1

हजयत सैमद खाजा यहभतुल्रा (नामफ-E-यसूर) Rahamatabad
शयीप IN HINDI

स्थान.
TOMB बायत के आॊध्र प्रदे श के दक्षऺणी याज्म भें स्स्थत है ,

2

गाॊव भें Rahamatabad शयीप (बी ASPeta के रूऩ भें जाना जाता
है ) कहा जाता है , जो (स्जरा) नेल्रोय औय 12km से 55km एक
Atmakur (तारुक) से दयू ी ऩय है . जगह अच्छी तयह से है दयाफाद,
चेन्नई औय फेंगररु
ु जैसे प्रभख
ु शहयों से सड़क भागग से जड़
ु ा है .
इततहास:

Rahmatabad एक प्रससद्ध जगह है जो हजयत सैमद खाजा Nayeb
- ए - यसर
ू यहभतल्
ु रा की दयगाह (दयगाह) है वह 1110 आह से
1195 एएच भें यहते थे. [1694 ई. से 1781 ई.] औय जफ याजा

औयॊ गजेफ आरभगीय ससपग एक अॊत यखा था 1686 ई. भें आददर
Bejapur शाही याजवॊश, आठ सार ऩहरे कक खाजा Nayeb - ए यसर
ू के जन्भ.
जीवनी:

हजयत सैमद खाजा (आयए) यहभतुल्रा, नामफ-E-यसूर,

बी दहॊदओ
ु ॊ औय भस
ु रभानों के द्वाया सभान रूऩ से Babajan के रूऩ
भें फुरामा है .

ऩज
ू नीम सप
ू ी सॊत औय सवोच्च क्रभ के एक हुसैनी (ऩववत्र नफी की

उसकी फेटी हजयत पाततभा के भाध्मभ से वॊशज) सैमद, स्जसका ऩूया

जीवन Shar-E-Nabavi (दे खा), हय स्जसका साॊस Zikirullah की माद
ताजा (के स्भयण का एक प्रततबफॊफ था अल्राह), तनम्नसरखखत चाय
(ससरससरा) ऩयॊ ऩयाओॊ, ़ादयी, चचश्ती Naqshbandi से ककए गए एक
Murshid (आध्मास्मभक गुरु) से (जफ सशष्म एक प्रततऻा (Bay'ah

3

फनाता है ) Bay'ah सशष्म एक Murid के रूऩ भें शरू
ु हो जाता है ) औय,
Rifaai.
अऩनी फाईं कयने के सरए सभाचध भें (कब्र) उनकी ऩमनी हजयत
सईदा हफीफा खातन
ू (आयए) के भजाय - ई Aqdas प्माय Ammajan
के रूऩ भें दशगकों के द्वाया बेजा है .
भूर तनवासी जगह.

सैमद खाजा यहभतल्
ु रा के फाये भें एक सॊक्षऺप्त वववयण ऩेज (रेखक

- अब्दर
ु जब्फाय खान Malkapuri) 363 Tazkira-E औसरमा ई डेक्कन Mualiif भें बी ऩामा जा जहाॊ भें मह उल्रेख ककमा है कक

Tauran से अऩने आगभन ऩय सैमद खाजा है यहभतुल्रा के वऩता रुके
थे, आससप जह (अव्वर) के साथ एक सॊक्षऺप्त सभम के सरए औय

उसके फाद वह फेरगाभ (कनागटक) भें जासभमा भस्स्जद भें Qateeb के
रूऩ भें तनमक्
ु त ककमा गमा था. हजयत सैमद खाजा आरभ की

फेरगाभ भें शादी कय री जो बी सैमद खाजा यहभतुल्रा का जन्भ

स्थान था. शेख की सभास्प्त की तायीख (खाजा यहभतुल्रा) 26 दहजयी
कैरें डय के यब्फी उर अव्वर 1195 के रूऩ भें ददमा गमा है . उनकी उम्र

85 दहजयी सार के रूऩ भें ददमा गमा है औय इस प्रकाय उनके जन्भ का
वषग 1110 दहजयी वाऩस चगना जा सकता है .
उऩयोक्त वववयण भोहम्भद अरी खान Mujdaddi द्वाया कुछ

ऩस्
ु तक 'Faizan औसरमा' भें एक अरग तयीका है कक उनके वऩता

4

हजयत ख्वाजा आरभ ऩूजनीम सूपी सॊत भें उऩरब्ध हैं औय वह हुसैनी
सैमद (ऩववत्र नफी की उसकी फेटी हजयत पाततभा के भाध्मभ से वॊश)
के अॊतगगत आता गमा था सवोच्च क्रभ के ऩरयवाय औय Tauran की
दे शी अॊतगगत आता है . उनके भाता - वऩता बायत भें आ यहे थे. उनके
वऩता स्जरा Bejapur भें फेरगाभ गाॊव भें आससप जह अव्वर के साथ
रॊफे सभम के सरए यहता था. वह अच्छे चरयत्र के एक ऩववत्र भदहरा के
साथ शादी की थी औय जो अच्छी तयह से अऩने दै तनक प्राथगना औय
शरयमत के उसे Bejapur भें अभ्मास (इस्रासभक कानून) के सरए
जाना जाता था.

ऩाठकों कृऩमा सूचचत कय यहे हैं कक इस प्रकयण के सबी वववयण

ऩस्
ु तक 'Faizan औसरमा भोहम्भद अरी खान Mujdaddi द्वाया' से
उदग ू से अॊग्रेजी भें अनुवाद कय यहे हैं.
घटनाक्रभ.

वह वषग 1110 AH Bejapur भें ऩैदा हुआ था औय उसके वऩता उसे

सैमद यहभतुल्रा के रूऩ भें नासभत ककमा गमा था औय वह फाद भें

प्रससद्ध हो गमा था औय अच्छी तयह से नामफ - ए - यसर
ू (अल्राह के
आखखयी ऩैगॊफय के उऩ) के रूऩ भें जाना जाता है . अऩने फचऩन की
अवचध भें उसकी भाॉ इस दतु नमा को छोड़ ददमा गमा था.
प्रवासन.

जफ वह उसकी छोटी उम्र भें था तो वह अऩने जीवन भें कुछ प्रभख

सभस्माओॊ औय कदठनाइमों का साभना कयना ऩड़ा था औय जो

5

तनम्नसरखखत ऩैया भें उल्रेख कय यहे हैं.
हजयत खाजा यहभतल्
ु रा स्जसके फाद उसके वऩता हजयत ख्वाजा

आरभ के सरए दस
ू यी फाय शादी की थी एक फहुत ही कभ उम्र भें अऩनी
भाॉ को खो ददमा. अऩने वऩता के रूऩ भें एक औय भदहरा से शादी की

थी औय उसकी सौतेरी भाॉ के व्मवहाय को अच्छी तयह से उसके साथ
नहीॊ इस कायण सैमद ख्वाजा यहभतल्
ु रा अऩने वऩता से अनुभतत रे

सरमा औय वह अऩने ऩैतक
ू कयने के सरए
ृ स्थान Bejapur से कुयनर
स्थानाॊतरयत ककमा गमा था औय वह नीचे फसे था के घय भें वहाॉ के

सरए ककमा गमा था ताकक उसकी भौसी औय मह उल्रेख ककमा है कक
उऩयोक्त कायणों के सरए वह Bejapur से वहाॉ आमा औय वह भौसी के
साथ कुयनर
ू ऩय योक रगा दी थी. उसकी भौसी अऩने piousness

औय अच्छे चरयत्र के सरए अच्छी तयह से जाना जाता है औय प्रससद्ध है .
वह अऩने शैक्षऺक ववकास औय प्रसशऺण के सरए कड़ी भेहनत कयने की
कोसशश की है तो वह अऩनी औऩचारयक सशऺा औय कुयनूर भें

प्रसशऺण की व्मवस्था की गई है . सभम की छोटी अवचध के दौयान वह
कई knowledges भें आदशग फन गमा. उसकी कहावत औय सबी
कामों सही हो गमा औय अऩने जीवन Shar-E-Nabavi का एक
प्रततबफॊफ फन गमा था औय मह भतरफ है कक अऩने जीवन के प्रतत औय
अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय के अभ्मास सशऺण के रूऩ भें फन गमा था.
उनकी सशऺा औय प्रसशऺण तक वह उसकी चाची की दे खबार के तहत
ककमा गमा था तो वह अऩने कोसशश शरू
ु कयने के सरए अऩनी

6

आजीववका औय इस कायण वह कुयनूर के शासक के साथ वहाॉ सेवा के
सरए सॊऩकग ककमा गमा था औय अऩने शाही स्स्थय भें योजगाय के सरए
कानूनी इतना कभाई. कुछ सभम के फाद वह कुयनूर के नवाफ के
तहत दो शाही घोड़ों के सॊयऺक के रूऩ भें तनमक्
ु त ककमा गमा था.
अल्राह के प्माय.

