलया गया िणयाँ े : अनु वाद करने यो य आयु वद आयु िव ान Navigation menu अ तम प रवतन 08:20.co.asp) ु राज थान िनमाण से पू व दे शी रयासतो म आयु वद क थित (http://ayurved.co.in/webhindi/index.धमद वै) के ीय आयु वद एवंस अनु सं धान प रषद ् (http://www.blogspot.NLRLNP J= बाहरी किड़याँ काय मता केलये आयु वद और योग (http://books.blogspot.gov.com/dynamic/modules. by Stephen Barrett.in/books? id=8ntA4HuR4pQC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false) (गू गल पु तक .google.ayurvedakerala.htm) राज थान सरकार केआयव द िवभाग का जाल थल (http://ayurved.quackwatch.scribd.nic.gov.html) (बी एस चौहान) ayurvedic.prematureejaculationcure.com/04ConsumerEducation/chopra.in/Ayurveda.D (http://www.com/ved.html) How to use Ayurveda for PE A Few Thoughts on Ayurvedic Mumbo-Jumbo.php Glossary of Ayurvedic terms (http://www. अ य शत लागू हो सकती ह। िव तार से जानकारी हे तु दे ख उपयोग क शत ं ÜáKï áâáéÉÇá~KçêÖLï áâáL NULNU .html) (गोरा सोसायटी) ुद का इितहास एवं आयु वद का इितहास (http://bschauhan09.com/p/blog-page. ले खक .wikipedia.cnsayurveda.htm) Ayurveda for PE (http://www. M.html) (आयु विदक ान क िह दी साइट) आयव मू ल स ां त (http://gorawelfare.ccras.panchjanya.com/index.rajasthan.weebly. 9 िदस बर 2012। यह साम ी ि ये िटव कॉम स ऍटी यू शन/शे यर-अलाइक लाइसस केतहत उपल ध है . ले खक .asp) आधु िनक िव ान केआईने म आयु वद (http://www.in/history.com/doc/47071815/Basic-PrinciplesOf-Bhaishyajya-Kalpna) "http://hi.co.डॉ िवनोद शमा) कायिचिक सा (वण मानु सार) (http://books.in/books? id=fvH0B25xtaMC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false) (गू गल पु तक .html) (दो भाग म) दशन आयु वद िचिक सालय (http://darshanayurved.biz/glossaryof_) Traditional Ayurveda Practise in Kerala (http://www.org/w/index.google.php? name=Content&pa=showpage&pid=388&page=10) ( डॉ ओम भात अ वाल) 'आयु वद' एक चम कार (http://yeh-hai-germany.uk/ayurveda-for-prematureejaculation.rajasthan.html) Basic Principles Of Bhaishyajya Kalpna (http://www.com/ayurveda.