वह सेवा भें सभम की छोटी अवचध के सरए कुयनूर के शासक के

साथ रगी हुई थी औय कुछ सभम के फाद अचानक वहाॊ गमा था जन
ु न

अल्राह के प्माय के सरए उनके भन भें शरू
ु कय ददमा. इस कायण के
सरए तो वह कुयनर
ू भें अऩनी सेवा के छोड़ ददमा गमा था औय वह

फीजाऩुय ऩहुॉच गमा था औय हजयत सैमद अरावी Bejapuri वहाॉ से

सॊऩकग ककमा औय उनके सशष्म फन गमा है औय उसे कयने के सरए एक
प्रततऻा (Bay'ah) फनामा है औय उसे अऩने (आध्मास्मभक गुरु)

Murshid के रूऩ भें स्वीकाय कय सरमा औय सशष्म के रूऩ भें वह एक
Murid (deciple) के रूऩ भें शरू
ु हो जाता है औय हजयत सैमद अरावी
Bejapuri से खखरापत सभरा. एक रॊफी अवचध के सरए वह दै तनक

गामन औय अभ्मास भें व्मस्त था, रेककन वह इस भाभरे भें सॊतष्ु ट

नहीॊ ककमा गमा था औय वह हभेशा के सरए चचॊततत हो जाता था तो उस
भें रग यहा था कक वह फात नहीॊ सभर सकता है स्जसके सरए वह
अऩनी सेवा के छोड़ ददमा गमा था कुयनूर भें .

अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय के Dedar (दृस्ष्ट).
(नीभ khabi) वह अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय के अनुग्रह (जभार

7

Jehan आया) आशीवागद ददमा था उसके आधे तॊद्रा की हारत भें एक
यात. अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय उसके साथ फहुत तयह का था औय वह
उससे ऩूछा था Makkh भें अल्राह के घय की मात्रा औय वहाॉ उसके

साथ बी एक ऩववत्र व्मस्क्त था स्जसका चेहया (प्रकाश) अनवय औय
Tajiilat (ददव्म योशनी) औय उसका नाभ था सैमद अशयप भक्की औय
जो बी नफी की तयप कयने के सरए औय उसके द्वाया दे खा गमा था
नफी स्जसे उसे फतामा गमा है औय उसे फतामा कक उसकी Amant
(सौंऩा फात) उसके साथ है औय इसे सुयक्षऺत रूऩ से उऩरब्ध है तो वह
भक्का के सरए आगे फढ़ना चादहए जल्दी औय वहाॉ से ही सभरता है .

नफी बी सैमद अशयप भक्की ने सचू चत ककमा है कक सैमद यहभतुल्रा
बायत से भक्का के सरए आ यहा है तो वह उसे अऩने अभानत (सौंऩा
फात) दे ना चादहए जो उसके साथ उऩरब्ध है .
भक्का की मात्रा.
सऩना से जागने ऩय वह ऊऩय भहान दमा के सरए अल्राह को
धन्मवाद ददमा गमा है औय कुछ भहमवऩूणग साभान इकट्ठा औय भक्का

की अऩनी मात्रा के सरए शरू
ु ककमा गमा था. यास्ते भें वह Meliwar ऩय
ऩहुॉच गमा था औय वह एक भहान ऩववत्र औय अच्छी तयह से जाना
जाता है औय प्रससद्ध व्मस्क्तमव सैमद अहभद rifai जहाॊ से भर
ु ाकात
की है औय वह उसके भागगदशगन के सरए अनुयोध ककमा है . तो उसने

उससे कहा कक उसके शेमय भक्का भें सैमद अशयप के साथ उऩरब्ध
है , रेककन उसके साथ जो कुछ बी उऩरब्ध भक्का के सरए अऩनी

8

मात्रा के प्रस्थान के सभम ऩय उसे ददमा जाएगा.
भक्का भें आगभन.
वह कुछ ददनों के सरए हजयत सैमद अहभद rifai साथ यह गमा था

औय की batini (अनग्र
ु ह) nemat (अॊतयतभ) उसके ऩास से ऻान औय

Milwar से वह जहाज ऩय सवाय ककमा गमा था औय कुछ ददनों के फाद

जेद्दा भें ऩहुॉच प्राप्त है . जेद्दा से दो ददन की मात्रा के फाद वह भक्का के
सरए ऩहुॉच गमा था. हज औय उम्र प्रदशगन ऩय वह हजयत सैमद अशयप
भक्की के सरए तराश शरू
ु कय ददमा है औय वह अल्राह Jable अफू

Khais के ऩहाड़ है जो ऩववत्र से तनकट है इसके ववऩयीत ऩऺ ऩय भक्का
के अन्त: ऩुय ऩय आखखयी ऩैगॊफय के अनुदेश के अनुसाय भुराकात की
थी. वह उसे ध्मान की हारत भें ऩामा गमा तो वह वहाॉ फैठा था

सम्भान. जफ ध्मान की उसकी हारत खमभ हो गमा था कक वह (सैमद
यहभतुल्रा) उसे फतामा "Assalam Alaikum हाॊ Sayyadi". तो वह
उसके सराभ तो कहा उसने उससे कहा कक "सैमद Rahmat ullah

आऩ महाॉ आए. औय भैं तुम्हाये सरए इॊतजाय कय यहा था महाॉ अल्राह
के आखखयी ऩैगॊफय के तनदे शों के अनस
ु ाय."
ऩुण्म ऩोशाक औय खखरापत की.

सैमद अशयप भक्की अल्राह के धन्मवाद के सरए दो (प्राथगना भें

खड़ा है , औय घुटने के फर फैठने की क्रीमा साष्टाॊग प्रणाभ की एक सेट)
rakats प्राथगना प्राथगना की है औय उसे तनम्न फातें सभझामा.
1.Marifat (अल्राह का ऻान)

9

2.Haqaiq (वास्तववकता)
वह उसे Quaderia श्ॊख
ु म ऩोशाक ददमा
ृ रा औय खखरापत की ऩण्

गमा था औय उससे कहा कक के रूऩ भें इस प्रकाय है .

"सैमद Rehmatullah, इन तनमभ है जो अल्राह के आखखयी
ऩैगॊफय के अनुदेश के अनुसाय औय कपय अगय आऩ कुछ औय अचधक
ऻान औय अल्राह के (वास्तववकता) haqaiq औय marafat (ऻान)

की कुछ अचधक अन्म वववयण की जरूयत के रूऩ भें आऩ के सरए ददमा
गमा सॊक्षऺप्तीकयण (ajmali) आऩ बायत भें सैमद अब्दर
ु Quader
Bejapuri मात्रा चादहए जो भेये खरीपा है औय जो प्रससद्ध है औय

अच्छी तयह से सादहफ (ऩववत्र व्मस्क्त) ददर औय सही ऩववत्र सॊत के
रूऩ भें जानते हैं ". वह उसे सचू चत ककमा है कक वह भशहूय हो जाएगा

औय नामफ - ए - यसूर (अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय के उऩ) के रूऩ भें
अच्छी तयह से बायत भें जाना जाता है . "
भक्का से प्रस्थान.
ऩय सैमद अशयप भक्की से तनम्नसरखखत फातें प्राप्त वह भदीना
शहय औय चरा गमा
की 1.Saintly ऩोशाक Quaderia श्ॊख
ृ रा.
Quaderia श्ॊख
ृ रा की 2.Caliphate
अध्मामभवाद का 3.Crown

वह अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय के भकफये का दौया ककमा है औय वह
वहाॉ सभम की कुछ अवचध के सरए रुके थे औय अल्राह के आखखयी

10

ऩैगॊफय के अनुदेश के अनुसाय के रूऩ भें ककमा गमा था औय कपय वह
भदीना छोड़ ददमा है औय वाऩस ऩहुॉच के सरए बायत भें फॊदयगाह .
सूयत भें यहो.

वह सयू त भें एक प्रससद्ध औय अच्छी तयह से ऻात Naqasbandia

श्ॊख
ृ रा के ऩववत्र व्मस्क्तमव शाह अरी यजा गुजयाती के रूऩ भें जाना
जाता है के तनवास ऩय रुके थे औय उसके ऩास से है वह

Naqasbandia श्ॊख
ु याती खखरापत प्राप्त
ृ रा औय शाह अरी यजा गज
बी प्राप्त ककमा गमा था औय उसके ऩास से अनभ
ु तत के प्रभाण ऩत्र

Quaderia श्ॊख
ृ रा. वह सयू त भें कुछ ददनों के सरए यह गमा है औय
कपय वह अऩने दक्षऺण बायत (डेक्कन) की मात्रा के सरए छोड़ ददमा
गमा था.

कुयनूर भें आगभन.

वह सूयत से कुयनूर भें आ गमा है औय वह कुछ सभम के सरए योक

रगा दी थी. उनके सशऺण औय कुछ व्मस्क्तमों को उऩदे श कायण सही
हो गमा औय अच्छी तयह से जाना जाता है औय ऩववत्र व्मस्क्तमों के

रूऩ भें प्रससद्ध हो गमा. कुयनर
ू के फाहय जो भशहूय औय अच्छी तयह से
जाना जाता है औय वहाॉ एक (धभग भें प्रवगतक) badati पकीय वहाॉ गमा
था औय जो bidats के कई कामग कयता है (धभग भें प्रवगतक) भें शासभर
ककमा गमा था औय इस कायण के सरए वह कयने के सरए इस्तेभार
ककमा गमा था ऩववत्र जगह है उसे इस भाभरे भें तनदे श के सरए ऐसी
फातों से फचने के सरए, रेककन वह इस भाभरे भें कोई ध्मान नहीॊ ददमा

11

तो वह उसे डाॊटा गमा है औय वह बी उसे इस कायण के सरए दॊ डडत
ककमा गमा था. कुछ ददनों के अऩने प्रवास के फाद वह वहाॊ कुयनर
ू छोड़
ददमा है .

Kadpa भें आगभन.
कुयनूर से अऩनी मात्रा के फाद वह Kadpa आ गमा था औय

भस्स्जद भें रुके थे. वह एक ददन सॊगीत वाद्ममॊत्र (फाजा) के साथ एक
फायात कक भस्स्जद से ऩारयत ककमा गमा था औय मह बी भस्स्जद ऺेत्र
भें प्रवेश ककमा था तो इस कायण वह फहुत ऩये शान है औय इस ऩूजा
जगह के अनादय के कायण भाभरे भें गस्
ु सा था औय इस कायण के

सरए शादी की ऩाटी व्मस्क्तमों ऩय ऩमथय पेंक ददमा औय इससरए वह
भस्स्जद की इभायत से उन सबी को हटा ददमा गमा है .
ऩहरी शादी.

कुयनूर भें हज सैमद खाजा यहभतुल्रा से रौटने के फाद एक

सॊक्षऺप्त सभम के सरए रुके थे औय फाद भें नाॊदमार चरा गमा, जहाॊ
वह शादी कय री. उन्होंने रेककन दब
ु ागग्म से एक के फाद एक रड़की

फच्चे के साथ आशीवागद ददमा था, जफकक वह दोनों अऩनी ऩमनी औय
ववसबन्न कायणों की वजह से फेटी को खो ददमा.
Anumasamudram भें आगभन.
कडप्ऩा से वह Anumasamudram ऺेत्र भें आ गमा है औय जगह
औय उसके प्राकृततक स्थान औय उसके सख
ु द वातावयण के रूऩ भें के
रूऩ भें अच्छी तयह से अऩने अच्छे भौसभ की स्स्थतत ऩसॊद है तो वह

12

सभम की कुछ अवचध के सरए ऩहाड़ ऩय योक रगा दी थी औय है जो

स्थानीम फड़ा गाॉव फर
ु ामा Anumasamudram के ऩास स्स्थत है इन

ददनों की स्थाऩना की है , औय अऩने खुद के नाभ के फाद
Rahmatabad.
उस ऺेत्र भें अऩने आगभन उसे मात्रा कयने के सरए इस्तेभार ककमा
रोगों की फड़ी सॊख्मा की वजह से औय अऩने ऩऺ औय ध्मान के द्वाया
राबास्न्वत ककमा गमा. उसकी प्रससवद्ध औय उनके भहान नाभ सैमद
अब्दर
ु Quader Udgir ककरा की चौकी कभाॊडय जो उसे दौया ककमा
औय वह अऩने सशष्म फन गमा औय उसे अऩने Murshid

(आध्मास्मभक गरु
ु ) के रूऩ भें एक प्रततऻा (Bay'ah) फनामा है औय वह
उसे मात्रा कयने के सरए अनुयोध ककमा गमा था कायण Udgir के ककरे
औय वह उसे दे ने की ऩेशकश की है dddmmmmmmdddd darga

ddd के खचग के सरए तीन गाॊवों रेककन शेख ने उसके प्रस्ताव को
स्वीकाय नहीॊ ककमा है .
RAHMATABAD.
वह Anumasamandarm के ऩहाड़ के आसऩास के ऺेत्र भें जभीन
खयीदी है औय मह Rehmatabad के रूऩ भें नाभ औय वह खयीदा है
कक दे श भें यखी गई थी भस्स्जद की नीॊव है औय मह वषग 1748 भें
भदीना भस्स्जद के रूऩ भें नाभ है . पूस की छत के साथ एक भस्स्जद
1 ऩय खड़ा ककमा गमा था जो 1762 ई. भें वतगभान सॊयचना द्वाया
फदर ददमा गमा था. मह उसके द्वाया भदीना भस्स्जद के रूऩ भें

13

नासभत ककमा गमा था.
भस्स्जद, जो ऩढ़ता है "मह ऩमथय भदीना शहय से रामा गमा है ,"
रेककन मह तनस्श्चत नहीॊ है कक सैमद खाजा यहभतुल्रा ऩमथय खुद को

रामा था मा था कक मह ककसी औय के भाध्मभ से सभरा नहीॊ है के भाथे
ऩय एक सशरारेख है .
उन्होंने मह बी अऩने स्वमॊ के खचे से एक स्कूर औय darga
के तनभागण का तनभागण ककमा गमा है . वह तनमसभत आधाय ऩय ऊऩय
भस्स्जद भें ऩाॉच काॊग्रेस ऩूजा कयने के सरए इस्तेभार ककमा गमा था.
वे कोई भद्द
ु ों था, धीये - धीये हजयत खाजा एक फड़ा सॊऩस्मत क्रम
ववकससत dully उनकी भमृ मु ऩय 1781 ई. भें के फाये भें दस

villages.He [] फच गमा था उसकी ऩमनी जो अऩने भकफये का
तनभागण. उसके बाई के फेटे हजयत गुराभ Naqshbandi उसकी गद्दी
(सॊयऺक) nasheen औय उमतयाचधकायी फनामा गमा था.
ववशेषता.
वह taqwa (धभगऩयामणता) का सही व्मस्क्त था औय वह ककसी बी
मा badati (धभग भें invovator) से प्रस्ताव वतगभान कबी नहीॊ स्वीकाय
ककए जाते व्मस्क्त मा व्मस्क्त जो प्राथगना तनमसभत रूऩ से प्रस्ताव नहीॊ
ककमा.

वह एकदभ सही है औय तनम्नसरखखत फातों के सरए अच्छी तयह से

14

जाना जाता था.
1. अल्राह के आखखयी नफी की सन्
ु नत (अभ्मास) के सरए उनका
प्माय.

2. सख्ती से शयीमत कानन
ू (इस्राभी) के फाद के सरए.

3. हदीस के अऩने तनमसभत रूऩ से अल्राह के आखखयी ऩैगॊफय (फातें )
सशऺण के सरए.
4. (ऩववत्र कुयान की व्माख्मा) Tafsir औय Fiqa के अऩने तनमसभत
रूऩ से सशऺण के सरए darga
(इस्राभी न्मामशास्त्र).
5. अऩने khilwat भें उनके सशष्मों के तनमसभत रूऩ से सशऺण (एकाॊत
भें फैठे)
फातें फाद.
ए Tariqat (जीवन के यहस्मवादी तयीका).
Tassawuf (सूपीवाद) फी याभोस (यहस्म)
उसके तनशान.
अऩने नाभ औय प्रससवद्ध एक फाय नवाफ नसीय Doulah एक भौरवी
सादहफ (भस्ु स्रभ ऩज
ु ायी) के साथ - साथ उनके darga
का दौया ककमा है औय उसे अनयु ोध कयने के सरए जो के रूऩ भें है

Masnavi शयीप (पायसी बाषा भें आध्मास्मभक भौराना जरार

15

uddin रूभी की शामयी) से तनम्नसरखखत दोहा सभझाने ऩय फहुत

कदठन है औय के सरए उसे मह सभझने के सरए कदठन है . इससरए वह
इस भाभरे भें अऩने वववयण को कहा गमा था. तनम्न चचत्र भें फायसी
दोहा उऩरब्ध है.
Jumla Mashooq Ast वा आसशक ऩदाग
स्जदा Mashooq Ast वा आसशक Murda
ऊऩय पायसी आध्मास्मभक दोहा अॊग्रेजी अनव
ु ाद औय उसके वववयण
तनम्नानुसाय है .
अनुवाद.
वप्रम सबी प्रेभी ही ऩदाग उसे भें सफ है,
प्मायी है कक सबी जीवन है , एक भत
ृ फात प्रेभी
वववयण.

सबी अबूतऩूवग अस्स्तममव (आदभी) शासभर हैं, रेककन "घूॊघट" दे वी
noumenon, केवर वास्तववक अस्स्तमव है , औय ऩर के चेहये

obscuring उनकी उऩस्स्थतत फनाए यखने वे एक फाय ऩरटा उनके
भूर शन्
ू म भें वाऩस रे सरमा है .

शेख ने उसे सभझामा गमा है औय फेहतयीन तयीके से औय भौरवी

सादहफ भें ऊऩय आध्मास्मभक दोहा का अथग वववयण बी अऩने जावक
अथग (zaheri) ककमा गमा है तो इस कायण के सरए कुछ सॊमक्
ु त याष्र

16

फुवद्धभान व्मस्क्तमों सोचा है कक भौरवी सादहफ की व्माख्मा की तर
ु ना
भें फेहतय है सभझामा शेख वववयण औय इस कायण Maulvai सादहफ
(भुस्स्रभ ऩुजायी) के कायण इस भाभरे भें सॊतुष्ट नहीॊ था औय वह

शेख की व्माख्मा को स्वीकाय नहीॊ ककमा है . इसके अरावा नवाफ नसीय
Doulah भौरवी सादहफ (भुस्स्रभ ऩुजायी) इस भाभरे भें सभथगन

ककमा था. तो इस कायण के सरए शेख फहुत ऩये शान औय गुस्से भें था
औय भौरवी सादहफ ने फतामा कक उनकी व्माख्मा सही है , इस कायण
वह उससे ऩूछा कक इस भाभरे भें फातें से हॉर (ecstacy) दृस्ष्टकोण

के सरए अच्छी तयह से है औय इससरए. तो वह ध्मान शरू
ु ककमा गमा

था औय इस कायण के सरए फैठक जगह ऩय ecstacy की शतग थी औय
सबी व्मस्क्तमों को फेहोश हो गए औय शेख khilwat (एकाॊत भें फैठे) भें
प्रवेश ककमा था. फैठक की जगह के नवाफ नसीय Doulah अऩने घोड़े

ऩय चचॊततत हारत भें वहाॉ से बाग गए की हारत दे ख ऩय. तीन ददनों के
सरए फैठक जगह की हारत की वजह से आॉखों के यो प्रबाववत था औय
व्मस्क्तमों के ददरों के broiled. तो मह उसकी शेख की भहान
चभमकाय है तो सबी व्मस्क्तमों को जो उऩस्स्थत थे वहाॉ इस भहान
दमा औय अल्राह की कृऩा के कायण कामग दे खा औय मह एक भहान

चभमकाय औय भहान कामग के रूऩ भें डेक्कन के इततहास की ऩस्
ु तकों

भें दजग की गई थी औय बी ऐसी घटना है डेक्कन ऺेत्र के ऩववत्र सॊतों की
जीवनी की ऩस्
ु तकों भें उऩरब्ध नहीॊ है .
चभमकाय

17

भौरवी शाह यपी uddin Qandhari कह यही है कक एक वषग बायी
फारयश के ऩानी के कायण Anasamandarm के टैंक की भें ड टूट गमा

था औय इस कायण के सरए गाॊव के रोग चचॊततत हैं औय इस भाभरे भें
डय यहे थे औय गाॊव छोड़ने रगे औय बी प्रतत के रूऩ भें वहाॉ कई
सभस्माओॊ थे फयसात के भौसभ भें . इस कायण के सरए तो वह टैंक के
ऩऺ भें चरा गमा औय सबी गाॊव रोगों को कहा जाता है औय इतना
सफ वहाॉ उसके ऩास इकट्ठे हुए थे. उन्होंने कहा कक ऩानी तो दमा औय
अल्राह ऩानी की कृऩा के कायण अचानक औय बी फॊद कय ददमा गमा
था नदी का ऩानी बी फॊद कय ददमा गमा था औय इस भहान चभमकाय

ऩय सबी गाॊव व्मस्क्त सभट्टी औय ऩमथयों के साथ भें ड तनभागण ककमा है
तनवगहन ऺेत्र ऩय एक ऩमथय डार ददमा.
भौत.

हाराॊकक वह सही शेख था, रेककन वह अऩने दै तनक गामन औय
अभ्मास कबी नहीॊ छोड़ा. वह हभेशा अल्राह के zikar (स्भयण) भें
व्मस्त कयने के सरए इस्तेभार ककमा गमा था. जफ वह 85 सार
ऩयु ाना हो गमा था तो वह है जो Udgir ककरा की चौकी कभाॊडय था

औय वह कुछ ददनों के सरए योक रगा दी थी औय जहाॊ वह अस्वस्थ

फन गमा वहाॉ फख
ु ाय के कायण अब्दर
ु Quader के अनयु ोध ऩय Udgir
दौया ककमा था. उनकी फीभायी के दौयान बी वह कबी बी नहीॊ चूक
अल्राह के स्जक्र (स्भयण) औय काॊग्रेस के प्राथगना.

18

के रूऩ भें इस दतु नमा से अऩने प्रस्थान का सभम तनकट आमा तो

वह सशऺण औय सराह शरू
ु ककमा गमा था औय उनके उमतयाचधकायी
के रूऩ भें ककसी बी व्मस्क्त को नासभत नहीॊ. इस कायण के सरए तो
उसकी ऩमनी ने उसे इस भाभरे भें अनयु ोध ककमा है ताकक वह उसे
फतामा है कक वहाॉ अऩने ऽरीफा के कई हैं औय उसकी हय murid

(disicple) अऩने खरीपा है औय जहाॊ उसके खरीपा होगा अल्राह के
उऩरब्ध दमा होगा. हभ reda औय अल्राह की तस्रीभ (इच्छा औय
स्वीकृतत के सरए सभऩगण) के तहत कय यहे हैं. वह अवचध के सरए

फीभाय एक भहीने ककमा गमा था औय उसके फाद उसकी वऩछरी फाय
आमा था औय वह इस दतु नमा को छोड़ ददमा गमा था ऩय 26 Rabbil
Udgir के ककरे भें Thurday अव्वर 1195 एएच ऩय.

शक्र
ु वाय यात अॊततभ सॊस्काय औय सभायोहों भें ऩूया ककमा गमा औय

उसकी राश 27 Rabil Awawl 1195 भुख्मारम ऩय यवववाय यात को
Rahmatabad कयने के सरए सरमा गमा था वह Rehamatabad भें
दपनामा गमा था. उसकी सभाचध ऩय वहाॉ हभेशा अल्राह की यहभत
(अनग्र
ु ह) के dismounting (nazol).

ऩुस्तक 'Faizan औसरमा हजयत सैमद अशयप भक्की से सॊदबग के

रूऩ भें भक्का भें वषग 1149 भख्
ु मारम भें भय गमा उसका ऽरीफा के
वॊशावरी रयकॉडग के रूऩ भें तनम्नानस
ु ाय है .
1. सैमद अशयप भक्की

2. शाह भोहम्भद तादहय

19

3. शाह भोहम्भद.
4. Sharaf uddin Maqbali.
5. शेख एडभ Bannuri.
6. शेख Mujadid Alif थानी
उसग (ऩुण्मततचथ).
जातत औय धभग की ऩयवाह ककए बफना जीवन के ववसबन्न ऺेत्रों से रोग,
उसग (ऩण्
ु मततचथ) जो 24 भस्ु स्रभ कैरें डय के Rabil अव्वर के ददवस
29 ऩय सैमद खाजा यहभतुल्रा की प्रससद्ध दयगाह भें जगह रेता

भनाने इकट्ठा नामफ हय सार Rahmatabad भें ई - यसूर. ऩास औय

दयू , धभग औय ववश्वासों के फावजद
ू से कई सौ हजाय श्द्धारु वहाॉ इकट्ठा
कयने के सरए आशीवागद रेने.

sandal भारी यब्फी उर अव्वर की इस्राभी भहीने के 25 ददन ऩय
celeberated है . घटना कभगकाॊडों की घटनाओॊ है कक भहीने दौयान
हजयत खाजा सैमद नामफ-E-यसर
ू Rahamatulla वावषगक sssddss

sandal ssऔय उसग celeberations के स्भयणोमसव भें प्रदशगन कय

यहे हैं की श्ॊख
ृ रा के फीच भें ऩहरी फाय ककमा जा यहा है . रोगों का एक

फहुत कुछ कयने के सरए इन घटनाओॊ भें शासभर Rahmatabad मात्रा
कयते हैं.
चभमकाय जीते.
शेख इस दतु नमा को छोड़ ददमा गमा था, रेककन 239 सार ऩहरे

20

239 सार के फाद जफ तक अऩने चभमकाय की तायीख औय के ऩऺ भें
जायी यखा औय dargah d ऺेत्र भें उऩरब्ध हैं.
मह ददन औय यात के dargah ऺेत्र भें अनुबव है कक इच्छा औय

आगॊतक
ु ों की इच्छाओॊ को ऩयू ा कय यहे हैं औय जरूयतभॊद व्मस्क्तमों के
सरए मह ऩतू तग इस dargah daसे उनकी इच्छाओॊ औय इच्छाओॊ के

सरए सही जगह है . शेख नाभ के सरए अऩनी इच्छाओॊ औय इच्छाओॊ
की ऩतू तग के सरए फड़ी सॊख्मा भें ऩास औय दयू स्थानों से आगॊतक
ु ों
dargah का दौया कयें गे.

उनके आध्मास्मभक अदारत सफसे ऩयोऩकायी औय प्रससद्ध है औय न
केवर बायत भें फस्ल्क दतु नमा बय भें तनम्नसरखखत योगों औय
सभस्माओॊ के सरए अच्छी तयह से जाना जाता है .
1.All योगों.
आमभाओॊ 2.Evil.
उऩयोक्त योगों के इराज औय dargah भें राब के कायण वहाॉ
जीवन के ववसबन्न ऺेत्रों, जातत औय धभग के बफना, से रोगों को इकट्ठा
कयने औय वसूरी के सरए प्राथगना कयता हूॉ तो उनके ऩऺ औय स्नेह

एक ही है औय सबी व्मस्क्तमों को जो कयने के सरए फयाफय है उसके
अदारत भें ऩेश कयें गे औय योगों की वसूरी के सरए प्राथगना कयता हूॉ.

हजयत सैमद Nayeb - ए - यसर
ू खाजा औय उसकी ऩमनी के रूऩ भें

21

वह हजयत शाह भोहम्भद rafiuddin qhandar की तयह अऩने प्रममऺ
चेरों द्वाया फर
ु ामा गमा था] एक भहान आध्मास्मभक

power.People मात्रा को उनके योगों औय आगॊतुकों के उऩचाय के

सरए Rahmatabad के अचधकायी बी कारा जाद ू के सशकाय का गठन
औय उन है जो फुयाई spirits.The ऩववत्र जोड़े के ऩास जो जगह एक

खुरी हवा अस्ऩतार औय धभग डारी, मा ऩॊथ के सरए ककसी बी फाय के

बफना जीवन के सबी ऺेत्रों के रोगों के सरए शयण की तयह फन गमा है
कायण भानव जातत के साथ एक भहान सहानुबूतत है .

Rahmatabad शयीप के सरए एक मात्रा रगबग योग [बी शल्मकक्रमा
सऩने भें ककमा जाता है ] के सरए एक तनस्श्चत इराज औय एक मकीन
है कक कारा जाद ू औय फयु ी आमभाओॊ से उद्धाय है . मह ववश्वास कयने के
सरए दे खा जा यहा है .
ववशेष चभमकाय.
अफ एक ददन वहाॉ कई नाये हैं याष्रीम एकता औय एकीकयण के
सरए कय यहे हैं. अगय ककसी को बी याष्रीम एकता औय एकीकयण
दे खना चाहता है तो वह Rehmatabad जाएॉ औय वहाॉ एक ही दे ख
सकते हैं कयना चादहए. जीवन के ववसबन्न ऺेत्रों, जातत औय धभग के
बफना, से कायण dargah dargah भें राब के सरए रोगों को वहाॉ
इकट्ठा औय उनकी इच्छाओॊ औय इच्छाओॊ की ऩतू तग के सरए प्राथगना

कयता हूॉ उसका एहसान औय स्नेह ही है औय सबी व्मस्क्तमों को जो

22

वहाॉ उऩस्स्थत कयने के सरए फयाफय है . उसके अदारत भें औय योगों
औय सभस्माओॊ के रूऩ भें के रूऩ भें अच्छी तयह से अन्म कदठनाइमों
औय जीवन की कदठनाइमों की वसूरी के सरए प्राथगना कयते हैं.
उनकी dargah Rahamatabad जो प्रससद्ध बी इच्छाओॊ औय
व्मस्क्तमों के सरए जो उसकी dargah d वहाॉ की मात्रा की इच्छाओॊ
की ऩूततग के सरए आज है भें है .
ववशेष चभमकाय.

ऺेत्र है जो Rahmatabad स्जसभें कोई सूअय औय कोई अन्म रोग

ऩूजा स्थानों के नाभ के साथ प्रससद्ध है वहाॉ नहीॊ ऩाए जाते हैं. सबी

जातत औय धभग की ऩयवाह ककए बफना जीवन के ववसबन्न ऺेत्रों से रोग
उसे भहान सॊत के रूऩ भें सभझते हैं औय ऩूये वषग के दौयान की ऩेशकश
उनके 24 घॊटे ऩेश कयें गे.
भहान चभमकाय.
मह तथ्म मह है कक चभमकाय अल्राह के ऩववत्र औय ऩववत्र हस्स्तमों
ने प्रदशगन कय यहे हैं. औय जो अल्राह औय उसके नफी के प्माय भें है
औय इस कायण उनके नाभ औय प्रससवद्ध के सरए अऩने जीवन को
सभाप्त कय ददमा है उन ऩववत्र औय ऩववत्र व्मस्क्तमों को न्माम के ददन
तक जायी यखा जाएगा. उनके भकफयों की सभट्टी के कणों से faizan

23

(ऩऺ) के वसॊत पैरा है औय हभेशा अनवय (प्रकाश) औय tajilat (ददव्म
प्रकाश) फारयश हो जाएगा. रेककन भेये भास्टय भहान चभमकाय की है
कक फड़ी सॊख्मा भें रोग हैं, जो जीवन के ववसबन्न ऺेत्रों सेd ddd d d
d d ddd. dargah d dd d dddddd

भें भौजद
ू है , जातत औय

धभग के बफना, वहाॉ इकट्ठा औय योगों की वसूरी के सरए औय अऩनी

इच्छा औय इच्छाओॊ की ऩूततग के सरए प्राथगना कयता हूॉ. उनकी ऩऺ औय
स्नेह ही है औय सबी व्मस्क्तमों को जो वहाॉ अऩनी अदारत भें ऩेश

औय योगों औय इच्छाओॊ की ऩूततग की वसूरी के सरए प्राथगना कयें गे के
फयाफय है .

239 वषों के फाद से रोगों को शेख के चभमकाय दे ख यहे हैं औय मह
ददन के तनणगम तक जायी ककमा जाएगा औय कक ddd के बक्तों की
सॊख्मा हजाय भें नहीॊ है रेककन मह जीवन के ववसबन्न ऺेत्रों से कई
राखों रोगों से अचधक है , जातत के फावजद
ू औय ऩॊथ, वहाॉ इकट्ठा औय
योगों की वसर
ू ी के सरए मा अऩनी इच्छा औय इच्छाओॊ की ऩतू तग के
सरए प्राथगना कयता हूॉ.

न केवर है दयाफाद से है , रेककन कई अन्म स्थानों से बी dargah

d की मात्रा के सरए औय उनकी मात्रा का बुगतान कयने dargah
के .

d सरए इस्तेभार ककमा व्मस्क्तमों औय ऩववत्र व्मस्क्तमव

सीखा है . भैं गरत नहीॊ कय यहा हूॉ अगय भैं उल्रेख है कक रोग हैं, जो
dargah d की मात्रा की एक फड़ी सॊख्मा भें भुसरभानों के अरावा

24

अन्म शासभर हैं चाहे जातत के औय ऩॊथ dargah d भारा भें d
वतगभान औय आदय औय सम्भान का बग
ु तान कये गा.

याष्रीम एकीकयण, साम्प्रदातमक सद्भाव औय साभास्जक न्माम का

एक प्रतीक है .
"औय वह (अल्राह) है जो आऩ एक ही होने से उमऩादन (अर कुयान
अर - अनाभ 99) हाथ.

जैसा कक ऩववत्र कुयान भें कहा जाता है कक सबी भनष्ु म से 1 आदभी

(,Adam aAlaih Assalam) के वसॊत हैं, वहाॉ रोगों के फीच कोई

बेदबाव नहीॊ होना चादहए के रूऩ भें सबी फयाफय हैं. सप
ू ी सॊत हजयत

सैमद Rahmatulla (आयए) के सरए जातत, धभग, बाषा, धभग औय ऺेत्र
की फाधाओॊ को दयू कयने का प्रमास ककमा औय स्थानीम ऩरयवेश के
orshipक्मा

सरए एक जसरा उऩरब्ध फनाने के सरए एक व्माऩक

अवसय प्रदान ककमा.
Naqshibandiya श्ॊख
ृ रा की खखरापत की वॊशावरी.
1. हजयत खाजा सैमद यहभतुल्रा Naibe यसूर.

2. हजयत सैमद शाह Alawi BbAASSBBBBBBBBBB Baroom
B
3. हजय Sayed सैमद Ahraf भक्की Ajlati.
4. हजयत सैमद अब्दल्
ु रा BB BBBBbbB Ba Haddad.
5. हजयत शेख शाह भोहम्भद.

25

6. हजयत शेख

Sayed

अब्दल्
ु रा

7. हजयत शेख Sharf uddin Muqbali (अब्दल्
ु रा Gohati)
8. हजयत शेख Sayed भोहम्भद
9. हजयत Adam Banauri.
10. हजयत शेख Alsayed.Shaikh
11. हजयत शेख अहभद Farou qi Mujajudid Alif थानी.
हजयत भाजी सादहफा.
उसका नाभ हफीफा खातून उपग भाजी सादहफा है औय वह अकेरे

कुयनर
ू के नवाफ की फेटी थी. वह इस्राभी तनमभों औय तनमभन भें
आदशग भदहरा थी औय वह उसकी प्राथगना तनमसभत रूऩ से प्रदशगन

ककमा है औय वह बी तनमसभत आधाय ऩय कुयान की ऩववत्र ऩुस्तक
ऩढ़ने के सरए इस्तेभार ककमा.

एक फाय वहाॉ सात सार की अवचध के सरए बूख औय बुखभयी कई

व्मस्क्तमों की भमृ मु हो गई औय जानवयों बी फदतय हारत भें थे के
कायण था. कुयनूर के नवाफ तो ऩये शान ककमा गमा था औय इस

भाभरे भें चचॊततत है . तो वह अऩने najoom (ज्मोततवषमों) के ववशेष
व्मस्क्तमों औय रोगों के साथ ववचाय - ववभशग शरू
ु ककमा गमा था औय
फारयश के फाये भें इस भाभरे भें उनकी याम रे सरमा है औय वह उन
रोगों के साथ ऩूछताछ ककमा गमा था जफ वहाॉ उऩरब्ध वषाग हो

जाएगा औय फारयश नहीॊ आते हैं, रेककन कोई बी कायण क्मा है इस

26

भाभरे भें उसके सवारों का उमतय दे ने भें सऺभ नहीॊ था. तो इस
कायण के सरए नवाफ सादहफ अऩनी अदारत भें कुछ अन्म ऩववत्र

व्मस्क्तमों का आह्वान ककमा है औय उन्हें स्स्थतत है कक हभायी प्राथगना
औय हभायी प्राथगना के फावजद
ू फारयश नहीॊ चगय गमा था सभझामा

अल्राह की अदारत भें स्वीकाय नहीॊ कय यहे हैं. वह इस भाभरे भें
अऩने सफसे अच्छा कयने की कोसशश की थी रेककन ऩरयणाभ इस
सॊफॊध भें कुछ बी नहीॊ है औय इस कायण बख
ु भयी के कायण के सरए

व्मस्क्तमों चचॊततत हैं औय फहुत फुयी तयह से ऩीडड़त है औय इस कायण
भस्ु श्कर स्स्थतत जो गाॊवों प्रचसरत है के कायण है . तो वह
सwwwwभझते हैं कक वह इस भाभरे भें

ककमा जाना चादहए कयने भें सऺभ नहीॊ था.

उनभें उन ऩववत्र व्मस्क्त एक Majzob (एक ऩयभामभा के ध्मान भें

खो) था जो नवाफ सादहफ फतामा गमा है कक उसे औय उसकी duwa
du अल्राह की अदारत भें स्वीकाय ककमा जाएगा के साथ एक
व्मस्क्तमव है तो वह उससे ऩछ
ू ा गमा था कयने के सरए उससे सॊऩकग

ककमा क्मोंकक अगय वह तो प्राथगना है तो इस सॊफॊध भें चचॊता कयने की
कोई फात नहीॊ है उसकी प्राथगना अल्राह द्वाया स्वीकाय ककमा जाएगा.
नवाफ सादहफ तो है उसे ऩछ
ू ा जो कक व्मस्क्त है औय उससे ऩछ
ू ा कक इस
भाभरे भें कुछ जानकायी के सरए सभझाने के सरए इतना है कक वह

27

उसे ऩहचान ककमा जा सकता है औय उसे दृस्ष्टकोण. Majzob सादहफ
तो उसे कहा था कक वह अऩने नाभ की ऩहचान नहीॊ, रेककन वह अऩने
तनशान सभझाने के सरए इतना है कक वह उसे ऩहचान औय अॊक इस
प्रकाय के रूऩ भें कय यहे हैं कयने भें सऺभ हो सकता है
1.In तूपान ने दीऩ प्रज्जवसरत ककमा औय उस ऩय तप
ू ान का कोई
असय नहीॊ हो जाएगा.

2.His घोड़ा घास औय ऩानी उसके द्वाया प्रदान खाने के सरए औय
दस
ू यों के द्वाया प्रदान की घास औय ऩानी खाने के सरए नहीॊ होगा.

इस जानकायी ऩय एक यात नवाफ सादहफ यात के अॊधेये भें चरे गए

अऩने सैतनकों के डेयों की जाॊच औय जफ वह सैमद खाजा यहभतुल्रा

साहे फ के तम्फू ऩय ऩहुॉच गमा था औय उस सभम शेख उसकी worship
ww w भें व्मस्त था औय वह इस कायण के सरए खड़ा था चुऩचाऩ

वहाॉ. जफ शेख उसकी worship सभाप्त हो गमा है तो नवाफ सादहफ
औय इस भाभरे भें अऩने ऩऺ की भदद के सरए अऩने सभम के भहान
शेख के ऩैय ऩय चगय गमा था.
शेख नवाफ सादहफ भान्मता दी गई है औय उसे अऩने ऩैय से उठा
औय उससे ऩूछा कक उसके ऩैय नहीॊ छूने. नवाफ सादहफ ने उसे सूचचत

ककमा है कक सात सार के फाद से वहाॉ फारयश नहीॊ चगय यहा है औय इस
कायण के सरए व्मस्क्तमों की फड़ी सॊख्मा भें बूख औय ऩानी की कभी
के कायण भय गए थे. तो अगय वहाॉ उसकी दमा औय इस भाभरे भें

उसकी प्राथगना तो मकीन है कक वषाग हो जाएगा के रूऩ भें आऩ अल्राह

28

औय उनके आखखयी ऩैगॊफय के प्रेभी हैं.
औय ऊऩय कायण वह उसे rain.I के सरए प्राथगना के सरए अनुयोध ककमा
है के सरए इतना हुआ है कक मह बायी फारयश जफकक नवाफ सादहफ

अऩनी तयह से वाऩस घय ऩय अबी बी ह Nayeb - ए - यसूर खाजा के
साथ अऩनी फैठक के फाद ककमा गमा था.

नवाफ शेख साहफ के अनुयोध ऩय वषाग के सरए प्राथगना की है औय

अल्राह उसकी प्राथगना स्वीकाय कय सरमा है औय इस कायण के सरए
वहाॉ भहान फारयश चगय गमा था कक सबी नददमों, ताराफों, कुओॊ औय
ताराफों ने शेख की भहान चभमकाय के कायण ऩानी से बये थे अऩने

सभम के. उऩयोक्त खफय कुयनूर ऺेत्र की ऺेत्र बय भें पैरे हुए हैं औय
मह बी नवाफ सादहफ के भहर तक ऩहुॉच गमा था. नवाफ सादहफ ki

फेटी बी जानकायी ऩता कयने के सरए आते हैं औय इससरए वह अऩने
सभम के भहान ऩववत्र व्मस्क्त के व्मस्क्तमव से फहुत प्रबाववत था औय
वह ऐसी ऩववत्र व्मस्क्तमव के साथ उसकी शादी के फाये भें सोचना शरू

कय ददमा गमा था ताकक वह बी बाग्मशारी एक हो जाएगा औय उसकी
स्स्थतत इस भाभरे भें बी सध
ु ाय होगा. इस कायण के सरए तो वह इस

भाभरे भें है कक उसकी शादी है कक अऩने सभम के ऩववत्र व्मस्क्तमव के
साथ व्मवस्था की जानी चादहए अल्राह प्राथगना ककमा कयते थे.
यात ऩय नवाफ सादहफ की फेटी उसके सऩने भें दे खा कक उसके प्रतत
चाॉद तक ऩहुॊच यहा है औय वह उसका सऩना का वववयण उसकी भाॉ को

29

फतामा गमा है औय उसकी भाॉ नवाफ सादहफ उसकी फेटी सऩना के
वववयण भें फतामा गमा है तो नवाफ सादहफ najumies फर
ु ामा है ( इस

भाभरे भें ) ज्मोततवषमों औय वे उसे सूचचत ककमा है कक रड़की की शादी
अऩने सभम के एक ऩववत्र व्मस्क्तमव के साथ भनामा जाएगा.

कायण के सरए तो नवाफ सादहफ ऩमनी नवाफ सादहफ से कहा है कक
मह फेहतय होगा कक हभ Rahmatabad खाजा सैमद यहभतुल्रा

सादहफ के साथ उनकी फेटी की शादी तो इस कायण के सरए व्मवस्था
नवाफ सादहफ फहुत ऩये शान है औय इस भाभरे भें नायाज हो गमा था
औय उसे फतामा कक " हभ कभ स्स्थतत व्मस्क्त के ऩरयवाय भें हभायी
फेटी की शादी नहीॊ है औय अगय हभ कयते हैं कक तफ हभायी स्स्थतत
औय स्स्थतत नीचे जाना जाएगा औय इस भाभरे भें अऩभान सकता है .

तो इस कायण सफ ऩय उऩमुक्त नहीॊ अच्छा नहीॊ है औय इस प्रस्ताव के
सरए. तो अगय रड़की के भन भें कोई इच्छा हो तो उसे ऩूछने के सरए
ही हटा दें . "

उस ददन से रड़की के सरए दख
ु की फात है औय द:ु ख की स्स्थतत भें

यहने के सरए शरू
ु ककमा औय कुछ ददनों के फाद वह सफ कुछ छोड़

ददमा औय बोजन के खाने फॊद कय ददमा. इस कायण के सरए भाता वऩता चचॊततत हैं औय इस भाभरे भें ऩये शान थे औय उससे ऩछ
ू ा कक

उसकी इच्छा छोड़ दो औय चाहते रेककन वहाॉ all.One ददन ऩय कोई
प्रबाव नहीॊ था रड़की कुछ Darga भें चरा गमा औय उसकी प्राथगना के
दौयान वह नीचे चगय गमा औय वह सॊमुक्त याष्र के प्रतत जागरूक औय

30

कई इराज के फाद वह अच्छी तयह नहीॊ हो सकता है वह अऩने
स्वास्थ्म की साभान्म स्स्थतत भें वाऩस रौट आए.
औय उन ददनों भें शेख ददव्म कॉर स्जसभें उसे फतामा गमा था कक
कुयनर
ू के नवाफ की फेटी है जो उसके सरए उऩमक्
ु त है शादी सन
ु ा था.
महाॊ तक कक कुछ ददनों के फाद रड़की सॊमुक्त याष्र सॊक्षऺप्तता की

हारत से फयाभद नहीॊ ककमा गमा था औय इस कायण के सरए नवाफ
सादहफ चचॊततत था औय इस भाभरे भें ऩये शान औय उसकी भाॉ औय
अन्म रोगों के साथ अऩने ववचाय - ववभशग ऩय हजयत खाजा सैमद
यहभतल्
ु रा Naibe साथ शादी कयने के सरए एक तनणगम ऩय ऩहुॉच

यसूर. तो मह उसके बाग्म भें सरखा गमा था औय अऩने सभम के शेख
के साथ शादी तो कोई बी उसे अचधतनमभ औय उसके व्मस्क्तगत
तनणगम नहीॊ योक सकता है .

नवाफ सादहफ स्जमाउद्दीन बेजा गमा है , जो अऩने तनजी सचचव
था औय
जो बी शेख के सशष्म था औय इससरए वह Udgir के सरए चरा
गमा औय वाऩस रामा
शेख रड़की के उऩचाय औय शादी के प्रस्ताव के सरए कुयनूर.

शेख कुयनर
ू के सरए आमा था औय ऩानी ऩय कुछ छॊ द भें ऩढ़ यहे हैं

के फाद

वह योगी ऩय ऩानी पैरा है औय वह इस कायण के सरए फन गमा
था

31

साभान्म औय उसे अच्छे स्वास्थ्म की स्स्थतत भें वाऩस रौट आए
औय इस भहान कायण
चभमकाय सबी व्मस्क्तमों को जो नवाफ सादहफ के भहर भें भौजद

थे

शेख के ऩैय ऩय चगय गमा औय उस सभम नवाफ सादहफ फेटी को
HABIA खातून अऩने सभम के शेख के साथ शादी की थी.
भक्का के दे खें.
भाजी सादहफा स्जमाउद्दीन सादहफ के साथ भक्का के सरए गमा था
जो murid था (सशष्म)
ऩय

शेख औय अकफय सादहफ जो उसका चचेया बाई था औय ऩयू ा होने
भक्का औय भदीना की मात्राओॊ का वह वाऩस Udgir, एक शहय के

सरए आमा था
के फाये भें 45 ककरो भीटय की दयू ी ऩय Rahmatabad शयीप के

उमतय ऩस्श्चभ.

शेख के जीवन तक Maji सादहफा हभेशा अऩने अनद
ु े श का ऩारन

ककमा है औय उसकी इच्छा के ववरुद्ध कबी कुछ बी असबनम ककमा.
दै तनक घय वह फयसात के भौसभ भें ऩानी की सुयाही ऩकड़ उसे

hand.One ददन भें खड़ा कयने के सरए प्रमोग ककमा जाता उनकी
वाऩसी के सभम भें गॊबीय था गयजने औय बफजरी

वह इसे का डय

32

था. शेख घय भें वाऩस आ गमा औय वह उसे साभान्म स्थान ऩय नहीॊ
भाजी सादहफा औय उसके हाथ भें ऩानी की सयु ाही वहाॉ जोत के साथ
सभर सकता है तो वह इस भाभरे भें उसके कायण से कहा कक वह

उसके सरए आज क्मों नहीॊ बफजरी इॊतजाय ककमा. औय वह उसे उमतय
ददमा गमा था कक तमकार औय वह इस भाभरे भें डय है औय फयसात
के भौसभ भें उसके सरए इॊतजाय कयने भें सऺभ नहीॊ था गयजने के
कायण शेख तो वहाॉ बफजरी का आह्वान ककमा है औय मह दे खने के
सरए कहा गमा औय उस ददन से Maji सादहफा डय था उसके साथ औय
अचधक नहीॊ.
भाजी सादहफा का अथग.
ऩयॊ ऩया के अनस
ु ाय मह अच्छी तयह से जाना जाता है औय प्रससद्ध

भाजी सादहफा एक फाय है कक उसकी इच्छा के सरए शेख का अनुयोध

ककमा है औय फच्चों के सरए इच्छा इतनी है कक उनके नाभ दतु नमा भें

यहते हैं औय ककसी को उसकी भाॉ कोto to call कयें गे. हफीफा के रूऩ भें
अऩनी सोच के अनुसाय अगय वहाॉ हभाये फच्चों को हो जाएगा तो मह

कोई गायॊ टी नहीॊ है कक वे अच्छा औय ऩववत्र रोगों को तो हभायी स्स्थतत
औय स्स्थतत के रूऩ भें हभाये नाभ के रूऩ भें अच्छी तयह से फदतय हो
जाएगी फन जाएगा हो जाएगा. तो शेख उसे "ओह को फतामा अफ मह
तथ्म मह है कक व्मस्क्तमों के सरए जो आऩ भाजी सादहफा के रूऩ भें
फर
ु ामा की सॊख्मा एक, दो, 100, 200,1000, 2000, नहीॊ कय यहे हैं,

रेककन राखों औय जो अचधक से अचधक न्माम के ददन तक यहे गा. मह

33

कह यही है ऩय वह उसे फतामा कक उसकी ऩीठ ऩय दे खो तो वह अऩने
अनद
ु े श के अनस
ु ाय उसकी ऩीठ ऩय दे खा गमा है औय फड़ी सॊख्मा भें

व्मस्क्तमों को जो वहाॉ थे औय उनकी सॊख्मा कई राखों की तुरना भें

अचधक थे तो शेख सभझामा गमा है कक उन सबी के अॊतगगत आता है
दे खा तनम्नसरखखत श्ेखणमाॊ.
1.Disciples (murids).
2.Devotees.
3.Visitors.
औय उन्हें न्माम के ददन तक के सबी कॉर भाजी सादहफा तो आऩ
अऩने फच्चों के रूऩ भें उन सबी को इराज होना चादहए होगा औय उन
सबी को बी भेये वप्रम अऩने फच्चों की तर
ु ना भें अचधक है औय उस
ददन से सबी ववशेष औय साभान्म कयने के सरए शरू
ु प्रमोग ककमा

जाता व्मस्क्तमों हैं उसे Maji सादहफ के रूऩ भें फर
ु ा यही है . तथ्म की

फात के रूऩ भें वह उसकी Darga औय इॊDशाअल्राह के प्रममेक औय
हय आगॊतक
ु (अगय अल्राह ने चाहा) इस ऩयॊ ऩया प्माय औय व्मवहाय भें
न्माम के ददन तक जायी यहे गा.
चभमकाय.
Darga

सावगजतनक यसोई घय से दै तनक सऩ
ू (Soup S) सबी गयीफ

औय जरूयतभॊद व्मस्क्तमों को ववतरयत कयने के सरए प्रमोग ककमा
जाता है . एक फाय शेख भस्स्जद भें भौजद
ू थे औय गयीफ रोगों को

सावगजतनक यसोई भें इकट्ठे हुए थे भाजी सादहफा शेख सूऩ (SoupS) के
ववतयण के काभ के सरए फर
ु ामा गमा है , रेककन कुछ अन्म काभ कयने

34

के सरए कायण इस कायण के सरए सूऩ (SOUP) प्राप्त शेख वहाॉ नहीॊ

आमा गयीफ व्मस्क्तमों को सऩ
ू (Soup) ववतरयत सकता है . इस भाभरे
भें दे यी के कायण Maji साहे फा Masjid के सेवकों का आह्वान ककमा है
तयु ॊ त सऩ
ू (Soup) के ववतयण के सरए फड़ा चम्भच औय व्मस्क्त जो
चम्भच राने के सरए गमा था , रेककन वह गामफ हो गमा था औय

आमा वहाॉ वाऩस नहीॊ सकता. इस कायण है कक व्मस्क्त औय गयीफ
व्मस्क्तमों वह गभग कड़ाही भें उसके हाथ यख ददमा गमा था औय गयीफ
व्मस्क्तमों को गभग सूऩ का ववतयण (Soup) शS
ु रू कयने के सरए सूऩ
(Soup) के ववतयण भें दे यी की दे यी के कायण. शेख वहाॉ आमा गमा है
औय फाद भें सोचा गमा था कक उसके हाथ गभग सूऩ (Soup) गभग

कड़ाही से ववतयण के कायण ऺततग्रस्त हो गए थे औय रेककन वह ऩामा
गमा उसके हाथ अरग - अरग रूऩ भें ठॊ डा था औय वहाॉ ऐसी ठॊ ड है कक
स्जसके सरए कोई बी इसे सहन नहीॊ कय सकता था.
भाजी सादहफा 12 गाॊवों को खयीदा है औय शेख के Darga के सरए
एक ही ऩेशकश की है औय जो प्रससद्ध हैं औय अच्छी तयह से अरग अरग नाभों के साथ जाना जाता है औय वववयण के रूऩ भें वखणगत हैं.
1. छोटे Habibpur.
2. बफग Habibpur.
3. Hasinapur.
4. Morabad.
5. आरभऩयु .

Maji सादहफ जी के जीवन अवचध के दौयान शेख इस नश्वय दतु नमा

35

को छोड़ ददमा. भाजी साहे फा Darga ऩय दयू उसके साये गहने वऩघरने
ऩय चॊद्रभा का प्रतीक फनाने के सरए व्मवस्था की गई है औय वह बी
उसे ऩैसे से शेख की सभाचध के तनभागण का तनभागण ककमा गमा है.
वह व्मवस्था का आमोजन ककमा गमा है (ऩण्
ु मततचथ) उसग, जो 24 से

29 भुस्स्रभ कैरें डय के ददन Rabil अव्वर ऩय हय सार जगह सैमद

खाजा Rahmatabad यहभतुल्रा Naibe यसूर के प्रससद्ध दयगाह भें
रेता है औय बी की यस्भ की व्मवस्था का जश्न

भनानेSANDASandal Rabbil अव्वर औय इस उमसव के 25 ऩय
हय सार Darga भें अबी बी जायी है .
भौत.
वह शेख की भौत के 18 सार के फाद भय गमा. उन्होंने तनदे श ददमा

है कक वह Milad खाना की इभायत भें शेख औय शेख की स्स्थतत की
स्स्थतत के रूऩ भें की Darga के फाहय दपन ककमा जाना चादहए

अल्राह के साथ फहुत अचधक है औय वह ऐसी स्स्थतत औय स्स्थतत तो
नहीॊ हो यही है इस कायण के सरए मह उऩमुक्त नहीॊ है अऩने सभम के
भहान शेख की कब्र के फगर भें उसकी कब्र भें दपनाने के सरए.

वह 7 Rabbil अव्वर ऩय शेख की भमृ मु के 18 सार फाद वषग 1213

भख्
ु मारम भें इस दतु नमा को छोड़ ददमा गमा था

शेख से ऩववत्र व्मस्क्तमव कक उस सभम के रूऩ भें अऩनी ऩमनी

हफीफा अऩने सभम के फहुत धभगऩयामण भदहरा इस कायण के सरए

ककमा गमा था ताकक वह DargaD के तनभागण भें उसकी कब्र के ऩऺ भें

36

दपन ककमा जाना चादहए सॊकेत था. तो अऩने अनुदेश के अनुसाय वह
शेख की कब्र के फगर भें दपनामा गमा था.

7 Rabil अव्वर ऩय हय सार Maji साहे फा केS Sandal के सभायोह
के सरए बव्म ऩैभाने स्जसभें कई हजायों बक्तों के सरए सभायोह भें
बाग रेने के सरए इस्तेभार ककमा औय मह सादात (पैरीससटी) ऩय
जश्न भनाने के सरए इस्तेभार ककमा गमा था.
हजयत सईदा हफीफा खातन
ू कीS Sadal भारी यब्फी उर अव्वर की

इस्राभी भहीने की 2 मा 3 ददन ऩय celeberated है . मह बी होता है
वषग का ही सभम था जफ भदहरा श्द्धारओ
ु ॊ सभाचध के बीतयी बाग

(स्जसभें सैमद ख्वाजा यहभतुल्रा के (कब्र) mazars औय भाॊ हफीफा )
भें प्रवेश की अनुभतत दी जाती है . घटना कभगकाॊडों की घटनाओॊ है कक
वावषगक Sandal औय हजयत नामाफ-E-यसर
ू औय Ammajan खाजा
की उसग सभायोह की स्भतृ त भें भाह के दौयान प्रदशगन कय यहे हैं की

श्ॊख
ृ रा के फीच भें ऩहरी फाय ककमा जा यहा है . रोगों का एक फहुत कुछ
कयने के सरए इस सभायोह भें बाग रेने के सरए Rahmatabad मात्रा
कयते हैं.
यब्फी - उर - अव्वर इस्राभी भाह की 7, 8 औय 9 ददन ऩय हय
सार वावषगक Sandal sssas औय AMMAJAN के उसग भहान
धासभगक उमसाह के साथ भनामा जाता है , जफकक हजयत सैमद खाजा
नामफ-E-यसूर यहभतुल्रा को भनामा जाता है 25, 26 औय इसी

37

भहीने की 27.
तनष्कषग.
इस भहान सूपी सॊत के फाये भें सरखने के सरए है मह न केवर

भुस्श्कर है , रेककन मह फहुत भुस्श्कर काभ है के रूऩ भें वह केवर

डेक्कन (दक्षऺण बायत) के ऺेत्र भें अऩने सभम के एक भहान ऩववत्र
व्मस्क्तमव नहीॊ था, रेककन वह बी अऩने भहान ऩववत्र व्मस्क्त था
सभम जो कई भहान चभमकाय ककमा तो सॊक्षऺप्त भें उन्होंने डेक्कन
ऺेत्र भें अऩने सभम के Qu'tub (धुयी ऩय आध्मास्मभक धुयी भें
उच्चतभ काडय) (दक्षऺण बायत) था.

इससरए सॊक्षऺप्त भें वह बी था इस्राभ डेक्कन भें उऩदे श औय
प्रचाय का काभ (दक्षऺण बायत) ऺेत्र के सरए औय इस ऺेत्र के आसऩास
कई भहान प्रमासों औय अऩने सभम के दौयान ऐसी कोई व्मस्क्तमव
था.
सप्ताह के सबी ददनों भें फड़ी सॊख्मा भें दशगकों के DargaDD की
मात्रा के सरए औय उनकी इच्छाओॊ औय शेख नाभ के सरए इच्छा की
ऩूततग के सरए प्राथगना कयता हूॉ अल्राह के सरए इस्तेभार ककमा
जाएगा.

उसग सभम (ऩुण्मततचथ) के दौयान शेख नाभ की खाततय अऩनी

38

इच्छाओॊ औय इच्छाओॊ की ऩूततग के सरए फड़ी सॊख्मा भें दशगकों के
नाभ ऩय Darga जाएॉ औय पूरों की भारा की ऩेशकश कयें गे.
===========
सॊदबग ऩस्
ु तक:

'Faizan औसरमा'
भोहम्भद अरी खान Mujadaddi.
=====================
अॊग्रेजी भें अनुवाददत

भोहम्भद अब्दर
ु हपीज, फीकॉभ.

ई - भेर: hafeezanwar@yahoo.com
है दयाफाद-36,
बायत.

बफजरी

--------------------

Sign up to vote on this title
UsefulNot useful